Blog | ब्लाग | بلاگ

आरकक्षण ऐं सिंधीयूंनि जी सियासी नुमाईंदगी

 

हिन साल जूं उतर प्रदेश जूं चूंडयूं बे॒ कहि सबब जे लाई यादि कयूं वञिन या नह पर मूसलमानि लाई आरकक्षण जे नसबत जरुर यादि कयूं वेंदयूं । इन जी शरुआति इन चूंडनि जे तारिख जी  पधराई खां कजह दि॒हनि अग॒वाटि थी जद॒हि यू पी ऐ जी हकूमत मूसलमानि लाई 4 सेकडो तकयूं सरकारि नोकरयूंनि में तकयूं  महफूज रखण जे नतबत निटिफिकेशनि जारि कयो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे मुसलमानि लाई ऐडहे आरकक्षनि जो कदमि उमालक पधरो थियो आहे। कनि सालनि खां मूलसमानि जी हिक घुर रहि आहे तह खेनि भी सरकारि नोकरयूंनि तोडे स्कूलि कालेजनि में आरकक्षणु दि॒ञो वञे। जेतोणेकि सूबाई हकूमत कहि कहि सुबे में मुसलमानि खे आरकक्षण दि॒ञो आहे जहि में के कच्छ जूं सिंधी मसलमानि जातियूं पिणि शामिलि आहिनि पर मईकजी सतहि ते इहो पहिंरो भेडो आहे तजहि ऐडहो को कदमि खयो वयो हूजे।

कंग्रेसि जो हिन कदम ते हूल मसअ जेडिहो माठि थियो ई किन हो जे ब॒यूं भी पाण खे सेकूलर खोठाईंदड सियासी संजमतूं  किअं वरि पोईते रहिनि। सभनि पहिंजी पहिंजी वफादारिअ जा अंग अखरि पेश कया। लग॒ भग॒ हर का पार्टि (सवाई कमूनिसट ऐं भाजपा जे) हिक बे॒ जे रिस में आकडा पधिरा कया – को चवे सत सेतिडो तह को द॒ह।  इन सभनि जे विच में जेको सवालु हिंदुस्तानि जे मिठिया तोडे आम माण्हूनि जे चपनि ते हो सो इहो ई हो तह – ईहा हमदर्दी हिअर चूंडनि महलि ई छो। जेसिताईं सचल कमिशनि जी गा॒ल्हि आहे तह उन भी कहि रित रिजरवेशनि जी शिफारिश कई हूई। तहि खे भी भरया छह अठ महिना, पर सवालु इहो आहे तह ज॒दहि कांग्रसि इन आरकक्षण लाई सघ कोन मेडे सघी तह हिअऱ ऐदी॒ तकड छो…..ऐडही गा॒ल्हि भी नाहे जे मुसलमानि अण्णा वाङुरि अंशन ते अचि वेठा हवा।

 

आरकक्षनि बाबति सोच का नई नाहे। आजादीअ खा अगु॒ अंग्रेजनि दलितनि लाई सागे॒ आरकक्षनि जी चाहि रखिंदा हवा पर कद॒हि कामयाब नह थी सघया छाकाणि तह कांग्रेसि ऐं गांधीजी इअं थिअण नह दि॒ञो। कद॒हि पहिजे अंशनि जे जोर ते तह कद॒हि मूसलमानि खे रिआईतूं द॒ई करे गांधीजी दलितनि खे इहो फाईदो कोन माणणि दि॒ञो। इन मसले जे माहिरिनि जो मञण आहे तह गांधीजीअ जो इअं करण जो मकसद इहो ई हो तह संदुसु अंदोशो हो तह इहो मूमकिनि आहे तह दलित भी मूसलमानि वाङुरु विरहांङे जूं गा॒ल्हियीं नह कनि।

 

