Blog | ब्लाग | بلاگ

अरडहणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

अड्हणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

 

हिन सालि इहो वारो हो अहमदाबादि जो- अड्हिंऐ सिंधी सन्मेलनि जे मेजबानि करण जी। इन खां अंगु॒ ऐडहा साग॒या सिंधी मेराडकनि जी मेजबानी दुनिया भर जे जुदा जुदा शहरनि पई कई आहे- जिते जिते सिंधी वसयलि आहे। चयो थो वञे तह सिंधी संमेलनि जो आयोजनि जी सोच सभनि खां अग॒वाटि 1988-89 में श्री प्रेम लालवाणीअ (जेके तहिं महलि केलिफोनिया जी सिंधी ऐसोसिऐसनि जा मुखी हवा) पारां जोर शोर सां रखी वई हूई पर संमेलनि पर पहिरों सिंधी सलमेलनि 1992 में ई आयोजित करे सघयो श्री चंदरु भोजवाणीअ जे वकत। शुरु में इहे सनमेलनि रूगो॒ अमेरिका में जे मुख्तलिफ शहरनि में पई आयोजित कया  वेंदा हवा पर बैद में दुनिया जे मुख्तलिफ मूलकनि में पई अयोजित थिअण लगा॒। इन सन्मेलनि जे नसबत हिक संसथा जहिजो नाऊं पई पधरो थिंदो आहे सो आहे ऐलाईस आफ सिंधी ऐसोसिऐशनि ईन अमेरिका जहि मंझ हिअर 17 सिंधी ऐसेसिऐसनि ग॒द॒यलि बु॒धायूं थयूं वञिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह ईहा आहे जे अमेरिका खां बा॒हरि जद॒हि में ऐडहा साग॒या सिंधी संमेलनि था पय़ा कोठाया वञिन तह मेजबानि कंदड मूलक जी भी संसथा जी भाईवारि हूजे थी। 2010 में जकार्ता, इंडोनिशिया में अहो संमेलनि गांधी लोक सेवा जे जी मदद सां अयोजित कयो वयो। (गांधी लोक सेवा जा जकार्ता ऐं बाली में अठ – द॒ह स्कुल हलिईंदी आहे जिते हिंदुस्तानि में मूल जा माण्हू तालिम पई हासिलु कनि। स्कुल तह अंतर्साष्ट्रिय थेनि पर तालिम जो माधयमि अंग्रेजी थिऐ थो।)

[slideshow]

 

इन संमेलनि जे नसबत दे॒हि या मकानि संसथा जी जो किरदारि निभायो सिंधी काउनसल आफ ईडिया। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया जो नालो सिंधी समाज जे नसबत को नयो नाहे। इन संसथा तहि महलि सुरखियूनि में आई जद॒हि बी जे पी जे दि॒हिंनि में हिंदुस्तानि जे कोमी तराणे मां सिंध लफज खे रद करण जे नसबत कोर्ट में आर्जी दाखलि थी। इन खां सवाई छतिसगड में सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधीयूंनि खे बंगलादेशिनि जे साणु परदे॒हि करार दे॒अण महल पहिंजो रोल अदा कयो हो। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया हिंद तोडे दुनिया जे जुदा जुदा  मूल्कनि में ऐहा जाम जलसा पई आयोजित कया आहिनि।

 

संमेलनि जो महूरति गुजरात जे वदे॒ वजिर श्री नरेंदर मेदीअ जे हथनि सां दि॒ओ बा॒रे कयो वयो। संमेलनि में जा॒तलि सुञातलि सख्सियूतनि खे निंढ द॒ई घुराअण जी गा॒ल्हि का नई जा॒ल्हि नाहे। हिंदुस्तनि में सिंधी बो॒लीअ जे तसलिम जे नसबत साग॒या मंजरि दि॒सण में इंदा हवा। तहि महलि जा॒तलि सुञातलि सख्सतियूनि जे घुराअण जे पुठयां सोच ईहां हूंदी हूई जिअं सिंधीयूनि बाबत इन सख्सतियूनि खे जा॒णि हूजे। तनि दि॒हिनि में इहो जरूरि भी हो छाकाणि तह आम हिंदुस्तानि खे सिंधी कोम बाबत जा॒ण कहि कदरु महदूद हूई। पर हिअर सिंधूयूनि जी सिंधी बो॒लीअ दा॒हि लापरवाहि सवव सिंधीयूनि जी नई टेहीअ खे सिंध तोडे सिंधीयूनि बाबत जा॒ण घटि हूंदी आहे ऐं इन निंढ द॒ई घुरातयलि सख्सयूतिनि खे घणी। इन हकिकत खे मोदीअ जी सुहिणे नमूने पेश कयो। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूनि खे पहिंजी बो॒ली तोडे सखाफति खे अपञाअण खपे। पहिजी जडनि खे विसारण नह गुर्जे, सिंधीयूनि खे पहिंजी सकाफति लिबासि में पेश अचणो खपिंदो हो वगिराह वगिराह। हिंदुस्तनि जो सिंधी समाज जे इन गा॒ल्हियूनि खां अण वाकिफु आहे ऐडह भी गा॒ल्हि नाहे। दरअसलि असीं सिंधी बो॒लीअ खे ऐडहे कदुरु कमजोर कयो आहे जे हिअर अण सिंधीयूनि लाई हिक वदी॒ मजाक थी पया आहियूं। जेतोणेक सुबे जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे विच में सिंडजी आयो पर इन जे बावजूद कहिं भी ईडही घुर वदे॒ वजिर जे अग॒या कोन रखि, ज॒णू मोदी सिंधीयूनि जे जलसे में शरिक थी थोडो लाथो आहे, ऐ हून भी इन जो पोरो फाईदो परतो।

