सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

सिंध में जेकरि कहिं सिंधीअ खे आर्तवार डि॒हिं कहिं लेख जो इंतजार हूंदो आहे त उहो आहे श्री असद चांडिये जे अवाणी आवाज में शाई थिंदड लेख को। असद चांडियो उन मजलूमनि जो आवाज आहे जहिं जो सडु॒ बुधी बि सिंध अणबु॒धो कंदो आहे। पेश आहे संदुसि लिखयलि हिक बेहतरिन लेख। हे लेख अर्बी सिंधी मां देवनागरी सिंधी में उलथो कयलि आहे। उमेदि तह पडिहंदडनि के वणिंदो।

asad-chandio

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

लेखक असद चांडियो

साल 2006 में नयाणी के पैदाईश खां अगु॒, मां केतिरा ईं डि॒हिं सोचिंदो रहिंदो होसि त पहिंजे पहिरें बा॒र खे ऐडहो केडहो नाले डि॒जे जो, प्यार जे इजार में कहि भी किसम जी का कसर रहजी नह वञे। ऐं पोइ वरी वरी सोचण बैदि भी जहन में हिक हंद ते ज॒मे बेही रहयो ऐं इअं ई 22 अगस्त 2006 ते पहिंजी बा॒रङी जो नालो पवजी वयो “सिंधु” । नयाणी खें “सिंध” जो नाले जे॒अण खां वधीक, मूखे प्यार जो ब॒यो को इझहार सुझयो ई नह !! जनि भी मिठन माईटन खे खबर पई तह पहिरें धक में “सिंध” खे “सिंधु” ई समझो, पर पोई मां खेनि समझाअण शुरु कयो :  “त सिंधु , सिंध जो हिक दरयाउ आहे। हिअ सिंध आहे, पूरी सिंध। रणण, पठनि, पहाडनि बयाबानन, रेघिस्तानि,सायनि, माथिरनि, शहरनि, समूडनि ऐं बेट समेत मखमल सिंध”। बे॒ डिं॒हिं “अवामी आवाज “ पहूचण ते जड॒हनि दोस्तनि , साथीयूंनि खे बुधायूंम त : “मूहिंजे घर सिंध आई आहे” तड॒हि समूरन इंतहाई खूशीअ जो इजहार कयो सवाई हिक दोस्त लाला हूसेन पठाण जे, जहि हिकु लम्हो खामोश रहण खां पोई चयो :  “पहिंजी बा॒रडी ते सिंध नालो न रखें हा, सिंध त डु॒ख ई डु॒ख आहे”.

19 जनवरी 2013 में खपरे शहर मां  पहिंजे ससु मुडुसि ऐं सहूरे समेत वाटि वेंदे ऐलाईके जे बाअलसर मरी खांदान हथउ अगवा कयलि धणी भील जहिंखे पोई कुवांरी छोकरी ऐं पसंद जो परणो कंदड “प्रेमिका” करे इअं जाहिर कयो वयो जो, खेसि जज आडो॒ पेश करण दौरां संदुसि वकिल कांजी मल खे अदालत पहूचण जी हिमथ कान थी !!! ऐं पोई धनीअ जी माउ समझू भिल अदालति बा॒हिरां इअं चवदे भी रही ऐं रोईंदे भी रही  “मूं सां इंसाफ कंदो तह निरी छत वारो,  जमिन खुदा असां खे इंसाफ नथा डे॒ई सघे। असां गरिब आहियों, कोर्ट ऐं कानुन असां लाई नाहिनि। मसलनि 15 डिं॒हिं ऐतजाज कयो, पर इंसाफ मिली न सघयो”।

मूंहिजे नई दिल्ली वेठल दोस्त इअं ई पइ रोयो जो, हो पहिंजो रोअण जाहिर करण चाहे भी नथो। पहिंजो डुख असा सा सुलण भी चाहे थो, पर खेसि पहिंजी पीडा जे बदनामीअ जो दाग॒ बणजी वञण जी त पक आहे पर इनसाफ थी सघण जो को भी असिरो नह !! जहिं करे हो नह चाहिंदे भी चवे थो:

