गा॒ल्हि सिंधी क़यादत जी


 

सिंध में तोडे हिंद में हिंदु सिंधीयूंनि लाई हालतयूं हिक बे॒ जे उभतरि हूअण जे बावजूद सियासी कयादत तोडे सियासी सोच में वाईडो कंदड हिक जेडहाई डि॒सण में ईंदी रही आहे। इन जो वडे॒ में वडो॒ सबूत संदुनि बिं॒हि मूल्कनि में बिन पार्टियूंनि डा॒हिं अंधी वफादारी हिकु वडो॒ सबब रही आहे । हिक पासे जिते  सिंध जा हिंदु भूट्टे जे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी में शिर्कत करे गिद गिद थेनि सागी॒ रित हिंदुस्तानि जा सिंधी भाजप में पाण खे अर्पण करण में पूरा हूंदा आहिनि।

सिंधीयूंनि में हिक धारिनि जो थी वञण जी प्रथा या फितरत का अजु॒ जी नाहे। विर्हांङे खां अगु॒ सिंधी हिंदु कांग्रेस सां तेसताई वफादार रहया जेसिताईं विर्हांङे तोडे लड॒पण जा वाक्या संदुनि हिकु कापारो धकु कोन हयों। इहो धकु ऐतिरो जबरदसत हो जे विर्हांङे जे 65 सालनि खां पोई भी हिंदुस्तानि जा सिंधी उहे मंजर खे किन वासारे सघया तह आखिरि सिंध जा कांग्रसी  किअं सुता रहजी वया …त किअं हो सिंध जे मटिंदड सियासी माहोल खे समझी किन सघया ऐ रातो रात पहिंजे डे॒हि में इ परडे॒हि थी करार डि॒ञा वया।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मूसलमानि जो हिक इसलामी रियासत डा॒हिं लाडो हर कहि खां गु॒झो हो। अंग्रेजेनि जे डिं॒हनि जो सिंधी नस़र जो हिकु अहम थंबो लेखिंदडु -सिंधी लेखक तोडे अखबार नुवेस जथेमल पर्शराम गुलराजाणी मोमिनिं जे इन फिरयलि मनोवरती बाबत सिंधुवासियुनि खे आघाहि कंदे चवंदो हो – खिलाफत आहे आफत, ऐं इहा खिलाफत सचु पचु वडी॒ आफत खणी आई। खिलाफत तहरिक में पाक थी निकतलि हर अगवान भले इहो जी ऐम सेईद हूजे,या वरी  अबदुल माजिद सिंधी, पिर ईलाई बख्श, अयूब खुरो या वरि हिदाईतुल्लाह पहिंजी सियासी सघ हिंदुनि खे हिसाअण सबब ई पुख्ती कई जेको सिलसिलो संदुनि वारिसनि तोडे पोईलगनि पारां कहिं न् कहिं शकल में वडी॒ संजिदिगीअ सां अजु॒ भी पई हलाईदां अचनि। सिंध में पीर-मिर-जागिर्दार जी जमायति आजु॒ हिंदुनि खे उनही रित ई पई हिसाऐ जहि रित जहि रित मसजिद मजिलगाह जे वकत पई हिंदुनि खे हिसायो हो। पिछाडीअ जे मुञे सदी में उनहिनि की इसलामी कयादत में जरे जो भी फेरो किन आयो आहे भले इन अर्से में सिंध जे शहरनि जा सेकडो अण सिंधी दावेदार पैदा थी छोन न वया हूजिनि ।

सिंध में हिंदु सिंधी कयादत जे ठिकेदारनि जूं अख्यूं तहिं महल खुलणु खपिंदी हूयूं जड॒हि मस्जिद मंजिलगाह जा फसाद थिया। हिंदु अगवान न् तहि महलि ई हालितुनि खे समझी सघया ऐं न् ही भगत कंवर राम जे कतिलनि जा नाला सिंध ऐसेलमबली में खणिंदड हिंदु अगवानु पंमाणी जे कतल महलि, जहि खे सिंध ऐसेलमबली खां निकरिंदे ई कत्ल कयो वयो हो। अंग्रेजनि जे पिछाडीअ जे डि॒हनि में सिंधी हिंदु अगवानि जे सियासी नादानीअ जो किमत आम हिंदु पई चुकाई जेका रिवायति आजु॒ ताई सांदह पई वरजाई वञे।

जेका गलति सिंधी हिदुनि कयादत सिंध में कई तनि जो नुकसानि रिवाजी सिंधीयूंनि पहिंजी मातृभूईं खे कुर्बान करे बर्पाई कई। मूल्क वयो, लड॒पण थी, हिक सुबे में रहिदड कणो कणो थी पूरे हिंदुस्तान तोडे दुनिया भर में टरि पिखरजी वया, साण साण हिंदु सिंधीयूंनि जो सियासी जोर हमेशाहि लाई निबरी वयो सो धार ढचो। जड॒हि तह हिंदी-उर्दू-गुजराती गा॒ल्हिईंदडनि लाई लडवण 1954 में ई हमेशाहि लाई निबरी वई सिंधीयूंनि लाई अजु॒ ताई पहिजे पुरो रुतबे सां पई हले।

अजु॒ मूल सवालु इहो आहे तह आखिर छो हिंद जी सिंधी कयादत अहिडे मसले थे खामोश आहे। हिंदु छो पया लडनि.केडहि हातल सबब पया लडिनि, केरु थो खेनि लडण लाई मजबूर करे इहे सवाल हिअर कहिं खां भी गु॒झा नाहिनि रहया। अजु॒ सिंध में अकलितयनि जो हाल सजी॒ दुनिया जे आडो॒ आहे पर असां जी कयादत ई कजहि अहिडी खामोशी अक्तयार कई आहे जे असां खां पहिजनि ते थिंदड जूलमअ ते भी वाका करण नथा पुजि॒नि। हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जो इहो रदेअमल सिंधी हिंदु कयादत जो हिउ निहायत डुखाईंदड बाबु रहयो आहे।

हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि जा ब॒ह कदेवार अगवानअ जेके इअं त् पाण खे सिंध जा॒वलि करार डे॒अण में कड॒हि भी को हिजाबु कोन कयो आहे पर सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जे सुरनि ते वाईडो कंदड खामोशी अख्तयार कई। सिंध में हिंदु छोकरिन ते थिंदड लिंग-कंडा॒इंदड वारदातुनि समाजवादी पाईटी ऐं बी जे डी ताई खे संसद में वाका करण लाई मजबूर कया पर जेकरि के माठ रहया तह हिंद जा सिर्स ते वेठलि हिंदु सिंधी अगवान। न आडवाणी लफजु उकारियो ऐं जेठमलाणी जो की राजसथान मां राज्य सभा पारां चूडिजण जे बावजूद (जिते अजु॒ जी तारिख में 4 लख सिंध लड॒यलि हिंदु रहिनि था) का भी हलचल जो अंदेशो ताई किन डि॒ञो।

पिछाडीअ जे 65 सालनि में भी जेकरि सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जो वाउ साउ लहजे तह इहा हकिकत चिटी रित साबित पई थिये तह हिंदुनि जो सायदि ई को तब्को रहयो आहे जेको पाकिस्तान में इसलाम जे नाउ ते कयलि जूलमनि जी मार न् झेली हूजे। आम सिंधी मूसलमानि इअं 1947 खां अगु॒ वारी सिंध लाई जजबाती त् थिऐ थो पर पहिजे निजी फाईदे लाई मठजी वललि हालूतनि जो फाइदो भी हथ करण खां बी कबा॒ऐ नथो। वरि जेके जूलम नथा भी कनि से पहिंजे बचाउ में मिंहू –साईं इहो सब असां सा पई थिऐ थो जे साऐ हेटि पहिजो पचाउ जी वाठि नेठि गो॒ल्हे था लहनि। अंदरुनी सिंध में हिंदु ते जूलम जो डोहारी सिंधी मुसलमान रहया आहिनि जिनि खे पूरो फाईदो हूकूमती इरादनि डि॒ञो आहे। जिते किते भी हिंदुनि जू नयणयूं अग॒वा थियूं आहिनि, मलकतयूं हडपयू वयूं आहिनि, हिंदु मंदिरअ ढाहा वया आहिनि,  हिदु नियाणियूं खे इसलमा कबूल कराअण जो मिहू करे विकयो वयो आहे, इन हर वारदात में सिंधी मूसलमान खे भरपूर साथु अण सिंधी मूसलमान तोडे हूकूमती इरादनि ऐं सिंध जे  पीर- मिर-जागिर्दारनि जी कि हिक जेतरि भागेदारी तहत साथु डि॒ञो आहे।

सिंध में हिंदुनि लाई के घणयूं वाटयूं किन रहयूं आहिनि। सिंध में अगवानि में भी जिनि खां पहिंजे माण्डनि जा डुख नह सठा वया तनि ऐतजाज कयो पर नेठि मूल्क मां लिकी, रात जे उंधारे में खेनि लडणो पिणि पयो। इंहिनि मां व् नाला हवा श्री राम सिंह सोडा ऐं राम सिंह सोढा। दिलचसप गा॒ल्हि त् इहा आहे जे इहे अग॒वान नह रूगो॒ लड॒ण महलि ऐसेलमबली तोडे वजिरात जा मेमबर हवा पर थर परकार जा हवा जिते चयो थो वञे तह वध में वध हिंदु था वसिनि। जड॒हि चूंडयलि अवामी नुमाईंदनि जी ऐडही हालत हूंदी तह आम हिंदुनि जी केतरि हलिंदी पूजदी इन जो अंदाजो बखूबी लगाऐ थो सघजे।

सिंध में हिंदु हिक अहिडी रियासत में फाथल आहिनि जिते साणसि हिक इंसासन ताई करे कोन लेख्यो वेंदो आहे। हूकूमत भले पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हूजे या बे॒ कहि जी, हर सघेरे भोतार तोडे वडे॒रे खे खबरि आहे तह हिंदुनि लाई मर्दु माणहू थी बिहण जी कोई हिमथ शायदि को हिंदु मेडे सघिंदो। वरि हिक खामोश हिदुस्तान तोडे हिंदुस्तानी सिंधी समाज इन रियासती इरादनि जो हौसलो वधायो आहे। सिंध में बचयलि हिंदु नेठि जेकरि वोट डे॒ त् कहिंखे डे॒नि…। ब॒यो त् ठहयो पर हिअर त् कोमीप्रसतनि लाई पिणि मञयो थो वञे तह हो भी पया हिंदुनि खां भतो उघारिनि। मतलब हिंदुनि सां थिदड जूलमनि में कोई पोईते नथो रहण चाहे।

