सिंध जी हिंदु बरादरि -आखिर केसिताईं असीं माठि रहिंदासिं

1947 में विरहांङे बैदि जेके सिंधी अग॒वाणि गांधीजीअ साणु पहिरों भेडो ग॒द॒या तनि जो चवण हो तह गांधीजी जेको पहिरों बयानि दि॒ञो सो इहो ईहो ई हो – चोऊ हिंदु-सिंधूनि खे तह यकदमि सिंध वांदाईनि। छो गांधीजी इऐं चयो इन जो जवाबु अजु असां जे अग॒यां आहे। जेके लद॒या, लद॒पण जा दु॒ख सठा तनि नेठि सुख दिठा पर जिन सिंध माऊं साणु हिक सचे सिंधी हूअण जो फर्जु निभायो अजु॒ इंतहाई दु॒ख पया दि॒सिनि। लज॒-लिट, लूटमारि, अग॒वा, कतलि या जबरनि मूसलमानि बणाअण जा वाकया तह तह ज॒णु रोज॒ जूं गा॒ल्हियूं थी पयूं आहिनि। हिक वारदाति मां सिंध जी हिंदु बरादरि उभरे मस थी जे बी॒ वारदाति कहिं हिंदु बरादरीअ जो मूहूं कारो कयूं वेटि आहे।

पिछाडीअ जे 30-40 सालनि जे वारदातनि में वाईडो कंदड हिकजेडाईं पई दि॒सण में इंदी आहे सो उहा आहे तह घणाईअ में रहिदड सिंधी मूसलमानि जी जूलमनि में खामोशी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे सिंध में किद॒हि भी ऐको रहयो किन हो पर जहि मजबूति सां सिंध में इन खे पेश करणो खपिंदो हो तनि में सिंधी कोम नाकाम रहयो। इहो ई सबब आहे मौको अचण थे सिंधी उहा हिकजेडहायप कोन दे॒खारे सघिंदा आहिनि जहि का वाका असीं हमेशाहि ई कंदा आया आहयूं।

हिकु लफजु जेको सिंधी हमेशाहि सिंधी पहिजे पाण में जाम इसतमाल पई कंदा आया आहिनि सो आहे हिंद- सिंध। हिंद सिंध जे जरिऐ असीं सिंधी सिंध में मुख्तलिफ कोमनि खे उन नजरिऐ सां दि॒सण गुरिंदा आहियो जहि नजरिऐं  सां अमेरिका ऐं इंगलेंड में अंग्रेज पाण खे पेश कंदा अहियों। असीं सिंधीयूनि में इन सुत्र में गद॒जण जी चाहि का नईं नाहे। सिंधीं बो॒लीअ में झझे साहित्य मोजोद आहे जेको इन सोच खे हाथयूं पुखतो करे थो। अजु॒ भी हिंद तोडे सिंध में जा॒वलि नसल सिंध खे पाकिस्तानि खां कहि कद॒रि धारि करे दि॒सिंदी आहे।

पर वेझडाईअ जे किनि सालनि इन भाईचारे खे हिकु जबरदसत धक पई लगो आहे । जेतोणेकि सिंध में 1970 खां हिक ऐडही सिंयासी तंजिमि जो जोर रहयो आहे जहिजा उसूल कहि कदुरु सेकूलर हरया आहिनि। सिंधीं हिंदु बरादरी हमेशाहि ई भूट्टे पारां जोडायलि पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जा हिमायति रहया आहिनि। जेसिताईं गा॒ल्हि आहे भूटनि जी तह नह जूलफिकार ऐं नह ई बेनाजीर सिंध जे हिंदु बरादरी साणु सुठा नाता हवा पर संदुनि बैद हालतुन ओडहयूं नाहिनि। पिछाडीअ जे किनि सालनि में हिंदुनि खे कहरि वधया आहिनि। बदकिसमतीअ सां इहो पिणि दि॒ठो वयो आहे तह सिंध में हिदुनि ते जबरनि धर्मु मठाअण, कतलनि ऐं कहि हद ताई लूटमार हिअर के धार्या नथा कनि पर पहिंजा कोठाईंदड सिंधी मुसलमानि ई कनि।

[slideshow]

इहा गा॒ल्हि चक, शिकारपुर में जिते चारि हिंदुन जो भरी भाजार में कतलि कयो वयो ऐं पर ङफते सिंध जे घोटकी शहरि में पिणि दि॒ठो वयो तह इन जूलमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ सिंध जे पिपिल पार्टी जो रहयो आहे। ऐंडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे मसला उमालक थी उभिरा आहिनि पर जद॒हि तह बेनाजीर जे वखतनि ताई मसला ऐदा॒ वदा॒ किन थिया हवा पर हिअर सुंदुनि जे लादा॒णे बैद पी पी पी इहा पार्टी कोन रहि आहे जेका अगे॒ हई। इहा गा॒ल्हि चक में भी दि॒ठी वई तह जेतोणेकि हाणोके सदर असिफ अली जरदारि इन मसले ते नोटिस भी वरतो पर इन जे बावजूद कातिलनि खे हथ करण तह परे पर कातिलनि थे शाई दि॒दड पी पी पी जे अग॒णाणु जो भी वारु वंङो किन थियो आहे।

अञा शिकारपूर जे चक में वारदाति मां सिंध जी हिंदु बरादरी उभरि मस हूई जे बि॒ हिक वारदाति सिंधी जे हिंदु बिरादरी जे मथोऊं कहर खणी अई। सिंध जे मिरपूर माथिले जे लाल फकिर महर मार्केट वठि रहिंदर इन ऐलाके जे हिक स्कुल में नोकरि श्री नंदलाल जी सिंकलिंदी धीअ रेंलक कुमारीअ खे पिछाडीअ महिने जी 23 तारिख रात जो अग॒वा कयो वयो। अहवाल मोजिब 24 तारिख सुबूह जे साढे सते लगे खां अग॒वा कयलि नयाणी लाई ऐफ आई आर दर्ज कराई वई जेका चारि कलाकनि जे जफाकशीअ बैद नेठि दर्ज कई वई । इन वारदाति जे विरोध में सिंध जी कोमिप्रसत पार्टी जिऐं सिंध कोमि महाज पारा मिरपूर माथिले ऐं ब॒यनि ऐलाकनि में ऐतताईजाजि मजाहेरा कया वया । साणु सिंध में हिदु पंजायति जे मूखि केकराम ऐं साधूराम जे अग॒वाणीअ में ऐतजाज कया वया जहि सबब कलाकनि ताईं सिंध – पंजाब हाईवे बंद रहयो ऐं टिन दि॒हनि तांई सिंध जी हिंदु बरादरि संधई पहिंजा धंधा बंद रखा। इहो सबब हो जे अगा॒वा कयलि हिंदु नेंनगर खे नाठि कोर्ट में पेश कयो वयो।

इन वारदाति में सिंध मां पाकिस्तानि जी नेशनल ऐसेल्मबली मेंमबर मियां मिटूंअ जो नालो सामहूं आयलि आहे। मया  मिठूं हिअर सिंधी मां पाकिस्तान पिपलस पार्टी जे टिकेट ते चूंडयलि नेशनत ऐसेलमबी जो नुमाईंदो आहे। हिक बि॒ गा॒ल्हि जहि साणु मिया मिठू गंढयलि आहे सो आहे सिंधीयूंनि जो गुरु भगत कुंवर राम। चयो वेदो आहे तह भगत कुंवर राम जो कतलि बर्चोढी जे पिरअ करायो हो जेको मिया मिठूअ जो पिऊ थिऐ।

चयो थो वञे तह रेंकलि कुमारीअ खे अग॒वा करण बौदि संदुसि जो जबरनि धर्म माठायो वयो ऐं मिया मिठूं जो पुठ नोवेद शाहि साणु जबरनि परणायो वयो ऐं संदुसि नालो फर्याल शाहि रखयो वयो। इन विच में अग॒वा थिअण जे बे॒ दि॒हिं मझंदि जो लग॒ भग॒ हिक वगे मिया मिठूंअ जे हिक पुट पारां रिंकल जे माईटन वटि फोन थो करे तह इहो चई तह जेकरि खेनि पहिजी नयाणीअ साणु मिलणो आहे तह बर्चोढी जे दर्गाहि में अचनि। बर्चोढी इहा जाई आहे जिते घणो तणो अण-मुसलमानि खे इसलाम कबूल करायो वेंदो आहे। सिंध में रहिदड कहि भी हिंदु खे बखूबी जा॒ण आहे ऐंडही जाई ते नेंगर केतरि आजादिअ सां पहिजी गा॒ल्हि रखी सघिंदि। इन गा॒ल्हियूंनि खे धयानि में रखिंदे रिंकल खें डि पि ओ जी आफिस में वठी अचण लाई चयो थो वञे जेके मियां इसलाम (मिया मिंठू को पुट)  नकारे थो छदे॒। इन बैदि पक इन ते बिहे तह तह रींकल खे हिदुं पंचायति हालि में गद॒जाणि कबि पर जद॒हि रींकरल कुमारीअ जा माईट उते पूजिनि था तह खेनि इहो थो ब॒धायो वञे तह मिया इसलाम हिंदु पंचायति हालि में रींकल खे संदुनि माईटन सां गद॒जाणीअ लाई इंकारि करे छदो॒ आहे।

इन विच में 25 तारिख, छंछर दि॒हिं जिंऐ सिंध कोमि महाज जो चेअरमेन श्री रियाज चांडियो रिंकल सा मिलण डि ऐस पी जी आफिस में अचण लाई चयो थो वञे। जद॒हि हो पोलिस आफिसर जे कमरे में धाखिल थिऐ थो तह डी ऐस पी साहिब जी पहिजीं कुर्सीअ में मिया मिठूअ जो भाऊ मिया शमल अफिसर थी वेठो पई नजर थो अचे। हाणे सवालु इहो आहे तह जद॒हि अग॒वा कंदडनि खे ऐडहो मानु मिलिंदो तह छा हो धूड कानुन जी हो परवाहि कंदा। इहो ई नह पर इन डि ऐस पे जो चवण हो तह जेकरि अव्हां रिंकल साणु मिया शमल जी हाजुरि में नथा मिलण चाहियो तह पोई नोवेद शाहि ( मियां मिठूं जो पुट जहिं सा रिंकल खे जबरनि परणायो वयो) साणु गद॒ हूंदो इन वक्त मिलि था सघो।

हाणे सवालु कहिंजे भी जहनि में इदों तह जनि रिंकल खे अग॒वा कयो से रिंकल खे गा॒ल्हिअण जी पूरा आजादी दिं॒दा…..छा इहो मूमकिन आहे ।

खैर नेठि रिंकल कुमारीअ खे अदातलि में पेश कयो वयो। कोनुन मोजिबु धारा 164 जे तहति बायनु दे॒अण लाजमी आह, सो रिंकल को बयान वरतो वयो। बिहिनि धरनि  जे वकिलनि जे मोजूदगीअ में रिकल बयानि दि॒नो तह हिन भजी॒ शादी करण नाहे चाहि पर खेसि अग॒वा कयो वयो आहे, कजहि माण्हूं घरनि जी छतनि खे इस्तमालि करे खेस जबरनि गि॒हले वया। हून इहो भी चयो तह हूअ नोविद शाहि (जहि सां खेसि जबरनि अग॒वा करे परणायो वयो) ऐं संदुनि हिमायति ऐं पिरनि वटि नह पर पहिजे माईटनि वटि मोठण थी चाहे। रिकल नह रूगो॒ इहो बयनि पहिजे माईटनि जे अग॒यो दि॒ञो पर माजिज जज जे अग॒या पिणि दि॒ञो। हाणे कोनून मोजिब तह इहो बयान रिकार्ड करणो खपिंदो हो इअं कोन कयो वयो।

कोर्ट में हालतुनि खे पहिजे उभतरि समझींदे मिया मिठू जा वकिलनि ऐं नोविद शाहि पाण हिकु तमाशो खणि कयो। हून (हठो कठो हूअण जे बावजूद) बेहोश थिअण जो वदो॒ समाशो कयो ऐं इन साजिश मोजिबु जज आदालति  जी कार्वाही मुतलवी करे छदी। जेतोणिक रिकंल जा वकिल रडयूं कंदा रया पर जज इन साजिश जी पुरि हिमायति कंदे अदालति खे मुतलवी करे छदी। इहो ई न पर रिंकलि खे शखरि जे दारुसलमि में गि॒ञि वञण जे बजाई शकरि जे हिक जैफाणे जिल खाने में रखो वयो। इहो सब हिक निहायति सुचलि समझयलि साजिशनि में तहत कयो पयो जिअ तह उन पुलिस थाणें में रिंकलि खे यातनाउ दई जबरन मिया मिठू जे चाहि मोजिबु बयान दे॒वाऐ सघजिनि। सिंध में अवामी आवाज में कालमि लिखिंदड श्री असद चांडियो मेजिब जद॒हिं रिंकलि जद॒हि रिकल मायूस थी पहिजे किसमति खे पिटे वेठी तह उमालक हिकु पूलिस आफिसर रिंकल जे कैद खाने में गुरे थो हथ में हिक फोन झले ऐं मायूसि रिंकल कुमारी खे गा॒ल्हिअण लाई दे॒ थो। छाकाणि तह रिंकल गा॒ल्हिअण खां जवाब दे॒ थी तह इहो पूलिस जो ऐदेदारि फोन जो इस्पिकरि आन करे थो जहि में उन ऐलाईके जे कहि सघारे वदे॒रे जो पई धमकयूं पई दि॒ञयूं जेके कजहि हिंन रित आहे- तूं जेकद॒हिं माईंटनि दा॒हिं मोटी वञण जो बयानि नह मठ्यो तह नह रूगो॒ तूं नह बचिंदिअं पर तूंहिंजा सब घर जा भाति भी मारया वेंदा ऐं शहरि जे सब हिंदुनि जे घरनि खे बा॒हि द॒ई साडयो वेंदो।

जेके सिंध खां बा॒हारि जा॒वलि आहिनि ऐं जिन थे सिंध जी हालतुनि जी पूरि जा॒णि नाहे तनि लाई रूगो॒ इहे मिडई धमकयूं आहनि पर सिंध में रहिद़ड सिंधी जा॒णिनि था इन धमकयूं जो मतलब। 1947 खां अजु॒ ताई ऐडहा जाम भेडा दि॒ठो वयो आहे तह ऐडहयूं काहियूं थियूं आहिनि। मसलनि शखर जे भरसां पुञे आकिल में साग॒या मंजर दि॒सण में आया जद॒हि पूलिस जे कडे बंदोबस्त जे बावजूद अंधरुनि सिंध जे कबाईलि सरदारनि हथियारनि सां लैस थी हिंदुनि जे घरनि ऐं दुकानि ते काहिं आया।

बहरआल, सागी॒ रित जो जिअं ई ईहा खबरि फैली तह पाकिस्तानि सदर आसिफ असी जरदारि इन मसले जो सख्त नोटिस वरतो आहे उमालकि रिंकल कुमारीअ खे शखर जे इन जैफाणे कैदि खाने मां कदि॒ मिरपुर माथिले रवाञो थो कयो वञे उहो भी सागे॒ राति जे बि॒ वगे॒। हाणे सवालु इहो आहे तह जज फैसलो कयो हो तह रिंकल जनानि जेल में रहंदी तह पोई उमालकि खेसि छो मिरपुर माथिले मोकलो वयो। इन जो सबब अजु॒ भी गु॒झो ई रहयो आहे। शखर खां मिरपुर माथले जो सफरि मस जेडहो कलाक दे॒ड जो आहे पर इन जे वाबजूदि जेका अध रात जो कहिं 17 सालन जी नियाणीअ जे रात जे अढाई लगे॒ में हिक जिले खां उमालकि बे॒ जिले पुजा॒अण जी तकड उहा भी कोर्ट जो हिदायतुनि जे उभतरि इन शक खे यकिन में थो मटे तह इन मामले में पूलिस ऐं वदे॒रे मियां मिठू जी पुरि मिलि भगत हूई।

27 तारिख सुबूहूअ जो रिंकल कुमारीअ खे साडे अठे वगे॒ कोर्ट में पेश कयो वयो। सुबूह साणि ई मिरपुर माथिले जे अदालति जे नजारा फिरयलि हवा। लाजमी आहे मिया मिठी ऐं संदुनि हिमायतुनि इन जी पुरि तयारि कई वई जहि जो पुरो साथु दि॒ञो मिरपुर माथइले जे प्रसासनि। आदालति दा॒हि इंदड सभ वाटयूं ते सख्त पहरा हवा। अदासति दा॒हि इंदड वेंदड सभ वाटयूं टेंकर जे जरिऐ बंद कयूं वयूं जिअ हिंदु बरादरी जा घटि में घटि माण्हूं कोर्ट पुजी॒ सघनि। ऐडही पाबंधी जेतोणेकि मिया मिठूअ ऐं संदुसि बिरादरीअ लाई कोन हूई। खेनि कोर्ट जे बा॒हरि तोडे अंदर दा॒ढाई करण जी पुरी मोकल हूई ऐं संदुनि भी इन जो पूरु फाईदो वर्तो। गा॒ढीयूं जे मथोऊ लाईडिस्पिकर लगा॒ऐं जोशिलूं इस्लामी तकरिरयूं पई पयूं वयूं ऐं हथयारबंध हवा में फाईरिग पई कयूं।

कोर्ट जे अंदरि भी नजारो को घठि वाईडो कंदड कोन हो। रिंकल कुमारीअ खां हिक पासे जद॒हि तह खेसि माईटनि खां  धार रखयो वयो पर ऐंडही का पाबंधी मिया मिठूं ऐं संदुसि पंज पुठनि ते कोन हूई। रिंकल जे वकिलनि जो चवण हो तह उन दि॒हिं भी रिंकल पहिजे माईटनि दा॒हिं मोटी वञण जो बयान पई दे॒अण चाहियो जेको हूंन पछाडीअ जे पेशीअ में दि॒ञो हो पर द॒फतरि तोर इहो मूमकिन कोन थी सघो छाकाणि तह कोर्ट में मोजिद सरदार रिंकल कुमारीअ खे हिक चमाट ताई हईं ऐं रिंकल खे दब पटिंदो चयो तह – हिअर तूं मूसलमानि आहें, मुसलमानि साणु पर्णयलि आहे ऐं सोहिंदो घरि साहूरनि में आहे ऐं तूं पहिजे माईटनि जे घरि मोटी मञण जो गाल्गि यकदमि नह कज। सोचण लाईक तह इहा गा॒ल्हि आहे तह इहो सभ थियो कोर्ट जे कार्वाहि महलि जज जी मोजूदगीअ में। इन बैदि रिंकलि कुमारीअ खां जबरनि बयानु लिखायो वयो कोर्ट महिजी काईवाही पुरि कंदे रिकंल खे नावेदि शाहि खे सोपयो पयो। वरि बे॒ पासे रिंकल जा माईटअ जिनि खे कोर्ट जे बा॒हरि ई जबरनि रोको वयो से उछांगियूं दिं॒दे रोईंदा रहया जद॒हि तह मियां मिठू जा हिमायति हवा में फाईरिग पई कयूं ऐं बैड बाजा पई वजया। कुल मिलाऐं ऐडहो हिकु माहोल पैदा कयो वयो जिऐं इऐ लगे तह हिंदु छोकरि पहिंजो मर्जीअ सां इसलाम कबूल कयो आहे। इहो चूंडयलि मिडीया जे अग॒यां भी सजी॒ दुनिया खे दे॒खारण लाई छोकरि खां बयानु दि॒वायो वयो। इहो चिटि रित साफु आहे तह मिडिया जे अग॒या ऐं जेको माहोल पई पैदा कयो पयो का भी 17 सालनि जी छोकरीअ खां उमेदि नथी करे सघजे तह हूई मिडिया जे अग॒यां भी पहिजें दिल जा गा॒ल्हि करे सघिंदी।

रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि लाई हे दि॒हिं इंतहाई खोफ वारा आहिनि। जद॒हि खां घोटकी तोडे मिरपुर साथिले जे कोर्टअ फोसलो थियो आहे ऐं सिंध जी हिंदु बरादरी ऐतजातनि में आहे, रिकल कुमारीअ जे आकहिं खे धमकयूं पई मिलनि। हे धमकयूं ऐतरुं तह सख्त आहिन जे खेनि  लाहोर में हिक गुरुदुवारे में पनाहि वठणि पई आहे। इन विच में रिंकल कुमारीअ जे वकिलनि सिंध हाई कोर्ट कराचीअ में घोटकीअ जे इन कोर्ट जे खिलाफ अर्जी दाखिल कई जहिंजी सुनवाई 12 मार्च में थिअणी आहे। बे॒ पासे अग॒वा कंदड पारां भी हिक अर्जी दाखिल कई वई तह रिंकल कुमारी ऐं नोवेद शाहि खे रिंकल जे माईटनि जे पारां धमपयूं पयूं दि॒नियूं वञनि सो खेनि तहफूज द॒ञो वञे। इन अर्जी में इहो भी जा॒णायो वयो आहे तह हिंदु बरादरि पहिंजे नाणे जो जोर ते रिंकल ऐं नावेद साहि खे नुकसानि था पुजाऐ सघनि। बहरआल कोर्ट इन अर्जी ते का भी बहसि कोन कई वई छाकाणि तह कोर्ट जो मञण हो तह छाकाणि तह सिंध हाई कोर्ट इन मामले में अगे॒ ई फोसलो कयो आहे 12 मार्च इन ते सुनवाई कंदो। कोर्ट खां बा॒हरि निकरिंदे ऐं खानकि टी वी चेनेलि में फोन जरिऐ गा॒ल्हईंदे रिंकल जेतोणोकि चयो तह हूअ पहिंजी मर्जीअ सां मुसलमानि थी आहे पर इहो सभको थो समझे तह रिकलि खे ऐडहा बयान अग॒वाकंदड जे जबरदस्त दबाऊ सबब ई दे॒अणो थो पवे।

इन विच में तमाम ऐलाजनि ऐं रिंकल जे मामे जे अर्जी दे॒अण सबब पाकिस्तानि सुपरिम कोर्ट जो चिफ जसटिस जनाब इफतिकार महमद चौधरी रिंकल ऐं ब॒यनि बि॒न हिंदु नियाणियूनि जे जबरनि अग॒वा थिअण ऐं इन बैदि जोरि मूसलमानि ठाहण जो मामले लाई 26 जी तारिख पक कई आहे जद॒हि मूख्य नयाधिश इफतिकारि मूहमद चौधरी पिणि इन मामले जी सुनवाई कंदो। इहो ई सबब आहे तह हिंदु बिरादरिअ खे कहिं कदुरु उमेदि जा॒गयलि आहे तह हिन भेडे संदुनि सां नयाऊ मिलिंदो।

रिकलि जी काहाणी का हेकली काहाणी नाहे। थार परकारि में जिते खोड सिंधी दलित घणाईअ में रहिनि था उते दलितनि जे नयाणयूंनि जे अग॒वा करण जूं वार्दातयूं रोज पयूं थेनि। इहे मामला कद॒हि भी अखबारयूंन जूं सुरखयूं कोन बणयूं। पिछडीअ जे पंधरनि दि॒हनि में टे हिंदु नियाणयूं अग॒वा थियूं आहिनि। सभनि जी इहा ई कहाणी आहे जेका रिंकलि जी। पहिरोऊं अग॒वा थिअण, पोई धर्मु मठण ऐं बैदि में कोईटनि पारां इन दा॒ढाई खे आमली जामो पहिराअण। हिंदुनि जी तह को वाई बुधण वारो नाहे, कानुन जी तह गा॒ल्हि ई परे आहे खासि करे हेठई अदालतुनि जे नसबत। इन सभनि कहरनि जी पधराई पाकिस्तानि जे इंसानि हकनि जी तंजिम पिणि कई आहे। रिंकल मामले में संदुसि जेको बयानि जारि कयो सो इहो चयो वयो जेको रिंकल जा माईट तोडे सिंध जी हिंदु बरादरी चई रहई आहे तह रिंकल खे जोरि अग॒वा कयो वयो पोईं संदुसि धर्मु मठायो वयो आहे।

