Yet another case of abduction of Hindu Girls in Sindh

Dhabechi, Sindh Pakistan : Reports suggest 20 yrs old Sunita Maheshwari been missing possibly kidnapped. Relatives doubt to be case of abduction. As per latest news 20 yrs old Sunita Maheshwari doughter of Panhoo Maheshwari went missing while on her to provide tuitions. As she did not return as per the regular scheduled time concern relatives started a search operation. As relatives failed to recover her a case have been registered against Bhudi Khuso and 6 others for Abduction

 

छो सिंधी हिंदू निंधकणा थिंदा आहिनि


 

26 तारिख नेठि रिंकल कुमारीअ ऐं डा लता खे पाकिस्तान सुपरिम कोर्ट जे मुख्य नयायधिश जसटिस इफतिकार महूमद चौधरी जे अग॒यां पेश कयो वयो। रिंकल जे रिहाई जी लडाईं विडहिंदड संदुसि वेझा माईट, हिंदु पंचायति तोडे सिविल सोसाईटीअ जे करिरुनिं लाई सुपरिम कोर्ट ताई इहो जाखडो कहिं भी रित सहूलो किन हो। सुरुआति जे दि॒हनि में सिंध जी हिंदु पंचायति खां सवाई मस जेडहा अंङरयूं ते गणिदड सिविल सोसाईटी जा मेमबरि ईन ऐतिजाजनि में मिडिबा हवा। पर इन जे वावजूदि रिंकल कुमारिईअ जा मिट माईट कद॒हि बि॒ हिमथ कोन हारी। जहि रित संदुनि ईहा लडाई अग॒ते वधाई आहे इहा भी पहिंजे पाण में हिक मिसाल आहे।

 

सिंध में रहिजी वयलि सिंधीयूंनि में हमेशाहि ई ऐके जी कमि रहि आहे खासि करे 1947 खां पोई जे हालतुनि में। अजु॒ जी तारिख में सिंध जा 80 सेकिडो हेठोउ जातिअ जा आहिनि जद॒हि तह नुमाईंदगी (सिंध तोडे कोमी ऐसम्बली में) रिवाजी सिंधीयूंनि जी ई घणी रहि आहे जहि सबब हिंदु कद॒हि भी हिक पेल्टफार्म में अचण खां कासिर रहया आहिनि। रिंकल कुमारीअ तोडे ब॒यनि सिंधी हिंदु नियाणीअ जी आजादि जे जाखडे जे नसबति भी इहे फर्कअ चिटा पधिरा थिया खासि करे शुरुआति जे दि॒हनि में। सिंध दलितनि में ऐडहि का चाहि कोन दे॒खारि इन जाखडे जे नसबति पर कनि दि॒हनि बैदि नेठि इन ऐतजाजि में इचि मिटया जद॒हि खेनि लगो॒ तह इहा लडाई हर हिंदु जी।

हिक लंङे दि॒सजे तह सिंधी नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण- जि इसलाम कबूल कराअण- जोरि पणजाअण  ऐं इन बैदि कोर्ट जे अग॒यां पहिजी चाहि जो परणो करे दे॒खारण जूं वारदातयूं जो शिकार वध में वध शिकार सिंधी दलित नयाणियूंनि खे ई थिअणो पयो आहे। इहो ई सबब आहे तह जद॒हि इहा मुहिमि कहि हदि ताई पधरि थी तह सिंधी दलितनि मर्दअ तोहे जाईफाऊं घणे चाहि सां हिस्सो वर्तो। मिपुर माथिले खां हैदराबादि ताई पेदलि ढिगी मार्च कई वई जिअं सजी॒ दुनिया खे सिंधी हिंदु बिरादरीअ सां थिंदड वयलिनि बाबति मिडीया में हूल पवे। संदुनि ऐं सिंध में कनि सेकुलर अखबारनुवेसअ जे जाखडे सबब नेठि इहे मसलो सुपरिम कोर्ट ताईं पुगो॒।

