आरकक्षण ऐं सिंधीयूंनि जी सियासी नुमाईंदगी

 

हिन साल जूं उतर प्रदेश जूं चूंडयूं बे॒ कहि सबब जे लाई यादि कयूं वञिन या नह पर मूसलमानि लाई आरकक्षण जे नसबत जरुर यादि कयूं वेंदयूं । इन जी शरुआति इन चूंडनि जे तारिख जी  पधराई खां कजह दि॒हनि अग॒वाटि थी जद॒हि यू पी ऐ जी हकूमत मूसलमानि लाई 4 सेकडो तकयूं सरकारि नोकरयूंनि में तकयूं  महफूज रखण जे नतबत निटिफिकेशनि जारि कयो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मुसलमानि लाई ऐडहे आरकक्षनि जो कदमि उमालक पधरो थियो आहे। कनि सालनि खां मूलसमानि जी हिक घुर रहि आहे तह खेनि भी सरकारि नोकरयूंनि तोडे स्कूलि कालेजनि में आरकक्षणु दि॒ञो वञे। जेतोणेकि सूबाई हकूमत कहि कहि सुबे में मुसलमानि खे आरकक्षण दि॒ञो आहे जहि में के कच्छ जूं सिंधी मसलमानि जातियूं पिणि शामिलि आहिनि पर मईकजी सतहि ते इहो पहिंरो भेडो आहे तजहि ऐडहो को कदमि खयो वयो हूजे।

कंग्रेसि जो हिन कदम ते हूल मसअ जेडिहो माठि थियो ई किन हो जे ब॒यूं भी पाण खे सेकूलर खोठाईंदड सियासी संजमतूं  किअं वरि पोईते रहिनि। सभनि पहिंजी पहिंजी वफादारिअ जा अंग अखरि पेश कया। लग॒ भग॒ हर का पार्टि (सवाई कमूनिसट ऐं भाजपा जे) हिक बे॒ जे रिस में आकडा पधिरा कया – को चवे सत सेतिडो तह को द॒ह।  इन सभनि जे विच में जेको सवालु हिंदुस्तानि जे मिठिया तोडे आम माण्हूनि जे चपनि ते हो सो इहो ई हो तह – ईहा हमदर्दी हिअर चूंडनि महलि ई छो। जेसिताईं सचल कमिशनि जी गा॒ल्हि आहे तह उन भी कहि रित रिजरवेशनि जी शिफारिश कई हूई। तहि खे भी भरया छह अठ महिना, पर सवालु इहो आहे तह ज॒दहि कांग्रसि इन आरकक्षण लाई सघ कोन मेडे सघी तह हिअऱ ऐदी॒ तकड छो…..ऐडही गा॒ल्हि भी नाहे जे मुसलमानि अण्णा वाङुरि अंशन ते अचि वेठा हवा।

 

आरकक्षनि बाबति सोच का नई नाहे। आजादीअ खा अगु॒ अंग्रेजनि दलितनि लाई सागे॒ आरकक्षनि जी चाहि रखिंदा हवा पर कद॒हि कामयाब नह थी सघया छाकाणि तह कांग्रेसि ऐं गांधीजी इअं थिअण नह दि॒ञो। कद॒हि पहिजे अंशनि जे जोर ते तह कद॒हि मूसलमानि खे रिआईतूं द॒ई करे गांधीजी दलितनि खे इहो फाईदो कोन माणणि दि॒ञो। इन मसले जे माहिरिनि जो मञण आहे तह गांधीजीअ जो इअं करण जो मकसद इहो ई हो तह संदुसु अंदोशो हो तह इहो मूमकिनि आहे तह दलित भी मूसलमानि वाङुरु विरहांङे जूं गा॒ल्हियीं नह कनि।

 

आजादिअ बैद नेठि दलितनि लाई आरकक्षण जी सुरुआति थी। जोतोणेकि नह नेहरु नको दलितनि जो रहिबरि बाबा भीमराऊ अंबेदकर जतियूंनि ते तंज ते आरकश्रनि जा के वदा॒ हिमायति हवा। संदनि लेखे इन सां मूलक में कमजोर जो वाहिपो वधींधो जेको मूल्क लाई ढिघे अर्से में कहि भी रित हिकु सुठो कदमि साबित नह थिंदो। पर इहा हिक सच्चाई आहे जे बाबा साहिब अबेदकर कदि॒ खुले आम इन जो विरोध किन कयो। शुरुआति जे दि॒हनि जेतोणेकि इन आरकक्षण जो मियादि रुगो॒ द॒हनि सालनि ई मूकर्र कई वई पर बैदि में इहो वधींदो वयो। 1980 जे द॒हाकनि में इंदिरा गांधी हिक कमिशनि बरबा कई जहिजो कम हो तह दलितनि बाबति सुझाऊ दे॒अण जेका मंडल कमिशनि में नाले सा मशहूर थी। पर इहो वि पी सिंह हो जहि हिकु वदो॒सियासि दाऊ खेदिं॒दे हिंदुस्तिन जी सियासकि में हिक रित तहलको खणी आयो मंणड कमिशनि जे सुझाऊनि खे अमल हेठि आंदो। हिदुस्तानि जी सियासत वरि सागी॒ किन रहि। मंडल कमिशनि जे दि॒हिनि बैदि उतर हिंदुस्तानि में ऐडहयूं पार्टियूंनि जी भरमारि थी आहे जहिंजी सियासति दलितनि ऐं पोईते पयलि जातियूंनि बाबति ई रहि आहे भले इन पार्टूयूनि दलितनि ते थिदड जुलमनि में कहि खासि हद ताई रोक लगाअण में कासिर रहियूं आहिनि खासि करे गो॒ठनि में जिते अजु॒ भी जातिवादि हिकु वदो॒ मसलो आहे।

 

आरकक्षण में हिंदुस्तनि में दलितनि खे के शासि राआईतू दि॒ञयूं वयूं आहिनि मसलनि- सरकारि नोकरियूंनि में ऐदा महफूज करण, तालिमि जे खेत्र में कालेजनि जे दाखिले में तकयूं महफूज रखण, नोकरियूं ऐं कालेज में दाखिले में लाजमि उमर्र में रियाईतु, इंमतहानि जे फिसनि में रियातु.  सुबाई तोडे मर्कजी ऐसलमबलि में तकयूं दलितनि लाई महफूज करण वगिराह। यकिनि हिंदुस्ततानि जा मलसमानि भी साग॒यूं रियातूं चाहिंदा इन जे वावजोदि जे मूसलमानि समी वजूद नाहे। नह ई इसलाम में इन जो को वजूद आहे। सागे॒ रित के क्रिसचेनि भी इन जी गुर कनि था तह संदुनि में भी दलित आहिन सो संदुनि खे भी हिंदु दलित वाङुरु रिआयतूं दि॒ञयूं वञिनि खासि करे द॒खिनि जे सूबनि में जिते क्रिसचनि जी सुठी तादादि आहे।

हिंदूस्तनि जे संविधान में में रूगो॒ हिंदुनि में ई दलितनि जे वजूद खे कबूल कयो वहो आहे। हिंदुस्तानि में अगो॒ठे ग्रंथ यानि रामायण तोडे महाभारति में ऐडहा जाम वाकया बयान कयलि आहिनि जिनि में इहो चिटि रित पधिरो तो थिऐं तह तन दि॒हिनि खां ई दालितनि सां वयलि थिंदा हवा, पर साग॒या मिसाल इसलाई ऐं क्रिसचनि धर्म में नथा मिलिन। जेतोणेक इन गा॒ल्हि मां इंकारि नथा करे सघजे तह छो तह धर्मु मठाअण जा वाक्या द॒लितनि में घणा थिया आहिनि पर इन जो इहो मतलब नाहे तह इहो मञयो वञे तह द॒लित हिंदु तोडे दलित क्र्सचननि सां इसलाम तोडे क्रिसचनि धर्म में भी इहो ई थियो जेको खेनि हिंदु धर्म में सहणो पयो।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तनि में रूगो दलितअ पया इन आरकक्षण जी गुर कनि। पिछाडिअ जे कनि सालनि में जाट (हर्याणा तोडे राजिस्तानि ऐं ओहलि यू पी ) भी इन जी घुर पया कनि तह खेनि पिणि दलितनि पारयूं सहूलतयूं दि॒ञू वञिनि। पर साल तह राजिस्तानि जे गुर्जरन लग भग महिनो खनि रेल जी पठरिनप़िरिन ते पहिजी आकहि सुधा सिडजी विठा जहि सबब हिंदुस्तानि रेल जे पटरिनि ते धरनो द॒ई किडोडनि जो नुकसानि रेलवे खाते खे रसयो। हो ढरया तद॒हि थिया जद॒हि हिंदुस्तानि जी अदालुतन संदुनि खे फटकारि लगा॒ई ऐं हूकूमत जागी॒। हूकूमत ऐं सियासि पार्टियूंनि लाई मसलो इहो थी पयो आहे जे आरकक्षण हिअर हर कहिखे नथो दे॒ई सघजे। हिंदुसातनि जी वदे॒ में वदी॒ अदातलि जो फैसलो आहे तह 50 सेकडो खां वधीक आरकक्षण नथो द॒ई सघजे पर सवालु इहो आहे तह ऐडही हालतुनि में इहो किअ मूमकिनि आहे जे आरकक्षण जी चाहि रखिदड कोमनि पर्चायो वञे। हिंअर जोतोणेकि सियासी पार्टियूं ओ बी सि जे 27 सेकिडो आरकक्षण ते पहिजूं उमेदयूं रखि वेठीयूं आहिनि पर अंदेशो इन जो भी आहे अजु॒ नह तह सुभां नेठि ओ बी सि पहिजो हकु महफूज रखण जो जोखडो कंदा ई। इहा सोच रूगो॒ इन लाई थी पैदा थे छाकाणि तह जेके –क्रिमी लेअअ (जेके जातियूं आरकक्षण जो फाईदे सबब कहि सदरु उभरियूं आहिनि) खे हठाअण जे सख्त खिलाफ आहिनि से वरि पहिंजे हिस्से जी पति मां मूसलमानि खे दि॒दां – इहा गा॒ल्हि वेसाऊ करण जेडही नाहे।

 

जेसिताईं गा॒ल्हि आहे सिंधीयूनि पांरा  अरकक्षण जे गुर जी तह यकिनि पिछाडिअ जे किनि सालनि में आरकक्षण जी गुर तमाम तेज थी आहे। इहो यादि रखण गुरजे तह जद॒हि कि जाट,गर्जर या मूसमानि आरकक्षण दलितनि खे दि॒ञल रियाऊतनि जे तंज ते आहे पर सिंधीयूनि सां इऐं नाहे। सिंधी कद॒हि भी नोकरयूंनि या तालिमि संसथाऊंनि में तकयूं महफूज करण जे नसबत अरकक्षण कोन घूरयो आहे। जेतोणेकि मूम्बई में (जिते सिंधीयूंनि तमाम घणा तालिम जे वाधारे कालेज खोलया आहिनि) कनि सिंधी कालेजनि में सिंधीयूंनि लाई के तकयूं महफूज आहिनि पर सरकारि सहति ते कद॒हि भी ऐडही  घुर सिंधीयूनि कोन कई आहे। इन जे हिक सबब याकिनि इहो आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी समाज में हथ फैलाअण गलति समझो वेंदो आहे। असां जी हमेशाहि ईहा कोशिश हूंदी आहे जिअ असीं पहिजे सघ सां सभ कजहि हासिल कयूं। ईहा गा॒ल्हि विरहांङे जे वकत में जेतरि सची हूई अजु॒ भी सागे॒ रित हिक हकिकत आहे। वरि सिंधीयूनि में विरहांङे बैद जाम फेरो आयलि आहे। हिअर सिंध धंधनि में जाम वधिक लभिंदा आहिनि, जेतोणेकि सिंध में मूसलमानि हकूमति में ऐंडहा चङा सिंधी हिंदू वदे॒ वदे॒ अहदनि ते हवा ऐं अंग्रेजनि महलि तह तमाम वधिक हिंदु नौकरियूं पई कयूं पर विरहांङे जे कापरे धकु इहो सभ फेरे छदो॒।

 

जेतोणेकि सिंधीयूनि में अरकक्षण नेकरियूंनि में तोडे तालिमि संसथाऊं जे नसबत घुर कोन थी आहे पर जेसिताईं सिंधीयूनि जे नुमाईंदगी जी गा॒ल्हि आहे तह यकिनि सिंधीयूंनि खे जाम जरुरत  महसूस थी आहे। जेकरि हिंदुस्तानि जे सिंध ऐलाकनि जी  गा॒ल्हि कजे तह के ऐलाईका आहिनि जिते सिंधी घणी तादाति में रहिनि था मसलनि उल्हासनगर (सिंधूनगर), अजमेर (राजिसथानि), गांधीधाम (कच्छ), कूबेर नगर (अहमेदाबाद), या वरि संत हरदास नगर (भोपाल जे भरिसां) वगिराह। इन सभनि ऐलाईकनि में में जेतोणेकि सिंधी कहि हदि ताई मुनिसिपल या सुबाई ऐसलमबली जे चूंडनि ताई अहमियति रखिनि था पर जेसिताई लोक सभी में सिंधी नूमाईदीगी  जी गा॒लिह आहे तह इन में को भी शकु नाहे तह असी इन चूंडनि में का भी वदी॒ अहमियति नथा रखोऊं। इन जो मतलब इहो थियो तह जेसिताई लोक सभा जे चूंडनि जी गा॒ल्हि आहे तह जेके भी सिंधी मूल जा अग॒वाण मर्कजी सतहि ते अग॒ते वधया से रूगो॒ अण-सिंधीयूनि जे साथु यो जोर ते या खणि चईजे पहिंजी सघ सबब। वरि इहो ई दि॒ठो वयो आहे तह उहे सिंधी अग॒वानअ जेके राष्ट्र सतहि ते कहि कदूरु सघेरा थिया आहिनि से सिंधीयूंनि खे उहा अहमियति नथा दे॒नि जेका पहिजे एलाईके जे घाणई में हूदड कोमनि खे। (इन जी हिक मिसालि राम जन्म भूमि जे जाखडे वकत अहमदाबादि में दि॒सण में आयो जद॒हि तह अद॒वाणी सिंधीयूनि पारां हिक मेड में ब॒ह मिंट तरसि ब॒ह लफज गा॒ल्हिअण जरुरि नह समझो जद॒हि हो गुजरातियूंनि लाई जगहि जगहि ते तकरिरयूं दि॒ञूं।)  खैरि सुबाई सतहि में भी सवाई कुबेरनगर ऐं सिंधुनगर (उल्हास नगर) जे वरलि ई ऐडहो को ऐलाको आहे जिते सुबाई ऐसलमबली में दाखिल वठिदड अवाम जा नुमाईंदनि खे मुल तरह सिंधी वोटनि जे पहिजो मूल आसिरो रखणो पयो हूजे ।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे सिंधीयूनि कोशिशयूं कोन कयूं आहिनि जे सिंधी नसल जे माणहूनि खे लोक सभा तोडे ऐसलमबली में सियासी पार्टियूं चूंडनि में टिकेटां दे॒नि, पर थियो इहो आहे जे ऐकड-बे॒कड वाक्ये खे छदे॒ सिंधीयूंनि खे टिकेटां तद॒हि ई दि॒ञयूं वयूं आहिनि जिते चूंड खटणि जी उमेदि टिकेट दिं॒दड पार्टी खे तमाम घटि रहि हूजे। मसलनि छतिस गड जी राजधानि रायपूर जे भरसां  राज नंदगाऊं में बी जे पी सिंधीअ खे तहि महलि टिकेट दि॒ञी जद॒हि संदुसि हालति तमाम घणी खराब हूई छा काण तह माण्हूं उन सरकारि खां घणो खुश कोन हवा ऐं वरि उन ऐलाके जे अगो॒णो नुमाईंदो पैसा वठी संसद में सवाल पुछण जे मामले में पदि॒रो थियो हो जहि सबब संदुसि खे पहिजी तक मां इसतिफो देअणो पयो हो। वरि जिते इऐं नथो थे उते सिंधी छो तह अण सिंधीअनि जे जोर ते चूंडियूं खटिनि था सो वरलि ई सिंधीयूनि जो को कदुरु कनि था। इहो ई सबब आहे जे कनि सिंधीयूनि खे लगे॒ थो तह जेकरि सिंधीयूनि खे हिक या ब॒ह तकयूं दि॒ञयूं वञिनि लोक सभा में तह इहे सांसद सिंधीयूनि लाई ई कमु कंदा, छाकाण तह खनि इन गा॒ल्हि जो ढपु हूंदो तह कोम लाई जेकरि कजहि नह कयो तह सिंधी समाज काविडजी संदुसि टिकेट रद कंदो।

 

ऐडही गा॒ल्हि नोहे तह ऐडहो को मिसाल नाहे हिंदुस्तानि में संविधानि में। ऐंगलो इंडियनि खे इहा सहूलियति अगे॒ ई मिलयलि आहिनि, तह पोई सिंधीयूनि जे लेखे ईहा सोच रहि आहे तह असां छोन नह। सिंधीयूनि में ऐडहयूं घुरयूं चङनि सलनि खां पयूं थेनि। सिंधयूनि में जिते भी पुगो॒ आहे इन समले ते धयानु छिकायो वयो आहे। मिसाल जद॒हि राम जन्म भूमि जे जाखडे महलि श्री के आर मलकाणी खां भी हा गुर कई वई तह हो बी जे पी में ऐडहे कहि अमलि लाई गा॒ल्हि अग॒ते वधाऐ। वरि हिंदुजा भाउरनि तोडे ब॒यनि इहा गुर हर पैलटफारम में रखण जी कोशिश रंदा रहया आहिनि जहिखे कवरेज मिटिया भी पई दे॒। पर जहिखे जोर शोर सां इन मसले खे खरणो खपे यानि सिंधी सियासतदानि से खामोश आहिनि। इहो मूमकिनि आहे तह सिंधी सियासतदानि में इहो ढप हूजो तह जेकरि सिंधीयूनि लाई हिक अध तकयूं महफूज थी पयूं तह इन जो असरि संदुनि जे नूमाईंदगी ते पवंदो। इहो थी थो सघे तह सिंधी कोम जे नाले ते संदुसि टिकेटां (चूंडनि में हिस्सो वठण जे नसबत) इन सबब रद थिऐं जे सिंधीयूनि खे तह नूमाईंदिगी अगे॒ ई मिलयलि आहे।

 

जद॒हि जद॒हि भी सिंधी जे हकनि जे जाखडे जी गा॒ल्हि कई वई आहे तह हमेशाहि हिकु जुमलो दहूरायो वेंदो आहे तह साई सिंधीयूनि खे ऐतजाज करण जो वकत ई किथे आहे। असां सिंधी तह नाणो कमाअण में ई पूरा अहियूं। असां खे इन  ऐतजाज करण जो वतक किथे आहे वगिराह वरिगाह. जेकद॒हि असीं सिंधी बो॒लीअ जे नसबत ऐतिजाजनि खे यादि कयोऊं तह तनि दि॒हिनि में भी असीं पहिंजी सिंधी बो॒लीअ में तसलिम कराअण लाई का रेल या वाटि किन रोकी हूई नह ई कद॒हि हट या बाजारयूं बंद कराई हयूं। पर इन जे बावजूद असीं हिंदुस्तानि में अटे में लूण हूअण तद॒हि ई सिंधी बो॒लीअ खे तसलिम करायो जद॒हि अठे शेडूल में रूगो॒ चोदा॒हिं बो॒लयूं हयूं ऐं उन खां वदी॒ गा॒ल्हि तह तद॒हि असीं हिंदुस्तानि में पाण खे वसाआण में पूरि रित मूंझयलि हवासिं। हाणे सवालि इहो आहे तह जेकरि तहि महलि असीं पहिजे लाई हक हासिल करे था सघोऊ हिअर छो नह….

 

दरअसलि तनि दि॒हिनि में (1947 खां यकदमि पोई) सिंधी सिंधीपणो जोम हो जेको हिअण दि॒सण में घट ईंदो आहे। इहो जकुरि नाहे तह सिंधीयूंनि लाई लोकसभा में तकयूं महफूज करण लाई असां खे गोड करणो पवे, हडतालि कोठाअणी पवे, या धरना दे॒अणा पवनि। अजु॒ इहो तमाम जरुरि आहे तह असी मिडिया जे जरिऐ हिंदुस्तानि में पहिंजे हकनि जी गा॒ल्हि कयों। इहो यादि रखणो खपे तह जद॒हि असी बो॒लीअ लाई जैखडो कयूं पया तह हिंदी बो॒ली जे लेखकनि जो भी साथ मिलो हो। माण्हूनि खे लगो॒ तह सिंधीयूनि जी घुरअ वाजिबु आहे। तनि दि॒हनि में सिंधीयूनि जे ऐतजाज करण को तरिको तमाम सहूले हो मसलनि जातलि सुञातलि शख्शितियूनि खे सिंधीयूनि पारां कोठायलि जलसनि में शामिल करे मुख्य महमानि तोर आजा कईं वेंदी हूई जिअ खेनि सिंधीयूनि तोडे सिंधी बो॒लीअ बाबत जा॒ण पवे। हाणे सवालु आहे तह जेकरि तहि महलि असी कामयाबी माणि तह हिअर छोन नह ….

 

कहिं भी कोम लाई आरकक्षण जो जाखडो सहूलो नाहे पर इन जे वावजूद मुख्तलिफ कोमयूं पहिंजे रियातूंनि लाई जाखडो कनि पयूं। कनि खे कामयाबि तह किन खे नह पर इन जो बावजूद जाखडो थिऐ थो। पर इहो तद॒हि मूमकिनि थिदो जद॒हि असां में ऐको ईंदो जेको बो॒लीअ जी लडाई जे नसबत थियो हो। पर इन सभनि खां वधिक जरुरति आहे तह असीं पहिजो सिंधीपणो पिणि कायमि रखोऊं। इहा लडाई कहि रित भी सहूलि नह समझण खपे छो तह सिंधीयूनि वाङुर ऐडहयूं जाम कोमयूं आहिनि जेके सिंध जे कद॒ इहे साग॒यूं घुर सरकारि अग॒या रखिनि मथोऊ वरि इन जी पूरि उमेदि आहे तह सिंधी सियसतदानि पिणि को रोलो विझिनि।

 

सिंधीअ जे नूमाईंदिगीअ जो मसलो तमोम अहमि आह जहि नंढो मसलो समझण वदि॒ गलति थिंदी। पर इन सभनि खां वदी॒ गा॒ल्हि जेका अजु॒ ताई असी सिंधी नजरअंदाज करे इदा रहया अहियूं सो आहे वोट बैक जी सियासत। जमूरियात में भले वोट बैक जी सियासत खे सही कोन मञयो वयो आहे पर इन गा॒ल्हि खे तमाम घटि माण्हूं नजरअंदाजि कंदा जे जेकरि इहे दलितनि जा वोट नह हूजिनि हा तह सायहि हिंदुस्तानि में किद॒हि भी असी इन रिजरवेश जी गा॒ल्हि नह कयो हा. हिंदुनि सिंधी किद॒हि भी वोटबैक जी सियास नह कई पर हिअर वकत इचि वयो आहे जे असीं इन मसले खे संजिदगी सा विचारऊं। जेकरि सियासत जी गा॒ल्हि कजे तह छतिसगढ में कूल 90 तकयूं आहिनि जनि में 10 तकयूं ऐडहयूं आहिनि जनि में सिंधी वोट जित ऐं हार में फर्कु था करे सघिनि पर पिछाडीअ जे सुबाई चूंडनि में भा ज पा या कांग्रेसि हिक भी संधीअ खे टिकेट कोन दि॒ञी। हाणे सवालु आहे छा इहे 10 तकयूं ऐहमियति नथयूं रखिनि…..जेकरि मूसलमानि तोडे मूखतलिफ कोमयूं वोट बैंक जी सियासति करे पहिजा हक था हसिलि करे सघनि तह सिंधी छोन नह। आरकक्षण जे नसबति असी को उभ नथ गुरोऊ। इसां नह नोकरयूं था घूरोउ नह तलाम जे खेत्र में रियाईतूं।

 

अजु॒ वकत अची वयो आहे सुजाग थिअण जो छा काण तह जोकरि ऐगलो इंडियनि लाई लोग सभा में तकयूं महफूज रखि थयूं सघजनि तह पोई सिंधीयून लाई छोन नह। ऐंगलो इंडियनि तह हमेशाहि ई अंग्रेजनि जो साथ पई दि॒ञो जदहि तह सिंधी अजादीअ जी लडाईअ में हिंदुसतानि लाई पहिजीयूं हयातयूं भी कुर्बान कयूं…..तह पोई असां सां ब॒याईं छो…..

अंत में आऊं सिंध जे महान सिंधी कवि श्री ऐबराईम मूंशी जे सटयूं दोहारण चिहिदुसि…..

बरा-बरी सरा-सरी, असां घुरोऊं ता ऐतरि

जे को पुछे केतरि, तह असां चऊं हेतरि

हिक आजादि कोम जेतरि , हिक आजाद कोम जेतरि

अरडहणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

अड्हणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

 

हिन सालि इहो वारो हो अहमदाबादि जो- अड्हिंऐ सिंधी सन्मेलनि जे मेजबानि करण जी। इन खां अंगु॒ ऐडहा साग॒या सिंधी मेराडकनि जी मेजबानी दुनिया भर जे जुदा जुदा शहरनि पई कई आहे- जिते जिते सिंधी वसयलि आहे। चयो थो वञे तह सिंधी संमेलनि जो आयोजनि जी सोच सभनि खां अग॒वाटि 1988-89 में श्री प्रेम लालवाणीअ (जेके तहिं महलि केलिफोनिया जी सिंधी ऐसोसिऐसनि जा मुखी हवा) पारां जोर शोर सां रखी वई हूई पर संमेलनि पर पहिरों सिंधी सलमेलनि 1992 में ई आयोजित करे सघयो श्री चंदरु भोजवाणीअ जे वकत। शुरु में इहे सनमेलनि रूगो॒ अमेरिका में जे मुख्तलिफ शहरनि में पई आयोजित कया  वेंदा हवा पर बैद में दुनिया जे मुख्तलिफ मूलकनि में पई अयोजित थिअण लगा॒। इन सन्मेलनि जे नसबत हिक संसथा जहिजो नाऊं पई पधरो थिंदो आहे सो आहे ऐलाईस आफ सिंधी ऐसोसिऐशनि ईन अमेरिका जहि मंझ हिअर 17 सिंधी ऐसेसिऐसनि ग॒द॒यलि बु॒धायूं थयूं वञिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह ईहा आहे जे अमेरिका खां बा॒हरि जद॒हि में ऐडहा साग॒या सिंधी संमेलनि था पय़ा कोठाया वञिन तह मेजबानि कंदड मूलक जी भी संसथा जी भाईवारि हूजे थी। 2010 में जकार्ता, इंडोनिशिया में अहो संमेलनि गांधी लोक सेवा जे जी मदद सां अयोजित कयो वयो। (गांधी लोक सेवा जा जकार्ता ऐं बाली में अठ – द॒ह स्कुल हलिईंदी आहे जिते हिंदुस्तानि में मूल जा माण्हू तालिम पई हासिलु कनि। स्कुल तह अंतर्साष्ट्रिय थेनि पर तालिम जो माधयमि अंग्रेजी थिऐ थो।)

[slideshow]

 

इन संमेलनि जे नसबत दे॒हि या मकानि संसथा जी जो किरदारि निभायो सिंधी काउनसल आफ ईडिया। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया जो नालो सिंधी समाज जे नसबत को नयो नाहे। इन संसथा तहि महलि सुरखियूनि में आई जद॒हि बी जे पी जे दि॒हिंनि में हिंदुस्तानि जे कोमी तराणे मां सिंध लफज खे रद करण जे नसबत कोर्ट में आर्जी दाखलि थी। इन खां सवाई छतिसगड में सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधीयूंनि खे बंगलादेशिनि जे साणु परदे॒हि करार दे॒अण महल पहिंजो रोल अदा कयो हो। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया हिंद तोडे दुनिया जे जुदा जुदा  मूल्कनि में ऐहा जाम जलसा पई आयोजित कया आहिनि।

 

संमेलनि जो महूरति गुजरात जे वदे॒ वजिर श्री नरेंदर मेदीअ जे हथनि सां दि॒ओ बा॒रे कयो वयो। संमेलनि में जा॒तलि सुञातलि सख्सियूतनि खे निंढ द॒ई घुराअण जी गा॒ल्हि का नई जा॒ल्हि नाहे। हिंदुस्तनि में सिंधी बो॒लीअ जे तसलिम जे नसबत साग॒या मंजरि दि॒सण में इंदा हवा। तहि महलि जा॒तलि सुञातलि सख्सतियूनि जे घुराअण जे पुठयां सोच ईहां हूंदी हूई जिअं सिंधीयूनि बाबत इन सख्सतियूनि खे जा॒णि हूजे। तनि दि॒हिनि में इहो जरूरि भी हो छाकाणि तह आम हिंदुस्तानि खे सिंधी कोम बाबत जा॒ण कहि कदरु महदूद हूई। पर हिअर सिंधूयूनि जी सिंधी बो॒लीअ दा॒हि लापरवाहि सवव सिंधीयूनि जी नई टेहीअ खे सिंध तोडे सिंधीयूनि बाबत जा॒ण घटि हूंदी आहे ऐं इन निंढ द॒ई घुरातयलि सख्सयूतिनि खे घणी। इन हकिकत खे मोदीअ जी सुहिणे नमूने पेश कयो। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूनि खे पहिंजी बो॒ली तोडे सखाफति खे अपञाअण खपे। पहिजी जडनि खे विसारण नह गुर्जे, सिंधीयूनि खे पहिंजी सकाफति लिबासि में पेश अचणो खपिंदो हो वगिराह वगिराह। हिंदुस्तनि जो सिंधी समाज जे इन गा॒ल्हियूनि खां अण वाकिफु आहे ऐडह भी गा॒ल्हि नाहे। दरअसलि असीं सिंधी बो॒लीअ खे ऐडहे कदुरु कमजोर कयो आहे जे हिअर अण सिंधीयूनि लाई हिक वदी॒ मजाक थी पया आहियूं। जेतोणेक सुबे जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे विच में सिंडजी आयो पर इन जे बावजूद कहिं भी ईडही घुर वदे॒ वजिर जे अग॒या कोन रखि, ज॒णू मोदी सिंधीयूनि जे जलसे में शरिक थी थोडो लाथो आहे, ऐ हून भी इन जो पोरो फाईदो परतो।

 

हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधूयनि लाई गुजराति हिक अहम सुबो आहे। जेकरि गुजराति में रहिंदड सिंधीयूनि जी  अदमशुमारिअ खे बारिकीअ सां जाचिजे तह हित में लदे॒आयलि सिंधीयूनि जो टयो हिस्सो थो वसे। इहो ई नह पर सिंधीयूनि जी घणे में घणी आबादी गुजराति में थी रहे पर साणु साणु इहा भी गा॒ल्हि गु॒झी नाहे तह सिंघीयूनि खे सभनि खां वधीक दु॒ख गुजराति में दि॒सणा पया आहिनि। चयो इहो वेंदो आहे तह गुजरातियूंनि  नह पई चाहियो तह सिंधी हित वसिनि। (कच्छ खां सवाई छा काणि तह तनि दि॒हिनि में कच्छ केंद्र सासित प्रदेश हो) इहो भी चयो वेंदो आहे तह हिंदु सिंधीयूं जो जाति दा॒हि वहिंवारु, तिवण तोडे गोसत खाअण, दारु पिअण जो कहि कदरु खुलयलि रिवाज या वरि जाईफनि जो अल्ला या मर्दनि जो गा॒ल्हि – गा॒ल्हि थे खुदा लफज उकोरण या अर्बी फार्सी लिपीअ में पहिजी बो॒लीअ में लिखण नह पई वणयो मथो वरि सिंधी हिंदु भी धंधो कनि जहि सबब गुजरातियूनि तोडे सिंधीयूंनि में रिस (धंधे सांङे) इन विछोटियूंनि खे कहि कदुरु वधाऐ छद॒यो। अजु॒ भी ऐडहा जाम वाकया पई बु॒धबा आहिनि जिते सिंधीयूनि खे जायूं नह दि॒ञयूं वेंदू आहिनि, मतलब असां लाई के ऐलाका नो गो ऐरिया तह नाहिनि पर असां जो वसण हितोउ जे रहाकूनि खे घट वणे । अजु॒ भी ऐडहा जाम सिंधी आहिनि जेके गुजरात में (कच्छ खां सवाई) जिते सिंधी पहिंजी बो॒ली हिंदी तोडे तसलिम कंदा आहिनि इन ढप खां जिअं खेनि धारि करे नह दि॒ठो वञे। विछाडीअ जे किन द॒हाकनि जे  भेट में जेतोणेक इहे वाकया कहि कदुरु घटया आहिनि पर ईन जे बावजूद ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे वाकया अगो॒ पई निबरी वया आहिनि। इहो सब इन जे वावजूद जे 1947 खां अगु॒ कराचीअ में जाम गुजराती रहिंदा हवा । किन जो तह मञण आहे तह कराचीअ में हिंदु सिंधीयूंनि खां भी वधीक गुजराति रहिंदा हवा पर संदुनि साणु कहिं भी  गलत वहंवारु जी का कारि कोन बूधी वई आहे। पर विराहांङे सब कजहि फेरे छदो।

 

वेझडाईअ में दिल्ली में हिक सेमिनार थी गुजिरि जहि में हिंदुस्तानि सरकारि में हिकु अहम वजूरु श्री कपिल सिब्बल भी हाजिरु हो। उते हिक घुर कई वई तह छोन नह सुबे जूं सरकारि नोकरयूंनि भी मर्कज जे सिविल सर्विस वाङुरु पिणि सिंधी में दि॒ञयूं वञिन. (हिअर रूगो॒ राजस्थान में ई सुबे जी सिविल सर्विस जा इमतहान सिंधीअ में द॒ई था सघजिनि)। वजिर जो विचार हो तह इहे घूरयूं सुबनि जे सरकारि जे अग॒यां रखयूं वञिनि ऐं जिते कांग्रेस जी हूकुमत आहे उहे वजिर पाण ई ईहा  घूर कंदो सुखतलिफ सुबनि जे वदे॒ वजरनि सां- पर जद॒हि गुजराति जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे अग॒यां सिडजी आहो हो तह ऐडही का भी घुर किन रखी वई। इहो वाकयो इन गा॒ल्हि जो साहिदु आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी संसथाउनि में कहि भी नमूने जो राबतो नाहे। इहो ई नह हिन साल 2011 में जुदा जुदा संसथाउनि जा ऐजिवि प्रधान मंत्री साण टे भेडा ग॒दया आहिन धार धारि घुरनि जे नसबत। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि जी अदमशुमारि मूल आबादीअ जे रूगो॒ हिक सेकडे जो चोथो हिस्सो मस थिंदी पर इन जे वावजूद असी हिक मूदे थे हिक थी भीहण खा कासिर आहियूं- इहा गा॒ल्हि सोचण जेडहि आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी काउंसिल आफ इंडिया  खे इन सभ गा॒ल्हियूंनि जी जा॒ण नाहे पर बदकिसमतीअ सां सिंधी संसथाउ पाण जे  रिसअ में पूरयूं आहिनि। हिक ई घुर जेका हिदुजा आकहिं जे श्रीचंद हिंदुजा रखि तह सिंधयूनि खे भी जेकरि सुबो हूजे हा ………..पर इन जे जवाब लगो॒ तह मोदी ज॒णु तयार थी आयो हो। संदुसि जवाब पिणि साग॒यो हो जेको नहरु जो हिंदुस्तानि बाबत हूंदो हो तह साईं सजो॒ गुजरात अव्हा जो आहे भले जिते चाहियो उतो वसो।

 

इन संमेलनि जे पहिरे दि॒हिं हिंद जी हिक अहम सिंधी सियासी सखसियति मोजूद हूई – सा हूई अहमदाबाद में सिंधी ऐलाईके कुबेरनगर विसतारि जी ऐम ऐल ऐ श्रीमती माया कोद॒नाणी। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूंनि खे हिअर माजीअ दा॒हि नह पर मस्तकबिल (भविषय) दा॒हि सिंधीयूनि खे सोचिणो खपे। इहा गा॒ल्हि अगो॒पोऊ भी गलत नाहे। सिंधीयूंनि जो बसेरो हिअर हिंदुस्तानि में आहे (घटि में घटि में हिंदु सिंधीयूंनि लाई तह ईअं ई आहे) पर इन जो मतलब इहो भी नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली तोडे सकाफत खे विसारे वेहऊं। असां जेकरि अटे में लुण जेतिरा थी करे पहिजी बो॒लीअ खे हिंदुस्तानि जी कनि अहम बो॒लयूं में तसलम  कराऐ था  सघऊ तह यकिनि बो॒लीअ खे मसकबिल में जोर पिणि वठाऐ थआ सघऊं। असांजी बदकिसमतीअ इहा रहि आहे तह असीं जेतोणेक पहिजे पाण में हिदुपणो आंदो आहे पर इन चाहि में उन खां तमाम घणो वधिकु सिंधीपणो विञायो आहे ऐं इन टेहि जी साहिद आहे मायाबेन कोद॒नाणी। अंग्रेजी में हिक चवणी आहे तह –रोम में उहो ई कयो जिअं रोमन कनि। माया कोद॒नाणी उनहिनि सिंधीयूनि मां आहे जहिखे पहिंखे पहिजे माजीअ मां को खासि सिख वठण जी जरुरत नह पवदी आहे। जणु गुजरातियूं सां सिम़टी वञण असां लाई हेकलि राहि वञी बची आहे। जेके खेसि सुञाणिनि तन जो चवण आहे तह सिंधीयति जे नसबत माया कोद॒नाणीअ में इहा गा॒ल्हि नाहे जेका अगो॒णो ऐम ऐल ऐ श्री गोपालदास भोजवाणी में हूंदी हूई। गोपादास भोजवाणीअ हमेशाहि ई सिंधीयति तोडे सिंधीयूनि में पहिजी हिक चाह वठिंदो हो। कहि भी कोम लाई संसदुसि वरसो तमाम घणी अहमियति थो रखे इहा गा॒ल्हि श्री भोजवाणीअ जे बखुबि खबरि हूई। अदी माया पाण भी हिक इंटरवयूं में चयो आहे तह हूअ जद॒हि कूबेरनगर आई हूई तह हित सिंधीयूंनि खे सिंधी बो॒लीअ  जे घणे वाहिपे ते वाईडी थी वई। बदकिसमतीअ सां माया जेडहे सिंधीयूनि जी तादाति तमाम तेजीअ सां पई वधे जेके पाण खे क़टर हिंदु तह कोठाईनि था पर सिंधी नह। संदुसि लिबास भी गुजरातियूंनि जेडहो हूंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शक नाहे तह हिंदुनि जो सिंध मोठी वञण सायदि हिअर मूमकिनि नाहे, पर इन जो ईहो मतलब नाहे तह असां हिदुंस्तान में थाईंको थिअण जी चाहि में पहिंजे पाण खे अण- सिंधी करारि दे॒अऊं।

 

हिन संमेलनि में भरमारि हूई उनहिनि सिंधीयूनि जी जेहिजो वासतो धंधे सा रहियो आहे। इन में वदे॒ में वदो॒ नाऊं हो हिंदुजा भाउरनि जो। नह रूगो॒ श्रीचंद हिंदुजा पाण हाजिर हो पर साणु साणु संदुसि ब॒ह भाउर पिणि जारिरु हवा। इन खां सवाई ऐडहा खोड सिंधी हूवा जहि दुनिया जा जुदा जुदा मूलकनि में रहि वाणिजय या धंधे धाडीअ जे खेत्र में जाम नालो कमायो आहे। हिक सोच जेका सिंधीयूंनि में रहि आहे सा आहे सिंधी हिक धंधो कंदड कोम आहे। इहा सोच नह रूगो॒ आम सिंधीयूंनि में वेठलि हूंदी आहे पर लेखकन में भी। अजबु जेडहि गा॒ल्हि तह इहा आहे तह अंग्रेजनि जे दि॒हिं में तह सिंध मे खास करे सिंध में मुसलिम लिग जे हिंमायूंतिनि जो नारो हूंदो हो तह- मूसलमानि जेलनि में ऐं हिंदु दफतरनि में। हिन संमेलनि में स्टेज में भी सियासतदानि खां सवाई इन धंधेडिनि खे ई जाई दि॒ञी वई हूई। इन संमेलनि में मिडिया जी नजर मां गायब रहया तह सिंधी लेखक या सिंधीयति सां वासतो रखिंदड कारुकनि जी । हिक लंङे दि॒सजे तह इहा का नईं गा॒ल्हि भी नाहे। हिदुस्तीनि में सिंधीयूनि जे जलसनि तोडे मेले सलाखडनि में संदुनि गेर-हाजिरि बाबति जिक्रु ताई नह थिंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह लेखकनि जी ऐं खासि करे नई टेहिअ जे लेखकनि जी कमि रही आहे पर इन जे बावजूद जेके भी नोजवानु लेखक लिखिनि थां तनि खे जेकरि सिंधी पाण ई मोल नह दिं॒दा तह इन खां दुखाईंदड भी का भी गा॒ल्हि नह ती थी सघे। लेखकुनि जी ईजत कोम जी ईजत मञी वनण खपे पर सिंधीयूनि में तह हालि ई ब॒यनि मुखतलिफ कोमनि खां उबतर आहिनि। दिल्ली में ऐन ऐस पि सि ऐल जी सेमिनार में भी साग॒या मंजरि दि॒ठा वया। लेखकनि कां वधीक तह अहमियाति सियासातदानि खे मिलि (ईअं भी हिअर सिंधी संसथाउनि में सिंधी लेखकनि खां वधीक सियासतदानि या पाण खे सामाजिक करूकनि कोठाईंदडनि  जी बरमार हूंदी आहे)। दिल्ली में जेतोणेक सेमिनार मस जेडहि अध दि॒हि जी हूई पर हित अहमेदाबादि में जेकरि टिन दि॒हनि में भी सिंधी साहित्य तोडे बो॒लीअ बाबति का खुली बहसि नह थी सघी तह इहा दु॒ख जी गा॒ल्हि आहे ।

 

संमेलनि जो विछाडीअ जे दि॒हिं ते हाजिरु हो हिंदुस्तनि जो अगु॒णो नाईब प्रधान मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी। चयो थो वञे तह साईअ पहिजो पुरो भाषण सिंधीअ में दि॒ञो जहि सा कनि सिंधी जवानुन खे तमाम घणी तकलिफ थी छाकाण तह हिदुंस्तानि में ऐडहा जाम सिंधी कोठाईंदड नोजवानन आहिनि जिन खे सिंधी नथी अचे या घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईअण जो वाहिपो नह हूअण सबब सिंधी कोन था समझी सघीनि। संमेलनि  में मोजूद मिडिया मोजिबु पहिरो तह इन नोजवानुन पहिजे माईटनि खां पुछण लगा॒ तह आद॒वाणी छा पयो गा॒ल्हाऐ पर नेठि माठि करे वया- इहा इन गा॒ल्हि जी साहिद आहे तह सिंधी बो॒लीअ जी हालत केतरि खराब थी चुकी आहे हिंदुस्तानि में। जेकरि ऐडहो ई हालु रहयो तह सायदि कजहि सालनि में इहे पिणि दिं॒हि दि॒सणा पवंदा जे अण-सिंधीयूंनि खे इहो जाम चवंदे बू॒धबो तह –साईं सरकारि खे दू॒करि नाणो खर्चण जी जरुरत ई कोडही आहे जद॒हि सिंधी पहिजी बो॒ली जी इजति ई कोन कनि। आदवाणी पहिजे भाषण में के गलति गा॒ल्हियूं पिणि गा॒ल्हायूं मसलनि सिंधी बो॒ली वाजपई जे दि॒हिनि में तसलिम थी – खबर नाहे तह इहा हकिकत अद॒वाणीअ खे कहिं द॒सि। सुदुसि वधीक चवण हो तह लिपी सबब सिंधीअ खे जाम नुकसानि थियो। हे पहिरो भेरो आहे जद॒हि आद॒वाणी सिधो सहूं लिपीअ जे नसबति पहिंजा राय दि॒ञी आहे। संदुसि लेखे जेकरि देवनागरीअ ते सिंधी मोल दे॒नि हा तह बो॒लीअ जी इहा हालति नह थे हा। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह आद॒वाणी खां हिंदुस्तानि जे सिंधी समाजअ खे जाम उमेदयूं हयूं पर साई सिंधीयूनि खे रिसाश कयो , मायूस कयो आहे। जद॒हि बी जे पी जी हूकूमत हूई तह भी सिंधीअ लाऊ हून को खासि कोन कयो। हो चाहे हा तह सिंधीयूनि लाई घणो कजहि करे सघे हा पर इअं मूमकिन थी कोन सघो। सियासी तोर भी सिंधीयूनि खे उहे हक कोन मिलयो जोके हो हलणिनि। खैर आद॒वाणी जा॒णे किथे छा गा॒ल्हिईणो आहे ऐं कहि रित गा॒ल्हिईणो आहे। साणु साणु इहा भी हकिकत आहे तह हिअर आद॒वाणीअ खां सिंधी उमेदि भी घटि ईं कंदा आहिनि।

 

हिन संमेलनि में सरिक थिअण लाई चंदो मकर्रर कयो वयो हो। वरि चयो थो वञे तह रहण जो इंतजाम हर कहिं खे पहिंजो पाण ई करणो हो। हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधी जेतोणेक ऐडहनि चंदनि सां कहि कदुरु अण वाकिफु आहिनि। इहो रिवाज नंढे खंड खां बा॒हिरि जाम आहे छाकाणि तह उते नह तह सिंधी बो॒ली तसलिम आहे ऐं नह ई हूकूमज सिंधीयति ते को  नोणो  ई खर्चे।  वरि उते हिंदुस्तानि जे भेट में सिंधी पिणि ग॒ण जेतिरा था रहिन। ऐलाईंस फार सिंधीज ऐसोसिऐसन ईन अमेरका हिंदुस्तानि जी संसथा नाहे सो खेनि दो॒हू नथो दई सघजे पर सिंधी काउनसिल खे तह खबरि आहे हिंदुस्तानि जे जी हालति, पर नह जा॒णु छो 4000 जेतिरो चंदो मूकर्र कयो वयो…हिदुस्तानि में ऐडहयूं जाम संसथाउ आहिनि जेके बो॒ली तोडे सकाफति जे नतबत कम पयूं करिनि ऐं जहिखे हूकूमत माली मदद पिणि दिं॒दी आहे। हाणे सवालु इहो आहे तह जेकरि ऐडही गा॒ल्हि आहे तह पोई ऐडहो चंदो छो…इन चंदे सबब थियो इहो जे आम सिंधीयूनि जो हिकु वदो॒ तबको इन संमेलनि जो हिस्सा कोन थी सघो। इहो जाम दि॒ठो वेंदो आहे तह उहे सिंधी जहिंजी माली हालति कहि कदुरु सुधरयलि आहे से नह तह सिंधी में लिख पढ कनि ऐं नह ई सिंधी में पाण में को घणो गा॒ल्हिईन। इन हालति में जद॒हि संमेलनि मां सिंधीयूनि जी हिक वदी॒ सिंधी गा॒ल्हिईंदड तादाति बा॒हिरि हूंदी ऐंडहे संमेलनि मां फाईदो ई केडहो। ब॒ई गा॒ल्हि जेका इन संमेलनि में पई नजरि आई सा आहे इन संमेलनि जे स्टेज ते वेहारियलि शख्सतयूं। सिंधी बो॒ली, साहित्य तोडे सकाफति जे दाईरे में हद॒ हणिदडनि मां कहिखे कोन घुरायो वयो। सभनि जे सब या तह धंधे वारा हवा या ,सियासतदानि। मतलब जेके सिंधीअ जो वाहिपो कनि से संमेलनि खां बा॒हिरि……

 

हिंदुस्तानि में भी हिकु सिंध वसे थो। कच्छ ऐं जेसलिमेरि में। उहो तब्को इन संमेलनि मां गैर-हाजिरु रहयो। जेकरि असां खेनि सिंधी करे कोन लेखिंदासिं तह इन में सुकसानु रिवाजी सिंधीयूंनि जो भी जाम थिंदो। संदुनि व़टि रूगो॒ बो॒ली ई नह पर सकाफति पहिजे असलोके रूप में मोजूद आहे। इन संमेलनि में को भी सिंधी सकाफति लिबास में को न नजर आया। जेकरि कच्छ  तोडे जेसलमेर जे सिंधी रहाकुनि खे गुरायो वञे हा तह असीं मिडिया जे अग॒यो ऐं खासि करे परदे॒हि मां आयलि सिंधीयूंनि खे हिंद जे सिंध जो नजारो भी दे॒खारे सघऊं हा। पर अफसोस ईअं थी कोन सघो। इहा गा॒ल्हि मोदीअ भी चई तह सिंधीयूनि में हिइर रूगो उहलि जीं संसकृति ई पई झलके। सभ को सुट कोट में पई नजरि आयो। इतफाक सां सिंधीयूनि वाङुरु गुजराति भी धंधो कनि हो भी मुल्क खां बा॒हिरि जाम वसया आहिनि पर कद॒हि भी नह पहिजी सकाफति कोन विसीरी आहे। शहरनि में रहण जो इहो मतसब नाहे जे पहिजी मोल सुञाणपि खां अण- वाकिफु रहिजे। हिंदुस्तानि जा मुखतलिफ वदा॒ शहरि हिअ रूगो॒ हेकले कोम जा नह रहया आहिनि। उते मुखतलिफ कोमयूं रहिनि थयूं ऐं जेकरि हो पहिजी सकाफति खे सांडे रखी थयूं सघिनि तह सिंधीयूंनि नह करे सघीनि इहो थी नथो सघे। हिंदी दुनिया जे 17 मूलकनि में गा॒ल्हिई वेंदी आहे। जेकरि हो भी सिंधीयूंनि वाङुरि माठि करे हथ में हथु रखि वेहि रहिनि तह पोई हिंदी कद॒हि भी दुनिया जे बे॒ नमबर जू बो॒ली नह थिऐ हा।

 

अमेरिका में जद॒हि ऐडहा संमेलनि सुरुअ थिया तह तह महलि  जो समसदि ई हो जिअ अमेरिका में सिंधी पाण में गद॒जिनि ऐं हिक बे॒ में राबतो वधे। इन खां अगु॒ जेके संमेलनि थिआ आहिनि दुनिया जे सुदा जुदा मूलकनि में उते भी मकसद भी साग॒यो रहयो आहे पाण में गद॒जोउ। नढे खंढ जी वरि गा॒ल्हि ऐडही नोहे। हित सिंधीयूंनि जी वदी॒ आबादी रहे थी। हिंदुस्तानि में खासि करे मसला रूगो॒ ग॒दु॒ थिअण जो नाहे। हित वदो॒ मसअलो बो॒लीअ जो आहे, सखाफति जो आहे, सिंधी सुबे जो आहे, सिंधीयूंनि  जे सियासी हकनि जो आहे ऐं सभनि खां वदो॒ पहिंजे वजूदअ जो आहे। सिंधी काऊंसिल आफ इंडिया खे यादि रखणो खपिंदो हो तह सजो॒ हिंदुस्तानि पयो असां खे दि॒से असीं सिंधीयूनि जेका समाज जी तसविर पोश कई सा ईहा हूई तह असी उलहि जी संसकृत सा धुलजी वया आहियूं। असां जी वेश बूशा पहिजी रही कोनहे। दरअसलि हिंदिस्तानि में हमेशाहि ई हर कोम खे पहिंजी हिक सञाणप आहे जेका कहि हद ताई सिबालिक पिणि थिऐ थी। पर ऐडहो दिखावो जरुरि भी आहे। सिंधीयूनि जे लाई हिसुस्तानि में वसण ऐं नंढे खढ कां बा॒हिरि वसण में फर्कु आहे। हिदुस्तानि को उलहि जी संसकृति को मेलटिग पाट या ग॒रिदड देगडो नाहे पर हित जुदा जुदा संसकृतियूं जो मेलाप आहे जहि में इहे जुदा संसकृतयूं पाण में गद॒जी रहिनि थयूं। ऐडहि मिसाल अव्हां खे खिथे भी किन मिलंदी जिते हिक ई मूलक में 400 कोमयीं ऐं 100 खन बो॒लयूं लभिंदूं। सिंधीयूंन खे जे तकलिफयूं कोन थियूं आहे सा गा॒ल्हि नाहे। तकलफयूं जाम कोमन खे थेनि थयूं पर इन जो मतलब इहो इहो नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली, सुञाणप ते समझोतो कयूं। जेकरि असीं सिंधीअ लाई विरहांङे बैद जाखडो कयो तह सिखनि भी पंजाबीअ लाई कयो। हित हिकु नंढो ई सही पर हिक सिंधु वसे थो।  कच्छ में निजा॒ सिंधी रहिनि था पर नह जा॒ण छो खेनि संमेलनि में नह गुरायो वयो। इहो इन सबब तह नाहे जे असां सिंधी थिअण जा पहिजा माप दंड पक कया आहिनि……असां जे लेखे रिगो॒ उहो सिंधी जेको असां जेडहो सिंधी हूजे, पैसे वारो हूजे, घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईण में फकरु महसूस नह करे ऐं धारि सकाफति खे पह्जो कोठे।

 

पिछाडीअ जे ब॒नि संमेलनि मे ऐं खासि करे 2009 जे लास ऐजलिस संमेलनि खां रोमनि ते बहसि पई हले। रोमनि जे हिमायुतिनि जो चवण आहे तह छो तह हिंदु सिंधीयूनि जी वदी॒ तादाति परदे॒हि मे थी रहे जहि खे देवनागरी नथी अचे सो संदुनि लाई लिपी मठाअण जरुरि आहे। अग्रेजी हिअर सजे॒ दुनिया भी बो॒ली आहे तो सब कहि खे इंदी वगिराह वगिराहि….अजु॒ इहो तमाम जरूरि आहे  तह इन समले खे मूहिं दि॒जे। परदे॒हि (मतलब नंढे खंड खां बा॒हिरि ) सिंधी,  सिंधी बो॒ली कोन पढनि । हो इन लाई कोन पढिनि छाकाण तह खेनि लिपी नथी वणे पर इन लाई नथा पढण छाकाणि तह संदुनि लाई इन जी जरुरति कोन थी महसूस थिऐ। घर में सिंधी बा॒रनि खे पहिरो हिंदी तोडे अंग्रेजीअ ते हेरिनि ऐं पोई इन जी उमेदि कनि तह संदुनि बा॒र सिंघी सां पयारि कंदा। सिंधीयूनि खां तमाम वधीक सिंधी कच्छी गा॒ल्हिईनि। हिक लङे दि॒सजे रोमनि जे 26 अखरि मां सिंधी जा 45 अखरनि जा सुर इजादि करण हमेशाहि हिक वदी॒ चुनोती आहे। हिंदुसतानि में रोमनाजेशनि जो कम अंगेरेजनि जे दि॒हिनि में सुरू थियो हो जद॒हि यूरोपियनि संसकृत दा॒हि छिकया पर इन जे बावजूद संसकृत जी मूल लिपी कद॒हि कोन मठाई वई। इन जो भी हिकु वदो॒ सबब इहो आहे लिपी ऐं बो॒लीअ में हिकु अहमि वाठि थिऐ थी जहिखे नजरअंदाजि कोन थो करे सघजे। लिपी मटाअण जो भी हिक तरिको थिंदो आहे। मसलनि जिअं मराठिनि या गुजरातियूंनि कयो। संदुनि जेतोणेकि लिपी मठायीं पर कद॒हि भी मूल लफतनि जे सुरनि सां समझौतो कोन कयो। पंजाबी सिंधकनि जी ऐं गुजरातियूनि जी वदी॒ आबादी मुलक खां बा॒हिर रहे थी पर हो कदहि भी पहिंजी लिपी रोमनि नथा करार दे॒नि।

 

जेसिताई देनवागरीअ जी गा॒ल्हि आहे तह इहा का हिंदी जी पहिंजी लिपी नाहे। देवनागरी संसकृत जी लिपी आहे सो सिंधीयूनि जो हकु सभिनि खां अग॒वाटु इन लिपीअ ते आहे। इहो ई नह सिंधी में भी इहा सुहिणे रित लिखी वेंदी आहे। सिंध में देवनागरी लिपी अपनाअण असां जे वस में कोन हूई पर हिंद में अची असी बो॒लीअ जे नसबति वदे॒ में वदी॒ गलति लिपीअ ते ई कई। इहा गा॒ल्हि ऐल के आद॒वाणीअ पिणि मञी तह देवनारगीअ खे अपञाअण खपिंदो हो। जेके माण्हूं रोमनि ते फिदा पया थेनि से रूगो॒ बो॒ली जे वेवारिकता दा॒हि पया धयानि देनि। जेकरि हो बो॒लीअ जे वजूद दा॒हि या बो॒लीअ जे जड दा॒हि धयानु  दे॒नि हा तह सायदि रोमनि या अर्बीअ जो जिक्रु ई ईंदो। जहिं दि॒हि हो इन दा॒हि धयानि दिं॒दा लिपीअ जो विवाद कहिजे पाण ई निबरी वेंदो।

 

असां सिंधी चङनि सालनि खां सिंधी सुबे जी गा॒ल्हि कयूं पया। लग॒ भग॒ हर सिंधी जलसे में इन जो जिक्रु यकिनिन थिंदो आहे । सागे॒ रित हे संमेलनि भी साग॒यो मंजरि पई नजर आयो। भले सिधी रित नह ई सहि पर इन जो जिक्रु हिदुंजा भाउरनि जे श्रीचंद हिंदुजा कयो। हिक लंङे दि॒सजे सिंधी सूबो जे नामूकिनि आहे ऐडहि भी गा॒ल्हि नाहे पर असां सिंधी इन मसले जे कद॒हि भी जाखडो तह परे जाखडे जो नालो ताई ते ढप खां मुंझी वेंदो आहियो। हिंदुस्तानि में ब॒हि ऐडहा ऐलाका आहिनि जिते सिंधी बो॒लीअ जा लहजा गा॒ल्हिईजनि था। मसलनि गुजराति में कच्छ ऐं राजस्थानि में जेसलमेर । हिक लंङे दि॒सजे तह इन ब॒नि ऐलाईकनि ई हिंद में सिंधी सुबे जो हक था लहणिनि पर मुसिबत ईहा आहे तह सिंधी रूगो॒ मडई मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में यकिन रखिनि सो इहे मसला किद॒हि भी आम कोन थी सघया आहिनि। इहो तह इन जे वावजूद जे इल ऐलाईकेनि में अगे॒ ई कच्छ तोडे जेसलमेरि खे धारि सुबा बणाअण जी गुर कई वई आहे जहिजो पुटिबराई कद॒हि भी सिंधीयूनि कोन कई आहे। मिसालि जा गा॒ल्हि जद॒हि 2001 जे गुजरति जे भूकंप खां पोई आहा गुर जोर वरतो हो तह कच्छ खे धारि सुबो या गुजराति मां धारि कयो वञे पर इन गुर खे तहि महल जे गृहि मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी सिधो सहूं खारिज कयो, मूमकिनि आहे सिंधीयूंनि जे वजूद खां वधिक खेसि गांधीनगर जा गुजराति वोट पई यदि आया। इहो ई नह कच्छीयूंनि जे साथ भी कद॒हि सिंधीयूंनि कोन दि॒ञो। दरअसल असीं सिंधी कच्छ तोडे जेसलमेरि में रहिदडनि खे सिंधी करे भी तसलिम कोन कंदा आहियों। इहो सब इन जे वावजूद जे इन ऐलाकनि में जेतरि सिंधी पई गा॒ल्हिजे उतरि तह सिंधी भी पाण में कोन गा॒ल्हिईनि।

70 जे द॒हाके में जेतोणेकि कनि सिंधीयूंनि कच्छ जो दौरो कयो हो। इन दौरे कंदड में ब॒ह अहमि शख्सयूंतू हयूं मसलनि श्री किरत बाबाणी ऐं दादी पोपटी हिरांदाणी । संदुनि मञण हो तह कच्छ में सिंधी वसी था सघीनि ऐं कच्छ में सिंधी जाम पई गा॒ल्हिईजे , वरि कमाई जा वसिला भी जाम आहिनि पर बदकिसमतिअ सां आम सिंधी पर हो इन दौरे बैद हो पाण भी हित वसण में का भी चाहि कोन दे॒खारि। सभई बंम्बईअ में पहिजे पहिंजो फलेटऩि में थाईंको थिया। जेकरि हो पाण अची रहिनि हा तह बे॒ खे भी को जार आणे सघिनि हा पर बदकिसमतिअ सां इअं थियो कोन्ह।

 

हर संमेलनि खे जेकरि दिसजे तह सिंधी पहिजो वकत जाया करे अचनि, के सिंधी भाषण दे॒नि या कहि खां देआरिनि, थोडो घणो सिंधी तोडे अणसिंधी  रागनि सां पाण खे विदुराईनि ऐं बद में वरि ब॒यो संमेलनि वरि इहा कारि दहूराई वञे। मस्कविलि लाई इन संमेलनि जे इदड थदे॒ जी पक करे पहिंजे पहिंजे घर मोटी वञिनि। असां व़टि पहिजो कोम जे अग॒या पेश इंदड कह भी मसले बाबति का भी रथा ते अमल नह कयूं। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि खे के अहमि मसेला आहिनि मसलनि बो॒लीअ जे पहिजी अजविका जो हिक अहम हिस्सो करण, सिंधीयूनि जा सियासी हक हासिलि करण, दुनिया भरि जे सिंधीयून में ऐको, सिंध में हिंदु तोडे सिंधी दलितनु ते थिंदड गुलमनि जी विरुध मुखातलिफ, विरहांङे सबब असां सिंधीयूनि में इंदर फर्कनि खे घठाअण जे नसबद जाखडो वगिरीहि वगिराह। हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जाखडो रूगो॒ बो॒लीअ जे तसलिम सां कोन पई निबरो आहे। राजिस्तानि खां सवाई किथे भी सुबनि जी नोकरयूंनि जा इंमतहानि सिंधीअ में कोन था द॒ई सघिनि पर इन संमेलनि में इन बाबति भी को प्रसताउ कोन कबूल कयो वयो। सिंधीअ जो को भी हिअर सरकारि चेनेल नाहे पर इन ते कद॒हि भी लोक सभा तोडे राजय सभा में अद॒वाणी-जेठमलाणी हूल कोन कयो आहे, संमेलनि पांरा भी अद॒वाणी-जेठमलाणी ते कहि भी इन बाबति को दबाव कोन पई आंदो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह असीं सभ सिंधी ऐडहा आहियो। हिंजुजा बाउरनि जा ट्रे ई भाउर मोजोद हवा इहो साबित थो करे इन संमेलनि मां घणणि खे उमेदि आहे पर जरुरति आहे हिक थी कहि रथा मोजूबु कम करण जी नह कि मिडई संमेलनि में अजायो भाषण देअण जी। सिंधी पाण में ग॒दु॒ ता थेनि इहा भी का नंढी गा॒ल्हि नाहे। …..अजु॒ जरूरति आहे तह असीं इन संमेलनि में सिंधीयूंनि जे मूदनि बाबति बहसि करण जी नह इन संमेलनि खे टाक शो खां फलाप शो ताईं महदोद रखोऊं।

