रिंकल जूं मिंथां

सुधीर मौर्य हिंदी भाषा जो कवि तोडे लेखक रहयो आहे। हेल ताईं तंदुसि जा ड॒हि खनु किबात शाई थी चुका आहिनि। जा खां रिंकल तोडे अगवा थियलि सिंधी हिंदु नयाणयूं जे हिमायत में ऐतजात हिंदुस्तान में शुरु थिया हूं हिंन जाखडे में बराबर जो हिमायति रहयो आहे।

sudheer

जईफाउनि जे आलमी डि॒हिं ते हिंदी कवि तोडे लेखक सुधीर मौर्य को रिंकल जे नाऊं कविता ।

रिंकल जूं मिंथां

gzala shah

अजु॒ जी राति पिणि

कारी ई निकती

भिंभ कारी उंदाहि

छो लिखी डि॒नुइ

मूहिंजा साईं

नसिब में मूहिंजे

आऊं त बु॒धो हो

उभ जी भूंई ते

सरहदयूं न हूंदियूं आहिनि

उते को

हिंदु या मोमिनु नाहे

उते को

सिंधु या हिंदु नाहे

तूं मथे आहिं

इन रिवाजन खां

आखिर तूं

उभ वारो आहिं

पर वरि छा थयो

जे मूहिंजो सडु॒

तुहिंजे कनन ताईं

दसतक न डे॒ई सघयो

अडे मूंहिंजा साईं

अडे मूंहिंजा इशवर

आऊं अञा भी

तोखे

उभ वारो ई लेखिंदी आहियां

पर तूं छो

मूंखे

भूंई जी

निधिकणि कोन समझुई

अडे उभ वारा

नाउं यादि आथी न मूंहिंजो

आऊं रिंकल कुमारी आहियां

या वरि

तूं पिणि

मूंहिजो कोई ब॒यो नाऊं

रखि छड॒यो अथी

कवि – सुधीर मौर्य सुधीर

 

सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

22 सालनि जो हबीब हैदराबाद सिंध जो जावल नोकजवान लेखक आहे।  संदुसि लेख रोजाने अबरत ऐं अवामी आवाज में शाईं थिंदा रहया आहिनि। हित संदसि लिखयलि ताजो लेख हिंदुस्तानि जे सिंधीयूंनि लाई शाई कजे थो। जसु लहणे हबीब जहि सिंध जे हिंदुनि सां थिंदड नाइसाफियूंनि बाबत आवाज उधारण जी कोशीश कई आहे। उमेदि तह हू अग॒ते बी साग॒ऐ मसले ते लिखिंदो रहिंदो।

 habib

 

सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

 

रोईंदड डा. लता ऐं डा॒हिंयूं कंदड रिंकल कुमारीअ जी दर्दनि भरी कहाणी खे आखिर केरु शाई कंदो? सिंध जी इजत खे दाउ ते लगा॒अण वारनि खां आखिर केरु पुछिंदो ? हे सवाल सिर्फ सामाजिक कारुकनिं ऐं कालम निगर मार्वी सरमद जो नाहे ऐं नह् ई वरी ऐं नह् जेकोकाबाद जे रहवासी डा. लता जे पिणसि डा. रमेश कुमार ऐं नह ई मिरपुर माथिले जी रिंकल कुमारीअ जे मामे राज कुमार जो आहे, पर हे सवाल हर हिक अमड जो आहे जिन जे दीअरनि खे हथियारनि जे जोर ते अगवा करे जबरदसती मजहब तभधील कराअण बैदि साणनि शादयूं करायूं वयूं ऐं अमडयूं याद में हेल बी डि॒अरी जूं खुशयूं नह मञाऐ सघयूं , संदुनि लेखे सिता अजु॒ भी रावण जे कोट में कैदि आहे। पर इहा हिक भयानक हकिकत आहे तह मजहब जी आड में हिंदुनि खे ऐतिरो तह हिसायो  वयो जो हो धर्ती धणी ऱोज रोज खुआर थिअण खां बचण लाई धर्ती माउ जे हथ मां हथ छडा॒ऐ सभ रिशता, नाता खतम करे हमेशाहि लाई भारत वञी रहया आहिनि। हू धर्ती काण खणी जूलम तश्द बरबरयत भी कनि पर पहिंजी नयाणियूंनि जे इजतयूं खे लूटिंदे नथा डि॒सी सघिनि।

डा लता ऐं रिंकल वारे मसले ते बी मिडिया समेत सियासी पार्टियूं ऐं उन जे अकलयती (हिंदु) अगवान भी मजरमाणी खामोशी इख्तयार कई, इहो ई सबब आहे जो हिंदु भाउर मायूंस थी धर्ती माउ सां वेवफाई करण वारो रसतो अख्तयार कयो, ऐं हेल ताईं हजारनि माण्हूं धर्ती खे अलविदा करे चका आहिनि।

तोजो ठूल (सिकाकपूर) मां पंज हिंदु खांदान जेके सोरहनि भातियूंनि खे मशमतिल हवा मातृभूमि खे आखिर सजदो करे छडे॒ वया।

माईटनि खां मोकलाअण वक्त संदुनि अख्यूंनि मां रत जा गो॒डहा वहण लगा॒, संदुनि कैफत खे लफजनि में बयान नथो करे सघजे, इहा हिक हकिकत आहे तह सिंध हिक वडो॒ अर्से खां डो॒हारियूंनि खे मफाहमत जे नाले ते छडवाग॒ छड॒यो वयो. सिंध जा हिंदु भी इंसान आहिनि खेनि इख्लाकी तोर मदद करण बिदरां उलटो खेनि इंसान ई नह समझण साणनि वडी॒ जयादती आहे ऐं ऐडहे जयादतीयूंनि करे मजबूर थी सिंध खे अलविदा करे रहया आहिनि, को भी शख्स खुशिअ मां पहिंजा अबाणा कख ऐं पहिंजी माउ जेडही धर्ती नथो छडे॒, जहिं धर्तीअ सां संदसि नंड्हपण जूं यादूं वाबिस्तह हूंदयूं आहिनि.

rr

जहिं जे सिने ते तरयूं खोडे बांबडा डे॒अण सिखो हो ऐं माउ जूं आंङुर पकडे हलण सिखो हो , अजु॒ जड॒हिं उहे मातृभूमि खां कच्चे धारे वाङुंरु टूटी धार थी रहया आहिनि तह इअं महसूस थिऐ थो ज॒णु सिंध जे वजूद जा ब॒ह हिस्सा थी रहया आहिनि।

कड॒हिं वई आखिरि उहा सेकूलर सिंध ?? .जहिं में हिंदु ऐं मूसलमानि माने खाईंदा हवा, कंलंदर ते धमाल भी ग॒ड॒जी कंदा हवा, तह् डि॒आरीअ जा डि॒आ भी ग॒ड॒जी बा॒रिंदा हवा, हाणे जड॒हि हिंदु भाउर सिंध छडे॒ वञी रहया आहिनि तह् लाजमि आहे तह् संदुनि जाई अची ब॒यनि मूल्कनि जा पनाहगिर  वालारिंदा, जहिं सां सिंधी बो॒लीअ जे मस्तकबिल (भविषय) ते नाकारी असर पवंदा ऐं सिंधीयूंनि (मूसलमानि सुधा) जी अकलियत (थोडाई) में तबधील थिअण जा ख़दशा पिणि मोजूद आहिनि। हिंअर बी जरुरत उन गा॒ल्हि जी आहे तह कहिं राम जे इंतजार करण बिदरां मजहबी तोडे सियासी पार्टियूंनि, अदीबनि ऐं दानेशव्रनि खे हिन नाहायति ई अहम मसले जे हल लाई संजीदगी सां सोचण घूर्जे, किथे इअं नह थिऐ जो मजहबी इंतहापंसंदी हर जहनि ते हावी थी वञे ऐं असां हथ महटींदा रहजी वञोउ !!!

