पाकिस्तानी हिंदु – नंढे खंड जो निंधिकणो कौम

पहुतासीं कहिड़े मागि वञी छापुछी कंदें
हां, डिसु त हिन सफर में
लंघियासीं किथां किथां…
सिंध खे कोन छडाए को सघे
सिंधियुनि खां,
सिंधु सिधियुनि में वसे
सिंधु हिते, सिंधु हुते

हे सटयूं महान सिंधी कवि श्री नारायण श्याम पारां हिक ऐडहे वक्त लिखी वयूं हयूं जड॒हिं सिंध जा शहर सिंधी हिंदुनु खां खसया वया ऐं हो पहिंजे ई मूल्क मां जलावंती थी हिंदुस्तान में दर दर जा थाबा॒ खाअण लाई मजबूर हवा। हे सटयूं इन लाई भी अहमियत थयूं रखिनि छा काण त इहे सटयूं कवि जे पहिंजे अजमूदे सां लिखी वयूं हयूं । विरहांङे सिंधी हिंदुनि ऐं खास करे लोहाणनि जे हर तब्के खे पहिंजे जड खां जिंझोरे छडो॒ हो। दिलचस्प गा॒ल्हि त इहा आहे जे ऐडहा विचार, राया न रूगो॒ लेखकनि तोडे कवियूं जा हवा पर आम सिंधी पिणि ऐडहा खुवाब डि॒सिंदे कोन थकबा हवा । विरहांङे जो धकु हिंदु सिंधीयूंनि लाई ऐतिरो जबरदसत हो जे खेनि संभलण जो को भी मोको ऐं न इ को वक्त ई मिलो । इहो हिक वडो॒ सबब हो जहिं जे हलिंदे सिंध जा हिंदु कहिं भी सूरत में सिंध सां पहिंजी वाट छिनर न पई चाहियो।

सिंध मां लड॒पण नसबत हिक दिलचस्प गा॒ल्हि इहा भी आहे जे जेतोणेकि मूसलमान पारां लड॒पण 1954 में निबरी वई पर हिंदुनि लाई इहा अजु॒ भी जारी आहे । जेकरि सिंध मां हिंदुनि जे लड॒पण जी गा॒ल्हि कजे त 1947 खां 1954 ताईं वारी लड॒पण जे भेटि में 1965 खां पोई थिंदड लडपण में ऐडहा जजबात वरली ईं नजर इंदा आहिनि। इहो पिणि धयान में रखजे त जिअं जिअं वक्त गुजरिंदो वयो सिंध मां लडीं॒दडनि जो सिंध सां मोहू घटे न घटे पर हिंदुस्तान सां संदुनि मोहू जरूर वधायो आहे। मूमकिन आहे त पिछाडी जे 65 सालनि खां सिंध में हिदुनि ते थिंदड जूलम सिंधीयूंनि हिंदु तोडे मूसलमाननि सिंधीयूंनि में वड॒यूं विछोटयूं पैदा कयूं आहिनि जेके वक्त बे वक्त घटण बिदरां वधयूं आहिनि।

हिंदुस्तान में सिंधी साहित्य जे पसमंजर में जेकर डि॒सजे त 1947 खां 1954 जी लड॒पण जी भेट में 1965 खां पोई वारी लड॒पण नसबत घटि लिखयो वयो आहे। विरहाङे महल सिंधी लोहाणानि खे  सिंध खे शहरि मे निशाणो बणायो वयो हो जहिं में वडो॒ किरदार हिंदुस्तान मां लडिं॒दड मूसमान निभायो – (मुहाजिरनि तोडे सिंध जा सिंधी मूसलमान सियासतदानि) जेतोणेकि बि॒हिनि जा मकसद भले धार हवा पर निशाणो हिकु ई हो – हिंदु मलकतियूं ऐं हिंदुनि जी खुशाल आबादी।

दिलचस्तप गा॒ल्हि इहा भी आहे त 1954 खां पोई लड॒पण न त महाजिरनि सबब थी ऐं ना हि रूगो॒ सिंधी लोहाणनि जी ई उहा लड॒पण हूई। इहा लड॒पण में वडो॒ किदार सिंध जे सिंधी पीर-मीर-वडे॒रे धाडलयनि जी मदद सां कई जहिंजी मार  सिंध जे हर हिंदु तब्के झेली में पई  छा भील, छा मेघवार, छा सोढा राजपूत या छा लोहाणा। 1965 में लडिंदड में वड॒नि लालनि में कवि हरी दिलगिर तोडे पाकिस्तान  जो नाऐब रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा हवा।  मलतब लोहाणन खां सोढन ताईं, लाडकाणे खां थर परकार ताईं को भी सघेरो हिंदु सोघो कोन हो। जड॒हि ऐडहयूं शख्शतयूं लडे॒ अचण लाई मजबूर थिंदयूं त आम मिसकिन माण्हू जो केडही मजाल जे हो पाकिस्तान में रहण जी हिमथ मेडे सघे।

ऐं थियो भी कजहिं इअं ई – 1971 में डेढ लख हिंदु सिंध जे थर परकार मां लडे॒ राजिस्तान तोडे कच्छ में वसया। हूनिनि खे तहिं महल जी इंदरा गांधी की सरकार पारां जाम दडका डि॒ञा वया। खेनि चयो वेंदो त जेकरि अव्हां मोटी सिंध न वया त अव्हां खे जेलनि में पूणण या वरि हकूमत जे फैसलनि विरूध सबब अव्हां जे ऐतजाज कयो त अव्हां ते गोलयूं लाई हलाऐ सघझिनि थयूं। पर इन जे बादजूद 1971 जी भारत-पाक लडाई महल लडे॒ आयलि हिंदुनि मोटी कोन वया। सिंध मोटी वञण जो खोफ खेनि मोटण कोन डि॒ञो। संदुनि लाई मोटी वञण मूमकिन भी कोन हो। हिंदुस्तान हकूमत नेठि इनहिनि लडे॒ आयलनि खे नागरिकता डि॒ञी जिन मां अधु राजस्थान वसया ऐं बाकि गुजरात जे कच्छ जिले में वसया ।

बहरआल जेसिसाईं गा॒ल्हि कजे 1971 खां पोई जे लड॒पण कंदड हिंदु ऐडहा खूशकिसमत नाहिनि रहया। नागिरकता मिलण ओखी ठाहि वई। लडिंदड हिंदुनि लाई अजाया कानुन में फेरबदल कया वया जहिंजी मार हर लडिं॒दड हिंदु थो पया सठे।

1971 खां पोई लडिं॒दड हिंदुनि जी भारतिय नगरिकता जी लडाई में हिंकु अहम नालो जेको सभिनि खां अगवाटि चपनि ते अचे थो सो आहे सिंमात लोक संघटनि जो। सिमांत लोग संघठनि जो वजूद 1990 धारे सिंध जे थर परकार जिले मां 1971 खां अगु॒ लड॒यलि ऐं पाकिस्तान जे अगो॒णे रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा जे भाईटे हिंदु सिंह सोढा जो अचे थो। 1990 खां अजु॒ ताईं साईं हिंदु सिंह सोढा जी सर्बराही में हजारनि जी तादाद में सिंधी भील, मेघवार, कोली तोडे ब॒यनि जातियूं सां वाटि रखिंदड हिंदु सिंधीयूंनि खे नागरिकता मिली आहे। इन खां सवाई पाकिस्तानी हिंदुनि लाई खास करे हेठउ तबके लाई मसलनि भील मेघवार वगिरहनि लाई पोईते पवलि जातियूं जी सभूत दसतावेज हासिल करण, सिंध मां लडे॒ अचण बैदि ढिघे अर्से जा विजा हासिल करण, जेसिताई नागरिकता का हक जिले जे कलेकटर वट हवा तेसिताईं केपनि जरिऐ नागरिकता डेयारण वगिराह शामिल आहिनि।

इन खां सवाई सिंमात लोक संघठनि वक्त बेवक्त पब्लिक हेअरिंग या आम जलसा पिणि कराईंदी रही आहे जिन में लडे॒ आयलि सिंधीयूंनि खां सवाई  हिंदुस्तानि जूं अहम शख्शतयूं खे भी शामिल कयो वयो आहे जिअं हूनिनि खे भी समझ में अचे त लडे॒ आयलि हिंदुस्तान में भी केतिरे डु॒खनि में आहिनि।

पिछाडी महिने जी 20 जून आलमी पनाहिगिरिन डो॒हाडो (World Refugee Day)  हूअण सबब ऐडही हिक पब्लिक हिअरिंग जो बंदोबस्त कयो वयो हो जिन में शर्कत करण वारनि में समाज सेवक, रातिस्तान बार ऐसेसियशन जा ऐदेदार तोडे राजिस्थान महिला आयोग जी सदर पिणि मोजोद हुई । इन खां सवाई राजस्थान जी हिक समाज सेवी संथा पारां 30-32 खां शागिर्द तोडे शागिर्दयाणू पिणि मोजूद हयूं जिन लडे॒ आयनि हिंदुनि जे सिंध में डुखनि सुरनि जूं कहाणयूं पहिंजे प्राजेकट में शामिल कयूं।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

ऐडहयूं पब्लिक हिअरिंग तोडे आम जलसनि में सिंध मां लडे॒ इंद़ड हिंदुनि बाबत इन ड॒स सां काराईंतु थिंदयूं आहिनि छाकाणि त इन जलसनि जरिऐ सिंध लड॒यलि हिंदुनि जूं तकलिफयूं संसदुनि ई जुबानी बु॒धी पई सघजे। जलसे में जेके गा॒ल्हियूं सामहूं आयूं इहो कजहि हिन रित आहिनि ….

क)   राज्सथान जो विजा न मिलण-

इन जलसे में घणनि लडं॒दड हिंदुनि जो इहो इ चवण हो त असीं जथे जे विजा नसबत राजिस्तान जे विजा लाई दर्खासतयूं ड॒यूं पर विजा मिले हरिद्वार जो। हाणे असां नया हिन मूल्क में वरि लड॒ण वक्त डे॒ई वठी इसां वटि रूगो॒ मूशकिल जा थोडा ई पैसा बचिनि। असां खे जा॒णि वाणि छो भिटकायो पयो वञे। असीं गरिब हारीनि वठ ऐतिरो पैसो नाहे जे असीं पहिंजे जोर ते हिंदुस्तान में किथे भी वसी सघयूं। असां जी बिरादरी तोडे मिठ माईट सभ राजिस्तान में, पर असीं उतर हिंदुस्तान में थाबा॒ खाउनि।

ख)   लडिं॒दड हिंदुनि खास करे भील, मेघवार जातियूं जे बा॒रनि जूं पडहायूं विच में ईं बंद थी वञण

इन पब्लिक हेअरिंग में ऐडहा भी वाक्या सामहूं आया जन लाई हिंदुस्तान लडे॒ अचण बैदि संदुनि बा॒रनि जी पड्हाई अध में ई छडजी वई। हिक शागिर्दयाणी जो चवण हो त हिंदुस्तान सरकार पोईते पवजी वयलि जातियूंनि लाई आरकक्षण पई डे॒, कालेज जी फिसनि तोडे उमर जे लिहाज खां रियातु पई डे॒ पर इहे सभ तड॒हि मिलिन जड॒हिं आसां हिंदुस्तान जा नागिक थियूं जहिं में ड॒ह ड॒ह सालनि जो वक्त लगे॒। जेसिताईं असां खे नागरिकता मिले तेसिताईं त असां जो तालिम हासिल करण जो वक्त ई निबरी वञे। असीं छोकरियूं सिंध में अग॒वा थिअण जे ड॒प खां तालिम खां महरूम ऐं हिंद में कानुन असां जो साथ कोन डे॒। असां जा भाउर जी तालिम अध में ही बंद थी वञण सबब मूजूरी कन। असां जी निमाणी मिंथ आहे त असां जूं मजबूरियूं खे समझयो वञे।

ग)    लडिंदड हिंदुनि जूं घुमण फिरण ते पाबंधी

इन आम जलसे में ऐडा काफि लडिं॒दड हिंदुनि जो चवण हो त असां जे लेखे हिंदुस्तान असां जो मूल्क आहे ऐं असां खे जिते वणिंदो असीं उते ई वसी सघिंदासिं पर हित त हालत ई उभितर आहे। असां खे ज॒णु हिक ऐलाईके में कैद कयो वयो आहे। असा खे पहिंजे इलाईके जे 20 कोहि जे दाईरे खां बा॒हर वञण लाई हूकूमत खां मोकल थी वठणि पवे ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकरि असी इन दाईरे खां बा॒हर इअं बिना  मोकल वञउ त महिनि जा महिना जेलनि जूं सजाउ पईयूं भोगणयूं पवनि। ऐडा मसला हिक अधु न पर काफि हवा जन पहिंजे मिठन माईटनि डा॒हिं ग॒ड॒जण सबब वञि जेलनि में महिनि  जा महिना गुजारा आहिनि। हिक लोहाणो त इन हालत में पैसै जे जोर ते निजात पाऐ थो पर जेकरि गरिब भील मेघवार फाथे थो त उन लाई हिंकडो ई चारो बचे थो त हो हिरासत में वञि सजाउ भोगे॒।

घ)    सिंध में हिंदुनि सां थिंदड कहर

इन जलसे में सिंध, पाकिस्तान मां वेझडाईअ में 171 जी टोलीअ (जिन में भील ऐं मेघवार पिणि हवा) खे लड॒ण में मदद कंदड श्री चेतन दास सिंध में थिंदड जूलमनि जी गा॒ल्हि कई।

