पाकिस्तानी हिंदु – नंढे खंड जो निंधिकणो कौम

पहुतासीं कहिड़े मागि वञी छापुछी कंदें
हां, डिसु त हिन सफर में
लंघियासीं किथां किथां…
सिंध खे कोन छडाए को सघे
सिंधियुनि खां,
सिंधु सिधियुनि में वसे
सिंधु हिते, सिंधु हुते

हे सटयूं महान सिंधी कवि श्री नारायण श्याम पारां हिक ऐडहे वक्त लिखी वयूं हयूं जड॒हिं सिंध जा शहर सिंधी हिंदुनु खां खसया वया ऐं हो पहिंजे ई मूल्क मां जलावंती थी हिंदुस्तान में दर दर जा थाबा॒ खाअण लाई मजबूर हवा। हे सटयूं इन लाई भी अहमियत थयूं रखिनि छा काण त इहे सटयूं कवि जे पहिंजे अजमूदे सां लिखी वयूं हयूं । विरहांङे सिंधी हिंदुनि ऐं खास करे लोहाणनि जे हर तब्के खे पहिंजे जड खां जिंझोरे छडो॒ हो। दिलचस्प गा॒ल्हि त इहा आहे जे ऐडहा विचार, राया न रूगो॒ लेखकनि तोडे कवियूं जा हवा पर आम सिंधी पिणि ऐडहा खुवाब डि॒सिंदे कोन थकबा हवा । विरहांङे जो धकु हिंदु सिंधीयूंनि लाई ऐतिरो जबरदसत हो जे खेनि संभलण जो को भी मोको ऐं न इ को वक्त ई मिलो । इहो हिक वडो॒ सबब हो जहिं जे हलिंदे सिंध जा हिंदु कहिं भी सूरत में सिंध सां पहिंजी वाट छिनर न पई चाहियो।

सिंध मां लड॒पण नसबत हिक दिलचस्प गा॒ल्हि इहा भी आहे जे जेतोणेकि मूसलमान पारां लड॒पण 1954 में निबरी वई पर हिंदुनि लाई इहा अजु॒ भी जारी आहे । जेकरि सिंध मां हिंदुनि जे लड॒पण जी गा॒ल्हि कजे त 1947 खां 1954 ताईं वारी लड॒पण जे भेटि में 1965 खां पोई थिंदड लडपण में ऐडहा जजबात वरली ईं नजर इंदा आहिनि। इहो पिणि धयान में रखजे त जिअं जिअं वक्त गुजरिंदो वयो सिंध मां लडीं॒दडनि जो सिंध सां मोहू घटे न घटे पर हिंदुस्तान सां संदुनि मोहू जरूर वधायो आहे। मूमकिन आहे त पिछाडी जे 65 सालनि खां सिंध में हिदुनि ते थिंदड जूलम सिंधीयूंनि हिंदु तोडे मूसलमाननि सिंधीयूंनि में वड॒यूं विछोटयूं पैदा कयूं आहिनि जेके वक्त बे वक्त घटण बिदरां वधयूं आहिनि।

हिंदुस्तान में सिंधी साहित्य जे पसमंजर में जेकर डि॒सजे त 1947 खां 1954 जी लड॒पण जी भेट में 1965 खां पोई वारी लड॒पण नसबत घटि लिखयो वयो आहे। विरहाङे महल सिंधी लोहाणानि खे  सिंध खे शहरि मे निशाणो बणायो वयो हो जहिं में वडो॒ किरदार हिंदुस्तान मां लडिं॒दड मूसमान निभायो – (मुहाजिरनि तोडे सिंध जा सिंधी मूसलमान सियासतदानि) जेतोणेकि बि॒हिनि जा मकसद भले धार हवा पर निशाणो हिकु ई हो – हिंदु मलकतियूं ऐं हिंदुनि जी खुशाल आबादी।

दिलचस्तप गा॒ल्हि इहा भी आहे त 1954 खां पोई लड॒पण न त महाजिरनि सबब थी ऐं ना हि रूगो॒ सिंधी लोहाणनि जी ई उहा लड॒पण हूई। इहा लड॒पण में वडो॒ किदार सिंध जे सिंधी पीर-मीर-वडे॒रे धाडलयनि जी मदद सां कई जहिंजी मार  सिंध जे हर हिंदु तब्के झेली में पई  छा भील, छा मेघवार, छा सोढा राजपूत या छा लोहाणा। 1965 में लडिंदड में वड॒नि लालनि में कवि हरी दिलगिर तोडे पाकिस्तान  जो नाऐब रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा हवा।  मलतब लोहाणन खां सोढन ताईं, लाडकाणे खां थर परकार ताईं को भी सघेरो हिंदु सोघो कोन हो। जड॒हि ऐडहयूं शख्शतयूं लडे॒ अचण लाई मजबूर थिंदयूं त आम मिसकिन माण्हू जो केडही मजाल जे हो पाकिस्तान में रहण जी हिमथ मेडे सघे।

ऐं थियो भी कजहिं इअं ई – 1971 में डेढ लख हिंदु सिंध जे थर परकार मां लडे॒ राजिस्तान तोडे कच्छ में वसया। हूनिनि खे तहिं महल जी इंदरा गांधी की सरकार पारां जाम दडका डि॒ञा वया। खेनि चयो वेंदो त जेकरि अव्हां मोटी सिंध न वया त अव्हां खे जेलनि में पूणण या वरि हकूमत जे फैसलनि विरूध सबब अव्हां जे ऐतजाज कयो त अव्हां ते गोलयूं लाई हलाऐ सघझिनि थयूं। पर इन जे बादजूद 1971 जी भारत-पाक लडाई महल लडे॒ आयलि हिंदुनि मोटी कोन वया। सिंध मोटी वञण जो खोफ खेनि मोटण कोन डि॒ञो। संदुनि लाई मोटी वञण मूमकिन भी कोन हो। हिंदुस्तान हकूमत नेठि इनहिनि लडे॒ आयलनि खे नागरिकता डि॒ञी जिन मां अधु राजस्थान वसया ऐं बाकि गुजरात जे कच्छ जिले में वसया ।

बहरआल जेसिसाईं गा॒ल्हि कजे 1971 खां पोई जे लड॒पण कंदड हिंदु ऐडहा खूशकिसमत नाहिनि रहया। नागिरकता मिलण ओखी ठाहि वई। लडिंदड हिंदुनि लाई अजाया कानुन में फेरबदल कया वया जहिंजी मार हर लडिं॒दड हिंदु थो पया सठे।

1971 खां पोई लडिं॒दड हिंदुनि जी भारतिय नगरिकता जी लडाई में हिंकु अहम नालो जेको सभिनि खां अगवाटि चपनि ते अचे थो सो आहे सिंमात लोक संघटनि जो। सिमांत लोग संघठनि जो वजूद 1990 धारे सिंध जे थर परकार जिले मां 1971 खां अगु॒ लड॒यलि ऐं पाकिस्तान जे अगो॒णे रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा जे भाईटे हिंदु सिंह सोढा जो अचे थो। 1990 खां अजु॒ ताईं साईं हिंदु सिंह सोढा जी सर्बराही में हजारनि जी तादाद में सिंधी भील, मेघवार, कोली तोडे ब॒यनि जातियूं सां वाटि रखिंदड हिंदु सिंधीयूंनि खे नागरिकता मिली आहे। इन खां सवाई पाकिस्तानी हिंदुनि लाई खास करे हेठउ तबके लाई मसलनि भील मेघवार वगिरहनि लाई पोईते पवलि जातियूं जी सभूत दसतावेज हासिल करण, सिंध मां लडे॒ अचण बैदि ढिघे अर्से जा विजा हासिल करण, जेसिताई नागरिकता का हक जिले जे कलेकटर वट हवा तेसिताईं केपनि जरिऐ नागरिकता डेयारण वगिराह शामिल आहिनि।

इन खां सवाई सिंमात लोक संघठनि वक्त बेवक्त पब्लिक हेअरिंग या आम जलसा पिणि कराईंदी रही आहे जिन में लडे॒ आयलि सिंधीयूंनि खां सवाई  हिंदुस्तानि जूं अहम शख्शतयूं खे भी शामिल कयो वयो आहे जिअं हूनिनि खे भी समझ में अचे त लडे॒ आयलि हिंदुस्तान में भी केतिरे डु॒खनि में आहिनि।

पिछाडी महिने जी 20 जून आलमी पनाहिगिरिन डो॒हाडो (World Refugee Day)  हूअण सबब ऐडही हिक पब्लिक हिअरिंग जो बंदोबस्त कयो वयो हो जिन में शर्कत करण वारनि में समाज सेवक, रातिस्तान बार ऐसेसियशन जा ऐदेदार तोडे राजिस्थान महिला आयोग जी सदर पिणि मोजोद हुई । इन खां सवाई राजस्थान जी हिक समाज सेवी संथा पारां 30-32 खां शागिर्द तोडे शागिर्दयाणू पिणि मोजूद हयूं जिन लडे॒ आयनि हिंदुनि जे सिंध में डुखनि सुरनि जूं कहाणयूं पहिंजे प्राजेकट में शामिल कयूं।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

ऐडहयूं पब्लिक हिअरिंग तोडे आम जलसनि में सिंध मां लडे॒ इंद़ड हिंदुनि बाबत इन ड॒स सां काराईंतु थिंदयूं आहिनि छाकाणि त इन जलसनि जरिऐ सिंध लड॒यलि हिंदुनि जूं तकलिफयूं संसदुनि ई जुबानी बु॒धी पई सघजे। जलसे में जेके गा॒ल्हियूं सामहूं आयूं इहो कजहि हिन रित आहिनि ….

क)   राज्सथान जो विजा न मिलण-

इन जलसे में घणनि लडं॒दड हिंदुनि जो इहो इ चवण हो त असीं जथे जे विजा नसबत राजिस्तान जे विजा लाई दर्खासतयूं ड॒यूं पर विजा मिले हरिद्वार जो। हाणे असां नया हिन मूल्क में वरि लड॒ण वक्त डे॒ई वठी इसां वटि रूगो॒ मूशकिल जा थोडा ई पैसा बचिनि। असां खे जा॒णि वाणि छो भिटकायो पयो वञे। असीं गरिब हारीनि वठ ऐतिरो पैसो नाहे जे असीं पहिंजे जोर ते हिंदुस्तान में किथे भी वसी सघयूं। असां जी बिरादरी तोडे मिठ माईट सभ राजिस्तान में, पर असीं उतर हिंदुस्तान में थाबा॒ खाउनि।

ख)   लडिं॒दड हिंदुनि खास करे भील, मेघवार जातियूं जे बा॒रनि जूं पडहायूं विच में ईं बंद थी वञण

इन पब्लिक हेअरिंग में ऐडहा भी वाक्या सामहूं आया जन लाई हिंदुस्तान लडे॒ अचण बैदि संदुनि बा॒रनि जी पड्हाई अध में ई छडजी वई। हिक शागिर्दयाणी जो चवण हो त हिंदुस्तान सरकार पोईते पवजी वयलि जातियूंनि लाई आरकक्षण पई डे॒, कालेज जी फिसनि तोडे उमर जे लिहाज खां रियातु पई डे॒ पर इहे सभ तड॒हि मिलिन जड॒हिं आसां हिंदुस्तान जा नागिक थियूं जहिं में ड॒ह ड॒ह सालनि जो वक्त लगे॒। जेसिताईं असां खे नागरिकता मिले तेसिताईं त असां जो तालिम हासिल करण जो वक्त ई निबरी वञे। असीं छोकरियूं सिंध में अग॒वा थिअण जे ड॒प खां तालिम खां महरूम ऐं हिंद में कानुन असां जो साथ कोन डे॒। असां जा भाउर जी तालिम अध में ही बंद थी वञण सबब मूजूरी कन। असां जी निमाणी मिंथ आहे त असां जूं मजबूरियूं खे समझयो वञे।

ग)    लडिंदड हिंदुनि जूं घुमण फिरण ते पाबंधी

इन आम जलसे में ऐडा काफि लडिं॒दड हिंदुनि जो चवण हो त असां जे लेखे हिंदुस्तान असां जो मूल्क आहे ऐं असां खे जिते वणिंदो असीं उते ई वसी सघिंदासिं पर हित त हालत ई उभितर आहे। असां खे ज॒णु हिक ऐलाईके में कैद कयो वयो आहे। असा खे पहिंजे इलाईके जे 20 कोहि जे दाईरे खां बा॒हर वञण लाई हूकूमत खां मोकल थी वठणि पवे ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकरि असी इन दाईरे खां बा॒हर इअं बिना  मोकल वञउ त महिनि जा महिना जेलनि जूं सजाउ पईयूं भोगणयूं पवनि। ऐडा मसला हिक अधु न पर काफि हवा जन पहिंजे मिठन माईटनि डा॒हिं ग॒ड॒जण सबब वञि जेलनि में महिनि  जा महिना गुजारा आहिनि। हिक लोहाणो त इन हालत में पैसै जे जोर ते निजात पाऐ थो पर जेकरि गरिब भील मेघवार फाथे थो त उन लाई हिंकडो ई चारो बचे थो त हो हिरासत में वञि सजाउ भोगे॒।

घ)    सिंध में हिंदुनि सां थिंदड कहर

इन जलसे में सिंध, पाकिस्तान मां वेझडाईअ में 171 जी टोलीअ (जिन में भील ऐं मेघवार पिणि हवा) खे लड॒ण में मदद कंदड श्री चेतन दास सिंध में थिंदड जूलमनि जी गा॒ल्हि कई।

श्री चेतन दास बुधायो त अंदरूनी सिंध में किअं हिंदुनि  सां जूलम पयो थिऐ खासि पोइते पवलि हिंदु जातियूंनि सां। हून खास करे उन गाल्हि जो जिक्र कयो त किअं हिंदु सिंधी अग्नि संसकार ताई नथा करे सघिनि, त किअं हो पहिंजी हिंदु रिवायतुनि जे उभतर गुजारे वयलि माईचन जी लाश दफनाईनि, जहिं लाई भी खेनि जमिन लाई भी थाबा॒ था खाअणा पविनि। हून हिक वाक्ये जो भी ड॒सु डि॒ञो त किअं हिक अठ वरहयूं जी नेनंघर जी लाश जमिनि मां कडी॒ बा॒हर फिटो करण की कोशिस कई वई। मतलब हिंदु सां वेर न रूगो॒ हिंदुनि जे जिते जी पयो थिऐ पर इन जे जुजारे वञण खां पोई भी।।।. हून हिंदुनि सां थिंदड वयलनी जा जाम मिसाल डि॒ञा जिअं भील, मेघवार जे बा॒रनि खे किअं मूसलमान मासतर पडहाअण खां बजाऐ स्कूल का काकूस साफ कराअन, किअं हिंदु नेनगरयूं ते अगवाउनि जो खोफ सबब तालिम हासिल कोन करे सघिनि।

असां खां जेकरि विसरी किन वियो आहे त कजहिं महिना अगु॒ टेंडो अलेहार जो रहवासी श्री चेतन दास किअं 171 हिंदु सिंधीयूंनि ( भील ऐं मेघवार) खे पहिंजी अग॒वाणी में हिंदुस्तान लडाअ किअं कामयाब थिया हो। लड॒पण भले इहा लोहाणनि जी हुजे या दलित सिंधीयूंनि जी कड॒हि में सहूली नाहे थी आ। हिंक पासे जड॒हि सिंध में हिंदुनि लाई जमिन रण बणयलि आहे उते बे॒ पासे कहिं भी लातल में हिंदुनि खे लड॒ण खो रोकण लाई भपपूर कोशिस कनि सिंधी मूसलमान।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

हिंदुस्तान पाकिस्तान जूं सर्हदयूं 1954 में नेहरू लियाकत समझोते तहत बंद कयूं वयूं। पर 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां  में हिंदुनि ते कतलेआम इन गा॒ल्हि खे पधिरो करे छडो हो त हिंदुनि जो पाकिस्तानी रियासत में इजत तोडे आबरू महफोज कोन रहिंदी, ऐं थियो भी कजहि इअं। 1954 जे समझोते तहत जेके हिंदु 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां लडे॒ आया से मोटी कोन वया हातियूं 1971 में हिंदुनि सां बि॒हर ऐं 1950 खां भी वडा॒ जुलम थिया जहिंजी भेट सायदि विरहांङे महल थिअल फसादनि सा भी नथी करे सघजे। बे॒ पासे पाकिस्तान डा॒हिं लियाकत अली खां  जेतिरो  पुगो॒ हून हुन हिंदुस्तान मां मूसलमान (अण बंगाली) कराची लडा॒या, हून तेसताईं लडाया जेसिताईं हून खे इन गा॒ल्हि जी दिलजाई थी त हो हिअर मुहाजिरनि जे सघ ते चूंडयूं विडही थो सघे। पाकिस्तान जा हूमूमती इदारा हिक पासे फसादनि तोडे कानुनि जरिये हिंदुनि खे तंग कयो बे॒ पासे ऐडहा कानुन वजुद में आंदा वया जहिं सबब हिंदु जूं मलकतयूं वणजण गैरकानूनी हो। मतलब हिंदु लडि॒नि ऐं उहो भी हथ वांदनि।