 

लेखक- श्री हबीब अलरहमान जमाली

उलथो – राकेश लखाणी

छो सिंधी हिंदू निंधकणा थिंदा आहिनि


 

26 तारिख नेठि रिंकल कुमारीअ ऐं डा लता खे पाकिस्तान सुपरिम कोर्ट जे मुख्य नयायधिश जसटिस इफतिकार महूमद चौधरी जे अग॒यां पेश कयो वयो। रिंकल जे रिहाई जी लडाईं विडहिंदड संदुसि वेझा माईट, हिंदु पंचायति तोडे सिविल सोसाईटीअ जे करिरुनिं लाई सुपरिम कोर्ट ताई इहो जाखडो कहिं भी रित सहूलो किन हो। सुरुआति जे दि॒हनि में सिंध जी हिंदु पंचायति खां सवाई मस जेडहा अंङरयूं ते गणिदड सिविल सोसाईटी जा मेमबरि ईन ऐतिजाजनि में मिडिबा हवा। पर इन जे वावजूदि रिंकल कुमारिईअ जा मिट माईट कद॒हि बि॒ हिमथ कोन हारी। जहि रित संदुनि ईहा लडाई अग॒ते वधाई आहे इहा भी पहिंजे पाण में हिक मिसाल आहे।

 

सिंध में रहिजी वयलि सिंधीयूंनि में हमेशाहि ई ऐके जी कमि रहि आहे खासि करे 1947 खां पोई जे हालतुनि में। अजु॒ जी तारिख में सिंध जा 80 सेकिडो हेठोउ जातिअ जा आहिनि जद॒हि तह नुमाईंदगी (सिंध तोडे कोमी ऐसम्बली में) रिवाजी सिंधीयूंनि जी ई घणी रहि आहे जहि सबब हिंदु कद॒हि भी हिक पेल्टफार्म में अचण खां कासिर रहया आहिनि। रिंकल कुमारीअ तोडे ब॒यनि सिंधी हिंदु नियाणीअ जी आजादि जे जाखडे जे नसबति भी इहे फर्कअ चिटा पधिरा थिया खासि करे शुरुआति जे दि॒हनि में। सिंध दलितनि में ऐडहि का चाहि कोन दे॒खारि इन जाखडे जे नसबति पर कनि दि॒हनि बैदि नेठि इन ऐतजाजि में इचि मिटया जद॒हि खेनि लगो॒ तह इहा लडाई हर हिंदु जी।

हिक लंङे दि॒सजे तह सिंधी नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण- जि इसलाम कबूल कराअण- जोरि पणजाअण  ऐं इन बैदि कोर्ट जे अग॒यां पहिजी चाहि जो परणो करे दे॒खारण जूं वारदातयूं जो शिकार वध में वध शिकार सिंधी दलित नयाणियूंनि खे ई थिअणो पयो आहे। इहो ई सबब आहे तह जद॒हि इहा मुहिमि कहि हदि ताई पधरि थी तह सिंधी दलितनि मर्दअ तोहे जाईफाऊं घणे चाहि सां हिस्सो वर्तो। मिपुर माथिले खां हैदराबादि ताई पेदलि ढिगी मार्च कई वई जिअं सजी॒ दुनिया खे सिंधी हिंदु बिरादरीअ सां थिंदड वयलिनि बाबति मिडीया में हूल पवे। संदुनि ऐं सिंध में कनि सेकुलर अखबारनुवेसअ जे जाखडे सबब नेठि इहे मसलो सुपरिम कोर्ट ताईं पुगो॒।

26 तारिख सुपरिम कोर्टि में रिंकल ऐं बयनि सिंधी हिंदु नयाणयूंनि जो मामले शुरु थिंदे ईं सामाजिक तानेबाने जी वेबसाईट फेबूक तोडे टूविटर में इन केस बाबति अहवाल वंढजण लगा। सिंध में अवामी आवाज  में कालम लिखिंदड साईं असद चांडियो मिंट मिंट जो अहवालि फेसबूक जे जरिऐं वंढायो। अहवालि मोजिबु शुरु में जद॒हि रिंकल खे घुराऐं मुख्य नयायधिश जनाब ईफतिकारि मूहमदि संदूसि नालो, संसुसि पढाई ऐं के ब॒या सवालि पुछण शुरु कया पर जिअं तह रिंकल इहे जवाब दि॒अण में कहि रित मुंझे पई सो  जज सभिनि खे बा॒हरि वञण जी हिदायति  दि॒ञी। चयो थो वञे तह व बैद रिंकल ऐं डा लता  सां मुख्य नयाधिश जस्टिस इफतिकार महूमद चौधरि लग॒ भग॒ अध कलाक ताईं सिंधीअ में गा॒ल्हिइयो जिंअ रिकल जो बे-ढप (बे-खोफ) बयान रेकार्ड करे सघजे। सागे॒ रित डा. लता जो पिणि बनान वरतो। बिहिनि हिंदु नयाणियूंनि साग॒यो ई ब॒यानु दि॒ञो तह खेनि को चाहि जो परणो किन कयो आहे, तह खेनि अगवा कयो वयो आहे-तह हूं पहिजे माईटनि जे साणु पहिजे घर थयूं  वरण चाहिनि।

 

मुख्य नयाधिश जा भी जेके बयानि फेसबुक में नसर थिया से भी ऐतबार, थाईंको दिं॒दड हवा। हुन इहो वाजिहि कयो तह इहे नय़ाणयूं संदुसि धिअर रित आहे, तह हिंदुनि खे पहिंजी जिंदगी पंहिजे रित जुजारण जो पूरी आजादि दि॒ञी वञे वगिरहि वगिराहि…पर जेके फैसलो चिफ जसटिस दि॒ञो सो घणनि खे हैरान जेकरि नह भी करे वाईडो जरुर कयो। मुख्य नयाधिश पहिजे फैसले में इहो वाजिहि (साफ) कयो तह ब॒नहिनि बयाणियूं पहिजे माईटनि साणु पिहिजे घर वरण जी गा॒ल्हि कई आहे। पर छो तह संद्नि इसलाम कबुल कयो आहे (या करायो वयो आहे) सो 18 ऐपरिल बि॒हरि संदुनि खां बयानि वर्तो वेंदो। हून अग॒ते इहो भी चयो तह खेसि उमेदि आहे ऩयाणयूं साग॒ये बयानि पहिजे इंदड पेशि में पिणि दिं॒दयूं जहिजे बैदि खेनि पहिंजे माईटनि जे हवाले कयो वेंदो।

मुख्य नयायधिश जो फैसलो यकिनि के अहम सवालि पैदा कया मसलनि

क)   जद॒हि नयाणयूं बयान थयूं देनि खेनि पहिजे माईटनि जे साणु संदुनि घर वञण दि॒ञो वञे तह पोई छो नयाणियूंनि खे जालाणे पनाहि घर (दारासलाम) में मोकिलो पयो ?

ख)   जेकरि रिंकल ऐं डा. लता इहो बयानु दे॒नि हा तह खेनि इसलाम कबूल कयो आहे ऐं संदुनि खे माईटनि जे घर वञण जी का भी शुवाईश नाहे तह छा तद॒हि बी नयाणियूंनि खे पनाहि घर में मोकिलयो वञे हा ?

ग)    मूख्य नयायधिश पाण बि मञयो तह इन मसले खे मज़हबी रंङु नह दि॒ञो वञे पर संदुसि फेसले में इंऐ ई पई भासयो तह जज जे दिमाग में इसलाम हावि हो। जेकरि इंऐं नाहे तह पोई छो रिंकल ऐं डा. लता खे जालाणे पनाहि घर में मोकिलो वयो जिते हूनिनि अगे॒ भी ब॒ह हफता गुजारा आहिनि ?

घ)    अञे हफतन अगु॒ जी गा॒ल्हि आहे जे पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जी हिक जाईफां मेंबर सेनेट जी चूंडनि महलि हिक चुनावी कम में मुकर्रर कयलि हिक छोकरिअ खे चमाठ हईं हूईं तह मुख्य नयायधीश इन वारदाति सबब नह रूगो॒ इन मेंबर खे दब॒ पटी हूईं (फटकारि) ऐं इन खे पकिस्तानि जी जमुरियति (गणत्रंत) लाई हिकु वदो॒ खतरो करार दि॒ञो हो पर जद॒हि मिया मिठू जे कहि लुचे दोस्त रिंकल कुमारिअ मिरपुर माथिले जे अदालति कारवाई जे विच में रिंकल जे पहिजे माईट दा॒हि मोठी वञण जे ब॒यानि ते जज जे हाजुरि में चमाठ हईं हूंई तह नह तहि महल ऐं नह  ई 26 तारिख मुख्य नयायधिश इन वारदाद बाबति लफजु किल गा॒ल्गिईयो।

ङ)     जद॒हि हे केस अगवा जो आहे तह पोई इन जी पुलिस रिपोर्ट छो नह तलब कई वई। ईहो यादि रखण घुरजे तह रिंकल ब॒नि पुलिस ऐदेदारनि ते इन मामले में मिडया तोडे सिविल सोसाईटी जे ऐतजाजनि बैद कारवाही थी चूकी आहे।

च)    ऐ सभनि खां अहमि गा॒ल्हि छा पाकिस्तान जो मुख्य नयायधिश कठिन ऐं मुशकिल फेसला वठण खां कासिर आहे। छा खेसि मोलवियूंनि जो ढपु पयो सताऐ।

 

सिंधी मिडिया जे अहवालनि मोजिबु रिंकल ऐं डा लता खे कहि भी अखबार नुवेसनि खां परे रखयो वयो। मिडिया मोजिबु जद॒हि कोर्ट जो फैसलो पधिरो कयो वयो तद॒हिं रिंकल रोईंदे जेको कजहि तह जो तर्जूमो कजहि हिंन रित आहे…..

