सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

सिंध में जेकरि कहिं सिंधीअ खे आर्तवार डि॒हिं कहिं लेख जो इंतजार हूंदो आहे त उहो आहे श्री असद चांडिये जे अवाणी आवाज में शाई थिंदड लेख को। असद चांडियो उन मजलूमनि जो आवाज आहे जहिं जो सडु॒ बुधी बि सिंध अणबु॒धो कंदो आहे। पेश आहे संदुसि लिखयलि हिक बेहतरिन लेख। हे लेख अर्बी सिंधी मां देवनागरी सिंधी में उलथो कयलि आहे। उमेदि तह पडिहंदडनि के वणिंदो।

asad-chandio

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

लेखक असद चांडियो

साल 2006 में नयाणी के पैदाईश खां अगु॒, मां केतिरा ईं डि॒हिं सोचिंदो रहिंदो होसि त पहिंजे पहिरें बा॒र खे ऐडहो केडहो नाले डि॒जे जो, प्यार जे इजार में कहि भी किसम जी का कसर रहजी नह वञे। ऐं पोइ वरी वरी सोचण बैदि भी जहन में हिक हंद ते ज॒मे बेही रहयो ऐं इअं ई 22 अगस्त 2006 ते पहिंजी बा॒रङी जो नालो पवजी वयो “सिंधु” । नयाणी खें “सिंध” जो नाले जे॒अण खां वधीक, मूखे प्यार जो ब॒यो को इझहार सुझयो ई नह !! जनि भी मिठन माईटन खे खबर पई तह पहिरें धक में “सिंध” खे “सिंधु” ई समझो, पर पोई मां खेनि समझाअण शुरु कयो :  “त सिंधु , सिंध जो हिक दरयाउ आहे। हिअ सिंध आहे, पूरी सिंध। रणण, पठनि, पहाडनि बयाबानन, रेघिस्तानि,सायनि, माथिरनि, शहरनि, समूडनि ऐं बेट समेत मखमल सिंध”। बे॒ डिं॒हिं “अवामी आवाज “ पहूचण ते जड॒हनि दोस्तनि , साथीयूंनि खे बुधायूंम त : “मूहिंजे घर सिंध आई आहे” तड॒हि समूरन इंतहाई खूशीअ जो इजहार कयो सवाई हिक दोस्त लाला हूसेन पठाण जे, जहि हिकु लम्हो खामोश रहण खां पोई चयो :  “पहिंजी बा॒रडी ते सिंध नालो न रखें हा, सिंध त डु॒ख ई डु॒ख आहे”.

19 जनवरी 2013 में खपरे शहर मां  पहिंजे ससु मुडुसि ऐं सहूरे समेत वाटि वेंदे ऐलाईके जे बाअलसर मरी खांदान हथउ अगवा कयलि धणी भील जहिंखे पोई कुवांरी छोकरी ऐं पसंद जो परणो कंदड “प्रेमिका” करे इअं जाहिर कयो वयो जो, खेसि जज आडो॒ पेश करण दौरां संदुसि वकिल कांजी मल खे अदालत पहूचण जी हिमथ कान थी !!! ऐं पोई धनीअ जी माउ समझू भिल अदालति बा॒हिरां इअं चवदे भी रही ऐं रोईंदे भी रही  “मूं सां इंसाफ कंदो तह निरी छत वारो,  जमिन खुदा असां खे इंसाफ नथा डे॒ई सघे। असां गरिब आहियों, कोर्ट ऐं कानुन असां लाई नाहिनि। मसलनि 15 डिं॒हिं ऐतजाज कयो, पर इंसाफ मिली न सघयो”।

मूंहिजे नई दिल्ली वेठल दोस्त इअं ई पइ रोयो जो, हो पहिंजो रोअण जाहिर करण चाहे भी नथो। पहिंजो डुख असा सा सुलण भी चाहे थो, पर खेसि पहिंजी पीडा जे बदनामीअ जो दाग॒ बणजी वञण जी त पक आहे पर इनसाफ थी सघण जो को भी असिरो नह !! जहिं करे हो नह चाहिंदे भी चवे थो:

“असद, तुहां सा हिक दिल जी गा॒ल्हि वढण चाहया थो । मां 11 जूलाई 2012 जो पहिंजे सिंध माता खे छडे॒ हमेशा लाई भारत हल्यो आयूसि, आजु मूखे दिल धोडि॒दड खबर मिली आहे तह अजु॒ मूहिजे 14 सालनि जी सोट  जी धीअ खे अगवा करे “पाक” कयो वयो आहे। 14 सालनि जी मासूम बारडीअ खे 15 डिं॒हिनि खां पोई, घोटकीअ जे बालसर वट जाहिर कयो वयो आहे। मूंहिंजा लूडक नह पया बिहिनि, पर इहे सिंध का लडक आहिनि । आलाई कड॒हि इन लाईक थिंदासीं जो सिंध जा लूडक उघी सघींदासिं ……!!?

पंजनि सालनि जी उमर में हिकु ऐडहे ऐजाय जो शिकार थियलि मासूम वेजंती , जहि जो हर को तसवीर करण खा भी कासिर आहे, जूं लियारी जर्नल असपताल में डि॒ठल उदास अखयूं ऐं संदुसि डा॒डी संगिता जो आलयूं अखयूं सां पुछल सवाल :

“असां खे इंसाफ नाहे मिलणो तह इजाजत डि॒यो तह असीं पहिंजे मूल्क हलया वञूं ?”  पहिंजे देश में वेसाउ घातीअ जो निशाणो बणयलि हिक मजलूम के जुबान ते आयलि जिउ झरिंदड लफज असां खे का गा॒ल्हि समझाऐ सघिंनि था…मजलूमनि जे दर्द को अहसास डे॒आरे शघिनि था..!!