बहरआल इन जलसे में जेतोणेकि कहिं भी नेहरू लियाकत समझोते जी गा॒ल्हि कोन कई पर जनि भी महमानि खे इन जलसे में घुरायो वयो हो सिंध लड॒यलि हिंदुनि जी हालतुनि जी मूंहजुबानी बु॒धण लाई तनि जी भी नाराजगी हिंदुस्तान हूकूमत सां हूई जेसा सभ जा॒णिदे बी माठि करे वेठी आहे।

जेकरि सच पच डि॒सजे त ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे हिंदुस्तान जी हकूमत खे पाकिस्तान में हिंदुनि ते थिंदड कहरनि बाब॒त जा॒ण नाहे। हिंदुस्तान जी हूकूमत 1954 (जां खां सर्हदयूं बंद कयूं वयूं) तां खां अजु॒ ताईं हर लडिं॒दड हिंदुअ खे जो विजा रूगो॒ इन ते वधायो त पाकिस्तान में हिंदुनि सां कहर पया थेनि पर इन जे वादजूद नागरिकता जा कोनुनन में नर्मी डे॒अण खां उभतर हाथयूं ओखा कया वया आहिनि। 2005 में नागरिकता डे॒अण जो हकु जिले कलेकटर खां खसे गृर वजिरात पहिंजे हथ कया ऐं नागरिकता मिलण जो वक्त त 5 सालनि खां वधाऐ 7  साल कयूं। सिंध में रहिंदड हिंदुनि जा मिट माईट जेलसमेर, बाडमेर, कच्छ में रहिंनि जिते हूकूमत कहिं खे भी वसण न डे॒, जेसिताईं नागरिकता मिले तेसिताई खेनि हिक शहर जे दाईरे जे 20 कोहि जे दाईरे में ई रहणो पवे। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकर जो हली भी वञे त खेनि हिरासत में सजा॒उ डि॒ञयूं वञिनि वरी साल साल नागरितका डे॒अण जी फिस वधाइनि सो धार ड॒चो।

हिंदुस्तान हज लाई सब्सडी थो डे, लखनि जा लख मूसलमानि खे हज ते वनण जी मोकल थो डे॒ पर पाकिस्तान मां हिंदुतानि घुमण अचण लाई हिंदुनि खे विजा डे॒अण में सालनि जा साल थो खणे। आम विजा त लग॒ भग ज॒णु बंद ई कया वया आहिनि या वरि जड॒हि डि॒ञा भी था वनिनि था त उन सां ऐतरियूं पाबंधयूं ग॒ढयूं पयूं वञिनि जे इहे शर्तयूं सिंध जे हिंदुनि जे वस खां बा॒हर आहे।

हिंदुस्तान – पाकिस्तान जो विरहाङो हिंदु मूससलमानि जे विच में थियो हो। कांग्रेसि भले इन जो कजहि भी नालो छो न डे॒ पर हकिकत त इहा आहे जे विरहांङो दीन धर्म के नाले ते थियो। वरि जमिन जो विरहांङो भी हिक जेडहो कोन थितो ज॒हनि त आसाम में तोडे विहार जा मूसलमान इलाईका पाण सा रखी पहिंजी वडी॒ कामयाबी समझी उतेई सिंध जा हिंदु ऐलाईका पाकिस्तान जे हथ कया। आसाम में मूसलमान लाई त का भी तकलिफ कोन थी पर हिंदु दर बदर थी वया। जेकरि विरहांङे जे जमिन जो विरहांङो कांग्रेस कयो त पाकिस्तान मां हिंदुनि खे वसाअण जी बी जिमेवारी  भी उनहिनि जी हूई ।

इन जलसे में पिछाडीअ में मोजोद महिमानि मां भी किन तकरिरयूं कयूं जनि में अहम हूई राजिस्थान बार ऐशोसिऐसन जे सदर जी। श्री श्रीवास्तन पहिंजी तकरिर में चयो पाकिस्तान में हिंदु रही कोन सघींदा – इहा हिक हकिकत आहे सो सिंध लड॒यनि जी लडाईं हिंदुस्तान में आहे जिते साणसि सही रित सहूलतूं नह पई मिलिन। पर इन लडे॒ आयलिनि जो मसलो इहे आहिनि संदनि लडाई कानून जे दाईरे में नथी थी सघे, छा काण त कानून सिंध लड॒यनि हिंदुनि जे हक मे नाहिनि। जेसिताई कोनून में फेर बदल न कई वई त शायदि पाकिस्तानी हिंदुनि जे डु॒ख सुर निबिरिंदा । सो हो त्यारी कन पाण खे वडी॒ लडाईअ लाई ऐं असां खां जेतिरो पुजींदो असी मदद कंदासि। सिंध लड॒यलि पाकिस्तानी हिंदु पाण खे हेकलो न समझिनि असीं साणस ग॒डु॒ आहियूं।

इन जलसे जे पिछाडीअ में सवाल- जबाबनि जो बी आयोजनि हो जिन में लडे॒ आयनि हिंदुनि मोजूद महिमान खां भी सवाल जवाब पुछा। छो त मां बी इन जलसे जे महिमानि मां होसी त मूखां बी हिकु सवाल कयो वयो त साईं असीं सिंध मां लड॒यलि अहियू, असीं भी सिंधी गा॒ल्हियूं (ढाठी इअं भी सिंधी को ई हिक लहजो  आहे) पोई इअं छो जे हिंदुस्तान जा नालेरे वारा सिंधी अग॒वान असां जी मदद त परे असां सा मिलण ताई कोन आया त असी केतरि तकलिफुनि में आहियूं। जड॒हिं अण सिंधी अग॒वाण असां जी सार था लही सघिनि त हिंदुस्तान में वसयलि सिंधी छो माटि आहिनि….

दरअसल मां भी सिंधी लोहाण जे इन वहनवार खे अजु॒ ताईं कोन समघी सघयो आहियां। सिंधी हिक ई इलाके मां लडिण, हिक ई नमूने जा जूल्म सहिनि, हिक बे॒ रित ई लड॒ण जे वाबजूद  पाण में ऐतरियूं विछोटियूं छो….ऐडही केडही मजबूरी आहे जेका असां खे पहिंजनि सां हिकु थेअण खां रोके थी…जातिवाद त हर हिंदु कोम में आहिनि। रातिस्तान में भाल भी रहिनि, त राजपूत भी त माडवाणी वाणिया भी पर जे हो सब राजिस्तानी संसकृति में रङजी था सघिनि त असीं सिंधी सिंधी संसकृति सां छो नथा रङजी सघउं….

हे सवाल हिक भील, मेंघवार या कोल्ली जातीअ लाईं ऐतरो ई अहम आहे जेतरो हिक लोहाणे लाई….शायद असां वटि इन जो जवाबु आहे ई कोन्हि। पर हिक गा॒ल्हि पक आहे त जेकरि असीं इहा गुधी, गजरहात सुलझाऐ वयासिं उहे सभ सियासी तंजमयूं जहिंजा पादर सिंधी अगवान चटिंदा आहिनि से असां सिंधी हिंदु जे दरनि जे चोखट ते मथो टेकण पहिंजी वडे॒ में वडी॒ जिमेवारी समझींदा….

किड॒हिं थिंदासि पहिंजे देश जा।

 

सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदु हिक ऐडहे चक्रर्वियू में फाही चुका आहिनि जहिं मां निजात पाअण ऐतिरो भी को सहूलो कम जेतिरो हिंदुस्तान मां वेही समझो वेंदो आहे। असां जी टेही जहिं कड॒हिं सिंध कोन डि॒ठी, सिंध में आम हिंदुनि मंझ वक्त किन गुजारो – सिंध में हिंकु हिंदु थिअण जो अहसास कोन माणो पहिंजे ई रत पारां जलिल थिंदे कोन डि॒ठो, – हे हिकु अणजातो आजमूदो आहे जहिं सो सही अहसास करण असां खे वस खां बा॒हार आहे।

सिंध में हिंदुनि ते जूल्म जेतोणेक नया नाहिनि, इहे तह हमेशाहि ई थिंदी रहया आहिनि, पर जहिं सुरत में पिछाडीअ जे 65 सालनि में पहिंजो भोवाईतो मूहांडरो डे॒खारो आहे सो इन खां अग॒ वरलि ई ड॒ठो वयो हो। सिंध में हिंदु भले कहि भी तबके जो छोन न हूजे, कहि भी ज॒मार जो छोन नह हूजे सिंध जे कहिं भी इलाके में छो न हूजे कहि भी जाति जो छो न हूजे हिक हिंदु हूअण जो अहसास मसझे थो।

सिंध अंदर हिंदुनि सां केडहो सलूक पया कयो पयो वञे, सिंध में सामाजिक तोर या सियासी तोर हिंदु सिंधीयूंनि जी केडही हैसियत रहि आहे। सिंध में रहिजी वयलि हिंदु सिंधी छो लड॒ण लाईं मांदा रहया आहिनि, रियासती इदारनि जो केडहो सलूक रहयो आहे, आम सिंधी मूसलमान जो केडहो सलूक रहयो आहे ऐ वडी॒ गा॒ल्हि त हिंदुस्तान हूकूमत जो केडहो रदे अमल थिअणो खपे  इन मसले नसबत … – हे उहे सवाल आहिन जेहिंजो जवाबु सिंध जो हिंदु तड॒हि ड॒ई तो सघे जड॒हिं हो महफूज ऐं बे-ढप हूजे जेको रगो॒ तड॒हि मूमकिन आहे जड॒हिं हिंदु सिंदी सिंध खां बा॒हर हूजे। सिंध में हिंदु केडहि दहेशत में था रहिनि इन जो अंदाजो इन गा॒ल्हि मां कड॒हि सघजे थो हो शोशल मिडिया में जिते आम तोर सां घणो कजहि बेढप जाहिर थो करे सघजे सिंध जा हिंदु कुछण लाई त्यार नाहिनि…!!!

इहो डि॒ठो वयो आहे त आम तोर सां सिंधी लोहाणा, सिंध में थियलि जूल्मनि बाबत खामोश रहिंदा आहिनि शायदि खेनि हिंदुस्तान में पुलिस पारां पाकिस्थानी हूअण जे सबब तंग थिअण जो ढप हूंदो आहे। ऐडहा जाम वाक्या थिया आहिनि जिते पूलित तोडे ब॒या सरकारी मूलाजिम पारां लडे॒ आयलि सिंधी हिंदु तंग थिया आहिनि जहिं मां निजात तड॒हि वञि मिलि थी जड॒हि का भूंग या रोकडनि सां संदुनि खिसा भरया वञिनि। खैर अहमेदाबाद में इतफाक सां ऐडहे ई हिंक आकहिं सा राबतो थियो जेके 20 सालनि बैदि भी नागरिकता मिलण जे जा॒रु (गणतियूं) पया कनि। वडी॒ गा॒ल्हि त इहा जे हूनिनि पहिजे पाण ते थिंदड जूलमनि बाबत गा॒ल्हिईंदे जरे जो भी हिजाबु या ढप किन डे॒खारो ।

2 3 4 Pak in Ahd_Page_1

पहिंजे बाबत विचूड डिं॒दे श्री निर्मलदास  चयो साईं “आउं लाडकाणे को आहियां। गो॒ठू रतोतिल जो। सिंध में लाडकाणे में मूहिंजो कारोबार हूंदो हो। इंअ त माहोल ऐतिरो खराब किन हो पर 1960 खां पोई हालतु उमालक बिगणण लगयूं । मूंहिजी हयाती में फेरो तड॒हिं आयो जड॒हि मूहिंजे बि॒नि सालनि खे डि॒हिं तते सरे आम कतल कयो वयो। ब॒ई फोहू जवानी में हवा। हिकडे उतेई तम तोडयो ऐं बे॒ खे कराचीअ खणाऐवयासिं । 21 डि॒हिं सांदही जाखडे बैदि नेठि हून भी दम तोडयो। मोत सां हो पुजी॒ किन सघयो। गा॒ल्हि उते खतम किन थी । मूहिजे सहूरे खे अग॒वा कयो वयो। भूंग ड॒ई किअ भी करे आजाद करायोसिं जड॒हिं तह मूंते पिणि अगवा॒ तो वाक्यो थी चूको आहे पर मां किअ भी करे भजी॒ निकतुसि। असां हेकला नाहियों। सिंधी हिंदु ऐं खासि करे धंधेडी हिंदुनि सां ऐडहा वाक्या हाणे आम थी पया आहिनि। असीं घरनि खां बा॒हर भी निकरउ तह इन जो पूरो धयान रखउ त मता को असां जे कड॒ त कोन पयो आहे। रात जो हेलले निकरण जो स सवाल ई नथो अचे। असीं सिंध में इहा कोशिश पूरी कयूंनि तह ल़टनि कपडनि तोडे वेश भूषा सां कहि भी रित हिंदु किन लगउं त मतां खहिंके इन गा॒ल्हि जो छिड्रु न वपे त असीं हिंदु आहियूं।“

हुन अग॒ते चयो तह मां सिंध रहिंदे अहमेदाबाद आयो हो। विजा टिन महिनिन लाई हो पर बैदि में वरि टटिन महिनि लाई वधायो हो। हिंदुस्तान में सकून आहे अमन आहे। मां मोत कबूल कंदुसि पर मोटी सिंध कोन वरिनिदुसि। असां जो पहिंजा चई को भी नाहिनि। असां हिंदुनि लाई सिंध में रण बा॒री वई आहे।

असां हिंद में जा॒वलि सिंधी जनि नंढे खां माईटनि पारां सिंध में सेकुलिजम जा डि॒घा डि॒घा दावा बु॒धिंदे वडा॒ थिया आहियूं, इहो निहायत ई वाईडो कंदड मंजर आहिनि ऐं वडी॒ गा॒ल्हि इहा त इहो सभ उते पयो थिऐ जिते सिंधीयूंनि (मूसलमान ) जी घणाई आहे !!! श्री मिर्मलदास पिणि मूखे इन गा॒ल्हि जो पधराई कई त असीं लाणकाणे जेडहे शहर में भी जिते वडी॒ तादाद हूंदी हूई हिंदुनि जी पर हिंअर अग॒वा थिअण जो खोफ हमेशाहि रंदो आहे। असीं डा॒ड्ही भी मूसलमानि वाङुरु रखउं जिअं कहिंखे इहो इहो छिड्रु न पवे त असीं वाक्ई हिंदु आहियूं। असीं त सिंधी में खूली रित ऐतजाजत बि कोन करे सघउ मतां मूसलमानि खे इअं न लगे त असीं खेनि खुयार था कयूं इंसाफ जी उमेदि करण त परे जी गा॒ल्हि थी।

इअं चवण लाई त हिंदुस्तान तोडे पाकिस्तन में मंझ हिक ठाह मोजूद आहे जेका बिलकुल हिन मसले लाई ई वजूद में आंदो वई आहे पर न त हिंदुस्तान ही हकूमत पांरां कहि भी अमल डा॒हि धयान डि॒ञो ऐं न ही हिंदुस्तान को सिंधी समाज। अहमेदाबाद जी सरदारनगर तक कहि ते भलो को कुछ भी छोन करे सिंधी वोटन खां सवाई खटि कोन थो सघे, उते पिणि इन मूदे ते खामशी ई आहे। पर-साल हित आलमी सिंधी संमेलनि थियो जहि में डे॒हि परडे॒हि जा सिंधी ग॒डु थिया वडी॒ गा॒ल्हि त आडवाणी तोडे गुजरात जो वडो॒ वजिर ताईं मोजूद हो पर सिंध जे हिंदुनि जे मसलनि जो जिक्र ताई कोन थी सघयो कहिं इन मसले ते जोर ई किन डि॒ञो।

हर लड॒पण जा पहिंजा मसला थिंदा आहिनि । 1954 बैदि थिंदड लड॒पण में नागरिकता हिकु वडो॒ मसलो थी विठो आहे। लडं॒दड हिंदुनि खे 7-10 सालनि ताई बिना नागरिकता रहणो थो पऐ। वरि हर सूबे सुबाई सरकारनि साग॒यो रलईयो किन रहयो आहे। मध्य प्रदेश, राजसथान, छतिसगढ में जिते नागिरकता मिली भी थी वञे पर गुगजात जिते हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि सभनि खां वडी॒ आबादी पई वसे उते इहा हिअऱ 30 – 30 सालनि ताईं नागरिकता किन थी मिले ऐं मथोउ वरी सरकारी आफिसरनि जो ड॒चो सो धार।

गुजरात में लडि॒दड हिंदु सरकारी मूलाजिम लाईं ज॒ण लडिं॒दड हिंदुनि ज॒णु पैसे उगारण जो वडो॒ जरियो ड॒ञो आहे। अहमेदाबाद में रहिंदड डा रमेश (नालो फिरयलि) जो चवण आहे मस जेहा 20-25  लडयलि मस जेडहा गड॒निन था जे आफिरस जा फोन अचण शुरू था थी वपनि. हो पुछिन साईं अव्हा कहि मसले ते इहा गड॒जाणी कोठाई, केर केर आया हवा वगिराह वगिराह ऐं जेकरि को कची नस वारो सिंधी निकतो तो आफिसर भूंग (रिशवत) ओगारण में मिंट देर न कंदो। हो थदो तड॒हि थिंदो जड॒हिं रोकड हथ में मिलिनिस।

इन गा॒ल्हि जी पुठिभराई जाम लडं॒दड सिंधी हिंदु कई आहे त गुजरात में सरकारी अफसरि जो वहिंवारु डु॒खाईंदड रहयो आहे। श्री मिर्मलदास जे पुट जो चवण हो तह असां खे सजो॒ सजो॒ डि॒हिं इन आफइसरनि वठि वाहायो वेंदो आहे उहो घर में जाइफां ऐं बारनि ऐं गेरेंटर सुधो। हर नंढि गा॒ल्हयूंनि ते दब॒ पटण, बेअजत करण ज॒ण संदुनि नित मियम हूजे। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे इहो सभ हिक ऐडहे सुबे में पयो थिऐ जहिं खे हिंदुत्व जी प्रयोगशाला ताई कोठयो पई वेंदो रहयो आहे। जेकरि लडिं॒दर हिंदुनि का आकडा डि॒सजिन तह गुजरात हेकलो सुबो आहे जिते लडे॒ आयलि सिंधी हिंदुनि खे विजा ऐं सरकारी अफसरि जे दबा॒उ सबब सिंध मोठी ताईं वञणो पयो आहे पर इन ते भी सिंधी समाज खामोश। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे तह आर ऐस ऐस ऐं बी जे पी पिणि इन ते माठ रहण में ई पहिंजी सयाणप ई समझिंदा आहिनि !!.