26 तारिख सुपरिम कोर्टि में रिंकल ऐं बयनि सिंधी हिंदु नयाणयूंनि जो मामले शुरु थिंदे ईं सामाजिक तानेबाने जी वेबसाईट फेबूक तोडे टूविटर में इन केस बाबति अहवाल वंढजण लगा। सिंध में अवामी आवाज  में कालम लिखिंदड साईं असद चांडियो मिंट मिंट जो अहवालि फेसबूक जे जरिऐं वंढायो। अहवालि मोजिबु शुरु में जद॒हि रिंकल खे घुराऐं मुख्य नयायधिश जनाब ईफतिकारि मूहमदि संदूसि नालो, संसुसि पढाई ऐं के ब॒या सवालि पुछण शुरु कया पर जिअं तह रिंकल इहे जवाब दि॒अण में कहि रित मुंझे पई सो  जज सभिनि खे बा॒हरि वञण जी हिदायति  दि॒ञी। चयो थो वञे तह व बैद रिंकल ऐं डा लता  सां मुख्य नयाधिश जस्टिस इफतिकार महूमद चौधरि लग॒ भग॒ अध कलाक ताईं सिंधीअ में गा॒ल्हिइयो जिंअ रिकल जो बे-ढप (बे-खोफ) बयान रेकार्ड करे सघजे। सागे॒ रित डा. लता जो पिणि बनान वरतो। बिहिनि हिंदु नयाणियूंनि साग॒यो ई ब॒यानु दि॒ञो तह खेनि को चाहि जो परणो किन कयो आहे, तह खेनि अगवा कयो वयो आहे-तह हूं पहिजे माईटनि जे साणु पहिजे घर थयूं  वरण चाहिनि।

 

मुख्य नयाधिश जा भी जेके बयानि फेसबुक में नसर थिया से भी ऐतबार, थाईंको दिं॒दड हवा। हुन इहो वाजिहि कयो तह इहे नय़ाणयूं संदुसि धिअर रित आहे, तह हिंदुनि खे पहिंजी जिंदगी पंहिजे रित जुजारण जो पूरी आजादि दि॒ञी वञे वगिरहि वगिराहि…पर जेके फैसलो चिफ जसटिस दि॒ञो सो घणनि खे हैरान जेकरि नह भी करे वाईडो जरुर कयो। मुख्य नयाधिश पहिजे फैसले में इहो वाजिहि (साफ) कयो तह ब॒नहिनि बयाणियूं पहिजे माईटनि साणु पिहिजे घर वरण जी गा॒ल्हि कई आहे। पर छो तह संद्नि इसलाम कबुल कयो आहे (या करायो वयो आहे) सो 18 ऐपरिल बि॒हरि संदुनि खां बयानि वर्तो वेंदो। हून अग॒ते इहो भी चयो तह खेसि उमेदि आहे ऩयाणयूं साग॒ये बयानि पहिजे इंदड पेशि में पिणि दिं॒दयूं जहिजे बैदि खेनि पहिंजे माईटनि जे हवाले कयो वेंदो।

मुख्य नयायधिश जो फैसलो यकिनि के अहम सवालि पैदा कया मसलनि

क)   जद॒हि नयाणयूं बयान थयूं देनि खेनि पहिजे माईटनि जे साणु संदुनि घर वञण दि॒ञो वञे तह पोई छो नयाणियूंनि खे जालाणे पनाहि घर (दारासलाम) में मोकिलो पयो ?

ख)   जेकरि रिंकल ऐं डा. लता इहो बयानु दे॒नि हा तह खेनि इसलाम कबूल कयो आहे ऐं संदुनि खे माईटनि जे घर वञण जी का भी शुवाईश नाहे तह छा तद॒हि बी नयाणियूंनि खे पनाहि घर में मोकिलयो वञे हा ?