श्री चेतन दास बुधायो त अंदरूनी सिंध में किअं हिंदुनि  सां जूलम पयो थिऐ खासि पोइते पवलि हिंदु जातियूंनि सां। हून खास करे उन गाल्हि जो जिक्र कयो त किअं हिंदु सिंधी अग्नि संसकार ताई नथा करे सघिनि, त किअं हो पहिंजी हिंदु रिवायतुनि जे उभतर गुजारे वयलि माईचन जी लाश दफनाईनि, जहिं लाई भी खेनि जमिन लाई भी थाबा॒ था खाअणा पविनि। हून हिक वाक्ये जो भी ड॒सु डि॒ञो त किअं हिक अठ वरहयूं जी नेनंघर जी लाश जमिनि मां कडी॒ बा॒हर फिटो करण की कोशिस कई वई। मतलब हिंदु सां वेर न रूगो॒ हिंदुनि जे जिते जी पयो थिऐ पर इन जे जुजारे वञण खां पोई भी।।।. हून हिंदुनि सां थिंदड वयलनी जा जाम मिसाल डि॒ञा जिअं भील, मेघवार जे बा॒रनि खे किअं मूसलमान मासतर पडहाअण खां बजाऐ स्कूल का काकूस साफ कराअन, किअं हिंदु नेनगरयूं ते अगवाउनि जो खोफ सबब तालिम हासिल कोन करे सघिनि।

असां खां जेकरि विसरी किन वियो आहे त कजहिं महिना अगु॒ टेंडो अलेहार जो रहवासी श्री चेतन दास किअं 171 हिंदु सिंधीयूंनि ( भील ऐं मेघवार) खे पहिंजी अग॒वाणी में हिंदुस्तान लडाअ किअं कामयाब थिया हो। लड॒पण भले इहा लोहाणनि जी हुजे या दलित सिंधीयूंनि जी कड॒हि में सहूली नाहे थी आ। हिंक पासे जड॒हि सिंध में हिंदुनि लाई जमिन रण बणयलि आहे उते बे॒ पासे कहिं भी लातल में हिंदुनि खे लड॒ण खो रोकण लाई भपपूर कोशिस कनि सिंधी मूसलमान।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

हिंदुस्तान पाकिस्तान जूं सर्हदयूं 1954 में नेहरू लियाकत समझोते तहत बंद कयूं वयूं। पर 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां  में हिंदुनि ते कतलेआम इन गा॒ल्हि खे पधिरो करे छडो हो त हिंदुनि जो पाकिस्तानी रियासत में इजत तोडे आबरू महफोज कोन रहिंदी, ऐं थियो भी कजहि इअं। 1954 जे समझोते तहत जेके हिंदु 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां लडे॒ आया से मोटी कोन वया हातियूं 1971 में हिंदुनि सां बि॒हर ऐं 1950 खां भी वडा॒ जुलम थिया जहिंजी भेट सायदि विरहांङे महल थिअल फसादनि सा भी नथी करे सघजे। बे॒ पासे पाकिस्तान डा॒हिं लियाकत अली खां  जेतिरो  पुगो॒ हून हुन हिंदुस्तान मां मूसलमान (अण बंगाली) कराची लडा॒या, हून तेसताईं लडाया जेसिताईं हून खे इन गा॒ल्हि जी दिलजाई थी त हो हिअर मुहाजिरनि जे सघ ते चूंडयूं विडही थो सघे। पाकिस्तान जा हूमूमती इदारा हिक पासे फसादनि तोडे कानुनि जरिये हिंदुनि खे तंग कयो बे॒ पासे ऐडहा कानुन वजुद में आंदा वया जहिं सबब हिंदु जूं मलकतयूं वणजण गैरकानूनी हो। मतलब हिंदु लडि॒नि ऐं उहो भी हथ वांदनि।

बहरआल इन जलसे में जेतोणेकि कहिं भी नेहरू लियाकत समझोते जी गा॒ल्हि कोन कई पर जनि भी महमानि खे इन जलसे में घुरायो वयो हो सिंध लड॒यलि हिंदुनि जी हालतुनि जी मूंहजुबानी बु॒धण लाई तनि जी भी नाराजगी हिंदुस्तान हूकूमत सां हूई जेसा सभ जा॒णिदे बी माठि करे वेठी आहे।

जेकरि सच पच डि॒सजे त ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे हिंदुस्तान जी हकूमत खे पाकिस्तान में हिंदुनि ते थिंदड कहरनि बाब॒त जा॒ण नाहे। हिंदुस्तान जी हूकूमत 1954 (जां खां सर्हदयूं बंद कयूं वयूं) तां खां अजु॒ ताईं हर लडिं॒दड हिंदुअ खे जो विजा रूगो॒ इन ते वधायो त पाकिस्तान में हिंदुनि सां कहर पया थेनि पर इन जे वादजूद नागरिकता जा कोनुनन में नर्मी डे॒अण खां उभतर हाथयूं ओखा कया वया आहिनि। 2005 में नागरिकता डे॒अण जो हकु जिले कलेकटर खां खसे गृर वजिरात पहिंजे हथ कया ऐं नागरिकता मिलण जो वक्त त 5 सालनि खां वधाऐ 7  साल कयूं। सिंध में रहिंदड हिंदुनि जा मिट माईट जेलसमेर, बाडमेर, कच्छ में रहिंनि जिते हूकूमत कहिं खे भी वसण न डे॒, जेसिताईं नागरिकता मिले तेसिताई खेनि हिक शहर जे दाईरे जे 20 कोहि जे दाईरे में ई रहणो पवे। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकर जो हली भी वञे त खेनि हिरासत में सजा॒उ डि॒ञयूं वञिनि वरी साल साल नागरितका डे॒अण जी फिस वधाइनि सो धार ड॒चो।

हिंदुस्तान हज लाई सब्सडी थो डे, लखनि जा लख मूसलमानि खे हज ते वनण जी मोकल थो डे॒ पर पाकिस्तान मां हिंदुतानि घुमण अचण लाई हिंदुनि खे विजा डे॒अण में सालनि जा साल थो खणे। आम विजा त लग॒ भग ज॒णु बंद ई कया वया आहिनि या वरि जड॒हि डि॒ञा भी था वनिनि था त उन सां ऐतरियूं पाबंधयूं ग॒ढयूं पयूं वञिनि जे इहे शर्तयूं सिंध जे हिंदुनि जे वस खां बा॒हर आहे।

हिंदुस्तान – पाकिस्तान जो विरहाङो हिंदु मूससलमानि जे विच में थियो हो। कांग्रेसि भले इन जो कजहि भी नालो छो न डे॒ पर हकिकत त इहा आहे जे विरहांङो दीन धर्म के नाले ते थियो। वरि जमिन जो विरहांङो भी हिक जेडहो कोन थितो ज॒हनि त आसाम में तोडे विहार जा मूसलमान इलाईका पाण सा रखी पहिंजी वडी॒ कामयाबी समझी उतेई सिंध जा हिंदु ऐलाईका पाकिस्तान जे हथ कया। आसाम में मूसलमान लाई त का भी तकलिफ कोन थी पर हिंदु दर बदर थी वया। जेकरि विरहांङे जे जमिन जो विरहांङो कांग्रेस कयो त पाकिस्तान मां हिंदुनि खे वसाअण जी बी जिमेवारी  भी उनहिनि जी हूई ।

इन जलसे में पिछाडीअ में मोजोद महिमानि मां भी किन तकरिरयूं कयूं जनि में अहम हूई राजिस्थान बार ऐशोसिऐसन जे सदर जी। श्री श्रीवास्तन पहिंजी तकरिर में चयो पाकिस्तान में हिंदु रही कोन सघींदा – इहा हिक हकिकत आहे सो सिंध लड॒यनि जी लडाईं हिंदुस्तान में आहे जिते साणसि सही रित सहूलतूं नह पई मिलिन। पर इन लडे॒ आयलिनि जो मसलो इहे आहिनि संदनि लडाई कानून जे दाईरे में नथी थी सघे, छा काण त कानून सिंध लड॒यनि हिंदुनि जे हक मे नाहिनि। जेसिताई कोनून में फेर बदल न कई वई त शायदि पाकिस्तानी हिंदुनि जे डु॒ख सुर निबिरिंदा । सो हो त्यारी कन पाण खे वडी॒ लडाईअ लाई ऐं असां खां जेतिरो पुजींदो असी मदद कंदासि। सिंध लड॒यलि पाकिस्तानी हिंदु पाण खे हेकलो न समझिनि असीं साणस ग॒डु॒ आहियूं।

इन जलसे जे पिछाडीअ में सवाल- जबाबनि जो बी आयोजनि हो जिन में लडे॒ आयनि हिंदुनि मोजूद महिमान खां भी सवाल जवाब पुछा। छो त मां बी इन जलसे जे महिमानि मां होसी त मूखां बी हिकु सवाल कयो वयो त साईं असीं सिंध मां लड॒यलि अहियू, असीं भी सिंधी गा॒ल्हियूं (ढाठी इअं भी सिंधी को ई हिक लहजो  आहे) पोई इअं छो जे हिंदुस्तान जा नालेरे वारा सिंधी अग॒वान असां जी मदद त परे असां सा मिलण ताई कोन आया त असी केतरि तकलिफुनि में आहियूं। जड॒हिं अण सिंधी अग॒वाण असां जी सार था लही सघिनि त हिंदुस्तान में वसयलि सिंधी छो माटि आहिनि….

दरअसल मां भी सिंधी लोहाण जे इन वहनवार खे अजु॒ ताईं कोन समघी सघयो आहियां। सिंधी हिक ई इलाके मां लडिण, हिक ई नमूने जा जूल्म सहिनि, हिक बे॒ रित ई लड॒ण जे वाबजूद  पाण में ऐतरियूं विछोटियूं छो….ऐडही केडही मजबूरी आहे जेका असां खे पहिंजनि सां हिकु थेअण खां रोके थी…जातिवाद त हर हिंदु कोम में आहिनि। रातिस्तान में भाल भी रहिनि, त राजपूत भी त माडवाणी वाणिया भी पर जे हो सब राजिस्तानी संसकृति में रङजी था सघिनि त असीं सिंधी सिंधी संसकृति सां छो नथा रङजी सघउं….

हे सवाल हिक भील, मेंघवार या कोल्ली जातीअ लाईं ऐतरो ई अहम आहे जेतरो हिक लोहाणे लाई….शायद असां वटि इन जो जवाबु आहे ई कोन्हि। पर हिक गा॒ल्हि पक आहे त जेकरि असीं इहा गुधी, गजरहात सुलझाऐ वयासिं उहे सभ सियासी तंजमयूं जहिंजा पादर सिंधी अगवान चटिंदा आहिनि से असां सिंधी हिंदु जे दरनि जे चोखट ते मथो टेकण पहिंजी वडे॒ में वडी॒ जिमेवारी समझींदा….

गा॒ल्हि सिंधी क़यादत जी


 

सिंध में तोडे हिंद में हिंदु सिंधीयूंनि लाई हालतयूं हिक बे॒ जे उभतरि हूअण जे बावजूद सियासी कयादत तोडे सियासी सोच में वाईडो कंदड हिक जेडहाई डि॒सण में ईंदी रही आहे। इन जो वडे॒ में वडो॒ सबूत संदुनि बिं॒हि मूल्कनि में बिन पार्टियूंनि डा॒हिं अंधी वफादारी हिकु वडो॒ सबब रही आहे । हिक पासे जिते  सिंध जा हिंदु भूट्टे जे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी में शिर्कत करे गिद गिद थेनि सागी॒ रित हिंदुस्तानि जा सिंधी भाजप में पाण खे अर्पण करण में पूरा हूंदा आहिनि।

सिंधीयूंनि में हिक धारिनि जो थी वञण जी प्रथा या फितरत का अजु॒ जी नाहे। विर्हांङे खां अगु॒ सिंधी हिंदु कांग्रेस सां तेसताई वफादार रहया जेसिताईं विर्हांङे तोडे लड॒पण जा वाक्या संदुनि हिकु कापारो धकु कोन हयों। इहो धकु ऐतिरो जबरदसत हो जे विर्हांङे जे 65 सालनि खां पोई भी हिंदुस्तानि जा सिंधी उहे मंजर खे किन वासारे सघया तह आखिरि सिंध जा कांग्रसी  किअं सुता रहजी वया …त किअं हो सिंध जे मटिंदड सियासी माहोल खे समझी किन सघया ऐ रातो रात पहिंजे डे॒हि में इ परडे॒हि थी करार डि॒ञा वया।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मूसलमानि जो हिक इसलामी रियासत डा॒हिं लाडो हर कहि खां गु॒झो हो। अंग्रेजेनि जे डिं॒हनि जो सिंधी नस़र जो हिकु अहम थंबो लेखिंदडु -सिंधी लेखक तोडे अखबार नुवेस जथेमल पर्शराम गुलराजाणी मोमिनिं जे इन फिरयलि मनोवरती बाबत सिंधुवासियुनि खे आघाहि कंदे चवंदो हो – खिलाफत आहे आफत, ऐं इहा खिलाफत सचु पचु वडी॒ आफत खणी आई। खिलाफत तहरिक में पाक थी निकतलि हर अगवान भले इहो जी ऐम सेईद हूजे,या वरी  अबदुल माजिद सिंधी, पिर ईलाई बख्श, अयूब खुरो या वरि हिदाईतुल्लाह पहिंजी सियासी सघ हिंदुनि खे हिसाअण सबब ई पुख्ती कई जेको सिलसिलो संदुनि वारिसनि तोडे पोईलगनि पारां कहिं न् कहिं शकल में वडी॒ संजिदिगीअ सां अजु॒ भी पई हलाईदां अचनि। सिंध में पीर-मिर-जागिर्दार जी जमायति आजु॒ हिंदुनि खे उनही रित ई पई हिसाऐ जहि रित जहि रित मसजिद मजिलगाह जे वकत पई हिंदुनि खे हिसायो हो। पिछाडीअ जे मुञे सदी में उनहिनि की इसलामी कयादत में जरे जो भी फेरो किन आयो आहे भले इन अर्से में सिंध जे शहरनि जा सेकडो अण सिंधी दावेदार पैदा थी छोन न वया हूजिनि ।