16 महिना अगु॒ चक शहर में, काजी गूलाम मूहमद भयई दिवान दुकानदार खे उधड घुरण जी इअं सजा डे॒आरी जो , संदुनु नोजवाननि ते कूडो भता मडही, जहि डिं॒हि कुर्बानीअ जे ईद जी खुशी पई मल्हाईजे वई, इन शाम को कलिनिक ते वेठलि चईनि दोस्तनि डाकटर अजित कुमार, नरेश कुमार, अशोक कुमार ऐं डा सत्यपाल से इअं पई गोलयूं वसायूं वयूं जो फक्त डा. सत्यपाल ई सख्त जखमी थिअण जे बावजूद भी पहिंजी जान बचाऐ सघयो। नंढे शहर में हिक ई वक्त टे अर्थयूं उथयूं पर इलाके का मजहबी जनूनि इन गा॒ल्हि ते भी चिड्ही पया तह- टिन इंसानन जे कतल को केस छो दाखिल करायो वयो !!? जे कानून के किताबनि जो पेट भरण लाई  को काग॒र कारो करणो ई हो त पोई , पूलिस के इहा मजाल किअ थी त, मूख्य डो॒हाडी काजी गुलाम जे गिर्फतारी ताई छापो हयों वञे !! ऐं पोई हिक मजहबी कारूकनन खे थाणे जो घेरो कंदे डि॒ठो वयो। नतिजे में कुर्बानी जी ईद डि॒हिं कुर्बान कयलि टिन हिंदु खानदान जे भातीयूंनि सोग॒ को तडो॒ त विछायो, पर इन ते वेठे, अखयूंनि में पहिंजे गम जी आलण आणण खां भी पाण खे रोके रखो – किथे मूसलमान कावडजी न पवनि …!!  जड॒हिं संदुनि अखयूंनि जा बंद सफा टूटण थी लगा॒, इन वक्त को बहानो करे, पहिंजे घरनि में दाखिल थी, हयाउ हलको करे मोठी थी आया..!! ऐडहे सानहे (वाक्ये) खां पोई आयलि आर्तवार ते अवामी आवाज संडे मेगजीन में समूरनि कातिलनि जा नाला, संदुनि सर्परत जमायतुनि जा इशारा, डो॒हारियुनि जे लिकण लाई इसतमाल थियलि गो॒ठ जो नालो ऐं इलाईके जे बाअलसर तर्फां ऐडही गंदी शाजिस में सामिल थिअल जो साफ इजहार मोजोद हो। पर कहिं नह बुधो, कहि नह समझो, कहि भी कजहि करण नह चाहियो – सवाई कातिलनि जे जिन जो हिकु वडो॒ चिताउ मूं ताई अची पहूतो : “माफी वठ, तर्देद कर नह तह मूंहि डे॒अण लाई त्यार थी वञ”  अजु इन सानहे (वाक्ये) खे डेढ साल थी रहयो आहे, इन अर्से में न तह मां  का भी माफी न वरती , न ई का तर्देद कई आहे, पर इलाके जे वाअलसर खांदान सिंध जे टिन शहिदनि जे खुन में शामिल हूअण जो पाण ई इअं ई सबूद डि॒ञो जो समूरा खून राज॒वणियनि में लूडही वया !! मजलूम खांदान शहर ई छडे॒ हल्या वया !!! कातिलअ आजाद थी वया…!!! ऐं सानहे जे डि॒हिं थाणे जो घेराउ कंदड जमाअतयूं, महिनो अगु॒ आजाद थिअण ते छहनि मां चार जवाबदारनि अबेदअल्लाह भयइ, आबदालरओफ भयई,  अबेदअल्लाह भयई ऐं मोलवी अहसानु आल्ला जो शिकार्पूर में जेल बा॒हरां नह रूगो॒ शानदार अस्तकबाल (आझा) कयो वयो पर पोई खेनि हिक वडे॒ जलूस जे शकल में चक शहर पहूचण बैदि खेनि –टे काफिर—मारण ते “गाजीअ” जे लिकाब सा नवाजो वयो। पर सिंधी समाज वरी भी खामोश …!!!  सिंधीयत जे कातिलनि जी जमायत खे ई सिंध जे सभ खां वडी॒ “कोमी इतहाद” में वेहारे ।।सिंध बचाअण।। जी जदोजिहद जारी रखण जी दावेदारीअ में मसरूफ (मूझयलि) !!!

मां उन डिं॒हिं ताई नह कड॒हि घोटकी जिले जे कहि शहर में वयो होसि नह इन सजे॒ जिले में मूहिंजी कहिं भी हिंदु या मूसलिम सिंधी सां का “जरे जी वाट” ई हूई जे रिंकल की रड मूंहिंजो धयान छिकायो। मूं के लगो॒ : जो मां इन जूलम जे खिलाफ विडही सघां ऐं पहिंजे समाज खे भी जूलम खिलाफ विहण में शामिल करे वञा तह, शायदि 1947 में पहिंजे वड॒नि जे गलतियूंनि करे लखनि सिंधीयूंनि सां पहिंजनि तोडे परायनि जे जूलम जो को नंढो पलांद मूमकिनि बणजी वञे”। ऐं पोई तारिख जी हिक पलांद जी खवाईश , हिक ऐडहे वेडह जी शुरुआत साबित थे जहिं में कडहि मूं खां मिल्यलि “टू डे॒” गाडि॒ जो पई पुछयो वयो त , कहिं मूहिजे हवाले वडे॒ बंगले जी गो॒ल्हा पई कई !! पर मां हर बि गा॒ल्हयूं खे विसारे सिंध जी मजलूम अमड सुलक्षणी जूं ऐडहयूं अखयूं यादि रखयूं, जेके 24 फर्वरी 2012 ते अग॒वा थिअल पहिंजे पयारी नयाणी रिंकल कुमारी जे मिलण या नह मिली सघण जी हिक ई वक्त मिलिंदडन आसिरन ऐं खोफन करे कड॒हि उमिदि मा ब॒रिंदे बी डि॒ठयूं त, तूफान जे वर चड्हयलि डि॒ऐ जियां विसामिंदड भी!!! मां हिन वक्त ऐडहो अहसास कंदे ड॒की वञा थो, हिकडी मजलूम माउ जूं अखयूं , 18 ऐपरिल 2012 ते मूल्क जे अलयाई तरिन अदालत जी “अनेखे इंसाफ” बैदि पहिंजे जिगर जे टूकर खे किथे किथे ऐं किअं किअं डि॒सण जूं कोशिश कंदियूं हूंदयूं ..!? ऐं ऐडहयू हर कोशिश ऐं ऐडही हर कोशिश, हर खोशिश नामाक थी व़ञण ते पाण खे किअ परचाईदयूं हूदिंयूं ..?? संदुसि अखयूं केडहे वक्त सिंध जो सुकी ठोठ थी वयलि सिंधु दरयाउ बणजी वेंदयूं हूंदयूं ऐं केडहे वक्त गो॒डहनि जूं छोलयूं  हणिंदड महरान…!!! कहिं खें खबर.!!. कहिं खे अहसास..!!..कहिं खे जरूरत बि केडही ऐडहो अहसास करण जी ..! ?