सिंध तोडे पाकिस्तान मां लडिं॒दडनि सां हिकु ब॒यो मसलो इहो आहे त हिंदुस्जान में हिक लड॒पण मूसलमानि पारां भी पई जेका तमाम सहूलाई सां ऐं बिना रोक ठोक सां पई थिये। छो तह बंगलादेश की सर्हद अगो॒पोई सिल नाहे सो इहा लड॒पण अजु॒ ताईं पई हले। वरि वोट बैंक की सियासत इन मसले खे निबरण ई किन डि॒ञो। पर जड॒हिं कानून जी गा॒ल्हि पई अचे तह बि॒हिनि लड॒पण हिकु करे डि॒ठयूं पयूं पञिनि। हिक पासे गैरकानूनी लड॒पण ऐं सुख त बे॒ पासे कानूनी लड॒पण ऐं आफिसरन जो ड॒चो।

2005 में असाम जे कोमिप्रसतनि जे दबा॒उ में सरकार नागरिकता के कानून में वडो॒ फेरबदल कंदे नागरिकता डे॒अण जा हक जिले मेजिस्ट्रेट खां खसे मर्कजी हूकूमत जे गृह वजिरात खे डि॒ञा, जहि सबब बंगलादेशिन खे सहलाई सां नागरिकता वारो मसलो त कहि हद ताईं निबरी वयो पर सिंध मां लडिं॒दड हिंदुनि जी बे॒डी बु॒डी वईं। नागरिकता मिलण मूशकिल थी पया। सरकारी आफिसर जा धिका खां वधिक दिल्ली जा धक डु॒खया लगिनि।

साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले बैदि हूकूमत जेका नोठिफिकेशन पधरी कई जहिं में  साफ साफ जा॒णाआहे तह हूकूमत पाकिस्तान में  थिंदड जुल्मनि बाबत तहकिक कई आहे ऐं इनहिनि खे सही पातो आहे पर जड॒हिं नागरिकता जी गा॒ल्हि पई अचे हर को माण्हू भले इहो कहिं भी मूल्क मां छो न हूजे कानून साग॒यो ई लागू थिऐ।।। ऐडी॒ वडी॒ ब॒याई पई थिऐ पाकिस्तान मां लडे॒ इंदड हिंदुनि सां पर सिंधी समाज खामोश …सिंधी अगवान भले हो भाजप जा हूजिनि या कांग्रेस जा कड॒हि भी इन मसलेते हाई घोडा करण जी जरूरत कोन समझी।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे त सिंधीयूंनि वटि ऐडही का संसथा नाहे जेका नागिरकता लाई जाख़डो न करे सघे। पिछाडीअ जे टिन ड॒हाकनि खां सिमान्त लोक संघटनि सिंधी मां लडे॒ आयलि भील, मेघवार, कोली माली वगि॒राह जातियूंनि लाई जाखडो पई करे पर वरली ई  कहि सिंधी संसथा खेसि पहिंजो समझी साथ डि॒ञो हूजे। इहो सब इन जे वावजूद जे इंन संसथा जे रहबर श्री हिंदु सिंह सोढे खे हर शहर में सिंधी सुञाणिनि पर जड॒हिं इन संसस्था के मदद जी गा॒ल्हि थी अचे तह उमालक सिंधी लोहाणनि खे जातियूं पयूं याद अचिनि। हा पर जेतसाईं पहिंजे नागरिकता मिलण जी गा॒ल्हि आहे तह रिवाजी सिंधी कहिं भी संसथा खे पहिंजो करण में मिंटु देर किन थो करे। छा मस जेडहो कमु निकतुनि जे हो किथे ऐं संसथा सा हूबु ब॒यो किथे।

अहमेदाबाद में जेतरनि भी सिंधीयूंनि सा मां राबतो कयो , जिनहिन सां भी गा॒ल्हि बो॒ल्हि थी इलहिनि मंझसि घणाईं उनहिनि जी हूई जेके मसले खे त समझिनि था पर लडे॒आयलि हिंदु सिंधीयूंनि लाई रसतनि में जाखडो करण लाई असुलि ई तयार नाहे। हूनिनि जो अजु॒ भी मञण आहे तह सिंध मां लड॒यलि हिंदु सिंधीयूंनि ला जोखडो सुठो पर हो भी तड॒हिं जड॒हि ब॒यो करे।

मतलब साफ आहे त अंग्रेजनि जे डि॒हिनि में सिंधी अग॒वान जहिं मौकाप्रसती सबब सिंध जो हिंकु नंढो टूकर बी पहिजो कोन करे सघया सा मोकाप्रसती अजु॒ पहिंजे पूरे सभाब में हिंदु सिंधीयूंनि जे रत में मसाईजी वई जहिखां निजात पाअण ऐतिरो भी सहूलो नाहे जेतिरो समझो पयो वञे।

जेसिताईं उहो मूमकिन थिऐ लडे॒ आयलि हिंदुनि खे रूगो॒ नागिरकता रूगो॒ नागरिकता ताई आस ई रखी था सघीनि ऐं ड॒हाकनि खां ड॒हाका इन सवाल सां जिअण पवंदो त किड॒हिं थिंदासिं पहिंजे देश जा नेठि किड॒हिं…

गा॒ल्हि सिंधी क़यादत जी


 

सिंध में तोडे हिंद में हिंदु सिंधीयूंनि लाई हालतयूं हिक बे॒ जे उभतरि हूअण जे बावजूद सियासी कयादत तोडे सियासी सोच में वाईडो कंदड हिक जेडहाई डि॒सण में ईंदी रही आहे। इन जो वडे॒ में वडो॒ सबूत संदुनि बिं॒हि मूल्कनि में बिन पार्टियूंनि डा॒हिं अंधी वफादारी हिकु वडो॒ सबब रही आहे । हिक पासे जिते  सिंध जा हिंदु भूट्टे जे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी में शिर्कत करे गिद गिद थेनि सागी॒ रित हिंदुस्तानि जा सिंधी भाजप में पाण खे अर्पण करण में पूरा हूंदा आहिनि।

सिंधीयूंनि में हिक धारिनि जो थी वञण जी प्रथा या फितरत का अजु॒ जी नाहे। विर्हांङे खां अगु॒ सिंधी हिंदु कांग्रेस सां तेसताई वफादार रहया जेसिताईं विर्हांङे तोडे लड॒पण जा वाक्या संदुनि हिकु कापारो धकु कोन हयों। इहो धकु ऐतिरो जबरदसत हो जे विर्हांङे जे 65 सालनि खां पोई भी हिंदुस्तानि जा सिंधी उहे मंजर खे किन वासारे सघया तह आखिरि सिंध जा कांग्रसी  किअं सुता रहजी वया …त किअं हो सिंध जे मटिंदड सियासी माहोल खे समझी किन सघया ऐ रातो रात पहिंजे डे॒हि में इ परडे॒हि थी करार डि॒ञा वया।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मूसलमानि जो हिक इसलामी रियासत डा॒हिं लाडो हर कहि खां गु॒झो हो। अंग्रेजेनि जे डिं॒हनि जो सिंधी नस़र जो हिकु अहम थंबो लेखिंदडु -सिंधी लेखक तोडे अखबार नुवेस जथेमल पर्शराम गुलराजाणी मोमिनिं जे इन फिरयलि मनोवरती बाबत सिंधुवासियुनि खे आघाहि कंदे चवंदो हो – खिलाफत आहे आफत, ऐं इहा खिलाफत सचु पचु वडी॒ आफत खणी आई। खिलाफत तहरिक में पाक थी निकतलि हर अगवान भले इहो जी ऐम सेईद हूजे,या वरी  अबदुल माजिद सिंधी, पिर ईलाई बख्श, अयूब खुरो या वरि हिदाईतुल्लाह पहिंजी सियासी सघ हिंदुनि खे हिसाअण सबब ई पुख्ती कई जेको सिलसिलो संदुनि वारिसनि तोडे पोईलगनि पारां कहिं न् कहिं शकल में वडी॒ संजिदिगीअ सां अजु॒ भी पई हलाईदां अचनि। सिंध में पीर-मिर-जागिर्दार जी जमायति आजु॒ हिंदुनि खे उनही रित ई पई हिसाऐ जहि रित जहि रित मसजिद मजिलगाह जे वकत पई हिंदुनि खे हिसायो हो। पिछाडीअ जे मुञे सदी में उनहिनि की इसलामी कयादत में जरे जो भी फेरो किन आयो आहे भले इन अर्से में सिंध जे शहरनि जा सेकडो अण सिंधी दावेदार पैदा थी छोन न वया हूजिनि ।

सिंध में हिंदु सिंधी कयादत जे ठिकेदारनि जूं अख्यूं तहिं महल खुलणु खपिंदी हूयूं जड॒हि मस्जिद मंजिलगाह जा फसाद थिया। हिंदु अगवान न् तहि महलि ई हालितुनि खे समझी सघया ऐं न् ही भगत कंवर राम जे कतिलनि जा नाला सिंध ऐसेलमबली में खणिंदड हिंदु अगवानु पंमाणी जे कतल महलि, जहि खे सिंध ऐसेलमबली खां निकरिंदे ई कत्ल कयो वयो हो। अंग्रेजनि जे पिछाडीअ जे डि॒हनि में सिंधी हिंदु अगवानि जे सियासी नादानीअ जो किमत आम हिंदु पई चुकाई जेका रिवायति आजु॒ ताई सांदह पई वरजाई वञे।

जेका गलति सिंधी हिदुनि कयादत सिंध में कई तनि जो नुकसानि रिवाजी सिंधीयूंनि पहिंजी मातृभूईं खे कुर्बान करे बर्पाई कई। मूल्क वयो, लड॒पण थी, हिक सुबे में रहिदड कणो कणो थी पूरे हिंदुस्तान तोडे दुनिया भर में टरि पिखरजी वया, साण साण हिंदु सिंधीयूंनि जो सियासी जोर हमेशाहि लाई निबरी वयो सो धार ढचो। जड॒हि तह हिंदी-उर्दू-गुजराती गा॒ल्हिईंदडनि लाई लडवण 1954 में ई हमेशाहि लाई निबरी वई सिंधीयूंनि लाई अजु॒ ताई पहिजे पुरो रुतबे सां पई हले।

अजु॒ मूल सवालु इहो आहे तह आखिर छो हिंद जी सिंधी कयादत अहिडे मसले थे खामोश आहे। हिंदु छो पया लडनि.केडहि हातल सबब पया लडिनि, केरु थो खेनि लडण लाई मजबूर करे इहे सवाल हिअर कहिं खां भी गु॒झा नाहिनि रहया। अजु॒ सिंध में अकलितयनि जो हाल सजी॒ दुनिया जे आडो॒ आहे पर असां जी कयादत ई कजहि अहिडी खामोशी अक्तयार कई आहे जे असां खां पहिजनि ते थिंदड जूलमअ ते भी वाका करण नथा पुजि॒नि। हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जो इहो रदेअमल सिंधी हिंदु कयादत जो हिउ निहायत डुखाईंदड बाबु रहयो आहे।

हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि जा ब॒ह कदेवार अगवानअ जेके इअं त् पाण खे सिंध जा॒वलि करार डे॒अण में कड॒हि भी को हिजाबु कोन कयो आहे पर सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जे सुरनि ते वाईडो कंदड खामोशी अख्तयार कई। सिंध में हिंदु छोकरिन ते थिंदड लिंग-कंडा॒इंदड वारदातुनि समाजवादी पाईटी ऐं बी जे डी ताई खे संसद में वाका करण लाई मजबूर कया पर जेकरि के माठ रहया तह हिंद जा सिर्स ते वेठलि हिंदु सिंधी अगवान। न आडवाणी लफजु उकारियो ऐं जेठमलाणी जो की राजसथान मां राज्य सभा पारां चूडिजण जे बावजूद (जिते अजु॒ जी तारिख में 4 लख सिंध लड॒यलि हिंदु रहिनि था) का भी हलचल जो अंदेशो ताई किन डि॒ञो।

पिछाडीअ जे 65 सालनि में भी जेकरि सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जो वाउ साउ लहजे तह इहा हकिकत चिटी रित साबित पई थिये तह हिंदुनि जो सायदि ई को तब्को रहयो आहे जेको पाकिस्तान में इसलाम जे नाउ ते कयलि जूलमनि जी मार न् झेली हूजे। आम सिंधी मूसलमानि इअं 1947 खां अगु॒ वारी सिंध लाई जजबाती त् थिऐ थो पर पहिजे निजी फाईदे लाई मठजी वललि हालूतनि जो फाइदो भी हथ करण खां बी कबा॒ऐ नथो। वरि जेके जूलम नथा भी कनि से पहिंजे बचाउ में मिंहू –साईं इहो सब असां सा पई थिऐ थो जे साऐ हेटि पहिजो पचाउ जी वाठि नेठि गो॒ल्हे था लहनि। अंदरुनी सिंध में हिंदु ते जूलम जो डोहारी सिंधी मुसलमान रहया आहिनि जिनि खे पूरो फाईदो हूकूमती इरादनि डि॒ञो आहे। जिते किते भी हिंदुनि जू नयणयूं अग॒वा थियूं आहिनि, मलकतयूं हडपयू वयूं आहिनि, हिंदु मंदिरअ ढाहा वया आहिनि,  हिदु नियाणियूं खे इसलमा कबूल कराअण जो मिहू करे विकयो वयो आहे, इन हर वारदात में सिंधी मूसलमान खे भरपूर साथु अण सिंधी मूसलमान तोडे हूकूमती इरादनि ऐं सिंध जे  पीर- मिर-जागिर्दारनि जी कि हिक जेतरि भागेदारी तहत साथु डि॒ञो आहे।

सिंध में हिंदुनि लाई के घणयूं वाटयूं किन रहयूं आहिनि। सिंध में अगवानि में भी जिनि खां पहिंजे माण्डनि जा डुख नह सठा वया तनि ऐतजाज कयो पर नेठि मूल्क मां लिकी, रात जे उंधारे में खेनि लडणो पिणि पयो। इंहिनि मां व् नाला हवा श्री राम सिंह सोडा ऐं राम सिंह सोढा। दिलचसप गा॒ल्हि त् इहा आहे जे इहे अग॒वान नह रूगो॒ लड॒ण महलि ऐसेलमबली तोडे वजिरात जा मेमबर हवा पर थर परकार जा हवा जिते चयो थो वञे तह वध में वध हिंदु था वसिनि। जड॒हि चूंडयलि अवामी नुमाईंदनि जी ऐडही हालत हूंदी तह आम हिंदुनि जी केतरि हलिंदी पूजदी इन जो अंदाजो बखूबी लगाऐ थो सघजे।

सिंध में हिंदु हिक अहिडी रियासत में फाथल आहिनि जिते साणसि हिक इंसासन ताई करे कोन लेख्यो वेंदो आहे। हूकूमत भले पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हूजे या बे॒ कहि जी, हर सघेरे भोतार तोडे वडे॒रे खे खबरि आहे तह हिंदुनि लाई मर्दु माणहू थी बिहण जी कोई हिमथ शायदि को हिंदु मेडे सघिंदो। वरि हिक खामोश हिदुस्तान तोडे हिंदुस्तानी सिंधी समाज इन रियासती इरादनि जो हौसलो वधायो आहे। सिंध में बचयलि हिंदु नेठि जेकरि वोट डे॒ त् कहिंखे डे॒नि…। ब॒यो त् ठहयो पर हिअर त् कोमीप्रसतनि लाई पिणि मञयो थो वञे तह हो भी पया हिंदुनि खां भतो उघारिनि। मतलब हिंदुनि सां थिदड जूलमनि में कोई पोईते नथो रहण चाहे।