पाकिस्तनि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध यानी सिंधी आहिनि सो हिंदुनि खे इहा आस हूदी  हूई तह ब॒यो कोई न त् सिंध में संदुनि सुर पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी हिक सिंधी पार्टी हूअण सबब जरूर कहिं रित संजिदगी डे॒खारिंदी पर हिअर सा भी उमेदि नाहे रही। पिछाडीअ जे पंजनि सालनि में हर वडी॒ नंढी वारदात जहि में हिंदु सताया वया आहिनि भले इहो चक में हिंदु डाकटरनि जो कतल हूजे या रिंकल कुमारी या बे॒ कहि हिंदु नयाणी जो अग॒वा के स हूजे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जा अग॒वान मलूस रहया आहिनि। इहो सब इन जे बावजूद जे सिंधी हिंदु पहिजो हर हिक वोट प प प खे डे॒ थो। बाकि सिंध बचाओ कमिटि (सिंधी मूसलिम कोमिप्रसतनि जी जमायत) वारनि लाई त् चवण मूशकिल आहे चूंडियनि बैदि केर किथे हूंदो, इन हालति में हिंदु जे लाई चूंड जे डि॒हि या तह घऱनि में वेही रहणो आहे या न् तह बि॒हर प प प खे इन उमेदि सां वेट डे॒अणो आहे तह हो हिंदुन ते रहम खाई साणसि हिंक इंसान जेडहो वहिंवार कदी।

हिंदुस्तान जी सिंधी कयादत पहिंरिं नजर में जेतोणेकि सिंध जेडहि वेवसि न बी महसूस थिऐ पर इन में को भी शकु नाहे त हिंदुस्तान जा सिंधी हिक पार्टी जे जा॒र में मख्मल तोर फासी चुका आहिनि। हिंदु सिंधीयूंनि जो भाजप या हिंदु हिमायती पार्टीयूंनि डा॒हि झुकाउ सिंध में ई साफ नजर इंदो हो जड॒हि कांग्रेस हिक पासे सिंधी हिंदुनि खे मायूस कयो तह बे॒ पासि आर ऐस ऐस तोडे हिंदु महासभा हर मदद लाई त्यार हूंदी हूई। बदकिसमतीअ सां सिंधी कयादत हालितुनि सही रित समझण में कासिर रही ऐं विकहांङे बैदि इंदड माहोल खे समझी किन सघी, जहिंजो नतिजो इहो निकतो तह जड॒हिं हिंदुस्दतानि मां मूसलमानि काहि आया हिंदुनि खे पहिंजा जान बचाअण खां सवाई ब॒यो को चारो रहयो ई कोन्हि। हिंदुनि अग॒वानि जिनि जे आसिरे सिंध में जे विरहांङे की गा॒ल्हि ते माठ रहया से मिडई साईं हिंदुनि सां वडो॒ जूलम थियो नाहकु थियो वारे नारनि ताईं पाण खे महदूद रखो। अजु॒ भी जड॒हि सिंध जा शहर संदुनि हथनि मां खिसकी चुका आहिनि हो धारयनि जो सामनो करण लाई असुलि ई तयार नाहिनि, जड॒हि तह हिंदुनि जी लड॒पण अजु॒ भी पहिजे पूरे शबाब में पई हले।

रिवाजी सिंधी भले सिंध खसिजण जे मातम में अजु॒ बी बु॒ड॒यलि हूजिनि पर हिंदुस्तानि जी सिंधी कयादत 1947 वारी हिंदु कयादत जे नक्शे कदम ते हलिंदे 1947 में कयलि सियासी आपघाती कवायति खे वरजाअण में ई पूरी रही आहे। इहो ई सबब हो त जड॒हि 1971 वारे हिंद पाक जी लडाई में ज॒ड॒हि लग॒ भग पूरो थर परकार हिंदुस्तान जे हथनि में अची चुको हो हिंदुस्तान जी सिंधी कयाद तोडे सिंधी सियासी अगवान थर ते सिंधी हिंदुनि जी दावेदारी पेश करण जी सघ ताई किन मेडे सघया, इन लाई जाख़डो त परे जी गा॒ल्हि थी।

पिछाडीअ जे 70 सालनि खां अजु॒ ताई सिंधी कयादत हिंअर पिणि उते फातल आहे जिते अंग्रेजन जे डि॒हनि में हई। न पार्टीयूंनि जो वहिंवारु मठयो आहे न ई सिंधीयूंनि जो पहिजो किरदार मठण जी का चाहि ई डे॒खारी आहे । पहिंजो कोम खां अगु॒ पहिजे निजी फाईदे जी पचर अजु॒ भी संदुनि ते हावी रही आहे जेतरी सिंध में रहिंदे हूदी हूई। इहो हिक वडो॒ सबब आहे जे असीं हर चूंडनि महल सियासी पार्टीयूंनि खे मिंथा कंदे रहजी वेंदा आहियूं तह रहम करे हिक अध तकयूं सिंधीयूंनि खे डे॒। असी कड॒हि पाटियूंनि ते जोर विधो ई कोनहि वरि असां जो पार्टियूंनि डा॒हि वहिवार ऐतिरो तह रिवाजी थी पयो आहे जे को तमाम घणी सहूलाईअ सां सिंधी वोटनि जी आसानी  सां अग॒कथी करे सघबी आहे। फर्कु रूगो॒ ऐतिरो ई रहयो आहे जे कांग्रेसी जी जाई ते हिअर भाजप बिठी आहे।

राम जन्म भूमि वारो मसले ते भी असी पहिंजे कदेवार अगवान जी पुठिभराई में इअं त का भी कसर कोन छडी॒ पर मोट में थिंदड सिंध में हिंदुनि सां थिअल कहरनि खां बेखबरि रहयासिं। सवनि हिंदु मंदिरनि खे ढाहो वयो, हिंदु घर साडया या वरि हिंदु नयाणयूंनि खे अगवा कयो वयो। बलूचिस्तान में तह जिंदा माणहूनि खे साडयो ताई वयो। सिंधी कयादत हिक बर्फ सां जमयलि हिक गलेशिअर वाङुर ई रही, इन जे बावजूद जे तहि महल जे कदेवार बी जे पी अगवान श्री अटल बीहारी वाजपेई इन कहनि बाबत डुख ऐं अफसोस जाहिर कयो, पर असां जी सिंधी कयादत उते भी असां खे धोको डि॒ञो। सिंध जे हिंदुनि सां असांजी उहा इ वाठि आहे जेका बंगाल ऐं बंगलादेश जे हिंदु बंगालिनि जी या वरी हिंदुस्तानि ऐं श्री लंका में रहिंदड तमिल कोम जी। पर जड॒हि तह बंगाली ऐं तमिलअ पहिंजे रत लाई हाई गोडा कनि असी पहिंजनि लाई बेखबर रहूं।

सिंधी हिंदु कयादत खे जेकरि पहिजे ऐं कोम जो वजूद सोघो करणो आहे तोडे पहिजा हक हासिल करणा आहिनि तह खानि वोट बैंक जी सियासत मूयूनिसिपल तकयूंनि तां लोक सभा जे तकयूं समझणी वपंदी। साणु साण इन मटयलि कयादत जे जोर ते फहिजा ऐजेंडा भी रखणा पवंदा। बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि जे जहनि में इहो वेठलि आहे तह खेनि भापज इन रित इजत डि॒दी जहि रित खेनि हिंदु महासभा सिंध में रहिदे डिं॒दी हूई।

हिंदुस्तान में सिंधी कयादत खे वकत सा मठणो पवंदो, साणु साणु सिंधी हिंदुनि खे ..रूगो॒ लोहाणा (वाणिया) ई सिंधी लेखबा वारी कवायत मां निकरी हर सिंधी लडयलि हिंदु खे इपनाअणो पवदो, ढाटी तोडे कच्छी लहजो गा॒ल्हिइंदड भील, मेघवार, सोढा राजपूजनि या ब॒यनि जातियूंनि खे सिंधी मसाज हो हिस्सो मञणो पवंदो। हो भी असां वंहुरि सिंधी मूसलमानि जा सतायलि आहिनि जेडहा असां अहियूं । हूनिनि भी सागी॒ लड॒पण कई आहे जिअं असां जे वड॒नि कई। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि त असां हजारनि सालनि ताई हिंकु धी रहया अहियूं सिंध में।

सिंध जा हिंदु जेकरि कहिं डा॒हि आलयूं अखयूंनि खणि इन मूशकिल हालतुनि में डि॒सिनि था पया तह उहो आहे हिंदुस्तान में वसयलि हिंदु सिंधीयूंनि डा॒हि। इतहास अजु॒ वरि सिंधीयूंनि खे उन मोड ते वेहारो आहे जिते असीं 1947 में हवासीं। सिंधी कयादत खे संजिदगी डे॒खारिंदे पाण ते लगल मेरा दाग उघणा वहदां या न तह हिक मतलब-प्रत, समाज जो लिगाब पाअणलाई तयार रहणो वपंदो।

 

 

नह ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ईं ईझा रही छा कयूं ? 25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना

  • खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा मेघवार कुंटूंब पांद में सिंध जे वारी बु॒॒धी जीरो पोईंट तां घोडा घाम, जोधपूर असहया
  • ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ई ईझा रही छा कयूं …25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना
  • सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत अथव  धर्ती छडे॒ वेंदड मेघवार खांदान जी हंजियूं हारिंदे सिंधीयूंनि खे अपील 
  • पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके
  • चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं – धर्ती छडे॒ वेंदड

