लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

इत्हास ऐं उन ते दारूम्दार रखिंदड कोमिप्रसती सिंधूनि (हिंदु बरादरीअ) ते कद॒हि को घरडो असर कोन छद॒यो, ना ही सिंधीयूंनि को इत्हास खे याद करण या उन मां सिख वठण जी का जरुरत ई महसूस कई आहे। पहिंजी विञायलि विरासत खां परे थियलि सिंधी बिरादरी पिछाडीअ जे 1300 सालनि में रूगो॒ पहिंजे पाण खे जिंदो रखण ही हिक वदी॒ किरामत पई समझी आहे। इहो ई सबब आहे जे माहाराजा दा॒हिसेन बैदि असीं ऐडही का भी सियासी शख्शियत तोडे सोच कोन पैदा करे सघयासीं जेका सिंधी हिंदु बिरादरीअ खे कही हद ताई पहिंजी विञायलि विरासत खे बि॒हर हासिल करण लाई जाखडे लाई तयार करा सघे।

अंग्रेजन जे सिंध फतहि खां अग॒ हिंदु सिंधीयूंनि जी हालत बाबत सिंधी  लेखक लाल सिंह हजारीसिंह अज॒वाणीअ लिखे थो तह जेतोणेक अंग्रेजन जी हकूमत पिणि हिक परदे॒हि अण सिंधी हकूमत हई पर उहा हकुमत हिंदु सिंधीयूंनि लाई बे-ढप जिंदगी गा॒रण जी राह खोली । जेतोणेक अंग्रेजअ पिणि परदे॒ही हवा पर हिंदुनि खे हजारल सालनि बैदि मूसलमानि हूकूमरानन जे  जुलमनि खां निजाद मिलि। (हवालो द हिस्टरी आफ सिंधी लिटरचर, साहित्य अकादमी नई दिल्ली)। इहे हकिकतूं इन गा॒ल्हि जी शाहिद आहिनि तह महाराजा दा॒हिर सेन बैदि ऐं अग्रेजनि जे सिंध अचण ताई सिंध जी हिंदु बरकादरी हमेशाहि पहिंजो वजूद खे सोघो करण में ई पूरी रही।

बदकिसमतीअ सां पहिजे विरासत खां भिटकयलि सिंधी कोम अंग्रेजनि जे दि॒हिनि में समाजिक तोडे सियासी रित उभरी तह अचण में कामयाब थी- पर ऐडही हालतुनि जे मार्फत पहिजे वजूद खे सोघो करण बजाई खवाह ऐडही का भी सियासी सुजाग॒ता कोन पुख्ति रित अवाम अगयां अणे किन सघी जहिं सबब पहिंजो वजूद ऐं इंदड टेहीअ लाई सिंधी थी हूअण जी राहि कहि कदुर सहूली थी सघे।

विरहांङे महल सिंध में हिंदु  सिंधी बिरादरी, सिंध जे मूल आबादीअ जी 35 सेकिडो हई, इहा भी पहिंजे पाण में हरु भरु का नंढी आबादी नाहे। साणु साणु इअं भी मूमकिनि नाहे तह अंग्रेजनि हिंदुनि खां संदुनि मस्तकबिल (भविष्य) बाबति रायो किद॒हिं जा॒णण की कोशिश ही नह कई हूजे। इहो किअं मूमकिन आहे तह जेका विरादरी सिंध में ऐतरी कदर उभरू आई आहे, नोकरशाही, तालिम तोडे धंधे में जहिंजो ऐतिरो रुतबो हो तन खे नजरअंदाज करे अंग्रेज रूगो॒ सिंध ऐसेलंबली में घणाई में रहिंदड सिंधी मूसमानि खे ई रूगो॒ ऐहमियत दि॒ञी हूजे।

इत्हास गवाह आहे तह इहा बिलकुल पक हूई तह हिंदुस्तानि जे मूसलमानि पारां लद॒पण थिंदी। लद॒पण जा गा॒ल्हि नह रूगो॒ मौलाना अबू कलाम आजाद सरेआम कंदो हो पर केरु थे विसारे सघे पीर महमद राशदी ऐं जी ऐम सईद खे जनि खे हिदुनि जो उबरी अचण अची ऐतिरो सतायो हो जे बिहारी ज॒टनि आगा॒या पहिंजा मूल्क हूंदे, पहिंजो हथनि में हूकूमत हूंदे पहिजा गो॒दा॒ टेकया ज॒णु हिंदुनि संदुसि उथण वेहण हराम कयो हूंजे। हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो सभ काफि किन हो इहो समझण लाई तह हिंदुनि जी सिंध में हालत सागी॒ कोन रहिंदी !!!

सवालु इहो भी थो अचे तह केडही सोच तहत ईहो ममझयो वयो हो जे सिंध दा॒हिं हिंदुस्तान मां मूसलमान जी लद॒प नह थिंदी। जेकरि लद॒पण नह भी थिऐ तह छा सिंध जा मूसललिम लिगी अगवान जनि पहिंजो सियासत रूगो॒ हिंदुनि जी मलकतयूं फबा॒अण जे हिर्स नसबत कई से हूकूमत में अचण बैदि माठि करे वेहिंदा। छा साणसि विसरी वयो हो तह किअं सिंध जो बंबई प्रेसिडेंसी मां धार थिअण या वरि मसजिद संजीलगाह वारा मसला रातो रात सिंध जा मसलना खा वदा॒ हिंदु मूसलिम जा मसला करे पेश करण में कामयाब थीया हवा। तह किअं हर मसले ते सिंध जा मूसलिम लिगी॒ अल्हा बख्श सा वेरु पातो हो ऐं नेठि तंदुसि खे शहिद करे ई माठ थिया। अल्हां बख्श सूमरो तोडे भगत कुंवर जूंदतु उन वक्त जूं वद॒यूं ऐतहासित वारदातूं हयूं जहि खे असी सही रित समझण में कोन सघयासिं। इन जे तह ताई कोन पुजी॒ सघयोसिं।

अल्हां बख्श जी हूकूमत जेका हिंदु मेंबरन की मदद सा ढही। जी ऐम सईद, पिर मूहूमद राशदी, आब्दुल माजीद सिंधी, अयूब खूरो तह अग॒वाटि ई अल्हां बख्श के कद हवा पर छा इहो नाहे तह सिंध जे तहि महल हिंदु मेमबरनि अल्हा बख्श जी हूकूमत ढाहे इनहिन सिंध दुशमनि जा हथ सोघा कया ? छा असी सिंध पिछाडीअ जे 80 सालनि में कद॒हि इनहि सियीसी गलतियूंनि खां सिख वठण जी कोशिस कई आहे ? इहो सबब हो तह जद॒हि हिक पासे सिंधी मूसमानि हिदुस्तानि मां लदे॒ इंदड मूसलमानि खे वसाअण में पूरा हवा बे॒ पासे हिंदु सिंधी पहिजे ई मूल्क में परदे॒हि थी पया !!! सिंधअ मां लदे॒ आयलि हिंदुनि लाई जाखडो कंदड श्री हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे –साईं जेकरि जेरामदास दौलरराम जा वारिसअ लद॒नि हा तह भी समझी सघबो हो पर हो पर हो तह पाण ई लद॒पण कई। जद॒हि पाण ई लद॒णो सोसि तो हून केडही सोच तहत ईहो रायो दि॒ञो हो तह सिंधी हिंदी विरहांङे बैदि सिंध में ई रहा सघींदा !!!!!

गा॒ल्हि रूगो सिंधी सियासतदानि जी ई नाहे। पिछाडीअ जे 65 सालनि में जेकरि कहि जो सिंध सां सांधई वाटि रही आहे सो आहिनि सिंधी साहित्य जी लेखक बिरादरी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंद जे सिंधीयूंनि लेखकनि खे सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति खबर नह हूदी पर इन जे बावजूद संदुनि के लिखणी तोडे वातोऊ कद॒हि भी हिदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति शायदि ही को लफजु उकिरो।

मां जद॒हिं ईंडयनि इंस्टियूट आफ़ सिंधोलाजीअ जे डाईरेक्टर श्री लखमी खलाणीअ सां सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि जो जिक्रु कयो तह संदुनि पिणि चवण हो तह असी सिंध मां निकरी आयासी इहा भी का नंढि गा॒ल्हि नाहे। जेकरि असी पिणि तहि महल सिंधी मूसलमानी के कुडी दिलजाई ते वेसाउ कयूं हा तह सायदि रतु जा गो॒डहा असां खे भी वहायणा पवनि हा। इहो नह नह हूनि अग॒ते चया आऊं सिंध जे शिकारपूर शहर में ऐडहनि सिंधी वाणियनि सा भी ग॒द॒यो होसि जेके लद॒ण लाई मांदा पई नजर आया। संदुनि चवण हो तह जेकरि पहिजी मलकतयूं को अधके अध में भी को जेकरि जो वणजण ताई त्यार होजे तह भी विकणे लदे॒ हिंदुस्तानि सुख जो साहू वठऊं। बदकिसमतीअ तह इहा इ रही आहे जे ऐडहयूंनि हकिकतुनि जो कद॒हि भी जिक्रु करण वाजिबु किन समझयो आहे ।

जिन विरहांङे बैदि सिंध में रही सठो सो भी खुली तोर लिखण खां पासिरा ई थिंदा रहया आहिनि। सिंधी कवि हरी दरयाणी दिलगीर जो कि 1965 में सिंध मा लदे॒ गांधीधाम वसो। पहिंजी आत्म कहाणी में संदुनि रूगो॒ इशारा दि॒ञा हवा तह किअ सिंधी में विर्हांङे बैदि माहोल जो फाईदो सिंधी मूसलमान पई वठण शुरु कयो। हून पाण भी लिखो आहे तह विरहांङे बैदि उमालक हिंदुनि पाण खे हिक म़टयलि सामाजिक माहोल में पातो जहिंजो फाईदो हर तब्के जे सिंधी मूसलमानि कहि नह कहि सतहि ते पई परतो।

हिंदुस्तानि जे सिंधी लेखकनि इंअ तह लद॒पण या 1947 ताई हिंदु मूसलिम माहोल बाबत तह जाम पई लखो पर जेसिताई 1954 बैदि थियलि लद॒पण ऐं सिंध में सिंधी समाज जी गा॒ल्हि कजे तह हूनिनि माठ रहि रूगो॒ सेकूलरिजम जी कूडी माला ई जपण में पहिंजी भलाई समझी आहे। इहो ई नह पर अजु॒ भी जद॒हि सिंध जे हिंदुनि पारां या वरि किन सिंधी कोमिप्रसतनि पारां पूरे सिंध में लद॒पण जे विरोध में ऐतजाज पया थेनि, दे॒ह – परदे॒हि जी अखबारुनि में सांधई अहवाल पया शाई थेनि शायदि ई कहिं सिंधी लेखकनि तोडे लेखिकाऊ सिंध में बचयलि हिंदुनि के सुरनि बाबत कजह लिखण जी जरुरत महसूस कई आहे!!!

सिंध में खासि करे मूसलमानि में लद॒पण जे नसबत सभिनि खे पहिंजा पहिंजा राया आहिनि। को चवे तह साईं हिंदु द॒कणा थिंदा आहिनि सो था बदमाशनि जे जूलमनि खां था पया लद॒नि, के वरि चवनि तह साई हिंदुनि खे अण सिंधीयूंनि में सङु करणो हूंदो आहे सो पया सिंध मां लद॒नि ऐं किनि खे तह हिंदुनि जा सुरअ ब॒धी उमालक पहिजा सुर यादि था यादि अचनि मसलनि हिंदु जेकरि लदिं॒दा तह सिंधी पहिंजे ई सुबे में थोडाई वारा साबित थिंदा, मार्कट में सिंधीयूंनि जो जोर घटिबो (वाणियनि जे लद॒ण सा), के वरि चवनि तह सिंधी हिंदु किअं धर्ती माउ सिंध खां परे थी था सघनि वगीराह वगिराह। वरि वदे॒रनि तोडे भोतारनि जा धार सुर ऐडहा निधीकणा मजूर किथु मिलिनि जनि ते जिअं वणेनि तिऐं जूल्म कनि।

सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधी भिल सुख राम (नालो मठयलि) जहि सा आऊ जोधपूर में गद॒यूसि मूखे चयो तह किअं हूं छो ऐं किंह सबब हून सिंध मां लद॒ण जो फैसले कयो। हून चवण शुरु करण तह अदा, अदा सिंध में हिंदु थी रहण हिकु वदो॒ जूल्म आहे। धार्मिक आजादी नाले जी का भी शई नीहे। गीता जो पाठ छा पढउं तऊं अची मथे थे अची विहिनि- चवनि छदो॒ हे रनअ जो पाठ। नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण जो खौफ सबब, असी तह नियाणयूंनि खे पढअण खां आगे॒ ई तोभां कई आहे। वरि पुटनि खे जेकरि कहि नमूने स्कुलनि में जेकरि दाखिलो मिली भी थो वञे तह खेनि पढाअण पर परे असांजे ओलादुनि खां स्कूल जा काकुस पया साफ कराईंदा आहिनि। गो॒ठ जे वदे॒रे जे खेतनि में कुम भी कयूं तह बि॒णो कम तह वठे पर मजूरी दे॒अण महलि उभतो हिसाऐ, मारा दे॒नि या कतल भी कनि।

हून अगते चयो साईं जेसिताईं हिंदु जिंदाहि रहिनि तेसिताईं सिंध में  मूसलमानि वेरु तह पाईनि पर मोऐ बैदि भी जिंदु किन था छदी॒नि।  मोऐ खां पोई  शमशान ते अग्नी भी नसिब नथी थिऐ। लाश खे सारण तह परे असां खे तह पहिजे मोअलनि खे तह दफनाअण भी किन दे॒नि। मूअल लाश खे गंगा जल सा स्नान भी कोन कराऐ सघऊं। मां पहिजे पिणसि जी लाश खे दर दर खणि भिठकयो आहियां। को दफनाअण जी भी मोकल नह दे॒। नेठि पहिजे पिणस जो बा॒रहो भी कोन कयूंमि, लद॒ण जी तह अग॒वाटि पक हूई सो विना बा॒रहें कऐ हलयो आयूसि।