पाकिस्तनि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध यानी सिंधी आहिनि सो हिंदुनि खे इहा आस हूदी  हूई तह ब॒यो कोई न त् सिंध में संदुनि सुर पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी हिक सिंधी पार्टी हूअण सबब जरूर कहिं रित संजिदगी डे॒खारिंदी पर हिअर सा भी उमेदि नाहे रही। पिछाडीअ जे पंजनि सालनि में हर वडी॒ नंढी वारदात जहि में हिंदु सताया वया आहिनि भले इहो चक में हिंदु डाकटरनि जो कतल हूजे या रिंकल कुमारी या बे॒ कहि हिंदु नयाणी जो अग॒वा के स हूजे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जा अग॒वान मलूस रहया आहिनि। इहो सब इन जे बावजूद जे सिंधी हिंदु पहिजो हर हिक वोट प प प खे डे॒ थो। बाकि सिंध बचाओ कमिटि (सिंधी मूसलिम कोमिप्रसतनि जी जमायत) वारनि लाई त् चवण मूशकिल आहे चूंडियनि बैदि केर किथे हूंदो, इन हालति में हिंदु जे लाई चूंड जे डि॒हि या तह घऱनि में वेही रहणो आहे या न् तह बि॒हर प प प खे इन उमेदि सां वेट डे॒अणो आहे तह हो हिंदुन ते रहम खाई साणसि हिंक इंसान जेडहो वहिंवार कदी।

हिंदुस्तान जी सिंधी कयादत पहिंरिं नजर में जेतोणेकि सिंध जेडहि वेवसि न बी महसूस थिऐ पर इन में को भी शकु नाहे त हिंदुस्तान जा सिंधी हिक पार्टी जे जा॒र में मख्मल तोर फासी चुका आहिनि। हिंदु सिंधीयूंनि जो भाजप या हिंदु हिमायती पार्टीयूंनि डा॒हि झुकाउ सिंध में ई साफ नजर इंदो हो जड॒हि कांग्रेस हिक पासे सिंधी हिंदुनि खे मायूस कयो तह बे॒ पासि आर ऐस ऐस तोडे हिंदु महासभा हर मदद लाई त्यार हूंदी हूई। बदकिसमतीअ सां सिंधी कयादत हालितुनि सही रित समझण में कासिर रही ऐं विकहांङे बैदि इंदड माहोल खे समझी किन सघी, जहिंजो नतिजो इहो निकतो तह जड॒हिं हिंदुस्दतानि मां मूसलमानि काहि आया हिंदुनि खे पहिंजा जान बचाअण खां सवाई ब॒यो को चारो रहयो ई कोन्हि। हिंदुनि अग॒वानि जिनि जे आसिरे सिंध में जे विरहांङे की गा॒ल्हि ते माठ रहया से मिडई साईं हिंदुनि सां वडो॒ जूलम थियो नाहकु थियो वारे नारनि ताईं पाण खे महदूद रखो। अजु॒ भी जड॒हि सिंध जा शहर संदुनि हथनि मां खिसकी चुका आहिनि हो धारयनि जो सामनो करण लाई असुलि ई तयार नाहिनि, जड॒हि तह हिंदुनि जी लड॒पण अजु॒ भी पहिजे पूरे शबाब में पई हले।

रिवाजी सिंधी भले सिंध खसिजण जे मातम में अजु॒ बी बु॒ड॒यलि हूजिनि पर हिंदुस्तानि जी सिंधी कयादत 1947 वारी हिंदु कयादत जे नक्शे कदम ते हलिंदे 1947 में कयलि सियासी आपघाती कवायति खे वरजाअण में ई पूरी रही आहे। इहो ई सबब हो त जड॒हि 1971 वारे हिंद पाक जी लडाई में ज॒ड॒हि लग॒ भग पूरो थर परकार हिंदुस्तान जे हथनि में अची चुको हो हिंदुस्तान जी सिंधी कयाद तोडे सिंधी सियासी अगवान थर ते सिंधी हिंदुनि जी दावेदारी पेश करण जी सघ ताई किन मेडे सघया, इन लाई जाख़डो त परे जी गा॒ल्हि थी।

पिछाडीअ जे 70 सालनि खां अजु॒ ताई सिंधी कयादत हिंअर पिणि उते फातल आहे जिते अंग्रेजन जे डि॒हनि में हई। न पार्टीयूंनि जो वहिंवारु मठयो आहे न ई सिंधीयूंनि जो पहिजो किरदार मठण जी का चाहि ई डे॒खारी आहे । पहिंजो कोम खां अगु॒ पहिजे निजी फाईदे जी पचर अजु॒ भी संदुनि ते हावी रही आहे जेतरी सिंध में रहिंदे हूदी हूई। इहो हिक वडो॒ सबब आहे जे असीं हर चूंडनि महल सियासी पार्टीयूंनि खे मिंथा कंदे रहजी वेंदा आहियूं तह रहम करे हिक अध तकयूं सिंधीयूंनि खे डे॒। असी कड॒हि पाटियूंनि ते जोर विधो ई कोनहि वरि असां जो पार्टियूंनि डा॒हि वहिवार ऐतिरो तह रिवाजी थी पयो आहे जे को तमाम घणी सहूलाईअ सां सिंधी वोटनि जी आसानी  सां अग॒कथी करे सघबी आहे। फर्कु रूगो॒ ऐतिरो ई रहयो आहे जे कांग्रेसी जी जाई ते हिअर भाजप बिठी आहे।

राम जन्म भूमि वारो मसले ते भी असी पहिंजे कदेवार अगवान जी पुठिभराई में इअं त का भी कसर कोन छडी॒ पर मोट में थिंदड सिंध में हिंदुनि सां थिअल कहरनि खां बेखबरि रहयासिं। सवनि हिंदु मंदिरनि खे ढाहो वयो, हिंदु घर साडया या वरि हिंदु नयाणयूंनि खे अगवा कयो वयो। बलूचिस्तान में तह जिंदा माणहूनि खे साडयो ताई वयो। सिंधी कयादत हिक बर्फ सां जमयलि हिक गलेशिअर वाङुर ई रही, इन जे बावजूद जे तहि महल जे कदेवार बी जे पी अगवान श्री अटल बीहारी वाजपेई इन कहनि बाबत डुख ऐं अफसोस जाहिर कयो, पर असां जी सिंधी कयादत उते भी असां खे धोको डि॒ञो। सिंध जे हिंदुनि सां असांजी उहा इ वाठि आहे जेका बंगाल ऐं बंगलादेश जे हिंदु बंगालिनि जी या वरी हिंदुस्तानि ऐं श्री लंका में रहिंदड तमिल कोम जी। पर जड॒हि तह बंगाली ऐं तमिलअ पहिंजे रत लाई हाई गोडा कनि असी पहिंजनि लाई बेखबर रहूं।

सिंधी हिंदु कयादत खे जेकरि पहिजे ऐं कोम जो वजूद सोघो करणो आहे तोडे पहिजा हक हासिल करणा आहिनि तह खानि वोट बैंक जी सियासत मूयूनिसिपल तकयूंनि तां लोक सभा जे तकयूं समझणी वपंदी। साणु साण इन मटयलि कयादत जे जोर ते फहिजा ऐजेंडा भी रखणा पवंदा। बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि जे जहनि में इहो वेठलि आहे तह खेनि भापज इन रित इजत डि॒दी जहि रित खेनि हिंदु महासभा सिंध में रहिदे डिं॒दी हूई।

हिंदुस्तान में सिंधी कयादत खे वकत सा मठणो पवंदो, साणु साणु सिंधी हिंदुनि खे ..रूगो॒ लोहाणा (वाणिया) ई सिंधी लेखबा वारी कवायत मां निकरी हर सिंधी लडयलि हिंदु खे इपनाअणो पवदो, ढाटी तोडे कच्छी लहजो गा॒ल्हिइंदड भील, मेघवार, सोढा राजपूजनि या ब॒यनि जातियूंनि खे सिंधी मसाज हो हिस्सो मञणो पवंदो। हो भी असां वंहुरि सिंधी मूसलमानि जा सतायलि आहिनि जेडहा असां अहियूं । हूनिनि भी सागी॒ लड॒पण कई आहे जिअं असां जे वड॒नि कई। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि त असां हजारनि सालनि ताई हिंकु धी रहया अहियूं सिंध में।

सिंध जा हिंदु जेकरि कहिं डा॒हि आलयूं अखयूंनि खणि इन मूशकिल हालतुनि में डि॒सिनि था पया तह उहो आहे हिंदुस्तान में वसयलि हिंदु सिंधीयूंनि डा॒हि। इतहास अजु॒ वरि सिंधीयूंनि खे उन मोड ते वेहारो आहे जिते असीं 1947 में हवासीं। सिंधी कयादत खे संजिदगी डे॒खारिंदे पाण ते लगल मेरा दाग उघणा वहदां या न तह हिक मतलब-प्रत, समाज जो लिगाब पाअणलाई तयार रहणो वपंदो।

 

 

सूरअ पहिंजनि जा

 

सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी
सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी

साईं हिंदुस्तान वारा असां खे पाकिस्तानी हूअण जा मेहणा था डे॒नि, पाकिस्तान वारा असां खे हिंदुस्तानि जा ऐंजेंट करे था लेखिनि वरि सिंधी (हिंदुस्तान जा)  तह् असां खे सिंधी करे लेखिण लाई तयार नाहिन, असीं वञऊ तह वञउ किथे।

हे लफज हवा माली जातिअ जे हिक सिंध लड॒यलि नोजवान जा जेको हिअर जोधपूर में रहे थो ऐं सिंध मां लदे॒ इंदड हिंदुनि ऐं खासि करे भील मेघवार, कोली जातियूंनि खे हिंदुस्तानि जे सुबे राजस्थान में वसाअण से नसबत तंजीम सिमांत लोग संघठनि जे हिक अहम करूकनं मां आहे।

नोजवानअ जे लफतनि जी हकिकत जा॒णण लाई मूखे को घणो परे नह् पर जोधपूर में ई मिली जड॒हि जोधपूर जे सिंधी (लोहाणिनि) पंचायत जे हिक अहम ऐह्देदार मूंखे साफ चिटी रित मूंहू सामहूं बेहिजीबु चई डि॒ञो हो तह साई असीं खेनि (भील, मेघवार माली वगिराह) सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियूं। दिलचस्प गा॒ल्हि तह इहा आहे जे संदुनि राये जी उते मोजोद कहिं भी लोहाणे सिंधी पंचायति मुखातलिफ कोन कई। इहो सभ इन जे वावजूद जे भील मेघवार भले सिंध मां लडे॒ आया हजिनि या सिंधी ताईं गा॒ल्हिईंदा हूजनि। वरि जेसताई मसलो लडे आयलि हिंदुनि जे माडवारी  बो॒लीअ आहे ऐडहा जाम सिंधी भी आहिनि जेकि राजसथान में पहिंजे घरनि में माडवाडी पई गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर पहिंजनि खे पहिंजा करे लेखण लाई असूल ई तयार नाहिनि।

इहा ग॒ल्हि मूंखे पाकिस्तान पिसथापिथ संघ जे सदर हिंदु सिंह सोढा भी पई वाजी कई तह थर परकार में बि॒न किसमनि जा भील- मेघवार था रहिनि – हिकडा उहे जेके सालनि  अगु॒ राजस्थान मां लडे॒ वया ऐं हिअर पया मोटिनि पया ऐं बया जेके उतोउ जा मूल रहाकू आहिनि जेके ढाठी बो॒ली (सिंधीअ जो हिकु लहजो).गा॒ल्हिईनि आहिनि पर दिलचसप सवाल इहो आहे तह जेकर इहा गा॒ल्हि हिक लंङे मञे बी वठजे तह इहे लडीं॒दड भील मेघवार हितुऊ जा ई मूल निवासी आहिनि तह सवाल इहो भी आहे तह पोई छो विर्हांङे महल जड॒हिं जाम लड॒पण थी पोई हू छोन नह लडे॒ आया…. छोन नह अजु॒ ताईं संदुसि हिदुस्तान जा सागी॒ जाती जा हिंदु खेनि हिंदुस्तान में वसाअण जे नसबत हाई घोडा कोन कई।

ब॒यो तह् ठहयो पर अजु॒ भी जडहिं सिंध जे धर्ती धणी हिंदुनि खे सिंध मां लडायो पयो वञे ऐं लग॒ भग॒ हर वडीं नंढी हिंदुस्तान जी हिंदी तोडे अंग्रेजी मिडीया पाकिस्तान में हिंदुनि जूल्मनि खे झझो मोल ड॒ञो पयो वञे पई ऐं सिंध जे हूंदुनि बाबति अहवाल पई शाई करे पर इन जे बावजूद राजीस्तान में जहिं रित मारवाडी या हिंदी गा॒ल्हिईंडनि में हलचल डि॒सण में कोन आई आहे।

राजस्तान सुबे में जेकरि डि॒सजे तह तमाम घणयूं वडि॒यूं हसतियूंनि आहिनि जनि जो सिंध सा लागापा आहिनि। मसलनि अगो॒णो परडे॒हिं वजिर जसवंत सिंह जा नानाणा सिंध जे थार परकार जा आहिनि। हाणेको राजीस्थान सुबे जो वडो॒ वजिर (मुख्य मंत्री) श्री अशोक गहलोत पाण भी कबूल कयो आहे तो हो 1965 में सिंध मा लडे॒ आयो हो। जेकरि जातियूंनि जे नसबत डि॒सजे तह सिंध जे हिंदुनि जूं जातयूं ऐं सिंध जे पाडेसी सुबनि मसलनि गुजरात ऐं राजिस्थान में ईअं भी को घणो फर्कु नाहे। भील, कोली, मेघवार वगिराह जातियूं राजस्थानि ऐं गुजरात में जाम थयूं मिलिनि। कोली जातिअ जो गुजरात में खासो रूतबो आहे। पर जड॒हिं गा॒ल्हि सिंधी कोम जी थी पई अचे  नह जा॒ण कहि सबब हिंदुस्तान में सिंधी अण-लोहाणनि खे सिंधी ताईं कोन लेखिंदा आहिनि।।।।

मूल सवाल हित इहो आहे तह इअं छो आहे सिंध मां लडिं॒दड हिंदु दलितअ (जेतोणेकि मां भायां थो तह हू सोउ सेकिडो सिंधी ई आहिनि) अण सिंधीयूंनि में पहिंजी सुञाणप गो॒ल्हण लाई मांदा नजर इंदा आहिनि…छो हिंदुस्तान जो सिंधी समाज सिंध मां लडे॒ आयलि 4 लख भील मेघवार, सोढा राजपूतनि या कोली, माली जातियूंनि खे पहिंजो हिस्सो मञण खां हबकिंदो पई नजर इंदो आहे। हिकु ऐडहो कोम जहिं में जाती कड॒हि भी का खासि अहमियति कोन रखी उहा किअं ऐडहे समले ते खामोश रही आहे। मूमकनि आहे तह 1947 वारो विरहांङे सबब लोहाणनि ऐं अण लोहाणि में (छाकाण तह 1947 जी लड॒पण थर परकार में नह जे बराबर थी) विछोटयूं वधाऐ छड॒यूं ऐं रही वयलि कसरि सिंधीयूंनि पहिजें इतहास खां परे थी पूरी कई।

खैर, जोधपूर वारे ताजे दौरे जे पहिंरें डि॒हूं मूखे बु॒धायो वयो तह सर्कीट हाउसि पुज॒णो आहे। मूहिंजे साण दिल्ली मां आयलि हिक सिसर्चर पिणि हूई जेका पाकिस्तान मां ऐं खास करे सिंध मां  लडे॒ आयलि हिंदुनि बाबति का रिर्सच पई करे। सर्किट हाउस पुजिं॒दे ई मोजूद संगत सां हिक बे॒ खे पहिंजी सुञाणप जो सिलसिसो हलो, उते मोजूद माण्हूं इन गा॒ल्हि जी खास दिलचस्पी हूंई तह असीं मिडीया वारा आहियो तह नाहिंयूं । मोजूद माणहूनि मा हिकडे तह वडे॒ चाह सां हिक हिंदी अखबार में हिकु अहवाल पढायो जिनि में संदुनि तंजिम जे सदर जे जोधपूर अचण जो अहवाल शाई थिअल हूई। खैर इन बैदि गा॒ल्हि बो॒ल्हि जो सिलसिलो हूनिनि पाण ई शुरु कयो (संदुसि उहो गा॒ल्हि बो॒ल्हि घटि ऐं भाषण वधिक हो)। संदसि चवण हो तह असीं आदिवासीनि ते कम कंदा आयूं। आउं राजस्तान ईकाई जो सदर आहियो ऐं साईं (पहिंजे रहबर डा॒हिं इशारो कंदे) पूरे हिंदुस्तान जो। सांईजन श्री सोमजीभाई पूरो महिनो कशमीर खां कन्याकुमारी ताई दौरे में ई मुंझयलि रहिंदा आहे। नह रूगो॒ हिंदुस्तानि जा पर असी पूरे दुनिया में जिते भी अदीवासीयूंनि ते जूलम थिंदा आहिनि असी आवाज उथारिंदा आहियों।