 

लद॒पण जे जाखडे में मूंझयलि सिंध जी हिंदु बरादरी


लद॒पणि सिंधी हिंदुनि  लाई का नई गा॒ल्हि नाहे। इहा हजारनि सालनि खां पई लहिंदी पई अचे। अर्बनि जे काहि बैद सिंधीयूनि जी चङी लद॒पण थी हूईं इहा हिक ऐतहासिक सचाई आहे, साणु साणु इहा भी हिक हकिकत आहे तह इन लद॒पणि जो हिकु सबबु जोरी मूसलमानु कोम में शामिलि  करण जू वारदातयूं  पिणि हयूं । इन जो हिकु वदो॒ सबूत  इहो भी आहे तह अर्बनि जी काहि बैद जेके भी सिंधी,  सिंध में पहिंजि साहिबी काईम कई से ईसलामि धर्म कबूल कंदड हवा। इहो ई नह सिंधूपति महाराजा  दा॒हिर जे पुट्र बाबति भी चयो वेंदो आहे तह हूंनि भी इसलाम धर्म कबूल कयो या खणी चईजे खांईसि इसलाम कबूल करायो वयो। हिदुनि जे धर्मू मठाईण जा वाकया हजारनि सानलि खां पया हलिनि। ऐडहा वाकया अर्बनि जी काहि बैद सांदय पया लहिंदा पया अचनि, भले इहे वाकया तोडे वारदातयूं सियासी हालतयूं मोजिबु कद॒हि घटयूं आहिनि तह कद॒हि वधयूं आहिनि, पर किद॒हिं अगो॒पोई निबरयूं नाहिनि।

थर परकारि, सिंध में हिकु हिंदु मंदिर

 

सिंध में हिंदुनि मां जेके मसलमानि थिया तिनि मां के पाण खे शेख कोठाईंदा हवा। हो भले मुसलमानि थिया पर पहिंजी तादादि हिदुनि सां संङु जे मार्फति ई वधाईणु चाहिदा हवा। दादी पोपटी हिरानंदाणीअ मोजिबु इंहिनि  मां कनि वरि हिंदु पिणि थिअण चाहियो पर हिंदु पंचातयूं ईअं थिअण नह पई दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि केतिरो सचअ ते दारुमदारि थी रखे इहो चवण दु॒खयो आहे छाकाणि सिंध में 1927 में हिक ऐडहो वाकयो थी गुजरो आहे जहि में करिमा लाने जी जाईफा पहिंजे चारि बा॒रनि सां ग॒दु॒ हिंदु धर्म कबूल कयो हो, जेको कोर्ट पिणि मञे वरतो हो पर मसलमानि चङो फसादु कयो। इन फसादिनि में खूरो जो पिणि नालो सामहूं आयो हो जेको पोई वरि सिंध जो वदो॒ वजूरु थियो।

 

पर इन में को भी शकु नाहे शेख पहिंजी तादाति हिंदुनि मां धर्म मटाऐ पई करण चाहि।  सिंध में अंग्रेजनि जी हूकूमत खां अगु॒ हिंदुनि कुअरी छोकरिन खे भजाऐ पणजण जी वारदातूं में सभिनि खा अग॒ते इहे शेक हूंदा हवा। हिंदुनि ऐं शेखनि में इहा रंजिश ऐतिरी तह जबरदस्त हूंदी हूई जे हिंदुनि सिंधयूंनि में हिक चवणी भी हूंदी हूई तह  – शेख पूट्र सैताअ जो, नह हिंदु जो नह मुसलमानि जो।    

 

सिंध में सियासि तोर फर्कापरसती जूं मशालि खिलाफति जदोजिहति जोर वठायो। खिलाफति जा अहमि अगु॒वाण जो हथ हिंदुनि ते थिंदड जुलमि में रहयो आहे – मसलनि मौलाना तेज महमद जहि लाई इहो मशहूर आहे तह हूं सिंध जे गो॒ठनि में 7000 हिंदुनि जो धर्मु मठायो। खिलाफति जे जाखडे सिंध में के अहम सिंयासतदानिं खे पैदा कयो, जेके अग॒ते हली सिंधीयूनि में फर्क ऐतरा तह वधाऐ छद॒या जे इन सबब अजु॒ सिंधी ऐकी गा॒लिह ज॒णु खूवाबु पई लगिंदू आहिनि। इन में ब॒ह हूवा जे ऐम सेईद जहि नह रूगो॒ सिंध में मुसलिम लिग जो जबरदसत जोर वठायो पर हिदुस्तानि मां लदे॒ अयलि हिंदी उर्दू गुजराति गा॒ल्हिईंदड मुसलमानि खे सिंध जे शहरनि में वसाअण में वदो॒ किरकारि नाभायो – जहि सबब आखिरि कारि हिंदुनि खे उछांगयूं दि॒दे पेरनि उघआडे सिंध अलविदा करणी पई। हून हिकु ऐडहो सिसाल कायमि कई जहि जो परादो॒ अजु ताई थो बु॒धजण में अचे। खलिफति जे जाखडे जो ब॒यनि अग॒वाणुनि में हिकु हो खूरो- जहि खे हिहू सिंध में 1927 जे लाडकाणे जे फसादनि लाई जिमेवार करे मञिदा हवा। मशहूर सिंधी लेखक ऐं सिंध नसर जो हिक थंबो श्री जथेमल पर्शराम खिलाफति बाबति सही ई चयो हो तह – खिलाफकि आहे आफति।

 

जेतोणेक खिलाफति जे महलि खां सिंध में हिंदु – मसलमान में फर्क वधण लगा हवा पर इहो मसजद मंजिल गाहि जो रग॒डो हो जहि  सिंध में अण मुसलमानि जी हाणोके लद॒पणु जे शुरुआति कई। जेके फर्क हिंदुनि तोडे मूसलमानि में मसजद मंजिल गाहि जे मसले विधा से वरि किद॒हि घ़टया ई कोन्हि। केतिरो अजबु आहे जे हिंदुनि उन वारदाति खे हिंदु लग॒ भग॒ विसारे छदो॒ आहे जहि सिंधी हिंदुनि जी तकदिरि हमेशाहि लाई फेरे छदी। इन मसले सबब जे सिंधी हिंदुनि तोडे मुसलमानि फसादि थिया तनि लाई चयो वेदो आहे तह 17 मूसलमानि ऐं 40 हिंदु मारजी वया हूवा (किनि जो मञण आहे तह हिंदुनि जे मार्जू वञण जी तादादि 60 हूई)। इन खआं सवाई करोडिनि जो नोकसानु थियो सो धारि। इन वाकये जी जाई ते जोतेणेक नेठि अमनि मोठी आयो पर ईन जो परादो॒ सिंध जे सियाति में वदो॒ तुफानु खणि आयो। हिक पासे सिंध में पहिरों भेरो सिंधीयूनि जे पाण में फसादिनि सबब लद॒पण थी ऐं खां भी वदी॒ गाल्हि तह सिंध जा फर्कापरसत अग॒वाण जी ऐम सेईद, पिर महूमद रासाशदि ऐं खूरो मुसलिम लिग लाई हिक ऐडही जाई दि॒ञी जहि कजहि सालनि में सुफी सिंध जी शकल ई म़टे छदी॒। इन खां भी वदी॒ गा॒ल्हि तह इन फसादनि बि॒नि महानि हसतियूं खे हमेशा लाई माठि करे छदो॒ – हिकडो हो संतु कूवर राम जहिंखे रोहडी जे भरसां रुक ईस्टेशनि ते कतलु कयो वयो ऐं ब॒यो हो  वदो॒ वजिरु अल्लाहि बकश सुमरो। सिंध वरि साग॒यो कोनि रहयो। सिंध उन दि॒हिं खां जु॒णु पाकिस्तानि जो हिस्सो थी पयो।

 

विरहांङे खां पोई सिंध जे शहर में जबरदसत फसादअ कराया वया जहि सबब पंज सालनि जे अंदरि हिंदु सिंध जा शहरि वांदाऐ वाया। पर गो॒ठन में तद॒हि भी जाम हिंदु रहयलि हवा। जेतोणेक सिंध मां हिदुन जी लद॒पण थोडी घणी हलिंदी रही आहे पर वेझडाईअ जे किनि सालनि में सिंध मां हिदुनि जी लद॒पण वरि चङो जोर वरतो आहे। इन जा सबब गोलहण भी दू॒कया नाहिन। हिक पासे  जिते रिवाजी सिंधी  हिदुनि ते लोट-मारि, अग॒वा या कतलनि जा चङा वाकयो  पधरा थिया आहिनि उते दलितनि ते जूलम पया थेनि जिअं बंधूया मजदूर करे रखण, जोरी मसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं, लज॒ लुट ऐं खासि करे जवानु सिंधी हिंदु नेनगरिनि (छोकरिनि) जो अग॒वा थिअण बैद जोरी सां कहि मुसलमानि सां परञाअण, किथे  किथे तह सिंधी हिंदु विधवाउनि खे भी कोन बख्शो वयो आहे। इन गा॒ल्हि में शायदि को शकु आहे आहे इन हिंदुनि खे मूसलमानि ठाहणि जी कोशिशनि जो जलमु वध में वध सिंधी दलितअ कोम पयो सठे। पाकिस्तानि में इंसानि हकनि जे कमिशनि जे ऐहदेदारि साई अमरलाल मोठूमल मोजिबु हर महिने 20-25 सिंधी दलित हिंदु नेंनघरयूं अगवा कयूं वेंदयू आहिनि ऐं जोरि इसलाम कबूल करायो वेंदो आहे। दरअसलि सिंध जे गो॒ठनि में इन दलितनि तोडे हिदुनि जो हिदुं थिअण हिकु दो॒हू समझयो वेंदो आहे। मोटूमलअ जो वधीक चवण आहे तह जेकरि माईट पहिंजी औलादि खे आजादि कराअण लाई हूलु था कनि तह संदुनि औलादनि खे कत्ल भी थो कयो वञे। हकिकति में इहे आकडा तमाम थोडा माणहूनि तोडे मिडीया आग॒या इंदा आहिनि छाकाणि तह घणो तणो ऐडहयूं वारदातयूं खां पोई माईटनि ते थिंदड जलमनि जे ढप सबब या पलिस जे वेरुखी सबब ऐफ आई आर दर्ज नह कयीं वेंदयू आहिनि।

 

सिंध मां पाकिस्तनि जी कोमि ऐसमबली यानी लोकसभा जो अगु॒णो मेंमबर श्री भेरुमल बेलाणीअ जे चवण आहे तह दलित सिंदीयूनि मां कनि कासि जातयूनि खे ई निशानो पयो ठायो वञे। इनहिनि नियाणिन खे मुसलमानि बणायणि बैद ऐंडहा भी वाक्या सामहूं आया आहिनि जिते इन नियाणीयूंनि खे विकयो वयो आहे। इनो ई नह पर इन अग॒वा करण में सिंध में किनि सघेरनि सियासतदानि जी शाई आहे। हिक लङे दि॒सजे तह इन इहे वारदातयूं पिछाडीअ जे टिन सालनि में चङयूं वधयूं आहिनि। नगरपारकारि में हिक सतरें वरहय जी नेंनघरिअ खे अग॒वाटि अगवा कयो वयो ऐ संदुसि लज॒ लूटि वई ऐं हिक ब॒ई नेंगरि खे जेका 15 वरहयनि जी हूई – तहिं खे आकलि गो॒ठि मां अग॒वा करे संदुसु दिन धर्मू पई मठायो वयो। वरि सागी॒ कारि होली दि॒हि भी थी जद॒हि ब॒ह हिंदु नेंनघरयूं किशनी ऐं अनिता खे कोटरीअ खां अग॒वा कयूं वयूं।

 

हिंदुस्तनि जी मिडिया पारां सिंध जी हालतूंनि ते का खासि दिलचसपी रही नाहे खासि करे हिंदी तोडे सिंधी मिडिया में पर अंग्रेजी अखबार पारां अंदरूनी सिंध में ऐं खासि करे दलित सिंधीयूनि जी विरहांङे बैद उमालक फिरयलि हालतूनि ते थोडी घडो तहकिकाति कई वई आहे । इन अंग्रेजी मिडीया में अहम नालो आहे आऊटलूक अख्बारि जो। जनवरी 16, 2006 में आउटलूक अखबारि पारां हिकु लेख शाई थियो हो जहिं में मारिना बबर जी हिक रिपोर्ट शाई कई वई हूई- सिंध जूं लमायनि कूआरयूं जे नाले सा। उनि रिपोर्ट जा के विचूड कजहि हिन रित आहिनि…….

 

सिंध जे थारि परकारि जिले में हिंदु बरादरि अग॒वा कयलि नयाणयूंणि जी तसविर दे॒खारिंदे

आउं अंनदरूनि सिंध पई वञा खासि तोर सां इन गा॒ल्हि जी पक करण लाई तह उते वाकईं छा हिंदुनि ते जूलम पयो थेनि मसलनि जोरि मुसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं जिअ जाम ब॒धबू आहिनि। मूहिंजो पहिरों पडाऊ हो मिरपूर खासि जिले जी जिला कचहरि। उन दि॒हिं हिकु ऐडहे मकदमे जी पेशि हईं जहि जे सबब आउं सिंध आई हूयसि। माण्हूनि सां गा॒ल्हिईंदे मसले जी पक सां विचूड कोन मिलया। जेतिरा माणहूं ओतिरा बयान, पर उमालकि माणहूंनि में चर पर पई नजरि आईं। हिक पुलिस जो गा॒डे अची विठो। अंदरि हूई मारियम। मरियमि मस जेडही 13 सालनि जू हूई पर परणयलि हूई………मारियम दिसम्बर 21 2005, जी राति ताईं हिंदु हूई। तद॒हि संदुसि नालो होसि माशू। आऊं मर्दनि में मेडे मंझ गुरि दि॒ठो तह नेनघरि हिक गा॒डहे बूर्के में उन पूलिस वेनि में वेठलि हूई। हूनि पहिजो हालु अहिवालु द॒सिंदे चयो तह – आउं खूश आहियां। मां पहिंजे माईटनि तोडे भाऊरनि वटि नथी वञण चाहिया। उचतो मूखे लगो॒ …हाई घोडा हे छा.मसलो छा आहे.

 

इन कचहरि जे पासे में पिपल वण हेठि कजहि दारि ई कहाणी जे सुस पुस पई हले. उते के माण्हूं जो मेराडको हो जेको झालूरि गो॒ठि –जेको मिरपुर खासि खां 20 कोहि परे जो को गो॒ठि पई ब॒धायो वयो। उनहिनि में हिकडो हो माशु जो पिणसि-मालो सानाफवो। संदुसि मोजिबु 22 दिसम्बर 2009 राति जो 11 लगे के हथियारि बंध जबरनि संदुस घरि में गुरि आया जिनि मां हिकडो हो मालूअ जो पाडेसि अखबर। इहे हथियारि बंध माशुअ खे अग॒वा करे बा॒हिरि बि॒ठलि गा॒डीअ में जबरि वेहाऐ गि॒हले वया। माशु खे हूनिन पीर अयूब जान सरहंदीअ जे गो॒ठि में गिञे वया जिते माशुअ संदुसि धर्म मठाये अखबर साणु परणायो वयो।

पर इन गा॒ल्हियूं जी मुखातलिफ कंदे अखबर कोर्ट में पहिजीं बयानि में चयो तह मरियमि हमेशाई ईं मूहिंजे दिल में वसिंदी हूई। 22 दिसम्बर जी राति हूअ हेकलि ईं मूहिंजे घरि आई ऐं इहा गा॒ल्हि सही आहे तह पिरअ संदुनि धर्मू मठायो पर ईहा मूहिजी राय ई हूई तह कोर्ट में बयानु दि॒जे। मारियमि खे हैदरआबादि जे दरुल आमनि में मोकिलो वयो हो – (इहा उहा जाई आहे  जिते उनहिनि हिंदु नेंनगरीनि तोडे जेईफाउं खे मोकिलयो वेंदो आहे जिते उनहिनि बेसाहारिनि खां जबरनि बयान लिखाया वेंदा आहिनि जेके पोई कोर्टनि में पेश कया वेंदा आहिन।)

 

सरियमि कोर्ट में।

हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो मञे थो सघजे तह 13 सालनि जी नेंनगरि पहिजो कोम मटे पहिजे पाण मङजणु चाहिंदी। इन ते तह शकु कहिंखे भी थिंदो। आऊं ओस ओच ओ (S H O) वटि वयसि जेको बि॒नि गुटनि जो झेडे मंझ फातलि हो। कहिं सलाहि पईं दि॒ञसि तह छो नह छोकरिअ खे माईटनि सां ग॒दि॒जणु पयो दि॒ञो वञे…….ऐस ऐच ओ उन माणहू खे दब॒ पटिंदे चयो …..धर्मू मठजणु खां अगु॒ पर हाणे असुलि नह…मरियमि हिअर मुसलमानि आहे। हित जाम माण्हूं अचि मिडया आहिनि, जेकरि मारियमि पहिंजे माईटनि खे दि॒सी ओछांङयूं द॒ई रोअण लगी तह वदो॒ गोडु थी पवंदो। थी थो सघे तह फसादि थी पवनि।

 

थोडी देरि में उमालक कोर्ट जे परिसरि में खुशियूं पयूं मञाईजणु लग॒यूं जिअं ई इहो अहिवालु वंढायो वयो तह कोर्ट मोकलि दि॒ञी आहे जोल मूरस ग॒दु॒ रहि था सघीनि। मुसाणु गदु॒ हो कांजी रोणो भिल जेको तालिम सां गंढयलि हिक ऐन जी ओ में कमं कदो आहे ऐं पाकिस्तानि जे इंसानि हकनि जी तंजिमि सां भी गं॒ढलु आहे उमालकि संदुसि मूहांडरे में मायूसि साफु झलके पई।

तह छा पोई पोई माशु खे अग॒वा करे जबरनि संदुसि धर्मू पयो म़टायो वयो…मिरपूर खासि मां आऊं जिअं ईं अंदरूनि सिंद जे मुखतलिफ ऐलाकनि में गुजरिंदि वयसि मुंखे इअं पई लगो॒ जणु थर जा भिट रडयूं करे हर घर इहे ई सवालि पया कनि। इहो ई नह जिते भी मां वयसि हिंदूनि में मायूसि हूई ऐं उहे सागया मंजर, उहे सग॒यूं कहाणयूं- पहिरों अग॒वा, पोई धर्मू मटजणु, वेहाऊं ऐं  माईटनि सां हमेशाहि लाई विछडणु ज॒णु इहे रिशता नाता हूवा ई कोन्ह। जनवरि 2005 जो मार्वी (18) ऐं हेमी (16) गो॒ठि किनरा , अमरकोठि मां अग॒वा कयूं वयूं। इन वारदाति जे टे महिना बैद मार्च 13 जो राज्जी खे मिरपूर खासि मां अग॒वा कयो वयो।

 

हिंदु जाईंफाउ जहिंजो धर्मु मठायो वयो

कांझी भिल को चवण हो तह – मस जेडहा 10 सेकडो ई वारदातयूं हूंदयूं आहिनि जहिमि में इशक जो मसलो हूंदो आहे। जद॒हि मिरपूर खासि जे डी आई जी सां इन गा॒ल्हि बाबति पुछो तह हो काविडजी वाका करण लगो॒ –जेकरि जरूरत पई तह आउं अव्हां खे आकडा दि॒दुसि। तोडाईवारे कोमअ तह पाकिस्तानि में सभनि खां महफूज आहिनि।

 

पाकिस्तानि जे ईंससानि हकनि जी कोमि तनजिम जो भी मञण आहे जेको आऊं सिंध में दि॒ठो। नूझाहत सरिन जेको लाहोर में हिक ऐन जी ओ में पयो कमु करे तनि जो मञण आहे तह छोकरियूं जद॒हि कोर्ट में पेश थयूं कजनि तह जिहादी तंजमयूं ऐडहो पईं हूलू कनि मसलनि नारा हरण, गुलनि जी बरसात करण ऐं जाम माण्हूं ग॒दु॒ करे अग॒वा कंदड खे हिकु हिरो करे पोश कनि जहि सां छोकिरुनि ते ऐडहो तह मांसिक असरु थो पवे जो हो मूंझी थयूं वविनि ऐं कूछि कोन थयूं सघिनि। परि हिंदु समाज जा कुआराईप जा सख्त सामाजिक रिवायतू ऐं बि॒हरि वेङाउ नह थिअण जो ढपु छोकरिनि खे चुप थी रहण लाई मजबूर थो करे इन उमेदि सां तह शल इन मां भी कुझ भलो थिऐ।

 

कांझी जो चवण हो तह पंज सालनि में रूगो॒ 50 ऐडहा वाकयनि जी पधराई इन मसले जी हकिकति पेश नथी खरे। किशन भील जेको कि पाकिस्तानि जी कोमी ऐसलमबी जो मेमबर आहे तहिं जो चवण हो तह इहे जूलम हिअर जाम वधी पया आहिनि। संदुसि इहो भी चवण हो तह जेकरि इशकु हिकु सबब आहे तह छोकरा जनि सां हे पणिनजनि पयूं से छो नथा पहिजो दिन ध्रमु मटाईनि। हून हिक पूठयां ब॒यो ऐडहा जाम केसनि जो ज्रिकरु कयो जिते दलित हिंदु नयाणयूंनि ते जूलम पया थेनि। संदूनि चवण हो तह हिक वारदाति महलि हिंदूनि ऐतजाति कया। लग॒ भग॒ 70, 000 हिंदु ग॒दु॒ थीया। इहो वाकयो 1980 जो हो पर इन मेड ते फाईरिग कई वई जहि सबब चङा हिंदु मारजी वया। जहि सबब हिंदुनि ऐतिजाज कयो – हिंदु नेनगरि सिता, सा अजु  ताई पहिजे माईटनि वठि कोन मोटी आई- किशन भील जूं अखयूं भरजी आयूं। सिता जज जसटिस दोराब पटेल खे फिणि पधिरो चयो हो तह खेसि जोरी अग॒वा करे मूललमानि कयो वयो आहे। किशनि मोजिबु हिंदु हाणे ऐतिजाज करण बंद करे छद॒या आहिनि पर इन जी जाई ते हिअर  इंसानि हकनि जूं तंजमयूं तोहे मिडीया जे मार्फति पहिंजे कोसनि खे पधरो करण में ई सयाणप समझिंदा आहिनि।

 

बाबर जिनि वाकयनि जनि वाकयनि जो जिक्रु पई कयो आहे सो रुगो मिरपूर खास ताईं महदूद नाहिनि। कराचीअ खां वठी कशमोर ताई पया जाम दि॒सण में था अचनि।

 

जहि दि॒हिं मरियमि जे जो फैसलो जज पई बु॒धायो तहि दि॒हिं पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस ईफतिकारि महूमद चोधरी कोटरी में थिअल साग॒यो केस में फैसलो दि॒ञो तह जेकरि उहा नेंनघरि 13 सालनि खां घटि उमर्र जी आहे तह अग॒वा कंदड ते लज॒लूट जो केस थो हलि सघे। (इलसामि कानुन मोजिबु 13 खां घट उमर जी छोकरि वेहाउ नथी करे सघे – कानुनि।) जद॒हि जज जे लेखे हिंदुन जो अग॒वा थिअण ऐं मुसलमानि थिअण जूलमु नाहे तह मोलवीयूनि खे केडहो हथिरु थिंदो। चिफ जसटिस व़टि हिकु नह पर जाम केसअ वया आहिनि, पर इहो बु॒धण में कोन आयो आहे तह हून साई कहि हिंदु खे का दिलजाई दि॒ञी आहे, हा नवाज शरिफ जे लाई वाटि साफ करण में पूरी इमानदारि जरूर दे॒खारि आहे।

 

मथे जा॒णायलि वाबयनि बाबति जेकरि अहो समझजे तह जूलम रूगो॒ दलितनि सां पयो थिऐं तह इहा वदी॒ गलति थिंदी। जेतोणेक रिवाजी हिंदुनि सां दलितनि वारा जूलम कोन थिया आहिनि पर संदुनि खे कहिं भी रित बख्शयो भी कोन वयो आहे। वेझ़डाईअ में ब॒ह वाकया थी गुजरा आहिनि जेके पाकिस्तानि जी अंग्रेजी अखबारिनि में चङो कवरेज मिल्यो आहे। सिंध जे सिंधी मिडया में जेतोणेकि कवरेज दि॒ञो आहे पर उनि रित नह जहि रित मिलणो खपिंदो हो। सिंध जे हिंदु पंचायतुनि जी गा॒ल्हि मञिजे तह पिछाडीअ जे बनि सालनि में हिदुनि ते अग॒वा, लूटमारि या कतलनि जा 300 वाकयो थिया आहिनि। पर विछाडीअ जे टनि- चारि महिननि में ब॒ह वाकयनि सिंधीयूनि जो खास करे धयानु लहणो- पहिरों आहे उतरि सिंध जे शिकारपूर में पुञे आकिल जो ऐं ब॒यो आहे चक, शिकारपूर  जो वाकयो। हिक लङे दि॒सजे ब॒नि वाकयनि में को खासि फर्कु नाहे।

 

पुञे आकिलि में वाकयो हिक स्कूल में हिक हिंदु प़टवाले जो कूलहडे जाति जे हिक सिंधी मूसलिमि नेंनघरि जी लज॒लूट जे कोशिश सबब थी। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे तह कूलहोडे बिरादरीअ जे काहि में जिनि ते हमलो कयो वयो तनि जो इन पटवाले सां को भी वासयो नाहे। पूलिस जेका दलति हिंदुनि ते थिंदड वाकदातुन ते हिक ऐफ आई आर ताई द्र्ज करण जी जरूरत कोन महसुस कंदी आहे सा यकदमि ऐफ आई आर दर्ज कयो। ऐफ आई आर नह रुगो॒ उनि पटवाले ते दर्ज कई पई पर इन स्कुल हेड मासतरि जे खिलाफ पिणि दर्ज कई वई हूई। पुञे आकिलि में वारदाति जी जाई ते हिंदुनि में कहि भी पहिंजी जान कोन विञाई पर पर खे मुसलमानि जरुर मारजी वया। इन खा सवाईपुलिस जी कारवाही सबब काहिं कंदडनि मां पिणि कनि के मारजी वञण जी खबर पधरी थू हूई। इन वारदाति जे दो॒हि खे हिक बि॒न दि॒हनि में हथ कयो वयो पर जद॒हिं अग॒वा था थेनि तह मूलक जो चिफ जस़टिस भी कजहि नतो करे, पुलिस जी छा गा॒ल्हि कजे।

 

चक मे वकयो पहिंजो पाण में कहिखे भी वाईडो करण लाई काफि आहे। जेतोणोकि इन वाकये बाबति जुदा जुदा अफवाहूं तेज थयूं पर मूल रिह हकिकति कजहि हिन रित हूई……

 

चक , शकारपूर में मारजी वयलि जे वारितनि सां ग॒दु॒ जिऐ सिंध कोमी महाज जो अग॒वाणु बशीर खां कुरेशी

शुरु आति अहवाल मोजिबु इहा खबरि वंढाई वई तह चक शहर में हिक हिंदु छोकरे पारां भाईयो जाति (मुसलमानि जी हिक कबाईली जाति) छोकरीअ सां लज॒लूट जी कोशिश पई कई वई हूई। पर जद॒हि हकिकत पधरी थी मसलो कजहि बिलकुल बि॒तरां ई निकतो। गा॒ल्हि कजहि हिन रित हूई तह-  भाईयो जाति जी हिक छोकरी दि॒आरीअ जे दि॒हिं हिक हिंदु छोकरे जे घरि  पई आई या खणि चईजे निंढ द॒ई घुराई वई । कहि  माणहूनि इन छाकरिअ खे उताकअ (घर में मर्दनि जे उथण – वेहण जी जाई जहि में जाईफआंऊं असूलि कोन अचनि, सिंध में अजु॒ इहो रिवाज आहे) में पई दि॒ठो। हंदु छोकरे जे माईटनि खे जद॒हि खबरि पई तह संदुनि छोकरे खे मार्यो-कोटयूं ऐं भाईये जाति जी इन छोकरिअ खे संदुसि घरि मोकलयो वयो। इहा गा॒ल्हि छोकरिअ जे माईटनि ऐं भाईये बरादरी जिअं पहूती तह हो सख्त काविडजी वया। संदूनि जी कावड हाथियो वधी वई छा काणि तह छोकरो हिंदु हो। उन दि॒हि खां भाईये जाति ऐं के जिहादी जमायतूं चक में हिंदुनि खे पई हिसायो जहि सबब हिदुनि पूलिस खां मदद पिणि पई गुरी हूई। पूलिस जेतोणेक थोडी मदद कई उहा भी थोडी नाले जेतरि।

इअं तह सिंध जे मूसलमानि  में खासि करे गो॒ठनि तोडे नंढे शहरनि में हिक रिवायति रही आहे जहिखे कारो- कारी थो कोठिजे। कारो मततब छोकिरो ऐं कारी छोकरअ लाई इसतमाल थिऐं। इडहा के वाकया थिया आहिनि जिते कहि अण- मङयलि छोकरे ऐं छोकरि खे हिक बे॒ सां ग॒दु॒ हेकलो दि॒ठो वयो आहे तह संदुनि कत्ल कयो वयो आहे। ऐडहनि वाकयनि जो जेतोणेक सिंधी मूसलिमि जाईंफां जाम शिकारि थयूं आहिनि, किथे किथे रूगो॒ शक जी गा॒ल्हि ते सिंधी जाईफाउनि खे कतल कयो वेंदो आहे। किथे किथे जिते इशक जो मोमलो अचे तह छोकरो ऐं छोकरी  ब॒हिन खे मारयो वञे ऐं घणो तणो छोकरिअ खे अग॒वाटि मारयो वञे जिअ हिदुस्तानि में खेप पंचातयूं में भी थिऐ थो। पर चक जे वाक्ये महल ऐडहो कजहि कोन थियो। हे मसलो सिधो सहूं सिंध जी हिंदू बिरादरीअ खे टारगेट करण जो मसलो थी रहजी वयो।

 

भाईये विरादरी उन वाकये जो नेठि जवाबु ईद जी शाम दि॒ञो जद॒हि के हथियारि बंध हमलो पई कयो जहि सबब चारि हिदूं नोजवान जनि मां ट्रे डाकटरि पणि हूवा से वारदाति जी जाई ते ई मारजी वया। संदुनि नाला कजहि हिन रित ब॒धाया वया- नरेश कुमार, अजित कुमार, अशोक कुमार ऐं सत्यपाल। नोट करण वारी गाल्हि तह ईहा आहे जे वाक्ये जे ब॒नि कलाकनि खां अगु॒ उमालक पूलिस गायब थी वई ऐं वाकये जे अध कलाक खां पोई ब॒रहि अची हाजिरु थी जहि सबब इहो सकु यकिन थो लगे तह इन काहि बाबत पूलिस खे जा॒ण हूई। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे जिअं पुने आकिलि में थियो सागे॒ रित चक में पिणि दि॒ठो वयो तह मसलो कहि सां थियो पर जवाबी हमलो ब॒हिन वाकयनि ते सिंधी हिंदुनि जे थद॒नि में थियो जहिंजो इन मसले सां को भी वासतो नाहे।