“असद, तुहां सा हिक दिल जी गा॒ल्हि वढण चाहया थो । मां 11 जूलाई 2012 जो पहिंजे सिंध माता खे छडे॒ हमेशा लाई भारत हल्यो आयूसि, आजु मूखे दिल धोडि॒दड खबर मिली आहे तह अजु॒ मूहिजे 14 सालनि जी सोट  जी धीअ खे अगवा करे “पाक” कयो वयो आहे। 14 सालनि जी मासूम बारडीअ खे 15 डिं॒हिनि खां पोई, घोटकीअ जे बालसर वट जाहिर कयो वयो आहे। मूंहिंजा लूडक नह पया बिहिनि, पर इहे सिंध का लडक आहिनि । आलाई कड॒हि इन लाईक थिंदासीं जो सिंध जा लूडक उघी सघींदासिं ……!!?

पंजनि सालनि जी उमर में हिकु ऐडहे ऐजाय जो शिकार थियलि मासूम वेजंती , जहि जो हर को तसवीर करण खा भी कासिर आहे, जूं लियारी जर्नल असपताल में डि॒ठल उदास अखयूं ऐं संदुसि डा॒डी संगिता जो आलयूं अखयूं सां पुछल सवाल :

“असां खे इंसाफ नाहे मिलणो तह इजाजत डि॒यो तह असीं पहिंजे मूल्क हलया वञूं ?”  पहिंजे देश में वेसाउ घातीअ जो निशाणो बणयलि हिक मजलूम के जुबान ते आयलि जिउ झरिंदड लफज असां खे का गा॒ल्हि समझाऐ सघिंनि था…मजलूमनि जे दर्द को अहसास डे॒आरे शघिनि था..!!

16 महिना अगु॒ चक शहर में, काजी गूलाम मूहमद भयई दिवान दुकानदार खे उधड घुरण जी इअं सजा डे॒आरी जो , संदुनु नोजवाननि ते कूडो भता मडही, जहि डिं॒हि कुर्बानीअ जे ईद जी खुशी पई मल्हाईजे वई, इन शाम को कलिनिक ते वेठलि चईनि दोस्तनि डाकटर अजित कुमार, नरेश कुमार, अशोक कुमार ऐं डा सत्यपाल से इअं पई गोलयूं वसायूं वयूं जो फक्त डा. सत्यपाल ई सख्त जखमी थिअण जे बावजूद भी पहिंजी जान बचाऐ सघयो। नंढे शहर में हिक ई वक्त टे अर्थयूं उथयूं पर इलाके का मजहबी जनूनि इन गा॒ल्हि ते भी चिड्ही पया तह- टिन इंसानन जे कतल को केस छो दाखिल करायो वयो !!? जे कानून के किताबनि जो पेट भरण लाई  को काग॒र कारो करणो ई हो त पोई , पूलिस के इहा मजाल किअ थी त, मूख्य डो॒हाडी काजी गुलाम जे गिर्फतारी ताई छापो हयों वञे !! ऐं पोई हिक मजहबी कारूकनन खे थाणे जो घेरो कंदे डि॒ठो वयो। नतिजे में कुर्बानी जी ईद डि॒हिं कुर्बान कयलि टिन हिंदु खानदान जे भातीयूंनि सोग॒ को तडो॒ त विछायो, पर इन ते वेठे, अखयूंनि में पहिंजे गम जी आलण आणण खां भी पाण खे रोके रखो – किथे मूसलमान कावडजी न पवनि …!!  जड॒हिं संदुनि अखयूंनि जा बंद सफा टूटण थी लगा॒, इन वक्त को बहानो करे, पहिंजे घरनि में दाखिल थी, हयाउ हलको करे मोठी थी आया..!! ऐडहे सानहे (वाक्ये) खां पोई आयलि आर्तवार ते अवामी आवाज संडे मेगजीन में समूरनि कातिलनि जा नाला, संदुनि सर्परत जमायतुनि जा इशारा, डो॒हारियुनि जे लिकण लाई इसतमाल थियलि गो॒ठ जो नालो ऐं इलाईके जे बाअलसर तर्फां ऐडही गंदी शाजिस में सामिल थिअल जो साफ इजहार मोजोद हो। पर कहिं नह बुधो, कहि नह समझो, कहि भी कजहि करण नह चाहियो – सवाई कातिलनि जे जिन जो हिकु वडो॒ चिताउ मूं ताई अची पहूतो : “माफी वठ, तर्देद कर नह तह मूंहि डे॒अण लाई त्यार थी वञ”  अजु इन सानहे (वाक्ये) खे डेढ साल थी रहयो आहे, इन अर्से में न तह मां  का भी माफी न वरती , न ई का तर्देद कई आहे, पर इलाके जे वाअलसर खांदान सिंध जे टिन शहिदनि जे खुन में शामिल हूअण जो पाण ई इअं ई सबूद डि॒ञो जो समूरा खून राज॒वणियनि में लूडही वया !! मजलूम खांदान शहर ई छडे॒ हल्या वया !!! कातिलअ आजाद थी वया…!!! ऐं सानहे जे डि॒हिं थाणे जो घेराउ कंदड जमाअतयूं, महिनो अगु॒ आजाद थिअण ते छहनि मां चार जवाबदारनि अबेदअल्लाह भयइ, आबदालरओफ भयई,  अबेदअल्लाह भयई ऐं मोलवी अहसानु आल्ला जो शिकार्पूर में जेल बा॒हरां नह रूगो॒ शानदार अस्तकबाल (आझा) कयो वयो पर पोई खेनि हिक वडे॒ जलूस जे शकल में चक शहर पहूचण बैदि खेनि –टे काफिर—मारण ते “गाजीअ” जे लिकाब सा नवाजो वयो। पर सिंधी समाज वरी भी खामोश …!!!  सिंधीयत जे कातिलनि जी जमायत खे ई सिंध जे सभ खां वडी॒ “कोमी इतहाद” में वेहारे ।।सिंध बचाअण।। जी जदोजिहद जारी रखण जी दावेदारीअ में मसरूफ (मूझयलि) !!!

