किड॒हिं थिंदासि पहिंजे देश जा।

 

सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदु हिक ऐडहे चक्रर्वियू में फाही चुका आहिनि जहिं मां निजात पाअण ऐतिरो भी को सहूलो कम जेतिरो हिंदुस्तान मां वेही समझो वेंदो आहे। असां जी टेही जहिं कड॒हिं सिंध कोन डि॒ठी, सिंध में आम हिंदुनि मंझ वक्त किन गुजारो – सिंध में हिंकु हिंदु थिअण जो अहसास कोन माणो पहिंजे ई रत पारां जलिल थिंदे कोन डि॒ठो, – हे हिकु अणजातो आजमूदो आहे जहिं सो सही अहसास करण असां खे वस खां बा॒हार आहे।

सिंध में हिंदुनि ते जूल्म जेतोणेक नया नाहिनि, इहे तह हमेशाहि ई थिंदी रहया आहिनि, पर जहिं सुरत में पिछाडीअ जे 65 सालनि में पहिंजो भोवाईतो मूहांडरो डे॒खारो आहे सो इन खां अग॒ वरलि ई ड॒ठो वयो हो। सिंध में हिंदु भले कहि भी तबके जो छोन न हूजे, कहि भी ज॒मार जो छोन नह हूजे सिंध जे कहिं भी इलाके में छो न हूजे कहि भी जाति जो छो न हूजे हिक हिंदु हूअण जो अहसास मसझे थो।

सिंध अंदर हिंदुनि सां केडहो सलूक पया कयो पयो वञे, सिंध में सामाजिक तोर या सियासी तोर हिंदु सिंधीयूंनि जी केडही हैसियत रहि आहे। सिंध में रहिजी वयलि हिंदु सिंधी छो लड॒ण लाईं मांदा रहया आहिनि, रियासती इदारनि जो केडहो सलूक रहयो आहे, आम सिंधी मूसलमान जो केडहो सलूक रहयो आहे ऐ वडी॒ गा॒ल्हि त हिंदुस्तान हूकूमत जो केडहो रदे अमल थिअणो खपे  इन मसले नसबत … – हे उहे सवाल आहिन जेहिंजो जवाबु सिंध जो हिंदु तड॒हि ड॒ई तो सघे जड॒हिं हो महफूज ऐं बे-ढप हूजे जेको रगो॒ तड॒हि मूमकिन आहे जड॒हिं हिंदु सिंदी सिंध खां बा॒हर हूजे। सिंध में हिंदु केडहि दहेशत में था रहिनि इन जो अंदाजो इन गा॒ल्हि मां कड॒हि सघजे थो हो शोशल मिडिया में जिते आम तोर सां घणो कजहि बेढप जाहिर थो करे सघजे सिंध जा हिंदु कुछण लाई त्यार नाहिनि…!!!

इहो डि॒ठो वयो आहे त आम तोर सां सिंधी लोहाणा, सिंध में थियलि जूल्मनि बाबत खामोश रहिंदा आहिनि शायदि खेनि हिंदुस्तान में पुलिस पारां पाकिस्थानी हूअण जे सबब तंग थिअण जो ढप हूंदो आहे। ऐडहा जाम वाक्या थिया आहिनि जिते पूलित तोडे ब॒या सरकारी मूलाजिम पारां लडे॒ आयलि सिंधी हिंदु तंग थिया आहिनि जहिं मां निजात तड॒हि वञि मिलि थी जड॒हि का भूंग या रोकडनि सां संदुनि खिसा भरया वञिनि। खैर अहमेदाबाद में इतफाक सां ऐडहे ई हिंक आकहिं सा राबतो थियो जेके 20 सालनि बैदि भी नागरिकता मिलण जे जा॒रु (गणतियूं) पया कनि। वडी॒ गा॒ल्हि त इहा जे हूनिनि पहिजे पाण ते थिंदड जूलमनि बाबत गा॒ल्हिईंदे जरे जो भी हिजाबु या ढप किन डे॒खारो ।