सिंध में हिंदु सिंधी कयादत जे ठिकेदारनि जूं अख्यूं तहिं महल खुलणु खपिंदी हूयूं जड॒हि मस्जिद मंजिलगाह जा फसाद थिया। हिंदु अगवान न् तहि महलि ई हालितुनि खे समझी सघया ऐं न् ही भगत कंवर राम जे कतिलनि जा नाला सिंध ऐसेलमबली में खणिंदड हिंदु अगवानु पंमाणी जे कतल महलि, जहि खे सिंध ऐसेलमबली खां निकरिंदे ई कत्ल कयो वयो हो। अंग्रेजनि जे पिछाडीअ जे डि॒हनि में सिंधी हिंदु अगवानि जे सियासी नादानीअ जो किमत आम हिंदु पई चुकाई जेका रिवायति आजु॒ ताई सांदह पई वरजाई वञे।

जेका गलति सिंधी हिदुनि कयादत सिंध में कई तनि जो नुकसानि रिवाजी सिंधीयूंनि पहिंजी मातृभूईं खे कुर्बान करे बर्पाई कई। मूल्क वयो, लड॒पण थी, हिक सुबे में रहिदड कणो कणो थी पूरे हिंदुस्तान तोडे दुनिया भर में टरि पिखरजी वया, साण साण हिंदु सिंधीयूंनि जो सियासी जोर हमेशाहि लाई निबरी वयो सो धार ढचो। जड॒हि तह हिंदी-उर्दू-गुजराती गा॒ल्हिईंदडनि लाई लडवण 1954 में ई हमेशाहि लाई निबरी वई सिंधीयूंनि लाई अजु॒ ताई पहिजे पुरो रुतबे सां पई हले।

अजु॒ मूल सवालु इहो आहे तह आखिर छो हिंद जी सिंधी कयादत अहिडे मसले थे खामोश आहे। हिंदु छो पया लडनि.केडहि हातल सबब पया लडिनि, केरु थो खेनि लडण लाई मजबूर करे इहे सवाल हिअर कहिं खां भी गु॒झा नाहिनि रहया। अजु॒ सिंध में अकलितयनि जो हाल सजी॒ दुनिया जे आडो॒ आहे पर असां जी कयादत ई कजहि अहिडी खामोशी अक्तयार कई आहे जे असां खां पहिजनि ते थिंदड जूलमअ ते भी वाका करण नथा पुजि॒नि। हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जो इहो रदेअमल सिंधी हिंदु कयादत जो हिउ निहायत डुखाईंदड बाबु रहयो आहे।

हिंदुस्तान में सिंधीयूंनि जा ब॒ह कदेवार अगवानअ जेके इअं त् पाण खे सिंध जा॒वलि करार डे॒अण में कड॒हि भी को हिजाबु कोन कयो आहे पर सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जे सुरनि ते वाईडो कंदड खामोशी अख्तयार कई। सिंध में हिंदु छोकरिन ते थिंदड लिंग-कंडा॒इंदड वारदातुनि समाजवादी पाईटी ऐं बी जे डी ताई खे संसद में वाका करण लाई मजबूर कया पर जेकरि के माठ रहया तह हिंद जा सिर्स ते वेठलि हिंदु सिंधी अगवान। न आडवाणी लफजु उकारियो ऐं जेठमलाणी जो की राजसथान मां राज्य सभा पारां चूडिजण जे बावजूद (जिते अजु॒ जी तारिख में 4 लख सिंध लड॒यलि हिंदु रहिनि था) का भी हलचल जो अंदेशो ताई किन डि॒ञो।

पिछाडीअ जे 65 सालनि में भी जेकरि सिंध में रहजी वयलि हिंदुनि जो वाउ साउ लहजे तह इहा हकिकत चिटी रित साबित पई थिये तह हिंदुनि जो सायदि ई को तब्को रहयो आहे जेको पाकिस्तान में इसलाम जे नाउ ते कयलि जूलमनि जी मार न् झेली हूजे। आम सिंधी मूसलमानि इअं 1947 खां अगु॒ वारी सिंध लाई जजबाती त् थिऐ थो पर पहिजे निजी फाईदे लाई मठजी वललि हालूतनि जो फाइदो भी हथ करण खां बी कबा॒ऐ नथो। वरि जेके जूलम नथा भी कनि से पहिंजे बचाउ में मिंहू –साईं इहो सब असां सा पई थिऐ थो जे साऐ हेटि पहिजो पचाउ जी वाठि नेठि गो॒ल्हे था लहनि। अंदरुनी सिंध में हिंदु ते जूलम जो डोहारी सिंधी मुसलमान रहया आहिनि जिनि खे पूरो फाईदो हूकूमती इरादनि डि॒ञो आहे। जिते किते भी हिंदुनि जू नयणयूं अग॒वा थियूं आहिनि, मलकतयूं हडपयू वयूं आहिनि, हिंदु मंदिरअ ढाहा वया आहिनि,  हिदु नियाणियूं खे इसलमा कबूल कराअण जो मिहू करे विकयो वयो आहे, इन हर वारदात में सिंधी मूसलमान खे भरपूर साथु अण सिंधी मूसलमान तोडे हूकूमती इरादनि ऐं सिंध जे  पीर- मिर-जागिर्दारनि जी कि हिक जेतरि भागेदारी तहत साथु डि॒ञो आहे।

सिंध में हिंदुनि लाई के घणयूं वाटयूं किन रहयूं आहिनि। सिंध में अगवानि में भी जिनि खां पहिंजे माण्डनि जा डुख नह सठा वया तनि ऐतजाज कयो पर नेठि मूल्क मां लिकी, रात जे उंधारे में खेनि लडणो पिणि पयो। इंहिनि मां व् नाला हवा श्री राम सिंह सोडा ऐं राम सिंह सोढा। दिलचसप गा॒ल्हि त् इहा आहे जे इहे अग॒वान नह रूगो॒ लड॒ण महलि ऐसेलमबली तोडे वजिरात जा मेमबर हवा पर थर परकार जा हवा जिते चयो थो वञे तह वध में वध हिंदु था वसिनि। जड॒हि चूंडयलि अवामी नुमाईंदनि जी ऐडही हालत हूंदी तह आम हिंदुनि जी केतरि हलिंदी पूजदी इन जो अंदाजो बखूबी लगाऐ थो सघजे।

सिंध में हिंदु हिक अहिडी रियासत में फाथल आहिनि जिते साणसि हिक इंसासन ताई करे कोन लेख्यो वेंदो आहे। हूकूमत भले पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हूजे या बे॒ कहि जी, हर सघेरे भोतार तोडे वडे॒रे खे खबरि आहे तह हिंदुनि लाई मर्दु माणहू थी बिहण जी कोई हिमथ शायदि को हिंदु मेडे सघिंदो। वरि हिक खामोश हिदुस्तान तोडे हिंदुस्तानी सिंधी समाज इन रियासती इरादनि जो हौसलो वधायो आहे। सिंध में बचयलि हिंदु नेठि जेकरि वोट डे॒ त् कहिंखे डे॒नि…। ब॒यो त् ठहयो पर हिअर त् कोमीप्रसतनि लाई पिणि मञयो थो वञे तह हो भी पया हिंदुनि खां भतो उघारिनि। मतलब हिंदुनि सां थिदड जूलमनि में कोई पोईते नथो रहण चाहे।

पाकिस्तनि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध यानी सिंधी आहिनि सो हिंदुनि खे इहा आस हूदी  हूई तह ब॒यो कोई न त् सिंध में संदुनि सुर पाकिस्तानि पिपिलस पार्टी हिक सिंधी पार्टी हूअण सबब जरूर कहिं रित संजिदगी डे॒खारिंदी पर हिअर सा भी उमेदि नाहे रही। पिछाडीअ जे पंजनि सालनि में हर वडी॒ नंढी वारदात जहि में हिंदु सताया वया आहिनि भले इहो चक में हिंदु डाकटरनि जो कतल हूजे या रिंकल कुमारी या बे॒ कहि हिंदु नयाणी जो अग॒वा के स हूजे पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जा अग॒वान मलूस रहया आहिनि। इहो सब इन जे बावजूद जे सिंधी हिंदु पहिजो हर हिक वोट प प प खे डे॒ थो। बाकि सिंध बचाओ कमिटि (सिंधी मूसलिम कोमिप्रसतनि जी जमायत) वारनि लाई त् चवण मूशकिल आहे चूंडियनि बैदि केर किथे हूंदो, इन हालति में हिंदु जे लाई चूंड जे डि॒हि या तह घऱनि में वेही रहणो आहे या न् तह बि॒हर प प प खे इन उमेदि सां वेट डे॒अणो आहे तह हो हिंदुन ते रहम खाई साणसि हिंक इंसान जेडहो वहिंवार कदी।

हिंदुस्तान जी सिंधी कयादत पहिंरिं नजर में जेतोणेकि सिंध जेडहि वेवसि न बी महसूस थिऐ पर इन में को भी शकु नाहे त हिंदुस्तान जा सिंधी हिक पार्टी जे जा॒र में मख्मल तोर फासी चुका आहिनि। हिंदु सिंधीयूंनि जो भाजप या हिंदु हिमायती पार्टीयूंनि डा॒हि झुकाउ सिंध में ई साफ नजर इंदो हो जड॒हि कांग्रेस हिक पासे सिंधी हिंदुनि खे मायूस कयो तह बे॒ पासि आर ऐस ऐस तोडे हिंदु महासभा हर मदद लाई त्यार हूंदी हूई। बदकिसमतीअ सां सिंधी कयादत हालितुनि सही रित समझण में कासिर रही ऐं विकहांङे बैदि इंदड माहोल खे समझी किन सघी, जहिंजो नतिजो इहो निकतो तह जड॒हिं हिंदुस्दतानि मां मूसलमानि काहि आया हिंदुनि खे पहिंजा जान बचाअण खां सवाई ब॒यो को चारो रहयो ई कोन्हि। हिंदुनि अग॒वानि जिनि जे आसिरे सिंध में जे विरहांङे की गा॒ल्हि ते माठ रहया से मिडई साईं हिंदुनि सां वडो॒ जूलम थियो नाहकु थियो वारे नारनि ताईं पाण खे महदूद रखो। अजु॒ भी जड॒हि सिंध जा शहर संदुनि हथनि मां खिसकी चुका आहिनि हो धारयनि जो सामनो करण लाई असुलि ई तयार नाहिनि, जड॒हि तह हिंदुनि जी लड॒पण अजु॒ भी पहिजे पूरे शबाब में पई हले।

रिवाजी सिंधी भले सिंध खसिजण जे मातम में अजु॒ बी बु॒ड॒यलि हूजिनि पर हिंदुस्तानि जी सिंधी कयादत 1947 वारी हिंदु कयादत जे नक्शे कदम ते हलिंदे 1947 में कयलि सियासी आपघाती कवायति खे वरजाअण में ई पूरी रही आहे। इहो ई सबब हो त जड॒हि 1971 वारे हिंद पाक जी लडाई में ज॒ड॒हि लग॒ भग पूरो थर परकार हिंदुस्तान जे हथनि में अची चुको हो हिंदुस्तान जी सिंधी कयाद तोडे सिंधी सियासी अगवान थर ते सिंधी हिंदुनि जी दावेदारी पेश करण जी सघ ताई किन मेडे सघया, इन लाई जाख़डो त परे जी गा॒ल्हि थी।

पिछाडीअ जे 70 सालनि खां अजु॒ ताई सिंधी कयादत हिंअर पिणि उते फातल आहे जिते अंग्रेजन जे डि॒हनि में हई। न पार्टीयूंनि जो वहिंवारु मठयो आहे न ई सिंधीयूंनि जो पहिजो किरदार मठण जी का चाहि ई डे॒खारी आहे । पहिंजो कोम खां अगु॒ पहिजे निजी फाईदे जी पचर अजु॒ भी संदुनि ते हावी रही आहे जेतरी सिंध में रहिंदे हूदी हूई। इहो हिक वडो॒ सबब आहे जे असीं हर चूंडनि महल सियासी पार्टीयूंनि खे मिंथा कंदे रहजी वेंदा आहियूं तह रहम करे हिक अध तकयूं सिंधीयूंनि खे डे॒। असी कड॒हि पाटियूंनि ते जोर विधो ई कोनहि वरि असां जो पार्टियूंनि डा॒हि वहिवार ऐतिरो तह रिवाजी थी पयो आहे जे को तमाम घणी सहूलाईअ सां सिंधी वोटनि जी आसानी  सां अग॒कथी करे सघबी आहे। फर्कु रूगो॒ ऐतिरो ई रहयो आहे जे कांग्रेसी जी जाई ते हिअर भाजप बिठी आहे।

राम जन्म भूमि वारो मसले ते भी असी पहिंजे कदेवार अगवान जी पुठिभराई में इअं त का भी कसर कोन छडी॒ पर मोट में थिंदड सिंध में हिंदुनि सां थिअल कहरनि खां बेखबरि रहयासिं। सवनि हिंदु मंदिरनि खे ढाहो वयो, हिंदु घर साडया या वरि हिंदु नयाणयूंनि खे अगवा कयो वयो। बलूचिस्तान में तह जिंदा माणहूनि खे साडयो ताई वयो। सिंधी कयादत हिक बर्फ सां जमयलि हिक गलेशिअर वाङुर ई रही, इन जे बावजूद जे तहि महल जे कदेवार बी जे पी अगवान श्री अटल बीहारी वाजपेई इन कहनि बाबत डुख ऐं अफसोस जाहिर कयो, पर असां जी सिंधी कयादत उते भी असां खे धोको डि॒ञो। सिंध जे हिंदुनि सां असांजी उहा इ वाठि आहे जेका बंगाल ऐं बंगलादेश जे हिंदु बंगालिनि जी या वरी हिंदुस्तानि ऐं श्री लंका में रहिंदड तमिल कोम जी। पर जड॒हि तह बंगाली ऐं तमिलअ पहिंजे रत लाई हाई गोडा कनि असी पहिंजनि लाई बेखबर रहूं।

