सिंधी भाषा ऐं संस्कृतीअ जे वाधारे में सिंधी पंचायूतिन ऐं नौजवाननि जी भूमिका

इहो घणो- तणो पयो बु॒धबो आहे तह जेकरि कहिं भी कोम खे खतम करणो हुजे तह इन कोम जी बो॒लीअ खे दबायो वञे या खजा॒जो वञे। ऐंडहा तजूर्बा मजीअ में घणा घुमरा थिया आहिनि। अमेरिका में खासि करे दे॒ही माण्हूनि यानी रेड इंनडयनि बाबति हिक चवणी मशहूर आहे तह – kill the Indian  and save the man. मतलब जेकरि रेड इंडियनि जे इंडयनि पणे खे खत्म करणो आहे तह बो॒लीअ खे खतम कयो वञे, संदुनि इंडियनि पणो पहिजे पाण ई खतम थी वेंदो। जेकरि अमेरिका में बो॒ल्यूनिं जा आकडा दि॒सयूं तह  ईहा हकिकति केतरि सही आहे सा समझ में ईंदी। अंग्रेजनि जे अचण खां अगु॒ 350 -400 बो॒लयूं हयूं जेके हिअर अची 139 ताईं बिठयूं आहिनि। योनेसको मोजबु इन मां अधु यानी सतर फना थिअण जी कगार ते आहिनि। साग॒यो ई हालु असट्रेलिया जो आहे, जिते 700 बो॒लयूं ताईं हयूं, हिअर तनि मां तमाम थोडयूं ई वञी बचयूं आहिन।

 

बो॒लयूं रुगो॒ वसयलि या तरकी कंदड मुलकनि में नथयूं मरनि। बो॒लयूं टिहि दुनिया या थर्ड वर्लड में जाम पयूं मरिनि। हिदुस्तानि बाबति इहो थो चयो वञे तह हित 198 बो॒लयूं फना थिअण जी कगार में आहिनि। पाकिस्तानि लाई इहा ग॒णपअ थोडी घ़ट आहे फकत 15 । मतलब जे जेतिरो वदो॒ मुल्क ओतरियूं वधिक बो॒लयूंनिं जे फञा थिदडनि जी तादादि। ऐडहो हालि लग॒ भग॒ हर हिक मुल्क सां पयो थे। इहो अंदेशो थो लगा॒ईंजे तह 2050 ताई दूनिया जे 6000-7000 बो॒लयूनि मां 90 सेकडो फना थी वेंदयूं। इहो सब रूगो॒ इन लाई जे दुनया जी 97 सेकडो आबादी 4 सेकिडो बो॒लयूनि ई पया इसतमाल कनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे किन सालनि में इन मसले ते चङनि जो धयानु वयो आहे ऐं चङो कमू पिणि थियो आहे पर ईन जे बावजूदि बो॒लयूंनि जे फना थिअण जो सिलसलो सांधईं पयो लहिंदो य़ो अचे।

 

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह बो॒लयूं रूगो॒ कलोम्बस जे नई दुनया या नयू वरर्ड मे मूयू आहिनि- इंगलेंड जे महाराजा हेनरी सतो जो कि वेलस जो ई रहाकू हो वेलसि बो॒ली जेका इगलेड जे उतर ऐ उतर ओलहि मे पई गा॒ल्हाईजे – इन बो॒लीअ ते प्रतिबंद लगा॒यो। 400 सालनि खां पोई वरि इहो प्रतिबध हठायो वयो पर तेसिताई चङी बर्बादी थी चूकी हई। जेतोणेकि इन बो॒लीअ खे वेसल मे अंग्रेजीअ जेडहा हक मिलयलि आहिनि, यूरोपियनि यूनियनि भी इन बो॒लीअ जे जोगी जाई दि॒नी आहे पर इन जे बावजू अजु॒ वेलस मे मस जेडहा 20 सेकडो ई माण्हू आहिनि जनि खे इहा बो॒ली सुठे रित पई गा॒ल्हिअनि अचे। फांस में भी ईअं ई थियो हूकूमति कानून जी मदद सां सघ रखिदड बो॒लयूनि पहिंजी सघ देखारे थोईई वारीयूं बो॒लयूंनि खे नासु कयो।

 

हिंदुस्तानि में जेतोणोक असीं पहिजी अनेकता ते फकरु कंदे नह थकबा अहियूं पर थोडाईअ वारिनि बो॒लियूंनि तोडे कोमनि दा॒हिं वहिंवारि फकरु करण जोडहो भी नाहे। जेतोणेकि यून्सको मोजीबु हिंदुस्तानि में फञा थिंदड बो॒लयूनि में सिंधी नाहे पर इन सां सिंधी ते खतरो कहि कदरु घटि आहे सो भी नाहे। बो॒लीयूनि बाबत वेबसाईट-ऐतिंनोलाग सिंधी खासि करे हिंदुस्तानि में सिंधीअ बाबत कजहि रिन नित थी बयानु करे- Many Sindhis do not learn their traditional ethnic language. Mainly women and older adult speakers. Also use Hindi or other state language.

 

हे बयानु शाहित आहे तह सिंधी बो॒ली सिमटजे पई। दुनिया भर में हिअर बो॒लीयूनि खे वजूद खे सोघो करण जी कवायति पई हले। भले उहो अमेरिका में हुजे, अफरिका में हूजे या लेठिनि अमेरका में- फना थिंधड बो॒लयूं चङनि जो धयान पई छिकायो आहे।

 

पर इन सभनि खां वदो॒ सवालु इहो आहे तह बो॒लयूनि जे फना थिअण में ऐदो॒ हुलु छो। छो असी इन बो॒लयूनि ते ऐतरि हाई घोडा पई कयोऊ, छोन नह असी बो॒लयूनि खे पहिंजे राहि ते छदोऊं- जिअं असी संसकृति या सकाफत सां कंदा आहियूं। बो॒लयूं तह रूगो॒ गा॒ल्हिईअण जो हिकु जरिओ ई आहिनि। पर इअं नह पयो थे।  बो॒लयूनि खे बचाअण जी भरपूर कोशशयूं पयू थेनि। दूनिया जे कहि भी ऐलाके खे दि॒सो अफरिका, ऐशया, अमेरिका, यूरोप या आसट्रेलिया हर हंद अव्हां खे बो॒लयूंनि लाई जाखडो कंदड तंजमयूं लभिंदयूं । बो॒लयूंनि खे ब़चाअण जो हिकु वदो॒ मकस्द इन लाई असां जो धयानु पई छिकाअंदो आहे छाकाणि तह बो॒यूंनि जी सिधी वाटि इंसानी सोच, ईंसानी संसकृकि ऐं ईंसानी सुञाणप सा गंद॒यलि हूंदी आहे। मिसाल जी गा॒ल्हि सिंधी में 20 लफज उठ जी जुदा आहिनि, सागे॒ रित केनेडा जी दे॒ही बो॒लयूंनि खे दि॒सींदासिं तह सागी॒ रित बर्फजे जुदा जुदा किसमनि लाई ऐतिरा नाला लभिंदां ऐं जेकि इन बो॒लयूंनि जा गा॒ल्हिईंदड माण्हूं गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर साग॒या लफज हिंदिं तोडे अंग्रेजीअ नह हूजण सबब जद॒हि असिं इन बो॒लयूंनि दा॒हिं झूकोउ था तह इन खोट जो असर अंसाजी संसकृति ते पिणि पवे तो । साणु साणु वरि जद॒हि असीं जी रितु रसमन जी गा॒लहि कयोउ तह सागो॒ इ मंजर पई नजर ईंदो। हिक गा॒ल्हि असां खे विसीण नह खपे तह  धारि बो॒ली सां धारीं संसकृति जो भी असरु थो वधे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह जनि सिंधी घर में भी अंग्रेजी गा॒ल्हाअण जो रिवाज  विधो आहे से होरियां – होरयो अंग्रेजी संसकृति दा॒हि भी झुका आहिनि जेको सुभाविक आहे। साग॒यो हालु हिंदीअ सां भी थो थे।

 

जेकरि दिन धर्म जी गा॒ल्हि कजे उते भी साग॒यो मंजरि पई नजरि ईंदो हिंदु धर्म संसकृत सां, बौध धर्म पाली- प्राकृत सा, सिंख धर्म पंजाबी सां, यहूदि हर्बयू सां तह इसलाम अर्बी फार्सीअ सां हमेशाहि ईं गं॒दे॒ दि॒ठी वेंदो आहे। चयो वेंदो आहे तह अमेरिका में चर्चनि में अंग्रेतीअ नह गा॒ल्हिआण लाई लाई यातनाउ ताईं दि॒ञी वेंदयूं हयूं। असांजी इंसानी सोच ई कजहि ईअं थिंधी आहे। बो॒लीअ जो असरु इंनसानि ते कूदरति थिंदो आहे जहिखे नजरअंदान नथो करे सघजे।

 