2 3 4 Pak in Ahd_Page_1

पहिंजे बाबत विचूड डिं॒दे श्री निर्मलदास  चयो साईं “आउं लाडकाणे को आहियां। गो॒ठू रतोतिल जो। सिंध में लाडकाणे में मूहिंजो कारोबार हूंदो हो। इंअ त माहोल ऐतिरो खराब किन हो पर 1960 खां पोई हालतु उमालक बिगणण लगयूं । मूंहिजी हयाती में फेरो तड॒हिं आयो जड॒हि मूहिंजे बि॒नि सालनि खे डि॒हिं तते सरे आम कतल कयो वयो। ब॒ई फोहू जवानी में हवा। हिकडे उतेई तम तोडयो ऐं बे॒ खे कराचीअ खणाऐवयासिं । 21 डि॒हिं सांदही जाखडे बैदि नेठि हून भी दम तोडयो। मोत सां हो पुजी॒ किन सघयो। गा॒ल्हि उते खतम किन थी । मूहिजे सहूरे खे अग॒वा कयो वयो। भूंग ड॒ई किअ भी करे आजाद करायोसिं जड॒हिं तह मूंते पिणि अगवा॒ तो वाक्यो थी चूको आहे पर मां किअ भी करे भजी॒ निकतुसि। असां हेकला नाहियों। सिंधी हिंदु ऐं खासि करे धंधेडी हिंदुनि सां ऐडहा वाक्या हाणे आम थी पया आहिनि। असीं घरनि खां बा॒हर भी निकरउ तह इन जो पूरो धयान रखउ त मता को असां जे कड॒ त कोन पयो आहे। रात जो हेलले निकरण जो स सवाल ई नथो अचे। असीं सिंध में इहा कोशिश पूरी कयूंनि तह ल़टनि कपडनि तोडे वेश भूषा सां कहि भी रित हिंदु किन लगउं त मतां खहिंके इन गा॒ल्हि जो छिड्रु न वपे त असीं हिंदु आहियूं।“

हुन अग॒ते चयो तह मां सिंध रहिंदे अहमेदाबाद आयो हो। विजा टिन महिनिन लाई हो पर बैदि में वरि टटिन महिनि लाई वधायो हो। हिंदुस्तान में सकून आहे अमन आहे। मां मोत कबूल कंदुसि पर मोटी सिंध कोन वरिनिदुसि। असां जो पहिंजा चई को भी नाहिनि। असां हिंदुनि लाई सिंध में रण बा॒री वई आहे।

असां हिंद में जा॒वलि सिंधी जनि नंढे खां माईटनि पारां सिंध में सेकुलिजम जा डि॒घा डि॒घा दावा बु॒धिंदे वडा॒ थिया आहियूं, इहो निहायत ई वाईडो कंदड मंजर आहिनि ऐं वडी॒ गा॒ल्हि इहा त इहो सभ उते पयो थिऐ जिते सिंधीयूंनि (मूसलमान ) जी घणाई आहे !!! श्री मिर्मलदास पिणि मूखे इन गा॒ल्हि जो पधराई कई त असीं लाणकाणे जेडहे शहर में भी जिते वडी॒ तादाद हूंदी हूई हिंदुनि जी पर हिंअर अग॒वा थिअण जो खोफ हमेशाहि रंदो आहे। असीं डा॒ड्ही भी मूसलमानि वाङुरु रखउं जिअं कहिंखे इहो इहो छिड्रु न पवे त असीं वाक्ई हिंदु आहियूं। असीं त सिंधी में खूली रित ऐतजाजत बि कोन करे सघउ मतां मूसलमानि खे इअं न लगे त असीं खेनि खुयार था कयूं इंसाफ जी उमेदि करण त परे जी गा॒ल्हि थी।