 

हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधूयनि लाई गुजराति हिक अहम सुबो आहे। जेकरि गुजराति में रहिंदड सिंधीयूनि जी  अदमशुमारिअ खे बारिकीअ सां जाचिजे तह हित में लदे॒आयलि सिंधीयूनि जो टयो हिस्सो थो वसे। इहो ई नह पर सिंधीयूनि जी घणे में घणी आबादी गुजराति में थी रहे पर साणु साणु इहा भी गा॒ल्हि गु॒झी नाहे तह सिंघीयूनि खे सभनि खां वधीक दु॒ख गुजराति में दि॒सणा पया आहिनि। चयो इहो वेंदो आहे तह गुजरातियूंनि  नह पई चाहियो तह सिंधी हित वसिनि। (कच्छ खां सवाई छा काणि तह तनि दि॒हिनि में कच्छ केंद्र सासित प्रदेश हो) इहो भी चयो वेंदो आहे तह हिंदु सिंधीयूं जो जाति दा॒हि वहिंवारु, तिवण तोडे गोसत खाअण, दारु पिअण जो कहि कदरु खुलयलि रिवाज या वरि जाईफनि जो अल्ला या मर्दनि जो गा॒ल्हि – गा॒ल्हि थे खुदा लफज उकोरण या अर्बी फार्सी लिपीअ में पहिजी बो॒लीअ में लिखण नह पई वणयो मथो वरि सिंधी हिंदु भी धंधो कनि जहि सबब गुजरातियूनि तोडे सिंधीयूंनि में रिस (धंधे सांङे) इन विछोटियूंनि खे कहि कदुरु वधाऐ छद॒यो। अजु॒ भी ऐडहा जाम वाकया पई बु॒धबा आहिनि जिते सिंधीयूनि खे जायूं नह दि॒ञयूं वेंदू आहिनि, मतलब असां लाई के ऐलाका नो गो ऐरिया तह नाहिनि पर असां जो वसण हितोउ जे रहाकूनि खे घट वणे । अजु॒ भी ऐडहा जाम सिंधी आहिनि जेके गुजरात में (कच्छ खां सवाई) जिते सिंधी पहिंजी बो॒ली हिंदी तोडे तसलिम कंदा आहिनि इन ढप खां जिअं खेनि धारि करे नह दि॒ठो वञे। विछाडीअ जे किन द॒हाकनि जे  भेट में जेतोणेक इहे वाकया कहि कदुरु घटया आहिनि पर ईन जे बावजूद ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे वाकया अगो॒ पई निबरी वया आहिनि। इहो सब इन जे वावजूद जे 1947 खां अगु॒ कराचीअ में जाम गुजराती रहिंदा हवा । किन जो तह मञण आहे तह कराचीअ में हिंदु सिंधीयूंनि खां भी वधीक गुजराति रहिंदा हवा पर संदुनि साणु कहिं भी  गलत वहंवारु जी का कारि कोन बूधी वई आहे। पर विराहांङे सब कजहि फेरे छदो।

 

वेझडाईअ में दिल्ली में हिक सेमिनार थी गुजिरि जहि में हिंदुस्तानि सरकारि में हिकु अहम वजूरु श्री कपिल सिब्बल भी हाजिरु हो। उते हिक घुर कई वई तह छोन नह सुबे जूं सरकारि नोकरयूंनि भी मर्कज जे सिविल सर्विस वाङुरु पिणि सिंधी में दि॒ञयूं वञिन. (हिअर रूगो॒ राजस्थान में ई सुबे जी सिविल सर्विस जा इमतहान सिंधीअ में द॒ई था सघजिनि)। वजिर जो विचार हो तह इहे घूरयूं सुबनि जे सरकारि जे अग॒यां रखयूं वञिनि ऐं जिते कांग्रेस जी हूकुमत आहे उहे वजिर पाण ई ईहा  घूर कंदो सुखतलिफ सुबनि जे वदे॒ वजरनि सां- पर जद॒हि गुजराति जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे अग॒यां सिडजी आहो हो तह ऐडही का भी घुर किन रखी वई। इहो वाकयो इन गा॒ल्हि जो साहिदु आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी संसथाउनि में कहि भी नमूने जो राबतो नाहे। इहो ई नह हिन साल 2011 में जुदा जुदा संसथाउनि जा ऐजिवि प्रधान मंत्री साण टे भेडा ग॒दया आहिन धार धारि घुरनि जे नसबत। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि जी अदमशुमारि मूल आबादीअ जे रूगो॒ हिक सेकडे जो चोथो हिस्सो मस थिंदी पर इन जे वावजूद असी हिक मूदे थे हिक थी भीहण खा कासिर आहियूं- इहा गा॒ल्हि सोचण जेडहि आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी काउंसिल आफ इंडिया  खे इन सभ गा॒ल्हियूंनि जी जा॒ण नाहे पर बदकिसमतीअ सां सिंधी संसथाउ पाण जे  रिसअ में पूरयूं आहिनि। हिक ई घुर जेका हिदुजा आकहिं जे श्रीचंद हिंदुजा रखि तह सिंधयूनि खे भी जेकरि सुबो हूजे हा ………..पर इन जे जवाब लगो॒ तह मोदी ज॒णु तयार थी आयो हो। संदुसि जवाब पिणि साग॒यो हो जेको नहरु जो हिंदुस्तानि बाबत हूंदो हो तह साईं सजो॒ गुजरात अव्हा जो आहे भले जिते चाहियो उतो वसो।