हिंदुस्तानि में तोडे हिदुतनानि खां बा॒हरि रहिदडनि सिंधयूनि में ऐं खासि करे हिदुनि में हिक सोच वेठिल आहे तह बो॒ली खे नह पर संसकृति खे सोघो कजे। असां जे लेखे जेकरि असी पहिजी सुञाणप कायमि रखण जे नसबत सिधी दि॒ण वार खे वधिक मानु  द॒उं तह इन में का भी घटि गा॒ल्हि नह लेखणी खपे – छा काणि तह असां जो मकसद पई पूरो तो थे। असा इहा गा॒ल्हि विसारे वेहिदो आहियू जद॒हि असीं बो॒ली था मठोऊं तह इन म़टयलि बो॒लीअ सा ग॒दु॒ इन बो॒लीअ  इन जी संसकृति जो भी घाठो असरु पवे थो। इन  जो वदे॒ में वदो॒ सबूत हिंदु- सिंधी तोडे पंजाबी आहिनि –जिते धारि बो॒लीअ खे दिलो जान सां अपञाअण सबब संदुनि पहिंजी असलोकी सफाकति खां भी परे थिया आहिनि। इन जो हिकु सबब आहे सिख जेके पंजाबी बो॒ली सबब वधिक पंजाबी लगिंदा आहिनि ऐं सिंध जा सिंधी वधिक सिंधी। इहो सब भले असांजी सोच सबब ई छो नह पर हकिकति आहे। इहे सब असर कुदरति आहिनि।

 

पिछाडीअ जे सतरि सालनि में असीं जहि हिक गुथी थे सुलझाअण में ई पूरा पया आहियूं से आहे किअं हिदुस्तिन में जिंदो रखोउं सिंधी बो॒ली खे। असां जी पूरि कोशिशनि जे बावजूद असीं अगते वधण खां पोईते ई था थींदा वनऊं। पिछाडीअ जे 30 सालनि में सिंधी पढिंदडनि जी तादाति समाम तकडी घटे थी पईं। इऐ तह के जवाब असां वटि हमेशाहि ई तयार हूंदा आहिनि- मसलनि सुबो तोडे खसुसि ईलाईका नाहिनि, सिंधी पढही कमाई जा के भी साधनि नाहिनि, सिंधी लिपी (अर्बी लिपी) ओखी आहे, सिंधी हिक मुअल बो॒ली आहे वगिराहि, वगिराहि, पर हे मसलो भी ऐडहो सिधो नाहे।

 

हिंदुस्तनि तोडे दुनिया भर में जिते भी बो॒लीअ फञा थियूं आहिनि उते घणो तणो बो॒लयूं जे गा॒ल्हिईंदडनि खे पहिजा खसुसि इलाईका आहिनि। पर इन जे बावजूद इन बो॒लयूं फना थेनि पयूं वरि सिंधी तहि महलि संविधानि में पहिंजी जाई वालारी जद॒हि मैथली, कोंकणी, बोरो जे बाबति माणहूं सोचिंदा भी कोन हवा। इनहिनि बो॒लयूंनि खे पहिजा ईलाईका ई नह पर गा॒ल्हिईनदडनि जी तादादि भी वधीक आहे। वरि हिंदुस्तानि में ऐडहा भी ऐलाईंका आहिनि जति पहिंजो सुबो हूंदे भी बो॒लयू अग॒ते कोन वधयूं आहिनि मसलनि कशमिरि में कशमिरि बो॒ली, जिते उर्दू दफतरि बो॒ली आहे। वरि असां विरहाङे जो रुअण आहे जे निबरीई नथो निबरे जद॒हि तह सिंध खां वधिक हक सिंधी बो॒ली खे हिंदुस्तनि में आहिन।

 

हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि सिंध में पी टी वी में सिंधी जो अधु कलाक या कलाक खनु जा प्ररोगराम ई नसर थिंदा हवा। जिअ हिअर हिंदुस्तनि में सिंधीअ जो हालु आहे सरकारि चेनेलनि में।पर अजु॒ जी तारिख में हिअर पंज पंज निजी सिंधी टी पी चेनेल आहिनि जिते सिंधी, पहिंजी बो॒लीअ जे दम ते पहिंजी रोजी॒ था कमायनि जेकरि सिंध में रहिंदडनि में हूब नह हूजे हा तह इहो सब कद॒हि मूमकिनि नह थिऐ हा। अजु॒ हिंदुस्तानि में सिंधी कोमी बो॒ली हूअण सबब के सरकारि हक थी लहणे पर बद किसमतीअ सां असां जो धयानु ऐडहे पासे नह हूंदो आहे या असां सिंधी बो॒लीअ खे मिलयलि हकनि सां वाकिफ नाहियूं। अजु॒ जरूरत आहे तह तह पहिजे हकनि खे सुञाणोऊ ऐं पहिजो वजूद कायम धायम रखोऊं, छाकाणि तह असीं सिंधी बो॒लीअ सबब ई सिंधी आहियूं ऐं बो॒ली रहिंदी तह सिंधीयूनि जो वजूद रहिंदो- संसकृति जी गा॒ल्हि तह ईन खां पोई थी अचे।

 

हिक लङे दि॒सजे का भी बो॒ली पअहिजे जा॒ऐ उसरयलि नह हूंदी आहे पर माण्हूं जे वाहिपे सां पुखती थिंदी आहे। जेकरि वाहिपो रहिंदो तह तहजीब भी बो॒लीअ जे जरिऐ अग॒ते पुखती थिंदी  वेंदी। अग्रेजी सा भी इअं ई थयो। कलोमबसि जे नई दुनिया जे इजादि खां पोई अंग्रेजनी इन जो पोरो फाईदो वरतो वरि ईंडसट्रियलि रेवीलयूंशनि (Industrial Revolution) के करे हुनर सां ग॒दु॒ बोलीअ जे भी प्रचार थियो।संदुनि वाहिपो भी वधींदो वयो। हिक चवणि असां नंढे हूदे खां बह अंग्रेज कद॒हि भी का धारि बो॒लीअ में कोन गा॒ल्हाअनि भले हो पाण कहिं धारि बो॒लीअ जा केतिरा नह धारि बोलीअ में माहिरि  हूजिनि। साग॒यो ई हालि जरमनि. फेंच या ईसपेनिश जो आहे। अजु॒ यूरोपियनि यूनियनि में 25 खां वधिक मुलक आहिनि ऐ इन खां तमाम घणयूं बो॒लयूं तसलिमि थिअलु आहिनि, पर अंग्रेजीअ खे यूरोपियनि मूलकनि में हिकली दफतरी बो॒ली करे को भी कबूल करण लाई तयारि नाहे। भले सभिनि खे हिक बोली नह हूजण सबब तकलिफ थे थी।  यूरोप जूं ब॒यूं बो॒लयूं जद॒हि तह पहिजे पाण खे भी अग॒ते वधायो असां हिंदुस्तनि जूं बो॒लयूं कोन करे सघासिं।

 

हिंदुस्तनि में हमेशाहि हिकु बो॒ली थोपण जो रिवाज रहयो आहे। संसकृति प्राकिर्त ते थोपी वई। हिंदी ते हमेशाई ईं इहो लहो ईलजामि मडयो वेंदो आहे तह इहा बो॒ली थोपी पईं वञे। असां खे हिंदुस्तनि में जेके मसला आहिनि साग॒या मसला यूरोप में भी आहिनि। यूरोपिय यूनियनि में 25 बो॒लयूं आहिनि  पर सभनि खे मानु पयो मिले। हो अंग्रेजी या लेठिनि खे मथे नथा चाडिनि पर टनांसलेशनि टेकनालाजी जे भरोसो था कनि। बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तानि में ईअं नह कयो वेंदो आहे। जहि सबब कहि भी थोडाई वारी बो॒लीअ लाई जखडे में तमाम घणी तकलिफ पई पेश अचे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत ब॒ह अहम मसला आहिनि-

मादरि बो॒लीअ जो ग॒लति ईसतमालि– असां हिंद जे सिंधीयूंनि में बारनि सां जा॒ऐ ई हिंदी या अंग्रेजी था गा॒ल्हिआयूं। असां में ईहो हिकु रिवाजु थी वयो आहे। सो सिंधी बा॒रनि जी पहिरि बो॒ली यानी फर्सट लेगवेज अण सिंधी ती थे। सिंधी गा॒ल्हाईण जो रिवाज पोई थो विधो वञे। इन जो मसलब इहो तो थे सिंधी बा॒रनि लाई सिंध बि॒हि या टि बो॒ली ती थे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह को भी बा॒रु ते पहिरि सिखयलि बो॒ली जो असरु तमाम घणो थो थे, पोई सिखयलि बो॒लयूंनि जी भेटि में। कच्छ में कच्छी सां इहो दि॒ठो वयो आहे। हो अग॒वाठि बा॒रनि खे कच्छी था सेखारिनि ऐं पोई गूजराती। अग॒ते हलि संदुनि बा॒र गुजराती स्कूलनि में था पढिनि, पर कच्छी नथा विसारिनि। पर असां इन जे उभतरि था कयूं। अग॒ धारि बो॒ली था सेखारोऊं पोई पहिंजी। इहो ई सबब आहे जे असां खे ऐतरि तकलिफ पई थे बा॒रनि में सिंधी जो रिवाज विझण में। जेसिताईं असीं बो॒लीअ दा॒हीं पहिंजो वहिंवारि कोन मटिंदासिं असां सिंधी खे कद॒हि भी पुख्ती कोन करे सघींदासिं। इहो जरूरि नाहे तह हर बा॒र सिंधी मिडियम में पढिंदो तह ई सिंधी सिखी सघींदो। पर जेकरि पहिरि बो॒ली जे रुप में पढिंदो तह यकिनि सजी॒ उमर ई यादि रखींदो, पोई भले इहो बा॒रि दुनिया जे कहि भी कूंड- कूडच में छोन नह रहे। जद॒हि के बो॒लीअ तोडे तालिम जा माहिरि चवनि तह बा॒र खे पढाई पहिजे बो॒लीअ में दि॒ञी वञे तह हो समझी वठिंदा आहिनि तह बा॒र खे पहिजी मादरी बो॒ली खेनि जा॒ऐ खां सेखारि वञे थी।