सभ हिक – बे॒ साणु गंडयोलि आहिनि। हित रूगो॒ मुसलमानि खे बुधो वेंदो आहे। मुखे भले हिन कोर्ट में ई मारे छदो पर जालाणे पनाहि घर दे॒ नह मोकिलो। मुखे हूं मारे छदिं॒दा।  

रिंकल तोडे डा. लता जे माईटनि जो भी इहो ई चवण हो तह खेनि नियोणयूं मोटायूं वञिनि। पर इन जे बावजूद नयाणयूं कोन मोठायूं वयूं। सवालि हाणे इहो थो अचे तह जेकरि रिंलक खे आजादि करणो ई कोन हो तह हेतिरो डरामो छो रचायो वयो। सभनि खे खबरि आहे तह जालाणो पनाहि घर में हिक हिंदु नियाणी इहो भी पहिजो वातु खोलण खां पोई केतरे सुख में रहण दि॒ञो वेंदो। पर जिअं मिरपूर माथिले में थियो तिअं ई सुपरिम कोर्ट में थियो रिंकल तोडे ब॒यनि नियाणिअ जे माईटनि जी हिक बी गा॒ल्हि कोन बुधी वई। सचु तह रिंकल चयो हो पाकिस्तनि में हिंदुनि जी कोम बूधी वेंदी आहे। जेकरि कहिंखे इन जो सबूत खपे तह मिरपुर माथिले में ई वञी दि॒से जिते हिक हिंदु छोकरे इसलाम कबूल करे हिक मुसलमानि छोकरिअ सां प्यार जो परणो कयो। पर पुलिस इन प्यार जो परणो कंदड आशिक खे छोकरिअ खे अग॒वा जे केस थोपे हिरासत में वरतो हो हिक महिने खां जेकलनि में पयो सडे थो।

 

जेका गा॒ल्हि रिंकल कुमारी कई सुपरिम कोर्ट खां बा॒हिर कई सा गाल्हि हर हिंदु अव्हां खे कंदो बस अव्हां खे संदुसि वेझो वञणो पवदो। मां शोशल नेटवरक फेसबूक जे जरिऐ जाम सिंध में हिंदु सिंधीयूंनि जे वेझो रहयो आहियां। आम तोर तह हूं सुफी मत जूं गा॒ल्हियूं कंदा आहिनि, सिंध खे पहिजो सभ कजहि मञनि पर जद॒हि चेट ते अचिनि तह सभनि जो सागो॒ ई रोअण, चवनि अबा॒ हाणे सिंध खां बस कई। खद॒ में पवे ऐडहो मूलक जेको सिंध में हिंदुनि खे तहफूज (सुरकक्षा) नह द॒ई, जिते असां जी लज॒ कद॒हि भी निलाम थेअण में मिंठू नह लगे॒। ऐ इहा गा॒ल्हि मूंखे हर हिक हिंदु सिंधी कई आहे। के चवनि जां खां इहो मसलो आयो आहे तह असां हिंदुनि खे माऊं भेण जूं गारयूं पयूं दि॒ञयूं वञिनि। सरे आम हिसायो पयो पञे। मियां मिठू जा हिमायति था चवनि तह जेकरि हिक रिंकल खे आजादि कयो वयो तह असीं 4 हिंदु नियाणियूंनि खे अग॒वा कंदासि। इहे सब धमकयूं सरे आम पयूं दि॒ञयू वञिनि। इहा धमकी अवामी आवाज जे पहिरे सुफे में शाई थियलि हूंई। इन सां समझी थो सघजे सिंध में हिंदु बिरादरी जी हालति केतरि नह निधिकणि (बे सहारे वारि) आहे।

सिंध में का भी सियासी तंजिनि अग॒ते कोऩ वधी आई आहे इहो चई तह साईं हिदुनि सां इहो थिऐं छा पयो, सवाई ऐकड बे॒कड अग॒वानि जे मसलनि जिऐ सिंध जो रियाज चांडियो। श्री रयाज चांडियो हिंदुनि खे पूरो साथु दि॒ञो आहे जद॒हि तह सदूसि पार्टी जा ब॒या अगवाण पहिजे चपनि खे ज॒णु ठाका द॒ई छद॒या आहिनि। हो हिंदुनि जे हिमायति में 24 फरवरि खां हिक भित (दीवार) वाङर बिठो आहे। जद॒हि तह संदूसि पार्टीअ जो सदर बशिर खां कुरिशी जेको इअं तह पाण खे सेकूलर कोठाअण मिंटु जी देर नह कंदो आहे पर रिंकल तोडे ब॒यनि हिंदु नियाणियूंनि में बिलकुल माठ आहे। चयो थो वञे तह छो तह बशिर खां जी आकहिं बरचंडे पिर मिया मिठू (जहि रिंकल खे अगवा कयो ऐं जहिजे पिणसि भगत कंवर राम खे कतल करायो हो) जा पोईलग (चेला) आहिनि सो पहिजे धर्म गुरु जे विरुध हो किअं थो आवाज उथारे ?..अयाज लतिफ पलेजो – अवामी तहरिक जो सदर भी 8 मार्च ते (जेको जाईफाईनि जो आलमि दि॒हिं हो) दि॒हिं तह थोडो घणो ऐतजाज कयो पर नेठि हून भी माठि कई। जद॒हि ऐतजाजि में हिस्सो भी वरतो तहि लहमे खां हो चवंदो रहयो तह रुगो॒ मां ई छो हिंदुनि जे हिमायति में अचा, ब॒या छो माठ कई आहे। संदुनि मतलब साफ हो तह हो हिंदूनि जी हिमायति करे शहिद नह पई थिअण चाहियो। दरअसलि सिंध में मूं जहिसां भी इन मसले ते गा॒ल्हियो तनि मां घणनि इहो चयो तह – हिंदुनि ते वाक्ई जूलमु पयो थिऐ। असां खे इन वारदातयूं जाम लजा॒यो आहे,  इहा वारदाति तह सिधो सहिंयूं जबरनि अगवा जी आहे वगिराहि वगिराहि पर इन जे बावजूद को भी खुलि तोर अचण खां पाण खे पासिरो था कनि।

 

जां खां हिंदु सिंधी सिंध मां लदे॒ आया आहिनि तां खां हिंद जा सिंधी साहित्यकार  सिंध वेंदा रहया आहिनि पर अजबु जेडही गा॒ल्हि तह इहा आहे जे कहि में भी इन जा॒ल्हि जी तात कद॒हि भी कोन रहि तह रहिजी वयलि सिंध जी हिंदु बरादरी किअं पर दि॒हिं गा॒रे, किअं पई पहिजे पाण खे हिक ऐडहे मूल्कअ में पई पहिंजो वजूद सोघो करे जिते संदुनि कोम खे काफिर करे मञयो वयो आहे। पिछाडीअ जे पंज छिह द॒हाकनि में सिंध में हिंदुनि जा ग॒णप तमाम तकडी घटी आहे।  1950 में 13 सेकिडो हिंदु जेके हिअर घटजी 1.5 सेकिडो वञी वचया आहिनि। गा॒ल्हि रूगो॒ आम सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर मशहूर लेखक तोडे कवियूंनि खे भी कोन बख्शयो वयो आहे। महान सिंध कवि हरि दरयाणी दिलगिर लद॒पणि जो जाखडो 1955 खां शुरु कयो हो 1960-65 ताई लद॒ण में कामयाब थियो। संदुसि पहिंजी आत्म कथा में लिखो हो तह किअं विरांङे बैदि ऐं खासि करे 1960 खां पोई सामाजिक हालतु फेरो खादो हो। खेसि समझ में अचि वयो हो तह नयाणि जद॒हि घर मेंहूजे तह सिंध में हिंदुनि लाई हयाति केतिरो जोखिम वारी थी पवंदी आहे।

 

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह सिंध वेंदड असां जा लेखक कद॒हि भी पहिंजे भाउरनि खे समझण जी कोशिश कोन कई। बस मिडई हाई घोडा सिंध दि॒ठी सिंध दि॒ठी में ई पूरा थिं रहजी वया। जद॒हि भी को लेखक वञे तह या तह पहिजो अबाणो घर दि॒सी खुश थिऐ या नह तह पहिजे मुसलमानि दोस्तनि में महमान-नवाजीअ में पूरा। हूनिनि कद॒हि भी सिंध में हिंदुनि बाबत सोचण जी जरुरत कोन महसोस कई- बस जिअं खेनि ब॒धायो वयो मूसलमानि दोस्तनि पारां सो ई बु॒धी तोतनि वाङुर रठायलि सठ पर सठ पहिजे सफरनामनि में लिखिंदा रहया आहिनि। अञा महिनो खनि ई थियो हूंदो जो सिंध जे दौरे ते टे सिंधी साहित्यकारि सिंध उमडि आया। हिरो ठाकुर, विमी सादारंगाणी ऐं दादी इंदिरा पूनावाला। केतरि नह अजब जेदडी गा॒ल्हि आहे सवाई दादी इंदरा जे ब॒ऐ कहि भी इन जुलमनि खे खलाफ आवाज कोन उथारि। दादी ईंदरा नह रुगो॒ आवाज उथारि पर सिंध जे मूसलिम साहित्यकारि जी भी जाम गि॒ला कई जेके इअं तह वदा॒ सुफि कोठाईनि पर वक्त इंदे ज॒णु बो॒डा काणा थी वया आहिनि। ऐडही भी गा॒ल्हि नाहे तह हो कहिं भी सियासी मसले ते चुप रहिंदा आहिनि। वेझडाईअ में कराचि में कनि उर्दू गा॒ल्हिईंदड मूसलमानि कराचि खे सिंध मां धारि करे नऐ सुबे जी घुर में के पोस्टर लगा॒या जहि ते सिंध ऐसेलमबली में रातो रात हिकु ठहराउ पास कयो तह सिंध जो विरांङो मूमकिन नाहे ।इन विच में सिंध जे कनि मूसलिम सिंधी मेंमबरनि खणी वाका कया तह खेनि प्रसताव पास करण सबब धमयकूं पयूं मिलिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा आहे तह इन धमकयूंनि जे विरोध में जाम सिंधी साहित्यकारि ऐतजाज करण लगा॒ पर जद॒हि हिंदुनि ते ऐतरा वदा॒ जूलम पाया सठिनि तह  भी हिनिन सेकूलल तोड् सुफि कोठोईंदड साहित्यकारनि जे निडीअ मां हमदर्दीअ जे हिकु भी लफजु नथो निकरे। छा हिअं ई सिंधीयूंनि जी लेकुलरिजम आहे…..छा ऐतरि कमजोर थिंदी आहे सिंधी-कोमिप्रसति….छा सिंधी मुसलमान ऐं बे॒ कहि भी मुसलमानि में को भी फईकु नाहे…..छा असी जेको सतर सालनि खां बु॒धोई पया तह सिंधी मुलसलमानि ब॒यनि मूसलमानि नह थिंदा आहिनि सो कूड हो या इहा सिंधी कोम जी वदे॒ में वदी॒ घलतफेमि हूई….