मां उन डिं॒हिं ताई नह कड॒हि घोटकी जिले जे कहि शहर में वयो होसि नह इन सजे॒ जिले में मूहिंजी कहिं भी हिंदु या मूसलिम सिंधी सां का “जरे जी वाट” ई हूई जे रिंकल की रड मूंहिंजो धयान छिकायो। मूं के लगो॒ : जो मां इन जूलम जे खिलाफ विडही सघां ऐं पहिंजे समाज खे भी जूलम खिलाफ विहण में शामिल करे वञा तह, शायदि 1947 में पहिंजे वड॒नि जे गलतियूंनि करे लखनि सिंधीयूंनि सां पहिंजनि तोडे परायनि जे जूलम जो को नंढो पलांद मूमकिनि बणजी वञे”। ऐं पोई तारिख जी हिक पलांद जी खवाईश , हिक ऐडहे वेडह जी शुरुआत साबित थे जहिं में कडहि मूं खां मिल्यलि “टू डे॒” गाडि॒ जो पई पुछयो वयो त , कहिं मूहिजे हवाले वडे॒ बंगले जी गो॒ल्हा पई कई !! पर मां हर बि गा॒ल्हयूं खे विसारे सिंध जी मजलूम अमड सुलक्षणी जूं ऐडहयूं अखयूं यादि रखयूं, जेके 24 फर्वरी 2012 ते अग॒वा थिअल पहिंजे पयारी नयाणी रिंकल कुमारी जे मिलण या नह मिली सघण जी हिक ई वक्त मिलिंदडन आसिरन ऐं खोफन करे कड॒हि उमिदि मा ब॒रिंदे बी डि॒ठयूं त, तूफान जे वर चड्हयलि डि॒ऐ जियां विसामिंदड भी!!! मां हिन वक्त ऐडहो अहसास कंदे ड॒की वञा थो, हिकडी मजलूम माउ जूं अखयूं , 18 ऐपरिल 2012 ते मूल्क जे अलयाई तरिन अदालत जी “अनेखे इंसाफ” बैदि पहिंजे जिगर जे टूकर खे किथे किथे ऐं किअं किअं डि॒सण जूं कोशिश कंदियूं हूंदयूं ..!? ऐं ऐडहयू हर कोशिश ऐं ऐडही हर कोशिश, हर खोशिश नामाक थी व़ञण ते पाण खे किअ परचाईदयूं हूदिंयूं ..?? संदुसि अखयूं केडहे वक्त सिंध जो सुकी ठोठ थी वयलि सिंधु दरयाउ बणजी वेंदयूं हूंदयूं ऐं केडहे वक्त गो॒डहनि जूं छोलयूं  हणिंदड महरान…!!! कहिं खें खबर.!!. कहिं खे अहसास..!!..कहिं खे जरूरत बि केडही ऐडहो अहसास करण जी ..! ?

