लद॒पण जे जाखडे में मूंझयलि सिंध जी हिंदु बरादरी


लद॒पणि सिंधी हिंदुनि  लाई का नई गा॒ल्हि नाहे। इहा हजारनि सालनि खां पई लहिंदी पई अचे। अर्बनि जे काहि बैद सिंधीयूनि जी चङी लद॒पण थी हूईं इहा हिक ऐतहासिक सचाई आहे, साणु साणु इहा भी हिक हकिकत आहे तह इन लद॒पणि जो हिकु सबबु जोरी मूसलमानु कोम में शामिलि  करण जू वारदातयूं  पिणि हयूं । इन जो हिकु वदो॒ सबूत  इहो भी आहे तह अर्बनि जी काहि बैद जेके भी सिंधी,  सिंध में पहिंजि साहिबी काईम कई से ईसलामि धर्म कबूल कंदड हवा। इहो ई नह सिंधूपति महाराजा  दा॒हिर जे पुट्र बाबति भी चयो वेंदो आहे तह हूंनि भी इसलाम धर्म कबूल कयो या खणी चईजे खांईसि इसलाम कबूल करायो वयो। हिदुनि जे धर्मू मठाईण जा वाकया हजारनि सानलि खां पया हलिनि। ऐडहा वाकया अर्बनि जी काहि बैद सांदय पया लहिंदा पया अचनि, भले इहे वाकया तोडे वारदातयूं सियासी हालतयूं मोजिबु कद॒हि घटयूं आहिनि तह कद॒हि वधयूं आहिनि, पर किद॒हिं अगो॒पोई निबरयूं नाहिनि।

थर परकारि, सिंध में हिकु हिंदु मंदिर

 

सिंध में हिंदुनि मां जेके मसलमानि थिया तिनि मां के पाण खे शेख कोठाईंदा हवा। हो भले मुसलमानि थिया पर पहिंजी तादादि हिदुनि सां संङु जे मार्फति ई वधाईणु चाहिदा हवा। दादी पोपटी हिरानंदाणीअ मोजिबु इंहिनि  मां कनि वरि हिंदु पिणि थिअण चाहियो पर हिंदु पंचातयूं ईअं थिअण नह पई दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि केतिरो सचअ ते दारुमदारि थी रखे इहो चवण दु॒खयो आहे छाकाणि सिंध में 1927 में हिक ऐडहो वाकयो थी गुजरो आहे जहि में करिमा लाने जी जाईफा पहिंजे चारि बा॒रनि सां ग॒दु॒ हिंदु धर्म कबूल कयो हो, जेको कोर्ट पिणि मञे वरतो हो पर मसलमानि चङो फसादु कयो। इन फसादिनि में खूरो जो पिणि नालो सामहूं आयो हो जेको पोई वरि सिंध जो वदो॒ वजूरु थियो।

 

पर इन में को भी शकु नाहे शेख पहिंजी तादाति हिंदुनि मां धर्म मटाऐ पई करण चाहि।  सिंध में अंग्रेजनि जी हूकूमत खां अगु॒ हिंदुनि कुअरी छोकरिन खे भजाऐ पणजण जी वारदातूं में सभिनि खा अग॒ते इहे शेक हूंदा हवा। हिंदुनि ऐं शेखनि में इहा रंजिश ऐतिरी तह जबरदस्त हूंदी हूई जे हिंदुनि सिंधयूंनि में हिक चवणी भी हूंदी हूई तह  – शेख पूट्र सैताअ जो, नह हिंदु जो नह मुसलमानि जो।    

 

सिंध में सियासि तोर फर्कापरसती जूं मशालि खिलाफति जदोजिहति जोर वठायो। खिलाफति जा अहमि अगु॒वाण जो हथ हिंदुनि ते थिंदड जुलमि में रहयो आहे – मसलनि मौलाना तेज महमद जहि लाई इहो मशहूर आहे तह हूं सिंध जे गो॒ठनि में 7000 हिंदुनि जो धर्मु मठायो। खिलाफति जे जाखडे सिंध में के अहम सिंयासतदानिं खे पैदा कयो, जेके अग॒ते हली सिंधीयूनि में फर्क ऐतरा तह वधाऐ छद॒या जे इन सबब अजु॒ सिंधी ऐकी गा॒लिह ज॒णु खूवाबु पई लगिंदू आहिनि। इन में ब॒ह हूवा जे ऐम सेईद जहि नह रूगो॒ सिंध में मुसलिम लिग जो जबरदसत जोर वठायो पर हिदुस्तानि मां लदे॒ अयलि हिंदी उर्दू गुजराति गा॒ल्हिईंदड मुसलमानि खे सिंध जे शहरनि में वसाअण में वदो॒ किरकारि नाभायो – जहि सबब आखिरि कारि हिंदुनि खे उछांगयूं दि॒दे पेरनि उघआडे सिंध अलविदा करणी पई। हून हिकु ऐडहो सिसाल कायमि कई जहि जो परादो॒ अजु ताई थो बु॒धजण में अचे। खलिफति जे जाखडे जो ब॒यनि अग॒वाणुनि में हिकु हो खूरो- जहि खे हिहू सिंध में 1927 जे लाडकाणे जे फसादनि लाई जिमेवार करे मञिदा हवा। मशहूर सिंधी लेखक ऐं सिंध नसर जो हिक थंबो श्री जथेमल पर्शराम खिलाफति बाबति सही ई चयो हो तह – खिलाफकि आहे आफति।

 

जेतोणेक खिलाफति जे महलि खां सिंध में हिंदु – मसलमान में फर्क वधण लगा हवा पर इहो मसजद मंजिल गाहि जो रग॒डो हो जहि  सिंध में अण मुसलमानि जी हाणोके लद॒पणु जे शुरुआति कई। जेके फर्क हिंदुनि तोडे मूसलमानि में मसजद मंजिल गाहि जे मसले विधा से वरि किद॒हि घ़टया ई कोन्हि। केतिरो अजबु आहे जे हिंदुनि उन वारदाति खे हिंदु लग॒ भग॒ विसारे छदो॒ आहे जहि सिंधी हिंदुनि जी तकदिरि हमेशाहि लाई फेरे छदी। इन मसले सबब जे सिंधी हिंदुनि तोडे मुसलमानि फसादि थिया तनि लाई चयो वेदो आहे तह 17 मूसलमानि ऐं 40 हिंदु मारजी वया हूवा (किनि जो मञण आहे तह हिंदुनि जे मार्जू वञण जी तादादि 60 हूई)। इन खआं सवाई करोडिनि जो नोकसानु थियो सो धारि। इन वाकये जी जाई ते जोतेणेक नेठि अमनि मोठी आयो पर ईन जो परादो॒ सिंध जे सियाति में वदो॒ तुफानु खणि आयो। हिक पासे सिंध में पहिरों भेरो सिंधीयूनि जे पाण में फसादिनि सबब लद॒पण थी ऐं खां भी वदी॒ गाल्हि तह सिंध जा फर्कापरसत अग॒वाण जी ऐम सेईद, पिर महूमद रासाशदि ऐं खूरो मुसलिम लिग लाई हिक ऐडही जाई दि॒ञी जहि कजहि सालनि में सुफी सिंध जी शकल ई म़टे छदी॒। इन खां भी वदी॒ गा॒ल्हि तह इन फसादनि बि॒नि महानि हसतियूं खे हमेशा लाई माठि करे छदो॒ – हिकडो हो संतु कूवर राम जहिंखे रोहडी जे भरसां रुक ईस्टेशनि ते कतलु कयो वयो ऐं ब॒यो हो  वदो॒ वजिरु अल्लाहि बकश सुमरो। सिंध वरि साग॒यो कोनि रहयो। सिंध उन दि॒हिं खां जु॒णु पाकिस्तानि जो हिस्सो थी पयो।

 