इंतहाई थकल जहनि सां मां अजु॒ ई सोचयो पई तह शायदि मां केतरनि ई हफतनि खां आराम नाहयां करे सघयो । शाम खां देर रात ताईं आफिस ऐं पोई सुबुहि खां वठी डुक डुकां कड॒हि कहिं खे काअल करण जी कोशिश त, कडहिं कहिं खे समझाऐ सघण जा जतन !!! जहन बेचैनि, जस्म बेचैनि, सोच बेचेनि, पर झालत ऐं जनुन हथउ शिकस्त कबूल न करण जो अजमु, कजहि करे डे॒खारण जो अजम, चुप करे न वेहण जो अजम।

अजु॒ शाम ई, लंडनि खां पहिंजे देश घुमण आयलि निरंजन कुमार अवामी आवाज अचण वक्त चई रहयो हो त : “जड॒हि कमूनिस्ट पार्टी का कारकन हूंदाहवासिं त मथो फिरयलि हूंदो हो। जिंदगी ऐं मोत जी पर्वाह न हूंदी हईं पर छा हाणे पहिंजे मसस्द लाईं पहिजें जान की पर्वाह नह कंदड सिंध जा ड॒ह माण्हूं भी मोजोद आहिन। जे आहिनि त इहे बि॒यनि खे पाण डा॒हि छिके पठण की कौत जरूर पैदा करे वठींदा। मां त सिंध में फक्त हिक ई तबधीली महसूस कई आहे, सा आहे माण्हून में हब॒च जो इंतहाई हद ताई चोट चड्ही वञण,  इन करे जे कहिंमें को जजबो मोजूद आहे , त उन खे ऐडहे जजबे खे कौत बणाअण जो कमु पाण ई करे डे॒खारणो पवंदो “

“कोऐटा वाक्ये” जे रदेअमल में शहर जे समूरे अहम रसतनि ते डि॒हूं रात लगल धर्नो करे, रवाजी रसतनि खे छडण में मजबूर थी बाईक ते केतरनि ई अणडि॒ठलि घटियूंनि मां अचण बैदि, रात देर सां घर पहूचण ते, अव्हां लाई कजह लिखण लाई अञा वधीक जागण जी जरूरत करे, काफीअ जो कोप ठाहण बैदि, आंङरियूंनि ते पेन पकडे, लिखण जे कोशिश दवारां जहनि में वरि वरि इहो ई सवाल गर्दिश पयो करे “जिते मूं खे हिन वक्त सिंध जो नकशो चिटण जी जिमेवारी अदा करणी आहे त मां सिंधु खे केडही शकल में बयान कंदुसि ?  बिन महिननि जे बा॒र पेठ में हूअण जे बावजूद ऐं ऐडहे अगवा जो फर्यादी बी संदुसि सहूरो हूअण जे बावजूद, पसंद जो परणो कंदड कूंवारी छोकरी जाणायलि धणी भील जेडहो ?? समूरो जमिनि खुदाउनि खां आसिरो पले, निरि छत वारे मां इंसाफ जी आस लगा॒ईंदड धनीअ की अमड समझूअ जेडहो ? या वरि पहिजे इन नई दिल्लीअ वारे दोस्तअ जो, जेको पहिंजा गम विसारे इंतजार पयो करे तह  असां कड॒हि इन लायक थिंदासिं तह पहिंजे सिंध जा गो॒डहा उघी सघिंदासिं !! काश असां चक जे शहिदनि जे वारिसनि जे जहनि ऐं जिस्म जियां ई डि॒ठल डुख, खे भी वक्त सर डि॒ठो हूजे हा त, इन वाक्ये जे कजहि महिनि बैदि ई माथिले में हिकु वधीक वाक्यो थिअण खां सिंध बचाऐ पई सघे। हिक अमड सुलक्षणी खां पहिंजे जिगर जो टूकरो खसजण खे रोके पई सघयासिं !! रिंकल खे भी सुपरिम कोर्ट में ऐडहयूं रडयूं करण जी जरुरत कोन पेश अचे हां तह चौधरी- अव्हां सभ मूसलमानों मिल्यलि आहयो !!!, मूखे इंसाफ नाहे मिलणो !! किअं चयजे त हिन वक्त बी बे वाही फकत रिंकल आहे हिंन मूल्क जो इंसाफ न , इंसानियत न.. सिंध न सिंधीयत न रिंकल जे अगवा थिअण के हिक साल मखमत थिअण जे बावजूद, पहिंजी धीअ जो चहरो भी नह डि॒सी सघींदड अमड सुलक्षणी जे अख्यूंनि में डि॒सी सघजण जी हिमथ त मूं में भी नह आहे पर पोई भी जे मां सिंध जो नकशो चेटो तह इहो जरूर चक जो मजलूम सिंधी, माथिले की मजलूम माऊ, ऐं संदुसि अगवा थियलि गुलाम धीअ रिंकल, पंजनि सालनि जी मजलूम बा॒रडी वेंजंती या वरि समझो भील खा मूख्तलिफ न हूंदो। सिंध अमड जी ऐडही शकल खे डि॒सी, मा पाण खां इहे सवाल करण खां रही नथा सघा तह – छा मां सिंध जो ऐडहो ही मूसलमान सिंधी आहियां, जनि खे हिक जेडहो ई जलमु या जालिम जो बचाउ कंदड करार डेई। रिंकल रडयूं करे रही आहे त- अव्हा मूसलमान सभ मिल्यल आहियों ..”या”  मा सिंध जो ऐडहो हिकु सिंधी आहियां जेको पहिंजी धर्ती माउ ऐं इन के कहिं भी नाले में सडे॒ वेंदड औलाद सां ग॒ड॒ वेठल या बिही सघिंदड आहे !!?