 

किनि अख्बार नूवेसनि जेके घणो तणो अंग्रेजी अखबारि मां हूवा कहि कदरु इन वारदाति जी तह ते पुजण जी कोशश कई आहे। संदुनि मञण आहे तह विछीअ जे कनि सालनि में  सिंध में खासि करे उतर सिंध जे शहरनि में तालेबानि जो असरु वधयो आहे। इहो असरु घणो तणो मदरसनि मां पयो वधे जिते जिते मोलवी पंजाब या फख्तुनिवाह मां पया अचिनि जनि खे सिंधीयूनि सखाफित तोडे वहिनवारि बाबत जा॒ण नाहे ऐं हो समाज में जहरि पया फैलाईनि। ब॒नि तंजिमियून जे नालो सामूहं पयो अचे जिन मां पहरिं आ सिपा ऐ साभा पाकिस्तानि ऐं ब॒ई आहे जमाऐत उलेमा ऐं पाकिस्तानि (फजलि ग्रुप)। मथोऊ वरि इनं तनजिमयूनि खे साथु थो मिले सिंधी कबाईली जातयूं, पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जा के ऐहदेदारि ऐं पूलिस जो जनि जी हमेशाहि ई नजर हिंदुनि खे धंधनि तोडे मलकयतूंनि ते रहि आहे। इहो शकु इन लाई थो पैदा थिऐ छाकाणि तह वार्दाति जो अहमि गुनेगारि बबर खां भाईयो खे मञया थो वञे जेको पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जो शखर जिले जो हिकु अहम अगवाणु आहे, वरि उमालकि वारदाति जे वकत पूलिस जो टरि वञण वरि वारदाति बैद पूलिस जो वारदाति जी ऐफ आई आर दर्ज करण में मूझाअप दे॒खारण इहे सब हिदुनि जे मायूसि खे पिखतो था कनि। इहा भी खबरि आई आहे तह वारदाति खां पोई पूलिस थाणे जे अग॒यो इन कबाईले नेताउनि सां ग॒दु जिहादी तंजमयूं भी ऐतजाति पई कयो जिअं इन वारदाति जे जवाबदारिन विरूध पूलिस को भी कदमि नह खणे। पूलिस इन केस में ऐफ आई आर भी वारदाति जे 36 लकातनि खां पोई। इहा भी खबरि पधरि थी आहे तह मारजी वयलि जे वासिसनि खे भी तपायो पयो वञे जिअं संदुनि पारां ऐफ आई आर ते जोर नह विधो वञे। केतरि नह वाईडो कंदड गा॒ल्हि आहे जे पुञे आकिल मामले में पूलिस जी गुनेहिगारि हिंदु पटवाले खे हथ करण में वाहि जी फुर्ति देखारि, सागी॒ फुर्ति चक में कोन पई दे॒खारी वई।

 

शिकारपूर जो रूतबो 1947 ताईं दिसण जेडहो हूंदो हो। मां अजु॒ भी जाम सिंधी हिदूनि खे दि॒ठो आहे तह हू फकरु कंदा पहिंजे शिकारपूर सां लागपे जा। हिन शहरि सिंधी कोम खे महाल कवि शेख अयाज ऐं हेकलो सेकूलर  वदो॒ वजीरु अल्हा बख्श सुमरो दि॒ञो। पर हिअर नाहे रहि आहे। कनि जो मञण आहे तह हे शहरि हिअर खंडहण जो सहरि थी पयो आहे।  जेकरि चक शहरि जी गा॒ल्हि कजे तह शहरि जी मूल आबादी चालिह हजारि आहे जिन मंझ हिंदु मस जेडहा छिह हजार था बुधाया वञिन। जेकद॒हि इन भाईये जाति जी ग॒ल्हि कजे तह इहा शिकार्पूर जी ट्रि सघेरि जाति ब॒धाई वेंदी आहे जतोई ऐं मारहि खां पोई। शिकाररपूर बाबति जा॒ण रखिदडनि जो रायो आहे तह जिहादी तंजमूनि खे पूरि आजेदी दि॒ञी वई आहे तह हो पहियूं हर्कतयूं पूरी आजादि सां कनि ऐं ऐडहे तंजमयूं खे इहे कबाईली जातयूं, पूलिस ऐं हकूमत पारां पूरी मदद पई मिले। इन वारदाति में पिपिलस पार्टी जा भी असिलोका रंङ पधरा थिया आहिनि छा काणि तह इन वारदाति जो अहमि गुनेगारु बबर खां भाईयो शिकारपूर में पिपिलस पार्टी जो अहमि अग॒वाणु आहे। सिंध मां वेझडाईअ में लदे॒ आयलि हिंदु बरगी बिरादरी जो भी चवण आहे तह तालिबान जो असरु सिंध में कजहि सालनि खां जाम वधयो आहे। इहो सब इन जे वावजूद जे सिंध जे हिंदु बरादरी हमेशाहि ईं पिपलस पार्टी जो साथु दि॒ञो आहे। उहे अग॒वाणु हिअर गो॒ल्हिहे ई कोन बया लभिनि।

 

बदकिसमतिअ सां सिंध में हिंदुनि तोडे थोराईअ वारी कोमनि जे विरूध ऐडहीनि वारदातयूंनि खे कद॒हि भी संजीदगीअ सां कोन धयानु दि॒ञो वयो आहे। जेकरि रिवाजी सिंधी मुललमानि जी गा॒ल्हि कजे तह कनि खे छदे॒ हिकु ई जवबु मिलिंदो –साईं हिंदु तह अजायो पया हूलु कनि इहो तह मुसलमानि सां भी पयो थिऐ। इन जे नसबत सिंधी मिडिया जो हमालो दि॒ञो वेदो आहे जिते सिंधु बाबति  खबरिनि  में 365 दि॒हिं साग॒या अहवालअ हूंदा आहिनि तह फलाणे – फलाणे खे कतल कयो, फलाणो अगवा थियो वगिराह वगिराहि। रूगो॒ नाला ऐं तारिखयूं मटयलि हूंदयूं आहिनि, बाकि सब साग॒यो। सिंध में इन वारदातयूं खे तमाम रिवाजी करे मञयो वेंदो आहे। सिंधी मिडया जहिखे इन मसले खे जोर तोर सां हथ करणो खपिंदो हो से तह सिंधीयूनि खे अजरक टोपयूं पाराऐ सिंधीयूनि खे नचाअण में ई पहिजी शान करे लेखिंदी आहे।

 

पर इन सभनि जे वावजूद सिंध में माण्हू सुजाग॒ थेनि पया। इन वाक्ये बैद चक में सिंध जे सिविल सोसाटी ऐं केमिपरसत पार्टयूं ऐतजाति रेलयूं कद॒यूं जिनि में हजारनि जा माणहूनि सिरकत कई। जिऐं सिंध कोमि महाज जो अग॒वाणु बशार खां कुरेशी ऐं अवामी तहरिक जो अबदल लतिफ पलेजो इन रेलयूं में शिककति कई। गायब रही तह रूगो॒  प प  प जेका दहशदगर्दनि सां लडाईनि में पहिंजूं कर्बीनयूं गणाअण में पल भर जी देर कोन कंदी आहे पर हिअर खामोश। प प प जा हिंदु मेमबर पिणि गायब रहया जहिंखे सायदि चुप रहण में पह्जो निजी फाईदो नजर आयो- थी थो सघे तह खेनि प प प माठि रहण जी हिदायति दि॒ञी हूजे। पाकिस्तानि में कोमि ऐसलमबलि में शेरी रहमानि हिक ऐडजर्नमेट मोशन भी करायो जहि में पिपिलस पार्टी खे इन अग॒लाणनि खे पार्टी मां बा॒हरि कद॒ण जी घुर कई वई। पर छो तह शेरि रहमानि हिअ अमेरिका में पाकिस्चानि जी राजदूत थी अमेरिका रवानो थी आहे तह इन जी पूरि उमेदि आहे तह इहो भी केस विसारयो वेंदो।

 

चक में अमामी तहरिक पारां ऐतजाजी रेली में हिदू बिरादरी सां ग॒दु॒ अयाज लतिफ पलेजो

हिंदुस्तिनि जी मिडीया में सिंध बाबति कवरेज नह जे बराबर रहयो आहे। इन जो हिकु वदो॒ सबब इहो रहयो आहे तह सिंधीयूनि खां सवाई हिंदुस्तनि में मूखतलिफ कोमनि जा माण्हू रहिनि ई कोनहि पाकिस्तानि में। पर अफसोसि जी गा॒ल्हि तह इहा आहे जे हिंद में सिंधी किअं माठि करे वेठा आहिनि। सिंधी मिडिया जी तह गा॒ल्हि परे पर कहिं भी सिंधी संमेलनि में सिंध जी हालतियूनि बाबत बहि लफज ताई गा॒ल्हया कोन वेंदा आहिनि- कजहि करण जा तह गा॒ल्हि परे आहे। हर सलमेलनि में बस हिक़डो ई रागु तह – साईं सिंधीयूनि हे कयो तह हो कयो, पर सिंध में रतो छाणि पई हले, हिंदुनि जी लद॒पण पई हले पर मजालि आहे तह कहिंखे का ताति हूजे। जेकरि सिंधी ई माटि हूंदा तह हिंदी – अंग्रेजी मिडीया जो केडहो दो॒हू….खेनि केडही ताति पई आहे सिंध जी। भेरुमल मिरचंद आद॒वाणी जे सिंध जे हिंदुनि जी तारिख में लिखयलि आहे तह सपत सिंदू सां हिंदु जद॒हि गंगा- जमूना जे किनारे अची वसया तह के सिंधू माथरि वारनि खे मलिच देश करे कोठिंदा हवा पर हिते तह असां सिंधी थी भी सिंध खे मलिच देश करार दि॒ञो आहे, बस  मिडई सिंध जे नाऊं ते मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में पहिंजी शान समझयूं।

 

ऐडही हालतूनि  में सिंधी कोम जो वजूद कायमि रहण औखो ई नह पर नामूमकिन आहे।

 

 

 

 

 

 


सकाफति ऐं बो॒ली मंझ मूंझयलि सिंधी कोम

सिंध में हिन साल नवम्बर 19-20 तारिख सकाफति दिं॒हिं मञाअण जी तारिख मुकर्र कई वई । सिंध में सकाफति दिं॒हि जी हिअ टिहि वरसी हूई। पर अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे इन सकाफति दिं॒हि जी का भी पक कयलि हेकली तारिख नाहे। सिंध में उमालक सिंधी सकाफति दो॒हडो मनआणु जो सबब भी को घटि दिलचस्प नाहे। गा॒ल्हि शुरु थी पाकिस्तनि सदर (राष्ट्रपति) साईं आसिफ अली जरदारीअ जे सिंधी टोपी पाऐं अफगानिस्तानि जे सदर श्री हमिद कीजाई जे बी॒हरि सदर चूंडजण सबब सपथ वठणि में मोके ते शरिक थिअण जी । किनि अर्दूं अखबारि जे ऐनजिवि जरदारीअ जे ईन मोके ते पातलि सिंधी टोपीअ ते ऐतिराज पई कयो। संदुसि मञणु हो तह छो तह सदर जरदारी पाकिस्तानि जे अवाम जी नुमाईंदगी पयो करे सो इहो लाजमी तो थिऐ तह हो हिक पाकिस्यानि जे लिबास में पाण खे पेश करे नह कि कहिं मुखतलिफ कोम जे लिबासि में। सिंधी मिडीया ऐं खासि करे सिंध में सिंधी मिडिया जो सबनि खां वदो॒ घराणो- के टि ऐन इन उर्दू अख्बार नुवेसि जे बयोनि ते चङो हूलु कयो। इहो वाक्यो हो  21 नवेमबर 2009 जो । इन हूल तोडे गो॒ड जे मंझ के टि ऐन ऐलानु कयो तह 6 दिसंमबर सिंधी शकाफति जो दो॒हाडो पई मञाईजे। इन दोहाडेअ जो सिंधी जिते किते अजरकयूं तोडे सिंधी टोपी पाई खूशयूं पई मञाईंदे के टी ऐनि टिवी में दे॒खारा वया – ज॒णु इहो दी॒हं सिंधी मुसलमानिं लाई ईद वाङुरु जो द॒णु वारु हूजे। सजो॒ दिं॒हिं के टी ऐंन में के टी ऐन जेनेल जे जुदा जुदा कलाकारनि खे पेश कयो वयो- संदूनि सिंधी खे अजरक तोडे सिंधी टोपीअ जा महान गुण गा॒ईंदे देखारिया वया। इन टिनि सालनि इन दो॒हाडे में हिअर फर्कु रूगो ऐतिरो आहे जे हिन सालि ईन में अवामी अवाज – सिंधी जी हिक अहम अख्बारि पिणि सिडिजी बि॒ठी।

 

इन गा॒ल्हि में सायदि ई को शकु आहे तह सिंध में खासि करे सिंधी मुसलमानि जेके मूल सिंधी कोम जा 75 सेकिडो आहिनि – सिंधी टोपी तोडे अजरक खे यकिनि पहिंजे निज॒ सुञाणप करे मञिदा आहिनि। ऐडहो वरली ई को सिंधी मेडो पई लभींदो जिते अजरकयूं नह पई नजर ईंदयूं। भले उहा मेडाको सकाफति,सामाजिक, तोडे अदबी हूजे, जिते कजरकयूं पहरयलि सिंधी गिद गिद नह थिंदा हूजिनि। सिंधी, सिंध में वेहाऊं वधाऊ में भी अजरकयूं जो जाम इसतमालि कनि। चवण लाई तह अजरकि फकत हिक ल़टो ई आहे जहिंजी ढिघायप मस जेडही 2.5 खां 3 मिटर थिऐ थी, पर जहि हिसाब सा अजरकयूं बाबति जोश सिंधी मुसलनामि में दि॒सण में इदो सो दि॒सण लाईकु आहे । अजरकयूं जे इसतमालि जूं सिंध खां बा॒हिरि ब॒ह खसुसि ईलाईका जा॒णाया वेंदा आहिनि मसलनि – सिंध ऐं पंजाब जे विच में वसयलि सराईकी इलाईका ऐं हिंदुस्तानि में कच्छ ऐं जेलसमेर  जा जिला। पर अजबु कंदड गा॒लिहि तह इहा आहे तह अजरकयूं हमेशाहि ई सिंधी-कच्छ- सराईकी जे मूसलमानि बरादरीअ में वाहिपे में दि॒ठयूं वेंदयू आहिनि। जेकर अजरक लफज जी भी छंड छाणि कजे तह इन लफज जे जड बाबति भी तमाम घणी गु॒झायप पई दिसबी । अर्बी में जेतोणेकि ऐडहो लफजु या इन सां मिलिंदड-झुलिंद़ड लफजु आहे जको ईतफाक सां निरे रङ सां गं॒द॒यो वंदो आहे, पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे तह अजरकयूं जो इसतमालि रूगो सिंध, कच्छ, जेसलमेरि या बारमेर (राजिस्तानि) ऐं द॒खिणि पंजाब में सिंराईकी ऐलाकनि में  पयो नजर इंदो- अर्बनि में इन जो इसलमालि नह जे बराबर आहे । के तह वरि अजरकयूंनि खे मोअनि जे दडे में रहिंदड माण्हूनि जी सखाफति सां कनि। खैर जिअं भी हूजे पर इन में को भी शकु नाहे तह अजरकु सिंधी सकाफति तोडे कोमिप्रसति जी हिक अहमि सुञाणप थी उबरी आहे।

 

सिंधी सकाफति दि॒हि जो नदारो

 

अजरक पाऐ खूशयूं मनाईंदे

हाणे सवालु इहो आहे तह हाणे छो? .छो हाणे ऐदो॒  हूल पयो कयो वञे ?  छा सिंध में सिंधी टोपी तोडे अजरकयूं पाईण खां झलयो पयो वञे. ? छा सिंधी सकाफति ते का रोक आहे ? तह पोई आखिरि ऐतिरी हाई घोडा छा जी ? हिंदुस्तानि में जिते 100 खनु बो॒लयूं आहिनि ऐं 400 खनु सुखतलिफ कोमयूं आहिनि, हितोउं जा सियासतदानि पिणि जूदा जूदा ऐलाकनि जे खसुसी तोडे सकाफती लिबास में नजर ईंदा। बंगाली धोती में तह, तमिल पहिजे अछी लूंगी तोडे खमिस में तह उतर हिंदुसातनि जा सथण कुडते में। पर हो जद॒हि भी परदे॒हि वञिन तह पहिजूं ऐलाकनि जा वेस वगा॒ कोन पाईनि पर हिकु सागयो वगो॒ पाईनि जेको हर हिंदुस्तानि सियासतदानि पाईनि। सवालु इहो आहे तह पोई सिंधी छो मिडिया जे चऐ रसतनि ते निकता, छो उमालक ऐतरयूं खूशयू। जेसिताई सदरि ऐं संदुसि पार्टी पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जद॒हि पाकिस्तिनि खे कबूल करे थी तह पाकितसानि जे लिबास में ऐडही केडही खोट आहे ?

 

हिक लंङे दि॒सजे इन में को भी शकु नाहे तह पिछाडीअ जे सत द॒कानि खां सिंध में सिंधीयूनि सां नाइंसाफयूं पई थयूं आहिनि। सभीनि खां पहिरों वारु बो॒लीअ ते थियो पोई वारो आयो सिंधी सकाफति जो। इहे भी दि॒हिं कहि खा विसरया नाहिनि जद॒हि पाकिस्तान में प्रधानि मंत्री जे ऐदहे ते वेछलि ताई अग॒वाण चवनि तह – “सिंधी सखाफति आहे ई छा सवाई उठ हाकण खां सवाई” ऐडहा बयानअ  यकिन्न इन मूल्क जे पहिंजे माण्हूनि जो सिंधीयूनि  बाबत वरताउ जे नसबत शकु पैदा कंदो आहे । सो जेकद॒हिं ई ऐंडहो को मौको अचे थो जिते सिंधीयूंनि जे सखाफति ते को अङरयूं थो खणे तह ज॒णु सिंधीयूनि जो दु॒ख ऐं कावड उभरण में पल जी देर नथी लगे॒। पर 6 दिसम्बरि जो वाक्यो जहि रित पोश कयो वयो सो कहिजे भी जहनि में शकु पैदा करण लाई काफि आहे। गा॒ल्हि कजे थी तह सिंधी मिडिया जेका हिअर सिंधी सकाफति जी बानी तोडे रहिबरि थी पाण खे पेश करे, सुदूसु बो॒लीअ दा॒हि केतरि ताति आहे। संदुसि गणति जो हिसाब इन गा॒ल्हि मां पतो पवे थो जे संदुसु  चेनेलनि में सिंधी ईसतहानि जो हिस्सो 10 सेकडो मस जेडहो  हूंदो आहे बाकि 90 सेकिडो इसतहारि उर्दू ई में नसर थेनि। हिदुस्तान में जद॒हि पहिरों भेडो निजी चेलेल मुख्तलिफ बो॒लयूंनि में नसर थिअण शुरु थिया तह संदुनि  इसतहारि हिंदी तोडे अंग्रेजीअ में डब कयो वेंदा हवा। पर पोई हो असलोका दे॒ही बोयलूंनि में ऐड नसरि करण लगा॒ जहि कम में हो हिअर तमाम अग॒ते वधी वया आहिनि, सिंधी लाई नह जा॒णु इहे दि॒हिं कद॒हिं इंदा- अलाई इहे दि॒हिं इंदा भी कि नह…जेसिताईं गा॒ल्हि कजे के टी ऐन जी तह इहे दि॒हि सायदि ई कहिंखां विसरया आहिनि जद॒हिं सागे॒ के टी ऐनि चेनेलि जी सिंधी, हिंद जे सिंधीयूनि जी गा॒ल्हि तह परे सिंध में रहिदड सिंधीयूंनि लाई भी समझण का सहूलि हि गा॒ल्हि नह हूदी हूई। ऐतिरा अर्बी फार्सी लफजि उर्दूंअ में भी इसतमालि नह थिंदा हूंदा। जेसिताई गाल्हि सदर जरदारि जी कजे तह हू ऐं सदुसि पार्टी पाकिस्तनि पिपिलस पार्टी जोतोणेक सिंध कार्ड जो इसतमालि जाम कयो आहे पर सियासी तौर सिंधी हमेशाहि ई पंजाबी तोडे महाजरनि खां कहि कदरु पोईते ई रहया आहिनि। प प प लाई सिंध कार्ड रुगो॒ सियासी दाऊ थी रहजी वयो आहे, जणु सिंधीयूनि जी खुशी रूगो॒ पंजाबी तोडे मुहाजरिनि (हिंदुस्तनि मां लदे॒ वयलि हिंदी-गुजराती गा॒ल्हिईंदड मुसलमानि) खे खुश करण में ई आहे। पर सलि बो॒द॒ महलि सदर लंडनि जा आराम कंदे पई नजर आयो ऐं हिन सालि भी जद॒हि लग॒ भग॒ सजी॒ सिंध बो॒द॒ हेटि हूई तह सिंधी अवामु ऐन जी ओ जे रहमनि ते ई दि॒हिं पई गुजारा जद॒हि तह हूकूमति रुगो॒ पाणे खे सोघो करण में ई मुझयलि रहि।

 

परदे॒हि में सिंधी टोपी - अजरक दि॒हिं

सिंधी टोपी अजरक दो॒हाडे सां ग॒दु॒ सिंधअ में हिकु ब॒यो भी नारो बूंलंद कयो वेया सो हो  – सिंधी ऐकता जो। हिक लङे दि॒सजे तह सिंधीयूंनि में ऐकता ऐडहो भी को औखो कमु भी नाहे। नंढे खंढ जे मुख्तलिफ कोमनि में सिंधी ई ऐडहो हेकलो कोम हूंदो जिते पोलराईजेशनि नह जे बराबर रही आहे , इहो इन जे बावजूद जे सिंध में मूसलमानि जी घणाई हूई। इहो ई नह ऐडहो वरली ई को हिंदूं सिंधी लभिंदो जेको विरहांङे जे फसादि लाई सिंधी मुसलमानि खे दो॒ही करार दिं॒दो ऐं अजु॒ भा ऐडहा चङा सिंधी मुसलनानि पई लभींदा जेके सिंध जे हिंदुनि जो बो॒लीअ ऐं तालिम में नसबत कयलि कमनि ते फकरु नह कंदा, पर इन जे वावजूद जहिं ऐके जी जुंजाइश सिंधी कोम में सां कोन थी सघी , कद॒हि इहो पयो लगीं॒दो आहे तह ज॒णु सिंधीयूनि को हिंदुस्तानि – पाकिस्तानि  जो ऐजेंडा पई पूरो कनि। पर दिलच्सप गा॒ल्हि इहा भी आहे तह सिंधी मिडिया सिध में कद॒हि भी हिंदु – मूसलिमि जे ऐके लाई कद॒हि भी पहिंजा हथ पेर कोन पसारा आहिनि। जेतोणेक मिडिया भले जेतरि भी गा॒ल्हि सिंधीयूनि में ऐके जी करे पर इन में को भी शकु नाहे तह हिंदुन जो सिंध मां लदे॒ वञण कहि भी ऐके जी गाल्हियूंनु मां संदुसि हवा कद॒ण लाई काफि आहे । बाकि दलति हिंदुनि जे सिंध में बचयलि हिंदुनि जा 75 सेकिडो थेनि, तनि जी तह हालति धारि । दलितनि खे तह जण हमेशाहि ई भगवान जे भरोसे ई जिअणो आहे। इहो सब इन जे बावजूद जे पिछाडीअ जे सतर सालनि खां थिंदड लद॒ सबब मुसलमानि खे भी नपकसानु जाम पई थियो आहे। जेकदि॒ इन सकाफति जे नाऊं ते हूलु विझींदड मिडीया जी गा॒ल्हि कजे थी तह हो भी सिंधी अण-मूसलिम बिरादरीअ खे कवरेज नह के बराबर पई दि॒ञो आहे, सो ईहो चिठी रित पधरो आहे तह इन सिंधी मिडीया को मूल मकसद रगो पहिजो धंधे वधाअण खां सवाई कझ भी नाहे।

 

सिंधी कोम दूनिया जे 60 मूलकनि में टरयलु पिखरयलू आहे । जदहि ऐदे॒ वदे॒ ओलाईके में  सिंधी रहिंदा इहो मूमकिन भी नाहे तह सिंधी कोम हेकली सकाफति जी नुमाईंदगी कनि। पर इन जे वावजूद इहो दि॒ठो वेंदो आह् तह हिक सकाफति खे अपञाअण जे जोर या हिक सकाफति खे मुल सकाफति मञाईण चाहि सिंधीयूनि में भी का घटि भी नाहे, पिछाडीअ जा सतर साल इन जा मिसालि आहिनि जद॒हि इहो घणो घमरा दि॒ठो वयो आहे सिंधीयूनि खे कहि खासि साकाफति जो पोईलगू पयो ठयो वञे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे सिंधी हिंदुनि में घणे में घणा माण्हूं दर्योपंथी आहिनि पर इहा भी हिक सचाई आहे तह इन खोशिश में असी कच्छ तोडे जेसलमेरि में रहिदड सिंधीयूंनि खां कहि कदिरु धारि थी पया आहियूं। कच्छ में जेकरि दि॒सजे तह दर्यापंथी रूगो॒ लोहाणा थेनि बाकि रिवाजी सिंधी जहि में हिकु वदो॒ तबको दलितनि जो आहे सो तह माता खे जाम पूजि॒नि मसलनि माता हिंगलाज या माता अशापूरा वगिराहि। सिंध में जेकरि दि॒सजे तह साग॒या मंजरि पई नजरि इंदा, जिते सिंधी टोपीअ जे नाउ ते सिंधीयनि खे हिकु करण जा चङी कोशिशयूं पयूं हलिनि जदहि तह हर को उनि सकाफति खे नढिदड नाहे – मतब अजरक टोपी पाईंदड। इन जे नसबत आउं हिकु पोस्ट पिणि पढो हो जिते हिकडे सिंधी मुसलमानि पयो लिखे तह साईं हिंदुस्तानि में गहिदड सिंधी हिंदु वरी सिंधी किअं थया – हो तह सिंधी टोपी तोडे अजरकयूं कोन पाईनि, तह हो वरी सिंधी किअं कोठीबा। वरि हिंदुस्तानि में सिंधी हिंदू कद॒हि भी कच्छ जे जुदा जुदा हिंदु जातयूनि खे पहिजो करे कोन लेखो आहे। कहि भी जलसे में संदुनि खे निंढ द॒ई कोन सदा॒यो वेंदो आहे। इहो सब इन जे बावजूद जे हो असां खां वदिक सिंधी गा॒ल्हिईंदा आहिनि। बदकिसमतीअ सां सिंधीयूनि में विछाटयूं घ़टण खां कहि हदि ताई वधयूं आहिनि। इन जो हिकु वदो॒  सबब आहे जहि रित असां पाण खे खासि करे विरहांङे बैद पेश कयो आहे खासि करे मिडिया में। सिंध सिंधीयूनि जो मरकज आहे। पर इन जे बावजूद सिंधी अखबारिनि तोडे चेनेलनि में अण- मुसमानि जो कवरेज नह जे बराबरि आहे। काविश तोडे के टी ऐन यादि नाहे तह कद॒हि सिंधी हिंदूंनि खे कवरेज दि॒ञो हूंदो। अवामी आवाज जे रेकार्ड कविश खां कहि कदुरु सुठा आहे पर जहि रित सिंधी हिंदु कोम खे कवरेज मिलणो खपिंदो हो सो कोनि मिलयो। हिदुस्तानि में सिंधी मुसलमानि रहनि पया खासि करे कच्छ तोडे राजीस्तानि – सिंध जे सहरदूनि दा॒हि पर हित भी इन बाबति हिदुस्तानि जी  सिंधी मिडया में ऐतिरो कोन लिखयो वयो आहे । जोतोणेक थोडो घणो कच्छ बाबति लिखयो वयो आहे पर उहो भा ऐकड बे॒कड सिंधी लेखकनि पारां। परदे॒हि में भी जिते हिंदु तोडे मसलमानु सिंधी रहिनि पया सवाई दुबई जे शायदि ई ऐडहो को मूलक हूंदो जिते हिन ब॒वि वदे॒ सब्के सां सिंधी हिक पलेटफार्म ते ग॒दु॒ थिया हूजिनि।

 

सिंधी हिंदू

 

चालिहे जो हिकु नजारो

सिंधी मुसलमानि जे भेटि में सिंधी हिंदुनि में जाम घणयूं मुखतलिफ सकाफतयूं आहिनि, पर बद- किसमतीअ सां असीं इन सकाफतूंनि खे हिक सुत्र में कोन गं॒ढे सघया अहयूं। जेतोणोक हिंद तोडे सिंध खां बा॒हिरि रहिदड सिंधी पहिजे इसट देव भगवान झुलेलाल जे नाउं ते हिकु थिअण जो दावो कंदे कोन थकबा आहिनि पर हकिकति ऐडही नाहे। नंढे खंड खां बा॒हिर सिंधीयूनि जी वधी आबादी रहे थी जेका तमाम घणी उलहंदे (पश्चिम) जे संसकृति जे वेझो थी चूकी आहे। असां जेकरि उमेदि कंदासिं तह हो हिंदुस्तानि जे सिंधीयूनि वाङुरि थेनि सो हिअर मूमकिनि नाहे। वरि कच्छ में दि॒सजे तह इथ कच्छी लोहाणा रूगो वरूण देव खे पुजिनि बाकि ब॒यो हिंदु माताउनि – मसलनि अशापूरा, हिंगलाज वगिराहि खे घणो पूजि॒नि। वरि मूसलमानि खे द्सजे तह हो हाजी पिर खे पहिजी सकाफति सां ग॒दे॒ दिसिंदा आहिनि। अजु॒ इन गाल्हि जी तमाम घणी जरूरति आहे तह असी पहिजी सकाफति जे वाहिपे खे वधायूं नह तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह असां सिंधी सुसी हिंदुस्तानि ताई महदूद रहजी वेंदासिं। जुदा जुदा सकाफति जा पहिंजा भी मलसा थिंदा आहिनि। मसलो इहो भी आहे तह हिकडे कोम जी सकाफति कहि धारे कोम लाई वेशर्मी ताई लेखी वेंदी आहे। मिसालि जी गा॒ल्हि कजहि सालनि अगु॒ कोरियनि कमपनी ऐल जी इलकट्रानिकस पहिजी दील्ली आफिस में हिकु हूकूम जारी कयो तह सभ को उलहि जे मूलकनि वाङुर वगा॒ पाईंदा। इहो फर्मानु छा निकतो ज॒णु वदो॒ पवंजी वयो। नेठि कमपनी खे पहिजो फर्मानु मोटाऐ वठणो पयो।