 

पाकिस्तानि जा 95 सेकिडो हिंदु सिंध में रहिनि यानि सिंधी थेनि। पाकिस्तानि जे हिंदु काऊंसिल जे मोजिबु सिंध में 60 खां 70 लख हिंदु रहिनि पया। इन जो मतलब इहो थियो जे सिंध में असां खां भी वधिक हिंदु सिंधी रहिनि पया। इन में को भी शकु नाहे भले सामाजिक तोर इन 60 70 लखनि में घणाई उनहिनि जी आहे जेके दलित कोठया वेंदा आहिनि पर वदी॒ गा॒ल्हि तह इहा आहे तह असीं सभ सिंधी आहियो। मूहिजी जहि भी सिंध में रहिदड हिंदुअ सां कचहरि थी आहे से इहो ई चवंदा आहिनि तह ऐतजाज तह कंदासे ई पर साणु साणु इहो भी चवंदे देर नह कंदा आहिन तह अबा असीं हाणे  सिंध में रहण खां बस कई। ऐडही सिंध भी केहे कम जी जहि में असां जी इजति तोडे आबरु जी रुपऐ जी अहमियति कोन हलणे। सिंध में हिंदुनि जी नह तह का सियासी अहमियति आहे, नह वकालति ती बुधे तह ई हकूमति। सभनि खे खबरि आहे तह हिंदु छोकरयूं अग॒वा पयूं थेनि, उहे भी रुगो॒ पणजणि जे लायकि छोकरयूं। सवालि इहो आहे तह छा इशक जो जनुन रूगो॒ जनावि हिदु छोकिरूनि जे हावि हूंदो आहे? .छा मुसलमानि छोकरिनि में हिल नह हूंदी आहे? .छा हो इंसानि नह थिंदूं आहिनि ?.इहा गा॒लिहि तह पाकिसतानि सदरि श्री आसिफ अली जरदारि जी भेण जेका पकिस्तानि पिपिल्स पार्टी में तमाम घणे अहमियति जी जाई थी वालारे पिणि थी मञे तह इन अग॒वा में मिया मिठूअ जो सिंधो सहू हथ आहे. पर इन जे वादजदू मजाल आहे जे मिया मिठूअ खे को पार्टीअ मां कद॒ण जी को गा॒ल्हि करे। इहो सब इन गा॒ल्हि जो शाहिद आहे तह  पाकिस्तानि में अव्हां भले केतरो नह जुलमि कयो पर जेकरि अव्हां इसलाम जो नालो खणो तह सब दो॒हि माफ ता थि सघिनि। ऐडही हालति में जेकरि सिंधी हिंदु नह लदि॒नि तह छा कनि ?

 

पर इन सभनि मंजरि खां भी वधिक वाईडो हिंदुस्तानि में सिंधीयूंनि कयो जेके इन मसले बाबत सभ कजहि जा॒णिंदे भी ज॒णु पहिंजा चप ठाके छद॒या। के चवनि तह हिंदु हित भी मुशकलिनि में आहिनि तह असीं सिंध में रहिदड सिंधी हंदुनि जी छो ग॒णति कयोऊं। ब॒यनि खे वरि इहो को मसलो ई कोन लगे॒। असां हिंदुतानि में सिंधीयूंनि में हिंदुवादीयूंनि जी कमि नोहे। शायदि ई असां घणनि खां अञा भी विसरियो नाहे तह किअं सिंधी ऐल के आद॒वाणी लाई चरया थिया हवासिं जद॒हि हून हिंदुत्व ते हूल करण शुरु कयो हो। पर अजु॒ जद॒हि हून जा पहिंजा (छा काणि तह हो भी सिंधी ई आहे भले हो मञे या नह) 1947 जेडहयूंनि हालतयूंनि खे मूंहूं था दे॒नि हिकु लफजु संदुसि वातो कोन निकतो आहे। सिंधीयूंनि कोम मां का भी संसथा तोडे तंजिम अग॒ते कोन वधी आई आहे जिअं सिंध में हिंदुनि जे मसले खे हूकूमति जे अग॒या रखि सघजे। सिंध में हिंदुनि ते थिंदड ऐतिजाजनि में भोपाल में रुगो॒ राजा भाई दूर्गेश (भाजपा) पारां थोडा घणा ऐतजाजि थिया आहिनि बाकि इन खां सवाई नह कहिं सिंधी संसथा ऐं नह कहि जातलि सुञातलि सिंधी इन मसले ते को हूल कयो, पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा आहे तह जद॒हि सिंखनि या कशमिरियूंनि ते जलम थेनि था उमालक नह जा॒णि किथोऊ सिंधीयूंनि जो जमिर थो जागि॒ पवे। नह जा॒णि संदुनि में उमालक पहिजे धर्म ते खतरो पयो महसूस थिऐ। केतिरो नह अजबु आहे तह नह रूगो॒ आदवाणी पर जेठमलाई या ब॒या कहि भी सिंध अग॒वाण जो जमिर नथो जागे॒। मां जद॒हि इहा गा॒ल्हि श्रीकांत भाटिया सा कई तह हून जेको जवाबु दि॒ञो सो शायहि आऊं पहिजी जिंदगीभर कोन विसारिदुसि। हून चयो तह केडहो सबूत आहे जे हिंदुनि ते जलमु पयो थिऐ। हाणे सजी॒ दुनिया खे खबर आहे तह सिंधी हिंदुनि सा वयलि पया थेनि, हू जेको सिंधीयूंनि जो अग॒वाण ठहि फिरे थो तहि खे खबरि ई नाहे???.मां इन बैदि अखबारि (अंग्रेजी) जी पेपर कलपिंग मिणि मोकलि मास पर अज॒ ताई संदुसि को भी जवाबु कोन आयो आहे, शायदि इंदो भी कोन…..इहा असांजे सिंधी कोम जी वदे॒ में वदी॒ बदकिसमति आहे जे असां खे ऐडहा सियासतदानि मिला जेके हमेशाहि ई पहिजे लाई सोचयो आहे ऐं सायदि हमेशाहि ई सोचिंदा रहिंदा।

 

हिंदुस्तानि जूं ऐडहयूंनि चङयूं कोमून आहिनि जहिंजा हिकु हिस्सो धारे मूंल्कनि में रहे थो। मसलन तमिलनि जो श्रीलंका में, हिंदी गा॒ल्हईंद़ड जो मोरिशियस या फिजी में ऐं सिखनि जो पाकिस्तिनि वारे पंजाब में। पर जद॒हि तह अण- सिंधी हमेशाहि ई कहिं भी सुशकलि जे महलि पहिजे कोमनि जो साथ पयूं दे॒नि असां जा सिंधी अग॒वाण सुता पया हूंदा आहिनि। डा. श्यामा प्रसादि मूखर्जी जी नेहरु जे मंत्री मंडल मां इसतिफो दि॒ञो हो जद॒हि नेहरु पाकिस्तानि वारे बंगाल में 1950 में हिंदु बंगालियूंनि जे कतलेआम खे रोकण में कजहि कोन करे सघयो। पर अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे तह पिछाडीअ जे सतर सालनि खां हिंदु सिंधी लदि॒नि पयो पर मजालि आहे किद॒हि में  असां जा अग॒वाण इन ते लफजु बी ओकारो हूजे। अञा हफतो बी मस थी गुजरो आहे जे तमिलन जे दबा॒उ सबब नेठि हिंदुस्तानि जी हूकुमत नह चाहिदे भी सयूंक्त साष्ट् में श्री लंका में तमिलनि सां थिंदड नाईसाफियूंनि बाबति हिक ठहराउ खे नाठि तसमर्थनि  कयो। याद रखजे तह इहो फेसलो को हिंदुस्तान जी हकूमत पहिंजी चाहि सां कोन वरतो। पर सवालि वदो॒ आहे तह जेकरि तमिल जोर था लगाऐ सघिनि तह असी सिंधी छोन नह ……असां खे ऐतजाज करण खां कहिं झलयो हो। जेकरि बी जे पी जो अग॒वाण राजा भईया ऐतजाज करे थो सघे तह ब॒या सिंधी छोन नह ……