ग)    मूख्य नयायधिश पाण बि मञयो तह इन मसले खे मज़हबी रंङु नह दि॒ञो वञे पर संदुसि फेसले में इंऐ ई पई भासयो तह जज जे दिमाग में इसलाम हावि हो। जेकरि इंऐं नाहे तह पोई छो रिंकल ऐं डा. लता खे जालाणे पनाहि घर में मोकिलो वयो जिते हूनिनि अगे॒ भी ब॒ह हफता गुजारा आहिनि ?

घ)    अञे हफतन अगु॒ जी गा॒ल्हि आहे जे पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हिक जाईफां मेंबर सेनेट जी चूंडनि महलि हिक चुनावी कम में मुकर्रर कयलि हिक छोकरिअ खे चमाठ हईं हूईं तह मुख्य नयायधीश इन वारदाति सबब नह रूगो॒ इन मेंबर खे दब॒ पटी हूईं (फटकारि) ऐं इन खे पकिस्तानि जी जमुरियति (गणत्रंत) लाई हिकु वदो॒ खतरो करार दि॒ञो हो पर जद॒हि मिया मिठू जे कहि लुचे दोस्त रिंकल कुमारिअ मिरपुर माथिले जे अदालति कारवाई जे विच में रिंकल जे पहिजे माईट दा॒हि मोठी वञण जे ब॒यानि ते जज जे हाजुरि में चमाठ हईं हूंई तह नह तहि महल ऐं नह  ई 26 तारिख मुख्य नयायधिश इन वारदाद बाबति लफजु किल गा॒ल्गिईयो।

ङ)     जद॒हि हे केस अगवा जो आहे तह पोई इन जी पुलिस रिपोर्ट छो नह तलब कई वई। ईहो यादि रखण घुरजे तह रिंकल ब॒नि पुलिस ऐदेदारनि ते इन मामले में मिडया तोडे सिविल सोसाईटी जे ऐतजाजनि बैद कारवाही थी चूकी आहे।

च)    ऐ सभनि खां अहमि गा॒ल्हि छा पाकिस्तान जो मुख्य नयायधिश कठिन ऐं मुशकिल फेसला वठण खां कासिर आहे। छा खेसि मोलवियूंनि जो ढपु पयो सताऐ।

 

सिंधी मिडिया जे अहवालनि मोजिबु रिंकल ऐं डा लता खे कहि भी अखबार नुवेसनि खां परे रखयो वयो। मिडिया मोजिबु जद॒हि कोर्ट जो फैसलो पधिरो कयो वयो तद॒हिं रिंकल रोईंदे जेको कजहि तह जो तर्जूमो कजहि हिंन रित आहे…..

सभ हिक – बे॒ साणु गंडयोलि आहिनि। हित रूगो॒ मुसलमानि खे बुधो वेंदो आहे। मुखे भले हिन कोर्ट में ई मारे छदो पर जालाणे पनाहि घर दे॒ नह मोकिलो। मुखे हूं मारे छदिं॒दा।  

रिंकल तोडे डा. लता जे माईटनि जो भी इहो ई चवण हो तह खेनि नियोणयूं मोटायूं वञिनि। पर इन जे बावजूद नयाणयूं कोन मोठायूं वयूं। सवालि हाणे इहो थो अचे तह जेकरि रिंलक खे आजादि करणो ई कोन हो तह हेतिरो डरामो छो रचायो वयो। सभनि खे खबरि आहे तह जालाणो पनाहि घर में हिक हिंदु नियाणी इहो भी पहिजो वातु खोलण खां पोई केतरे सुख में रहण दि॒ञो वेंदो। पर जिअं मिरपूर माथिले में थियो तिअं ई सुपरिम कोर्ट में थियो रिंकल तोडे ब॒यनि नियाणिअ जे माईटनि जी हिक बी गा॒ल्हि कोन बुधी वई। सचु तह रिंकल चयो हो पाकिस्तनि में हिंदुनि जी कोम बूधी वेंदी आहे। जेकरि कहिंखे इन जो सबूत खपे तह मिरपुर माथिले में ई वञी दि॒से जिते हिक हिंदु छोकरे इसलाम कबूल करे हिक मुसलमानि छोकरिअ सां प्यार जो परणो कयो। पर पुलिस इन प्यार जो परणो कंदड आशिक खे छोकरिअ खे अग॒वा जे केस थोपे हिरासत में वरतो हो हिक महिने खां जेकलनि में पयो सडे थो।