मां लाला हुसेन जे उन गा॒ल्हि सां हिक राय आहियां त सिंध मसलब डु॒ख ई डु॒ख , पर छा सिंध जे फक्त डु॒खु हूअण करे, असां सिंध जो जिक्र करण, नालो खरण, ऐं नाले रखण ई छडे॒डिंदासिं ?? या सिंध जे सुरन ऐं दर्दन में हूअण जो अहसास खे पाण लाई चैलेंज समझींदे हिक ऐडहे सिंध अड॒ण जी शुरूआत कंदासिं जहिं जो नालो डु॒खु न हूजे जहिं जो तसविर धणी भील बणजी जे जहन खे डं॒भ न डे॒, जहिं जो अहसास असां खां फक्त इंसाफ आसमान ते ई मिलि सघण जी डा॒हि कडे॒। ऐडहे सिंध जहिं में का भी वेंजती, बा॒हर बो॒लयूं कडी॒ ठपिंदे कूडिं॒दे कहि भी तरफ खां कहि भी पासे वेंदे ऐडही आजाब जो शिकार थिअण खां बची सघे!! जहि खे नह हूअ समझी सघे नह ई बयान करे सघे!! असां खे सिंध जी ऐडही शकल किअ थी कबूल थी सघे। जेका रिंकल जियां मझलूमत ऐं  नाईंसाफी जी अलामत बणजी वञे। नह हरगिज न। असां खे पहिंजी अमडनि सूलक्षणयूं जो ऐडहयूं  ब॒हकिंदड अखयूं घर्जिन जेके पहिंजे जिगर जे ठूकरनि खे पहिंजे आडो॒ डि॒सी, खूश डि॒सी गौरव सा भरजी वञिनि पर गो॒डहनि सा न। असां सिंध जो ऐडहो जी ऐडही तसविर किअं था कबूल करे सघयूं । जहि सिंध में पहिंजे बा॒रडीअ ते नालो रखण सा ई समझायो वञे  “ इअं न कर पहिजी बारडी जो नसिबु खराब न कर!!! खेसि डु॒ख जो अहञाण न ब॒णाई!!  छो तह सिंध मतलब “डू॒ख ई डु॒ख” !!!

मूं खे सिंध जो ऐडहो तसविर ऐं ऐडही शकल कहि भी रित कबूल नाहे। मां ऐडही तसविर खां डि॒जण बजाई विडहण लाई, पहिंजी बा॒रडीअ खे सत साल अगु॒ ई “सिंधु” नालो ड॒ई चको आहियां ऐं नथो चाहयां मसकबिल जो को भी मसवरु,  कहि भी रित,  सिंध जो ऐडहो ई तसविर चटे, जेका मां अजु॒ पहिंजे अख्यूंनि सा डि॒सी रहयो आहियां ! जेका कहि भी हाल में इअं ई चिटण न पर इन के बदलाअण थो चाहियां। जे असां सभिनि गड॒जी सिंध जे “निभागे” वारे तसविर “भाग” में बदलाऐ न डे॒खारो त डु॒ख ई डु॒ख नह फक्त वेजती ऐं रिंकल जो ई नसिब बणायलि नाहे रहणो,  डु॒ख ई डु॒ख “मूहिंजे सिंध” मूक्दर में ई नाहिनि अचणा !!! डु॒ख अव्हां जेडहनि सिंधीयूंनि जो बी विछो किन छडिं॒दा !!!….छडि॒यूंनि भी किअं ? जड॒हिं सिंध धर्ती डु॒ख जो महफूम बणयलि हूजे!!  पाण ई डु॒ख बणयलि हूजे..!! सदियूंनि जो डु॒ख…!!.

सिंधी दलित –हिक विसारियल कोम

दलित सिंधी बाबत जेकरि कहिं सिंधी हिंदु (हिंद में) नह भी भी बु॒धो हुजे तह वाईडईप जी गाल्हि नह थिअणी खपे। हिंदु सिंधीयनि जो दलित सिंधीयनि बाबति अण – वाकफिति जो हिकु वदो॒ सबबु इहो आहे तह विरहाङे सबब लद॒पण सिंधी दलित जी नह के बराबर थी। आम तौर सा इहो ई दि॒ठो वया आहे तह सिंधी दलितनि लद॒पण रिवाजी सिंधीयनि वाङुरु कोन कई। हिंदुस्तानि में सिंधी गा॒ल्हिईंदड ईलाके में कच्छ ई हेकलो इलाको आहे जिते सिंधी कच्छी (हिंदु) दलित भी रहिनि था। पर छो तह आम रिवाजी सिंधी संदिनि सां को भी राबतो कोनि रखनि सो आम सिंधीयूं खे सिंधी दरितनि बोबत जा॒ण भी तमाम महदूद ई आहे। जेतोणेक सिंधूनि में ब॒न लेखकनि श्री परसो गिद॒वाणी ऐ जेठू लालवाणी कच्छ में सिंधी जातयूं बाबति किताब शाया कया आहिनि पर इहे किताब मूल तरहि सिंधी – कच्छी बोलीयूनि जे पाण मे वाटि जे नसबत ई आहिनि। जेतोणेक श्री परसे गि॒द॒वाणी कच्छे जे सिंधी ऐलाईके ऐं खासि करे बी॒नी में रहो सिंधी दलितनि जातयूनि बबति तमाम सुठो कमु कयो पर छो तह हिंद में आम रिवाजी सिंधीयनि में आर्बी लिपीअ जी जा॒णी नाहे सो चङनि सिंधी लेखकनि वाङुरि श्री गी॒द॒वाणीअ जे महेनति जो भी कदुरु कोन थयो जिऐं थिअणो खपिंदो हो।

