किड॒हिं थिंदासि पहिंजे देश जा।

 

सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदु हिक ऐडहे चक्रर्वियू में फाही चुका आहिनि जहिं मां निजात पाअण ऐतिरो भी को सहूलो कम जेतिरो हिंदुस्तान मां वेही समझो वेंदो आहे। असां जी टेही जहिं कड॒हिं सिंध कोन डि॒ठी, सिंध में आम हिंदुनि मंझ वक्त किन गुजारो – सिंध में हिंकु हिंदु थिअण जो अहसास कोन माणो पहिंजे ई रत पारां जलिल थिंदे कोन डि॒ठो, – हे हिकु अणजातो आजमूदो आहे जहिं सो सही अहसास करण असां खे वस खां बा॒हार आहे।

सिंध में हिंदुनि ते जूल्म जेतोणेक नया नाहिनि, इहे तह हमेशाहि ई थिंदी रहया आहिनि, पर जहिं सुरत में पिछाडीअ जे 65 सालनि में पहिंजो भोवाईतो मूहांडरो डे॒खारो आहे सो इन खां अग॒ वरलि ई ड॒ठो वयो हो। सिंध में हिंदु भले कहि भी तबके जो छोन न हूजे, कहि भी ज॒मार जो छोन नह हूजे सिंध जे कहिं भी इलाके में छो न हूजे कहि भी जाति जो छो न हूजे हिक हिंदु हूअण जो अहसास मसझे थो।

सिंध अंदर हिंदुनि सां केडहो सलूक पया कयो पयो वञे, सिंध में सामाजिक तोर या सियासी तोर हिंदु सिंधीयूंनि जी केडही हैसियत रहि आहे। सिंध में रहिजी वयलि हिंदु सिंधी छो लड॒ण लाईं मांदा रहया आहिनि, रियासती इदारनि जो केडहो सलूक रहयो आहे, आम सिंधी मूसलमान जो केडहो सलूक रहयो आहे ऐ वडी॒ गा॒ल्हि त हिंदुस्तान हूकूमत जो केडहो रदे अमल थिअणो खपे  इन मसले नसबत … – हे उहे सवाल आहिन जेहिंजो जवाबु सिंध जो हिंदु तड॒हि ड॒ई तो सघे जड॒हिं हो महफूज ऐं बे-ढप हूजे जेको रगो॒ तड॒हि मूमकिन आहे जड॒हिं हिंदु सिंदी सिंध खां बा॒हर हूजे। सिंध में हिंदु केडहि दहेशत में था रहिनि इन जो अंदाजो इन गा॒ल्हि मां कड॒हि सघजे थो हो शोशल मिडिया में जिते आम तोर सां घणो कजहि बेढप जाहिर थो करे सघजे सिंध जा हिंदु कुछण लाई त्यार नाहिनि…!!!

इहो डि॒ठो वयो आहे त आम तोर सां सिंधी लोहाणा, सिंध में थियलि जूल्मनि बाबत खामोश रहिंदा आहिनि शायदि खेनि हिंदुस्तान में पुलिस पारां पाकिस्थानी हूअण जे सबब तंग थिअण जो ढप हूंदो आहे। ऐडहा जाम वाक्या थिया आहिनि जिते पूलित तोडे ब॒या सरकारी मूलाजिम पारां लडे॒ आयलि सिंधी हिंदु तंग थिया आहिनि जहिं मां निजात तड॒हि वञि मिलि थी जड॒हि का भूंग या रोकडनि सां संदुनि खिसा भरया वञिनि। खैर अहमेदाबाद में इतफाक सां ऐडहे ई हिंक आकहिं सा राबतो थियो जेके 20 सालनि बैदि भी नागरिकता मिलण जे जा॒रु (गणतियूं) पया कनि। वडी॒ गा॒ल्हि त इहा जे हूनिनि पहिजे पाण ते थिंदड जूलमनि बाबत गा॒ल्हिईंदे जरे जो भी हिजाबु या ढप किन डे॒खारो ।

2 3 4 Pak in Ahd_Page_1

पहिंजे बाबत विचूड डिं॒दे श्री निर्मलदास  चयो साईं “आउं लाडकाणे को आहियां। गो॒ठू रतोतिल जो। सिंध में लाडकाणे में मूहिंजो कारोबार हूंदो हो। इंअ त माहोल ऐतिरो खराब किन हो पर 1960 खां पोई हालतु उमालक बिगणण लगयूं । मूंहिजी हयाती में फेरो तड॒हिं आयो जड॒हि मूहिंजे बि॒नि सालनि खे डि॒हिं तते सरे आम कतल कयो वयो। ब॒ई फोहू जवानी में हवा। हिकडे उतेई तम तोडयो ऐं बे॒ खे कराचीअ खणाऐवयासिं । 21 डि॒हिं सांदही जाखडे बैदि नेठि हून भी दम तोडयो। मोत सां हो पुजी॒ किन सघयो। गा॒ल्हि उते खतम किन थी । मूहिजे सहूरे खे अग॒वा कयो वयो। भूंग ड॒ई किअ भी करे आजाद करायोसिं जड॒हिं तह मूंते पिणि अगवा॒ तो वाक्यो थी चूको आहे पर मां किअ भी करे भजी॒ निकतुसि। असां हेकला नाहियों। सिंधी हिंदु ऐं खासि करे धंधेडी हिंदुनि सां ऐडहा वाक्या हाणे आम थी पया आहिनि। असीं घरनि खां बा॒हर भी निकरउ तह इन जो पूरो धयान रखउ त मता को असां जे कड॒ त कोन पयो आहे। रात जो हेलले निकरण जो स सवाल ई नथो अचे। असीं सिंध में इहा कोशिश पूरी कयूंनि तह ल़टनि कपडनि तोडे वेश भूषा सां कहि भी रित हिंदु किन लगउं त मतां खहिंके इन गा॒ल्हि जो छिड्रु न वपे त असीं हिंदु आहियूं।“

हुन अग॒ते चयो तह मां सिंध रहिंदे अहमेदाबाद आयो हो। विजा टिन महिनिन लाई हो पर बैदि में वरि टटिन महिनि लाई वधायो हो। हिंदुस्तान में सकून आहे अमन आहे। मां मोत कबूल कंदुसि पर मोटी सिंध कोन वरिनिदुसि। असां जो पहिंजा चई को भी नाहिनि। असां हिंदुनि लाई सिंध में रण बा॒री वई आहे।

असां हिंद में जा॒वलि सिंधी जनि नंढे खां माईटनि पारां सिंध में सेकुलिजम जा डि॒घा डि॒घा दावा बु॒धिंदे वडा॒ थिया आहियूं, इहो निहायत ई वाईडो कंदड मंजर आहिनि ऐं वडी॒ गा॒ल्हि इहा त इहो सभ उते पयो थिऐ जिते सिंधीयूंनि (मूसलमान ) जी घणाई आहे !!! श्री मिर्मलदास पिणि मूखे इन गा॒ल्हि जो पधराई कई त असीं लाणकाणे जेडहे शहर में भी जिते वडी॒ तादाद हूंदी हूई हिंदुनि जी पर हिंअर अग॒वा थिअण जो खोफ हमेशाहि रंदो आहे। असीं डा॒ड्ही भी मूसलमानि वाङुरु रखउं जिअं कहिंखे इहो इहो छिड्रु न पवे त असीं वाक्ई हिंदु आहियूं। असीं त सिंधी में खूली रित ऐतजाजत बि कोन करे सघउ मतां मूसलमानि खे इअं न लगे त असीं खेनि खुयार था कयूं इंसाफ जी उमेदि करण त परे जी गा॒ल्हि थी।

इअं चवण लाई त हिंदुस्तान तोडे पाकिस्तन में मंझ हिक ठाह मोजूद आहे जेका बिलकुल हिन मसले लाई ई वजूद में आंदो वई आहे पर न त हिंदुस्तान ही हकूमत पांरां कहि भी अमल डा॒हि धयान डि॒ञो ऐं न ही हिंदुस्तान को सिंधी समाज। अहमेदाबाद जी सरदारनगर तक कहि ते भलो को कुछ भी छोन करे सिंधी वोटन खां सवाई खटि कोन थो सघे, उते पिणि इन मूदे ते खामशी ई आहे। पर-साल हित आलमी सिंधी संमेलनि थियो जहि में डे॒हि परडे॒हि जा सिंधी ग॒डु थिया वडी॒ गा॒ल्हि त आडवाणी तोडे गुजरात जो वडो॒ वजिर ताईं मोजूद हो पर सिंध जे हिंदुनि जे मसलनि जो जिक्र ताई कोन थी सघयो कहिं इन मसले ते जोर ई किन डि॒ञो।

हर लड॒पण जा पहिंजा मसला थिंदा आहिनि । 1954 बैदि थिंदड लड॒पण में नागरिकता हिकु वडो॒ मसलो थी विठो आहे। लडं॒दड हिंदुनि खे 7-10 सालनि ताई बिना नागरिकता रहणो थो पऐ। वरि हर सूबे सुबाई सरकारनि साग॒यो रलईयो किन रहयो आहे। मध्य प्रदेश, राजसथान, छतिसगढ में जिते नागिरकता मिली भी थी वञे पर गुगजात जिते हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि सभनि खां वडी॒ आबादी पई वसे उते इहा हिअऱ 30 – 30 सालनि ताईं नागरिकता किन थी मिले ऐं मथोउ वरी सरकारी आफिसरनि जो ड॒चो सो धार।

गुजरात में लडि॒दड हिंदु सरकारी मूलाजिम लाईं ज॒ण लडिं॒दड हिंदुनि ज॒णु पैसे उगारण जो वडो॒ जरियो ड॒ञो आहे। अहमेदाबाद में रहिंदड डा रमेश (नालो फिरयलि) जो चवण आहे मस जेहा 20-25  लडयलि मस जेडहा गड॒निन था जे आफिरस जा फोन अचण शुरू था थी वपनि. हो पुछिन साईं अव्हा कहि मसले ते इहा गड॒जाणी कोठाई, केर केर आया हवा वगिराह वगिराह ऐं जेकरि को कची नस वारो सिंधी निकतो तो आफिसर भूंग (रिशवत) ओगारण में मिंट देर न कंदो। हो थदो तड॒हि थिंदो जड॒हिं रोकड हथ में मिलिनिस।

इन गा॒ल्हि जी पुठिभराई जाम लडं॒दड सिंधी हिंदु कई आहे त गुजरात में सरकारी अफसरि जो वहिंवारु डु॒खाईंदड रहयो आहे। श्री मिर्मलदास जे पुट जो चवण हो तह असां खे सजो॒ सजो॒ डि॒हिं इन आफइसरनि वठि वाहायो वेंदो आहे उहो घर में जाइफां ऐं बारनि ऐं गेरेंटर सुधो। हर नंढि गा॒ल्हयूंनि ते दब॒ पटण, बेअजत करण ज॒ण संदुनि नित मियम हूजे। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे इहो सभ हिक ऐडहे सुबे में पयो थिऐ जहिं खे हिंदुत्व जी प्रयोगशाला ताई कोठयो पई वेंदो रहयो आहे। जेकरि लडिं॒दर हिंदुनि का आकडा डि॒सजिन तह गुजरात हेकलो सुबो आहे जिते लडे॒ आयलि सिंधी हिंदुनि खे विजा ऐं सरकारी अफसरि जे दबा॒उ सबब सिंध मोठी ताईं वञणो पयो आहे पर इन ते भी सिंधी समाज खामोश। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे तह आर ऐस ऐस ऐं बी जे पी पिणि इन ते माठ रहण में ई पहिंजी सयाणप ई समझिंदा आहिनि !!.

सिंध तोडे पाकिस्तान मां लडिं॒दडनि सां हिकु ब॒यो मसलो इहो आहे त हिंदुस्जान में हिक लड॒पण मूसलमानि पारां भी पई जेका तमाम सहूलाई सां ऐं बिना रोक ठोक सां पई थिये। छो तह बंगलादेश की सर्हद अगो॒पोई सिल नाहे सो इहा लड॒पण अजु॒ ताईं पई हले। वरि वोट बैंक की सियासत इन मसले खे निबरण ई किन डि॒ञो। पर जड॒हिं कानून जी गा॒ल्हि पई अचे तह बि॒हिनि लड॒पण हिकु करे डि॒ठयूं पयूं पञिनि। हिक पासे गैरकानूनी लड॒पण ऐं सुख त बे॒ पासे कानूनी लड॒पण ऐं आफिसरन जो ड॒चो।

2005 में असाम जे कोमिप्रसतनि जे दबा॒उ में सरकार नागरिकता के कानून में वडो॒ फेरबदल कंदे नागरिकता डे॒अण जा हक जिले मेजिस्ट्रेट खां खसे मर्कजी हूकूमत जे गृह वजिरात खे डि॒ञा, जहि सबब बंगलादेशिन खे सहलाई सां नागरिकता वारो मसलो त कहि हद ताईं निबरी वयो पर सिंध मां लडिं॒दड हिंदुनि जी बे॒डी बु॒डी वईं। नागरिकता मिलण मूशकिल थी पया। सरकारी आफिसर जा धिका खां वधिक दिल्ली जा धक डु॒खया लगिनि।

साल 2011 में दिल्ली हाई कोर्ट के फैसले बैदि हूकूमत जेका नोठिफिकेशन पधरी कई जहिं में  साफ साफ जा॒णाआहे तह हूकूमत पाकिस्तान में  थिंदड जुल्मनि बाबत तहकिक कई आहे ऐं इनहिनि खे सही पातो आहे पर जड॒हिं नागरिकता जी गा॒ल्हि पई अचे हर को माण्हू भले इहो कहिं भी मूल्क मां छो न हूजे कानून साग॒यो ई लागू थिऐ।।। ऐडी॒ वडी॒ ब॒याई पई थिऐ पाकिस्तान मां लडे॒ इंदड हिंदुनि सां पर सिंधी समाज खामोश …सिंधी अगवान भले हो भाजप जा हूजिनि या कांग्रेस जा कड॒हि भी इन मसलेते हाई घोडा करण जी जरूरत कोन समझी।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे त सिंधीयूंनि वटि ऐडही का संसथा नाहे जेका नागिरकता लाई जाख़डो न करे सघे। पिछाडीअ जे टिन ड॒हाकनि खां सिमान्त लोक संघटनि सिंधी मां लडे॒ आयलि भील, मेघवार, कोली माली वगि॒राह जातियूंनि लाई जाखडो पई करे पर वरली ई  कहि सिंधी संसथा खेसि पहिंजो समझी साथ डि॒ञो हूजे। इहो सब इन जे वावजूद जे इंन संसथा जे रहबर श्री हिंदु सिंह सोढे खे हर शहर में सिंधी सुञाणिनि पर जड॒हिं इन संसस्था के मदद जी गा॒ल्हि थी अचे तह उमालक सिंधी लोहाणनि खे जातियूं पयूं याद अचिनि। हा पर जेतसाईं पहिंजे नागरिकता मिलण जी गा॒ल्हि आहे तह रिवाजी सिंधी कहिं भी संसथा खे पहिंजो करण में मिंटु देर किन थो करे। छा मस जेडहो कमु निकतुनि जे हो किथे ऐं संसथा सा हूबु ब॒यो किथे।

अहमेदाबाद में जेतरनि भी सिंधीयूंनि सा मां राबतो कयो , जिनहिन सां भी गा॒ल्हि बो॒ल्हि थी इलहिनि मंझसि घणाईं उनहिनि जी हूई जेके मसले खे त समझिनि था पर लडे॒आयलि हिंदु सिंधीयूंनि लाई रसतनि में जाखडो करण लाई असुलि ई तयार नाहे। हूनिनि जो अजु॒ भी मञण आहे तह सिंध मां लड॒यलि हिंदु सिंधीयूंनि ला जोखडो सुठो पर हो भी तड॒हिं जड॒हि ब॒यो करे।

मतलब साफ आहे त अंग्रेजनि जे डि॒हिनि में सिंधी अग॒वान जहिं मौकाप्रसती सबब सिंध जो हिंकु नंढो टूकर बी पहिजो कोन करे सघया सा मोकाप्रसती अजु॒ पहिंजे पूरे सभाब में हिंदु सिंधीयूंनि जे रत में मसाईजी वई जहिखां निजात पाअण ऐतिरो भी सहूलो नाहे जेतिरो समझो पयो वञे।

जेसिताईं उहो मूमकिन थिऐ लडे॒ आयलि हिंदुनि खे रूगो॒ नागिरकता रूगो॒ नागरिकता ताई आस ई रखी था सघीनि ऐं ड॒हाकनि खां ड॒हाका इन सवाल सां जिअण पवंदो त किड॒हिं थिंदासिं पहिंजे देश जा नेठि किड॒हिं…

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

सिंध में जेकरि कहिं सिंधीअ खे आर्तवार डि॒हिं कहिं लेख जो इंतजार हूंदो आहे त उहो आहे श्री असद चांडिये जे अवाणी आवाज में शाई थिंदड लेख को। असद चांडियो उन मजलूमनि जो आवाज आहे जहिं जो सडु॒ बुधी बि सिंध अणबु॒धो कंदो आहे। पेश आहे संदुसि लिखयलि हिक बेहतरिन लेख। हे लेख अर्बी सिंधी मां देवनागरी सिंधी में उलथो कयलि आहे। उमेदि तह पडिहंदडनि के वणिंदो।

asad-chandio

सिंध जा लूड्क उघी सघिंदासी……!!??