जेसिताईं गा॒ल्हि कजे मिडिया जी तह सिंध में सिंधी मिडीया में सवाई अवामी आवाज खे का भी सिंधी मिडीया इन मामले खे को भी कवरेज कोन दि॒ञो। पर इन जे बावजूद कहि हद ताईं पाकिस्तानि जी अंग्रेजी मिडया, परदे॒हि में बी बी सी, ऐं हिंदुस्तानि जी अंग्रेजी अखबारि मसलनि पाईरिअर, हिंदु, जी नयूज, आऊटलूक ऐं थोडनि हिंदी मीडीया मसलनि अमर-उजाला ऐं गुजराति में कच्छ मित्र सिंध में हिंदु संधीयूंनि सां थिदड दा॒डायूं खे कवरेज दि॒ञो।

पाकिस्तानि में जेतोणेक आम सिंधी मुसलमानि खोमोश रहयो पर के अख्बार नुवेसि तोडे कालम लिखिदड इन मामले खे जोर शोर सां हिमायति कई मसलनि असद चांडियो (रोजानो  अवामी आवाज) अदी वेंगसि ( रोजानो इबारत) ऐं जरार पिरजादो (रोजानो काविश)। इन हिमथवारनि मां श्री असद चांडियो खेण लहणे। हून नह रुगो॒ सिंधी सिविल सोसाईटी खे ऐतजाज ताई हिमतायो पर रिंकल मसले जूं तमाम घणयूं हकिकतयूं पहिजे कालम जे जरिऐं आम सिंधीयूनि जे अग॒यां रखयूं। इहो ई नह पर बर्चडे पिर मिया मिठूं जे पिणसि जो सिंधी संत भगत कुंवर राम जे कतल में हथ जी गा॒ल्हि भी उन साईं ई रखि जहि सबब खेसि रोज धमकयूं पई मिलिंदयूं आहिनि। ऐतजाज महलि भी हूं पहिंजे ब॒नि नियाणियूं सुधो ऐतजाज कया।

पर जेसिताई गा॒ल्हि कजे ब॒यनि सिंधी सिंविल सोसाईटी जे अग॒वाणुनि जी तह संदुनि हर मूमकिनि कोशिश कई तह इन मसले खां परे रहजे। सिंध में औरतुनि जे हकनि जी लडाई हडिंदड अमर सिंधु खामोश रहि। जद॒हि ऐतजाजनि में शामिल भी थी तह रूगो॒ अठी  ओरतुनि जे आसमि दि॒हिं उहो भी थोडी देर लाई ज॒णु हूंन  इन ऐतजाजनि में शरिक थी हिंदु बिरादरीअ ते थोडो लाथो हूजे।

जां खा हिंदुस्तान जो विरांङो थियो आहे तां खां सिंध ऐं हिंद में रहिदड सिंधी साहित्य सां वासतो रखिदड लेखकनि दे॒ वठि जो रिसतो हमेशाहि रहयो ई आहे। कद॒हिं हिंद जा लेखक सिंध वया आहिनि तह कद॒हिं सिंध जा लेखक हिंद में ईंदा रहया आहिनि पर जेसिताईं गा॒ल्हि कजे सिंध में हिंदुनि ते जुलमनि जी तह कहि भी इन ते वातु मां हिकु अखरि कोन उकारियो सवाई पुने में रहिदड दादी ईंदरा पुनेवाला जे जहि इन मसले ते जाम लिखो आहे खासि शोसल मिडिया में मसलनि फेसबूक में। इहो ई नह हून इन सभनि लेखतनि जी भी तनकिद (निंदा) कई आहे जेके खामोश आहिन।

सिंध में हिंदु बिरादरी जेतोणेकि हमेशाहि भूठे जी पाकिस्तानि पिपल्स पार्टी खे वोट दि॒दा रहया आहिनि पर जेसिताईं गा॒ल्हि आहे सिंध में हंदु बरादरीअ जी तह पिपल्स पार्टी जा मेमबरि ई हिदुनि ते थिंदड जुलमनि में शरिक रहया आहिनि। सिंध में ब॒यूं पार्टियूं मसलनि अयाज लतिफ पलेजे जी अवामी तहरिख 8 मार्च औरतुनि जे आलमी दि॒हिं हिंदु नयाणयूंनि ते थिंदड जुलमनि जे विरोध में पुरे सिंध में भूख हडतालयूं कयूं ऐं ऐतिजाजी मुजाहेरा कया। जिए सिंध कोमि महाज 12 मार्च जो कराचीअ में जलुस कद॒हण ऐं सिंध हाई कोर्ट में हाजिर थिअण जो ऐलान कयो आहे। फेसबूज में सिंधी हिंदुनि थे थिंदड जूलमनि जी मजमत (निंदा) थिऐ पई। इन सेकूलर विचार रखिंदड मुसमानि कराची, हैदराबादि तोडे तोडे ब॒यनि शहरि में उन शहरनि जे प्रेस कलबनि जे अग॒यां ऐतिजाज कया। इहो ई नह साना (जेका अमेरिका में सिंधीयूंनि जी संसथा आहे) ऐं लंडनि जी वर्लड सिंधी कांग्रेस इन जी कडे लफजन में गिला कई आहे।

इन सभनि मां जेतोणिक वाईडो कंदड रुख रहयो आहे हिंदुस्तानि तोडे दूनिया भर जे सिंधी हिंदु बरादरीअ । नह हिंदुस्तानि में नह ई हितुस्तानि खां बा॒हरि कहि भी सिंधी संसथा इन बाबति को बयानु दि॒ञो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे खेनि कजहि जाण नाहे इन मसले बाबति। हिदुस्तानि में कनि हिंदी तोडे अंग्रेजी मीडीया इन मसले खे कवरेज दि॒ञो आहे पर छा तह हिंदुतानि में सिंधीयूं जी कहि कदरु वेरुखि आहे सो इन मसले ते कहि भी धयानि दि॒अण जी जरुरत नह पई महसुस कई आहे। हे जुलमअ सिंध में 30-40 सालनि खां वधिक अर्से खां पया थिन पर नह जा॒ण छो असां जो जमिर कोन गा॒गिंदो आहे।

हिंदुस्तानि में के सिंधी सिंयासत में रहया आहिनि पर नह कांग्रेसि वारा जागा नह बिजेपी पारा। पर जद॒हि कशमिर में हिंदु पंडितनि ऐं पाकिस्तानि में सिखनि जी गा॒ल्हि ईंदी आहे तह हो इन ते जाम हाई घोडा कनि पर जद॒हि पहिजनि जी गा॒ल्हि अचे तह अगो॒ पोई माठि थी वञिन जिअं कजहि थियो ई कोन्हे। इहो ई नह जद॒हि घोधरा में रेल खे  बा॒हि दि॒ञी वई तह कुबेर नगरि जी ऐम ऐल ऐ माया कोडनाणी उन हादसे जे दि॒हि तमाम औखनि समाल कया हवा मोदीअ खे गुजराति ऐसल्मबली में पर जेसिताईं सिंधूयूनि जी गा॒ल्हि ईंदी आहे तह माईअ मां हिक अकरि भी कोन उकिरिंदो आहे। सागि॒ माठ कुमार ऐलाणीअ जी भी आहे जेको उहल्हास नगर मां चूंडयलि आहे।

सिंध में हिदु बिरादरी तमाम दुखनि ऐं सुरनि में आहे खेनि मदद जी सख्त जरुरत आहे। सिंध में रहिदड सिंधीयूंनि लाई मसलो इहो भी आहे तह हो खूलि रित हिंदुतानि जे सिंधीयूंनि खां मदद गुरण जी आछ कोन था करे सघिनि छाकाणि तह जेकरि हो इऐं कंदा तह यकिनि हो हिदुस्तानि जा ऐजेंट करार दि॒ञा वेंदा। अजु॒ इहो तमाम जरुरि आहे तह असी हिदुस्तानि सरकारि ते असी जोर दि॒अऊं जिअं बचि रहयलि सिंधीयूंनि खे निकारो वञे ऐं हो सुख जी जिंदगी गुजारे सघिनि।

विछाडिअ में कजहि वेबसाईट जा द॒स था द॒सया वञिनि दिअ पढिंदडनि खे सिंध में हिदुनि ते थिदड जूलमनि जी जा॒ण पवे खासि करे हिदु नियाणयूं जे अग॒वा थिअण जे मामले नसबत

http://timesofindia.indiatimes.com/world/pakistan/Pakistan-Supreme-Court-directs-police-to-trace-three-Hindu-women/articleshow/12189273.cms

http://zeenews.india.com/news/south-asia/hindu-girl-forced-conversion-spark-protest-in-pak_761761.html

http://www.globalpost.com/dispatch/news/regions/asia-pacific/pakistan/120306/rinkle-kumari-missing-hindu-woman-ordered-appear

http://www.hindujagruti.org/news/13609.html

http://networkedblogs.com/uWlTg

http://www.bbc.co.uk/news/world-south-asia-17272943

अरडहणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

अड्हणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

 

हिन सालि इहो वारो हो अहमदाबादि जो- अड्हिंऐ सिंधी सन्मेलनि जे मेजबानि करण जी। इन खां अंगु॒ ऐडहा साग॒या सिंधी मेराडकनि जी मेजबानी दुनिया भर जे जुदा जुदा शहरनि पई कई आहे- जिते जिते सिंधी वसयलि आहे। चयो थो वञे तह सिंधी संमेलनि जो आयोजनि जी सोच सभनि खां अग॒वाटि 1988-89 में श्री प्रेम लालवाणीअ (जेके तहिं महलि केलिफोनिया जी सिंधी ऐसोसिऐसनि जा मुखी हवा) पारां जोर शोर सां रखी वई हूई पर संमेलनि पर पहिरों सिंधी सलमेलनि 1992 में ई आयोजित करे सघयो श्री चंदरु भोजवाणीअ जे वकत। शुरु में इहे सनमेलनि रूगो॒ अमेरिका में जे मुख्तलिफ शहरनि में पई आयोजित कया  वेंदा हवा पर बैद में दुनिया जे मुख्तलिफ मूलकनि में पई अयोजित थिअण लगा॒। इन सन्मेलनि जे नसबत हिक संसथा जहिजो नाऊं पई पधरो थिंदो आहे सो आहे ऐलाईस आफ सिंधी ऐसोसिऐशनि ईन अमेरिका जहि मंझ हिअर 17 सिंधी ऐसेसिऐसनि ग॒द॒यलि बु॒धायूं थयूं वञिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह ईहा आहे जे अमेरिका खां बा॒हरि जद॒हि में ऐडहा साग॒या सिंधी संमेलनि था पय़ा कोठाया वञिन तह मेजबानि कंदड मूलक जी भी संसथा जी भाईवारि हूजे थी। 2010 में जकार्ता, इंडोनिशिया में अहो संमेलनि गांधी लोक सेवा जे जी मदद सां अयोजित कयो वयो। (गांधी लोक सेवा जा जकार्ता ऐं बाली में अठ – द॒ह स्कुल हलिईंदी आहे जिते हिंदुस्तानि में मूल जा माण्हू तालिम पई हासिलु कनि। स्कुल तह अंतर्साष्ट्रिय थेनि पर तालिम जो माधयमि अंग्रेजी थिऐ थो।)

[slideshow]

 

इन संमेलनि जे नसबत दे॒हि या मकानि संसथा जी जो किरदारि निभायो सिंधी काउनसल आफ ईडिया। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया जो नालो सिंधी समाज जे नसबत को नयो नाहे। इन संसथा तहि महलि सुरखियूनि में आई जद॒हि बी जे पी जे दि॒हिंनि में हिंदुस्तानि जे कोमी तराणे मां सिंध लफज खे रद करण जे नसबत कोर्ट में आर्जी दाखलि थी। इन खां सवाई छतिसगड में सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधीयूंनि खे बंगलादेशिनि जे साणु परदे॒हि करार दे॒अण महल पहिंजो रोल अदा कयो हो। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया हिंद तोडे दुनिया जे जुदा जुदा  मूल्कनि में ऐहा जाम जलसा पई आयोजित कया आहिनि।

 

संमेलनि जो महूरति गुजरात जे वदे॒ वजिर श्री नरेंदर मेदीअ जे हथनि सां दि॒ओ बा॒रे कयो वयो। संमेलनि में जा॒तलि सुञातलि सख्सियूतनि खे निंढ द॒ई घुराअण जी गा॒ल्हि का नई जा॒ल्हि नाहे। हिंदुस्तनि में सिंधी बो॒लीअ जे तसलिम जे नसबत साग॒या मंजरि दि॒सण में इंदा हवा। तहि महलि जा॒तलि सुञातलि सख्सतियूनि जे घुराअण जे पुठयां सोच ईहां हूंदी हूई जिअं सिंधीयूनि बाबत इन सख्सतियूनि खे जा॒णि हूजे। तनि दि॒हिनि में इहो जरूरि भी हो छाकाणि तह आम हिंदुस्तानि खे सिंधी कोम बाबत जा॒ण कहि कदरु महदूद हूई। पर हिअर सिंधूयूनि जी सिंधी बो॒लीअ दा॒हि लापरवाहि सवव सिंधीयूनि जी नई टेहीअ खे सिंध तोडे सिंधीयूनि बाबत जा॒ण घटि हूंदी आहे ऐं इन निंढ द॒ई घुरातयलि सख्सयूतिनि खे घणी। इन हकिकत खे मोदीअ जी सुहिणे नमूने पेश कयो। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूनि खे पहिंजी बो॒ली तोडे सखाफति खे अपञाअण खपे। पहिजी जडनि खे विसारण नह गुर्जे, सिंधीयूनि खे पहिंजी सकाफति लिबासि में पेश अचणो खपिंदो हो वगिराह वगिराह। हिंदुस्तनि जो सिंधी समाज जे इन गा॒ल्हियूनि खां अण वाकिफु आहे ऐडह भी गा॒ल्हि नाहे। दरअसलि असीं सिंधी बो॒लीअ खे ऐडहे कदुरु कमजोर कयो आहे जे हिअर अण सिंधीयूनि लाई हिक वदी॒ मजाक थी पया आहियूं। जेतोणेक सुबे जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे विच में सिंडजी आयो पर इन जे बावजूद कहिं भी ईडही घुर वदे॒ वजिर जे अग॒या कोन रखि, ज॒णू मोदी सिंधीयूनि जे जलसे में शरिक थी थोडो लाथो आहे, ऐ हून भी इन जो पोरो फाईदो परतो।

 

हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधूयनि लाई गुजराति हिक अहम सुबो आहे। जेकरि गुजराति में रहिंदड सिंधीयूनि जी  अदमशुमारिअ खे बारिकीअ सां जाचिजे तह हित में लदे॒आयलि सिंधीयूनि जो टयो हिस्सो थो वसे। इहो ई नह पर सिंधीयूनि जी घणे में घणी आबादी गुजराति में थी रहे पर साणु साणु इहा भी गा॒ल्हि गु॒झी नाहे तह सिंघीयूनि खे सभनि खां वधीक दु॒ख गुजराति में दि॒सणा पया आहिनि। चयो इहो वेंदो आहे तह गुजरातियूंनि  नह पई चाहियो तह सिंधी हित वसिनि। (कच्छ खां सवाई छा काणि तह तनि दि॒हिनि में कच्छ केंद्र सासित प्रदेश हो) इहो भी चयो वेंदो आहे तह हिंदु सिंधीयूं जो जाति दा॒हि वहिंवारु, तिवण तोडे गोसत खाअण, दारु पिअण जो कहि कदरु खुलयलि रिवाज या वरि जाईफनि जो अल्ला या मर्दनि जो गा॒ल्हि – गा॒ल्हि थे खुदा लफज उकोरण या अर्बी फार्सी लिपीअ में पहिजी बो॒लीअ में लिखण नह पई वणयो मथो वरि सिंधी हिंदु भी धंधो कनि जहि सबब गुजरातियूनि तोडे सिंधीयूंनि में रिस (धंधे सांङे) इन विछोटियूंनि खे कहि कदुरु वधाऐ छद॒यो। अजु॒ भी ऐडहा जाम वाकया पई बु॒धबा आहिनि जिते सिंधीयूनि खे जायूं नह दि॒ञयूं वेंदू आहिनि, मतलब असां लाई के ऐलाका नो गो ऐरिया तह नाहिनि पर असां जो वसण हितोउ जे रहाकूनि खे घट वणे । अजु॒ भी ऐडहा जाम सिंधी आहिनि जेके गुजरात में (कच्छ खां सवाई) जिते सिंधी पहिंजी बो॒ली हिंदी तोडे तसलिम कंदा आहिनि इन ढप खां जिअं खेनि धारि करे नह दि॒ठो वञे। विछाडीअ जे किन द॒हाकनि जे  भेट में जेतोणेक इहे वाकया कहि कदुरु घटया आहिनि पर ईन जे बावजूद ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे वाकया अगो॒ पई निबरी वया आहिनि। इहो सब इन जे वावजूद जे 1947 खां अगु॒ कराचीअ में जाम गुजराती रहिंदा हवा । किन जो तह मञण आहे तह कराचीअ में हिंदु सिंधीयूंनि खां भी वधीक गुजराति रहिंदा हवा पर संदुनि साणु कहिं भी  गलत वहंवारु जी का कारि कोन बूधी वई आहे। पर विराहांङे सब कजहि फेरे छदो।

 

वेझडाईअ में दिल्ली में हिक सेमिनार थी गुजिरि जहि में हिंदुस्तानि सरकारि में हिकु अहम वजूरु श्री कपिल सिब्बल भी हाजिरु हो। उते हिक घुर कई वई तह छोन नह सुबे जूं सरकारि नोकरयूंनि भी मर्कज जे सिविल सर्विस वाङुरु पिणि सिंधी में दि॒ञयूं वञिन. (हिअर रूगो॒ राजस्थान में ई सुबे जी सिविल सर्विस जा इमतहान सिंधीअ में द॒ई था सघजिनि)। वजिर जो विचार हो तह इहे घूरयूं सुबनि जे सरकारि जे अग॒यां रखयूं वञिनि ऐं जिते कांग्रेस जी हूकुमत आहे उहे वजिर पाण ई ईहा  घूर कंदो सुखतलिफ सुबनि जे वदे॒ वजरनि सां- पर जद॒हि गुजराति जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे अग॒यां सिडजी आहो हो तह ऐडही का भी घुर किन रखी वई। इहो वाकयो इन गा॒ल्हि जो साहिदु आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी संसथाउनि में कहि भी नमूने जो राबतो नाहे। इहो ई नह हिन साल 2011 में जुदा जुदा संसथाउनि जा ऐजिवि प्रधान मंत्री साण टे भेडा ग॒दया आहिन धार धारि घुरनि जे नसबत। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि जी अदमशुमारि मूल आबादीअ जे रूगो॒ हिक सेकडे जो चोथो हिस्सो मस थिंदी पर इन जे वावजूद असी हिक मूदे थे हिक थी भीहण खा कासिर आहियूं- इहा गा॒ल्हि सोचण जेडहि आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी काउंसिल आफ इंडिया  खे इन सभ गा॒ल्हियूंनि जी जा॒ण नाहे पर बदकिसमतीअ सां सिंधी संसथाउ पाण जे  रिसअ में पूरयूं आहिनि। हिक ई घुर जेका हिदुजा आकहिं जे श्रीचंद हिंदुजा रखि तह सिंधयूनि खे भी जेकरि सुबो हूजे हा ………..पर इन जे जवाब लगो॒ तह मोदी ज॒णु तयार थी आयो हो। संदुसि जवाब पिणि साग॒यो हो जेको नहरु जो हिंदुस्तानि बाबत हूंदो हो तह साईं सजो॒ गुजरात अव्हा जो आहे भले जिते चाहियो उतो वसो।

 

इन संमेलनि जे पहिरे दि॒हिं हिंद जी हिक अहम सिंधी सियासी सखसियति मोजूद हूई – सा हूई अहमदाबाद में सिंधी ऐलाईके कुबेरनगर विसतारि जी ऐम ऐल ऐ श्रीमती माया कोद॒नाणी। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूंनि खे हिअर माजीअ दा॒हि नह पर मस्तकबिल (भविषय) दा॒हि सिंधीयूनि खे सोचिणो खपे। इहा गा॒ल्हि अगो॒पोऊ भी गलत नाहे। सिंधीयूंनि जो बसेरो हिअर हिंदुस्तानि में आहे (घटि में घटि में हिंदु सिंधीयूंनि लाई तह ईअं ई आहे) पर इन जो मतलब इहो भी नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली तोडे सकाफत खे विसारे वेहऊं। असां जेकरि अटे में लुण जेतिरा थी करे पहिजी बो॒लीअ खे हिंदुस्तानि जी कनि अहम बो॒लयूं में तसलम  कराऐ था  सघऊ तह यकिनि बो॒लीअ खे मसकबिल में जोर पिणि वठाऐ थआ सघऊं। असांजी बदकिसमतीअ इहा रहि आहे तह असीं जेतोणेक पहिजे पाण में हिदुपणो आंदो आहे पर इन चाहि में उन खां तमाम घणो वधिकु सिंधीपणो विञायो आहे ऐं इन टेहि जी साहिद आहे मायाबेन कोद॒नाणी। अंग्रेजी में हिक चवणी आहे तह –रोम में उहो ई कयो जिअं रोमन कनि। माया कोद॒नाणी उनहिनि सिंधीयूनि मां आहे जहिखे पहिंखे पहिजे माजीअ मां को खासि सिख वठण जी जरुरत नह पवदी आहे। जणु गुजरातियूं सां सिम़टी वञण असां लाई हेकलि राहि वञी बची आहे। जेके खेसि सुञाणिनि तन जो चवण आहे तह सिंधीयति जे नसबत माया कोद॒नाणीअ में इहा गा॒ल्हि नाहे जेका अगो॒णो ऐम ऐल ऐ श्री गोपालदास भोजवाणी में हूंदी हूई। गोपादास भोजवाणीअ हमेशाहि ई सिंधीयति तोडे सिंधीयूनि में पहिजी हिक चाह वठिंदो हो। कहि भी कोम लाई संसदुसि वरसो तमाम घणी अहमियति थो रखे इहा गा॒ल्हि श्री भोजवाणीअ जे बखुबि खबरि हूई। अदी माया पाण भी हिक इंटरवयूं में चयो आहे तह हूअ जद॒हि कूबेरनगर आई हूई तह हित सिंधीयूंनि खे सिंधी बो॒लीअ  जे घणे वाहिपे ते वाईडी थी वई। बदकिसमतीअ सां माया जेडहे सिंधीयूनि जी तादाति तमाम तेजीअ सां पई वधे जेके पाण खे क़टर हिंदु तह कोठाईनि था पर सिंधी नह। संदुसि लिबास भी गुजरातियूंनि जेडहो हूंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शक नाहे तह हिंदुनि जो सिंध मोठी वञण सायदि हिअर मूमकिनि नाहे, पर इन जो ईहो मतलब नाहे तह असां हिदुंस्तान में थाईंको थिअण जी चाहि में पहिंजे पाण खे अण- सिंधी करारि दे॒अऊं।

 