सिंधी हिंदु कयादत खे जेकरि पहिजे ऐं कोम जो वजूद सोघो करणो आहे तोडे पहिजा हक हासिल करणा आहिनि तह खानि वोट बैंक जी सियासत मूयूनिसिपल तकयूंनि तां लोक सभा जे तकयूं समझणी वपंदी। साणु साण इन मटयलि कयादत जे जोर ते फहिजा ऐजेंडा भी रखणा पवंदा। बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि जे जहनि में इहो वेठलि आहे तह खेनि भापज इन रित इजत डि॒दी जहि रित खेनि हिंदु महासभा सिंध में रहिदे डिं॒दी हूई।

हिंदुस्तान में सिंधी कयादत खे वकत सा मठणो पवंदो, साणु साणु सिंधी हिंदुनि खे ..रूगो॒ लोहाणा (वाणिया) ई सिंधी लेखबा वारी कवायत मां निकरी हर सिंधी लडयलि हिंदु खे इपनाअणो पवदो, ढाटी तोडे कच्छी लहजो गा॒ल्हिइंदड भील, मेघवार, सोढा राजपूजनि या ब॒यनि जातियूंनि खे सिंधी मसाज हो हिस्सो मञणो पवंदो। हो भी असां वंहुरि सिंधी मूसलमानि जा सतायलि आहिनि जेडहा असां अहियूं । हूनिनि भी सागी॒ लड॒पण कई आहे जिअं असां जे वड॒नि कई। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि त असां हजारनि सालनि ताई हिंकु धी रहया अहियूं सिंध में।

सिंध जा हिंदु जेकरि कहिं डा॒हि आलयूं अखयूंनि खणि इन मूशकिल हालतुनि में डि॒सिनि था पया तह उहो आहे हिंदुस्तान में वसयलि हिंदु सिंधीयूंनि डा॒हि। इतहास अजु॒ वरि सिंधीयूंनि खे उन मोड ते वेहारो आहे जिते असीं 1947 में हवासीं। सिंधी कयादत खे संजिदगी डे॒खारिंदे पाण ते लगल मेरा दाग उघणा वहदां या न तह हिक मतलब-प्रत, समाज जो लिगाब पाअणलाई तयार रहणो वपंदो।

 

 

सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

22 सालनि जो हबीब हैदराबाद सिंध जो जावल नोकजवान लेखक आहे।  संदुसि लेख रोजाने अबरत ऐं अवामी आवाज में शाईं थिंदा रहया आहिनि। हित संदसि लिखयलि ताजो लेख हिंदुस्तानि जे सिंधीयूंनि लाई शाई कजे थो। जसु लहणे हबीब जहि सिंध जे हिंदुनि सां थिंदड नाइसाफियूंनि बाबत आवाज उधारण जी कोशीश कई आहे। उमेदि तह हू अग॒ते बी साग॒ऐ मसले ते लिखिंदो रहिंदो।

 habib

 

सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

 

रोईंदड डा. लता ऐं डा॒हिंयूं कंदड रिंकल कुमारीअ जी दर्दनि भरी कहाणी खे आखिर केरु शाई कंदो? सिंध जी इजत खे दाउ ते लगा॒अण वारनि खां आखिर केरु पुछिंदो ? हे सवाल सिर्फ सामाजिक कारुकनिं ऐं कालम निगर मार्वी सरमद जो नाहे ऐं नह् ई वरी ऐं नह् जेकोकाबाद जे रहवासी डा. लता जे पिणसि डा. रमेश कुमार ऐं नह ई मिरपुर माथिले जी रिंकल कुमारीअ जे मामे राज कुमार जो आहे, पर हे सवाल हर हिक अमड जो आहे जिन जे दीअरनि खे हथियारनि जे जोर ते अगवा करे जबरदसती मजहब तभधील कराअण बैदि साणनि शादयूं करायूं वयूं ऐं अमडयूं याद में हेल बी डि॒अरी जूं खुशयूं नह मञाऐ सघयूं , संदुनि लेखे सिता अजु॒ भी रावण जे कोट में कैदि आहे। पर इहा हिक भयानक हकिकत आहे तह मजहब जी आड में हिंदुनि खे ऐतिरो तह हिसायो  वयो जो हो धर्ती धणी ऱोज रोज खुआर थिअण खां बचण लाई धर्ती माउ जे हथ मां हथ छडा॒ऐ सभ रिशता, नाता खतम करे हमेशाहि लाई भारत वञी रहया आहिनि। हू धर्ती काण खणी जूलम तश्द बरबरयत भी कनि पर पहिंजी नयाणियूंनि जे इजतयूं खे लूटिंदे नथा डि॒सी सघिनि।

डा लता ऐं रिंकल वारे मसले ते बी मिडिया समेत सियासी पार्टियूं ऐं उन जे अकलयती (हिंदु) अगवान भी मजरमाणी खामोशी इख्तयार कई, इहो ई सबब आहे जो हिंदु भाउर मायूंस थी धर्ती माउ सां वेवफाई करण वारो रसतो अख्तयार कयो, ऐं हेल ताईं हजारनि माण्हूं धर्ती खे अलविदा करे चका आहिनि।

तोजो ठूल (सिकाकपूर) मां पंज हिंदु खांदान जेके सोरहनि भातियूंनि खे मशमतिल हवा मातृभूमि खे आखिर सजदो करे छडे॒ वया।

माईटनि खां मोकलाअण वक्त संदुनि अख्यूंनि मां रत जा गो॒डहा वहण लगा॒, संदुनि कैफत खे लफजनि में बयान नथो करे सघजे, इहा हिक हकिकत आहे तह सिंध हिक वडो॒ अर्से खां डो॒हारियूंनि खे मफाहमत जे नाले ते छडवाग॒ छड॒यो वयो. सिंध जा हिंदु भी इंसान आहिनि खेनि इख्लाकी तोर मदद करण बिदरां उलटो खेनि इंसान ई नह समझण साणनि वडी॒ जयादती आहे ऐं ऐडहे जयादतीयूंनि करे मजबूर थी सिंध खे अलविदा करे रहया आहिनि, को भी शख्स खुशिअ मां पहिंजा अबाणा कख ऐं पहिंजी माउ जेडही धर्ती नथो छडे॒, जहिं धर्तीअ सां संदसि नंड्हपण जूं यादूं वाबिस्तह हूंदयूं आहिनि.

rr

जहिं जे सिने ते तरयूं खोडे बांबडा डे॒अण सिखो हो ऐं माउ जूं आंङुर पकडे हलण सिखो हो , अजु॒ जड॒हिं उहे मातृभूमि खां कच्चे धारे वाङुंरु टूटी धार थी रहया आहिनि तह इअं महसूस थिऐ थो ज॒णु सिंध जे वजूद जा ब॒ह हिस्सा थी रहया आहिनि।

कड॒हिं वई आखिरि उहा सेकूलर सिंध ?? .जहिं में हिंदु ऐं मूसलमानि माने खाईंदा हवा, कंलंदर ते धमाल भी ग॒ड॒जी कंदा हवा, तह् डि॒आरीअ जा डि॒आ भी ग॒ड॒जी बा॒रिंदा हवा, हाणे जड॒हि हिंदु भाउर सिंध छडे॒ वञी रहया आहिनि तह् लाजमि आहे तह् संदुनि जाई अची ब॒यनि मूल्कनि जा पनाहगिर  वालारिंदा, जहिं सां सिंधी बो॒लीअ जे मस्तकबिल (भविषय) ते नाकारी असर पवंदा ऐं सिंधीयूंनि (मूसलमानि सुधा) जी अकलियत (थोडाई) में तबधील थिअण जा ख़दशा पिणि मोजूद आहिनि। हिंअर बी जरुरत उन गा॒ल्हि जी आहे तह कहिं राम जे इंतजार करण बिदरां मजहबी तोडे सियासी पार्टियूंनि, अदीबनि ऐं दानेशव्रनि खे हिन नाहायति ई अहम मसले जे हल लाई संजीदगी सां सोचण घूर्जे, किथे इअं नह थिऐ जो मजहबी इंतहापंसंदी हर जहनि ते हावी थी वञे ऐं असां हथ महटींदा रहजी वञोउ !!!

 

लेखक- श्री हबीब अलरहमान जमाली

उलथो – राकेश लखाणी

नह ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ईं ईझा रही छा कयूं ? 25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना

  • खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा मेघवार कुंटूंब पांद में सिंध जे वारी बु॒॒धी जीरो पोईंट तां घोडा घाम, जोधपूर असहया
  • ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ई ईझा रही छा कयूं …25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना
  • सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत अथव  धर्ती छडे॒ वेंदड मेघवार खांदान जी हंजियूं हारिंदे सिंधीयूंनि खे अपील 
  • पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके
  • चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं – धर्ती छडे॒ वेंदड

खपरो – (रिपोर्ट राजा रशिद कंभर) खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा 25 मेघवार कूटूंब बदनामी जी बाहि खां तंक अचि सिंध छडे॒ हिंद रवाना थी वया। सिंध छडे॒ वेंदड हिंद चेतन जय पार कांजी मेघवार सिंध जा वारी पहिंजे पांदन में छडे॒ बदनामी जूं डा॒हूं कंदा जीरो पोईंट जरिऐ जोधपूर जे घोडा  घाम रवाना थी वयो। कांभर दडे खां पोइ पिरूंमल शहर भी हिंदुनि खां खालि थिअण शुरु थी पयो आहे। पहिंजी धर्ती छडिं॒दे हिंदु खांदान हंजियूं हारिंदे चई रहा हवा तह  “जिते बच्चा  ऐं ईझा महफूज नह हूजिनि, उते रही छा कबो? . पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके,   चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं । इन करे दिल हारे मात्रभूमि खां मोकिलाऊं पया। अव्हां खे सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत हूजे”  बे॒ पासे हिंदु ऐकशन कमिटी जे अग॒वान डाकटर धर्मू खांवाणी चयो तह् “डि॒हूं डि॒हिं हिंदुनि सां जलम वधी रहयो आहे पर पोई धर्ती छड॒ण बजाई हिमत सा हालतियूं जो मूकाबलो करण घूजे”।

 

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – हिंदु अगवानि जूं दाहिं

हे अहवाल सिंधी मां शाई सिंदड अखबार अवामी आवाज मां लरतल आहे। सिंधूयूंनि जे समझ लाई हित देवनागरी लिपीअ में शाई कजे थो

मूल लेख की लिंक

http://www.awamiawaz.net/%D9%81%D9%8A%D8%B5%D9%84%D9%88-%DA%AA%D8%B1%D9%8A%D9%88%D8%8C-%D8%B1%D9%87%DA%BB-%DA%8F%D9%8A%D9%86%D8%AF%E2%80%8D%D8%A4-%D9%8A%D8%A7-%D9%84%DA%8F%D9%8A-%D9%88%DA%83%D9%88%D9%86%D8%9F-%D8%B3%D9%86/print/

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – सिंध मां 1947 खां भी लड॒पण पई थिऐ – इंसानी हकनि जी स्डिंडिग कमिटी जे आडो॒ हिंदु अगवानि जूं दाहिं