लेखक असद चांडियो

साल 2006 में नयाणी के पैदाईश खां अगु॒, मां केतिरा ईं डि॒हिं सोचिंदो रहिंदो होसि त पहिंजे पहिरें बा॒र खे ऐडहो केडहो नाले डि॒जे जो, प्यार जे इजार में कहि भी किसम जी का कसर रहजी नह वञे। ऐं पोइ वरी वरी सोचण बैदि भी जहन में हिक हंद ते ज॒मे बेही रहयो ऐं इअं ई 22 अगस्त 2006 ते पहिंजी बा॒रङी जो नालो पवजी वयो “सिंधु” । नयाणी खें “सिंध” जो नाले जे॒अण खां वधीक, मूखे प्यार जो ब॒यो को इझहार सुझयो ई नह !! जनि भी मिठन माईटन खे खबर पई तह पहिरें धक में “सिंध” खे “सिंधु” ई समझो, पर पोई मां खेनि समझाअण शुरु कयो :  “त सिंधु , सिंध जो हिक दरयाउ आहे। हिअ सिंध आहे, पूरी सिंध। रणण, पठनि, पहाडनि बयाबानन, रेघिस्तानि,सायनि, माथिरनि, शहरनि, समूडनि ऐं बेट समेत मखमल सिंध”। बे॒ डिं॒हिं “अवामी आवाज “ पहूचण ते जड॒हनि दोस्तनि , साथीयूंनि खे बुधायूंम त : “मूहिंजे घर सिंध आई आहे” तड॒हि समूरन इंतहाई खूशीअ जो इजहार कयो सवाई हिक दोस्त लाला हूसेन पठाण जे, जहि हिकु लम्हो खामोश रहण खां पोई चयो :  “पहिंजी बा॒रडी ते सिंध नालो न रखें हा, सिंध त डु॒ख ई डु॒ख आहे”.

19 जनवरी 2013 में खपरे शहर मां  पहिंजे ससु मुडुसि ऐं सहूरे समेत वाटि वेंदे ऐलाईके जे बाअलसर मरी खांदान हथउ अगवा कयलि धणी भील जहिंखे पोई कुवांरी छोकरी ऐं पसंद जो परणो कंदड “प्रेमिका” करे इअं जाहिर कयो वयो जो, खेसि जज आडो॒ पेश करण दौरां संदुसि वकिल कांजी मल खे अदालत पहूचण जी हिमथ कान थी !!! ऐं पोई धनीअ जी माउ समझू भिल अदालति बा॒हिरां इअं चवदे भी रही ऐं रोईंदे भी रही  “मूं सां इंसाफ कंदो तह निरी छत वारो,  जमिन खुदा असां खे इंसाफ नथा डे॒ई सघे। असां गरिब आहियों, कोर्ट ऐं कानुन असां लाई नाहिनि। मसलनि 15 डिं॒हिं ऐतजाज कयो, पर इंसाफ मिली न सघयो”।

मूंहिजे नई दिल्ली वेठल दोस्त इअं ई पइ रोयो जो, हो पहिंजो रोअण जाहिर करण चाहे भी नथो। पहिंजो डुख असा सा सुलण भी चाहे थो, पर खेसि पहिंजी पीडा जे बदनामीअ जो दाग॒ बणजी वञण जी त पक आहे पर इनसाफ थी सघण जो को भी असिरो नह !! जहिं करे हो नह चाहिंदे भी चवे थो:

“असद, तुहां सा हिक दिल जी गा॒ल्हि वढण चाहया थो । मां 11 जूलाई 2012 जो पहिंजे सिंध माता खे छडे॒ हमेशा लाई भारत हल्यो आयूसि, आजु मूखे दिल धोडि॒दड खबर मिली आहे तह अजु॒ मूहिजे 14 सालनि जी सोट  जी धीअ खे अगवा करे “पाक” कयो वयो आहे। 14 सालनि जी मासूम बारडीअ खे 15 डिं॒हिनि खां पोई, घोटकीअ जे बालसर वट जाहिर कयो वयो आहे। मूंहिंजा लूडक नह पया बिहिनि, पर इहे सिंध का लडक आहिनि । आलाई कड॒हि इन लाईक थिंदासीं जो सिंध जा लूडक उघी सघींदासिं ……!!?

पंजनि सालनि जी उमर में हिकु ऐडहे ऐजाय जो शिकार थियलि मासूम वेजंती , जहि जो हर को तसवीर करण खा भी कासिर आहे, जूं लियारी जर्नल असपताल में डि॒ठल उदास अखयूं ऐं संदुसि डा॒डी संगिता जो आलयूं अखयूं सां पुछल सवाल :

“असां खे इंसाफ नाहे मिलणो तह इजाजत डि॒यो तह असीं पहिंजे मूल्क हलया वञूं ?”  पहिंजे देश में वेसाउ घातीअ जो निशाणो बणयलि हिक मजलूम के जुबान ते आयलि जिउ झरिंदड लफज असां खे का गा॒ल्हि समझाऐ सघिंनि था…मजलूमनि जे दर्द को अहसास डे॒आरे शघिनि था..!!

16 महिना अगु॒ चक शहर में, काजी गूलाम मूहमद भयई दिवान दुकानदार खे उधड घुरण जी इअं सजा डे॒आरी जो , संदुनु नोजवाननि ते कूडो भता मडही, जहि डिं॒हि कुर्बानीअ जे ईद जी खुशी पई मल्हाईजे वई, इन शाम को कलिनिक ते वेठलि चईनि दोस्तनि डाकटर अजित कुमार, नरेश कुमार, अशोक कुमार ऐं डा सत्यपाल से इअं पई गोलयूं वसायूं वयूं जो फक्त डा. सत्यपाल ई सख्त जखमी थिअण जे बावजूद भी पहिंजी जान बचाऐ सघयो। नंढे शहर में हिक ई वक्त टे अर्थयूं उथयूं पर इलाके का मजहबी जनूनि इन गा॒ल्हि ते भी चिड्ही पया तह- टिन इंसानन जे कतल को केस छो दाखिल करायो वयो !!? जे कानून के किताबनि जो पेट भरण लाई  को काग॒र कारो करणो ई हो त पोई , पूलिस के इहा मजाल किअ थी त, मूख्य डो॒हाडी काजी गुलाम जे गिर्फतारी ताई छापो हयों वञे !! ऐं पोई हिक मजहबी कारूकनन खे थाणे जो घेरो कंदे डि॒ठो वयो। नतिजे में कुर्बानी जी ईद डि॒हिं कुर्बान कयलि टिन हिंदु खानदान जे भातीयूंनि सोग॒ को तडो॒ त विछायो, पर इन ते वेठे, अखयूंनि में पहिंजे गम जी आलण आणण खां भी पाण खे रोके रखो – किथे मूसलमान कावडजी न पवनि …!!  जड॒हिं संदुनि अखयूंनि जा बंद सफा टूटण थी लगा॒, इन वक्त को बहानो करे, पहिंजे घरनि में दाखिल थी, हयाउ हलको करे मोठी थी आया..!! ऐडहे सानहे (वाक्ये) खां पोई आयलि आर्तवार ते अवामी आवाज संडे मेगजीन में समूरनि कातिलनि जा नाला, संदुनि सर्परत जमायतुनि जा इशारा, डो॒हारियुनि जे लिकण लाई इसतमाल थियलि गो॒ठ जो नालो ऐं इलाईके जे बाअलसर तर्फां ऐडही गंदी शाजिस में सामिल थिअल जो साफ इजहार मोजोद हो। पर कहिं नह बुधो, कहि नह समझो, कहि भी कजहि करण नह चाहियो – सवाई कातिलनि जे जिन जो हिकु वडो॒ चिताउ मूं ताई अची पहूतो : “माफी वठ, तर्देद कर नह तह मूंहि डे॒अण लाई त्यार थी वञ”  अजु इन सानहे (वाक्ये) खे डेढ साल थी रहयो आहे, इन अर्से में न तह मां  का भी माफी न वरती , न ई का तर्देद कई आहे, पर इलाके जे वाअलसर खांदान सिंध जे टिन शहिदनि जे खुन में शामिल हूअण जो पाण ई इअं ई सबूद डि॒ञो जो समूरा खून राज॒वणियनि में लूडही वया !! मजलूम खांदान शहर ई छडे॒ हल्या वया !!! कातिलअ आजाद थी वया…!!! ऐं सानहे जे डि॒हिं थाणे जो घेराउ कंदड जमाअतयूं, महिनो अगु॒ आजाद थिअण ते छहनि मां चार जवाबदारनि अबेदअल्लाह भयइ, आबदालरओफ भयई,  अबेदअल्लाह भयई ऐं मोलवी अहसानु आल्ला जो शिकार्पूर में जेल बा॒हरां नह रूगो॒ शानदार अस्तकबाल (आझा) कयो वयो पर पोई खेनि हिक वडे॒ जलूस जे शकल में चक शहर पहूचण बैदि खेनि –टे काफिर—मारण ते “गाजीअ” जे लिकाब सा नवाजो वयो। पर सिंधी समाज वरी भी खामोश …!!!  सिंधीयत जे कातिलनि जी जमायत खे ई सिंध जे सभ खां वडी॒ “कोमी इतहाद” में वेहारे ।।सिंध बचाअण।। जी जदोजिहद जारी रखण जी दावेदारीअ में मसरूफ (मूझयलि) !!!

मां उन डिं॒हिं ताई नह कड॒हि घोटकी जिले जे कहि शहर में वयो होसि नह इन सजे॒ जिले में मूहिंजी कहिं भी हिंदु या मूसलिम सिंधी सां का “जरे जी वाट” ई हूई जे रिंकल की रड मूंहिंजो धयान छिकायो। मूं के लगो॒ : जो मां इन जूलम जे खिलाफ विडही सघां ऐं पहिंजे समाज खे भी जूलम खिलाफ विहण में शामिल करे वञा तह, शायदि 1947 में पहिंजे वड॒नि जे गलतियूंनि करे लखनि सिंधीयूंनि सां पहिंजनि तोडे परायनि जे जूलम जो को नंढो पलांद मूमकिनि बणजी वञे”। ऐं पोई तारिख जी हिक पलांद जी खवाईश , हिक ऐडहे वेडह जी शुरुआत साबित थे जहिं में कडहि मूं खां मिल्यलि “टू डे॒” गाडि॒ जो पई पुछयो वयो त , कहिं मूहिजे हवाले वडे॒ बंगले जी गो॒ल्हा पई कई !! पर मां हर बि गा॒ल्हयूं खे विसारे सिंध जी मजलूम अमड सुलक्षणी जूं ऐडहयूं अखयूं यादि रखयूं, जेके 24 फर्वरी 2012 ते अग॒वा थिअल पहिंजे पयारी नयाणी रिंकल कुमारी जे मिलण या नह मिली सघण जी हिक ई वक्त मिलिंदडन आसिरन ऐं खोफन करे कड॒हि उमिदि मा ब॒रिंदे बी डि॒ठयूं त, तूफान जे वर चड्हयलि डि॒ऐ जियां विसामिंदड भी!!! मां हिन वक्त ऐडहो अहसास कंदे ड॒की वञा थो, हिकडी मजलूम माउ जूं अखयूं , 18 ऐपरिल 2012 ते मूल्क जे अलयाई तरिन अदालत जी “अनेखे इंसाफ” बैदि पहिंजे जिगर जे टूकर खे किथे किथे ऐं किअं किअं डि॒सण जूं कोशिश कंदियूं हूंदयूं ..!? ऐं ऐडहयू हर कोशिश ऐं ऐडही हर कोशिश, हर खोशिश नामाक थी व़ञण ते पाण खे किअ परचाईदयूं हूदिंयूं ..?? संदुसि अखयूं केडहे वक्त सिंध जो सुकी ठोठ थी वयलि सिंधु दरयाउ बणजी वेंदयूं हूंदयूं ऐं केडहे वक्त गो॒डहनि जूं छोलयूं  हणिंदड महरान…!!! कहिं खें खबर.!!. कहिं खे अहसास..!!..कहिं खे जरूरत बि केडही ऐडहो अहसास करण जी ..! ?

इंतहाई थकल जहनि सां मां अजु॒ ई सोचयो पई तह शायदि मां केतरनि ई हफतनि खां आराम नाहयां करे सघयो । शाम खां देर रात ताईं आफिस ऐं पोई सुबुहि खां वठी डुक डुकां कड॒हि कहिं खे काअल करण जी कोशिश त, कडहिं कहिं खे समझाऐ सघण जा जतन !!! जहन बेचैनि, जस्म बेचैनि, सोच बेचेनि, पर झालत ऐं जनुन हथउ शिकस्त कबूल न करण जो अजमु, कजहि करे डे॒खारण जो अजम, चुप करे न वेहण जो अजम।

अजु॒ शाम ई, लंडनि खां पहिंजे देश घुमण आयलि निरंजन कुमार अवामी आवाज अचण वक्त चई रहयो हो त : “जड॒हि कमूनिस्ट पार्टी का कारकन हूंदाहवासिं त मथो फिरयलि हूंदो हो। जिंदगी ऐं मोत जी पर्वाह न हूंदी हईं पर छा हाणे पहिंजे मसस्द लाईं पहिजें जान की पर्वाह नह कंदड सिंध जा ड॒ह माण्हूं भी मोजोद आहिन। जे आहिनि त इहे बि॒यनि खे पाण डा॒हि छिके पठण की कौत जरूर पैदा करे वठींदा। मां त सिंध में फक्त हिक ई तबधीली महसूस कई आहे, सा आहे माण्हून में हब॒च जो इंतहाई हद ताई चोट चड्ही वञण,  इन करे जे कहिंमें को जजबो मोजूद आहे , त उन खे ऐडहे जजबे खे कौत बणाअण जो कमु पाण ई करे डे॒खारणो पवंदो “

“कोऐटा वाक्ये” जे रदेअमल में शहर जे समूरे अहम रसतनि ते डि॒हूं रात लगल धर्नो करे, रवाजी रसतनि खे छडण में मजबूर थी बाईक ते केतरनि ई अणडि॒ठलि घटियूंनि मां अचण बैदि, रात देर सां घर पहूचण ते, अव्हां लाई कजह लिखण लाई अञा वधीक जागण जी जरूरत करे, काफीअ जो कोप ठाहण बैदि, आंङरियूंनि ते पेन पकडे, लिखण जे कोशिश दवारां जहनि में वरि वरि इहो ई सवाल गर्दिश पयो करे “जिते मूं खे हिन वक्त सिंध जो नकशो चिटण जी जिमेवारी अदा करणी आहे त मां सिंधु खे केडही शकल में बयान कंदुसि ?  बिन महिननि जे बा॒र पेठ में हूअण जे बावजूद ऐं ऐडहे अगवा जो फर्यादी बी संदुसि सहूरो हूअण जे बावजूद, पसंद जो परणो कंदड कूंवारी छोकरी जाणायलि धणी भील जेडहो ?? समूरो जमिनि खुदाउनि खां आसिरो पले, निरि छत वारे मां इंसाफ जी आस लगा॒ईंदड धनीअ की अमड समझूअ जेडहो ? या वरि पहिजे इन नई दिल्लीअ वारे दोस्तअ जो, जेको पहिंजा गम विसारे इंतजार पयो करे तह  असां कड॒हि इन लायक थिंदासिं तह पहिंजे सिंध जा गो॒डहा उघी सघिंदासिं !! काश असां चक जे शहिदनि जे वारिसनि जे जहनि ऐं जिस्म जियां ई डि॒ठल डुख, खे भी वक्त सर डि॒ठो हूजे हा त, इन वाक्ये जे कजहि महिनि बैदि ई माथिले में हिकु वधीक वाक्यो थिअण खां सिंध बचाऐ पई सघे। हिक अमड सुलक्षणी खां पहिंजे जिगर जो टूकरो खसजण खे रोके पई सघयासिं !! रिंकल खे भी सुपरिम कोर्ट में ऐडहयूं रडयूं करण जी जरुरत कोन पेश अचे हां तह चौधरी- अव्हां सभ मूसलमानों मिल्यलि आहयो !!!, मूखे इंसाफ नाहे मिलणो !! किअं चयजे त हिन वक्त बी बे वाही फकत रिंकल आहे हिंन मूल्क जो इंसाफ न , इंसानियत न.. सिंध न सिंधीयत न रिंकल जे अगवा थिअण के हिक साल मखमत थिअण जे बावजूद, पहिंजी धीअ जो चहरो भी नह डि॒सी सघींदड अमड सुलक्षणी जे अख्यूंनि में डि॒सी सघजण जी हिमथ त मूं में भी नह आहे पर पोई भी जे मां सिंध जो नकशो चेटो तह इहो जरूर चक जो मजलूम सिंधी, माथिले की मजलूम माऊ, ऐं संदुसि अगवा थियलि गुलाम धीअ रिंकल, पंजनि सालनि जी मजलूम बा॒रडी वेंजंती या वरि समझो भील खा मूख्तलिफ न हूंदो। सिंध अमड जी ऐडही शकल खे डि॒सी, मा पाण खां इहे सवाल करण खां रही नथा सघा तह – छा मां सिंध जो ऐडहो ही मूसलमान सिंधी आहियां, जनि खे हिक जेडहो ई जलमु या जालिम जो बचाउ कंदड करार डेई। रिंकल रडयूं करे रही आहे त- अव्हा मूसलमान सभ मिल्यल आहियों ..”या”  मा सिंध जो ऐडहो हिकु सिंधी आहियां जेको पहिंजी धर्ती माउ ऐं इन के कहिं भी नाले में सडे॒ वेंदड औलाद सां ग॒ड॒ वेठल या बिही सघिंदड आहे !!?