हिन संमेलनि में भरमारि हूई उनहिनि सिंधीयूनि जी जेहिजो वासतो धंधे सा रहियो आहे। इन में वदे॒ में वदो॒ नाऊं हो हिंदुजा भाउरनि जो। नह रूगो॒ श्रीचंद हिंदुजा पाण हाजिर हो पर साणु साणु संदुसि ब॒ह भाउर पिणि जारिरु हवा। इन खां सवाई ऐडहा खोड सिंधी हूवा जहि दुनिया जा जुदा जुदा मूलकनि में रहि वाणिजय या धंधे धाडीअ जे खेत्र में जाम नालो कमायो आहे। हिक सोच जेका सिंधीयूंनि में रहि आहे सा आहे सिंधी हिक धंधो कंदड कोम आहे। इहा सोच नह रूगो॒ आम सिंधीयूंनि में वेठलि हूंदी आहे पर लेखकन में भी। अजबु जेडहि गा॒ल्हि तह इहा आहे तह अंग्रेजनि जे दि॒हिं में तह सिंध मे खास करे सिंध में मुसलिम लिग जे हिंमायूंतिनि जो नारो हूंदो हो तह- मूसलमानि जेलनि में ऐं हिंदु दफतरनि में। हिन संमेलनि में स्टेज में भी सियासतदानि खां सवाई इन धंधेडिनि खे ई जाई दि॒ञी वई हूई। इन संमेलनि में मिडिया जी नजर मां गायब रहया तह सिंधी लेखक या सिंधीयति सां वासतो रखिंदड कारुकनि जी । हिक लंङे दि॒सजे तह इहा का नईं गा॒ल्हि भी नाहे। हिदुस्तीनि में सिंधीयूनि जे जलसनि तोडे मेले सलाखडनि में संदुनि गेर-हाजिरि बाबति जिक्रु ताई नह थिंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह लेखकनि जी ऐं खासि करे नई टेहिअ जे लेखकनि जी कमि रही आहे पर इन जे बावजूद जेके भी नोजवानु लेखक लिखिनि थां तनि खे जेकरि सिंधी पाण ई मोल नह दिं॒दा तह इन खां दुखाईंदड भी का भी गा॒ल्हि नह ती थी सघे। लेखकुनि जी ईजत कोम जी ईजत मञी वनण खपे पर सिंधीयूनि में तह हालि ई ब॒यनि मुखतलिफ कोमनि खां उबतर आहिनि। दिल्ली में ऐन ऐस पि सि ऐल जी सेमिनार में भी साग॒या मंजरि दि॒ठा वया। लेखकनि कां वधीक तह अहमियाति सियासातदानि खे मिलि (ईअं भी हिअर सिंधी संसथाउनि में सिंधी लेखकनि खां वधीक सियासतदानि या पाण खे सामाजिक करूकनि कोठाईंदडनि  जी बरमार हूंदी आहे)। दिल्ली में जेतोणेक सेमिनार मस जेडहि अध दि॒हि जी हूई पर हित अहमेदाबादि में जेकरि टिन दि॒हनि में भी सिंधी साहित्य तोडे बो॒लीअ बाबति का खुली बहसि नह थी सघी तह इहा दु॒ख जी गा॒ल्हि आहे ।

 

संमेलनि जो विछाडीअ जे दि॒हिं ते हाजिरु हो हिंदुस्तनि जो अगु॒णो नाईब प्रधान मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी। चयो थो वञे तह साईअ पहिजो पुरो भाषण सिंधीअ में दि॒ञो जहि सा कनि सिंधी जवानुन खे तमाम घणी तकलिफ थी छाकाण तह हिदुंस्तानि में ऐडहा जाम सिंधी कोठाईंदड नोजवानन आहिनि जिन खे सिंधी नथी अचे या घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईअण जो वाहिपो नह हूअण सबब सिंधी कोन था समझी सघीनि। संमेलनि  में मोजूद मिडिया मोजिबु पहिरो तह इन नोजवानुन पहिजे माईटनि खां पुछण लगा॒ तह आद॒वाणी छा पयो गा॒ल्हाऐ पर नेठि माठि करे वया- इहा इन गा॒ल्हि जी साहिद आहे तह सिंधी बो॒लीअ जी हालत केतरि खराब थी चुकी आहे हिंदुस्तानि में। जेकरि ऐडहो ई हालु रहयो तह सायदि कजहि सालनि में इहे पिणि दिं॒हि दि॒सणा पवंदा जे अण-सिंधीयूंनि खे इहो जाम चवंदे बू॒धबो तह –साईं सरकारि खे दू॒करि नाणो खर्चण जी जरुरत ई कोडही आहे जद॒हि सिंधी पहिजी बो॒ली जी इजति ई कोन कनि। आदवाणी पहिजे भाषण में के गलति गा॒ल्हियूं पिणि गा॒ल्हायूं मसलनि सिंधी बो॒ली वाजपई जे दि॒हिनि में तसलिम थी – खबर नाहे तह इहा हकिकत अद॒वाणीअ खे कहिं द॒सि। सुदुसि वधीक चवण हो तह लिपी सबब सिंधीअ खे जाम नुकसानि थियो। हे पहिरो भेरो आहे जद॒हि आद॒वाणी सिधो सहूं लिपीअ जे नसबति पहिंजा राय दि॒ञी आहे। संदुसि लेखे जेकरि देवनागरीअ ते सिंधी मोल दे॒नि हा तह बो॒लीअ जी इहा हालति नह थे हा। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह आद॒वाणी खां हिंदुस्तानि जे सिंधी समाजअ खे जाम उमेदयूं हयूं पर साई सिंधीयूनि खे रिसाश कयो , मायूस कयो आहे। जद॒हि बी जे पी जी हूकूमत हूई तह भी सिंधीअ लाऊ हून को खासि कोन कयो। हो चाहे हा तह सिंधीयूनि लाई घणो कजहि करे सघे हा पर इअं मूमकिन थी कोन सघो। सियासी तोर भी सिंधीयूनि खे उहे हक कोन मिलयो जोके हो हलणिनि। खैर आद॒वाणी जा॒णे किथे छा गा॒ल्हिईणो आहे ऐं कहि रित गा॒ल्हिईणो आहे। साणु साणु इहा भी हकिकत आहे तह हिअर आद॒वाणीअ खां सिंधी उमेदि भी घटि ईं कंदा आहिनि।

 

हिन संमेलनि में सरिक थिअण लाई चंदो मकर्रर कयो वयो हो। वरि चयो थो वञे तह रहण जो इंतजाम हर कहिं खे पहिंजो पाण ई करणो हो। हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधी जेतोणेक ऐडहनि चंदनि सां कहि कदुरु अण वाकिफु आहिनि। इहो रिवाज नंढे खंड खां बा॒हिरि जाम आहे छाकाणि तह उते नह तह सिंधी बो॒ली तसलिम आहे ऐं नह ई हूकूमज सिंधीयति ते को  नोणो  ई खर्चे।  वरि उते हिंदुस्तानि जे भेट में सिंधी पिणि ग॒ण जेतिरा था रहिन। ऐलाईंस फार सिंधीज ऐसोसिऐसन ईन अमेरका हिंदुस्तानि जी संसथा नाहे सो खेनि दो॒हू नथो दई सघजे पर सिंधी काउनसिल खे तह खबरि आहे हिंदुस्तानि जे जी हालति, पर नह जा॒णु छो 4000 जेतिरो चंदो मूकर्र कयो वयो…हिदुस्तानि में ऐडहयूं जाम संसथाउ आहिनि जेके बो॒ली तोडे सकाफति जे नतबत कम पयूं करिनि ऐं जहिखे हूकूमत माली मदद पिणि दिं॒दी आहे। हाणे सवालु इहो आहे तह जेकरि ऐडही गा॒ल्हि आहे तह पोई ऐडहो चंदो छो…इन चंदे सबब थियो इहो जे आम सिंधीयूनि जो हिकु वदो॒ तबको इन संमेलनि जो हिस्सा कोन थी सघो। इहो जाम दि॒ठो वेंदो आहे तह उहे सिंधी जहिंजी माली हालति कहि कदुरु सुधरयलि आहे से नह तह सिंधी में लिख पढ कनि ऐं नह ई सिंधी में पाण में को घणो गा॒ल्हिईन। इन हालति में जद॒हि संमेलनि मां सिंधीयूनि जी हिक वदी॒ सिंधी गा॒ल्हिईंदड तादाति बा॒हिरि हूंदी ऐंडहे संमेलनि मां फाईदो ई केडहो। ब॒ई गा॒ल्हि जेका इन संमेलनि में पई नजरि आई सा आहे इन संमेलनि जे स्टेज ते वेहारियलि शख्सतयूं। सिंधी बो॒ली, साहित्य तोडे सकाफति जे दाईरे में हद॒ हणिदडनि मां कहिखे कोन घुरायो वयो। सभनि जे सब या तह धंधे वारा हवा या ,सियासतदानि। मतलब जेके सिंधीअ जो वाहिपो कनि से संमेलनि खां बा॒हिरि……

 

हिंदुस्तानि में भी हिकु सिंध वसे थो। कच्छ ऐं जेसलिमेरि में। उहो तब्को इन संमेलनि मां गैर-हाजिरु रहयो। जेकरि असां खेनि सिंधी करे कोन लेखिंदासिं तह इन में सुकसानु रिवाजी सिंधीयूंनि जो भी जाम थिंदो। संदुनि व़टि रूगो॒ बो॒ली ई नह पर सकाफति पहिजे असलोके रूप में मोजूद आहे। इन संमेलनि में को भी सिंधी सकाफति लिबास में को न नजर आया। जेकरि कच्छ  तोडे जेसलमेर जे सिंधी रहाकुनि खे गुरायो वञे हा तह असीं मिडिया जे अग॒यो ऐं खासि करे परदे॒हि मां आयलि सिंधीयूंनि खे हिंद जे सिंध जो नजारो भी दे॒खारे सघऊं हा। पर अफसोस ईअं थी कोन सघो। इहा गा॒ल्हि मोदीअ भी चई तह सिंधीयूनि में हिइर रूगो उहलि जीं संसकृति ई पई झलके। सभ को सुट कोट में पई नजरि आयो। इतफाक सां सिंधीयूनि वाङुरु गुजराति भी धंधो कनि हो भी मुल्क खां बा॒हिरि जाम वसया आहिनि पर कद॒हि भी नह पहिजी सकाफति कोन विसीरी आहे। शहरनि में रहण जो इहो मतसब नाहे जे पहिजी मोल सुञाणपि खां अण- वाकिफु रहिजे। हिंदुस्तानि जा मुखतलिफ वदा॒ शहरि हिअ रूगो॒ हेकले कोम जा नह रहया आहिनि। उते मुखतलिफ कोमयूं रहिनि थयूं ऐं जेकरि हो पहिजी सकाफति खे सांडे रखी थयूं सघिनि तह सिंधीयूंनि नह करे सघीनि इहो थी नथो सघे। हिंदी दुनिया जे 17 मूलकनि में गा॒ल्हिई वेंदी आहे। जेकरि हो भी सिंधीयूंनि वाङुरि माठि करे हथ में हथु रखि वेहि रहिनि तह पोई हिंदी कद॒हि भी दुनिया जे बे॒ नमबर जू बो॒ली नह थिऐ हा।

 

अमेरिका में जद॒हि ऐडहा संमेलनि सुरुअ थिया तह तह महलि  जो समसदि ई हो जिअ अमेरिका में सिंधी पाण में गद॒जिनि ऐं हिक बे॒ में राबतो वधे। इन खां अगु॒ जेके संमेलनि थिआ आहिनि दुनिया जे सुदा जुदा मूलकनि में उते भी मकसद भी साग॒यो रहयो आहे पाण में गद॒जोउ। नढे खंढ जी वरि गा॒ल्हि ऐडही नोहे। हित सिंधीयूंनि जी वदी॒ आबादी रहे थी। हिंदुस्तानि में खासि करे मसला रूगो॒ ग॒दु॒ थिअण जो नाहे। हित वदो॒ मसअलो बो॒लीअ जो आहे, सखाफति जो आहे, सिंधी सुबे जो आहे, सिंधीयूंनि  जे सियासी हकनि जो आहे ऐं सभनि खां वदो॒ पहिंजे वजूदअ जो आहे। सिंधी काऊंसिल आफ इंडिया खे यादि रखणो खपिंदो हो तह सजो॒ हिंदुस्तानि पयो असां खे दि॒से असीं सिंधीयूनि जेका समाज जी तसविर पोश कई सा ईहा हूई तह असी उलहि जी संसकृत सा धुलजी वया आहियूं। असां जी वेश बूशा पहिजी रही कोनहे। दरअसलि हिंदिस्तानि में हमेशाहि ई हर कोम खे पहिंजी हिक सञाणप आहे जेका कहि हद ताई सिबालिक पिणि थिऐ थी। पर ऐडहो दिखावो जरुरि भी आहे। सिंधीयूनि जे लाई हिसुस्तानि में वसण ऐं नंढे खढ कां बा॒हिरि वसण में फर्कु आहे। हिदुस्तानि को उलहि जी संसकृति को मेलटिग पाट या ग॒रिदड देगडो नाहे पर हित जुदा जुदा संसकृतियूं जो मेलाप आहे जहि में इहे जुदा संसकृतयूं पाण में गद॒जी रहिनि थयूं। ऐडहि मिसाल अव्हां खे खिथे भी किन मिलंदी जिते हिक ई मूलक में 400 कोमयीं ऐं 100 खन बो॒लयूं लभिंदूं। सिंधीयूंन खे जे तकलिफयूं कोन थियूं आहे सा गा॒ल्हि नाहे। तकलफयूं जाम कोमन खे थेनि थयूं पर इन जो मतलब इहो इहो नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली, सुञाणप ते समझोतो कयूं। जेकरि असीं सिंधीअ लाई विरहांङे बैद जाखडो कयो तह सिखनि भी पंजाबीअ लाई कयो। हित हिकु नंढो ई सही पर हिक सिंधु वसे थो।  कच्छ में निजा॒ सिंधी रहिनि था पर नह जा॒ण छो खेनि संमेलनि में नह गुरायो वयो। इहो इन सबब तह नाहे जे असां सिंधी थिअण जा पहिजा माप दंड पक कया आहिनि……असां जे लेखे रिगो॒ उहो सिंधी जेको असां जेडहो सिंधी हूजे, पैसे वारो हूजे, घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईण में फकरु महसूस नह करे ऐं धारि सकाफति खे पह्जो कोठे।

 

पिछाडीअ जे ब॒नि संमेलनि मे ऐं खासि करे 2009 जे लास ऐजलिस संमेलनि खां रोमनि ते बहसि पई हले। रोमनि जे हिमायुतिनि जो चवण आहे तह छो तह हिंदु सिंधीयूनि जी वदी॒ तादाति परदे॒हि मे थी रहे जहि खे देवनागरी नथी अचे सो संदुनि लाई लिपी मठाअण जरुरि आहे। अग्रेजी हिअर सजे॒ दुनिया भी बो॒ली आहे तो सब कहि खे इंदी वगिराह वगिराहि….अजु॒ इहो तमाम जरूरि आहे  तह इन समले खे मूहिं दि॒जे। परदे॒हि (मतलब नंढे खंड खां बा॒हिरि ) सिंधी,  सिंधी बो॒ली कोन पढनि । हो इन लाई कोन पढिनि छाकाण तह खेनि लिपी नथी वणे पर इन लाई नथा पढण छाकाणि तह संदुनि लाई इन जी जरुरति कोन थी महसूस थिऐ। घर में सिंधी बा॒रनि खे पहिरो हिंदी तोडे अंग्रेजीअ ते हेरिनि ऐं पोई इन जी उमेदि कनि तह संदुनि बा॒र सिंघी सां पयारि कंदा। सिंधीयूनि खां तमाम वधीक सिंधी कच्छी गा॒ल्हिईनि। हिक लङे दि॒सजे रोमनि जे 26 अखरि मां सिंधी जा 45 अखरनि जा सुर इजादि करण हमेशाहि हिक वदी॒ चुनोती आहे। हिंदुसतानि में रोमनाजेशनि जो कम अंगेरेजनि जे दि॒हिनि में सुरू थियो हो जद॒हि यूरोपियनि संसकृत दा॒हि छिकया पर इन जे बावजूद संसकृत जी मूल लिपी कद॒हि कोन मठाई वई। इन जो भी हिकु वदो॒ सबब इहो आहे लिपी ऐं बो॒लीअ में हिकु अहमि वाठि थिऐ थी जहिखे नजरअंदाजि कोन थो करे सघजे। लिपी मटाअण जो भी हिक तरिको थिंदो आहे। मसलनि जिअं मराठिनि या गुजरातियूंनि कयो। संदुनि जेतोणेकि लिपी मठायीं पर कद॒हि भी मूल लफतनि जे सुरनि सां समझौतो कोन कयो। पंजाबी सिंधकनि जी ऐं गुजरातियूनि जी वदी॒ आबादी मुलक खां बा॒हिर रहे थी पर हो कदहि भी पहिंजी लिपी रोमनि नथा करार दे॒नि।

 

जेसिताई देनवागरीअ जी गा॒ल्हि आहे तह इहा का हिंदी जी पहिंजी लिपी नाहे। देवनागरी संसकृत जी लिपी आहे सो सिंधीयूनि जो हकु सभिनि खां अग॒वाटु इन लिपीअ ते आहे। इहो ई नह सिंधी में भी इहा सुहिणे रित लिखी वेंदी आहे। सिंध में देवनागरी लिपी अपनाअण असां जे वस में कोन हूई पर हिंद में अची असी बो॒लीअ जे नसबति वदे॒ में वदी॒ गलति लिपीअ ते ई कई। इहा गा॒ल्हि ऐल के आद॒वाणीअ पिणि मञी तह देवनारगीअ खे अपञाअण खपिंदो हो। जेके माण्हूं रोमनि ते फिदा पया थेनि से रूगो॒ बो॒ली जे वेवारिकता दा॒हि पया धयानि देनि। जेकरि हो बो॒लीअ जे वजूद दा॒हि या बो॒लीअ जे जड दा॒हि धयानु  दे॒नि हा तह सायदि रोमनि या अर्बीअ जो जिक्रु ई ईंदो। जहिं दि॒हि हो इन दा॒हि धयानि दिं॒दा लिपीअ जो विवाद कहिजे पाण ई निबरी वेंदो।

 

असां सिंधी चङनि सालनि खां सिंधी सुबे जी गा॒ल्हि कयूं पया। लग॒ भग॒ हर सिंधी जलसे में इन जो जिक्रु यकिनिन थिंदो आहे । सागे॒ रित हे संमेलनि भी साग॒यो मंजरि पई नजर आयो। भले सिधी रित नह ई सहि पर इन जो जिक्रु हिदुंजा भाउरनि जे श्रीचंद हिंदुजा कयो। हिक लंङे दि॒सजे सिंधी सूबो जे नामूकिनि आहे ऐडहि भी गा॒ल्हि नाहे पर असां सिंधी इन मसले जे कद॒हि भी जाखडो तह परे जाखडे जो नालो ताई ते ढप खां मुंझी वेंदो आहियो। हिंदुस्तानि में ब॒हि ऐडहा ऐलाका आहिनि जिते सिंधी बो॒लीअ जा लहजा गा॒ल्हिईजनि था। मसलनि गुजराति में कच्छ ऐं राजस्थानि में जेसलमेर । हिक लंङे दि॒सजे तह इन ब॒नि ऐलाईकनि ई हिंद में सिंधी सुबे जो हक था लहणिनि पर मुसिबत ईहा आहे तह सिंधी रूगो॒ मडई मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में यकिन रखिनि सो इहे मसला किद॒हि भी आम कोन थी सघया आहिनि। इहो तह इन जे वावजूद जे इल ऐलाईकेनि में अगे॒ ई कच्छ तोडे जेसलमेरि खे धारि सुबा बणाअण जी गुर कई वई आहे जहिजो पुटिबराई कद॒हि भी सिंधीयूनि कोन कई आहे। मिसालि जा गा॒ल्हि जद॒हि 2001 जे गुजरति जे भूकंप खां पोई आहा गुर जोर वरतो हो तह कच्छ खे धारि सुबो या गुजराति मां धारि कयो वञे पर इन गुर खे तहि महल जे गृहि मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी सिधो सहूं खारिज कयो, मूमकिनि आहे सिंधीयूंनि जे वजूद खां वधिक खेसि गांधीनगर जा गुजराति वोट पई यदि आया। इहो ई नह कच्छीयूंनि जे साथ भी कद॒हि सिंधीयूंनि कोन दि॒ञो। दरअसल असीं सिंधी कच्छ तोडे जेसलमेरि में रहिदडनि खे सिंधी करे भी तसलिम कोन कंदा आहियों। इहो सब इन जे वावजूद जे इन ऐलाकनि में जेतरि सिंधी पई गा॒ल्हिजे उतरि तह सिंधी भी पाण में कोन गा॒ल्हिईनि।

70 जे द॒हाके में जेतोणेकि कनि सिंधीयूंनि कच्छ जो दौरो कयो हो। इन दौरे कंदड में ब॒ह अहमि शख्सयूंतू हयूं मसलनि श्री किरत बाबाणी ऐं दादी पोपटी हिरांदाणी । संदुनि मञण हो तह कच्छ में सिंधी वसी था सघीनि ऐं कच्छ में सिंधी जाम पई गा॒ल्हिईजे , वरि कमाई जा वसिला भी जाम आहिनि पर बदकिसमतिअ सां आम सिंधी पर हो इन दौरे बैद हो पाण भी हित वसण में का भी चाहि कोन दे॒खारि। सभई बंम्बईअ में पहिजे पहिंजो फलेटऩि में थाईंको थिया। जेकरि हो पाण अची रहिनि हा तह बे॒ खे भी को जार आणे सघिनि हा पर बदकिसमतिअ सां इअं थियो कोन्ह।

 

हर संमेलनि खे जेकरि दिसजे तह सिंधी पहिजो वकत जाया करे अचनि, के सिंधी भाषण दे॒नि या कहि खां देआरिनि, थोडो घणो सिंधी तोडे अणसिंधी  रागनि सां पाण खे विदुराईनि ऐं बद में वरि ब॒यो संमेलनि वरि इहा कारि दहूराई वञे। मस्कविलि लाई इन संमेलनि जे इदड थदे॒ जी पक करे पहिंजे पहिंजे घर मोटी वञिनि। असां व़टि पहिजो कोम जे अग॒या पेश इंदड कह भी मसले बाबति का भी रथा ते अमल नह कयूं। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि खे के अहमि मसेला आहिनि मसलनि बो॒लीअ जे पहिजी अजविका जो हिक अहम हिस्सो करण, सिंधीयूनि जा सियासी हक हासिलि करण, दुनिया भरि जे सिंधीयून में ऐको, सिंध में हिंदु तोडे सिंधी दलितनु ते थिंदड गुलमनि जी विरुध मुखातलिफ, विरहांङे सबब असां सिंधीयूनि में इंदर फर्कनि खे घठाअण जे नसबद जाखडो वगिरीहि वगिराह। हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जाखडो रूगो॒ बो॒लीअ जे तसलिम सां कोन पई निबरो आहे। राजिस्तानि खां सवाई किथे भी सुबनि जी नोकरयूंनि जा इंमतहानि सिंधीअ में कोन था द॒ई सघिनि पर इन संमेलनि में इन बाबति भी को प्रसताउ कोन कबूल कयो वयो। सिंधीअ जो को भी हिअर सरकारि चेनेल नाहे पर इन ते कद॒हि भी लोक सभा तोडे राजय सभा में अद॒वाणी-जेठमलाणी हूल कोन कयो आहे, संमेलनि पांरा भी अद॒वाणी-जेठमलाणी ते कहि भी इन बाबति को दबाव कोन पई आंदो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह असीं सभ सिंधी ऐडहा आहियो। हिंजुजा बाउरनि जा ट्रे ई भाउर मोजोद हवा इहो साबित थो करे इन संमेलनि मां घणणि खे उमेदि आहे पर जरुरति आहे हिक थी कहि रथा मोजूबु कम करण जी नह कि मिडई संमेलनि में अजायो भाषण देअण जी। सिंधी पाण में ग॒दु॒ ता थेनि इहा भी का नंढी गा॒ल्हि नाहे। …..अजु॒ जरूरति आहे तह असीं इन संमेलनि में सिंधीयूंनि जे मूदनि बाबति बहसि करण जी नह इन संमेलनि खे टाक शो खां फलाप शो ताईं महदोद रखोऊं।

 

लद॒पण जे जाखडे में मूंझयलि सिंध जी हिंदु बरादरी


लद॒पणि सिंधी हिंदुनि  लाई का नई गा॒ल्हि नाहे। इहा हजारनि सालनि खां पई लहिंदी पई अचे। अर्बनि जे काहि बैद सिंधीयूनि जी चङी लद॒पण थी हूईं इहा हिक ऐतहासिक सचाई आहे, साणु साणु इहा भी हिक हकिकत आहे तह इन लद॒पणि जो हिकु सबबु जोरी मूसलमानु कोम में शामिलि  करण जू वारदातयूं  पिणि हयूं । इन जो हिकु वदो॒ सबूत  इहो भी आहे तह अर्बनि जी काहि बैद जेके भी सिंधी,  सिंध में पहिंजि साहिबी काईम कई से ईसलामि धर्म कबूल कंदड हवा। इहो ई नह सिंधूपति महाराजा  दा॒हिर जे पुट्र बाबति भी चयो वेंदो आहे तह हूंनि भी इसलाम धर्म कबूल कयो या खणी चईजे खांईसि इसलाम कबूल करायो वयो। हिदुनि जे धर्मू मठाईण जा वाकया हजारनि सानलि खां पया हलिनि। ऐडहा वाकया अर्बनि जी काहि बैद सांदय पया लहिंदा पया अचनि, भले इहे वाकया तोडे वारदातयूं सियासी हालतयूं मोजिबु कद॒हि घटयूं आहिनि तह कद॒हि वधयूं आहिनि, पर किद॒हिं अगो॒पोई निबरयूं नाहिनि।