मूसलमान गो॒ठ में वरि दफनाअल लाश ते टेकचर हलाईनि। ब॒यो तह ठयो पर हिक 9 सालनि के नेंगरीअ की लाश मिठीअ मां कदी॒ बा॒हर फिटो कई। इहे वाक्या सिंध जे गो॒ठ गोठ में पया थेनि। असीं जेकर नह लद॒उ तह नेठि छा कयूं ???. गा॒ल्हि रगो॒ असी भीलनि जी नाहे ऐडहा जुल्म घठ मथे हर हिंदुअ सा पया थेनि।

 

सुख राम (नाले मटयलि) जेकरि सेकिडो सचु किन थो गा॒ल्हिऐ तह अगो॒पोई कूड भी कोन पई गा॒ल्हियो। रिंकल कुमारीअ जो अग॒वा थिअण तह सिंधु साणु पूरी दुनिया पई दि॒ठो तह किअं पहिजी नयाणी जे रिहाई जी लडाई लणिंदड रिकल कुमारीअ जा माईट हिकु हिंदु करे सिंध वादाईंनि पया। सिंध मां शाई थिंदड अवामी आवाज सां गा॒ल्हाईंदे रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि चयो तह खेनि घर में कम कंदड मेंघवार जाईफुनि खां चवायो वयो तह माठि करे घर में मानी खाओ या सरे आम सोटी खाओ . रिकल जा घर हेकला नाहिनि। अञा महिने अग॒ हिंदुनि जे हिमायति में अवाज उथारिंदड वजील मल मारवाडीअ खे अग॒वा करे कतल कयो वयो। अग॒वा, लूटमार, नयाणियूंनि जो जबरनि ईसलाम कबूल कराअण, भतो वसूलण ऐ जेकरि जो विरोध करे तह कतल करे रखण आम गा॒ल्हि थी पई आहे। बलूचिस्तान जे मसतूंग शहर मां लदे॒ आयलि हिकडे हिंदु हिंदुस्तदान जे हिक अख्बार साणु गा॒ल्हईदे चयो तह सिंध तोडे बलूचिस्तान में हिंदु रहिनि जरूर था पर रहण जेडहयूं हालतु नाहिनि ।

सिंध में कहि भी हिंदु लाई हिंदु थी रहण को सहूलो कम नाहे। जेकरि अव्हां कहि भी हिंदुअ खां संदुनि दीन धर्म बाबत पुछिंदा तह अव्हां खे जवाबु मिलिंदो –आउं अण-मूलसमानि आहियां, हू पहिंजी हिंदु  हूअण जी सुञाणप तद॒हि दिं॒दो जद॒हि अव्हा खेसि पंच – छह भेडा किन  पूछीदा या हू कहि सबब मजबूर किन थिंदो। हिंदुनि खे हिसाअण सिंध में आम गा॒ल्हि आहे। सिंध में हिंदु चवनि तह असी हिंअर सोन जा आना दिं॒दड मूर्गी करे लेखया वेंदा आहियूं। सिंध जा हिंदु नूमाईंदा जेडहा आहिनि तेडहा नाहिनि। अजु॒ भी जद॒हिं सिंध में 1947 जेडहयूं हालतु आहिनि तद॒हि हूनिनि मां शायदि ई कहिं पाकिस्तान पिपिलस पार्टी छद॒ण लाई त्यार आहे इहो जा॒णिंदे भी की हिंदुनि ते थिंदड जूलसमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जो रहयो आहे – उहो भले ई रिंकल, आशा या लता जो हूजे या वरि चक, पूञेआकिल में हिंदु जो कतल हूजे। अजु॒ जद॒हिं सिंध में चूंडयूं मथे ते आहिनि तह खेनि पहिंजा हिंदु भाऊर पया याद अचिनि। हे इहे ई अग॒वान आहिनि जेके पहिंजे औलाद खे तह हिंदुस्तानि लदा॒ऐ छदनि बाकि आम हिंदुनि खे वेठा सिंध धर्ती नह वांदाअण जो पाठ पढाईनि।

सिंध में हिक जबरदस्त कोशिश रही आहे कहि नह कहि नमूने इहा लद॒पण खे रोकिजे, हिंदुनि खे लद॒ण नह दि॒जे ऐं हिंअर तह पाकिस्तान हकूमत पारां भी विजा हूंदे भी हिंदु खे हिदुस्तानि लद॒ण खां रोकयो पयो वञे, संदुनि हिंदुस्तान वञण जूं टिकेटां रद पयूं कयूं वञिनि। सिंध मां भले कहि भी तब्के जो हिंदु छोन नह हूजे हू लद॒पण हमेशाहि ई लिकी गुझायप में थो करे। सिंधु जी गादी कराची मां लदे॒ आयलि ऐं अहमदाबाद में वसेयलि हिक डाक़टरअ साणसि जद॒हि आऊ गद॒यूंसि तह हून साई पिणि सागी॒ गा॒ल्हि दहूराई तह साई असी तह पहिंजे मिटनि माईटनि ताई खे कोन द॒सयूं पहिजे लद॒ण जा गा॒ल्हि। संदुसि जोणसि पिणि पई चयो तह अदा, मां तह पहिजे पेके घर खे भी कोन बु॒धायो असी लदे॒ था वञउ जिऐं ओसे पासे कहिखे भी इन गा॒ल्हि जो छिड्रु ताईं नह पवे!!!!

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह लदीं॒दड हिंदुनि खे हिंदुस्तानि खे इंदे ई सुख था मिलिनि। हित नागरिकता जा वदा॒ मसला आहिनि। हिंदुस्तान में खेनि 12 साल ताई थो रहणो पवे ऐं इन बैद् भी नागरिकता कोन थी मिले। मसलो उनहिनि लाई वदो॒ आहे जनि खे नोकरी थी पई करणी पये, आम तोर सां पाकिस्तानी हूअण सबब को नोकरयूं नथो दे॒, नाई ई वरी सहूलियति सां मसवाड जी जाई थी मिले, हिक शहर खां बे॒ शहर में वञण खां अगवाटि हूकूमत खां मोकल थी पई गुरणी पऐ, जेकर कहिजो मिट माईटू बीमार भी हूजे थो तह जेसिताई धारे शहर में वञण जी मेकलि मिले तेसिताई तह बीमार माण्हू हिन फानी दुनिया मां मोकलाऐ थो वञे। मिटी माईटी में भी तकलिफयूं पयूं थेने सो धार, पहिंजे चाहि मोजीबु शहरनि में वसी कोन था सघनि, बारनि जी स्कुलनि में दाखिले में पई दिकत थिऐ या वरि गरिब तब्के मसलनि भील, मेघवार लाई हाथियूं वदी चटी इहा तह खेनि दलित हूअण जे वावजूद नागरीकता नह हूअण सबब का भी सरकारी मदद नथी मिले।

अजु॒ सिंध में 1947 वारयूं हालतु आहिनि या खणी चईजे तह 47 खां भी बदतर आहिनि तह वधाउ कोन थिंदो। विरहांङे वकत तह रूगो॒ शहरनि में पई गोड थियो पर हिंअर तह लग॒ भग॒ हर कुड कुर्च मां  सिंध में हिंदु लद॒ण लाईं मादां आहिनि। इहे केडहा सबब आहिनि जे सिंध मां लदे॒ आयलि हिंदुनि मोटी मञण जे नाले ते खौफ में था सिकूडजी वञिनि, पहिंजा पास्पोर्ट ताई पया साडिनि। सिंध मोटण जे बीदरा हू जेलनि में रहण ताई लाई कबूलिनि।।। गुजरात जे शहर अहमेदाबाद में लदे॒ आयलि मां डाकटर, सुठी बैक में सुठी पघार वारा नोजवान पिणि मिलया जेके तमाम घणनि तकलिफून खासि करे नागिरकता जे मसले नसबत तह सहण लाई त्यार आहिनि, मूशकिल माली हालत में रहण तह कबूलिन था पर सिंध मोटण लाई असुलि तयार नाहिनि। हिंकडे लदे॒ आयलि हिंदु सिंधी जो चवण हो तह जेकरि सिंध – राजिस्थान जी सर्हद रूगो॒ कलाकनि लाई भी खोली वई तह भी घट में घट हजारनि जी तादादि में लदिं॒दा !!!!

वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे लद॒पण में या इन बैदि हिंदुस्तान में जाम तकलिफयूंन जे बावजूद लद॒ण जो चाहि वक्त सां घटण खां बिदरां हमेशाहि वधी आहे। 1971 जी हिंद-पाक लडाई महल 90,000 हिंदु सिंधी लदे॒ आया । तहि महल नह तह जिया हो ऐं नह ई मिया मिठू तह पोई छो इअं थियो ? इहो ई नह पर लद॒ण बैदि हिंदुस्तान हकूमत जे लख कोशिशन जे बावजदू छो हो मोटी सिंध कोन वया ? चवदां आहिनि तह खेनि हिंदुस्तानि मां मोटाअण लाई जेलन में बंद करण ऐं ऐतजाज करण ते गो॒लयूं ताई हलाअण जी धमकयूं दि॒नयूं वयूं पर इन जे बादजूद हो कोन मोटया। हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे जेकरि हिंदुस्तान पाकिस्तान जी सर्हदयूं टिन दि॒हनि लाई भी खोलयूं वयूं तह शायदि हिकु भी हिदु सिंध में कोन बचिंदो। इहो सब इन जे बावजूद जे कराचीअ तोडे बलूचिस्तान मां खोखरापार पूज॒ण में हिकु दिं॒हूं जो पंधु आहे। इअं छो पयो थिऐ, छा लाई पयो थिऐ इअं छो पयो थिअण दि॒ञो वञे … इनही सभ सवालनि नह तह हिंद जा सिंधी अग॒वान ऐं नह ई सिंध जा हिंदु अग॒वान कद॒हि भी संजिदगीअ सां विचार करण जी जरूरत महसूंस कई आहे।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तानि के सिंधी अगवानन जी हिंदुस्तानि जे हूकूमत हलाईंदडनि ताई पुज॒ण जी सघ नाहे पर असीं हिंदु सिंधीयूंनि पहिंजी सिंयासत ई ईन रित तयार कई आहे जे पहिजे बिरादरी लाई कहिंखे मिंथा करण दो॒हू समझिंदा आहियों। हर कहि व़ट पहिंजो पहिजो मिहूं आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर ऐडहो वरजाउ सिंध में हिंदु नुमाईदन जो कहयो आहे वरी जेकरि को मिसकिन माण्हू हूजे तह उन जी वाई बु॒धे केरु।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी ई हेकली बरादरी आहे जहिंजा अवाम परदे॒हि में था वसनि। हिंदुस्तानि में तमिलनि जो हिकु हिस्सो श्रीलंका में रहे थो , हिंदी गा॒ल्हिईंदड जो हिकु तब्को फिजी या मोरिशियस  में थो वसे वरि अजु॒ भी हिंदु बंगालिन को हिकु हिंस्सो अजु॒ भी बंगलादेश में रहे थो पर इन जे बावजूद उनहिनि कोमनि लाई संदुनि परदे॒हि में रहिंदड बीरादरी उपरा (धार्या) नाहिनि। हिंदुस्तान जी संसद में सिंध तोडे पाकिस्तान जो मसलो राज्य सभा तोडे लोक सभा में आयलि आहिनि पर बदकिसमती ऐडही आहे जे नह तह बहस में आदवाणी नाह ही जेटमलाणी कजहि गा॒ल्हिअण जी जरूरत महसूस कई जद॒हि तह हर सिंधी जलसे में खेनि घुराऐ सिंधी पहिजी शान समझींदा आहिनि। इहो ई नह खेनि सिंध में थिंदड जूलमनि बाबत जा॒ण हूअण जे बावजूद कहि खा भी हिकु खतु परदे॒हि तोडे प्रधान मंत्री दा॒हि लिखण कोन पुगो॒।

पाकिस्तान जो 95 लेकिडो हिंदु सिंध तोडे बलूचिस्तान में थो रहे या खणि चईजे तह सिंध अवाम आहे पर इने ऐकड बे॒कड जलसनि खां सवाई हिंदु सिंधी माठ ई रहया आहिनि ज॒णु कदहि कुझ थियो ई नह हूजे। असीं उहे ई सिंधी आहियूं जिन राम मंदिर जे जाखडे महल वदा॒ हिंदु थी विठा हवासि इहो विसारिंदे की बाबरी मसजीद जे ढाचे जे ढहण बैदि लिङ कादा॒ईंदड जूलम हिंदुनि सां सिंध तोडे बलूचिस्तान में थिया। असी तहि महलि भी पाकिस्तानी सिंधीयूंनि ते थिंदड जूलमनि जो समाउ कोन वरतो नह ई उन जो समाउ वठण जी जरुरत ई महसूस कई नह ई अजु॒ पाकिस्तानि में फातलि सिंधी हिंदुनि लाई का वदी॒ आवाज उथारण लाई त्यार आहियूं।

चवंदा आहिनि तह जेकरि कहि कोम खे नासु करणो हूजे तह उन कोम जे इतहास खे ई खतम कजे। सिंध फतहि बैदि अर्बनि सभिनि खां अग॒वाटि सिंध इहो ई कम कयो जहिंखे असीं हिंदु सिंधी पया दहूरायो। हिंदुस्तानि इंदे शर्त ई सिंधी हिंदु अगवान इनही वाट ते ही हलया। खेनि खबर हूई जेकरि हिंदु सिंधी, हिंदुस्तान में पहिजे वजूद खे विरारे जुदा जुदा कोमनि में सिमजी वेंदा तह को भी खेनि सिंध में दहूरायलि पुछिंदो ई कोन। आचार्य क्रिपलाणी तह सरे आम चवंदो हो तह सिंधीयूंनि खे सिंध विसारे जदा जुदा कोमनि में अटे में लूण थी वञणो खपे।  जोधपूर में हिक लोहाणे तह मूखे चई दि॒ञो तह साई असी भील, मेघवार, कोली या वरी सोढनि खे सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियो भले हू संदुनि मादरी बो॒ली सिंधी छोन नह हूजे। इहो इन जे बावजूद जे असीं विरहांङे खां अगु॒ हजारनि सालनि खां  साणसि रहयासिं ऐं हिअर छह द॒हाकनि जे अंदर ई असीं खे अण सिंधी करार था द॒ऊं।

असीं रिवाजी सिंधी भले पाण खे केतिरा नह वदा॒ निज॒ हिंदु या हिंदुस्तानी कोठायूं पर पर कहि नह कहि दि॒हूं , कहि नह कहि हंद असा खे हिंतोउ जा मूल वासी जरुर समाल कंदा तह साई जद॒हि अव्हा पहिजनि जा नथा थी सघो तह असांजा किअ लेखिबा…..