मां लाला हुसेन जे उन गा॒ल्हि सां हिक राय आहियां त सिंध मसलब डु॒ख ई डु॒ख , पर छा सिंध जे फक्त डु॒खु हूअण करे, असां सिंध जो जिक्र करण, नालो खरण, ऐं नाले रखण ई छडे॒डिंदासिं ?? या सिंध जे सुरन ऐं दर्दन में हूअण जो अहसास खे पाण लाई चैलेंज समझींदे हिक ऐडहे सिंध अड॒ण जी शुरूआत कंदासिं जहिं जो नालो डु॒खु न हूजे जहिं जो तसविर धणी भील बणजी जे जहन खे डं॒भ न डे॒, जहिं जो अहसास असां खां फक्त इंसाफ आसमान ते ई मिलि सघण जी डा॒हि कडे॒। ऐडहे सिंध जहिं में का भी वेंजती, बा॒हर बो॒लयूं कडी॒ ठपिंदे कूडिं॒दे कहि भी तरफ खां कहि भी पासे वेंदे ऐडही आजाब जो शिकार थिअण खां बची सघे!! जहि खे नह हूअ समझी सघे नह ई बयान करे सघे!! असां खे सिंध जी ऐडही शकल किअ थी कबूल थी सघे। जेका रिंकल जियां मझलूमत ऐं  नाईंसाफी जी अलामत बणजी वञे। नह हरगिज न। असां खे पहिंजी अमडनि सूलक्षणयूं जो ऐडहयूं  ब॒हकिंदड अखयूं घर्जिन जेके पहिंजे जिगर जे ठूकरनि खे पहिंजे आडो॒ डि॒सी, खूश डि॒सी गौरव सा भरजी वञिनि पर गो॒डहनि सा न। असां सिंध जो ऐडहो जी ऐडही तसविर किअं था कबूल करे सघयूं । जहि सिंध में पहिंजे बा॒रडीअ ते नालो रखण सा ई समझायो वञे  “ इअं न कर पहिजी बारडी जो नसिबु खराब न कर!!! खेसि डु॒ख जो अहञाण न ब॒णाई!!  छो तह सिंध मतलब “डू॒ख ई डु॒ख” !!!

मूं खे सिंध जो ऐडहो तसविर ऐं ऐडही शकल कहि भी रित कबूल नाहे। मां ऐडही तसविर खां डि॒जण बजाई विडहण लाई, पहिंजी बा॒रडीअ खे सत साल अगु॒ ई “सिंधु” नालो ड॒ई चको आहियां ऐं नथो चाहयां मसकबिल जो को भी मसवरु,  कहि भी रित,  सिंध जो ऐडहो ई तसविर चटे, जेका मां अजु॒ पहिंजे अख्यूंनि सा डि॒सी रहयो आहियां ! जेका कहि भी हाल में इअं ई चिटण न पर इन के बदलाअण थो चाहियां। जे असां सभिनि गड॒जी सिंध जे “निभागे” वारे तसविर “भाग” में बदलाऐ न डे॒खारो त डु॒ख ई डु॒ख नह फक्त वेजती ऐं रिंकल जो ई नसिब बणायलि नाहे रहणो,  डु॒ख ई डु॒ख “मूहिंजे सिंध” मूक्दर में ई नाहिनि अचणा !!! डु॒ख अव्हां जेडहनि सिंधीयूंनि जो बी विछो किन छडिं॒दा !!!….छडि॒यूंनि भी किअं ? जड॒हिं सिंध धर्ती डु॒ख जो महफूम बणयलि हूजे!!  पाण ई डु॒ख बणयलि हूजे..!! सदियूंनि जो डु॒ख…!!.

सूरअ पहिंजनि जा

 

सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी
सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी

साईं हिंदुस्तान वारा असां खे पाकिस्तानी हूअण जा मेहणा था डे॒नि, पाकिस्तान वारा असां खे हिंदुस्तानि जा ऐंजेंट करे था लेखिनि वरि सिंधी (हिंदुस्तान जा)  तह् असां खे सिंधी करे लेखिण लाई तयार नाहिन, असीं वञऊ तह वञउ किथे।

हे लफज हवा माली जातिअ जे हिक सिंध लड॒यलि नोजवान जा जेको हिअर जोधपूर में रहे थो ऐं सिंध मां लदे॒ इंदड हिंदुनि ऐं खासि करे भील मेघवार, कोली जातियूंनि खे हिंदुस्तानि जे सुबे राजस्थान में वसाअण से नसबत तंजीम सिमांत लोग संघठनि जे हिक अहम करूकनं मां आहे।

नोजवानअ जे लफतनि जी हकिकत जा॒णण लाई मूखे को घणो परे नह् पर जोधपूर में ई मिली जड॒हि जोधपूर जे सिंधी (लोहाणिनि) पंचायत जे हिक अहम ऐह्देदार मूंखे साफ चिटी रित मूंहू सामहूं बेहिजीबु चई डि॒ञो हो तह साई असीं खेनि (भील, मेघवार माली वगिराह) सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियूं। दिलचस्प गा॒ल्हि तह इहा आहे जे संदुनि राये जी उते मोजोद कहिं भी लोहाणे सिंधी पंचायति मुखातलिफ कोन कई। इहो सभ इन जे वावजूद जे भील मेघवार भले सिंध मां लडे॒ आया हजिनि या सिंधी ताईं गा॒ल्हिईंदा हूजनि। वरि जेसताई मसलो लडे आयलि हिंदुनि जे माडवारी  बो॒लीअ आहे ऐडहा जाम सिंधी भी आहिनि जेकि राजसथान में पहिंजे घरनि में माडवाडी पई गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर पहिंजनि खे पहिंजा करे लेखण लाई असूल ई तयार नाहिनि।

इहा ग॒ल्हि मूंखे पाकिस्तान पिसथापिथ संघ जे सदर हिंदु सिंह सोढा भी पई वाजी कई तह थर परकार में बि॒न किसमनि जा भील- मेघवार था रहिनि – हिकडा उहे जेके सालनि  अगु॒ राजस्थान मां लडे॒ वया ऐं हिअर पया मोटिनि पया ऐं बया जेके उतोउ जा मूल रहाकू आहिनि जेके ढाठी बो॒ली (सिंधीअ जो हिकु लहजो).गा॒ल्हिईनि आहिनि पर दिलचसप सवाल इहो आहे तह जेकर इहा गा॒ल्हि हिक लंङे मञे बी वठजे तह इहे लडीं॒दड भील मेघवार हितुऊ जा ई मूल निवासी आहिनि तह सवाल इहो भी आहे तह पोई छो विर्हांङे महल जड॒हिं जाम लड॒पण थी पोई हू छोन नह लडे॒ आया…. छोन नह अजु॒ ताईं संदुसि हिदुस्तान जा सागी॒ जाती जा हिंदु खेनि हिंदुस्तान में वसाअण जे नसबत हाई घोडा कोन कई।

ब॒यो तह् ठहयो पर अजु॒ भी जडहिं सिंध जे धर्ती धणी हिंदुनि खे सिंध मां लडायो पयो वञे ऐं लग॒ भग॒ हर वडीं नंढी हिंदुस्तान जी हिंदी तोडे अंग्रेजी मिडीया पाकिस्तान में हिंदुनि जूल्मनि खे झझो मोल ड॒ञो पयो वञे पई ऐं सिंध जे हूंदुनि बाबति अहवाल पई शाई करे पर इन जे बावजूद राजीस्तान में जहिं रित मारवाडी या हिंदी गा॒ल्हिईंडनि में हलचल डि॒सण में कोन आई आहे।

राजस्तान सुबे में जेकरि डि॒सजे तह तमाम घणयूं वडि॒यूं हसतियूंनि आहिनि जनि जो सिंध सा लागापा आहिनि। मसलनि अगो॒णो परडे॒हिं वजिर जसवंत सिंह जा नानाणा सिंध जे थार परकार जा आहिनि। हाणेको राजीस्थान सुबे जो वडो॒ वजिर (मुख्य मंत्री) श्री अशोक गहलोत पाण भी कबूल कयो आहे तो हो 1965 में सिंध मा लडे॒ आयो हो। जेकरि जातियूंनि जे नसबत डि॒सजे तह सिंध जे हिंदुनि जूं जातयूं ऐं सिंध जे पाडेसी सुबनि मसलनि गुजरात ऐं राजिस्थान में ईअं भी को घणो फर्कु नाहे। भील, कोली, मेघवार वगिराह जातियूं राजस्थानि ऐं गुजरात में जाम थयूं मिलिनि। कोली जातिअ जो गुजरात में खासो रूतबो आहे। पर जड॒हिं गा॒ल्हि सिंधी कोम जी थी पई अचे  नह जा॒ण कहि सबब हिंदुस्तान में सिंधी अण-लोहाणनि खे सिंधी ताईं कोन लेखिंदा आहिनि।।।।

मूल सवाल हित इहो आहे तह इअं छो आहे सिंध मां लडिं॒दड हिंदु दलितअ (जेतोणेकि मां भायां थो तह हू सोउ सेकिडो सिंधी ई आहिनि) अण सिंधीयूंनि में पहिंजी सुञाणप गो॒ल्हण लाई मांदा नजर इंदा आहिनि…छो हिंदुस्तान जो सिंधी समाज सिंध मां लडे॒ आयलि 4 लख भील मेघवार, सोढा राजपूतनि या कोली, माली जातियूंनि खे पहिंजो हिस्सो मञण खां हबकिंदो पई नजर इंदो आहे। हिकु ऐडहो कोम जहिं में जाती कड॒हि भी का खासि अहमियति कोन रखी उहा किअं ऐडहे समले ते खामोश रही आहे। मूमकनि आहे तह 1947 वारो विरहांङे सबब लोहाणनि ऐं अण लोहाणि में (छाकाण तह 1947 जी लड॒पण थर परकार में नह जे बराबर थी) विछोटयूं वधाऐ छड॒यूं ऐं रही वयलि कसरि सिंधीयूंनि पहिजें इतहास खां परे थी पूरी कई।

खैर, जोधपूर वारे ताजे दौरे जे पहिंरें डि॒हूं मूखे बु॒धायो वयो तह सर्कीट हाउसि पुज॒णो आहे। मूहिंजे साण दिल्ली मां आयलि हिक सिसर्चर पिणि हूई जेका पाकिस्तान मां ऐं खास करे सिंध मां  लडे॒ आयलि हिंदुनि बाबति का रिर्सच पई करे। सर्किट हाउस पुजिं॒दे ई मोजूद संगत सां हिक बे॒ खे पहिंजी सुञाणप जो सिलसिसो हलो, उते मोजूद माण्हूं इन गा॒ल्हि जी खास दिलचस्पी हूंई तह असीं मिडीया वारा आहियो तह नाहिंयूं । मोजूद माणहूनि मा हिकडे तह वडे॒ चाह सां हिक हिंदी अखबार में हिकु अहवाल पढायो जिनि में संदुनि तंजिम जे सदर जे जोधपूर अचण जो अहवाल शाई थिअल हूई। खैर इन बैदि गा॒ल्हि बो॒ल्हि जो सिलसिलो हूनिनि पाण ई शुरु कयो (संदुसि उहो गा॒ल्हि बो॒ल्हि घटि ऐं भाषण वधिक हो)। संदसि चवण हो तह असीं आदिवासीनि ते कम कंदा आयूं। आउं राजस्तान ईकाई जो सदर आहियो ऐं साईं (पहिंजे रहबर डा॒हिं इशारो कंदे) पूरे हिंदुस्तान जो। सांईजन श्री सोमजीभाई पूरो महिनो कशमीर खां कन्याकुमारी ताई दौरे में ई मुंझयलि रहिंदा आहे। नह रूगो॒ हिंदुस्तानि जा पर असी पूरे दुनिया में जिते भी अदीवासीयूंनि ते जूलम थिंदा आहिनि असी आवाज उथारिंदा आहियों।

हून पहिंजे रहिबर बाबति वाकफियति डिं॒दे चयो तह साईं सोमजीभाई गुजरात जे दाहोद मां छह घुमरा सांसद रही चूका आहिनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे चूंडनि में साई जन खटी किन सघया पर संदुनि वाकफियति हिंदुस्तानी जे लग भग हर सियासी अगवान तोडे पार्टी सां आहे। इअं ई हेड॒उ होड॒उ जा गा॒ल्हियूंनि जे मंझ में सिमातं लोग सघठन जा सदर अदा हिंदु सिंह सोढा अची पहूता ऐं असी सिंध मां लडे॒ आयलनि के जी बसती डा॒हि निकतासिं।

उहा बसती जोधपूर शहर खां 10-15 कोहि ते हूई । ईलाको पूरो विरान पई लगो॒। नह तह बसती में बिजली हई ऐं नह ही रसता पका हवा। घर सब  कच्ची झोपडीयूंनि वारा हवा जड॒हि तह बसती जो हेकलो स्कूल जी इमारत पकी हूई। हिंदु सिंह सोढा मेजिबु इन हेकले स्कुल जे पूठया वडी॒ मेहनत लगलि आहे। संदुनि वधिक  चयो तह भर में गैशाला ताईं खे छपर आहे जेको हूकूमत पारां ठारायो आहे पर इंसानि लाई जकहि करण अजायो कम पई समझे, ज॒णु टूकर जमिन ड॒ई हूकूमत थोडो लाथो अथउं।

इन जलसे जी रथा मोजिबु असां खे सिंध मां लडे॒ आयलनि भील- मेघवारनि जी हिक बसती में पूज॒णो हो जिते हिक आम मेड (हिक रित जी पबलिक हेअरिंग) जो इंतजाम कयो वयो हो। इअं तह मेडाडको 10 लगे शुरु थिअणो हो पर आदीवासी आगवानि जे देर सां पूजण सबब इहो लग भग॒ बा॒रहें लगे॒ शूरू थियो। अदीवासी अग॒वान जे आजां बैदि जलसे जी शुरिआत थी उते मोजूद सभनी पहिंजा पहिंजा विचार रखा जिन में के लडे॒ आयलि हिंदु भील ऐं मेघवार पिणि हूवा।

हिक वाईडो कंदड मंज़र इहो हो  तह जेतोणेकि अदावासी अगवाणि पूरी दुनिया जे आदीवासी खे मदद करण जी गा॒ल्हि पई कई पर खेनि सिंध जे दलितन बाबत जा॒ण नह के बराबर हूई। जड॒हिं तह राजिस्तान ईकाई वारे अगवान पहिंजे रहिबर जे खुशामंदी में पूरी तकरिर कई ऐं रहिजी वयलि वक्त जेतोणेकि भिलनि बाबत हो जहिं में हून भलनि खे कहि धार्मिक गुरुअ रित हिदायतूं पई डि॒नु। (हून खे संदसि विच तकरिर में इशारो कयो वया तह अबा हिंअर बस कयो)। संदुसि रहबर जेतोणेकि सिंध मां लडे॒ आयलि हिंदु सिंधी (लोहाणनि) बाबत जाम मिसाल डि॒ञा तह किअ हूं 1947 जे विर्हांङे के वक्त मर्द माणहू थी विठा ऐं पहिंजी हयातयूं कि वरि खां सवारियूं । हून भीलनि खे उन सरकारी जमिन ते कब्जो करण जी गा॒ल्हि कई जहिजो जो को दावेदार नह हूजे। पहिंजे तकरिर जे पिछाडीअ में हून दिलजाई डि॒ञी तह हूं दिल्ली में पुजी॒ जुदा जुदा दलित संसथाउं साणु गा॒ल्हिईंदो जिअं सिंध मां लडे॒ आयलि दलितनि बाबत कजहि करे सघजे।