इंतहाई थकल जहनि सां मां अजु॒ ई सोचयो पई तह शायदि मां केतरनि ई हफतनि खां आराम नाहयां करे सघयो । शाम खां देर रात ताईं आफिस ऐं पोई सुबुहि खां वठी डुक डुकां कड॒हि कहिं खे काअल करण जी कोशिश त, कडहिं कहिं खे समझाऐ सघण जा जतन !!! जहन बेचैनि, जस्म बेचैनि, सोच बेचेनि, पर झालत ऐं जनुन हथउ शिकस्त कबूल न करण जो अजमु, कजहि करे डे॒खारण जो अजम, चुप करे न वेहण जो अजम।

अजु॒ शाम ई, लंडनि खां पहिंजे देश घुमण आयलि निरंजन कुमार अवामी आवाज अचण वक्त चई रहयो हो त : “जड॒हि कमूनिस्ट पार्टी का कारकन हूंदाहवासिं त मथो फिरयलि हूंदो हो। जिंदगी ऐं मोत जी पर्वाह न हूंदी हईं पर छा हाणे पहिंजे मसस्द लाईं पहिजें जान की पर्वाह नह कंदड सिंध जा ड॒ह माण्हूं भी मोजोद आहिन। जे आहिनि त इहे बि॒यनि खे पाण डा॒हि छिके पठण की कौत जरूर पैदा करे वठींदा। मां त सिंध में फक्त हिक ई तबधीली महसूस कई आहे, सा आहे माण्हून में हब॒च जो इंतहाई हद ताई चोट चड्ही वञण,  इन करे जे कहिंमें को जजबो मोजूद आहे , त उन खे ऐडहे जजबे खे कौत बणाअण जो कमु पाण ई करे डे॒खारणो पवंदो “