खपरो – (रिपोर्ट राजा रशिद कंभर) खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा 25 मेघवार कूटूंब बदनामी जी बाहि खां तंक अचि सिंध छडे॒ हिंद रवाना थी वया। सिंध छडे॒ वेंदड हिंद चेतन जय पार कांजी मेघवार सिंध जा वारी पहिंजे पांदन में छडे॒ बदनामी जूं डा॒हूं कंदा जीरो पोईंट जरिऐ जोधपूर जे घोडा  घाम रवाना थी वयो। कांभर दडे खां पोइ पिरूंमल शहर भी हिंदुनि खां खालि थिअण शुरु थी पयो आहे। पहिंजी धर्ती छडिं॒दे हिंदु खांदान हंजियूं हारिंदे चई रहा हवा तह  “जिते बच्चा  ऐं ईझा महफूज नह हूजिनि, उते रही छा कबो? . पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके,   चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं । इन करे दिल हारे मात्रभूमि खां मोकिलाऊं पया। अव्हां खे सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत हूजे”  बे॒ पासे हिंदु ऐकशन कमिटी जे अग॒वान डाकटर धर्मू खांवाणी चयो तह् “डि॒हूं डि॒हिं हिंदुनि सां जलम वधी रहयो आहे पर पोई धर्ती छड॒ण बजाई हिमत सा हालतियूं जो मूकाबलो करण घूजे”।

 

सिंधी दलित –हिक विसारियल कोम

दलित सिंधी बाबत जेकरि कहिं सिंधी हिंदु (हिंद में) नह भी भी बु॒धो हुजे तह वाईडईप जी गाल्हि नह थिअणी खपे। हिंदु सिंधीयनि जो दलित सिंधीयनि बाबति अण – वाकफिति जो हिकु वदो॒ सबबु इहो आहे तह विरहाङे सबब लद॒पण सिंधी दलित जी नह के बराबर थी। आम तौर सा इहो ई दि॒ठो वया आहे तह सिंधी दलितनि लद॒पण रिवाजी सिंधीयनि वाङुरु कोन कई। हिंदुस्तानि में सिंधी गा॒ल्हिईंदड ईलाके में कच्छ ई हेकलो इलाको आहे जिते सिंधी कच्छी (हिंदु) दलित भी रहिनि था। पर छो तह आम रिवाजी सिंधी संदिनि सां को भी राबतो कोनि रखनि सो आम सिंधीयूं खे सिंधी दरितनि बोबत जा॒ण भी तमाम महदूद ई आहे। जेतोणेक सिंधूनि में ब॒न लेखकनि श्री परसो गिद॒वाणी ऐ जेठू लालवाणी कच्छ में सिंधी जातयूं बाबति किताब शाया कया आहिनि पर इहे किताब मूल तरहि सिंधी – कच्छी बोलीयूनि जे पाण मे वाटि जे नसबत ई आहिनि। जेतोणेक श्री परसे गि॒द॒वाणी कच्छे जे सिंधी ऐलाईके ऐं खासि करे बी॒नी में रहो सिंधी दलितनि जातयूनि बबति तमाम सुठो कमु कयो पर छो तह हिंद में आम रिवाजी सिंधीयनि में आर्बी लिपीअ जी जा॒णी नाहे सो चङनि सिंधी लेखकनि वाङुरि श्री गी॒द॒वाणीअ जे महेनति जो भी कदुरु कोन थयो जिऐं थिअणो खपिंदो हो।

जेसिताई सिंध में दलितनि जी गाल्हि कजे तह परु सालि ताईं मुखे सिंधी दलितनि बाबत ओतरी जा॒ण हुई जेतरि कहि आम हिंद में रहिंदड सिंधी नोजवानअ खे। सिंधी दलितनि बाबत मां पहिरों लङे साईं जेब सिंधी जे लिखयलि कालम दिल जी गा॒ल्हि में पढहो (हे कालम सांदहि कराचीअ मां शाईं थंदड अखबारि काविश में शाईं थिंदा अहिनि) हो लिखे थो तह बदिईनि जीले में (दखिण सिंध जो हिकु जीलो) दलितन खे बो॒द॒ सतालयनि लाई अदा॒यलि कैंपनि में खाधो नथो दि॒ञो वञे। वरि जद॒ही हिन साल भी सिंध में बो॒द॒ आई आहे तह साग॒या मंज़र पया दि॒सण या बु॒धण में अचिनि। दलितनि जे इन हालतनि जो बयानि सिंधी मिडिया खां वधिक कहि कदुर पाकिस्तानि जी अग्रेजी मिडीय में शाई थयलु आहे। अखबारिन में ईहा खबरि शाई थी आहे तह सिंध जे दलितनि खे खुले आसमानि हेठि दिं॒हि ता गा॒रणा पवनि। खेनि राशण पाणि भी कोनि थो दिञो वञे। मां लग॒ भग॒ ब॒नि सालनि खां सिंध मां शाई थिंदड सिंधी अखबारिनि खासि करे आनलाईनि अखबारिन खे नजरि खां कदां॒ पयो पर अजु॒ ताईं वरली ई सिंध जे दलितनि बाबत का खबरि शाई थी हुजे। वरि जेकरि असीं सिंधी साहित्य दा॒हिं पहिजी नजर वराईंदासिं तह उते भी सागयो मंजरि नजर इंदो। मतलब तह जद॒हि जद॒हि बो॒द॒ या का कुदरिति आफतिनि सबब मिडिया (खासि करे अंग्रेजी या परदे॒हि मिडिया) जी नजर पवे थी तह गा॒ल्हि बी॒ आहे बाकि घणो तणो दलितनि ते थिंदड वयलि खे का आम रिवाजी गा॒ल्हि करे ई लेखो वेंदो आहे। सायदि इन अखबारि पढिंदडन जो को भी चाहि ई नह हूंदो आहे दलितनि बाबति।
सिंध में दलितनि बाबत का भी विचूडनि खां अग॒वाटि असां खे हाणोके पाकिस्तानि जे अण मुसलमानि दा॒हि पहिजी नजरि दोडाअणि पवंदी। पकिस्तानि में अदमशमारीअ जी ग॒णप कजहि हिन रित आहे….
मुसलमानि- 96 सेकडो
हिंदु (रिवाजी) – 0.5 सेकडो
क्रिसचनि-1.5 सेकडो
हिंदु दलित – 1.5 सेकडो
ब॒यूं अण मलसलमानि कोमयूं (बौध, फारसी, यहूदि वगिराहि) – 0.5
जेसिताईं आजिविका जी गा॒ल्हि कजे तह दलितनि में मर्द तोडे जाईफुनि हेठि जा॒णायलि पेशे सां लग॒लयि समझया वया आहिनि।