सिंधी - रबाडी जात -कच्छ
कच्छी सिंधी
सिंधी कच्छी पहिजे सकापति लिबास में

हिक खां घणयूं सकापतयूं हमेशाहि ई कहि भी कोम लाई हिक वदी॒ चूनौती थिंदी आहे। हिअर तह यूंरोप जे मूलकनि में भी इहो मञयो थो वञे तह खेनि ईहा कामयाबी कोन मिलि आहे जहिजे उसूलनि बाबति हो फर्करु कंदे कोन थकबा आहिनि। वेझडाईअ में जर्मनि चासिलर श्रीमती ऐजिला मर्केल तोडे फ्रांस जो सदर साकरोजीअ जो भी चवण आहे तह संदुनि पहिंजे पहिंजे मूलक में कहि भी धारी सकाफति खे संदुनि अवाम पनपण कोन दि॒ञो आहे। अमेरिका में इन घणयूं सकाफतयूं बाबति हिकु धार लफजु इसलमाल थिंदो आहे सो आहे –सकाफतुनि जो मेलटिग पोट (Melting Pot) पर हिक नजरिऐ सां दि॒सजे तह अमेरिका में उलंदे जी यी खणि चईजे तह यूरोप जी उलहंदी सकाफति में सभनि खे गदा॒यो वेंदो आहे। अमेरका में दि॒सजे तह अंग्रेजनि जे अचण महलि 40 सेकडे जी बो॒ली अंग्रेजी हूई हिअर 87 सेक़डे जी बो॒ली अंग्रेजी आहे। अजु॒ भी जेकरि को अमेरिका में वसण चाहे थो तह खेसि अंग्रेजी बो॒लीअ जा कडे में कडा इमतहान था दि॒अणा पवनि। सागे॒ रित जेकरि अव्हा यूरोप जे कहि भी मुख्तलिफ मुल्क में वसण जी कोशशि कजे तह सभनि खा पहिरो अव्हां खे बो॒ली थी सिखणी पवे। जेकिर मुल्क भी अंग्रेजी आहे तह अंग्रेजी नह तह उन जी दे॒ही बो॒ली। दरअसलि यूरोप में सकाफति खे बो॒लीअ सां गं॒दे॒ दि॒ठो वेंदो आहे ऐं इते ई सिंधीयूनि में यूरोपियनि में वदो॒ फर्कु आहे। अंग्रेजनि खे जेकरि दि॒सजे तह हिंदुस्तनि में भले ई दे॒ही बो॒ली ते रोक कोन लगाई पर अमेरिका, केनेडा या वरि आसट्रेलिया जिते हो तमाम घणी तादाति में वसया – उते दे॒ही बो॒लीयूं अगो॒ पोई नासु थी वयूं। ईंगलेड में तह अंग्रेजनि वेलस बो॒लीअ खे ताई कोन बख्शो। सकाफति जे नतबत उन यूरोपी तोडे अमेरिका में इन लाई ऐतिरो हूलु कजे थो छाकाणि तह खेनि इन गा॒ल्हि जी खबरि आहे तह जेकरि संदुनि सकाफतुनि जे वजूद खे कायम दायम रखणो आहे तह बो॒लीअ खे कायमि दायमि रखणो पवंदो। अमेरिका में अंग्रेजअ ऐतिरा तह मायलि हूंदा हवा पहिजी बो॒लीअ लाई जे किथे किथे जेके अमेरिका जा मूल माण्हूं जेके अंग्रेजी कोन गा॒ल्हिईंदा हवा या इन जी मुखातलिफ कंदा हवा तनि जूं जि॒भ ताईं कतरयूं वेंदयूं हयूं। जेकरि अर्बनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि जो किरदारि सिंध में बो॒लीअ जे नसबत दि॒ठो वयो जिते संदूनि पूरी कोशिश कई तह सिंधीअ जे नाऊं ताई नह रहे।

 

मेघवारि जाति जी सिंधीयीणी जेईफां

जेकरि यूरोप में मुख्तलिफ सकाफतूनि खे बारिकीअ सा जाचिंदासिं तह इन में हिक गा॒ल्हि जेका सभनि खां अग॒वाटि सामहूं ईंदी सा आहे बो॒ली। हो बो॒लीअ खे सकाफति जो हिकु अहम हिस्ता मञिंदा आहिनि पर सिंधीयूनि सां ईऐं नाहे सिंध खां बा॒हिरि रहिंदड हिंदु सिंधी में भले उहे हिंदुस्तानि में रहिनि य़ा ब॒यो कद॒हि बो॒लीअ सां सही माईने में वफादारि कह कदुरु कमजोर ई रही आहे। इअं तह हिंदुस्तनि में सिंधीयूनि जी सिंधी बो॒लीअ जे वाहिपे जे नसबत चङी तहकिक थी आहे पर इन भेटि में हिदुस्तनि जे बा॒हिरि तमाम थोयूं तहकिक इन मसले ते थीयूं आहिनि। ऐडहयूनि  थोडयूं तहकिक में हिक आहे श्रीमती माया खेमलाणीअ जी तहकिक। माया खेमलाणी, मलेशिया जे कवालालामपूर शहर जे मलाया विशवदिद्यालय में बो॒लीअ जे लिभाग॒ सां गंद॒यलि रहि आहिनि। माया खेमलाणी हिंदुस्तानि जे बा॒हिरि खासि करे द॒खिण ऐशिया में रहिदड हिंदु सिंधीयूनि बाबति तहकिक कई आहे। इन तहकिक जो मोजूओ रहयो आहे बो॒लीअ जे नसबत सिंधी सकाफत। पहिजीं इन तहकिक में अदी माया  के सवाल सिंधीयूनि जे अग॒या रखा जेके ई-मेल जे जरिऐ ई पुछया वया मसलनि …..

क)   केडही बो॒ली अव्हां वध में वध पई गा॒ल्हिईयो……..सिंधी

ख)   जेकर अव्हां सिंधी नथो गा॒ल्हिईयो तह छा अव्हां पाण खे घटि सिंधी था महसुस कयो

ग)    बो॒लीअ खां सवाई अव्हां खे ऐडही कहि गा॒ल्हि में सिंधीयति नजर पईं इंदी आहे

 

अदी खेमलाणीअ जे जेके जवाब मिलया उहे वाईडो कंदड हवा…..33 जणनि जहि पहिजा जवाब मोकिल्या- तनि मां 17 जणनि लेखे बो॒लीअ जो सिंधीयति सां को भी वासतो नाहे। वरि 14 ज॒णनि जो मञण हो तह सकाफति लाई बो॒ली लाजमी आहे ऐं हिक इन पहिरे सवाल जे नसबत का पक राई किन  हूई।

जिनि खे लगो॒ तह सिंधी बो॒लीअ जो सिंधीयति सां को भी वासतो नाहे से सिंधी हुअण जा के तरिका द॒सयो जेकि हिन रित आहिनि

सिंधी खादो– कहि भी कोम जे खसुसी खादो पहिजी सकाफति जे नसबत अहम थिंदो आहे। खादे जे नतबत कजहि जवाबअ कजहि हिन रित दि॒ञा वयो

क)   हिक सिंधी जाईफां केनेडा मां लिखायूसि तह –सिंधीपणे जो हिअर मतलब सिंधी खादे- खोराक ऐं सिंधी दि॒णि वारु सां ई आहे।

ख)   हिकडे सिंगापूर मां लिखे थी तह सिंधीपणो रूगो॒ सिंधी खादे सबब ई आहे

ग)    श्री लंका मां हिकडे लिखुसि तह मां पहिजे माऊ पिउ सां सदाई सिंधी माने खावां

घ)    हिंदुस्तनि मां हिक जबाबु हो तह बो॒ली खां सवाई सिंधीपणे में सिंध खादे जी तमाम घणी ऐहमियति आहे।

ङ)     औसट्रेलिया मां हिकडे लिखूसि तह मां भायां थो तह मां सिंधी आहिया छाकाणि तह मां सिंधी सखाफति तोडे सिंधी उसुलनि जे ऐतिबार कंदो आहियां। इन में सिंधी खादो तमाम ऐहिम आहे।

च)    हिकडी जाईफां केनेडा मां लिखी मोकिलुसि तह मां पहिंजे पाण खे सिंधी पई समझा छाकाणि तह मां सिंधी माने पछाईण जा॒णा।

छ)   पिछाडीअ में सिंगापूर में हिक़डे सिंधी मर्दअ जेको हिक अंग्रेजी अखबारि में मेनेजर हो ऐं  जहिजी ज॒मारि 50 जेतरि हूई – सो थो लिखे तह जहिं खे सिंधी नथी अचे तहि लाईं ब॒यूं शयूं अहमियति थयूं रखिनि, जहि में सिंधी खादो भी थो अचे।

फिलपिंस में सिंधी आमिल

 

फिलिपिंस में सिंधी आमिल

 

सिंधी तोडे अण-सिंधी सकाफतुनि में फर्कअ –

क)   अमेरिका मां हिकडे लिखी मोकिलसु तह आऊं पहिंजो सिंधीणो सकाफति सबब ई लेखिंदो आहियां।

ख)   हांग-कांग मां हिकडी जाईफां लिखी मेकिलूसि तह जद॒हि आऊं पहिजे रिवाजी जिंदगी में हूंदी आहिया तह पहिजे पाण खे हिक हिदुस्तानि वाङुर महसुस कंदी आहिनि पर जद॒हिं कहि हिंदुसतानिअ सां गद॒बी आहिया तह पाण खे सिंधी करे महसुस कंदी आहियां।

सामाजीक लहि  विचूड

परदे॒हि में रहिंदड सिंधीयूनि मंझ पहिजे में लह विडूड कजहि हिन रित थिंदी पई आहे

  • ग॒दु माने खायण
  • सिंधी जाईफुनि जू किटि पार्टयूं
  • मर्दनि जो सियासत ते बहसि
  • दुनिया जे ब॒यनि मूलकनि में रहिंदडनि सां राबतो मसलनि पहिंजे मिटनि माईटनि या दोसतनि सां गा॒ल्हि बो॒ल्हि

क)   सिंगापूर मां हिक जो चवण हो तह सिंधी वाणिकी संघ जूं ग॒द॒जाणयूं जेके सिंगापूर सुविमिंग कलब (सिंधीयूनि जो मनपसंद थदो॒) या हाई स्ट्ट सेंटर कहिं संसथा जूं ग॒द॒जाणयूं खां वहिक सिंधीयूंनि जूं ग॒द॒जाणयूं पई लेखयूं वेंदू आहिनि। सिंगापूर में सिंधी भले थोडा हूजिनि पर संदुनि मंझ ऐको जाम आहे। असीं दि॒आरीअ ते, सिंगापूर सविमीगं कल्ब में या वेहाउ वाधाउ ते जाम जाणयलि सुञातलिनि सां गद॒बा  आहियों।

ख)   हांकांग जे संधीयूनि बाबति हिकडे लिखो तह असीं वेहाउ सबब रितसा दुनिया जे सुखतलिफ मूलकनि में सिंधीयूनि सां थिअण सां वधिक खुशी महसुस कंदा आहियूं

ग)    केनेडा मां हिक जाईफा जो चवण हो तह असां में ग॒द॒यलि कुटुंब सबब पहिजो सिंधी पणो जाम पुखतो थो थिऐ, छाकाणि तह वद॒नि जे घर में हूअण सां सिंधी संसकारि बा॒रनि में भी अची था वञिन।

घ)    चिन में रिगल कोर्ट में जाम सिंधी ग॒द॒जिनि – चिन बाबत हिक सिंधी जो चवण हो तह बो॒लीअ जे नह हूजण कां सवाई भी असां में तमाम घणो ऐको आहे।

ङ)     हांग कांग मां हिकडी सिंधी जाईफां जेको कहि कालेज में लेकचर्रर हूई सां लिखे थी सिंधी नह गा॒ल्हईअण जे बावजूद हूअ पहिजे सिंधी सकाफति सबब पाण खे सिंधी कोम जो हिस्सो करे लेखिंदी आहे।

सामाजिक सख्सियति

परदे॒हि में रहिंदड संधीयूनि में संदुनि मंझ सिंधीपणे जी भी गा॒ल्हि खे कनि अहम मञयो वेंदो आहे जेको सिंधीयूंनि जे सामाजिक वहिंवार में समायलि हूंदो आहे। इन कनि वहिंवार हेठ दि॒जिन था….

v  तमाम थॉडे वकति में ताईंको करण जी सघ- हिदुस्तानि जी कहि भी कोम खे पहिंजो थाईंके करण जी सघ नाहे जेतरि सिंधीयूंनि खे।

v  सामाजिक तरहि भी असीं धारयनि सां वधीक मिलि झूली वनोऊ

v  सिंध सां बेहदि पयोर खासि करे उनहिन में जहि नंढे हूदे सिंध छदी॒।

 

मथे जा॒णायलि वहिंवार जे नतबति परदे॒हि में सिंधीयूनि जा विचार तोडे राया कजहि हिन रित आहिनि…….

क)   हिक आसट्रेलियनि सिंधी पई लिखो तह सिंधी हूअण सिंधी गा॒ल्हिईण खां वधिक लेखजण  खपे। इअं तह असी मुल रित ऐंसियनि संसकृति जा मञींद- आहयूं पर असी उलहि जी संसकृति खे सिंधी थी करे भी कबदल कयो आहे।

ख)   चिन मां हिकु सिंधी पई लिखो तह असीं सिंधी धारयनि कोमनि सां तमाम घणो सहूलाईअ सां ग॒द॒जी वञोऊ। पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह पहिजी सिंधी बो॒ली नह अचण सबब पहिजे विचार रखण में कहि कदुरु तकलाफ जरुर थइऐ थी पर बो॒ली सबब का वदी॒ दिकत नह थिंदी आहे।

 

सिंधी नुख

परदे॒हि में रहिदड सिंधीयूंनि में नूखनि में पिणि सिंधीपणो दि॒सिनि जिऐं हिंदुस्तानि में जाम दि॒ठो वेंदो आहे। मसलनि सिंगापूर मां हिक सिंधी जवान लिखी पई मोकिलो तह सिंधी पहिजें खसुसी नाले खे भी पहिजे सिंधीपणो जो हिकु अंगु पई मञिंदा आहियों खासि करि णी वारो लहजो।

जिते हिकु पासे सिंधीयूंनि बाबति सुठयूं गा॒ल्हयूं अथनि तह कहि कदुरु गतति विचार पिणि आहिनि। इहा घणो तणो नई टेहिअ में पई नजर इंदो आहे जिअ मसलनि चवनि तह सिंधी पाण में चूगलि जाम कनि। वरि कहि जो चवण मोजिबु सिंधी पैसे ते हिर्सु जाम कनि।

 

मथो जा॒णयलि विचूड कनि खासि गा॒ल्हियूंनि जे नसबत ई समझण जी जरूरति आहे

क)   असां सिंधीयूनि में अधु तादादि उनहिन सिंधीयूनि जी आहे जेके बो॒लीअ खे सिंधीपणे जो हिस्सो नथा मञिनि

ख)   परदे॒हि में सिंधी समाज हिंदुस्तानि जी ब॒यनि मुख्तलिफ कोमनि जी भेटि में कहि कदरु वधीक उलहि सीं संसकृति में फातलि आहे ।

ग)    जेतोणेक इन सिंधीयूनि में अजु॒ भी रिसमू –रिवाज सिंधी आहिनि पर के दि॒ण वारि जिअं बेबी शावरि तमाम आम पयो थे जेको निज॒ सिंधी दि॒ण वारु नाहे।

घ)    परदे॒हि में रहिंदड सिंधीयूनि मां घणे में घणी ताददि आमिलनि जी आहे। इहे उहे ई आहिनि जिन सिंध में रहिंदे सिंधी बो॒लीअ लाई सभनि खां वधीक योगदानि दि॒ञो। सिंधी कोम खे आमिलनि जेतिरा लेखकि दि॒ञा उहा पाण में ई हिक मिसाल आहे। इहो ई नह हिदुस्तनि में सिंधी बो॒लीअ जी जाख़डे में संदुनि जाम यागदानि दि॒ञो।

ङ)     किनि माणहूनि जे विचारि आहे तह रोमनि लिपीअ सां सिंधीअ जो भलो थिंदो सा गा॒ल्हि भी सही नथी लगे छा काणि तह हो तह सिंधी बो॒ली जेका कहि कदुरु गा॒ल्हिईंण लाई महदूद रहजी वई आहे उहा हाथियूं परे ती थिंदी वञे, ऐं इहो सब लिपीअ जे सबब नह पयो थे।

श्रीमती माया खेमलाणीअ जी खोजना सिंधीयूनि खे अग॒यां के अहम सचायूं थी रखे। बो॒लीअ जो दि॒हो दिं॒हिं घटिंद- वाहिपो, बो॒लीअ जे नसबत सिंधीयूनि जा लापर्वाही, सिंधीयूनि जे सकाफति जो बो॒लीअ जी किमत ते प्रेचारि, सिंध ते तह फकुरु पर बो॒लीअ ते नह।

 

मलेशिया जा सिंधी

परदे॒हि में रहिदड सिंधीयूनि जो वदे॒ में वदो॒ तबको सिंधी आमिलनि जो आहे। इअं तह आमिलअ सिंधीयूनि जे मुखतलिफ कोमनि जी भेटि में तमाम सहूलाईअ सां पाण खे नऐं माहोल में थाईंको करण जी सघ थो रखे। सिंध में रहिंदे भी इअं दि॒ठो वयो। जद॒हिं मुसलमानि जी हूकूमति हुई तह संदुनि मुसलमानि वटि नोकरयूं कयूं खासि करे कुलहेडनि जी साहिबी महलअ खां । हो मूसलमानको लिबासु भी जाम पाईंदा हूवा ऐ अर्बी फारसी सा माहिर हूदा हवा। वरि अंग्रेजनि जे दि॒हिंनि में सुंदुनि लिबास तह रिवाजी हिंदुस्तानि वारो हूंदो हो पर इन नई सियासी या खणि चईजे हिक नमूने जे आजादि खियालनि जो पुरो फईदो वरतो। जेतोणेकि हो अंग्रेजी पढण में को भी ऐब कोन दे॒खारो, पर साणु साणु सिंधी बो॒लीअ जी दिल सां सेवा कई। तालिमि जे नसबत भले गा॒ल्ह सिंधी जी कजे या अंग्रेजीअ जी संदुनि खे अजु॒ भी सिंध जा सिंधी यादि कंदे कोनि थकबा आहिनि। अजु॒ भी सिंध जा सिंधी लेखक आमिलि बाबति लिखिंदे फकरु महसुस कनि। हो अंग्रेजनि जे खुलयलि माहोलि जो फाईदो वठी धंधनि में भी लगा॒ ऐं इन में पहिजी धारि सुञाणप कदी॒ अथोउं। विरहांङे बैद भी हो हिंदु सिंधीयूनि मां सभनि खां मालही तोर खुशहालि तबको आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शुकु नाहे तह जेकद॒हि सिंधी कोम विरहांङे बैद चङो नालो कद॒यो आहे इन जो शर्ये आमिलनि ई लहणो। सिंधी बो॒ली तोडे सखाफति जे नसबत भी जेकरि दि॒सजे तह सिंधी आमिलनि जो योगदानि हिकु मिसालि आहे। सिंधी कोम खे, सिंधी साहित्य खे आमिली बरादरी जाम लेखकि तोडे उसतादि दि॒ना आहिनि, पर हिअर उहा सागी॒ गा॒ल्हि कोन रही आहे। सिंधीयूनि में सिंधी बो॒लीअ जो वाहिपो खासि करे नई टेहिअ में तमाम तकडो पयो घटजे। पर जेकरि संदुनि वद॒नि खे गा॒ल्हिईंदे बु॒धजे तह हो वाहि जीं सिंधी गा॒ल्हिईनि। पर जां खां आमिलनि में सिंधी बो॒लीअ सां वाटि कमजोरि थी आहे सिंधीअ जी भी उहा हालति कोन रहि आहे। वरि जिते बो॒लीअ जो वाहिपो घटीयो आहे उते मुल सखाफति पिणि कजहि कमजोर थी आहे। आमिलनि में हिअर उलहि जी या पश्चिमि जी सकाफति जो जाम असरु पई नजरि इंदो आहे।  जेतोणेकि संदूनि रिस्म रिवाजअ तोडे खादो पितो में अञा सिंधीपणो आहे पर जुदा जुदा मुल्कनि जी सुखतलिफ सकाफतयूं संदुनि जे जाम असरु पई करे। संदूनि वेस वगा॒नि ते भी योरोपियनि जेडहा पाईनि- मर्द तोडे जाईफाउं।

 

अमेरिका में सिंधी

इन में को भी शकु नाहे तह पिछाडीअ जे सत द॒हाकनि में सिंध खां बा॒हिरि रहिंदड संधीयूनि जी मूक सखाफति कहिं ददुरु कमजोर था आहे। वरि बो॒लयूनि खां कहिं कदुरु वधीक दि॒अण सबब असीं पहिंजे सकाफति खे ई पहिंजो सामाजिक दाईरो पई समझो आहे जहि सबब असीं इन सकाफत जे दाईरे खां बा॒हिरि कोन निकरी सघयो आहियूं। हाणोकि हातलि ऐतरि खराब कोन थिऐ हा जेकरि असीं बोलीअ खे भी सकाफति जेतिरो मोल देऊं हा। इहो मूमकिनि आहे तह इन लाई आर्बी लिपी जिमेवारु हूजे। वरि हिंदुस्तानि में को भी कोम भले इहो कच्छी हूजे या जेसलमेर में रहिंदड सिंधी थारी को भी इन  लिपीअ जो असतमालि किद॒हि कोन कयो । असां भले किथो जा भी सिंधी हूजोऊ इहा बो॒ली ई आहे जेका सभनि सिंधीयूंनि खे हिक बे॒ खे पाण सा थी गं॒दे॒ ऐं जेकर इहा बो॒ली ई नह हूजे तह असां जा जुदा जुदा तब्का हेकला थी पहिजी पहिजी राहि दि॒हि था वधीनि- मसलनि सिंध जा मुसलमानि हिक पासे, तह अमिल कहिं धारि पासे तह दर्याहपंथी बिलकुल ई पहिजे वाटि ते। जेकरि बो॒लीअ वाहिंवारु  असां में नह रहिंदो तह यकिनिन असां खे टूकरि टूकरि थिअण में देर कोन लगींदी छाकाणि तह असां जो सामाजिक दाईरो ई सागे॒ रहण करण वारनि ताई महदूद रहिंदासिं।

 

सिंध में रहिदड सिंधी मुसलमानि ईहे मसला नाहिनि, छाकाणि तह संदुनि जो घणो तणो तब्को सिंध में ई रहे थो वरि भले हो सिंध जे शहरनि में घणाई में नह भी रहिनि पर गो॒ठनि में संदुनि घणाई आहे, सो मसला सिंधी खां बा॒हिरि रहिदड सिंधीयूनि जा आहिनि जहि में घणाई अण-मुसलमानि जी आहे। जेकरि सिंध में सकाफति खे सुञाणप को हेकलो दाईरो करे मञयो वयो तह बी खेनि को घणो नुकसानु कोनि रसिंदो पर फना थिअण जो मसलो हिंदु सिंधीयूनि लाई आहे चा काणि तह असीं टरयलि पखिरयलु आहियूं।

 

हिदुस्तानि में खास करे उतर हिदुस्तानि में जेकरि मुखतलिफि कोमन दा॒हि धयानु दि॒जे तह सवाई हिंदु पंजाबीयनि खां घणो तणो कोमयूं पहिजी बो॒लीअ खे पहिजी सुञाणप जो हेकलो नह तह हिक अहमि संफु तरे पई मञयो आहे। मराठी , गणेश  खे ऐं बंगाली दूर्गा देवी खे पहिजो इष्ट देव करे मञीन ऐं कहि हद ताई इनहिनि जी पूजा वदे॒ धूम धामि सां कनि पर इन जे बावजूद पहिजी मूल सुञाणप जो दारूम दार बोलीअ ते ई रखिनि। सिंधीयूंनि में दादा राम पंजवाणीअ जी कोशिश सिंधीयति जे नसबत रुगो॒ झुलेलालि खे हर सिंधीअ सां गंढण जी कोन हूई पर संदुसि जोर बो॒लीअ ते भी जोर जोम हो पर सायदि असां खेसि समझी कोन सघयासिं। लिपी बोबत भी दादा राम पंजवाणी जा विचार वकत जे मदजिबु हवा, जेकरि लद॒पण बैद असां थोडो जाखणो करे पहिजी लिपी कामयाबी सां फराऊं हां तह सायद अजु॒ वारा दि॒हिं नह दि॒सणा पवनि हा सिंधी कोम खे। सिंध सां सटयलि हिंदुस्तानि जूं सरहदयूं जे मुसलिम तोडे हिंदु आबादीअ में भी इन अर्बी लीपिअ जो वाहिपो कोन हो तहि ते असीं ऐतिरो हूल कयोसिं। बसि सिंध सां वेझे थिअण जी चाहि असां खे पहिजनि में भी बेगानो करे छदो॒।

 

हिंदुसतनि में तह चवण लाई तह हिंदु पंजाबी भी पाण खे पंजाबी कोठाईनि पर संदुनि पंजाबीपणे में सिखनि जे पंजाबीपणे में फर्कु कयो वेंदो आहे। हिंदु पंजाबी खे सिखनि जी भेट में कहि कदुरु वदिक पंजाबी लेखबो आह् छा काणि तह सिखनि वटि बो॒ली आहे, जेको सिखनि जे पंजाबीपणें खे हाथयूं पुखतो कंदो आहे। इहो फेसलो असां खे करणो आहे तह असीं पहिंजो सिंधीपणे खे कहि रित पेश कयूं। हिंदुस्तानि में जिते सिंधी हिंदूनि जी वदे॒ में वदी॒ आबादी रहि थी उते हक तद॒हि मिलिंदा जद॒हि असीं पहिजी तादात वधाऐं सघीदासि- जेको रुगो॒ तद॒हि मूमकिनि आहे जद॒हि असीं हिंदुस्तानि जे सिंधी इलाकनि में रहिदड मकानि सिंधीयीनि जे वेझो थिंदासिं, जहि सबब असां जी ग॒णप भी वधिंदी ऐं हिंदुसतनि में असां जा जमिनि सतहि ते पेर भी पूखता थिंदा।वरि जेकरि बो॒ली पुखती थी तह असी कहि भी धारि सकाफति खे मूहूं द॒ई सघींदासिं जेको हिअर नह था द॒ई सघोउं।

 

विरहांङे बैद जद॒हि सिंधी हिंदू हिदुस्तानि लदे॒ आया तह बो॒लीअ जे नसबत दादा जेरामदास दोसलराम हिक गा॒ल्हि कई हिक मिंथ कई हूई तह – बो॒लीअ जी सिधी सहिं वाटि इंनसानि सां आहे नह कि कहि इलाके सां, सो सिंदी बो॒लीअ खे हिदुस्तानि में तसलिम कयो वञे। हाणे हिदुस्तानि जी हूकूमति इन सबब ई बो॒लीअ खे संविधानि में जाई दि॒ञी या नह इहा तह पक नाहे पर हे बयानु तमाम घणी अहमियति थो लहणे खासि करे उनहिनि जे लाई जेके हिंदुतानि में को भी सिंधी सुबे जो नह हूजण जो मिंहूं करे बो॒लीअ खां पहिजी वाटि चिनण में देर नह कंदा आहिनि। ऐडहा जाम मिसालि लभींदा जिते जिते बो॒लयूं पहिजे असलोके इलाकनि खां परे थिंदे बी जाम पुखतयूं थियूं आहिनि। जिअं कयूबेक, केनेडा में फ्रांसिसि बो॒ली, द॒खिण अमेरिका में ईसपेनिश ऐं फ्रेच हिंदुस्तनि में सिंधी बो॒ली खासि करे विरहांङे खां यकदम पोई जे दि॒हनि में सिंधी।

 

श्रीमती माया खेमलाणीअ जी तहकिक मोकिबु उहे सिंधी जिन खे सिंधी नथी अचे से जु॒दा जुदा तरिका था गो॒लहिंदे नजर पया अचिनि पहिजे सिंधी पणें खे कायमि दायमि रखण जे नसबत में । पर जेकरि हो सिंधीअ जो वाहिपो कनि तह इन सा सकाफति पहिंजे पाण ई पुख्ता थी पवे, जिअ बंगालियूंनि तोडे मालाठीनि में थिऐ पयो। अंग्रेजी (ऐं हिंदी) सभीनि खे मारयो आहे। बंगाली तोडे मराठी  जेकरि अंग्रेजी नह पढनि तह नोकरयूं नह करे सघीनि पर इन जे बावजूद हो अंग्रेजी पढिनि पया पर साणु साणु पहिजी बो॒ली तोडे सखाफिति खे भी नथा विसारिनि। असां खे बी संदुनि मां जाम बो॒लीअ बाबति सिखणो आहे। असां में को आमिलि हूजे,भाईबंध हूजे या को कच्छी यो मुसलमानि योडे रबाडी, मेघवारु हूजे आहियों तह सब सिंधी ई। बो॒ली जिंदाहि रहिंदी तह असी सभ सिंधी थी रहिदासि। बो॒लीअ जो फैसलो असां ख करणो आहे छा काणि तह बो॒ली रहिदी तह सिंधी सखाफति पहिंजे पाण ई पुखति थिंदी पोई भले असीं घर में सिंधी खादो खाउ या बरगर, असां सिंधी ई कोठिबासि।

 

 

 

 

सिंधी भाषा ऐं संस्कृतीअ जे वाधारे में सिंधी पंचायूतिन ऐं नौजवाननि जी भूमिका

इहो घणो- तणो पयो बु॒धबो आहे तह जेकरि कहिं भी कोम खे खतम करणो हुजे तह इन कोम जी बो॒लीअ खे दबायो वञे या खजा॒जो वञे। ऐंडहा तजूर्बा मजीअ में घणा घुमरा थिया आहिनि। अमेरिका में खासि करे दे॒ही माण्हूनि यानी रेड इंनडयनि बाबति हिक चवणी मशहूर आहे तह – kill the Indian  and save the man. मतलब जेकरि रेड इंडियनि जे इंडयनि पणे खे खत्म करणो आहे तह बो॒लीअ खे खतम कयो वञे, संदुनि इंडियनि पणो पहिजे पाण ई खतम थी वेंदो। जेकरि अमेरिका में बो॒ल्यूनिं जा आकडा दि॒सयूं तह  ईहा हकिकति केतरि सही आहे सा समझ में ईंदी। अंग्रेजनि जे अचण खां अगु॒ 350 -400 बो॒लयूं हयूं जेके हिअर अची 139 ताईं बिठयूं आहिनि। योनेसको मोजबु इन मां अधु यानी सतर फना थिअण जी कगार ते आहिनि। साग॒यो ई हालु असट्रेलिया जो आहे, जिते 700 बो॒लयूं ताईं हयूं, हिअर तनि मां तमाम थोडयूं ई वञी बचयूं आहिन।

 

बो॒लयूं रुगो॒ वसयलि या तरकी कंदड मुलकनि में नथयूं मरनि। बो॒लयूं टिहि दुनिया या थर्ड वर्लड में जाम पयूं मरिनि। हिदुस्तानि बाबति इहो थो चयो वञे तह हित 198 बो॒लयूं फना थिअण जी कगार में आहिनि। पाकिस्तानि लाई इहा ग॒णपअ थोडी घ़ट आहे फकत 15 । मतलब जे जेतिरो वदो॒ मुल्क ओतरियूं वधिक बो॒लयूंनिं जे फञा थिदडनि जी तादादि। ऐडहो हालि लग॒ भग॒ हर हिक मुल्क सां पयो थे। इहो अंदेशो थो लगा॒ईंजे तह 2050 ताई दूनिया जे 6000-7000 बो॒लयूनि मां 90 सेकडो फना थी वेंदयूं। इहो सब रूगो॒ इन लाई जे दुनया जी 97 सेकडो आबादी 4 सेकिडो बो॒लयूनि ई पया इसतमाल कनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे किन सालनि में इन मसले ते चङनि जो धयानु वयो आहे ऐं चङो कमू पिणि थियो आहे पर ईन जे बावजूदि बो॒लयूंनि जे फना थिअण जो सिलसलो सांधईं पयो लहिंदो य़ो अचे।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह बो॒लयूं रूगो॒ कलोम्बस जे नई दुनया या नयू वरर्ड मे मूयू आहिनि- इंगलेंड जे महाराजा हेनरी सतो जो कि वेलस जो ई रहाकू हो वेलसि बो॒ली जेका इगलेड जे उतर ऐ उतर ओलहि मे पई गा॒ल्हाईजे – इन बो॒लीअ ते प्रतिबंद लगा॒यो। 400 सालनि खां पोई वरि इहो प्रतिबध हठायो वयो पर तेसिताई चङी बर्बादी थी चूकी हई। जेतोणेकि इन बो॒लीअ खे वेसल मे अंग्रेजीअ जेडहा हक मिलयलि आहिनि, यूरोपियनि यूनियनि भी इन बो॒लीअ जे जोगी जाई दि॒नी आहे पर इन जे बावजू अजु॒ वेलस मे मस जेडहा 20 सेकडो ई माण्हू आहिनि जनि खे इहा बो॒ली सुठे रित पई गा॒ल्हिअनि अचे। फांस में भी ईअं ई थियो हूकूमति कानून जी मदद सां सघ रखिदड बो॒लयूनि पहिंजी सघ देखारे थोईई वारीयूं बो॒लयूंनि खे नासु कयो।

 

हिंदुस्तानि में जेतोणोक असीं पहिजी अनेकता ते फकरु कंदे नह थकबा अहियूं पर थोडाईअ वारिनि बो॒लियूंनि तोडे कोमनि दा॒हिं वहिंवारि फकरु करण जोडहो भी नाहे। जेतोणेकि यून्सको मोजीबु हिंदुस्तानि में फञा थिंदड बो॒लयूनि में सिंधी नाहे पर इन सां सिंधी ते खतरो कहि कदरु घटि आहे सो भी नाहे। बो॒लीयूनि बाबत वेबसाईट-ऐतिंनोलाग सिंधी खासि करे हिंदुस्तानि में सिंधीअ बाबत कजहि रिन नित थी बयानु करे- Many Sindhis do not learn their traditional ethnic language. Mainly women and older adult speakers. Also use Hindi or other state language.