विरहांङे खां पोई सिंध जे शहर में जबरदसत फसादअ कराया वया जहि सबब पंज सालनि जे अंदरि हिंदु सिंध जा शहरि वांदाऐ वाया। पर गो॒ठन में तद॒हि भी जाम हिंदु रहयलि हवा। जेतोणेक सिंध मां हिदुन जी लद॒पण थोडी घणी हलिंदी रही आहे पर वेझडाईअ जे किनि सालनि में सिंध मां हिदुनि जी लद॒पण वरि चङो जोर वरतो आहे। इन जा सबब गोलहण भी दू॒कया नाहिन। हिक पासे  जिते रिवाजी सिंधी  हिदुनि ते लोट-मारि, अग॒वा या कतलनि जा चङा वाकयो  पधरा थिया आहिनि उते दलितनि ते जूलम पया थेनि जिअं बंधूया मजदूर करे रखण, जोरी मसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं, लज॒ लुट ऐं खासि करे जवानु सिंधी हिंदु नेनगरिनि (छोकरिनि) जो अग॒वा थिअण बैद जोरी सां कहि मुसलमानि सां परञाअण, किथे  किथे तह सिंधी हिंदु विधवाउनि खे भी कोन बख्शो वयो आहे। इन गा॒ल्हि में शायदि को शकु आहे आहे इन हिंदुनि खे मूसलमानि ठाहणि जी कोशिशनि जो जलमु वध में वध सिंधी दलितअ कोम पयो सठे। पाकिस्तानि में इंसानि हकनि जे कमिशनि जे ऐहदेदारि साई अमरलाल मोठूमल मोजिबु हर महिने 20-25 सिंधी दलित हिंदु नेंनघरयूं अगवा कयूं वेंदयू आहिनि ऐं जोरि इसलाम कबूल करायो वेंदो आहे। दरअसलि सिंध जे गो॒ठनि में इन दलितनि तोडे हिदुनि जो हिदुं थिअण हिकु दो॒हू समझयो वेंदो आहे। मोटूमलअ जो वधीक चवण आहे तह जेकरि माईट पहिंजी औलादि खे आजादि कराअण लाई हूलु था कनि तह संदुनि औलादनि खे कत्ल भी थो कयो वञे। हकिकति में इहे आकडा तमाम थोडा माणहूनि तोडे मिडीया आग॒या इंदा आहिनि छाकाणि तह घणो तणो ऐडहयूं वारदातयूं खां पोई माईटनि ते थिंदड जलमनि जे ढप सबब या पलिस जे वेरुखी सबब ऐफ आई आर दर्ज नह कयीं वेंदयू आहिनि।

 

सिंध मां पाकिस्तनि जी कोमि ऐसमबली यानी लोकसभा जो अगु॒णो मेंमबर श्री भेरुमल बेलाणीअ जे चवण आहे तह दलित सिंदीयूनि मां कनि कासि जातयूनि खे ई निशानो पयो ठायो वञे। इनहिनि नियाणिन खे मुसलमानि बणायणि बैद ऐंडहा भी वाक्या सामहूं आया आहिनि जिते इन नियाणीयूंनि खे विकयो वयो आहे। इनो ई नह पर इन अग॒वा करण में सिंध में किनि सघेरनि सियासतदानि जी शाई आहे। हिक लङे दि॒सजे तह इन इहे वारदातयूं पिछाडीअ जे टिन सालनि में चङयूं वधयूं आहिनि। नगरपारकारि में हिक सतरें वरहय जी नेंनघरिअ खे अग॒वाटि अगवा कयो वयो ऐ संदुसि लज॒ लूटि वई ऐं हिक ब॒ई नेंगरि खे जेका 15 वरहयनि जी हूई – तहिं खे आकलि गो॒ठि मां अग॒वा करे संदुसु दिन धर्मू पई मठायो वयो। वरि सागी॒ कारि होली दि॒हि भी थी जद॒हि ब॒ह हिंदु नेंनघरयूं किशनी ऐं अनिता खे कोटरीअ खां अग॒वा कयूं वयूं।

 

हिंदुस्तनि जी मिडिया पारां सिंध जी हालतूंनि ते का खासि दिलचसपी रही नाहे खासि करे हिंदी तोडे सिंधी मिडिया में पर अंग्रेजी अखबार पारां अंदरूनी सिंध में ऐं खासि करे दलित सिंधीयूनि जी विरहांङे बैद उमालक फिरयलि हालतूनि ते थोडी घडो तहकिकाति कई वई आहे । इन अंग्रेजी मिडीया में अहम नालो आहे आऊटलूक अख्बारि जो। जनवरी 16, 2006 में आउटलूक अखबारि पारां हिकु लेख शाई थियो हो जहिं में मारिना बबर जी हिक रिपोर्ट शाई कई वई हूई- सिंध जूं लमायनि कूआरयूं जे नाले सा। उनि रिपोर्ट जा के विचूड कजहि हिन रित आहिनि…….

 

सिंध जे थारि परकारि जिले में हिंदु बरादरि अग॒वा कयलि नयाणयूंणि जी तसविर दे॒खारिंदे

आउं अंनदरूनि सिंध पई वञा खासि तोर सां इन गा॒ल्हि जी पक करण लाई तह उते वाकईं छा हिंदुनि ते जूलम पयो थेनि मसलनि जोरि मुसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं जिअ जाम ब॒धबू आहिनि। मूहिंजो पहिरों पडाऊ हो मिरपूर खासि जिले जी जिला कचहरि। उन दि॒हिं हिकु ऐडहे मकदमे जी पेशि हईं जहि जे सबब आउं सिंध आई हूयसि। माण्हूनि सां गा॒ल्हिईंदे मसले जी पक सां विचूड कोन मिलया। जेतिरा माणहूं ओतिरा बयान, पर उमालकि माणहूंनि में चर पर पई नजरि आईं। हिक पुलिस जो गा॒डे अची विठो। अंदरि हूई मारियम। मरियमि मस जेडही 13 सालनि जू हूई पर परणयलि हूई………मारियम दिसम्बर 21 2005, जी राति ताईं हिंदु हूई। तद॒हि संदुसि नालो होसि माशू। आऊं मर्दनि में मेडे मंझ गुरि दि॒ठो तह नेनघरि हिक गा॒डहे बूर्के में उन पूलिस वेनि में वेठलि हूई। हूनि पहिजो हालु अहिवालु द॒सिंदे चयो तह – आउं खूश आहियां। मां पहिंजे माईटनि तोडे भाऊरनि वटि नथी वञण चाहिया। उचतो मूखे लगो॒ …हाई घोडा हे छा.मसलो छा आहे.

 

इन कचहरि जे पासे में पिपल वण हेठि कजहि दारि ई कहाणी जे सुस पुस पई हले. उते के माण्हूं जो मेराडको हो जेको झालूरि गो॒ठि –जेको मिरपुर खासि खां 20 कोहि परे जो को गो॒ठि पई ब॒धायो वयो। उनहिनि में हिकडो हो माशु जो पिणसि-मालो सानाफवो। संदुसि मोजिबु 22 दिसम्बर 2009 राति जो 11 लगे के हथियारि बंध जबरनि संदुस घरि में गुरि आया जिनि मां हिकडो हो मालूअ जो पाडेसि अखबर। इहे हथियारि बंध माशुअ खे अग॒वा करे बा॒हिरि बि॒ठलि गा॒डीअ में जबरि वेहाऐ गि॒हले वया। माशु खे हूनिन पीर अयूब जान सरहंदीअ जे गो॒ठि में गिञे वया जिते माशुअ संदुसि धर्म मठाये अखबर साणु परणायो वयो।

पर इन गा॒ल्हियूं जी मुखातलिफ कंदे अखबर कोर्ट में पहिजीं बयानि में चयो तह मरियमि हमेशाई ईं मूहिंजे दिल में वसिंदी हूई। 22 दिसम्बर जी राति हूअ हेकलि ईं मूहिंजे घरि आई ऐं इहा गा॒ल्हि सही आहे तह पिरअ संदुनि धर्मू मठायो पर ईहा मूहिजी राय ई हूई तह कोर्ट में बयानु दि॒जे। मारियमि खे हैदरआबादि जे दरुल आमनि में मोकिलो वयो हो – (इहा उहा जाई आहे  जिते उनहिनि हिंदु नेंनगरीनि तोडे जेईफाउं खे मोकिलयो वेंदो आहे जिते उनहिनि बेसाहारिनि खां जबरनि बयान लिखाया वेंदा आहिनि जेके पोई कोर्टनि में पेश कया वेंदा आहिन।)