कराची (रिपोर्ट शकिल नाईच)- इंसानी हकनि बाबति कोमी ऐसमबली जी ऐसटेंडिग कमिटी सिंध सरकार खे सिफारिशयूं कयूं आहिनि तह हिंदुनि जो जोरी मज़हब (धर्म) वारे अमल खे रोकण ऐं हिंदुनि जे आग़वा जे डो॒हारिनि खिलाफ कार्वाही करण ऐं हिंदुनि जे लद॒पण खतम करण लाई कानुनसाजी कई वञे। सुबे जे अंदर कारो कारी (हिक प्रथा जिन में शक जे आधार ते मूसलमानी पहिजे उलाद जो खासि करे नियाणियूंनि जो कतल कनि) जे खातमे लाई सख्त कानून ठाया वञिनि ऐं जिल मेनूअल हाणे तबधील करे जदाऐद दोर मूताबिक जा जेल मेनूअल ठाया वञिनि। इहे गा॒ल्हियूं जूमे डि॒हूं ऐस्टेंडिग कमिटीअ जे चेअरमैन रेयाज फतयाना जे सदारति में थिअल इजिलास में कयूं वयूं। इन मोके ते ऐडिशनलि आई जी सिंध पूलिस पारां हिंदुनि के अगवा ऐं लड॒पण बाबति पेश अंग अखरनि खे कोमी ऐसेल्मबली जी ऐसटेंडिग कमिटी ऐं अकलमत (अल्पसंख्यक) तंजमयूं जे ऐहदेदारनि रद करे छड॒यो। इजलास में ऐडीशनलि आई जी फलक खुर्शिद अंग अखर पेश कया तह् केतिरा हिंदु अगवा थियलि आहिनि ऐं केतिरा हितोऊ लडे॒ वया आहिनि … इन ते ऐम ऐन ऐ ( मेमबर नेशनलि ऐसेलबली) अरेश कुमार सिंह चयो तह पंजनि सासनि में ऐतरी लड॒पण थी आहे जेतरि 1947 में भी नह थी हूंदी, सिर्फ मिरपुर खास में सवन माण्हूं अगवा थियलि आहिनि ऐं हितोउ खां लडे॒ वया आहिनि। ऐडिशनलि आई जी चयो तह हिंदु मेंहिंती आहिनि सो खेनि टारगेट करे निशाणो पयो बणायो वञे। हो हर शबऐ में कामयाब आहिनि। सदर जरदारी टिन मेम्बरनि जी कमिशन जोडी आहे। आरेसर कुमार सिंह चयो तह असां खे अन अंग अखरनि ते कतई ऐतबार नाहे। हिंदुस्तान सरकार पाण चयो आहे तह् सिंध मां आयलि 500 हिंदु खांदान इते तर्सया पया आहिनि ऐं वापस वञण खां इंकार कयो आहे। केतिरा हिंदु कतल भी थिया आहिनि, जेकरि हिंदु नह रहया असीं तबाहि थी वेंदासी। हिंदु माईनार्टी ऐलाईंस जे मंगला शर्मा चयो तह सिर्फ सेपटेंबर में 12 हिंदु छोकरियूं मसलमान बणायूं वयूं आहिनि इन्ही मां सिर्फ हिंक हिंदु नेंगरी वारिसन खे मोटी मिली आहे। हिंतोउ सिर्फ हिक साल में साढा सत हजार हिंदु खांदान हिंदुस्तान लडे॒ वया। गूजरलि 20 सालनि में डे॒ढ लखु हिंदु लडे॒ चूका आहिनि। सिंध में पंज सेकिडो नोकरयूं भी हिंदुनि जे हथ में नाहिनि। हिंदु पर्सलनि ला (कानून) भी नाहे। हिंदु काउंसिल जे टिकम मल चयो तह हिंदुनि जी वडी॒ तकलिफ इहा आहे तह खेनि जबरदसती मूसलमान बणायो वयो वञे।  असां खे इन सिलसिले में हकिकत में ऐतराफ करण घुरजे, छोकरि खे 20 डि॒हनि में कोर्ट अंदर आणे मूसलमानि हूअण जो बयान था देअरो ऐं आडही छोकरि खे धीअ, भेण बणाअण बजाई शादी छो पई करई वञे ??. असां पैसो तह कमाऐ वठींदासि पर इजत वापस नह मिलिंदी। असां खे नौकरियूं, तरर्कियूं , कम नह घुगजिनि. असी अकलमियत (थोडाई) में आहियूं, असां जो कमु फर्मानबरादरी करण ऐं समाजिक तालूक बेहतर बणाअण आहे। हाणे वकत अची वयो आहे तह असां खे रहण दि॒ञो वेंदो या लडो॒यो वेंदो. .जोरी मूसलमान करण जो ऐतराफ कंदे कानून ठहयो तह असी दडे॒ वञण ते मजबूर थिंदासि। “या तह रहण ड॒यो यह भज॒ण डि॒यो”  ऐडीशनल आई जी चयो तह असां कोनून जा पाबंध आहियूं। कोनून मूताबिक नेंगर ऐं नेंगरी खे अदालत में पेश कंदा आहियूं, पोई जेको फैसलो अदालत कंदी आहे उन ते अमल कंदा आहियों। ऐम कयू ऐम जे ऐम ऐन ऐ कशूर ज़रही चयो तह हिंदु असां खा वधिक देश भग्त आहिनि, वाक्ई असां खे हाणे सोचणो खपे ऐं आमली कदम खणणा पवंदा, हे संगिन मसलो आहे। आमली लेविल ते मूसलमान बणाअण वारे मामले ते पाकिस्तान जी बदनामी थी रही आहे ऐडहो कोनून ठायो जो अगते को भी इंअ नह करे सघे। माईनारटी अतहाद जो रमेश सिंह चयो तह मसला आहिनि इन लाई तह हिंदु लडे॒ था वञिनि। हिंदुस्तान जो वजीर चवे थो तह 3 सालनि में 1290 खांदान पाकिस्तान मां हिंदुस्तान आया ऐं 790 खे शहरियत (नागरिकता) भी मिली वई आहे। शखर रेंजनि मां घणा हिंदु लडि॒नि था, जेकड॒हिं असा खे अगवा थिअण बैदि भूंग (फिरोती) दे॒अणी पवे तह पूलिस जो केडहो कम । अल्पसंखयक (धार्मिक)  जो तहफूज कयो वञे। बलूचिस्तान जो ऐम पी ऐ (ऐम ऐल ऐ) सतराम सिंघ डोमक ऐं सिंध जो ऐम सरहिंदो चयो असां खे काईदे आजम वारा हक डे॒यो। काईदे आजम पाकिस्तान जी पहिरीं सदारत जोगिंरनाथ मंडल खां कराई। पाकिस्तान ते सभनी खां अगु॒ तिर खाअण जी गा॒ल्हि ऐम पी सिंघा कई हूई। पाकिस्तान ते डू॒खयो वकत आयो तह पोई अल्पसंख्यक अगु खां अग॒ते रहिंदा। ऐम ऐन ऐ अरेश कुमार सिंह चयो तह सिर्फ पूलिस इहो बु॒धाऐ तह छा इहा सरकार जी पालीसी आहे तह अलपसंख्यक लडे॒ वञिनि!!! जे इअं आहे तह बुधाऐ छडो॒ तह असीं चूप करे वेही रहिंदासी। ऐम ऐन ऐ इनायत अल्लाह चयो तह हिंदुनि सां थिंदड कार्वाही दहशदगर्दी आहे। इहा शर्म जी गा॒ल्हि आहे जे हिंदु इतोउ खा लडे॒ वञिनि। असां 20 सालनि खां सिंध अंदर निजी जेलनि जो बू॒धोउ पया। हिंदु पर्सनल ला ठाहयो वञे। हिंदुनि खिलाफ डा॒ढाईनि जा केस देहशदगर्दी जे खातमे वारे केसनि वाङुरु ऐ टी सी अदालतुनि में हलाया वञिनि। थोडाईवारी बिरादरी असांजो किमता सरमायो आहिनि, असां संदुनि लड॒ण खे बरदास्त नथा करे सघऊं। ईसपेशल होम सेक्रेटरी मूदसर ईकबाल चयो तह हाणे असां हिंदुनि जे तहफोज लाई हर जिले में डेपटी कमिशनर जे सर्बरादीअ में कमिटूयूं ठाहयूं आहिनि जिन में ऐस ऐस पी ऐं पंज अल्पसंख्यक बिरादरी जा नुमाईंदा हूंदा, इन मोके ते खिताब कंदे कमिटी जे चेअरमैन रियाज फतयाना चयो तह इन में को भी शक नाहे तह थोडाई वारे कोम खे भी ओतिरा ई हक मिल्यलि आहिनि जेतिरा मूसलमानि खे आहिनि। काईदे आजम जी 11 अगस्त वारी तकरिर में मजहब बाबत चयो हिते को भी बालातर या मातहत नाहे, असा वठ मजहबी जनूनेत जो कलचर जियां उल हक पैदा कयो ऐं हून नफरत जो बि॒जु॒ पोखियो जेको असी अजु॒ भोगियूं पया। चेतराल में केसाश नसल खे मूसलमान करण लाई कजहि इंतहा पंसंदी उते पहूता मके जे फतहि वकत हजरत पाक सली अल्लाह वसलम वाजिहि ऐं सख्त पेगाम दि॒ञो हो तह अजु॒ खां पोई सभनि खे हिक जेतरा हक हासिल हूदा। अजु॒ पाकिस्तान में हिदु अगवा वया थेनि, संदुनि नेंगरिनि खे जोरी मूसलमानि पयो कयो वञे, हिंदुनि जे तहफूज जी जिमेवारी रियासत जी आहे। गुंजरवाला में ईसाईंनि साणु इंतहापंसंदी डा॒ढाई कई वई तह असीं वाजी लफजनि में मजमत कई। हिन हकूमत सिंध खे शिफारशू कयूं तह थोडाई वारे कोमनि के ईबादतगारि ते गु॒झयूं केमेरा लगायूं व़िनि जहिं जू कनेकशन थाणे सां हूजिनि। थोडाई वारे कोमनि जे इबादतगारनि जी जिमेवारी रियासत जी आहे। हिंदु छोकरी जे मूसलमान थिअण लाई धार कोनून सिंध सरकार ठाये ऐं इन द॒स में क्रिमिनल कानून में तरमियम करे छोकरीअ खे “सेफ हाउस” में रखयो वञे ऐं खेसि हिक महिने ताईं कहिं सा भी मिलण नह डि॒ञो वञे। औकाफ खाते में थोडाई वारे बिरादरी ऐबादतगाहिनि जी सार संभाल लहण अकलियत बिरादरी जे आफसर खे डि॒ञी वञे सूमर दि॒हिं अकलियत बिरादरी जा नुमाईंदा इसपेशल होम सेक्रेटरी होम मूदसर इकबाल साणु ब॒ टे कलाक गद॒जाणी कनि। हून चयो तह हिअर सभनी दा॒हि इहो सख्त पैगाम वञणो घुरजे तह् अकलतियूंनि सां डा॒ढायूं बरदास्त नह कई वेंदी। खेनि जोरी मजहब बदलाअण ते मजबूर नह कयो वोंदो। खेनि अगवा नह कयो वेंदो आई जी सिंध पूलिस जे आफिस में हिकु सेल कायम कयो ऐं इन जी ओज सा मिली अंगनि अखरनि जी भेटि कयो, नोकरयूंनि में पंज सेकिडो कोटा अकलियतिनि खे दि॒यो असा बि॒हर बी॒ टीन महिनिन में इंदासी तबधीली अचण घुर्जे। इजलास में कारो कारी बाबति रियाज फतियाना चयो तह सिंध पूलिस हे सुठो अमल कयो आहे जो 1213 सेल खोलयो आहे। सिंध सरकार खे घुर्जे तह कारो कारी जे खातमे लाई मजहबी अग॒वान आलिमनि साणु राबतो कयो वञे। तालिमि अदारनि में कारो कारी खे निसाब में शामिल कयो वञे ऐं इन मूहिम में सिविल सोसाईटी खे भी शामिल कयो वञे, मिडिया खां मदद वरती वञे तह जिअ मिडीया जे खबरूनि जो नोटिस संसद ऐं अदालत वठनि। असीं यूं ऐन डी पी जा भी शुकरगुजर आहियूं जे हो कारो कारी जे खातमे लाई कम करे पई । हिन ऐसट्डिंग कमीटी खे कारो कारी ते गण॒ती आहे ऐं सिंध हकूमत खे शिफारिश थी करे तह इन मसले खे हल करे। सिंध जे जेलनि बाबति रियाज फातियाना खाते जे सेक्रेटरी अली हसन बरोही जरिऐ सिंध हकूमत खे शिफारिश कई तह जेल मेमूअल में हिअर ई तबधीली कई वञे। कैदिनि खे फोन जी सहूलियत डि॒ञी वञे। नंढे डो॒हनि वारनि खे जमानत कराई वञे। जेलनि में सब-पोस्ट आफिस कायमि कराई वञे। जेलनि में अखबारनि जा इसटेंड लगाया वञिनि। अखबारनि के मालिकनि खे लिखित में दर्खासतयूं डि॒नियूं वञिनि तह हो जेलनि में मूफ्त में अखबारु डे॒नि, जेलनि में रांदियूंनि जो बंदोबस्त कयो वञे, जेलनि में नंढयूं बेरेकनि में घणनि कैदियूंनि खे बंद करण वारो सिर्सलो बमद कयो वञे। हेपटाईटिस समेत सभिन बिमारियूंनि जी टेस्ट वरती वञे। जेलनि में वड॒यूं इसक्रिननि वारयूं टी वी लगा॒ऐ फिलमसूं डेखारयूं वञिनि। कैदिनि जा ऐकाउंट खोलया वञिनि जिअ संदनि मेहनत मजूरि जो मोआफजो ऐकाऊंट में जमा कराऐ सघजे। कैदिनि खे वकिलनि साण मिलण डि॒ञो वञे। कैदियूंनि जो नफसयाती माहिरनि खां पिणि ईलाज करायी वञे कैदिनि खे कट कार्ड डि॒ञो वञे जहिं में हिनिन जा तफसिल लिखयलि हूजिनि।

 

 

सिंध में हिंदुनि जो नह बंद थिंदड कहरु

  • खपरे (सिंध) में खंभी वयलि हिंदु वाणियनि जा आजादीअ लाई अर्तवार ताईं पूलिस खे महूलत, रथयलि धर्नो मूतलवी, बू॒ख लडताल
  • डा. वासुदेव ऐं वेपारी सेहूमल खे 6 दि॒हनि गुजरी वढण जे वावजूद पलिस आजाद किन कराऐ सघी
  • हिंदुनि जी आजादीअ लाई ऐस पी पारां जोडायलि टिम भी कामयाबी कोन हासिल करे सघी।
  • डी आई जी मिरपूर खास जी खातरी बैदि महूलत आर्तवार ताई वधाई वई। 4 लकाकनि जी आलमाणी बू॒ख हडताल
  • बार्लटर के सियासी ताकत जे जोर ते डो॒हारी खिलाफ कार्वाही रोके पलिस वडे॒रनि सां डील में पूरी आहे।
  • डा. वासुदेव ऐं वेपारी सेहूमल जेकरि आर्तवार ताईं आजाद नह थिया तह सोमरअ खां धर्नो – हिंदु पंचायत

किरण कहाणी

जय प्रकाश मोराणी, सिंधी अखबार अबरत में सिंनियर ऐडीटर आहिनि, ऐं काफी दि॒हनि खां पत्रकारिता जे पेशे जा गंड॒यलि रहया आहिनि। सिंधी हिंदुनि नयाणियूंनि जो जबरनि अगवा ऐं धर्म मठाऐ इसलाम कबूल कराअण जूं वारदातु दिल दहलाईंद़ड आहिनि। इहे वाक्या नया नाहिनि। सिंध में 65 सालनि खां पयाहलनि ऐं हिकु अहम सबब आहिनि जहि सबब बचयलि हिंदु सिंध मां लद॒नि पया।

पत्रकार जय प्रकाश मोराणी
पत्रकार जय प्रकाश मोराणी

किरण जी काहाणी रिंकल , आशा,  लता, हेमी या मनिशा खां का धार नाहे। मूहिंजी हमेशाहि इहा कोशिश रही आहे तह सिंध हिंदुनि ते थिंदड जूलमनि ऐं खासि करे सिंधी हिंदु नयाणियूंनि ते थिंदड जूलमनि बाबति सूजागता पैदा करे सघजे जिअं सजी॒ दुनिया जा॒णे तह हिंदु सिंधी कहिं हालत में सिंध रहया पया आहिनि।