इअं चवण लाई त हिंदुस्तान तोडे पाकिस्तन में मंझ हिक ठाह मोजूद आहे जेका बिलकुल हिन मसले लाई ई वजूद में आंदो वई आहे पर न त हिंदुस्तान ही हकूमत पांरां कहि भी अमल डा॒हि धयान डि॒ञो ऐं न ही हिंदुस्तान को सिंधी समाज। अहमेदाबाद जी सरदारनगर तक कहि ते भलो को कुछ भी छोन करे सिंधी वोटन खां सवाई खटि कोन थो सघे, उते पिणि इन मूदे ते खामशी ई आहे। पर-साल हित आलमी सिंधी संमेलनि थियो जहि में डे॒हि परडे॒हि जा सिंधी ग॒डु थिया वडी॒ गा॒ल्हि त आडवाणी तोडे गुजरात जो वडो॒ वजिर ताईं मोजूद हो पर सिंध जे हिंदुनि जे मसलनि जो जिक्र ताई कोन थी सघयो कहिं इन मसले ते जोर ई किन डि॒ञो।

हर लड॒पण जा पहिंजा मसला थिंदा आहिनि । 1954 बैदि थिंदड लड॒पण में नागरिकता हिकु वडो॒ मसलो थी विठो आहे। लडं॒दड हिंदुनि खे 7-10 सालनि ताई बिना नागरिकता रहणो थो पऐ। वरि हर सूबे सुबाई सरकारनि साग॒यो रलईयो किन रहयो आहे। मध्य प्रदेश, राजसथान, छतिसगढ में जिते नागिरकता मिली भी थी वञे पर गुगजात जिते हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि सभनि खां वडी॒ आबादी पई वसे उते इहा हिअऱ 30 – 30 सालनि ताईं नागरिकता किन थी मिले ऐं मथोउ वरी सरकारी आफिसरनि जो ड॒चो सो धार।

गुजरात में लडि॒दड हिंदु सरकारी मूलाजिम लाईं ज॒ण लडिं॒दड हिंदुनि ज॒णु पैसे उगारण जो वडो॒ जरियो ड॒ञो आहे। अहमेदाबाद में रहिंदड डा रमेश (नालो फिरयलि) जो चवण आहे मस जेहा 20-25  लडयलि मस जेडहा गड॒निन था जे आफिरस जा फोन अचण शुरू था थी वपनि. हो पुछिन साईं अव्हा कहि मसले ते इहा गड॒जाणी कोठाई, केर केर आया हवा वगिराह वगिराह ऐं जेकरि को कची नस वारो सिंधी निकतो तो आफिसर भूंग (रिशवत) ओगारण में मिंट देर न कंदो। हो थदो तड॒हि थिंदो जड॒हिं रोकड हथ में मिलिनिस।

इन गा॒ल्हि जी पुठिभराई जाम लडं॒दड सिंधी हिंदु कई आहे त गुजरात में सरकारी अफसरि जो वहिंवारु डु॒खाईंदड रहयो आहे। श्री मिर्मलदास जे पुट जो चवण हो तह असां खे सजो॒ सजो॒ डि॒हिं इन आफइसरनि वठि वाहायो वेंदो आहे उहो घर में जाइफां ऐं बारनि ऐं गेरेंटर सुधो। हर नंढि गा॒ल्हयूंनि ते दब॒ पटण, बेअजत करण ज॒ण संदुनि नित मियम हूजे। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे इहो सभ हिक ऐडहे सुबे में पयो थिऐ जहिं खे हिंदुत्व जी प्रयोगशाला ताई कोठयो पई वेंदो रहयो आहे। जेकरि लडिं॒दर हिंदुनि का आकडा डि॒सजिन तह गुजरात हेकलो सुबो आहे जिते लडे॒ आयलि सिंधी हिंदुनि खे विजा ऐं सरकारी अफसरि जे दबा॒उ सबब सिंध मोठी ताईं वञणो पयो आहे पर इन ते भी सिंधी समाज खामोश। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे तह आर ऐस ऐस ऐं बी जे पी पिणि इन ते माठ रहण में ई पहिंजी सयाणप ई समझिंदा आहिनि !!.