इन सवाल लाई हिंदुस्तान में वसयलि हर हिंदु सिंधी खे तयार रहणो खपे।

सिंधी दलित –हिक विसारियल कोम

दलित सिंधी बाबत जेकरि कहिं सिंधी हिंदु (हिंद में) नह भी भी बु॒धो हुजे तह वाईडईप जी गाल्हि नह थिअणी खपे। हिंदु सिंधीयनि जो दलित सिंधीयनि बाबति अण – वाकफिति जो हिकु वदो॒ सबबु इहो आहे तह विरहाङे सबब लद॒पण सिंधी दलित जी नह के बराबर थी। आम तौर सा इहो ई दि॒ठो वया आहे तह सिंधी दलितनि लद॒पण रिवाजी सिंधीयनि वाङुरु कोन कई। हिंदुस्तानि में सिंधी गा॒ल्हिईंदड ईलाके में कच्छ ई हेकलो इलाको आहे जिते सिंधी कच्छी (हिंदु) दलित भी रहिनि था। पर छो तह आम रिवाजी सिंधी संदिनि सां को भी राबतो कोनि रखनि सो आम सिंधीयूं खे सिंधी दरितनि बोबत जा॒ण भी तमाम महदूद ई आहे। जेतोणेक सिंधूनि में ब॒न लेखकनि श्री परसो गिद॒वाणी ऐ जेठू लालवाणी कच्छ में सिंधी जातयूं बाबति किताब शाया कया आहिनि पर इहे किताब मूल तरहि सिंधी – कच्छी बोलीयूनि जे पाण मे वाटि जे नसबत ई आहिनि। जेतोणेक श्री परसे गि॒द॒वाणी कच्छे जे सिंधी ऐलाईके ऐं खासि करे बी॒नी में रहो सिंधी दलितनि जातयूनि बबति तमाम सुठो कमु कयो पर छो तह हिंद में आम रिवाजी सिंधीयनि में आर्बी लिपीअ जी जा॒णी नाहे सो चङनि सिंधी लेखकनि वाङुरि श्री गी॒द॒वाणीअ जे महेनति जो भी कदुरु कोन थयो जिऐं थिअणो खपिंदो हो।

जेसिताई सिंध में दलितनि जी गाल्हि कजे तह परु सालि ताईं मुखे सिंधी दलितनि बाबत ओतरी जा॒ण हुई जेतरि कहि आम हिंद में रहिंदड सिंधी नोजवानअ खे। सिंधी दलितनि बाबत मां पहिरों लङे साईं जेब सिंधी जे लिखयलि कालम दिल जी गा॒ल्हि में पढहो (हे कालम सांदहि कराचीअ मां शाईं थंदड अखबारि काविश में शाईं थिंदा अहिनि) हो लिखे थो तह बदिईनि जीले में (दखिण सिंध जो हिकु जीलो) दलितन खे बो॒द॒ सतालयनि लाई अदा॒यलि कैंपनि में खाधो नथो दि॒ञो वञे। वरि जद॒ही हिन साल भी सिंध में बो॒द॒ आई आहे तह साग॒या मंज़र पया दि॒सण या बु॒धण में अचिनि। दलितनि जे इन हालतनि जो बयानि सिंधी मिडिया खां वधिक कहि कदुर पाकिस्तानि जी अग्रेजी मिडीय में शाई थयलु आहे। अखबारिन में ईहा खबरि शाई थी आहे तह सिंध जे दलितनि खे खुले आसमानि हेठि दिं॒हि ता गा॒रणा पवनि। खेनि राशण पाणि भी कोनि थो दिञो वञे। मां लग॒ भग॒ ब॒नि सालनि खां सिंध मां शाई थिंदड सिंधी अखबारिनि खासि करे आनलाईनि अखबारिन खे नजरि खां कदां॒ पयो पर अजु॒ ताईं वरली ई सिंध जे दलितनि बाबत का खबरि शाई थी हुजे। वरि जेकरि असीं सिंधी साहित्य दा॒हिं पहिजी नजर वराईंदासिं तह उते भी सागयो मंजरि नजर इंदो। मतलब तह जद॒हि जद॒हि बो॒द॒ या का कुदरिति आफतिनि सबब मिडिया (खासि करे अंग्रेजी या परदे॒हि मिडिया) जी नजर पवे थी तह गा॒ल्हि बी॒ आहे बाकि घणो तणो दलितनि ते थिंदड वयलि खे का आम रिवाजी गा॒ल्हि करे ई लेखो वेंदो आहे। सायदि इन अखबारि पढिंदडन जो को भी चाहि ई नह हूंदो आहे दलितनि बाबति।
सिंध में दलितनि बाबत का भी विचूडनि खां अग॒वाटि असां खे हाणोके पाकिस्तानि जे अण मुसलमानि दा॒हि पहिजी नजरि दोडाअणि पवंदी। पकिस्तानि में अदमशमारीअ जी ग॒णप कजहि हिन रित आहे….
मुसलमानि- 96 सेकडो
हिंदु (रिवाजी) – 0.5 सेकडो
क्रिसचनि-1.5 सेकडो
हिंदु दलित – 1.5 सेकडो
ब॒यूं अण मलसलमानि कोमयूं (बौध, फारसी, यहूदि वगिराहि) – 0.5
जेसिताईं आजिविका जी गा॒ल्हि कजे तह दलितनि में मर्द तोडे जाईफुनि हेठि जा॒णायलि पेशे सां लग॒लयि समझया वया आहिनि।

मर्दनि में-

खेति में मजूरि-50 सेकडो

लठनि जे कारखाने में मजूरि- 20 सेकडो

मोची-20 सेकडो

साफ सफाई में – 5 सेकडो

सरकारि नोकरि-0.5 सेकडो

ब॒या मुखतलिफ रोजगारि में- 4.5

जाईफाउनि में

खेति जे नतबति कमनि ते-50 सेकडो

लटे कपडे सिबण जे कमनि में-20 सेकडो

घरि जे कमंनि में – 30 सेकडो

हिक अनुमानि मोजीबु सिध में खासि करे खेतनि में मजूरि जो कमु 70 सेकडो दलितअ कन। बाकि 30 सेकडे में मुसलमान इन कम लग॒यलि आहिनि जहिंखे हारि थो कोठया वञे। जेकरि इलाके जी गा॒लिह आहे तह जद॒हिं उतर सिंध में घणो तणो खेतनि में मजुरी मुसलमानि हारि कन पर थार परकारि ऐं बदिईन (दखिण सिंध) में इहो कम हिंदु दलित ई कनि। अदमशमारि मोजिबु सिंधी दलित थारि परकारि में 35 सेकिडो आहिनि ऐं वदिईनि में 20 लेकिडो। सिंधी हारिनि लाई सिंध जूं सियासी तंजिमयूं तोडे सिंधी अगु॒वाण तमाम घणी जदेजिहद पई कई। इहो ई सबब आहे तह सिंधी हारिनि जी हालति सिंधी दलितनि खां कहि कदरु सुठी आहे। मथे जा॒णायलि आकडनि मोजीबु सिंध में रिवाजी हिंदुनि खा टिनि गुणा खां वधिक हिंदु दलितअ आहिनि। हिक सर्वे मोजिबु सिंधी हिंदु जेके अञा ताई सिंध में रहलि आहिनि तनि जा 80 सेकडो सिंधी दलित आहिनि। पर इन जे वादजूद सिंध में हिंदु दलितनि में जेका नुमाईंदगी मिलणी खपे सा कोन मिलि। जद॒हि भी सिंध में सिंधीयनि जो जिक्रु अचे थो तह हमेशाहि ई रिवाजी सिंधीयनि जो जिक्रु इंदो आहे –केतिरो नह अजीबु आहे तह सिंध में हिंदुनि जो ऐदो॒ वदो॒ तब्को मोजोद हुअण जे बावजूद संदिनि बाबत सिंधी समाज में को भी जिक्रु नाहे- नको हिंद में ऐं नह ई सिंध में। सिंधी साहित्य में भी संदिनि जिक्रु लग भग नह जे बराबर आहे। मां जेतिरो भी सिंधी सीहित्य पढो आहे इन में मेंखे सिंधी दलितनि बाबति कहिं भी जिक्र जी गा॒ल्हि जेकरि मां पढी हुजे मुखे यादि नथी अचे। इहो ममकिनि आहे तह संदिन बाबत को भी जिक्रु कयो ई नह वेंदो हुजे।
असां भले मञोउ या नह पर पाकिस्थानि जो वजूदअ में अचण जेकरि कहि कोम में वदे॒ में वदी॒ उथलि पथलि आंदी आहे तह उहो आहे सिंधी कोम। ऐडहो को भी तब्को नाहे जहिं ते हिन विरहाङे पहिजो असरु कोन विथो। छा हिंदू ऐं छा मूसलमानि। पाकिस्तानि जे वजूद में अचण बैद ज॒णु माहोलि उमालक ई मटजी वयो। सिंध जोतोणेकि माजीअ में निज मूसलिम सलतनत जो हिस्सो रहि हूई पर 1947 खां पोई उमालक तालिम , समाज ऐं सियासति में हिदु हिकु जूलमि ऐं मुसलमानि हिकु सतायलि करे पेश कयो वयो। सिंध जो हिंदु तोडे मुलसमानि इन हमेशाह ई संतनि ऐं पिरनि खे मञिदा आया आहिनि पर विराहांङे बैद उमालक हिकु ऐडहो इसलाम संधीयनि ते थोपो पयो जहिं सा सिंधु अणवाकिफु हो। जेतोणेक हर तबके में इहा उथलि पुथलि थी जहि तबखे ते सभनि खां वधीक वयलि थया सो आहिनि सिंधी दलित। सिंध में दलितनि थे थिंदड वयलनि में नशाने ते दलित जेफाऊं ऐं नयाणयूं ई थयूं आहिनि। मसलनि
1. जबानी यीतना
2. जंसी यातना
3. जोर जबसती धर्म जो बदलाउ
4. लज॒ लुट, आम लज॒लूट ऐं अग॒वा
5. हाथापाई
6. तबीबी लापर्बाही
दलित जईफाउनि ते जूलमनि सबब आहिन क) जेईफां हुजण, ख) दलित हूअण ऐं ग) अण-मुलसलमानि हुजण
दलितनि ते जूलमनि सां मसलो ईहो आहे तह संदनि ते थिंदड कहरनि जी फरयादि भी बी को ब॒धण लाई तयारि नह हूंदो आहे। जिअं रिवाजी तोर हिंदुस्तानि में भी थिंदो आहो आहे तह दलितनि पारां पर्यादनि ते ऐफ आई आर नह दर्ज कोन कई वेंदी आहे। वरि पाकिस्तानी अदालितनि जो हाल भी ऐंडहो रहयो आहे जे कोर्ट या वकालती भी सघेरनि जूं रहयूं आहिनि। अदालतिनि जो हाल सिंधी मुसलमानि बाति भी साग॒यो तह पोई हिंदुनि बाबति इहो भी दलित हिंदुनि बाबत तह सोचे सघजे थो। दलितनि जेफायूं ते थिंदड जूल्मनि मेंल हिक अहम जूलम आहे नियाणनि खे अगवा करण ऐं पोईं संदिनि खे मुसलमानि सां जबरदसति पणञाअण। जेईफउन ऐं नेंङरिनि खे अगवा करण जूं वाकदात तह रोज जूं गा॒ल्हिईयूं आहिनि। अगवा करण जो तरिको भी साग॒यो आहे। अगवा घणो तणो रात जो कयो वेंदो आहे जद॒हिं घर जा भाति सुता पया हुजनि। जेकरि घर जा माईट पहिंजी नियाणयूं खे गो॒ल्हे भी लहन तह बी संदिनि खे पहंजी नयाणुनि मोठाऐ नह दि॒ञयूं वेंदयूं आहिनि इहो चई जे हो हिअर हो मुसलमानि थी चूकयूं आहिनि, सो अव्हां जे हथ नथा करे सघोयूं। इन अगवा कयलि नयाणयूनि खे या तह संदिनि खे मुसलमानि सां परणायो थो वञे या नह तह कहि खे विकयो थो वञे जिअं हजारनि सालिनि आगु इंसानी समाज में थिंदो हो।