 

बो॒लीअ जे नसबति असीं बि॒ईं गलति वहिंवारु लिपीअ सा कयो वयो आहे। इन जो हिक वदो॒ सबब इहो आहे तह लिपीअ जे नसबत सिंधीयूनि जो धयानि कद॒हि भी बो॒लीअ जे वदूज ते कोन रहयो आहे। दर असलि सिंधी बो॒लीअ तोडे लिपीअ जे नसबत असीं अंग्रेतनि महलि तह वेवसि हूवासि छो तह घणोई तह मसलमानि जी हई – जेके अगे॒ पोई पहिंजी गा॒ल्हि मञाऐ वटिनि हा वरि जेकरि हिंदु देवनागरीअ ते जिद जे भिहिन हा तह सिंध जो भी हालु कशमिर जेडहो हूजे हा- हिदु हिंदीअ दा॒ही झूकिनि हा ऐं मुसलमानि उर्दू दा॒हि। पर विरहांङे बैद उन खां भी वधीक गलति कई आहे-जे हिक गलति खे अग॒ते ई नह पर उन गलती ते फकरु कय़ो आहे। हिक लंङे दि॒सजे तह लिपीअ जा मसला तह अचणा ई हवा। हिंदुनि कद॒हि भी आर्बी लिपी कबूल कोन कई हूई पर अंग्रेजि कबूल कराई हूई। हिंद में अची जेकरि सिंधी लिपीअ जे चूंड जेकरि बो॒लीअ जे वजूद तोडे निज॒ सिंधी लफजनि जी बूनयादि ते कनि हा तह नह अर्बी- फार्सी ऐं ना ई  रोमन- लेटिनि सिंधी बो॒लीअ जी लिपीअ थिअण को हक माणे हा। लिपीयूं तह गुजरातियूं ऐं मराठीनि पिणि मठयूं आहिनि पर खेनि का भी तकलिफ कोन थी छा काणि तह संदुनि पहिजे निज॒ अखरनि सा को भी समझौतो कोन कयो । पर बदकिसमतीअ सां सिंधी में विरहांङे बैद भी धारी लिपीअ जो सिलसिलो आहे जे बंद थिअण जो नोउं नथो खणे। लिपीअ जे नसबत आर्बी लिपीअ जे हिमायतियूं जो चवण हूंदो हो तह इन सां सिंध जे सिंधीयूनि सां गंदे॒ रखिंदो पर इन गं॒द॒ण जे हिर्स असां खे पहिंजनि में ई बेगाणो करे छदो। दरअसलि हिंदुस्तनि में जेके भी लिपयूं घणो तणो इसतमालि पयूं थेनि से सब फेनोटिक आहिनि जहिसां सा खिखण तमाम सहूलो थिंदो आहे, छाकाणि तह जहि रित बो॒ली गा॒ल्हिईंजे थी सागे॒ रित ई लिखजिनि थयूं। इन गा॒ल्हयूंनि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे।विरहांङे बैद भी असी इन रगडे खे निवेरे कोन सघीसीं छा काणि तह देवनागरीअ जो जेको प्रचारि कयो वयो सो गलति हो। असां देवनागरीअ खे देवताउनि जी लिपी कोठे, सिंधीअ खे वदे॒ में वदो॒ नुकसानि पुजा॒यो । असां ईहो गा॒ल्हि विसारे वेठासिं तह बो॒ली तोडे लिपी तोडे बो॒ली  कद॒हि भी कहि खसुसि दीन धर्म मञण वारनि जी नह थिंदी आहे, ऐ जद॒हि भी इहा कोशश कईं वेंदी आहे तह हाल उहो ईं थिंदो आहे जेको उर्दू जो विरहांङे बैद थियो। हिकु वकत हूंदो हो जद॒हि इन बो॒लीअ ते हिंदु भी फकरु कंदा हवा।

 

हिअर रोमनि ते भी अजु॒ चङो हूल पयो थे। जेका लिपी हिअर जोडाई वई आहे – तहि मां तह इहो लगे थो तह ज॒णु असी अर्बी लिपीअ जी गलतियूं मां असा कुझ भी कोन सिखया आहियूं। चंड बिंदु, अंशुविरिया, अधु अकरि विटे लफजनि लाई कोन भी अखरि मूकर्र कोन कयो वयो आहे। हिदुस्तनि जी बो॒लयूंनि जे ग्रामरनि में ई मात्राउ अहम जाई थयूं वालारिनि। पर नह जा॒ण छो इहे समझोता कया वयो। वरि सिंसकृति बो॒लीअ जे नतबत रोमनाईजेन में हिक सदीअ खां भी वधीक जे अर्से खां कमु पयो हले। इन जो फाईदो जद॒हिं हिंदी-नेपाली-मराठी बो॒लयूं वठी य़तूं सघीनि तह पोई सिंधी छोन नह …….इन लिपीअ खे दि॒सी लगे॒ तह इऐं थो ज॒णु लिपी जोडाअण जी तमाम घणी तकड हूई।

 

सिंधी पंचातयूं जे नसबति जेकरि गा॒ल्हि कजे ईहे हमेशाहि ई ईहे सामाजिक संसथाऊ ई थी रहयूं आहिनि। सिंध में मुसलमा जे राजय में ईन पहिचातयूंनि जो अहमि किरदारि हो। इहे संसथाऊ सिंधी हिंदुनि जे समाज सां ऐतरयूं तह गं॒द॒यलि हयूं जे मुसलमानि मां जेके इन जे कम कर्ज बाबत जा॒णण भी हिक कामयाबी मञी वेंदी आहे। चङा सामाकिज मसला असी इन सांसथा मां ई निबेरिंदा हवासिं। दे॒ति लेति बाबति बी घणी दे॒ वठि कजे सा भी पक पंचातयूं ई कंदू हयूनि। विरहांङे बैद भी असी साग॒यूं संसथाउ बी॒हरि जोडाईसिं जिअं असांजा मसला असी पाण ई निबेरे सघोऊं। हिंदुस्तानि में ऐडहो वरली ई को शहरु या कसबो लभींदो जिते सिंधी पंचातयूं नह हूंदयूं। ऐडहा चङा शहरि हिदुसतानि में लभींदा जिते इन संसथाउ सुठो कमु कया आहे ऐं सिंदुनि इजति में तमाम घणी आहे, पर ईन जे बावजूद धारे मूलक जो तह असरु पवण लाजमी आहे। कनि वदे॒ शहरिनि में इन पहिचातयूंनि खे घटि पयो लेखयो वञे। इन खे इहो मानु नह पयो दि॒ञो वञे जेको इहे संसथाऊं लहणिनि।

 

सिंधी पहिंचातयूंनि जो को किरदारि कद॒हि भी बो॒लीअ जे नसबत कोन हो। सिंध में रहिंदे इन जी का भी जरूरत कोन पई हूई। बो॒लीअ जा मसला सिंधी लाई विरहांङे बैद जा आहिनि। हिंदुस्तनि में सिंधी पंचायतूं ऐं सिंधी अकादमियूं में वदे॒ में वदे॒ फर्कु इहो आहे तह सिंधी पंचातयूं में ठेहिअ जो बदलाव थियो आहे जेको अकादमियूनि में को घणो नजर कोन आयो आहे। इहो ई सबब आहे जे सिंधी बो॒ली भी कहि कदुरु बदलाउ कोन आयो आहे खासि करि नई टेहि जे नसबत। अजु॒ इन जी सखत जरूरत आहे तह सिंधी अकादमयूं खे पहिंज पाण में सिकूडण खां किअं रोकिंजे। हूकूमत जेके भी पैसा सिंधी बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत खर्चे थी से साखर्ता कोन था नजर अचिनि। इहो हिकु सबब आहे जे असां वटि संसथाउं जो हिक धाचो हूअण जे बावजूद असां लेखकनि तोडे अवाम में या सिंधी बो॒लीअ तोडे नौजवानि में रोबतो कोन जोडयो वयो आहे जहि सबब हूकूमति जू या सिंधी बो॒लीअ जे चाहिंदडनि जू उमेदयूं पाणी फेरयो आहे। अजु॒ इअं थो लगे॒ ज॒णु सिंधी बो॒ली ते खचर्ल पैसा अजा॒या आहीनि- सिंधीयूंनि में सिंधीअ जो वाहिपो घटण भी हिन वार थिअण जो हिकु अहम सबब आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे जाखडे जे नसबत सिंधी अकादमियूमनि जो करिदार तमाम अहमि आहे पर बदकिसमीअ सां संदुनि में ऐडहो को भी बदलाउ सिंधी बो॒लीअ लाई कोन आंदो आहे जहिजी उमेद कजे पई । सिंधी लेखकनि जो अगे॒ भी इहो रायो रहयो आहे तह अकादमियूमनि पारां मालि मदद दिं॒दड किताबनि जो मयार घठि ई रहियो आहे। आजादीअ खे अची अजु॒ सतरि साल थिआ आहिनि इन जे विच में चङो वदलाउ आहे आहे जुदा जुदा बो॒लयूंनि जे साहित्य तोडे साहित्क तंजमियूं में पर इन जे वावजूद असी ऐतिरो को घणी विख वधाऐ सघा अहियूं। अकादमियूनि जे कमनि जी जा॒णि आम सिंधी पहिंजे सोबनि में भी घठि आहे। के अकादमियूं जेकरि सुठो कम भी कयो आहे तह आम रिवाजी इंसानि  में संदूनि कम जी का घणी जा॒णि नाहे। अकादमियूनि खे खपिंदो हो तह सालि में हिकु लङे गद॒जीनि जिअं जुदा जुदा अकादमियूनि जे कमनि ते गा॒लि बो॒ल्हि करे सघजे। किन अकादमियूनि जी पहिजी वेबसाईट भी आहे पर इन साईट जो फूरो फाईदो कोन पयो परतो वञे।