 

इन संमेलनि जे पहिरे दि॒हिं हिंद जी हिक अहम सिंधी सियासी सखसियति मोजूद हूई – सा हूई अहमदाबाद में सिंधी ऐलाईके कुबेरनगर विसतारि जी ऐम ऐल ऐ श्रीमती माया कोद॒नाणी। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूंनि खे हिअर माजीअ दा॒हि नह पर मस्तकबिल (भविषय) दा॒हि सिंधीयूनि खे सोचिणो खपे। इहा गा॒ल्हि अगो॒पोऊ भी गलत नाहे। सिंधीयूंनि जो बसेरो हिअर हिंदुस्तानि में आहे (घटि में घटि में हिंदु सिंधीयूंनि लाई तह ईअं ई आहे) पर इन जो मतलब इहो भी नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली तोडे सकाफत खे विसारे वेहऊं। असां जेकरि अटे में लुण जेतिरा थी करे पहिजी बो॒लीअ खे हिंदुस्तानि जी कनि अहम बो॒लयूं में तसलम  कराऐ था  सघऊ तह यकिनि बो॒लीअ खे मसकबिल में जोर पिणि वठाऐ थआ सघऊं। असांजी बदकिसमतीअ इहा रहि आहे तह असीं जेतोणेक पहिजे पाण में हिदुपणो आंदो आहे पर इन चाहि में उन खां तमाम घणो वधिकु सिंधीपणो विञायो आहे ऐं इन टेहि जी साहिद आहे मायाबेन कोद॒नाणी। अंग्रेजी में हिक चवणी आहे तह –रोम में उहो ई कयो जिअं रोमन कनि। माया कोद॒नाणी उनहिनि सिंधीयूनि मां आहे जहिखे पहिंखे पहिजे माजीअ मां को खासि सिख वठण जी जरुरत नह पवदी आहे। जणु गुजरातियूं सां सिम़टी वञण असां लाई हेकलि राहि वञी बची आहे। जेके खेसि सुञाणिनि तन जो चवण आहे तह सिंधीयति जे नसबत माया कोद॒नाणीअ में इहा गा॒ल्हि नाहे जेका अगो॒णो ऐम ऐल ऐ श्री गोपालदास भोजवाणी में हूंदी हूई। गोपादास भोजवाणीअ हमेशाहि ई सिंधीयति तोडे सिंधीयूनि में पहिजी हिक चाह वठिंदो हो। कहि भी कोम लाई संसदुसि वरसो तमाम घणी अहमियति थो रखे इहा गा॒ल्हि श्री भोजवाणीअ जे बखुबि खबरि हूई। अदी माया पाण भी हिक इंटरवयूं में चयो आहे तह हूअ जद॒हि कूबेरनगर आई हूई तह हित सिंधीयूंनि खे सिंधी बो॒लीअ  जे घणे वाहिपे ते वाईडी थी वई। बदकिसमतीअ सां माया जेडहे सिंधीयूनि जी तादाति तमाम तेजीअ सां पई वधे जेके पाण खे क़टर हिंदु तह कोठाईनि था पर सिंधी नह। संदुसि लिबास भी गुजरातियूंनि जेडहो हूंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शक नाहे तह हिंदुनि जो सिंध मोठी वञण सायदि हिअर मूमकिनि नाहे, पर इन जो ईहो मतलब नाहे तह असां हिदुंस्तान में थाईंको थिअण जी चाहि में पहिंजे पाण खे अण- सिंधी करारि दे॒अऊं।

 