 

जेका गा॒ल्हि रिंकल कुमारी कई सुपरिम कोर्ट खां बा॒हिर कई सा गाल्हि हर हिंदु अव्हां खे कंदो बस अव्हां खे संदुसि वेझो वञणो पवदो। मां शोशल नेटवरक फेसबूक जे जरिऐ जाम सिंध में हिंदु सिंधीयूंनि जे वेझो रहयो आहियां। आम तोर तह हूं सुफी मत जूं गा॒ल्हियूं कंदा आहिनि, सिंध खे पहिजो सभ कजहि मञनि पर जद॒हि चेट ते अचिनि तह सभनि जो सागो॒ ई रोअण, चवनि अबा॒ हाणे सिंध खां बस कई। खद॒ में पवे ऐडहो मूलक जेको सिंध में हिंदुनि खे तहफूज (सुरकक्षा) नह द॒ई, जिते असां जी लज॒ कद॒हि भी निलाम थेअण में मिंठू नह लगे॒। ऐ इहा गा॒ल्हि मूंखे हर हिक हिंदु सिंधी कई आहे। के चवनि जां खां इहो मसलो आयो आहे तह असां हिंदुनि खे माऊं भेण जूं गारयूं पयूं दि॒ञयूं वञिनि। सरे आम हिसायो पयो पञे। मियां मिठू जा हिमायति था चवनि तह जेकरि हिक रिंकल खे आजादि कयो वयो तह असीं 4 हिंदु नियाणियूंनि खे अग॒वा कंदासि। इहे सब धमकयूं सरे आम पयूं दि॒ञयू वञिनि। इहा धमकी अवामी आवाज जे पहिरे सुफे में शाई थियलि हूंई। इन सां समझी थो सघजे सिंध में हिंदु बिरादरी जी हालति केतरि नह निधिकणि (बे सहारे वारि) आहे।

सिंध में का भी सियासी तंजिनि अग॒ते कोऩ वधी आई आहे इहो चई तह साईं हिदुनि सां इहो थिऐं छा पयो, सवाई ऐकड बे॒कड अग॒वानि जे मसलनि जिऐ सिंध जो रियाज चांडियो। श्री रयाज चांडियो हिंदुनि खे पूरो साथु दि॒ञो आहे जद॒हि तह सदूसि पार्टी जा ब॒या अगवाण पहिजे चपनि खे ज॒णु ठाका द॒ई छद॒या आहिनि। हो हिंदुनि जे हिमायति में 24 फरवरि खां हिक भित (दीवार) वाङर बिठो आहे। जद॒हि तह संदूसि पार्टीअ जो सदर बशिर खां कुरिशी जेको इअं तह पाण खे सेकूलर कोठाअण मिंटु जी देर नह कंदो आहे पर रिंकल तोडे ब॒यनि हिंदु नियाणियूंनि में बिलकुल माठ आहे। चयो थो वञे तह छो तह बशिर खां जी आकहिं बरचंडे पिर मिया मिठू (जहि रिंकल खे अगवा कयो ऐं जहिजे पिणसि भगत कंवर राम खे कतल करायो हो) जा पोईलग (चेला) आहिनि सो पहिजे धर्म गुरु जे विरुध हो किअं थो आवाज उथारे ?..अयाज लतिफ पलेजो – अवामी तहरिक जो सदर भी 8 मार्च ते (जेको जाईफाईनि जो आलमि दि॒हिं हो) दि॒हिं तह थोडो घणो ऐतजाज कयो पर नेठि हून भी माठि कई। जद॒हि ऐतजाजि में हिस्सो भी वरतो तहि लहमे खां हो चवंदो रहयो तह रुगो॒ मां ई छो हिंदुनि जे हिमायति में अचा, ब॒या छो माठ कई आहे। संदुनि मतलब साफ हो तह हो हिंदूनि जी हिमायति करे शहिद नह पई थिअण चाहियो। दरअसलि सिंध में मूं जहिसां भी इन मसले ते गा॒ल्हियो तनि मां घणनि इहो चयो तह – हिंदुनि ते वाक्ई जूलमु पयो थिऐ। असां खे इन वारदातयूं जाम लजा॒यो आहे,  इहा वारदाति तह सिधो सहिंयूं जबरनि अगवा जी आहे वगिराहि वगिराहि पर इन जे बावजूद को भी खुलि तोर अचण खां पाण खे पासिरो था कनि।