हून पहिंजे रहिबर बाबति वाकफियति डिं॒दे चयो तह साईं सोमजीभाई गुजरात जे दाहोद मां छह घुमरा सांसद रही चूका आहिनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे चूंडनि में साई जन खटी किन सघया पर संदुनि वाकफियति हिंदुस्तानी जे लग भग हर सियासी अगवान तोडे पार्टी सां आहे। इअं ई हेड॒उ होड॒उ जा गा॒ल्हियूंनि जे मंझ में सिमातं लोग सघठन जा सदर अदा हिंदु सिंह सोढा अची पहूता ऐं असी सिंध मां लडे॒ आयलनि के जी बसती डा॒हि निकतासिं।

उहा बसती जोधपूर शहर खां 10-15 कोहि ते हूई । ईलाको पूरो विरान पई लगो॒। नह तह बसती में बिजली हई ऐं नह ही रसता पका हवा। घर सब  कच्ची झोपडीयूंनि वारा हवा जड॒हि तह बसती जो हेकलो स्कूल जी इमारत पकी हूई। हिंदु सिंह सोढा मेजिबु इन हेकले स्कुल जे पूठया वडी॒ मेहनत लगलि आहे। संदुनि वधिक  चयो तह भर में गैशाला ताईं खे छपर आहे जेको हूकूमत पारां ठारायो आहे पर इंसानि लाई जकहि करण अजायो कम पई समझे, ज॒णु टूकर जमिन ड॒ई हूकूमत थोडो लाथो अथउं।

इन जलसे जी रथा मोजिबु असां खे सिंध मां लडे॒ आयलनि भील- मेघवारनि जी हिक बसती में पूज॒णो हो जिते हिक आम मेड (हिक रित जी पबलिक हेअरिंग) जो इंतजाम कयो वयो हो। इअं तह मेडाडको 10 लगे शुरु थिअणो हो पर आदीवासी आगवानि जे देर सां पूजण सबब इहो लग भग॒ बा॒रहें लगे॒ शूरू थियो। अदीवासी अग॒वान जे आजां बैदि जलसे जी शुरिआत थी उते मोजूद सभनी पहिंजा पहिंजा विचार रखा जिन में के लडे॒ आयलि हिंदु भील ऐं मेघवार पिणि हूवा।

हिक वाईडो कंदड मंज़र इहो हो  तह जेतोणेकि अदावासी अगवाणि पूरी दुनिया जे आदीवासी खे मदद करण जी गा॒ल्हि पई कई पर खेनि सिंध जे दलितन बाबत जा॒ण नह के बराबर हूई। जड॒हिं तह राजिस्तान ईकाई वारे अगवान पहिंजे रहिबर जे खुशामंदी में पूरी तकरिर कई ऐं रहिजी वयलि वक्त जेतोणेकि भिलनि बाबत हो जहिं में हून भलनि खे कहि धार्मिक गुरुअ रित हिदायतूं पई डि॒नु। (हून खे संदसि विच तकरिर में इशारो कयो वया तह अबा हिंअर बस कयो)। संदुसि रहबर जेतोणेकि सिंध मां लडे॒ आयलि हिंदु सिंधी (लोहाणनि) बाबत जाम मिसाल डि॒ञा तह किअ हूं 1947 जे विर्हांङे के वक्त मर्द माणहू थी विठा ऐं पहिंजी हयातयूं कि वरि खां सवारियूं । हून भीलनि खे उन सरकारी जमिन ते कब्जो करण जी गा॒ल्हि कई जहिजो जो को दावेदार नह हूजे। पहिंजे तकरिर जे पिछाडीअ में हून दिलजाई डि॒ञी तह हूं दिल्ली में पुजी॒ जुदा जुदा दलित संसथाउं साणु गा॒ल्हिईंदो जिअं सिंध मां लडे॒ आयलि दलितनि बाबत कजहि करे सघजे।

सिमांत लोक संघटिनि जे कारूकनि मोजिबु जेतोणेक सोमजी भाई हे पहिंरा भेरो संदुनि जे कहिं मेडारके में मोजूदि रहयो आहे पर राजस्थान जो अगनाव सालनि अगु॒ नजर आयो हो पर इन बैदि गायब ई रहयो। इन जे  विच में सिंध मां जाम भील लडे॒ आया, डुख डि॒ठा, जाखडो कयो हून जो कड॒हि भी को अतो पतो नह रहयो। इहा गा॒ल्हि श्री हिंदु सिंह सोढा पिणि वाजि कई तह संदुसि इहा खुवाईश रहि आहे माडवाडी भीलनि खे भी सिंध में लडे॒ आयलि जे अग॒यां आणिजे जिअ इन खेनि उतसाउ मिले तह संदनि बिरादरीअ मां भी को ऐडही कामयाबी माणे सघयो आहे पर इन कम में खेनि का खासि कामयाबी कोन मिली आहे ऐं हिअर हू इन में को भी चाहि कोन वठिंदा आहिनि।

सिंध मां लडे आयल सिंधी भील या मेघवार रिवाजी सिंधीयूंनि खा तमाम घणो जूल्मनि जो शिकार हूंदो आहे। जबरनि इसलाम कबूलाअण, दीन-धर्म जे मञण जी आजादी नह हूजण, आम सरकारी सहूलितयूंनि खां महरूम कहिं मिरू खां भी बदतर हयाती गारिंदड थिऐ थो। इअं तह पाकिस्तान में हिदु थी रहण ई जूल्म करे लेखयो वेंदो आहे ऐं वरि जेकरि को दलित हूजे थो तह संदुनि छा गा॒ल्हि कजे।

जलसे में किन थोडनि भिलनि पिणि गा॒ल्हियो जहि जो चवण हो तह सिंध मां लड॒ण बैदि सिंध वारा जूलम तह् निबरी था वञिनि पर ब॒यूं तकलिफयूं खे मूहूं थो डे॒अणो पवे, असां जी इहा निमाणी मिंथ आहे तह हिंदुस्तान सरकार असां ते रहम करे असां खे मदद करे। साईं हिंदु सिंह सोढा पहिंजे तकरिर में के ऐडहो भी खुलासो पिणि कया जहि बाबत सायदि ई कहि खे का घणी जा॒ण हूंदी। संदुसि चवण हो तह जड॒हि सालनि बैदि भीलनि जे किनि आकहिंनि खे विजा मिलो सालनि जे इंतजार बैदि तह पाकिस्तान जे रेंजर तह खेनि वनण डि॒ञो पर हिंदुस्तानि जी बी ऐस ऐफ संदुनि ते गोलियां वसायूं जहि सबब के भील मारजी वया जनि मां हिक माउ भी हूंई जेका पंहिजे बा॒र खे पहिंजो खिर पई पियारे जद॒हिं संदुसि गोली लगा। हे सब इन्ही मूलक में पयो थिऐ जिते परडे॒हि मां जेकरि को पखि भी इंदा आहिनि तह कलेकटर उन पखियूंनि साण पहिजा फोटू खिचाऐ गिद गिद थिंदो आहे असां जा तह इंसान था अचनि जहिंसा मिरू खां भी बदतर वहिंवार पयो कयो वञे। असां खां इहे डु॒ख विसिरिया नाहिनि ऐं असी तेसिताईं माठ किन कंदासिं जेसताई असी भीलनि के कातिलनि खे सजा॒ किन था डेआरऊं।

इन मेडारके जे यकदम पोई हिंदु प्रेस कांफरेंस थिअणो हो पर पोई इहो बु॒धायो वयो तह सोमजी भाई तह अगो॒पोई जोधपूर मां निकरी चुका आहिनि। सिमांत लोक संघठनि जे कोरूकनि मोजिबु राजिस्तान वारे इकाई जे सदर इहो नह पई चाहियो तह हिंदु सिंह सरकार जे विरोध में कजहि गा॒ल्हिऐ सो कहि भी रित सोमजी भाई खे इन प्रेस कांफरेंस खे थिअण ई किन डि॒ञो। मायूस कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे इहो अग॒वान भील बिरादरीअ मां आहे ऐं पाण खे हिक अगवान जे हैसियत में पेश कंदो रहयो आहे।।।।

सोमजी भाई तह पहिजे तकरिर में तह भीलनि खे वांदी सरकारी जमिनि वालारण जी गा॒ल्हि कई पर इहो इंतहाई डू॒खयो आहे पक रित चवण तह जेकरि सिंध लड॒यलि भीलनि इअं कयो भी तह हूं केडही मदद कंदो पर इन तह पक आहे तह सोमजी भाई भीलनि लाई कहि  हद ताई जिक्रु जरुर कंदो इहा भी पाण में का नंढि हरकत नह समझण खपे।

लडे॒ आयलि को भी पाकिस्तानी भले हो दलित सिंधी हूजे या वरि रिवाजी लोहाणो हिंदु, मसला साग॒या ई आहिनि तह सत साल (जेकरि संदुनि माईट 1947 खां अगु॒ जावलि हूजिनि) जेसिताईं खेसि नागिरकता नथी मिले हो हिक लग॒ भग॒ कैदि वारी जिंदगी थो गुजारे। जहिं शहर लाई खेसि ऐल डी वी (ढघे अर्से लाई विजा) मिले थी तहि शहर जे 20 लिमोमिटर जे दाईरे में थो रहणो पवे। हर साल ऐल टी वी, पहिंजे चाहि जो कम नह करे सघण, बारनि जे स्कुनि में खाखिले में दिकत वरि पाकिसान मां अचण जो डो॒हू सो धार। सिंधी दलितनि लाई वरि गरिब हूअण (सिंध में भी दलित तमाम गरब आहिनि) हाथियूं हिक धार ड॒चो।

परसाल 1100 हिंदुनि जो जथो सिंध मां लडे॒ आया धार्मिक विजा जे तहत जिन मां 200 खां 300 बागडी कोम जा सिंधी हिंदु दिल्ली डा॒हि आया। बाकि 900 मां हिकु वदो॒ भांङो ईंदोर में ई रहयलि हो। इनहिनि बागडी कोम वारनि जाम डू॒ख डि॒ठा छाकाण तह संदुनि लाई हूकम ताईं जारि कयो वयो जिअ खेनि पाकिस्तान जबरनि मोकलो वञे। ऐं 1 डिसमबर जी रात खेनि दिल्ली जेडहे शहरि में जिते डिसबर जे महिने में जाम थद थी पवे खेनि यमूना के किनारे सठयो वयो। नेठि कनि हिंदु संसथाउ जी मदद सा इहो केसि दिल्ली हाई कोर्ट में टिन पेशिनि बैदि हकूमति धर्मिक जथे विजा दे॒अण जो फैसलो कयो। मजे जी गा॒ल्हि तह् इहा आहे तह इन फैसले जो फाईदो आम रिवाजी सिंधी लोहाणिनि पिणि वरतो पर इन जे बावजूद दलित सिंधीयूंनि सां ग॒ड॒जी जाखडो करण असुल ई कबूल नाहे।

सिंध जो थर वारो इलाको ऐतिहासिक तोर नह रूगो॒ भील मेघवार, सोढे राजपूजनि जो गड रहयो आहे पर सिंध जे हिंदुनि जो भी हिकु खसूसि ईलाको रहयो आहे। जड॒हि तह समूरो सिंध कशमोर खां संमूडी तटनि ताईं मूसलमानि जे हेठ हो इहो इहो थर ई हो जहिं सिंध जी हिंदु सकाफत जो मर्कज रहयो हो। थर परकार जी सखाफत ते जाम विदवानन पी ऐच डी ताईं कई पर इन जे बावजूद खेनि असीं सिंधी करे लेखण लाई तयार नाहियों।

सिंध मां हिंदु सिंधीयूंनि जी लड॒पण हिंद जे सिंधीयूंनि लाई हिक वडी॒ चूनौती आहे पर बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जेको रदेअमल डे॒खारो आहे हिंदुनि जे लडपण जे नसबत सो यकिनिं डु॒खाईंदड रहयो आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधीयूंनि खे इन पैमाने ते थिंदड लड॒पण सां वाकिफ नाहे ऐं ऐडही भी गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी कोम को ऐडहो भी बेवस आहे जे कजहि भी करे नथो सघजे। बिं॒हिनि वड॒यूं सियासी तंजमयूंनि में सिंधी मोजूद आहिनि। पर साल टे गुमरा सिंधीयूंनि जा जथा सोनिया गांधीअ साणु गड॒या जुदा जुदा मसलनि ते पर हिन साल जड॒हि की हिंदुनि लाई जाम मसला रहया आहिनि असां जा सियासी शिहिं खामोश आहिन ज॒णु कजहि थियो ई नाहे।

बी जे पी में जिते सिंधूयींनि जी ऐतरी वधीक नूमाईंदगी  सिंधीयूंनि जी रही आहे उते भी साग॒या मंज़र आहिनि। सिंधूंयूंनि लाई को भी को भी कुछण लाई तयार नाहे। जेतोणेकि बी जे पी सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदुनि सां थिंदड जूलनि जे नसबत आवाज उथारिंदी रही आहे पर इहा उमेदि करण भी आजाई आहे तह सिंधूंयनि जी लडाई भी बी जे पी करे सा सोचण डो॒हूं थिंदो।

सिंध में पाकिस्तान जा 95 सेकिडो हिंदु था वसिनि मतलब हू हिंदु सिंधी आहिनि। जेकरि को सिंध लडे॒ आयलि जा सुर समझिंदो तह उहो सिंध कोम ई आहे पर मसलो इहो तह किअं ऐडहे कोमअ खां का भी उमेदि रखजे जेको पहिंजनि खे भी पहिंजो समझण में हिजाब सरेआम कंदो रहयो आहे।

नह ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ईं ईझा रही छा कयूं ? 25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना

  • खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा मेघवार कुंटूंब पांद में सिंध जे वारी बु॒॒धी जीरो पोईंट तां घोडा घाम, जोधपूर असहया
  • ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ई ईझा रही छा कयूं …25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना
  • सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत अथव  धर्ती छडे॒ वेंदड मेघवार खांदान जी हंजियूं हारिंदे सिंधीयूंनि खे अपील 
  • पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके
  • चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं – धर्ती छडे॒ वेंदड

खपरो – (रिपोर्ट राजा रशिद कंभर) खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा 25 मेघवार कूटूंब बदनामी जी बाहि खां तंक अचि सिंध छडे॒ हिंद रवाना थी वया। सिंध छडे॒ वेंदड हिंद चेतन जय पार कांजी मेघवार सिंध जा वारी पहिंजे पांदन में छडे॒ बदनामी जूं डा॒हूं कंदा जीरो पोईंट जरिऐ जोधपूर जे घोडा  घाम रवाना थी वयो। कांभर दडे खां पोइ पिरूंमल शहर भी हिंदुनि खां खालि थिअण शुरु थी पयो आहे। पहिंजी धर्ती छडिं॒दे हिंदु खांदान हंजियूं हारिंदे चई रहा हवा तह  “जिते बच्चा  ऐं ईझा महफूज नह हूजिनि, उते रही छा कबो? . पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके,   चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं । इन करे दिल हारे मात्रभूमि खां मोकिलाऊं पया। अव्हां खे सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत हूजे”  बे॒ पासे हिंदु ऐकशन कमिटी जे अग॒वान डाकटर धर्मू खांवाणी चयो तह् “डि॒हूं डि॒हिं हिंदुनि सां जलम वधी रहयो आहे पर पोई धर्ती छड॒ण बजाई हिमत सा हालतियूं जो मूकाबलो करण घूजे”।

 

Plight of Hindus : The beleaguered minority community of Sindh, Pakistan

This report was published in Awami Awaz. The translated version is being published now.