आजादिअ बैद नेठि दलितनि लाई आरकक्षण जी सुरुआति थी। जोतोणेकि नह नेहरु नको दलितनि जो रहिबरि बाबा भीमराऊ अंबेदकर जतियूंनि ते तंज ते आरकश्रनि जा के वदा॒ हिमायति हवा। संदनि लेखे इन सां मूलक में कमजोर जो वाहिपो वधींधो जेको मूल्क लाई ढिघे अर्से में कहि भी रित हिकु सुठो कदमि साबित नह थिंदो। पर इहा हिक सच्चाई आहे जे बाबा साहिब अबेदकर कदि॒ खुले आम इन जो विरोध किन कयो। शुरुआति जे दि॒हनि जेतोणेकि इन आरकक्षण जो मियादि रुगो॒ द॒हनि सालनि ई मूकर्र कई वई पर बैदि में इहो वधींदो वयो। 1980 जे द॒हाकनि में इंदिरा गांधी हिक कमिशनि बरबा कई जहिजो कम हो तह दलितनि बाबति सुझाऊ दे॒अण जेका मंडल कमिशनि में नाले सा मशहूर थी। पर इहो वि पी सिंह हो जहि हिकु वदो॒सियासि दाऊ खेदिं॒दे हिंदुस्तिन जी सियासकि में हिक रित तहलको खणी आयो मंणड कमिशनि जे सुझाऊनि खे अमल हेठि आंदो। हिदुस्तानि जी सियासत वरि सागी॒ किन रहि। मंडल कमिशनि जे दि॒हिनि बैदि उतर हिंदुस्तानि में ऐडहयूं पार्टियूंनि जी भरमारि थी आहे जहिंजी सियासति दलितनि ऐं पोईते पयलि जातियूंनि बाबति ई रहि आहे भले इन पार्टूयूनि दलितनि ते थिदड जुलमनि में कहि खासि हद ताई रोक लगाअण में कासिर रहियूं आहिनि खासि करे गो॒ठनि में जिते अजु॒ भी जातिवादि हिकु वदो॒ मसलो आहे।

 

आरकक्षण में हिंदुस्तनि में दलितनि खे के शासि राआईतू दि॒ञयूं वयूं आहिनि मसलनि- सरकारि नोकरियूंनि में ऐदा महफूज करण, तालिमि जे खेत्र में कालेजनि जे दाखिले में तकयूं महफूज रखण, नोकरियूं ऐं कालेज में दाखिले में लाजमि उमर्र में रियाईतु, इंमतहानि जे फिसनि में रियातु.  सुबाई तोडे मर्कजी ऐसलमबलि में तकयूं दलितनि लाई महफूज करण वगिराह। यकिनि हिंदुस्ततानि जा मलसमानि भी साग॒यूं रियातूं चाहिंदा इन जे वावजोदि जे मूसलमानि समी वजूद नाहे। नह ई इसलाम में इन जो को वजूद आहे। सागे॒ रित के क्रिसचेनि भी इन जी गुर कनि था तह संदुनि में भी दलित आहिन सो संदुनि खे भी हिंदु दलित वाङुरु रिआयतूं दि॒ञयूं वञिनि खासि करे द॒खिनि जे सूबनि में जिते क्रिसचनि जी सुठी तादादि आहे।