 

जां खां हिंदु सिंधी सिंध मां लदे॒ आया आहिनि तां खां हिंद जा सिंधी साहित्यकार  सिंध वेंदा रहया आहिनि पर अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे कहि में भी इन जा॒ल्हि जी तात कद॒हि भी कोन रहि तह रहिजी वयलि सिंध जी हिंदु बरादरी किअं पर दि॒हिं गा॒रे, किअं पई पहिजे पाण खे हिक ऐडहे मूल्कअ में पई पहिंजो वजूद सोघो करे जिते संदुनि कोम खे काफिर करे मञयो वयो आहे। पिछाडीअ जे पंज छिह द॒हाकनि में सिंध में हिंदुनि जा ग॒णप तमाम तकडी घटी आहे।  1950 में 13 सेकिडो हिंदु जेके हिअर घटजी 1.5 सेकिडो वञी वचया आहिनि। गा॒ल्हि रूगो॒ आम सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर मशहूर लेखक तोडे कवियूंनि खे भी कोन बख्शयो वयो आहे। महान सिंध कवि हरि दरयाणी दिलगिर लद॒पणि जो जाखडो 1955 खां शुरु कयो हो 1960-65 ताई लद॒ण में कामयाब थियो। संदुसि पहिंजी आत्म कथा में लिखो हो तह किअं विरांङे बैदि ऐं खासि करे 1960 खां पोई सामाजिक हालतु फेरो खादो हो। खेसि समझ में अचि वयो हो तह नयाणि जद॒हि घर मेंहूजे तह सिंध में हिंदुनि लाई हयाति केतिरो जोखिम वारी थी पवंदी आहे।

 

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह सिंध वेंदड असां जा लेखक कद॒हि भी पहिंजे भाउरनि खे समझण जी कोशिश कोन कई। बस मिडई हाई घोडा सिंध दि॒ठी सिंध दि॒ठी में ई पूरा थिं रहजी वया। जद॒हि भी को लेखक वञे तह या तह पहिजो अबाणो घर दि॒सी खुश थिऐ या नह तह पहिजे मुसलमानि दोस्तनि में महमान-नवाजीअ में पूरा। हूनिनि कद॒हि भी सिंध में हिंदुनि बाबत सोचण जी जरुरत कोन महसोस कई- बस जिअं खेनि ब॒धायो वयो मूसलमानि दोस्तनि पारां सो ई बु॒धी तोतनि वाङुर रठायलि सठ पर सठ पहिजे सफरनामनि में लिखिंदा रहया आहिनि। अञा महिनो खनि ई थियो हूंदो जो सिंध जे दौरे ते टे सिंधी साहित्यकारि सिंध उमडि आया। हिरो ठाकुर, विमी सादारंगाणी ऐं दादी इंदिरा पूनावाला। केतरि नह अजब जेदडी गा॒ल्हि आहे सवाई दादी इंदरा जे ब॒ऐ कहि भी इन जुलमनि खे खलाफ आवाज कोन उथारि। दादी ईंदरा नह रुगो॒ आवाज उथारि पर सिंध जे मूसलिम साहित्यकारि जी भी जाम गि॒ला कई जेके इअं तह वदा॒ सुफि कोठाईनि पर वक्त इंदे ज॒णु बो॒डा काणा थी वया आहिनि। ऐडही भी गा॒ल्हि नाहे तह हो कहिं भी सियासी मसले ते चुप रहिंदा आहिनि। वेझडाईअ में कराचि में कनि उर्दू गा॒ल्हिईंदड मूसलमानि कराचि खे सिंध मां धारि करे नऐ सुबे जी घुर में के पोस्टर लगा॒या जहि ते सिंध ऐसेलमबली में रातो रात हिकु ठहराउ पास कयो तह सिंध जो विरांङो मूमकिन नाहे ।इन विच में सिंध जे कनि मूसलिम सिंधी मेंमबरनि खणी वाका कया तह खेनि प्रसताव पास करण सबब धमयकूं पयूं मिलिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा आहे तह इन धमकयूंनि जे विरोध में जाम सिंधी साहित्यकारि ऐतजाज करण लगा॒ पर जद॒हि हिंदुनि ते ऐतरा वदा॒ जूलम पाया सठिनि तह  भी हिनिन सेकूलल तोड् सुफि कोठोईंदड साहित्यकारनि जे निडीअ मां हमदर्दीअ जे हिकु भी लफजु नथो निकरे। छा हिअं ई सिंधीयूंनि जी लेकुलरिजम आहे…..छा ऐतरि कमजोर थिंदी आहे सिंधी-कोमिप्रसति….छा सिंधी मुसलमान ऐं बे॒ कहि भी मुसलमानि में को भी फईकु नाहे…..छा असी जेको सतर सालनि खां बु॒धोई पया तह सिंधी मुलसलमानि ब॒यनि मूसलमानि नह थिंदा आहिनि सो कूड हो या इहा सिंधी कोम जी वदे॒ में वदी॒ घलतफेमि हूई….