थर परकारि, सिंध में हिकु हिंदु मंदिर

 

सिंध में हिंदुनि मां जेके मसलमानि थिया तिनि मां के पाण खे शेख कोठाईंदा हवा। हो भले मुसलमानि थिया पर पहिंजी तादादि हिदुनि सां संङु जे मार्फति ई वधाईणु चाहिदा हवा। दादी पोपटी हिरानंदाणीअ मोजिबु इंहिनि  मां कनि वरि हिंदु पिणि थिअण चाहियो पर हिंदु पंचातयूं ईअं थिअण नह पई दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि केतिरो सचअ ते दारुमदारि थी रखे इहो चवण दु॒खयो आहे छाकाणि सिंध में 1927 में हिक ऐडहो वाकयो थी गुजरो आहे जहि में करिमा लाने जी जाईफा पहिंजे चारि बा॒रनि सां ग॒दु॒ हिंदु धर्म कबूल कयो हो, जेको कोर्ट पिणि मञे वरतो हो पर मसलमानि चङो फसादु कयो। इन फसादिनि में खूरो जो पिणि नालो सामहूं आयो हो जेको पोई वरि सिंध जो वदो॒ वजूरु थियो।

 

पर इन में को भी शकु नाहे शेख पहिंजी तादाति हिंदुनि मां धर्म मटाऐ पई करण चाहि।  सिंध में अंग्रेजनि जी हूकूमत खां अगु॒ हिंदुनि कुअरी छोकरिन खे भजाऐ पणजण जी वारदातूं में सभिनि खा अग॒ते इहे शेक हूंदा हवा। हिंदुनि ऐं शेखनि में इहा रंजिश ऐतिरी तह जबरदस्त हूंदी हूई जे हिंदुनि सिंधयूंनि में हिक चवणी भी हूंदी हूई तह  – शेख पूट्र सैताअ जो, नह हिंदु जो नह मुसलमानि जो।    

 

सिंध में सियासि तोर फर्कापरसती जूं मशालि खिलाफति जदोजिहति जोर वठायो। खिलाफति जा अहमि अगु॒वाण जो हथ हिंदुनि ते थिंदड जुलमि में रहयो आहे – मसलनि मौलाना तेज महमद जहि लाई इहो मशहूर आहे तह हूं सिंध जे गो॒ठनि में 7000 हिंदुनि जो धर्मु मठायो। खिलाफति जे जाखडे सिंध में के अहम सिंयासतदानिं खे पैदा कयो, जेके अग॒ते हली सिंधीयूनि में फर्क ऐतरा तह वधाऐ छद॒या जे इन सबब अजु॒ सिंधी ऐकी गा॒लिह ज॒णु खूवाबु पई लगिंदू आहिनि। इन में ब॒ह हूवा जे ऐम सेईद जहि नह रूगो॒ सिंध में मुसलिम लिग जो जबरदसत जोर वठायो पर हिदुस्तानि मां लदे॒ अयलि हिंदी उर्दू गुजराति गा॒ल्हिईंदड मुसलमानि खे सिंध जे शहरनि में वसाअण में वदो॒ किरकारि नाभायो – जहि सबब आखिरि कारि हिंदुनि खे उछांगयूं दि॒दे पेरनि उघआडे सिंध अलविदा करणी पई। हून हिकु ऐडहो सिसाल कायमि कई जहि जो परादो॒ अजु ताई थो बु॒धजण में अचे। खलिफति जे जाखडे जो ब॒यनि अग॒वाणुनि में हिकु हो खूरो- जहि खे हिहू सिंध में 1927 जे लाडकाणे जे फसादनि लाई जिमेवार करे मञिदा हवा। मशहूर सिंधी लेखक ऐं सिंध नसर जो हिक थंबो श्री जथेमल पर्शराम खिलाफति बाबति सही ई चयो हो तह – खिलाफकि आहे आफति।

 

जेतोणेक खिलाफति जे महलि खां सिंध में हिंदु – मसलमान में फर्क वधण लगा हवा पर इहो मसजद मंजिल गाहि जो रग॒डो हो जहि  सिंध में अण मुसलमानि जी हाणोके लद॒पणु जे शुरुआति कई। जेके फर्क हिंदुनि तोडे मूसलमानि में मसजद मंजिल गाहि जे मसले विधा से वरि किद॒हि घ़टया ई कोन्हि। केतिरो अजबु आहे जे हिंदुनि उन वारदाति खे हिंदु लग॒ भग॒ विसारे छदो॒ आहे जहि सिंधी हिंदुनि जी तकदिरि हमेशाहि लाई फेरे छदी। इन मसले सबब जे सिंधी हिंदुनि तोडे मुसलमानि फसादि थिया तनि लाई चयो वेदो आहे तह 17 मूसलमानि ऐं 40 हिंदु मारजी वया हूवा (किनि जो मञण आहे तह हिंदुनि जे मार्जू वञण जी तादादि 60 हूई)। इन खआं सवाई करोडिनि जो नोकसानु थियो सो धारि। इन वाकये जी जाई ते जोतेणेक नेठि अमनि मोठी आयो पर ईन जो परादो॒ सिंध जे सियाति में वदो॒ तुफानु खणि आयो। हिक पासे सिंध में पहिरों भेरो सिंधीयूनि जे पाण में फसादिनि सबब लद॒पण थी ऐं खां भी वदी॒ गाल्हि तह सिंध जा फर्कापरसत अग॒वाण जी ऐम सेईद, पिर महूमद रासाशदि ऐं खूरो मुसलिम लिग लाई हिक ऐडही जाई दि॒ञी जहि कजहि सालनि में सुफी सिंध जी शकल ई म़टे छदी॒। इन खां भी वदी॒ गा॒ल्हि तह इन फसादनि बि॒नि महानि हसतियूं खे हमेशा लाई माठि करे छदो॒ – हिकडो हो संतु कूवर राम जहिंखे रोहडी जे भरसां रुक ईस्टेशनि ते कतलु कयो वयो ऐं ब॒यो हो  वदो॒ वजिरु अल्लाहि बकश सुमरो। सिंध वरि साग॒यो कोनि रहयो। सिंध उन दि॒हिं खां जु॒णु पाकिस्तानि जो हिस्सो थी पयो।

 

विरहांङे खां पोई सिंध जे शहर में जबरदसत फसादअ कराया वया जहि सबब पंज सालनि जे अंदरि हिंदु सिंध जा शहरि वांदाऐ वाया। पर गो॒ठन में तद॒हि भी जाम हिंदु रहयलि हवा। जेतोणेक सिंध मां हिदुन जी लद॒पण थोडी घणी हलिंदी रही आहे पर वेझडाईअ जे किनि सालनि में सिंध मां हिदुनि जी लद॒पण वरि चङो जोर वरतो आहे। इन जा सबब गोलहण भी दू॒कया नाहिन। हिक पासे  जिते रिवाजी सिंधी  हिदुनि ते लोट-मारि, अग॒वा या कतलनि जा चङा वाकयो  पधरा थिया आहिनि उते दलितनि ते जूलम पया थेनि जिअं बंधूया मजदूर करे रखण, जोरी मसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं, लज॒ लुट ऐं खासि करे जवानु सिंधी हिंदु नेनगरिनि (छोकरिनि) जो अग॒वा थिअण बैद जोरी सां कहि मुसलमानि सां परञाअण, किथे  किथे तह सिंधी हिंदु विधवाउनि खे भी कोन बख्शो वयो आहे। इन गा॒ल्हि में शायदि को शकु आहे आहे इन हिंदुनि खे मूसलमानि ठाहणि जी कोशिशनि जो जलमु वध में वध सिंधी दलितअ कोम पयो सठे। पाकिस्तानि में इंसानि हकनि जे कमिशनि जे ऐहदेदारि साई अमरलाल मोठूमल मोजिबु हर महिने 20-25 सिंधी दलित हिंदु नेंनघरयूं अगवा कयूं वेंदयू आहिनि ऐं जोरि इसलाम कबूल करायो वेंदो आहे। दरअसलि सिंध जे गो॒ठनि में इन दलितनि तोडे हिदुनि जो हिदुं थिअण हिकु दो॒हू समझयो वेंदो आहे। मोटूमलअ जो वधीक चवण आहे तह जेकरि माईट पहिंजी औलादि खे आजादि कराअण लाई हूलु था कनि तह संदुनि औलादनि खे कत्ल भी थो कयो वञे। हकिकति में इहे आकडा तमाम थोडा माणहूनि तोडे मिडीया आग॒या इंदा आहिनि छाकाणि तह घणो तणो ऐडहयूं वारदातयूं खां पोई माईटनि ते थिंदड जलमनि जे ढप सबब या पलिस जे वेरुखी सबब ऐफ आई आर दर्ज नह कयीं वेंदयू आहिनि।

 

सिंध मां पाकिस्तनि जी कोमि ऐसमबली यानी लोकसभा जो अगु॒णो मेंमबर श्री भेरुमल बेलाणीअ जे चवण आहे तह दलित सिंदीयूनि मां कनि कासि जातयूनि खे ई निशानो पयो ठायो वञे। इनहिनि नियाणिन खे मुसलमानि बणायणि बैद ऐंडहा भी वाक्या सामहूं आया आहिनि जिते इन नियाणीयूंनि खे विकयो वयो आहे। इनो ई नह पर इन अग॒वा करण में सिंध में किनि सघेरनि सियासतदानि जी शाई आहे। हिक लङे दि॒सजे तह इन इहे वारदातयूं पिछाडीअ जे टिन सालनि में चङयूं वधयूं आहिनि। नगरपारकारि में हिक सतरें वरहय जी नेंनघरिअ खे अग॒वाटि अगवा कयो वयो ऐ संदुसि लज॒ लूटि वई ऐं हिक ब॒ई नेंगरि खे जेका 15 वरहयनि जी हूई – तहिं खे आकलि गो॒ठि मां अग॒वा करे संदुसु दिन धर्मू पई मठायो वयो। वरि सागी॒ कारि होली दि॒हि भी थी जद॒हि ब॒ह हिंदु नेंनघरयूं किशनी ऐं अनिता खे कोटरीअ खां अग॒वा कयूं वयूं।

 

हिंदुस्तनि जी मिडिया पारां सिंध जी हालतूंनि ते का खासि दिलचसपी रही नाहे खासि करे हिंदी तोडे सिंधी मिडिया में पर अंग्रेजी अखबार पारां अंदरूनी सिंध में ऐं खासि करे दलित सिंधीयूनि जी विरहांङे बैद उमालक फिरयलि हालतूनि ते थोडी घडो तहकिकाति कई वई आहे । इन अंग्रेजी मिडीया में अहम नालो आहे आऊटलूक अख्बारि जो। जनवरी 16, 2006 में आउटलूक अखबारि पारां हिकु लेख शाई थियो हो जहिं में मारिना बबर जी हिक रिपोर्ट शाई कई वई हूई- सिंध जूं लमायनि कूआरयूं जे नाले सा। उनि रिपोर्ट जा के विचूड कजहि हिन रित आहिनि…….

 

सिंध जे थारि परकारि जिले में हिंदु बरादरि अग॒वा कयलि नयाणयूंणि जी तसविर दे॒खारिंदे

आउं अंनदरूनि सिंध पई वञा खासि तोर सां इन गा॒ल्हि जी पक करण लाई तह उते वाकईं छा हिंदुनि ते जूलम पयो थेनि मसलनि जोरि मुसलमानि ठाहण जूं वारदातयूं जिअ जाम ब॒धबू आहिनि। मूहिंजो पहिरों पडाऊ हो मिरपूर खासि जिले जी जिला कचहरि। उन दि॒हिं हिकु ऐडहे मकदमे जी पेशि हईं जहि जे सबब आउं सिंध आई हूयसि। माण्हूनि सां गा॒ल्हिईंदे मसले जी पक सां विचूड कोन मिलया। जेतिरा माणहूं ओतिरा बयान, पर उमालकि माणहूंनि में चर पर पई नजरि आईं। हिक पुलिस जो गा॒डे अची विठो। अंदरि हूई मारियम। मरियमि मस जेडही 13 सालनि जू हूई पर परणयलि हूई………मारियम दिसम्बर 21 2005, जी राति ताईं हिंदु हूई। तद॒हि संदुसि नालो होसि माशू। आऊं मर्दनि में मेडे मंझ गुरि दि॒ठो तह नेनघरि हिक गा॒डहे बूर्के में उन पूलिस वेनि में वेठलि हूई। हूनि पहिजो हालु अहिवालु द॒सिंदे चयो तह – आउं खूश आहियां। मां पहिंजे माईटनि तोडे भाऊरनि वटि नथी वञण चाहिया। उचतो मूखे लगो॒ …हाई घोडा हे छा.मसलो छा आहे.

 

इन कचहरि जे पासे में पिपल वण हेठि कजहि दारि ई कहाणी जे सुस पुस पई हले. उते के माण्हूं जो मेराडको हो जेको झालूरि गो॒ठि –जेको मिरपुर खासि खां 20 कोहि परे जो को गो॒ठि पई ब॒धायो वयो। उनहिनि में हिकडो हो माशु जो पिणसि-मालो सानाफवो। संदुसि मोजिबु 22 दिसम्बर 2009 राति जो 11 लगे के हथियारि बंध जबरनि संदुस घरि में गुरि आया जिनि मां हिकडो हो मालूअ जो पाडेसि अखबर। इहे हथियारि बंध माशुअ खे अग॒वा करे बा॒हिरि बि॒ठलि गा॒डीअ में जबरि वेहाऐ गि॒हले वया। माशु खे हूनिन पीर अयूब जान सरहंदीअ जे गो॒ठि में गिञे वया जिते माशुअ संदुसि धर्म मठाये अखबर साणु परणायो वयो।

पर इन गा॒ल्हियूं जी मुखातलिफ कंदे अखबर कोर्ट में पहिजीं बयानि में चयो तह मरियमि हमेशाई ईं मूहिंजे दिल में वसिंदी हूई। 22 दिसम्बर जी राति हूअ हेकलि ईं मूहिंजे घरि आई ऐं इहा गा॒ल्हि सही आहे तह पिरअ संदुनि धर्मू मठायो पर ईहा मूहिजी राय ई हूई तह कोर्ट में बयानु दि॒जे। मारियमि खे हैदरआबादि जे दरुल आमनि में मोकिलो वयो हो – (इहा उहा जाई आहे  जिते उनहिनि हिंदु नेंनगरीनि तोडे जेईफाउं खे मोकिलयो वेंदो आहे जिते उनहिनि बेसाहारिनि खां जबरनि बयान लिखाया वेंदा आहिनि जेके पोई कोर्टनि में पेश कया वेंदा आहिन।)

 

सरियमि कोर्ट में।

हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो मञे थो सघजे तह 13 सालनि जी नेंनगरि पहिजो कोम मटे पहिजे पाण मङजणु चाहिंदी। इन ते तह शकु कहिंखे भी थिंदो। आऊं ओस ओच ओ (S H O) वटि वयसि जेको बि॒नि गुटनि जो झेडे मंझ फातलि हो। कहिं सलाहि पईं दि॒ञसि तह छो नह छोकरिअ खे माईटनि सां ग॒दि॒जणु पयो दि॒ञो वञे…….ऐस ऐच ओ उन माणहू खे दब॒ पटिंदे चयो …..धर्मू मठजणु खां अगु॒ पर हाणे असुलि नह…मरियमि हिअर मुसलमानि आहे। हित जाम माण्हूं अचि मिडया आहिनि, जेकरि मारियमि पहिंजे माईटनि खे दि॒सी ओछांङयूं द॒ई रोअण लगी तह वदो॒ गोडु थी पवंदो। थी थो सघे तह फसादि थी पवनि।

 

थोडी देरि में उमालक कोर्ट जे परिसरि में खुशियूं पयूं मञाईजणु लग॒यूं जिअं ई इहो अहिवालु वंढायो वयो तह कोर्ट मोकलि दि॒ञी आहे जोल मूरस ग॒दु॒ रहि था सघीनि। मुसाणु गदु॒ हो कांजी रोणो भिल जेको तालिम सां गंढयलि हिक ऐन जी ओ में कमं कदो आहे ऐं पाकिस्तानि जे इंसानि हकनि जी तंजिमि सां भी गं॒ढलु आहे उमालकि संदुसि मूहांडरे में मायूसि साफु झलके पई।

तह छा पोई पोई माशु खे अग॒वा करे जबरनि संदुसि धर्मू पयो म़टायो वयो…मिरपूर खासि मां आऊं जिअं ईं अंदरूनि सिंद जे मुखतलिफ ऐलाकनि में गुजरिंदि वयसि मुंखे इअं पई लगो॒ जणु थर जा भिट रडयूं करे हर घर इहे ई सवालि पया कनि। इहो ई नह जिते भी मां वयसि हिंदूनि में मायूसि हूई ऐं उहे सागया मंजर, उहे सग॒यूं कहाणयूं- पहिरों अग॒वा, पोई धर्मू मटजणु, वेहाऊं ऐं  माईटनि सां हमेशाहि लाई विछडणु ज॒णु इहे रिशता नाता हूवा ई कोन्ह। जनवरि 2005 जो मार्वी (18) ऐं हेमी (16) गो॒ठि किनरा , अमरकोठि मां अग॒वा कयूं वयूं। इन वारदाति जे टे महिना बैद मार्च 13 जो राज्जी खे मिरपूर खासि मां अग॒वा कयो वयो।

 

हिंदु जाईंफाउ जहिंजो धर्मु मठायो वयो

कांझी भिल को चवण हो तह – मस जेडहा 10 सेकडो ई वारदातयूं हूंदयूं आहिनि जहिमि में इशक जो मसलो हूंदो आहे। जद॒हि मिरपूर खासि जे डी आई जी सां इन गा॒ल्हि बाबति पुछो तह हो काविडजी वाका करण लगो॒ –जेकरि जरूरत पई तह आउं अव्हां खे आकडा दि॒दुसि। तोडाईवारे कोमअ तह पाकिस्तानि में सभनि खां महफूज आहिनि।

 

पाकिस्तानि जे ईंससानि हकनि जी कोमि तनजिम जो भी मञण आहे जेको आऊं सिंध में दि॒ठो। नूझाहत सरिन जेको लाहोर में हिक ऐन जी ओ में पयो कमु करे तनि जो मञण आहे तह छोकरियूं जद॒हि कोर्ट में पेश थयूं कजनि तह जिहादी तंजमयूं ऐडहो पईं हूलू कनि मसलनि नारा हरण, गुलनि जी बरसात करण ऐं जाम माण्हूं ग॒दु॒ करे अग॒वा कंदड खे हिकु हिरो करे पोश कनि जहि सां छोकिरुनि ते ऐडहो तह मांसिक असरु थो पवे जो हो मूंझी थयूं वविनि ऐं कूछि कोन थयूं सघिनि। परि हिंदु समाज जा कुआराईप जा सख्त सामाजिक रिवायतू ऐं बि॒हरि वेङाउ नह थिअण जो ढपु छोकरिनि खे चुप थी रहण लाई मजबूर थो करे इन उमेदि सां तह शल इन मां भी कुझ भलो थिऐ।

 

कांझी जो चवण हो तह पंज सालनि में रूगो॒ 50 ऐडहा वाकयनि जी पधराई इन मसले जी हकिकति पेश नथी खरे। किशन भील जेको कि पाकिस्तानि जी कोमी ऐसलमबी जो मेमबर आहे तहिं जो चवण हो तह इहे जूलम हिअर जाम वधी पया आहिनि। संदुसि इहो भी चवण हो तह जेकरि इशकु हिकु सबब आहे तह छोकरा जनि सां हे पणिनजनि पयूं से छो नथा पहिजो दिन ध्रमु मटाईनि। हून हिक पूठयां ब॒यो ऐडहा जाम केसनि जो ज्रिकरु कयो जिते दलित हिंदु नयाणयूंनि ते जूलम पया थेनि। संदूनि चवण हो तह हिक वारदाति महलि हिंदूनि ऐतजाति कया। लग॒ भग॒ 70, 000 हिंदु ग॒दु॒ थीया। इहो वाकयो 1980 जो हो पर इन मेड ते फाईरिग कई वई जहि सबब चङा हिंदु मारजी वया। जहि सबब हिंदुनि ऐतिजाज कयो – हिंदु नेनगरि सिता, सा अजु  ताई पहिजे माईटनि वठि कोन मोटी आई- किशन भील जूं अखयूं भरजी आयूं। सिता जज जसटिस दोराब पटेल खे फिणि पधिरो चयो हो तह खेसि जोरी अग॒वा करे मूललमानि कयो वयो आहे। किशनि मोजिबु हिंदु हाणे ऐतिजाज करण बंद करे छद॒या आहिनि पर इन जी जाई ते हिअर  इंसानि हकनि जूं तंजमयूं तोहे मिडीया जे मार्फति पहिंजे कोसनि खे पधरो करण में ई सयाणप समझिंदा आहिनि।

 

बाबर जिनि वाकयनि जनि वाकयनि जो जिक्रु पई कयो आहे सो रुगो मिरपूर खास ताईं महदूद नाहिनि। कराचीअ खां वठी कशमोर ताई पया जाम दि॒सण में था अचनि।

 

जहि दि॒हिं मरियमि जे जो फैसलो जज पई बु॒धायो तहि दि॒हिं पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस ईफतिकारि महूमद चोधरी कोटरी में थिअल साग॒यो केस में फैसलो दि॒ञो तह जेकरि उहा नेंनघरि 13 सालनि खां घटि उमर्र जी आहे तह अग॒वा कंदड ते लज॒लूट जो केस थो हलि सघे। (इलसामि कानुन मोजिबु 13 खां घट उमर जी छोकरि वेहाउ नथी करे सघे – कानुनि।) जद॒हि जज जे लेखे हिंदुन जो अग॒वा थिअण ऐं मुसलमानि थिअण जूलमु नाहे तह मोलवीयूनि खे केडहो हथिरु थिंदो। चिफ जसटिस व़टि हिकु नह पर जाम केसअ वया आहिनि, पर इहो बु॒धण में कोन आयो आहे तह हून साई कहि हिंदु खे का दिलजाई दि॒ञी आहे, हा नवाज शरिफ जे लाई वाटि साफ करण में पूरी इमानदारि जरूर दे॒खारि आहे।

 

मथे जा॒णायलि वाबयनि बाबति जेकरि अहो समझजे तह जूलम रूगो॒ दलितनि सां पयो थिऐं तह इहा वदी॒ गलति थिंदी। जेतोणेक रिवाजी हिंदुनि सां दलितनि वारा जूलम कोन थिया आहिनि पर संदुनि खे कहिं भी रित बख्शयो भी कोन वयो आहे। वेझ़डाईअ में ब॒ह वाकया थी गुजरा आहिनि जेके पाकिस्तानि जी अंग्रेजी अखबारिनि में चङो कवरेज मिल्यो आहे। सिंध जे सिंधी मिडया में जेतोणेकि कवरेज दि॒ञो आहे पर उनि रित नह जहि रित मिलणो खपिंदो हो। सिंध जे हिंदु पंचायतुनि जी गा॒ल्हि मञिजे तह पिछाडीअ जे बनि सालनि में हिदुनि ते अग॒वा, लूटमारि या कतलनि जा 300 वाकयो थिया आहिनि। पर विछाडीअ जे टनि- चारि महिननि में ब॒ह वाकयनि सिंधीयूनि जो खास करे धयानु लहणो- पहिरों आहे उतरि सिंध जे शिकारपूर में पुञे आकिल जो ऐं ब॒यो आहे चक, शिकारपूर  जो वाकयो। हिक लङे दि॒सजे ब॒नि वाकयनि में को खासि फर्कु नाहे।

 