सिमांत लोक संघटिनि जे कारूकनि मोजिबु जेतोणेक सोमजी भाई हे पहिंरा भेरो संदुनि जे कहिं मेडारके में मोजूदि रहयो आहे पर राजस्थान जो अगनाव सालनि अगु॒ नजर आयो हो पर इन बैदि गायब ई रहयो। इन जे  विच में सिंध मां जाम भील लडे॒ आया, डुख डि॒ठा, जाखडो कयो हून जो कड॒हि भी को अतो पतो नह रहयो। इहा गा॒ल्हि श्री हिंदु सिंह सोढा पिणि वाजि कई तह संदुसि इहा खुवाईश रहि आहे माडवाडी भीलनि खे भी सिंध में लडे॒ आयलि जे अग॒यां आणिजे जिअ इन खेनि उतसाउ मिले तह संदनि बिरादरीअ मां भी को ऐडही कामयाबी माणे सघयो आहे पर इन कम में खेनि का खासि कामयाबी कोन मिली आहे ऐं हिअर हू इन में को भी चाहि कोन वठिंदा आहिनि।

सिंध मां लडे आयल सिंधी भील या मेघवार रिवाजी सिंधीयूंनि खा तमाम घणो जूल्मनि जो शिकार हूंदो आहे। जबरनि इसलाम कबूलाअण, दीन-धर्म जे मञण जी आजादी नह हूजण, आम सरकारी सहूलितयूंनि खां महरूम कहिं मिरू खां भी बदतर हयाती गारिंदड थिऐ थो। इअं तह पाकिस्तान में हिदु थी रहण ई जूल्म करे लेखयो वेंदो आहे ऐं वरि जेकरि को दलित हूजे थो तह संदुनि छा गा॒ल्हि कजे।

जलसे में किन थोडनि भिलनि पिणि गा॒ल्हियो जहि जो चवण हो तह सिंध मां लड॒ण बैदि सिंध वारा जूलम तह् निबरी था वञिनि पर ब॒यूं तकलिफयूं खे मूहूं थो डे॒अणो पवे, असां जी इहा निमाणी मिंथ आहे तह हिंदुस्तान सरकार असां ते रहम करे असां खे मदद करे। साईं हिंदु सिंह सोढा पहिंजे तकरिर में के ऐडहो भी खुलासो पिणि कया जहि बाबत सायदि ई कहि खे का घणी जा॒ण हूंदी। संदुसि चवण हो तह जड॒हि सालनि बैदि भीलनि जे किनि आकहिंनि खे विजा मिलो सालनि जे इंतजार बैदि तह पाकिस्तान जे रेंजर तह खेनि वनण डि॒ञो पर हिंदुस्तानि जी बी ऐस ऐफ संदुनि ते गोलियां वसायूं जहि सबब के भील मारजी वया जनि मां हिक माउ भी हूंई जेका पंहिजे बा॒र खे पहिंजो खिर पई पियारे जद॒हिं संदुसि गोली लगा। हे सब इन्ही मूलक में पयो थिऐ जिते परडे॒हि मां जेकरि को पखि भी इंदा आहिनि तह कलेकटर उन पखियूंनि साण पहिजा फोटू खिचाऐ गिद गिद थिंदो आहे असां जा तह इंसान था अचनि जहिंसा मिरू खां भी बदतर वहिंवार पयो कयो वञे। असां खां इहे डु॒ख विसिरिया नाहिनि ऐं असी तेसिताईं माठ किन कंदासिं जेसताई असी भीलनि के कातिलनि खे सजा॒ किन था डेआरऊं।

इन मेडारके जे यकदम पोई हिंदु प्रेस कांफरेंस थिअणो हो पर पोई इहो बु॒धायो वयो तह सोमजी भाई तह अगो॒पोई जोधपूर मां निकरी चुका आहिनि। सिमांत लोक संघठनि जे कोरूकनि मोजिबु राजिस्तान वारे इकाई जे सदर इहो नह पई चाहियो तह हिंदु सिंह सरकार जे विरोध में कजहि गा॒ल्हिऐ सो कहि भी रित सोमजी भाई खे इन प्रेस कांफरेंस खे थिअण ई किन डि॒ञो। मायूस कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे इहो अग॒वान भील बिरादरीअ मां आहे ऐं पाण खे हिक अगवान जे हैसियत में पेश कंदो रहयो आहे।।।।

सोमजी भाई तह पहिजे तकरिर में तह भीलनि खे वांदी सरकारी जमिनि वालारण जी गा॒ल्हि कई पर इहो इंतहाई डू॒खयो आहे पक रित चवण तह जेकरि सिंध लड॒यलि भीलनि इअं कयो भी तह हूं केडही मदद कंदो पर इन तह पक आहे तह सोमजी भाई भीलनि लाई कहि  हद ताई जिक्रु जरुर कंदो इहा भी पाण में का नंढि हरकत नह समझण खपे।

लडे॒ आयलि को भी पाकिस्तानी भले हो दलित सिंधी हूजे या वरि रिवाजी लोहाणो हिंदु, मसला साग॒या ई आहिनि तह सत साल (जेकरि संदुनि माईट 1947 खां अगु॒ जावलि हूजिनि) जेसिताईं खेसि नागिरकता नथी मिले हो हिक लग॒ भग॒ कैदि वारी जिंदगी थो गुजारे। जहिं शहर लाई खेसि ऐल डी वी (ढघे अर्से लाई विजा) मिले थी तहि शहर जे 20 लिमोमिटर जे दाईरे में थो रहणो पवे। हर साल ऐल टी वी, पहिंजे चाहि जो कम नह करे सघण, बारनि जे स्कुनि में खाखिले में दिकत वरि पाकिसान मां अचण जो डो॒हू सो धार। सिंधी दलितनि लाई वरि गरिब हूअण (सिंध में भी दलित तमाम गरब आहिनि) हाथियूं हिक धार ड॒चो।

परसाल 1100 हिंदुनि जो जथो सिंध मां लडे॒ आया धार्मिक विजा जे तहत जिन मां 200 खां 300 बागडी कोम जा सिंधी हिंदु दिल्ली डा॒हि आया। बाकि 900 मां हिकु वदो॒ भांङो ईंदोर में ई रहयलि हो। इनहिनि बागडी कोम वारनि जाम डू॒ख डि॒ठा छाकाण तह संदुनि लाई हूकम ताईं जारि कयो वयो जिअ खेनि पाकिस्तान जबरनि मोकलो वञे। ऐं 1 डिसमबर जी रात खेनि दिल्ली जेडहे शहरि में जिते डिसबर जे महिने में जाम थद थी पवे खेनि यमूना के किनारे सठयो वयो। नेठि कनि हिंदु संसथाउ जी मदद सा इहो केसि दिल्ली हाई कोर्ट में टिन पेशिनि बैदि हकूमति धर्मिक जथे विजा दे॒अण जो फैसलो कयो। मजे जी गा॒ल्हि तह् इहा आहे तह इन फैसले जो फाईदो आम रिवाजी सिंधी लोहाणिनि पिणि वरतो पर इन जे बावजूद दलित सिंधीयूंनि सां ग॒ड॒जी जाखडो करण असुल ई कबूल नाहे।

सिंध जो थर वारो इलाको ऐतिहासिक तोर नह रूगो॒ भील मेघवार, सोढे राजपूजनि जो गड रहयो आहे पर सिंध जे हिंदुनि जो भी हिकु खसूसि ईलाको रहयो आहे। जड॒हि तह समूरो सिंध कशमोर खां संमूडी तटनि ताईं मूसलमानि जे हेठ हो इहो इहो थर ई हो जहिं सिंध जी हिंदु सकाफत जो मर्कज रहयो हो। थर परकार जी सखाफत ते जाम विदवानन पी ऐच डी ताईं कई पर इन जे बावजूद खेनि असीं सिंधी करे लेखण लाई तयार नाहियों।

सिंध मां हिंदु सिंधीयूंनि जी लड॒पण हिंद जे सिंधीयूंनि लाई हिक वडी॒ चूनौती आहे पर बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जेको रदेअमल डे॒खारो आहे हिंदुनि जे लडपण जे नसबत सो यकिनिं डु॒खाईंदड रहयो आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधीयूंनि खे इन पैमाने ते थिंदड लड॒पण सां वाकिफ नाहे ऐं ऐडही भी गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी कोम को ऐडहो भी बेवस आहे जे कजहि भी करे नथो सघजे। बिं॒हिनि वड॒यूं सियासी तंजमयूंनि में सिंधी मोजूद आहिनि। पर साल टे गुमरा सिंधीयूंनि जा जथा सोनिया गांधीअ साणु गड॒या जुदा जुदा मसलनि ते पर हिन साल जड॒हि की हिंदुनि लाई जाम मसला रहया आहिनि असां जा सियासी शिहिं खामोश आहिन ज॒णु कजहि थियो ई नाहे।

बी जे पी में जिते सिंधूयींनि जी ऐतरी वधीक नूमाईंदगी  सिंधीयूंनि जी रही आहे उते भी साग॒या मंज़र आहिनि। सिंधूंयूंनि लाई को भी को भी कुछण लाई तयार नाहे। जेतोणेकि बी जे पी सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदुनि सां थिंदड जूलनि जे नसबत आवाज उथारिंदी रही आहे पर इहा उमेदि करण भी आजाई आहे तह सिंधूंयनि जी लडाई भी बी जे पी करे सा सोचण डो॒हूं थिंदो।

सिंध में पाकिस्तान जा 95 सेकिडो हिंदु था वसिनि मतलब हू हिंदु सिंधी आहिनि। जेकरि को सिंध लडे॒ आयलि जा सुर समझिंदो तह उहो सिंध कोम ई आहे पर मसलो इहो तह किअं ऐडहे कोमअ खां का भी उमेदि रखजे जेको पहिंजनि खे भी पहिंजो समझण में हिजाब सरेआम कंदो रहयो आहे।

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – हिंदु अगवानि जूं दाहिं

हे अहवाल सिंधी मां शाई सिंदड अखबार अवामी आवाज मां लरतल आहे। सिंधूयूंनि जे समझ लाई हित देवनागरी लिपीअ में शाई कजे थो

मूल लेख की लिंक

http://www.awamiawaz.net/%D9%81%D9%8A%D8%B5%D9%84%D9%88-%DA%AA%D8%B1%D9%8A%D9%88%D8%8C-%D8%B1%D9%87%DA%BB-%DA%8F%D9%8A%D9%86%D8%AF%E2%80%8D%D8%A4-%D9%8A%D8%A7-%D9%84%DA%8F%D9%8A-%D9%88%DA%83%D9%88%D9%86%D8%9F-%D8%B3%D9%86/print/

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – सिंध मां 1947 खां भी लड॒पण पई थिऐ – इंसानी हकनि जी स्डिंडिग कमिटी जे आडो॒ हिंदु अगवानि जूं दाहिं