मर्दनि में-

खेति में मजूरि-50 सेकडो

लठनि जे कारखाने में मजूरि- 20 सेकडो

मोची-20 सेकडो

साफ सफाई में – 5 सेकडो

सरकारि नोकरि-0.5 सेकडो

ब॒या मुखतलिफ रोजगारि में- 4.5

जाईफाउनि में

खेति जे नतबति कमनि ते-50 सेकडो

लटे कपडे सिबण जे कमनि में-20 सेकडो

घरि जे कमंनि में – 30 सेकडो

हिक अनुमानि मोजीबु सिध में खासि करे खेतनि में मजूरि जो कमु 70 सेकडो दलितअ कन। बाकि 30 सेकडे में मुसलमान इन कम लग॒यलि आहिनि जहिंखे हारि थो कोठया वञे। जेकरि इलाके जी गा॒लिह आहे तह जद॒हिं उतर सिंध में घणो तणो खेतनि में मजुरी मुसलमानि हारि कन पर थार परकारि ऐं बदिईन (दखिण सिंध) में इहो कम हिंदु दलित ई कनि। अदमशमारि मोजिबु सिंधी दलित थारि परकारि में 35 सेकिडो आहिनि ऐं वदिईनि में 20 लेकिडो। सिंधी हारिनि लाई सिंध जूं सियासी तंजिमयूं तोडे सिंधी अगु॒वाण तमाम घणी जदेजिहद पई कई। इहो ई सबब आहे तह सिंधी हारिनि जी हालति सिंधी दलितनि खां कहि कदरु सुठी आहे। मथे जा॒णायलि आकडनि मोजीबु सिंध में रिवाजी हिंदुनि खा टिनि गुणा खां वधिक हिंदु दलितअ आहिनि। हिक सर्वे मोजिबु सिंधी हिंदु जेके अञा ताई सिंध में रहलि आहिनि तनि जा 80 सेकडो सिंधी दलित आहिनि। पर इन जे वादजूद सिंध में हिंदु दलितनि में जेका नुमाईंदगी मिलणी खपे सा कोन मिलि। जद॒हि भी सिंध में सिंधीयनि जो जिक्रु अचे थो तह हमेशाहि ई रिवाजी सिंधीयनि जो जिक्रु इंदो आहे –केतिरो नह अजीबु आहे तह सिंध में हिंदुनि जो ऐदो॒ वदो॒ तब्को मोजोद हुअण जे बावजूद संदिनि बाबत सिंधी समाज में को भी जिक्रु नाहे- नको हिंद में ऐं नह ई सिंध में। सिंधी साहित्य में भी संदिनि जिक्रु लग भग नह जे बराबर आहे। मां जेतिरो भी सिंधी सीहित्य पढो आहे इन में मेंखे सिंधी दलितनि बाबति कहिं भी जिक्र जी गा॒ल्हि जेकरि मां पढी हुजे मुखे यादि नथी अचे। इहो ममकिनि आहे तह संदिन बाबत को भी जिक्रु कयो ई नह वेंदो हुजे।
असां भले मञोउ या नह पर पाकिस्थानि जो वजूदअ में अचण जेकरि कहि कोम में वदे॒ में वदी॒ उथलि पथलि आंदी आहे तह उहो आहे सिंधी कोम। ऐडहो को भी तब्को नाहे जहिं ते हिन विरहाङे पहिजो असरु कोन विथो। छा हिंदू ऐं छा मूसलमानि। पाकिस्तानि जे वजूद में अचण बैद ज॒णु माहोलि उमालक ई मटजी वयो। सिंध जोतोणेकि माजीअ में निज मूसलिम सलतनत जो हिस्सो रहि हूई पर 1947 खां पोई उमालक तालिम , समाज ऐं सियासति में हिदु हिकु जूलमि ऐं मुसलमानि हिकु सतायलि करे पेश कयो वयो। सिंध जो हिंदु तोडे मुलसमानि इन हमेशाह ई संतनि ऐं पिरनि खे मञिदा आया आहिनि पर विराहांङे बैद उमालक हिकु ऐडहो इसलाम संधीयनि ते थोपो पयो जहिं सा सिंधु अणवाकिफु हो। जेतोणेक हर तबके में इहा उथलि पुथलि थी जहि तबखे ते सभनि खां वधीक वयलि थया सो आहिनि सिंधी दलित। सिंध में दलितनि थे थिंदड वयलनि में नशाने ते दलित जेफाऊं ऐं नयाणयूं ई थयूं आहिनि। मसलनि
1. जबानी यीतना
2. जंसी यातना
3. जोर जबसती धर्म जो बदलाउ
4. लज॒ लुट, आम लज॒लूट ऐं अग॒वा
5. हाथापाई
6. तबीबी लापर्बाही
दलित जईफाउनि ते जूलमनि सबब आहिन क) जेईफां हुजण, ख) दलित हूअण ऐं ग) अण-मुलसलमानि हुजण
दलितनि ते जूलमनि सां मसलो ईहो आहे तह संदनि ते थिंदड कहरनि जी फरयादि भी बी को ब॒धण लाई तयारि नह हूंदो आहे। जिअं रिवाजी तोर हिंदुस्तानि में भी थिंदो आहो आहे तह दलितनि पारां पर्यादनि ते ऐफ आई आर नह दर्ज कोन कई वेंदी आहे। वरि पाकिस्तानी अदालितनि जो हाल भी ऐंडहो रहयो आहे जे कोर्ट या वकालती भी सघेरनि जूं रहयूं आहिनि। अदालतिनि जो हाल सिंधी मुसलमानि बाति भी साग॒यो तह पोई हिंदुनि बाबति इहो भी दलित हिंदुनि बाबत तह सोचे सघजे थो। दलितनि जेफायूं ते थिंदड जूल्मनि मेंल हिक अहम जूलम आहे नियाणनि खे अगवा करण ऐं पोईं संदिनि खे मुसलमानि सां जबरदसति पणञाअण। जेईफउन ऐं नेंङरिनि खे अगवा करण जूं वाकदात तह रोज जूं गा॒ल्हिईयूं आहिनि। अगवा करण जो तरिको भी साग॒यो आहे। अगवा घणो तणो रात जो कयो वेंदो आहे जद॒हिं घर जा भाति सुता पया हुजनि। जेकरि घर जा माईट पहिंजी नियाणयूं खे गो॒ल्हे भी लहन तह बी संदिनि खे पहंजी नयाणुनि मोठाऐ नह दि॒ञयूं वेंदयूं आहिनि इहो चई जे हो हिअर हो मुसलमानि थी चूकयूं आहिनि, सो अव्हां जे हथ नथा करे सघोयूं। इन अगवा कयलि नयाणयूनि खे या तह संदिनि खे मुसलमानि सां परणायो थो वञे या नह तह कहि खे विकयो थो वञे जिअं हजारनि सालिनि आगु इंसानी समाज में थिंदो हो।

जेकरि गा॒ल्हि कजे सिंधी दलित मर्दनि जी जी तह संदिनि ते झुलम नंनढे हूंदे खां ई शुरु थी वेंदी आहे। स्कूलनि जे पाठ्यक्रम ई ऐडहो आहे जहि में हिंदुनि खे जिलमी करार दिञो वेंदो आहे। इन खां सवाई हिंदुनि जी जेका इशारनि इशारनि में जोको धर्म जे नाउ थे हेठ करे देखारो वेंदो आहे सो घारि। इन गा॒ल्हिईयूंनि खा बचण लाई जे हिदु मसलमानिका भी पया कखिनि जिअं संदिनि इन रित जे वहिनवार खां बची सघिनि पर कामयाबी तमाम घठिनि खे ई मिलिंदी आहे। वरि जेको अणपढयलि जोके खेतनि में मजूरि कनि तह लाई तह जिंदगी कहि सजा खआं घटि नाहे। संदिनि जी नह तह दाद ऐं नको फर्यादि बु॒धी वेंदी आहे।
जेतोणेक विरहाङे खां अगु पूरे नंढे खंड में जमिनदारनि जो राज हो तह आजादि बैदि इन में हिदुस्तानि में हिकु तारिखि फेरो आहे। हिंदुस्तानि में कांग्रेसि अजादीअ जी जदोदिहदि महल जमिंदारि खे हिंदुस्तनि जो हिक अहम मसलो केरे लेखो हो। पर जद॒हिं तह हिंदुसतानि में इन जो खातिमो थयो पर पाकिस्तानि में ऐं सिंध में जमिदारिनि खें बख्शयो वयो। संदिनि जे बख्शणण जी हिक अहम सबब इहो हो तह हो सिंध जे नऐ हुजुमरानं (यानी हिंदुसतानि मां लदे॒ आयलि मुसलमानि ऐं पजाबी मुसलमानि) जी संलतनत खे सोघो करण जी कम इनहिनि वदे॒रन ऐं भोतारनि ई कयो। हुकूमति भी संदिनि वदो॒ साथ दिञो जेके जुलम कयोयूं तहि जी नह दाद थी ऐं नको फरयादि दर्ज कई वई। जेकरि को कुछे तह संदिसु अकहिं ते ऐंतरि वयलि थेनि जे संदुसि बिरादरिअ में कहिं जी भी वरि का हिमथ नह थे।

सिंधी दलितनि सां थिंदड वयलनि जो हिकु मिसाल आहे भील जति जो मानो भील। मानो भील थर परकारि जो रहाकू आहे। चयो थो वञे तह मानू भील 1980 जे आकालि खां पोई मिठी जीले में हिक जमिंदारि हयात रिंद सां भाईवारी गं॒दी॒। पर कनि सालनि बैद रिंद इहो इलजामि हणी जे भील हूं जा उदार नह पई मोटाया ऐं हुन भील ऐं संदुसि घऱ जे कूल 21 भातियूंनि खे संघर जिले जे जमिंदारि अबदुल रहिमान मारीअ खे विकणे छदो॒। इतफाक सां मारीअ जे खेतन में इन बंधुआ मजदूरनि पाण खे आजादि करण जी सिट पई जोडी। पक ईहा कई वई तह किशन कोहली खे अग॒वाठि आजादि करायो वञे जिअं हो सामाजिक कार्ताउनि सां ग॒द॒जी ब॒यनि खे आजाद कराऐ सघे। शाजिशि कामयाब थी कोहली खे पाकिस्तानि ऐं इंगलेंड जे किन इंसानी हकनि जी तंजीमनि जे मदद सबब चङो हुलु पई थयो जहि सबब पूलिस इन रिंद जे खेतनि ते काहि करे 71 मुजुरनि खे जहि में भील जी आकहिं भी हुई तन खे आजादि करायो। भील छो तह सागे॒ जमिदारि खे धार खेतअ में पयो कस करे सो आजादि कोन थी सघो। जेतोणेकि भील कनि सालनि बैद रिहा थयो पर खेस चङयूं यातनाऊ दि॒ञयूं वयूं।

इन विच में बेनाजीर जी हूकदमत खत्म कई वई ऐं चूंडिनि बैदि नवाज शरिफ जी हूकूमत ठहि जहि जो साथु पिर पागरे जी क-लिग॒ पिणि दि॒ञो। अबदुल रहिमान मारीअ जेको की पीर पागरे जे वेझे हुअण जो फाइदो वठी पहिजे हिक जमिंदारि सजण –बशीर चौदरीअ जी मदद मोनू भील जे आकहिं जे 9 भातिनि खे अगवा कयो। अगवा थिअण में शामिलि हुवा संदुनि पिणसि -खेरो (ज॒मार 70 वरहय),माणसि अखो (ज॒मार 50 वरहय), जोणसि मोठण (ज॒मार 40 वरहय), भाणसि तलाल (ज॒मार 35 वरहय), धिणसि मोमलि (ज॒मार 10 वरहय), पुटसि चमन (ज॒मार 12 वरहय) ऐं कांजी (ज॒मार 390 वरहय) ऐं धिणसि धाणी । इन खां सवाई हिक वेझो माईटु किर्तो। इहा वारदाति बी॒हि अपरेलि 1998 जी आहे। पहिंजे घर जे भातिनि लाई मनु भील चङा थाबा॒ खाधा पर को फाईदो कोन पयसि। भीलअ हैदरआबाद प्रेस कल्ब जे अग॒यां भी चङयूं भूक लडतालयूं कयूं पर नेठि को फाईदो कोनि निकतो। पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस आफतिकारि मुहमद चोधरी भी इन मामले जी सू मोटो नोटिस वठी चदको आहे पर इन जे वावजोद अजु॒ थाई मनो भील जी आकहिं जो को भी द॒सु कोन मिल्यो।
सवाल रूगो कहि भील, कोहलि या मङेवारि जो नाहे पर इअं हजारनि सिंधीयनि जी आहे जेके रोज पया अगवा थेनि। अग॒वा तह रिवाजी हिंदू ऐं मुसलमानि भी पया थेनि पर दलितनि ते जूल्मनि जे नसबत मसलो इहो आहे जे इहे मसला कद॒हि भी मिडिया जी सुर्कयूं थिअण तह परे पर घणो तणो ऐफ आई आर ताईं दर्ज कोन कई वेंदी आहे। गरिब माण्हुनि खे पयो विकयो वञे जेके मंजरि नंढे कंढ में किथे भी नजरि नथा अचिनि। हे सब थी रहयो आहे ऐं सिंध ऐं सिंध खां बा॒हिरि सहिंदड सिंधीयूनि जे जा॒ण जे वावजूद। असीं सिंधी सभी पहिंजयूं लडाईयूं लडण में ऐतिरा मुशगूल आहयूं जे असां खे इन गा॒ल्हि जी ताति भी नाहे जे धारयो असां खे होरयां होरयां असां जो कमु पया लाहिनि। विरहांङे खां अगु॒ सिंधी बो॒लीअ जो मिसालि असां जे अग॒यां आहे। जेसिताई हिकु हुवासिं तह पूरे हिंदुस्तानि में हुलु करण वारी नह हिंदी ऐं नको उर्दी सिंधी जो वार वंङो करे सघी पर जां खां धार थिया आहयूं हिक पासे हिंदी तह बे॒ पासे उर्दू सिंधी ते वार कया आहिनि।