जेसिताई सिंध में दलितनि जी गाल्हि कजे तह परु सालि ताईं मुखे सिंधी दलितनि बाबत ओतरी जा॒ण हुई जेतरि कहि आम हिंद में रहिंदड सिंधी नोजवानअ खे। सिंधी दलितनि बाबत मां पहिरों लङे साईं जेब सिंधी जे लिखयलि कालम दिल जी गा॒ल्हि में पढहो (हे कालम सांदहि कराचीअ मां शाईं थंदड अखबारि काविश में शाईं थिंदा अहिनि) हो लिखे थो तह बदिईनि जीले में (दखिण सिंध जो हिकु जीलो) दलितन खे बो॒द॒ सतालयनि लाई अदा॒यलि कैंपनि में खाधो नथो दि॒ञो वञे। वरि जद॒ही हिन साल भी सिंध में बो॒द॒ आई आहे तह साग॒या मंज़र पया दि॒सण या बु॒धण में अचिनि। दलितनि जे इन हालतनि जो बयानि सिंधी मिडिया खां वधिक कहि कदुर पाकिस्तानि जी अग्रेजी मिडीय में शाई थयलु आहे। अखबारिन में ईहा खबरि शाई थी आहे तह सिंध जे दलितनि खे खुले आसमानि हेठि दिं॒हि ता गा॒रणा पवनि। खेनि राशण पाणि भी कोनि थो दिञो वञे। मां लग॒ भग॒ ब॒नि सालनि खां सिंध मां शाई थिंदड सिंधी अखबारिनि खासि करे आनलाईनि अखबारिन खे नजरि खां कदां॒ पयो पर अजु॒ ताईं वरली ई सिंध जे दलितनि बाबत का खबरि शाई थी हुजे। वरि जेकरि असीं सिंधी साहित्य दा॒हिं पहिजी नजर वराईंदासिं तह उते भी सागयो मंजरि नजर इंदो। मतलब तह जद॒हि जद॒हि बो॒द॒ या का कुदरिति आफतिनि सबब मिडिया (खासि करे अंग्रेजी या परदे॒हि मिडिया) जी नजर पवे थी तह गा॒ल्हि बी॒ आहे बाकि घणो तणो दलितनि ते थिंदड वयलि खे का आम रिवाजी गा॒ल्हि करे ई लेखो वेंदो आहे। सायदि इन अखबारि पढिंदडन जो को भी चाहि ई नह हूंदो आहे दलितनि बाबति।
सिंध में दलितनि बाबत का भी विचूडनि खां अग॒वाटि असां खे हाणोके पाकिस्तानि जे अण मुसलमानि दा॒हि पहिजी नजरि दोडाअणि पवंदी। पकिस्तानि में अदमशमारीअ जी ग॒णप कजहि हिन रित आहे….
मुसलमानि- 96 सेकडो
हिंदु (रिवाजी) – 0.5 सेकडो
क्रिसचनि-1.5 सेकडो
हिंदु दलित – 1.5 सेकडो
ब॒यूं अण मलसलमानि कोमयूं (बौध, फारसी, यहूदि वगिराहि) – 0.5
जेसिताईं आजिविका जी गा॒ल्हि कजे तह दलितनि में मर्द तोडे जाईफुनि हेठि जा॒णायलि पेशे सां लग॒लयि समझया वया आहिनि।