कराची (रिपोर्ट शकिल नाईच)- इंसानी हकनि बाबति कोमी ऐसमबली जी ऐसटेंडिग कमिटी सिंध सरकार खे सिफारिशयूं कयूं आहिनि तह हिंदुनि जो जोरी मज़हब (धर्म) वारे अमल खे रोकण ऐं हिंदुनि जे आग़वा जे डो॒हारिनि खिलाफ कार्वाही करण ऐं हिंदुनि जे लद॒पण खतम करण लाई कानुनसाजी कई वञे। सुबे जे अंदर कारो कारी (हिक प्रथा जिन में शक जे आधार ते मूसलमानी पहिजे उलाद जो खासि करे नियाणियूंनि जो कतल कनि) जे खातमे लाई सख्त कानून ठाया वञिनि ऐं जिल मेनूअल हाणे तबधील करे जदाऐद दोर मूताबिक जा जेल मेनूअल ठाया वञिनि। इहे गा॒ल्हियूं जूमे डि॒हूं ऐस्टेंडिग कमिटीअ जे चेअरमैन रेयाज फतयाना जे सदारति में थिअल इजिलास में कयूं वयूं। इन मोके ते ऐडिशनलि आई जी सिंध पूलिस पारां हिंदुनि के अगवा ऐं लड॒पण बाबति पेश अंग अखरनि खे कोमी ऐसेल्मबली जी ऐसटेंडिग कमिटी ऐं अकलमत (अल्पसंख्यक) तंजमयूं जे ऐहदेदारनि रद करे छड॒यो। इजलास में ऐडीशनलि आई जी फलक खुर्शिद अंग अखर पेश कया तह् केतिरा हिंदु अगवा थियलि आहिनि ऐं केतिरा हितोऊ लडे॒ वया आहिनि … इन ते ऐम ऐन ऐ ( मेमबर नेशनलि ऐसेलबली) अरेश कुमार सिंह चयो तह पंजनि सासनि में ऐतरी लड॒पण थी आहे जेतरि 1947 में भी नह थी हूंदी, सिर्फ मिरपुर खास में सवन माण्हूं अगवा थियलि आहिनि ऐं हितोउ खां लडे॒ वया आहिनि। ऐडिशनलि आई जी चयो तह हिंदु मेंहिंती आहिनि सो खेनि टारगेट करे निशाणो पयो बणायो वञे। हो हर शबऐ में कामयाब आहिनि। सदर जरदारी टिन मेम्बरनि जी कमिशन जोडी आहे। आरेसर कुमार सिंह चयो तह असां खे अन अंग अखरनि ते कतई ऐतबार नाहे। हिंदुस्तान सरकार पाण चयो आहे तह् सिंध मां आयलि 500 हिंदु खांदान इते तर्सया पया आहिनि ऐं वापस वञण खां इंकार कयो आहे। केतिरा हिंदु कतल भी थिया आहिनि, जेकरि हिंदु नह रहया असीं तबाहि थी वेंदासी। हिंदु माईनार्टी ऐलाईंस जे मंगला शर्मा चयो तह सिर्फ सेपटेंबर में 12 हिंदु छोकरियूं मसलमान बणायूं वयूं आहिनि इन्ही मां सिर्फ हिंक हिंदु नेंगरी वारिसन खे मोटी मिली आहे। हिंतोउ सिर्फ हिक साल में साढा सत हजार हिंदु खांदान हिंदुस्तान लडे॒ वया। गूजरलि 20 सालनि में डे॒ढ लखु हिंदु लडे॒ चूका आहिनि। सिंध में पंज सेकिडो नोकरयूं भी हिंदुनि जे हथ में नाहिनि। हिंदु पर्सलनि ला (कानून) भी नाहे। हिंदु काउंसिल जे टिकम मल चयो तह हिंदुनि जी वडी॒ तकलिफ इहा आहे तह खेनि जबरदसती मूसलमान बणायो वयो वञे।  असां खे इन सिलसिले में हकिकत में ऐतराफ करण घुरजे, छोकरि खे 20 डि॒हनि में कोर्ट अंदर आणे मूसलमानि हूअण जो बयान था देअरो ऐं आडही छोकरि खे धीअ, भेण बणाअण बजाई शादी छो पई करई वञे ??. असां पैसो तह कमाऐ वठींदासि पर इजत वापस नह मिलिंदी। असां खे नौकरियूं, तरर्कियूं , कम नह घुगजिनि. असी अकलमियत (थोडाई) में आहियूं, असां जो कमु फर्मानबरादरी करण ऐं समाजिक तालूक बेहतर बणाअण आहे। हाणे वकत अची वयो आहे तह असां खे रहण दि॒ञो वेंदो या लडो॒यो वेंदो. .जोरी मूसलमान करण जो ऐतराफ कंदे कानून ठहयो तह असी दडे॒ वञण ते मजबूर थिंदासि। “या तह रहण ड॒यो यह भज॒ण डि॒यो”  ऐडीशनल आई जी चयो तह असां कोनून जा पाबंध आहियूं। कोनून मूताबिक नेंगर ऐं नेंगरी खे अदालत में पेश कंदा आहियूं, पोई जेको फैसलो अदालत कंदी आहे उन ते अमल कंदा आहियों। ऐम कयू ऐम जे ऐम ऐन ऐ कशूर ज़रही चयो तह हिंदु असां खा वधिक देश भग्त आहिनि, वाक्ई असां खे हाणे सोचणो खपे ऐं आमली कदम खणणा पवंदा, हे संगिन मसलो आहे। आमली लेविल ते मूसलमान बणाअण वारे मामले ते पाकिस्तान जी बदनामी थी रही आहे ऐडहो कोनून ठायो जो अगते को भी इंअ नह करे सघे। माईनारटी अतहाद जो रमेश सिंह चयो तह मसला आहिनि इन लाई तह हिंदु लडे॒ था वञिनि। हिंदुस्तान जो वजीर चवे थो तह 3 सालनि में 1290 खांदान पाकिस्तान मां हिंदुस्तान आया ऐं 790 खे शहरियत (नागरिकता) भी मिली वई आहे। शखर रेंजनि मां घणा हिंदु लडि॒नि था, जेकड॒हिं असा खे अगवा थिअण बैदि भूंग (फिरोती) दे॒अणी पवे तह पूलिस जो केडहो कम । अल्पसंखयक (धार्मिक)  जो तहफूज कयो वञे। बलूचिस्तान जो ऐम पी ऐ (ऐम ऐल ऐ) सतराम सिंघ डोमक ऐं सिंध जो ऐम सरहिंदो चयो असां खे काईदे आजम वारा हक डे॒यो। काईदे आजम पाकिस्तान जी पहिरीं सदारत जोगिंरनाथ मंडल खां कराई। पाकिस्तान ते सभनी खां अगु॒ तिर खाअण जी गा॒ल्हि ऐम पी सिंघा कई हूई। पाकिस्तान ते डू॒खयो वकत आयो तह पोई अल्पसंख्यक अगु खां अग॒ते रहिंदा। ऐम ऐन ऐ अरेश कुमार सिंह चयो तह सिर्फ पूलिस इहो बु॒धाऐ तह छा इहा सरकार जी पालीसी आहे तह अलपसंख्यक लडे॒ वञिनि!!! जे इअं आहे तह बुधाऐ छडो॒ तह असीं चूप करे वेही रहिंदासी। ऐम ऐन ऐ इनायत अल्लाह चयो तह हिंदुनि सां थिंदड कार्वाही दहशदगर्दी आहे। इहा शर्म जी गा॒ल्हि आहे जे हिंदु इतोउ खा लडे॒ वञिनि। असां 20 सालनि खां सिंध अंदर निजी जेलनि जो बू॒धोउ पया। हिंदु पर्सनल ला ठाहयो वञे। हिंदुनि खिलाफ डा॒ढाईनि जा केस देहशदगर्दी जे खातमे वारे केसनि वाङुरु ऐ टी सी अदालतुनि में हलाया वञिनि। थोडाईवारी बिरादरी असांजो किमता सरमायो आहिनि, असां संदुनि लड॒ण खे बरदास्त नथा करे सघऊं। ईसपेशल होम सेक्रेटरी मूदसर ईकबाल चयो तह हाणे असां हिंदुनि जे तहफोज लाई हर जिले में डेपटी कमिशनर जे सर्बरादीअ में कमिटूयूं ठाहयूं आहिनि जिन में ऐस ऐस पी ऐं पंज अल्पसंख्यक बिरादरी जा नुमाईंदा हूंदा, इन मोके ते खिताब कंदे कमिटी जे चेअरमैन रियाज फतयाना चयो तह इन में को भी शक नाहे तह थोडाई वारे कोम खे भी ओतिरा ई हक मिल्यलि आहिनि जेतिरा मूसलमानि खे आहिनि। काईदे आजम जी 11 अगस्त वारी तकरिर में मजहब बाबत चयो हिते को भी बालातर या मातहत नाहे, असा वठ मजहबी जनूनेत जो कलचर जियां उल हक पैदा कयो ऐं हून नफरत जो बि॒जु॒ पोखियो जेको असी अजु॒ भोगियूं पया। चेतराल में केसाश नसल खे मूसलमान करण लाई कजहि इंतहा पंसंदी उते पहूता मके जे फतहि वकत हजरत पाक सली अल्लाह वसलम वाजिहि ऐं सख्त पेगाम दि॒ञो हो तह अजु॒ खां पोई सभनि खे हिक जेतरा हक हासिल हूदा। अजु॒ पाकिस्तान में हिदु अगवा वया थेनि, संदुनि नेंगरिनि खे जोरी मूसलमानि पयो कयो वञे, हिंदुनि जे तहफूज जी जिमेवारी रियासत जी आहे। गुंजरवाला में ईसाईंनि साणु इंतहापंसंदी डा॒ढाई कई वई तह असीं वाजी लफजनि में मजमत कई। हिन हकूमत सिंध खे शिफारशू कयूं तह थोडाई वारे कोमनि के ईबादतगारि ते गु॒झयूं केमेरा लगायूं व़िनि जहिं जू कनेकशन थाणे सां हूजिनि। थोडाई वारे कोमनि जे इबादतगारनि जी जिमेवारी रियासत जी आहे। हिंदु छोकरी जे मूसलमान थिअण लाई धार कोनून सिंध सरकार ठाये ऐं इन द॒स में क्रिमिनल कानून में तरमियम करे छोकरीअ खे “सेफ हाउस” में रखयो वञे ऐं खेसि हिक महिने ताईं कहिं सा भी मिलण नह डि॒ञो वञे। औकाफ खाते में थोडाई वारे बिरादरी ऐबादतगाहिनि जी सार संभाल लहण अकलियत बिरादरी जे आफसर खे डि॒ञी वञे सूमर दि॒हिं अकलियत बिरादरी जा नुमाईंदा इसपेशल होम सेक्रेटरी होम मूदसर इकबाल साणु ब॒ टे कलाक गद॒जाणी कनि। हून चयो तह हिअर सभनी दा॒हि इहो सख्त पैगाम वञणो घुरजे तह् अकलतियूंनि सां डा॒ढायूं बरदास्त नह कई वेंदी। खेनि जोरी मजहब बदलाअण ते मजबूर नह कयो वोंदो। खेनि अगवा नह कयो वेंदो आई जी सिंध पूलिस जे आफिस में हिकु सेल कायम कयो ऐं इन जी ओज सा मिली अंगनि अखरनि जी भेटि कयो, नोकरयूंनि में पंज सेकिडो कोटा अकलियतिनि खे दि॒यो असा बि॒हर बी॒ टीन महिनिन में इंदासी तबधीली अचण घुर्जे। इजलास में कारो कारी बाबति रियाज फतियाना चयो तह सिंध पूलिस हे सुठो अमल कयो आहे जो 1213 सेल खोलयो आहे। सिंध सरकार खे घुर्जे तह कारो कारी जे खातमे लाई मजहबी अग॒वान आलिमनि साणु राबतो कयो वञे। तालिमि अदारनि में कारो कारी खे निसाब में शामिल कयो वञे ऐं इन मूहिम में सिविल सोसाईटी खे भी शामिल कयो वञे, मिडिया खां मदद वरती वञे तह जिअ मिडीया जे खबरूनि जो नोटिस संसद ऐं अदालत वठनि। असीं यूं ऐन डी पी जा भी शुकरगुजर आहियूं जे हो कारो कारी जे खातमे लाई कम करे पई । हिन ऐसट्डिंग कमीटी खे कारो कारी ते गण॒ती आहे ऐं सिंध हकूमत खे शिफारिश थी करे तह इन मसले खे हल करे। सिंध जे जेलनि बाबति रियाज फातियाना खाते जे सेक्रेटरी अली हसन बरोही जरिऐ सिंध हकूमत खे शिफारिश कई तह जेल मेमूअल में हिअर ई तबधीली कई वञे। कैदिनि खे फोन जी सहूलियत डि॒ञी वञे। नंढे डो॒हनि वारनि खे जमानत कराई वञे। जेलनि में सब-पोस्ट आफिस कायमि कराई वञे। जेलनि में अखबारनि जा इसटेंड लगाया वञिनि। अखबारनि के मालिकनि खे लिखित में दर्खासतयूं डि॒नियूं वञिनि तह हो जेलनि में मूफ्त में अखबारु डे॒नि, जेलनि में रांदियूंनि जो बंदोबस्त कयो वञे, जेलनि में नंढयूं बेरेकनि में घणनि कैदियूंनि खे बंद करण वारो सिर्सलो बमद कयो वञे। हेपटाईटिस समेत सभिन बिमारियूंनि जी टेस्ट वरती वञे। जेलनि में वड॒यूं इसक्रिननि वारयूं टी वी लगा॒ऐ फिलमसूं डेखारयूं वञिनि। कैदिनि जा ऐकाउंट खोलया वञिनि जिअ संदनि मेहनत मजूरि जो मोआफजो ऐकाऊंट में जमा कराऐ सघजे। कैदिनि खे वकिलनि साण मिलण डि॒ञो वञे। कैदियूंनि जो नफसयाती माहिरनि खां पिणि ईलाज करायी वञे कैदिनि खे कट कार्ड डि॒ञो वञे जहिं में हिनिन जा तफसिल लिखयलि हूजिनि।

 

 

सिंधी भाषा ऐं संस्कृतीअ जे वाधारे में सिंधी पंचायूतिन ऐं नौजवाननि जी भूमिका

इहो घणो- तणो पयो बु॒धबो आहे तह जेकरि कहिं भी कोम खे खतम करणो हुजे तह इन कोम जी बो॒लीअ खे दबायो वञे या खजा॒जो वञे। ऐंडहा तजूर्बा मजीअ में घणा घुमरा थिया आहिनि। अमेरिका में खासि करे दे॒ही माण्हूनि यानी रेड इंनडयनि बाबति हिक चवणी मशहूर आहे तह – kill the Indian  and save the man. मतलब जेकरि रेड इंडियनि जे इंडयनि पणे खे खत्म करणो आहे तह बो॒लीअ खे खतम कयो वञे, संदुनि इंडियनि पणो पहिजे पाण ई खतम थी वेंदो। जेकरि अमेरिका में बो॒ल्यूनिं जा आकडा दि॒सयूं तह  ईहा हकिकति केतरि सही आहे सा समझ में ईंदी। अंग्रेजनि जे अचण खां अगु॒ 350 -400 बो॒लयूं हयूं जेके हिअर अची 139 ताईं बिठयूं आहिनि। योनेसको मोजबु इन मां अधु यानी सतर फना थिअण जी कगार ते आहिनि। साग॒यो ई हालु असट्रेलिया जो आहे, जिते 700 बो॒लयूं ताईं हयूं, हिअर तनि मां तमाम थोडयूं ई वञी बचयूं आहिन।

 

बो॒लयूं रुगो॒ वसयलि या तरकी कंदड मुलकनि में नथयूं मरनि। बो॒लयूं टिहि दुनिया या थर्ड वर्लड में जाम पयूं मरिनि। हिदुस्तानि बाबति इहो थो चयो वञे तह हित 198 बो॒लयूं फना थिअण जी कगार में आहिनि। पाकिस्तानि लाई इहा ग॒णपअ थोडी घ़ट आहे फकत 15 । मतलब जे जेतिरो वदो॒ मुल्क ओतरियूं वधिक बो॒लयूंनिं जे फञा थिदडनि जी तादादि। ऐडहो हालि लग॒ भग॒ हर हिक मुल्क सां पयो थे। इहो अंदेशो थो लगा॒ईंजे तह 2050 ताई दूनिया जे 6000-7000 बो॒लयूनि मां 90 सेकडो फना थी वेंदयूं। इहो सब रूगो॒ इन लाई जे दुनया जी 97 सेकडो आबादी 4 सेकिडो बो॒लयूनि ई पया इसतमाल कनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे किन सालनि में इन मसले ते चङनि जो धयानु वयो आहे ऐं चङो कमू पिणि थियो आहे पर ईन जे बावजूदि बो॒लयूंनि जे फना थिअण जो सिलसलो सांधईं पयो लहिंदो य़ो अचे।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह बो॒लयूं रूगो॒ कलोम्बस जे नई दुनया या नयू वरर्ड मे मूयू आहिनि- इंगलेंड जे महाराजा हेनरी सतो जो कि वेलस जो ई रहाकू हो वेलसि बो॒ली जेका इगलेड जे उतर ऐ उतर ओलहि मे पई गा॒ल्हाईजे – इन बो॒लीअ ते प्रतिबंद लगा॒यो। 400 सालनि खां पोई वरि इहो प्रतिबध हठायो वयो पर तेसिताई चङी बर्बादी थी चूकी हई। जेतोणेकि इन बो॒लीअ खे वेसल मे अंग्रेजीअ जेडहा हक मिलयलि आहिनि, यूरोपियनि यूनियनि भी इन बो॒लीअ जे जोगी जाई दि॒नी आहे पर इन जे बावजू अजु॒ वेलस मे मस जेडहा 20 सेकडो ई माण्हू आहिनि जनि खे इहा बो॒ली सुठे रित पई गा॒ल्हिअनि अचे। फांस में भी ईअं ई थियो हूकूमति कानून जी मदद सां सघ रखिदड बो॒लयूनि पहिंजी सघ देखारे थोईई वारीयूं बो॒लयूंनि खे नासु कयो।

 

हिंदुस्तानि में जेतोणोक असीं पहिजी अनेकता ते फकरु कंदे नह थकबा अहियूं पर थोडाईअ वारिनि बो॒लियूंनि तोडे कोमनि दा॒हिं वहिंवारि फकरु करण जोडहो भी नाहे। जेतोणेकि यून्सको मोजीबु हिंदुस्तानि में फञा थिंदड बो॒लयूनि में सिंधी नाहे पर इन सां सिंधी ते खतरो कहि कदरु घटि आहे सो भी नाहे। बो॒लीयूनि बाबत वेबसाईट-ऐतिंनोलाग सिंधी खासि करे हिंदुस्तानि में सिंधीअ बाबत कजहि रिन नित थी बयानु करे- Many Sindhis do not learn their traditional ethnic language. Mainly women and older adult speakers. Also use Hindi or other state language.

 

हे बयानु शाहित आहे तह सिंधी बो॒ली सिमटजे पई। दुनिया भर में हिअर बो॒लीयूनि खे वजूद खे सोघो करण जी कवायति पई हले। भले उहो अमेरिका में हुजे, अफरिका में हूजे या लेठिनि अमेरका में- फना थिंधड बो॒लयूं चङनि जो धयान पई छिकायो आहे।

 

पर इन सभनि खां वदो॒ सवालु इहो आहे तह बो॒लयूनि जे फना थिअण में ऐदो॒ हुलु छो। छो असी इन बो॒लयूनि ते ऐतरि हाई घोडा पई कयोऊ, छोन नह असी बो॒लयूनि खे पहिंजे राहि ते छदोऊं- जिअं असी संसकृति या सकाफत सां कंदा आहियूं। बो॒लयूं तह रूगो॒ गा॒ल्हिईअण जो हिकु जरिओ ई आहिनि। पर इअं नह पयो थे।  बो॒लयूनि खे बचाअण जी भरपूर कोशशयूं पयू थेनि। दूनिया जे कहि भी ऐलाके खे दि॒सो अफरिका, ऐशया, अमेरिका, यूरोप या आसट्रेलिया हर हंद अव्हां खे बो॒लयूंनि लाई जाखडो कंदड तंजमयूं लभिंदयूं । बो॒लयूंनि खे ब़चाअण जो हिकु वदो॒ मकस्द इन लाई असां जो धयानु पई छिकाअंदो आहे छाकाणि तह बो॒यूंनि जी सिधी वाटि इंसानी सोच, ईंसानी संसकृकि ऐं ईंसानी सुञाणप सा गंद॒यलि हूंदी आहे। मिसाल जी गा॒ल्हि सिंधी में 20 लफज उठ जी जुदा आहिनि, सागे॒ रित केनेडा जी दे॒ही बो॒लयूंनि खे दि॒सींदासिं तह सागी॒ रित बर्फजे जुदा जुदा किसमनि लाई ऐतिरा नाला लभिंदां ऐं जेकि इन बो॒लयूंनि जा गा॒ल्हिईंदड माण्हूं गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर साग॒या लफज हिंदिं तोडे अंग्रेजीअ नह हूजण सबब जद॒हि असिं इन बो॒लयूंनि दा॒हिं झूकोउ था तह इन खोट जो असर अंसाजी संसकृति ते पिणि पवे तो । साणु साणु वरि जद॒हि असीं जी रितु रसमन जी गा॒लहि कयोउ तह सागो॒ इ मंजर पई नजर ईंदो। हिक गा॒ल्हि असां खे विसीण नह खपे तह  धारि बो॒ली सां धारीं संसकृति जो भी असरु थो वधे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह जनि सिंधी घर में भी अंग्रेजी गा॒ल्हाअण जो रिवाज  विधो आहे से होरियां – होरयो अंग्रेजी संसकृति दा॒हि भी झुका आहिनि जेको सुभाविक आहे। साग॒यो हालु हिंदीअ सां भी थो थे।

 

जेकरि दिन धर्म जी गा॒ल्हि कजे उते भी साग॒यो मंजरि पई नजरि ईंदो हिंदु धर्म संसकृत सां, बौध धर्म पाली- प्राकृत सा, सिंख धर्म पंजाबी सां, यहूदि हर्बयू सां तह इसलाम अर्बी फार्सीअ सां हमेशाहि ईं गं॒दे॒ दि॒ठी वेंदो आहे। चयो वेंदो आहे तह अमेरिका में चर्चनि में अंग्रेतीअ नह गा॒ल्हिआण लाई लाई यातनाउ ताईं दि॒ञी वेंदयूं हयूं। असांजी इंसानी सोच ई कजहि ईअं थिंधी आहे। बो॒लीअ जो असरु इंनसानि ते कूदरति थिंदो आहे जहिखे नजरअंदान नथो करे सघजे।