हिन संमेलनि में भरमारि हूई उनहिनि सिंधीयूनि जी जेहिजो वासतो धंधे सा रहियो आहे। इन में वदे॒ में वदो॒ नाऊं हो हिंदुजा भाउरनि जो। नह रूगो॒ श्रीचंद हिंदुजा पाण हाजिर हो पर साणु साणु संदुसि ब॒ह भाउर पिणि जारिरु हवा। इन खां सवाई ऐडहा खोड सिंधी हूवा जहि दुनिया जा जुदा जुदा मूलकनि में रहि वाणिजय या धंधे धाडीअ जे खेत्र में जाम नालो कमायो आहे। हिक सोच जेका सिंधीयूंनि में रहि आहे सा आहे सिंधी हिक धंधो कंदड कोम आहे। इहा सोच नह रूगो॒ आम सिंधीयूंनि में वेठलि हूंदी आहे पर लेखकन में भी। अजबु जेडहि गा॒ल्हि तह इहा आहे तह अंग्रेजनि जे दि॒हिं में तह सिंध मे खास करे सिंध में मुसलिम लिग जे हिंमायूंतिनि जो नारो हूंदो हो तह- मूसलमानि जेलनि में ऐं हिंदु दफतरनि में। हिन संमेलनि में स्टेज में भी सियासतदानि खां सवाई इन धंधेडिनि खे ई जाई दि॒ञी वई हूई। इन संमेलनि में मिडिया जी नजर मां गायब रहया तह सिंधी लेखक या सिंधीयति सां वासतो रखिंदड कारुकनि जी । हिक लंङे दि॒सजे तह इहा का नईं गा॒ल्हि भी नाहे। हिदुस्तीनि में सिंधीयूनि जे जलसनि तोडे मेले सलाखडनि में संदुनि गेर-हाजिरि बाबति जिक्रु ताई नह थिंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह लेखकनि जी ऐं खासि करे नई टेहिअ जे लेखकनि जी कमि रही आहे पर इन जे बावजूद जेके भी नोजवानु लेखक लिखिनि थां तनि खे जेकरि सिंधी पाण ई मोल नह दिं॒दा तह इन खां दुखाईंदड भी का भी गा॒ल्हि नह ती थी सघे। लेखकुनि जी ईजत कोम जी ईजत मञी वनण खपे पर सिंधीयूनि में तह हालि ई ब॒यनि मुखतलिफ कोमनि खां उबतर आहिनि। दिल्ली में ऐन ऐस पि सि ऐल जी सेमिनार में भी साग॒या मंजरि दि॒ठा वया। लेखकनि कां वधीक तह अहमियाति सियासातदानि खे मिलि (ईअं भी हिअर सिंधी संसथाउनि में सिंधी लेखकनि खां वधीक सियासतदानि या पाण खे सामाजिक करूकनि कोठाईंदडनि  जी बरमार हूंदी आहे)। दिल्ली में जेतोणेक सेमिनार मस जेडहि अध दि॒हि जी हूई पर हित अहमेदाबादि में जेकरि टिन दि॒हनि में भी सिंधी साहित्य तोडे बो॒लीअ बाबति का खुली बहसि नह थी सघी तह इहा दु॒ख जी गा॒ल्हि आहे ।

 

संमेलनि जो विछाडीअ जे दि॒हिं ते हाजिरु हो हिंदुस्तनि जो अगु॒णो नाईब प्रधान मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी। चयो थो वञे तह साईअ पहिजो पुरो भाषण सिंधीअ में दि॒ञो जहि सा कनि सिंधी जवानुन खे तमाम घणी तकलिफ थी छाकाण तह हिदुंस्तानि में ऐडहा जाम सिंधी कोठाईंदड नोजवानन आहिनि जिन खे सिंधी नथी अचे या घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईअण जो वाहिपो नह हूअण सबब सिंधी कोन था समझी सघीनि। संमेलनि  में मोजूद मिडिया मोजिबु पहिरो तह इन नोजवानुन पहिजे माईटनि खां पुछण लगा॒ तह आद॒वाणी छा पयो गा॒ल्हाऐ पर नेठि माठि करे वया- इहा इन गा॒ल्हि जी साहिद आहे तह सिंधी बो॒लीअ जी हालत केतरि खराब थी चुकी आहे हिंदुस्तानि में। जेकरि ऐडहो ई हालु रहयो तह सायदि कजहि सालनि में इहे पिणि दिं॒हि दि॒सणा पवंदा जे अण-सिंधीयूंनि खे इहो जाम चवंदे बू॒धबो तह –साईं सरकारि खे दू॒करि नाणो खर्चण जी जरुरत ई कोडही आहे जद॒हि सिंधी पहिजी बो॒ली जी इजति ई कोन कनि। आदवाणी पहिजे भाषण में के गलति गा॒ल्हियूं पिणि गा॒ल्हायूं मसलनि सिंधी बो॒ली वाजपई जे दि॒हिनि में तसलिम थी – खबर नाहे तह इहा हकिकत अद॒वाणीअ खे कहिं द॒सि। सुदुसि वधीक चवण हो तह लिपी सबब सिंधीअ खे जाम नुकसानि थियो। हे पहिरो भेरो आहे जद॒हि आद॒वाणी सिधो सहूं लिपीअ जे नसबति पहिंजा राय दि॒ञी आहे। संदुसि लेखे जेकरि देवनागरीअ ते सिंधी मोल दे॒नि हा तह बो॒लीअ जी इहा हालति नह थे हा। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह आद॒वाणी खां हिंदुस्तानि जे सिंधी समाजअ खे जाम उमेदयूं हयूं पर साई सिंधीयूनि खे रिसाश कयो , मायूस कयो आहे। जद॒हि बी जे पी जी हूकूमत हूई तह भी सिंधीअ लाऊ हून को खासि कोन कयो। हो चाहे हा तह सिंधीयूनि लाई घणो कजहि करे सघे हा पर इअं मूमकिन थी कोन सघो। सियासी तोर भी सिंधीयूनि खे उहे हक कोन मिलयो जोके हो हलणिनि। खैर आद॒वाणी जा॒णे किथे छा गा॒ल्हिईणो आहे ऐं कहि रित गा॒ल्हिईणो आहे। साणु साणु इहा भी हकिकत आहे तह हिअर आद॒वाणीअ खां सिंधी उमेदि भी घटि ईं कंदा आहिनि।