 

पाकिस्तानि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध में रहिनि यानि सिंधी थेनि। पाकिस्तानि जे हिंदु काऊंसिल जे मोजिबु सिंध में 60 खां 70 लख हिंदु रहिनि पया। इन जो मतलब इहो थियो जे सिंध में असां खां भी वधिक हिंदु सिंधी रहिनि पया। इन में को भी शकु नाहे भले सामाजिक तोर इन 60 70 लखनि में घणाई उनहिनि जी आहे जेके दलित कोठया वेंदा आहिनि पर वदी॒ गा॒ल्हि तह इहा आहे तह असीं सभ सिंधी आहियो। मूहिजी जहि भी सिंध में रहिदड हिंदुअ सां कचहरि थी आहे से इहो ई चवंदा आहिनि तह ऐतजाज तह कंदासे ई पर साणु साणु इहो भी चवंदे देर नह कंदा आहिन तह अबा असीं हाणे  सिंध में रहण खां बस कई। ऐडही सिंध भी केहे कम जी जहि में असां जी इजति तोडे आबरु जी रुपऐ जी अहमियति कोन हलणे। सिंध में हिंदुनि जी नह तह का सियासी अहमियति आहे, नह वकालति ती बुधे तह ई हकूमति। सभनि खे खबरि आहे तह हिंदु छोकरयूं अग॒वा पयूं थेनि, उहे भी रुगो॒ पणजणि जे लायकि छोकरयूं। सवालि इहो आहे तह छा इशक जो जनुन रूगो॒ जनावि हिदु छोकिरूनि जे हावि हूंदो आहे? .छा मुसलमानि छोकरिनि में हिल नह हूंदी आहे? .छा हो इंसानि नह थिंदूं आहिनि ?.इहा गा॒लिहि तह पाकिसतानि सदरि श्री आसिफ अली जरदारि जी भेण जेका पकिस्तानि पिपिल्स पार्टी में तमाम घणे अहमियति जी जाई थी वालारे पिणि थी मञे तह इन अग॒वा में मिया मिठूअ जो सिंधो सहू हथ आहे. पर इन जे वादजदू मजाल आहे जे मिया मिठूअ खे को पार्टीअ मां कद॒ण जी को गा॒ल्हि करे। इहो सब इन गा॒ल्हि जो शाहिद आहे तह  पाकिस्तानि में अव्हां भले केतरो नह जुलमि कयो पर जेकरि अव्हां इसलाम जो नालो खणो तह सब दो॒हि माफ ता थि सघिनि। ऐडही हालति में जेकरि सिंधी हिंदु नह लदि॒नि तह छा कनि ?