 

हिंदुस्तानि में तोडे हिदुतनानि खां बा॒हरि रहिदडनि सिंधयूनि में ऐं खासि करे हिदुनि में हिक सोच वेठिल आहे तह बो॒ली खे नह पर संसकृति खे सोघो कजे। असां जे लेखे जेकरि असी पहिजी सुञाणप कायमि रखण जे नसबत सिधी दि॒ण वार खे वधिक मानु  द॒उं तह इन में का भी घटि गा॒ल्हि नह लेखणी खपे – छा काणि तह असां जो मकसद पई पूरो तो थे। असा इहा गा॒ल्हि विसारे वेहिदो आहियू जद॒हि असीं बो॒ली था मठोऊं तह इन म़टयलि बो॒लीअ सा ग॒दु॒ इन बो॒लीअ  इन जी संसकृति जो भी घाठो असरु पवे थो। इन  जो वदे॒ में वदो॒ सबूत हिंदु- सिंधी तोडे पंजाबी आहिनि –जिते धारि बो॒लीअ खे दिलो जान सां अपञाअण सबब संदुनि पहिंजी असलोकी सफाकति खां भी परे थिया आहिनि। इन जो हिकु सबब आहे सिख जेके पंजाबी बो॒ली सबब वधिक पंजाबी लगिंदा आहिनि ऐं सिंध जा सिंधी वधिक सिंधी। इहो सब भले असांजी सोच सबब ई छो नह पर हकिकति आहे। इहे सब असर कुदरति आहिनि।

 

पिछाडीअ जे सतरि सालनि में असीं जहि हिक गुथी थे सुलझाअण में ई पूरा पया आहियूं से आहे किअं हिदुस्तिन में जिंदो रखोउं सिंधी बो॒ली खे। असां जी पूरि कोशिशनि जे बावजूद असीं अगते वधण खां पोईते ई था थींदा वनऊं। पिछाडीअ जे 30 सालनि में सिंधी पढिंदडनि जी तादाति समाम तकडी घटे थी पईं। इऐ तह के जवाब असां वटि हमेशाहि ई तयार हूंदा आहिनि- मसलनि सुबो तोडे खसुसि ईलाईका नाहिनि, सिंधी पढही कमाई जा के भी साधनि नाहिनि, सिंधी लिपी (अर्बी लिपी) ओखी आहे, सिंधी हिक मुअल बो॒ली आहे वगिराहि, वगिराहि, पर हे मसलो भी ऐडहो सिधो नाहे।

 

हिंदुस्तनि तोडे दुनिया भर में जिते भी बो॒लीअ फञा थियूं आहिनि उते घणो तणो बो॒लयूं जे गा॒ल्हिईंदडनि खे पहिजा खसुसि इलाईका आहिनि। पर इन जे बावजूद इन बो॒लयूं फना थेनि पयूं वरि सिंधी तहि महलि संविधानि में पहिंजी जाई वालारी जद॒हि मैथली, कोंकणी, बोरो जे बाबति माणहूं सोचिंदा भी कोन हवा। इनहिनि बो॒लयूंनि खे पहिजा ईलाईका ई नह पर गा॒ल्हिईनदडनि जी तादादि भी वधीक आहे। वरि हिंदुस्तानि में ऐडहा भी ऐलाईंका आहिनि जति पहिंजो सुबो हूंदे भी बो॒लयू अग॒ते कोन वधयूं आहिनि मसलनि कशमिरि में कशमिरि बो॒ली, जिते उर्दू दफतरि बो॒ली आहे। वरि असां विरहाङे जो रुअण आहे जे निबरीई नथो निबरे जद॒हि तह सिंध खां वधिक हक सिंधी बो॒ली खे हिंदुस्तनि में आहिन।

 

हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि सिंध में पी टी वी में सिंधी जो अधु कलाक या कलाक खनु जा प्ररोगराम ई नसर थिंदा हवा। जिअ हिअर हिंदुस्तनि में सिंधीअ जो हालु आहे सरकारि चेनेलनि में।पर अजु॒ जी तारिख में हिअर पंज पंज निजी सिंधी टी पी चेनेल आहिनि जिते सिंधी, पहिंजी बो॒लीअ जे दम ते पहिंजी रोजी॒ था कमायनि जेकरि सिंध में रहिंदडनि में हूब नह हूजे हा तह इहो सब कद॒हि मूमकिनि नह थिऐ हा। अजु॒ हिंदुस्तानि में सिंधी कोमी बो॒ली हूअण सबब के सरकारि हक थी लहणे पर बद किसमतीअ सां असां जो धयानु ऐडहे पासे नह हूंदो आहे या असां सिंधी बो॒लीअ खे मिलयलि हकनि सां वाकिफ नाहियूं। अजु॒ जरूरत आहे तह तह पहिजे हकनि खे सुञाणोऊ ऐं पहिजो वजूद कायम धायम रखोऊं, छाकाणि तह असीं सिंधी बो॒लीअ सबब ई सिंधी आहियूं ऐं बो॒ली रहिंदी तह सिंधीयूनि जो वजूद रहिंदो- संसकृति जी गा॒ल्हि तह ईन खां पोई थी अचे।

 

हिक लङे दि॒सजे का भी बो॒ली पअहिजे जा॒ऐ उसरयलि नह हूंदी आहे पर माण्हूं जे वाहिपे सां पुखती थिंदी आहे। जेकरि वाहिपो रहिंदो तह तहजीब भी बो॒लीअ जे जरिऐ अग॒ते पुखती थिंदी  वेंदी। अग्रेजी सा भी इअं ई थयो। कलोमबसि जे नई दुनिया जे इजादि खां पोई अंग्रेजनी इन जो पोरो फाईदो वरतो वरि ईंडसट्रियलि रेवीलयूंशनि (Industrial Revolution) के करे हुनर सां ग॒दु॒ बोलीअ जे भी प्रचार थियो।संदुनि वाहिपो भी वधींदो वयो। हिक चवणि असां नंढे हूदे खां बह अंग्रेज कद॒हि भी का धारि बो॒लीअ में कोन गा॒ल्हाअनि भले हो पाण कहिं धारि बो॒लीअ जा केतिरा नह धारि बोलीअ में माहिरि  हूजिनि। साग॒यो ई हालि जरमनि. फेंच या ईसपेनिश जो आहे। अजु॒ यूरोपियनि यूनियनि में 25 खां वधिक मुलक आहिनि ऐ इन खां तमाम घणयूं बो॒लयूं तसलिमि थिअलु आहिनि, पर अंग्रेजीअ खे यूरोपियनि मूलकनि में हिकली दफतरी बो॒ली करे को भी कबूल करण लाई तयारि नाहे। भले सभिनि खे हिक बोली नह हूजण सबब तकलिफ थे थी।  यूरोप जूं ब॒यूं बो॒लयूं जद॒हि तह पहिजे पाण खे भी अग॒ते वधायो असां हिंदुस्तनि जूं बो॒लयूं कोन करे सघासिं।

 

हिंदुस्तनि में हमेशाहि हिकु बो॒ली थोपण जो रिवाज रहयो आहे। संसकृति प्राकिर्त ते थोपी वई। हिंदी ते हमेशाई ईं इहो लहो ईलजामि मडयो वेंदो आहे तह इहा बो॒ली थोपी पईं वञे। असां खे हिंदुस्तनि में जेके मसला आहिनि साग॒या मसला यूरोप में भी आहिनि। यूरोपिय यूनियनि में 25 बो॒लयूं आहिनि  पर सभनि खे मानु पयो मिले। हो अंग्रेजी या लेठिनि खे मथे नथा चाडिनि पर टनांसलेशनि टेकनालाजी जे भरोसो था कनि। बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तानि में ईअं नह कयो वेंदो आहे। जहि सबब कहि भी थोडाई वारी बो॒लीअ लाई जखडे में तमाम घणी तकलिफ पई पेश अचे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत ब॒ह अहम मसला आहिनि-

मादरि बो॒लीअ जो ग॒लति ईसतमालि– असां हिंद जे सिंधीयूंनि में बारनि सां जा॒ऐ ई हिंदी या अंग्रेजी था गा॒ल्हिआयूं। असां में ईहो हिकु रिवाजु थी वयो आहे। सो सिंधी बा॒रनि जी पहिरि बो॒ली यानी फर्सट लेगवेज अण सिंधी ती थे। सिंधी गा॒ल्हाईण जो रिवाज पोई थो विधो वञे। इन जो मसलब इहो तो थे सिंधी बा॒रनि लाई सिंध बि॒हि या टि बो॒ली ती थे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह को भी बा॒रु ते पहिरि सिखयलि बो॒ली जो असरु तमाम घणो थो थे, पोई सिखयलि बो॒लयूंनि जी भेटि में। कच्छ में कच्छी सां इहो दि॒ठो वयो आहे। हो अग॒वाठि बा॒रनि खे कच्छी था सेखारिनि ऐं पोई गूजराती। अग॒ते हलि संदुनि बा॒र गुजराती स्कूलनि में था पढिनि, पर कच्छी नथा विसारिनि। पर असां इन जे उभतरि था कयूं। अग॒ धारि बो॒ली था सेखारोऊं पोई पहिंजी। इहो ई सबब आहे जे असां खे ऐतरि तकलिफ पई थे बा॒रनि में सिंधी जो रिवाज विझण में। जेसिताईं असीं बो॒लीअ दा॒हीं पहिंजो वहिंवारि कोन मटिंदासिं असां सिंधी खे कद॒हि भी पुख्ती कोन करे सघींदासिं। इहो जरूरि नाहे तह हर बा॒र सिंधी मिडियम में पढिंदो तह ई सिंधी सिखी सघींदो। पर जेकरि पहिरि बो॒ली जे रुप में पढिंदो तह यकिनि सजी॒ उमर ई यादि रखींदो, पोई भले इहो बा॒रि दुनिया जे कहि भी कूंड- कूडच में छोन नह रहे। जद॒हि के बो॒लीअ तोडे तालिम जा माहिरि चवनि तह बा॒र खे पढाई पहिजे बो॒लीअ में दि॒ञी वञे तह हो समझी वठिंदा आहिनि तह बा॒र खे पहिजी मादरी बो॒ली खेनि जा॒ऐ खां सेखारि वञे थी।

 

बो॒लीअ जे नसबति असीं बि॒ईं गलति वहिंवारु लिपीअ सा कयो वयो आहे। इन जो हिक वदो॒ सबब इहो आहे तह लिपीअ जे नसबत सिंधीयूनि जो धयानि कद॒हि भी बो॒लीअ जे वदूज ते कोन रहयो आहे। दर असलि सिंधी बो॒लीअ तोडे लिपीअ जे नसबत असीं अंग्रेतनि महलि तह वेवसि हूवासि छो तह घणोई तह मसलमानि जी हई – जेके अगे॒ पोई पहिंजी गा॒ल्हि मञाऐ वटिनि हा वरि जेकरि हिंदु देवनागरीअ ते जिद जे भिहिन हा तह सिंध जो भी हालु कशमिर जेडहो हूजे हा- हिदु हिंदीअ दा॒ही झूकिनि हा ऐं मुसलमानि उर्दू दा॒हि। पर विरहांङे बैद उन खां भी वधीक गलति कई आहे-जे हिक गलति खे अग॒ते ई नह पर उन गलती ते फकरु कय़ो आहे। हिक लंङे दि॒सजे तह लिपीअ जा मसला तह अचणा ई हवा। हिंदुनि कद॒हि भी आर्बी लिपी कबूल कोन कई हूई पर अंग्रेजि कबूल कराई हूई। हिंद में अची जेकरि सिंधी लिपीअ जे चूंड जेकरि बो॒लीअ जे वजूद तोडे निज॒ सिंधी लफजनि जी बूनयादि ते कनि हा तह नह अर्बी- फार्सी ऐं ना ई  रोमन- लेटिनि सिंधी बो॒लीअ जी लिपीअ थिअण को हक माणे हा। लिपीयूं तह गुजरातियूं ऐं मराठीनि पिणि मठयूं आहिनि पर खेनि का भी तकलिफ कोन थी छा काणि तह संदुनि पहिजे निज॒ अखरनि सा को भी समझौतो कोन कयो । पर बदकिसमतीअ सां सिंधी में विरहांङे बैद भी धारी लिपीअ जो सिलसिलो आहे जे बंद थिअण जो नोउं नथो खणे। लिपीअ जे नसबत आर्बी लिपीअ जे हिमायतियूं जो चवण हूंदो हो तह इन सां सिंध जे सिंधीयूनि सां गंदे॒ रखिंदो पर इन गं॒द॒ण जे हिर्स असां खे पहिंजनि में ई बेगाणो करे छदो। दरअसलि हिंदुस्तनि में जेके भी लिपयूं घणो तणो इसतमालि पयूं थेनि से सब फेनोटिक आहिनि जहिसां सा खिखण तमाम सहूलो थिंदो आहे, छाकाणि तह जहि रित बो॒ली गा॒ल्हिईंजे थी सागे॒ रित ई लिखजिनि थयूं। इन गा॒ल्हयूंनि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे।विरहांङे बैद भी असी इन रगडे खे निवेरे कोन सघीसीं छा काणि तह देवनागरीअ जो जेको प्रचारि कयो वयो सो गलति हो। असां देवनागरीअ खे देवताउनि जी लिपी कोठे, सिंधीअ खे वदे॒ में वदो॒ नुकसानि पुजा॒यो । असां ईहो गा॒ल्हि विसारे वेठासिं तह बो॒ली तोडे लिपी तोडे बो॒ली  कद॒हि भी कहि खसुसि दीन धर्म मञण वारनि जी नह थिंदी आहे, ऐ जद॒हि भी इहा कोशश कईं वेंदी आहे तह हाल उहो ईं थिंदो आहे जेको उर्दू जो विरहांङे बैद थियो। हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि इन बो॒लीअ ते हिंदु भी फकरु कंदा हवा।

 

हिअर रोमनि ते भी अजु॒ चङो हूल पयो थे। जेका लिपी हिअर जोडाई वई आहे – तहि मां तह इहो लगे थो तह ज॒णु असी अर्बी लिपीअ जी गलतियूं मां असा कुझ भी कोन सिखया आहियूं। चंड बिंदु, अंशुविरिया, अधु अकरि विटे लफजनि लाई कोन भी अखरि मूकर्र कोन कयो वयो आहे। हिदुस्तनि जी बो॒लयूंनि जे ग्रामरनि में ई मात्राउ अहम जाई थयूं वालारिनि। पर नह जा॒ण छो इहे समझोता कया वयो। वरि सिंसकृति बो॒लीअ जे नतबत रोमनाईजेन में हिक सदीअ खां भी वधीक जे अर्से खां कमु पयो हले। इन जो फाईदो जद॒हिं हिंदी-नेपाली-मराठी बो॒लयूं वठी य़तूं सघीनि तह पोई सिंधी छोन नह …….इन लिपीअ खे दि॒सी लगे॒ तह इऐं थो ज॒णु लिपी जोडाअण जी तमाम घणी तकड हूई।

 

सिंधी पंचातयूं जे नसबति जेकरि गा॒ल्हि कजे ईहे हमेशाहि ई ईहे सामाजिक संसथाऊ ई थी रहयूं आहिनि। सिंध में मुसलमा जे राजय में ईन पहिचातयूंनि जो अहमि किरदारि हो। इहे संसथाऊ सिंधी हिंदुनि जे समाज सां ऐतरयूं तह गं॒द॒यलि हयूं जे मुसलमानि मां जेके इन जे कम कर्ज बाबत जा॒णण भी हिक कामयाबी मञी वेंदी आहे। चङा सामाकिज मसला असी इन सांसथा मां ई निबेरिंदा हवासिं। दे॒ति लेति बाबति बी घणी दे॒ वठि कजे सा भी पक पंचातयूं ई कंदू हयूनि। विरहांङे बैद भी असी साग॒यूं संसथाउ बी॒हरि जोडाईसिं जिअं असांजा मसला असी पाण ई निबेरे सघोऊं। हिंदुस्तानि में ऐडहो वरली ई को शहरु या कसबो लभींदो जिते सिंधी पंचातयूं नह हूंदयूं। ऐडहा चङा शहरि हिदुसतानि में लभींदा जिते इन संसथाउ सुठो कमु कया आहे ऐं सिंदुनि इजति में तमाम घणी आहे, पर ईन जे बावजूद धारे मूलक जो तह असरु पवण लाजमी आहे। कनि वदे॒ शहरिनि में इन पहिचातयूंनि खे घटि पयो लेखयो वञे। इन खे इहो मानु नह पयो दि॒ञो वञे जेको इहे संसथाऊं लहणिनि।

 