 

हिन संमेलनि में सरिक थिअण लाई चंदो मकर्रर कयो वयो हो। वरि चयो थो वञे तह रहण जो इंतजाम हर कहिं खे पहिंजो पाण ई करणो हो। हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधी जेतोणेक ऐडहनि चंदनि सां कहि कदुरु अण वाकिफु आहिनि। इहो रिवाज नंढे खंड खां बा॒हिरि जाम आहे छाकाणि तह उते नह तह सिंधी बो॒ली तसलिम आहे ऐं नह ई हूकूमज सिंधीयति ते को  नोणो  ई खर्चे।  वरि उते हिंदुस्तानि जे भेट में सिंधी पिणि ग॒ण जेतिरा था रहिन। ऐलाईंस फार सिंधीज ऐसोसिऐसन ईन अमेरका हिंदुस्तानि जी संसथा नाहे सो खेनि दो॒हू नथो दई सघजे पर सिंधी काउनसिल खे तह खबरि आहे हिंदुस्तानि जे जी हालति, पर नह जा॒णु छो 4000 जेतिरो चंदो मूकर्र कयो वयो…हिदुस्तानि में ऐडहयूं जाम संसथाउ आहिनि जेके बो॒ली तोडे सकाफति जे नतबत कम पयूं करिनि ऐं जहिखे हूकूमत माली मदद पिणि दिं॒दी आहे। हाणे सवालु इहो आहे तह जेकरि ऐडही गा॒ल्हि आहे तह पोई ऐडहो चंदो छो…इन चंदे सबब थियो इहो जे आम सिंधीयूनि जो हिकु वदो॒ तबको इन संमेलनि जो हिस्सा कोन थी सघो। इहो जाम दि॒ठो वेंदो आहे तह उहे सिंधी जहिंजी माली हालति कहि कदुरु सुधरयलि आहे से नह तह सिंधी में लिख पढ कनि ऐं नह ई सिंधी में पाण में को घणो गा॒ल्हिईन। इन हालति में जद॒हि संमेलनि मां सिंधीयूनि जी हिक वदी॒ सिंधी गा॒ल्हिईंदड तादाति बा॒हिरि हूंदी ऐंडहे संमेलनि मां फाईदो ई केडहो। ब॒ई गा॒ल्हि जेका इन संमेलनि में पई नजरि आई सा आहे इन संमेलनि जे स्टेज ते वेहारियलि शख्सतयूं। सिंधी बो॒ली, साहित्य तोडे सकाफति जे दाईरे में हद॒ हणिदडनि मां कहिखे कोन घुरायो वयो। सभनि जे सब या तह धंधे वारा हवा या ,सियासतदानि। मतलब जेके सिंधीअ जो वाहिपो कनि से संमेलनि खां बा॒हिरि……

 