पुञे आकिलि में वाकयो हिक स्कूल में हिक हिंदु प़टवाले जो कूलहडे जाति जे हिक सिंधी मूसलिमि नेंनघरि जी लज॒लूट जे कोशिश सबब थी। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे तह कूलहोडे बिरादरीअ जे काहि में जिनि ते हमलो कयो वयो तनि जो इन पटवाले सां को भी वासयो नाहे। पूलिस जेका दलति हिंदुनि ते थिंदड वाकदातुन ते हिक ऐफ आई आर ताई द्र्ज करण जी जरूरत कोन महसुस कंदी आहे सा यकदमि ऐफ आई आर दर्ज कयो। ऐफ आई आर नह रुगो॒ उनि पटवाले ते दर्ज कई पई पर इन स्कुल हेड मासतरि जे खिलाफ पिणि दर्ज कई वई हूई। पुञे आकिलि में वारदाति जी जाई ते हिंदुनि में कहि भी पहिंजी जान कोन विञाई पर पर खे मुसलमानि जरुर मारजी वया। इन खा सवाईपुलिस जी कारवाही सबब काहिं कंदडनि मां पिणि कनि के मारजी वञण जी खबर पधरी थू हूई। इन वारदाति जे दो॒हि खे हिक बि॒न दि॒हनि में हथ कयो वयो पर जद॒हिं अग॒वा था थेनि तह मूलक जो चिफ जस़टिस भी कजहि नतो करे, पुलिस जी छा गा॒ल्हि कजे।

 

चक मे वकयो पहिंजो पाण में कहिखे भी वाईडो करण लाई काफि आहे। जेतोणोकि इन वाकये बाबति जुदा जुदा अफवाहूं तेज थयूं पर मूल रिह हकिकति कजहि हिन रित हूई……

 

चक , शकारपूर में मारजी वयलि जे वारितनि सां ग॒दु॒ जिऐ सिंध कोमी महाज जो अग॒वाणु बशीर खां कुरेशी

शुरु आति अहवाल मोजिबु इहा खबरि वंढाई वई तह चक शहर में हिक हिंदु छोकरे पारां भाईयो जाति (मुसलमानि जी हिक कबाईली जाति) छोकरीअ सां लज॒लूट जी कोशिश पई कई वई हूई। पर जद॒हि हकिकत पधरी थी मसलो कजहि बिलकुल बि॒तरां ई निकतो। गा॒ल्हि कजहि हिन रित हूई तह-  भाईयो जाति जी हिक छोकरी दि॒आरीअ जे दि॒हिं हिक हिंदु छोकरे जे घरि  पई आई या खणि चईजे निंढ द॒ई घुराई वई । कहि  माणहूनि इन छाकरिअ खे उताकअ (घर में मर्दनि जे उथण – वेहण जी जाई जहि में जाईफआंऊं असूलि कोन अचनि, सिंध में अजु॒ इहो रिवाज आहे) में पई दि॒ठो। हंदु छोकरे जे माईटनि खे जद॒हि खबरि पई तह संदुनि छोकरे खे मार्यो-कोटयूं ऐं भाईये जाति जी इन छोकरिअ खे संदुसि घरि मोकलयो वयो। इहा गा॒ल्हि छोकरिअ जे माईटनि ऐं भाईये बरादरी जिअं पहूती तह हो सख्त काविडजी वया। संदूनि जी कावड हाथियो वधी वई छा काणि तह छोकरो हिंदु हो। उन दि॒हि खां भाईये जाति ऐं के जिहादी जमायतूं चक में हिंदुनि खे पई हिसायो जहि सबब हिदुनि पूलिस खां मदद पिणि पई गुरी हूई। पूलिस जेतोणेक थोडी मदद कई उहा भी थोडी नाले जेतरि।

इअं तह सिंध जे मूसलमानि  में खासि करे गो॒ठनि तोडे नंढे शहरनि में हिक रिवायति रही आहे जहिखे कारो- कारी थो कोठिजे। कारो मततब छोकिरो ऐं कारी छोकरअ लाई इसतमाल थिऐं। इडहा के वाकया थिया आहिनि जिते कहि अण- मङयलि छोकरे ऐं छोकरि खे हिक बे॒ सां ग॒दु॒ हेकलो दि॒ठो वयो आहे तह संदुनि कत्ल कयो वयो आहे। ऐडहनि वाकयनि जो जेतोणेक सिंधी मूसलिमि जाईंफां जाम शिकारि थयूं आहिनि, किथे किथे रूगो॒ शक जी गा॒ल्हि ते सिंधी जाईफाउनि खे कतल कयो वेंदो आहे। किथे किथे जिते इशक जो मोमलो अचे तह छोकरो ऐं छोकरी  ब॒हिन खे मारयो वञे ऐं घणो तणो छोकरिअ खे अग॒वाटि मारयो वञे जिअ हिदुस्तानि में खेप पंचातयूं में भी थिऐ थो। पर चक जे वाक्ये महल ऐडहो कजहि कोन थियो। हे मसलो सिधो सहूं सिंध जी हिंदू बिरादरीअ खे टारगेट करण जो मसलो थी रहजी वयो।

 

भाईये विरादरी उन वाकये जो नेठि जवाबु ईद जी शाम दि॒ञो जद॒हि के हथियारि बंध हमलो पई कयो जहि सबब चारि हिदूं नोजवान जनि मां ट्रे डाकटरि पणि हूवा से वारदाति जी जाई ते ई मारजी वया। संदुनि नाला कजहि हिन रित ब॒धाया वया- नरेश कुमार, अजित कुमार, अशोक कुमार ऐं सत्यपाल। नोट करण वारी गाल्हि तह ईहा आहे जे वाक्ये जे ब॒नि कलाकनि खां अगु॒ उमालक पूलिस गायब थी वई ऐं वाकये जे अध कलाक खां पोई ब॒रहि अची हाजिरु थी जहि सबब इहो सकु यकिन थो लगे तह इन काहि बाबत पूलिस खे जा॒ण हूई। अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे जिअं पुने आकिलि में थियो सागे॒ रित चक में पिणि दि॒ठो वयो तह मसलो कहि सां थियो पर जवाबी हमलो ब॒हिन वाकयनि ते सिंधी हिंदुनि जे थद॒नि में थियो जहिंजो इन मसले सां को भी वासतो नाहे।

 

किनि अख्बार नूवेसनि जेके घणो तणो अंग्रेजी अखबारि मां हूवा कहि कदरु इन वारदाति जी तह ते पुजण जी कोशश कई आहे। संदुनि मञण आहे तह विछीअ जे कनि सालनि में  सिंध में खासि करे उतर सिंध जे शहरनि में तालेबानि जो असरु वधयो आहे। इहो असरु घणो तणो मदरसनि मां पयो वधे जिते जिते मोलवी पंजाब या फख्तुनिवाह मां पया अचिनि जनि खे सिंधीयूनि सखाफित तोडे वहिनवारि बाबत जा॒ण नाहे ऐं हो समाज में जहरि पया फैलाईनि। ब॒नि तंजिमियून जे नालो सामूहं पयो अचे जिन मां पहरिं आ सिपा ऐ साभा पाकिस्तानि ऐं ब॒ई आहे जमाऐत उलेमा ऐं पाकिस्तानि (फजलि ग्रुप)। मथोऊ वरि इनं तनजिमयूनि खे साथु थो मिले सिंधी कबाईली जातयूं, पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जा के ऐहदेदारि ऐं पूलिस जो जनि जी हमेशाहि ई नजर हिंदुनि खे धंधनि तोडे मलकयतूंनि ते रहि आहे। इहो शकु इन लाई थो पैदा थिऐ छाकाणि तह वार्दाति जो अहमि गुनेगारि बबर खां भाईयो खे मञया थो वञे जेको पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी जो शखर जिले जो हिकु अहम अगवाणु आहे, वरि उमालकि वारदाति जे वकत पूलिस जो टरि वञण वरि वारदाति बैद पूलिस जो वारदाति जी ऐफ आई आर दर्ज करण में मूझाअप दे॒खारण इहे सब हिदुनि जे मायूसि खे पिखतो था कनि। इहा भी खबरि आई आहे तह वारदाति खां पोई पूलिस थाणे जे अग॒यो इन कबाईले नेताउनि सां ग॒दु जिहादी तंजमयूं भी ऐतजाति पई कयो जिअं इन वारदाति जे जवाबदारिन विरूध पूलिस को भी कदमि नह खणे। पूलिस इन केस में ऐफ आई आर भी वारदाति जे 36 लकातनि खां पोई। इहा भी खबरि पधरि थी आहे तह मारजी वयलि जे वासिसनि खे भी तपायो पयो वञे जिअं संदुनि पारां ऐफ आई आर ते जोर नह विधो वञे। केतरि नह वाईडो कंदड गा॒ल्हि आहे जे पुञे आकिल मामले में पूलिस जी गुनेहिगारि हिंदु पटवाले खे हथ करण में वाहि जी फुर्ति देखारि, सागी॒ फुर्ति चक में कोन पई दे॒खारी वई।

 

शिकारपूर जो रूतबो 1947 ताईं दिसण जेडहो हूंदो हो। मां अजु॒ भी जाम सिंधी हिदूनि खे दि॒ठो आहे तह हू फकरु कंदा पहिंजे शिकारपूर सां लागपे जा। हिन शहरि सिंधी कोम खे महाल कवि शेख अयाज ऐं हेकलो सेकूलर  वदो॒ वजीरु अल्हा बख्श सुमरो दि॒ञो। पर हिअर नाहे रहि आहे। कनि जो मञण आहे तह हे शहरि हिअर खंडहण जो सहरि थी पयो आहे।  जेकरि चक शहरि जी गा॒ल्हि कजे तह शहरि जी मूल आबादी चालिह हजारि आहे जिन मंझ हिंदु मस जेडहा छिह हजार था बुधाया वञिन। जेकद॒हि इन भाईये जाति जी ग॒ल्हि कजे तह इहा शिकार्पूर जी ट्रि सघेरि जाति ब॒धाई वेंदी आहे जतोई ऐं मारहि खां पोई। शिकाररपूर बाबति जा॒ण रखिदडनि जो रायो आहे तह जिहादी तंजमूनि खे पूरि आजेदी दि॒ञी वई आहे तह हो पहियूं हर्कतयूं पूरी आजादि सां कनि ऐं ऐडहे तंजमयूं खे इहे कबाईली जातयूं, पूलिस ऐं हकूमत पारां पूरी मदद पई मिले। इन वारदाति में पिपिलस पार्टी जा भी असिलोका रंङ पधरा थिया आहिनि छा काणि तह इन वारदाति जो अहमि गुनेगारु बबर खां भाईयो शिकारपूर में पिपिलस पार्टी जो अहमि अग॒वाणु आहे। सिंध मां वेझडाईअ में लदे॒ आयलि हिंदु बरगी बिरादरी जो भी चवण आहे तह तालिबान जो असरु सिंध में कजहि सालनि खां जाम वधयो आहे। इहो सब इन जे वावजूद जे सिंध जे हिंदु बरादरी हमेशाहि ईं पिपलस पार्टी जो साथु दि॒ञो आहे। उहे अग॒वाणु हिअर गो॒ल्हिहे ई कोन बया लभिनि।

 

बदकिसमतिअ सां सिंध में हिंदुनि तोडे थोराईअ वारी कोमनि जे विरूध ऐडहीनि वारदातयूंनि खे कद॒हि भी संजीदगीअ सां कोन धयानु दि॒ञो वयो आहे। जेकरि रिवाजी सिंधी मुललमानि जी गा॒ल्हि कजे तह कनि खे छदे॒ हिकु ई जवबु मिलिंदो –साईं हिंदु तह अजायो पया हूलु कनि इहो तह मुसलमानि सां भी पयो थिऐ। इन जे नसबत सिंधी मिडिया जो हमालो दि॒ञो वेदो आहे जिते सिंधु बाबति  खबरिनि  में 365 दि॒हिं साग॒या अहवालअ हूंदा आहिनि तह फलाणे – फलाणे खे कतल कयो, फलाणो अगवा थियो वगिराह वगिराहि। रूगो॒ नाला ऐं तारिखयूं मटयलि हूंदयूं आहिनि, बाकि सब साग॒यो। सिंध में इन वारदातयूं खे तमाम रिवाजी करे मञयो वेंदो आहे। सिंधी मिडया जहिखे इन मसले खे जोर तोर सां हथ करणो खपिंदो हो से तह सिंधीयूनि खे अजरक टोपयूं पाराऐ सिंधीयूनि खे नचाअण में ई पहिजी शान करे लेखिंदी आहे।

 

पर इन सभनि जे वावजूद सिंध में माण्हू सुजाग॒ थेनि पया। इन वाक्ये बैद चक में सिंध जे सिविल सोसाटी ऐं केमिपरसत पार्टयूं ऐतजाति रेलयूं कद॒यूं जिनि में हजारनि जा माणहूनि सिरकत कई। जिऐं सिंध कोमि महाज जो अग॒वाणु बशार खां कुरेशी ऐं अवामी तहरिक जो अबदल लतिफ पलेजो इन रेलयूं में शिककति कई। गायब रही तह रूगो॒  प प  प जेका दहशदगर्दनि सां लडाईनि में पहिंजूं कर्बीनयूं गणाअण में पल भर जी देर कोन कंदी आहे पर हिअर खामोश। प प प जा हिंदु मेमबर पिणि गायब रहया जहिंखे सायदि चुप रहण में पह्जो निजी फाईदो नजर आयो- थी थो सघे तह खेनि प प प माठि रहण जी हिदायति दि॒ञी हूजे। पाकिस्तानि में कोमि ऐसलमबलि में शेरी रहमानि हिक ऐडजर्नमेट मोशन भी करायो जहि में पिपिलस पार्टी खे इन अग॒लाणनि खे पार्टी मां बा॒हरि कद॒ण जी घुर कई वई। पर छो तह शेरि रहमानि हिअ अमेरिका में पाकिस्चानि जी राजदूत थी अमेरिका रवानो थी आहे तह इन जी पूरि उमेदि आहे तह इहो भी केस विसारयो वेंदो।

 

चक में अमामी तहरिक पारां ऐतजाजी रेली में हिदू बिरादरी सां ग॒दु॒ अयाज लतिफ पलेजो

हिंदुस्तिनि जी मिडीया में सिंध बाबति कवरेज नह जे बराबर रहयो आहे। इन जो हिकु वदो॒ सबब इहो रहयो आहे तह सिंधीयूनि खां सवाई हिंदुस्तनि में मूखतलिफ कोमनि जा माण्हू रहिनि ई कोनहि पाकिस्तानि में। पर अफसोसि जी गा॒ल्हि तह इहा आहे जे हिंद में सिंधी किअं माठि करे वेठा आहिनि। सिंधी मिडिया जी तह गा॒ल्हि परे पर कहिं भी सिंधी संमेलनि में सिंध जी हालतियूनि बाबत बहि लफज ताई गा॒ल्हया कोन वेंदा आहिनि- कजहि करण जा तह गा॒ल्हि परे आहे। हर सलमेलनि में बस हिक़डो ई रागु तह – साईं सिंधीयूनि हे कयो तह हो कयो, पर सिंध में रतो छाणि पई हले, हिंदुनि जी लद॒पण पई हले पर मजालि आहे तह कहिंखे का ताति हूजे। जेकरि सिंधी ई माटि हूंदा तह हिंदी – अंग्रेजी मिडीया जो केडहो दो॒हू….खेनि केडही ताति पई आहे सिंध जी। भेरुमल मिरचंद आद॒वाणी जे सिंध जे हिंदुनि जी तारिख में लिखयलि आहे तह सपत सिंदू सां हिंदु जद॒हि गंगा- जमूना जे किनारे अची वसया तह के सिंधू माथरि वारनि खे मलिच देश करे कोठिंदा हवा पर हिते तह असां सिंधी थी भी सिंध खे मलिच देश करार दि॒ञो आहे, बस  मिडई सिंध जे नाऊं ते मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में पहिंजी शान समझयूं।

 

ऐडही हालतूनि  में सिंधी कोम जो वजूद कायमि रहण औखो ई नह पर नामूमकिन आहे।

 

 

 

 

 

 


सिंधी भाषा ऐं संस्कृतीअ जे वाधारे में सिंधी पंचायूतिन ऐं नौजवाननि जी भूमिका

इहो घणो- तणो पयो बु॒धबो आहे तह जेकरि कहिं भी कोम खे खतम करणो हुजे तह इन कोम जी बो॒लीअ खे दबायो वञे या खजा॒जो वञे। ऐंडहा तजूर्बा मजीअ में घणा घुमरा थिया आहिनि। अमेरिका में खासि करे दे॒ही माण्हूनि यानी रेड इंनडयनि बाबति हिक चवणी मशहूर आहे तह – kill the Indian  and save the man. मतलब जेकरि रेड इंडियनि जे इंडयनि पणे खे खत्म करणो आहे तह बो॒लीअ खे खतम कयो वञे, संदुनि इंडियनि पणो पहिजे पाण ई खतम थी वेंदो। जेकरि अमेरिका में बो॒ल्यूनिं जा आकडा दि॒सयूं तह  ईहा हकिकति केतरि सही आहे सा समझ में ईंदी। अंग्रेजनि जे अचण खां अगु॒ 350 -400 बो॒लयूं हयूं जेके हिअर अची 139 ताईं बिठयूं आहिनि। योनेसको मोजबु इन मां अधु यानी सतर फना थिअण जी कगार ते आहिनि। साग॒यो ई हालु असट्रेलिया जो आहे, जिते 700 बो॒लयूं ताईं हयूं, हिअर तनि मां तमाम थोडयूं ई वञी बचयूं आहिन।

 

बो॒लयूं रुगो॒ वसयलि या तरकी कंदड मुलकनि में नथयूं मरनि। बो॒लयूं टिहि दुनिया या थर्ड वर्लड में जाम पयूं मरिनि। हिदुस्तानि बाबति इहो थो चयो वञे तह हित 198 बो॒लयूं फना थिअण जी कगार में आहिनि। पाकिस्तानि लाई इहा ग॒णपअ थोडी घ़ट आहे फकत 15 । मतलब जे जेतिरो वदो॒ मुल्क ओतरियूं वधिक बो॒लयूंनिं जे फञा थिदडनि जी तादादि। ऐडहो हालि लग॒ भग॒ हर हिक मुल्क सां पयो थे। इहो अंदेशो थो लगा॒ईंजे तह 2050 ताई दूनिया जे 6000-7000 बो॒लयूनि मां 90 सेकडो फना थी वेंदयूं। इहो सब रूगो॒ इन लाई जे दुनया जी 97 सेकडो आबादी 4 सेकिडो बो॒लयूनि ई पया इसतमाल कनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे किन सालनि में इन मसले ते चङनि जो धयानु वयो आहे ऐं चङो कमू पिणि थियो आहे पर ईन जे बावजूदि बो॒लयूंनि जे फना थिअण जो सिलसलो सांधईं पयो लहिंदो य़ो अचे।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह बो॒लयूं रूगो॒ कलोम्बस जे नई दुनया या नयू वरर्ड मे मूयू आहिनि- इंगलेंड जे महाराजा हेनरी सतो जो कि वेलस जो ई रहाकू हो वेलसि बो॒ली जेका इगलेड जे उतर ऐ उतर ओलहि मे पई गा॒ल्हाईजे – इन बो॒लीअ ते प्रतिबंद लगा॒यो। 400 सालनि खां पोई वरि इहो प्रतिबध हठायो वयो पर तेसिताई चङी बर्बादी थी चूकी हई। जेतोणेकि इन बो॒लीअ खे वेसल मे अंग्रेजीअ जेडहा हक मिलयलि आहिनि, यूरोपियनि यूनियनि भी इन बो॒लीअ जे जोगी जाई दि॒नी आहे पर इन जे बावजू अजु॒ वेलस मे मस जेडहा 20 सेकडो ई माण्हू आहिनि जनि खे इहा बो॒ली सुठे रित पई गा॒ल्हिअनि अचे। फांस में भी ईअं ई थियो हूकूमति कानून जी मदद सां सघ रखिदड बो॒लयूनि पहिंजी सघ देखारे थोईई वारीयूं बो॒लयूंनि खे नासु कयो।

 

हिंदुस्तानि में जेतोणोक असीं पहिजी अनेकता ते फकरु कंदे नह थकबा अहियूं पर थोडाईअ वारिनि बो॒लियूंनि तोडे कोमनि दा॒हिं वहिंवारि फकरु करण जोडहो भी नाहे। जेतोणेकि यून्सको मोजीबु हिंदुस्तानि में फञा थिंदड बो॒लयूनि में सिंधी नाहे पर इन सां सिंधी ते खतरो कहि कदरु घटि आहे सो भी नाहे। बो॒लीयूनि बाबत वेबसाईट-ऐतिंनोलाग सिंधी खासि करे हिंदुस्तानि में सिंधीअ बाबत कजहि रिन नित थी बयानु करे- Many Sindhis do not learn their traditional ethnic language. Mainly women and older adult speakers. Also use Hindi or other state language.