 

हे बयानु शाहित आहे तह सिंधी बो॒ली सिमटजे पई। दुनिया भर में हिअर बो॒लीयूनि खे वजूद खे सोघो करण जी कवायति पई हले। भले उहो अमेरिका में हुजे, अफरिका में हूजे या लेठिनि अमेरका में- फना थिंधड बो॒लयूं चङनि जो धयान पई छिकायो आहे।

 

पर इन सभनि खां वदो॒ सवालु इहो आहे तह बो॒लयूनि जे फना थिअण में ऐदो॒ हुलु छो। छो असी इन बो॒लयूनि ते ऐतरि हाई घोडा पई कयोऊ, छोन नह असी बो॒लयूनि खे पहिंजे राहि ते छदोऊं- जिअं असी संसकृति या सकाफत सां कंदा आहियूं। बो॒लयूं तह रूगो॒ गा॒ल्हिईअण जो हिकु जरिओ ई आहिनि। पर इअं नह पयो थे।  बो॒लयूनि खे बचाअण जी भरपूर कोशशयूं पयू थेनि। दूनिया जे कहि भी ऐलाके खे दि॒सो अफरिका, ऐशया, अमेरिका, यूरोप या आसट्रेलिया हर हंद अव्हां खे बो॒लयूंनि लाई जाखडो कंदड तंजमयूं लभिंदयूं । बो॒लयूंनि खे ब़चाअण जो हिकु वदो॒ मकस्द इन लाई असां जो धयानु पई छिकाअंदो आहे छाकाणि तह बो॒यूंनि जी सिधी वाटि इंसानी सोच, ईंसानी संसकृकि ऐं ईंसानी सुञाणप सा गंद॒यलि हूंदी आहे। मिसाल जी गा॒ल्हि सिंधी में 20 लफज उठ जी जुदा आहिनि, सागे॒ रित केनेडा जी दे॒ही बो॒लयूंनि खे दि॒सींदासिं तह सागी॒ रित बर्फजे जुदा जुदा किसमनि लाई ऐतिरा नाला लभिंदां ऐं जेकि इन बो॒लयूंनि जा गा॒ल्हिईंदड माण्हूं गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर साग॒या लफज हिंदिं तोडे अंग्रेजीअ नह हूजण सबब जद॒हि असिं इन बो॒लयूंनि दा॒हिं झूकोउ था तह इन खोट जो असर अंसाजी संसकृति ते पिणि पवे तो । साणु साणु वरि जद॒हि असीं जी रितु रसमन जी गा॒लहि कयोउ तह सागो॒ इ मंजर पई नजर ईंदो। हिक गा॒ल्हि असां खे विसीण नह खपे तह  धारि बो॒ली सां धारीं संसकृति जो भी असरु थो वधे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह जनि सिंधी घर में भी अंग्रेजी गा॒ल्हाअण जो रिवाज  विधो आहे से होरियां – होरयो अंग्रेजी संसकृति दा॒हि भी झुका आहिनि जेको सुभाविक आहे। साग॒यो हालु हिंदीअ सां भी थो थे।

 

जेकरि दिन धर्म जी गा॒ल्हि कजे उते भी साग॒यो मंजरि पई नजरि ईंदो हिंदु धर्म संसकृत सां, बौध धर्म पाली- प्राकृत सा, सिंख धर्म पंजाबी सां, यहूदि हर्बयू सां तह इसलाम अर्बी फार्सीअ सां हमेशाहि ईं गं॒दे॒ दि॒ठी वेंदो आहे। चयो वेंदो आहे तह अमेरिका में चर्चनि में अंग्रेतीअ नह गा॒ल्हिआण लाई लाई यातनाउ ताईं दि॒ञी वेंदयूं हयूं। असांजी इंसानी सोच ई कजहि ईअं थिंधी आहे। बो॒लीअ जो असरु इंनसानि ते कूदरति थिंदो आहे जहिखे नजरअंदान नथो करे सघजे।

 

हिंदुस्तानि में तोडे हिदुतनानि खां बा॒हरि रहिदडनि सिंधयूनि में ऐं खासि करे हिदुनि में हिक सोच वेठिल आहे तह बो॒ली खे नह पर संसकृति खे सोघो कजे। असां जे लेखे जेकरि असी पहिजी सुञाणप कायमि रखण जे नसबत सिधी दि॒ण वार खे वधिक मानु  द॒उं तह इन में का भी घटि गा॒ल्हि नह लेखणी खपे – छा काणि तह असां जो मकसद पई पूरो तो थे। असा इहा गा॒ल्हि विसारे वेहिदो आहियू जद॒हि असीं बो॒ली था मठोऊं तह इन म़टयलि बो॒लीअ सा ग॒दु॒ इन बो॒लीअ  इन जी संसकृति जो भी घाठो असरु पवे थो। इन  जो वदे॒ में वदो॒ सबूत हिंदु- सिंधी तोडे पंजाबी आहिनि –जिते धारि बो॒लीअ खे दिलो जान सां अपञाअण सबब संदुनि पहिंजी असलोकी सफाकति खां भी परे थिया आहिनि। इन जो हिकु सबब आहे सिख जेके पंजाबी बो॒ली सबब वधिक पंजाबी लगिंदा आहिनि ऐं सिंध जा सिंधी वधिक सिंधी। इहो सब भले असांजी सोच सबब ई छो नह पर हकिकति आहे। इहे सब असर कुदरति आहिनि।

 

पिछाडीअ जे सतरि सालनि में असीं जहि हिक गुथी थे सुलझाअण में ई पूरा पया आहियूं से आहे किअं हिदुस्तिन में जिंदो रखोउं सिंधी बो॒ली खे। असां जी पूरि कोशिशनि जे बावजूद असीं अगते वधण खां पोईते ई था थींदा वनऊं। पिछाडीअ जे 30 सालनि में सिंधी पढिंदडनि जी तादाति समाम तकडी घटे थी पईं। इऐ तह के जवाब असां वटि हमेशाहि ई तयार हूंदा आहिनि- मसलनि सुबो तोडे खसुसि ईलाईका नाहिनि, सिंधी पढही कमाई जा के भी साधनि नाहिनि, सिंधी लिपी (अर्बी लिपी) ओखी आहे, सिंधी हिक मुअल बो॒ली आहे वगिराहि, वगिराहि, पर हे मसलो भी ऐडहो सिधो नाहे।

 

हिंदुस्तनि तोडे दुनिया भर में जिते भी बो॒लीअ फञा थियूं आहिनि उते घणो तणो बो॒लयूं जे गा॒ल्हिईंदडनि खे पहिजा खसुसि इलाईका आहिनि। पर इन जे बावजूद इन बो॒लयूं फना थेनि पयूं वरि सिंधी तहि महलि संविधानि में पहिंजी जाई वालारी जद॒हि मैथली, कोंकणी, बोरो जे बाबति माणहूं सोचिंदा भी कोन हवा। इनहिनि बो॒लयूंनि खे पहिजा ईलाईका ई नह पर गा॒ल्हिईनदडनि जी तादादि भी वधीक आहे। वरि हिंदुस्तानि में ऐडहा भी ऐलाईंका आहिनि जति पहिंजो सुबो हूंदे भी बो॒लयू अग॒ते कोन वधयूं आहिनि मसलनि कशमिरि में कशमिरि बो॒ली, जिते उर्दू दफतरि बो॒ली आहे। वरि असां विरहाङे जो रुअण आहे जे निबरीई नथो निबरे जद॒हि तह सिंध खां वधिक हक सिंधी बो॒ली खे हिंदुस्तनि में आहिन।

 

हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि सिंध में पी टी वी में सिंधी जो अधु कलाक या कलाक खनु जा प्ररोगराम ई नसर थिंदा हवा। जिअ हिअर हिंदुस्तनि में सिंधीअ जो हालु आहे सरकारि चेनेलनि में।पर अजु॒ जी तारिख में हिअर पंज पंज निजी सिंधी टी पी चेनेल आहिनि जिते सिंधी, पहिंजी बो॒लीअ जे दम ते पहिंजी रोजी॒ था कमायनि जेकरि सिंध में रहिंदडनि में हूब नह हूजे हा तह इहो सब कद॒हि मूमकिनि नह थिऐ हा। अजु॒ हिंदुस्तानि में सिंधी कोमी बो॒ली हूअण सबब के सरकारि हक थी लहणे पर बद किसमतीअ सां असां जो धयानु ऐडहे पासे नह हूंदो आहे या असां सिंधी बो॒लीअ खे मिलयलि हकनि सां वाकिफ नाहियूं। अजु॒ जरूरत आहे तह तह पहिजे हकनि खे सुञाणोऊ ऐं पहिजो वजूद कायम धायम रखोऊं, छाकाणि तह असीं सिंधी बो॒लीअ सबब ई सिंधी आहियूं ऐं बो॒ली रहिंदी तह सिंधीयूनि जो वजूद रहिंदो- संसकृति जी गा॒ल्हि तह ईन खां पोई थी अचे।

 

हिक लङे दि॒सजे का भी बो॒ली पअहिजे जा॒ऐ उसरयलि नह हूंदी आहे पर माण्हूं जे वाहिपे सां पुखती थिंदी आहे। जेकरि वाहिपो रहिंदो तह तहजीब भी बो॒लीअ जे जरिऐ अग॒ते पुखती थिंदी  वेंदी। अग्रेजी सा भी इअं ई थयो। कलोमबसि जे नई दुनिया जे इजादि खां पोई अंग्रेजनी इन जो पोरो फाईदो वरतो वरि ईंडसट्रियलि रेवीलयूंशनि (Industrial Revolution) के करे हुनर सां ग॒दु॒ बोलीअ जे भी प्रचार थियो।संदुनि वाहिपो भी वधींदो वयो। हिक चवणि असां नंढे हूदे खां बह अंग्रेज कद॒हि भी का धारि बो॒लीअ में कोन गा॒ल्हाअनि भले हो पाण कहिं धारि बो॒लीअ जा केतिरा नह धारि बोलीअ में माहिरि  हूजिनि। साग॒यो ई हालि जरमनि. फेंच या ईसपेनिश जो आहे। अजु॒ यूरोपियनि यूनियनि में 25 खां वधिक मुलक आहिनि ऐ इन खां तमाम घणयूं बो॒लयूं तसलिमि थिअलु आहिनि, पर अंग्रेजीअ खे यूरोपियनि मूलकनि में हिकली दफतरी बो॒ली करे को भी कबूल करण लाई तयारि नाहे। भले सभिनि खे हिक बोली नह हूजण सबब तकलिफ थे थी।  यूरोप जूं ब॒यूं बो॒लयूं जद॒हि तह पहिजे पाण खे भी अग॒ते वधायो असां हिंदुस्तनि जूं बो॒लयूं कोन करे सघासिं।

 

हिंदुस्तनि में हमेशाहि हिकु बो॒ली थोपण जो रिवाज रहयो आहे। संसकृति प्राकिर्त ते थोपी वई। हिंदी ते हमेशाई ईं इहो लहो ईलजामि मडयो वेंदो आहे तह इहा बो॒ली थोपी पईं वञे। असां खे हिंदुस्तनि में जेके मसला आहिनि साग॒या मसला यूरोप में भी आहिनि। यूरोपिय यूनियनि में 25 बो॒लयूं आहिनि  पर सभनि खे मानु पयो मिले। हो अंग्रेजी या लेठिनि खे मथे नथा चाडिनि पर टनांसलेशनि टेकनालाजी जे भरोसो था कनि। बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तानि में ईअं नह कयो वेंदो आहे। जहि सबब कहि भी थोडाई वारी बो॒लीअ लाई जखडे में तमाम घणी तकलिफ पई पेश अचे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत ब॒ह अहम मसला आहिनि-

मादरि बो॒लीअ जो ग॒लति ईसतमालि– असां हिंद जे सिंधीयूंनि में बारनि सां जा॒ऐ ई हिंदी या अंग्रेजी था गा॒ल्हिआयूं। असां में ईहो हिकु रिवाजु थी वयो आहे। सो सिंधी बा॒रनि जी पहिरि बो॒ली यानी फर्सट लेगवेज अण सिंधी ती थे। सिंधी गा॒ल्हाईण जो रिवाज पोई थो विधो वञे। इन जो मसलब इहो तो थे सिंधी बा॒रनि लाई सिंध बि॒हि या टि बो॒ली ती थे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह को भी बा॒रु ते पहिरि सिखयलि बो॒ली जो असरु तमाम घणो थो थे, पोई सिखयलि बो॒लयूंनि जी भेटि में। कच्छ में कच्छी सां इहो दि॒ठो वयो आहे। हो अग॒वाठि बा॒रनि खे कच्छी था सेखारिनि ऐं पोई गूजराती। अग॒ते हलि संदुनि बा॒र गुजराती स्कूलनि में था पढिनि, पर कच्छी नथा विसारिनि। पर असां इन जे उभतरि था कयूं। अग॒ धारि बो॒ली था सेखारोऊं पोई पहिंजी। इहो ई सबब आहे जे असां खे ऐतरि तकलिफ पई थे बा॒रनि में सिंधी जो रिवाज विझण में। जेसिताईं असीं बो॒लीअ दा॒हीं पहिंजो वहिंवारि कोन मटिंदासिं असां सिंधी खे कद॒हि भी पुख्ती कोन करे सघींदासिं। इहो जरूरि नाहे तह हर बा॒र सिंधी मिडियम में पढिंदो तह ई सिंधी सिखी सघींदो। पर जेकरि पहिरि बो॒ली जे रुप में पढिंदो तह यकिनि सजी॒ उमर ई यादि रखींदो, पोई भले इहो बा॒रि दुनिया जे कहि भी कूंड- कूडच में छोन नह रहे। जद॒हि के बो॒लीअ तोडे तालिम जा माहिरि चवनि तह बा॒र खे पढाई पहिजे बो॒लीअ में दि॒ञी वञे तह हो समझी वठिंदा आहिनि तह बा॒र खे पहिजी मादरी बो॒ली खेनि जा॒ऐ खां सेखारि वञे थी।

 

बो॒लीअ जे नसबति असीं बि॒ईं गलति वहिंवारु लिपीअ सा कयो वयो आहे। इन जो हिक वदो॒ सबब इहो आहे तह लिपीअ जे नसबत सिंधीयूनि जो धयानि कद॒हि भी बो॒लीअ जे वदूज ते कोन रहयो आहे। दर असलि सिंधी बो॒लीअ तोडे लिपीअ जे नसबत असीं अंग्रेतनि महलि तह वेवसि हूवासि छो तह घणोई तह मसलमानि जी हई – जेके अगे॒ पोई पहिंजी गा॒ल्हि मञाऐ वटिनि हा वरि जेकरि हिंदु देवनागरीअ ते जिद जे भिहिन हा तह सिंध जो भी हालु कशमिर जेडहो हूजे हा- हिदु हिंदीअ दा॒ही झूकिनि हा ऐं मुसलमानि उर्दू दा॒हि। पर विरहांङे बैद उन खां भी वधीक गलति कई आहे-जे हिक गलति खे अग॒ते ई नह पर उन गलती ते फकरु कय़ो आहे। हिक लंङे दि॒सजे तह लिपीअ जा मसला तह अचणा ई हवा। हिंदुनि कद॒हि भी आर्बी लिपी कबूल कोन कई हूई पर अंग्रेजि कबूल कराई हूई। हिंद में अची जेकरि सिंधी लिपीअ जे चूंड जेकरि बो॒लीअ जे वजूद तोडे निज॒ सिंधी लफजनि जी बूनयादि ते कनि हा तह नह अर्बी- फार्सी ऐं ना ई  रोमन- लेटिनि सिंधी बो॒लीअ जी लिपीअ थिअण को हक माणे हा। लिपीयूं तह गुजरातियूं ऐं मराठीनि पिणि मठयूं आहिनि पर खेनि का भी तकलिफ कोन थी छा काणि तह संदुनि पहिजे निज॒ अखरनि सा को भी समझौतो कोन कयो । पर बदकिसमतीअ सां सिंधी में विरहांङे बैद भी धारी लिपीअ जो सिलसिलो आहे जे बंद थिअण जो नोउं नथो खणे। लिपीअ जे नसबत आर्बी लिपीअ जे हिमायतियूं जो चवण हूंदो हो तह इन सां सिंध जे सिंधीयूनि सां गंदे॒ रखिंदो पर इन गं॒द॒ण जे हिर्स असां खे पहिंजनि में ई बेगाणो करे छदो। दरअसलि हिंदुस्तनि में जेके भी लिपयूं घणो तणो इसतमालि पयूं थेनि से सब फेनोटिक आहिनि जहिसां सा खिखण तमाम सहूलो थिंदो आहे, छाकाणि तह जहि रित बो॒ली गा॒ल्हिईंजे थी सागे॒ रित ई लिखजिनि थयूं। इन गा॒ल्हयूंनि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे।विरहांङे बैद भी असी इन रगडे खे निवेरे कोन सघीसीं छा काणि तह देवनागरीअ जो जेको प्रचारि कयो वयो सो गलति हो। असां देवनागरीअ खे देवताउनि जी लिपी कोठे, सिंधीअ खे वदे॒ में वदो॒ नुकसानि पुजा॒यो । असां ईहो गा॒ल्हि विसारे वेठासिं तह बो॒ली तोडे लिपी तोडे बो॒ली  कद॒हि भी कहि खसुसि दीन धर्म मञण वारनि जी नह थिंदी आहे, ऐ जद॒हि भी इहा कोशश कईं वेंदी आहे तह हाल उहो ईं थिंदो आहे जेको उर्दू जो विरहांङे बैद थियो। हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि इन बो॒लीअ ते हिंदु भी फकरु कंदा हवा।

 

हिअर रोमनि ते भी अजु॒ चङो हूल पयो थे। जेका लिपी हिअर जोडाई वई आहे – तहि मां तह इहो लगे थो तह ज॒णु असी अर्बी लिपीअ जी गलतियूं मां असा कुझ भी कोन सिखया आहियूं। चंड बिंदु, अंशुविरिया, अधु अकरि विटे लफजनि लाई कोन भी अखरि मूकर्र कोन कयो वयो आहे। हिदुस्तनि जी बो॒लयूंनि जे ग्रामरनि में ई मात्राउ अहम जाई थयूं वालारिनि। पर नह जा॒ण छो इहे समझोता कया वयो। वरि सिंसकृति बो॒लीअ जे नतबत रोमनाईजेन में हिक सदीअ खां भी वधीक जे अर्से खां कमु पयो हले। इन जो फाईदो जद॒हिं हिंदी-नेपाली-मराठी बो॒लयूं वठी य़तूं सघीनि तह पोई सिंधी छोन नह …….इन लिपीअ खे दि॒सी लगे॒ तह इऐं थो ज॒णु लिपी जोडाअण जी तमाम घणी तकड हूई।

 

सिंधी पंचातयूं जे नसबति जेकरि गा॒ल्हि कजे ईहे हमेशाहि ई ईहे सामाजिक संसथाऊ ई थी रहयूं आहिनि। सिंध में मुसलमा जे राजय में ईन पहिचातयूंनि जो अहमि किरदारि हो। इहे संसथाऊ सिंधी हिंदुनि जे समाज सां ऐतरयूं तह गं॒द॒यलि हयूं जे मुसलमानि मां जेके इन जे कम कर्ज बाबत जा॒णण भी हिक कामयाबी मञी वेंदी आहे। चङा सामाकिज मसला असी इन सांसथा मां ई निबेरिंदा हवासिं। दे॒ति लेति बाबति बी घणी दे॒ वठि कजे सा भी पक पंचातयूं ई कंदू हयूनि। विरहांङे बैद भी असी साग॒यूं संसथाउ बी॒हरि जोडाईसिं जिअं असांजा मसला असी पाण ई निबेरे सघोऊं। हिंदुस्तानि में ऐडहो वरली ई को शहरु या कसबो लभींदो जिते सिंधी पंचातयूं नह हूंदयूं। ऐडहा चङा शहरि हिदुसतानि में लभींदा जिते इन संसथाउ सुठो कमु कया आहे ऐं सिंदुनि इजति में तमाम घणी आहे, पर ईन जे बावजूद धारे मूलक जो तह असरु पवण लाजमी आहे। कनि वदे॒ शहरिनि में इन पहिचातयूंनि खे घटि पयो लेखयो वञे। इन खे इहो मानु नह पयो दि॒ञो वञे जेको इहे संसथाऊं लहणिनि।

 

सिंधी पहिंचातयूंनि जो को किरदारि कद॒हि भी बो॒लीअ जे नसबत कोन हो। सिंध में रहिंदे इन जी का भी जरूरत कोन पई हूई। बो॒लीअ जा मसला सिंधी लाई विरहांङे बैद जा आहिनि। हिंदुस्तनि में सिंधी पंचायतूं ऐं सिंधी अकादमियूं में वदे॒ में वदे॒ फर्कु इहो आहे तह सिंधी पंचातयूं में ठेहिअ जो बदलाव थियो आहे जेको अकादमियूनि में को घणो नजर कोन आयो आहे। इहो ई सबब आहे जे सिंधी बो॒ली भी कहि कदुरु बदलाउ कोन आयो आहे खासि करि नई टेहि जे नसबत। अजु॒ इन जी सखत जरूरत आहे तह सिंधी अकादमयूं खे पहिंज पाण में सिकूडण खां किअं रोकिंजे। हूकूमत जेके भी पैसा सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत खर्चे थी से साखर्ता कोन था नजर अचिनि। इहो हिकु सबब आहे जे असां वटि संसथाउं जो हिक धाचो हूअण जे बावजूद असां लेखकनि तोडे अवाम में या सिंधी बो॒लीअ तोडे नौजवानि में रोबतो कोन जोडयो वयो आहे जहि सबब हूकूमति जू या सिंधी बो॒लीअ जे चाहिंदडनि जू उमेदयूं पाणी फेरयो आहे। अजु॒ इअं थो लगे॒ ज॒णु सिंधी बो॒ली ते खचर्ल पैसा अजा॒या आहीनि- सिंधीयूंनि में सिंधीअ जो वाहिपो घटण भी हिन वार थिअण जो हिकु अहम सबब आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे जाखडे जे नसबत सिंधी अकादमियूमनि जो करिदार तमाम अहमि आहे पर बदकिसमीअ सां संदुनि में ऐडहो को भी बदलाउ सिंधी बो॒लीअ लाई कोन आंदो आहे जहिजी उमेद कजे पई । सिंधी लेखकनि जो अगे॒ भी इहो रायो रहयो आहे तह अकादमियूमनि पारां मालि मदद दिं॒दड किताबनि जो मयार घठि ई रहियो आहे। आजादीअ खे अची अजु॒ सतरि साल थिआ आहिनि इन जे विच में चङो वदलाउ आहे आहे जुदा जुदा बो॒लयूंनि जे साहित्य तोडे साहित्क तंजमियूं में पर इन जे वावजूद असी ऐतिरो को घणी विख वधाऐ सघा अहियूं। अकादमियूनि जे कमनि जी जा॒णि आम सिंधी पहिंजे सोबनि में भी घठि आहे। के अकादमियूं जेकरि सुठो कम भी कयो आहे तह आम रिवाजी इंसानि  में संदूनि कम जी का घणी जा॒णि नाहे। अकादमियूनि खे खपिंदो हो तह सालि में हिकु लङे गद॒जीनि जिअं जुदा जुदा अकादमियूनि जे कमनि ते गा॒लि बो॒ल्हि करे सघजे। किन अकादमियूनि जी पहिजी वेबसाईट भी आहे पर इन साईट जो फूरो फाईदो कोन पयो परतो वञे।

 

जेकरि असीं में दि॒सिंदासिं उते सिंधी दइतरी बो॒ली नाहे। सिंधीयूनि खे उते नेकरियूंनि लाई उर्दू ई थी पढणी पवे, सिंध जे बि॒न वद॒नि शहरनि मसलनि कराची ऐं हेदरआबादि में मुहाजरनि जो तमाम घणो जोर आहे पर इन जे बावजूद सिंधी अग॒ते वधे थी। जेको कानून 1970 में भूठे जे दि॒हनि में पास थियो हो सो अजु॒ ताई अमल में कोन आयो आहे। जदि॒हि इहो कोनून पासि थिय़ो तह कराचीअ तोडे हेदरआबाद में सिंधीयूंनि महाजरनि जा फसादि थिया, जहि सबब इहो कोनून अमल में कोन आणे सघयो। वरि हिन साल 4-5 अहम बो॒यूमनि लाई जेको कोम बो॒ली बिल पेश करण जी कोशिश कई वई – उन खे पेश करण खां अगु॒ ई रोकयो वयो। पर इन जे बावजूद सिंधी बो॒ली सिंध में मूई नाहे। सिंध में सिंधी अकादमयूं हिंदुस्तानि जे अकादमियूं खा घणो वधीक ऐं कहि कदूरि सठो कम करे दे॒खारो आहे। सिंध जूं ब॒ह वद॒यूं सनजमयूं सिंधी अदबी बोर्ड तोडे सिंधी लेंगवेज अथार्टी सिंधी बो॒लीअ जे नसबति जो कस कहि कदुरु खेण लहणे। सिंध अदबी बोर्ड चङनि किताबनि खे डिजीटलाई करे पहिंजी लेबसाईट में शाई कयो आहे। हो असं खां घटि बजेट जे बावजूद सुठो कमु कयो आहे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जो दारूमदार हिअर नोजवानि ते आहे। सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जेके भी कोशशियूं थियूं आहिनि से का भी कामयाबी कोन माणे सघयूं आहिनि। संदुनि राबतो भी सिंधी संसथाउं सा नह जे बराबर ई रहयो आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ सिंधी बो॒ली सां वाकिफ करण जी नाहे पर सिंधी घरनि में हिंदी तोडे अंग्रेजी जो वाहिपो कद॒हण जो बी आहे। ईहो तद॒हि मूमकिनि थिंदो जद॒हि असीं लिपीअ ते तोडी लचीलो पण या फलेकसीबिलिटी खणी ईंदासिं। हिंदुसतानि में बो॒ली तसलिम बि॒हिं लिपूयूनि में थी आहे। मतलब बि॒हिं लिपीयूनि खे हिक जेडहा हक आहिनि पर वाहिपो सिंधी अर्बी जो घणो रखयो वयो आहे। अकादमीयूं पांरा भी शाई थिंदड कितानि में भी अर्बी जो वाहिपो तमाम घणो थो थे, जेको नोजवानि जे समझ खां बाहिर थो ते। हिक गा॒ल्हि असां खे जहनि में रखणी खपे तह लेखकनि जे दम ते सिंधी बोली जिंदी कोन रहिंदी –  जेकरि ईअं मूमकिन थी सघे हा तह अजु॒ संसकृत भी हिक अमाव जी बो॒ली थिऐ हा। बो॒लयूं तद॒हि जिंदयूं सहि सघींदयूं जद॒हि इन बो॒लीअ खे अवाम जो साथ मिंलिंदो आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे आईंधे लाई आउं के सुझाव दे॒अण चाहिंदुसि जेकि हिअर बो॒लीअ जे नसबत तमाम अहम आहिनि-

  1. सिंधी अकादमियूंनि में  तोडे पहिंचातयूंनि जेको भी लिखपढ जो कमु पयो थे सो हिंदी – अंग्रेजीअ जमें राबतो बो॒लीअ जे वाधेरे नी जाई ते देवनागरी सिंधी में थे।
  2. हर सुबे जी अकादमियूं में खासि करे बो॒लीअ जे वाधारे जे नतबति कमिठियूंनि में सिंधी पंचातयूं जे नौजवानि अहदेदारनि खे जाई दि॒ञी वञे जिअं अकादमियून खे सिंधी समाज में नोजवानि बाबति पूरो फिडबैक मिलि सघे।
  3. अकादमियूं पारा सिंधी शाईं थिंदड किबाबनि जो वदो॒ हस्सो देवनागरी सिंधी जो हूजण खपे
  4. सिंधी किताबनि जी डिजीटलाजेशनि थिअणी खपे जिअं कूंड कूकचनि में सिंधी पहिंजे बो॒लीअ तोडे साहित्य सां वाकिफ हूजिनि
  5. सिंधी संसथाउ हिक साफटवेअर तयार करण जी घूर करे जहि जे मार्फत अर्बी तोडे देवनागरीअ में मट सट करे सघजे। ऐंडहा सागया कदमि कशमिरि में खया वया आहिन – सो सिंधीयूंनि खे बी अख्तियारि करणा खपिनि।
  6. सिंधी जो आनलाईं डिकशनरी इजाद कई वञे – जिअं हर हिंदुस्तानि बो॒लीअ में आहे।
  7. हिक सिंधी पोरटल वेबसाईट वजोद में आणिजे जिंअं सिंधी नोजनानि खे बो॒ली जे नसबत फाईजनि बाबति जा॒णि मिले जेके सिंधी संसथाऊ करे रहयूं आहिनि।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी तद॒हि पुखति थिंधी जद॒हि बो॒ली जा॒णिदडनि ऐं सिंधी संसकृति तोडे समाजिक संसथाउनि में कहि रित ऐको ईंदो। इहो रुगो॒ तद॒हि मूमकिनि आहे जद॒हि सिंधी सिंधी अकादमयूं तोडे पंचायतूं कहि हिक पलेटफार्म ते हिकु थिंदयूं। जेतोणेकि इन संसथाऊन जे कम करण जो दाईरो धारि ई आहे पर जेकरि सिंधीअ जो प्रचारि करणो आहे तह इहो तमाम जरूरि आहे तह असीं पहिंचातियूं जी मदद वठोउ। इन गा॒ल्हि खे बिलकूल नह विसीण खपे पंहिचातुनि जो सिधो सहूं वाटि सिंधी समाज सां आहे।