 

जेकरि असीं में दि॒सिंदासिं उते सिंधी दइतरी बो॒ली नाहे। सिंधीयूनि खे उते नेकरियूंनि लाई उर्दू ई थी पढणी पवे, सिंध जे बि॒न वद॒नि शहरनि मसलनि कराची ऐं हेदरआबादि में मुहाजरनि जो तमाम घणो जोर आहे पर इन जे बावजूद सिंधी अग॒ते वधे थी। जेको कानून 1970 में भूठे जे दि॒हनि में पास थियो हो सो अजु॒ ताई अमल में कोन आयो आहे। जदि॒हि इहो कोनून पासि थिय़ो तह कराचीअ तोडे हेदरआबाद में सिंधीयूंनि महाजरनि जा फसादि थिया, जहि सबब इहो कोनून अमल में कोन आणे सघयो। वरि हिन साल 4-5 अहम बो॒यूमनि लाई जेको कोम बो॒ली बिल पेश करण जी कोशिश कई वई – उन खे पेश करण खां अगु॒ ई रोकयो वयो। पर इन जे बावजूद सिंधी बो॒ली सिंध में मूई नाहे। सिंध में सिंधी अकादमयूं हिंदुस्तानि जे अकादमियूं खा घणो वधीक ऐं कहि कदूरि सठो कम करे दे॒खारो आहे। सिंध जूं ब॒ह वद॒यूं सनजमयूं सिंधी अदबी बोर्ड तोडे सिंधी लेंगवेज अथार्टी सिंधी बो॒लीअ जे नसबति जो कस कहि कदुरु खेण लहणे। सिंध अदबी बोर्ड चङनि किताबनि खे डिजीटलाई करे पहिंजी लेबसाईट में शाई कयो आहे। हो असं खां घटि बजेट जे बावजूद सुठो कमु कयो आहे।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जो दारूमदार हिअर नोजवानि ते आहे। सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जेके भी कोशशियूं थियूं आहिनि से का भी कामयाबी कोन माणे सघयूं आहिनि। संदुनि राबतो भी सिंधी संसथाउं सा नह जे बराबर ई रहयो आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ सिंधी बो॒ली सां वाकिफ करण जी नाहे पर सिंधी घरनि में हिंदी तोडे अंग्रेजी जो वाहिपो कद॒हण जो बी आहे। ईहो तद॒हि मूमकिनि थिंदो जद॒हि असीं लिपीअ ते तोडी लचीलो पण या फलेकसीबिलिटी खणी ईंदासिं। हिंदुसतानि में बो॒ली तसलिम बि॒हिं लिपूयूनि में थी आहे। मतलब बि॒हिं लिपीयूनि खे हिक जेडहा हक आहिनि पर वाहिपो सिंधी अर्बी जो घणो रखयो वयो आहे। अकादमीयूं पांरा भी शाई थिंदड कितानि में भी अर्बी जो वाहिपो तमाम घणो थो थे, जेको नोजवानि जे समझ खां बाहिर थो ते। हिक गा॒ल्हि असां खे जहनि में रखणी खपे तह लेखकनि जे दम ते सिंधी बोली जिंदी कोन रहिंदी –  जेकरि ईअं मूमकिन थी सघे हा तह अजु॒ संसकृत भी हिक अमाव जी बो॒ली थिऐ हा। बो॒लयूं तद॒हि जिंदयूं सहि सघींदयूं जद॒हि इन बो॒लीअ खे अवाम जो साथ मिंलिंदो आहे।

 

सिंधी बो॒लीअ जे आईंधे लाई आउं के सुझाव दे॒अण चाहिंदुसि जेकि हिअर बो॒लीअ जे नसबत तमाम अहम आहिनि-

  1. सिंधी अकादमियूंनि में  तोडे पहिंचातयूंनि जेको भी लिखपढ जो कमु पयो थे सो हिंदी – अंग्रेजीअ जमें राबतो बो॒लीअ जे वाधेरे नी जाई ते देवनागरी सिंधी में थे।
  2. हर सुबे जी अकादमियूं में खासि करे बो॒लीअ जे वाधारे जे नतबति कमिठियूंनि में सिंधी पंचातयूं जे नौजवानि अहदेदारनि खे जाई दि॒ञी वञे जिअं अकादमियून खे सिंधी समाज में नोजवानि बाबति पूरो फिडबैक मिलि सघे।
  3. अकादमियूं पारा सिंधी शाईं थिंदड किबाबनि जो वदो॒ हस्सो देवनागरी सिंधी जो हूजण खपे
  4. सिंधी किताबनि जी डिजीटलाजेशनि थिअणी खपे जिअं कूंड कूकचनि में सिंधी पहिंजे बो॒लीअ तोडे साहित्य सां वाकिफ हूजिनि
  5. सिंधी संसथाउ हिक साफटवेअर तयार करण जी घूर करे जहि जे मार्फत अर्बी तोडे देवनागरीअ में मट सट करे सघजे। ऐंडहा सागया कदमि कशमिरि में खया वया आहिन – सो सिंधीयूंनि खे बी अख्तियारि करणा खपिनि।
  6. सिंधी जो आनलाईं डिकशनरी इजाद कई वञे – जिअं हर हिंदुस्तानि बो॒लीअ में आहे।
  7. हिक सिंधी पोरटल वेबसाईट वजोद में आणिजे जिंअं सिंधी नोजनानि खे बो॒ली जे नसबत फाईजनि बाबति जा॒णि मिले जेके सिंधी संसथाऊ करे रहयूं आहिनि।

 

हिंदुस्तानि में सिंधी तद॒हि पुखति थिंधी जद॒हि बो॒ली जा॒णिदडनि ऐं सिंधी संसकृति तोडे समाजिक संसथाउनि में कहि रित ऐको ईंदो। इहो रुगो॒ तद॒हि मूमकिनि आहे जद॒हि सिंधी सिंधी अकादमयूं तोडे पंचायतूं कहि हिक पलेटफार्म ते हिकु थिंदयूं। जेतोणेकि इन संसथाऊन जे कम करण जो दाईरो धारि ई आहे पर जेकरि सिंधीअ जो प्रचारि करणो आहे तह इहो तमाम जरूरि आहे तह असीं पहिंचातियूं जी मदद वठोउ। इन गा॒ल्हि खे बिलकूल नह विसीण खपे पंहिचातुनि जो सिधो सहूं वाटि सिंधी समाज सां आहे।

बो॒लीअ जो मसलो ईंतहाई वदो॒ आहे। इहो असां जो पूरो धयानु लहणे।

सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

नंढे खंड में सिंधी उन थोडनि कोमनि मां आहिनि जेके जुदा जुदा सकाफति ऐं दिन धर्म खे मञिंदड आहिनि। इहो ई नह पर विराहांङे बैद शायदि हि को कोम हूंदो जेको हिक बो॒ली गा॒ल्हिईंदे भी जुदा जुदा सुबनि में उन सोबनि जे खादे पिते जे तोर तरिकनि तोडे सकाफतुनि में पाण खे समायो हुजे। ऐडहो कोम वरली ई नंढे खंड में हूंदो जहि नई हलतुनि खे मुहूं दिं॒दे पहिंजे पाण खे नईं हालतयूं में पाण खे थांईको कयो आहे ऐं ईहो भी तमाम घट वकतनि मे। ईहा गा॒ल्हि जेतरि हिंदूंनि में सची आहे ओतरि मुसलमानिं में छा खाणि तह पिछाडीअ जे सतर सालनि में खासि करे नंढे तोडे वदे॒ शहरन में इहो ई थे पयो तह – या तह सिंधी अण सिंधयूनि में वसया आहिनि या अण सिंधी वदी॒ तादादि में सिंधी में अची रहया आहिनि।