मर्दनि में-

खेति में मजूरि-50 सेकडो

लठनि जे कारखाने में मजूरि- 20 सेकडो

मोची-20 सेकडो

साफ सफाई में – 5 सेकडो

सरकारि नोकरि-0.5 सेकडो

ब॒या मुखतलिफ रोजगारि में- 4.5

जाईफाउनि में

खेति जे नतबति कमनि ते-50 सेकडो

लटे कपडे सिबण जे कमनि में-20 सेकडो

घरि जे कमंनि में – 30 सेकडो

हिक अनुमानि मोजीबु सिध में खासि करे खेतनि में मजूरि जो कमु 70 सेकडो दलितअ कन। बाकि 30 सेकडे में मुसलमान इन कम लग॒यलि आहिनि जहिंखे हारि थो कोठया वञे। जेकरि इलाके जी गा॒लिह आहे तह जद॒हिं उतर सिंध में घणो तणो खेतनि में मजुरी मुसलमानि हारि कन पर थार परकारि ऐं बदिईन (दखिण सिंध) में इहो कम हिंदु दलित ई कनि। अदमशमारि मोजिबु सिंधी दलित थारि परकारि में 35 सेकिडो आहिनि ऐं वदिईनि में 20 लेकिडो। सिंधी हारिनि लाई सिंध जूं सियासी तंजिमयूं तोडे सिंधी अगु॒वाण तमाम घणी जदेजिहद पई कई। इहो ई सबब आहे तह सिंधी हारिनि जी हालति सिंधी दलितनि खां कहि कदरु सुठी आहे। मथे जा॒णायलि आकडनि मोजीबु सिंध में रिवाजी हिंदुनि खा टिनि गुणा खां वधिक हिंदु दलितअ आहिनि। हिक सर्वे मोजिबु सिंधी हिंदु जेके अञा ताई सिंध में रहलि आहिनि तनि जा 80 सेकडो सिंधी दलित आहिनि। पर इन जे वादजूद सिंध में हिंदु दलितनि में जेका नुमाईंदगी मिलणी खपे सा कोन मिलि। जद॒हि भी सिंध में सिंधीयनि जो जिक्रु अचे थो तह हमेशाहि ई रिवाजी सिंधीयनि जो जिक्रु इंदो आहे –केतिरो नह अजीबु आहे तह सिंध में हिंदुनि जो ऐदो॒ वदो॒ तब्को मोजोद हुअण जे बावजूद संदिनि बाबत सिंधी समाज में को भी जिक्रु नाहे- नको हिंद में ऐं नह ई सिंध में। सिंधी साहित्य में भी संदिनि जिक्रु लग भग नह जे बराबर आहे। मां जेतिरो भी सिंधी सीहित्य पढो आहे इन में मेंखे सिंधी दलितनि बाबति कहिं भी जिक्र जी गा॒ल्हि जेकरि मां पढी हुजे मुखे यादि नथी अचे। इहो ममकिनि आहे तह संदिन बाबत को भी जिक्रु कयो ई नह वेंदो हुजे।
असां भले मञोउ या नह पर पाकिस्थानि जो वजूदअ में अचण जेकरि कहि कोम में वदे॒ में वदी॒ उथलि पथलि आंदी आहे तह उहो आहे सिंधी कोम। ऐडहो को भी तब्को नाहे जहिं ते हिन विरहाङे पहिजो असरु कोन विथो। छा हिंदू ऐं छा मूसलमानि। पाकिस्तानि जे वजूद में अचण बैद ज॒णु माहोलि उमालक ई मटजी वयो। सिंध जोतोणेकि माजीअ में निज मूसलिम सलतनत जो हिस्सो रहि हूई पर 1947 खां पोई उमालक तालिम , समाज ऐं सियासति में हिदु हिकु जूलमि ऐं मुसलमानि हिकु सतायलि करे पेश कयो वयो। सिंध जो हिंदु तोडे मुलसमानि इन हमेशाह ई संतनि ऐं पिरनि खे मञिदा आया आहिनि पर विराहांङे बैद उमालक हिकु ऐडहो इसलाम संधीयनि ते थोपो पयो जहिं सा सिंधु अणवाकिफु हो। जेतोणेक हर तबके में इहा उथलि पुथलि थी जहि तबखे ते सभनि खां वधीक वयलि थया सो आहिनि सिंधी दलित। सिंध में दलितनि थे थिंदड वयलनि में नशाने ते दलित जेफाऊं ऐं नयाणयूं ई थयूं आहिनि। मसलनि
1. जबानी यीतना
2. जंसी यातना
3. जोर जबसती धर्म जो बदलाउ
4. लज॒ लुट, आम लज॒लूट ऐं अग॒वा
5. हाथापाई
6. तबीबी लापर्बाही
दलित जईफाउनि ते जूलमनि सबब आहिन क) जेईफां हुजण, ख) दलित हूअण ऐं ग) अण-मुलसलमानि हुजण
दलितनि ते जूलमनि सां मसलो ईहो आहे तह संदनि ते थिंदड कहरनि जी फरयादि भी बी को ब॒धण लाई तयारि नह हूंदो आहे। जिअं रिवाजी तोर हिंदुस्तानि में भी थिंदो आहो आहे तह दलितनि पारां पर्यादनि ते ऐफ आई आर नह दर्ज कोन कई वेंदी आहे। वरि पाकिस्तानी अदालितनि जो हाल भी ऐंडहो रहयो आहे जे कोर्ट या वकालती भी सघेरनि जूं रहयूं आहिनि। अदालतिनि जो हाल सिंधी मुसलमानि बाति भी साग॒यो तह पोई हिंदुनि बाबति इहो भी दलित हिंदुनि बाबत तह सोचे सघजे थो। दलितनि जेफायूं ते थिंदड जूल्मनि मेंल हिक अहम जूलम आहे नियाणनि खे अगवा करण ऐं पोईं संदिनि खे मुसलमानि सां जबरदसति पणञाअण। जेईफउन ऐं नेंङरिनि खे अगवा करण जूं वाकदात तह रोज जूं गा॒ल्हिईयूं आहिनि। अगवा करण जो तरिको भी साग॒यो आहे। अगवा घणो तणो रात जो कयो वेंदो आहे जद॒हिं घर जा भाति सुता पया हुजनि। जेकरि घर जा माईट पहिंजी नियाणयूं खे गो॒ल्हे भी लहन तह बी संदिनि खे पहंजी नयाणुनि मोठाऐ नह दि॒ञयूं वेंदयूं आहिनि इहो चई जे हो हिअर हो मुसलमानि थी चूकयूं आहिनि, सो अव्हां जे हथ नथा करे सघोयूं। इन अगवा कयलि नयाणयूनि खे या तह संदिनि खे मुसलमानि सां परणायो थो वञे या नह तह कहि खे विकयो थो वञे जिअं हजारनि सालिनि आगु इंसानी समाज में थिंदो हो।

जेकरि गा॒ल्हि कजे सिंधी दलित मर्दनि जी जी तह संदिनि ते झुलम नंनढे हूंदे खां ई शुरु थी वेंदी आहे। स्कूलनि जे पाठ्यक्रम ई ऐडहो आहे जहि में हिंदुनि खे जिलमी करार दिञो वेंदो आहे। इन खां सवाई हिंदुनि जी जेका इशारनि इशारनि में जोको धर्म जे नाउ थे हेठ करे देखारो वेंदो आहे सो घारि। इन गा॒ल्हिईयूंनि खा बचण लाई जे हिदु मसलमानिका भी पया कखिनि जिअं संदिनि इन रित जे वहिनवार खां बची सघिनि पर कामयाबी तमाम घठिनि खे ई मिलिंदी आहे। वरि जेको अणपढयलि जोके खेतनि में मजूरि कनि तह लाई तह जिंदगी कहि सजा खआं घटि नाहे। संदिनि जी नह तह दाद ऐं नको फर्यादि बु॒धी वेंदी आहे।
जेतोणेक विरहाङे खां अगु पूरे नंढे खंड में जमिनदारनि जो राज हो तह आजादि बैदि इन में हिदुस्तानि में हिकु तारिखि फेरो आहे। हिंदुस्तानि में कांग्रेसि अजादीअ जी जदोदिहदि महल जमिंदारि खे हिंदुस्तनि जो हिक अहम मसलो केरे लेखो हो। पर जद॒हिं तह हिंदुसतानि में इन जो खातिमो थयो पर पाकिस्तानि में ऐं सिंध में जमिदारिनि खें बख्शयो वयो। संदिनि जे बख्शणण जी हिक अहम सबब इहो हो तह हो सिंध जे नऐ हुजुमरानं (यानी हिंदुसतानि मां लदे॒ आयलि मुसलमानि ऐं पजाबी मुसलमानि) जी संलतनत खे सोघो करण जी कम इनहिनि वदे॒रन ऐं भोतारनि ई कयो। हुकूमति भी संदिनि वदो॒ साथ दिञो जेके जुलम कयोयूं तहि जी नह दाद थी ऐं नको फरयादि दर्ज कई वई। जेकरि को कुछे तह संदिसु अकहिं ते ऐंतरि वयलि थेनि जे संदुसि बिरादरिअ में कहिं जी भी वरि का हिमथ नह थे।