सिंधी पहिंचातयूंनि जो को किरदारि कद॒हि भी बो॒लीअ जे नसबत कोन हो। सिंध में रहिंदे इन जी का भी जरूरत कोन पई हूई। बो॒लीअ जा मसला सिंधी लाई विरहांङे बैद जा आहिनि। हिंदुस्तनि में सिंधी पंचायतूं ऐं सिंधी अकादमियूं में वदे॒ में वदे॒ फर्कु इहो आहे तह सिंधी पंचातयूं में ठेहिअ जो बदलाव थियो आहे जेको अकादमियूनि में को घणो नजर कोन आयो आहे। इहो ई सबब आहे जे सिंधी बो॒ली भी कहि कदुरु बदलाउ कोन आयो आहे खासि करि नई टेहि जे नसबत। अजु॒ इन जी सखत जरूरत आहे तह सिंधी अकादमयूं खे पहिंज पाण में सिकूडण खां किअं रोकिंजे। हूकूमत जेके भी पैसा सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत खर्चे थी से साखर्ता कोन था नजर अचिनि। इहो हिकु सबब आहे जे असां वटि संसथाउं जो हिक धाचो हूअण जे बावजूद असां लेखकनि तोडे अवाम में या सिंधी बो॒लीअ तोडे नौजवानि में रोबतो कोन जोडयो वयो आहे जहि सबब हूकूमति जू या सिंधी बो॒लीअ जे चाहिंदडनि जू उमेदयूं पाणी फेरयो आहे। अजु॒ इअं थो लगे॒ ज॒णु सिंधी बो॒ली ते खचर्ल पैसा अजा॒या आहीनि- सिंधीयूंनि में सिंधीअ जो वाहिपो घटण भी हिन वार थिअण जो हिकु अहम सबब आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे जाखडे जे नसबत सिंधी अकादमियूमनि जो करिदार तमाम अहमि आहे पर बदकिसमीअ सां संदुनि में ऐडहो को भी बदलाउ सिंधी बो॒लीअ लाई कोन आंदो आहे जहिजी उमेद कजे पई । सिंधी लेखकनि जो अगे॒ भी इहो रायो रहयो आहे तह अकादमियूमनि पारां मालि मदद दिं॒दड किताबनि जो मयार घठि ई रहियो आहे। आजादीअ खे अची अजु॒ सतरि साल थिआ आहिनि इन जे विच में चङो वदलाउ आहे आहे जुदा जुदा बो॒लयूंनि जे साहित्य तोडे साहित्क तंजमियूं में पर इन जे वावजूद असी ऐतिरो को घणी विख वधाऐ सघा अहियूं। अकादमियूनि जे कमनि जी जा॒णि आम सिंधी पहिंजे सोबनि में भी घठि आहे। के अकादमियूं जेकरि सुठो कम भी कयो आहे तह आम रिवाजी इंसानि  में संदूनि कम जी का घणी जा॒णि नाहे। अकादमियूनि खे खपिंदो हो तह सालि में हिकु लङे गद॒जीनि जिअं जुदा जुदा अकादमियूनि जे कमनि ते गा॒लि बो॒ल्हि करे सघजे। किन अकादमियूनि जी पहिजी वेबसाईट भी आहे पर इन साईट जो फूरो फाईदो कोन पयो परतो वञे।

 

जेकरि असीं में दि॒सिंदासिं उते सिंधी दइतरी बो॒ली नाहे। सिंधीयूनि खे उते नेकरियूंनि लाई उर्दू ई थी पढणी पवे, सिंध जे बि॒न वद॒नि शहरनि मसलनि कराची ऐं हेदरआबादि में मुहाजरनि जो तमाम घणो जोर आहे पर इन जे बावजूद सिंधी अग॒ते वधे थी। जेको कानून 1970 में भूठे जे दि॒हनि में पास थियो हो सो अजु॒ ताई अमल में कोन आयो आहे। जदि॒हि इहो कोनून पासि थिय़ो तह कराचीअ तोडे हेदरआबाद में सिंधीयूंनि महाजरनि जा फसादि थिया, जहि सबब इहो कोनून अमल में कोन आणे सघयो। वरि हिन साल 4-5 अहम बो॒यूमनि लाई जेको कोम बो॒ली बिल पेश करण जी कोशिश कई वई – उन खे पेश करण खां अगु॒ ई रोकयो वयो। पर इन जे बावजूद सिंधी बो॒ली सिंध में मूई नाहे। सिंध में सिंधी अकादमयूं हिंदुस्तानि जे अकादमियूं खा घणो वधीक ऐं कहि कदूरि सठो कम करे दे॒खारो आहे। सिंध जूं ब॒ह वद॒यूं सनजमयूं सिंधी अदबी बोर्ड तोडे सिंधी लेंगवेज अथार्टी सिंधी बो॒लीअ जे नसबति जो कस कहि कदुरु खेण लहणे। सिंध अदबी बोर्ड चङनि किताबनि खे डिजीटलाई करे पहिंजी लेबसाईट में शाई कयो आहे। हो असं खां घटि बजेट जे बावजूद सुठो कमु कयो आहे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जो दारूमदार हिअर नोजवानि ते आहे। सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जेके भी कोशशियूं थियूं आहिनि से का भी कामयाबी कोन माणे सघयूं आहिनि। संदुनि राबतो भी सिंधी संसथाउं सा नह जे बराबर ई रहयो आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ सिंधी बो॒ली सां वाकिफ करण जी नाहे पर सिंधी घरनि में हिंदी तोडे अंग्रेजी जो वाहिपो कद॒हण जो बी आहे। ईहो तद॒हि मूमकिनि थिंदो जद॒हि असीं लिपीअ ते तोडी लचीलो पण या फलेकसीबिलिटी खणी ईंदासिं। हिंदुसतानि में बो॒ली तसलिम बि॒हिं लिपूयूनि में थी आहे। मतलब बि॒हिं लिपीयूनि खे हिक जेडहा हक आहिनि पर वाहिपो सिंधी अर्बी जो घणो रखयो वयो आहे। अकादमीयूं पांरा भी शाई थिंदड कितानि में भी अर्बी जो वाहिपो तमाम घणो थो थे, जेको नोजवानि जे समझ खां बाहिर थो ते। हिक गा॒ल्हि असां खे जहनि में रखणी खपे तह लेखकनि जे दम ते सिंधी बोली जिंदी कोन रहिंदी –  जेकरि ईअं मूमकिन थी सघे हा तह अजु॒ संसकृत भी हिक अमाव जी बो॒ली थिऐ हा। बो॒लयूं तद॒हि जिंदयूं सहि सघींदयूं जद॒हि इन बो॒लीअ खे अवाम जो साथ मिंलिंदो आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे आईंधे लाई आउं के सुझाव दे॒अण चाहिंदुसि जेकि हिअर बो॒लीअ जे नसबत तमाम अहम आहिनि-

  1. सिंधी अकादमियूंनि में  तोडे पहिंचातयूंनि जेको भी लिखपढ जो कमु पयो थे सो हिंदी – अंग्रेजीअ जमें राबतो बो॒लीअ जे वाधेरे नी जाई ते देवनागरी सिंधी में थे।
  2. हर सुबे जी अकादमियूं में खासि करे बो॒लीअ जे वाधारे जे नतबति कमिठियूंनि में सिंधी पंचातयूं जे नौजवानि अहदेदारनि खे जाई दि॒ञी वञे जिअं अकादमियून खे सिंधी समाज में नोजवानि बाबति पूरो फिडबैक मिलि सघे।
  3. अकादमियूं पारा सिंधी शाईं थिंदड किबाबनि जो वदो॒ हस्सो देवनागरी सिंधी जो हूजण खपे
  4. सिंधी किताबनि जी डिजीटलाजेशनि थिअणी खपे जिअं कूंड कूकचनि में सिंधी पहिंजे बो॒लीअ तोडे साहित्य सां वाकिफ हूजिनि
  5. सिंधी संसथाउ हिक साफटवेअर तयार करण जी घूर करे जहि जे मार्फत अर्बी तोडे देवनागरीअ में मट सट करे सघजे। ऐंडहा सागया कदमि कशमिरि में खया वया आहिन – सो सिंधीयूंनि खे बी अख्तियारि करणा खपिनि।
  6. सिंधी जो आनलाईं डिकशनरी इजाद कई वञे – जिअं हर हिंदुस्तानि बो॒लीअ में आहे।
  7. हिक सिंधी पोरटल वेबसाईट वजोद में आणिजे जिंअं सिंधी नोजनानि खे बो॒ली जे नसबत फाईजनि बाबति जा॒णि मिले जेके सिंधी संसथाऊ करे रहयूं आहिनि।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी तद॒हि पुखति थिंधी जद॒हि बो॒ली जा॒णिदडनि ऐं सिंधी संसकृति तोडे समाजिक संसथाउनि में कहि रित ऐको ईंदो। इहो रुगो॒ तद॒हि मूमकिनि आहे जद॒हि सिंधी सिंधी अकादमयूं तोडे पंचायतूं कहि हिक पलेटफार्म ते हिकु थिंदयूं। जेतोणेकि इन संसथाऊन जे कम करण जो दाईरो धारि ई आहे पर जेकरि सिंधीअ जो प्रचारि करणो आहे तह इहो तमाम जरूरि आहे तह असीं पहिंचातियूं जी मदद वठोउ। इन गा॒ल्हि खे बिलकूल नह विसीण खपे पंहिचातुनि जो सिधो सहूं वाटि सिंधी समाज सां आहे।

बो॒लीअ जो मसलो ईंतहाई वदो॒ आहे। इहो असां जो पूरो धयानु लहणे।

सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

नंढे खंड में सिंधी उन थोडनि कोमनि मां आहिनि जेके जुदा जुदा सकाफति ऐं दिन धर्म खे मञिंदड आहिनि। इहो ई नह पर विराहांङे बैद शायदि हि को कोम हूंदो जेको हिक बो॒ली गा॒ल्हिईंदे भी जुदा जुदा सुबनि में उन सोबनि जे खादे पिते जे तोर तरिकनि तोडे सकाफतुनि में पाण खे समायो हुजे। ऐडहो कोम वरली ई नंढे खंड में हूंदो जहि नई हलतुनि खे मुहूं दिं॒दे पहिंजे पाण खे नईं हालतयूं में पाण खे थांईको कयो आहे ऐं ईहो भी तमाम घट वकतनि मे। ईहा गा॒ल्हि जेतरि हिंदूंनि में सची आहे ओतरि मुसलमानिं में छा खाणि तह पिछाडीअ जे सतर सालनि में खासि करे नंढे तोडे वदे॒ शहरन में इहो ई थे पयो तह – या तह सिंधी अण सिंधयूनि में वसया आहिनि या अण सिंधी वदी॒ तादादि में सिंधी में अची रहया आहिनि।

इन गा॒ल्हि में वरली ई को शक कंदो तह वरहांङे सबब वदे॒ में वदी॒ कसु सिंधी हिंदुनि खे नसिब में आई आहे। अजु॒ ऐडहा चङा कोम आहिनि जेके लूपत या फना थिअण जी राहि ते आहिनि। इन फना थिंदड कोमनि में हिकु आहे –सिंधी सिख या खणि चईजे नानिक पंथी। हिक भेडे दि॒सिंजे तह सिंधीयूंनि में अजु॒ ताईं इन गा॒लिहि ते पक रित हिक राय कोनि वेठी आहे तह सिंधी छो ऐं छा काणि सिंख या नानिकपंथी थिया। किनि जो मञण आहे तह महाराजा रणजीत सिंह सिंध ताई पई पहिजूं सरहदयूं वधाअण पई चाहियूं ऐं के सिंधी, सिख इन सबब थिया जिऐं खेनि घटि में घटि नुकसानु थऐ ऐडही हालतयूं में। अजु॒ भले ई ईहा गा॒ल्हि केतरि नह अजबु लगे पर इन को भी शकु नाहे तह रणजित सिंह यकिनि खुवाईश रखी हुई पहिंजू सरहदयूं वधाअण जूं ऐं जेकर अंग्रेजअ हिदुस्तानि में नह हुजीनी हा तह हो पक सिंध ते जरुर काहि अचे हा। वरि अंग्रेजनि में खासि करे रिचर्ड बर्टनि जेडहनि जो रायो हो तह सिंधी हिंदूं मूल तरह पंजाब जा थेनि सो लाजमी तोर हिंदु सिखनि जेडहयूं रिसमयूं पंजाब सां सदुसि लागपे सबब ई आहिनि जहि में सिंख धर्म, गुरुमूखि भी शामिलि आहिनि । इन खां सवाई हिकु टिहों तबको भी आहे जहिं जो मञण आहे तह अर्बनि जी काहि बैद के सिंधी पंजाब लदे॒ वया ऐं बैद सिंध मोटी आया। सुदुनि मोजिब सिंधीयूनि जा नुख कुकरेजा, माखिजा, आहूजा वगिराहि इन सबब ई आहिनि। वरि जेकर पंजाबी सिखनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि मञण आहे तह जद॒हि मुसलमानि जो सिखनि खे कहरि पई थिअण लगा खासि करे गुरू तेग बहादूर जी वकत में तह के सिख पंजाब मां सिंध लदे॒ आया जहि सबब सिंध में गुरुमूखि ऐं सिंख पंथ जो प्रचारि थयो। वरि पिछाडीअ में ईन गा॒ल्हि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिख गुरु – गुरु अर्जून देव जी जे दि॒हिनि में सिख धर्म जे वाधारे जे नसबत सिख सिंध, खशमिरि ऐं अफगानिसथानि में भी सिंध धर्म जा प्रचारक मोकिला वया हिवा।

भले सिंध मां सिख पंथु किअं या कहिं भी रित आयो हुजे पर इन को भी शकु नाहे तह सिंधी हिंदुनि सिंख गुरुनि लाई ऐं खासि करे गुरु नानक जी लाई तमाम घणो मानु ऐं ईजति रही आहे। जेतोणेक सिंख धर्म जो प्रचार पंजाब खां बा॒हिरि सिख गुरु अर्जन देव जी जमाने ताईं चङो थयो, जहिं सबब सिंख पंथ सिंध, कशमिरि ऐं पखतुंवाहि जे चङो जोर वरतो पर पंजाब खां बा॒हिरि इहो सिंध ई हेकलो सुबो हो जिते सिंख धर्म चङो जोर वरतो। पर बद-किसमतिअ गुरु अर्जूनि देव जी जे गुजारे वञण बैद ऐं खासि करे गुरु तेग बहादुरि जी कुरबानी या शहादति बैद सिंखन लाई दुखाईंदड दि॒हिं जी सरुआति थी। इन कोम जो जोर घटाईण लाई दा॒ढयूं कोशिसियूं थिअण लग॒यूं जहि सबब सिंख ऐं सिख कोम कहि कदरु पाण में सिम़टजण लगो॒ जहिजो पूरो फाईदो अकालिनि वरतो । सिख रूगो॒ पाण में हलण लगा॒, ऐं ईहा घेराबंदी हिदुस्तानि जे शहरनि में आम जाम दि॒ठी वेंदी आहे जिते सिख कोम खे को भी खतरो नाहे। जेसिताई गा॒लिहि कजे आपरेशनि बलुस्टारि जी तह यकिनिं इन में अकालिनि जी सियासत भी ओतरि जिमेवार आहे जेतरि कांग्रेसि जा सियासतदानि।

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह गुरु अर्जूंन देव जी दिं॒हिं खां पोई ऐं खासि करे गुरु तेग॒ बहादुर जी जे कुरबानीअ खां पोई सिंखनि जी मुसलमानिं सां जाखडे सबब हिकु रित जे कठरपणो अचण लगो ऐ गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिनि में हिक लशकरि रूप अखतयारि कोयो । जेतोणोक इहो सैनिक भावू तहि महलि जी जरुरत हुई छाकाणि जेकरि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी जे द॒सयलि राहि तें नह लहिनि हा तह संदुनि मां हिक वदो॒ हिस्सो मुसलनामि हूजे हा। इहो लशकरी रुखु ई हो जहिं सिखनि खे हिकु थी पहिंजो वजूद लाई जाखडे करण जी सघ दि॒ञी। जेकरि तहि महल जे पंजाब जे अदमशुमारी ते धयानि दि॒सासिं तह चिटि रित साफ थिंदो हो यकिनि थोडाई में हुवा ऐं इन लावतूनि में संदुनि वजूद में रहण कहि अजूबे खां घटि नाहे।