इन गा॒ल्हि में वरली ई को शक कंदो तह वरहांङे सबब वदे॒ में वदी॒ कसु सिंधी हिंदुनि खे नसिब में आई आहे। अजु॒ ऐडहा चङा कोम आहिनि जेके लूपत या फना थिअण जी राहि ते आहिनि। इन फना थिंदड कोमनि में हिकु आहे –सिंधी सिख या खणि चईजे नानिक पंथी। हिक भेडे दि॒सिंजे तह सिंधीयूंनि में अजु॒ ताईं इन गा॒लिहि ते पक रित हिक राय कोनि वेठी आहे तह सिंधी छो ऐं छा काणि सिंख या नानिकपंथी थिया। किनि जो मञण आहे तह महाराजा रणजीत सिंह सिंध ताई पई पहिजूं सरहदयूं वधाअण पई चाहियूं ऐं के सिंधी, सिख इन सबब थिया जिऐं खेनि घटि में घटि नुकसानु थऐ ऐडही हालतयूं में। अजु॒ भले ई ईहा गा॒ल्हि केतरि नह अजबु लगे पर इन को भी शकु नाहे तह रणजित सिंह यकिनि खुवाईश रखी हुई पहिंजू सरहदयूं वधाअण जूं ऐं जेकर अंग्रेजअ हिदुस्तानि में नह हुजीनी हा तह हो पक सिंध ते जरुर काहि अचे हा। वरि अंग्रेजनि में खासि करे रिचर्ड बर्टनि जेडहनि जो रायो हो तह सिंधी हिंदूं मूल तरह पंजाब जा थेनि सो लाजमी तोर हिंदु सिखनि जेडहयूं रिसमयूं पंजाब सां सदुसि लागपे सबब ई आहिनि जहि में सिंख धर्म, गुरुमूखि भी शामिलि आहिनि । इन खां सवाई हिकु टिहों तबको भी आहे जहिं जो मञण आहे तह अर्बनि जी काहि बैद के सिंधी पंजाब लदे॒ वया ऐं बैद सिंध मोटी आया। सुदुनि मोजिब सिंधीयूनि जा नुख कुकरेजा, माखिजा, आहूजा वगिराहि इन सबब ई आहिनि। वरि जेकर पंजाबी सिखनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि मञण आहे तह जद॒हि मुसलमानि जो सिखनि खे कहरि पई थिअण लगा खासि करे गुरू तेग बहादूर जी वकत में तह के सिख पंजाब मां सिंध लदे॒ आया जहि सबब सिंध में गुरुमूखि ऐं सिंख पंथ जो प्रचारि थयो। वरि पिछाडीअ में ईन गा॒ल्हि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिख गुरु – गुरु अर्जून देव जी जे दि॒हिनि में सिख धर्म जे वाधारे जे नसबत सिख सिंध, खशमिरि ऐं अफगानिसथानि में भी सिंध धर्म जा प्रचारक मोकिला वया हिवा।

भले सिंध मां सिख पंथु किअं या कहिं भी रित आयो हुजे पर इन को भी शकु नाहे तह सिंधी हिंदुनि सिंख गुरुनि लाई ऐं खासि करे गुरु नानक जी लाई तमाम घणो मानु ऐं ईजति रही आहे। जेतोणेक सिंख धर्म जो प्रचार पंजाब खां बा॒हिरि सिख गुरु अर्जन देव जी जमाने ताईं चङो थयो, जहिं सबब सिंख पंथ सिंध, कशमिरि ऐं पखतुंवाहि जे चङो जोर वरतो पर पंजाब खां बा॒हिरि इहो सिंध ई हेकलो सुबो हो जिते सिंख धर्म चङो जोर वरतो। पर बद-किसमतिअ गुरु अर्जूनि देव जी जे गुजारे वञण बैद ऐं खासि करे गुरु तेग बहादुरि जी कुरबानी या शहादति बैद सिंखन लाई दुखाईंदड दि॒हिं जी सरुआति थी। इन कोम जो जोर घटाईण लाई दा॒ढयूं कोशिसियूं थिअण लग॒यूं जहि सबब सिंख ऐं सिख कोम कहि कदरु पाण में सिम़टजण लगो॒ जहिजो पूरो फाईदो अकालिनि वरतो । सिख रूगो॒ पाण में हलण लगा॒, ऐं ईहा घेराबंदी हिदुस्तानि जे शहरनि में आम जाम दि॒ठी वेंदी आहे जिते सिख कोम खे को भी खतरो नाहे। जेसिताई गा॒लिहि कजे आपरेशनि बलुस्टारि जी तह यकिनिं इन में अकालिनि जी सियासत भी ओतरि जिमेवार आहे जेतरि कांग्रेसि जा सियासतदानि।

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह गुरु अर्जूंन देव जी दिं॒हिं खां पोई ऐं खासि करे गुरु तेग॒ बहादुर जी जे कुरबानीअ खां पोई सिंखनि जी मुसलमानिं सां जाखडे सबब हिकु रित जे कठरपणो अचण लगो ऐ गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिनि में हिक लशकरि रूप अखतयारि कोयो । जेतोणोक इहो सैनिक भावू तहि महलि जी जरुरत हुई छाकाणि जेकरि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी जे द॒सयलि राहि तें नह लहिनि हा तह संदुनि मां हिक वदो॒ हिस्सो मुसलनामि हूजे हा। इहो लशकरी रुखु ई हो जहिं सिखनि खे हिकु थी पहिंजो वजूद लाई जाखडे करण जी सघ दि॒ञी। जेकरि तहि महल जे पंजाब जे अदमशुमारी ते धयानि दि॒सासिं तह चिटि रित साफ थिंदो हो यकिनि थोडाई में हुवा ऐं इन लावतूनि में संदुनि वजूद में रहण कहि अजूबे खां घटि नाहे।

हिक लङे सिख धर्म जे फहिलाउ खे बारिकीअ सां दि॒सजे तह इहो चिटि रित साफु नजर ईंदो तह पंजाब खां बा॒हिरि जेकरि सिंख धर्म जो कहि सुबे में ऐं खासि करि हिंदू बरादरी में फहिलाउ थियो तह उहो आहे सिंध। अजु॒ भी जद॒हि हिंदुस्तानि में रहिंदड सिंधीयूनि में सिंख धर्मू कहि कदरु कमजोरि थू पयो आहे तद॒हि भी वरलि ई को सिंधी घर लभिंदो जेको शादियूं-मूरादीनि तोडे गमयूनि में गुरु ग्रंथ साहिब जो पोठि कोन कराऐं या कहि गुरुदूआरे तोडे टिकाणे में मथो नह ठेके। अजु॒ भी सिंधी हिंदू सिंख गुरुनि जी ओतरो ई मानु ऐं ईजति कनि जेतिरो सिंधी इस्ट देव झूलेलाल या कहिं हिंदु देवी देवताउं जो। इहा गा॒ल्हि हिदुस्तानि तोडे दुनया जे जुदा जुदा मुलकनि में दि॒ठी वई आहे तह जिते भी सिंधी हिंदु वसया आहिनि – उते सिंधी टिकाणा जरुर अदा॒या आहिनि। इहो ई नह पर उन सिंधी टिकाणनि में हिंदू देवी-देवताउं खे पूजण सा ग॒दु॒ गुरु ग्रंथ साहिब जो अखण्ड पाठ जरूर थे। सिंध में सिख धर्म जो फहिलाऊ जो हिकु वदो॒ सबब ईहो भी आहे जे जहि रित सिख मुर्ती पूजा जे बिदरों गुरुअनि खे यादि कनि। सागी॒ रित सिंधी भी पिरनि तोडे संतनि जो तमाम घणो मानु कनि। आमिलनि जो तह चवण आहे तह सिंधी हिंदू बि॒नि शयूं ते फकरु कनि- हिकु सिंधु थे ऐं ब॒यो सिंधी संतनि तोडे पिरनि ते। नह रूगो॒ हिंदुनि में पर पिरनि जी तमाम घणी ईजति मुसलमानि भी कनि । इहो ई सबब आहे तह सुफी मतु खे जेतरि कामयाबी सिंध में मिली ओतरि नंढे खंढ जे कहि भी सुबे मे कोन मिलि। इहा हिक तारिखि हकिकत आहे।

सिंध जा खालसा सिंधी सिख

सिंध ऐं पंजाब में सिख धर्म जे नसबत नजरियो बिलकूल धारि आहे। सिंध में हिंदु सिख गुरुनि खे हिंदु देवी देवताउनि जेडहो मानु दि॒ञो पर सिखनि गुरु ग्रंथ साहिब खे भी गुरु करे लेखयो पर पंजाबीयूं वारो कठरपणो कद॒हि भी नह अचण दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि सिंधी मुसलमानि सां भी सागी॒ आहे। अजु॒ भी जेकरि कहि सिंधी मुसलमानि खां पुछबो सिंधी पंजाबी मुसलमानि सां संदुसि पहिंवारि बाबति तह द॒हनि मां नव पंजाबिनि जी गि॒ला ई कंदा ऐं बचयलि द॒हों भी पहिजी कावड बचाअण जी कोशिस नह कंदो। जेतोणेक के सिंधी पाण खे दरया पंथी वाङुरु नानिकपंथी पिणि कोठायो ऐं सिख गुरुनि जे पूजा जे स्थानि खे टिकाणे जो नाउ दि॒ञो पर कदहि भी हिंदु पाण खे रुगो॒ हिंदू धर् जा हेकला पोईलग कोनि कोठायो। अजु॒ भी विरहांङे खे लग भग मुञे सदीअ बैद भी जद॒हि तह सिंधी हिंदूनि में कहि कदरु कटरपणो वधयो आहे तह भी कहि भी सिंधी कस्बे में जिते सिंधी घणी तादादि में वसयलि हुजिनि – हिकु टिकाणो जरुर पई नजर इंदो जहिं में गुरु ग्रंथ साहिब सां ग॒दु हिंदू देवी जूं मूरतयूं जरुर पई नजर ईंदयूं। सागी॒ रित परदे॒ह में भी वसयलि सिंधी कनि।