 

सरियमि कोर्ट में।

हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो मञे थो सघजे तह 13 सालनि जी नेंनगरि पहिजो कोम मटे पहिजे पाण मङजणु चाहिंदी। इन ते तह शकु कहिंखे भी थिंदो। आऊं ओस ओच ओ (S H O) वटि वयसि जेको बि॒नि गुटनि जो झेडे मंझ फातलि हो। कहिं सलाहि पईं दि॒ञसि तह छो नह छोकरिअ खे माईटनि सां ग॒दि॒जणु पयो दि॒ञो वञे…….ऐस ऐच ओ उन माणहू खे दब॒ पटिंदे चयो …..धर्मू मठजणु खां अगु॒ पर हाणे असुलि नह…मरियमि हिअर मुसलमानि आहे। हित जाम माण्हूं अचि मिडया आहिनि, जेकरि मारियमि पहिंजे माईटनि खे दि॒सी ओछांङयूं द॒ई रोअण लगी तह वदो॒ गोडु थी पवंदो। थी थो सघे तह फसादि थी पवनि।

 

थोडी देरि में उमालक कोर्ट जे परिसरि में खुशियूं पयूं मञाईजणु लग॒यूं जिअं ई इहो अहिवालु वंढायो वयो तह कोर्ट मोकलि दि॒ञी आहे जोल मूरस ग॒दु॒ रहि था सघीनि। मुसाणु गदु॒ हो कांजी रोणो भिल जेको तालिम सां गंढयलि हिक ऐन जी ओ में कमं कदो आहे ऐं पाकिस्तानि जे इंसानि हकनि जी तंजिमि सां भी गं॒ढलु आहे उमालकि संदुसि मूहांडरे में मायूसि साफु झलके पई।

तह छा पोई पोई माशु खे अग॒वा करे जबरनि संदुसि धर्मू पयो म़टायो वयो…मिरपूर खासि मां आऊं जिअं ईं अंदरूनि सिंद जे मुखतलिफ ऐलाकनि में गुजरिंदि वयसि मुंखे इअं पई लगो॒ जणु थर जा भिट रडयूं करे हर घर इहे ई सवालि पया कनि। इहो ई नह जिते भी मां वयसि हिंदूनि में मायूसि हूई ऐं उहे सागया मंजर, उहे सग॒यूं कहाणयूं- पहिरों अग॒वा, पोई धर्मू मटजणु, वेहाऊं ऐं  माईटनि सां हमेशाहि लाई विछडणु ज॒णु इहे रिशता नाता हूवा ई कोन्ह। जनवरि 2005 जो मार्वी (18) ऐं हेमी (16) गो॒ठि किनरा , अमरकोठि मां अग॒वा कयूं वयूं। इन वारदाति जे टे महिना बैद मार्च 13 जो राज्जी खे मिरपूर खासि मां अग॒वा कयो वयो।

 

हिंदु जाईंफाउ जहिंजो धर्मु मठायो वयो

कांझी भिल को चवण हो तह – मस जेडहा 10 सेकडो ई वारदातयूं हूंदयूं आहिनि जहिमि में इशक जो मसलो हूंदो आहे। जद॒हि मिरपूर खासि जे डी आई जी सां इन गा॒ल्हि बाबति पुछो तह हो काविडजी वाका करण लगो॒ –जेकरि जरूरत पई तह आउं अव्हां खे आकडा दि॒दुसि। तोडाईवारे कोमअ तह पाकिस्तानि में सभनि खां महफूज आहिनि।

 

पाकिस्तानि जे ईंससानि हकनि जी कोमि तनजिम जो भी मञण आहे जेको आऊं सिंध में दि॒ठो। नूझाहत सरिन जेको लाहोर में हिक ऐन जी ओ में पयो कमु करे तनि जो मञण आहे तह छोकरियूं जद॒हि कोर्ट में पेश थयूं कजनि तह जिहादी तंजमयूं ऐडहो पईं हूलू कनि मसलनि नारा हरण, गुलनि जी बरसात करण ऐं जाम माण्हूं ग॒दु॒ करे अग॒वा कंदड खे हिकु हिरो करे पोश कनि जहि सां छोकिरुनि ते ऐडहो तह मांसिक असरु थो पवे जो हो मूंझी थयूं वविनि ऐं कूछि कोन थयूं सघिनि। परि हिंदु समाज जा कुआराईप जा सख्त सामाजिक रिवायतू ऐं बि॒हरि वेङाउ नह थिअण जो ढपु छोकरिनि खे चुप थी रहण लाई मजबूर थो करे इन उमेदि सां तह शल इन मां भी कुझ भलो थिऐ।

 

कांझी जो चवण हो तह पंज सालनि में रूगो॒ 50 ऐडहा वाकयनि जी पधराई इन मसले जी हकिकति पेश नथी खरे। किशन भील जेको कि पाकिस्तानि जी कोमी ऐसलमबी जो मेमबर आहे तहिं जो चवण हो तह इहे जूलम हिअर जाम वधी पया आहिनि। संदुसि इहो भी चवण हो तह जेकरि इशकु हिकु सबब आहे तह छोकरा जनि सां हे पणिनजनि पयूं से छो नथा पहिजो दिन ध्रमु मटाईनि। हून हिक पूठयां ब॒यो ऐडहा जाम केसनि जो ज्रिकरु कयो जिते दलित हिंदु नयाणयूंनि ते जूलम पया थेनि। संदूनि चवण हो तह हिक वारदाति महलि हिंदूनि ऐतजाति कया। लग॒ भग॒ 70, 000 हिंदु ग॒दु॒ थीया। इहो वाकयो 1980 जो हो पर इन मेड ते फाईरिग कई वई जहि सबब चङा हिंदु मारजी वया। जहि सबब हिंदुनि ऐतिजाज कयो – हिंदु नेनगरि सिता, सा अजु  ताई पहिजे माईटनि वठि कोन मोटी आई- किशन भील जूं अखयूं भरजी आयूं। सिता जज जसटिस दोराब पटेल खे फिणि पधिरो चयो हो तह खेसि जोरी अग॒वा करे मूललमानि कयो वयो आहे। किशनि मोजिबु हिंदु हाणे ऐतिजाज करण बंद करे छद॒या आहिनि पर इन जी जाई ते हिअर  इंसानि हकनि जूं तंजमयूं तोहे मिडीया जे मार्फति पहिंजे कोसनि खे पधरो करण में ई सयाणप समझिंदा आहिनि।

 

बाबर जिनि वाकयनि जनि वाकयनि जो जिक्रु पई कयो आहे सो रुगो मिरपूर खास ताईं महदूद नाहिनि। कराचीअ खां वठी कशमोर ताई पया जाम दि॒सण में था अचनि।

 

जहि दि॒हिं मरियमि जे जो फैसलो जज पई बु॒धायो तहि दि॒हिं पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस ईफतिकारि महूमद चोधरी कोटरी में थिअल साग॒यो केस में फैसलो दि॒ञो तह जेकरि उहा नेंनघरि 13 सालनि खां घटि उमर्र जी आहे तह अग॒वा कंदड ते लज॒लूट जो केस थो हलि सघे। (इलसामि कानुन मोजिबु 13 खां घट उमर जी छोकरि वेहाउ नथी करे सघे – कानुनि।) जद॒हि जज जे लेखे हिंदुन जो अग॒वा थिअण ऐं मुसलमानि थिअण जूलमु नाहे तह मोलवीयूनि खे केडहो हथिरु थिंदो। चिफ जसटिस व़टि हिकु नह पर जाम केसअ वया आहिनि, पर इहो बु॒धण में कोन आयो आहे तह हून साई कहि हिंदु खे का दिलजाई दि॒ञी आहे, हा नवाज शरिफ जे लाई वाटि साफ करण में पूरी इमानदारि जरूर दे॒खारि आहे।