सिंध में हिंदुनि  70 लख सिंध असां वाङुर ई सिंधी आहिनि जेडहा असां सिंधी अहियो, तह पोई असीं छो पहिंजे भाउरनि जे हिमायति में अग॒ते नता अचि सघऊं। विरहांङे महलि,  बिहार जा के  मुसलमानि ओभरि (पूवि ) पाकिस्तानि दा॒हि लदे॒ वया। जिअं ई बंगलादेश वजूद मे आयो तह बंगालिन इन बिहार जे मुसलमानि खे चयो तह अबा हाणे तह बंगाल, बंगलादेश थी पयो आहे सो साई महर्बानी कयो ऐं लदे॒ पाकिस्तानि वञो। इनहिनि मां के सिंधी मुसलमानि जे विरोध जे बावजूद पाकिस्तानि में लद॒पण कई जहिंजी तादादि लखनि मे आहे। अजु॒ भी ऐडहा जाम पाकिस्तानि बंगलादेश मां बिहारि मुसलमानि खे लदा॒अण जा गा॒ल्हि कंदा आहिनि। जेकरि पाकिस्तानि जा मूसलमानि पहिजे मुसलमि भाउरनि लाई जाखडो करे था सघिनि तह असीं सिंधी छोन नह ???? सिंध में हिंदु तमाम घणे दु॒खनि ऐं सुरनि में आहिनि। जेकरि असी खेनि मदद कोन कंदासि तह ब॒यो केरु कंदो…..जेकरि हो हिंदु लदे॒ हिंदुस्तानि इंदा तह   हो सुख जो साहू खणि सघिंदा ऐं असां जी तादादि वधिंदी पर इन हकिकत जे बावजूद असीं असी पहिजे अखयूंनि जे सामहूं पहिजे रत जी इजत ऐं आबरु निलाम थिंदे दि॒सोऊ पया।

 

सिंध में का भी वदी॒ सियासी पार्टी हिंदुनि जी हिमायति नह पई करे, तह जेकरि हो निधकणा नह पया हमसुस कनि तह इसा छो ऐतिरा निंधकणा पाण खे महसुस कयोऊ।

इहा गा॒ल्हि सोचण जेडही आहे।।।।।।।

 

 

सिंध जी हिंदु बरादरि -आखिर केसिताईं असीं माठि रहिंदासिं

1947 में विरहांङे बैदि जेके सिंधी अग॒वाणि गांधीजीअ साणु पहिरों भेडो ग॒द॒या तनि जो चवण हो तह गांधीजी जेको पहिरों बयानि दि॒ञो सो इहो ईहो ई हो – चोऊ हिंदु-सिंधूनि खे तह यकदमि सिंध वांदाईनि। छो गांधीजी इऐं चयो इन जो जवाबु अजु असां जे अग॒यां आहे। जेके लद॒या, लद॒पण जा दु॒ख सठा तनि नेठि सुख दिठा पर जिन सिंध माऊं साणु हिक सचे सिंधी हूअण जो फर्जु निभायो अजु॒ इंतहाई दु॒ख पया दि॒सिनि। लज॒-लिट, लूटमारि, अग॒वा, कतलि या जबरनि मूसलमानि बणाअण जा वाकया तह तह ज॒णु रोज॒ जूं गा॒ल्हियूं थी पयूं आहिनि। हिक वारदाति मां सिंध जी हिंदु बरादरि उभरे मस थी जे बी॒ वारदाति कहिं हिंदु बरादरीअ जो मूहूं कारो कयूं वेटि आहे।

पिछाडीअ जे 30-40 सालनि जे वारदातनि में वाईडो कंदड हिकजेडाईं पई दि॒सण में इंदी आहे सो उहा आहे तह घणाईअ में रहिदड सिंधी मूसलमानि जी जूलमनि में खामोशी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे सिंध में किद॒हि भी ऐको रहयो किन हो पर जहि मजबूति सां सिंध में इन खे पेश करणो खपिंदो हो तनि में सिंधी कोम नाकाम रहयो। इहो ई सबब आहे मौको अचण थे सिंधी उहा हिकजेडहायप कोन दे॒खारे सघिंदा आहिनि जहि का वाका असीं हमेशाहि ई कंदा आया आहयूं।

हिकु लफजु जेको सिंधी हमेशाहि सिंधी पहिजे पाण में जाम इसतमाल पई कंदा आया आहिनि सो आहे हिंद- सिंध। हिंद सिंध जे जरिऐ असीं सिंधी सिंध में मुख्तलिफ कोमनि खे उन नजरिऐ सां दि॒सण गुरिंदा आहियो जहि नजरिऐं  सां अमेरिका ऐं इंगलेंड में अंग्रेज पाण खे पेश कंदा अहियों। असीं सिंधीयूनि में इन सुत्र में गद॒जण जी चाहि का नईं नाहे। सिंधीं बो॒लीअ में झझे साहित्य मोजोद आहे जेको इन सोच खे हाथयूं पुखतो करे थो। अजु॒ भी हिंद तोडे सिंध में जा॒वलि नसल सिंध खे पाकिस्तानि खां कहि कद॒रि धारि करे दि॒सिंदी आहे।

पर वेझडाईअ जे किनि सालनि इन भाईचारे खे हिकु जबरदसत धक पई लगो आहे । जेतोणेकि सिंध में 1970 खां हिक ऐडही सिंयासी तंजिमि जो जोर रहयो आहे जहिजा उसूल कहि कदुरु सेकूलर हरया आहिनि। सिंधीं हिंदु बरादरी हमेशाहि ई भूट्टे पारां जोडायलि पाकिस्तानि पिपिल्स पार्टी जा हिमायति रहया आहिनि। जेसिताईं गा॒ल्हि आहे भूटनि जी तह नह जूलफिकार ऐं नह ई बेनाजीर सिंध जे हिंदु बरादरी साणु सुठा नाता हवा पर संदुनि बैद हालतुन ओडहयूं नाहिनि। पिछाडीअ जे किनि सालनि में हिंदुनि खे कहरि वधया आहिनि। बदकिसमतीअ सां इहो पिणि दि॒ठो वयो आहे तह सिंध में हिदुनि ते जबरनि धर्मु मठाअण, कतलनि ऐं कहि हद ताई लूटमार हिअर के धार्या नथा कनि पर पहिंजा कोठाईंदड सिंधी मुसलमानि ई कनि।

[slideshow]

इहा गा॒ल्हि चक, शिकारपुर में जिते चारि हिंदुन जो भरी भाजार में कतलि कयो वयो ऐं पर ङफते सिंध जे घोटकी शहरि में पिणि दि॒ठो वयो तह इन जूलमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ सिंध जे पिपिल पार्टी जो रहयो आहे। ऐंडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे मसला उमालक थी उभिरा आहिनि पर जद॒हि तह बेनाजीर जे वखतनि ताई मसला ऐदा॒ वदा॒ किन थिया हवा पर हिअर सुंदुनि जे लादा॒णे बैद पी पी पी इहा पार्टी कोन रहि आहे जेका अगे॒ हई। इहा गा॒ल्हि चक में भी दि॒ठी वई तह जेतोणेकि हाणोके सदर असिफ अली जरदारि इन मसले ते नोटिस भी वरतो पर इन जे बावजूद कातिलनि खे हथ करण तह परे पर कातिलनि थे शाई दि॒दड पी पी पी जे अग॒णाणु जो भी वारु वंङो किन थियो आहे।

अञा शिकारपूर जे चक में वारदाति मां सिंध जी हिंदु बरादरी उभरि मस हूई जे बि॒ हिक वारदाति सिंधी जे हिंदु बिरादरी जे मथोऊं कहर खणी अई। सिंध जे मिरपूर माथिले जे लाल फकिर महर मार्केट वठि रहिंदर इन ऐलाके जे हिक स्कुल में नोकरि श्री नंदलाल जी सिंकलिंदी धीअ रेंलक कुमारीअ खे पिछाडीअ महिने जी 23 तारिख रात जो अग॒वा कयो वयो। अहवाल मोजिब 24 तारिख सुबूह जे साढे सते लगे खां अग॒वा कयलि नयाणी लाई ऐफ आई आर दर्ज कराई वई जेका चारि कलाकनि जे जफाकशीअ बैद नेठि दर्ज कई वई । इन वारदाति जे विरोध में सिंध जी कोमिप्रसत पार्टी जिऐं सिंध कोमि महाज पारा मिरपूर माथिले ऐं ब॒यनि ऐलाकनि में ऐतताईजाजि मजाहेरा कया वया । साणु सिंध में हिदु पंजायति जे मूखि केकराम ऐं साधूराम जे अग॒वाणीअ में ऐतजाज कया वया जहि सबब कलाकनि ताईं सिंध – पंजाब हाईवे बंद रहयो ऐं टिन दि॒हनि तांई सिंध जी हिंदु बरादरि संधई पहिंजा धंधा बंद रखा। इहो सबब हो जे अगा॒वा कयलि हिंदु नेंनगर खे नाठि कोर्ट में पेश कयो वयो।