हिंदुस्तानि में भी हिकु सिंध वसे थो। कच्छ ऐं जेसलिमेरि में। उहो तब्को इन संमेलनि मां गैर-हाजिरु रहयो। जेकरि असां खेनि सिंधी करे कोन लेखिंदासिं तह इन में सुकसानु रिवाजी सिंधीयूंनि जो भी जाम थिंदो। संदुनि व़टि रूगो॒ बो॒ली ई नह पर सकाफति पहिजे असलोके रूप में मोजूद आहे। इन संमेलनि में को भी सिंधी सकाफति लिबास में को न नजर आया। जेकरि कच्छ  तोडे जेसलमेर जे सिंधी रहाकुनि खे गुरायो वञे हा तह असीं मिडिया जे अग॒यो ऐं खासि करे परदे॒हि मां आयलि सिंधीयूंनि खे हिंद जे सिंध जो नजारो भी दे॒खारे सघऊं हा। पर अफसोस ईअं थी कोन सघो। इहा गा॒ल्हि मोदीअ भी चई तह सिंधीयूनि में हिइर रूगो उहलि जीं संसकृति ई पई झलके। सभ को सुट कोट में पई नजरि आयो। इतफाक सां सिंधीयूनि वाङुरु गुजराति भी धंधो कनि हो भी मुल्क खां बा॒हिरि जाम वसया आहिनि पर कद॒हि भी नह पहिजी सकाफति कोन विसीरी आहे। शहरनि में रहण जो इहो मतसब नाहे जे पहिजी मोल सुञाणपि खां अण- वाकिफु रहिजे। हिंदुस्तानि जा मुखतलिफ वदा॒ शहरि हिअ रूगो॒ हेकले कोम जा नह रहया आहिनि। उते मुखतलिफ कोमयूं रहिनि थयूं ऐं जेकरि हो पहिजी सकाफति खे सांडे रखी थयूं सघिनि तह सिंधीयूंनि नह करे सघीनि इहो थी नथो सघे। हिंदी दुनिया जे 17 मूलकनि में गा॒ल्हिई वेंदी आहे। जेकरि हो भी सिंधीयूंनि वाङुरि माठि करे हथ में हथु रखि वेहि रहिनि तह पोई हिंदी कद॒हि भी दुनिया जे बे॒ नमबर जू बो॒ली नह थिऐ हा।

 

अमेरिका में जद॒हि ऐडहा संमेलनि सुरुअ थिया तह तह महलि  जो समसदि ई हो जिअ अमेरिका में सिंधी पाण में गद॒जिनि ऐं हिक बे॒ में राबतो वधे। इन खां अगु॒ जेके संमेलनि थिआ आहिनि दुनिया जे सुदा जुदा मूलकनि में उते भी मकसद भी साग॒यो रहयो आहे पाण में गद॒जोउ। नढे खंढ जी वरि गा॒ल्हि ऐडही नोहे। हित सिंधीयूंनि जी वदी॒ आबादी रहे थी। हिंदुस्तानि में खासि करे मसला रूगो॒ ग॒दु॒ थिअण जो नाहे। हित वदो॒ मसअलो बो॒लीअ जो आहे, सखाफति जो आहे, सिंधी सुबे जो आहे, सिंधीयूंनि  जे सियासी हकनि जो आहे ऐं सभनि खां वदो॒ पहिंजे वजूदअ जो आहे। सिंधी काऊंसिल आफ इंडिया खे यादि रखणो खपिंदो हो तह सजो॒ हिंदुस्तानि पयो असां खे दि॒से असीं सिंधीयूनि जेका समाज जी तसविर पोश कई सा ईहा हूई तह असी उलहि जी संसकृत सा धुलजी वया आहियूं। असां जी वेश बूशा पहिजी रही कोनहे। दरअसलि हिंदिस्तानि में हमेशाहि ई हर कोम खे पहिंजी हिक सञाणप आहे जेका कहि हद ताई सिबालिक पिणि थिऐ थी। पर ऐडहो दिखावो जरुरि भी आहे। सिंधीयूनि जे लाई हिसुस्तानि में वसण ऐं नंढे खढ कां बा॒हिरि वसण में फर्कु आहे। हिदुस्तानि को उलहि जी संसकृति को मेलटिग पाट या ग॒रिदड देगडो नाहे पर हित जुदा जुदा संसकृतियूं जो मेलाप आहे जहि में इहे जुदा संसकृतयूं पाण में गद॒जी रहिनि थयूं। ऐडहि मिसाल अव्हां खे खिथे भी किन मिलंदी जिते हिक ई मूलक में 400 कोमयीं ऐं 100 खन बो॒लयूं लभिंदूं। सिंधीयूंन खे जे तकलिफयूं कोन थियूं आहे सा गा॒ल्हि नाहे। तकलफयूं जाम कोमन खे थेनि थयूं पर इन जो मतलब इहो इहो नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली, सुञाणप ते समझोतो कयूं। जेकरि असीं सिंधीअ लाई विरहांङे बैद जाखडो कयो तह सिखनि भी पंजाबीअ लाई कयो। हित हिकु नंढो ई सही पर हिक सिंधु वसे थो।  कच्छ में निजा॒ सिंधी रहिनि था पर नह जा॒ण छो खेनि संमेलनि में नह गुरायो वयो। इहो इन सबब तह नाहे जे असां सिंधी थिअण जा पहिजा माप दंड पक कया आहिनि……असां जे लेखे रिगो॒ उहो सिंधी जेको असां जेडहो सिंधी हूजे, पैसे वारो हूजे, घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईण में फकरु महसूस नह करे ऐं धारि सकाफति खे पह्जो कोठे।

 