जेकरि गा॒ल्हि कजे सिंधी दलित मर्दनि जी जी तह संदिनि ते झुलम नंनढे हूंदे खां ई शुरु थी वेंदी आहे। स्कूलनि जे पाठ्यक्रम ई ऐडहो आहे जहि में हिंदुनि खे जिलमी करार दिञो वेंदो आहे। इन खां सवाई हिंदुनि जी जेका इशारनि इशारनि में जोको धर्म जे नाउ थे हेठ करे देखारो वेंदो आहे सो घारि। इन गा॒ल्हिईयूंनि खा बचण लाई जे हिदु मसलमानिका भी पया कखिनि जिअं संदिनि इन रित जे वहिनवार खां बची सघिनि पर कामयाबी तमाम घठिनि खे ई मिलिंदी आहे। वरि जेको अणपढयलि जोके खेतनि में मजूरि कनि तह लाई तह जिंदगी कहि सजा खआं घटि नाहे। संदिनि जी नह तह दाद ऐं नको फर्यादि बु॒धी वेंदी आहे।
जेतोणेक विरहाङे खां अगु पूरे नंढे खंड में जमिनदारनि जो राज हो तह आजादि बैदि इन में हिदुस्तानि में हिकु तारिखि फेरो आहे। हिंदुस्तानि में कांग्रेसि अजादीअ जी जदोदिहदि महल जमिंदारि खे हिंदुस्तनि जो हिक अहम मसलो केरे लेखो हो। पर जद॒हिं तह हिंदुसतानि में इन जो खातिमो थयो पर पाकिस्तानि में ऐं सिंध में जमिदारिनि खें बख्शयो वयो। संदिनि जे बख्शणण जी हिक अहम सबब इहो हो तह हो सिंध जे नऐ हुजुमरानं (यानी हिंदुसतानि मां लदे॒ आयलि मुसलमानि ऐं पजाबी मुसलमानि) जी संलतनत खे सोघो करण जी कम इनहिनि वदे॒रन ऐं भोतारनि ई कयो। हुकूमति भी संदिनि वदो॒ साथ दिञो जेके जुलम कयोयूं तहि जी नह दाद थी ऐं नको फरयादि दर्ज कई वई। जेकरि को कुछे तह संदिसु अकहिं ते ऐंतरि वयलि थेनि जे संदुसि बिरादरिअ में कहिं जी भी वरि का हिमथ नह थे।

सिंधी दलितनि सां थिंदड वयलनि जो हिकु मिसाल आहे भील जति जो मानो भील। मानो भील थर परकारि जो रहाकू आहे। चयो थो वञे तह मानू भील 1980 जे आकालि खां पोई मिठी जीले में हिक जमिंदारि हयात रिंद सां भाईवारी गं॒दी॒। पर कनि सालनि बैद रिंद इहो इलजामि हणी जे भील हूं जा उदार नह पई मोटाया ऐं हुन भील ऐं संदुसि घऱ जे कूल 21 भातियूंनि खे संघर जिले जे जमिंदारि अबदुल रहिमान मारीअ खे विकणे छदो॒। इतफाक सां मारीअ जे खेतन में इन बंधुआ मजदूरनि पाण खे आजादि करण जी सिट पई जोडी। पक ईहा कई वई तह किशन कोहली खे अग॒वाठि आजादि करायो वञे जिअं हो सामाजिक कार्ताउनि सां ग॒द॒जी ब॒यनि खे आजाद कराऐ सघे। शाजिशि कामयाब थी कोहली खे पाकिस्तानि ऐं इंगलेंड जे किन इंसानी हकनि जी तंजीमनि जे मदद सबब चङो हुलु पई थयो जहि सबब पूलिस इन रिंद जे खेतनि ते काहि करे 71 मुजुरनि खे जहि में भील जी आकहिं भी हुई तन खे आजादि करायो। भील छो तह सागे॒ जमिदारि खे धार खेतअ में पयो कस करे सो आजादि कोन थी सघो। जेतोणेकि भील कनि सालनि बैद रिहा थयो पर खेस चङयूं यातनाऊ दि॒ञयूं वयूं।

इन विच में बेनाजीर जी हूकदमत खत्म कई वई ऐं चूंडिनि बैदि नवाज शरिफ जी हूकूमत ठहि जहि जो साथु पिर पागरे जी क-लिग॒ पिणि दि॒ञो। अबदुल रहिमान मारीअ जेको की पीर पागरे जे वेझे हुअण जो फाइदो वठी पहिजे हिक जमिंदारि सजण –बशीर चौदरीअ जी मदद मोनू भील जे आकहिं जे 9 भातिनि खे अगवा कयो। अगवा थिअण में शामिलि हुवा संदुनि पिणसि -खेरो (ज॒मार 70 वरहय),माणसि अखो (ज॒मार 50 वरहय), जोणसि मोठण (ज॒मार 40 वरहय), भाणसि तलाल (ज॒मार 35 वरहय), धिणसि मोमलि (ज॒मार 10 वरहय), पुटसि चमन (ज॒मार 12 वरहय) ऐं कांजी (ज॒मार 390 वरहय) ऐं धिणसि धाणी । इन खां सवाई हिक वेझो माईटु किर्तो। इहा वारदाति बी॒हि अपरेलि 1998 जी आहे। पहिंजे घर जे भातिनि लाई मनु भील चङा थाबा॒ खाधा पर को फाईदो कोन पयसि। भीलअ हैदरआबाद प्रेस कल्ब जे अग॒यां भी चङयूं भूक लडतालयूं कयूं पर नेठि को फाईदो कोनि निकतो। पाकिस्तानि जे चिफ जसटिस आफतिकारि मुहमद चोधरी भी इन मामले जी सू मोटो नोटिस वठी चदको आहे पर इन जे वावजोद अजु॒ थाई मनो भील जी आकहिं जो को भी द॒सु कोन मिल्यो।
सवाल रूगो कहि भील, कोहलि या मङेवारि जो नाहे पर इअं हजारनि सिंधीयनि जी आहे जेके रोज पया अगवा थेनि। अग॒वा तह रिवाजी हिंदू ऐं मुसलमानि भी पया थेनि पर दलितनि ते जूल्मनि जे नसबत मसलो इहो आहे जे इहे मसला कद॒हि भी मिडिया जी सुर्कयूं थिअण तह परे पर घणो तणो ऐफ आई आर ताईं दर्ज कोन कई वेंदी आहे। गरिब माण्हुनि खे पयो विकयो वञे जेके मंजरि नंढे कंढ में किथे भी नजरि नथा अचिनि। हे सब थी रहयो आहे ऐं सिंध ऐं सिंध खां बा॒हिरि सहिंदड सिंधीयूनि जे जा॒ण जे वावजूद। असीं सिंधी सभी पहिंजयूं लडाईयूं लडण में ऐतिरा मुशगूल आहयूं जे असां खे इन गा॒ल्हि जी ताति भी नाहे जे धारयो असां खे होरयां होरयां असां जो कमु पया लाहिनि। विरहांङे खां अगु॒ सिंधी बो॒लीअ जो मिसालि असां जे अग॒यां आहे। जेसिताई हिकु हुवासिं तह पूरे हिंदुस्तानि में हुलु करण वारी नह हिंदी ऐं नको उर्दी सिंधी जो वार वंङो करे सघी पर जां खां धार थिया आहयूं हिक पासे हिंदी तह बे॒ पासे उर्दू सिंधी ते वार कया आहिनि।

पकिस्तानि जे वजूद जे अचण बैदि ब॒ह तकयूं दलितनि लाई महफूज हयूं जेके पोई वरि मटे थोरईवारे कोम जे नाले कयूं वयूं। (किन जो मञण आहे तह इहो सब पंजाब जे क्रिशचेनि जे जोर दे॒अण सबब तहि महल के प्रधान मंत्री मियां नवाज शरीफ कई हुई। इहो मूमकिनि आहे तह शरिफ खे इन में सयासी फाईदो पोगो॒ हुजे। वरि वेझडाईअ में हाणोके सदर असिफ अली जर्दार वधाऐ चारि कयूं आहिनि पर छो तह हिअर इहे तकयूं थोडाई वारनि लाई आहिनि सो इन तकयूं ते रिवाजी हिंदुनि जी ई नुमाईंदगी रहिंदी इहो सब इन जे बावजूद जें सिंध में 80 सेकडो हिंदु दलित सिंधी ई आहिनि।

हिंदुस्तानि जी भेट में सिंधी दलितनि जी हातलि कयासु जोगी आहे इन जा के अहम सबब आहिनि।
• दलितनि जो पाण में ऐको नह हुजण- सिंध में दलितनि जूं 27 खां भी वधीक जातयूं आहे जहि में जे तह पाण में भी ठही कोन हलिनि।हिक बे॒ सां वेर पाअण में देर कोन कनि।
• अण-पढयलि हुजण- दलितनि जो 80 सेकडो अण पडहयलि आहे। इंऐ तह पूरे सिंधी में तालिम को हाल कयासु जोगो आहे पर दलितनि में तह तालिम जो हालि साफा चटू आहे। दलितअ सिध में सभनि खां गरिबाणे ऐलीईके में हरिनि जिते ज॒णु जिंदो रहण भी कहि करिशमें खां घटी नाहे।
• जमूरियति जे उसुलनि जी अणाठि- पाकासतानि में हर कोम पहिजे नजरिऐ सा जमोरियति खे दि॒सिंदो आहे। पंजाबियन लाई जमोरियति का वदी॒ अहमियति नथी रखे छो तह हो पहिजे सघ जी जोर ते सभ हथु कंदा आया आहिनि, भले हूकूमत में को चूंडयलि नुमाईंदो हूजे या तानाशाह। मुहाजरिनि जी नोकरिशाहि में हले थी तह हो भी पहिजा हक हथ करे वठिनि। पठान में पहिजो कम करे वठनि पंजाबियूनि सां गदु॒ बाकि रहया सिंध तोडे बलूच तह हो सदाई झुकी करे रहया आहिनि -जेके इन उमेदि में रहिन तह जमोरियति हुजे तह खणी कूझ हथ अचे। घठि में घठि कुझ चवण लाई हुजे, छा काणि तह ब॒यो कझहि नह तह नुमाईदो हर चारि पंज वहरयनि में वोट तह घुरण इंदोई। दलितनि जी तह वाईं बु॒धण वोरो कोई नाहे। जते दा॒ढन जो ऐतिरो जोर हूंदो तह समाज में निधीकणो करे तह छा करे।

 

जेको भी सिंधी दलितनि सां थी रहयो आहे सो कहि भी अण मुसलमानि कोम में खासि करे हिंदुस्तानि में थिंदो आयो आहे। पर अजादीअ हिदुस्तानि में वदो॒ फेरो आंदो। सभनि खां वदो॒ फेरो तह इहो आहे तह खासि करे शहरनि में रिवाजी माण्हूं खे पहिजो बाबति गाल्हिईअण जी आजादी मिलि। तालिम जो वाधारो थयो। पर सिंध जी हलति विलकूल मूख्तलिफ आहे। सिंध में या वरि पाकिस्तानि में जमूरियति कद॒ही भी पहिंजा पेर पसारे कोन सघी। सिंधी दलितनि लाई जेकरि कहिं थोडो घणो कयो आहे सो आहे अवामि तहरिक पर छो तह दलितनि जो मसलो समाजीक आहे सो इहा उमेति करण जे सियासी जोर दलितनि खे मिंलदो तह समाजिक तोर संदिनि खे पहिंजायपि मिलंदी सो गलति थींदो। दलितनि जो मसलो आहे तालिम- जेसिताई खेनि तालिम नह मिलिंदी तेसिताई हो कद॒हि सामाजिक तोर आजाद नह थिंदा।

इहो हर सिंधी लाई अफसोस जी गा॒ल्हि थिअण खपे तह संदिनि कोम जो हिक तब्को हिअर जिल्त जी जिंदगी पयो गा॒रे। पर इने जे वावजूद सिंधीयूंनि इन मसले थे कझु करण तह परे पर इन मसले जो जीक्रु ताईं कोन कंदा आहिनि। दलित हिंदु मूसलिमि बि॒हिनि पारां सतायलि आहिनि। जेकरि असीं सिंधी कोम खे हिक दि॒सण जी उमेदि था कयों तह दलितनि लाई हमदर्दी रखणी पवंदी। सिंधी दलित सिंधी समाज जा मुल हिस्सा आहिनि,हुवा ऐं रहिंदा। सिंधी दलित भले हो भील जात को हुजे, मघेवार हुजे या वरि कोहलि विरादरि जो हुजे खेनि भी रिवाजीं सिंधीयनि वाङुर जिंदगी गारण जो हकु आहे। सिंधी दलित सिंध में उहो ई पया घुरिनि जेको हर सिंधी सिंध में पया घुरिनि ऐं जिऐं कवि ऐबराहिम मुंशी लिखो आहे ….

बराबरी सरासरी असां घुरों था ऐतरि
जे पुछे को केतरि तह असां बु॒धायूं हेतरि
हिक आजाद कोम जेतरि , हिक आजाद कोम जेतरि

[slideshow]

हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। बंगलादेश जी आजादी महल बंगाली हिंदुनि तमाम वधिक कहर सठा। हिंदु बंगालियूंनि जी अबादीअ मां जेको हिस्सो लदे॒ हिदुस्तानि वारे बंगाल में आयो सो वरि मोठी बंगलादेश कोन वयो, हाथयूं जेके रहजि हवा सें होरयां होरयां लदे॒ आया ऐं अजु॒ जी तारिखअ में मस जेडहा 1-2 सेकडो ई ब़चा हूंदा। इहो मुमकनि आहे तह इहो भी दो॒हाडो परे नाहे जद॒हि बंगलादेश में को भी हिंदु नह बचयलु रहिंदो।

जेसिताईं सिंध जी गा॒ल्हि कजे तह 1947 खां 2011 ताईं जेकरि का रित सांदई हलि पई अचे तह उहा आहे सिंधी हिंदुनि अबादि जे लदु॒पणि जो सिलसिलो। सिंध में खासि करे जेकरि लद॒ पणि जो सिलसले दा॒हि नजरि दि॒जे तह इंहा चिटी रित नजरि इंदो तह जद॒ही जद॒ही सिंध में अंदरुनि अफरा तफरि थी आहे तद॒हि तद॒हि लद॒ पण भी कहि कदुरु पहिंजो पाण ई वधी वयो आहे। इहो इन गाल्हि जो शाहिद आहे तह निधिकणा माण्हूं हमेशाह ई साफ्ट टारगेट थिंदा आहिनि। इहो बंगलादेश जी अजादीअ जी लड़ाईअ महल थयो, सागी॒ रित सिंधी बो॒लीअ जे बिल महल थयो ऐं वरि सिंध में जूलफिकार भूटटो खां पोई ऐम आर डी (मुवमेंट फार रेसटोरशनि आफ देमोक्रेसि) जे जदोजिहद महलि भी दि॒ठो वयो। हर वकत हिंदु जी लद॒पण तेज थी वई। वरि सिंध विरहाङे बैद जेको सिंधी मुसलमालनि जो सिंध जी सियासत में तबाही थी आहे उन जो भी असरु सिंध जे हिदुनि जे लद॒ पणि खे जोरि दि॒ञो आहे।