पकिस्तानि जे वजूद जे अचण बैदि ब॒ह तकयूं दलितनि लाई महफूज हयूं जेके पोई वरि मटे थोरईवारे कोम जे नाले कयूं वयूं। (किन जो मञण आहे तह इहो सब पंजाब जे क्रिशचेनि जे जोर दे॒अण सबब तहि महल के प्रधान मंत्री मियां नवाज शरीफ कई हुई। इहो मूमकिनि आहे तह शरिफ खे इन में सयासी फाईदो पोगो॒ हुजे। वरि वेझडाईअ में हाणोके सदर असिफ अली जर्दार वधाऐ चारि कयूं आहिनि पर छो तह हिअर इहे तकयूं थोडाई वारनि लाई आहिनि सो इन तकयूं ते रिवाजी हिंदुनि जी ई नुमाईंदगी रहिंदी इहो सब इन जे बावजूद जें सिंध में 80 सेकडो हिंदु दलित सिंधी ई आहिनि।

हिंदुस्तानि जी भेट में सिंधी दलितनि जी हातलि कयासु जोगी आहे इन जा के अहम सबब आहिनि।
• दलितनि जो पाण में ऐको नह हुजण- सिंध में दलितनि जूं 27 खां भी वधीक जातयूं आहे जहि में जे तह पाण में भी ठही कोन हलिनि।हिक बे॒ सां वेर पाअण में देर कोन कनि।
• अण-पढयलि हुजण- दलितनि जो 80 सेकडो अण पडहयलि आहे। इंऐ तह पूरे सिंधी में तालिम को हाल कयासु जोगो आहे पर दलितनि में तह तालिम जो हालि साफा चटू आहे। दलितअ सिध में सभनि खां गरिबाणे ऐलीईके में हरिनि जिते ज॒णु जिंदो रहण भी कहि करिशमें खां घटी नाहे।
• जमूरियति जे उसुलनि जी अणाठि- पाकासतानि में हर कोम पहिजे नजरिऐ सा जमोरियति खे दि॒सिंदो आहे। पंजाबियन लाई जमोरियति का वदी॒ अहमियति नथी रखे छो तह हो पहिजे सघ जी जोर ते सभ हथु कंदा आया आहिनि, भले हूकूमत में को चूंडयलि नुमाईंदो हूजे या तानाशाह। मुहाजरिनि जी नोकरिशाहि में हले थी तह हो भी पहिजा हक हथ करे वठिनि। पठान में पहिजो कम करे वठनि पंजाबियूनि सां गदु॒ बाकि रहया सिंध तोडे बलूच तह हो सदाई झुकी करे रहया आहिनि -जेके इन उमेदि में रहिन तह जमोरियति हुजे तह खणी कूझ हथ अचे। घठि में घठि कुझ चवण लाई हुजे, छा काणि तह ब॒यो कझहि नह तह नुमाईदो हर चारि पंज वहरयनि में वोट तह घुरण इंदोई। दलितनि जी तह वाईं बु॒धण वोरो कोई नाहे। जते दा॒ढन जो ऐतिरो जोर हूंदो तह समाज में निधीकणो करे तह छा करे।

 

जेको भी सिंधी दलितनि सां थी रहयो आहे सो कहि भी अण मुसलमानि कोम में खासि करे हिंदुस्तानि में थिंदो आयो आहे। पर अजादीअ हिदुस्तानि में वदो॒ फेरो आंदो। सभनि खां वदो॒ फेरो तह इहो आहे तह खासि करे शहरनि में रिवाजी माण्हूं खे पहिजो बाबति गाल्हिईअण जी आजादी मिलि। तालिम जो वाधारो थयो। पर सिंध जी हलति विलकूल मूख्तलिफ आहे। सिंध में या वरि पाकिस्तानि में जमूरियति कद॒ही भी पहिंजा पेर पसारे कोन सघी। सिंधी दलितनि लाई जेकरि कहिं थोडो घणो कयो आहे सो आहे अवामि तहरिक पर छो तह दलितनि जो मसलो समाजीक आहे सो इहा उमेति करण जे सियासी जोर दलितनि खे मिंलदो तह समाजिक तोर संदिनि खे पहिंजायपि मिलंदी सो गलति थींदो। दलितनि जो मसलो आहे तालिम- जेसिताई खेनि तालिम नह मिलिंदी तेसिताई हो कद॒हि सामाजिक तोर आजाद नह थिंदा।

इहो हर सिंधी लाई अफसोस जी गा॒ल्हि थिअण खपे तह संदिनि कोम जो हिक तब्को हिअर जिल्त जी जिंदगी पयो गा॒रे। पर इने जे वावजूद सिंधीयूंनि इन मसले थे कझु करण तह परे पर इन मसले जो जीक्रु ताईं कोन कंदा आहिनि। दलित हिंदु मूसलिमि बि॒हिनि पारां सतायलि आहिनि। जेकरि असीं सिंधी कोम खे हिक दि॒सण जी उमेदि था कयों तह दलितनि लाई हमदर्दी रखणी पवंदी। सिंधी दलित सिंधी समाज जा मुल हिस्सा आहिनि,हुवा ऐं रहिंदा। सिंधी दलित भले हो भील जात को हुजे, मघेवार हुजे या वरि कोहलि विरादरि जो हुजे खेनि भी रिवाजीं सिंधीयनि वाङुर जिंदगी गारण जो हकु आहे। सिंधी दलित सिंध में उहो ई पया घुरिनि जेको हर सिंधी सिंध में पया घुरिनि ऐं जिऐं कवि ऐबराहिम मुंशी लिखो आहे ….

बराबरी सरासरी असां घुरों था ऐतरि
जे पुछे को केतरि तह असां बु॒धायूं हेतरि
हिक आजाद कोम जेतरि , हिक आजाद कोम जेतरि

[slideshow]

हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। बंगलादेश जी आजादी महल बंगाली हिंदुनि तमाम वधिक कहर सठा। हिंदु बंगालियूंनि जी अबादीअ मां जेको हिस्सो लदे॒ हिदुस्तानि वारे बंगाल में आयो सो वरि मोठी बंगलादेश कोन वयो, हाथयूं जेके रहजि हवा सें होरयां होरयां लदे॒ आया ऐं अजु॒ जी तारिखअ में मस जेडहा 1-2 सेकडो ई ब़चा हूंदा। इहो मुमकनि आहे तह इहो भी दो॒हाडो परे नाहे जद॒हि बंगलादेश में को भी हिंदु नह बचयलु रहिंदो।

जेसिताईं सिंध जी गा॒ल्हि कजे तह 1947 खां 2011 ताईं जेकरि का रित सांदई हलि पई अचे तह उहा आहे सिंधी हिंदुनि अबादि जे लदु॒पणि जो सिलसिलो। सिंध में खासि करे जेकरि लद॒ पणि जो सिलसले दा॒हि नजरि दि॒जे तह इंहा चिटी रित नजरि इंदो तह जद॒ही जद॒ही सिंध में अंदरुनि अफरा तफरि थी आहे तद॒हि तद॒हि लद॒ पण भी कहि कदुरु पहिंजो पाण ई वधी वयो आहे। इहो इन गाल्हि जो शाहिद आहे तह निधिकणा माण्हूं हमेशाह ई साफ्ट टारगेट थिंदा आहिनि। इहो बंगलादेश जी अजादीअ जी लड़ाईअ महल थयो, सागी॒ रित सिंधी बो॒लीअ जे बिल महल थयो ऐं वरि सिंध में जूलफिकार भूटटो खां पोई ऐम आर डी (मुवमेंट फार रेसटोरशनि आफ देमोक्रेसि) जे जदोजिहद महलि भी दि॒ठो वयो। हर वकत हिंदु जी लद॒पण तेज थी वई। वरि सिंध विरहाङे बैद जेको सिंधी मुसलमालनि जो सिंध जी सियासत में तबाही थी आहे उन जो भी असरु सिंध जे हिदुनि जे लद॒ पणि खे जोरि दि॒ञो आहे।

आम तोर सां इहो मञयो वेंदो आहे तह हिंदुनि जी लद॒पण मुहाजरिनि (हिंदुसनाति मां लदे॒ आयलि मुसलमानि) जे सबब ईं थी। 1947 में तह कराची ऐं हैदरआबाद मां लद॒ पणि जे जेतोणेक सबब इहो ई थो दि॒सजे। मुंखे जेतिरी खबरि आहे बंगाल या पंजाब जेडहूं हालतयूं कद॒हि सिंध में पैदा कोनि थयूं हयूं, पर नाईं सेंपटिमबर जे वाकये मुखे पहिजी सोच खे कहि कदुरु बि॒हरि विचारण जे लाई मजबूर कयो। हे वाक्यो ताजो नाईं सेपटेमबर जी शाम जो सिंधी जे शखरि जिले में पनो आकिल ऐलाईके जो आहे जिते लग॒ भग॒ 200 हथयार बंधनि काहि आया। अहवालि मोजिबू इहे हथयारि बंध कुलह़डे जाति जा हवा। कराचीअ मां शाई थिंदड अवामी अवाज में शाईं थिअलु अहवालु मोजिबू – 200 खां वधिक हथयारबंद कल्हि शामअ (यानि 9 सेपटेम्बर) जो उचतो पनो आकिलि शहर जे हिंदु मूहल्लनि ईदगाह चौक शाहि बाजार में हिंदु बिरादरी जे घरनि ऐं हटनि ते उचतो काहि करे फाईरिग करे दि॒नि, जहि में जग॒त राम, परमानंद ऐं धरमूमल साणू हिंदु बरादरीअ जा पंज ज॒णा जखमि थी पया। जद॒हि तह अंधा धून फाईरिंग ब॒ह वाटहडो जफर दायो ऐं अब्दूलसत्तार दायो गोल्यूनि लगण सबब जखमि थी पया। हथयारिबंध हिंदू बिरादरीअ जे चईनि खा वधिक हटनि मां लखें रुपयनि जी फूरलूट करण बैद दुकाननि खे बा॒हि द॒ई साडे वयो, जद॒हि तह हिंदु घरनि में दाखिलि थी जाईफाऊनिं सां बतमिजी कई वई ऐं इन खां ग॒ह लावाहे फूर्या वया। हथियारि बंध पारां तेज फाईरिगं सबब सजे॒ पुने आकिलि शहरि में भाजि॒ पेअजी वई ऐं माणहूं पहिंजे जान बचाअण लाईं दुकानं में लिकी पया ऐं केतिरा लतार्जी जखमि भी थी पया। ईतलहि मिलण ते पनु आकिलि, बाईजी ऐं सुलतानिपूर पूलिस मोके ते पुजी॒ हथयार बंधनि सां महादो॒ अटकायो पुलिस ऐं हतयारबंध जे विच में फाईरिंग सबब हथयारिबंध जी अग॒वाणी कंदड बदनाम दो॒हाडी गुलाम हसनि कूलहडो यकदमि जखमि थी पयो जहि खें नाजुक हालति में इसपतालि में भर्ती कयो वयो ऐं नजिर मिराणी (संदुसि पोईलगू) मारजी वयो, जद॒हि तह हिक पुलिस अहलिकारि शहजादो काजी पिणि जखमि थी पयो। फाईंरिग बैद पुलिस किन दो॒हाडिन खे गिरफ्तारि करे पाण सां ग॒दु॒ गि॒हले पिणि वई।

