Tag «राकेश लखाणी»

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम इत्हास ऐं उन ते दारूम्दार रखिंदड कोमिप्रसती सिंधूनि (हिंदु बरादरीअ) ते कद॒हि को घरडो असर कोन छद॒यो, ना ही सिंधीयूंनि को इत्हास खे याद करण या उन मां सिख वठण जी का जरुरत ई महसूस कई आहे। पहिंजी विञायलि विरासत खां परे थियलि सिंधी बिरादरी पिछाडीअ जे 1300 सालनि …

सिंधी दलित –हिक विसारियल कोम

दलित सिंधी बाबत जेकरि कहिं सिंधी हिंदु (हिंद में) नह भी भी बु॒धो हुजे तह वाईडईप जी गाल्हि नह थिअणी खपे। हिंदु सिंधीयनि जो दलित सिंधीयनि बाबति अण – वाकफिति जो हिकु वदो॒ सबबु इहो आहे तह विरहाङे सबब लद॒पण सिंधी दलित जी नह के बराबर थी। आम तौर सा इहो ई दि॒ठो वया आहे …

हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। …

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ …

सिंधी अगवाणन जी सिंयासि अमेदनि में फातलि सिंधी बो॒ली

सिंधी बो॒लीअ जो हिंदुस्तानि जे संविधानि मे तसलिम, हिक दि॒घी जहोजिहद बैद थी । पर इन जदोजिहद में हिक ट्रजिक हिरो पिणि हो या खणी चैअजे आहे, सो आहे लिपी। जेतोणेक लिपी जो मसलो अगे॒ पोइ अचणो हो पर जहि रित असीं लिपीअ खे तोल दि॒नो सा कहिंखे भी वाइड़ो करण लाइ काफी हो। सभिनि …

सिंधी साहित्य जो सुमरो तारिक आलम आबरो जो लाडाणो

इहा गा॒ल्हि छंछर दि॒हं जी राति जी आहे, मस जेड़हा द॒ह वगा॒ हूंदा फेसबूक में सिंध मां शाई सिंधी आंलाईन न्युज पोर्टल “सिंध नयूज” मारफति अहवाल मल्यो तह सिंधी बो॒ली जो नलेरो साहित्यकार सांई तारिक़ आलम आबरो नह रहयो। मुंखे लगो॒ इन ते थोडी छंदो॒ छाणि कजे। इन लाइ मां इंटरनेट जो सहारो वर्तो। सुबूहु …