आम तोर सां इहो मञयो वेंदो आहे तह हिंदुनि जी लद॒पण मुहाजरिनि (हिंदुसनाति मां लदे॒ आयलि मुसलमानि) जे सबब ईं थी। 1947 में तह कराची ऐं हैदरआबाद मां लद॒ पणि जे जेतोणेक सबब इहो ई थो दि॒सजे। मुंखे जेतिरी खबरि आहे बंगाल या पंजाब जेडहूं हालतयूं कद॒हि सिंध में पैदा कोनि थयूं हयूं, पर नाईं सेंपटिमबर जे वाकये मुखे पहिजी सोच खे कहि कदुरु बि॒हरि विचारण जे लाई मजबूर कयो। हे वाक्यो ताजो नाईं सेपटेमबर जी शाम जो सिंधी जे शखरि जिले में पनो आकिल ऐलाईके जो आहे जिते लग॒ भग॒ 200 हथयार बंधनि काहि आया। अहवालि मोजिबू इहे हथयारि बंध कुलह़डे जाति जा हवा। कराचीअ मां शाई थिंदड अवामी अवाज में शाईं थिअलु अहवालु मोजिबू – 200 खां वधिक हथयारबंद कल्हि शामअ (यानि 9 सेपटेम्बर) जो उचतो पनो आकिलि शहर जे हिंदु मूहल्लनि ईदगाह चौक शाहि बाजार में हिंदु बिरादरी जे घरनि ऐं हटनि ते उचतो काहि करे फाईरिग करे दि॒नि, जहि में जग॒त राम, परमानंद ऐं धरमूमल साणू हिंदु बरादरीअ जा पंज ज॒णा जखमि थी पया। जद॒हि तह अंधा धून फाईरिंग ब॒ह वाटहडो जफर दायो ऐं अब्दूलसत्तार दायो गोल्यूनि लगण सबब जखमि थी पया। हथयारिबंध हिंदू बिरादरीअ जे चईनि खा वधिक हटनि मां लखें रुपयनि जी फूरलूट करण बैद दुकाननि खे बा॒हि द॒ई साडे वयो, जद॒हि तह हिंदु घरनि में दाखिलि थी जाईफाऊनिं सां बतमिजी कई वई ऐं इन खां ग॒ह लावाहे फूर्या वया। हथियारि बंध पारां तेज फाईरिगं सबब सजे॒ पुने आकिलि शहरि में भाजि॒ पेअजी वई ऐं माणहूं पहिंजे जान बचाअण लाईं दुकानं में लिकी पया ऐं केतिरा लतार्जी जखमि भी थी पया। ईतलहि मिलण ते पनु आकिलि, बाईजी ऐं सुलतानिपूर पूलिस मोके ते पुजी॒ हथयार बंधनि सां महादो॒ अटकायो पुलिस ऐं हतयारबंध जे विच में फाईरिंग सबब हथयारिबंध जी अग॒वाणी कंदड बदनाम दो॒हाडी गुलाम हसनि कूलहडो यकदमि जखमि थी पयो जहि खें नाजुक हालति में इसपतालि में भर्ती कयो वयो ऐं नजिर मिराणी (संदुसि पोईलगू) मारजी वयो, जद॒हि तह हिक पुलिस अहलिकारि शहजादो काजी पिणि जखमि थी पयो। फाईंरिग बैद पुलिस किन दो॒हाडिन खे गिरफ्तारि करे पाण सां ग॒दु॒ गि॒हले पिणि वई।

जेसिताई मसले जी गा॒ल्हि आहे तह इहा खबरि आई आहे तह इहो वाक्यो विश्पत दि॒हिं (यानी 8 सेपट्मिबर) जो आहे जदहि पुनो आकिलि जे हिक पराईमेरि स्कूल जे हिंदु पटवालो साधु राम सतें वरहयनि जे सिंधी मुसलि बारडी जी लज॒णिनजी कोशिशि कई हुई। कुलहडे जाति जी इन बा॒रडीअ जूं रडयूं बु॒धी आसे पासे जा माणहु अची बा॒रडीअ खे आजाद करायो जहिखे इन पटवाले वारदाति खां पोई हिक कमरे में बंद करे रखयो हो। बा॒रडीअ खे बैद में पुने आकिलि जे असपताल मे वेहोशीअ जी हालत मां भर्ती करायो वयो। खबरि इहा भी आहे तह पटवालीअ सां हाथापाई कई वई हुई पर हो भज॒ण में कामयाब थयो। ताजे अव्हालि मोजिबु इन पटवालीअ खे रोहडीअ मां पुलीस गिरफतार करे शखर जेल में कैदि कयो आहे। सागर्दयाणी सां इन हादसे बैद, संदिसु वालिधु ऐं ब॒या माईटनि पलिसि थाणे अग॒या ऐतजादि कया, संदिनि सिकायति ते पुलिस साधुराम ऐं स्कूल जे पिरिंसिपल ते ऐफ आई आर दर्ज कई आहे ऐं केस भी दर्ज कयो आहे।

इन पुरे मसले ते पुलिस को किरदार यकिनन खेण लहणे। जेकरि पुलिस नह अचे हा महल सां, तह सायदि चङा हिंदू भी मारजी वञिन हा। हालतुनि खे नजरि में रखिंदे शखर शहर मां भी धारि पुलिस जो जथो घुरायो वयो। पुलिस जो चवण आहे तह काहि कंदड सब दो॒हाडी हुवा। पर इते मसलो इहो थो अचे तह हिनिन इहा काहि कहिजे शाई ते कई। इहो तह नाहे तह हिंदु बरादरी अगे॒ ई कनि खासि माण्हुनि जे सिधी नजर में हुई.नह तह इहो किअं मुमकिनि आहे तह हादसे जे यकदम बे॒ दि॒हीं सब हथयार बंध पूरि तयारि सा संब॒री बिहिंदा। इहो मुमकिनि आहे तह इन काहि जी तयारी अग॒वाठि हुई रुगो॒ कहिं मिहूं जी जरुरत हूई जेको हिन मसले ठह्यो ठूको दि॒ञो। इहो मूमकिनि आहे तह को हिंदुनि सा कावडयलि हुजे, या कहिजी हिंदू बिरादरीअ जी मलकितयूनु ते नजर हुजे।

हे पूरो मसलो कहि कदुरु हिदुस्तानि में गुजराति जे फसादनि जी यादि थो देआरे जिते हिक जुलम खे मुहूं देअण लाई हिकु ब॒यो जूलम कोयो वयो। गोधरा जे  रेल जे दवे॒ में साडयलि माण्हूं जी गा॒ल्हि रिवाजी माण्हू ऐं मिडया विसारे छदी॒। पुरो धयानि ई माण्हुनि जो उन फसादनि दा॒हिं थी वयो। सागे॒ रित पनो आकिलि में जको भी थयो तनि सां उन बा॒रडी जी गा॒ल्हि घठि ऐं फसादनि जी गा॒ल्हि ई माण्हुनि जे दिल ओ दिमाग में रहजी वई।

हिंदुनि ते इहे जुलम कहिं कदुरु नंढि गा॒ल्हि नाहे पर इन जे बावजूद सिंध हकूमत जो को बी वजिरु कोन अची पहूतो। वदो॒ वजिरु काअम अली शाहि जेको मुहाजरन जी कुर्बानीयूंनि (हा बिलकूल सही कुर्बीनी) जा राग॒ गा॒ऐं कोन थकबो आहे सो पुने आकिलि अचण तह परे ,हिकु हमदर्दीअ जो जुमलो पिणि कोन उकोरो। इहा गा॒ल्हि सही आहे तह सिंध में बो॒द॒ आयलि आहे। लखनि माण्हूं दरबदर आहिनि पर वदे॒ वजीरि जे उनहिनि लाई भी जे को घणो कजहि कयो आहे ईऐ भी नाहे। जां खा ऐम कयू ऐम संदिसि हकुमत खा धारि थी आहे तां खां वदे॒ वजीर जो धयानि रुगो॒ पहिजी हकूम खे सोघो करण में ई लग॒यलि आहे। जेकरि इहा बो॒द कराची या हैदरआबाद में अचे हा तह पोई सिंध हुकूमत जी गणती दि॒सण जेडही हुजे हा। सागयो हालि सिंधी मिडया जो भी हो। सवाई अवामी अवाज जे कहि भी इन मसले खे जोगी॒ जाई देअण जी जरुरत कोन महसूस कई। जेकरि कहि सयासि संजिमि इन थे सरगर्म रही तह उहा हूई जिऐ सिंध कोमी महाज। संदसि सदर बशीर खान खुरेशी मोके वारदात में पहुतो हिक अमन कामिटि भी जोडाअण में भी मदद कई। जिअं इन मसलनि खें वधण खां रोके सघजे।

कोलहडे कोम जे इन दहशद दीं॒दड वारदात सां जेका गा॒ल्हि हिंदु बिरादरीअ जे धयानि में ईंदी सो आहे लद॒पण। पाकितस्थानि जे वजूद में अचण खां ई  हिंदुनि जी लद॒पण जो सिलस्लो सांधई हले पयो । लदपण तह पंजाब ऐं खैबर पुखुतुंवाह मां भी थे पई पर सिंध मां हिंदुनि जी लद॒पण जो कहि कदुरु मुख्तलिफ आहे। जदहि तह सिख ऐं बया हिंदु सागी॒ बो॒ली गा॒ल्हिईंदड ऐलाईके में था वञि वसिनि पर सिंधी ऐडहा खुशनसिब नथा थेनि । हो अणसिंधी ऐलाईकनि में था वञी वसिनि। जिते खेनि वसण में भी तमाम वधिक तकलिफनि खे मुहुं थो देअणो पवे। संभनि खां वदो॒ मसलो आहे तह हिदुस्तानि में नागरिकता जो, जहि सबब हो तमाम तंग भी था थेनि। वरि हकूमत ताई संदिनि दा॒ही या फर्याहि नथी पुजे छो जो सिंधीयिन हिथ टरयलु पखिरयूलि आहिन ऐं ब॒यो तह सिंधीयूनि जी हित सियासत में हलिंदी पुजिं॒दी नाहे। इन खां सवाई अजु॒ जे कराचीअ वाङुरु हित गुजराति ऐं राजिसथानि  में नो गो ऐरिया तह नाहिन पर ऐडहयूनि चङा ऐलाईका आहिन जिते सिंधीयूनि खे जायूं मसवाई हित हिंदुस्तनि में सिंधीयनि सां सुबाई माण्हूनि में वहिंवार भी सीग॒यो नाहे। जिते हिक पासे गुजराति (कच्छ खे छदे॒) ऐं राजसथानि में सिंधयूनि सां वहिंवार कहि कदुरु गलत थिंदो रहयो आहे उते हिंदी गा॒ल्हिआंदड सूबनि में वरि इअं नाहे। पर इन जे बावजूद लद॒ पण जोर थे आहे छा काणि तह ब॒यो कजहि नह तह हित हिंदुस्यानि में लदे॒ आयलि हिंदुनि जे लेखे अमन ऐं सांन्ति आहे। को भी सिंधीयूनि जे घरनि ऐं दुकानं खे बा॒हियूनि नथो दे॒, सिंध वाङुरि सिंधी हिंदु नयाणिनि खे स्कूल मोकिलण में माईट दि॒जिनि कोन था।

केतरि नह अजबु गा॒ल्हि आहे जे के रिवाजी माण्हूं इहो भी नह समझींजा कोन आहिनि जूलूम कद॒हि भी कोमी नह पर शख्सी थींदो आहे। इहा गा॒ल्हि हमेशाई ई पधरि थी आहे तह जद॒हि जद॒हि जूलम खे कोम सां ग॒द॒यो वयो आहे तह नुकसानि इहो जुलमु सहण वारे जो ई थयो आहे, जेको जुलुम उन नंढरी शागिरदयाणीअ सां थयो आहे सो कहि कदरु नढो जुलुम नाहे। इहा समाज जी जिमेवारी आहे तह दो॒हारीअ खे सजा मिले, छाकाणि तह हिक दो॒हु जो मसलो कहि धारि बेहिगुनाह ते जुलमू करे पूरो नह थिंदो आहे। जेको जलमू साधूराम कयो आहे सो कहि माफि लाईक नाहे। पर जे इनही लाई कहि जा दुकान साडया वञिन या कहि खे फरयो वञे तह इहा कोम जी बदनसिबी खां सवाई ब॒यो कजहि नाहे। केतिरो नह अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे जे इन काहि थी हिदुनि ते पर वारदाति ते मुआ ब॒ह सिंधी मुसलमानि। सिंधयनि खे सिंधीयनि सां विडाहण जो ऐजेंडा मुहाजरिनि ऐं पंजाबियनि जो आहे जहि में इहे भोतार ऐं वदे॒रा अहम किरदार था निभायनि। जेसिताई इन भोतारिन खे हूकूमत मां नह हेकाले कद॒या वेंदो सिंध में कदहि अमन नह ईंदो। मुल्कु जी गा॒ल्हि परे, सिंधी मुसलनानन को इजत जी हयाती भी जिअण मुशकिलि थिंदी जिऐं कराचीअ जे लियारीअ में थी रहयो आहे।

हिंदुनि जे लद॒पण सां मभनि खा वधिक मुशकिल हिंदु दलितनि जी थिंदी। हो अगे॒ई तकलिफनि में आहिनि ऐं हिंदुनि जे लद॒ण खां पोई हालतयूं संदिनि लाई बेजार थी वपदूं। हो सदियनि खां जिल्लत जी जिंदगीयूं पया गुजारिनि। ऐडहा चङा वाकया अखबारिनि में साई कया वया आहिनि जेहि में संदिनि सा माटेलो वहिंवार चिटि रित नजर अचे थो। वेझडाईअ में ई सिंधी अखबारकनि में खबर शाई थी तह बो॒द॒ सबब लगायालि केपनि में खेनि खादो या इझो कोन थो दिञो वञे। सागि॒ रित ऐडहयूनि गा॒ल्हिईयूनि पर साल आयलि सिंध में बो॒द॒ महलि भी बु॒धण में आया। नुकसानि सिंधी मुसलमानन जो भी आहे जेके इन सिंधी हिंदुनि जे लद॒ण सां थोराई में ईंदा, छा काण तह घटे थी तह रुगो सिंधीयनि जी आबादी थी। सिंधी बो॒लीअ जो जोको वहिंवार घठबो सो धारि नुकसानि।