जेसिताई मसले जी गा॒ल्हि आहे तह इहा खबरि आई आहे तह इहो वाक्यो विश्पत दि॒हिं (यानी 8 सेपट्मिबर) जो आहे जदहि पुनो आकिलि जे हिक पराईमेरि स्कूल जे हिंदु पटवालो साधु राम सतें वरहयनि जे सिंधी मुसलि बारडी जी लज॒णिनजी कोशिशि कई हुई। कुलहडे जाति जी इन बा॒रडीअ जूं रडयूं बु॒धी आसे पासे जा माणहु अची बा॒रडीअ खे आजाद करायो जहिखे इन पटवाले वारदाति खां पोई हिक कमरे में बंद करे रखयो हो। बा॒रडीअ खे बैद में पुने आकिलि जे असपताल मे वेहोशीअ जी हालत मां भर्ती करायो वयो। खबरि इहा भी आहे तह पटवालीअ सां हाथापाई कई वई हुई पर हो भज॒ण में कामयाब थयो। ताजे अव्हालि मोजिबु इन पटवालीअ खे रोहडीअ मां पुलीस गिरफतार करे शखर जेल में कैदि कयो आहे। सागर्दयाणी सां इन हादसे बैद, संदिसु वालिधु ऐं ब॒या माईटनि पलिसि थाणे अग॒या ऐतजादि कया, संदिनि सिकायति ते पुलिस साधुराम ऐं स्कूल जे पिरिंसिपल ते ऐफ आई आर दर्ज कई आहे ऐं केस भी दर्ज कयो आहे।

इन पुरे मसले ते पुलिस को किरदार यकिनन खेण लहणे। जेकरि पुलिस नह अचे हा महल सां, तह सायदि चङा हिंदू भी मारजी वञिन हा। हालतुनि खे नजरि में रखिंदे शखर शहर मां भी धारि पुलिस जो जथो घुरायो वयो। पुलिस जो चवण आहे तह काहि कंदड सब दो॒हाडी हुवा। पर इते मसलो इहो थो अचे तह हिनिन इहा काहि कहिजे शाई ते कई। इहो तह नाहे तह हिंदु बरादरी अगे॒ ई कनि खासि माण्हुनि जे सिधी नजर में हुई.नह तह इहो किअं मुमकिनि आहे तह हादसे जे यकदम बे॒ दि॒हीं सब हथयार बंध पूरि तयारि सा संब॒री बिहिंदा। इहो मुमकिनि आहे तह इन काहि जी तयारी अग॒वाठि हुई रुगो॒ कहिं मिहूं जी जरुरत हूई जेको हिन मसले ठह्यो ठूको दि॒ञो। इहो मूमकिनि आहे तह को हिंदुनि सा कावडयलि हुजे, या कहिजी हिंदू बिरादरीअ जी मलकितयूनु ते नजर हुजे।

हे पूरो मसलो कहि कदुरु हिदुस्तानि में गुजराति जे फसादनि जी यादि थो देआरे जिते हिक जुलम खे मुहूं देअण लाई हिकु ब॒यो जूलम कोयो वयो। गोधरा जे  रेल जे दवे॒ में साडयलि माण्हूं जी गा॒ल्हि रिवाजी माण्हू ऐं मिडया विसारे छदी॒। पुरो धयानि ई माण्हुनि जो उन फसादनि दा॒हिं थी वयो। सागे॒ रित पनो आकिलि में जको भी थयो तनि सां उन बा॒रडी जी गा॒ल्हि घठि ऐं फसादनि जी गा॒ल्हि ई माण्हुनि जे दिल ओ दिमाग में रहजी वई।

हिंदुनि ते इहे जुलम कहिं कदुरु नंढि गा॒ल्हि नाहे पर इन जे बावजूद सिंध हकूमत जो को बी वजिरु कोन अची पहूतो। वदो॒ वजिरु काअम अली शाहि जेको मुहाजरन जी कुर्बानीयूंनि (हा बिलकूल सही कुर्बीनी) जा राग॒ गा॒ऐं कोन थकबो आहे सो पुने आकिलि अचण तह परे ,हिकु हमदर्दीअ जो जुमलो पिणि कोन उकोरो। इहा गा॒ल्हि सही आहे तह सिंध में बो॒द॒ आयलि आहे। लखनि माण्हूं दरबदर आहिनि पर वदे॒ वजीरि जे उनहिनि लाई भी जे को घणो कजहि कयो आहे ईऐ भी नाहे। जां खा ऐम कयू ऐम संदिसि हकुमत खा धारि थी आहे तां खां वदे॒ वजीर जो धयानि रुगो॒ पहिजी हकूम खे सोघो करण में ई लग॒यलि आहे। जेकरि इहा बो॒द कराची या हैदरआबाद में अचे हा तह पोई सिंध हुकूमत जी गणती दि॒सण जेडही हुजे हा। सागयो हालि सिंधी मिडया जो भी हो। सवाई अवामी अवाज जे कहि भी इन मसले खे जोगी॒ जाई देअण जी जरुरत कोन महसूस कई। जेकरि कहि सयासि संजिमि इन थे सरगर्म रही तह उहा हूई जिऐ सिंध कोमी महाज। संदसि सदर बशीर खान खुरेशी मोके वारदात में पहुतो हिक अमन कामिटि भी जोडाअण में भी मदद कई। जिअं इन मसलनि खें वधण खां रोके सघजे।

कोलहडे कोम जे इन दहशद दीं॒दड वारदात सां जेका गा॒ल्हि हिंदु बिरादरीअ जे धयानि में ईंदी सो आहे लद॒पण। पाकितस्थानि जे वजूद में अचण खां ई  हिंदुनि जी लद॒पण जो सिलस्लो सांधई हले पयो । लदपण तह पंजाब ऐं खैबर पुखुतुंवाह मां भी थे पई पर सिंध मां हिंदुनि जी लद॒पण जो कहि कदुरु मुख्तलिफ आहे। जदहि तह सिख ऐं बया हिंदु सागी॒ बो॒ली गा॒ल्हिईंदड ऐलाईके में था वञि वसिनि पर सिंधी ऐडहा खुशनसिब नथा थेनि । हो अणसिंधी ऐलाईकनि में था वञी वसिनि। जिते खेनि वसण में भी तमाम वधिक तकलिफनि खे मुहुं थो देअणो पवे। संभनि खां वदो॒ मसलो आहे तह हिदुस्तानि में नागरिकता जो, जहि सबब हो तमाम तंग भी था थेनि। वरि हकूमत ताई संदिनि दा॒ही या फर्याहि नथी पुजे छो जो सिंधीयिन हिथ टरयलु पखिरयूलि आहिन ऐं ब॒यो तह सिंधीयूनि जी हित सियासत में हलिंदी पुजिं॒दी नाहे। इन खां सवाई अजु॒ जे कराचीअ वाङुरु हित गुजराति ऐं राजिसथानि  में नो गो ऐरिया तह नाहिन पर ऐडहयूनि चङा ऐलाईका आहिन जिते सिंधीयूनि खे जायूं मसवाई हित हिंदुस्तनि में सिंधीयनि सां सुबाई माण्हूनि में वहिंवार भी सीग॒यो नाहे। जिते हिक पासे गुजराति (कच्छ खे छदे॒) ऐं राजसथानि में सिंधयूनि सां वहिंवार कहि कदुरु गलत थिंदो रहयो आहे उते हिंदी गा॒ल्हिआंदड सूबनि में वरि इअं नाहे। पर इन जे बावजूद लद॒ पण जोर थे आहे छा काणि तह ब॒यो कजहि नह तह हित हिंदुस्यानि में लदे॒ आयलि हिंदुनि जे लेखे अमन ऐं सांन्ति आहे। को भी सिंधीयूनि जे घरनि ऐं दुकानं खे बा॒हियूनि नथो दे॒, सिंध वाङुरि सिंधी हिंदु नयाणिनि खे स्कूल मोकिलण में माईट दि॒जिनि कोन था।