हे लेख साईं जय प्रताश जी मोकल सां साई थो कजे

किरन कहाणी

लेखक- जय प्रकाश मोराणी, सिंध

उलथो कंदड – राकेश लखाणी, कच्छ

मिया वदे॒ (उर्फ मिया मिठू) जे देरे दा॒हिं वेंदड रस्तनि ते संदुसि ई हिकु बागीचो आहे जहिं जे चौधारीअ दि॒नल कंडेदार तारन में केतिरयूं ई हिरणयूं हिसायलि निगाहुनि सां हर इंदड वेंडद खे शायदि इन निगाहूनि सां दि॒सिनि थयूं तह शाल इनहि मां को संदुनि आजादीअ जो परवाणो खणी अचे पर हर को मिया वदे॒ जी दहशद खां दहलजी इनही हिरणीअ खे दूर खां ई दि॒सी पासो करे हलयो वञे थो ऐं इन्ही आजादीअ वारे खुवाबनि खे हवा में उदा॒मिंदे हर को दिसे थो पर इनही जे साभयां लाई सोच को भी नथो करे। छो तह इनही सोच ते भी सवनि पहरा आहिनि।

जिअं मियां वदे॒ जे बागिचे में किअं हिसायलि हिरणियूं वाडयलि आहिनि ईंअ ई संदुसि कोट में भी आहिनि। इनही मां का कद॒हि कद॒हि जेकद॒हिं पहिंजे वेडहेचिनि वटि वरण लाई सड॒ करे थी तह कलाक जे मफासले ते मोजूद रहिम याहा खां जे शेख रिंद ईस्तपताल ई संदुनि सनधनि (घावनि) ते सेक करण जो वसिलो बणिजे थी। हूअ भी इन हिरणि जियां हूई, दा॒ढी मासूम, दा॒ढी सबा॒झी। संदुसि गो॒ठ रहिम यार खां जे भरसां मंठार नाले बु॒धायो पई पयो। किरण कुमारी नाले जी हिक मेघवार बिरादरीअ जी इन नेनगरीअ बाबति इहो ब॒धायो वयो तह गाहि कंदे खेसि कजहि नोजवाननि छेडहयो हो ऐं मज़ाहमत (विरोध) ते खेसि संदुसि माउ जे सामहूं अग॒वा कयो वयो। जमिंदार सजी॒ रात वापस कराअण जा आसिरा दिं॒दो रहयो ऐं खेसि इन दौरान बर्चंडे शरिफ पुजा॒यो वयो। जद॒हिं सहाफिन (पत्रकार) मथसि सवालनि जी बरसात वसाई तह हूअ जवाब दे॒अण खां अगु॒ ऐं पोई मिया वदे॒ दा॒हिं दि॒सी रही हूई। ज॒णु को सेखडात अदाकार रटयलि डाईलाग गा॒ल्हिअण बैदि हिदायतकार डा॒हिं डिंसिंदो आहे। हून खां जद॒हि संदुसि उमरि बाबति बुछयो वयो तह् हून चयो मूहिंजी उमरि 18 साल आहे। पुछयो वयो तह् जन्म जी तारिख केडही आहे तह जवाबु मिलयो खबर नाहे, साल कोडहो तह भी साग॒यो जवाबु तह उन जी भी खबर नाहे पर ऐतरी तह खबर आहे तह उमरि 18 साल आहे। पुछयो वयो तह हित किअं पहूती तह जबाबु मिलयो तह दीन (ईस्लाम) साणु मूहबत हूई। पछयो वयो तह् किअं थी तह जवाबु मिलयो तह बस थी वई। पुछयो वयो तह हित किअ पहूती तह जवाबु मिल्यो तह चंड रात, केरु वठी आयो तह जवाबु मिल्यो तह् भर वारे गो॒ठि जे हिक नोजवानु, इहो केरु हो … आऊं हून साणु प्यार कंदी आहियां, मूलाकात किअं थी… हू मूहिंजे गो॒ठि में इंदो हो, मोबा॒ईल ते राबतो थियो….नह मूं वटि तह मोबाई हूई ई कोन्हि, चिट्ठी लिखिंदो हो ऐं जाम लिखिंदो हो। इहो नोजवानु कंदो छा आहे. संदुसि जमिन आहे . हाणे छा कंदींअं, – उते ईं रहिंदसि। हूं भी इते ग॒दु आहे इन विचअ में मिया नंढो (मियां मिठू जो पुठ) उऩ नोजवान खे वठि आयो जहिं जे बारे में चया पयो वञे तह हे शब्बिर आहे जेको किरण खे खणी हिते आयो आहे।

किरण कुमारी (अगवा थियलि सिंधी मेघवार नियाणी)
किरण कुमारी (अगवा थियलि सिंधी मेघवार नियाणी)

वाईडे वांङुरु सहाफिन (पत्रकारनि) दा॒हिं दि॒सिदड इहो नोजवानु जहिं केतिरनि ई दि॒हनि खां संवरात भी नह थियलि हूते कहि भी रुख खां खूश नह् थी पई लगो॒। खाईंसि पछयो वयो तह तूं किरण सां प्यार करे थो तह हूं ठही पही वराणयो , मूहिजो तह हिन साणु प्यार ई नाहे । जद॒हि खाईंसि संदुसि गो॒ठि बाबत पुछयो वयो तह हून जवाब दे॒अण जे बिदरां किरण दा॒हि दि॒सण लगो॒ जहि चयो तह हे असां जे भर वारे चक में रहिंदो आहे । सहाफिन शब्बिर  खां पुछयो तह छा कंदो आहे तह हून जवाबु दि॒ञो तह हो राहकी (हारपो) कंदो आहियां जद॒हि तह किरण बुधायो कह हू जमिंदार आहे। मतलब तह हो हिकु भी जवाबु सही रित कोन द॒ई सघयो तह मिया नंढे टहक दिं॒दे चयो तह किरण ई हुन खा भाजाऐ आई आहे। पोई हितोउ हूतुउ गण गो॒त करण बैदि खबर पई तह खेसि कन खां झले इनही फर्ज जी अदाईदी लाई मूकर्र कयो वयो हो।

उन ई दौरान असां खे बुधायो वयो तह 15 सालनि आगु दीन जे दाईरे में आयलि हिक नारी अव्हां सां मिलण लाई आई आहे। सबहान खातुन नाले असां खे पहिजो लागापो उबा॒वडीअ सां बुधायो। बाकी कहाणी थोडी फेरघार सा सागी ई हूई। हून बु॒धायो तह खेसि माईठन जी याद ईंदी आहे पर साणसि को रातबो नाहे ऐं नाह ही को साणसि मिलण आया आहिनि। इन ते वदे॒ मिया चयो तह फोन ते राबतो थिंदो आहे तह सबहान खातुन पिणि पहिजो वकफ तुरत मठायो ऐं चयईं तह हा फोन ते रातबो थिंदो आहे। इअं ई सवाल जवाबनि जो सिलसिलो हलिंदे माञे (भोजन) लग॒ण जी खबरि बु॒धाई वई। आऊ ऐं काशिफ बलूच सभ खां पहिरो इन कमरे में दाखिल थियासिं तह किरण अकेले ई मोजोद हूई। मूं हून खां मारवाडी जबान में पुछयो तह छा तुं पहिंजे फैसले सां खूश आहें, तोखे माउ-पिउ जी यादि नथी अचे तुं इन नोजवान सा जिंदगी गुजारे सघींदीअ जेको हिंअर ई तोसां को वास्तो नह हूजण जी गा॒ल्हि करे थो तह संदुसि अख्यूंनि जे पंबडीयूंनि में अटकयलि लूडक मूंखे समूरा जवाब द॒ई छद॒या ऐं इन पिच में नंढे मिया खेसि बा॒हर वञण लाई चयो तह हूअ चोर निघाहूनि सां असां खे डि॒सिंदे इअं हली वई जिअं इंन्ही कंडेदार तारनि वारे बागिचे में बंद इन हिरणी दि॒ठो हूंदो। तहिं डो॒हाडे (दि॒हिं) असां पत्रकारनि जो ढंभ (जथो) जन में लाहोर, मूलतान, बहालपूर, इसलामाबाद, कराची ऐं हैदरआबाद मां लोक सुजाग जे सद॒ ते कोठाअल वण वण जी काठी समायलि हूई। जद॒हि रहडका जा चाहिं ऐं भडंचंडे जी थदी बो॒तल पी दो॒हरकी जे बाहिरां वाक्यई इन देरे डा॒हि पी वयो तह आसमान जे ककरन (बादल) कारोंभार हूई, मोसम ऐतिरो गर्म भी किन हो, कहिं कहि वक्त हिर भी पई घुले। जदड॒हि असीं इन देरे ताई पहितासिं तह आतरी का रौनक भी किन हूई। असां खे कमरे में वेहारो वयो जेको बा॒हर जी भेटि में थदो हो। इन देरे में पहूचण खां अगु॒ ई सभनी पत्रकारनि सुस पुस में हिक बे॒ खे पई समझायो तह किअ पुछबो, केडहे नमूने पूछबो, घणो तेज नह थिबो वगिराह वगिराह । खासि करे असां में शामिल जाईफां पत्रकार खे वदो॒ ढप हो। जड॒हिं मिया वडो॒ कमरे में दाखिल थियो तह संदुसि अंदाज फातिहाणो हो। हो पत्रकारनि खे तूं करे पई मूखातिफ थी रहयो हो । गा॒ल्हियूंनि दौरान हून खूले सिंधी अख्बारनि ते छोह छंडया। संदुसि चवण हो तह सिंधी अख्बारनि ते हिंदुनि जो कंटरोल आहे ऐं इन्हिन खे हिंदुस्तान डालर पयो दे॒, साग॒यो हशर जिऐं सिंध ऐं ब॒यनि कोमिप्रस्तनि जो भी कयो। संदुसि चवण तह सभ इसलाम खिलाफ साजिश में रूधल आहिनि। सजी॒ मिडीया में रगो॒ उमत (उर्दू अखबार) आहे जेका सचु पई लिखे। हो इहो चई रहयो हो तह असीं हर नारी खे तहफूज (पनाहि) डिं॒सी जेके दीन जे दाइरे में इंदयूं बाकी जद॒हिं खाईंसि इहो पुछयो वयो जेके मूसमानि प्रेमी जोडा शादी कंदा आहिनि इंहिनि जे पूठयां भी वदी॒ खूनरेजी थिंदी आहे इन्हिनि जो तहफूज अव्हां कंदा तह हून ठही पही  वराणयो तह इन्हिनि जी हिफाजत असी छो कयूं , उहे जा॒णिनि उनहिनि जो कमु। उन्हिनि पोयां वडा॒ कबीला आहिनि । इहे पाण ई संदुनि मदद कंदा। हून चयो तह खेसि का भी ताकत इन्ही फर्ज खां रोके नथी सघे। सियासत, सियासी ऐहदा, दो॒कड (पैसा) तमाम नंढी शई आहे । हूं पहिंजी पार्टी वारनि ते पिणि कावडयलि हो तह जेके संदुसि चवाणी बिदरां ब॒यनि जे चवे में था हलिनि। इहा कावड हो पत्रकारनि ते भी वदे॒ वाके कढे थो। जद॒हि कराची जे हिक पत्रकार साणसि फोटो कदा॒अण खां इंकार कयो यह हूंन चयो तह – मूं सां फोटो कदा॒अण में ब॒रो थो चडई छा..उतोउ वापसी ते सभ पहिरों सर बचण ते सरहा हवा पर इन दोस्त ते हर कहिं खे रहम पई आयो जोको असां खे इंसानी हकनि जो नूमाईदो चई मिलयो हो पर इन दर जो वडो॒ नुमाईंदो पई लगो॒ । इअं ई अकलितनि (थोडाई वारे कोम) सां थिंदड जादतियूं बाबति इनही वर्कशोप जी इहा फइलड वर्क इनही पुजाणी ते पहती तह इन हवाले सां जेके सवाल ज़हनि में गर्दिश करण शुरु थिया उहे अजु॒ भी ओतिरा ई जवाब तलब आहिनि जेतिरा अगु॒ हवा।

किरण जी कहाणी जेका आगु॒ कहि नह बुधी हूई उहा तह माणहूनि अग॒या पहूचि वईं हूंदी पर किरण जे पंबडयूंनि में अटकयवि लूडक, संदुसि सपना ऐं संदुसि माईटनि जा खुवाब जेके हवा में उदा॒मी वया इनहिनि जी केरु पर्गोर लहिंदो संदुसि माईटनि जी तह नयाणी भी वई, पाण भी वयलि में आहिनि जो ऐतजाज करण ते जमिंदार संदुसि खिलाफ केस दाखिल कराऐ बि॒ठे ड॒चे में विझी छद॒यो आहे।

मूल लेख
मूल लेख

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

इत्हास ऐं उन ते दारूम्दार रखिंदड कोमिप्रसती सिंधूनि (हिंदु बरादरीअ) ते कद॒हि को घरडो असर कोन छद॒यो, ना ही सिंधीयूंनि को इत्हास खे याद करण या उन मां सिख वठण जी का जरुरत ई महसूस कई आहे। पहिंजी विञायलि विरासत खां परे थियलि सिंधी बिरादरी पिछाडीअ जे 1300 सालनि में रूगो॒ पहिंजे पाण खे जिंदो रखण ही हिक वदी॒ किरामत पई समझी आहे। इहो ई सबब आहे जे माहाराजा दा॒हिसेन बैदि असीं ऐडही का भी सियासी शख्शियत तोडे सोच कोन पैदा करे सघयासीं जेका सिंधी हिंदु बिरादरीअ खे कही हद ताई पहिंजी विञायलि विरासत खे बि॒हर हासिल करण लाई जाखडे लाई तयार करा सघे।

