गा॒ल्हि सिंधी क़यादत जी


 

सिंध में तोडे हिंद में हिंदु सिंधीयूंनि लाई हालतयूं हिक बे॒ जे उभतरि हूअण जे बावजूद सियासी कयादत तोडे सियासी सोच में वाईडो कंदड हिक जेडहाई डि॒सण में ईंदी रही आहे। इन जो वडे॒ में वडो॒ सबूत संदुनि बिं॒हि मूल्कनि में बिन पार्टियूंनि डा॒हिं अंधी वफादारी हिकु वडो॒ सबब रही आहे । हिक पासे जिते  सिंध जा हिंदु भूट्टे जे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी में शिर्कत करे गिद गिद थेनि सागी॒ रित हिंदुस्तानि जा सिंधी भाजप में पाण खे अर्पण करण में पूरा हूंदा आहिनि।

सिंधीयूंनि में हिक धारिनि जो थी वञण जी प्रथा या फितरत का अजु॒ जी नाहे। विर्हांङे खां अगु॒ सिंधी हिंदु कांग्रेस सां तेसताई वफादार रहया जेसिताईं विर्हांङे तोडे लड॒पण जा वाक्या संदुनि हिकु कापारो धकु कोन हयों। इहो धकु ऐतिरो जबरदसत हो जे विर्हांङे जे 65 सालनि खां पोई भी हिंदुस्तानि जा सिंधी उहे मंजर खे किन वासारे सघया तह आखिरि सिंध जा कांग्रसी  किअं सुता रहजी वया …त किअं हो सिंध जे मटिंदड सियासी माहोल खे समझी किन सघया ऐ रातो रात पहिंजे डे॒हि में इ परडे॒हि थी करार डि॒ञा वया।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मूसलमानि जो हिक इसलामी रियासत डा॒हिं लाडो हर कहि खां गु॒झो हो। अंग्रेजेनि जे डिं॒हनि जो सिंधी नस़र जो हिकु अहम थंबो लेखिंदडु -सिंधी लेखक तोडे अखबार नुवेस जथेमल पर्शराम गुलराजाणी मोमिनिं जे इन फिरयलि मनोवरती बाबत सिंधुवासियुनि खे आघाहि कंदे चवंदो हो – खिलाफत आहे आफत, ऐं इहा खिलाफत सचु पचु वडी॒ आफत खणी आई। खिलाफत तहरिक में पाक थी निकतलि हर अगवान भले इहो जी ऐम सेईद हूजे,या वरी  अबदुल माजिद सिंधी, पिर ईलाई बख्श, अयूब खुरो या वरि हिदाईतुल्लाह पहिंजी सियासी सघ हिंदुनि खे हिसाअण सबब ई पुख्ती कई जेको सिलसिलो संदुनि वारिसनि तोडे पोईलगनि पारां कहिं न् कहिं शकल में वडी॒ संजिदिगीअ सां अजु॒ भी पई हलाईदां अचनि। सिंध में पीर-मिर-जागिर्दार जी जमायति आजु॒ हिंदुनि खे उनही रित ई पई हिसाऐ जहि रित जहि रित मसजिद मजिलगाह जे वकत पई हिंदुनि खे हिसायो हो। पिछाडीअ जे मुञे सदी में उनहिनि की इसलामी कयादत में जरे जो भी फेरो किन आयो आहे भले इन अर्से में सिंध जे शहरनि जा सेकडो अण सिंधी दावेदार पैदा थी छोन न वया हूजिनि ।

सिंध में हिंदु सिंधी कयादत जे ठिकेदारनि जूं अख्यूं तहिं महल खुलणु खपिंदी हूयूं जड॒हि मस्जिद मंजिलगाह जा फसाद थिया। हिंदु अगवान न् तहि महलि ई हालितुनि खे समझी सघया ऐं न् ही भगत कंवर राम जे कतिलनि जा नाला सिंध ऐसेलमबली में खणिंदड हिंदु अगवानु पंमाणी जे कतल महलि, जहि खे सिंध ऐसेलमबली खां निकरिंदे ई कत्ल कयो वयो हो। अंग्रेजनि जे पिछाडीअ जे डि॒हनि में सिंधी हिंदु अगवानि जे सियासी नादानीअ जो किमत आम हिंदु पई चुकाई जेका रिवायति आजु॒ ताई सांदह पई वरजाई वञे।