केतरि नह अजबु गा॒ल्हि आहे जे के रिवाजी माण्हूं इहो भी नह समझींजा कोन आहिनि जूलूम कद॒हि भी कोमी नह पर शख्सी थींदो आहे। इहा गा॒ल्हि हमेशाई ई पधरि थी आहे तह जद॒हि जद॒हि जूलम खे कोम सां ग॒द॒यो वयो आहे तह नुकसानि इहो जुलमु सहण वारे जो ई थयो आहे, जेको जुलुम उन नंढरी शागिरदयाणीअ सां थयो आहे सो कहि कदरु नढो जुलुम नाहे। इहा समाज जी जिमेवारी आहे तह दो॒हारीअ खे सजा मिले, छाकाणि तह हिक दो॒हु जो मसलो कहि धारि बेहिगुनाह ते जुलमू करे पूरो नह थिंदो आहे। जेको जलमू साधूराम कयो आहे सो कहि माफि लाईक नाहे। पर जे इनही लाई कहि जा दुकान साडया वञिन या कहि खे फरयो वञे तह इहा कोम जी बदनसिबी खां सवाई ब॒यो कजहि नाहे। केतिरो नह अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे जे इन काहि थी हिदुनि ते पर वारदाति ते मुआ ब॒ह सिंधी मुसलमानि। सिंधयनि खे सिंधीयनि सां विडाहण जो ऐजेंडा मुहाजरिनि ऐं पंजाबियनि जो आहे जहि में इहे भोतार ऐं वदे॒रा अहम किरदार था निभायनि। जेसिताई इन भोतारिन खे हूकूमत मां नह हेकाले कद॒या वेंदो सिंध में कदहि अमन नह ईंदो। मुल्कु जी गा॒ल्हि परे, सिंधी मुसलनानन को इजत जी हयाती भी जिअण मुशकिलि थिंदी जिऐं कराचीअ जे लियारीअ में थी रहयो आहे।

हिंदुनि जे लद॒पण सां मभनि खा वधिक मुशकिल हिंदु दलितनि जी थिंदी। हो अगे॒ई तकलिफनि में आहिनि ऐं हिंदुनि जे लद॒ण खां पोई हालतयूं संदिनि लाई बेजार थी वपदूं। हो सदियनि खां जिल्लत जी जिंदगीयूं पया गुजारिनि। ऐडहा चङा वाकया अखबारिनि में साई कया वया आहिनि जेहि में संदिनि सा माटेलो वहिंवार चिटि रित नजर अचे थो। वेझडाईअ में ई सिंधी अखबारकनि में खबर शाई थी तह बो॒द॒ सबब लगायालि केपनि में खेनि खादो या इझो कोन थो दिञो वञे। सागि॒ रित ऐडहयूनि गा॒ल्हिईयूनि पर साल आयलि सिंध में बो॒द॒ महलि भी बु॒धण में आया। नुकसानि सिंधी मुसलमानन जो भी आहे जेके इन सिंधी हिंदुनि जे लद॒ण सां थोराई में ईंदा, छा काण तह घटे थी तह रुगो सिंधीयनि जी आबादी थी। सिंधी बो॒लीअ जो जोको वहिंवार घठबो सो धारि नुकसानि।

असीं सिंधी जेके हिंद में आहयूं लद॒ पण॒ खे हमेशाहि ई हिकु रिवाजी हिंदु मुसलिम मसलो करे लेखिंदा आहयूं। इन जे हिकु सबब इहो भी थी थो सघे तह सिंध में रहिदड सिंधियनि सां असां जो  राबतो नाहे। वरि जहि राबतो रखो तनि में ऐं आम रिवाजी सिंधी में लिपीअ जे मसले हिक वदी॒ विछोटी आंदी जहि सबब हिंद में रिवाजी सिंधी सिंध जे हालतूनि खां मां अणवाकिफ ई रहया आहिनि। दरअसलि 1947 खां जोको तब्को सिंधीयनि (मसलमानि में ) जी नुमाईंदगी पयो कंदो अचे तन जे सोच में को भी फेरो कोन आयो आहे। हो अजु भी ओतिरा जाहिलअ आहिनि जेतिरा मुञे सदी अगु॒ हवा। इन जे विच में बंगाली अजादीअ जी अवाज भी बुलंद कई आजाद थी भी वया पर सिंधी उतोऊं जा उते। सिंध जी सियासत 1947 खां ई वदे॒रेनि ऐं बो॒तारनि जे हथनि में आहे, जिन लाई आम रिवाजी सिंधीयनि खे अणपढयलि ऐं पोईते रखण ईं हिक अहम मजबभरी ऐं जरुरत ब॒ई आहे। इहो इन लाई जे जेकरि जेकर रिवाजी सिंधयनि में सुजाग॒ता इंदी तह संदिनि हकुमत नह हलंदी। अग्वा सिंधी मुसलमान भी था थेनि। फूरलुट ऐं खुनखराबो सिंधीयनि मुसलमानं में खासि करे गो॒ठनि में आम थी पयो आहे। वरि जेहिं खे तालिम भी मिलि से वरि मुहाजरिन जा पोईलग॒ थी रहजी वया, ऐडहे में जेकरि को अमन यां सांन्ति जी उमेद करण मतलब रण में हर मानसुनि मे मिंहिं जी उमेद करण खां कहि कदुरु घट नाहे।

 

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ जे द॒हाके में ई वजूद में अची वया हवा पर कमपयुटर ऐं आम रिवाजी माण्हुनि जी वाटि विंडोज जे वजूद में अचण सां पुख्ती थी। पर छो तह कमपयूटर जी इजाद उलहँदे मुलकनि में थी, इन सबब इन जो पूरो फईदो भी रोमन लिपी ई माणियो। पर होरया होरयो अण-रोमन लिपि लिखिंदडनि में भी इन करिशमें दा॒हिं छकंदियूं वयूं। पर इन जे बावजूद यूनिकोड जेडही का शई नह हुजण सबब कमपयूटर में दे॒ही बो॒लयूनि लिखण ऐं पढ़ण हमेशाई ई कहि चूनोतीअ खां घ़टि नह रही आहे।

युनेकोड जो इजादि कमपयुटरनि की दुनया में हिक वदो॒ जूनून खणी आई। युनेकोड जे ईजादि खां वठि जेको मसलो रोमन ऐं अणरोमन रहयो हो सो लग॒ भग॒ हमेशाह लाई खत्म था वयो। युनिकोड सबब इहो ममकिनि थी सघो तह को भी शख्सु दुनिया जे कहि भी हिसे में हुजो ऐं को बी कंपयुटर जे कहि भी आपरेटिगं सिसटम हलाऐं भी पहिजी बो॒ली ऐं लिपी सा गंढजी रही थो सघे। युनिकोड जे इजाद बैद मसलो इहो भी आयो तह किअं यूनकोड खां अगु॒ जो मवादु खे कमपयूटर में आणिजे ऐं इतो खां ईं शुरु थी किताबनि जे डिजीटलाईजेशनि जो खयालु। डिजीटलाईजेशन पाण सां ग॒दु॒ के अहम सहुलतयू खणी आई जेके कजह हिन रित आहिनि…

  •  अणलभ किताबनि बि॒हिर पढिंदड अगयां पेश करण जी सहुलियति
  • लाईब्रेरि ऐं पढिदडनि जे वचियों दुरि खे कहिं हदि ताई खतम करण
  •  पहिजे जरुरत मोजिबु सहूलाई सां गो॒लह (Searchable text) जेको आम दसतावेजनि में ममकनि नाहे।

अणलभ किताब या छापे खां बाचहिरि किताबनि जो मसलो हिकु ऐडहो मसलो आहे जहिं सां हर कहि बो॒लीअ खे मुंहू थो देअणो पवे। मसलो इन लाई थो अचे जे कितावनि जे छापे जी तादाद हमेशा ई किताब जे घुर ते भाडयलि हुंदी आहे। इहो ई नह उन साग॒ये किबाब जो ब॒यो को छापो तद॒हि ई शाई कयो थो वञे जद॒हि उन किताब जी घुर वधे थी। इन सब कमन में वरि चङो वकत भी थो लगी वञे जहिसां पढिंदडनि थे चङयूं तकलफियूं थूं सहणयू पवनि। डिजीटलाईजेशन बैद अणलभ किताबनि जे नसबत फाईदो इहो थो पवे तह आनलाईनि छापे जो खुटण जो को सवाल ई नथो अचे। जहिंखे जद॒हि खपे सो डाउनलोड करे थो सघे।

ब॒यो मसलो आहे किताब ऐं लाईबरेरिअ जे मंझ वेचो घटाअण जो—अम तोर सा किताब पढहण जा ब॒ वसिला आहिनि। हिकु तह किताब वण्जे या नह तह कहिं लाब्रेरीअ मां उधारो वठजे। डिजीटईलेजेशन सां ऐडहनि मसलनि में अहम मदद थी मिले। जेकरि को किताब डिजीटलाईज थो कयो वञे तह ई-लाबरोरि जे जरिऐ पडही थो सघजे। हिदुस्तानि तोडे परदे॒हि में ई- लाबरेरि तमाम घणयूं मकबुल थयूं आहिनि। हाणे लग भग हर वदि॒ युनवरसिटि खे पहिजी ई- लाईवरेरि आहे जहिजी मदद सा पढिंदड दुनया जे कहि भी कुंड कुरच में रही इन ई-लाबरेरि जे जरिऐ किताब पडी था सघिनि।

डिजीटाईलेशन में जेका टियो अहम फाईदो थो दि॒सजे सो आहे किताब में कहिं खासि लफज जी गो॒ल्ह। आम तोर सां कहिं भी किबाब जे पिछाडीअ में पनोतिरो थिऐ थो जहिजे मदद सां किताब में लिख्यलि को भी लफ्ज गो॒ल्हे लधो थो वञे। पर डिजीटलाईजेशन सा साग॒यो कमु तमाम घट वकत में थी थो सघे ।

डिजीटालाईजेशनि में हिक वदो॒ जनून तहि महल आयो जद॒हि इंटरनेटि जी वदे॒ मे वदी॒ खोज साईट गूगूल दुनया जी 350 बो॒लयूनि खे डीजाटीलाईज करण जी पधराई कई। इन कम जे नसबत चङनि बोलयनि ते कम पिणि थयो । सिंधीअ में खास करे गुगुल टे किताब डीजाटीलाईज कया जहिजा कागरी छापा हिअर अणलभ आहिनि। मसलनि- केपटेन जोर्ज इसटेक जो सिंधी – अग्रेजी लुगति, अग्रेजी- सिंधी लुगत ऐं सिंधी वयाकरण। पर इन खां सवाई तमाम थोड़ा ई देवनागरीअ सिंधी में किताब डिजीटलाईज कया आहिनि, वरि जेके कया भी वया इहे मखमल किताब नाहिन। रुगो किताबनि जा कवर ई आहिनि। सागे॒ रित अर्बी सिंधीअ में ऐडहयो हाल आहे। अर्बी सिंधीअ में खीसि करे को घणो कम कोन थयो । हिंदुसथानि में इन जो हिकु सबब तह समझी थो सघजे तह नई टेही अर्बी सिंधी कोन थी पढे पर सिंध सां इअं गुगुल जो वहंवार सम्झ खां परे आहे। इहो ममकिनि आहे तह गुगुल पिणि पाकसथानि जे उर्दू खवाहि अंग्रेजी मिडया जा शिकारि थी थियलि भासिजे जेके सिंधीअ खे हिक मूअल बो॒ली करारि देअण जो को भी मोको कोनि विञाईंदा आहिनि।