पिछाडीअ जे ब॒नि संमेलनि मे ऐं खासि करे 2009 जे लास ऐजलिस संमेलनि खां रोमनि ते बहसि पई हले। रोमनि जे हिमायुतिनि जो चवण आहे तह छो तह हिंदु सिंधीयूनि जी वदी॒ तादाति परदे॒हि मे थी रहे जहि खे देवनागरी नथी अचे सो संदुनि लाई लिपी मठाअण जरुरि आहे। अग्रेजी हिअर सजे॒ दुनिया भी बो॒ली आहे तो सब कहि खे इंदी वगिराह वगिराहि….अजु॒ इहो तमाम जरूरि आहे  तह इन समले खे मूहिं दि॒जे। परदे॒हि (मतलब नंढे खंड खां बा॒हिरि ) सिंधी,  सिंधी बो॒ली कोन पढनि । हो इन लाई कोन पढिनि छाकाण तह खेनि लिपी नथी वणे पर इन लाई नथा पढण छाकाणि तह संदुनि लाई इन जी जरुरति कोन थी महसूस थिऐ। घर में सिंधी बा॒रनि खे पहिरो हिंदी तोडे अंग्रेजीअ ते हेरिनि ऐं पोई इन जी उमेदि कनि तह संदुनि बा॒र सिंघी सां पयारि कंदा। सिंधीयूनि खां तमाम वधीक सिंधी कच्छी गा॒ल्हिईनि। हिक लङे दि॒सजे रोमनि जे 26 अखरि मां सिंधी जा 45 अखरनि जा सुर इजादि करण हमेशाहि हिक वदी॒ चुनोती आहे। हिंदुसतानि में रोमनाजेशनि जो कम अंगेरेजनि जे दि॒हिनि में सुरू थियो हो जद॒हि यूरोपियनि संसकृत दा॒हि छिकया पर इन जे बावजूद संसकृत जी मूल लिपी कद॒हि कोन मठाई वई। इन जो भी हिकु वदो॒ सबब इहो आहे लिपी ऐं बो॒लीअ में हिकु अहमि वाठि थिऐ थी जहिखे नजरअंदाजि कोन थो करे सघजे। लिपी मटाअण जो भी हिक तरिको थिंदो आहे। मसलनि जिअं मराठिनि या गुजरातियूंनि कयो। संदुनि जेतोणेकि लिपी मठायीं पर कद॒हि भी मूल लफतनि जे सुरनि सां समझौतो कोन कयो। पंजाबी सिंधकनि जी ऐं गुजरातियूनि जी वदी॒ आबादी मुलक खां बा॒हिर रहे थी पर हो कदहि भी पहिंजी लिपी रोमनि नथा करार दे॒नि।

 

जेसिताई देनवागरीअ जी गा॒ल्हि आहे तह इहा का हिंदी जी पहिंजी लिपी नाहे। देवनागरी संसकृत जी लिपी आहे सो सिंधीयूनि जो हकु सभिनि खां अग॒वाटु इन लिपीअ ते आहे। इहो ई नह सिंधी में भी इहा सुहिणे रित लिखी वेंदी आहे। सिंध में देवनागरी लिपी अपनाअण असां जे वस में कोन हूई पर हिंद में अची असी बो॒लीअ जे नसबति वदे॒ में वदी॒ गलति लिपीअ ते ई कई। इहा गा॒ल्हि ऐल के आद॒वाणीअ पिणि मञी तह देवनारगीअ खे अपञाअण खपिंदो हो। जेके माण्हूं रोमनि ते फिदा पया थेनि से रूगो॒ बो॒ली जे वेवारिकता दा॒हि पया धयानि देनि। जेकरि हो बो॒लीअ जे वजूद दा॒हि या बो॒लीअ जे जड दा॒हि धयानु  दे॒नि हा तह सायदि रोमनि या अर्बीअ जो जिक्रु ई ईंदो। जहिं दि॒हि हो इन दा॒हि धयानि दिं॒दा लिपीअ जो विवाद कहिजे पाण ई निबरी वेंदो।

 

असां सिंधी चङनि सालनि खां सिंधी सुबे जी गा॒ल्हि कयूं पया। लग॒ भग॒ हर सिंधी जलसे में इन जो जिक्रु यकिनिन थिंदो आहे । सागे॒ रित हे संमेलनि भी साग॒यो मंजरि पई नजर आयो। भले सिधी रित नह ई सहि पर इन जो जिक्रु हिदुंजा भाउरनि जे श्रीचंद हिंदुजा कयो। हिक लंङे दि॒सजे सिंधी सूबो जे नामूकिनि आहे ऐडहि भी गा॒ल्हि नाहे पर असां सिंधी इन मसले जे कद॒हि भी जाखडो तह परे जाखडे जो नालो ताई ते ढप खां मुंझी वेंदो आहियो। हिंदुस्तानि में ब॒हि ऐडहा ऐलाका आहिनि जिते सिंधी बो॒लीअ जा लहजा गा॒ल्हिईजनि था। मसलनि गुजराति में कच्छ ऐं राजस्थानि में जेसलमेर । हिक लंङे दि॒सजे तह इन ब॒नि ऐलाईकनि ई हिंद में सिंधी सुबे जो हक था लहणिनि पर मुसिबत ईहा आहे तह सिंधी रूगो॒ मडई मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में यकिन रखिनि सो इहे मसला किद॒हि भी आम कोन थी सघया आहिनि। इहो तह इन जे वावजूद जे इल ऐलाईकेनि में अगे॒ ई कच्छ तोडे जेसलमेरि खे धारि सुबा बणाअण जी गुर कई वई आहे जहिजो पुटिबराई कद॒हि भी सिंधीयूनि कोन कई आहे। मिसालि जा गा॒ल्हि जद॒हि 2001 जे गुजरति जे भूकंप खां पोई आहा गुर जोर वरतो हो तह कच्छ खे धारि सुबो या गुजराति मां धारि कयो वञे पर इन गुर खे तहि महल जे गृहि मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी सिधो सहूं खारिज कयो, मूमकिनि आहे सिंधीयूंनि जे वजूद खां वधिक खेसि गांधीनगर जा गुजराति वोट पई यदि आया। इहो ई नह कच्छीयूंनि जे साथ भी कद॒हि सिंधीयूंनि कोन दि॒ञो। दरअसल असीं सिंधी कच्छ तोडे जेसलमेरि में रहिदडनि खे सिंधी करे भी तसलिम कोन कंदा आहियों। इहो सब इन जे वावजूद जे इन ऐलाकनि में जेतरि सिंधी पई गा॒ल्हिजे उतरि तह सिंधी भी पाण में कोन गा॒ल्हिईनि।