Take a call – Either allow us to live or let us leave, Migration in Sindh in real terms had bitten even 1947 records : Hindu Member to Standing committee of Human Rights in National Assembly Pakistan

Awami Awaz:- Report-Sakheel Naich—The Standing committee of Human Right had recommended to the Govt. of Sindh that forcible conversation be stopped and action be taken against the responsible and legislation be drafted to in order to stop the migration of Hindus. Further legislation be drafted to stop incidents of Karo-Kari and Prison manual be modified in line with the present times. These were the main points discussed in the meeting of standing committee of Human Rights which was presided over by Ryaz Fatiyana who holds the chair of the commission as well. Incidentally in the meeting the data related  to Forced Conversation and Migration of Hindus as being put up by I G Sindhi from Sindhi were out rightly  rejected  by the Minority Hindu members of the commission . Speaking on the data put up by I G Sindh Falak Khurshid, Hindu MNA (Member of National Assembly Pakistan) said the level of Migration in Sindhi in the last 5 years have been much more compared to that of mass migration in 1947!! In Mirpur Khas alone there are reports of Hindered being already migrated. Additional IG Sindh said Hindus being a hardworking community and have of an progressive which is the reason why they are specifically targeted. President Zardari have already instituted a three member parliamentary  committee to look into the issue. MNA Aeresh Kumar Singh said that the data are far for being true. Indian minister had publically confirm that 500 families are already in India  and have expressed their willingness of staying here on long term. Majority of those Migrated once have refused to return. In Sindhi many more have been killed. If Hindus migrate it would spell disaster for us. Mr Mangal Sharma of Minority Alliance said  in September alone as many as 12 Hindu Girls have been forcefully converted to Islam. Among these 12 only one girl have been return to her family. As many as 7500 family have been migrated and in the last 20 yrs the data for migrated once put up the figure at One and half lacks. Not even 5% of the jobs are with Hindus. There is no Hindu personal Law Board as well. Mr Tikam Mal of Pakistan Hindu Council said forced conversion is the single most reason of Hindu Migration. We need to believe only on Hard facts. The Girl after being kidnapped for 20 days is being presented as Muslim , we are asking why a girl had to be made wife why nor a daughter or Sister ? We will earn money anyway but about humiliation that we go through? In case a law is drafted to make easier of Hindus being converted we would have no other option but to Migrate to India. “Either you let us live or let us leave” Additional IG Sindh on his part said that we are bonded by law of Land. As per law the boy and the Girls are presented to the court and it is up to the courts to issue the verdict . We merely comply with the court order. Mr Kashoor Zahiri MNA from MQM said Hindus love this country more than what we do. The present situations demand an through rethink of our attitude towards minority. This is a serious issue. This issue had tarnished the image of the country internationally. We need to draft a legislation so as an deterrent for such cases. Ramesh Singh of Minority Itehad said there are serious issue facing Hindus and so in the migration. Indian Minister says 1290 Families have migrated while 790 have already been awarded citizenships. Massive migration is on in Sukkur. In case ransom is the only solutions where is the role of Police !! Security should be provided to places of Worship belonging to Minority community. Satram Singh Domak of Baluchistan Assembly & Ram Sindg Sodha of Sindh had already migrated. If elected representatives don’t feel secure then who cares for common Hindu ? Give us the Rights what Quid Azam had promised. Immediately after the formation of Pakistan, Quid had the parliament presided by an Hindu Jogindernath Mondal. In Pakistan it was Hindu M P singh would used to speak of Sacrifice for the state  of Pakistan. In case Pakistan is in distress it is the minorities who would stand tall. Aresh Kumar Singh  MNA said that let police clarify where they have received any Government policy  to expedite the exodus of Hindus from Pakistan.  Let police clarify we won t raise hue and cry on the issue. MNA Inayat Allah said act against Hindus is an terrorist act, it is indeed shameful that Hindus are migrating. We have been hearing since the last 20 years of the presence of Private prisons. Hindu personal Law must be enacted. Cases against the Hindus needs to be tried in Special courts similar to that of terror courts like ATC. Minorities are our assets. We can’t tolerate their exodus. Special Secretary Home Mudasar Iqbal said in order to secure minorities as have constituted  committee in every district  of Sindh under Dy Commissioner which would include five minorities members apart from SSP. In the meet chairman of the commission Rayaz fathyana said there is no doubt  that non Muslims have equalrights as Muslims . Quaid in his 11 August Speech have clearly laid out the principles of equality. The venom of Militant Islam was speed by Gen Zia and we are facing the consequences of his adventurism. Legend has it that when in Chertal , Kashas community was being forcefully converted to Islam by some fanatics , then great prophet had issues stern dictates that henceforth all should have equal rights. Today if Hindus are being kidnapped, their daughters being forcefully convert, it is the duly of the STATE to provide security to the Hindus. When some Christians were terrorized in Gungarawala we protested in strongest possible terms. This commission recommends to the government of Sindh to install secrete CCTV in religious places belonging to the minority community and those cameras should be connected to nearest Police stations. Security of all religious places belonging to the minority community is State responsibility. We recommend a separate legislation to prevent forced conversation of Hindu Girls. The existing criminal Law should be amended to provide safe custody of the girls for a month. Within that period nobody should  be allowed to meet her. Additionally we recommend that religious places be in charge of an officer belonging to minority community. Minority community leaders should meet Spl Secretary Home for 2-3 hours on Monday. Henceforth a strong massage should be communicated that atrocities will not be tolerated. Hindus should not me forcefully converted. A separate cell is to be created to redress the issue on force conversion. A Quota of 5% reservation of Jobs for Minority is to be implemented. We will meet again in 2-3 months to take a stock of the situation. In the Meeting Riyaz Faiyana complemented that Sindh Police had opened a cell to redress the issue. Sindh Government should start some form of communication with religious leaders. Civil society too should be in the loop. Media should asked to cover such activity so that Executive & Judiciary could take notice of the menace of Karo Kari. We appreciate the work of UNDP who had done a commendable word for its eradications. This committee expresses deep concern for the incidents of Honor killings in the name of Karo Kari. As regards the prison reforms Ryaz Fatyana said that a recommendation is being sent to Sindh govt through Prison dept. secretary to immediately change Prison Manual. Imitates should be provide with telephone services. Those who are for smaller crime should be provided with opportunity of bail where ever possible. Imitates should be provided with access to lawyers. Games should be allowed in Jails. Television should be allowed in Prison with a large screen. The committee recommends written request for major newspaper to supply of News paper . Additionally dept should provide newspaper stand. Regular medical checks should be carried out in prisons including Hepatitis B are other disease .

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – हिंदु अगवानि जूं दाहिं

हे अहवाल सिंधी मां शाई सिंदड अखबार अवामी आवाज मां लरतल आहे। सिंधूयूंनि जे समझ लाई हित देवनागरी लिपीअ में शाई कजे थो

मूल लेख की लिंक

http://www.awamiawaz.net/%D9%81%D9%8A%D8%B5%D9%84%D9%88-%DA%AA%D8%B1%D9%8A%D9%88%D8%8C-%D8%B1%D9%87%DA%BB-%DA%8F%D9%8A%D9%86%D8%AF%E2%80%8D%D8%A4-%D9%8A%D8%A7-%D9%84%DA%8F%D9%8A-%D9%88%DA%83%D9%88%D9%86%D8%9F-%D8%B3%D9%86/print/

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – सिंध मां 1947 खां भी लड॒पण पई थिऐ – इंसानी हकनि जी स्डिंडिग कमिटी जे आडो॒ हिंदु अगवानि जूं दाहिं

कराची (रिपोर्ट शकिल नाईच)- इंसानी हकनि बाबति कोमी ऐसमबली जी ऐसटेंडिग कमिटी सिंध सरकार खे सिफारिशयूं कयूं आहिनि तह हिंदुनि जो जोरी मज़हब (धर्म) वारे अमल खे रोकण ऐं हिंदुनि जे आग़वा जे डो॒हारिनि खिलाफ कार्वाही करण ऐं हिंदुनि जे लद॒पण खतम करण लाई कानुनसाजी कई वञे। सुबे जे अंदर कारो कारी (हिक प्रथा जिन में शक जे आधार ते मूसलमानी पहिजे उलाद जो खासि करे नियाणियूंनि जो कतल कनि) जे खातमे लाई सख्त कानून ठाया वञिनि ऐं जिल मेनूअल हाणे तबधील करे जदाऐद दोर मूताबिक जा जेल मेनूअल ठाया वञिनि। इहे गा॒ल्हियूं जूमे डि॒हूं ऐस्टेंडिग कमिटीअ जे चेअरमैन रेयाज फतयाना जे सदारति में थिअल इजिलास में कयूं वयूं। इन मोके ते ऐडिशनलि आई जी सिंध पूलिस पारां हिंदुनि के अगवा ऐं लड॒पण बाबति पेश अंग अखरनि खे कोमी ऐसेल्मबली जी ऐसटेंडिग कमिटी ऐं अकलमत (अल्पसंख्यक) तंजमयूं जे ऐहदेदारनि रद करे छड॒यो। इजलास में ऐडीशनलि आई जी फलक खुर्शिद अंग अखर पेश कया तह् केतिरा हिंदु अगवा थियलि आहिनि ऐं केतिरा हितोऊ लडे॒ वया आहिनि … इन ते ऐम ऐन ऐ ( मेमबर नेशनलि ऐसेलबली) अरेश कुमार सिंह चयो तह पंजनि सासनि में ऐतरी लड॒पण थी आहे जेतरि 1947 में भी नह थी हूंदी, सिर्फ मिरपुर खास में सवन माण्हूं अगवा थियलि आहिनि ऐं हितोउ खां लडे॒ वया आहिनि। ऐडिशनलि आई जी चयो तह हिंदु मेंहिंती आहिनि सो खेनि टारगेट करे निशाणो पयो बणायो वञे। हो हर शबऐ में कामयाब आहिनि। सदर जरदारी टिन मेम्बरनि जी कमिशन जोडी आहे। आरेसर कुमार सिंह चयो तह असां खे अन अंग अखरनि ते कतई ऐतबार नाहे। हिंदुस्तान सरकार पाण चयो आहे तह् सिंध मां आयलि 500 हिंदु खांदान इते तर्सया पया आहिनि ऐं वापस वञण खां इंकार कयो आहे। केतिरा हिंदु कतल भी थिया आहिनि, जेकरि हिंदु नह रहया असीं तबाहि थी वेंदासी। हिंदु माईनार्टी ऐलाईंस जे मंगला शर्मा चयो तह सिर्फ सेपटेंबर में 12 हिंदु छोकरियूं मसलमान बणायूं वयूं आहिनि इन्ही मां सिर्फ हिंक हिंदु नेंगरी वारिसन खे मोटी मिली आहे। हिंतोउ सिर्फ हिक साल में साढा सत हजार हिंदु खांदान हिंदुस्तान लडे॒ वया। गूजरलि 20 सालनि में डे॒ढ लखु हिंदु लडे॒ चूका आहिनि। सिंध में पंज सेकिडो नोकरयूं भी हिंदुनि जे हथ में नाहिनि। हिंदु पर्सलनि ला (कानून) भी नाहे। हिंदु काउंसिल जे टिकम मल चयो तह हिंदुनि जी वडी॒ तकलिफ इहा आहे तह खेनि जबरदसती मूसलमान बणायो वयो वञे।  असां खे इन सिलसिले में हकिकत में ऐतराफ करण घुरजे, छोकरि खे 20 डि॒हनि में कोर्ट अंदर आणे मूसलमानि हूअण जो बयान था देअरो ऐं आडही छोकरि खे धीअ, भेण बणाअण बजाई शादी छो पई करई वञे ??. असां पैसो तह कमाऐ वठींदासि पर इजत वापस नह मिलिंदी। असां खे नौकरियूं, तरर्कियूं , कम नह घुगजिनि. असी अकलमियत (थोडाई) में आहियूं, असां जो कमु फर्मानबरादरी करण ऐं समाजिक तालूक बेहतर बणाअण आहे। हाणे वकत अची वयो आहे तह असां खे रहण दि॒ञो वेंदो या लडो॒यो वेंदो. .जोरी मूसलमान करण जो ऐतराफ कंदे कानून ठहयो तह असी दडे॒ वञण ते मजबूर थिंदासि। “या तह रहण ड॒यो यह भज॒ण डि॒यो”  ऐडीशनल आई जी चयो तह असां कोनून जा पाबंध आहियूं। कोनून मूताबिक नेंगर ऐं नेंगरी खे अदालत में पेश कंदा आहियूं, पोई जेको फैसलो अदालत कंदी आहे उन ते अमल कंदा आहियों। ऐम कयू ऐम जे ऐम ऐन ऐ कशूर ज़रही चयो तह हिंदु असां खा वधिक देश भग्त आहिनि, वाक्ई असां खे हाणे सोचणो खपे ऐं आमली कदम खणणा पवंदा, हे संगिन मसलो आहे। आमली लेविल ते मूसलमान बणाअण वारे मामले ते पाकिस्तान जी बदनामी थी रही आहे ऐडहो कोनून ठायो जो अगते को भी इंअ नह करे सघे। माईनारटी अतहाद जो रमेश सिंह चयो तह मसला आहिनि इन लाई तह हिंदु लडे॒ था वञिनि। हिंदुस्तान जो वजीर चवे थो तह 3 सालनि में 1290 खांदान पाकिस्तान मां हिंदुस्तान आया ऐं 790 खे शहरियत (नागरिकता) भी मिली वई आहे। शखर रेंजनि मां घणा हिंदु लडि॒नि था, जेकड॒हिं असा खे अगवा थिअण बैदि भूंग (फिरोती) दे॒अणी पवे तह पूलिस जो केडहो कम । अल्पसंखयक (धार्मिक)  जो तहफूज कयो वञे। बलूचिस्तान जो ऐम पी ऐ (ऐम ऐल ऐ) सतराम सिंघ डोमक ऐं सिंध जो ऐम सरहिंदो चयो असां खे काईदे आजम वारा हक डे॒यो। काईदे आजम पाकिस्तान जी पहिरीं सदारत जोगिंरनाथ मंडल खां कराई। पाकिस्तान ते सभनी खां अगु॒ तिर खाअण जी गा॒ल्हि ऐम पी सिंघा कई हूई। पाकिस्तान ते डू॒खयो वकत आयो तह पोई अल्पसंख्यक अगु खां अग॒ते रहिंदा। ऐम ऐन ऐ अरेश कुमार सिंह चयो तह सिर्फ पूलिस इहो बु॒धाऐ तह छा इहा सरकार जी पालीसी आहे तह अलपसंख्यक लडे॒ वञिनि!!! जे इअं आहे तह बुधाऐ छडो॒ तह असीं चूप करे वेही रहिंदासी। ऐम ऐन ऐ इनायत अल्लाह चयो तह हिंदुनि सां थिंदड कार्वाही दहशदगर्दी आहे। इहा शर्म जी गा॒ल्हि आहे जे हिंदु इतोउ खा लडे॒ वञिनि। असां 20 सालनि खां सिंध अंदर निजी जेलनि जो बू॒धोउ पया। हिंदु पर्सनल ला ठाहयो वञे। हिंदुनि खिलाफ डा॒ढाईनि जा केस देहशदगर्दी जे खातमे वारे केसनि वाङुरु ऐ टी सी अदालतुनि में हलाया वञिनि। थोडाईवारी बिरादरी असांजो किमता सरमायो आहिनि, असां संदुनि लड॒ण खे बरदास्त नथा करे सघऊं। ईसपेशल होम सेक्रेटरी मूदसर ईकबाल चयो तह हाणे असां हिंदुनि जे तहफोज लाई हर जिले में डेपटी कमिशनर जे सर्बरादीअ में कमिटूयूं ठाहयूं आहिनि जिन में ऐस ऐस पी ऐं पंज अल्पसंख्यक बिरादरी जा नुमाईंदा हूंदा, इन मोके ते खिताब कंदे कमिटी जे चेअरमैन रियाज फतयाना चयो तह इन में को भी शक नाहे तह थोडाई वारे कोम खे भी ओतिरा ई हक मिल्यलि आहिनि जेतिरा मूसलमानि खे आहिनि। काईदे आजम जी 11 अगस्त वारी तकरिर में मजहब बाबत चयो हिते को भी बालातर या मातहत नाहे, असा वठ मजहबी जनूनेत जो कलचर जियां उल हक पैदा कयो ऐं हून नफरत जो बि॒जु॒ पोखियो जेको असी अजु॒ भोगियूं पया। चेतराल में केसाश नसल खे मूसलमान करण लाई कजहि इंतहा पंसंदी उते पहूता मके जे फतहि वकत हजरत पाक सली अल्लाह वसलम वाजिहि ऐं सख्त पेगाम दि॒ञो हो तह अजु॒ खां पोई सभनि खे हिक जेतरा हक हासिल हूदा। अजु॒ पाकिस्तान में हिदु अगवा वया थेनि, संदुनि नेंगरिनि खे जोरी मूसलमानि पयो कयो वञे, हिंदुनि जे तहफूज जी जिमेवारी रियासत जी आहे। गुंजरवाला में ईसाईंनि साणु इंतहापंसंदी डा॒ढाई कई वई तह असीं वाजी लफजनि में मजमत कई। हिन हकूमत सिंध खे शिफारशू कयूं तह थोडाई वारे कोमनि के ईबादतगारि ते गु॒झयूं केमेरा लगायूं व़िनि जहिं जू कनेकशन थाणे सां हूजिनि। थोडाई वारे कोमनि जे इबादतगारनि जी जिमेवारी रियासत जी आहे। हिंदु छोकरी जे मूसलमान थिअण लाई धार कोनून सिंध सरकार ठाये ऐं इन द॒स में क्रिमिनल कानून में तरमियम करे छोकरीअ खे “सेफ हाउस” में रखयो वञे ऐं खेसि हिक महिने ताईं कहिं सा भी मिलण नह डि॒ञो वञे। औकाफ खाते में थोडाई वारे बिरादरी ऐबादतगाहिनि जी सार संभाल लहण अकलियत बिरादरी जे आफसर खे डि॒ञी वञे सूमर दि॒हिं अकलियत बिरादरी जा नुमाईंदा इसपेशल होम सेक्रेटरी होम मूदसर इकबाल साणु ब॒ टे कलाक गद॒जाणी कनि। हून चयो तह हिअर सभनी दा॒हि इहो सख्त पैगाम वञणो घुरजे तह् अकलतियूंनि सां डा॒ढायूं बरदास्त नह कई वेंदी। खेनि जोरी मजहब बदलाअण ते मजबूर नह कयो वोंदो। खेनि अगवा नह कयो वेंदो आई जी सिंध पूलिस जे आफिस में हिकु सेल कायम कयो ऐं इन जी ओज सा मिली अंगनि अखरनि जी भेटि कयो, नोकरयूंनि में पंज सेकिडो कोटा अकलियतिनि खे दि॒यो असा बि॒हर बी॒ टीन महिनिन में इंदासी तबधीली अचण घुर्जे। इजलास में कारो कारी बाबति रियाज फतियाना चयो तह सिंध पूलिस हे सुठो अमल कयो आहे जो 1213 सेल खोलयो आहे। सिंध सरकार खे घुर्जे तह कारो कारी जे खातमे लाई मजहबी अग॒वान आलिमनि साणु राबतो कयो वञे। तालिमि अदारनि में कारो कारी खे निसाब में शामिल कयो वञे ऐं इन मूहिम में सिविल सोसाईटी खे भी शामिल कयो वञे, मिडिया खां मदद वरती वञे तह जिअ मिडीया जे खबरूनि जो नोटिस संसद ऐं अदालत वठनि। असीं यूं ऐन डी पी जा भी शुकरगुजर आहियूं जे हो कारो कारी जे खातमे लाई कम करे पई । हिन ऐसट्डिंग कमीटी खे कारो कारी ते गण॒ती आहे ऐं सिंध हकूमत खे शिफारिश थी करे तह इन मसले खे हल करे। सिंध जे जेलनि बाबति रियाज फातियाना खाते जे सेक्रेटरी अली हसन बरोही जरिऐ सिंध हकूमत खे शिफारिश कई तह जेल मेमूअल में हिअर ई तबधीली कई वञे। कैदिनि खे फोन जी सहूलियत डि॒ञी वञे। नंढे डो॒हनि वारनि खे जमानत कराई वञे। जेलनि में सब-पोस्ट आफिस कायमि कराई वञे। जेलनि में अखबारनि जा इसटेंड लगाया वञिनि। अखबारनि के मालिकनि खे लिखित में दर्खासतयूं डि॒नियूं वञिनि तह हो जेलनि में मूफ्त में अखबारु डे॒नि, जेलनि में रांदियूंनि जो बंदोबस्त कयो वञे, जेलनि में नंढयूं बेरेकनि में घणनि कैदियूंनि खे बंद करण वारो सिर्सलो बमद कयो वञे। हेपटाईटिस समेत सभिन बिमारियूंनि जी टेस्ट वरती वञे। जेलनि में वड॒यूं इसक्रिननि वारयूं टी वी लगा॒ऐ फिलमसूं डेखारयूं वञिनि। कैदिनि जा ऐकाउंट खोलया वञिनि जिअ संदनि मेहनत मजूरि जो मोआफजो ऐकाऊंट में जमा कराऐ सघजे। कैदिनि खे वकिलनि साण मिलण डि॒ञो वञे। कैदियूंनि जो नफसयाती माहिरनि खां पिणि ईलाज करायी वञे कैदिनि खे कट कार्ड डि॒ञो वञे जहिं में हिनिन जा तफसिल लिखयलि हूजिनि।