असीं सिंधी जेके हिंद में आहयूं लद॒ पण॒ खे हमेशाहि ई हिकु रिवाजी हिंदु मुसलिम मसलो करे लेखिंदा आहयूं। इन जे हिकु सबब इहो भी थी थो सघे तह सिंध में रहिदड सिंधियनि सां असां जो  राबतो नाहे। वरि जहि राबतो रखो तनि में ऐं आम रिवाजी सिंधी में लिपीअ जे मसले हिक वदी॒ विछोटी आंदी जहि सबब हिंद में रिवाजी सिंधी सिंध जे हालतूनि खां मां अणवाकिफ ई रहया आहिनि। दरअसलि 1947 खां जोको तब्को सिंधीयनि (मसलमानि में ) जी नुमाईंदगी पयो कंदो अचे तन जे सोच में को भी फेरो कोन आयो आहे। हो अजु भी ओतिरा जाहिलअ आहिनि जेतिरा मुञे सदी अगु॒ हवा। इन जे विच में बंगाली अजादीअ जी अवाज भी बुलंद कई आजाद थी भी वया पर सिंधी उतोऊं जा उते। सिंध जी सियासत 1947 खां ई वदे॒रेनि ऐं बो॒तारनि जे हथनि में आहे, जिन लाई आम रिवाजी सिंधीयनि खे अणपढयलि ऐं पोईते रखण ईं हिक अहम मजबभरी ऐं जरुरत ब॒ई आहे। इहो इन लाई जे जेकरि जेकर रिवाजी सिंधयनि में सुजाग॒ता इंदी तह संदिनि हकुमत नह हलंदी। अग्वा सिंधी मुसलमान भी था थेनि। फूरलुट ऐं खुनखराबो सिंधीयनि मुसलमानं में खासि करे गो॒ठनि में आम थी पयो आहे। वरि जेहिं खे तालिम भी मिलि से वरि मुहाजरिन जा पोईलग॒ थी रहजी वया, ऐडहे में जेकरि को अमन यां सांन्ति जी उमेद करण मतलब रण में हर मानसुनि मे मिंहिं जी उमेद करण खां कहि कदुरु घट नाहे।

 

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ जे द॒हाके में ई वजूद में अची वया हवा पर कमपयुटर ऐं आम रिवाजी माण्हुनि जी वाटि विंडोज जे वजूद में अचण सां पुख्ती थी। पर छो तह कमपयूटर जी इजाद उलहँदे मुलकनि में थी, इन सबब इन जो पूरो फईदो भी रोमन लिपी ई माणियो। पर होरया होरयो अण-रोमन लिपि लिखिंदडनि में भी इन करिशमें दा॒हिं छकंदियूं वयूं। पर इन जे बावजूद यूनिकोड जेडही का शई नह हुजण सबब कमपयूटर में दे॒ही बो॒लयूनि लिखण ऐं पढ़ण हमेशाई ई कहि चूनोतीअ खां घ़टि नह रही आहे।

युनेकोड जो इजादि कमपयुटरनि की दुनया में हिक वदो॒ जूनून खणी आई। युनेकोड जे ईजादि खां वठि जेको मसलो रोमन ऐं अणरोमन रहयो हो सो लग॒ भग॒ हमेशाह लाई खत्म था वयो। युनिकोड सबब इहो ममकिनि थी सघो तह को भी शख्सु दुनिया जे कहि भी हिसे में हुजो ऐं को बी कंपयुटर जे कहि भी आपरेटिगं सिसटम हलाऐं भी पहिजी बो॒ली ऐं लिपी सा गंढजी रही थो सघे। युनिकोड जे इजाद बैद मसलो इहो भी आयो तह किअं यूनकोड खां अगु॒ जो मवादु खे कमपयूटर में आणिजे ऐं इतो खां ईं शुरु थी किताबनि जे डिजीटलाईजेशनि जो खयालु। डिजीटलाईजेशन पाण सां ग॒दु॒ के अहम सहुलतयू खणी आई जेके कजह हिन रित आहिनि…

  •  अणलभ किताबनि बि॒हिर पढिंदड अगयां पेश करण जी सहुलियति
  • लाईब्रेरि ऐं पढिदडनि जे वचियों दुरि खे कहिं हदि ताई खतम करण
  •  पहिजे जरुरत मोजिबु सहूलाई सां गो॒लह (Searchable text) जेको आम दसतावेजनि में ममकनि नाहे।

अणलभ किताब या छापे खां बाचहिरि किताबनि जो मसलो हिकु ऐडहो मसलो आहे जहिं सां हर कहि बो॒लीअ खे मुंहू थो देअणो पवे। मसलो इन लाई थो अचे जे कितावनि जे छापे जी तादाद हमेशा ई किताब जे घुर ते भाडयलि हुंदी आहे। इहो ई नह उन साग॒ये किबाब जो ब॒यो को छापो तद॒हि ई शाई कयो थो वञे जद॒हि उन किताब जी घुर वधे थी। इन सब कमन में वरि चङो वकत भी थो लगी वञे जहिसां पढिंदडनि थे चङयूं तकलफियूं थूं सहणयू पवनि। डिजीटलाईजेशन बैद अणलभ किताबनि जे नसबत फाईदो इहो थो पवे तह आनलाईनि छापे जो खुटण जो को सवाल ई नथो अचे। जहिंखे जद॒हि खपे सो डाउनलोड करे थो सघे।

ब॒यो मसलो आहे किताब ऐं लाईबरेरिअ जे मंझ वेचो घटाअण जो—अम तोर सा किताब पढहण जा ब॒ वसिला आहिनि। हिकु तह किताब वण्जे या नह तह कहिं लाब्रेरीअ मां उधारो वठजे। डिजीटईलेजेशन सां ऐडहनि मसलनि में अहम मदद थी मिले। जेकरि को किताब डिजीटलाईज थो कयो वञे तह ई-लाबरोरि जे जरिऐ पडही थो सघजे। हिदुस्तानि तोडे परदे॒हि में ई- लाबरेरि तमाम घणयूं मकबुल थयूं आहिनि। हाणे लग भग हर वदि॒ युनवरसिटि खे पहिजी ई- लाईवरेरि आहे जहिजी मदद सा पढिंदड दुनया जे कहि भी कुंड कुरच में रही इन ई-लाबरेरि जे जरिऐ किताब पडी था सघिनि।

डिजीटाईलेशन में जेका टियो अहम फाईदो थो दि॒सजे सो आहे किताब में कहिं खासि लफज जी गो॒ल्ह। आम तोर सां कहिं भी किबाब जे पिछाडीअ में पनोतिरो थिऐ थो जहिजे मदद सां किताब में लिख्यलि को भी लफ्ज गो॒ल्हे लधो थो वञे। पर डिजीटलाईजेशन सा साग॒यो कमु तमाम घट वकत में थी थो सघे ।

डिजीटालाईजेशनि में हिक वदो॒ जनून तहि महल आयो जद॒हि इंटरनेटि जी वदे॒ मे वदी॒ खोज साईट गूगूल दुनया जी 350 बो॒लयूनि खे डीजाटीलाईज करण जी पधराई कई। इन कम जे नसबत चङनि बोलयनि ते कम पिणि थयो । सिंधीअ में खास करे गुगुल टे किताब डीजाटीलाईज कया जहिजा कागरी छापा हिअर अणलभ आहिनि। मसलनि- केपटेन जोर्ज इसटेक जो सिंधी – अग्रेजी लुगति, अग्रेजी- सिंधी लुगत ऐं सिंधी वयाकरण। पर इन खां सवाई तमाम थोड़ा ई देवनागरीअ सिंधी में किताब डिजीटलाईज कया आहिनि, वरि जेके कया भी वया इहे मखमल किताब नाहिन। रुगो किताबनि जा कवर ई आहिनि। सागे॒ रित अर्बी सिंधीअ में ऐडहयो हाल आहे। अर्बी सिंधीअ में खीसि करे को घणो कम कोन थयो । हिंदुसथानि में इन जो हिकु सबब तह समझी थो सघजे तह नई टेही अर्बी सिंधी कोन थी पढे पर सिंध सां इअं गुगुल जो वहंवार सम्झ खां परे आहे। इहो ममकिनि आहे तह गुगुल पिणि पाकसथानि जे उर्दू खवाहि अंग्रेजी मिडया जा शिकारि थी थियलि भासिजे जेके सिंधीअ खे हिक मूअल बो॒ली करारि देअण जो को भी मोको कोनि विञाईंदा आहिनि।

जेतोणेक गुगुल जी नजरि खां सिंधी बो॒ली कहि कदरु विसरि वई आहे पर इन जे बावजूदि सिंध में सिंधी किताबनि जे डजीटाईलेजेशन में चङो कमु थियो आहे। सिंधी अदबी बोर्ड, जामशोरो सिंध खोड़ सिंधी किताबनि खे बि॒हरि कंपोज करे पहिंजी वेबसाईट में शाया कया आहिनि। साहित्य जी Wऐड़ही का भी संफ नाहे जहिते कमु कोन थयो आहे। कहाणयूं, नावेल, लोक अदब, लुगति, कविताऊ, अत्म कथा, सफरनामा, नाठक वगिराह ते चङो कमु कयो वयो आहे। संदिनि विरहाङे खां पोई तोड़े अगु॒ जे सिंधी साहित्य खे ग॒दु॒ कयो आहे जहिं लाई अदबी बोर्ड खेण लहणे। शाबसि आहे अदबी बोर्ड खे इन कम खे अंजामु दि॒ञो आहे। जेतोणेक इन गाल्हि मे को भी शकु नाहे तह टेकनोलाजी जे नज़रइऐ सां अदबी बोर्ड हिंदुसतानि में थिंदड़ डिजीटाईलेजेशन जे मयार खां कहि कदुरु घटि आहे पर तद॒हि भी जेको कमु अदबी बोर्ड कयो आहे सो को घटि भी नाहे। अजु॒ को भी सिंधी दुनया जे चाहे कहि भी कुंड कुरच मे थो रहे, सिंधी साहित्य खां वाकिफ रही थो सघे। इहा पाण में ई हिक वदी॒ कामयाबी जी गा॒ल्हि आहे।

इन खां सवाई सिंधी में एडहयूं चङयूं कोशिशयूं थिअल आहिनि जहिं जे मार्फत सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे नसबत कम कयो पयो वञे। जेतोणेक इहो कम शख्शी तोर थिअल आहिनि पर इन जे बावजूदि इन कमनि खे नजरि अंदाज नथो करे सघजे। इन जा मिसालि आहिनि वाऐसि आफ सिंध, शखर सिठी ऐ ब॒यूं वेबसाईटयूं. आहिनि जहिजे में जे मार्फति सिंधी साहित्य सां वाकिफ थो थी सघजे। पिछाड़ीअ में गा॒व्हि कंदसि इसकराईब जेहि में थोडो ई सहि पर सिंधी मवादि थो मिले।

जेसताईं हिंदुस्तानि में डिजीटलाईजेशन जी गा॒ल्हि कजे तह हित डिजीटलाईजेशन जो कमु घणो तणो सरकारि जे माली मदद सां ई थयो आहे। इन में सबनि खा पहिरों नाTऊं डिजीटल लाईब्रेरी आफ इंडिया जो आहे। इहा पराजेक्ट तमाम वदी॒ आहे। मुल्क में इन कम लाई 21 जायूं आहिन जिते किताबनि जूं इसकेनिङ जो कम थे आहे। इहा पराजेक्ट इंडईयनि इंसटियटि आइ साईंस, कार्नेग मेलनि युनवरसिटि, नेशनल साईंस फाउंडेशनि, मिस्र जी ऐम सि आई टी ऐं इंट्रा युनिवरसिटी सेंटर फार ऐंसटेरोनामी ऐं ऐसट्रोफिझीकस, पुणे जो गद॒यलि सहकार सां वजूद में आयलि आहे। इन पराजोकट जे माईफति लग भग अढाई लख किताब जुदा जुदा संफनि में डिजीटलाईज थी चुका आहिनि। जेतोणेक इन में अंग्रेजी किताबनि जी घणाई आहे पर दे॒ही बो॒ली जी जा भी चङा किताब शाई थियलु आहिनि। जेसिताई गा॒ल्हि सिंधी जी आहे तह तमाम दु॒ख ऐं अफसास सां थो लिखणो पवे तह सिंधीअ खे विलकूल ई नजरअंदाज कयो वयो आहे पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा भी आहे तह इन बाबत कहिं सिंधी संसथा हुलु भी कोन कयो। हा पर सिंधीयूनि ऐं सिंधी बोलीअ बाबत जरुर के किताब डिजीटलाईज थया आहिनि जनि जे घणाई अंग्रेजी जी आहे ऐं ऐकड बे॒कड बंगला ऐं तमिल बो॒लीअ में आहे।  हिंदुस्तानि में ब॒यनि बो॒लयुनि जे भेट में सिंधी बो॒लीअ में  डिजीटाईलेजोशनि जी तह यकिनं असां तमाम पोईते रहिंजी वई आहे, इन जो हिकु सबब इहो भी थो दि॒सजे तह नई टेहि जहिंजे चाहि सबब आई टी ऐतिरो अग॒ते वधी सो सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य कां कोसो परे आहे।