बो॒लीअ जो मसलो ईंतहाई वदो॒ आहे। इहो असां जो पूरो धयानु लहणे।

सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

नंढे खंड में सिंधी उन थोडनि कोमनि मां आहिनि जेके जुदा जुदा सकाफति ऐं दिन धर्म खे मञिंदड आहिनि। इहो ई नह पर विराहांङे बैद शायदि हि को कोम हूंदो जेको हिक बो॒ली गा॒ल्हिईंदे भी जुदा जुदा सुबनि में उन सोबनि जे खादे पिते जे तोर तरिकनि तोडे सकाफतुनि में पाण खे समायो हुजे। ऐडहो कोम वरली ई नंढे खंड में हूंदो जहि नई हलतुनि खे मुहूं दिं॒दे पहिंजे पाण खे नईं हालतयूं में पाण खे थांईको कयो आहे ऐं ईहो भी तमाम घट वकतनि मे। ईहा गा॒ल्हि जेतरि हिंदूंनि में सची आहे ओतरि मुसलमानिं में छा खाणि तह पिछाडीअ जे सतर सालनि में खासि करे नंढे तोडे वदे॒ शहरन में इहो ई थे पयो तह – या तह सिंधी अण सिंधयूनि में वसया आहिनि या अण सिंधी वदी॒ तादादि में सिंधी में अची रहया आहिनि।

इन गा॒ल्हि में वरली ई को शक कंदो तह वरहांङे सबब वदे॒ में वदी॒ कसु सिंधी हिंदुनि खे नसिब में आई आहे। अजु॒ ऐडहा चङा कोम आहिनि जेके लूपत या फना थिअण जी राहि ते आहिनि। इन फना थिंदड कोमनि में हिकु आहे –सिंधी सिख या खणि चईजे नानिक पंथी। हिक भेडे दि॒सिंजे तह सिंधीयूंनि में अजु॒ ताईं इन गा॒लिहि ते पक रित हिक राय कोनि वेठी आहे तह सिंधी छो ऐं छा काणि सिंख या नानिकपंथी थिया। किनि जो मञण आहे तह महाराजा रणजीत सिंह सिंध ताई पई पहिजूं सरहदयूं वधाअण पई चाहियूं ऐं के सिंधी, सिख इन सबब थिया जिऐं खेनि घटि में घटि नुकसानु थऐ ऐडही हालतयूं में। अजु॒ भले ई ईहा गा॒ल्हि केतरि नह अजबु लगे पर इन को भी शकु नाहे तह रणजित सिंह यकिनि खुवाईश रखी हुई पहिंजू सरहदयूं वधाअण जूं ऐं जेकर अंग्रेजअ हिदुस्तानि में नह हुजीनी हा तह हो पक सिंध ते जरुर काहि अचे हा। वरि अंग्रेजनि में खासि करे रिचर्ड बर्टनि जेडहनि जो रायो हो तह सिंधी हिंदूं मूल तरह पंजाब जा थेनि सो लाजमी तोर हिंदु सिखनि जेडहयूं रिसमयूं पंजाब सां सदुसि लागपे सबब ई आहिनि जहि में सिंख धर्म, गुरुमूखि भी शामिलि आहिनि । इन खां सवाई हिकु टिहों तबको भी आहे जहिं जो मञण आहे तह अर्बनि जी काहि बैद के सिंधी पंजाब लदे॒ वया ऐं बैद सिंध मोटी आया। सुदुनि मोजिब सिंधीयूनि जा नुख कुकरेजा, माखिजा, आहूजा वगिराहि इन सबब ई आहिनि। वरि जेकर पंजाबी सिखनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि मञण आहे तह जद॒हि मुसलमानि जो सिखनि खे कहरि पई थिअण लगा खासि करे गुरू तेग बहादूर जी वकत में तह के सिख पंजाब मां सिंध लदे॒ आया जहि सबब सिंध में गुरुमूखि ऐं सिंख पंथ जो प्रचारि थयो। वरि पिछाडीअ में ईन गा॒ल्हि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिख गुरु – गुरु अर्जून देव जी जे दि॒हिनि में सिख धर्म जे वाधारे जे नसबत सिख सिंध, खशमिरि ऐं अफगानिसथानि में भी सिंध धर्म जा प्रचारक मोकिला वया हिवा।

भले सिंध मां सिख पंथु किअं या कहिं भी रित आयो हुजे पर इन को भी शकु नाहे तह सिंधी हिंदुनि सिंख गुरुनि लाई ऐं खासि करे गुरु नानक जी लाई तमाम घणो मानु ऐं ईजति रही आहे। जेतोणेक सिंख धर्म जो प्रचार पंजाब खां बा॒हिरि सिख गुरु अर्जन देव जी जमाने ताईं चङो थयो, जहिं सबब सिंख पंथ सिंध, कशमिरि ऐं पखतुंवाहि जे चङो जोर वरतो पर पंजाब खां बा॒हिरि इहो सिंध ई हेकलो सुबो हो जिते सिंख धर्म चङो जोर वरतो। पर बद-किसमतिअ गुरु अर्जूनि देव जी जे गुजारे वञण बैद ऐं खासि करे गुरु तेग बहादुरि जी कुरबानी या शहादति बैद सिंखन लाई दुखाईंदड दि॒हिं जी सरुआति थी। इन कोम जो जोर घटाईण लाई दा॒ढयूं कोशिसियूं थिअण लग॒यूं जहि सबब सिंख ऐं सिख कोम कहि कदरु पाण में सिम़टजण लगो॒ जहिजो पूरो फाईदो अकालिनि वरतो । सिख रूगो॒ पाण में हलण लगा॒, ऐं ईहा घेराबंदी हिदुस्तानि जे शहरनि में आम जाम दि॒ठी वेंदी आहे जिते सिख कोम खे को भी खतरो नाहे। जेसिताई गा॒लिहि कजे आपरेशनि बलुस्टारि जी तह यकिनिं इन में अकालिनि जी सियासत भी ओतरि जिमेवार आहे जेतरि कांग्रेसि जा सियासतदानि।

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह गुरु अर्जूंन देव जी दिं॒हिं खां पोई ऐं खासि करे गुरु तेग॒ बहादुर जी जे कुरबानीअ खां पोई सिंखनि जी मुसलमानिं सां जाखडे सबब हिकु रित जे कठरपणो अचण लगो ऐ गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिनि में हिक लशकरि रूप अखतयारि कोयो । जेतोणोक इहो सैनिक भावू तहि महलि जी जरुरत हुई छाकाणि जेकरि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी जे द॒सयलि राहि तें नह लहिनि हा तह संदुनि मां हिक वदो॒ हिस्सो मुसलनामि हूजे हा। इहो लशकरी रुखु ई हो जहिं सिखनि खे हिकु थी पहिंजो वजूद लाई जाखडे करण जी सघ दि॒ञी। जेकरि तहि महल जे पंजाब जे अदमशुमारी ते धयानि दि॒सासिं तह चिटि रित साफ थिंदो हो यकिनि थोडाई में हुवा ऐं इन लावतूनि में संदुनि वजूद में रहण कहि अजूबे खां घटि नाहे।

हिक लङे सिख धर्म जे फहिलाउ खे बारिकीअ सां दि॒सजे तह इहो चिटि रित साफु नजर ईंदो तह पंजाब खां बा॒हिरि जेकरि सिंख धर्म जो कहि सुबे में ऐं खासि करि हिंदू बरादरी में फहिलाउ थियो तह उहो आहे सिंध। अजु॒ भी जद॒हि हिंदुस्तानि में रहिंदड सिंधीयूनि में सिंख धर्मू कहि कदरु कमजोरि थू पयो आहे तद॒हि भी वरलि ई को सिंधी घर लभिंदो जेको शादियूं-मूरादीनि तोडे गमयूनि में गुरु ग्रंथ साहिब जो पोठि कोन कराऐं या कहि गुरुदूआरे तोडे टिकाणे में मथो नह ठेके। अजु॒ भी सिंधी हिंदू सिंख गुरुनि जी ओतरो ई मानु ऐं ईजति कनि जेतिरो सिंधी इस्ट देव झूलेलाल या कहिं हिंदु देवी देवताउं जो। इहा गा॒ल्हि हिदुस्तानि तोडे दुनया जे जुदा जुदा मुलकनि में दि॒ठी वई आहे तह जिते भी सिंधी हिंदु वसया आहिनि – उते सिंधी टिकाणा जरुर अदा॒या आहिनि। इहो ई नह पर उन सिंधी टिकाणनि में हिंदू देवी-देवताउं खे पूजण सा ग॒दु॒ गुरु ग्रंथ साहिब जो अखण्ड पाठ जरूर थे। सिंध में सिख धर्म जो फहिलाऊ जो हिकु वदो॒ सबब ईहो भी आहे जे जहि रित सिख मुर्ती पूजा जे बिदरों गुरुअनि खे यादि कनि। सागी॒ रित सिंधी भी पिरनि तोडे संतनि जो तमाम घणो मानु कनि। आमिलनि जो तह चवण आहे तह सिंधी हिंदू बि॒नि शयूं ते फकरु कनि- हिकु सिंधु थे ऐं ब॒यो सिंधी संतनि तोडे पिरनि ते। नह रूगो॒ हिंदुनि में पर पिरनि जी तमाम घणी ईजति मुसलमानि भी कनि । इहो ई सबब आहे तह सुफी मतु खे जेतरि कामयाबी सिंध में मिली ओतरि नंढे खंढ जे कहि भी सुबे मे कोन मिलि। इहा हिक तारिखि हकिकत आहे।

सिंध जा खालसा सिंधी सिख

सिंध ऐं पंजाब में सिख धर्म जे नसबत नजरियो बिलकूल धारि आहे। सिंध में हिंदु सिख गुरुनि खे हिंदु देवी देवताउनि जेडहो मानु दि॒ञो पर सिखनि गुरु ग्रंथ साहिब खे भी गुरु करे लेखयो पर पंजाबीयूं वारो कठरपणो कद॒हि भी नह अचण दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि सिंधी मुसलमानि सां भी सागी॒ आहे। अजु॒ भी जेकरि कहि सिंधी मुसलमानि खां पुछबो सिंधी पंजाबी मुसलमानि सां संदुसि पहिंवारि बाबति तह द॒हनि मां नव पंजाबिनि जी गि॒ला ई कंदा ऐं बचयलि द॒हों भी पहिजी कावड बचाअण जी कोशिस नह कंदो। जेतोणेक के सिंधी पाण खे दरया पंथी वाङुरु नानिकपंथी पिणि कोठायो ऐं सिख गुरुनि जे पूजा जे स्थानि खे टिकाणे जो नाउ दि॒ञो पर कदहि भी हिंदु पाण खे रुगो॒ हिंदू धर् जा हेकला पोईलग कोनि कोठायो। अजु॒ भी विरहांङे खे लग भग मुञे सदीअ बैद भी जद॒हि तह सिंधी हिंदूनि में कहि कदरु कटरपणो वधयो आहे तह भी कहि भी सिंधी कस्बे में जिते सिंधी घणी तादादि में वसयलि हुजिनि – हिकु टिकाणो जरुर पई नजर इंदो जहिं में गुरु ग्रंथ साहिब सां ग॒दु हिंदू देवी जूं मूरतयूं जरुर पई नजर ईंदयूं। सागी॒ रित परदे॒ह में भी वसयलि सिंधी कनि।

सिखनि में जेतोणेक गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिं खां सिख कोम में चङो फेरो आयो। चङा सिख अमृत धारि यानि खालसा थिया पर चङा ऐडहा भी हुवा जेके पहिंजे असलोके रुप में ई कायूमि धायमि रहया या कहि सबब खालसा नह रहयो या वरि मूमकिनि आहे तह अगे॒ हिंदु हुवा ऐ पोई सिख धर्म पई अखतयारि कयो। इहे असलोके रुप वारा सेहजधारि कोठण में अचनि। इअ तह सिख धर्म में सेहजधारि खे अमृत धारियनि या खालसा थिअण जी हिक राह पिणि मञि वई आहे पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह आजादीअ खां पोई हिक कोशिस ईहा भी थी आहे तह खालसा निज॒ सिख जी जाई दि॒ञी वञे। इन जो सबब कहि कदुरु अकाल तख्त जी अहमियति वधण सबब भी थयो। होरया होरया हिदु समाज वाङुरु सिंखनि में भी फर्क अचण लगा॒ आहिनि जहि सबब सिख कोम में हिअर पहिजे पाण में ई वंढजी वयो आहे। इहो इन जे बावजूद जे सेहजधारियनि जो भी उतिरो ई योगदानि आहे जेतिरो खालसनि जो। ऐडहा चङा सेहजधारि भी थी गुजरा आहिनि जेके खालिसतानि जे जाखडे जा वदा॒ हिमायति भी रहया आहिनि। इहे फर्क तोडे विचोटयूं अकालियूनि जी सियासत या सिखनि में धर्म तोडे सियासति खे हिक बे॒ खां धारि नह करण सबब पिणि वधया आहिनि।

1959 में हिंदुस्तानि सरकारि जेको गुरुद्वारनि बाबत कानुन पास कयो हो तनि में सुरुमणि गुरुद्वावारा प्रभंधक कमिटी जे चूंडनि में अमृत धरियनि वाङुर सेहजधारि खे भी हिक जेडहा हक दिञा वया आहिनि। पर इन जे बावजूद जिअं हिंदु धर्म में पोईते पयलि जातियूनि सां थयो तह खेनि हिंदु रिती रिवाजनि खा धारि रखयो वयो तिऐं सेहजधारि सां भी थियो। ऐडहा मसला आजादिअ बैद जोर वरतो आहे जहि सबब सिखनि में भी चङो बहसि पई हलिंदो थो अचे। वेझडाईअ में 2003 में ऐडहो मामलो चंडिगड में आयो जिते कनि सेहजधारि शागिर्दनि खे इन लाई ऐस जी पी सी जे कालेज में दाखिलो कोन दि॒ञो वयो सिख कोटनि में जे सेहजधारि निजा॒ सिख नाहिन। इन नसबत ईहा दलिल दि॒ञी वई तह – छो तह सेजधारि मुल लिख नाहिनि सो खेनि सिख कोटे जे मार्फति दाखिलो नथो मिलि सघे। गा॒ल्हि कोर्टनि ताई वञी पुगी॒। इन जे विच में अकालि दल जेका तह महलि जी बी जे पी जी हुकीमत में सामिलि हुई, पहिजी ताकत जो इसतमालि कंदे हूकूमत पांरा हिकु आर्डिनेंस पई जारि करायो तह सेहजधारि मूल सिख नाहिनि जेका गा॒ल्हि कोर्ट पोई वरि नाकारे छदी॒, इहो ई नह पर अकाली सेहजधारि लफज जो सिख कोम सां कहि सां ई पई नंकारि पई कयो जदहि तह 1971 ताई अकाली दल में सेहजधारि जो भी हिकु जथो हूंदो हो।
हिक भेडे दि॒सजे तह सिख धर्म जो फहिलाउ भी कहि कदरु सिंध खां बाहिर घटयो आहे। विरहांङे खां अगु॒ पारे पंजाब में सिखनि जी आदमशुमारी 13 सेकडो हुई जोका विरहांङे खां पोई 30 सेक़डो थी ऐं पंजाब जो हाणेको सूबो छहण बैद 65 सेकडो थी। मतलब तह जिअं जिअं पंजाब जी सरहदयूं पई मई मटि सिखनि जे आदमशुमारिअ में भी फेरो आयो। पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे 2001 जे आदमशुमारीअ में इहो दि॒ठो वयो आहे तह सिंकनि जी तादादि कहि कदुरु घठी आहे। मसलनि सिंखनि जी तादादि 62.95 खां 59.9 थी आहे –यानी 3 सेकिडो घटि जद॒हि तह केरेला में क्रिसचननि जी तादादि फकत 0.32 सेकिडो घठि आहे। इन जा सबब अमृतधारि तोडे सेहजधारि मसले खा सवाई भी के अहमि सबब आहिनि जिअं पंजाबी बो॒लीअ जो सिख धर्म में तमाम वधीक जोर। हिदुस्तानि में हर कोम जो प्रचारि दे॒हि बो॒लयूनि में पयो थिंदो रहयो आहे जद॒हि तह सिख धर्म जो प्रचारि अजु॒ भी घणो तणो पंजाबी बो॒लीअ में पयो थिऐ। जेतोणेकि गुरु ग्रंथ साहिब जो सिंधी में भी तरजूमो शाई थियो आहे पर इहो रूगो सिंधीयूनि जे चाहि सबब ई थियो आहे नह कि अकाल तखत जी जोर ते। वरि सिंध में जोकि दि॒सजे सिंखनि जा तादादि वधि आहे छाकाणि तह पिछाडिअ जे कनि द॒हाकनि में जहि रित सिंध में अण सिंधी मुसलमानि जो जोर वधयो आहे इन सबब बदलयलि हालतूनि में, सिंधी हिंदूनि खे खालसा सिख थी पाण खे कहि कदरु वधिक महफिजु पया सहसुस कनि। इहो ई नह पर जेके भी पंजाबी सिखनि जा जेके जथा पाकिस्तानि जे दौरे में वया आहिनि से सिंधी सिखनि जी सिख धर्म दा॒हिं लगनि दि॒सी वाईडा थी वेंदा आहिनि। (अजु॒ जद॒हि हे कालमि पयो लिखां तह खबरि पई तह चारि सिंधीयूनि डाकटरनि खे कतल कयो वयो आहे। यकिनिं इन हालतुनि में जेकरि सिंधी शिख खालसा थिंदां तह यकिनिं सिंधीयनि खे हिक ताकत मिलिंदी पहिंजे पाण खे सोघो करण जे नसबत)

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी सिखनि जी तादादि तकडी पई घटजे। विरहांङे खां अगु॒ सिंध में सिख धर्म सिंधीयूनि पहिजो नमूने पई लहायो। सिंध में तह कद॒हि भी अमृतधारि- सेहजधारि में को ऐदो॒ वदो॒ मसलो थियो ई कोनह, ऐं नह ई वरि कद॒हि हिक बे॒ खे अण-सिख साबित करण जी कवायति थी। सिंध में हिकु रिवाज इहो भी हूंदो हो तह सिंधी हिंदु पहिजी पहिंरो ज॒णयलि पुट खे खालिसे सिंखनि खे दिं॒दा हवा। जसिताईं सिधीं सिधं में रहया सिधीयनि सिक धर्म पहिजे रित पई हलायो पर विरहाङे बैद लदे॒ आयलि सिधीयूंनि सां इअं नह थियो। सिंधी नानिकपंथीयिनि सां भी चङा वयलि थिया आहिनि। ऐडहा चङा वाक्या पई थिया आहनि जिते सिंधी टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब खे हटायो वयो आहे इहो चई तह सिख धर्म इन जी मोकलि नथो दे ऐं हिक ईं हंद में गिता ऐं गुरु ग्रंथ साहिब जो पाठि नथो करे सघजे। ऐडहो हिक वाक्यो दिल्ली में के सालनि अगु॒ थयो -जते दादा चेलाराम जे टिकाणे मां राम नवमी जे मौके ते सुरुमणी गुरुद्वारा प्रभंधक कमिटि पारां टिकाणे मां गुरु ग्रंथ साहिब ह़टायो वयो इहो चई तह इहो सिख मर्यादा जे खिलाफ आहे। इन बैद जेतोणेक बाबा चेलाराम आश्रम ऐं कजहि सिंख सिख तंजमयूं में भी के ग॒द॒जाणयूं थयूं कर इन जो को भी फैसलो कोन निकतो। इहो सब इन जे बावजूद जे दादा चेलाराम सिंख कोम जो वदो॒ जा॒णू हो, आलिमु हो ऐं नानिक साहिब तोडे अमृतसर जे गुरुद्वारनि में शबत किरतनि करे चूको हो। हो पाण भी सिंख धर्म जा तमाम वदा॒ जाणु हुवा। यकिनि ऐडहनि वारदातनि सां सिंधी सिख धर्म खां पाण खे पासरो ई रखण चाहिंदा।

हिदुस्तानि खा. बा॒हिर भी ऐडहा साग॒यूं कोशशियूं कयूं वयूं आहिनि पर अकालिनि जे हिमायतिनि खे का भी कामयाबी कोन पई मिलि आहे। पाकिस्तानि में कोर्टनि इहो बिलकूल खाफु कयो आहे तह सिंखनि में ऐडहा के भे फर्क नह पई कबूल कया वेंदां। नंढे खंढ खां बा॒हिरि भी साग॒या मंजर दि॒सण में नजर पई आया आहिनि। इनहिनि मुलकनि में हिंदु सिंधीयूनि पारां अदा॒यलि टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब सां छेड छाड करण जी का भी मोकलि कोन दि॒ञी वई आहे। वरि बे॒ पासे इन गा॒ल्हि खे भी नजर अंदाजि नथो करे सघजे तह दुनिया जे जुदा जुदा मलकनि में जिते भी सिख रहया उते जरुरत पवण ते सिखनि या खासि करे खालसा सिखनि वार ऐं दा॒डयूं पिणि लारहायूं अथोऊं। इहो ई नह पर ईंगलेंड जे रोचेसटर शहरि में तह गुरुद्वारे में कृपाण खणी घुसण जी मञाई आहे तहि जो विरोध सिखनि कोन कयो आहे ऐं कजहि सालनि अगु॒ तह प्रांस में पगडयू ते भी प्रतिभंध लगाई वई आहे जेके सिख उते मञिनि था पया।
मशहूर सिख लेखक खुशवंत सिंह जो चवण आहे तह हिंदुस्तानि में लदे॒ आयलि सिंधीयूनि में हिअर सिखपणो घटयो आहे ऐं जेकरि इहो हालि रहयो उहो भी दि॒हिं परे नाहे जद॒हि सिंधीयूनि में सिख धर्म रहिंदो ई कोन। हे बयानि यकिनि हकिकतुनि ते बंधयलि नाहे। जेतोणेक सिंधी टिकाणनि में कमि आई आहे पर इन में को भी शकु नाहे तह सिख गुरुनि लाई मानु ऐं ईजति में का भी कमि कोन आई आहे। इहो थी थो सघे तह श्री खुशवंत सिंह खां सिंधी टिकाणनि में गुरु ग्रंथ साहिब सां छेडछाडि विसरि वई हुजे -इहो दिल्ली जेडहे शहरि में थियो जिते हो भी रहे थो। सिंधीयूनि में सिखपणे जी कमी जो हिक वदो॒ सबब विरहांङे सबब सिंधी हिंदुनि जो लद॒पण आहे। जेसितईं सिंधी सिंध में हूवा हू सिख पंथ खे पहिंजे रित पई मञो पर विरहांङे बैद सिख कोम ते अकालिन जो जोर कहि कदुरु वधी वयो। अकालिनि हमेसाहि ई सियासत ऐं कोम में को भी फर्कु कोन पई समझो आहे, ऐं हूकूमतयूं भी कहि कदरु इन गा॒ल्हि जी मुखातलिफ कोन कई आहे। वरि 1984 जे फसादनि में जदि॒हि सिंधी सिखनि भी नुकसानि सठो पर सिंधीयनि जो नालो ताई खोन खयो वयो जद॒हि तह सिंधी सिखनि खे भी झझो नकसानि सहणो पयो । अजु॒ भी सिख मतलब पंजाबी बो॒ली गा॒ल्हाईंदड ई मञयो वेंदो आहे। नह तह जेकरि विरहांङे जे यकदम बैद जे दि॒हिनि में दिसजे तह सिंधी सिख गुजरात, राजिसतानि या महाराष्ट्र में सिंधी नानिकपंथी तोडे चिकाणनि जी वदी॒ ताअदादि हुंदी हई ऐं कोटा खे नंढे पंजाब कोठयो वेंदो हो।

अजु॒ इन जी तमाम जरुरत आहे तह सिंधी कोम मिडिया में अग॒ते वधी अचे ऐं सिंधी टिकाणनि ऐं सिंधी नानकपंथीयूंनि में हिमायति में जोखडो कजे। सिंधी टिकाणा सिंधी सकाफति जा हिस्सा आहिनि ऐं इन खे जिंदो रखण हर सिंधी जी जिमेवारी आहे। अजु॒ इन जी तमाम घणी जरुरति आहे तह सिंधी पंहिचातयूं सुजा॒ग थेनि नह तह असीं सिंधी नानिक पंथियूनि खे शायदि हमेशाहि लाई विञाऐ वेहिंदासिं।

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ जे द॒हाके में ई वजूद में अची वया हवा पर कमपयुटर ऐं आम रिवाजी माण्हुनि जी वाटि विंडोज जे वजूद में अचण सां पुख्ती थी। पर छो तह कमपयूटर जी इजाद उलहँदे मुलकनि में थी, इन सबब इन जो पूरो फईदो भी रोमन लिपी ई माणियो। पर होरया होरयो अण-रोमन लिपि लिखिंदडनि में भी इन करिशमें दा॒हिं छकंदियूं वयूं। पर इन जे बावजूद यूनिकोड जेडही का शई नह हुजण सबब कमपयूटर में दे॒ही बो॒लयूनि लिखण ऐं पढ़ण हमेशाई ई कहि चूनोतीअ खां घ़टि नह रही आहे।

युनेकोड जो इजादि कमपयुटरनि की दुनया में हिक वदो॒ जूनून खणी आई। युनेकोड जे ईजादि खां वठि जेको मसलो रोमन ऐं अणरोमन रहयो हो सो लग॒ भग॒ हमेशाह लाई खत्म था वयो। युनिकोड सबब इहो ममकिनि थी सघो तह को भी शख्सु दुनिया जे कहि भी हिसे में हुजो ऐं को बी कंपयुटर जे कहि भी आपरेटिगं सिसटम हलाऐं भी पहिजी बो॒ली ऐं लिपी सा गंढजी रही थो सघे। युनिकोड जे इजाद बैद मसलो इहो भी आयो तह किअं यूनकोड खां अगु॒ जो मवादु खे कमपयूटर में आणिजे ऐं इतो खां ईं शुरु थी किताबनि जे डिजीटलाईजेशनि जो खयालु। डिजीटलाईजेशन पाण सां ग॒दु॒ के अहम सहुलतयू खणी आई जेके कजह हिन रित आहिनि…

  •  अणलभ किताबनि बि॒हिर पढिंदड अगयां पेश करण जी सहुलियति
  • लाईब्रेरि ऐं पढिदडनि जे वचियों दुरि खे कहिं हदि ताई खतम करण
  •  पहिजे जरुरत मोजिबु सहूलाई सां गो॒लह (Searchable text) जेको आम दसतावेजनि में ममकनि नाहे।

अणलभ किताब या छापे खां बाचहिरि किताबनि जो मसलो हिकु ऐडहो मसलो आहे जहिं सां हर कहि बो॒लीअ खे मुंहू थो देअणो पवे। मसलो इन लाई थो अचे जे कितावनि जे छापे जी तादाद हमेशा ई किताब जे घुर ते भाडयलि हुंदी आहे। इहो ई नह उन साग॒ये किबाब जो ब॒यो को छापो तद॒हि ई शाई कयो थो वञे जद॒हि उन किताब जी घुर वधे थी। इन सब कमन में वरि चङो वकत भी थो लगी वञे जहिसां पढिंदडनि थे चङयूं तकलफियूं थूं सहणयू पवनि। डिजीटलाईजेशन बैद अणलभ किताबनि जे नसबत फाईदो इहो थो पवे तह आनलाईनि छापे जो खुटण जो को सवाल ई नथो अचे। जहिंखे जद॒हि खपे सो डाउनलोड करे थो सघे।

ब॒यो मसलो आहे किताब ऐं लाईबरेरिअ जे मंझ वेचो घटाअण जो—अम तोर सा किताब पढहण जा ब॒ वसिला आहिनि। हिकु तह किताब वण्जे या नह तह कहिं लाब्रेरीअ मां उधारो वठजे। डिजीटईलेजेशन सां ऐडहनि मसलनि में अहम मदद थी मिले। जेकरि को किताब डिजीटलाईज थो कयो वञे तह ई-लाबरोरि जे जरिऐ पडही थो सघजे। हिदुस्तानि तोडे परदे॒हि में ई- लाबरेरि तमाम घणयूं मकबुल थयूं आहिनि। हाणे लग भग हर वदि॒ युनवरसिटि खे पहिजी ई- लाईवरेरि आहे जहिजी मदद सा पढिंदड दुनया जे कहि भी कुंड कुरच में रही इन ई-लाबरेरि जे जरिऐ किताब पडी था सघिनि।

डिजीटाईलेशन में जेका टियो अहम फाईदो थो दि॒सजे सो आहे किताब में कहिं खासि लफज जी गो॒ल्ह। आम तोर सां कहिं भी किबाब जे पिछाडीअ में पनोतिरो थिऐ थो जहिजे मदद सां किताब में लिख्यलि को भी लफ्ज गो॒ल्हे लधो थो वञे। पर डिजीटलाईजेशन सा साग॒यो कमु तमाम घट वकत में थी थो सघे ।

डिजीटालाईजेशनि में हिक वदो॒ जनून तहि महल आयो जद॒हि इंटरनेटि जी वदे॒ मे वदी॒ खोज साईट गूगूल दुनया जी 350 बो॒लयूनि खे डीजाटीलाईज करण जी पधराई कई। इन कम जे नसबत चङनि बोलयनि ते कम पिणि थयो । सिंधीअ में खास करे गुगुल टे किताब डीजाटीलाईज कया जहिजा कागरी छापा हिअर अणलभ आहिनि। मसलनि- केपटेन जोर्ज इसटेक जो सिंधी – अग्रेजी लुगति, अग्रेजी- सिंधी लुगत ऐं सिंधी वयाकरण। पर इन खां सवाई तमाम थोड़ा ई देवनागरीअ सिंधी में किताब डिजीटलाईज कया आहिनि, वरि जेके कया भी वया इहे मखमल किताब नाहिन। रुगो किताबनि जा कवर ई आहिनि। सागे॒ रित अर्बी सिंधीअ में ऐडहयो हाल आहे। अर्बी सिंधीअ में खीसि करे को घणो कम कोन थयो । हिंदुसथानि में इन जो हिकु सबब तह समझी थो सघजे तह नई टेही अर्बी सिंधी कोन थी पढे पर सिंध सां इअं गुगुल जो वहंवार सम्झ खां परे आहे। इहो ममकिनि आहे तह गुगुल पिणि पाकसथानि जे उर्दू खवाहि अंग्रेजी मिडया जा शिकारि थी थियलि भासिजे जेके सिंधीअ खे हिक मूअल बो॒ली करारि देअण जो को भी मोको कोनि विञाईंदा आहिनि।

जेतोणेक गुगुल जी नजरि खां सिंधी बो॒ली कहि कदरु विसरि वई आहे पर इन जे बावजूदि सिंध में सिंधी किताबनि जे डजीटाईलेजेशन में चङो कमु थियो आहे। सिंधी अदबी बोर्ड, जामशोरो सिंध खोड़ सिंधी किताबनि खे बि॒हरि कंपोज करे पहिंजी वेबसाईट में शाया कया आहिनि। साहित्य जी Wऐड़ही का भी संफ नाहे जहिते कमु कोन थयो आहे। कहाणयूं, नावेल, लोक अदब, लुगति, कविताऊ, अत्म कथा, सफरनामा, नाठक वगिराह ते चङो कमु कयो वयो आहे। संदिनि विरहाङे खां पोई तोड़े अगु॒ जे सिंधी साहित्य खे ग॒दु॒ कयो आहे जहिं लाई अदबी बोर्ड खेण लहणे। शाबसि आहे अदबी बोर्ड खे इन कम खे अंजामु दि॒ञो आहे। जेतोणेक इन गाल्हि मे को भी शकु नाहे तह टेकनोलाजी जे नज़रइऐ सां अदबी बोर्ड हिंदुसतानि में थिंदड़ डिजीटाईलेजेशन जे मयार खां कहि कदुरु घटि आहे पर तद॒हि भी जेको कमु अदबी बोर्ड कयो आहे सो को घटि भी नाहे। अजु॒ को भी सिंधी दुनया जे चाहे कहि भी कुंड कुरच मे थो रहे, सिंधी साहित्य खां वाकिफ रही थो सघे। इहा पाण में ई हिक वदी॒ कामयाबी जी गा॒ल्हि आहे।