हिंदूस्तनि जे संविधान में में रूगो॒ हिंदुनि में ई दलितनि जे वजूद खे कबूल कयो वहो आहे। हिंदुस्तानि में अगो॒ठे ग्रंथ यानि रामायण तोडे महाभारति में ऐडहा जाम वाकया बयान कयलि आहिनि जिनि में इहो चिटि रित पधिरो तो थिऐं तह तन दि॒हिनि खां ई दालितनि सां वयलि थिंदा हवा, पर साग॒या मिसाल इसलाई ऐं क्रिसचनि धर्म में नथा मिलिन। जेतोणेक इन गा॒ल्हि मां इंकारि नथा करे सघजे तह छो तह धर्मु मठाअण जा वाक्या द॒लितनि में घणा थिया आहिनि पर इन जो इहो मतलब नाहे तह इहो मञयो वञे तह द॒लित हिंदु तोडे दलित क्र्सचननि सां इसलाम तोडे क्रिसचनि धर्म में भी इहो ई थियो जेको खेनि हिंदु धर्म में सहणो पयो।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तनि में रूगो दलितअ पया इन आरकक्षण जी गुर कनि। पिछाडिअ जे कनि सालनि में जाट (हर्याणा तोडे राजिस्तानि ऐं ओहलि यू पी ) भी इन जी घुर पया कनि तह खेनि पिणि दलितनि पारयूं सहूलतयूं दि॒ञू वञिनि। पर साल तह राजिस्तानि जे गुर्जरन लग भग महिनो खनि रेल जी पठरिनप़िरिन ते पहिजी आकहि सुधा सिडजी विठा जहि सबब हिंदुस्तानि रेल जे पटरिनि ते धरनो द॒ई किडोडनि जो नुकसानि रेलवे खाते खे रसयो। हो ढरया तद॒हि थिया जद॒हि हिंदुस्तानि जी अदालुतन संदुनि खे फटकारि लगा॒ई ऐं हूकूमत जागी॒। हूकूमत ऐं सियासि पार्टियूंनि लाई मसलो इहो थी पयो आहे जे आरकक्षण हिअर हर कहिखे नथो दे॒ई सघजे। हिंदुसातनि जी वदे॒ में वदी॒ अदातलि जो फैसलो आहे तह 50 सेकडो खां वधीक आरकक्षण नथो द॒ई सघजे पर सवालु इहो आहे तह ऐडही हालतुनि में इहो किअ मूमकिनि आहे जे आरकक्षण जी चाहि रखिदड कोमनि पर्चायो वञे। हिंअर जोतोणेकि सियासी पार्टियूं ओ बी सि जे 27 सेकिडो आरकक्षण ते पहिजूं उमेदयूं रखि वेठीयूं आहिनि पर अंदेशो इन जो भी आहे अजु॒ नह तह सुभां नेठि ओ बी सि पहिजो हकु महफूज रखण जो जोखडो कंदा ई। इहा सोच रूगो॒ इन लाई थी पैदा थे छाकाणि तह जेके –क्रिमी लेअअ (जेके जातियूं आरकक्षण जो फाईदे सबब कहि सदरु उभरियूं आहिनि) खे हठाअण जे सख्त खिलाफ आहिनि से वरि पहिंजे हिस्से जी पति मां मूसलमानि खे दि॒दां – इहा गा॒ल्हि वेसाऊ करण जेडही नाहे।

 

जेसिताईं गा॒ल्हि आहे सिंधीयूनि पांरा  अरकक्षण जे गुर जी तह यकिनि पिछाडिअ जे किनि सालनि में आरकक्षण जी गुर तमाम तेज थी आहे। इहो यादि रखण गुरजे तह जद॒हि कि जाट,गर्जर या मूसमानि आरकक्षण दलितनि खे दि॒ञल रियाऊतनि जे तंज ते आहे पर सिंधीयूनि सां इऐं नाहे। सिंधी कद॒हि भी नोकरयूंनि या तालिमि संसथाऊंनि में तकयूं महफूज करण जे नसबत अरकक्षण कोन घूरयो आहे। जेतोणेकि मूम्बई में (जिते सिंधीयूंनि तमाम घणा तालिम जे वाधारे कालेज खोलया आहिनि) कनि सिंधी कालेजनि में सिंधीयूंनि लाई के तकयूं महफूज आहिनि पर सरकारि सहति ते कद॒हि भी ऐडही  घुर सिंधीयूनि कोन कई आहे। इन जे हिक सबब याकिनि इहो आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी समाज में हथ फैलाअण गलति समझो वेंदो आहे। असां जी हमेशाहि ईहा कोशिश हूंदी आहे जिअ असीं पहिजे सघ सां सभ कजहि हासिल कयूं। ईहा गा॒ल्हि विरहांङे जे वकत में जेतरि सची हूई अजु॒ भी सागे॒ रित हिक हकिकत आहे। वरि सिंधीयूनि में विरहांङे बैद जाम फेरो आयलि आहे। हिअर सिंध धंधनि में जाम वधिक लभिंदा आहिनि, जेतोणेकि सिंध में मूसलमानि हकूमति में ऐंडहा चङा सिंधी हिंदू वदे॒ वदे॒ अहदनि ते हवा ऐं अंग्रेजनि महलि तह तमाम वधिक हिंदु नौकरियूं पई कयूं पर विरहांङे जे कापरे धकु इहो सभ फेरे छदो॒।

 