“कोऐटा वाक्ये” जे रदेअमल में शहर जे समूरे अहम रसतनि ते डि॒हूं रात लगल धर्नो करे, रवाजी रसतनि खे छडण में मजबूर थी बाईक ते केतरनि ई अणडि॒ठलि घटियूंनि मां अचण बैदि, रात देर सां घर पहूचण ते, अव्हां लाई कजह लिखण लाई अञा वधीक जागण जी जरूरत करे, काफीअ जो कोप ठाहण बैदि, आंङरियूंनि ते पेन पकडे, लिखण जे कोशिश दवारां जहनि में वरि वरि इहो ई सवाल गर्दिश पयो करे “जिते मूं खे हिन वक्त सिंध जो नकशो चिटण जी जिमेवारी अदा करणी आहे त मां सिंधु खे केडही शकल में बयान कंदुसि ?  बिन महिननि जे बा॒र पेठ में हूअण जे बावजूद ऐं ऐडहे अगवा जो फर्यादी बी संदुसि सहूरो हूअण जे बावजूद, पसंद जो परणो कंदड कूंवारी छोकरी जाणायलि धणी भील जेडहो ?? समूरो जमिनि खुदाउनि खां आसिरो पले, निरि छत वारे मां इंसाफ जी आस लगा॒ईंदड धनीअ की अमड समझूअ जेडहो ? या वरि पहिजे इन नई दिल्लीअ वारे दोस्तअ जो, जेको पहिंजा गम विसारे इंतजार पयो करे तह  असां कड॒हि इन लायक थिंदासिं तह पहिंजे सिंध जा गो॒डहा उघी सघिंदासिं !! काश असां चक जे शहिदनि जे वारिसनि जे जहनि ऐं जिस्म जियां ई डि॒ठल डुख, खे भी वक्त सर डि॒ठो हूजे हा त, इन वाक्ये जे कजहि महिनि बैदि ई माथिले में हिकु वधीक वाक्यो थिअण खां सिंध बचाऐ पई सघे। हिक अमड सुलक्षणी खां पहिंजे जिगर जो टूकरो खसजण खे रोके पई सघयासिं !! रिंकल खे भी सुपरिम कोर्ट में ऐडहयूं रडयूं करण जी जरुरत कोन पेश अचे हां तह चौधरी- अव्हां सभ मूसलमानों मिल्यलि आहयो !!!, मूखे इंसाफ नाहे मिलणो !! किअं चयजे त हिन वक्त बी बे वाही फकत रिंकल आहे हिंन मूल्क जो इंसाफ न , इंसानियत न.. सिंध न सिंधीयत न रिंकल जे अगवा थिअण के हिक साल मखमत थिअण जे बावजूद, पहिंजी धीअ जो चहरो भी नह डि॒सी सघींदड अमड सुलक्षणी जे अख्यूंनि में डि॒सी सघजण जी हिमथ त मूं में भी नह आहे पर पोई भी जे मां सिंध जो नकशो चेटो तह इहो जरूर चक जो मजलूम सिंधी, माथिले की मजलूम माऊ, ऐं संदुसि अगवा थियलि गुलाम धीअ रिंकल, पंजनि सालनि जी मजलूम बा॒रडी वेंजंती या वरि समझो भील खा मूख्तलिफ न हूंदो। सिंध अमड जी ऐडही शकल खे डि॒सी, मा पाण खां इहे सवाल करण खां रही नथा सघा तह – छा मां सिंध जो ऐडहो ही मूसलमान सिंधी आहियां, जनि खे हिक जेडहो ई जलमु या जालिम जो बचाउ कंदड करार डेई। रिंकल रडयूं करे रही आहे त- अव्हा मूसलमान सभ मिल्यल आहियों ..”या”  मा सिंध जो ऐडहो हिकु सिंधी आहियां जेको पहिंजी धर्ती माउ ऐं इन के कहिं भी नाले में सडे॒ वेंदड औलाद सां ग॒ड॒ वेठल या बिही सघिंदड आहे !!?

मां लाला हुसेन जे उन गा॒ल्हि सां हिक राय आहियां त सिंध मसलब डु॒ख ई डु॒ख , पर छा सिंध जे फक्त डु॒खु हूअण करे, असां सिंध जो जिक्र करण, नालो खरण, ऐं नाले रखण ई छडे॒डिंदासिं ?? या सिंध जे सुरन ऐं दर्दन में हूअण जो अहसास खे पाण लाई चैलेंज समझींदे हिक ऐडहे सिंध अड॒ण जी शुरूआत कंदासिं जहिं जो नालो डु॒खु न हूजे जहिं जो तसविर धणी भील बणजी जे जहन खे डं॒भ न डे॒, जहिं जो अहसास असां खां फक्त इंसाफ आसमान ते ई मिलि सघण जी डा॒हि कडे॒। ऐडहे सिंध जहिं में का भी वेंजती, बा॒हर बो॒लयूं कडी॒ ठपिंदे कूडिं॒दे कहि भी तरफ खां कहि भी पासे वेंदे ऐडही आजाब जो शिकार थिअण खां बची सघे!! जहि खे नह हूअ समझी सघे नह ई बयान करे सघे!! असां खे सिंध जी ऐडही शकल किअ थी कबूल थी सघे। जेका रिंकल जियां मझलूमत ऐं  नाईंसाफी जी अलामत बणजी वञे। नह हरगिज न। असां खे पहिंजी अमडनि सूलक्षणयूं जो ऐडहयूं  ब॒हकिंदड अखयूं घर्जिन जेके पहिंजे जिगर जे ठूकरनि खे पहिंजे आडो॒ डि॒सी, खूश डि॒सी गौरव सा भरजी वञिनि पर गो॒डहनि सा न। असां सिंध जो ऐडहो जी ऐडही तसविर किअं था कबूल करे सघयूं । जहि सिंध में पहिंजे बा॒रडीअ ते नालो रखण सा ई समझायो वञे  “ इअं न कर पहिजी बारडी जो नसिबु खराब न कर!!! खेसि डु॒ख जो अहञाण न ब॒णाई!!  छो तह सिंध मतलब “डू॒ख ई डु॒ख” !!!