डिजीटाईलेजोशनि जे नसबत सिंधुनि में के अहमि मसला आहिनि। पहिरो मसलो आहे तह जेकरि डिजीटाईलेजोशनि थे भी तह केडही लिपी में थे। जेकरि आर्बी लिपीअ में इन कम खे हथ में खणजे तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह इन में कयलि महनत सखार्थी कोनि थिंदी छा पोणि तह पढंण वारा तमाम घटि मिंलिंदा। वरि जेकरि देवनागरी लिपी में डिजीटाईलेजोशनि कजे तह खर्च जो भी मसलो आचे थो, छाकाणि तह कतानि बि॒हरि कम्पोज, फरुफ जा कम था अची वञिनि। इन बैद मसलो आहे तह इन जे सर्वर जी जिमेवारी कहिंजी हुंदी। इन कम खे आगते केरु वधाईंदो. पिछाडीअ में इहा बी गाल्हि विसारण नह खपे तह देवनागरीअ खे जेके सिंधीअ जी नाजाईस लिपी था मञिन तन खे किअ भरोसे में आणजे जे हो कमु आगतो वधे।

जेकदिहि लिपीअ जो मसलो आहे तह यकिनं देवलागरी हिक वेहतरिनि लिपी आहे। ध्वनी स्वर लिपी हुजण सबब लिखण में भी तमाम तहुली थी थिऐ। इहो ई नह अर्बी सिंधीअ जे भेटि में ऐडहा तमाम घटि लफज आहिनि जेके लिखया हिक नमूने था वञिनि ऐं पढयो धारि नमूञे । इन खां सुठी ऐं ठाहूकि लिपी सायदि ही सिंधीयूनि खे मिलि थी सघे। ब॒यो तह इहो तह लिपी सबनि खे अचे थी, छा काणि तह देवनागरी अखरनि सां पूरो उतर हिंदुस्तानि वाकिफ आहे जिते सिंधी रहिनि था। जेकसाई गा॒लिह कजे थी इन प्रोजेक्ट लाई खपिंदड पैसे जी तह सिंधी बो॒लीअ लाई झझो पैसो दिञो थो वञे, भले उहो ऐल. सी. पी.सि ऐल हुजे या सिंधी आदादमयूं। इहा गा॒ल्हि कहिं खां गु॒झी नाहे तह सिंधी अकादमयूं पहिजो महदूद बजेट खर्चण में कसिरि आहिनि, छा काणि तह संदनि वटि को घणयूं पराजेकट आहिनि कोन्ह।

डिजीटलाईज सिंधी बो॒लीअ जी हिक अहम जरुरत आहे। जेकदचहि असीं नंढे खंढ जे कोमनि खे दिसिंदासिं तह ऐंडहो सायदि ई को कोम हूदो जेको सिंधी हिंदुनि जेतरो टरयलि पखरियलू हूंजे। अजु॒ सिंधी दुनिया जे सठ मुलकिनि में रहिनि था। मसतब तह अव्हा जिते भी वञो – एशिया, अफरिका, उतर या द॒खिनि अमेरिका या युरोप जिते किथे अव्हां खे सिंधी लभिंदा। जदि॒ही ऐडहे वदे॒ ऐलीईके में सिंधी रहनि तह बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत रुगो॒ रिवाजी किताब जी पहुच ममकिन नाहे। सो इते ई गा॒ल्हि अचे था डिजीटलाईज जी। असां खे इहा गा॒ल्हि बिलकूल नह विसारण खपे तह अजु॒ टेकनोलाजीअ जो जमानो आहे ऐं जेकरि को इहो मौको विञायो वयो तह इहो ममकनि आहे तह इन जी जाई बी॒ का धारि बो॒ली अख्तयार कई वेंदी जहिजो मतलब इहो तय़ो तह सिंधीअ जी नेकालि हाथयो पक थी वेंदी। अजु॒ जी हालति में इन्टरनेट ई ऐडहो साधन आहे जहिजे जरिऐ सिधी तमाम थोडे वख्त में बो॒लीअ जो फहलाव मखमल करे था सघिनि। अजु॒ सिंधी बो॒लीअ खे हिक ऐडही टेकलालजीअ जी जरुरत आहे जहिजे मार्फति सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जो वाधारो घटि में घटि वकत में थी सघे। युनिकोड असां सभनि लाई हिक राह दा॒हीं इशारो कयो आहे ऐं जेकरि असी इनि जो फाईदो कोनि वर्तोतिं तह मुल्क तह विञायोसें ई हिअर सिंधी बो॒ली पिणि विञाऐ वेहिंदासिं।

सिंधी अगवाणन जी सिंयासि अमेदनि में फातलि सिंधी बो॒ली

सिंधी बो॒लीअ जो हिंदुस्तानि जे संविधानि मे तसलिम, हिक दि॒घी जहोजिहद बैद थी । पर इन जदोजिहद में हिक ट्रजिक हिरो पिणि हो या खणी चैअजे आहे, सो आहे लिपी। जेतोणेक लिपी जो मसलो अगे॒ पोइ अचणो हो पर जहि रित असीं लिपीअ खे तोल दि॒नो सा कहिंखे भी वाइड़ो करण लाइ काफी हो। सभिनि खां वदो॒ नुकसानि तह नई टेहि खे थयो जेके मुंझी पया – तह आखिरि केड़हि लिपि आखतयारि कजे। हिन मुंझायपि जो नतिजो इहो थयो तह अर्बी लिपी खां रुसयलि सिंधी देवनागरी जे मार्फति हिंदी दां॒ही हलया वया। वरि सिंधी देवनागरी में किताबनि जी आणोठि इन मुसिबति खे हाथयूं हिमतायो।  अग॒ते हलि संदनि बेरुखि रुगो॒ बो॒ली सां ई नह पर उन संसथाउनि सां भी हुइ जेके सिंधी बो॒लीअ सां गं॒ढयलि हवा। इन जो फलु इहो निकतो तहि रिवाजी सिंधयुनि जो वासतो सिंधी संसथाउनि सां नह जे बरावर रहयो। नुकसानि तह  सिंधी कोम खे पिणि थयो छो तह सिंधी संसथायुनि में बो॒ली जे नसबत में छा कमु थी रहयो आहे, तहिं सां रिवाजी सिंधीयुनि जी चाहि नह हुजण सबब संसथाउनि में ऐड़हा माण्हुनि जी घणाइ थी वई जहिंजो सिंधी बो॒लीअ सां को भी वासतो नाहे। वासतो तह छा घणनि खे तह बो॒ली बी नह इंदी आहे।

ऐन. सि. पि ऐस ऐल पिणि सिंधी बो॒ली जे बाधारे लाइ हिक ऐहम तंजीम आहे। मरक्जी सरकार जी संसथा हुजण सबब इन जी अहमियत खे नजरअंदाज नथो करे सघजे। वेझड़ाइअ मे इहां तंजिमि मिंडिया में सुरखयुनि में आइ आहे। हा इहा गा॒ल्हि धारि आहे तह जहि सबब मिड़या जी नजर में आई आहे, तहि जो सिंधी बो॒ली सां वासतो लग॒ भग॒ नह जे बराबर आहे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह पिछाड़ीअ जें ब॒नि टिन महिनन खां साईं श्रीकांत भाटिया (जेके  ऐन. सि. पि ऐस ऐल में उप सदर जे ऐहदे में कजहि दि॒हनि अगु॒ ताई ब्रिजमान हना) चङा बयानि दि॒ञा आहिनि, जिअं मिसाल जी गा॒ल्हि – सिंधी संमेलन जी गा॒ल्हि हुजे या वरि ऐन. सि. पि ऐस ऐल जे अंदरि हलंदड़ पावर सट्रगिल जी गा॒ल्हि हुजे। संदिसि बयानि घणो तणो फेसबूक मे ई शाया  थंदा आहिनि (ऐं उमेदि तह अग॒ते पिणि इअं हलंदो रहंदो।) हो साईं पहिंजे ईनि बयानिन मार्फति मांण्हनि खां कनि मसलनि वावति राया भी थो घुरे। हिक गा॒ल्हि ध्यानि छिकाअंदड़ आहे तह तह संदसि जो को भी बयानि सिंधी (देवनागरी तोड़े अर्बी लिंपी) में नह हुदो आहे, सायदि खेनि इन गा॒ल्हि की पक करणी हुदी आहे जिअं संदिसि बयानि अणसिंधयूनि ताईं भी पुजि॒नि।

सिंदसि बयानि मां के चुड़यलि हेटि दि॒जनि था

  1. छा तोव्हा खे लगे थे तह सिंधयुनि खे को भी अग॒वाणु आहे
  2. अजमेर जे सिंधुनि खे मिंथ थी कजे तह हो बुधायनि तह छा सचिनि पाईलट सिंधीयुनि जे मसलनि ते केतिरो पयो ध्यानि दे॒
  3. सिंधी खे का भी तसलिम लिपी नाहे, इहा लिपी या तहि देवनागरी या अर्बी ती थी सघे। अन्हा पहिजा राया दो॒ तह इहो मसलो सरकारि जे अग॒यों उथारिंजे (हे बयानि अधु अंग्रेजी ऐं अधु हिंदी में हो)
  4. हाणे तह असां खे देवनागरी लिपी ई अपनाइणि खपे, छाकाणि तह आर्बी लिपी जा॒णीदड़ लेखकनि जी तादाति 30-40 मस अची बची आहे।
  5. मां  सिंधुनि खे मिंथ थो कयां तह अशोक अनवाणी खे पहिजो साथ द॒यो जेको कानपुर मां समाजवोदी पार्टी की टिकेट ते चुड़ पयो विड़हे
  6. सिंधुनि खे अग॒वाटि पहिंजे पाण दा॒हिं धयानु दे॒अणु खपे।धारयनि दा॒हि बिलकूल धयानि नह देअणो खपे।असीं छो धारयनि जा पोईलग थयों। असीं पहिंजा अगवाणि पैदा कंदासिं जेके असां लाई कम कनि।
  7. आउं बंगालि जे वदे॒ वजिर म्मता बेनरजी सां वंगाल में सिंधी अकादमी जी गा॒ल्हि संदिसि अग॒यों रखी आहे, हाणे अगते बंगालि जे सिंधयुनि खे इन गा॒ल्हि खे अगते वधायणो आहे।
  8. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे छो नह जाईफनि खे कमिटि में थो खयों थो वञे। छो नह न दादा लखमी खिलाणी खे ऐन. सि. पि ऐस ऐल में जाई थी दि॒ञी वञे
  9. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे हिंअर 20 मेंबर आहिनि। उर्दू काउंसिल वाङुर ऐन. सि. पि ऐस ऐल में बी अहदेदारनि जी ग॒णप 38 कई वञे।

इनि बयोनिन मां हिक गा॒ल्हि तह साफ आहे तह श्री श्रीकांत साईंअ ते हिअर बो॒ली नह पर सियासति हावी आहे, जहि सबब संदसि बयान थो दे॒। जद॒हि खां साईं ऐन. सि. पि ऐस ऐल जा उप प्रधान चिंडया वया हवा तहि साईं देशभर जे दौरे मां इहो ई हथ कयो अथईं तह सिंधीयुनि खे हिक नेक सियासतदानि  जी सख्त जरुरति आहे ऐं इन जरुअत खे खेनि ई पूरी करणी आहे। इन गा॒ल्हि में दा॒ढ़ो घटि शकु आहे तह सिंधुयनि खे हिकु ऐडहे अगवाण जी जरुरति आहे जेको संदिनि आवाज खासि करे मिड़यो जे अग॒यो रखे। पर उनि खा भी वधिक जरुरति इहा आहे तह सिंधी बो॒ली जी जेको पहिजे वजुद जी झंघ पई लड़े , तहि जे वाधारे ताइ कदम खयां वञिन। हाणे गा॒ल्हि इहा आहे तहि छो ऐन. सि. पि ऐस ऐल जो इस्तमाल सियासति जे लाई पयो थे । ऐन. सि. पि ऐस का आम रिवाजी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे जी संसथा नाहे। इन तंजिम खे के खासि हक दिञा वया आहिनि, जिअं सुबनि में सिंधी आकादमियनि ते भी किक किस्म जी नजरि रखि वञे। हे इहे कम आहिनि जेके कहि भी सियासतदानि जे वस खां बाहिरि आहिनि।

जेको हालु ऐन. सि. पि ऐस जो आहे सो लग भग हर सिंधी संसथा जो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे आर्बी सिंधी जे भेट में देवनागरी सिंधी खे सिंधी कहिं हदि ताई बदकिसमत रहि आहे। जेतोणेक देवनागरी सिंधी खे कनि सिंधी साहित्यकारनि जो साथ मल्यो हो पर संदिनि भी देवनगरीअ में को घणो कोनि लिखयो। जहि सबब देननागरी सिंधी खे कहि हद ताई साहित्य जी नजरि सां कमजोरि पेईजी वई। अजु॒ जेको भी सिंधी अकादमियनि में थी रहयो आहे सो इन सबब ई आहे। जेसिताईं श्रीकांत साईं जी गा॒ल्हि आहे तह हो ऐड़हा बयानि सांदहि पयो दिं॒दो अचे, बदकिसमीतीअ सां कहि भी सिंधी इनि बयानिन जी मखतलिफ कोन कई। हाथयूं कहि कहि तह सांईअ खे हिमतायो भी। लिपी बाबत संदसि राये मां इहो थो तगे ज॒णु साईंअ खे इहा खबरि कोन्हे तह हुकुमति बो॒लीअ जे सतलिम करण महल बि॒नहिनि लिपयूनि जे वजुदि खे मञिदे लिपी जी फेसलो सिंधुयूनि थे छदो॒ , छाकाणि तह इहो सिंधुयूनि ते आहे तह हो केड़हि लिपी था अपञाअण चाहिनि। जेका गलति अंग्रेजनि कई सा हिंदुस्तानि जी सरकारि दोहराअण नह चाहि। लिपि ते संदसि ब॒यो भी हिक बयानि सांइअ दि॒नो आहे तह छाकाणि तह अर्बी लिपी में लिखिंदड हिंअर ग॒णप मे 30-40 ई मस जेडहा रहया आहिनि सो देवनागरी लिपीअ खे ई तसलिम कयो वञे। (सायदि श्री श्रीकांत भाटिया खे जा॒णि नाहे तह इहे 30-40 लेखक ई हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ खे जिंदो रखि वेठा आहिनि।)