 

मथे जा॒णायलि वाबयनि बाबति जेकरि अहो समझजे तह जूलम रूगो॒ दलितनि सां पयो थिऐं तह इहा वदी॒ गलति थिंदी। जेतोणेक रिवाजी हिंदुनि सां दलितनि वारा जूलम कोन थिया आहिनि पर संदुनि खे कहिं भी रित बख्शयो भी कोन वयो आहे। वेझ़डाईअ में ब॒ह वाकया थी गुजरा आहिनि जेके पाकिस्तानि जी अंग्रेजी अखबारिनि में चङो कवरेज मिल्यो आहे। सिंध जे सिंधी मिडया में जेतोणेकि कवरेज दि॒ञो आहे पर उनि रित नह जहि रित मिलणो खपिंदो हो। सिंध जे हिंदु पंचायतुनि जी गा॒ल्हि मञिजे तह पिछाडीअ जे बनि सालनि में हिदुनि ते अग॒वा, लूटमारि या कतलनि जा 300 वाकयो थिया आहिनि। पर विछाडीअ जे टनि- चारि महिननि में ब॒ह वाकयनि सिंधीयूनि जो खास करे धयानु लहणो- पहिरों आहे उतरि सिंध जे शिकारपूर में पुञे आकिल जो ऐं ब॒यो आहे चक, शिकारपूर  जो वाकयो। हिक लङे दि॒सजे ब॒नि वाकयनि में को खासि फर्कु नाहे।

 

पुञे आकिलि में वाकयो हिक स्कूल में हिक हिंदु प़टवाले जो कूलहडे जाति जे हिक सिंधी मूसलिमि नेंनघरि जी लज॒लूट जे कोशिश सबब थी। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे तह कूलहोडे बिरादरीअ जे काहि में जिनि ते हमलो कयो वयो तनि जो इन पटवाले सां को भी वासयो नाहे। पूलिस जेका दलति हिंदुनि ते थिंदड वाकदातुन ते हिक ऐफ आई आर ताई द्र्ज करण जी जरूरत कोन महसुस कंदी आहे सा यकदमि ऐफ आई आर दर्ज कयो। ऐफ आई आर नह रुगो॒ उनि पटवाले ते दर्ज कई पई पर इन स्कुल हेड मासतरि जे खिलाफ पिणि दर्ज कई वई हूई। पुञे आकिलि में वारदाति जी जाई ते हिंदुनि में कहि भी पहिंजी जान कोन विञाई पर पर खे मुसलमानि जरुर मारजी वया। इन खा सवाईपुलिस जी कारवाही सबब काहिं कंदडनि मां पिणि कनि के मारजी वञण जी खबर पधरी थू हूई। इन वारदाति जे दो॒हि खे हिक बि॒न दि॒हनि में हथ कयो वयो पर जद॒हिं अग॒वा था थेनि तह मूलक जो चिफ जस़टिस भी कजहि नतो करे, पुलिस जी छा गा॒ल्हि कजे।

 

चक मे वकयो पहिंजो पाण में कहिखे भी वाईडो करण लाई काफि आहे। जेतोणोकि इन वाकये बाबति जुदा जुदा अफवाहूं तेज थयूं पर मूल रिह हकिकति कजहि हिन रित हूई……

 

चक , शकारपूर में मारजी वयलि जे वारितनि सां ग॒दु॒ जिऐ सिंध कोमी महाज जो अग॒वाणु बशीर खां कुरेशी

शुरु आति अहवाल मोजिबु इहा खबरि वंढाई वई तह चक शहर में हिक हिंदु छोकरे पारां भाईयो जाति (मुसलमानि जी हिक कबाईली जाति) छोकरीअ सां लज॒लूट जी कोशिश पई कई वई हूई। पर जद॒हि हकिकत पधरी थी मसलो कजहि बिलकुल बि॒तरां ई निकतो। गा॒ल्हि कजहि हिन रित हूई तह-  भाईयो जाति जी हिक छोकरी दि॒आरीअ जे दि॒हिं हिक हिंदु छोकरे जे घरि  पई आई या खणि चईजे निंढ द॒ई घुराई वई । कहि  माणहूनि इन छाकरिअ खे उताकअ (घर में मर्दनि जे उथण – वेहण जी जाई जहि में जाईफआंऊं असूलि कोन अचनि, सिंध में अजु॒ इहो रिवाज आहे) में पई दि॒ठो। हंदु छोकरे जे माईटनि खे जद॒हि खबरि पई तह संदुनि छोकरे खे मार्यो-कोटयूं ऐं भाईये जाति जी इन छोकरिअ खे संदुसि घरि मोकलयो वयो। इहा गा॒ल्हि छोकरिअ जे माईटनि ऐं भाईये बरादरी जिअं पहूती तह हो सख्त काविडजी वया। संदूनि जी कावड हाथियो वधी वई छा काणि तह छोकरो हिंदु हो। उन दि॒हि खां भाईये जाति ऐं के जिहादी जमायतूं चक में हिंदुनि खे पई हिसायो जहि सबब हिदुनि पूलिस खां मदद पिणि पई गुरी हूई। पूलिस जेतोणेक थोडी मदद कई उहा भी थोडी नाले जेतरि।

इअं तह सिंध जे मूसलमानि  में खासि करे गो॒ठनि तोडे नंढे शहरनि में हिक रिवायति रही आहे जहिखे कारो- कारी थो कोठिजे। कारो मततब छोकिरो ऐं कारी छोकरअ लाई इसतमाल थिऐं। इडहा के वाकया थिया आहिनि जिते कहि अण- मङयलि छोकरे ऐं छोकरि खे हिक बे॒ सां ग॒दु॒ हेकलो दि॒ठो वयो आहे तह संदुनि कत्ल कयो वयो आहे। ऐडहनि वाकयनि जो जेतोणेक सिंधी मूसलिमि जाईंफां जाम शिकारि थयूं आहिनि, किथे किथे रूगो॒ शक जी गा॒ल्हि ते सिंधी जाईफाउनि खे कतल कयो वेंदो आहे। किथे किथे जिते इशक जो मोमलो अचे तह छोकरो ऐं छोकरी  ब॒हिन खे मारयो वञे ऐं घणो तणो छोकरिअ खे अग॒वाटि मारयो वञे जिअ हिदुस्तानि में खेप पंचातयूं में भी थिऐ थो। पर चक जे वाक्ये महल ऐडहो कजहि कोन थियो। हे मसलो सिधो सहूं सिंध जी हिंदू बिरादरीअ खे टारगेट करण जो मसलो थी रहजी वयो।

 

भाईये विरादरी उन वाकये जो नेठि जवाबु ईद जी शाम दि॒ञो जद॒हि के हथियारि बंध हमलो पई कयो जहि सबब चारि हिदूं नोजवान जनि मां ट्रे डाकटरि पणि हूवा से वारदाति जी जाई ते ई मारजी वया। संदुनि नाला कजहि हिन रित ब॒धाया वया- नरेश कुमार, अजित कुमार, अशोक कुमार ऐं सत्यपाल। नोट करण वारी गाल्हि तह ईहा आहे जे वाक्ये जे ब॒नि कलाकनि खां अगु॒ उमालक पूलिस गायब थी वई ऐं वाकये जे अध कलाक खां पोई ब॒रहि अची हाजिरु थी जहि सबब इहो सकु यकिन थो लगे तह इन काहि बाबत पूलिस खे जा॒ण हूई। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे जिअं पुने आकिलि में थियो सागे॒ रित चक में पिणि दि॒ठो वयो तह मसलो कहि सां थियो पर जवाबी हमलो ब॒हिन वाकयनि ते सिंधी हिंदुनि जे थद॒नि में थियो जहिंजो इन मसले सां को भी वासतो नाहे।

 