जेका गलति सिंधी हिदुनि कयादत सिंध में कई तनि जो नुकसानि रिवाजी सिंधीयूंनि पहिंजी मातृभूईं खे कुर्बान करे बर्पाई कई। मूल्क वयो, लड॒पण थी, हिक सुबे में रहिदड कणो कणो थी पूरे हिंदुस्तान तोडे दुनिया भर में टरि पिखरजी वया, साण साण हिंदु सिंधीयूंनि जो सियासी जोर हमेशाहि लाई निबरी वयो सो धार ढचो। जड॒हि तह हिंदी-उर्दू-गुजराती गा॒ल्हिईंदडनि लाई लडवण 1954 में ई हमेशाहि लाई निबरी वई सिंधीयूंनि लाई अजु॒ ताई पहिजे पुरो रुतबे सां पई हले।

अजु॒ मूल सवालु इहो आहे तह आखिर छो हिंद जी सिंधी कयादत अहिडे मसले थे खामोश आहे। हिंदु छो पया लडनि.केडहि हातल सबब पया लडिनि, केरु थो खेनि लडण लाई मजबूर करे इहे सवाल हिअर कहिं खां भी गु॒झा नाहिनि रहया। अजु॒ सिंध में अकलितयनि जो हाल सजी॒ दुनिया जे आडो॒ आहे पर असां जी कयादत ई कजहि अहिडी खामोशी अक्तयार कई आहे जे असां खां पहिजनि ते थिंदड जूलमअ ते भी वाका करण नथा पुजि॒नि। हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जो इहो रदेअमल सिंधी हिंदु कयादत जो हिउ निहायत डुखाईंदड बाबु रहयो आहे।

हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि जा ब॒ह कदेवार अगवानअ जेके इअं त् पाण खे सिंध जा॒वलि करार डे॒अण में कड॒हि भी को हिजाबु कोन कयो आहे पर सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जे सुरनि ते वाईडो कंदड खामोशी अख्तयार कई। सिंध में हिंदु छोकरिन ते थिंदड लिंग-कंडा॒इंदड वारदातुनि समाजवादी पाईटी ऐं बी जे डी ताई खे संसद में वाका करण लाई मजबूर कया पर जेकरि के माठ रहया तह हिंद जा सिर्स ते वेठलि हिंदु सिंधी अगवान। न आडवाणी लफजु उकारियो ऐं जेठमलाणी जो की राजसथान मां राज्य सभा पारां चूडिजण जे बावजूद (जिते अजु॒ जी तारिख में 4 लख सिंध लड॒यलि हिंदु रहिनि था) का भी हलचल जो अंदेशो ताई किन डि॒ञो।

पिछाडीअ जे 65 सालनि में भी जेकरि सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जो वाउ साउ लहजे तह इहा हकिकत चिटी रित साबित पई थिये तह हिंदुनि जो सायदि ई को तब्को रहयो आहे जेको पाकिस्तान में इसलाम जे नाउ ते कयलि जूलमनि जी मार न् झेली हूजे। आम सिंधी मूसलमानि इअं 1947 खां अगु॒ वारी सिंध लाई जजबाती त् थिऐ थो पर पहिजे निजी फाईदे लाई मठजी वललि हालूतनि जो फाइदो भी हथ करण खां बी कबा॒ऐ नथो। वरि जेके जूलम नथा भी कनि से पहिंजे बचाउ में मिंहू –साईं इहो सब असां सा पई थिऐ थो जे साऐ हेटि पहिजो पचाउ जी वाठि नेठि गो॒ल्हे था लहनि। अंदरुनी सिंध में हिंदु ते जूलम जो डोहारी सिंधी मुसलमान रहया आहिनि जिनि खे पूरो फाईदो हूकूमती इरादनि डि॒ञो आहे। जिते किते भी हिंदुनि जू नयणयूं अग॒वा थियूं आहिनि, मलकतयूं हडपयू वयूं आहिनि, हिंदु मंदिरअ ढाहा वया आहिनि,  हिदु नियाणियूं खे इसलमा कबूल कराअण जो मिहू करे विकयो वयो आहे, इन हर वारदात में सिंधी मूसलमान खे भरपूर साथु अण सिंधी मूसलमान तोडे हूकूमती इरादनि ऐं सिंध जे  पीर- मिर-जागिर्दारनि जी कि हिक जेतरि भागेदारी तहत साथु डि॒ञो आहे।