लिपी मटणि जो कमु रुगो॒ नई लिपि जे अपनाअण सां ई नथो निंबरे। इहो जरुरि आहे तह इनि लिपि में उहे सब सहुलयतूं हुजिनि जेका कहि भी बो॒ली में हुजनि थयो। मिसालि जी गा॒ल्हि किताब मेसर करण, नई लिपि सिखण जा किताब जूं सहुलयतूं , लुगतयूं (शब्द कोश) ऐं पहिजी बो॒लीअ ऐं कोम सां वफादारि। का भी लिपी अपनाअण महलि के मसला पेश अचनि था। साग॒या मसला अर्बी सिंधी सां भी हुवा। अंग्रेजनि जे महलि लिपी ते तजर्बा पिणि थया। बदकिसमतीअ सां देवनागरीअ ते संदसि पहिरें दिं॒हि खां ई वार पया थेनि। वरि देवनागरी में वदकिसमतिअ सां उनहिनि माण्हुनि जी बरमारि हुई जेके सिंधी बो॒ली सां वफादारि हुजण बिदरौं रुगो॒ हिंदी हिदु ऐं हिंदुस्तानि जे नारे जा मायलि हवा। जहि सबब सिंधी सां दिलो जानि सां वफादारि नह रहया,ऐं इन जो नुकसानि अजु॒ ताईं सिंधी कोम खे मारे थो पयो। असां जेड़हा मसला मराठिनि ऐं गुजरातियूं खे भी आहे। हे भी हिंदु आहिनि ऐं कहि हदि ताईं हिंदु कठरपणो सिंधियनि खा बी बधिक आहे, पर इनि जे बावजूदि संदिनि कद॒हिं भी पहिजी बो॒लीअ खे हिंदी –हिंदु-हिंदुस्तानि सां गं॒दे॒ कोन रखी। हिंदुवादि थिअण को भी दो॒हु नाहे पर हिदुवादि ते पहिंजी बो॒ली जी आजाई कूर्बानी देअण यकिनं दो॒हु आहे ऐं पहिजे कोम मां बेवफआई आ।

देवनागरी सिंधीअ जो सभनि खां वदी॒ अहमियति वारि गा॒ल्हि इहा आहे तह इहा हिक ध्वनितामकि (Phonetic) लिपी आहे जेका उऐं ई लिखी वेंदी आहे जिअं बो॒ली गा॒ल्हाई वेदि आहे। साग॒यो ई हालि हिंदुस्तानि जे लग भग सभिनि लिपयूं जो आहे (उर्दू खां सवाई).  जहिं सबब इहा तनि लाई तमाम सहुलियति वारि थिंधी आहे जिनि खे गा॒ल्हाअण तह अचे थी पर लिखण नथी अचे। सिंधी छो तह टरयलि पिखरयलि आहिनि, हिक ध्वनितामकि लिपी यकिनन मददगारि साबित ति थी सघे। इन जे भेटि में आर्बी सिंधी में ऐड़हा चङो लफज आहिनि जेके गा॒ल्ह्या हिकड़े नमोने आहिनि पर लिखण महलि साग॒यो तरिको कोनि अपञायंबो आहे। वरि अखरि , लफजनि जी शुरुआति , विच ऐं पिछाड़ीअ में मुख्तलिफ में लिखयो वेंदो आहे। सिंध में ऐडहयुं गा॒ल्हियूं कोन आयुं छा काणि तह असीं हिक ई सुबे में हवासिं ऐं इन गा॒ल्हि खे भी नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिंधी ननढ़े खां ई सिखण सबब, इहे मसला कद॒हि कोन पेश आया। असीं जेसिताईं लिपीअ में कहि हदि ताईं थोड़ी घणी फेर घारि नहं कंदासिं तह सिंधीअ खे हिंन मुल्क में हमेशाहि पहिजे वजूद जी लड़ाई लडणी पवंदी।

जेतिरो नाणो हिंदोस्तानि जी सरकारि सिंधी ते खर्चेपई ऐतरो तह सिंध में भी नह पयो ख्रर्चो वञो। इन जो बावजूदि सिंधी सिंधी बो॒ली ऐं संसथाउं जा हालति कयासि जोगी॒ आहे। अजु॒ सिंधी संसथाउनि जी हालत इन सबब जी खराब आहे छाकाणि तह को भी लूलो लङड़ो सिंधी अकादमियुनि जो सरबरा थी थो सघे, भले खेसि सिंधी लिखण पड़हणि अचा या नहि। अजु॒ वकत अची वयो आहे तह असीं सिंधी बो॒ली के किमत ते थिंदड़ सिंयासी अगवाणन जी सियासि उमेदिनि ते रोक लगायों ऐं ऐड़हनि सिंधीयुनि खे हथ सिंधी अकादमयुं जी वागयु द॒उनि जोके सिंधी बो॒लीअ लाई को योगदानि द॒ई सघिनि। जेकद॒हि असी इऐं ई बो॒ली ऐं कोम खां मुहु मोडे वेठा रहयासिं तह सिंध वाङुरि सिंधी बो॒ली पिणि सिंधियुनि जें हथों निकिरि वेंदी।

सिंधी साहित्य जो सुमरो तारिक आलम आबरो जो लाडाणो

इहा गा॒ल्हि छंछर दि॒हं जी राति जी आहे, मस जेड़हा द॒ह वगा॒ हूंदा फेसबूक में सिंध मां शाई सिंधी आंलाईन न्युज पोर्टल “सिंध नयूज” मारफति अहवाल मल्यो तह सिंधी बो॒ली जो नलेरो साहित्यकार सांई तारिक़ आलम आबरो नह रहयो। मुंखे लगो॒ इन ते थोडी छंदो॒ छाणि कजे। इन लाइ मां इंटरनेट जो सहारो वर्तो। सुबूहु थिंदे ई सिंध मां शाई थिंद़ड अखबार “काविश” जे पहिरें सुफे मे साईं तारिक आलम आबरे जे लादा॒णे खबर्र छपयलि हुई, सुरखयूं कजह हिन रित हुई…..”तारिक आलम आबरो हकूमति जो वेहदी जो शिकार थिअण बैदि हमेशाहि लाई विछ़डी वयो।“ तारिक आबरो फबर्वरि खां कराचीअ जे सिविल असपतालि में भर्ती हवा। खेसि गिड़दनि (लिवर) ऐं जेरे (किड़नी) जी बीमारी थी पइ हुई। ड़कटरनि जो चवण हो तह जेरे जे रुंबण (transplantation)  जी तह सहुलियत पाकस्थान में आहे पर गिड़दनि जे रूंवण लाइ वेझे खां वेझो मुल्क हिंदुस्तानि आहे, जहिं लाइ खर्चु घटि में घचि 60 लख अचणो आहे। तहि खां शुरु थी साईं आबरे जी हिक जदोजिहद। आबरे साईं पहिंजे बिमारी जी दि॒घी लड़ाई 1986 में शुरु कई हुई जहि महल हाई बल़ड़ प्रेशर सबब संदसि गिड़दनि में खराबी आचि वई हुई। उन वक्त सिंध युनवसिटि जे प्रफेसर निशार अहमेद निर्वानी पहिंजो गिड़दो खेसि दानि दि॒ञो हो। इहो रुंवणु लंड़न असपतालि में 1987 में थियो हो जहि जो खर्चु 22 हजारि पाउंड आयो हो।हो इलाज सरकारि खर्चअ ते महमद खां जोणेजे जे दि॒हनि में थयो हो।

तारिक आबरे लाइ सदसि बीमारीअ सां लड़ाई हिक नित निअम बणजी पई हुई। हो सिंधी सकोफत जी गादी जामशोरो खां कराची इंदो हो ऐं ढ़ाइलासिस कराऐ पहिजो कम ते लगंदो हो। पर पिछाड़ीअ जा पंज महिना यकिनन तारिक आबरे लाइ औखा साबित थया। संदिसि गिड़दनि ऐं जेरनि कम करण बंद रके छदो॒ हो ।. हिक पासे ऐदी॒ वदी॒ रकम ऐं बे॒ पासे पहिंजे साहित्य जी ग॒णती। इन 60 लखनि जी रकम मां सिंध जे वदे॒ वजिर कायम आली शाह 7 लाख, सिंध सकाफति खाते 15 लख ऐं सिंध अदबी बोर्ड़ 5 लखन जी मदद देअण जी पधराई कई, पर तद॒हीं भी 60 लखनि जी किमत आञा चङो परे जी गा॒ल्हि साबित थी। हो पंजनि महिनन खां पहिंजे पाण सां लड़ंदे रहयो ऐं आखिर कार छंछर दि॒हूं राति जो नाऐं वगे॒ लादा॒णो करा वयो। पोईतों पहिंजी जोणसि खां सवाई बि॒न पुटनि खे खदे वयो।

तारिक आबरे जो जन्म 10 अप्रेल 1958 जो सिंध जे लाड़काणे जे कंभर तालके में थियो हो। जद॒हि हो बि॒न वरहयनि जो हो तहि संदसि घरवारा हैदरआबाद लदे॒ आया हवा। पराईमरि ऐं सेकेंड़री तलिम हैदरआबाद में पूरी करण बैदि ऐम ऐ सिंधी साहित्य में सिंध युनिवरसिटी मां परी कई। 1989 में हो सिंधी अदबी बोर्ड़ जामशोरे में मलाजमि करण शुरु कई। इन अहदे ते रहि हून चङयू अदबी जिमेवारयूं निभायुं ऐं पिछाडीअ जे दि॒हन में सिंधी अदबी रिसाले महराण जो संपादक जी हसिसत में कमु कयो। तारिक आबरे सिंधी बो॒ला खे के आहमि काहाणयूं दि॒नूं जहिं में आयसि ओवासि, सुञाणप जी गो॒ल्हा, कोअल, फेम, राति शांत ऐं सोचयूं शामिल आहिनि। संदसि कहाणी जा मजमुआ कजहि हिन रित आहिनि. राति सांत ऐं साचयूं 1979 में, मञाणप जी गो॒लह में 1998, इन खां सवाईं संदसि कविताऊं जो मजमूओ मोरनि ओचा गा॒ट 1992 में शाई थयो। इन खां सवाइ संदसि लिखयल टी वी ड़ामा हिन रित आहिनि “पेवंद”, “तूंफान खां पोई”, “चंढ़ रहे थो दो॒र”, “छांवरो” वगीराह शामिल आहिनि।

पर जहिं सीहित्य जी संफ लाई आबरो खें इंदड़ दि॒हनि में सुञातो वेंदो, उहा आहे नावेनल जी संफ। नावेलनि यानि उपनयासि। “रहंजी वयलि मंजरि” बिरहांङे खां पोइ सिंधी साहित्य में हिक अहम जाई वालारे थो। इन गा॒ल्हि जो सबूत इहो आहे तह इन जा हिक नह चारि चारि छापा शाई थी चुका आहिनि। सिंधी साहितय में रोमांसि जी संफ तें इन खां आगे॒ भी किताब लखया वया हवा पर कहिं भी “रहंजी वयलि मंजर” जी जाई कोन वालारि। हे नावेल बि॒न आशिकनि बाबति आहे। कहाणी आहे सांजाहि ऐं पेंहिउ की इशक जी। कहाणयूं तहि चङयू थयुं लखयू वञिन पर इहे कहाणयूं आम माण्हुं जे दिल ओ दिमाग ते केतिरो असरि कंदयू इहो किताब खे पढ़िंदड़न जे समाजी माहोलि ते होंदो आहे। हिंदुस्तान में जेकरि दि॒सजे तह रोमांस ते ऐड़हा नावेल दादी पोपटी हिरानंदाणी भी पिणि लखया पर का खासि कामयाबी कोन मिलि.सि। असांजो हिंधी समाज ऐड़हिनि गा॒ल्हयुनि लाई तयार नाहे। असां वटि हिते इहा कालेजनि वारि ज॒मारि कद॒हिं अचे थी ऐं कद॒हि साथु छदे॒थी वञे इहा सुध ई नथी पवे। नियाणयूं कालेज ताई मस पूजिनि थयूं जे मिटयुं माईटी जी गा॒ल्हि शुरु थेनि थूं वञिन ऐं छोकरनि लाई, हाई घोड़ो धंधो, या हाई घोड़ा पैसो। कालेजनि वारी भी का हयाति थींदी आहे, असां जे समझ खां बा॒हारि थी पई आहे। हिक लङे दादी पोपटीअ खें भी कहिं मराठी सहित्यकार चयो हो….”सिंधी वरि इशक महबति भी कंदा आहिनि छा” ….

खैर गा॒ल्हि खिथो शुरु थी ऐं किथे वञी पहुति। असांजो कोम जो ई न पर साहित्य जो भी विरहांङो थियो, सिंध वारा हिक पासे ऐ असां हिंद जा बे॒ पासे। इहा असांजी बदि किसमति कोनहे तहि ब॒यो छा आहे जे सिंध ऐं हिंद जो साहित्य 70 वरहयनि खां जलावंती पया सठे। अजु॒ इन जी सख्त जरीरत आहे जे बि॒नहिं मूल्कनि जो साहित्य में को ऐको अचे जिऐं साहित्य भी आग॒ते वधे ऐं लेखक भी कजहि लाणो कमाऐ सघिनि, जिअं ब॒यो करहि थे नह थे पहिंजी जिंदगीअ खे बचाअण लाइ पहिजा हथ नह फैलाणा पवनि।

तारिक आबरो लेखक हो, हो लिखण चाहिंदो हो। पर ल्खण लाइ खेसि मोत सां जंघ खटणी हुई। हो इहा जंघ खटी को सघो या खणी चईंजे हारायो वयो। असांजो कोम खे इन जेड़हनि अदिविन लाइ यकिनन का हमदर्दी नाहे, जेकरि हूजे हा तह असीं सारिक आबरे खे इंअ मरण लाई हेकलो कोन छदे॒ दा॒यों हा।