 

हे बयानु शाहित आहे तह सिंधी बो॒ली सिमटजे पई। दुनिया भर में हिअर बो॒लीयूनि खे वजूद खे सोघो करण जी कवायति पई हले। भले उहो अमेरिका में हुजे, अफरिका में हूजे या लेठिनि अमेरका में- फना थिंधड बो॒लयूं चङनि जो धयान पई छिकायो आहे।

 

पर इन सभनि खां वदो॒ सवालु इहो आहे तह बो॒लयूनि जे फना थिअण में ऐदो॒ हुलु छो। छो असी इन बो॒लयूनि ते ऐतरि हाई घोडा पई कयोऊ, छोन नह असी बो॒लयूनि खे पहिंजे राहि ते छदोऊं- जिअं असी संसकृति या सकाफत सां कंदा आहियूं। बो॒लयूं तह रूगो॒ गा॒ल्हिईअण जो हिकु जरिओ ई आहिनि। पर इअं नह पयो थे।  बो॒लयूनि खे बचाअण जी भरपूर कोशशयूं पयू थेनि। दूनिया जे कहि भी ऐलाके खे दि॒सो अफरिका, ऐशया, अमेरिका, यूरोप या आसट्रेलिया हर हंद अव्हां खे बो॒लयूंनि लाई जाखडो कंदड तंजमयूं लभिंदयूं । बो॒लयूंनि खे ब़चाअण जो हिकु वदो॒ मकस्द इन लाई असां जो धयानु पई छिकाअंदो आहे छाकाणि तह बो॒यूंनि जी सिधी वाटि इंसानी सोच, ईंसानी संसकृकि ऐं ईंसानी सुञाणप सा गंद॒यलि हूंदी आहे। मिसाल जी गा॒ल्हि सिंधी में 20 लफज उठ जी जुदा आहिनि, सागे॒ रित केनेडा जी दे॒ही बो॒लयूंनि खे दि॒सींदासिं तह सागी॒ रित बर्फजे जुदा जुदा किसमनि लाई ऐतिरा नाला लभिंदां ऐं जेकि इन बो॒लयूंनि जा गा॒ल्हिईंदड माण्हूं गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर साग॒या लफज हिंदिं तोडे अंग्रेजीअ नह हूजण सबब जद॒हि असिं इन बो॒लयूंनि दा॒हिं झूकोउ था तह इन खोट जो असर अंसाजी संसकृति ते पिणि पवे तो । साणु साणु वरि जद॒हि असीं जी रितु रसमन जी गा॒लहि कयोउ तह सागो॒ इ मंजर पई नजर ईंदो। हिक गा॒ल्हि असां खे विसीण नह खपे तह  धारि बो॒ली सां धारीं संसकृति जो भी असरु थो वधे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह जनि सिंधी घर में भी अंग्रेजी गा॒ल्हाअण जो रिवाज  विधो आहे से होरियां – होरयो अंग्रेजी संसकृति दा॒हि भी झुका आहिनि जेको सुभाविक आहे। साग॒यो हालु हिंदीअ सां भी थो थे।

 

जेकरि दिन धर्म जी गा॒ल्हि कजे उते भी साग॒यो मंजरि पई नजरि ईंदो हिंदु धर्म संसकृत सां, बौध धर्म पाली- प्राकृत सा, सिंख धर्म पंजाबी सां, यहूदि हर्बयू सां तह इसलाम अर्बी फार्सीअ सां हमेशाहि ईं गं॒दे॒ दि॒ठी वेंदो आहे। चयो वेंदो आहे तह अमेरिका में चर्चनि में अंग्रेतीअ नह गा॒ल्हिआण लाई लाई यातनाउ ताईं दि॒ञी वेंदयूं हयूं। असांजी इंसानी सोच ई कजहि ईअं थिंधी आहे। बो॒लीअ जो असरु इंनसानि ते कूदरति थिंदो आहे जहिखे नजरअंदान नथो करे सघजे।

 

हिंदुस्तानि में तोडे हिदुतनानि खां बा॒हरि रहिदडनि सिंधयूनि में ऐं खासि करे हिदुनि में हिक सोच वेठिल आहे तह बो॒ली खे नह पर संसकृति खे सोघो कजे। असां जे लेखे जेकरि असी पहिजी सुञाणप कायमि रखण जे नसबत सिधी दि॒ण वार खे वधिक मानु  द॒उं तह इन में का भी घटि गा॒ल्हि नह लेखणी खपे – छा काणि तह असां जो मकसद पई पूरो तो थे। असा इहा गा॒ल्हि विसारे वेहिदो आहियू जद॒हि असीं बो॒ली था मठोऊं तह इन म़टयलि बो॒लीअ सा ग॒दु॒ इन बो॒लीअ  इन जी संसकृति जो भी घाठो असरु पवे थो। इन  जो वदे॒ में वदो॒ सबूत हिंदु- सिंधी तोडे पंजाबी आहिनि –जिते धारि बो॒लीअ खे दिलो जान सां अपञाअण सबब संदुनि पहिंजी असलोकी सफाकति खां भी परे थिया आहिनि। इन जो हिकु सबब आहे सिख जेके पंजाबी बो॒ली सबब वधिक पंजाबी लगिंदा आहिनि ऐं सिंध जा सिंधी वधिक सिंधी। इहो सब भले असांजी सोच सबब ई छो नह पर हकिकति आहे। इहे सब असर कुदरति आहिनि।

 

पिछाडीअ जे सतरि सालनि में असीं जहि हिक गुथी थे सुलझाअण में ई पूरा पया आहियूं से आहे किअं हिदुस्तिन में जिंदो रखोउं सिंधी बो॒ली खे। असां जी पूरि कोशिशनि जे बावजूद असीं अगते वधण खां पोईते ई था थींदा वनऊं। पिछाडीअ जे 30 सालनि में सिंधी पढिंदडनि जी तादाति समाम तकडी घटे थी पईं। इऐ तह के जवाब असां वटि हमेशाहि ई तयार हूंदा आहिनि- मसलनि सुबो तोडे खसुसि ईलाईका नाहिनि, सिंधी पढही कमाई जा के भी साधनि नाहिनि, सिंधी लिपी (अर्बी लिपी) ओखी आहे, सिंधी हिक मुअल बो॒ली आहे वगिराहि, वगिराहि, पर हे मसलो भी ऐडहो सिधो नाहे।

 

हिंदुस्तनि तोडे दुनिया भर में जिते भी बो॒लीअ फञा थियूं आहिनि उते घणो तणो बो॒लयूं जे गा॒ल्हिईंदडनि खे पहिजा खसुसि इलाईका आहिनि। पर इन जे बावजूद इन बो॒लयूं फना थेनि पयूं वरि सिंधी तहि महलि संविधानि में पहिंजी जाई वालारी जद॒हि मैथली, कोंकणी, बोरो जे बाबति माणहूं सोचिंदा भी कोन हवा। इनहिनि बो॒लयूंनि खे पहिजा ईलाईका ई नह पर गा॒ल्हिईनदडनि जी तादादि भी वधीक आहे। वरि हिंदुस्तानि में ऐडहा भी ऐलाईंका आहिनि जति पहिंजो सुबो हूंदे भी बो॒लयू अग॒ते कोन वधयूं आहिनि मसलनि कशमिरि में कशमिरि बो॒ली, जिते उर्दू दफतरि बो॒ली आहे। वरि असां विरहाङे जो रुअण आहे जे निबरीई नथो निबरे जद॒हि तह सिंध खां वधिक हक सिंधी बो॒ली खे हिंदुस्तनि में आहिन।

 

हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि सिंध में पी टी वी में सिंधी जो अधु कलाक या कलाक खनु जा प्ररोगराम ई नसर थिंदा हवा। जिअ हिअर हिंदुस्तनि में सिंधीअ जो हालु आहे सरकारि चेनेलनि में।पर अजु॒ जी तारिख में हिअर पंज पंज निजी सिंधी टी पी चेनेल आहिनि जिते सिंधी, पहिंजी बो॒लीअ जे दम ते पहिंजी रोजी॒ था कमायनि जेकरि सिंध में रहिंदडनि में हूब नह हूजे हा तह इहो सब कद॒हि मूमकिनि नह थिऐ हा। अजु॒ हिंदुस्तानि में सिंधी कोमी बो॒ली हूअण सबब के सरकारि हक थी लहणे पर बद किसमतीअ सां असां जो धयानु ऐडहे पासे नह हूंदो आहे या असां सिंधी बो॒लीअ खे मिलयलि हकनि सां वाकिफ नाहियूं। अजु॒ जरूरत आहे तह तह पहिजे हकनि खे सुञाणोऊ ऐं पहिजो वजूद कायम धायम रखोऊं, छाकाणि तह असीं सिंधी बो॒लीअ सबब ई सिंधी आहियूं ऐं बो॒ली रहिंदी तह सिंधीयूनि जो वजूद रहिंदो- संसकृति जी गा॒ल्हि तह ईन खां पोई थी अचे।

 

हिक लङे दि॒सजे का भी बो॒ली पअहिजे जा॒ऐ उसरयलि नह हूंदी आहे पर माण्हूं जे वाहिपे सां पुखती थिंदी आहे। जेकरि वाहिपो रहिंदो तह तहजीब भी बो॒लीअ जे जरिऐ अग॒ते पुखती थिंदी  वेंदी। अग्रेजी सा भी इअं ई थयो। कलोमबसि जे नई दुनिया जे इजादि खां पोई अंग्रेजनी इन जो पोरो फाईदो वरतो वरि ईंडसट्रियलि रेवीलयूंशनि (Industrial Revolution) के करे हुनर सां ग॒दु॒ बोलीअ जे भी प्रचार थियो।संदुनि वाहिपो भी वधींदो वयो। हिक चवणि असां नंढे हूदे खां बह अंग्रेज कद॒हि भी का धारि बो॒लीअ में कोन गा॒ल्हाअनि भले हो पाण कहिं धारि बो॒लीअ जा केतिरा नह धारि बोलीअ में माहिरि  हूजिनि। साग॒यो ई हालि जरमनि. फेंच या ईसपेनिश जो आहे। अजु॒ यूरोपियनि यूनियनि में 25 खां वधिक मुलक आहिनि ऐ इन खां तमाम घणयूं बो॒लयूं तसलिमि थिअलु आहिनि, पर अंग्रेजीअ खे यूरोपियनि मूलकनि में हिकली दफतरी बो॒ली करे को भी कबूल करण लाई तयारि नाहे। भले सभिनि खे हिक बोली नह हूजण सबब तकलिफ थे थी।  यूरोप जूं ब॒यूं बो॒लयूं जद॒हि तह पहिजे पाण खे भी अग॒ते वधायो असां हिंदुस्तनि जूं बो॒लयूं कोन करे सघासिं।

 

हिंदुस्तनि में हमेशाहि हिकु बो॒ली थोपण जो रिवाज रहयो आहे। संसकृति प्राकिर्त ते थोपी वई। हिंदी ते हमेशाई ईं इहो लहो ईलजामि मडयो वेंदो आहे तह इहा बो॒ली थोपी पईं वञे। असां खे हिंदुस्तनि में जेके मसला आहिनि साग॒या मसला यूरोप में भी आहिनि। यूरोपिय यूनियनि में 25 बो॒लयूं आहिनि  पर सभनि खे मानु पयो मिले। हो अंग्रेजी या लेठिनि खे मथे नथा चाडिनि पर टनांसलेशनि टेकनालाजी जे भरोसो था कनि। बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तानि में ईअं नह कयो वेंदो आहे। जहि सबब कहि भी थोडाई वारी बो॒लीअ लाई जखडे में तमाम घणी तकलिफ पई पेश अचे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत ब॒ह अहम मसला आहिनि-

मादरि बो॒लीअ जो ग॒लति ईसतमालि– असां हिंद जे सिंधीयूंनि में बारनि सां जा॒ऐ ई हिंदी या अंग्रेजी था गा॒ल्हिआयूं। असां में ईहो हिकु रिवाजु थी वयो आहे। सो सिंधी बा॒रनि जी पहिरि बो॒ली यानी फर्सट लेगवेज अण सिंधी ती थे। सिंधी गा॒ल्हाईण जो रिवाज पोई थो विधो वञे। इन जो मसलब इहो तो थे सिंधी बा॒रनि लाई सिंध बि॒हि या टि बो॒ली ती थे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह को भी बा॒रु ते पहिरि सिखयलि बो॒ली जो असरु तमाम घणो थो थे, पोई सिखयलि बो॒लयूंनि जी भेटि में। कच्छ में कच्छी सां इहो दि॒ठो वयो आहे। हो अग॒वाठि बा॒रनि खे कच्छी था सेखारिनि ऐं पोई गूजराती। अग॒ते हलि संदुनि बा॒र गुजराती स्कूलनि में था पढिनि, पर कच्छी नथा विसारिनि। पर असां इन जे उभतरि था कयूं। अग॒ धारि बो॒ली था सेखारोऊं पोई पहिंजी। इहो ई सबब आहे जे असां खे ऐतरि तकलिफ पई थे बा॒रनि में सिंधी जो रिवाज विझण में। जेसिताईं असीं बो॒लीअ दा॒हीं पहिंजो वहिंवारि कोन मटिंदासिं असां सिंधी खे कद॒हि भी पुख्ती कोन करे सघींदासिं। इहो जरूरि नाहे तह हर बा॒र सिंधी मिडियम में पढिंदो तह ई सिंधी सिखी सघींदो। पर जेकरि पहिरि बो॒ली जे रुप में पढिंदो तह यकिनि सजी॒ उमर ई यादि रखींदो, पोई भले इहो बा॒रि दुनिया जे कहि भी कूंड- कूडच में छोन नह रहे। जद॒हि के बो॒लीअ तोडे तालिम जा माहिरि चवनि तह बा॒र खे पढाई पहिजे बो॒लीअ में दि॒ञी वञे तह हो समझी वठिंदा आहिनि तह बा॒र खे पहिजी मादरी बो॒ली खेनि जा॒ऐ खां सेखारि वञे थी।

 

बो॒लीअ जे नसबति असीं बि॒ईं गलति वहिंवारु लिपीअ सा कयो वयो आहे। इन जो हिक वदो॒ सबब इहो आहे तह लिपीअ जे नसबत सिंधीयूनि जो धयानि कद॒हि भी बो॒लीअ जे वदूज ते कोन रहयो आहे। दर असलि सिंधी बो॒लीअ तोडे लिपीअ जे नसबत असीं अंग्रेतनि महलि तह वेवसि हूवासि छो तह घणोई तह मसलमानि जी हई – जेके अगे॒ पोई पहिंजी गा॒ल्हि मञाऐ वटिनि हा वरि जेकरि हिंदु देवनागरीअ ते जिद जे भिहिन हा तह सिंध जो भी हालु कशमिर जेडहो हूजे हा- हिदु हिंदीअ दा॒ही झूकिनि हा ऐं मुसलमानि उर्दू दा॒हि। पर विरहांङे बैद उन खां भी वधीक गलति कई आहे-जे हिक गलति खे अग॒ते ई नह पर उन गलती ते फकरु कय़ो आहे। हिक लंङे दि॒सजे तह लिपीअ जा मसला तह अचणा ई हवा। हिंदुनि कद॒हि भी आर्बी लिपी कबूल कोन कई हूई पर अंग्रेजि कबूल कराई हूई। हिंद में अची जेकरि सिंधी लिपीअ जे चूंड जेकरि बो॒लीअ जे वजूद तोडे निज॒ सिंधी लफजनि जी बूनयादि ते कनि हा तह नह अर्बी- फार्सी ऐं ना ई  रोमन- लेटिनि सिंधी बो॒लीअ जी लिपीअ थिअण को हक माणे हा। लिपीयूं तह गुजरातियूं ऐं मराठीनि पिणि मठयूं आहिनि पर खेनि का भी तकलिफ कोन थी छा काणि तह संदुनि पहिजे निज॒ अखरनि सा को भी समझौतो कोन कयो । पर बदकिसमतीअ सां सिंधी में विरहांङे बैद भी धारी लिपीअ जो सिलसिलो आहे जे बंद थिअण जो नोउं नथो खणे। लिपीअ जे नसबत आर्बी लिपीअ जे हिमायतियूं जो चवण हूंदो हो तह इन सां सिंध जे सिंधीयूनि सां गंदे॒ रखिंदो पर इन गं॒द॒ण जे हिर्स असां खे पहिंजनि में ई बेगाणो करे छदो। दरअसलि हिंदुस्तनि में जेके भी लिपयूं घणो तणो इसतमालि पयूं थेनि से सब फेनोटिक आहिनि जहिसां सा खिखण तमाम सहूलो थिंदो आहे, छाकाणि तह जहि रित बो॒ली गा॒ल्हिईंजे थी सागे॒ रित ई लिखजिनि थयूं। इन गा॒ल्हयूंनि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे।विरहांङे बैद भी असी इन रगडे खे निवेरे कोन सघीसीं छा काणि तह देवनागरीअ जो जेको प्रचारि कयो वयो सो गलति हो। असां देवनागरीअ खे देवताउनि जी लिपी कोठे, सिंधीअ खे वदे॒ में वदो॒ नुकसानि पुजा॒यो । असां ईहो गा॒ल्हि विसारे वेठासिं तह बो॒ली तोडे लिपी तोडे बो॒ली  कद॒हि भी कहि खसुसि दीन धर्म मञण वारनि जी नह थिंदी आहे, ऐ जद॒हि भी इहा कोशश कईं वेंदी आहे तह हाल उहो ईं थिंदो आहे जेको उर्दू जो विरहांङे बैद थियो। हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि इन बो॒लीअ ते हिंदु भी फकरु कंदा हवा।

 

हिअर रोमनि ते भी अजु॒ चङो हूल पयो थे। जेका लिपी हिअर जोडाई वई आहे – तहि मां तह इहो लगे थो तह ज॒णु असी अर्बी लिपीअ जी गलतियूं मां असा कुझ भी कोन सिखया आहियूं। चंड बिंदु, अंशुविरिया, अधु अकरि विटे लफजनि लाई कोन भी अखरि मूकर्र कोन कयो वयो आहे। हिदुस्तनि जी बो॒लयूंनि जे ग्रामरनि में ई मात्राउ अहम जाई थयूं वालारिनि। पर नह जा॒ण छो इहे समझोता कया वयो। वरि सिंसकृति बो॒लीअ जे नतबत रोमनाईजेन में हिक सदीअ खां भी वधीक जे अर्से खां कमु पयो हले। इन जो फाईदो जद॒हिं हिंदी-नेपाली-मराठी बो॒लयूं वठी य़तूं सघीनि तह पोई सिंधी छोन नह …….इन लिपीअ खे दि॒सी लगे॒ तह इऐं थो ज॒णु लिपी जोडाअण जी तमाम घणी तकड हूई।

 

सिंधी पंचातयूं जे नसबति जेकरि गा॒ल्हि कजे ईहे हमेशाहि ई ईहे सामाजिक संसथाऊ ई थी रहयूं आहिनि। सिंध में मुसलमा जे राजय में ईन पहिचातयूंनि जो अहमि किरदारि हो। इहे संसथाऊ सिंधी हिंदुनि जे समाज सां ऐतरयूं तह गं॒द॒यलि हयूं जे मुसलमानि मां जेके इन जे कम कर्ज बाबत जा॒णण भी हिक कामयाबी मञी वेंदी आहे। चङा सामाकिज मसला असी इन सांसथा मां ई निबेरिंदा हवासिं। दे॒ति लेति बाबति बी घणी दे॒ वठि कजे सा भी पक पंचातयूं ई कंदू हयूनि। विरहांङे बैद भी असी साग॒यूं संसथाउ बी॒हरि जोडाईसिं जिअं असांजा मसला असी पाण ई निबेरे सघोऊं। हिंदुस्तानि में ऐडहो वरली ई को शहरु या कसबो लभींदो जिते सिंधी पंचातयूं नह हूंदयूं। ऐडहा चङा शहरि हिदुसतानि में लभींदा जिते इन संसथाउ सुठो कमु कया आहे ऐं सिंदुनि इजति में तमाम घणी आहे, पर ईन जे बावजूद धारे मूलक जो तह असरु पवण लाजमी आहे। कनि वदे॒ शहरिनि में इन पहिचातयूंनि खे घटि पयो लेखयो वञे। इन खे इहो मानु नह पयो दि॒ञो वञे जेको इहे संसथाऊं लहणिनि।

 

सिंधी पहिंचातयूंनि जो को किरदारि कद॒हि भी बो॒लीअ जे नसबत कोन हो। सिंध में रहिंदे इन जी का भी जरूरत कोन पई हूई। बो॒लीअ जा मसला सिंधी लाई विरहांङे बैद जा आहिनि। हिंदुस्तनि में सिंधी पंचायतूं ऐं सिंधी अकादमियूं में वदे॒ में वदे॒ फर्कु इहो आहे तह सिंधी पंचातयूं में ठेहिअ जो बदलाव थियो आहे जेको अकादमियूनि में को घणो नजर कोन आयो आहे। इहो ई सबब आहे जे सिंधी बो॒ली भी कहि कदुरु बदलाउ कोन आयो आहे खासि करि नई टेहि जे नसबत। अजु॒ इन जी सखत जरूरत आहे तह सिंधी अकादमयूं खे पहिंज पाण में सिकूडण खां किअं रोकिंजे। हूकूमत जेके भी पैसा सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत खर्चे थी से साखर्ता कोन था नजर अचिनि। इहो हिकु सबब आहे जे असां वटि संसथाउं जो हिक धाचो हूअण जे बावजूद असां लेखकनि तोडे अवाम में या सिंधी बो॒लीअ तोडे नौजवानि में रोबतो कोन जोडयो वयो आहे जहि सबब हूकूमति जू या सिंधी बो॒लीअ जे चाहिंदडनि जू उमेदयूं पाणी फेरयो आहे। अजु॒ इअं थो लगे॒ ज॒णु सिंधी बो॒ली ते खचर्ल पैसा अजा॒या आहीनि- सिंधीयूंनि में सिंधीअ जो वाहिपो घटण भी हिन वार थिअण जो हिकु अहम सबब आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे जाखडे जे नसबत सिंधी अकादमियूमनि जो करिदार तमाम अहमि आहे पर बदकिसमीअ सां संदुनि में ऐडहो को भी बदलाउ सिंधी बो॒लीअ लाई कोन आंदो आहे जहिजी उमेद कजे पई । सिंधी लेखकनि जो अगे॒ भी इहो रायो रहयो आहे तह अकादमियूमनि पारां मालि मदद दिं॒दड किताबनि जो मयार घठि ई रहियो आहे। आजादीअ खे अची अजु॒ सतरि साल थिआ आहिनि इन जे विच में चङो वदलाउ आहे आहे जुदा जुदा बो॒लयूंनि जे साहित्य तोडे साहित्क तंजमियूं में पर इन जे वावजूद असी ऐतिरो को घणी विख वधाऐ सघा अहियूं। अकादमियूनि जे कमनि जी जा॒णि आम सिंधी पहिंजे सोबनि में भी घठि आहे। के अकादमियूं जेकरि सुठो कम भी कयो आहे तह आम रिवाजी इंसानि  में संदूनि कम जी का घणी जा॒णि नाहे। अकादमियूनि खे खपिंदो हो तह सालि में हिकु लङे गद॒जीनि जिअं जुदा जुदा अकादमियूनि जे कमनि ते गा॒लि बो॒ल्हि करे सघजे। किन अकादमियूनि जी पहिजी वेबसाईट भी आहे पर इन साईट जो फूरो फाईदो कोन पयो परतो वञे।

 

जेकरि असीं में दि॒सिंदासिं उते सिंधी दइतरी बो॒ली नाहे। सिंधीयूनि खे उते नेकरियूंनि लाई उर्दू ई थी पढणी पवे, सिंध जे बि॒न वद॒नि शहरनि मसलनि कराची ऐं हेदरआबादि में मुहाजरनि जो तमाम घणो जोर आहे पर इन जे बावजूद सिंधी अग॒ते वधे थी। जेको कानून 1970 में भूठे जे दि॒हनि में पास थियो हो सो अजु॒ ताई अमल में कोन आयो आहे। जदि॒हि इहो कोनून पासि थिय़ो तह कराचीअ तोडे हेदरआबाद में सिंधीयूंनि महाजरनि जा फसादि थिया, जहि सबब इहो कोनून अमल में कोन आणे सघयो। वरि हिन साल 4-5 अहम बो॒यूमनि लाई जेको कोम बो॒ली बिल पेश करण जी कोशिश कई वई – उन खे पेश करण खां अगु॒ ई रोकयो वयो। पर इन जे बावजूद सिंधी बो॒ली सिंध में मूई नाहे। सिंध में सिंधी अकादमयूं हिंदुस्तानि जे अकादमियूं खा घणो वधीक ऐं कहि कदूरि सठो कम करे दे॒खारो आहे। सिंध जूं ब॒ह वद॒यूं सनजमयूं सिंधी अदबी बोर्ड तोडे सिंधी लेंगवेज अथार्टी सिंधी बो॒लीअ जे नसबति जो कस कहि कदुरु खेण लहणे। सिंध अदबी बोर्ड चङनि किताबनि खे डिजीटलाई करे पहिंजी लेबसाईट में शाई कयो आहे। हो असं खां घटि बजेट जे बावजूद सुठो कमु कयो आहे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जो दारूमदार हिअर नोजवानि ते आहे। सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जेके भी कोशशियूं थियूं आहिनि से का भी कामयाबी कोन माणे सघयूं आहिनि। संदुनि राबतो भी सिंधी संसथाउं सा नह जे बराबर ई रहयो आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ सिंधी बो॒ली सां वाकिफ करण जी नाहे पर सिंधी घरनि में हिंदी तोडे अंग्रेजी जो वाहिपो कद॒हण जो बी आहे। ईहो तद॒हि मूमकिनि थिंदो जद॒हि असीं लिपीअ ते तोडी लचीलो पण या फलेकसीबिलिटी खणी ईंदासिं। हिंदुसतानि में बो॒ली तसलिम बि॒हिं लिपूयूनि में थी आहे। मतलब बि॒हिं लिपीयूनि खे हिक जेडहा हक आहिनि पर वाहिपो सिंधी अर्बी जो घणो रखयो वयो आहे। अकादमीयूं पांरा भी शाई थिंदड कितानि में भी अर्बी जो वाहिपो तमाम घणो थो थे, जेको नोजवानि जे समझ खां बाहिर थो ते। हिक गा॒ल्हि असां खे जहनि में रखणी खपे तह लेखकनि जे दम ते सिंधी बोली जिंदी कोन रहिंदी –  जेकरि ईअं मूमकिन थी सघे हा तह अजु॒ संसकृत भी हिक अमाव जी बो॒ली थिऐ हा। बो॒लयूं तद॒हि जिंदयूं सहि सघींदयूं जद॒हि इन बो॒लीअ खे अवाम जो साथ मिंलिंदो आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे आईंधे लाई आउं के सुझाव दे॒अण चाहिंदुसि जेकि हिअर बो॒लीअ जे नसबत तमाम अहम आहिनि-