सिंधी दलितनि सां थिंदड वयलनि जो हिकु मिसाल आहे भील जति जो मानो भील। मानो भील थर परकारि जो रहाकू आहे। चयो थो वञे तह मानू भील 1980 जे आकालि खां पोई मिठी जीले में हिक जमिंदारि हयात रिंद सां भाईवारी गं॒दी॒। पर कनि सालनि बैद रिंद इहो इलजामि हणी जे भील हूं जा उदार नह पई मोटाया ऐं हुन भील ऐं संदुसि घऱ जे कूल 21 भातियूंनि खे संघर जिले जे जमिंदारि अबदुल रहिमान मारीअ खे विकणे छदो॒। इतफाक सां मारीअ जे खेतन में इन बंधुआ मजदूरनि पाण खे आजादि करण जी सिट पई जोडी। पक ईहा कई वई तह किशन कोहली खे अग॒वाठि आजादि करायो वञे जिअं हो सामाजिक कार्ताउनि सां ग॒द॒जी ब॒यनि खे आजाद कराऐ सघे। शाजिशि कामयाब थी कोहली खे पाकिस्तानि ऐं इंगलेंड जे किन इंसानी हकनि जी तंजीमनि जे मदद सबब चङो हुलु पई थयो जहि सबब पूलिस इन रिंद जे खेतनि ते काहि करे 71 मुजुरनि खे जहि में भील जी आकहिं भी हुई तन खे आजादि करायो। भील छो तह सागे॒ जमिदारि खे धार खेतअ में पयो कस करे सो आजादि कोन थी सघो। जेतोणेकि भील कनि सालनि बैद रिहा थयो पर खेस चङयूं यातनाऊ दि॒ञयूं वयूं।

इन विच में बेनाजीर जी हूकदमत खत्म कई वई ऐं चूंडिनि बैदि नवाज शरिफ जी हूकूमत ठहि जहि जो साथु पिर पागरे जी क-लिग॒ पिणि दि॒ञो। अबदुल रहिमान मारीअ जेको की पीर पागरे जे वेझे हुअण जो फाइदो वठी पहिजे हिक जमिंदारि सजण –बशीर चौदरीअ जी मदद मोनू भील जे आकहिं जे 9 भातिनि खे अगवा कयो। अगवा थिअण में शामिलि हुवा संदुनि पिणसि -खेरो (ज॒मार 70 वरहय),माणसि अखो (ज॒मार 50 वरहय), जोणसि मोठण (ज॒मार 40 वरहय), भाणसि तलाल (ज॒मार 35 वरहय), धिणसि मोमलि (ज॒मार 10 वरहय), पुटसि चमन (ज॒मार 12 वरहय) ऐं कांजी (ज॒मार 390 वरहय) ऐं धिणसि धाणी । इन खां सवाई हिक वेझो माईटु किर्तो। इहा वारदाति बी॒हि अपरेलि 1998 जी आहे। पहिंजे घर जे भातिनि लाई मनु भील चङा थाबा॒ खाधा पर को फाईदो कोन पयसि। भीलअ हैदरआबाद प्रेस कल्ब जे अग॒यां भी चङयूं भूक लडतालयूं कयूं पर नेठि को फाईदो कोनि निकतो। पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस आफतिकारि मुहमद चोधरी भी इन मामले जी सू मोटो नोटिस वठी चदको आहे पर इन जे वावजोद अजु॒ थाई मनो भील जी आकहिं जो को भी द॒सु कोन मिल्यो।
सवाल रूगो कहि भील, कोहलि या मङेवारि जो नाहे पर इअं हजारनि सिंधीयनि जी आहे जेके रोज पया अगवा थेनि। अग॒वा तह रिवाजी हिंदू ऐं मुसलमानि भी पया थेनि पर दलितनि ते जूल्मनि जे नसबत मसलो इहो आहे जे इहे मसला कद॒हि भी मिडिया जी सुर्कयूं थिअण तह परे पर घणो तणो ऐफ आई आर ताईं दर्ज कोन कई वेंदी आहे। गरिब माण्हुनि खे पयो विकयो वञे जेके मंजरि नंढे कंढ में किथे भी नजरि नथा अचिनि। हे सब थी रहयो आहे ऐं सिंध ऐं सिंध खां बा॒हिरि सहिंदड सिंधीयूनि जे जा॒ण जे वावजूद। असीं सिंधी सभी पहिंजयूं लडाईयूं लडण में ऐतिरा मुशगूल आहयूं जे असां खे इन गा॒ल्हि जी ताति भी नाहे जे धारयो असां खे होरयां होरयां असां जो कमु पया लाहिनि। विरहांङे खां अगु॒ सिंधी बो॒लीअ जो मिसालि असां जे अग॒यां आहे। जेसिताई हिकु हुवासिं तह पूरे हिंदुस्तानि में हुलु करण वारी नह हिंदी ऐं नको उर्दी सिंधी जो वार वंङो करे सघी पर जां खां धार थिया आहयूं हिक पासे हिंदी तह बे॒ पासे उर्दू सिंधी ते वार कया आहिनि।