मूं खे सिंध जो ऐडहो तसविर ऐं ऐडही शकल कहि भी रित कबूल नाहे। मां ऐडही तसविर खां डि॒जण बजाई विडहण लाई, पहिंजी बा॒रडीअ खे सत साल अगु॒ ई “सिंधु” नालो ड॒ई चको आहियां ऐं नथो चाहयां मसकबिल जो को भी मसवरु,  कहि भी रित,  सिंध जो ऐडहो ई तसविर चटे, जेका मां अजु॒ पहिंजे अख्यूंनि सा डि॒सी रहयो आहियां ! जेका कहि भी हाल में इअं ई चिटण न पर इन के बदलाअण थो चाहियां। जे असां सभिनि गड॒जी सिंध जे “निभागे” वारे तसविर “भाग” में बदलाऐ न डे॒खारो त डु॒ख ई डु॒ख नह फक्त वेजती ऐं रिंकल जो ई नसिब बणायलि नाहे रहणो,  डु॒ख ई डु॒ख “मूहिंजे सिंध” मूक्दर में ई नाहिनि अचणा !!! डु॒ख अव्हां जेडहनि सिंधीयूंनि जो बी विछो किन छडिं॒दा !!!….छडि॒यूंनि भी किअं ? जड॒हिं सिंध धर्ती डु॒ख जो महफूम बणयलि हूजे!!  पाण ई डु॒ख बणयलि हूजे..!! सदियूंनि जो डु॒ख…!!.

हो हिंदु हवा

सुधीर मोर्य इअं तह पेशे सां इंजिनियर आहे। यू पी जो रहिंदड सुधीर कुमार हिंदीअ जो लेखक तोडे कवि रहयो आहे । हेल ताईं संदुसि हेठि ड॒सयलि किताब शाई थी चुका आहिनि

कविताउं – आह, सम्स, हो ना हो

कहाणयूं – अधुरे पंख

नावल- ऐक गली कांपूर की, किस्से शंकर प्रसाद के, अमलताशा के फूल,

मजमून – बुद्ध के संवाद

पेश कजे थी संदुसि कविता जेका संसदुसि राय सा हित सिंधी में उलथो कजे थीsudheer

 