  1. सिंधी अकादमियूंनि में  तोडे पहिंचातयूंनि जेको भी लिखपढ जो कमु पयो थे सो हिंदी – अंग्रेजीअ जमें राबतो बो॒लीअ जे वाधेरे नी जाई ते देवनागरी सिंधी में थे।
  2. हर सुबे जी अकादमियूं में खासि करे बो॒लीअ जे वाधारे जे नतबति कमिठियूंनि में सिंधी पंचातयूं जे नौजवानि अहदेदारनि खे जाई दि॒ञी वञे जिअं अकादमियून खे सिंधी समाज में नोजवानि बाबति पूरो फिडबैक मिलि सघे।
  3. अकादमियूं पारा सिंधी शाईं थिंदड किबाबनि जो वदो॒ हस्सो देवनागरी सिंधी जो हूजण खपे
  4. सिंधी किताबनि जी डिजीटलाजेशनि थिअणी खपे जिअं कूंड कूकचनि में सिंधी पहिंजे बो॒लीअ तोडे साहित्य सां वाकिफ हूजिनि
  5. सिंधी संसथाउ हिक साफटवेअर तयार करण जी घूर करे जहि जे मार्फत अर्बी तोडे देवनागरीअ में मट सट करे सघजे। ऐंडहा सागया कदमि कशमिरि में खया वया आहिन – सो सिंधीयूंनि खे बी अख्तियारि करणा खपिनि।
  6. सिंधी जो आनलाईं डिकशनरी इजाद कई वञे – जिअं हर हिंदुस्तानि बो॒लीअ में आहे।
  7. हिक सिंधी पोरटल वेबसाईट वजोद में आणिजे जिंअं सिंधी नोजनानि खे बो॒ली जे नसबत फाईजनि बाबति जा॒णि मिले जेके सिंधी संसथाऊ करे रहयूं आहिनि।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी तद॒हि पुखति थिंधी जद॒हि बो॒ली जा॒णिदडनि ऐं सिंधी संसकृति तोडे समाजिक संसथाउनि में कहि रित ऐको ईंदो। इहो रुगो॒ तद॒हि मूमकिनि आहे जद॒हि सिंधी सिंधी अकादमयूं तोडे पंचायतूं कहि हिक पलेटफार्म ते हिकु थिंदयूं। जेतोणेकि इन संसथाऊन जे कम करण जो दाईरो धारि ई आहे पर जेकरि सिंधीअ जो प्रचारि करणो आहे तह इहो तमाम जरूरि आहे तह असीं पहिंचातियूं जी मदद वठोउ। इन गा॒ल्हि खे बिलकूल नह विसीण खपे पंहिचातुनि जो सिधो सहूं वाटि सिंधी समाज सां आहे।

बो॒लीअ जो मसलो ईंतहाई वदो॒ आहे। इहो असां जो पूरो धयानु लहणे।

सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

नंढे खंड में सिंधी उन थोडनि कोमनि मां आहिनि जेके जुदा जुदा सकाफति ऐं दिन धर्म खे मञिंदड आहिनि। इहो ई नह पर विराहांङे बैद शायदि हि को कोम हूंदो जेको हिक बो॒ली गा॒ल्हिईंदे भी जुदा जुदा सुबनि में उन सोबनि जे खादे पिते जे तोर तरिकनि तोडे सकाफतुनि में पाण खे समायो हुजे। ऐडहो कोम वरली ई नंढे खंड में हूंदो जहि नई हलतुनि खे मुहूं दिं॒दे पहिंजे पाण खे नईं हालतयूं में पाण खे थांईको कयो आहे ऐं ईहो भी तमाम घट वकतनि मे। ईहा गा॒ल्हि जेतरि हिंदूंनि में सची आहे ओतरि मुसलमानिं में छा खाणि तह पिछाडीअ जे सतर सालनि में खासि करे नंढे तोडे वदे॒ शहरन में इहो ई थे पयो तह – या तह सिंधी अण सिंधयूनि में वसया आहिनि या अण सिंधी वदी॒ तादादि में सिंधी में अची रहया आहिनि।

इन गा॒ल्हि में वरली ई को शक कंदो तह वरहांङे सबब वदे॒ में वदी॒ कसु सिंधी हिंदुनि खे नसिब में आई आहे। अजु॒ ऐडहा चङा कोम आहिनि जेके लूपत या फना थिअण जी राहि ते आहिनि। इन फना थिंदड कोमनि में हिकु आहे –सिंधी सिख या खणि चईजे नानिक पंथी। हिक भेडे दि॒सिंजे तह सिंधीयूंनि में अजु॒ ताईं इन गा॒लिहि ते पक रित हिक राय कोनि वेठी आहे तह सिंधी छो ऐं छा काणि सिंख या नानिकपंथी थिया। किनि जो मञण आहे तह महाराजा रणजीत सिंह सिंध ताई पई पहिजूं सरहदयूं वधाअण पई चाहियूं ऐं के सिंधी, सिख इन सबब थिया जिऐं खेनि घटि में घटि नुकसानु थऐ ऐडही हालतयूं में। अजु॒ भले ई ईहा गा॒ल्हि केतरि नह अजबु लगे पर इन को भी शकु नाहे तह रणजित सिंह यकिनि खुवाईश रखी हुई पहिंजू सरहदयूं वधाअण जूं ऐं जेकर अंग्रेजअ हिदुस्तानि में नह हुजीनी हा तह हो पक सिंध ते जरुर काहि अचे हा। वरि अंग्रेजनि में खासि करे रिचर्ड बर्टनि जेडहनि जो रायो हो तह सिंधी हिंदूं मूल तरह पंजाब जा थेनि सो लाजमी तोर हिंदु सिखनि जेडहयूं रिसमयूं पंजाब सां सदुसि लागपे सबब ई आहिनि जहि में सिंख धर्म, गुरुमूखि भी शामिलि आहिनि । इन खां सवाई हिकु टिहों तबको भी आहे जहिं जो मञण आहे तह अर्बनि जी काहि बैद के सिंधी पंजाब लदे॒ वया ऐं बैद सिंध मोटी आया। सुदुनि मोजिब सिंधीयूनि जा नुख कुकरेजा, माखिजा, आहूजा वगिराहि इन सबब ई आहिनि। वरि जेकर पंजाबी सिखनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि मञण आहे तह जद॒हि मुसलमानि जो सिखनि खे कहरि पई थिअण लगा खासि करे गुरू तेग बहादूर जी वकत में तह के सिख पंजाब मां सिंध लदे॒ आया जहि सबब सिंध में गुरुमूखि ऐं सिंख पंथ जो प्रचारि थयो। वरि पिछाडीअ में ईन गा॒ल्हि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिख गुरु – गुरु अर्जून देव जी जे दि॒हिनि में सिख धर्म जे वाधारे जे नसबत सिख सिंध, खशमिरि ऐं अफगानिसथानि में भी सिंध धर्म जा प्रचारक मोकिला वया हिवा।

भले सिंध मां सिख पंथु किअं या कहिं भी रित आयो हुजे पर इन को भी शकु नाहे तह सिंधी हिंदुनि सिंख गुरुनि लाई ऐं खासि करे गुरु नानक जी लाई तमाम घणो मानु ऐं ईजति रही आहे। जेतोणेक सिंख धर्म जो प्रचार पंजाब खां बा॒हिरि सिख गुरु अर्जन देव जी जमाने ताईं चङो थयो, जहिं सबब सिंख पंथ सिंध, कशमिरि ऐं पखतुंवाहि जे चङो जोर वरतो पर पंजाब खां बा॒हिरि इहो सिंध ई हेकलो सुबो हो जिते सिंख धर्म चङो जोर वरतो। पर बद-किसमतिअ गुरु अर्जूनि देव जी जे गुजारे वञण बैद ऐं खासि करे गुरु तेग बहादुरि जी कुरबानी या शहादति बैद सिंखन लाई दुखाईंदड दि॒हिं जी सरुआति थी। इन कोम जो जोर घटाईण लाई दा॒ढयूं कोशिसियूं थिअण लग॒यूं जहि सबब सिंख ऐं सिख कोम कहि कदरु पाण में सिम़टजण लगो॒ जहिजो पूरो फाईदो अकालिनि वरतो । सिख रूगो॒ पाण में हलण लगा॒, ऐं ईहा घेराबंदी हिदुस्तानि जे शहरनि में आम जाम दि॒ठी वेंदी आहे जिते सिख कोम खे को भी खतरो नाहे। जेसिताई गा॒लिहि कजे आपरेशनि बलुस्टारि जी तह यकिनिं इन में अकालिनि जी सियासत भी ओतरि जिमेवार आहे जेतरि कांग्रेसि जा सियासतदानि।

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह गुरु अर्जूंन देव जी दिं॒हिं खां पोई ऐं खासि करे गुरु तेग॒ बहादुर जी जे कुरबानीअ खां पोई सिंखनि जी मुसलमानिं सां जाखडे सबब हिकु रित जे कठरपणो अचण लगो ऐ गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिनि में हिक लशकरि रूप अखतयारि कोयो । जेतोणोक इहो सैनिक भावू तहि महलि जी जरुरत हुई छाकाणि जेकरि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी जे द॒सयलि राहि तें नह लहिनि हा तह संदुनि मां हिक वदो॒ हिस्सो मुसलनामि हूजे हा। इहो लशकरी रुखु ई हो जहिं सिखनि खे हिकु थी पहिंजो वजूद लाई जाखडे करण जी सघ दि॒ञी। जेकरि तहि महल जे पंजाब जे अदमशुमारी ते धयानि दि॒सासिं तह चिटि रित साफ थिंदो हो यकिनि थोडाई में हुवा ऐं इन लावतूनि में संदुनि वजूद में रहण कहि अजूबे खां घटि नाहे।

हिक लङे सिख धर्म जे फहिलाउ खे बारिकीअ सां दि॒सजे तह इहो चिटि रित साफु नजर ईंदो तह पंजाब खां बा॒हिरि जेकरि सिंख धर्म जो कहि सुबे में ऐं खासि करि हिंदू बरादरी में फहिलाउ थियो तह उहो आहे सिंध। अजु॒ भी जद॒हि हिंदुस्तानि में रहिंदड सिंधीयूनि में सिंख धर्मू कहि कदरु कमजोरि थू पयो आहे तद॒हि भी वरलि ई को सिंधी घर लभिंदो जेको शादियूं-मूरादीनि तोडे गमयूनि में गुरु ग्रंथ साहिब जो पोठि कोन कराऐं या कहि गुरुदूआरे तोडे टिकाणे में मथो नह ठेके। अजु॒ भी सिंधी हिंदू सिंख गुरुनि जी ओतरो ई मानु ऐं ईजति कनि जेतिरो सिंधी इस्ट देव झूलेलाल या कहिं हिंदु देवी देवताउं जो। इहा गा॒ल्हि हिदुस्तानि तोडे दुनया जे जुदा जुदा मुलकनि में दि॒ठी वई आहे तह जिते भी सिंधी हिंदु वसया आहिनि – उते सिंधी टिकाणा जरुर अदा॒या आहिनि। इहो ई नह पर उन सिंधी टिकाणनि में हिंदू देवी-देवताउं खे पूजण सा ग॒दु॒ गुरु ग्रंथ साहिब जो अखण्ड पाठ जरूर थे। सिंध में सिख धर्म जो फहिलाऊ जो हिकु वदो॒ सबब ईहो भी आहे जे जहि रित सिख मुर्ती पूजा जे बिदरों गुरुअनि खे यादि कनि। सागी॒ रित सिंधी भी पिरनि तोडे संतनि जो तमाम घणो मानु कनि। आमिलनि जो तह चवण आहे तह सिंधी हिंदू बि॒नि शयूं ते फकरु कनि- हिकु सिंधु थे ऐं ब॒यो सिंधी संतनि तोडे पिरनि ते। नह रूगो॒ हिंदुनि में पर पिरनि जी तमाम घणी ईजति मुसलमानि भी कनि । इहो ई सबब आहे तह सुफी मतु खे जेतरि कामयाबी सिंध में मिली ओतरि नंढे खंढ जे कहि भी सुबे मे कोन मिलि। इहा हिक तारिखि हकिकत आहे।

सिंध जा खालसा सिंधी सिख

सिंध ऐं पंजाब में सिख धर्म जे नसबत नजरियो बिलकूल धारि आहे। सिंध में हिंदु सिख गुरुनि खे हिंदु देवी देवताउनि जेडहो मानु दि॒ञो पर सिखनि गुरु ग्रंथ साहिब खे भी गुरु करे लेखयो पर पंजाबीयूं वारो कठरपणो कद॒हि भी नह अचण दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि सिंधी मुसलमानि सां भी सागी॒ आहे। अजु॒ भी जेकरि कहि सिंधी मुसलमानि खां पुछबो सिंधी पंजाबी मुसलमानि सां संदुसि पहिंवारि बाबति तह द॒हनि मां नव पंजाबिनि जी गि॒ला ई कंदा ऐं बचयलि द॒हों भी पहिजी कावड बचाअण जी कोशिस नह कंदो। जेतोणेक के सिंधी पाण खे दरया पंथी वाङुरु नानिकपंथी पिणि कोठायो ऐं सिख गुरुनि जे पूजा जे स्थानि खे टिकाणे जो नाउ दि॒ञो पर कदहि भी हिंदु पाण खे रुगो॒ हिंदू धर् जा हेकला पोईलग कोनि कोठायो। अजु॒ भी विरहांङे खे लग भग मुञे सदीअ बैद भी जद॒हि तह सिंधी हिंदूनि में कहि कदरु कटरपणो वधयो आहे तह भी कहि भी सिंधी कस्बे में जिते सिंधी घणी तादादि में वसयलि हुजिनि – हिकु टिकाणो जरुर पई नजर इंदो जहिं में गुरु ग्रंथ साहिब सां ग॒दु हिंदू देवी जूं मूरतयूं जरुर पई नजर ईंदयूं। सागी॒ रित परदे॒ह में भी वसयलि सिंधी कनि।

सिखनि में जेतोणेक गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिं खां सिख कोम में चङो फेरो आयो। चङा सिख अमृत धारि यानि खालसा थिया पर चङा ऐडहा भी हुवा जेके पहिंजे असलोके रुप में ई कायूमि धायमि रहया या कहि सबब खालसा नह रहयो या वरि मूमकिनि आहे तह अगे॒ हिंदु हुवा ऐ पोई सिख धर्म पई अखतयारि कयो। इहे असलोके रुप वारा सेहजधारि कोठण में अचनि। इअ तह सिख धर्म में सेहजधारि खे अमृत धारियनि या खालसा थिअण जी हिक राह पिणि मञि वई आहे पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह आजादीअ खां पोई हिक कोशिस ईहा भी थी आहे तह खालसा निज॒ सिख जी जाई दि॒ञी वञे। इन जो सबब कहि कदुरु अकाल तख्त जी अहमियति वधण सबब भी थयो। होरया होरया हिदु समाज वाङुरु सिंखनि में भी फर्क अचण लगा॒ आहिनि जहि सबब सिख कोम में हिअर पहिजे पाण में ई वंढजी वयो आहे। इहो इन जे बावजूद जे सेहजधारियनि जो भी उतिरो ई योगदानि आहे जेतिरो खालसनि जो। ऐडहा चङा सेहजधारि भी थी गुजरा आहिनि जेके खालिसतानि जे जाखडे जा वदा॒ हिमायति भी रहया आहिनि। इहे फर्क तोडे विचोटयूं अकालियूनि जी सियासत या सिखनि में धर्म तोडे सियासति खे हिक बे॒ खां धारि नह करण सबब पिणि वधया आहिनि।

1959 में हिंदुस्तानि सरकारि जेको गुरुद्वारनि बाबत कानुन पास कयो हो तनि में सुरुमणि गुरुद्वावारा प्रभंधक कमिटी जे चूंडनि में अमृत धरियनि वाङुर सेहजधारि खे भी हिक जेडहा हक दिञा वया आहिनि। पर इन जे बावजूद जिअं हिंदु धर्म में पोईते पयलि जातियूनि सां थयो तह खेनि हिंदु रिती रिवाजनि खा धारि रखयो वयो तिऐं सेहजधारि सां भी थियो। ऐडहा मसला आजादिअ बैद जोर वरतो आहे जहि सबब सिखनि में भी चङो बहसि पई हलिंदो थो अचे। वेझडाईअ में 2003 में ऐडहो मामलो चंडिगड में आयो जिते कनि सेहजधारि शागिर्दनि खे इन लाई ऐस जी पी सी जे कालेज में दाखिलो कोन दि॒ञो वयो सिख कोटनि में जे सेहजधारि निजा॒ सिख नाहिन। इन नसबत ईहा दलिल दि॒ञी वई तह – छो तह सेजधारि मुल लिख नाहिनि सो खेनि सिख कोटे जे मार्फति दाखिलो नथो मिलि सघे। गा॒ल्हि कोर्टनि ताई वञी पुगी॒। इन जे विच में अकालि दल जेका तह महलि जी बी जे पी जी हुकीमत में सामिलि हुई, पहिजी ताकत जो इसतमालि कंदे हूकूमत पांरा हिकु आर्डिनेंस पई जारि करायो तह सेहजधारि मूल सिख नाहिनि जेका गा॒ल्हि कोर्ट पोई वरि नाकारे छदी॒, इहो ई नह पर अकाली सेहजधारि लफज जो सिख कोम सां कहि सां ई पई नंकारि पई कयो जदहि तह 1971 ताई अकाली दल में सेहजधारि जो भी हिकु जथो हूंदो हो।
हिक भेडे दि॒सजे तह सिख धर्म जो फहिलाउ भी कहि कदरु सिंध खां बाहिर घटयो आहे। विरहांङे खां अगु॒ पारे पंजाब में सिखनि जी आदमशुमारी 13 सेकडो हुई जोका विरहांङे खां पोई 30 सेक़डो थी ऐं पंजाब जो हाणेको सूबो छहण बैद 65 सेकडो थी। मतलब तह जिअं जिअं पंजाब जी सरहदयूं पई मई मटि सिखनि जे आदमशुमारिअ में भी फेरो आयो। पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे 2001 जे आदमशुमारीअ में इहो दि॒ठो वयो आहे तह सिंकनि जी तादादि कहि कदुरु घठी आहे। मसलनि सिंखनि जी तादादि 62.95 खां 59.9 थी आहे –यानी 3 सेकिडो घटि जद॒हि तह केरेला में क्रिसचननि जी तादादि फकत 0.32 सेकिडो घठि आहे। इन जा सबब अमृतधारि तोडे सेहजधारि मसले खा सवाई भी के अहमि सबब आहिनि जिअं पंजाबी बो॒लीअ जो सिख धर्म में तमाम वधीक जोर। हिदुस्तानि में हर कोम जो प्रचारि दे॒हि बो॒लयूनि में पयो थिंदो रहयो आहे जद॒हि तह सिख धर्म जो प्रचारि अजु॒ भी घणो तणो पंजाबी बो॒लीअ में पयो थिऐ। जेतोणेकि गुरु ग्रंथ साहिब जो सिंधी में भी तरजूमो शाई थियो आहे पर इहो रूगो सिंधीयूनि जे चाहि सबब ई थियो आहे नह कि अकाल तखत जी जोर ते। वरि सिंध में जोकि दि॒सजे सिंखनि जा तादादि वधि आहे छाकाणि तह पिछाडिअ जे कनि द॒हाकनि में जहि रित सिंध में अण सिंधी मुसलमानि जो जोर वधयो आहे इन सबब बदलयलि हालतूनि में, सिंधी हिंदूनि खे खालसा सिख थी पाण खे कहि कदरु वधिक महफिजु पया सहसुस कनि। इहो ई नह पर जेके भी पंजाबी सिखनि जा जेके जथा पाकिस्तानि जे दौरे में वया आहिनि से सिंधी सिखनि जी सिख धर्म दा॒हिं लगनि दि॒सी वाईडा थी वेंदा आहिनि। (अजु॒ जद॒हि हे कालमि पयो लिखां तह खबरि पई तह चारि सिंधीयूनि डाकटरनि खे कतल कयो वयो आहे। यकिनिं इन हालतुनि में जेकरि सिंधी शिख खालसा थिंदां तह यकिनिं सिंधीयनि खे हिक ताकत मिलिंदी पहिंजे पाण खे सोघो करण जे नसबत)

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी सिखनि जी तादादि तकडी पई घटजे। विरहांङे खां अगु॒ सिंध में सिख धर्म सिंधीयूनि पहिजो नमूने पई लहायो। सिंध में तह कद॒हि भी अमृतधारि- सेहजधारि में को ऐदो॒ वदो॒ मसलो थियो ई कोनह, ऐं नह ई वरि कद॒हि हिक बे॒ खे अण-सिख साबित करण जी कवायति थी। सिंध में हिकु रिवाज इहो भी हूंदो हो तह सिंधी हिंदु पहिजी पहिंरो ज॒णयलि पुट खे खालिसे सिंखनि खे दिं॒दा हवा। जसिताईं सिधीं सिधं में रहया सिधीयनि सिक धर्म पहिजे रित पई हलायो पर विरहाङे बैद लदे॒ आयलि सिधीयूंनि सां इअं नह थियो। सिंधी नानिकपंथीयिनि सां भी चङा वयलि थिया आहिनि। ऐडहा चङा वाक्या पई थिया आहनि जिते सिंधी टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब खे हटायो वयो आहे इहो चई तह सिख धर्म इन जी मोकलि नथो दे ऐं हिक ईं हंद में गिता ऐं गुरु ग्रंथ साहिब जो पाठि नथो करे सघजे। ऐडहो हिक वाक्यो दिल्ली में के सालनि अगु॒ थयो -जते दादा चेलाराम जे टिकाणे मां राम नवमी जे मौके ते सुरुमणी गुरुद्वारा प्रभंधक कमिटि पारां टिकाणे मां गुरु ग्रंथ साहिब ह़टायो वयो इहो चई तह इहो सिख मर्यादा जे खिलाफ आहे। इन बैद जेतोणेक बाबा चेलाराम आश्रम ऐं कजहि सिंख सिख तंजमयूं में भी के ग॒द॒जाणयूं थयूं कर इन जो को भी फैसलो कोन निकतो। इहो सब इन जे बावजूद जे दादा चेलाराम सिंख कोम जो वदो॒ जा॒णू हो, आलिमु हो ऐं नानिक साहिब तोडे अमृतसर जे गुरुद्वारनि में शबत किरतनि करे चूको हो। हो पाण भी सिंख धर्म जा तमाम वदा॒ जाणु हुवा। यकिनि ऐडहनि वारदातनि सां सिंधी सिख धर्म खां पाण खे पासरो ई रखण चाहिंदा।

हिदुस्तानि खा. बा॒हिर भी ऐडहा साग॒यूं कोशशियूं कयूं वयूं आहिनि पर अकालिनि जे हिमायतिनि खे का भी कामयाबी कोन पई मिलि आहे। पाकिस्तानि में कोर्टनि इहो बिलकूल खाफु कयो आहे तह सिंखनि में ऐडहा के भे फर्क नह पई कबूल कया वेंदां। नंढे खंढ खां बा॒हिरि भी साग॒या मंजर दि॒सण में नजर पई आया आहिनि। इनहिनि मुलकनि में हिंदु सिंधीयूनि पारां अदा॒यलि टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब सां छेड छाड करण जी का भी मोकलि कोन दि॒ञी वई आहे। वरि बे॒ पासे इन गा॒ल्हि खे भी नजर अंदाजि नथो करे सघजे तह दुनिया जे जुदा जुदा मलकनि में जिते भी सिख रहया उते जरुरत पवण ते सिखनि या खासि करे खालसा सिखनि वार ऐं दा॒डयूं पिणि लारहायूं अथोऊं। इहो ई नह पर ईंगलेंड जे रोचेसटर शहरि में तह गुरुद्वारे में कृपाण खणी घुसण जी मञाई आहे तहि जो विरोध सिखनि कोन कयो आहे ऐं कजहि सालनि अगु॒ तह प्रांस में पगडयू ते भी प्रतिभंध लगाई वई आहे जेके सिख उते मञिनि था पया।
मशहूर सिख लेखक खुशवंत सिंह जो चवण आहे तह हिंदुस्तानि में लदे॒ आयलि सिंधीयूनि में हिअर सिखपणो घटयो आहे ऐं जेकरि इहो हालि रहयो उहो भी दि॒हिं परे नाहे जद॒हि सिंधीयूनि में सिख धर्म रहिंदो ई कोन। हे बयानि यकिनि हकिकतुनि ते बंधयलि नाहे। जेतोणेक सिंधी टिकाणनि में कमि आई आहे पर इन में को भी शकु नाहे तह सिख गुरुनि लाई मानु ऐं ईजति में का भी कमि कोन आई आहे। इहो थी थो सघे तह श्री खुशवंत सिंह खां सिंधी टिकाणनि में गुरु ग्रंथ साहिब सां छेडछाडि विसरि वई हुजे -इहो दिल्ली जेडहे शहरि में थियो जिते हो भी रहे थो। सिंधीयूनि में सिखपणे जी कमी जो हिक वदो॒ सबब विरहांङे सबब सिंधी हिंदुनि जो लद॒पण आहे। जेसितईं सिंधी सिंध में हूवा हू सिख पंथ खे पहिंजे रित पई मञो पर विरहांङे बैद सिख कोम ते अकालिन जो जोर कहि कदुरु वधी वयो। अकालिनि हमेसाहि ई सियासत ऐं कोम में को भी फर्कु कोन पई समझो आहे, ऐं हूकूमतयूं भी कहि कदरु इन गा॒ल्हि जी मुखातलिफ कोन कई आहे। वरि 1984 जे फसादनि में जदि॒हि सिंधी सिखनि भी नुकसानि सठो पर सिंधीयनि जो नालो ताई खोन खयो वयो जद॒हि तह सिंधी सिखनि खे भी झझो नकसानि सहणो पयो । अजु॒ भी सिख मतलब पंजाबी बो॒ली गा॒ल्हाईंदड ई मञयो वेंदो आहे। नह तह जेकरि विरहांङे जे यकदम बैद जे दि॒हिनि में दिसजे तह सिंधी सिख गुजरात, राजिसतानि या महाराष्ट्र में सिंधी नानिकपंथी तोडे चिकाणनि जी वदी॒ ताअदादि हुंदी हई ऐं कोटा खे नंढे पंजाब कोठयो वेंदो हो।