किनि अख्बार नूवेसनि जेके घणो तणो अंग्रेजी अखबारि मां हूवा कहि कदरु इन वारदाति जी तह ते पुजण जी कोशश कई आहे। संदुनि मञण आहे तह विछीअ जे कनि सालनि में  सिंध में खासि करे उतर सिंध जे शहरनि में तालेबानि जो असरु वधयो आहे। इहो असरु घणो तणो मदरसनि मां पयो वधे जिते जिते मोलवी पंजाब या फख्तुनिवाह मां पया अचिनि जनि खे सिंधीयूनि सखाफित तोडे वहिनवारि बाबत जा॒ण नाहे ऐं हो समाज में जहरि पया फैलाईनि। ब॒नि तंजिमियून जे नालो सामूहं पयो अचे जिन मां पहरिं आ सिपा ऐ साभा पाकिस्तानि ऐं ब॒ई आहे जमाऐत उलेमा ऐं पाकिस्तानि (फजलि ग्रुप)। मथोऊ वरि इनं तनजिमयूनि खे साथु थो मिले सिंधी कबाईली जातयूं, पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जा के ऐहदेदारि ऐं पूलिस जो जनि जी हमेशाहि ई नजर हिंदुनि खे धंधनि तोडे मलकयतूंनि ते रहि आहे। इहो शकु इन लाई थो पैदा थिऐ छाकाणि तह वार्दाति जो अहमि गुनेगारि बबर खां भाईयो खे मञया थो वञे जेको पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जो शखर जिले जो हिकु अहम अगवाणु आहे, वरि उमालकि वारदाति जे वकत पूलिस जो टरि वञण वरि वारदाति बैद पूलिस जो वारदाति जी ऐफ आई आर दर्ज करण में मूझाअप दे॒खारण इहे सब हिदुनि जे मायूसि खे पिखतो था कनि। इहा भी खबरि आई आहे तह वारदाति खां पोई पूलिस थाणे जे अग॒यो इन कबाईले नेताउनि सां ग॒दु जिहादी तंजमयूं भी ऐतजाति पई कयो जिअं इन वारदाति जे जवाबदारिन विरूध पूलिस को भी कदमि नह खणे। पूलिस इन केस में ऐफ आई आर भी वारदाति जे 36 लकातनि खां पोई। इहा भी खबरि पधरि थी आहे तह मारजी वयलि जे वासिसनि खे भी तपायो पयो वञे जिअं संदुनि पारां ऐफ आई आर ते जोर नह विधो वञे। केतरि नह वाईडो कंदड गा॒ल्हि आहे जे पुञे आकिल मामले में पूलिस जी गुनेहिगारि हिंदु पटवाले खे हथ करण में वाहि जी फुर्ति देखारि, सागी॒ फुर्ति चक में कोन पई दे॒खारी वई।

 

शिकारपूर जो रूतबो 1947 ताईं दिसण जेडहो हूंदो हो। मां अजु॒ भी जाम सिंधी हिदूनि खे दि॒ठो आहे तह हू फकरु कंदा पहिंजे शिकारपूर सां लागपे जा। हिन शहरि सिंधी कोम खे महाल कवि शेख अयाज ऐं हेकलो सेकूलर  वदो॒ वजीरु अल्हा बख्श सुमरो दि॒ञो। पर हिअर नाहे रहि आहे। कनि जो मञण आहे तह हे शहरि हिअर खंडहण जो सहरि थी पयो आहे।  जेकरि चक शहरि जी गा॒ल्हि कजे तह शहरि जी मूल आबादी चालिह हजारि आहे जिन मंझ हिंदु मस जेडहा छिह हजार था बुधाया वञिन। जेकद॒हि इन भाईये जाति जी ग॒ल्हि कजे तह इहा शिकार्पूर जी ट्रि सघेरि जाति ब॒धाई वेंदी आहे जतोई ऐं मारहि खां पोई। शिकाररपूर बाबति जा॒ण रखिदडनि जो रायो आहे तह जिहादी तंजमूनि खे पूरि आजेदी दि॒ञी वई आहे तह हो पहियूं हर्कतयूं पूरी आजादि सां कनि ऐं ऐडहे तंजमयूं खे इहे कबाईली जातयूं, पूलिस ऐं हकूमत पारां पूरी मदद पई मिले। इन वारदाति में पिपिलस पार्टी जा भी असिलोका रंङ पधरा थिया आहिनि छा काणि तह इन वारदाति जो अहमि गुनेगारु बबर खां भाईयो शिकारपूर में पिपिलस पार्टी जो अहमि अग॒वाणु आहे। सिंध मां वेझडाईअ में लदे॒ आयलि हिंदु बरगी बिरादरी जो भी चवण आहे तह तालिबान जो असरु सिंध में कजहि सालनि खां जाम वधयो आहे। इहो सब इन जे वावजूद जे सिंध जे हिंदु बरादरी हमेशाहि ईं पिपलस पार्टी जो साथु दि॒ञो आहे। उहे अग॒वाणु हिअर गो॒ल्हिहे ई कोन बया लभिनि।

 

बदकिसमतिअ सां सिंध में हिंदुनि तोडे थोराईअ वारी कोमनि जे विरूध ऐडहीनि वारदातयूंनि खे कद॒हि भी संजीदगीअ सां कोन धयानु दि॒ञो वयो आहे। जेकरि रिवाजी सिंधी मुललमानि जी गा॒ल्हि कजे तह कनि खे छदे॒ हिकु ई जवबु मिलिंदो –साईं हिंदु तह अजायो पया हूलु कनि इहो तह मुसलमानि सां भी पयो थिऐ। इन जे नसबत सिंधी मिडिया जो हमालो दि॒ञो वेदो आहे जिते सिंधु बाबति  खबरिनि  में 365 दि॒हिं साग॒या अहवालअ हूंदा आहिनि तह फलाणे – फलाणे खे कतल कयो, फलाणो अगवा थियो वगिराह वगिराहि। रूगो॒ नाला ऐं तारिखयूं मटयलि हूंदयूं आहिनि, बाकि सब साग॒यो। सिंध में इन वारदातयूं खे तमाम रिवाजी करे मञयो वेंदो आहे। सिंधी मिडया जहिखे इन मसले खे जोर तोर सां हथ करणो खपिंदो हो से तह सिंधीयूनि खे अजरक टोपयूं पाराऐ सिंधीयूनि खे नचाअण में ई पहिजी शान करे लेखिंदी आहे।

 

पर इन सभनि जे वावजूद सिंध में माण्हू सुजाग॒ थेनि पया। इन वाक्ये बैद चक में सिंध जे सिविल सोसाटी ऐं केमिपरसत पार्टयूं ऐतजाति रेलयूं कद॒यूं जिनि में हजारनि जा माणहूनि सिरकत कई। जिऐं सिंध कोमि महाज जो अग॒वाणु बशार खां कुरेशी ऐं अवामी तहरिक जो अबदल लतिफ पलेजो इन रेलयूं में शिककति कई। गायब रही तह रूगो॒  प प  प जेका दहशदगर्दनि सां लडाईनि में पहिंजूं कर्बीनयूं गणाअण में पल भर जी देर कोन कंदी आहे पर हिअर खामोश। प प प जा हिंदु मेमबर पिणि गायब रहया जहिंखे सायदि चुप रहण में पह्जो निजी फाईदो नजर आयो- थी थो सघे तह खेनि प प प माठि रहण जी हिदायति दि॒ञी हूजे। पाकिस्तानि में कोमि ऐसलमबलि में शेरी रहमानि हिक ऐडजर्नमेट मोशन भी करायो जहि में पिपिलस पार्टी खे इन अग॒लाणनि खे पार्टी मां बा॒हरि कद॒ण जी घुर कई वई। पर छो तह शेरि रहमानि हिअ अमेरिका में पाकिस्चानि जी राजदूत थी अमेरिका रवानो थी आहे तह इन जी पूरि उमेदि आहे तह इहो भी केस विसारयो वेंदो।

 