 

 

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

इत्हास ऐं उन ते दारूम्दार रखिंदड कोमिप्रसती सिंधूनि (हिंदु बरादरीअ) ते कद॒हि को घरडो असर कोन छद॒यो, ना ही सिंधीयूंनि को इत्हास खे याद करण या उन मां सिख वठण जी का जरुरत ई महसूस कई आहे। पहिंजी विञायलि विरासत खां परे थियलि सिंधी बिरादरी पिछाडीअ जे 1300 सालनि में रूगो॒ पहिंजे पाण खे जिंदो रखण ही हिक वदी॒ किरामत पई समझी आहे। इहो ई सबब आहे जे माहाराजा दा॒हिसेन बैदि असीं ऐडही का भी सियासी शख्शियत तोडे सोच कोन पैदा करे सघयासीं जेका सिंधी हिंदु बिरादरीअ खे कही हद ताई पहिंजी विञायलि विरासत खे बि॒हर हासिल करण लाई जाखडे लाई तयार करा सघे।

अंग्रेजन जे सिंध फतहि खां अग॒ हिंदु सिंधीयूंनि जी हालत बाबत सिंधी  लेखक लाल सिंह हजारीसिंह अज॒वाणीअ लिखे थो तह जेतोणेक अंग्रेजन जी हकूमत पिणि हिक परदे॒हि अण सिंधी हकूमत हई पर उहा हकुमत हिंदु सिंधीयूंनि लाई बे-ढप जिंदगी गा॒रण जी राह खोली । जेतोणेक अंग्रेजअ पिणि परदे॒ही हवा पर हिंदुनि खे हजारल सालनि बैदि मूसलमानि हूकूमरानन जे  जुलमनि खां निजाद मिलि। (हवालो द हिस्टरी आफ सिंधी लिटरचर, साहित्य अकादमी नई दिल्ली)। इहे हकिकतूं इन गा॒ल्हि जी शाहिद आहिनि तह महाराजा दा॒हिर सेन बैदि ऐं अग्रेजनि जे सिंध अचण ताई सिंध जी हिंदु बरकादरी हमेशाहि पहिंजो वजूद खे सोघो करण में ई पूरी रही।

बदकिसमतीअ सां पहिजे विरासत खां भिटकयलि सिंधी कोम अंग्रेजनि जे दि॒हिनि में समाजिक तोडे सियासी रित उभरी तह अचण में कामयाब थी- पर ऐडही हालतुनि जे मार्फत पहिजे वजूद खे सोघो करण बजाई खवाह ऐडही का भी सियासी सुजाग॒ता कोन पुख्ति रित अवाम अगयां अणे किन सघी जहिं सबब पहिंजो वजूद ऐं इंदड टेहीअ लाई सिंधी थी हूअण जी राहि कहि कदुर सहूली थी सघे।

विरहांङे महल सिंध में हिंदु  सिंधी बिरादरी, सिंध जे मूल आबादीअ जी 35 सेकिडो हई, इहा भी पहिंजे पाण में हरु भरु का नंढी आबादी नाहे। साणु साणु इअं भी मूमकिनि नाहे तह अंग्रेजनि हिंदुनि खां संदुनि मस्तकबिल (भविष्य) बाबति रायो किद॒हिं जा॒णण की कोशिश ही नह कई हूजे। इहो किअं मूमकिन आहे तह जेका विरादरी सिंध में ऐतरी कदर उभरू आई आहे, नोकरशाही, तालिम तोडे धंधे में जहिंजो ऐतिरो रुतबो हो तन खे नजरअंदाज करे अंग्रेज रूगो॒ सिंध ऐसेलंबली में घणाई में रहिंदड सिंधी मूसमानि खे ई रूगो॒ ऐहमियत दि॒ञी हूजे।

इत्हास गवाह आहे तह इहा बिलकुल पक हूई तह हिंदुस्तानि जे मूसलमानि पारां लद॒पण थिंदी। लद॒पण जा गा॒ल्हि नह रूगो॒ मौलाना अबू कलाम आजाद सरेआम कंदो हो पर केरु थे विसारे सघे पीर महमद राशदी ऐं जी ऐम सईद खे जनि खे हिदुनि जो उबरी अचण अची ऐतिरो सतायो हो जे बिहारी ज॒टनि आगा॒या पहिंजा मूल्क हूंदे, पहिंजो हथनि में हूकूमत हूंदे पहिजा गो॒दा॒ टेकया ज॒णु हिंदुनि संदुसि उथण वेहण हराम कयो हूंजे। हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो सभ काफि किन हो इहो समझण लाई तह हिंदुनि जी सिंध में हालत सागी॒ कोन रहिंदी !!!

सवालु इहो भी थो अचे तह केडही सोच तहत ईहो ममझयो वयो हो जे सिंध दा॒हिं हिंदुस्तान मां मूसलमान जी लद॒प नह थिंदी। जेकरि लद॒पण नह भी थिऐ तह छा सिंध जा मूसललिम लिगी अगवान जनि पहिंजो सियासत रूगो॒ हिंदुनि जी मलकतयूं फबा॒अण जे हिर्स नसबत कई से हूकूमत में अचण बैदि माठि करे वेहिंदा। छा साणसि विसरी वयो हो तह किअं सिंध जो बंबई प्रेसिडेंसी मां धार थिअण या वरि मसजिद संजीलगाह वारा मसला रातो रात सिंध जा मसलना खा वदा॒ हिंदु मूसलिम जा मसला करे पेश करण में कामयाब थीया हवा। तह किअं हर मसले ते सिंध जा मूसलिम लिगी॒ अल्हा बख्श सा वेरु पातो हो ऐं नेठि तंदुसि खे शहिद करे ई माठ थिया। अल्हां बख्श सूमरो तोडे भगत कुंवर जूंदतु उन वक्त जूं वद॒यूं ऐतहासित वारदातूं हयूं जहि खे असी सही रित समझण में कोन सघयासिं। इन जे तह ताई कोन पुजी॒ सघयोसिं।

अल्हां बख्श जी हूकूमत जेका हिंदु मेंबरन की मदद सा ढही। जी ऐम सईद, पिर मूहूमद राशदी, आब्दुल माजीद सिंधी, अयूब खूरो तह अग॒वाटि ई अल्हां बख्श के कद हवा पर छा इहो नाहे तह सिंध जे तहि महल हिंदु मेमबरनि अल्हा बख्श जी हूकूमत ढाहे इनहिन सिंध दुशमनि जा हथ सोघा कया ? छा असी सिंध पिछाडीअ जे 80 सालनि में कद॒हि इनहि सियीसी गलतियूंनि खां सिख वठण जी कोशिस कई आहे ? इहो सबब हो तह जद॒हि हिक पासे सिंधी मूसमानि हिदुस्तानि मां लदे॒ इंदड मूसलमानि खे वसाअण में पूरा हवा बे॒ पासे हिंदु सिंधी पहिजे ई मूल्क में परदे॒हि थी पया !!! सिंधअ मां लदे॒ आयलि हिंदुनि लाई जाखडो कंदड श्री हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे –साईं जेकरि जेरामदास दौलरराम जा वारिसअ लद॒नि हा तह भी समझी सघबो हो पर हो पर हो तह पाण ई लद॒पण कई। जद॒हि पाण ई लद॒णो सोसि तो हून केडही सोच तहत ईहो रायो दि॒ञो हो तह सिंधी हिंदी विरहांङे बैदि सिंध में ई रहा सघींदा !!!!!

गा॒ल्हि रूगो सिंधी सियासतदानि जी ई नाहे। पिछाडीअ जे 65 सालनि में जेकरि कहि जो सिंध सां सांधई वाटि रही आहे सो आहिनि सिंधी साहित्य जी लेखक बिरादरी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंद जे सिंधीयूंनि लेखकनि खे सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति खबर नह हूदी पर इन जे बावजूद संदुनि के लिखणी तोडे वातोऊ कद॒हि भी हिदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति शायदि ही को लफजु उकिरो।

मां जद॒हिं ईंडयनि इंस्टियूट आफ़ सिंधोलाजीअ जे डाईरेक्टर श्री लखमी खलाणीअ सां सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि जो जिक्रु कयो तह संदुनि पिणि चवण हो तह असी सिंध मां निकरी आयासी इहा भी का नंढि गा॒ल्हि नाहे। जेकरि असी पिणि तहि महल सिंधी मूसलमानी के कुडी दिलजाई ते वेसाउ कयूं हा तह सायदि रतु जा गो॒डहा असां खे भी वहायणा पवनि हा। इहो नह नह हूनि अग॒ते चया आऊं सिंध जे शिकारपूर शहर में ऐडहनि सिंधी वाणियनि सा भी ग॒द॒यो होसि जेके लद॒ण लाई मांदा पई नजर आया। संदुनि चवण हो तह जेकरि पहिजी मलकतयूं को अधके अध में भी को जेकरि जो वणजण ताई त्यार होजे तह भी विकणे लदे॒ हिंदुस्तानि सुख जो साहू वठऊं। बदकिसमतीअ तह इहा इ रही आहे जे ऐडहयूंनि हकिकतुनि जो कद॒हि भी जिक्रु करण वाजिबु किन समझयो आहे ।

जिन विरहांङे बैदि सिंध में रही सठो सो भी खुली तोर लिखण खां पासिरा ई थिंदा रहया आहिनि। सिंधी कवि हरी दरयाणी दिलगीर जो कि 1965 में सिंध मा लदे॒ गांधीधाम वसो। पहिंजी आत्म कहाणी में संदुनि रूगो॒ इशारा दि॒ञा हवा तह किअ सिंधी में विर्हांङे बैदि माहोल जो फाईदो सिंधी मूसलमान पई वठण शुरु कयो। हून पाण भी लिखो आहे तह विरहांङे बैदि उमालक हिंदुनि पाण खे हिक म़टयलि सामाजिक माहोल में पातो जहिंजो फाईदो हर तब्के जे सिंधी मूसलमानि कहि नह कहि सतहि ते पई परतो।

हिंदुस्तानि जे सिंधी लेखकनि इंअ तह लद॒पण या 1947 ताई हिंदु मूसलिम माहोल बाबत तह जाम पई लखो पर जेसिताई 1954 बैदि थियलि लद॒पण ऐं सिंध में सिंधी समाज जी गा॒ल्हि कजे तह हूनिनि माठ रहि रूगो॒ सेकूलरिजम जी कूडी माला ई जपण में पहिंजी भलाई समझी आहे। इहो ई नह पर अजु॒ भी जद॒हि सिंध जे हिंदुनि पारां या वरि किन सिंधी कोमिप्रसतनि पारां पूरे सिंध में लद॒पण जे विरोध में ऐतजाज पया थेनि, दे॒ह – परदे॒हि जी अखबारुनि में सांधई अहवाल पया शाई थेनि शायदि ई कहिं सिंधी लेखकनि तोडे लेखिकाऊ सिंध में बचयलि हिंदुनि के सुरनि बाबत कजह लिखण जी जरुरत महसूस कई आहे!!!

सिंध में खासि करे मूसलमानि में लद॒पण जे नसबत सभिनि खे पहिंजा पहिंजा राया आहिनि। को चवे तह साईं हिंदु द॒कणा थिंदा आहिनि सो था बदमाशनि जे जूलमनि खां था पया लद॒नि, के वरि चवनि तह साई हिंदुनि खे अण सिंधीयूंनि में सङु करणो हूंदो आहे सो पया सिंध मां लद॒नि ऐं किनि खे तह हिंदुनि जा सुरअ ब॒धी उमालक पहिजा सुर यादि था यादि अचनि मसलनि हिंदु जेकरि लदिं॒दा तह सिंधी पहिंजे ई सुबे में थोडाई वारा साबित थिंदा, मार्कट में सिंधीयूंनि जो जोर घटिबो (वाणियनि जे लद॒ण सा), के वरि चवनि तह सिंधी हिंदु किअं धर्ती माउ सिंध खां परे थी था सघनि वगीराह वगिराह। वरि वदे॒रनि तोडे भोतारनि जा धार सुर ऐडहा निधीकणा मजूर किथु मिलिनि जनि ते जिअं वणेनि तिऐं जूल्म कनि।

सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधी भिल सुख राम (नालो मठयलि) जहि सा आऊ जोधपूर में गद॒यूसि मूखे चयो तह किअं हूं छो ऐं किंह सबब हून सिंध मां लद॒ण जो फैसले कयो। हून चवण शुरु करण तह अदा, अदा सिंध में हिंदु थी रहण हिकु वदो॒ जूल्म आहे। धार्मिक आजादी नाले जी का भी शई नीहे। गीता जो पाठ छा पढउं तऊं अची मथे थे अची विहिनि- चवनि छदो॒ हे रनअ जो पाठ। नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण जो खौफ सबब, असी तह नियाणयूंनि खे पढअण खां आगे॒ ई तोभां कई आहे। वरि पुटनि खे जेकरि कहि नमूने स्कुलनि में जेकरि दाखिलो मिली भी थो वञे तह खेनि पढाअण पर परे असांजे ओलादुनि खां स्कूल जा काकुस पया साफ कराईंदा आहिनि। गो॒ठ जे वदे॒रे जे खेतनि में कुम भी कयूं तह बि॒णो कम तह वठे पर मजूरी दे॒अण महलि उभतो हिसाऐ, मारा दे॒नि या कतल भी कनि।

हून अगते चयो साईं जेसिताईं हिंदु जिंदाहि रहिनि तेसिताईं सिंध में  मूसलमानि वेरु तह पाईनि पर मोऐ बैदि भी जिंदु किन था छदी॒नि।  मोऐ खां पोई  शमशान ते अग्नी भी नसिब नथी थिऐ। लाश खे सारण तह परे असां खे तह पहिजे मोअलनि खे तह दफनाअण भी किन दे॒नि। मूअल लाश खे गंगा जल सा स्नान भी कोन कराऐ सघऊं। मां पहिजे पिणसि जी लाश खे दर दर खणि भिठकयो आहियां। को दफनाअण जी भी मोकल नह दे॒। नेठि पहिजे पिणस जो बा॒रहो भी कोन कयूंमि, लद॒ण जी तह अग॒वाटि पक हूई सो विना बा॒रहें कऐ हलयो आयूसि।