अंग्रेजन जे सिंध फतहि खां अग॒ हिंदु सिंधीयूंनि जी हालत बाबत सिंधी  लेखक लाल सिंह हजारीसिंह अज॒वाणीअ लिखे थो तह जेतोणेक अंग्रेजन जी हकूमत पिणि हिक परदे॒हि अण सिंधी हकूमत हई पर उहा हकुमत हिंदु सिंधीयूंनि लाई बे-ढप जिंदगी गा॒रण जी राह खोली । जेतोणेक अंग्रेजअ पिणि परदे॒ही हवा पर हिंदुनि खे हजारल सालनि बैदि मूसलमानि हूकूमरानन जे  जुलमनि खां निजाद मिलि। (हवालो द हिस्टरी आफ सिंधी लिटरचर, साहित्य अकादमी नई दिल्ली)। इहे हकिकतूं इन गा॒ल्हि जी शाहिद आहिनि तह महाराजा दा॒हिर सेन बैदि ऐं अग्रेजनि जे सिंध अचण ताई सिंध जी हिंदु बरकादरी हमेशाहि पहिंजो वजूद खे सोघो करण में ई पूरी रही।

बदकिसमतीअ सां पहिजे विरासत खां भिटकयलि सिंधी कोम अंग्रेजनि जे दि॒हिनि में समाजिक तोडे सियासी रित उभरी तह अचण में कामयाब थी- पर ऐडही हालतुनि जे मार्फत पहिजे वजूद खे सोघो करण बजाई खवाह ऐडही का भी सियासी सुजाग॒ता कोन पुख्ति रित अवाम अगयां अणे किन सघी जहिं सबब पहिंजो वजूद ऐं इंदड टेहीअ लाई सिंधी थी हूअण जी राहि कहि कदुर सहूली थी सघे।

विरहांङे महल सिंध में हिंदु  सिंधी बिरादरी, सिंध जे मूल आबादीअ जी 35 सेकिडो हई, इहा भी पहिंजे पाण में हरु भरु का नंढी आबादी नाहे। साणु साणु इअं भी मूमकिनि नाहे तह अंग्रेजनि हिंदुनि खां संदुनि मस्तकबिल (भविष्य) बाबति रायो किद॒हिं जा॒णण की कोशिश ही नह कई हूजे। इहो किअं मूमकिन आहे तह जेका विरादरी सिंध में ऐतरी कदर उभरू आई आहे, नोकरशाही, तालिम तोडे धंधे में जहिंजो ऐतिरो रुतबो हो तन खे नजरअंदाज करे अंग्रेज रूगो॒ सिंध ऐसेलंबली में घणाई में रहिंदड सिंधी मूसमानि खे ई रूगो॒ ऐहमियत दि॒ञी हूजे।

इत्हास गवाह आहे तह इहा बिलकुल पक हूई तह हिंदुस्तानि जे मूसलमानि पारां लद॒पण थिंदी। लद॒पण जा गा॒ल्हि नह रूगो॒ मौलाना अबू कलाम आजाद सरेआम कंदो हो पर केरु थे विसारे सघे पीर महमद राशदी ऐं जी ऐम सईद खे जनि खे हिदुनि जो उबरी अचण अची ऐतिरो सतायो हो जे बिहारी ज॒टनि आगा॒या पहिंजा मूल्क हूंदे, पहिंजो हथनि में हूकूमत हूंदे पहिजा गो॒दा॒ टेकया ज॒णु हिंदुनि संदुसि उथण वेहण हराम कयो हूंजे। हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो सभ काफि किन हो इहो समझण लाई तह हिंदुनि जी सिंध में हालत सागी॒ कोन रहिंदी !!!

सवालु इहो भी थो अचे तह केडही सोच तहत ईहो ममझयो वयो हो जे सिंध दा॒हिं हिंदुस्तान मां मूसलमान जी लद॒प नह थिंदी। जेकरि लद॒पण नह भी थिऐ तह छा सिंध जा मूसललिम लिगी अगवान जनि पहिंजो सियासत रूगो॒ हिंदुनि जी मलकतयूं फबा॒अण जे हिर्स नसबत कई से हूकूमत में अचण बैदि माठि करे वेहिंदा। छा साणसि विसरी वयो हो तह किअं सिंध जो बंबई प्रेसिडेंसी मां धार थिअण या वरि मसजिद संजीलगाह वारा मसला रातो रात सिंध जा मसलना खा वदा॒ हिंदु मूसलिम जा मसला करे पेश करण में कामयाब थीया हवा। तह किअं हर मसले ते सिंध जा मूसलिम लिगी॒ अल्हा बख्श सा वेरु पातो हो ऐं नेठि तंदुसि खे शहिद करे ई माठ थिया। अल्हां बख्श सूमरो तोडे भगत कुंवर जूंदतु उन वक्त जूं वद॒यूं ऐतहासित वारदातूं हयूं जहि खे असी सही रित समझण में कोन सघयासिं। इन जे तह ताई कोन पुजी॒ सघयोसिं।

अल्हां बख्श जी हूकूमत जेका हिंदु मेंबरन की मदद सा ढही। जी ऐम सईद, पिर मूहूमद राशदी, आब्दुल माजीद सिंधी, अयूब खूरो तह अग॒वाटि ई अल्हां बख्श के कद हवा पर छा इहो नाहे तह सिंध जे तहि महल हिंदु मेमबरनि अल्हा बख्श जी हूकूमत ढाहे इनहिन सिंध दुशमनि जा हथ सोघा कया ? छा असी सिंध पिछाडीअ जे 80 सालनि में कद॒हि इनहि सियीसी गलतियूंनि खां सिख वठण जी कोशिस कई आहे ? इहो सबब हो तह जद॒हि हिक पासे सिंधी मूसमानि हिदुस्तानि मां लदे॒ इंदड मूसलमानि खे वसाअण में पूरा हवा बे॒ पासे हिंदु सिंधी पहिजे ई मूल्क में परदे॒हि थी पया !!! सिंधअ मां लदे॒ आयलि हिंदुनि लाई जाखडो कंदड श्री हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे –साईं जेकरि जेरामदास दौलरराम जा वारिसअ लद॒नि हा तह भी समझी सघबो हो पर हो पर हो तह पाण ई लद॒पण कई। जद॒हि पाण ई लद॒णो सोसि तो हून केडही सोच तहत ईहो रायो दि॒ञो हो तह सिंधी हिंदी विरहांङे बैदि सिंध में ई रहा सघींदा !!!!!

गा॒ल्हि रूगो सिंधी सियासतदानि जी ई नाहे। पिछाडीअ जे 65 सालनि में जेकरि कहि जो सिंध सां सांधई वाटि रही आहे सो आहिनि सिंधी साहित्य जी लेखक बिरादरी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंद जे सिंधीयूंनि लेखकनि खे सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति खबर नह हूदी पर इन जे बावजूद संदुनि के लिखणी तोडे वातोऊ कद॒हि भी हिदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति शायदि ही को लफजु उकिरो।

मां जद॒हिं ईंडयनि इंस्टियूट आफ़ सिंधोलाजीअ जे डाईरेक्टर श्री लखमी खलाणीअ सां सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि जो जिक्रु कयो तह संदुनि पिणि चवण हो तह असी सिंध मां निकरी आयासी इहा भी का नंढि गा॒ल्हि नाहे। जेकरि असी पिणि तहि महल सिंधी मूसलमानी के कुडी दिलजाई ते वेसाउ कयूं हा तह सायदि रतु जा गो॒डहा असां खे भी वहायणा पवनि हा। इहो नह नह हूनि अग॒ते चया आऊं सिंध जे शिकारपूर शहर में ऐडहनि सिंधी वाणियनि सा भी ग॒द॒यो होसि जेके लद॒ण लाई मांदा पई नजर आया। संदुनि चवण हो तह जेकरि पहिजी मलकतयूं को अधके अध में भी को जेकरि जो वणजण ताई त्यार होजे तह भी विकणे लदे॒ हिंदुस्तानि सुख जो साहू वठऊं। बदकिसमतीअ तह इहा इ रही आहे जे ऐडहयूंनि हकिकतुनि जो कद॒हि भी जिक्रु करण वाजिबु किन समझयो आहे ।

जिन विरहांङे बैदि सिंध में रही सठो सो भी खुली तोर लिखण खां पासिरा ई थिंदा रहया आहिनि। सिंधी कवि हरी दरयाणी दिलगीर जो कि 1965 में सिंध मा लदे॒ गांधीधाम वसो। पहिंजी आत्म कहाणी में संदुनि रूगो॒ इशारा दि॒ञा हवा तह किअ सिंधी में विर्हांङे बैदि माहोल जो फाईदो सिंधी मूसलमान पई वठण शुरु कयो। हून पाण भी लिखो आहे तह विरहांङे बैदि उमालक हिंदुनि पाण खे हिक म़टयलि सामाजिक माहोल में पातो जहिंजो फाईदो हर तब्के जे सिंधी मूसलमानि कहि नह कहि सतहि ते पई परतो।

हिंदुस्तानि जे सिंधी लेखकनि इंअ तह लद॒पण या 1947 ताई हिंदु मूसलिम माहोल बाबत तह जाम पई लखो पर जेसिताई 1954 बैदि थियलि लद॒पण ऐं सिंध में सिंधी समाज जी गा॒ल्हि कजे तह हूनिनि माठ रहि रूगो॒ सेकूलरिजम जी कूडी माला ई जपण में पहिंजी भलाई समझी आहे। इहो ई नह पर अजु॒ भी जद॒हि सिंध जे हिंदुनि पारां या वरि किन सिंधी कोमिप्रसतनि पारां पूरे सिंध में लद॒पण जे विरोध में ऐतजाज पया थेनि, दे॒ह – परदे॒हि जी अखबारुनि में सांधई अहवाल पया शाई थेनि शायदि ई कहिं सिंधी लेखकनि तोडे लेखिकाऊ सिंध में बचयलि हिंदुनि के सुरनि बाबत कजह लिखण जी जरुरत महसूस कई आहे!!!

सिंध में खासि करे मूसलमानि में लद॒पण जे नसबत सभिनि खे पहिंजा पहिंजा राया आहिनि। को चवे तह साईं हिंदु द॒कणा थिंदा आहिनि सो था बदमाशनि जे जूलमनि खां था पया लद॒नि, के वरि चवनि तह साई हिंदुनि खे अण सिंधीयूंनि में सङु करणो हूंदो आहे सो पया सिंध मां लद॒नि ऐं किनि खे तह हिंदुनि जा सुरअ ब॒धी उमालक पहिजा सुर यादि था यादि अचनि मसलनि हिंदु जेकरि लदिं॒दा तह सिंधी पहिंजे ई सुबे में थोडाई वारा साबित थिंदा, मार्कट में सिंधीयूंनि जो जोर घटिबो (वाणियनि जे लद॒ण सा), के वरि चवनि तह सिंधी हिंदु किअं धर्ती माउ सिंध खां परे थी था सघनि वगीराह वगिराह। वरि वदे॒रनि तोडे भोतारनि जा धार सुर ऐडहा निधीकणा मजूर किथु मिलिनि जनि ते जिअं वणेनि तिऐं जूल्म कनि।

सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधी भिल सुख राम (नालो मठयलि) जहि सा आऊ जोधपूर में गद॒यूसि मूखे चयो तह किअं हूं छो ऐं किंह सबब हून सिंध मां लद॒ण जो फैसले कयो। हून चवण शुरु करण तह अदा, अदा सिंध में हिंदु थी रहण हिकु वदो॒ जूल्म आहे। धार्मिक आजादी नाले जी का भी शई नीहे। गीता जो पाठ छा पढउं तऊं अची मथे थे अची विहिनि- चवनि छदो॒ हे रनअ जो पाठ। नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण जो खौफ सबब, असी तह नियाणयूंनि खे पढअण खां आगे॒ ई तोभां कई आहे। वरि पुटनि खे जेकरि कहि नमूने स्कुलनि में जेकरि दाखिलो मिली भी थो वञे तह खेनि पढाअण पर परे असांजे ओलादुनि खां स्कूल जा काकुस पया साफ कराईंदा आहिनि। गो॒ठ जे वदे॒रे जे खेतनि में कुम भी कयूं तह बि॒णो कम तह वठे पर मजूरी दे॒अण महलि उभतो हिसाऐ, मारा दे॒नि या कतल भी कनि।

हून अगते चयो साईं जेसिताईं हिंदु जिंदाहि रहिनि तेसिताईं सिंध में  मूसलमानि वेरु तह पाईनि पर मोऐ बैदि भी जिंदु किन था छदी॒नि।  मोऐ खां पोई  शमशान ते अग्नी भी नसिब नथी थिऐ। लाश खे सारण तह परे असां खे तह पहिजे मोअलनि खे तह दफनाअण भी किन दे॒नि। मूअल लाश खे गंगा जल सा स्नान भी कोन कराऐ सघऊं। मां पहिजे पिणसि जी लाश खे दर दर खणि भिठकयो आहियां। को दफनाअण जी भी मोकल नह दे॒। नेठि पहिजे पिणस जो बा॒रहो भी कोन कयूंमि, लद॒ण जी तह अग॒वाटि पक हूई सो विना बा॒रहें कऐ हलयो आयूसि।

मूसलमान गो॒ठ में वरि दफनाअल लाश ते टेकचर हलाईनि। ब॒यो तह ठयो पर हिक 9 सालनि के नेंगरीअ की लाश मिठीअ मां कदी॒ बा॒हर फिटो कई। इहे वाक्या सिंध जे गो॒ठ गोठ में पया थेनि। असीं जेकर नह लद॒उ तह नेठि छा कयूं ???. गा॒ल्हि रगो॒ असी भीलनि जी नाहे ऐडहा जुल्म घठ मथे हर हिंदुअ सा पया थेनि।

 