सिखनि में जेतोणेक गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिं खां सिख कोम में चङो फेरो आयो। चङा सिख अमृत धारि यानि खालसा थिया पर चङा ऐडहा भी हुवा जेके पहिंजे असलोके रुप में ई कायूमि धायमि रहया या कहि सबब खालसा नह रहयो या वरि मूमकिनि आहे तह अगे॒ हिंदु हुवा ऐ पोई सिख धर्म पई अखतयारि कयो। इहे असलोके रुप वारा सेहजधारि कोठण में अचनि। इअ तह सिख धर्म में सेहजधारि खे अमृत धारियनि या खालसा थिअण जी हिक राह पिणि मञि वई आहे पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह आजादीअ खां पोई हिक कोशिस ईहा भी थी आहे तह खालसा निज॒ सिख जी जाई दि॒ञी वञे। इन जो सबब कहि कदुरु अकाल तख्त जी अहमियति वधण सबब भी थयो। होरया होरया हिदु समाज वाङुरु सिंखनि में भी फर्क अचण लगा॒ आहिनि जहि सबब सिख कोम में हिअर पहिजे पाण में ई वंढजी वयो आहे। इहो इन जे बावजूद जे सेहजधारियनि जो भी उतिरो ई योगदानि आहे जेतिरो खालसनि जो। ऐडहा चङा सेहजधारि भी थी गुजरा आहिनि जेके खालिसतानि जे जाखडे जा वदा॒ हिमायति भी रहया आहिनि। इहे फर्क तोडे विचोटयूं अकालियूनि जी सियासत या सिखनि में धर्म तोडे सियासति खे हिक बे॒ खां धारि नह करण सबब पिणि वधया आहिनि।

1959 में हिंदुस्तानि सरकारि जेको गुरुद्वारनि बाबत कानुन पास कयो हो तनि में सुरुमणि गुरुद्वावारा प्रभंधक कमिटी जे चूंडनि में अमृत धरियनि वाङुर सेहजधारि खे भी हिक जेडहा हक दिञा वया आहिनि। पर इन जे बावजूद जिअं हिंदु धर्म में पोईते पयलि जातियूनि सां थयो तह खेनि हिंदु रिती रिवाजनि खा धारि रखयो वयो तिऐं सेहजधारि सां भी थियो। ऐडहा मसला आजादिअ बैद जोर वरतो आहे जहि सबब सिखनि में भी चङो बहसि पई हलिंदो थो अचे। वेझडाईअ में 2003 में ऐडहो मामलो चंडिगड में आयो जिते कनि सेहजधारि शागिर्दनि खे इन लाई ऐस जी पी सी जे कालेज में दाखिलो कोन दि॒ञो वयो सिख कोटनि में जे सेहजधारि निजा॒ सिख नाहिन। इन नसबत ईहा दलिल दि॒ञी वई तह – छो तह सेजधारि मुल लिख नाहिनि सो खेनि सिख कोटे जे मार्फति दाखिलो नथो मिलि सघे। गा॒ल्हि कोर्टनि ताई वञी पुगी॒। इन जे विच में अकालि दल जेका तह महलि जी बी जे पी जी हुकीमत में सामिलि हुई, पहिजी ताकत जो इसतमालि कंदे हूकूमत पांरा हिकु आर्डिनेंस पई जारि करायो तह सेहजधारि मूल सिख नाहिनि जेका गा॒ल्हि कोर्ट पोई वरि नाकारे छदी॒, इहो ई नह पर अकाली सेहजधारि लफज जो सिख कोम सां कहि सां ई पई नंकारि पई कयो जदहि तह 1971 ताई अकाली दल में सेहजधारि जो भी हिकु जथो हूंदो हो।
हिक भेडे दि॒सजे तह सिख धर्म जो फहिलाउ भी कहि कदरु सिंध खां बाहिर घटयो आहे। विरहांङे खां अगु॒ पारे पंजाब में सिखनि जी आदमशुमारी 13 सेकडो हुई जोका विरहांङे खां पोई 30 सेक़डो थी ऐं पंजाब जो हाणेको सूबो छहण बैद 65 सेकडो थी। मतलब तह जिअं जिअं पंजाब जी सरहदयूं पई मई मटि सिखनि जे आदमशुमारिअ में भी फेरो आयो। पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे 2001 जे आदमशुमारीअ में इहो दि॒ठो वयो आहे तह सिंकनि जी तादादि कहि कदुरु घठी आहे। मसलनि सिंखनि जी तादादि 62.95 खां 59.9 थी आहे –यानी 3 सेकिडो घटि जद॒हि तह केरेला में क्रिसचननि जी तादादि फकत 0.32 सेकिडो घठि आहे। इन जा सबब अमृतधारि तोडे सेहजधारि मसले खा सवाई भी के अहमि सबब आहिनि जिअं पंजाबी बो॒लीअ जो सिख धर्म में तमाम वधीक जोर। हिदुस्तानि में हर कोम जो प्रचारि दे॒हि बो॒लयूनि में पयो थिंदो रहयो आहे जद॒हि तह सिख धर्म जो प्रचारि अजु॒ भी घणो तणो पंजाबी बो॒लीअ में पयो थिऐ। जेतोणेकि गुरु ग्रंथ साहिब जो सिंधी में भी तरजूमो शाई थियो आहे पर इहो रूगो सिंधीयूनि जे चाहि सबब ई थियो आहे नह कि अकाल तखत जी जोर ते। वरि सिंध में जोकि दि॒सजे सिंखनि जा तादादि वधि आहे छाकाणि तह पिछाडिअ जे कनि द॒हाकनि में जहि रित सिंध में अण सिंधी मुसलमानि जो जोर वधयो आहे इन सबब बदलयलि हालतूनि में, सिंधी हिंदूनि खे खालसा सिख थी पाण खे कहि कदरु वधिक महफिजु पया सहसुस कनि। इहो ई नह पर जेके भी पंजाबी सिखनि जा जेके जथा पाकिस्तानि जे दौरे में वया आहिनि से सिंधी सिखनि जी सिख धर्म दा॒हिं लगनि दि॒सी वाईडा थी वेंदा आहिनि। (अजु॒ जद॒हि हे कालमि पयो लिखां तह खबरि पई तह चारि सिंधीयूनि डाकटरनि खे कतल कयो वयो आहे। यकिनिं इन हालतुनि में जेकरि सिंधी शिख खालसा थिंदां तह यकिनिं सिंधीयनि खे हिक ताकत मिलिंदी पहिंजे पाण खे सोघो करण जे नसबत)

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी सिखनि जी तादादि तकडी पई घटजे। विरहांङे खां अगु॒ सिंध में सिख धर्म सिंधीयूनि पहिजो नमूने पई लहायो। सिंध में तह कद॒हि भी अमृतधारि- सेहजधारि में को ऐदो॒ वदो॒ मसलो थियो ई कोनह, ऐं नह ई वरि कद॒हि हिक बे॒ खे अण-सिख साबित करण जी कवायति थी। सिंध में हिकु रिवाज इहो भी हूंदो हो तह सिंधी हिंदु पहिजी पहिंरो ज॒णयलि पुट खे खालिसे सिंखनि खे दिं॒दा हवा। जसिताईं सिधीं सिधं में रहया सिधीयनि सिक धर्म पहिजे रित पई हलायो पर विरहाङे बैद लदे॒ आयलि सिधीयूंनि सां इअं नह थियो। सिंधी नानिकपंथीयिनि सां भी चङा वयलि थिया आहिनि। ऐडहा चङा वाक्या पई थिया आहनि जिते सिंधी टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब खे हटायो वयो आहे इहो चई तह सिख धर्म इन जी मोकलि नथो दे ऐं हिक ईं हंद में गिता ऐं गुरु ग्रंथ साहिब जो पाठि नथो करे सघजे। ऐडहो हिक वाक्यो दिल्ली में के सालनि अगु॒ थयो -जते दादा चेलाराम जे टिकाणे मां राम नवमी जे मौके ते सुरुमणी गुरुद्वारा प्रभंधक कमिटि पारां टिकाणे मां गुरु ग्रंथ साहिब ह़टायो वयो इहो चई तह इहो सिख मर्यादा जे खिलाफ आहे। इन बैद जेतोणेक बाबा चेलाराम आश्रम ऐं कजहि सिंख सिख तंजमयूं में भी के ग॒द॒जाणयूं थयूं कर इन जो को भी फैसलो कोन निकतो। इहो सब इन जे बावजूद जे दादा चेलाराम सिंख कोम जो वदो॒ जा॒णू हो, आलिमु हो ऐं नानिक साहिब तोडे अमृतसर जे गुरुद्वारनि में शबत किरतनि करे चूको हो। हो पाण भी सिंख धर्म जा तमाम वदा॒ जाणु हुवा। यकिनि ऐडहनि वारदातनि सां सिंधी सिख धर्म खां पाण खे पासरो ई रखण चाहिंदा।