जेतोणेक गुगुल जी नजरि खां सिंधी बो॒ली कहि कदरु विसरि वई आहे पर इन जे बावजूदि सिंध में सिंधी किताबनि जे डजीटाईलेजेशन में चङो कमु थियो आहे। सिंधी अदबी बोर्ड, जामशोरो सिंध खोड़ सिंधी किताबनि खे बि॒हरि कंपोज करे पहिंजी वेबसाईट में शाया कया आहिनि। साहित्य जी Wऐड़ही का भी संफ नाहे जहिते कमु कोन थयो आहे। कहाणयूं, नावेल, लोक अदब, लुगति, कविताऊ, अत्म कथा, सफरनामा, नाठक वगिराह ते चङो कमु कयो वयो आहे। संदिनि विरहाङे खां पोई तोड़े अगु॒ जे सिंधी साहित्य खे ग॒दु॒ कयो आहे जहिं लाई अदबी बोर्ड खेण लहणे। शाबसि आहे अदबी बोर्ड खे इन कम खे अंजामु दि॒ञो आहे। जेतोणेक इन गाल्हि मे को भी शकु नाहे तह टेकनोलाजी जे नज़रइऐ सां अदबी बोर्ड हिंदुसतानि में थिंदड़ डिजीटाईलेजेशन जे मयार खां कहि कदुरु घटि आहे पर तद॒हि भी जेको कमु अदबी बोर्ड कयो आहे सो को घटि भी नाहे। अजु॒ को भी सिंधी दुनया जे चाहे कहि भी कुंड कुरच मे थो रहे, सिंधी साहित्य खां वाकिफ रही थो सघे। इहा पाण में ई हिक वदी॒ कामयाबी जी गा॒ल्हि आहे।

इन खां सवाई सिंधी में एडहयूं चङयूं कोशिशयूं थिअल आहिनि जहिं जे मार्फत सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे नसबत कम कयो पयो वञे। जेतोणेक इहो कम शख्शी तोर थिअल आहिनि पर इन जे बावजूदि इन कमनि खे नजरि अंदाज नथो करे सघजे। इन जा मिसालि आहिनि वाऐसि आफ सिंध, शखर सिठी ऐ ब॒यूं वेबसाईटयूं. आहिनि जहिजे में जे मार्फति सिंधी साहित्य सां वाकिफ थो थी सघजे। पिछाड़ीअ में गा॒व्हि कंदसि इसकराईब जेहि में थोडो ई सहि पर सिंधी मवादि थो मिले।

जेसताईं हिंदुस्तानि में डिजीटलाईजेशन जी गा॒ल्हि कजे तह हित डिजीटलाईजेशन जो कमु घणो तणो सरकारि जे माली मदद सां ई थयो आहे। इन में सबनि खा पहिरों नाTऊं डिजीटल लाईब्रेरी आफ इंडिया जो आहे। इहा पराजेक्ट तमाम वदी॒ आहे। मुल्क में इन कम लाई 21 जायूं आहिन जिते किताबनि जूं इसकेनिङ जो कम थे आहे। इहा पराजेक्ट इंडईयनि इंसटियटि आइ साईंस, कार्नेग मेलनि युनवरसिटि, नेशनल साईंस फाउंडेशनि, मिस्र जी ऐम सि आई टी ऐं इंट्रा युनिवरसिटी सेंटर फार ऐंसटेरोनामी ऐं ऐसट्रोफिझीकस, पुणे जो गद॒यलि सहकार सां वजूद में आयलि आहे। इन पराजोकट जे माईफति लग भग अढाई लख किताब जुदा जुदा संफनि में डिजीटलाईज थी चुका आहिनि। जेतोणेक इन में अंग्रेजी किताबनि जी घणाई आहे पर दे॒ही बो॒ली जी जा भी चङा किताब शाई थियलु आहिनि। जेसिताई गा॒ल्हि सिंधी जी आहे तह तमाम दु॒ख ऐं अफसास सां थो लिखणो पवे तह सिंधीअ खे विलकूल ई नजरअंदाज कयो वयो आहे पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा भी आहे तह इन बाबत कहिं सिंधी संसथा हुलु भी कोन कयो। हा पर सिंधीयूनि ऐं सिंधी बोलीअ बाबत जरुर के किताब डिजीटलाईज थया आहिनि जनि जे घणाई अंग्रेजी जी आहे ऐं ऐकड बे॒कड बंगला ऐं तमिल बो॒लीअ में आहे।  हिंदुस्तानि में ब॒यनि बो॒लयुनि जे भेट में सिंधी बो॒लीअ में  डिजीटाईलेजोशनि जी तह यकिनं असां तमाम पोईते रहिंजी वई आहे, इन जो हिकु सबब इहो भी थो दि॒सजे तह नई टेहि जहिंजे चाहि सबब आई टी ऐतिरो अग॒ते वधी सो सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य कां कोसो परे आहे।

डिजीटाईलेजोशनि जे नसबत सिंधुनि में के अहमि मसला आहिनि। पहिरो मसलो आहे तह जेकरि डिजीटाईलेजोशनि थे भी तह केडही लिपी में थे। जेकरि आर्बी लिपीअ में इन कम खे हथ में खणजे तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह इन में कयलि महनत सखार्थी कोनि थिंदी छा पोणि तह पढंण वारा तमाम घटि मिंलिंदा। वरि जेकरि देवनागरी लिपी में डिजीटाईलेजोशनि कजे तह खर्च जो भी मसलो आचे थो, छाकाणि तह कतानि बि॒हरि कम्पोज, फरुफ जा कम था अची वञिनि। इन बैद मसलो आहे तह इन जे सर्वर जी जिमेवारी कहिंजी हुंदी। इन कम खे आगते केरु वधाईंदो. पिछाडीअ में इहा बी गाल्हि विसारण नह खपे तह देवनागरीअ खे जेके सिंधीअ जी नाजाईस लिपी था मञिन तन खे किअ भरोसे में आणजे जे हो कमु आगतो वधे।

जेकदिहि लिपीअ जो मसलो आहे तह यकिनं देवलागरी हिक वेहतरिनि लिपी आहे। ध्वनी स्वर लिपी हुजण सबब लिखण में भी तमाम तहुली थी थिऐ। इहो ई नह अर्बी सिंधीअ जे भेटि में ऐडहा तमाम घटि लफज आहिनि जेके लिखया हिक नमूने था वञिनि ऐं पढयो धारि नमूञे । इन खां सुठी ऐं ठाहूकि लिपी सायदि ही सिंधीयूनि खे मिलि थी सघे। ब॒यो तह इहो तह लिपी सबनि खे अचे थी, छा काणि तह देवनागरी अखरनि सां पूरो उतर हिंदुस्तानि वाकिफ आहे जिते सिंधी रहिनि था। जेकसाई गा॒लिह कजे थी इन प्रोजेक्ट लाई खपिंदड पैसे जी तह सिंधी बो॒लीअ लाई झझो पैसो दिञो थो वञे, भले उहो ऐल. सी. पी.सि ऐल हुजे या सिंधी आदादमयूं। इहा गा॒ल्हि कहिं खां गु॒झी नाहे तह सिंधी अकादमयूं पहिजो महदूद बजेट खर्चण में कसिरि आहिनि, छा काणि तह संदनि वटि को घणयूं पराजेकट आहिनि कोन्ह।

डिजीटलाईज सिंधी बो॒लीअ जी हिक अहम जरुरत आहे। जेकदचहि असीं नंढे खंढ जे कोमनि खे दिसिंदासिं तह ऐंडहो सायदि ई को कोम हूदो जेको सिंधी हिंदुनि जेतरो टरयलि पखरियलू हूंजे। अजु॒ सिंधी दुनिया जे सठ मुलकिनि में रहिनि था। मसतब तह अव्हा जिते भी वञो – एशिया, अफरिका, उतर या द॒खिनि अमेरिका या युरोप जिते किथे अव्हां खे सिंधी लभिंदा। जदि॒ही ऐडहे वदे॒ ऐलीईके में सिंधी रहनि तह बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत रुगो॒ रिवाजी किताब जी पहुच ममकिन नाहे। सो इते ई गा॒ल्हि अचे था डिजीटलाईज जी। असां खे इहा गा॒ल्हि बिलकूल नह विसारण खपे तह अजु॒ टेकनोलाजीअ जो जमानो आहे ऐं जेकरि को इहो मौको विञायो वयो तह इहो ममकनि आहे तह इन जी जाई बी॒ का धारि बो॒ली अख्तयार कई वेंदी जहिजो मतलब इहो तय़ो तह सिंधीअ जी नेकालि हाथयो पक थी वेंदी। अजु॒ जी हालति में इन्टरनेट ई ऐडहो साधन आहे जहिजे जरिऐ सिधी तमाम थोडे वख्त में बो॒लीअ जो फहलाव मखमल करे था सघिनि। अजु॒ सिंधी बो॒लीअ खे हिक ऐडही टेकलालजीअ जी जरुरत आहे जहिजे मार्फति सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जो वाधारो घटि में घटि वकत में थी सघे। युनिकोड असां सभनि लाई हिक राह दा॒हीं इशारो कयो आहे ऐं जेकरि असी इनि जो फाईदो कोनि वर्तोतिं तह मुल्क तह विञायोसें ई हिअर सिंधी बो॒ली पिणि विञाऐ वेहिंदासिं।