सिंध में हिंदुनि लाई के घणयूं वाटयूं किन रहयूं आहिनि। सिंध में अगवानि में भी जिनि खां पहिंजे माण्डनि जा डुख नह सठा वया तनि ऐतजाज कयो पर नेठि मूल्क मां लिकी, रात जे उंधारे में खेनि लडणो पिणि पयो। इंहिनि मां व् नाला हवा श्री राम सिंह सोडा ऐं राम सिंह सोढा। दिलचसप गा॒ल्हि त् इहा आहे जे इहे अग॒वान नह रूगो॒ लड॒ण महलि ऐसेलमबली तोडे वजिरात जा मेमबर हवा पर थर परकार जा हवा जिते चयो थो वञे तह वध में वध हिंदु था वसिनि। जड॒हि चूंडयलि अवामी नुमाईंदनि जी ऐडही हालत हूंदी तह आम हिंदुनि जी केतरि हलिंदी पूजदी इन जो अंदाजो बखूबी लगाऐ थो सघजे।

सिंध में हिंदु हिक अहिडी रियासत में फाथल आहिनि जिते साणसि हिक इंसासन ताई करे कोन लेख्यो वेंदो आहे। हूकूमत भले पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हूजे या बे॒ कहि जी, हर सघेरे भोतार तोडे वडे॒रे खे खबरि आहे तह हिंदुनि लाई मर्दु माणहू थी बिहण जी कोई हिमथ शायदि को हिंदु मेडे सघिंदो। वरि हिक खामोश हिदुस्तान तोडे हिंदुस्तानी सिंधी समाज इन रियासती इरादनि जो हौसलो वधायो आहे। सिंध में बचयलि हिंदु नेठि जेकरि वोट डे॒ त् कहिंखे डे॒नि…। ब॒यो त् ठहयो पर हिअर त् कोमीप्रसतनि लाई पिणि मञयो थो वञे तह हो भी पया हिंदुनि खां भतो उघारिनि। मतलब हिंदुनि सां थिदड जूलमनि में कोई पोईते नथो रहण चाहे।

पाकिस्तनि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध यानी सिंधी आहिनि सो हिंदुनि खे इहा आस हूदी  हूई तह ब॒यो कोई न त् सिंध में संदुनि सुर पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी हिक सिंधी पार्टी हूअण सबब जरूर कहिं रित संजिदगी डे॒खारिंदी पर हिअर सा भी उमेदि नाहे रही। पिछाडीअ जे पंजनि सालनि में हर वडी॒ नंढी वारदात जहि में हिंदु सताया वया आहिनि भले इहो चक में हिंदु डाकटरनि जो कतल हूजे या रिंकल कुमारी या बे॒ कहि हिंदु नयाणी जो अग॒वा के स हूजे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जा अग॒वान मलूस रहया आहिनि। इहो सब इन जे बावजूद जे सिंधी हिंदु पहिजो हर हिक वोट प प प खे डे॒ थो। बाकि सिंध बचाओ कमिटि (सिंधी मूसलिम कोमिप्रसतनि जी जमायत) वारनि लाई त् चवण मूशकिल आहे चूंडियनि बैदि केर किथे हूंदो, इन हालति में हिंदु जे लाई चूंड जे डि॒हि या तह घऱनि में वेही रहणो आहे या न् तह बि॒हर प प प खे इन उमेदि सां वेट डे॒अणो आहे तह हो हिंदुन ते रहम खाई साणसि हिंक इंसान जेडहो वहिंवार कदी।