 

पर इन सभनि मंजरि खां भी वधिक वाईडो हिंदुस्तानि में सिंधीयूंनि कयो जेके इन मसले बाबत सभ कजहि जा॒णिंदे भी ज॒णु पहिंजा चप ठाके छद॒या। के चवनि तह हिंदु हित भी मुशकलिनि में आहिनि तह असीं सिंध में रहिदड सिंधी हंदुनि जी छो ग॒णति कयोऊं। ब॒यनि खे वरि इहो को मसलो ई कोन लगे॒। असां हिंदुतानि में सिंधीयूंनि में हिंदुवादीयूंनि जी कमि नोहे। शायदि ई असां घणनि खां अञा भी विसरियो नाहे तह किअं सिंधी ऐल के आद॒वाणी लाई चरया थिया हवासिं जद॒हि हून हिंदुत्व ते हूल करण शुरु कयो हो। पर अजु॒ जद॒हि हून जा पहिंजा (छा काणि तह हो भी सिंधी ई आहे भले हो मञे या नह) 1947 जेडहयूंनि हालतयूंनि खे मूंहूं था दे॒नि हिकु लफजु संदुसि वातो कोन निकतो आहे। सिंधीयूंनि कोम मां का भी संसथा तोडे तंजिम अग॒ते कोन वधी आई आहे जिअं सिंध में हिंदुनि जे मसले खे हूकूमति जे अग॒या रखि सघजे। सिंध में हिंदुनि ते थिंदड ऐतिजाजनि में भोपाल में रुगो॒ राजा भाई दूर्गेश (भाजपा) पारां थोडा घणा ऐतजाजि थिया आहिनि बाकि इन खां सवाई नह कहिं सिंधी संसथा ऐं नह कहि जातलि सुञातलि सिंधी इन मसले ते को हूल कयो, पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा आहे तह जद॒हि सिंखनि या कशमिरियूंनि ते जलम थेनि था उमालक नह जा॒णि किथोऊ सिंधीयूंनि जो जमिर थो जागि॒ पवे। नह जा॒णि संदुनि में उमालक पहिजे धर्म ते खतरो पयो महसूस थिऐ। केतिरो नह अजबु आहे तह नह रूगो॒ आदवाणी पर जेठमलाई या ब॒या कहि भी सिंध अग॒वाण जो जमिर नथो जागे॒। मां जद॒हि इहा गा॒ल्हि श्रीकांत भाटिया सा कई तह हून जेको जवाबु दि॒ञो सो शायहि आऊं पहिजी जिंदगीभर कोन विसारिदुसि। हून चयो तह केडहो सबूत आहे जे हिंदुनि ते जलमु पयो थिऐ। हाणे सजी॒ दुनिया खे खबर आहे तह सिंधी हिंदुनि सा वयलि पया थेनि, हू जेको सिंधीयूंनि जो अग॒वाण ठहि फिरे थो तहि खे खबरि ई नाहे???.मां इन बैदि अखबारि (अंग्रेजी) जी पेपर कलपिंग मिणि मोकलि मास पर अज॒ ताई संदुसि को भी जवाबु कोन आयो आहे, शायदि इंदो भी कोन…..इहा असांजे सिंधी कोम जी वदे॒ में वदी॒ बदकिसमति आहे जे असां खे ऐडहा सियासतदानि मिला जेके हमेशाहि ई पहिजे लाई सोचयो आहे ऐं सायदि हमेशाहि ई सोचिंदा रहिंदा।

 