चक में अमामी तहरिक पारां ऐतजाजी रेली में हिदू बिरादरी सां ग॒दु॒ अयाज लतिफ पलेजो

हिंदुस्तिनि जी मिडीया में सिंध बाबति कवरेज नह जे बराबर रहयो आहे। इन जो हिकु वदो॒ सबब इहो रहयो आहे तह सिंधीयूनि खां सवाई हिंदुस्तनि में मूखतलिफ कोमनि जा माण्हू रहिनि ई कोनहि पाकिस्तानि में। पर अफसोसि जी गा॒ल्हि तह इहा आहे जे हिंद में सिंधी किअं माठि करे वेठा आहिनि। सिंधी मिडिया जी तह गा॒ल्हि परे पर कहिं भी सिंधी संमेलनि में सिंध जी हालतियूनि बाबत बहि लफज ताई गा॒ल्हया कोन वेंदा आहिनि- कजहि करण जा तह गा॒ल्हि परे आहे। हर सलमेलनि में बस हिक़डो ई रागु तह – साईं सिंधीयूनि हे कयो तह हो कयो, पर सिंध में रतो छाणि पई हले, हिंदुनि जी लद॒पण पई हले पर मजालि आहे तह कहिंखे का ताति हूजे। जेकरि सिंधी ई माटि हूंदा तह हिंदी – अंग्रेजी मिडीया जो केडहो दो॒हू….खेनि केडही ताति पई आहे सिंध जी। भेरुमल मिरचंद आद॒वाणी जे सिंध जे हिंदुनि जी तारिख में लिखयलि आहे तह सपत सिंदू सां हिंदु जद॒हि गंगा- जमूना जे किनारे अची वसया तह के सिंधू माथरि वारनि खे मलिच देश करे कोठिंदा हवा पर हिते तह असां सिंधी थी भी सिंध खे मलिच देश करार दि॒ञो आहे, बस  मिडई सिंध जे नाऊं ते मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में पहिंजी शान समझयूं।

 

ऐडही हालतूनि  में सिंधी कोम जो वजूद कायमि रहण औखो ई नह पर नामूमकिन आहे।

 

 

 

 

 

 


हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। बंगलादेश जी आजादी महल बंगाली हिंदुनि तमाम वधिक कहर सठा। हिंदु बंगालियूंनि जी अबादीअ मां जेको हिस्सो लदे॒ हिदुस्तानि वारे बंगाल में आयो सो वरि मोठी बंगलादेश कोन वयो, हाथयूं जेके रहजि हवा सें होरयां होरयां लदे॒ आया ऐं अजु॒ जी तारिखअ में मस जेडहा 1-2 सेकडो ई ब़चा हूंदा। इहो मुमकनि आहे तह इहो भी दो॒हाडो परे नाहे जद॒हि बंगलादेश में को भी हिंदु नह बचयलु रहिंदो।

जेसिताईं सिंध जी गा॒ल्हि कजे तह 1947 खां 2011 ताईं जेकरि का रित सांदई हलि पई अचे तह उहा आहे सिंधी हिंदुनि अबादि जे लदु॒पणि जो सिलसिलो। सिंध में खासि करे जेकरि लद॒ पणि जो सिलसले दा॒हि नजरि दि॒जे तह इंहा चिटी रित नजरि इंदो तह जद॒ही जद॒ही सिंध में अंदरुनि अफरा तफरि थी आहे तद॒हि तद॒हि लद॒ पण भी कहि कदुरु पहिंजो पाण ई वधी वयो आहे। इहो इन गाल्हि जो शाहिद आहे तह निधिकणा माण्हूं हमेशाह ई साफ्ट टारगेट थिंदा आहिनि। इहो बंगलादेश जी अजादीअ जी लड़ाईअ महल थयो, सागी॒ रित सिंधी बो॒लीअ जे बिल महल थयो ऐं वरि सिंध में जूलफिकार भूटटो खां पोई ऐम आर डी (मुवमेंट फार रेसटोरशनि आफ देमोक्रेसि) जे जदोजिहद महलि भी दि॒ठो वयो। हर वकत हिंदु जी लद॒पण तेज थी वई। वरि सिंध विरहाङे बैद जेको सिंधी मुसलमालनि जो सिंध जी सियासत में तबाही थी आहे उन जो भी असरु सिंध जे हिदुनि जे लद॒ पणि खे जोरि दि॒ञो आहे।

आम तोर सां इहो मञयो वेंदो आहे तह हिंदुनि जी लद॒पण मुहाजरिनि (हिंदुसनाति मां लदे॒ आयलि मुसलमानि) जे सबब ईं थी। 1947 में तह कराची ऐं हैदरआबाद मां लद॒ पणि जे जेतोणेक सबब इहो ई थो दि॒सजे। मुंखे जेतिरी खबरि आहे बंगाल या पंजाब जेडहूं हालतयूं कद॒हि सिंध में पैदा कोनि थयूं हयूं, पर नाईं सेंपटिमबर जे वाकये मुखे पहिजी सोच खे कहि कदुरु बि॒हरि विचारण जे लाई मजबूर कयो। हे वाक्यो ताजो नाईं सेपटेमबर जी शाम जो सिंधी जे शखरि जिले में पनो आकिल ऐलाईके जो आहे जिते लग॒ भग॒ 200 हथयार बंधनि काहि आया। अहवालि मोजिबू इहे हथयारि बंध कुलह़डे जाति जा हवा। कराचीअ मां शाई थिंदड अवामी अवाज में शाईं थिअलु अहवालु मोजिबू – 200 खां वधिक हथयारबंद कल्हि शामअ (यानि 9 सेपटेम्बर) जो उचतो पनो आकिलि शहर जे हिंदु मूहल्लनि ईदगाह चौक शाहि बाजार में हिंदु बिरादरी जे घरनि ऐं हटनि ते उचतो काहि करे फाईरिग करे दि॒नि, जहि में जग॒त राम, परमानंद ऐं धरमूमल साणू हिंदु बरादरीअ जा पंज ज॒णा जखमि थी पया। जद॒हि तह अंधा धून फाईरिंग ब॒ह वाटहडो जफर दायो ऐं अब्दूलसत्तार दायो गोल्यूनि लगण सबब जखमि थी पया। हथयारिबंध हिंदू बिरादरीअ जे चईनि खा वधिक हटनि मां लखें रुपयनि जी फूरलूट करण बैद दुकाननि खे बा॒हि द॒ई साडे वयो, जद॒हि तह हिंदु घरनि में दाखिलि थी जाईफाऊनिं सां बतमिजी कई वई ऐं इन खां ग॒ह लावाहे फूर्या वया। हथियारि बंध पारां तेज फाईरिगं सबब सजे॒ पुने आकिलि शहरि में भाजि॒ पेअजी वई ऐं माणहूं पहिंजे जान बचाअण लाईं दुकानं में लिकी पया ऐं केतिरा लतार्जी जखमि भी थी पया। ईतलहि मिलण ते पनु आकिलि, बाईजी ऐं सुलतानिपूर पूलिस मोके ते पुजी॒ हथयार बंधनि सां महादो॒ अटकायो पुलिस ऐं हतयारबंध जे विच में फाईरिंग सबब हथयारिबंध जी अग॒वाणी कंदड बदनाम दो॒हाडी गुलाम हसनि कूलहडो यकदमि जखमि थी पयो जहि खें नाजुक हालति में इसपतालि में भर्ती कयो वयो ऐं नजिर मिराणी (संदुसि पोईलगू) मारजी वयो, जद॒हि तह हिक पुलिस अहलिकारि शहजादो काजी पिणि जखमि थी पयो। फाईंरिग बैद पुलिस किन दो॒हाडिन खे गिरफ्तारि करे पाण सां ग॒दु॒ गि॒हले पिणि वई।