70 जे द॒हाके में जेतोणेकि कनि सिंधीयूंनि कच्छ जो दौरो कयो हो। इन दौरे कंदड में ब॒ह अहमि शख्सयूंतू हयूं मसलनि श्री किरत बाबाणी ऐं दादी पोपटी हिरांदाणी । संदुनि मञण हो तह कच्छ में सिंधी वसी था सघीनि ऐं कच्छ में सिंधी जाम पई गा॒ल्हिईजे , वरि कमाई जा वसिला भी जाम आहिनि पर बदकिसमतिअ सां आम सिंधी पर हो इन दौरे बैद हो पाण भी हित वसण में का भी चाहि कोन दे॒खारि। सभई बंम्बईअ में पहिजे पहिंजो फलेटऩि में थाईंको थिया। जेकरि हो पाण अची रहिनि हा तह बे॒ खे भी को जार आणे सघिनि हा पर बदकिसमतिअ सां इअं थियो कोन्ह।

 

हर संमेलनि खे जेकरि दिसजे तह सिंधी पहिजो वकत जाया करे अचनि, के सिंधी भाषण दे॒नि या कहि खां देआरिनि, थोडो घणो सिंधी तोडे अणसिंधी  रागनि सां पाण खे विदुराईनि ऐं बद में वरि ब॒यो संमेलनि वरि इहा कारि दहूराई वञे। मस्कविलि लाई इन संमेलनि जे इदड थदे॒ जी पक करे पहिंजे पहिंजे घर मोटी वञिनि। असां व़टि पहिजो कोम जे अग॒या पेश इंदड कह भी मसले बाबति का भी रथा ते अमल नह कयूं। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि खे के अहमि मसेला आहिनि मसलनि बो॒लीअ जे पहिजी अजविका जो हिक अहम हिस्सो करण, सिंधीयूनि जा सियासी हक हासिलि करण, दुनिया भरि जे सिंधीयून में ऐको, सिंध में हिंदु तोडे सिंधी दलितनु ते थिंदड गुलमनि जी विरुध मुखातलिफ, विरहांङे सबब असां सिंधीयूनि में इंदर फर्कनि खे घठाअण जे नसबद जाखडो वगिरीहि वगिराह। हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जाखडो रूगो॒ बो॒लीअ जे तसलिम सां कोन पई निबरो आहे। राजिस्तानि खां सवाई किथे भी सुबनि जी नोकरयूंनि जा इंमतहानि सिंधीअ में कोन था द॒ई सघिनि पर इन संमेलनि में इन बाबति भी को प्रसताउ कोन कबूल कयो वयो। सिंधीअ जो को भी हिअर सरकारि चेनेल नाहे पर इन ते कद॒हि भी लोक सभा तोडे राजय सभा में अद॒वाणी-जेठमलाणी हूल कोन कयो आहे, संमेलनि पांरा भी अद॒वाणी-जेठमलाणी ते कहि भी इन बाबति को दबाव कोन पई आंदो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह असीं सभ सिंधी ऐडहा आहियो। हिंजुजा बाउरनि जा ट्रे ई भाउर मोजोद हवा इहो साबित थो करे इन संमेलनि मां घणणि खे उमेदि आहे पर जरुरति आहे हिक थी कहि रथा मोजूबु कम करण जी नह कि मिडई संमेलनि में अजायो भाषण देअण जी। सिंधी पाण में ग॒दु॒ ता थेनि इहा भी का नंढी गा॒ल्हि नाहे। …..अजु॒ जरूरति आहे तह असीं इन संमेलनि में सिंधीयूंनि जे मूदनि बाबति बहसि करण जी नह इन संमेलनि खे टाक शो खां फलाप शो ताईं महदोद रखोऊं।