इन वारदाति में सिंध मां पाकिस्तानि जी नेशनल ऐसेल्मबली मेंमबर मियां मिटूंअ जो नालो सामहूं आयलि आहे। मया  मिठूं हिअर सिंधी मां पाकिस्तान पिपलस पार्टी जे टिकेट ते चूंडयलि नेशनत ऐसेलमबी जो नुमाईंदो आहे। हिक बि॒ गा॒ल्हि जहि साणु मिया मिठू गंढयलि आहे सो आहे सिंधीयूंनि जो गुरु भगत कुंवर राम। चयो वेदो आहे तह भगत कुंवर राम जो कतलि बर्चोढी जे पिरअ करायो हो जेको मिया मिठूअ जो पिऊ थिऐ।

चयो थो वञे तह रेंकलि कुमारीअ खे अग॒वा करण बौदि संदुसि जो जबरनि धर्म माठायो वयो ऐं मिया मिठूं जो पुठ नोवेद शाहि साणु जबरनि परणायो वयो ऐं संदुसि नालो फर्याल शाहि रखयो वयो। इन विच में अग॒वा थिअण जे बे॒ दि॒हिं मझंदि जो लग॒ भग॒ हिक वगे मिया मिठूंअ जे हिक पुट पारां रिंकल जे माईटन वटि फोन थो करे तह इहो चई तह जेकरि खेनि पहिजी नयाणीअ साणु मिलणो आहे तह बर्चोढी जे दर्गाहि में अचनि। बर्चोढी इहा जाई आहे जिते घणो तणो अण-मुसलमानि खे इसलाम कबूल करायो वेंदो आहे। सिंध में रहिदड कहि भी हिंदु खे बखूबी जा॒ण आहे ऐंडही जाई ते नेंगर केतरि आजादिअ सां पहिजी गा॒ल्हि रखी सघिंदि। इन गा॒ल्हियूंनि खे धयानि में रखिंदे रिंकल खें डि पि ओ जी आफिस में वठी अचण लाई चयो थो वञे जेके मियां इसलाम (मिया मिंठू को पुट)  नकारे थो छदे॒। इन बैदि पक इन ते बिहे तह तह रींकल खे हिदुं पंचायति हालि में गद॒जाणि कबि पर जद॒हि रींकरल कुमारीअ जा माईट उते पूजिनि था तह खेनि इहो थो ब॒धायो वञे तह मिया इसलाम हिंदु पंचायति हालि में रींकल खे संदुनि माईटन सां गद॒जाणीअ लाई इंकारि करे छदो॒ आहे।

इन विच में 25 तारिख, छंछर दि॒हिं जिंऐ सिंध कोमि महाज जो चेअरमेन श्री रियाज चांडियो रिंकल सा मिलण डि ऐस पी जी आफिस में अचण लाई चयो थो वञे। जद॒हि हो पोलिस आफिसर जे कमरे में धाखिल थिऐ थो तह डी ऐस पी साहिब जी पहिजीं कुर्सीअ में मिया मिठूअ जो भाऊ मिया शमल अफिसर थी वेठो पई नजर थो अचे। हाणे सवालु इहो आहे तह जद॒हि अग॒वा कंदडनि खे ऐडहो मानु मिलिंदो तह छा हो धूड कानुन जी हो परवाहि कंदा। इहो ई नह पर इन डि ऐस पे जो चवण हो तह जेकरि अव्हां रिंकल साणु मिया शमल जी हाजुरि में नथा मिलण चाहियो तह पोई नोवेद शाहि ( मियां मिठूं जो पुट जहिं सा रिंकल खे जबरनि परणायो वयो) साणु गद॒ हूंदो इन वक्त मिलि था सघो।

हाणे सवालु कहिंजे भी जहनि में इदों तह जनि रिंकल खे अग॒वा कयो से रिंकल खे गा॒ल्हिअण जी पूरा आजादी दिं॒दा…..छा इहो मूमकिन आहे ।

खैर नेठि रिंकल कुमारीअ खे अदातलि में पेश कयो वयो। कोनुन मोजिबु धारा 164 जे तहति बायनु दे॒अण लाजमी आह, सो रिंकल को बयान वरतो वयो। बिहिनि धरनि  जे वकिलनि जे मोजूदगीअ में रिकल बयानि दि॒नो तह हिन भजी॒ शादी करण नाहे चाहि पर खेसि अग॒वा कयो वयो आहे, कजहि माण्हूं घरनि जी छतनि खे इस्तमालि करे खेस जबरनि गि॒हले वया। हून इहो भी चयो तह हूअ नोविद शाहि (जहि सां खेसि जबरनि अग॒वा करे परणायो वयो) ऐं संदुनि हिमायति ऐं पिरनि वटि नह पर पहिजे माईटनि वटि मोठण थी चाहे। रिकल नह रूगो॒ इहो बयनि पहिजे माईटनि जे अग॒यो दि॒ञो पर माजिज जज जे अग॒या पिणि दि॒ञो। हाणे कोनून मोजिब तह इहो बयान रिकार्ड करणो खपिंदो हो इअं कोन कयो वयो।

कोर्ट में हालतुनि खे पहिजे उभतरि समझींदे मिया मिठू जा वकिलनि ऐं नोविद शाहि पाण हिकु तमाशो खणि कयो। हून (हठो कठो हूअण जे बावजूद) बेहोश थिअण जो वदो॒ समाशो कयो ऐं इन साजिश मोजिबु जज आदालति  जी कार्वाही मुतलवी करे छदी। जेतोणिक रिकंल जा वकिल रडयूं कंदा रया पर जज इन साजिश जी पुरि हिमायति कंदे अदालति खे मुतलवी करे छदी। इहो ई न पर रिंकलि खे शखरि जे दारुसलमि में गि॒ञि वञण जे बजाई शकरि जे हिक जैफाणे जिल खाने में रखो वयो। इहो सब हिक निहायति सुचलि समझयलि साजिशनि में तहत कयो पयो जिअ तह उन पुलिस थाणें में रिंकलि खे यातनाउ दई जबरन मिया मिठू जे चाहि मोजिबु बयान दे॒वाऐ सघजिनि। सिंध में अवामी आवाज में कालमि लिखिंदड श्री असद चांडियो मेजिब जद॒हिं रिंकलि जद॒हि रिकल मायूस थी पहिजे किसमति खे पिटे वेठी तह उमालक हिकु पूलिस आफिसर रिंकल जे कैद खाने में गुरे थो हथ में हिक फोन झले ऐं मायूसि रिंकल कुमारी खे गा॒ल्हिअण लाई दे॒ थो। छाकाणि तह रिंकल गा॒ल्हिअण खां जवाब दे॒ थी तह इहो पूलिस जो ऐदेदारि फोन जो इस्पिकरि आन करे थो जहि में उन ऐलाईके जे कहि सघारे वदे॒रे जो पई धमकयूं पई दि॒ञयूं जेके कजहि हिंन रित आहे- तूं जेकद॒हिं माईंटनि दा॒हिं मोटी वञण जो बयानि नह मठ्यो तह नह रूगो॒ तूं नह बचिंदिअं पर तूंहिंजा सब घर जा भाति भी मारया वेंदा ऐं शहरि जे सब हिंदुनि जे घरनि खे बा॒हि द॒ई साडयो वेंदो।

जेके सिंध खां बा॒हारि जा॒वलि आहिनि ऐं जिन थे सिंध जी हालतुनि जी पूरि जा॒णि नाहे तनि लाई रूगो॒ इहे मिडई धमकयूं आहनि पर सिंध में रहिद़ड सिंधी जा॒णिनि था इन धमकयूं जो मतलब। 1947 खां अजु॒ ताई ऐडहा जाम भेडा दि॒ठो वयो आहे तह ऐडहयूं काहियूं थियूं आहिनि। मसलनि शखर जे भरसां पुञे आकिल में साग॒या मंजर दि॒सण में आया जद॒हि पूलिस जे कडे बंदोबस्त जे बावजूद अंधरुनि सिंध जे कबाईलि सरदारनि हथियारनि सां लैस थी हिंदुनि जे घरनि ऐं दुकानि ते काहिं आया।