जेसिताई मसले जी गा॒ल्हि आहे तह इहा खबरि आई आहे तह इहो वाक्यो विश्पत दि॒हिं (यानी 8 सेपट्मिबर) जो आहे जदहि पुनो आकिलि जे हिक पराईमेरि स्कूल जे हिंदु पटवालो साधु राम सतें वरहयनि जे सिंधी मुसलि बारडी जी लज॒णिनजी कोशिशि कई हुई। कुलहडे जाति जी इन बा॒रडीअ जूं रडयूं बु॒धी आसे पासे जा माणहु अची बा॒रडीअ खे आजाद करायो जहिखे इन पटवाले वारदाति खां पोई हिक कमरे में बंद करे रखयो हो। बा॒रडीअ खे बैद में पुने आकिलि जे असपताल मे वेहोशीअ जी हालत मां भर्ती करायो वयो। खबरि इहा भी आहे तह पटवालीअ सां हाथापाई कई वई हुई पर हो भज॒ण में कामयाब थयो। ताजे अव्हालि मोजिबु इन पटवालीअ खे रोहडीअ मां पुलीस गिरफतार करे शखर जेल में कैदि कयो आहे। सागर्दयाणी सां इन हादसे बैद, संदिसु वालिधु ऐं ब॒या माईटनि पलिसि थाणे अग॒या ऐतजादि कया, संदिनि सिकायति ते पुलिस साधुराम ऐं स्कूल जे पिरिंसिपल ते ऐफ आई आर दर्ज कई आहे ऐं केस भी दर्ज कयो आहे।

इन पुरे मसले ते पुलिस को किरदार यकिनन खेण लहणे। जेकरि पुलिस नह अचे हा महल सां, तह सायदि चङा हिंदू भी मारजी वञिन हा। हालतुनि खे नजरि में रखिंदे शखर शहर मां भी धारि पुलिस जो जथो घुरायो वयो। पुलिस जो चवण आहे तह काहि कंदड सब दो॒हाडी हुवा। पर इते मसलो इहो थो अचे तह हिनिन इहा काहि कहिजे शाई ते कई। इहो तह नाहे तह हिंदु बरादरी अगे॒ ई कनि खासि माण्हुनि जे सिधी नजर में हुई.नह तह इहो किअं मुमकिनि आहे तह हादसे जे यकदम बे॒ दि॒हीं सब हथयार बंध पूरि तयारि सा संब॒री बिहिंदा। इहो मुमकिनि आहे तह इन काहि जी तयारी अग॒वाठि हुई रुगो॒ कहिं मिहूं जी जरुरत हूई जेको हिन मसले ठह्यो ठूको दि॒ञो। इहो मूमकिनि आहे तह को हिंदुनि सा कावडयलि हुजे, या कहिजी हिंदू बिरादरीअ जी मलकितयूनु ते नजर हुजे।

हे पूरो मसलो कहि कदुरु हिदुस्तानि में गुजराति जे फसादनि जी यादि थो देआरे जिते हिक जुलम खे मुहूं देअण लाई हिकु ब॒यो जूलम कोयो वयो। गोधरा जे  रेल जे दवे॒ में साडयलि माण्हूं जी गा॒ल्हि रिवाजी माण्हू ऐं मिडया विसारे छदी॒। पुरो धयानि ई माण्हुनि जो उन फसादनि दा॒हिं थी वयो। सागे॒ रित पनो आकिलि में जको भी थयो तनि सां उन बा॒रडी जी गा॒ल्हि घठि ऐं फसादनि जी गा॒ल्हि ई माण्हुनि जे दिल ओ दिमाग में रहजी वई।

हिंदुनि ते इहे जुलम कहिं कदुरु नंढि गा॒ल्हि नाहे पर इन जे बावजूद सिंध हकूमत जो को बी वजिरु कोन अची पहूतो। वदो॒ वजिरु काअम अली शाहि जेको मुहाजरन जी कुर्बानीयूंनि (हा बिलकूल सही कुर्बीनी) जा राग॒ गा॒ऐं कोन थकबो आहे सो पुने आकिलि अचण तह परे ,हिकु हमदर्दीअ जो जुमलो पिणि कोन उकोरो। इहा गा॒ल्हि सही आहे तह सिंध में बो॒द॒ आयलि आहे। लखनि माण्हूं दरबदर आहिनि पर वदे॒ वजीरि जे उनहिनि लाई भी जे को घणो कजहि कयो आहे ईऐ भी नाहे। जां खा ऐम कयू ऐम संदिसि हकुमत खा धारि थी आहे तां खां वदे॒ वजीर जो धयानि रुगो॒ पहिजी हकूम खे सोघो करण में ई लग॒यलि आहे। जेकरि इहा बो॒द कराची या हैदरआबाद में अचे हा तह पोई सिंध हुकूमत जी गणती दि॒सण जेडही हुजे हा। सागयो हालि सिंधी मिडया जो भी हो। सवाई अवामी अवाज जे कहि भी इन मसले खे जोगी॒ जाई देअण जी जरुरत कोन महसूस कई। जेकरि कहि सयासि संजिमि इन थे सरगर्म रही तह उहा हूई जिऐ सिंध कोमी महाज। संदसि सदर बशीर खान खुरेशी मोके वारदात में पहुतो हिक अमन कामिटि भी जोडाअण में भी मदद कई। जिअं इन मसलनि खें वधण खां रोके सघजे।

कोलहडे कोम जे इन दहशद दीं॒दड वारदात सां जेका गा॒ल्हि हिंदु बिरादरीअ जे धयानि में ईंदी सो आहे लद॒पण। पाकितस्थानि जे वजूद में अचण खां ई  हिंदुनि जी लद॒पण जो सिलस्लो सांधई हले पयो । लदपण तह पंजाब ऐं खैबर पुखुतुंवाह मां भी थे पई पर सिंध मां हिंदुनि जी लद॒पण जो कहि कदुरु मुख्तलिफ आहे। जदहि तह सिख ऐं बया हिंदु सागी॒ बो॒ली गा॒ल्हिईंदड ऐलाईके में था वञि वसिनि पर सिंधी ऐडहा खुशनसिब नथा थेनि । हो अणसिंधी ऐलाईकनि में था वञी वसिनि। जिते खेनि वसण में भी तमाम वधिक तकलिफनि खे मुहुं थो देअणो पवे। संभनि खां वदो॒ मसलो आहे तह हिदुस्तानि में नागरिकता जो, जहि सबब हो तमाम तंग भी था थेनि। वरि हकूमत ताई संदिनि दा॒ही या फर्याहि नथी पुजे छो जो सिंधीयिन हिथ टरयलु पखिरयूलि आहिन ऐं ब॒यो तह सिंधीयूनि जी हित सियासत में हलिंदी पुजिं॒दी नाहे। इन खां सवाई अजु॒ जे कराचीअ वाङुरु हित गुजराति ऐं राजिसथानि  में नो गो ऐरिया तह नाहिन पर ऐडहयूनि चङा ऐलाईका आहिन जिते सिंधीयूनि खे जायूं मसवाई हित हिंदुस्तनि में सिंधीयनि सां सुबाई माण्हूनि में वहिंवार भी सीग॒यो नाहे। जिते हिक पासे गुजराति (कच्छ खे छदे॒) ऐं राजसथानि में सिंधयूनि सां वहिंवार कहि कदुरु गलत थिंदो रहयो आहे उते हिंदी गा॒ल्हिआंदड सूबनि में वरि इअं नाहे। पर इन जे बावजूद लद॒ पण जोर थे आहे छा काणि तह ब॒यो कजहि नह तह हित हिंदुस्यानि में लदे॒ आयलि हिंदुनि जे लेखे अमन ऐं सांन्ति आहे। को भी सिंधीयूनि जे घरनि ऐं दुकानं खे बा॒हियूनि नथो दे॒, सिंध वाङुरि सिंधी हिंदु नयाणिनि खे स्कूल मोकिलण में माईट दि॒जिनि कोन था।