हिदुस्तानि खा. बा॒हिर भी ऐडहा साग॒यूं कोशशियूं कयूं वयूं आहिनि पर अकालिनि जे हिमायतिनि खे का भी कामयाबी कोन पई मिलि आहे। पाकिस्तानि में कोर्टनि इहो बिलकूल खाफु कयो आहे तह सिंखनि में ऐडहा के भे फर्क नह पई कबूल कया वेंदां। नंढे खंढ खां बा॒हिरि भी साग॒या मंजर दि॒सण में नजर पई आया आहिनि। इनहिनि मुलकनि में हिंदु सिंधीयूनि पारां अदा॒यलि टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब सां छेड छाड करण जी का भी मोकलि कोन दि॒ञी वई आहे। वरि बे॒ पासे इन गा॒ल्हि खे भी नजर अंदाजि नथो करे सघजे तह दुनिया जे जुदा जुदा मलकनि में जिते भी सिख रहया उते जरुरत पवण ते सिखनि या खासि करे खालसा सिखनि वार ऐं दा॒डयूं पिणि लारहायूं अथोऊं। इहो ई नह पर ईंगलेंड जे रोचेसटर शहरि में तह गुरुद्वारे में कृपाण खणी घुसण जी मञाई आहे तहि जो विरोध सिखनि कोन कयो आहे ऐं कजहि सालनि अगु॒ तह प्रांस में पगडयू ते भी प्रतिभंध लगाई वई आहे जेके सिख उते मञिनि था पया।
मशहूर सिख लेखक खुशवंत सिंह जो चवण आहे तह हिंदुस्तानि में लदे॒ आयलि सिंधीयूनि में हिअर सिखपणो घटयो आहे ऐं जेकरि इहो हालि रहयो उहो भी दि॒हिं परे नाहे जद॒हि सिंधीयूनि में सिख धर्म रहिंदो ई कोन। हे बयानि यकिनि हकिकतुनि ते बंधयलि नाहे। जेतोणेक सिंधी टिकाणनि में कमि आई आहे पर इन में को भी शकु नाहे तह सिख गुरुनि लाई मानु ऐं ईजति में का भी कमि कोन आई आहे। इहो थी थो सघे तह श्री खुशवंत सिंह खां सिंधी टिकाणनि में गुरु ग्रंथ साहिब सां छेडछाडि विसरि वई हुजे -इहो दिल्ली जेडहे शहरि में थियो जिते हो भी रहे थो। सिंधीयूनि में सिखपणे जी कमी जो हिक वदो॒ सबब विरहांङे सबब सिंधी हिंदुनि जो लद॒पण आहे। जेसितईं सिंधी सिंध में हूवा हू सिख पंथ खे पहिंजे रित पई मञो पर विरहांङे बैद सिख कोम ते अकालिन जो जोर कहि कदुरु वधी वयो। अकालिनि हमेसाहि ई सियासत ऐं कोम में को भी फर्कु कोन पई समझो आहे, ऐं हूकूमतयूं भी कहि कदरु इन गा॒ल्हि जी मुखातलिफ कोन कई आहे। वरि 1984 जे फसादनि में जदि॒हि सिंधी सिखनि भी नुकसानि सठो पर सिंधीयनि जो नालो ताई खोन खयो वयो जद॒हि तह सिंधी सिखनि खे भी झझो नकसानि सहणो पयो । अजु॒ भी सिख मतलब पंजाबी बो॒ली गा॒ल्हाईंदड ई मञयो वेंदो आहे। नह तह जेकरि विरहांङे जे यकदम बैद जे दि॒हिनि में दिसजे तह सिंधी सिख गुजरात, राजिसतानि या महाराष्ट्र में सिंधी नानिकपंथी तोडे चिकाणनि जी वदी॒ ताअदादि हुंदी हई ऐं कोटा खे नंढे पंजाब कोठयो वेंदो हो।

अजु॒ इन जी तमाम जरुरत आहे तह सिंधी कोम मिडिया में अग॒ते वधी अचे ऐं सिंधी टिकाणनि ऐं सिंधी नानकपंथीयूंनि में हिमायति में जोखडो कजे। सिंधी टिकाणा सिंधी सकाफति जा हिस्सा आहिनि ऐं इन खे जिंदो रखण हर सिंधी जी जिमेवारी आहे। अजु॒ इन जी तमाम घणी जरुरति आहे तह सिंधी पंहिचातयूं सुजा॒ग थेनि नह तह असीं सिंधी नानिक पंथियूनि खे शायदि हमेशाहि लाई विञाऐ वेहिंदासिं।

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ जे द॒हाके में ई वजूद में अची वया हवा पर कमपयुटर ऐं आम रिवाजी माण्हुनि जी वाटि विंडोज जे वजूद में अचण सां पुख्ती थी। पर छो तह कमपयूटर जी इजाद उलहँदे मुलकनि में थी, इन सबब इन जो पूरो फईदो भी रोमन लिपी ई माणियो। पर होरया होरयो अण-रोमन लिपि लिखिंदडनि में भी इन करिशमें दा॒हिं छकंदियूं वयूं। पर इन जे बावजूद यूनिकोड जेडही का शई नह हुजण सबब कमपयूटर में दे॒ही बो॒लयूनि लिखण ऐं पढ़ण हमेशाई ई कहि चूनोतीअ खां घ़टि नह रही आहे।

युनेकोड जो इजादि कमपयुटरनि की दुनया में हिक वदो॒ जूनून खणी आई। युनेकोड जे ईजादि खां वठि जेको मसलो रोमन ऐं अणरोमन रहयो हो सो लग॒ भग॒ हमेशाह लाई खत्म था वयो। युनिकोड सबब इहो ममकिनि थी सघो तह को भी शख्सु दुनिया जे कहि भी हिसे में हुजो ऐं को बी कंपयुटर जे कहि भी आपरेटिगं सिसटम हलाऐं भी पहिजी बो॒ली ऐं लिपी सा गंढजी रही थो सघे। युनिकोड जे इजाद बैद मसलो इहो भी आयो तह किअं यूनकोड खां अगु॒ जो मवादु खे कमपयूटर में आणिजे ऐं इतो खां ईं शुरु थी किताबनि जे डिजीटलाईजेशनि जो खयालु। डिजीटलाईजेशन पाण सां ग॒दु॒ के अहम सहुलतयू खणी आई जेके कजह हिन रित आहिनि…

  •  अणलभ किताबनि बि॒हिर पढिंदड अगयां पेश करण जी सहुलियति
  • लाईब्रेरि ऐं पढिदडनि जे वचियों दुरि खे कहिं हदि ताई खतम करण
  •  पहिजे जरुरत मोजिबु सहूलाई सां गो॒लह (Searchable text) जेको आम दसतावेजनि में ममकनि नाहे।

अणलभ किताब या छापे खां बाचहिरि किताबनि जो मसलो हिकु ऐडहो मसलो आहे जहिं सां हर कहि बो॒लीअ खे मुंहू थो देअणो पवे। मसलो इन लाई थो अचे जे कितावनि जे छापे जी तादाद हमेशा ई किताब जे घुर ते भाडयलि हुंदी आहे। इहो ई नह उन साग॒ये किबाब जो ब॒यो को छापो तद॒हि ई शाई कयो थो वञे जद॒हि उन किताब जी घुर वधे थी। इन सब कमन में वरि चङो वकत भी थो लगी वञे जहिसां पढिंदडनि थे चङयूं तकलफियूं थूं सहणयू पवनि। डिजीटलाईजेशन बैद अणलभ किताबनि जे नसबत फाईदो इहो थो पवे तह आनलाईनि छापे जो खुटण जो को सवाल ई नथो अचे। जहिंखे जद॒हि खपे सो डाउनलोड करे थो सघे।

ब॒यो मसलो आहे किताब ऐं लाईबरेरिअ जे मंझ वेचो घटाअण जो—अम तोर सा किताब पढहण जा ब॒ वसिला आहिनि। हिकु तह किताब वण्जे या नह तह कहिं लाब्रेरीअ मां उधारो वठजे। डिजीटईलेजेशन सां ऐडहनि मसलनि में अहम मदद थी मिले। जेकरि को किताब डिजीटलाईज थो कयो वञे तह ई-लाबरोरि जे जरिऐ पडही थो सघजे। हिदुस्तानि तोडे परदे॒हि में ई- लाबरेरि तमाम घणयूं मकबुल थयूं आहिनि। हाणे लग भग हर वदि॒ युनवरसिटि खे पहिजी ई- लाईवरेरि आहे जहिजी मदद सा पढिंदड दुनया जे कहि भी कुंड कुरच में रही इन ई-लाबरेरि जे जरिऐ किताब पडी था सघिनि।

डिजीटाईलेशन में जेका टियो अहम फाईदो थो दि॒सजे सो आहे किताब में कहिं खासि लफज जी गो॒ल्ह। आम तोर सां कहिं भी किबाब जे पिछाडीअ में पनोतिरो थिऐ थो जहिजे मदद सां किताब में लिख्यलि को भी लफ्ज गो॒ल्हे लधो थो वञे। पर डिजीटलाईजेशन सा साग॒यो कमु तमाम घट वकत में थी थो सघे ।

डिजीटालाईजेशनि में हिक वदो॒ जनून तहि महल आयो जद॒हि इंटरनेटि जी वदे॒ मे वदी॒ खोज साईट गूगूल दुनया जी 350 बो॒लयूनि खे डीजाटीलाईज करण जी पधराई कई। इन कम जे नसबत चङनि बोलयनि ते कम पिणि थयो । सिंधीअ में खास करे गुगुल टे किताब डीजाटीलाईज कया जहिजा कागरी छापा हिअर अणलभ आहिनि। मसलनि- केपटेन जोर्ज इसटेक जो सिंधी – अग्रेजी लुगति, अग्रेजी- सिंधी लुगत ऐं सिंधी वयाकरण। पर इन खां सवाई तमाम थोड़ा ई देवनागरीअ सिंधी में किताब डिजीटलाईज कया आहिनि, वरि जेके कया भी वया इहे मखमल किताब नाहिन। रुगो किताबनि जा कवर ई आहिनि। सागे॒ रित अर्बी सिंधीअ में ऐडहयो हाल आहे। अर्बी सिंधीअ में खीसि करे को घणो कम कोन थयो । हिंदुसथानि में इन जो हिकु सबब तह समझी थो सघजे तह नई टेही अर्बी सिंधी कोन थी पढे पर सिंध सां इअं गुगुल जो वहंवार सम्झ खां परे आहे। इहो ममकिनि आहे तह गुगुल पिणि पाकसथानि जे उर्दू खवाहि अंग्रेजी मिडया जा शिकारि थी थियलि भासिजे जेके सिंधीअ खे हिक मूअल बो॒ली करारि देअण जो को भी मोको कोनि विञाईंदा आहिनि।