सिंध तोडे पाकिस्तान मां लडिं॒दडनि सां हिकु ब॒यो मसलो इहो आहे त हिंदुस्जान में हिक लड॒पण मूसलमानि पारां भी पई जेका तमाम सहूलाई सां ऐं बिना रोक ठोक सां पई थिये। छो तह बंगलादेश की सर्हद अगो॒पोई सिल नाहे सो इहा लड॒पण अजु॒ ताईं पई हले। वरि वोट बैंक की सियासत इन मसले खे निबरण ई किन डि॒ञो। पर जड॒हिं कानून जी गा॒ल्हि पई अचे तह बि॒हिनि लड॒पण हिकु करे डि॒ठयूं पयूं पञिनि। हिक पासे गैरकानूनी लड॒पण ऐं सुख त बे॒ पासे कानूनी लड॒पण ऐं आफिसरन जो ड॒चो।

2005 में असाम जे कोमिप्रसतनि जे दबा॒उ में सरकार नागरिकता के कानून में वडो॒ फेरबदल कंदे नागरिकता डे॒अण जा हक जिले मेजिस्ट्रेट खां खसे मर्कजी हूकूमत जे गृह वजिरात खे डि॒ञा, जहि सबब बंगलादेशिन खे सहलाई सां नागरिकता वारो मसलो त कहि हद ताईं निबरी वयो पर सिंध मां लडिं॒दड हिंदुनि जी बे॒डी बु॒डी वईं। नागरिकता मिलण मूशकिल थी पया। सरकारी आफिसर जा धिका खां वधिक दिल्ली जा धक डु॒खया लगिनि।

साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले बैदि हूकूमत जेका नोठिफिकेशन पधरी कई जहिं में  साफ साफ जा॒णाआहे तह हूकूमत पाकिस्तान में  थिंदड जुल्मनि बाबत तहकिक कई आहे ऐं इनहिनि खे सही पातो आहे पर जड॒हिं नागरिकता जी गा॒ल्हि पई अचे हर को माण्हू भले इहो कहिं भी मूल्क मां छो न हूजे कानून साग॒यो ई लागू थिऐ।।। ऐडी॒ वडी॒ ब॒याई पई थिऐ पाकिस्तान मां लडे॒ इंदड हिंदुनि सां पर सिंधी समाज खामोश …सिंधी अगवान भले हो भाजप जा हूजिनि या कांग्रेस जा कड॒हि भी इन मसलेते हाई घोडा करण जी जरूरत कोन समझी।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे त सिंधीयूंनि वटि ऐडही का संसथा नाहे जेका नागिरकता लाई जाख़डो न करे सघे। पिछाडीअ जे टिन ड॒हाकनि खां सिमान्त लोक संघटनि सिंधी मां लडे॒ आयलि भील, मेघवार, कोली माली वगि॒राह जातियूंनि लाई जाखडो पई करे पर वरली ई  कहि सिंधी संसथा खेसि पहिंजो समझी साथ डि॒ञो हूजे। इहो सब इन जे वावजूद जे इंन संसथा जे रहबर श्री हिंदु सिंह सोढे खे हर शहर में सिंधी सुञाणिनि पर जड॒हिं इन संसस्था के मदद जी गा॒ल्हि थी अचे तह उमालक सिंधी लोहाणनि खे जातियूं पयूं याद अचिनि। हा पर जेतसाईं पहिंजे नागरिकता मिलण जी गा॒ल्हि आहे तह रिवाजी सिंधी कहिं भी संसथा खे पहिंजो करण में मिंटु देर किन थो करे। छा मस जेडहो कमु निकतुनि जे हो किथे ऐं संसथा सा हूबु ब॒यो किथे।

अहमेदाबाद में जेतरनि भी सिंधीयूंनि सा मां राबतो कयो , जिनहिन सां भी गा॒ल्हि बो॒ल्हि थी इलहिनि मंझसि घणाईं उनहिनि जी हूई जेके मसले खे त समझिनि था पर लडे॒आयलि हिंदु सिंधीयूंनि लाई रसतनि में जाखडो करण लाई असुलि ई तयार नाहे। हूनिनि जो अजु॒ भी मञण आहे तह सिंध मां लड॒यलि हिंदु सिंधीयूंनि ला जोखडो सुठो पर हो भी तड॒हिं जड॒हि ब॒यो करे।

