Tag «ब्रामणी»

वाणिकी- हिक विसरियल सिंधी लिपी

सिंधी जी असलोकी ब्रामणी कृत लिपी जी गो॒ल्हि घणो तणो वाणिकी- खूदाबादी ताईं अचि निबरिंदी आहे। जेतोणेकि अल-बिरनी सिंध जी लिपीयूंनि बाबत टिन लिपयूंनि जी गा॒ल्हि लिखी हूई मसलनि मालवाडी, हिंदवी ऐं अर्धनागरी पर सिंध में लिपीयूंनि जी गा॒ल्हि रूगो॒ वाणिकी या सिंधी लंडा ते ई अचि बिहिंदी आहे छा काण त लंडा खां अगो॒णो …