हिक लङे सिख धर्म जे फहिलाउ खे बारिकीअ सां दि॒सजे तह इहो चिटि रित साफु नजर ईंदो तह पंजाब खां बा॒हिरि जेकरि सिंख धर्म जो कहि सुबे में ऐं खासि करि हिंदू बरादरी में फहिलाउ थियो तह उहो आहे सिंध। अजु॒ भी जद॒हि हिंदुस्तानि में रहिंदड सिंधीयूनि में सिंख धर्मू कहि कदरु कमजोरि थू पयो आहे तद॒हि भी वरलि ई को सिंधी घर लभिंदो जेको शादियूं-मूरादीनि तोडे गमयूनि में गुरु ग्रंथ साहिब जो पोठि कोन कराऐं या कहि गुरुदूआरे तोडे टिकाणे में मथो नह ठेके। अजु॒ भी सिंधी हिंदू सिंख गुरुनि जी ओतरो ई मानु ऐं ईजति कनि जेतिरो सिंधी इस्ट देव झूलेलाल या कहिं हिंदु देवी देवताउं जो। इहा गा॒ल्हि हिदुस्तानि तोडे दुनया जे जुदा जुदा मुलकनि में दि॒ठी वई आहे तह जिते भी सिंधी हिंदु वसया आहिनि – उते सिंधी टिकाणा जरुर अदा॒या आहिनि। इहो ई नह पर उन सिंधी टिकाणनि में हिंदू देवी-देवताउं खे पूजण सा ग॒दु॒ गुरु ग्रंथ साहिब जो अखण्ड पाठ जरूर थे। सिंध में सिख धर्म जो फहिलाऊ जो हिकु वदो॒ सबब ईहो भी आहे जे जहि रित सिख मुर्ती पूजा जे बिदरों गुरुअनि खे यादि कनि। सागी॒ रित सिंधी भी पिरनि तोडे संतनि जो तमाम घणो मानु कनि। आमिलनि जो तह चवण आहे तह सिंधी हिंदू बि॒नि शयूं ते फकरु कनि- हिकु सिंधु थे ऐं ब॒यो सिंधी संतनि तोडे पिरनि ते। नह रूगो॒ हिंदुनि में पर पिरनि जी तमाम घणी ईजति मुसलमानि भी कनि । इहो ई सबब आहे तह सुफी मतु खे जेतरि कामयाबी सिंध में मिली ओतरि नंढे खंढ जे कहि भी सुबे मे कोन मिलि। इहा हिक तारिखि हकिकत आहे।

सिंध जा खालसा सिंधी सिख

सिंध ऐं पंजाब में सिख धर्म जे नसबत नजरियो बिलकूल धारि आहे। सिंध में हिंदु सिख गुरुनि खे हिंदु देवी देवताउनि जेडहो मानु दि॒ञो पर सिखनि गुरु ग्रंथ साहिब खे भी गुरु करे लेखयो पर पंजाबीयूं वारो कठरपणो कद॒हि भी नह अचण दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि सिंधी मुसलमानि सां भी सागी॒ आहे। अजु॒ भी जेकरि कहि सिंधी मुसलमानि खां पुछबो सिंधी पंजाबी मुसलमानि सां संदुसि पहिंवारि बाबति तह द॒हनि मां नव पंजाबिनि जी गि॒ला ई कंदा ऐं बचयलि द॒हों भी पहिजी कावड बचाअण जी कोशिस नह कंदो। जेतोणेक के सिंधी पाण खे दरया पंथी वाङुरु नानिकपंथी पिणि कोठायो ऐं सिख गुरुनि जे पूजा जे स्थानि खे टिकाणे जो नाउ दि॒ञो पर कदहि भी हिंदु पाण खे रुगो॒ हिंदू धर् जा हेकला पोईलग कोनि कोठायो। अजु॒ भी विरहांङे खे लग भग मुञे सदीअ बैद भी जद॒हि तह सिंधी हिंदूनि में कहि कदरु कटरपणो वधयो आहे तह भी कहि भी सिंधी कस्बे में जिते सिंधी घणी तादादि में वसयलि हुजिनि – हिकु टिकाणो जरुर पई नजर इंदो जहिं में गुरु ग्रंथ साहिब सां ग॒दु हिंदू देवी जूं मूरतयूं जरुर पई नजर ईंदयूं। सागी॒ रित परदे॒ह में भी वसयलि सिंधी कनि।

सिखनि में जेतोणेक गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिं खां सिख कोम में चङो फेरो आयो। चङा सिख अमृत धारि यानि खालसा थिया पर चङा ऐडहा भी हुवा जेके पहिंजे असलोके रुप में ई कायूमि धायमि रहया या कहि सबब खालसा नह रहयो या वरि मूमकिनि आहे तह अगे॒ हिंदु हुवा ऐ पोई सिख धर्म पई अखतयारि कयो। इहे असलोके रुप वारा सेहजधारि कोठण में अचनि। इअ तह सिख धर्म में सेहजधारि खे अमृत धारियनि या खालसा थिअण जी हिक राह पिणि मञि वई आहे पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह आजादीअ खां पोई हिक कोशिस ईहा भी थी आहे तह खालसा निज॒ सिख जी जाई दि॒ञी वञे। इन जो सबब कहि कदुरु अकाल तख्त जी अहमियति वधण सबब भी थयो। होरया होरया हिदु समाज वाङुरु सिंखनि में भी फर्क अचण लगा॒ आहिनि जहि सबब सिख कोम में हिअर पहिजे पाण में ई वंढजी वयो आहे। इहो इन जे बावजूद जे सेहजधारियनि जो भी उतिरो ई योगदानि आहे जेतिरो खालसनि जो। ऐडहा चङा सेहजधारि भी थी गुजरा आहिनि जेके खालिसतानि जे जाखडे जा वदा॒ हिमायति भी रहया आहिनि। इहे फर्क तोडे विचोटयूं अकालियूनि जी सियासत या सिखनि में धर्म तोडे सियासति खे हिक बे॒ खां धारि नह करण सबब पिणि वधया आहिनि।

1959 में हिंदुस्तानि सरकारि जेको गुरुद्वारनि बाबत कानुन पास कयो हो तनि में सुरुमणि गुरुद्वावारा प्रभंधक कमिटी जे चूंडनि में अमृत धरियनि वाङुर सेहजधारि खे भी हिक जेडहा हक दिञा वया आहिनि। पर इन जे बावजूद जिअं हिंदु धर्म में पोईते पयलि जातियूनि सां थयो तह खेनि हिंदु रिती रिवाजनि खा धारि रखयो वयो तिऐं सेहजधारि सां भी थियो। ऐडहा मसला आजादिअ बैद जोर वरतो आहे जहि सबब सिखनि में भी चङो बहसि पई हलिंदो थो अचे। वेझडाईअ में 2003 में ऐडहो मामलो चंडिगड में आयो जिते कनि सेहजधारि शागिर्दनि खे इन लाई ऐस जी पी सी जे कालेज में दाखिलो कोन दि॒ञो वयो सिख कोटनि में जे सेहजधारि निजा॒ सिख नाहिन। इन नसबत ईहा दलिल दि॒ञी वई तह – छो तह सेजधारि मुल लिख नाहिनि सो खेनि सिख कोटे जे मार्फति दाखिलो नथो मिलि सघे। गा॒ल्हि कोर्टनि ताई वञी पुगी॒। इन जे विच में अकालि दल जेका तह महलि जी बी जे पी जी हुकीमत में सामिलि हुई, पहिजी ताकत जो इसतमालि कंदे हूकूमत पांरा हिकु आर्डिनेंस पई जारि करायो तह सेहजधारि मूल सिख नाहिनि जेका गा॒ल्हि कोर्ट पोई वरि नाकारे छदी॒, इहो ई नह पर अकाली सेहजधारि लफज जो सिख कोम सां कहि सां ई पई नंकारि पई कयो जदहि तह 1971 ताई अकाली दल में सेहजधारि जो भी हिकु जथो हूंदो हो।
हिक भेडे दि॒सजे तह सिख धर्म जो फहिलाउ भी कहि कदरु सिंध खां बाहिर घटयो आहे। विरहांङे खां अगु॒ पारे पंजाब में सिखनि जी आदमशुमारी 13 सेकडो हुई जोका विरहांङे खां पोई 30 सेक़डो थी ऐं पंजाब जो हाणेको सूबो छहण बैद 65 सेकडो थी। मतलब तह जिअं जिअं पंजाब जी सरहदयूं पई मई मटि सिखनि जे आदमशुमारिअ में भी फेरो आयो। पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे 2001 जे आदमशुमारीअ में इहो दि॒ठो वयो आहे तह सिंकनि जी तादादि कहि कदुरु घठी आहे। मसलनि सिंखनि जी तादादि 62.95 खां 59.9 थी आहे –यानी 3 सेकिडो घटि जद॒हि तह केरेला में क्रिसचननि जी तादादि फकत 0.32 सेकिडो घठि आहे। इन जा सबब अमृतधारि तोडे सेहजधारि मसले खा सवाई भी के अहमि सबब आहिनि जिअं पंजाबी बो॒लीअ जो सिख धर्म में तमाम वधीक जोर। हिदुस्तानि में हर कोम जो प्रचारि दे॒हि बो॒लयूनि में पयो थिंदो रहयो आहे जद॒हि तह सिख धर्म जो प्रचारि अजु॒ भी घणो तणो पंजाबी बो॒लीअ में पयो थिऐ। जेतोणेकि गुरु ग्रंथ साहिब जो सिंधी में भी तरजूमो शाई थियो आहे पर इहो रूगो सिंधीयूनि जे चाहि सबब ई थियो आहे नह कि अकाल तखत जी जोर ते। वरि सिंध में जोकि दि॒सजे सिंखनि जा तादादि वधि आहे छाकाणि तह पिछाडिअ जे कनि द॒हाकनि में जहि रित सिंध में अण सिंधी मुसलमानि जो जोर वधयो आहे इन सबब बदलयलि हालतूनि में, सिंधी हिंदूनि खे खालसा सिख थी पाण खे कहि कदरु वधिक महफिजु पया सहसुस कनि। इहो ई नह पर जेके भी पंजाबी सिखनि जा जेके जथा पाकिस्तानि जे दौरे में वया आहिनि से सिंधी सिखनि जी सिख धर्म दा॒हिं लगनि दि॒सी वाईडा थी वेंदा आहिनि। (अजु॒ जद॒हि हे कालमि पयो लिखां तह खबरि पई तह चारि सिंधीयूनि डाकटरनि खे कतल कयो वयो आहे। यकिनिं इन हालतुनि में जेकरि सिंधी शिख खालसा थिंदां तह यकिनिं सिंधीयनि खे हिक ताकत मिलिंदी पहिंजे पाण खे सोघो करण जे नसबत)

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी सिखनि जी तादादि तकडी पई घटजे। विरहांङे खां अगु॒ सिंध में सिख धर्म सिंधीयूनि पहिजो नमूने पई लहायो। सिंध में तह कद॒हि भी अमृतधारि- सेहजधारि में को ऐदो॒ वदो॒ मसलो थियो ई कोनह, ऐं नह ई वरि कद॒हि हिक बे॒ खे अण-सिख साबित करण जी कवायति थी। सिंध में हिकु रिवाज इहो भी हूंदो हो तह सिंधी हिंदु पहिजी पहिंरो ज॒णयलि पुट खे खालिसे सिंखनि खे दिं॒दा हवा। जसिताईं सिधीं सिधं में रहया सिधीयनि सिक धर्म पहिजे रित पई हलायो पर विरहाङे बैद लदे॒ आयलि सिधीयूंनि सां इअं नह थियो। सिंधी नानिकपंथीयिनि सां भी चङा वयलि थिया आहिनि। ऐडहा चङा वाक्या पई थिया आहनि जिते सिंधी टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब खे हटायो वयो आहे इहो चई तह सिख धर्म इन जी मोकलि नथो दे ऐं हिक ईं हंद में गिता ऐं गुरु ग्रंथ साहिब जो पाठि नथो करे सघजे। ऐडहो हिक वाक्यो दिल्ली में के सालनि अगु॒ थयो -जते दादा चेलाराम जे टिकाणे मां राम नवमी जे मौके ते सुरुमणी गुरुद्वारा प्रभंधक कमिटि पारां टिकाणे मां गुरु ग्रंथ साहिब ह़टायो वयो इहो चई तह इहो सिख मर्यादा जे खिलाफ आहे। इन बैद जेतोणेक बाबा चेलाराम आश्रम ऐं कजहि सिंख सिख तंजमयूं में भी के ग॒द॒जाणयूं थयूं कर इन जो को भी फैसलो कोन निकतो। इहो सब इन जे बावजूद जे दादा चेलाराम सिंख कोम जो वदो॒ जा॒णू हो, आलिमु हो ऐं नानिक साहिब तोडे अमृतसर जे गुरुद्वारनि में शबत किरतनि करे चूको हो। हो पाण भी सिंख धर्म जा तमाम वदा॒ जाणु हुवा। यकिनि ऐडहनि वारदातनि सां सिंधी सिख धर्म खां पाण खे पासरो ई रखण चाहिंदा।

हिदुस्तानि खा. बा॒हिर भी ऐडहा साग॒यूं कोशशियूं कयूं वयूं आहिनि पर अकालिनि जे हिमायतिनि खे का भी कामयाबी कोन पई मिलि आहे। पाकिस्तानि में कोर्टनि इहो बिलकूल खाफु कयो आहे तह सिंखनि में ऐडहा के भे फर्क नह पई कबूल कया वेंदां। नंढे खंढ खां बा॒हिरि भी साग॒या मंजर दि॒सण में नजर पई आया आहिनि। इनहिनि मुलकनि में हिंदु सिंधीयूनि पारां अदा॒यलि टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब सां छेड छाड करण जी का भी मोकलि कोन दि॒ञी वई आहे। वरि बे॒ पासे इन गा॒ल्हि खे भी नजर अंदाजि नथो करे सघजे तह दुनिया जे जुदा जुदा मलकनि में जिते भी सिख रहया उते जरुरत पवण ते सिखनि या खासि करे खालसा सिखनि वार ऐं दा॒डयूं पिणि लारहायूं अथोऊं। इहो ई नह पर ईंगलेंड जे रोचेसटर शहरि में तह गुरुद्वारे में कृपाण खणी घुसण जी मञाई आहे तहि जो विरोध सिखनि कोन कयो आहे ऐं कजहि सालनि अगु॒ तह प्रांस में पगडयू ते भी प्रतिभंध लगाई वई आहे जेके सिख उते मञिनि था पया।
मशहूर सिख लेखक खुशवंत सिंह जो चवण आहे तह हिंदुस्तानि में लदे॒ आयलि सिंधीयूनि में हिअर सिखपणो घटयो आहे ऐं जेकरि इहो हालि रहयो उहो भी दि॒हिं परे नाहे जद॒हि सिंधीयूनि में सिख धर्म रहिंदो ई कोन। हे बयानि यकिनि हकिकतुनि ते बंधयलि नाहे। जेतोणेक सिंधी टिकाणनि में कमि आई आहे पर इन में को भी शकु नाहे तह सिख गुरुनि लाई मानु ऐं ईजति में का भी कमि कोन आई आहे। इहो थी थो सघे तह श्री खुशवंत सिंह खां सिंधी टिकाणनि में गुरु ग्रंथ साहिब सां छेडछाडि विसरि वई हुजे -इहो दिल्ली जेडहे शहरि में थियो जिते हो भी रहे थो। सिंधीयूनि में सिखपणे जी कमी जो हिक वदो॒ सबब विरहांङे सबब सिंधी हिंदुनि जो लद॒पण आहे। जेसितईं सिंधी सिंध में हूवा हू सिख पंथ खे पहिंजे रित पई मञो पर विरहांङे बैद सिख कोम ते अकालिन जो जोर कहि कदुरु वधी वयो। अकालिनि हमेसाहि ई सियासत ऐं कोम में को भी फर्कु कोन पई समझो आहे, ऐं हूकूमतयूं भी कहि कदरु इन गा॒ल्हि जी मुखातलिफ कोन कई आहे। वरि 1984 जे फसादनि में जदि॒हि सिंधी सिखनि भी नुकसानि सठो पर सिंधीयनि जो नालो ताई खोन खयो वयो जद॒हि तह सिंधी सिखनि खे भी झझो नकसानि सहणो पयो । अजु॒ भी सिख मतलब पंजाबी बो॒ली गा॒ल्हाईंदड ई मञयो वेंदो आहे। नह तह जेकरि विरहांङे जे यकदम बैद जे दि॒हिनि में दिसजे तह सिंधी सिख गुजरात, राजिसतानि या महाराष्ट्र में सिंधी नानिकपंथी तोडे चिकाणनि जी वदी॒ ताअदादि हुंदी हई ऐं कोटा खे नंढे पंजाब कोठयो वेंदो हो।

अजु॒ इन जी तमाम जरुरत आहे तह सिंधी कोम मिडिया में अग॒ते वधी अचे ऐं सिंधी टिकाणनि ऐं सिंधी नानकपंथीयूंनि में हिमायति में जोखडो कजे। सिंधी टिकाणा सिंधी सकाफति जा हिस्सा आहिनि ऐं इन खे जिंदो रखण हर सिंधी जी जिमेवारी आहे। अजु॒ इन जी तमाम घणी जरुरति आहे तह सिंधी पंहिचातयूं सुजा॒ग थेनि नह तह असीं सिंधी नानिक पंथियूनि खे शायदि हमेशाहि लाई विञाऐ वेहिंदासिं।