रिंकल जूं मिंथां

सुधीर मौर्य हिंदी भाषा जो कवि तोडे लेखक रहयो आहे। हेल ताईं तंदुसि जा ड॒हि खनु किबात शाई थी चुका आहिनि। जा खां रिंकल तोडे अगवा थियलि सिंधी हिंदु नयाणयूं जे हिमायत में ऐतजात हिंदुस्तान में शुरु थिया हूं हिंन जाखडे में बराबर जो हिमायति रहयो आहे।

sudheer

जईफाउनि जे आलमी डि॒हिं ते हिंदी कवि तोडे लेखक सुधीर मौर्य को रिंकल जे नाऊं कविता ।

रिंकल जूं मिंथां

gzala shah

अजु॒ जी राति पिणि

कारी ई निकती

भिंभ कारी उंदाहि

छो लिखी डि॒नुइ

मूहिंजा साईं

नसिब में मूहिंजे

आऊं त बु॒धो हो

उभ जी भूंई ते

सरहदयूं न हूंदियूं आहिनि

उते को

हिंदु या मोमिनु नाहे

उते को

सिंधु या हिंदु नाहे

तूं मथे आहिं

इन रिवाजन खां

आखिर तूं

उभ वारो आहिं

पर वरि छा थयो

जे मूहिंजो सडु॒

तुहिंजे कनन ताईं

दसतक न डे॒ई सघयो

अडे मूंहिंजा साईं

अडे मूंहिंजा इशवर

आऊं अञा भी

तोखे

उभ वारो ई लेखिंदी आहियां

पर तूं छो

मूंखे

भूंई जी

निधिकणि कोन समझुई

अडे उभ वारा

नाउं यादि आथी न मूंहिंजो

आऊं रिंकल कुमारी आहियां

या वरि

तूं पिणि

मूंहिजो कोई ब॒यो नाऊं

रखि छड॒यो अथी

कवि – सुधीर मौर्य सुधीर

 

हो हिंदु हवा

सुधीर मोर्य इअं तह पेशे सां इंजिनियर आहे। यू पी जो रहिंदड सुधीर कुमार हिंदीअ जो लेखक तोडे कवि रहयो आहे । हेल ताईं संदुसि हेठि ड॒सयलि किताब शाई थी चुका आहिनि

कविताउं – आह, सम्स, हो ना हो

कहाणयूं – अधुरे पंख

नावल- ऐक गली कांपूर की, किस्से शंकर प्रसाद के, अमलताशा के फूल,

मजमून – बुद्ध के संवाद

पेश कजे थी संदुसि कविता जेका संसदुसि राय सा हित सिंधी में उलथो कजे थीsudheer

 

हो हिंदु हवा

हिंनिन पहिजे सुरन खे

जोडो समझी

अपनायो

संदुनि घरनि में घुरी आयलि

माण्हूं

खेनि काफिर करार डि॒ञो

छो तह

हो हिंदु हवा

हूननि

यूनन मां आयलि घोडनि जो

फकरु

चूर चूर करे छडो॒

सभयता ताईं

जन जे सबब

हिन काईनात ते जन्म वरतो

हो हिंदु हवा

जिनिं

तराईल जे मैदान में

खिलि खिलि

शिक्सत खादल

वेरिन खे

हयाती डि॒ञी

हू हिंदु हवा

जिन जा मंदिरअ

हिन काहि आयलि डो॒हिनि

नासु करे छड॒या

जनि जूं गुलनि जेडहयूं

कुमारियूं खे

जबरनि अगवा करे

खंबे वया

जिन ते

संदुनि घरनि में

संदुनि जे ई इशवर

जी पूजा ते

जिजिया मडयो वयो

हो हिदु हवा

हा हो

हिंदु हवा

जिनि हलदीघाटी में

मूल्क जी शान

जे लाई

पहिजो रत

वहाईंदा रहया

जिन जा सिकिंदा औलाद

घाऊ जा फुलका खाई

खुश हवा

हू हिंदु हवा

हा हो हिंदु हवा

इनलाई

संदुनि नयाणियूं जी

को मोल नाहे

अजु॒ भी

पहिंजी जमिन ते

रहिंदा आहिनि

इन जमिन जो नाऊं

पाकिस्थान आहे

हाणे संदुनि

मात्रभूमि जो नाऊं

पाकिस्तान आहे

इनलाई

हाणे खेनि उते

इंसाफ

घुरण जो हकु नाहे

हाणे संदुनि

आवाज

बुधण में नह इंदी आहे ह को

दबा॒ई वेंदी आहे

अजु॒ संदुनि नयाणयूं

इन ढप में रहिंदयूं आहिनि

अगवा थिअण जो

इंदड वारो हूनिनि जो आहे

छाकाण तह मजलूम

मां

को न को

रिंकल खां फर्याल

बणायो वेंदो आहे

इंनलाई

जनि जूं नयाणयूं आहिनि

से हिंदु आहिनि

ऐं संदुनि

वडा॒

हिंदु हवा