हिंदुस्तान जी सिंधी कयादत पहिंरिं नजर में जेतोणेकि सिंध जेडहि वेवसि न बी महसूस थिऐ पर इन में को भी शकु नाहे त हिंदुस्तान जा सिंधी हिक पार्टी जे जा॒र में मख्मल तोर फासी चुका आहिनि। हिंदु सिंधीयूंनि जो भाजप या हिंदु हिमायती पार्टीयूंनि डा॒हि झुकाउ सिंध में ई साफ नजर इंदो हो जड॒हि कांग्रेस हिक पासे सिंधी हिंदुनि खे मायूस कयो तह बे॒ पासि आर ऐस ऐस तोडे हिंदु महासभा हर मदद लाई त्यार हूंदी हूई। बदकिसमतीअ सां सिंधी कयादत हालितुनि सही रित समझण में कासिर रही ऐं विकहांङे बैदि इंदड माहोल खे समझी किन सघी, जहिंजो नतिजो इहो निकतो तह जड॒हिं हिंदुस्दतानि मां मूसलमानि काहि आया हिंदुनि खे पहिंजा जान बचाअण खां सवाई ब॒यो को चारो रहयो ई कोन्हि। हिंदुनि अग॒वानि जिनि जे आसिरे सिंध में जे विरहांङे की गा॒ल्हि ते माठ रहया से मिडई साईं हिंदुनि सां वडो॒ जूलम थियो नाहकु थियो वारे नारनि ताईं पाण खे महदूद रखो। अजु॒ भी जड॒हि सिंध जा शहर संदुनि हथनि मां खिसकी चुका आहिनि हो धारयनि जो सामनो करण लाई असुलि ई तयार नाहिनि, जड॒हि तह हिंदुनि जी लड॒पण अजु॒ भी पहिजे पूरे शबाब में पई हले।

रिवाजी सिंधी भले सिंध खसिजण जे मातम में अजु॒ बी बु॒ड॒यलि हूजिनि पर हिंदुस्तानि जी सिंधी कयादत 1947 वारी हिंदु कयादत जे नक्शे कदम ते हलिंदे 1947 में कयलि सियासी आपघाती कवायति खे वरजाअण में ई पूरी रही आहे। इहो ई सबब हो त जड॒हि 1971 वारे हिंद पाक जी लडाई में ज॒ड॒हि लग॒ भग पूरो थर परकार हिंदुस्तान जे हथनि में अची चुको हो हिंदुस्तान जी सिंधी कयाद तोडे सिंधी सियासी अगवान थर ते सिंधी हिंदुनि जी दावेदारी पेश करण जी सघ ताई किन मेडे सघया, इन लाई जाख़डो त परे जी गा॒ल्हि थी।

पिछाडीअ जे 70 सालनि खां अजु॒ ताई सिंधी कयादत हिंअर पिणि उते फातल आहे जिते अंग्रेजन जे डि॒हनि में हई। न पार्टीयूंनि जो वहिंवारु मठयो आहे न ई सिंधीयूंनि जो पहिजो किरदार मठण जी का चाहि ई डे॒खारी आहे । पहिंजो कोम खां अगु॒ पहिजे निजी फाईदे जी पचर अजु॒ भी संदुनि ते हावी रही आहे जेतरी सिंध में रहिंदे हूदी हूई। इहो हिक वडो॒ सबब आहे जे असीं हर चूंडनि महल सियासी पार्टीयूंनि खे मिंथा कंदे रहजी वेंदा आहियूं तह रहम करे हिक अध तकयूं सिंधीयूंनि खे डे॒। असी कड॒हि पाटियूंनि ते जोर विधो ई कोनहि वरि असां जो पार्टियूंनि डा॒हि वहिवार ऐतिरो तह रिवाजी थी पयो आहे जे को तमाम घणी सहूलाईअ सां सिंधी वोटनि जी आसानी  सां अग॒कथी करे सघबी आहे। फर्कु रूगो॒ ऐतिरो ई रहयो आहे जे कांग्रेसी जी जाई ते हिअर भाजप बिठी आहे।