बहरआल, सागी॒ रित जो जिअं ई ईहा खबरि फैली तह पाकिस्तानि सदर आसिफ असी जरदारि इन मसले जो सख्त नोटिस वरतो आहे उमालकि रिंकल कुमारीअ खे शखर जे इन जैफाणे कैदि खाने मां कदि॒ मिरपुर माथिले रवाञो थो कयो वञे उहो भी सागे॒ राति जे बि॒ वगे॒। हाणे सवालु इहो आहे तह जज फैसलो कयो हो तह रिंकल जनानि जेल में रहंदी तह पोई उमालकि खेसि छो मिरपुर माथिले मोकलो वयो। इन जो सबब अजु॒ भी गु॒झो ई रहयो आहे। शखर खां मिरपुर माथले जो सफरि मस जेडहो कलाक दे॒ड जो आहे पर इन जे वाबजूदि जेका अध रात जो कहिं 17 सालन जी नियाणीअ जे रात जे अढाई लगे॒ में हिक जिले खां उमालकि बे॒ जिले पुजा॒अण जी तकड उहा भी कोर्ट जो हिदायतुनि जे उभतरि इन शक खे यकिन में थो मटे तह इन मामले में पूलिस ऐं वदे॒रे मियां मिठू जी पुरि मिलि भगत हूई।

27 तारिख सुबूहूअ जो रिंकल कुमारीअ खे साडे अठे वगे॒ कोर्ट में पेश कयो वयो। सुबूह साणि ई मिरपुर माथिले जे अदालति जे नजारा फिरयलि हवा। लाजमी आहे मिया मिठी ऐं संदुनि हिमायतुनि इन जी पुरि तयारि कई वई जहि जो पुरो साथु दि॒ञो मिरपुर माथइले जे प्रसासनि। आदालति दा॒हि इंदड सभ वाटयूं ते सख्त पहरा हवा। अदासति दा॒हि इंदड वेंदड सभ वाटयूं टेंकर जे जरिऐ बंद कयूं वयूं जिअ हिंदु बरादरी जा घटि में घटि माण्हूं कोर्ट पुजी॒ सघनि। ऐडही पाबंधी जेतोणेकि मिया मिठूअ ऐं संदुसि बिरादरीअ लाई कोन हूई। खेनि कोर्ट जे बा॒हरि तोडे अंदर दा॒ढाई करण जी पुरी मोकल हूई ऐं संदुनि भी इन जो पूरु फाईदो वर्तो। गा॒ढीयूं जे मथोऊ लाईडिस्पिकर लगा॒ऐं जोशिलूं इस्लामी तकरिरयूं पई पयूं वयूं ऐं हथयारबंध हवा में फाईरिग पई कयूं।

कोर्ट जे अंदरि भी नजारो को घठि वाईडो कंदड कोन हो। रिंकल कुमारीअ खां हिक पासे जद॒हि तह खेसि माईटनि खां  धार रखयो वयो पर ऐंडही का पाबंधी मिया मिठूं ऐं संदुसि पंज पुठनि ते कोन हूई। रिंकल जे वकिलनि जो चवण हो तह उन दि॒हिं भी रिंकल पहिजे माईटनि दा॒हिं मोटी वञण जो बयान पई दे॒अण चाहियो जेको हूंन पछाडीअ जे पेशीअ में दि॒ञो हो पर द॒फतरि तोर इहो मूमकिन कोन थी सघो छाकाणि तह कोर्ट में मोजिद सरदार रिंकल कुमारीअ खे हिक चमाट ताई हईं ऐं रिंकल खे दब पटिंदो चयो तह – हिअर तूं मूसलमानि आहें, मुसलमानि साणु पर्णयलि आहे ऐं सोहिंदो घरि साहूरनि में आहे ऐं तूं पहिजे माईटनि जे घरि मोटी मञण जो गाल्गि यकदमि नह कज। सोचण लाईक तह इहा गा॒ल्हि आहे तह इहो सभ थियो कोर्ट जे कार्वाहि महलि जज जी मोजूदगीअ में। इन बैदि रिंकलि कुमारीअ खां जबरनि बयानु लिखायो वयो कोर्ट महिजी काईवाही पुरि कंदे रिकंल खे नावेदि शाहि खे सोपयो पयो। वरि बे॒ पासे रिंकल जा माईटअ जिनि खे कोर्ट जे बा॒हरि ई जबरनि रोको वयो से उछांगियूं दिं॒दे रोईंदा रहया जद॒हि तह मियां मिठू जा हिमायति हवा में फाईरिग पई कयूं ऐं बैड बाजा पई वजया। कुल मिलाऐं ऐडहो हिकु माहोल पैदा कयो वयो जिऐं इऐ लगे तह हिंदु छोकरि पहिंजो मर्जीअ सां इसलाम कबूल कयो आहे। इहो चूंडयलि मिडीया जे अग॒यां भी सजी॒ दुनिया खे दे॒खारण लाई छोकरि खां बयानु दि॒वायो वयो। इहो चिटि रित साफु आहे तह मिडिया जे अग॒या ऐं जेको माहोल पई पैदा कयो पयो का भी 17 सालनि जी छोकरीअ खां उमेदि नथी करे सघजे तह हूई मिडिया जे अग॒यां भी पहिजें दिल जा गा॒ल्हि करे सघिंदी।

रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि लाई हे दि॒हिं इंतहाई खोफ वारा आहिनि। जद॒हि खां घोटकी तोडे मिरपुर साथिले जे कोर्टअ फोसलो थियो आहे ऐं सिंध जी हिंदु बरादरी ऐतजातनि में आहे, रिकल कुमारीअ जे आकहिं खे धमकयूं पई मिलनि। हे धमकयूं ऐतरुं तह सख्त आहिन जे खेनि  लाहोर में हिक गुरुदुवारे में पनाहि वठणि पई आहे। इन विच में रिंकल कुमारीअ जे वकिलनि सिंध हाई कोर्ट कराचीअ में घोटकीअ जे इन कोर्ट जे खिलाफ अर्जी दाखिल कई जहिंजी सुनवाई 12 मार्च में थिअणी आहे। बे॒ पासे अग॒वा कंदड पारां भी हिक अर्जी दाखिल कई वई तह रिंकल कुमारी ऐं नोवेद शाहि खे रिंकल जे माईटनि जे पारां धमपयूं पयूं दि॒नियूं वञनि सो खेनि तहफूज द॒ञो वञे। इन अर्जी में इहो भी जा॒णायो वयो आहे तह हिंदु बरादरि पहिंजे नाणे जो जोर ते रिंकल ऐं नावेद साहि खे नुकसानि था पुजाऐ सघनि। बहरआल कोर्ट इन अर्जी ते का भी बहसि कोन कई वई छाकाणि तह कोर्ट जो मञण हो तह छाकाणि तह सिंध हाई कोर्ट इन मामले में अगे॒ ई फोसलो कयो आहे 12 मार्च इन ते सुनवाई कंदो। कोर्ट खां बा॒हरि निकरिंदे ऐं खानकि टी वी चेनेलि में फोन जरिऐ गा॒ल्हईंदे रिंकल जेतोणोकि चयो तह हूअ पहिंजी मर्जीअ सां मुसलमानि थी आहे पर इहो सभको थो समझे तह रिकलि खे ऐडहा बयान अग॒वाकंदड जे जबरदस्त दबाऊ सबब ई दे॒अणो थो पवे।

इन विच में तमाम ऐलाजनि ऐं रिंकल जे मामे जे अर्जी दे॒अण सबब पाकिस्तानि सुपरिम कोर्ट जो चिफ जसटिस जनाब इफतिकार महमद चौधरी रिंकल ऐं ब॒यनि बि॒न हिंदु नियाणियूनि जे जबरनि अग॒वा थिअण ऐं इन बैदि जोरि मूसलमानि ठाहण जो मामले लाई 26 जी तारिख पक कई आहे जद॒हि मूख्य नयाधिश इफतिकारि मूहमद चौधरी पिणि इन मामले जी सुनवाई कंदो। इहो ई सबब आहे तह हिंदु बिरादरिअ खे कहिं कदुरु उमेदि जा॒गयलि आहे तह हिन भेडे संदुनि सां नयाऊ मिलिंदो।

रिकलि जी काहाणी का हेकली काहाणी नाहे। थार परकारि में जिते खोड सिंधी दलित घणाईअ में रहिनि था उते दलितनि जे नयाणयूंनि जे अग॒वा करण जूं वार्दातयूं रोज पयूं थेनि। इहे मामला कद॒हि भी अखबारयूंन जूं सुरखयूं कोन बणयूं। पिछडीअ जे पंधरनि दि॒हनि में टे हिंदु नियाणयूं अग॒वा थियूं आहिनि। सभनि जी इहा ई कहाणी आहे जेका रिंकलि जी। पहिरोऊं अग॒वा थिअण, पोई धर्मु मठण ऐं बैदि में कोईटनि पारां इन दा॒ढाई खे आमली जामो पहिराअण। हिंदुनि जी तह को वाई बुधण वारो नाहे, कानुन जी तह गा॒ल्हि ई परे आहे खासि करे हेठई अदालतुनि जे नसबत। इन सभनि कहरनि जी पधराई पाकिस्तानि जे इंसानि हकनि जी तंजिम पिणि कई आहे। रिंकल मामले में संदुसि जेको बयानि जारि कयो सो इहो चयो वयो जेको रिंकल जा माईट तोडे सिंध जी हिंदु बरादरी चई रहई आहे तह रिंकल खे जोरि अग॒वा कयो वयो पोईं संदुसि धर्मु मठायो वयो आहे।