जेतोणेकि सिंधीयूनि में अरकक्षण नेकरियूंनि में तोडे तालिमि संसथाऊं जे नसबत घुर कोन थी आहे पर जेसिताईं सिंधीयूनि जे नुमाईंदगी जी गा॒ल्हि आहे तह यकिनि सिंधीयूंनि खे जाम जरुरत  महसूस थी आहे। जेकरि हिंदुस्तानि जे सिंध ऐलाकनि जी  गा॒ल्हि कजे तह के ऐलाईका आहिनि जिते सिंधी घणी तादाति में रहिनि था मसलनि उल्हासनगर (सिंधूनगर), अजमेर (राजिसथानि), गांधीधाम (कच्छ), कूबेर नगर (अहमेदाबाद), या वरि संत हरदास नगर (भोपाल जे भरिसां) वगिराह। इन सभनि ऐलाईकनि में में जेतोणेकि सिंधी कहि हदि ताई मुनिसिपल या सुबाई ऐसलमबली जे चूंडनि ताई अहमियति रखिनि था पर जेसिताई लोक सभी में सिंधी नूमाईदीगी  जी गा॒लिह आहे तह इन में को भी शकु नाहे तह असी इन चूंडनि में का भी वदी॒ अहमियति नथा रखोऊं। इन जो मतलब इहो थियो तह जेसिताई लोक सभा जे चूंडनि जी गा॒ल्हि आहे तह जेके भी सिंधी मूल जा अग॒वाण मर्कजी सतहि ते अग॒ते वधया से रूगो॒ अण-सिंधीयूनि जे साथु यो जोर ते या खणि चईजे पहिंजी सघ सबब। वरि इहो ई दि॒ठो वयो आहे तह उहे सिंधी अग॒वानअ जेके राष्ट्र सतहि ते कहि कदूरु सघेरा थिया आहिनि से सिंधीयूंनि खे उहा अहमियति नथा दे॒नि जेका पहिजे एलाईके जे घाणई में हूदड कोमनि खे। (इन जी हिक मिसालि राम जन्म भूमि जे जाखडे वकत अहमदाबादि में दि॒सण में आयो जद॒हि तह अद॒वाणी सिंधीयूनि पारां हिक मेड में ब॒ह मिंट तरसि ब॒ह लफज गा॒ल्हिअण जरुरि नह समझो जद॒हि हो गुजरातियूंनि लाई जगहि जगहि ते तकरिरयूं दि॒ञूं।)  खैरि सुबाई सतहि में भी सवाई कुबेरनगर ऐं सिंधुनगर (उल्हास नगर) जे वरलि ई ऐडहो को ऐलाको आहे जिते सुबाई ऐसलमबली में दाखिल वठिदड अवाम जा नुमाईंदनि खे मुल तरह सिंधी वोटनि जे पहिजो मूल आसिरो रखणो पयो हूजे ।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे सिंधीयूनि कोशिशयूं कोन कयूं आहिनि जे सिंधी नसल जे माणहूनि खे लोक सभा तोडे ऐसलमबली में सियासी पार्टियूं चूंडनि में टिकेटां दे॒नि, पर थियो इहो आहे जे ऐकड-बे॒कड वाक्ये खे छदे॒ सिंधीयूंनि खे टिकेटां तद॒हि ई दि॒ञयूं वयूं आहिनि जिते चूंड खटणि जी उमेदि टिकेट दिं॒दड पार्टी खे तमाम घटि रहि हूजे। मसलनि छतिस गड जी राजधानि रायपूर जे भरसां  राज नंदगाऊं में बी जे पी सिंधीअ खे तहि महलि टिकेट दि॒ञी जद॒हि संदुसि हालति तमाम घणी खराब हूई छा काण तह माण्हूं उन सरकारि खां घणो खुश कोन हवा ऐं वरि उन ऐलाके जे अगो॒णो नुमाईंदो पैसा वठी संसद में सवाल पुछण जे मामले में पदि॒रो थियो हो जहि सबब संदुसि खे पहिजी तक मां इसतिफो देअणो पयो हो। वरि जिते इऐं नथो थे उते सिंधी छो तह अण सिंधीअनि जे जोर ते चूंडियूं खटिनि था सो वरलि ई सिंधीयूनि जो को कदुरु कनि था। इहो ई सबब आहे जे कनि सिंधीयूनि खे लगे॒ थो तह जेकरि सिंधीयूनि खे हिक या ब॒ह तकयूं दि॒ञयूं वञिनि लोक सभा में तह इहे सांसद सिंधीयूनि लाई ई कमु कंदा, छाकाण तह खनि इन गा॒ल्हि जो ढपु हूंदो तह कोम लाई जेकरि कजहि नह कयो तह सिंधी समाज काविडजी संदुसि टिकेट रद कंदो।

 