जेतोणेक गुगुल जी नजरि खां सिंधी बो॒ली कहि कदरु विसरि वई आहे पर इन जे बावजूदि सिंध में सिंधी किताबनि जे डजीटाईलेजेशन में चङो कमु थियो आहे। सिंधी अदबी बोर्ड, जामशोरो सिंध खोड़ सिंधी किताबनि खे बि॒हरि कंपोज करे पहिंजी वेबसाईट में शाया कया आहिनि। साहित्य जी Wऐड़ही का भी संफ नाहे जहिते कमु कोन थयो आहे। कहाणयूं, नावेल, लोक अदब, लुगति, कविताऊ, अत्म कथा, सफरनामा, नाठक वगिराह ते चङो कमु कयो वयो आहे। संदिनि विरहाङे खां पोई तोड़े अगु॒ जे सिंधी साहित्य खे ग॒दु॒ कयो आहे जहिं लाई अदबी बोर्ड खेण लहणे। शाबसि आहे अदबी बोर्ड खे इन कम खे अंजामु दि॒ञो आहे। जेतोणेक इन गाल्हि मे को भी शकु नाहे तह टेकनोलाजी जे नज़रइऐ सां अदबी बोर्ड हिंदुसतानि में थिंदड़ डिजीटाईलेजेशन जे मयार खां कहि कदुरु घटि आहे पर तद॒हि भी जेको कमु अदबी बोर्ड कयो आहे सो को घटि भी नाहे। अजु॒ को भी सिंधी दुनया जे चाहे कहि भी कुंड कुरच मे थो रहे, सिंधी साहित्य खां वाकिफ रही थो सघे। इहा पाण में ई हिक वदी॒ कामयाबी जी गा॒ल्हि आहे।

इन खां सवाई सिंधी में एडहयूं चङयूं कोशिशयूं थिअल आहिनि जहिं जे मार्फत सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे नसबत कम कयो पयो वञे। जेतोणेक इहो कम शख्शी तोर थिअल आहिनि पर इन जे बावजूदि इन कमनि खे नजरि अंदाज नथो करे सघजे। इन जा मिसालि आहिनि वाऐसि आफ सिंध, शखर सिठी ऐ ब॒यूं वेबसाईटयूं. आहिनि जहिजे में जे मार्फति सिंधी साहित्य सां वाकिफ थो थी सघजे। पिछाड़ीअ में गा॒व्हि कंदसि इसकराईब जेहि में थोडो ई सहि पर सिंधी मवादि थो मिले।

जेसताईं हिंदुस्तानि में डिजीटलाईजेशन जी गा॒ल्हि कजे तह हित डिजीटलाईजेशन जो कमु घणो तणो सरकारि जे माली मदद सां ई थयो आहे। इन में सबनि खा पहिरों नाTऊं डिजीटल लाईब्रेरी आफ इंडिया जो आहे। इहा पराजेक्ट तमाम वदी॒ आहे। मुल्क में इन कम लाई 21 जायूं आहिन जिते किताबनि जूं इसकेनिङ जो कम थे आहे। इहा पराजेक्ट इंडईयनि इंसटियटि आइ साईंस, कार्नेग मेलनि युनवरसिटि, नेशनल साईंस फाउंडेशनि, मिस्र जी ऐम सि आई टी ऐं इंट्रा युनिवरसिटी सेंटर फार ऐंसटेरोनामी ऐं ऐसट्रोफिझीकस, पुणे जो गद॒यलि सहकार सां वजूद में आयलि आहे। इन पराजोकट जे माईफति लग भग अढाई लख किताब जुदा जुदा संफनि में डिजीटलाईज थी चुका आहिनि। जेतोणेक इन में अंग्रेजी किताबनि जी घणाई आहे पर दे॒ही बो॒ली जी जा भी चङा किताब शाई थियलु आहिनि। जेसिताई गा॒ल्हि सिंधी जी आहे तह तमाम दु॒ख ऐं अफसास सां थो लिखणो पवे तह सिंधीअ खे विलकूल ई नजरअंदाज कयो वयो आहे पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा भी आहे तह इन बाबत कहिं सिंधी संसथा हुलु भी कोन कयो। हा पर सिंधीयूनि ऐं सिंधी बोलीअ बाबत जरुर के किताब डिजीटलाईज थया आहिनि जनि जे घणाई अंग्रेजी जी आहे ऐं ऐकड बे॒कड बंगला ऐं तमिल बो॒लीअ में आहे।  हिंदुस्तानि में ब॒यनि बो॒लयुनि जे भेट में सिंधी बो॒लीअ में  डिजीटाईलेजोशनि जी तह यकिनं असां तमाम पोईते रहिंजी वई आहे, इन जो हिकु सबब इहो भी थो दि॒सजे तह नई टेहि जहिंजे चाहि सबब आई टी ऐतिरो अग॒ते वधी सो सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य कां कोसो परे आहे।

डिजीटाईलेजोशनि जे नसबत सिंधुनि में के अहमि मसला आहिनि। पहिरो मसलो आहे तह जेकरि डिजीटाईलेजोशनि थे भी तह केडही लिपी में थे। जेकरि आर्बी लिपीअ में इन कम खे हथ में खणजे तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह इन में कयलि महनत सखार्थी कोनि थिंदी छा पोणि तह पढंण वारा तमाम घटि मिंलिंदा। वरि जेकरि देवनागरी लिपी में डिजीटाईलेजोशनि कजे तह खर्च जो भी मसलो आचे थो, छाकाणि तह कतानि बि॒हरि कम्पोज, फरुफ जा कम था अची वञिनि। इन बैद मसलो आहे तह इन जे सर्वर जी जिमेवारी कहिंजी हुंदी। इन कम खे आगते केरु वधाईंदो. पिछाडीअ में इहा बी गाल्हि विसारण नह खपे तह देवनागरीअ खे जेके सिंधीअ जी नाजाईस लिपी था मञिन तन खे किअ भरोसे में आणजे जे हो कमु आगतो वधे।

जेकदिहि लिपीअ जो मसलो आहे तह यकिनं देवलागरी हिक वेहतरिनि लिपी आहे। ध्वनी स्वर लिपी हुजण सबब लिखण में भी तमाम तहुली थी थिऐ। इहो ई नह अर्बी सिंधीअ जे भेटि में ऐडहा तमाम घटि लफज आहिनि जेके लिखया हिक नमूने था वञिनि ऐं पढयो धारि नमूञे । इन खां सुठी ऐं ठाहूकि लिपी सायदि ही सिंधीयूनि खे मिलि थी सघे। ब॒यो तह इहो तह लिपी सबनि खे अचे थी, छा काणि तह देवनागरी अखरनि सां पूरो उतर हिंदुस्तानि वाकिफ आहे जिते सिंधी रहिनि था। जेकसाई गा॒लिह कजे थी इन प्रोजेक्ट लाई खपिंदड पैसे जी तह सिंधी बो॒लीअ लाई झझो पैसो दिञो थो वञे, भले उहो ऐल. सी. पी.सि ऐल हुजे या सिंधी आदादमयूं। इहा गा॒ल्हि कहिं खां गु॒झी नाहे तह सिंधी अकादमयूं पहिजो महदूद बजेट खर्चण में कसिरि आहिनि, छा काणि तह संदनि वटि को घणयूं पराजेकट आहिनि कोन्ह।

डिजीटलाईज सिंधी बो॒लीअ जी हिक अहम जरुरत आहे। जेकदचहि असीं नंढे खंढ जे कोमनि खे दिसिंदासिं तह ऐंडहो सायदि ई को कोम हूदो जेको सिंधी हिंदुनि जेतरो टरयलि पखरियलू हूंजे। अजु॒ सिंधी दुनिया जे सठ मुलकिनि में रहिनि था। मसतब तह अव्हा जिते भी वञो – एशिया, अफरिका, उतर या द॒खिनि अमेरिका या युरोप जिते किथे अव्हां खे सिंधी लभिंदा। जदि॒ही ऐडहे वदे॒ ऐलीईके में सिंधी रहनि तह बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत रुगो॒ रिवाजी किताब जी पहुच ममकिन नाहे। सो इते ई गा॒ल्हि अचे था डिजीटलाईज जी। असां खे इहा गा॒ल्हि बिलकूल नह विसारण खपे तह अजु॒ टेकनोलाजीअ जो जमानो आहे ऐं जेकरि को इहो मौको विञायो वयो तह इहो ममकनि आहे तह इन जी जाई बी॒ का धारि बो॒ली अख्तयार कई वेंदी जहिजो मतलब इहो तय़ो तह सिंधीअ जी नेकालि हाथयो पक थी वेंदी। अजु॒ जी हालति में इन्टरनेट ई ऐडहो साधन आहे जहिजे जरिऐ सिधी तमाम थोडे वख्त में बो॒लीअ जो फहलाव मखमल करे था सघिनि। अजु॒ सिंधी बो॒लीअ खे हिक ऐडही टेकलालजीअ जी जरुरत आहे जहिजे मार्फति सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जो वाधारो घटि में घटि वकत में थी सघे। युनिकोड असां सभनि लाई हिक राह दा॒हीं इशारो कयो आहे ऐं जेकरि असी इनि जो फाईदो कोनि वर्तोतिं तह मुल्क तह विञायोसें ई हिअर सिंधी बो॒ली पिणि विञाऐ वेहिंदासिं।