मतलब साफ आहे त अंग्रेजनि जे डि॒हिनि में सिंधी अग॒वान जहिं मौकाप्रसती सबब सिंध जो हिंकु नंढो टूकर बी पहिजो कोन करे सघया सा मोकाप्रसती अजु॒ पहिंजे पूरे सभाब में हिंदु सिंधीयूंनि जे रत में मसाईजी वई जहिखां निजात पाअण ऐतिरो भी सहूलो नाहे जेतिरो समझो पयो वञे।

जेसिताईं उहो मूमकिन थिऐ लडे॒ आयलि हिंदुनि खे रूगो॒ नागिरकता रूगो॒ नागरिकता ताई आस ई रखी था सघीनि ऐं ड॒हाकनि खां ड॒हाका इन सवाल सां जिअण पवंदो त किड॒हिं थिंदासिं पहिंजे देश जा नेठि किड॒हिं…

हो हिंदु हवा

सुधीर मोर्य इअं तह पेशे सां इंजिनियर आहे। यू पी जो रहिंदड सुधीर कुमार हिंदीअ जो लेखक तोडे कवि रहयो आहे । हेल ताईं संदुसि हेठि ड॒सयलि किताब शाई थी चुका आहिनि

कविताउं – आह, सम्स, हो ना हो

कहाणयूं – अधुरे पंख

नावल- ऐक गली कांपूर की, किस्से शंकर प्रसाद के, अमलताशा के फूल,

मजमून – बुद्ध के संवाद

पेश कजे थी संदुसि कविता जेका संसदुसि राय सा हित सिंधी में उलथो कजे थीsudheer

 

हो हिंदु हवा

हिंनिन पहिजे सुरन खे

जोडो समझी

अपनायो

संदुनि घरनि में घुरी आयलि

माण्हूं

खेनि काफिर करार डि॒ञो

छो तह

हो हिंदु हवा

हूननि

यूनन मां आयलि घोडनि जो

फकरु

चूर चूर करे छडो॒

सभयता ताईं

जन जे सबब

हिन काईनात ते जन्म वरतो

हो हिंदु हवा

जिनिं

तराईल जे मैदान में

खिलि खिलि

शिक्सत खादल

वेरिन खे

हयाती डि॒ञी

हू हिंदु हवा

जिन जा मंदिरअ

हिन काहि आयलि डो॒हिनि

नासु करे छड॒या

जनि जूं गुलनि जेडहयूं

कुमारियूं खे

जबरनि अगवा करे

खंबे वया

जिन ते

संदुनि घरनि में

संदुनि जे ई इशवर

जी पूजा ते

जिजिया मडयो वयो

हो हिदु हवा

हा हो

हिंदु हवा

जिनि हलदीघाटी में

मूल्क जी शान

जे लाई

पहिजो रत

वहाईंदा रहया

जिन जा सिकिंदा औलाद

घाऊ जा फुलका खाई

खुश हवा

हू हिंदु हवा

हा हो हिंदु हवा

इनलाई

संदुनि नयाणियूं जी

को मोल नाहे

अजु॒ भी

पहिंजी जमिन ते

रहिंदा आहिनि

इन जमिन जो नाऊं

पाकिस्थान आहे

हाणे संदुनि

मात्रभूमि जो नाऊं

पाकिस्तान आहे

इनलाई

हाणे खेनि उते

इंसाफ

घुरण जो हकु नाहे

हाणे संदुनि

आवाज

बुधण में नह इंदी आहे ह को

दबा॒ई वेंदी आहे

अजु॒ संदुनि नयाणयूं

इन ढप में रहिंदयूं आहिनि

अगवा थिअण जो

इंदड वारो हूनिनि जो आहे

छाकाण तह मजलूम

मां

को न को

रिंकल खां फर्याल

बणायो वेंदो आहे

इंनलाई

जनि जूं नयाणयूं आहिनि

से हिंदु आहिनि

ऐं संदुनि

वडा॒

हिंदु हवा