ऐडही गा॒ल्हि नोहे तह ऐडहो को मिसाल नाहे हिंदुस्तानि में संविधानि में। ऐंगलो इंडियनि खे इहा सहूलियति अगे॒ ई मिलयलि आहिनि, तह पोई सिंधीयूनि जे लेखे ईहा सोच रहि आहे तह असां छोन नह। सिंधीयूनि में ऐडहयूं घुरयूं चङनि सलनि खां पयूं थेनि। सिंधयूनि में जिते भी पुगो॒ आहे इन समले ते धयानु छिकायो वयो आहे। मिसाल जद॒हि राम जन्म भूमि जे जाखडे महलि श्री के आर मलकाणी खां भी हा गुर कई वई तह हो बी जे पी में ऐडहे कहि अमलि लाई गा॒ल्हि अग॒ते वधाऐ। वरि हिंदुजा भाउरनि तोडे ब॒यनि इहा गुर हर पैलटफारम में रखण जी कोशिश रंदा रहया आहिनि जहिखे कवरेज मिटिया भी पई दे॒। पर जहिखे जोर शोर सां इन मसले खे खरणो खपे यानि सिंधी सियासतदानि से खामोश आहिनि। इहो मूमकिनि आहे तह सिंधी सियासतदानि में इहो ढप हूजो तह जेकरि सिंधीयूनि लाई हिक अध तकयूं महफूज थी पयूं तह इन जो असरि संदुनि जे नूमाईंदगी ते पवंदो। इहो थी थो सघे तह सिंधी कोम जे नाले ते संदुसि टिकेटां (चूंडनि में हिस्सो वठण जे नसबत) इन सबब रद थिऐं जे सिंधीयूनि खे तह नूमाईंदिगी अगे॒ ई मिलयलि आहे।

 

जद॒हि जद॒हि भी सिंधी जे हकनि जे जाखडे जी गा॒ल्हि कई वई आहे तह हमेशाहि हिकु जुमलो दहूरायो वेंदो आहे तह साई सिंधीयूनि खे ऐतजाज करण जो वकत ई किथे आहे। असां सिंधी तह नाणो कमाअण में ई पूरा अहियूं। असां खे इन  ऐतजाज करण जो वतक किथे आहे वगिराह वरिगाह. जेकद॒हि असीं सिंधी बो॒लीअ जे नसबत ऐतिजाजनि खे यादि कयोऊं तह तनि दि॒हिनि में भी असीं पहिंजी सिंधी बो॒लीअ में तसलिम कराअण लाई का रेल या वाटि किन रोकी हूई नह ई कद॒हि हट या बाजारयूं बंद कराई हयूं। पर इन जे बावजूद असीं हिंदुस्तानि में अटे में लूण हूअण तद॒हि ई सिंधी बो॒लीअ खे तसलिम करायो जद॒हि अठे शेडूल में रूगो॒ चोदा॒हिं बो॒लयूं हयूं ऐं उन खां वदी॒ गा॒ल्हि तह तद॒हि असीं हिंदुस्तानि में पाण खे वसाआण में पूरि रित मूंझयलि हवासिं। हाणे सवालि इहो आहे तह जेकरि तहि महलि असीं पहिजे लाई हक हासिल करे था सघोऊ हिअर छो नह….

 

दरअसलि तनि दि॒हिनि में (1947 खां यकदमि पोई) सिंधी सिंधीपणो जोम हो जेको हिअण दि॒सण में घट ईंदो आहे। इहो जकुरि नाहे तह सिंधीयूंनि लाई लोकसभा में तकयूं महफूज करण लाई असां खे गोड करणो पवे, हडतालि कोठाअणी पवे, या धरना दे॒अणा पवनि। अजु॒ इहो तमाम जरुरि आहे तह असी मिडिया जे जरिऐ हिंदुस्तानि में पहिंजे हकनि जी गा॒ल्हि कयों। इहो यादि रखणो खपे तह जद॒हि असी बो॒लीअ लाई जैखडो कयूं पया तह हिंदी बो॒ली जे लेखकनि जो भी साथ मिलो हो। माण्हूनि खे लगो॒ तह सिंधीयूनि जी घुरअ वाजिबु आहे। तनि दि॒हनि में सिंधीयूनि जे ऐतजाज करण को तरिको तमाम सहूले हो मसलनि जातलि सुञातलि शख्शितियूनि खे सिंधीयूनि पारां कोठायलि जलसनि में शामिल करे मुख्य महमानि तोर आजा कईं वेंदी हूई जिअ खेनि सिंधीयूनि तोडे सिंधी बो॒लीअ बाबत जा॒ण पवे। हाणे सवालु आहे तह जेकरि तहि महलि असी कामयाबी माणि तह हिअर छोन नह ….