हिंदुस्तानि जूं ऐडहयूंनि चङयूं कोमून आहिनि जहिंजा हिकु हिस्सो धारे मूंल्कनि में रहे थो। मसलन तमिलनि जो श्रीलंका में, हिंदी गा॒ल्हईंद़ड जो मोरिशियस या फिजी में ऐं सिखनि जो पाकिस्तिनि वारे पंजाब में। पर जद॒हि तह अण- सिंधी हमेशाहि ई कहिं भी सुशकलि जे महलि पहिजे कोमनि जो साथ पयूं दे॒नि असां जा सिंधी अग॒वाण सुता पया हूंदा आहिनि। डा. श्यामा प्रसादि मूखर्जी जी नेहरु जे मंत्री मंडल मां इसतिफो दि॒ञो हो जद॒हि नेहरु पाकिस्तानि वारे बंगाल में 1950 में हिंदु बंगालियूंनि जे कतलेआम खे रोकण में कजहि कोन करे सघयो। पर अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे तह पिछाडीअ जे सतर सालनि खां हिंदु सिंधी लदि॒नि पयो पर मजालि आहे किद॒हि में  असां जा अग॒वाण इन ते लफजु बी ओकारो हूजे। अञा हफतो बी मस थी गुजरो आहे जे तमिलन जे दबा॒उ सबब नेठि हिंदुस्तानि जी हूकुमत नह चाहिदे भी सयूंक्त साष्ट् में श्री लंका में तमिलनि सां थिंदड नाईसाफियूंनि बाबति हिक ठहराउ खे नाठि तसमर्थनि  कयो। याद रखजे तह इहो फेसलो को हिंदुस्तान जी हकूमत पहिंजी चाहि सां कोन वरतो। पर सवालि वदो॒ आहे तह जेकरि तमिल जोर था लगाऐ सघिनि तह असी सिंधी छोन नह ……असां खे ऐतजाज करण खां कहिं झलयो हो। जेकरि बी जे पी जो अग॒वाण राजा भईया ऐतजाज करे थो सघे तह ब॒या सिंधी छोन नह ……

सिंध में हिंदुनि  70 लख सिंध असां वाङुर ई सिंधी आहिनि जेडहा असां सिंधी अहियो, तह पोई असीं छो पहिंजे भाउरनि जे हिमायति में अग॒ते नता अचि सघऊं। विरहांङे महलि,  बिहार जा के  मुसलमानि ओभरि (पूवि ) पाकिस्तानि दा॒हि लदे॒ वया। जिअं ई बंगलादेश वजूद मे आयो तह बंगालिन इन बिहार जे मुसलमानि खे चयो तह अबा हाणे तह बंगाल, बंगलादेश थी पयो आहे सो साई महर्बानी कयो ऐं लदे॒ पाकिस्तानि वञो। इनहिनि मां के सिंधी मुसलमानि जे विरोध जे बावजूद पाकिस्तानि में लद॒पण कई जहिंजी तादादि लखनि मे आहे। अजु॒ भी ऐडहा जाम पाकिस्तानि बंगलादेश मां बिहारि मुसलमानि खे लदा॒अण जा गा॒ल्हि कंदा आहिनि। जेकरि पाकिस्तानि जा मूसलमानि पहिजे मुसलमि भाउरनि लाई जाखडो करे था सघिनि तह असीं सिंधी छोन नह ???? सिंध में हिंदु तमाम घणे दु॒खनि ऐं सुरनि में आहिनि। जेकरि असी खेनि मदद कोन कंदासि तह ब॒यो केरु कंदो…..जेकरि हो हिंदु लदे॒ हिंदुस्तानि इंदा तह   हो सुख जो साहू खणि सघिंदा ऐं असां जी तादादि वधिंदी पर इन हकिकत जे बावजूद असीं असी पहिजे अखयूंनि जे सामहूं पहिजे रत जी इजत ऐं आबरु निलाम थिंदे दि॒सोऊ पया।

 

सिंध में का भी वदी॒ सियासी पार्टी हिंदुनि जी हिमायति नह पई करे, तह जेकरि हो निधकणा नह पया हमसुस कनि तह इसा छो ऐतिरा निंधकणा पाण खे महसुस कयोऊ।

इहा गा॒ल्हि सोचण जेडही आहे।।।।।।।