सुख राम (नाले मटयलि) जेकरि सेकिडो सचु किन थो गा॒ल्हिऐ तह अगो॒पोई कूड भी कोन पई गा॒ल्हियो। रिंकल कुमारीअ जो अग॒वा थिअण तह सिंधु साणु पूरी दुनिया पई दि॒ठो तह किअं पहिजी नयाणी जे रिहाई जी लडाई लणिंदड रिकल कुमारीअ जा माईट हिकु हिंदु करे सिंध वादाईंनि पया। सिंध मां शाई थिंदड अवामी आवाज सां गा॒ल्हाईंदे रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि चयो तह खेनि घर में कम कंदड मेंघवार जाईफुनि खां चवायो वयो तह माठि करे घर में मानी खाओ या सरे आम सोटी खाओ . रिकल जा घर हेकला नाहिनि। अञा महिने अग॒ हिंदुनि जे हिमायति में अवाज उथारिंदड वजील मल मारवाडीअ खे अग॒वा करे कतल कयो वयो। अग॒वा, लूटमार, नयाणियूंनि जो जबरनि ईसलाम कबूल कराअण, भतो वसूलण ऐ जेकरि जो विरोध करे तह कतल करे रखण आम गा॒ल्हि थी पई आहे। बलूचिस्तान जे मसतूंग शहर मां लदे॒ आयलि हिकडे हिंदु हिंदुस्तदान जे हिक अख्बार साणु गा॒ल्हईदे चयो तह सिंध तोडे बलूचिस्तान में हिंदु रहिनि जरूर था पर रहण जेडहयूं हालतु नाहिनि ।

सिंध में कहि भी हिंदु लाई हिंदु थी रहण को सहूलो कम नाहे। जेकरि अव्हां कहि भी हिंदुअ खां संदुनि दीन धर्म बाबत पुछिंदा तह अव्हां खे जवाबु मिलिंदो –आउं अण-मूलसमानि आहियां, हू पहिंजी हिंदु  हूअण जी सुञाणप तद॒हि दिं॒दो जद॒हि अव्हा खेसि पंच – छह भेडा किन  पूछीदा या हू कहि सबब मजबूर किन थिंदो। हिंदुनि खे हिसाअण सिंध में आम गा॒ल्हि आहे। सिंध में हिंदु चवनि तह असी हिंअर सोन जा आना दिं॒दड मूर्गी करे लेखया वेंदा आहियूं। सिंध जा हिंदु नूमाईंदा जेडहा आहिनि तेडहा नाहिनि। अजु॒ भी जद॒हिं सिंध में 1947 जेडहयूं हालतु आहिनि तद॒हि हूनिनि मां शायदि ई कहिं पाकिस्तान पिपिलस पार्टी छद॒ण लाई त्यार आहे इहो जा॒णिंदे भी की हिंदुनि ते थिंदड जूलसमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जो रहयो आहे – उहो भले ई रिंकल, आशा या लता जो हूजे या वरि चक, पूञेआकिल में हिंदु जो कतल हूजे। अजु॒ जद॒हिं सिंध में चूंडयूं मथे ते आहिनि तह खेनि पहिंजा हिंदु भाऊर पया याद अचिनि। हे इहे ई अग॒वान आहिनि जेके पहिंजे औलाद खे तह हिंदुस्तानि लदा॒ऐ छदनि बाकि आम हिंदुनि खे वेठा सिंध धर्ती नह वांदाअण जो पाठ पढाईनि।

सिंध में हिक जबरदस्त कोशिश रही आहे कहि नह कहि नमूने इहा लद॒पण खे रोकिजे, हिंदुनि खे लद॒ण नह दि॒जे ऐं हिंअर तह पाकिस्तान हकूमत पारां भी विजा हूंदे भी हिंदु खे हिदुस्तानि लद॒ण खां रोकयो पयो वञे, संदुनि हिंदुस्तान वञण जूं टिकेटां रद पयूं कयूं वञिनि। सिंध मां भले कहि भी तब्के जो हिंदु छोन नह हूजे हू लद॒पण हमेशाहि ई लिकी गुझायप में थो करे। सिंधु जी गादी कराची मां लदे॒ आयलि ऐं अहमदाबाद में वसेयलि हिक डाक़टरअ साणसि जद॒हि आऊ गद॒यूंसि तह हून साई पिणि सागी॒ गा॒ल्हि दहूराई तह साई असी तह पहिंजे मिटनि माईटनि ताई खे कोन द॒सयूं पहिजे लद॒ण जा गा॒ल्हि। संदुसि जोणसि पिणि पई चयो तह अदा, मां तह पहिजे पेके घर खे भी कोन बु॒धायो असी लदे॒ था वञउ जिऐं ओसे पासे कहिखे भी इन गा॒ल्हि जो छिड्रु ताईं नह पवे!!!!

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह लदीं॒दड हिंदुनि खे हिंदुस्तानि खे इंदे ई सुख था मिलिनि। हित नागरिकता जा वदा॒ मसला आहिनि। हिंदुस्तान में खेनि 12 साल ताई थो रहणो पवे ऐं इन बैद् भी नागरिकता कोन थी मिले। मसलो उनहिनि लाई वदो॒ आहे जनि खे नोकरी थी पई करणी पये, आम तोर सां पाकिस्तानी हूअण सबब को नोकरयूं नथो दे॒, नाई ई वरी सहूलियति सां मसवाड जी जाई थी मिले, हिक शहर खां बे॒ शहर में वञण खां अगवाटि हूकूमत खां मोकल थी पई गुरणी पऐ, जेकर कहिजो मिट माईटू बीमार भी हूजे थो तह जेसिताई धारे शहर में वञण जी मेकलि मिले तेसिताई तह बीमार माण्हू हिन फानी दुनिया मां मोकलाऐ थो वञे। मिटी माईटी में भी तकलिफयूं पयूं थेने सो धार, पहिंजे चाहि मोजीबु शहरनि में वसी कोन था सघनि, बारनि जी स्कुलनि में दाखिले में पई दिकत थिऐ या वरि गरिब तब्के मसलनि भील, मेघवार लाई हाथियूं वदी चटी इहा तह खेनि दलित हूअण जे वावजूद नागरीकता नह हूअण सबब का भी सरकारी मदद नथी मिले।

अजु॒ सिंध में 1947 वारयूं हालतु आहिनि या खणी चईजे तह 47 खां भी बदतर आहिनि तह वधाउ कोन थिंदो। विरहांङे वकत तह रूगो॒ शहरनि में पई गोड थियो पर हिंअर तह लग॒ भग॒ हर कुड कुर्च मां  सिंध में हिंदु लद॒ण लाईं मादां आहिनि। इहे केडहा सबब आहिनि जे सिंध मां लदे॒ आयलि हिंदुनि मोटी मञण जे नाले ते खौफ में था सिकूडजी वञिनि, पहिंजा पास्पोर्ट ताई पया साडिनि। सिंध मोटण जे बीदरा हू जेलनि में रहण ताई लाई कबूलिनि।।। गुजरात जे शहर अहमेदाबाद में लदे॒ आयलि मां डाकटर, सुठी बैक में सुठी पघार वारा नोजवान पिणि मिलया जेके तमाम घणनि तकलिफून खासि करे नागिरकता जे मसले नसबत तह सहण लाई त्यार आहिनि, मूशकिल माली हालत में रहण तह कबूलिन था पर सिंध मोटण लाई असुलि तयार नाहिनि। हिंकडे लदे॒ आयलि हिंदु सिंधी जो चवण हो तह जेकरि सिंध – राजिस्थान जी सर्हद रूगो॒ कलाकनि लाई भी खोली वई तह भी घट में घट हजारनि जी तादादि में लदिं॒दा !!!!

वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे लद॒पण में या इन बैदि हिंदुस्तान में जाम तकलिफयूंन जे बावजूद लद॒ण जो चाहि वक्त सां घटण खां बिदरां हमेशाहि वधी आहे। 1971 जी हिंद-पाक लडाई महल 90,000 हिंदु सिंधी लदे॒ आया । तहि महल नह तह जिया हो ऐं नह ई मिया मिठू तह पोई छो इअं थियो ? इहो ई नह पर लद॒ण बैदि हिंदुस्तान हकूमत जे लख कोशिशन जे बावजदू छो हो मोटी सिंध कोन वया ? चवदां आहिनि तह खेनि हिंदुस्तानि मां मोटाअण लाई जेलन में बंद करण ऐं ऐतजाज करण ते गो॒लयूं ताई हलाअण जी धमकयूं दि॒नयूं वयूं पर इन जे बादजूद हो कोन मोटया। हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे जेकरि हिंदुस्तान पाकिस्तान जी सर्हदयूं टिन दि॒हनि लाई भी खोलयूं वयूं तह शायदि हिकु भी हिदु सिंध में कोन बचिंदो। इहो सब इन जे बावजूद जे कराचीअ तोडे बलूचिस्तान मां खोखरापार पूज॒ण में हिकु दिं॒हूं जो पंधु आहे। इअं छो पयो थिऐ, छा लाई पयो थिऐ इअं छो पयो थिअण दि॒ञो वञे … इनही सभ सवालनि नह तह हिंद जा सिंधी अग॒वान ऐं नह ई सिंध जा हिंदु अग॒वान कद॒हि भी संजिदगीअ सां विचार करण जी जरूरत महसूंस कई आहे।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तानि के सिंधी अगवानन जी हिंदुस्तानि जे हूकूमत हलाईंदडनि ताई पुज॒ण जी सघ नाहे पर असीं हिंदु सिंधीयूंनि पहिंजी सिंयासत ई ईन रित तयार कई आहे जे पहिजे बिरादरी लाई कहिंखे मिंथा करण दो॒हू समझिंदा आहियों। हर कहि व़ट पहिंजो पहिजो मिहूं आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर ऐडहो वरजाउ सिंध में हिंदु नुमाईदन जो कहयो आहे वरी जेकरि को मिसकिन माण्हू हूजे तह उन जी वाई बु॒धे केरु।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी ई हेकली बरादरी आहे जहिंजा अवाम परदे॒हि में था वसनि। हिंदुस्तानि में तमिलनि जो हिकु हिस्सो श्रीलंका में रहे थो , हिंदी गा॒ल्हिईंदड जो हिकु तब्को फिजी या मोरिशियस  में थो वसे वरि अजु॒ भी हिंदु बंगालिन को हिकु हिंस्सो अजु॒ भी बंगलादेश में रहे थो पर इन जे बावजूद उनहिनि कोमनि लाई संदुनि परदे॒हि में रहिंदड बीरादरी उपरा (धार्या) नाहिनि। हिंदुस्तान जी संसद में सिंध तोडे पाकिस्तान जो मसलो राज्य सभा तोडे लोक सभा में आयलि आहिनि पर बदकिसमती ऐडही आहे जे नह तह बहस में आदवाणी नाह ही जेटमलाणी कजहि गा॒ल्हिअण जी जरूरत महसूस कई जद॒हि तह हर सिंधी जलसे में खेनि घुराऐ सिंधी पहिजी शान समझींदा आहिनि। इहो ई नह खेनि सिंध में थिंदड जूलमनि बाबत जा॒ण हूअण जे बावजूद कहि खा भी हिकु खतु परदे॒हि तोडे प्रधान मंत्री दा॒हि लिखण कोन पुगो॒।

पाकिस्तान जो 95 लेकिडो हिंदु सिंध तोडे बलूचिस्तान में थो रहे या खणि चईजे तह सिंध अवाम आहे पर इने ऐकड बे॒कड जलसनि खां सवाई हिंदु सिंधी माठ ई रहया आहिनि ज॒णु कदहि कुझ थियो ई नह हूजे। असीं उहे ई सिंधी आहियूं जिन राम मंदिर जे जाखडे महल वदा॒ हिंदु थी विठा हवासि इहो विसारिंदे की बाबरी मसजीद जे ढाचे जे ढहण बैदि लिङ कादा॒ईंदड जूलम हिंदुनि सां सिंध तोडे बलूचिस्तान में थिया। असी तहि महलि भी पाकिस्तानी सिंधीयूंनि ते थिंदड जूलमनि जो समाउ कोन वरतो नह ई उन जो समाउ वठण जी जरुरत ई महसूस कई नह ई अजु॒ पाकिस्तानि में फातलि सिंधी हिंदुनि लाई का वदी॒ आवाज उथारण लाई त्यार आहियूं।

चवंदा आहिनि तह जेकरि कहि कोम खे नासु करणो हूजे तह उन कोम जे इतहास खे ई खतम कजे। सिंध फतहि बैदि अर्बनि सभिनि खां अग॒वाटि सिंध इहो ई कम कयो जहिंखे असीं हिंदु सिंधी पया दहूरायो। हिंदुस्तानि इंदे शर्त ई सिंधी हिंदु अगवान इनही वाट ते ही हलया। खेनि खबर हूई जेकरि हिंदु सिंधी, हिंदुस्तान में पहिजे वजूद खे विरारे जुदा जुदा कोमनि में सिमजी वेंदा तह को भी खेनि सिंध में दहूरायलि पुछिंदो ई कोन। आचार्य क्रिपलाणी तह सरे आम चवंदो हो तह सिंधीयूंनि खे सिंध विसारे जदा जुदा कोमनि में अटे में लूण थी वञणो खपे।  जोधपूर में हिक लोहाणे तह मूखे चई दि॒ञो तह साई असी भील, मेघवार, कोली या वरी सोढनि खे सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियो भले हू संदुनि मादरी बो॒ली सिंधी छोन नह हूजे। इहो इन जे बावजूद जे असीं विरहांङे खां अगु॒ हजारनि सालनि खां  साणसि रहयासिं ऐं हिअर छह द॒हाकनि जे अंदर ई असीं खे अण सिंधी करार था द॒ऊं।

असीं रिवाजी सिंधी भले पाण खे केतिरा नह वदा॒ निज॒ हिंदु या हिंदुस्तानी कोठायूं पर पर कहि नह कहि दि॒हूं , कहि नह कहि हंद असा खे हिंतोउ जा मूल वासी जरुर समाल कंदा तह साई जद॒हि अव्हा पहिजनि जा नथा थी सघो तह असांजा किअ लेखिबा…..

इन सवाल लाई हिंदुस्तान में वसयलि हर हिंदु सिंधी खे तयार रहणो खपे।