 

कहिं भी कोम लाई आरकक्षण जो जाखडो सहूलो नाहे पर इन जे वावजूद मुख्तलिफ कोमयूं पहिंजे रियातूंनि लाई जाखडो कनि पयूं। कनि खे कामयाबि तह किन खे नह पर इन जो बावजूद जाखडो थिऐ थो। पर इहो तद॒हि मूमकिनि थिदो जद॒हि असां में ऐको ईंदो जेको बो॒लीअ जी लडाई जे नसबत थियो हो। पर इन सभनि खां वधिक जरुरति आहे तह असीं पहिजो सिंधीपणो पिणि कायमि रखोऊं। इहा लडाई कहि रित भी सहूलि नह समझण खपे छो तह सिंधीयूनि वाङुर ऐडहयूं जाम कोमयूं आहिनि जेके सिंध जे कद॒ इहे साग॒यूं घुर सरकारि अग॒या रखिनि मथोऊ वरि इन जी पूरि उमेदि आहे तह सिंधी सियसतदानि पिणि को रोलो विझिनि।

 

सिंधीअ जे नूमाईंदिगीअ जो मसलो तमोम अहमि आह जहि नंढो मसलो समझण वदि॒ गलति थिंदी। पर इन सभनि खां वदी॒ गा॒ल्हि जेका अजु॒ ताई असी सिंधी नजरअंदाज करे इदा रहया अहियूं सो आहे वोट बैक जी सियासत। जमूरियात में भले वोट बैक जी सियासत खे सही कोन मञयो वयो आहे पर इन गा॒ल्हि खे तमाम घटि माण्हूं नजरअंदाजि कंदा जे जेकरि इहे दलितनि जा वोट नह हूजिनि हा तह सायहि हिंदुस्तानि में किद॒हि भी असी इन रिजरवेश जी गा॒ल्हि नह कयो हा. हिंदुनि सिंधी किद॒हि भी वोटबैक जी सियास नह कई पर हिअर वकत इचि वयो आहे जे असीं इन मसले खे संजिदगी सा विचारऊं। जेकरि सियासत जी गा॒ल्हि कजे तह छतिसगढ में कूल 90 तकयूं आहिनि जनि में 10 तकयूं ऐडहयूं आहिनि जनि में सिंधी वोट जित ऐं हार में फर्कु था करे सघिनि पर पिछाडीअ जे सुबाई चूंडनि में भा ज पा या कांग्रेसि हिक भी संधीअ खे टिकेट कोन दि॒ञी। हाणे सवालु आहे छा इहे 10 तकयूं ऐहमियति नथयूं रखिनि…..जेकरि मूसलमानि तोडे मूखतलिफ कोमयूं वोट बैंक जी सियासति करे पहिजा हक था हसिलि करे सघनि तह सिंधी छोन नह। आरकक्षण जे नसबति असी को उभ नथ गुरोऊ। इसां नह नोकरयूं था घूरोउ नह तलाम जे खेत्र में रियाईतूं।

 

अजु॒ वकत अची वयो आहे सुजाग थिअण जो छा काण तह जोकरि ऐगलो इंडियनि लाई लोग सभा में तकयूं महफूज रखि थयूं सघजनि तह पोई सिंधीयून लाई छोन नह। ऐंगलो इंडियनि तह हमेशाहि ई अंग्रेजनि जो साथ पई दि॒ञो जदहि तह सिंधी अजादीअ जी लडाईअ में हिंदुसतानि लाई पहिजीयूं हयातयूं भी कुर्बान कयूं…..तह पोई असां सां ब॒याईं छो…..

अंत में आऊं सिंध जे महान सिंधी कवि श्री ऐबराईम मूंशी जे सटयूं दोहारण चिहिदुसि…..

बरा-बरी सरा-सरी, असां घुरोऊं ता ऐतरि

जे को पुछे केतरि, तह असां चऊं हेतरि

हिक आजादि कोम जेतरि , हिक आजाद कोम जेतरि