पकिस्तानि जे वजूद जे अचण बैदि ब॒ह तकयूं दलितनि लाई महफूज हयूं जेके पोई वरि मटे थोरईवारे कोम जे नाले कयूं वयूं। (किन जो मञण आहे तह इहो सब पंजाब जे क्रिशचेनि जे जोर दे॒अण सबब तहि महल के प्रधान मंत्री मियां नवाज शरीफ कई हुई। इहो मूमकिनि आहे तह शरिफ खे इन में सयासी फाईदो पोगो॒ हुजे। वरि वेझडाईअ में हाणोके सदर असिफ अली जर्दार वधाऐ चारि कयूं आहिनि पर छो तह हिअर इहे तकयूं थोडाई वारनि लाई आहिनि सो इन तकयूं ते रिवाजी हिंदुनि जी ई नुमाईंदगी रहिंदी इहो सब इन जे बावजूद जें सिंध में 80 सेकडो हिंदु दलित सिंधी ई आहिनि।

हिंदुस्तानि जी भेट में सिंधी दलितनि जी हातलि कयासु जोगी आहे इन जा के अहम सबब आहिनि।
• दलितनि जो पाण में ऐको नह हुजण- सिंध में दलितनि जूं 27 खां भी वधीक जातयूं आहे जहि में जे तह पाण में भी ठही कोन हलिनि।हिक बे॒ सां वेर पाअण में देर कोन कनि।
• अण-पढयलि हुजण- दलितनि जो 80 सेकडो अण पडहयलि आहे। इंऐ तह पूरे सिंधी में तालिम को हाल कयासु जोगो आहे पर दलितनि में तह तालिम जो हालि साफा चटू आहे। दलितअ सिध में सभनि खां गरिबाणे ऐलीईके में हरिनि जिते ज॒णु जिंदो रहण भी कहि करिशमें खां घटी नाहे।
• जमूरियति जे उसुलनि जी अणाठि- पाकासतानि में हर कोम पहिजे नजरिऐ सा जमोरियति खे दि॒सिंदो आहे। पंजाबियन लाई जमोरियति का वदी॒ अहमियति नथी रखे छो तह हो पहिजे सघ जी जोर ते सभ हथु कंदा आया आहिनि, भले हूकूमत में को चूंडयलि नुमाईंदो हूजे या तानाशाह। मुहाजरिनि जी नोकरिशाहि में हले थी तह हो भी पहिजा हक हथ करे वठिनि। पठान में पहिजो कम करे वठनि पंजाबियूनि सां गदु॒ बाकि रहया सिंध तोडे बलूच तह हो सदाई झुकी करे रहया आहिनि -जेके इन उमेदि में रहिन तह जमोरियति हुजे तह खणी कूझ हथ अचे। घठि में घठि कुझ चवण लाई हुजे, छा काणि तह ब॒यो कझहि नह तह नुमाईदो हर चारि पंज वहरयनि में वोट तह घुरण इंदोई। दलितनि जी तह वाईं बु॒धण वोरो कोई नाहे। जते दा॒ढन जो ऐतिरो जोर हूंदो तह समाज में निधीकणो करे तह छा करे।

 

जेको भी सिंधी दलितनि सां थी रहयो आहे सो कहि भी अण मुसलमानि कोम में खासि करे हिंदुस्तानि में थिंदो आयो आहे। पर अजादीअ हिदुस्तानि में वदो॒ फेरो आंदो। सभनि खां वदो॒ फेरो तह इहो आहे तह खासि करे शहरनि में रिवाजी माण्हूं खे पहिजो बाबति गाल्हिईअण जी आजादी मिलि। तालिम जो वाधारो थयो। पर सिंध जी हलति विलकूल मूख्तलिफ आहे। सिंध में या वरि पाकिस्तानि में जमूरियति कद॒ही भी पहिंजा पेर पसारे कोन सघी। सिंधी दलितनि लाई जेकरि कहिं थोडो घणो कयो आहे सो आहे अवामि तहरिक पर छो तह दलितनि जो मसलो समाजीक आहे सो इहा उमेति करण जे सियासी जोर दलितनि खे मिंलदो तह समाजिक तोर संदिनि खे पहिंजायपि मिलंदी सो गलति थींदो। दलितनि जो मसलो आहे तालिम- जेसिताई खेनि तालिम नह मिलिंदी तेसिताई हो कद॒हि सामाजिक तोर आजाद नह थिंदा।

इहो हर सिंधी लाई अफसोस जी गा॒ल्हि थिअण खपे तह संदिनि कोम जो हिक तब्को हिअर जिल्त जी जिंदगी पयो गा॒रे। पर इने जे वावजूद सिंधीयूंनि इन मसले थे कझु करण तह परे पर इन मसले जो जीक्रु ताईं कोन कंदा आहिनि। दलित हिंदु मूसलिमि बि॒हिनि पारां सतायलि आहिनि। जेकरि असीं सिंधी कोम खे हिक दि॒सण जी उमेदि था कयों तह दलितनि लाई हमदर्दी रखणी पवंदी। सिंधी दलित सिंधी समाज जा मुल हिस्सा आहिनि,हुवा ऐं रहिंदा। सिंधी दलित भले हो भील जात को हुजे, मघेवार हुजे या वरि कोहलि विरादरि जो हुजे खेनि भी रिवाजीं सिंधीयनि वाङुर जिंदगी गारण जो हकु आहे। सिंधी दलित सिंध में उहो ई पया घुरिनि जेको हर सिंधी सिंध में पया घुरिनि ऐं जिऐं कवि ऐबराहिम मुंशी लिखो आहे ….

बराबरी सरासरी असां घुरों था ऐतरि
जे पुछे को केतरि तह असां बु॒धायूं हेतरि
हिक आजाद कोम जेतरि , हिक आजाद कोम जेतरि

[slideshow]