अजु॒ इन जी तमाम जरुरत आहे तह सिंधी कोम मिडिया में अग॒ते वधी अचे ऐं सिंधी टिकाणनि ऐं सिंधी नानकपंथीयूंनि में हिमायति में जोखडो कजे। सिंधी टिकाणा सिंधी सकाफति जा हिस्सा आहिनि ऐं इन खे जिंदो रखण हर सिंधी जी जिमेवारी आहे। अजु॒ इन जी तमाम घणी जरुरति आहे तह सिंधी पंहिचातयूं सुजा॒ग थेनि नह तह असीं सिंधी नानिक पंथियूनि खे शायदि हमेशाहि लाई विञाऐ वेहिंदासिं।

हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। बंगलादेश जी आजादी महल बंगाली हिंदुनि तमाम वधिक कहर सठा। हिंदु बंगालियूंनि जी अबादीअ मां जेको हिस्सो लदे॒ हिदुस्तानि वारे बंगाल में आयो सो वरि मोठी बंगलादेश कोन वयो, हाथयूं जेके रहजि हवा सें होरयां होरयां लदे॒ आया ऐं अजु॒ जी तारिखअ में मस जेडहा 1-2 सेकडो ई ब़चा हूंदा। इहो मुमकनि आहे तह इहो भी दो॒हाडो परे नाहे जद॒हि बंगलादेश में को भी हिंदु नह बचयलु रहिंदो।

जेसिताईं सिंध जी गा॒ल्हि कजे तह 1947 खां 2011 ताईं जेकरि का रित सांदई हलि पई अचे तह उहा आहे सिंधी हिंदुनि अबादि जे लदु॒पणि जो सिलसिलो। सिंध में खासि करे जेकरि लद॒ पणि जो सिलसले दा॒हि नजरि दि॒जे तह इंहा चिटी रित नजरि इंदो तह जद॒ही जद॒ही सिंध में अंदरुनि अफरा तफरि थी आहे तद॒हि तद॒हि लद॒ पण भी कहि कदुरु पहिंजो पाण ई वधी वयो आहे। इहो इन गाल्हि जो शाहिद आहे तह निधिकणा माण्हूं हमेशाह ई साफ्ट टारगेट थिंदा आहिनि। इहो बंगलादेश जी अजादीअ जी लड़ाईअ महल थयो, सागी॒ रित सिंधी बो॒लीअ जे बिल महल थयो ऐं वरि सिंध में जूलफिकार भूटटो खां पोई ऐम आर डी (मुवमेंट फार रेसटोरशनि आफ देमोक्रेसि) जे जदोजिहद महलि भी दि॒ठो वयो। हर वकत हिंदु जी लद॒पण तेज थी वई। वरि सिंध विरहाङे बैद जेको सिंधी मुसलमालनि जो सिंध जी सियासत में तबाही थी आहे उन जो भी असरु सिंध जे हिदुनि जे लद॒ पणि खे जोरि दि॒ञो आहे।

आम तोर सां इहो मञयो वेंदो आहे तह हिंदुनि जी लद॒पण मुहाजरिनि (हिंदुसनाति मां लदे॒ आयलि मुसलमानि) जे सबब ईं थी। 1947 में तह कराची ऐं हैदरआबाद मां लद॒ पणि जे जेतोणेक सबब इहो ई थो दि॒सजे। मुंखे जेतिरी खबरि आहे बंगाल या पंजाब जेडहूं हालतयूं कद॒हि सिंध में पैदा कोनि थयूं हयूं, पर नाईं सेंपटिमबर जे वाकये मुखे पहिजी सोच खे कहि कदुरु बि॒हरि विचारण जे लाई मजबूर कयो। हे वाक्यो ताजो नाईं सेपटेमबर जी शाम जो सिंधी जे शखरि जिले में पनो आकिल ऐलाईके जो आहे जिते लग॒ भग॒ 200 हथयार बंधनि काहि आया। अहवालि मोजिबू इहे हथयारि बंध कुलह़डे जाति जा हवा। कराचीअ मां शाई थिंदड अवामी अवाज में शाईं थिअलु अहवालु मोजिबू – 200 खां वधिक हथयारबंद कल्हि शामअ (यानि 9 सेपटेम्बर) जो उचतो पनो आकिलि शहर जे हिंदु मूहल्लनि ईदगाह चौक शाहि बाजार में हिंदु बिरादरी जे घरनि ऐं हटनि ते उचतो काहि करे फाईरिग करे दि॒नि, जहि में जग॒त राम, परमानंद ऐं धरमूमल साणू हिंदु बरादरीअ जा पंज ज॒णा जखमि थी पया। जद॒हि तह अंधा धून फाईरिंग ब॒ह वाटहडो जफर दायो ऐं अब्दूलसत्तार दायो गोल्यूनि लगण सबब जखमि थी पया। हथयारिबंध हिंदू बिरादरीअ जे चईनि खा वधिक हटनि मां लखें रुपयनि जी फूरलूट करण बैद दुकाननि खे बा॒हि द॒ई साडे वयो, जद॒हि तह हिंदु घरनि में दाखिलि थी जाईफाऊनिं सां बतमिजी कई वई ऐं इन खां ग॒ह लावाहे फूर्या वया। हथियारि बंध पारां तेज फाईरिगं सबब सजे॒ पुने आकिलि शहरि में भाजि॒ पेअजी वई ऐं माणहूं पहिंजे जान बचाअण लाईं दुकानं में लिकी पया ऐं केतिरा लतार्जी जखमि भी थी पया। ईतलहि मिलण ते पनु आकिलि, बाईजी ऐं सुलतानिपूर पूलिस मोके ते पुजी॒ हथयार बंधनि सां महादो॒ अटकायो पुलिस ऐं हतयारबंध जे विच में फाईरिंग सबब हथयारिबंध जी अग॒वाणी कंदड बदनाम दो॒हाडी गुलाम हसनि कूलहडो यकदमि जखमि थी पयो जहि खें नाजुक हालति में इसपतालि में भर्ती कयो वयो ऐं नजिर मिराणी (संदुसि पोईलगू) मारजी वयो, जद॒हि तह हिक पुलिस अहलिकारि शहजादो काजी पिणि जखमि थी पयो। फाईंरिग बैद पुलिस किन दो॒हाडिन खे गिरफ्तारि करे पाण सां ग॒दु॒ गि॒हले पिणि वई।

जेसिताई मसले जी गा॒ल्हि आहे तह इहा खबरि आई आहे तह इहो वाक्यो विश्पत दि॒हिं (यानी 8 सेपट्मिबर) जो आहे जदहि पुनो आकिलि जे हिक पराईमेरि स्कूल जे हिंदु पटवालो साधु राम सतें वरहयनि जे सिंधी मुसलि बारडी जी लज॒णिनजी कोशिशि कई हुई। कुलहडे जाति जी इन बा॒रडीअ जूं रडयूं बु॒धी आसे पासे जा माणहु अची बा॒रडीअ खे आजाद करायो जहिखे इन पटवाले वारदाति खां पोई हिक कमरे में बंद करे रखयो हो। बा॒रडीअ खे बैद में पुने आकिलि जे असपताल मे वेहोशीअ जी हालत मां भर्ती करायो वयो। खबरि इहा भी आहे तह पटवालीअ सां हाथापाई कई वई हुई पर हो भज॒ण में कामयाब थयो। ताजे अव्हालि मोजिबु इन पटवालीअ खे रोहडीअ मां पुलीस गिरफतार करे शखर जेल में कैदि कयो आहे। सागर्दयाणी सां इन हादसे बैद, संदिसु वालिधु ऐं ब॒या माईटनि पलिसि थाणे अग॒या ऐतजादि कया, संदिनि सिकायति ते पुलिस साधुराम ऐं स्कूल जे पिरिंसिपल ते ऐफ आई आर दर्ज कई आहे ऐं केस भी दर्ज कयो आहे।

इन पुरे मसले ते पुलिस को किरदार यकिनन खेण लहणे। जेकरि पुलिस नह अचे हा महल सां, तह सायदि चङा हिंदू भी मारजी वञिन हा। हालतुनि खे नजरि में रखिंदे शखर शहर मां भी धारि पुलिस जो जथो घुरायो वयो। पुलिस जो चवण आहे तह काहि कंदड सब दो॒हाडी हुवा। पर इते मसलो इहो थो अचे तह हिनिन इहा काहि कहिजे शाई ते कई। इहो तह नाहे तह हिंदु बरादरी अगे॒ ई कनि खासि माण्हुनि जे सिधी नजर में हुई.नह तह इहो किअं मुमकिनि आहे तह हादसे जे यकदम बे॒ दि॒हीं सब हथयार बंध पूरि तयारि सा संब॒री बिहिंदा। इहो मुमकिनि आहे तह इन काहि जी तयारी अग॒वाठि हुई रुगो॒ कहिं मिहूं जी जरुरत हूई जेको हिन मसले ठह्यो ठूको दि॒ञो। इहो मूमकिनि आहे तह को हिंदुनि सा कावडयलि हुजे, या कहिजी हिंदू बिरादरीअ जी मलकितयूनु ते नजर हुजे।

हे पूरो मसलो कहि कदुरु हिदुस्तानि में गुजराति जे फसादनि जी यादि थो देआरे जिते हिक जुलम खे मुहूं देअण लाई हिकु ब॒यो जूलम कोयो वयो। गोधरा जे  रेल जे दवे॒ में साडयलि माण्हूं जी गा॒ल्हि रिवाजी माण्हू ऐं मिडया विसारे छदी॒। पुरो धयानि ई माण्हुनि जो उन फसादनि दा॒हिं थी वयो। सागे॒ रित पनो आकिलि में जको भी थयो तनि सां उन बा॒रडी जी गा॒ल्हि घठि ऐं फसादनि जी गा॒ल्हि ई माण्हुनि जे दिल ओ दिमाग में रहजी वई।

हिंदुनि ते इहे जुलम कहिं कदुरु नंढि गा॒ल्हि नाहे पर इन जे बावजूद सिंध हकूमत जो को बी वजिरु कोन अची पहूतो। वदो॒ वजिरु काअम अली शाहि जेको मुहाजरन जी कुर्बानीयूंनि (हा बिलकूल सही कुर्बीनी) जा राग॒ गा॒ऐं कोन थकबो आहे सो पुने आकिलि अचण तह परे ,हिकु हमदर्दीअ जो जुमलो पिणि कोन उकोरो। इहा गा॒ल्हि सही आहे तह सिंध में बो॒द॒ आयलि आहे। लखनि माण्हूं दरबदर आहिनि पर वदे॒ वजीरि जे उनहिनि लाई भी जे को घणो कजहि कयो आहे ईऐ भी नाहे। जां खा ऐम कयू ऐम संदिसि हकुमत खा धारि थी आहे तां खां वदे॒ वजीर जो धयानि रुगो॒ पहिजी हकूम खे सोघो करण में ई लग॒यलि आहे। जेकरि इहा बो॒द कराची या हैदरआबाद में अचे हा तह पोई सिंध हुकूमत जी गणती दि॒सण जेडही हुजे हा। सागयो हालि सिंधी मिडया जो भी हो। सवाई अवामी अवाज जे कहि भी इन मसले खे जोगी॒ जाई देअण जी जरुरत कोन महसूस कई। जेकरि कहि सयासि संजिमि इन थे सरगर्म रही तह उहा हूई जिऐ सिंध कोमी महाज। संदसि सदर बशीर खान खुरेशी मोके वारदात में पहुतो हिक अमन कामिटि भी जोडाअण में भी मदद कई। जिअं इन मसलनि खें वधण खां रोके सघजे।

कोलहडे कोम जे इन दहशद दीं॒दड वारदात सां जेका गा॒ल्हि हिंदु बिरादरीअ जे धयानि में ईंदी सो आहे लद॒पण। पाकितस्थानि जे वजूद में अचण खां ई  हिंदुनि जी लद॒पण जो सिलस्लो सांधई हले पयो । लदपण तह पंजाब ऐं खैबर पुखुतुंवाह मां भी थे पई पर सिंध मां हिंदुनि जी लद॒पण जो कहि कदुरु मुख्तलिफ आहे। जदहि तह सिख ऐं बया हिंदु सागी॒ बो॒ली गा॒ल्हिईंदड ऐलाईके में था वञि वसिनि पर सिंधी ऐडहा खुशनसिब नथा थेनि । हो अणसिंधी ऐलाईकनि में था वञी वसिनि। जिते खेनि वसण में भी तमाम वधिक तकलिफनि खे मुहुं थो देअणो पवे। संभनि खां वदो॒ मसलो आहे तह हिदुस्तानि में नागरिकता जो, जहि सबब हो तमाम तंग भी था थेनि। वरि हकूमत ताई संदिनि दा॒ही या फर्याहि नथी पुजे छो जो सिंधीयिन हिथ टरयलु पखिरयूलि आहिन ऐं ब॒यो तह सिंधीयूनि जी हित सियासत में हलिंदी पुजिं॒दी नाहे। इन खां सवाई अजु॒ जे कराचीअ वाङुरु हित गुजराति ऐं राजिसथानि  में नो गो ऐरिया तह नाहिन पर ऐडहयूनि चङा ऐलाईका आहिन जिते सिंधीयूनि खे जायूं मसवाई हित हिंदुस्तनि में सिंधीयनि सां सुबाई माण्हूनि में वहिंवार भी सीग॒यो नाहे। जिते हिक पासे गुजराति (कच्छ खे छदे॒) ऐं राजसथानि में सिंधयूनि सां वहिंवार कहि कदुरु गलत थिंदो रहयो आहे उते हिंदी गा॒ल्हिआंदड सूबनि में वरि इअं नाहे। पर इन जे बावजूद लद॒ पण जोर थे आहे छा काणि तह ब॒यो कजहि नह तह हित हिंदुस्यानि में लदे॒ आयलि हिंदुनि जे लेखे अमन ऐं सांन्ति आहे। को भी सिंधीयूनि जे घरनि ऐं दुकानं खे बा॒हियूनि नथो दे॒, सिंध वाङुरि सिंधी हिंदु नयाणिनि खे स्कूल मोकिलण में माईट दि॒जिनि कोन था।

केतरि नह अजबु गा॒ल्हि आहे जे के रिवाजी माण्हूं इहो भी नह समझींजा कोन आहिनि जूलूम कद॒हि भी कोमी नह पर शख्सी थींदो आहे। इहा गा॒ल्हि हमेशाई ई पधरि थी आहे तह जद॒हि जद॒हि जूलम खे कोम सां ग॒द॒यो वयो आहे तह नुकसानि इहो जुलमु सहण वारे जो ई थयो आहे, जेको जुलुम उन नंढरी शागिरदयाणीअ सां थयो आहे सो कहि कदरु नढो जुलुम नाहे। इहा समाज जी जिमेवारी आहे तह दो॒हारीअ खे सजा मिले, छाकाणि तह हिक दो॒हु जो मसलो कहि धारि बेहिगुनाह ते जुलमू करे पूरो नह थिंदो आहे। जेको जलमू साधूराम कयो आहे सो कहि माफि लाईक नाहे। पर जे इनही लाई कहि जा दुकान साडया वञिन या कहि खे फरयो वञे तह इहा कोम जी बदनसिबी खां सवाई ब॒यो कजहि नाहे। केतिरो नह अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे जे इन काहि थी हिदुनि ते पर वारदाति ते मुआ ब॒ह सिंधी मुसलमानि। सिंधयनि खे सिंधीयनि सां विडाहण जो ऐजेंडा मुहाजरिनि ऐं पंजाबियनि जो आहे जहि में इहे भोतार ऐं वदे॒रा अहम किरदार था निभायनि। जेसिताई इन भोतारिन खे हूकूमत मां नह हेकाले कद॒या वेंदो सिंध में कदहि अमन नह ईंदो। मुल्कु जी गा॒ल्हि परे, सिंधी मुसलनानन को इजत जी हयाती भी जिअण मुशकिलि थिंदी जिऐं कराचीअ जे लियारीअ में थी रहयो आहे।

हिंदुनि जे लद॒पण सां मभनि खा वधिक मुशकिल हिंदु दलितनि जी थिंदी। हो अगे॒ई तकलिफनि में आहिनि ऐं हिंदुनि जे लद॒ण खां पोई हालतयूं संदिनि लाई बेजार थी वपदूं। हो सदियनि खां जिल्लत जी जिंदगीयूं पया गुजारिनि। ऐडहा चङा वाकया अखबारिनि में साई कया वया आहिनि जेहि में संदिनि सा माटेलो वहिंवार चिटि रित नजर अचे थो। वेझडाईअ में ई सिंधी अखबारकनि में खबर शाई थी तह बो॒द॒ सबब लगायालि केपनि में खेनि खादो या इझो कोन थो दिञो वञे। सागि॒ रित ऐडहयूनि गा॒ल्हिईयूनि पर साल आयलि सिंध में बो॒द॒ महलि भी बु॒धण में आया। नुकसानि सिंधी मुसलमानन जो भी आहे जेके इन सिंधी हिंदुनि जे लद॒ण सां थोराई में ईंदा, छा काण तह घटे थी तह रुगो सिंधीयनि जी आबादी थी। सिंधी बो॒लीअ जो जोको वहिंवार घठबो सो धारि नुकसानि।

असीं सिंधी जेके हिंद में आहयूं लद॒ पण॒ खे हमेशाहि ई हिकु रिवाजी हिंदु मुसलिम मसलो करे लेखिंदा आहयूं। इन जे हिकु सबब इहो भी थी थो सघे तह सिंध में रहिदड सिंधियनि सां असां जो  राबतो नाहे। वरि जहि राबतो रखो तनि में ऐं आम रिवाजी सिंधी में लिपीअ जे मसले हिक वदी॒ विछोटी आंदी जहि सबब हिंद में रिवाजी सिंधी सिंध जे हालतूनि खां मां अणवाकिफ ई रहया आहिनि। दरअसलि 1947 खां जोको तब्को सिंधीयनि (मसलमानि में ) जी नुमाईंदगी पयो कंदो अचे तन जे सोच में को भी फेरो कोन आयो आहे। हो अजु भी ओतिरा जाहिलअ आहिनि जेतिरा मुञे सदी अगु॒ हवा। इन जे विच में बंगाली अजादीअ जी अवाज भी बुलंद कई आजाद थी भी वया पर सिंधी उतोऊं जा उते। सिंध जी सियासत 1947 खां ई वदे॒रेनि ऐं बो॒तारनि जे हथनि में आहे, जिन लाई आम रिवाजी सिंधीयनि खे अणपढयलि ऐं पोईते रखण ईं हिक अहम मजबभरी ऐं जरुरत ब॒ई आहे। इहो इन लाई जे जेकरि जेकर रिवाजी सिंधयनि में सुजाग॒ता इंदी तह संदिनि हकुमत नह हलंदी। अग्वा सिंधी मुसलमान भी था थेनि। फूरलुट ऐं खुनखराबो सिंधीयनि मुसलमानं में खासि करे गो॒ठनि में आम थी पयो आहे। वरि जेहिं खे तालिम भी मिलि से वरि मुहाजरिन जा पोईलग॒ थी रहजी वया, ऐडहे में जेकरि को अमन यां सांन्ति जी उमेद करण मतलब रण में हर मानसुनि मे मिंहिं जी उमेद करण खां कहि कदुरु घट नाहे।

 

मूंहिजे बलाग लिखण जो मक्सद

आऊं छो पयो बलाग लिखां

ईनटरनेट मे सिंधी में मूवादु (वेब सईट तोडे बलाग़) खास करे देवनागरी सिंधी में नह जे बराबर आहे । ईन जा चङा सबब अहिनि- जिऐं – सिंधी ब़ोली हो वाहिपो घटिजणि, सिंधी ते हिंदीअ जो हिक नमुने जो दब़ाव, ब़े खे द़िसी संदिन जेडहो थिअण जी रिस ऐं पंहिजे सफाकत खां धार थिअणु। किनि खे इन बेरुखिअ में लिपिअ जो बि द़ोहु पिणि नजर इंदो आहे। पर मुंहिजी समझ में सभनिन खां वद़ो सबब नई टेहीअ जो ब़ोलीअ सां छिनजण ई आहे। इहे साग़या सबबअ ई सिंधी ब़ोली जे हाणेकी हालत जिम्मेवार था द़िसजिन।
बलाग़ ईनटरनेट जी हिक अहम सहुलियत थी ऊभरी आहे, ऐं युनिकोड जे अचण सां लग़-भग़ हर हर हिक अहम ब़ोलीअ में बलाग़ पया लिखजनि। पर सिंधी हिन्दून सां ईअं किन थो द़िसजे। हिन्दुसतान में रहनदड़ सिंधी, हिंदी तोडे अंग्रेजी में ई बलाग़ल था लिखिनि। सिंधीयन जो पहिंजे ब़ोलीअ बाबत वहनवार द़खाईन्दड़ आहे। अज़ु इहो सोचण में केद़ो नह अजबु पयो भासे तह विरहाङे खां अग़ु सिन्धी बोलीअ में 90 सेकड़ो कमु सिंधी हिंदून जो ई आहे।
देवनागरी हिक सुठी लिपी आहे, इन में के ब़ राया कोन्हिनि। इहो ई सबब आहे जे अंग्रेजनि ईन लिपी खे द़ाढी अहमियत दिञि । केपटन जारज स्टेक पंहिजे ग्रामर देवनागरी लिपीअ मे ई छपाऎ पधरो कयो हो। ईहो ई नह पर संदिस जोड़ायल शब्द कोश अज़ु भी सिंधी ब़ोलीअ में हिक अहम जाई वालारे थो। इहा असां लाइ बदकिसमतीअ ई जी ग़ाल्हि आहे ऎड़हे नेक कम खे अग़ते वधायण खां बिदरों असीं हिंदी जे पुट्यों पया भज़ों।
इअं ब़ि नाहे तह हिंदी खां सवाई ब़ि का ब़ोली देवनागरीअ में नथी लिखी सघझे। असांवटि मराठीअ जो हिक सुठो मिसाल आहे। मराठी सिंधी वाङुर हिंदीअ खां मुखतलिफ थी करे भी देवनागरीअ लिपि में काम्याबी माड़ी आहे। जेकरि असीं सभीई सिंधी हिकु थियों तह जल्दि ई सिंधी भी ऊन मुकाम खे हासिलु कदिं जंहिजी ऊहा हकदार आ हे।
मुहिंजे बलाग लिखण जो मक्सद रुग़ो ईहो आहे जिअं सिंधी जो वाहिपो असीं सिंधयन में वधे ऐं सिंधी ब़ोली जो पिणि अग़ते विख वधाऐ । 5000 वरहयं जी ब़ोलीअ जो अन्तु ईअं नथो थी कघे।