इन खां सवाई सिंधी में एडहयूं चङयूं कोशिशयूं थिअल आहिनि जहिं जे मार्फत सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे नसबत कम कयो पयो वञे। जेतोणेक इहो कम शख्शी तोर थिअल आहिनि पर इन जे बावजूदि इन कमनि खे नजरि अंदाज नथो करे सघजे। इन जा मिसालि आहिनि वाऐसि आफ सिंध, शखर सिठी ऐ ब॒यूं वेबसाईटयूं. आहिनि जहिजे में जे मार्फति सिंधी साहित्य सां वाकिफ थो थी सघजे। पिछाड़ीअ में गा॒व्हि कंदसि इसकराईब जेहि में थोडो ई सहि पर सिंधी मवादि थो मिले।

जेसताईं हिंदुस्तानि में डिजीटलाईजेशन जी गा॒ल्हि कजे तह हित डिजीटलाईजेशन जो कमु घणो तणो सरकारि जे माली मदद सां ई थयो आहे। इन में सबनि खा पहिरों नाTऊं डिजीटल लाईब्रेरी आफ इंडिया जो आहे। इहा पराजेक्ट तमाम वदी॒ आहे। मुल्क में इन कम लाई 21 जायूं आहिन जिते किताबनि जूं इसकेनिङ जो कम थे आहे। इहा पराजेक्ट इंडईयनि इंसटियटि आइ साईंस, कार्नेग मेलनि युनवरसिटि, नेशनल साईंस फाउंडेशनि, मिस्र जी ऐम सि आई टी ऐं इंट्रा युनिवरसिटी सेंटर फार ऐंसटेरोनामी ऐं ऐसट्रोफिझीकस, पुणे जो गद॒यलि सहकार सां वजूद में आयलि आहे। इन पराजोकट जे माईफति लग भग अढाई लख किताब जुदा जुदा संफनि में डिजीटलाईज थी चुका आहिनि। जेतोणेक इन में अंग्रेजी किताबनि जी घणाई आहे पर दे॒ही बो॒ली जी जा भी चङा किताब शाई थियलु आहिनि। जेसिताई गा॒ल्हि सिंधी जी आहे तह तमाम दु॒ख ऐं अफसास सां थो लिखणो पवे तह सिंधीअ खे विलकूल ई नजरअंदाज कयो वयो आहे पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा भी आहे तह इन बाबत कहिं सिंधी संसथा हुलु भी कोन कयो। हा पर सिंधीयूनि ऐं सिंधी बोलीअ बाबत जरुर के किताब डिजीटलाईज थया आहिनि जनि जे घणाई अंग्रेजी जी आहे ऐं ऐकड बे॒कड बंगला ऐं तमिल बो॒लीअ में आहे।  हिंदुस्तानि में ब॒यनि बो॒लयुनि जे भेट में सिंधी बो॒लीअ में  डिजीटाईलेजोशनि जी तह यकिनं असां तमाम पोईते रहिंजी वई आहे, इन जो हिकु सबब इहो भी थो दि॒सजे तह नई टेहि जहिंजे चाहि सबब आई टी ऐतिरो अग॒ते वधी सो सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य कां कोसो परे आहे।

डिजीटाईलेजोशनि जे नसबत सिंधुनि में के अहमि मसला आहिनि। पहिरो मसलो आहे तह जेकरि डिजीटाईलेजोशनि थे भी तह केडही लिपी में थे। जेकरि आर्बी लिपीअ में इन कम खे हथ में खणजे तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह इन में कयलि महनत सखार्थी कोनि थिंदी छा पोणि तह पढंण वारा तमाम घटि मिंलिंदा। वरि जेकरि देवनागरी लिपी में डिजीटाईलेजोशनि कजे तह खर्च जो भी मसलो आचे थो, छाकाणि तह कतानि बि॒हरि कम्पोज, फरुफ जा कम था अची वञिनि। इन बैद मसलो आहे तह इन जे सर्वर जी जिमेवारी कहिंजी हुंदी। इन कम खे आगते केरु वधाईंदो. पिछाडीअ में इहा बी गाल्हि विसारण नह खपे तह देवनागरीअ खे जेके सिंधीअ जी नाजाईस लिपी था मञिन तन खे किअ भरोसे में आणजे जे हो कमु आगतो वधे।

जेकदिहि लिपीअ जो मसलो आहे तह यकिनं देवलागरी हिक वेहतरिनि लिपी आहे। ध्वनी स्वर लिपी हुजण सबब लिखण में भी तमाम तहुली थी थिऐ। इहो ई नह अर्बी सिंधीअ जे भेटि में ऐडहा तमाम घटि लफज आहिनि जेके लिखया हिक नमूने था वञिनि ऐं पढयो धारि नमूञे । इन खां सुठी ऐं ठाहूकि लिपी सायदि ही सिंधीयूनि खे मिलि थी सघे। ब॒यो तह इहो तह लिपी सबनि खे अचे थी, छा काणि तह देवनागरी अखरनि सां पूरो उतर हिंदुस्तानि वाकिफ आहे जिते सिंधी रहिनि था। जेकसाई गा॒लिह कजे थी इन प्रोजेक्ट लाई खपिंदड पैसे जी तह सिंधी बो॒लीअ लाई झझो पैसो दिञो थो वञे, भले उहो ऐल. सी. पी.सि ऐल हुजे या सिंधी आदादमयूं। इहा गा॒ल्हि कहिं खां गु॒झी नाहे तह सिंधी अकादमयूं पहिजो महदूद बजेट खर्चण में कसिरि आहिनि, छा काणि तह संदनि वटि को घणयूं पराजेकट आहिनि कोन्ह।

डिजीटलाईज सिंधी बो॒लीअ जी हिक अहम जरुरत आहे। जेकदचहि असीं नंढे खंढ जे कोमनि खे दिसिंदासिं तह ऐंडहो सायदि ई को कोम हूदो जेको सिंधी हिंदुनि जेतरो टरयलि पखरियलू हूंजे। अजु॒ सिंधी दुनिया जे सठ मुलकिनि में रहिनि था। मसतब तह अव्हा जिते भी वञो – एशिया, अफरिका, उतर या द॒खिनि अमेरिका या युरोप जिते किथे अव्हां खे सिंधी लभिंदा। जदि॒ही ऐडहे वदे॒ ऐलीईके में सिंधी रहनि तह बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत रुगो॒ रिवाजी किताब जी पहुच ममकिन नाहे। सो इते ई गा॒ल्हि अचे था डिजीटलाईज जी। असां खे इहा गा॒ल्हि बिलकूल नह विसारण खपे तह अजु॒ टेकनोलाजीअ जो जमानो आहे ऐं जेकरि को इहो मौको विञायो वयो तह इहो ममकनि आहे तह इन जी जाई बी॒ का धारि बो॒ली अख्तयार कई वेंदी जहिजो मतलब इहो तय़ो तह सिंधीअ जी नेकालि हाथयो पक थी वेंदी। अजु॒ जी हालति में इन्टरनेट ई ऐडहो साधन आहे जहिजे जरिऐ सिधी तमाम थोडे वख्त में बो॒लीअ जो फहलाव मखमल करे था सघिनि। अजु॒ सिंधी बो॒लीअ खे हिक ऐडही टेकलालजीअ जी जरुरत आहे जहिजे मार्फति सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जो वाधारो घटि में घटि वकत में थी सघे। युनिकोड असां सभनि लाई हिक राह दा॒हीं इशारो कयो आहे ऐं जेकरि असी इनि जो फाईदो कोनि वर्तोतिं तह मुल्क तह विञायोसें ई हिअर सिंधी बो॒ली पिणि विञाऐ वेहिंदासिं।

सिंधी अगवाणन जी सिंयासि अमेदनि में फातलि सिंधी बो॒ली

सिंधी बो॒लीअ जो हिंदुस्तानि जे संविधानि मे तसलिम, हिक दि॒घी जहोजिहद बैद थी । पर इन जदोजिहद में हिक ट्रजिक हिरो पिणि हो या खणी चैअजे आहे, सो आहे लिपी। जेतोणेक लिपी जो मसलो अगे॒ पोइ अचणो हो पर जहि रित असीं लिपीअ खे तोल दि॒नो सा कहिंखे भी वाइड़ो करण लाइ काफी हो। सभिनि खां वदो॒ नुकसानि तह नई टेहि खे थयो जेके मुंझी पया – तह आखिरि केड़हि लिपि आखतयारि कजे। हिन मुंझायपि जो नतिजो इहो थयो तह अर्बी लिपी खां रुसयलि सिंधी देवनागरी जे मार्फति हिंदी दां॒ही हलया वया। वरि सिंधी देवनागरी में किताबनि जी आणोठि इन मुसिबति खे हाथयूं हिमतायो।  अग॒ते हलि संदनि बेरुखि रुगो॒ बो॒ली सां ई नह पर उन संसथाउनि सां भी हुइ जेके सिंधी बो॒लीअ सां गं॒ढयलि हवा। इन जो फलु इहो निकतो तहि रिवाजी सिंधयुनि जो वासतो सिंधी संसथाउनि सां नह जे बरावर रहयो। नुकसानि तह  सिंधी कोम खे पिणि थयो छो तह सिंधी संसथायुनि में बो॒ली जे नसबत में छा कमु थी रहयो आहे, तहिं सां रिवाजी सिंधीयुनि जी चाहि नह हुजण सबब संसथाउनि में ऐड़हा माण्हुनि जी घणाइ थी वई जहिंजो सिंधी बो॒लीअ सां को भी वासतो नाहे। वासतो तह छा घणनि खे तह बो॒ली बी नह इंदी आहे।

ऐन. सि. पि ऐस ऐल पिणि सिंधी बो॒ली जे बाधारे लाइ हिक ऐहम तंजीम आहे। मरक्जी सरकार जी संसथा हुजण सबब इन जी अहमियत खे नजरअंदाज नथो करे सघजे। वेझड़ाइअ मे इहां तंजिमि मिंडिया में सुरखयुनि में आइ आहे। हा इहा गा॒ल्हि धारि आहे तह जहि सबब मिड़या जी नजर में आई आहे, तहि जो सिंधी बो॒ली सां वासतो लग॒ भग॒ नह जे बराबर आहे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह पिछाड़ीअ जें ब॒नि टिन महिनन खां साईं श्रीकांत भाटिया (जेके  ऐन. सि. पि ऐस ऐल में उप सदर जे ऐहदे में कजहि दि॒हनि अगु॒ ताई ब्रिजमान हना) चङा बयानि दि॒ञा आहिनि, जिअं मिसाल जी गा॒ल्हि – सिंधी संमेलन जी गा॒ल्हि हुजे या वरि ऐन. सि. पि ऐस ऐल जे अंदरि हलंदड़ पावर सट्रगिल जी गा॒ल्हि हुजे। संदिसि बयानि घणो तणो फेसबूक मे ई शाया  थंदा आहिनि (ऐं उमेदि तह अग॒ते पिणि इअं हलंदो रहंदो।) हो साईं पहिंजे ईनि बयानिन मार्फति मांण्हनि खां कनि मसलनि वावति राया भी थो घुरे। हिक गा॒ल्हि ध्यानि छिकाअंदड़ आहे तह तह संदसि जो को भी बयानि सिंधी (देवनागरी तोड़े अर्बी लिंपी) में नह हुदो आहे, सायदि खेनि इन गा॒ल्हि की पक करणी हुदी आहे जिअं संदिसि बयानि अणसिंधयूनि ताईं भी पुजि॒नि।

सिंदसि बयानि मां के चुड़यलि हेटि दि॒जनि था

  1. छा तोव्हा खे लगे थे तह सिंधयुनि खे को भी अग॒वाणु आहे
  2. अजमेर जे सिंधुनि खे मिंथ थी कजे तह हो बुधायनि तह छा सचिनि पाईलट सिंधीयुनि जे मसलनि ते केतिरो पयो ध्यानि दे॒
  3. सिंधी खे का भी तसलिम लिपी नाहे, इहा लिपी या तहि देवनागरी या अर्बी ती थी सघे। अन्हा पहिजा राया दो॒ तह इहो मसलो सरकारि जे अग॒यों उथारिंजे (हे बयानि अधु अंग्रेजी ऐं अधु हिंदी में हो)
  4. हाणे तह असां खे देवनागरी लिपी ई अपनाइणि खपे, छाकाणि तह आर्बी लिपी जा॒णीदड़ लेखकनि जी तादाति 30-40 मस अची बची आहे।
  5. मां  सिंधुनि खे मिंथ थो कयां तह अशोक अनवाणी खे पहिजो साथ द॒यो जेको कानपुर मां समाजवोदी पार्टी की टिकेट ते चुड़ पयो विड़हे
  6. सिंधुनि खे अग॒वाटि पहिंजे पाण दा॒हिं धयानु दे॒अणु खपे।धारयनि दा॒हि बिलकूल धयानि नह देअणो खपे।असीं छो धारयनि जा पोईलग थयों। असीं पहिंजा अगवाणि पैदा कंदासिं जेके असां लाई कम कनि।
  7. आउं बंगालि जे वदे॒ वजिर म्मता बेनरजी सां वंगाल में सिंधी अकादमी जी गा॒ल्हि संदिसि अग॒यों रखी आहे, हाणे अगते बंगालि जे सिंधयुनि खे इन गा॒ल्हि खे अगते वधायणो आहे।
  8. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे छो नह जाईफनि खे कमिटि में थो खयों थो वञे। छो नह न दादा लखमी खिलाणी खे ऐन. सि. पि ऐस ऐल में जाई थी दि॒ञी वञे
  9. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे हिंअर 20 मेंबर आहिनि। उर्दू काउंसिल वाङुर ऐन. सि. पि ऐस ऐल में बी अहदेदारनि जी ग॒णप 38 कई वञे।

इनि बयोनिन मां हिक गा॒ल्हि तह साफ आहे तह श्री श्रीकांत साईंअ ते हिअर बो॒ली नह पर सियासति हावी आहे, जहि सबब संदसि बयान थो दे॒। जद॒हि खां साईं ऐन. सि. पि ऐस ऐल जा उप प्रधान चिंडया वया हवा तहि साईं देशभर जे दौरे मां इहो ई हथ कयो अथईं तह सिंधीयुनि खे हिक नेक सियासतदानि  जी सख्त जरुरति आहे ऐं इन जरुअत खे खेनि ई पूरी करणी आहे। इन गा॒ल्हि में दा॒ढ़ो घटि शकु आहे तह सिंधुयनि खे हिकु ऐडहे अगवाण जी जरुरति आहे जेको संदिनि आवाज खासि करे मिड़यो जे अग॒यो रखे। पर उनि खा भी वधिक जरुरति इहा आहे तह सिंधी बो॒ली जी जेको पहिजे वजुद जी झंघ पई लड़े , तहि जे वाधारे ताइ कदम खयां वञिन। हाणे गा॒ल्हि इहा आहे तहि छो ऐन. सि. पि ऐस ऐल जो इस्तमाल सियासति जे लाई पयो थे । ऐन. सि. पि ऐस का आम रिवाजी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे जी संसथा नाहे। इन तंजिम खे के खासि हक दिञा वया आहिनि, जिअं सुबनि में सिंधी आकादमियनि ते भी किक किस्म जी नजरि रखि वञे। हे इहे कम आहिनि जेके कहि भी सियासतदानि जे वस खां बाहिरि आहिनि।

जेको हालु ऐन. सि. पि ऐस जो आहे सो लग भग हर सिंधी संसथा जो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे आर्बी सिंधी जे भेट में देवनागरी सिंधी खे सिंधी कहिं हदि ताई बदकिसमत रहि आहे। जेतोणेक देवनागरी सिंधी खे कनि सिंधी साहित्यकारनि जो साथ मल्यो हो पर संदिनि भी देवनगरीअ में को घणो कोनि लिखयो। जहि सबब देननागरी सिंधी खे कहि हद ताई साहित्य जी नजरि सां कमजोरि पेईजी वई। अजु॒ जेको भी सिंधी अकादमियनि में थी रहयो आहे सो इन सबब ई आहे। जेसिताईं श्रीकांत साईं जी गा॒ल्हि आहे तह हो ऐड़हा बयानि सांदहि पयो दिं॒दो अचे, बदकिसमीतीअ सां कहि भी सिंधी इनि बयानिन जी मखतलिफ कोन कई। हाथयूं कहि कहि तह सांईअ खे हिमतायो भी। लिपी बाबत संदसि राये मां इहो थो तगे ज॒णु साईंअ खे इहा खबरि कोन्हे तह हुकुमति बो॒लीअ जे सतलिम करण महल बि॒नहिनि लिपयूनि जे वजुदि खे मञिदे लिपी जी फेसलो सिंधुयूनि थे छदो॒ , छाकाणि तह इहो सिंधुयूनि ते आहे तह हो केड़हि लिपी था अपञाअण चाहिनि। जेका गलति अंग्रेजनि कई सा हिंदुस्तानि जी सरकारि दोहराअण नह चाहि। लिपि ते संदसि ब॒यो भी हिक बयानि सांइअ दि॒नो आहे तह छाकाणि तह अर्बी लिपी में लिखिंदड हिंअर ग॒णप मे 30-40 ई मस जेडहा रहया आहिनि सो देवनागरी लिपीअ खे ई तसलिम कयो वञे। (सायदि श्री श्रीकांत भाटिया खे जा॒णि नाहे तह इहे 30-40 लेखक ई हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ खे जिंदो रखि वेठा आहिनि।)

लिपी मटणि जो कमु रुगो॒ नई लिपि जे अपनाअण सां ई नथो निंबरे। इहो जरुरि आहे तह इनि लिपि में उहे सब सहुलयतूं हुजिनि जेका कहि भी बो॒ली में हुजनि थयो। मिसालि जी गा॒ल्हि किताब मेसर करण, नई लिपि सिखण जा किताब जूं सहुलयतूं , लुगतयूं (शब्द कोश) ऐं पहिजी बो॒लीअ ऐं कोम सां वफादारि। का भी लिपी अपनाअण महलि के मसला पेश अचनि था। साग॒या मसला अर्बी सिंधी सां भी हुवा। अंग्रेजनि जे महलि लिपी ते तजर्बा पिणि थया। बदकिसमतीअ सां देवनागरीअ ते संदसि पहिरें दिं॒हि खां ई वार पया थेनि। वरि देवनागरी में वदकिसमतिअ सां उनहिनि माण्हुनि जी बरमारि हुई जेके सिंधी बो॒ली सां वफादारि हुजण बिदरौं रुगो॒ हिंदी हिदु ऐं हिंदुस्तानि जे नारे जा मायलि हवा। जहि सबब सिंधी सां दिलो जानि सां वफादारि नह रहया,ऐं इन जो नुकसानि अजु॒ ताईं सिंधी कोम खे मारे थो पयो। असां जेड़हा मसला मराठिनि ऐं गुजरातियूं खे भी आहे। हे भी हिंदु आहिनि ऐं कहि हदि ताईं हिंदु कठरपणो सिंधियनि खा बी बधिक आहे, पर इनि जे बावजूदि संदिनि कद॒हिं भी पहिजी बो॒लीअ खे हिंदी –हिंदु-हिंदुस्तानि सां गं॒दे॒ कोन रखी। हिंदुवादि थिअण को भी दो॒हु नाहे पर हिदुवादि ते पहिंजी बो॒ली जी आजाई कूर्बानी देअण यकिनं दो॒हु आहे ऐं पहिजे कोम मां बेवफआई आ।

देवनागरी सिंधीअ जो सभनि खां वदी॒ अहमियति वारि गा॒ल्हि इहा आहे तह इहा हिक ध्वनितामकि (Phonetic) लिपी आहे जेका उऐं ई लिखी वेंदी आहे जिअं बो॒ली गा॒ल्हाई वेदि आहे। साग॒यो ई हालि हिंदुस्तानि जे लग भग सभिनि लिपयूं जो आहे (उर्दू खां सवाई).  जहिं सबब इहा तनि लाई तमाम सहुलियति वारि थिंधी आहे जिनि खे गा॒ल्हाअण तह अचे थी पर लिखण नथी अचे। सिंधी छो तह टरयलि पिखरयलि आहिनि, हिक ध्वनितामकि लिपी यकिनन मददगारि साबित ति थी सघे। इन जे भेटि में आर्बी सिंधी में ऐड़हा चङो लफज आहिनि जेके गा॒ल्ह्या हिकड़े नमोने आहिनि पर लिखण महलि साग॒यो तरिको कोनि अपञायंबो आहे। वरि अखरि , लफजनि जी शुरुआति , विच ऐं पिछाड़ीअ में मुख्तलिफ में लिखयो वेंदो आहे। सिंध में ऐडहयुं गा॒ल्हियूं कोन आयुं छा काणि तह असीं हिक ई सुबे में हवासिं ऐं इन गा॒ल्हि खे भी नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिंधी ननढ़े खां ई सिखण सबब, इहे मसला कद॒हि कोन पेश आया। असीं जेसिताईं लिपीअ में कहि हदि ताईं थोड़ी घणी फेर घारि नहं कंदासिं तह सिंधीअ खे हिंन मुल्क में हमेशाहि पहिजे वजूद जी लड़ाई लडणी पवंदी।

जेतिरो नाणो हिंदोस्तानि जी सरकारि सिंधी ते खर्चेपई ऐतरो तह सिंध में भी नह पयो ख्रर्चो वञो। इन जो बावजूदि सिंधी सिंधी बो॒ली ऐं संसथाउं जा हालति कयासि जोगी॒ आहे। अजु॒ सिंधी संसथाउनि जी हालत इन सबब जी खराब आहे छाकाणि तह को भी लूलो लङड़ो सिंधी अकादमियुनि जो सरबरा थी थो सघे, भले खेसि सिंधी लिखण पड़हणि अचा या नहि। अजु॒ वकत अची वयो आहे तह असीं सिंधी बो॒ली के किमत ते थिंदड़ सिंयासी अगवाणन जी सियासि उमेदिनि ते रोक लगायों ऐं ऐड़हनि सिंधीयुनि खे हथ सिंधी अकादमयुं जी वागयु द॒उनि जोके सिंधी बो॒लीअ लाई को योगदानि द॒ई सघिनि। जेकद॒हि असी इऐं ई बो॒ली ऐं कोम खां मुहु मोडे वेठा रहयासिं तह सिंध वाङुरि सिंधी बो॒ली पिणि सिंधियुनि जें हथों निकिरि वेंदी।

सिंधी साहित्य जो सुमरो तारिक आलम आबरो जो लाडाणो

इहा गा॒ल्हि छंछर दि॒हं जी राति जी आहे, मस जेड़हा द॒ह वगा॒ हूंदा फेसबूक में सिंध मां शाई सिंधी आंलाईन न्युज पोर्टल “सिंध नयूज” मारफति अहवाल मल्यो तह सिंधी बो॒ली जो नलेरो साहित्यकार सांई तारिक़ आलम आबरो नह रहयो। मुंखे लगो॒ इन ते थोडी छंदो॒ छाणि कजे। इन लाइ मां इंटरनेट जो सहारो वर्तो। सुबूहु थिंदे ई सिंध मां शाई थिंद़ड अखबार “काविश” जे पहिरें सुफे मे साईं तारिक आलम आबरे जे लादा॒णे खबर्र छपयलि हुई, सुरखयूं कजह हिन रित हुई…..”तारिक आलम आबरो हकूमति जो वेहदी जो शिकार थिअण बैदि हमेशाहि लाई विछ़डी वयो।“ तारिक आबरो फबर्वरि खां कराचीअ जे सिविल असपतालि में भर्ती हवा। खेसि गिड़दनि (लिवर) ऐं जेरे (किड़नी) जी बीमारी थी पइ हुई। ड़कटरनि जो चवण हो तह जेरे जे रुंबण (transplantation)  जी तह सहुलियत पाकस्थान में आहे पर गिड़दनि जे रूंवण लाइ वेझे खां वेझो मुल्क हिंदुस्तानि आहे, जहिं लाइ खर्चु घटि में घचि 60 लख अचणो आहे। तहि खां शुरु थी साईं आबरे जी हिक जदोजिहद। आबरे साईं पहिंजे बिमारी जी दि॒घी लड़ाई 1986 में शुरु कई हुई जहि महल हाई बल़ड़ प्रेशर सबब संदसि गिड़दनि में खराबी आचि वई हुई। उन वक्त सिंध युनवसिटि जे प्रफेसर निशार अहमेद निर्वानी पहिंजो गिड़दो खेसि दानि दि॒ञो हो। इहो रुंवणु लंड़न असपतालि में 1987 में थियो हो जहि जो खर्चु 22 हजारि पाउंड आयो हो।हो इलाज सरकारि खर्चअ ते महमद खां जोणेजे जे दि॒हनि में थयो हो।

तारिक आबरे लाइ सदसि बीमारीअ सां लड़ाई हिक नित निअम बणजी पई हुई। हो सिंधी सकोफत जी गादी जामशोरो खां कराची इंदो हो ऐं ढ़ाइलासिस कराऐ पहिजो कम ते लगंदो हो। पर पिछाड़ीअ जा पंज महिना यकिनन तारिक आबरे लाइ औखा साबित थया। संदिसि गिड़दनि ऐं जेरनि कम करण बंद रके छदो॒ हो ।. हिक पासे ऐदी॒ वदी॒ रकम ऐं बे॒ पासे पहिंजे साहित्य जी ग॒णती। इन 60 लखनि जी रकम मां सिंध जे वदे॒ वजिर कायम आली शाह 7 लाख, सिंध सकाफति खाते 15 लख ऐं सिंध अदबी बोर्ड़ 5 लखन जी मदद देअण जी पधराई कई, पर तद॒हीं भी 60 लखनि जी किमत आञा चङो परे जी गा॒ल्हि साबित थी। हो पंजनि महिनन खां पहिंजे पाण सां लड़ंदे रहयो ऐं आखिर कार छंछर दि॒हूं राति जो नाऐं वगे॒ लादा॒णो करा वयो। पोईतों पहिंजी जोणसि खां सवाई बि॒न पुटनि खे खदे वयो।

तारिक आबरे जो जन्म 10 अप्रेल 1958 जो सिंध जे लाड़काणे जे कंभर तालके में थियो हो। जद॒हि हो बि॒न वरहयनि जो हो तहि संदसि घरवारा हैदरआबाद लदे॒ आया हवा। पराईमरि ऐं सेकेंड़री तलिम हैदरआबाद में पूरी करण बैदि ऐम ऐ सिंधी साहित्य में सिंध युनिवरसिटी मां परी कई। 1989 में हो सिंधी अदबी बोर्ड़ जामशोरे में मलाजमि करण शुरु कई। इन अहदे ते रहि हून चङयू अदबी जिमेवारयूं निभायुं ऐं पिछाडीअ जे दि॒हन में सिंधी अदबी रिसाले महराण जो संपादक जी हसिसत में कमु कयो। तारिक आबरे सिंधी बो॒ला खे के आहमि काहाणयूं दि॒नूं जहिं में आयसि ओवासि, सुञाणप जी गो॒ल्हा, कोअल, फेम, राति शांत ऐं सोचयूं शामिल आहिनि। संदसि कहाणी जा मजमुआ कजहि हिन रित आहिनि. राति सांत ऐं साचयूं 1979 में, मञाणप जी गो॒लह में 1998, इन खां सवाईं संदसि कविताऊं जो मजमूओ मोरनि ओचा गा॒ट 1992 में शाई थयो। इन खां सवाइ संदसि लिखयल टी वी ड़ामा हिन रित आहिनि “पेवंद”, “तूंफान खां पोई”, “चंढ़ रहे थो दो॒र”, “छांवरो” वगीराह शामिल आहिनि।

पर जहिं सीहित्य जी संफ लाई आबरो खें इंदड़ दि॒हनि में सुञातो वेंदो, उहा आहे नावेनल जी संफ। नावेलनि यानि उपनयासि। “रहंजी वयलि मंजरि” बिरहांङे खां पोइ सिंधी साहित्य में हिक अहम जाई वालारे थो। इन गा॒ल्हि जो सबूत इहो आहे तह इन जा हिक नह चारि चारि छापा शाई थी चुका आहिनि। सिंधी साहितय में रोमांसि जी संफ तें इन खां आगे॒ भी किताब लखया वया हवा पर कहिं भी “रहंजी वयलि मंजर” जी जाई कोन वालारि। हे नावेल बि॒न आशिकनि बाबति आहे। कहाणी आहे सांजाहि ऐं पेंहिउ की इशक जी। कहाणयूं तहि चङयू थयुं लखयू वञिन पर इहे कहाणयूं आम माण्हुं जे दिल ओ दिमाग ते केतिरो असरि कंदयू इहो किताब खे पढ़िंदड़न जे समाजी माहोलि ते होंदो आहे। हिंदुस्तान में जेकरि दि॒सजे तह रोमांस ते ऐड़हा नावेल दादी पोपटी हिरानंदाणी भी पिणि लखया पर का खासि कामयाबी कोन मिलि.सि। असांजो हिंधी समाज ऐड़हिनि गा॒ल्हयुनि लाई तयार नाहे। असां वटि हिते इहा कालेजनि वारि ज॒मारि कद॒हिं अचे थी ऐं कद॒हि साथु छदे॒थी वञे इहा सुध ई नथी पवे। नियाणयूं कालेज ताई मस पूजिनि थयूं जे मिटयुं माईटी जी गा॒ल्हि शुरु थेनि थूं वञिन ऐं छोकरनि लाई, हाई घोड़ो धंधो, या हाई घोड़ा पैसो। कालेजनि वारी भी का हयाति थींदी आहे, असां जे समझ खां बा॒हारि थी पई आहे। हिक लङे दादी पोपटीअ खें भी कहिं मराठी सहित्यकार चयो हो….”सिंधी वरि इशक महबति भी कंदा आहिनि छा” ….

खैर गा॒ल्हि खिथो शुरु थी ऐं किथे वञी पहुति। असांजो कोम जो ई न पर साहित्य जो भी विरहांङो थियो, सिंध वारा हिक पासे ऐ असां हिंद जा बे॒ पासे। इहा असांजी बदि किसमति कोनहे तहि ब॒यो छा आहे जे सिंध ऐं हिंद जो साहित्य 70 वरहयनि खां जलावंती पया सठे। अजु॒ इन जी सख्त जरीरत आहे जे बि॒नहिं मूल्कनि जो साहित्य में को ऐको अचे जिऐं साहित्य भी आग॒ते वधे ऐं लेखक भी कजहि लाणो कमाऐ सघिनि, जिअं ब॒यो करहि थे नह थे पहिंजी जिंदगीअ खे बचाअण लाइ पहिजा हथ नह फैलाणा पवनि।

तारिक आबरो लेखक हो, हो लिखण चाहिंदो हो। पर ल्खण लाइ खेसि मोत सां जंघ खटणी हुई। हो इहा जंघ खटी को सघो या खणी चईंजे हारायो वयो। असांजो कोम खे इन जेड़हनि अदिविन लाइ यकिनन का हमदर्दी नाहे, जेकरि हूजे हा तह असीं सारिक आबरे खे इंअ मरण लाई हेकलो कोन छदे॒ दा॒यों हा।