केतरि नह अजबु गा॒ल्हि आहे जे के रिवाजी माण्हूं इहो भी नह समझींजा कोन आहिनि जूलूम कद॒हि भी कोमी नह पर शख्सी थींदो आहे। इहा गा॒ल्हि हमेशाई ई पधरि थी आहे तह जद॒हि जद॒हि जूलम खे कोम सां ग॒द॒यो वयो आहे तह नुकसानि इहो जुलमु सहण वारे जो ई थयो आहे, जेको जुलुम उन नंढरी शागिरदयाणीअ सां थयो आहे सो कहि कदरु नढो जुलुम नाहे। इहा समाज जी जिमेवारी आहे तह दो॒हारीअ खे सजा मिले, छाकाणि तह हिक दो॒हु जो मसलो कहि धारि बेहिगुनाह ते जुलमू करे पूरो नह थिंदो आहे। जेको जलमू साधूराम कयो आहे सो कहि माफि लाईक नाहे। पर जे इनही लाई कहि जा दुकान साडया वञिन या कहि खे फरयो वञे तह इहा कोम जी बदनसिबी खां सवाई ब॒यो कजहि नाहे। केतिरो नह अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे जे इन काहि थी हिदुनि ते पर वारदाति ते मुआ ब॒ह सिंधी मुसलमानि। सिंधयनि खे सिंधीयनि सां विडाहण जो ऐजेंडा मुहाजरिनि ऐं पंजाबियनि जो आहे जहि में इहे भोतार ऐं वदे॒रा अहम किरदार था निभायनि। जेसिताई इन भोतारिन खे हूकूमत मां नह हेकाले कद॒या वेंदो सिंध में कदहि अमन नह ईंदो। मुल्कु जी गा॒ल्हि परे, सिंधी मुसलनानन को इजत जी हयाती भी जिअण मुशकिलि थिंदी जिऐं कराचीअ जे लियारीअ में थी रहयो आहे।

हिंदुनि जे लद॒पण सां मभनि खा वधिक मुशकिल हिंदु दलितनि जी थिंदी। हो अगे॒ई तकलिफनि में आहिनि ऐं हिंदुनि जे लद॒ण खां पोई हालतयूं संदिनि लाई बेजार थी वपदूं। हो सदियनि खां जिल्लत जी जिंदगीयूं पया गुजारिनि। ऐडहा चङा वाकया अखबारिनि में साई कया वया आहिनि जेहि में संदिनि सा माटेलो वहिंवार चिटि रित नजर अचे थो। वेझडाईअ में ई सिंधी अखबारकनि में खबर शाई थी तह बो॒द॒ सबब लगायालि केपनि में खेनि खादो या इझो कोन थो दिञो वञे। सागि॒ रित ऐडहयूनि गा॒ल्हिईयूनि पर साल आयलि सिंध में बो॒द॒ महलि भी बु॒धण में आया। नुकसानि सिंधी मुसलमानन जो भी आहे जेके इन सिंधी हिंदुनि जे लद॒ण सां थोराई में ईंदा, छा काण तह घटे थी तह रुगो सिंधीयनि जी आबादी थी। सिंधी बो॒लीअ जो जोको वहिंवार घठबो सो धारि नुकसानि।

असीं सिंधी जेके हिंद में आहयूं लद॒ पण॒ खे हमेशाहि ई हिकु रिवाजी हिंदु मुसलिम मसलो करे लेखिंदा आहयूं। इन जे हिकु सबब इहो भी थी थो सघे तह सिंध में रहिदड सिंधियनि सां असां जो  राबतो नाहे। वरि जहि राबतो रखो तनि में ऐं आम रिवाजी सिंधी में लिपीअ जे मसले हिक वदी॒ विछोटी आंदी जहि सबब हिंद में रिवाजी सिंधी सिंध जे हालतूनि खां मां अणवाकिफ ई रहया आहिनि। दरअसलि 1947 खां जोको तब्को सिंधीयनि (मसलमानि में ) जी नुमाईंदगी पयो कंदो अचे तन जे सोच में को भी फेरो कोन आयो आहे। हो अजु भी ओतिरा जाहिलअ आहिनि जेतिरा मुञे सदी अगु॒ हवा। इन जे विच में बंगाली अजादीअ जी अवाज भी बुलंद कई आजाद थी भी वया पर सिंधी उतोऊं जा उते। सिंध जी सियासत 1947 खां ई वदे॒रेनि ऐं बो॒तारनि जे हथनि में आहे, जिन लाई आम रिवाजी सिंधीयनि खे अणपढयलि ऐं पोईते रखण ईं हिक अहम मजबभरी ऐं जरुरत ब॒ई आहे। इहो इन लाई जे जेकरि जेकर रिवाजी सिंधयनि में सुजाग॒ता इंदी तह संदिनि हकुमत नह हलंदी। अग्वा सिंधी मुसलमान भी था थेनि। फूरलुट ऐं खुनखराबो सिंधीयनि मुसलमानं में खासि करे गो॒ठनि में आम थी पयो आहे। वरि जेहिं खे तालिम भी मिलि से वरि मुहाजरिन जा पोईलग॒ थी रहजी वया, ऐडहे में जेकरि को अमन यां सांन्ति जी उमेद करण मतलब रण में हर मानसुनि मे मिंहिं जी उमेद करण खां कहि कदुरु घट नाहे।

 

मूंहिजे बलाग लिखण जो मक्सद

आऊं छो पयो बलाग लिखां

ईनटरनेट मे सिंधी में मूवादु (वेब सईट तोडे बलाग़) खास करे देवनागरी सिंधी में नह जे बराबर आहे । ईन जा चङा सबब अहिनि- जिऐं – सिंधी ब़ोली हो वाहिपो घटिजणि, सिंधी ते हिंदीअ जो हिक नमुने जो दब़ाव, ब़े खे द़िसी संदिन जेडहो थिअण जी रिस ऐं पंहिजे सफाकत खां धार थिअणु। किनि खे इन बेरुखिअ में लिपिअ जो बि द़ोहु पिणि नजर इंदो आहे। पर मुंहिजी समझ में सभनिन खां वद़ो सबब नई टेहीअ जो ब़ोलीअ सां छिनजण ई आहे। इहे साग़या सबबअ ई सिंधी ब़ोली जे हाणेकी हालत जिम्मेवार था द़िसजिन।
बलाग़ ईनटरनेट जी हिक अहम सहुलियत थी ऊभरी आहे, ऐं युनिकोड जे अचण सां लग़-भग़ हर हर हिक अहम ब़ोलीअ में बलाग़ पया लिखजनि। पर सिंधी हिन्दून सां ईअं किन थो द़िसजे। हिन्दुसतान में रहनदड़ सिंधी, हिंदी तोडे अंग्रेजी में ई बलाग़ल था लिखिनि। सिंधीयन जो पहिंजे ब़ोलीअ बाबत वहनवार द़खाईन्दड़ आहे। अज़ु इहो सोचण में केद़ो नह अजबु पयो भासे तह विरहाङे खां अग़ु सिन्धी बोलीअ में 90 सेकड़ो कमु सिंधी हिंदून जो ई आहे।
देवनागरी हिक सुठी लिपी आहे, इन में के ब़ राया कोन्हिनि। इहो ई सबब आहे जे अंग्रेजनि ईन लिपी खे द़ाढी अहमियत दिञि । केपटन जारज स्टेक पंहिजे ग्रामर देवनागरी लिपीअ मे ई छपाऎ पधरो कयो हो। ईहो ई नह पर संदिस जोड़ायल शब्द कोश अज़ु भी सिंधी ब़ोलीअ में हिक अहम जाई वालारे थो। इहा असां लाइ बदकिसमतीअ ई जी ग़ाल्हि आहे ऎड़हे नेक कम खे अग़ते वधायण खां बिदरों असीं हिंदी जे पुट्यों पया भज़ों।
इअं ब़ि नाहे तह हिंदी खां सवाई ब़ि का ब़ोली देवनागरीअ में नथी लिखी सघझे। असांवटि मराठीअ जो हिक सुठो मिसाल आहे। मराठी सिंधी वाङुर हिंदीअ खां मुखतलिफ थी करे भी देवनागरीअ लिपि में काम्याबी माड़ी आहे। जेकरि असीं सभीई सिंधी हिकु थियों तह जल्दि ई सिंधी भी ऊन मुकाम खे हासिलु कदिं जंहिजी ऊहा हकदार आ हे।
मुहिंजे बलाग लिखण जो मक्सद रुग़ो ईहो आहे जिअं सिंधी जो वाहिपो असीं सिंधयन में वधे ऐं सिंधी ब़ोली जो पिणि अग़ते विख वधाऐ । 5000 वरहयं जी ब़ोलीअ जो अन्तु ईअं नथो थी कघे।