Blog | ब्लाग | بلاگ

मूंहिजे बलाग लिखण जो मक्सद

आऊं छो पयो बलाग लिखां

ईनटरनेट मे सिंधी में मूवादु (वेब सईट तोडे बलाग़) खास करे देवनागरी सिंधी में नह जे बराबर आहे । ईन जा चङा सबब अहिनि- जिऐं – सिंधी ब़ोली हो वाहिपो घटिजणि, सिंधी ते हिंदीअ जो हिक नमुने जो दब़ाव, ब़े खे द़िसी संदिन जेडहो थिअण जी रिस ऐं पंहिजे सफाकत खां धार थिअणु। किनि खे इन बेरुखिअ में लिपिअ जो बि द़ोहु पिणि नजर इंदो आहे। पर मुंहिजी समझ में सभनिन खां वद़ो सबब नई टेहीअ जो ब़ोलीअ सां छिनजण ई आहे। इहे साग़या सबबअ ई सिंधी ब़ोली जे हाणेकी हालत जिम्मेवार था द़िसजिन।
बलाग़ ईनटरनेट जी हिक अहम सहुलियत थी ऊभरी आहे, ऐं युनिकोड जे अचण सां लग़-भग़ हर हर हिक अहम ब़ोलीअ में बलाग़ पया लिखजनि। पर सिंधी हिन्दून सां ईअं किन थो द़िसजे। हिन्दुसतान में रहनदड़ सिंधी, हिंदी तोडे अंग्रेजी में ई बलाग़ल था लिखिनि। सिंधीयन जो पहिंजे ब़ोलीअ बाबत वहनवार द़खाईन्दड़ आहे। अज़ु इहो सोचण में केद़ो नह अजबु पयो भासे तह विरहाङे खां अग़ु सिन्धी बोलीअ में 90 सेकड़ो कमु सिंधी हिंदून जो ई आहे।
देवनागरी हिक सुठी लिपी आहे, इन में के ब़ राया कोन्हिनि। इहो ई सबब आहे जे अंग्रेजनि ईन लिपी खे द़ाढी अहमियत दिञि । केपटन जारज स्टेक पंहिजे ग्रामर देवनागरी लिपीअ मे ई छपाऎ पधरो कयो हो। ईहो ई नह पर संदिस जोड़ायल शब्द कोश अज़ु भी सिंधी ब़ोलीअ में हिक अहम जाई वालारे थो। इहा असां लाइ बदकिसमतीअ ई जी ग़ाल्हि आहे ऎड़हे नेक कम खे अग़ते वधायण खां बिदरों असीं हिंदी जे पुट्यों पया भज़ों।
इअं ब़ि नाहे तह हिंदी खां सवाई ब़ि का ब़ोली देवनागरीअ में नथी लिखी सघझे। असांवटि मराठीअ जो हिक सुठो मिसाल आहे। मराठी सिंधी वाङुर हिंदीअ खां मुखतलिफ थी करे भी देवनागरीअ लिपि में काम्याबी माड़ी आहे। जेकरि असीं सभीई सिंधी हिकु थियों तह जल्दि ई सिंधी भी ऊन मुकाम खे हासिलु कदिं जंहिजी ऊहा हकदार आ हे।
मुहिंजे बलाग लिखण जो मक्सद रुग़ो ईहो आहे जिअं सिंधी जो वाहिपो असीं सिंधयन में वधे ऐं सिंधी ब़ोली जो पिणि अग़ते विख वधाऐ । 5000 वरहयं जी ब़ोलीअ जो अन्तु ईअं नथो थी कघे।