राम जन्म भूमि वारो मसले ते भी असी पहिंजे कदेवार अगवान जी पुठिभराई में इअं त का भी कसर कोन छडी॒ पर मोट में थिंदड सिंध में हिंदुनि सां थिअल कहरनि खां बेखबरि रहयासिं। सवनि हिंदु मंदिरनि खे ढाहो वयो, हिंदु घर साडया या वरि हिंदु नयाणयूंनि खे अगवा कयो वयो। बलूचिस्तान में तह जिंदा माणहूनि खे साडयो ताई वयो। सिंधी कयादत हिक बर्फ सां जमयलि हिक गलेशिअर वाङुर ई रही, इन जे बावजूद जे तहि महल जे कदेवार बी जे पी अगवान श्री अटल बीहारी वाजपेई इन कहनि बाबत डुख ऐं अफसोस जाहिर कयो, पर असां जी सिंधी कयादत उते भी असां खे धोको डि॒ञो। सिंध जे हिंदुनि सां असांजी उहा इ वाठि आहे जेका बंगाल ऐं बंगलादेश जे हिंदु बंगालिनि जी या वरी हिंदुस्तानि ऐं श्री लंका में रहिंदड तमिल कोम जी। पर जड॒हि तह बंगाली ऐं तमिलअ पहिंजे रत लाई हाई गोडा कनि असी पहिंजनि लाई बेखबर रहूं।

सिंधी हिंदु कयादत खे जेकरि पहिजे ऐं कोम जो वजूद सोघो करणो आहे तोडे पहिजा हक हासिल करणा आहिनि तह खानि वोट बैंक जी सियासत मूयूनिसिपल तकयूंनि तां लोक सभा जे तकयूं समझणी वपंदी। साणु साण इन मटयलि कयादत जे जोर ते फहिजा ऐजेंडा भी रखणा पवंदा। बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि जे जहनि में इहो वेठलि आहे तह खेनि भापज इन रित इजत डि॒दी जहि रित खेनि हिंदु महासभा सिंध में रहिदे डिं॒दी हूई।

हिंदुस्तान में सिंधी कयादत खे वकत सा मठणो पवंदो, साणु साणु सिंधी हिंदुनि खे ..रूगो॒ लोहाणा (वाणिया) ई सिंधी लेखबा वारी कवायत मां निकरी हर सिंधी लडयलि हिंदु खे इपनाअणो पवदो, ढाटी तोडे कच्छी लहजो गा॒ल्हिइंदड भील, मेघवार, सोढा राजपूजनि या ब॒यनि जातियूंनि खे सिंधी मसाज हो हिस्सो मञणो पवंदो। हो भी असां वंहुरि सिंधी मूसलमानि जा सतायलि आहिनि जेडहा असां अहियूं । हूनिनि भी सागी॒ लड॒पण कई आहे जिअं असां जे वड॒नि कई। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि त असां हजारनि सालनि ताई हिंकु धी रहया अहियूं सिंध में।

सिंध जा हिंदु जेकरि कहिं डा॒हि आलयूं अखयूंनि खणि इन मूशकिल हालतुनि में डि॒सिनि था पया तह उहो आहे हिंदुस्तान में वसयलि हिंदु सिंधीयूंनि डा॒हि। इतहास अजु॒ वरि सिंधीयूंनि खे उन मोड ते वेहारो आहे जिते असीं 1947 में हवासीं। सिंधी कयादत खे संजिदगी डे॒खारिंदे पाण ते लगल मेरा दाग उघणा वहदां या न तह हिक मतलब-प्रत, समाज जो लिगाब पाअणलाई तयार रहणो वपंदो।