जेसिताईं गा॒ल्हि कजे मिडिया जी तह सिंध में सिंधी मिडीया में सवाई अवामी आवाज खे का भी सिंधी मिडीया इन मामले खे को भी कवरेज कोन दि॒ञो। पर इन जे बावजूद कहि हद ताईं पाकिस्तानि जी अंग्रेजी मिडया, परदे॒हि में बी बी सी, ऐं हिंदुस्तानि जी अंग्रेजी अखबारि मसलनि पाईरिअर, हिंदु, जी नयूज, आऊटलूक ऐं थोडनि हिंदी मीडीया मसलनि अमर-उजाला ऐं गुजराति में कच्छ मित्र सिंध में हिंदु संधीयूंनि सां थिदड दा॒डायूं खे कवरेज दि॒ञो।

पाकिस्तानि में जेतोणेक आम सिंधी मुसलमानि खोमोश रहयो पर के अख्बार नुवेसि तोडे कालम लिखिदड इन मामले खे जोर शोर सां हिमायति कई मसलनि असद चांडियो (रोजानो  अवामी आवाज) अदी वेंगसि ( रोजानो इबारत) ऐं जरार पिरजादो (रोजानो काविश)। इन हिमथवारनि मां श्री असद चांडियो खेण लहणे। हून नह रुगो॒ सिंधी सिविल सोसाईटी खे ऐतजाज ताई हिमतायो पर रिंकल मसले जूं तमाम घणयूं हकिकतयूं पहिजे कालम जे जरिऐं आम सिंधीयूनि जे अग॒यां रखयूं। इहो ई नह पर बर्चडे पिर मिया मिठूं जे पिणसि जो सिंधी संत भगत कुंवर राम जे कतल में हथ जी गा॒ल्हि भी उन साईं ई रखि जहि सबब खेसि रोज धमकयूं पई मिलिंदयूं आहिनि। ऐतजाज महलि भी हूं पहिंजे ब॒नि नियाणियूं सुधो ऐतजाज कया।

पर जेसिताई गा॒ल्हि कजे ब॒यनि सिंधी सिंविल सोसाईटी जे अग॒वाणुनि जी तह संदुनि हर मूमकिनि कोशिश कई तह इन मसले खां परे रहजे। सिंध में औरतुनि जे हकनि जी लडाई हडिंदड अमर सिंधु खामोश रहि। जद॒हि ऐतजाजनि में शामिल भी थी तह रूगो॒ अठी  ओरतुनि जे आसमि दि॒हिं उहो भी थोडी देर लाई ज॒णु हूंन  इन ऐतजाजनि में शरिक थी हिंदु बिरादरीअ ते थोडो लाथो हूजे।

जां खा हिंदुस्तान जो विरांङो थियो आहे तां खां सिंध ऐं हिंद में रहिदड सिंधी साहित्य सां वासतो रखिदड लेखकनि दे॒ वठि जो रिसतो हमेशाहि रहयो ई आहे। कद॒हिं हिंद जा लेखक सिंध वया आहिनि तह कद॒हिं सिंध जा लेखक हिंद में ईंदा रहया आहिनि पर जेसिताईं गा॒ल्हि कजे सिंध में हिंदुनि ते जुलमनि जी तह कहि भी इन ते वातु मां हिकु अखरि कोन उकारियो सवाई पुने में रहिदड दादी ईंदरा पुनेवाला जे जहि इन मसले ते जाम लिखो आहे खासि शोसल मिडिया में मसलनि फेसबूक में। इहो ई नह हून इन सभनि लेखतनि जी भी तनकिद (निंदा) कई आहे जेके खामोश आहिन।

सिंध में हिंदु बिरादरी जेतोणेकि हमेशाहि भूठे जी पाकिस्तानि पिपल्स पार्टी खे वोट दि॒दा रहया आहिनि पर जेसिताईं गा॒ल्हि आहे सिंध में हंदु बरादरीअ जी तह पिपल्स पार्टी जा मेमबरि ई हिदुनि ते थिंदड जुलमनि में शरिक रहया आहिनि। सिंध में ब॒यूं पार्टियूं मसलनि अयाज लतिफ पलेजे जी अवामी तहरिख 8 मार्च औरतुनि जे आलमी दि॒हिं हिंदु नयाणयूंनि ते थिंदड जुलमनि जे विरोध में पुरे सिंध में भूख हडतालयूं कयूं ऐं ऐतिजाजी मुजाहेरा कया। जिए सिंध कोमि महाज 12 मार्च जो कराचीअ में जलुस कद॒हण ऐं सिंध हाई कोर्ट में हाजिर थिअण जो ऐलान कयो आहे। फेसबूज में सिंधी हिंदुनि थे थिंदड जूलमनि जी मजमत (निंदा) थिऐ पई। इन सेकूलर विचार रखिंदड मुसमानि कराची, हैदराबादि तोडे तोडे ब॒यनि शहरि में उन शहरनि जे प्रेस कलबनि जे अग॒यां ऐतिजाज कया। इहो ई नह साना (जेका अमेरिका में सिंधीयूंनि जी संसथा आहे) ऐं लंडनि जी वर्लड सिंधी कांग्रेस इन जी कडे लफजन में गिला कई आहे।

इन सभनि मां जेतोणिक वाईडो कंदड रुख रहयो आहे हिंदुस्तानि तोडे दूनिया भर जे सिंधी हिंदु बरादरीअ । नह हिंदुस्तानि में नह ई हितुस्तानि खां बा॒हरि कहि भी सिंधी संसथा इन बाबति को बयानु दि॒ञो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे खेनि कजहि जाण नाहे इन मसले बाबति। हिदुस्तानि में कनि हिंदी तोडे अंग्रेजी मीडीया इन मसले खे कवरेज दि॒ञो आहे पर छा तह हिंदुतानि में सिंधीयूं जी कहि कदरु वेरुखि आहे सो इन मसले ते कहि भी धयानि दि॒अण जी जरुरत नह पई महसुस कई आहे। हे जुलमअ सिंध में 30-40 सालनि खां वधिक अर्से खां पया थिन पर नह जा॒ण छो असां जो जमिर कोन गा॒गिंदो आहे।

हिंदुस्तानि में के सिंधी सिंयासत में रहया आहिनि पर नह कांग्रेसि वारा जागा नह बिजेपी पारा। पर जद॒हि कशमिर में हिंदु पंडितनि ऐं पाकिस्तानि में सिखनि जी गा॒ल्हि ईंदी आहे तह हो इन ते जाम हाई घोडा कनि पर जद॒हि पहिजनि जी गा॒ल्हि अचे तह अगो॒ पोई माठि थी वञिन जिअं कजहि थियो ई कोन्हे। इहो ई नह जद॒हि घोधरा में रेल खे  बा॒हि दि॒ञी वई तह कुबेर नगरि जी ऐम ऐल ऐ माया कोडनाणी उन हादसे जे दि॒हि तमाम औखनि समाल कया हवा मोदीअ खे गुजराति ऐसल्मबली में पर जेसिताईं सिंधूयूनि जी गा॒ल्हि ईंदी आहे तह माईअ मां हिक अकरि भी कोन उकिरिंदो आहे। सागि॒ माठ कुमार ऐलाणीअ जी भी आहे जेको उहल्हास नगर मां चूंडयलि आहे।

सिंध में हिदु बिरादरी तमाम दुखनि ऐं सुरनि में आहे खेनि मदद जी सख्त जरुरत आहे। सिंध में रहिदड सिंधीयूंनि लाई मसलो इहो भी आहे तह हो खूलि रित हिंदुतानि जे सिंधीयूंनि खां मदद गुरण जी आछ कोन था करे सघिनि छाकाणि तह जेकरि हो इऐं कंदा तह यकिनि हो हिदुस्तानि जा ऐजेंट करार दि॒ञा वेंदा। अजु॒ इहो तमाम जरुरि आहे तह असी हिदुस्तानि सरकारि ते असी जोर दि॒अऊं जिअं बचि रहयलि सिंधीयूंनि खे निकारो वञे ऐं हो सुख जी जिंदगी गुजारे सघिनि।

विछाडिअ में कजहि वेबसाईट जा द॒स था द॒सया वञिनि दिअ पढिंदडनि खे सिंध में हिदुनि ते थिदड जूलमनि जी जा॒ण पवे खासि करे हिदु नियाणयूं जे अग॒वा थिअण जे मामले नसबत

http://timesofindia.indiatimes.com/world/pakistan/Pakistan-Supreme-Court-directs-police-to-trace-three-Hindu-women/articleshow/12189273.cms

http://zeenews.india.com/news/south-asia/hindu-girl-forced-conversion-spark-protest-in-pak_761761.html

http://www.globalpost.com/dispatch/news/regions/asia-pacific/pakistan/120306/rinkle-kumari-missing-hindu-woman-ordered-appear

http://www.hindujagruti.org/news/13609.html

http://networkedblogs.com/uWlTg

http://www.bbc.co.uk/news/world-south-asia-17272943