मूसलमान गो॒ठ में वरि दफनाअल लाश ते टेकचर हलाईनि। ब॒यो तह ठयो पर हिक 9 सालनि के नेंगरीअ की लाश मिठीअ मां कदी॒ बा॒हर फिटो कई। इहे वाक्या सिंध जे गो॒ठ गोठ में पया थेनि। असीं जेकर नह लद॒उ तह नेठि छा कयूं ???. गा॒ल्हि रगो॒ असी भीलनि जी नाहे ऐडहा जुल्म घठ मथे हर हिंदुअ सा पया थेनि।

 

सुख राम (नाले मटयलि) जेकरि सेकिडो सचु किन थो गा॒ल्हिऐ तह अगो॒पोई कूड भी कोन पई गा॒ल्हियो। रिंकल कुमारीअ जो अग॒वा थिअण तह सिंधु साणु पूरी दुनिया पई दि॒ठो तह किअं पहिजी नयाणी जे रिहाई जी लडाई लणिंदड रिकल कुमारीअ जा माईट हिकु हिंदु करे सिंध वादाईंनि पया। सिंध मां शाई थिंदड अवामी आवाज सां गा॒ल्हाईंदे रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि चयो तह खेनि घर में कम कंदड मेंघवार जाईफुनि खां चवायो वयो तह माठि करे घर में मानी खाओ या सरे आम सोटी खाओ . रिकल जा घर हेकला नाहिनि। अञा महिने अग॒ हिंदुनि जे हिमायति में अवाज उथारिंदड वजील मल मारवाडीअ खे अग॒वा करे कतल कयो वयो। अग॒वा, लूटमार, नयाणियूंनि जो जबरनि ईसलाम कबूल कराअण, भतो वसूलण ऐ जेकरि जो विरोध करे तह कतल करे रखण आम गा॒ल्हि थी पई आहे। बलूचिस्तान जे मसतूंग शहर मां लदे॒ आयलि हिकडे हिंदु हिंदुस्तदान जे हिक अख्बार साणु गा॒ल्हईदे चयो तह सिंध तोडे बलूचिस्तान में हिंदु रहिनि जरूर था पर रहण जेडहयूं हालतु नाहिनि ।

सिंध में कहि भी हिंदु लाई हिंदु थी रहण को सहूलो कम नाहे। जेकरि अव्हां कहि भी हिंदुअ खां संदुनि दीन धर्म बाबत पुछिंदा तह अव्हां खे जवाबु मिलिंदो –आउं अण-मूलसमानि आहियां, हू पहिंजी हिंदु  हूअण जी सुञाणप तद॒हि दिं॒दो जद॒हि अव्हा खेसि पंच – छह भेडा किन  पूछीदा या हू कहि सबब मजबूर किन थिंदो। हिंदुनि खे हिसाअण सिंध में आम गा॒ल्हि आहे। सिंध में हिंदु चवनि तह असी हिंअर सोन जा आना दिं॒दड मूर्गी करे लेखया वेंदा आहियूं। सिंध जा हिंदु नूमाईंदा जेडहा आहिनि तेडहा नाहिनि। अजु॒ भी जद॒हिं सिंध में 1947 जेडहयूं हालतु आहिनि तद॒हि हूनिनि मां शायदि ई कहिं पाकिस्तान पिपिलस पार्टी छद॒ण लाई त्यार आहे इहो जा॒णिंदे भी की हिंदुनि ते थिंदड जूलसमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जो रहयो आहे – उहो भले ई रिंकल, आशा या लता जो हूजे या वरि चक, पूञेआकिल में हिंदु जो कतल हूजे। अजु॒ जद॒हिं सिंध में चूंडयूं मथे ते आहिनि तह खेनि पहिंजा हिंदु भाऊर पया याद अचिनि। हे इहे ई अग॒वान आहिनि जेके पहिंजे औलाद खे तह हिंदुस्तानि लदा॒ऐ छदनि बाकि आम हिंदुनि खे वेठा सिंध धर्ती नह वांदाअण जो पाठ पढाईनि।

सिंध में हिक जबरदस्त कोशिश रही आहे कहि नह कहि नमूने इहा लद॒पण खे रोकिजे, हिंदुनि खे लद॒ण नह दि॒जे ऐं हिंअर तह पाकिस्तान हकूमत पारां भी विजा हूंदे भी हिंदु खे हिदुस्तानि लद॒ण खां रोकयो पयो वञे, संदुनि हिंदुस्तान वञण जूं टिकेटां रद पयूं कयूं वञिनि। सिंध मां भले कहि भी तब्के जो हिंदु छोन नह हूजे हू लद॒पण हमेशाहि ई लिकी गुझायप में थो करे। सिंधु जी गादी कराची मां लदे॒ आयलि ऐं अहमदाबाद में वसेयलि हिक डाक़टरअ साणसि जद॒हि आऊ गद॒यूंसि तह हून साई पिणि सागी॒ गा॒ल्हि दहूराई तह साई असी तह पहिंजे मिटनि माईटनि ताई खे कोन द॒सयूं पहिजे लद॒ण जा गा॒ल्हि। संदुसि जोणसि पिणि पई चयो तह अदा, मां तह पहिजे पेके घर खे भी कोन बु॒धायो असी लदे॒ था वञउ जिऐं ओसे पासे कहिखे भी इन गा॒ल्हि जो छिड्रु ताईं नह पवे!!!!

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह लदीं॒दड हिंदुनि खे हिंदुस्तानि खे इंदे ई सुख था मिलिनि। हित नागरिकता जा वदा॒ मसला आहिनि। हिंदुस्तान में खेनि 12 साल ताई थो रहणो पवे ऐं इन बैद् भी नागरिकता कोन थी मिले। मसलो उनहिनि लाई वदो॒ आहे जनि खे नोकरी थी पई करणी पये, आम तोर सां पाकिस्तानी हूअण सबब को नोकरयूं नथो दे॒, नाई ई वरी सहूलियति सां मसवाड जी जाई थी मिले, हिक शहर खां बे॒ शहर में वञण खां अगवाटि हूकूमत खां मोकल थी पई गुरणी पऐ, जेकर कहिजो मिट माईटू बीमार भी हूजे थो तह जेसिताई धारे शहर में वञण जी मेकलि मिले तेसिताई तह बीमार माण्हू हिन फानी दुनिया मां मोकलाऐ थो वञे। मिटी माईटी में भी तकलिफयूं पयूं थेने सो धार, पहिंजे चाहि मोजीबु शहरनि में वसी कोन था सघनि, बारनि जी स्कुलनि में दाखिले में पई दिकत थिऐ या वरि गरिब तब्के मसलनि भील, मेघवार लाई हाथियूं वदी चटी इहा तह खेनि दलित हूअण जे वावजूद नागरीकता नह हूअण सबब का भी सरकारी मदद नथी मिले।

अजु॒ सिंध में 1947 वारयूं हालतु आहिनि या खणी चईजे तह 47 खां भी बदतर आहिनि तह वधाउ कोन थिंदो। विरहांङे वकत तह रूगो॒ शहरनि में पई गोड थियो पर हिंअर तह लग॒ भग॒ हर कुड कुर्च मां  सिंध में हिंदु लद॒ण लाईं मादां आहिनि। इहे केडहा सबब आहिनि जे सिंध मां लदे॒ आयलि हिंदुनि मोटी मञण जे नाले ते खौफ में था सिकूडजी वञिनि, पहिंजा पास्पोर्ट ताई पया साडिनि। सिंध मोटण जे बीदरा हू जेलनि में रहण ताई लाई कबूलिनि।।। गुजरात जे शहर अहमेदाबाद में लदे॒ आयलि मां डाकटर, सुठी बैक में सुठी पघार वारा नोजवान पिणि मिलया जेके तमाम घणनि तकलिफून खासि करे नागिरकता जे मसले नसबत तह सहण लाई त्यार आहिनि, मूशकिल माली हालत में रहण तह कबूलिन था पर सिंध मोटण लाई असुलि तयार नाहिनि। हिंकडे लदे॒ आयलि हिंदु सिंधी जो चवण हो तह जेकरि सिंध – राजिस्थान जी सर्हद रूगो॒ कलाकनि लाई भी खोली वई तह भी घट में घट हजारनि जी तादादि में लदिं॒दा !!!!

वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे लद॒पण में या इन बैदि हिंदुस्तान में जाम तकलिफयूंन जे बावजूद लद॒ण जो चाहि वक्त सां घटण खां बिदरां हमेशाहि वधी आहे। 1971 जी हिंद-पाक लडाई महल 90,000 हिंदु सिंधी लदे॒ आया । तहि महल नह तह जिया हो ऐं नह ई मिया मिठू तह पोई छो इअं थियो ? इहो ई नह पर लद॒ण बैदि हिंदुस्तान हकूमत जे लख कोशिशन जे बावजदू छो हो मोटी सिंध कोन वया ? चवदां आहिनि तह खेनि हिंदुस्तानि मां मोटाअण लाई जेलन में बंद करण ऐं ऐतजाज करण ते गो॒लयूं ताई हलाअण जी धमकयूं दि॒नयूं वयूं पर इन जे बादजूद हो कोन मोटया। हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे जेकरि हिंदुस्तान पाकिस्तान जी सर्हदयूं टिन दि॒हनि लाई भी खोलयूं वयूं तह शायदि हिकु भी हिदु सिंध में कोन बचिंदो। इहो सब इन जे बावजूद जे कराचीअ तोडे बलूचिस्तान मां खोखरापार पूज॒ण में हिकु दिं॒हूं जो पंधु आहे। इअं छो पयो थिऐ, छा लाई पयो थिऐ इअं छो पयो थिअण दि॒ञो वञे … इनही सभ सवालनि नह तह हिंद जा सिंधी अग॒वान ऐं नह ई सिंध जा हिंदु अग॒वान कद॒हि भी संजिदगीअ सां विचार करण जी जरूरत महसूंस कई आहे।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तानि के सिंधी अगवानन जी हिंदुस्तानि जे हूकूमत हलाईंदडनि ताई पुज॒ण जी सघ नाहे पर असीं हिंदु सिंधीयूंनि पहिंजी सिंयासत ई ईन रित तयार कई आहे जे पहिजे बिरादरी लाई कहिंखे मिंथा करण दो॒हू समझिंदा आहियों। हर कहि व़ट पहिंजो पहिजो मिहूं आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर ऐडहो वरजाउ सिंध में हिंदु नुमाईदन जो कहयो आहे वरी जेकरि को मिसकिन माण्हू हूजे तह उन जी वाई बु॒धे केरु।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी ई हेकली बरादरी आहे जहिंजा अवाम परदे॒हि में था वसनि। हिंदुस्तानि में तमिलनि जो हिकु हिस्सो श्रीलंका में रहे थो , हिंदी गा॒ल्हिईंदड जो हिकु तब्को फिजी या मोरिशियस  में थो वसे वरि अजु॒ भी हिंदु बंगालिन को हिकु हिंस्सो अजु॒ भी बंगलादेश में रहे थो पर इन जे बावजूद उनहिनि कोमनि लाई संदुनि परदे॒हि में रहिंदड बीरादरी उपरा (धार्या) नाहिनि। हिंदुस्तान जी संसद में सिंध तोडे पाकिस्तान जो मसलो राज्य सभा तोडे लोक सभा में आयलि आहिनि पर बदकिसमती ऐडही आहे जे नह तह बहस में आदवाणी नाह ही जेटमलाणी कजहि गा॒ल्हिअण जी जरूरत महसूस कई जद॒हि तह हर सिंधी जलसे में खेनि घुराऐ सिंधी पहिजी शान समझींदा आहिनि। इहो ई नह खेनि सिंध में थिंदड जूलमनि बाबत जा॒ण हूअण जे बावजूद कहि खा भी हिकु खतु परदे॒हि तोडे प्रधान मंत्री दा॒हि लिखण कोन पुगो॒।

पाकिस्तान जो 95 लेकिडो हिंदु सिंध तोडे बलूचिस्तान में थो रहे या खणि चईजे तह सिंध अवाम आहे पर इने ऐकड बे॒कड जलसनि खां सवाई हिंदु सिंधी माठ ई रहया आहिनि ज॒णु कदहि कुझ थियो ई नह हूजे। असीं उहे ई सिंधी आहियूं जिन राम मंदिर जे जाखडे महल वदा॒ हिंदु थी विठा हवासि इहो विसारिंदे की बाबरी मसजीद जे ढाचे जे ढहण बैदि लिङ कादा॒ईंदड जूलम हिंदुनि सां सिंध तोडे बलूचिस्तान में थिया। असी तहि महलि भी पाकिस्तानी सिंधीयूंनि ते थिंदड जूलमनि जो समाउ कोन वरतो नह ई उन जो समाउ वठण जी जरुरत ई महसूस कई नह ई अजु॒ पाकिस्तानि में फातलि सिंधी हिंदुनि लाई का वदी॒ आवाज उथारण लाई त्यार आहियूं।

चवंदा आहिनि तह जेकरि कहि कोम खे नासु करणो हूजे तह उन कोम जे इतहास खे ई खतम कजे। सिंध फतहि बैदि अर्बनि सभिनि खां अग॒वाटि सिंध इहो ई कम कयो जहिंखे असीं हिंदु सिंधी पया दहूरायो। हिंदुस्तानि इंदे शर्त ई सिंधी हिंदु अगवान इनही वाट ते ही हलया। खेनि खबर हूई जेकरि हिंदु सिंधी, हिंदुस्तान में पहिजे वजूद खे विरारे जुदा जुदा कोमनि में सिमजी वेंदा तह को भी खेनि सिंध में दहूरायलि पुछिंदो ई कोन। आचार्य क्रिपलाणी तह सरे आम चवंदो हो तह सिंधीयूंनि खे सिंध विसारे जदा जुदा कोमनि में अटे में लूण थी वञणो खपे।  जोधपूर में हिक लोहाणे तह मूखे चई दि॒ञो तह साई असी भील, मेघवार, कोली या वरी सोढनि खे सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियो भले हू संदुनि मादरी बो॒ली सिंधी छोन नह हूजे। इहो इन जे बावजूद जे असीं विरहांङे खां अगु॒ हजारनि सालनि खां  साणसि रहयासिं ऐं हिअर छह द॒हाकनि जे अंदर ई असीं खे अण सिंधी करार था द॒ऊं।

असीं रिवाजी सिंधी भले पाण खे केतिरा नह वदा॒ निज॒ हिंदु या हिंदुस्तानी कोठायूं पर पर कहि नह कहि दि॒हूं , कहि नह कहि हंद असा खे हिंतोउ जा मूल वासी जरुर समाल कंदा तह साई जद॒हि अव्हा पहिजनि जा नथा थी सघो तह असांजा किअ लेखिबा…..

इन सवाल लाई हिंदुस्तान में वसयलि हर हिंदु सिंधी खे तयार रहणो खपे।

It is not Easy to be a Hindu in Pakistan : Migrated Sindhi Hindu

  • India Start processing citizenship for Hindus who have completed 7 yrs of stay in India: Awami Awaz
  • It is not Easy to be a Hindu in Pakistan, We have migrated after much difficulty : An Pakistan-Sindhi Hindu Migrant in Jodhpur
  • 900 Hindus await for their case to be heard by Indian officials
  • Pakistan Rejects “Thar Express is the main Lifeline for the migrating Hindus of Sindh : BBC News”
  • 10,000 already migrated. Mysterious forces are responsible for the migration of Hindus : Ali Hasan Chandio Leader Sindh national movement
  • Hindus travelling from Ghotki, Shikarpur, Jacacobad, Kashmore to India not for pilgrimage for  security reasons :  Ali Hasan Chandio Leader Sindh National movement
  • PPP Wadhras are helping in the Migration . Govt failure to Protect Hindus have forced us to come on streets : Sindhi Nationalists
  • Atrocities of Hindus in a way related to Election : Sindhi Nationalists
  • Sons of Soil (Hindu Sindhis) are being migrated to make way for Burmese & Bangali Muslims : Ryaz Chandio (Sindhi Nationalists)
  • Itz Height of atrocities on Hindus. We have reached a breaking point : Wakar Shah
  • Hindu girls have been forced to Convert : Sindh National Movement

 

Rinkle’s Grandfather Dada Manohar Migrates to India

  • Rinkle’s Grandfather Dada Manohar  gives up after months of Abuse , Migrates to India
  • Rinkle’s Grandfather have been getting threatening calls for Muder
  • Dada Manohar  sells his business and handover residence to left over relatives
  • I was looted multiple time and have no option. Govt. & Police too ditch us : Dada Manohar
  • Govt. Should start Meeting with Hindu community  district wise to stop this migration : Advocate Amarlal
  • Eid will be celebrated in Sindh without much fanfare due to Forced Conversation and migration of Hindus : Sindh National Movement
  • Manisha forced to give her statement . This is the gross violation of Article 20 & 25 : Adv Amarlal
  • Pak SC to hear lawyer arguments on Rinkle case within a week