हो हिंदु हवा

हिंनिन पहिजे सुरन खे

जोडो समझी

अपनायो

संदुनि घरनि में घुरी आयलि

माण्हूं

खेनि काफिर करार डि॒ञो

छो तह

हो हिंदु हवा

हूननि

यूनन मां आयलि घोडनि जो

फकरु

चूर चूर करे छडो॒

सभयता ताईं

जन जे सबब

हिन काईनात ते जन्म वरतो

हो हिंदु हवा

जिनिं

तराईल जे मैदान में

खिलि खिलि

शिक्सत खादल

वेरिन खे

हयाती डि॒ञी

हू हिंदु हवा

जिन जा मंदिरअ

हिन काहि आयलि डो॒हिनि

नासु करे छड॒या

जनि जूं गुलनि जेडहयूं

कुमारियूं खे

जबरनि अगवा करे

खंबे वया

जिन ते

संदुनि घरनि में

संदुनि जे ई इशवर

जी पूजा ते

जिजिया मडयो वयो

हो हिदु हवा

हा हो

हिंदु हवा

जिनि हलदीघाटी में

मूल्क जी शान

जे लाई

पहिजो रत

वहाईंदा रहया

जिन जा सिकिंदा औलाद

घाऊ जा फुलका खाई

खुश हवा

हू हिंदु हवा

हा हो हिंदु हवा

इनलाई

संदुनि नयाणियूं जी

को मोल नाहे

अजु॒ भी

पहिंजी जमिन ते

रहिंदा आहिनि

इन जमिन जो नाऊं

पाकिस्थान आहे

हाणे संदुनि

मात्रभूमि जो नाऊं

पाकिस्तान आहे

इनलाई

हाणे खेनि उते

इंसाफ

घुरण जो हकु नाहे

हाणे संदुनि

आवाज

बुधण में नह इंदी आहे ह को

दबा॒ई वेंदी आहे

अजु॒ संदुनि नयाणयूं

इन ढप में रहिंदयूं आहिनि

अगवा थिअण जो

इंदड वारो हूनिनि जो आहे

छाकाण तह मजलूम

मां

को न को

रिंकल खां फर्याल

बणायो वेंदो आहे

इंनलाई

जनि जूं नयाणयूं आहिनि

से हिंदु आहिनि

ऐं संदुनि

वडा॒

हिंदु हवा

ISLAM is being used to terrorized Hindus in Pak : Nawaz Sharif

  • Civil society members protest against atrocities on Hindus including forced Conversation
  • 1400 Pilgrims did not return from India
  • “Hindus are not migrating from Sindh” : Maulana Baksh Chandio Member of Precendicial fact finding team
  • Govt. nominated  Hindu leaders are ignoring Hindu issues , Delegates to Precedent Fact Finding team
  •  “We have forced Minorities to accept as what we think right” – Aitazaz Hasan PPP
  • Legislation on Hindu Marriages soon : Fact Finding team
  • Protest in Hyderabad against Hindu Migration by Sindhi Social Media Forum
  • PPP should act against Miyan Mithoo : Raj Kumar
  • By forcefully migrating Hindus, Leader are creating enmity with sindh : Asad Chandio
  • Hindus in Sindh are being terrorized & forced to migrate : Sindhi American think-tank
  • “Conspiracy  against Hindus of Sindh” Sindhi Fisher forum to agitate after Eid in big way
  • ISLAM is being used to terrorized Hindus in Pak : Nawaz Sharif
  • Hindus ! Don’t migrate . We will provide security : Latif Foundation

And Finally Hindu migration make headlines in Sindhi Media

  • Hindus plead for #Rinkle & #Manisha’s  release before Precedential team
  • The girl presented in Pak SC was not Rinkle : Rinkle’s Uncle
  • Please return my doughter : Manisha’s Father Babumal
  • Hindus should not feel alone : Ryaz Chandio & Nyaz Kalani Sindh nationalist leaders
  • 310 Hindus Migrate to India on Pilgrimage
  • Hindus migrate from Thar parkar, Amarkot & MorpurKhas post Rinkle , Manisha Cases
  • Hindus need security not jobs or ministry : Human Rights activist Kalpana Devi
  • Hindus are the original son of Soils , rest came afterwards : Kalpana Devi
  • Migration is Painful but forced conversation have left us with no Option : Hindu Leader
  • Hindus have enough security & are  not migrating : Controversial PPP MPA Aijaj Jakrani #Manisha
  • Hindus are not migrating for Fun, Forced Conversation, Abduction & Killings have taken a toll : Hindu Leader
  • Forced Conversation & atrocities will force Hindus to empty Sindh : Hindu Leader
  • Hindus are son of Soil . We will put up the case of Hindus before Precedent Zardari : Precedential team in Jacocabad
  • What type of Justice is this that 14 yr old be raped and we are forced to accept that  : Hindu Leader