वाणिकी- हिक विसरियल सिंधी लिपी

सिंधी जी असलोकी ब्रामणी कृत लिपी जी गो॒ल्हि घणो तणो वाणिकी- खूदाबादी ताईं अचि निबरिंदी आहे। जेतोणेकि अल-बिरनी सिंध जी लिपीयूंनि बाबत टिन लिपयूंनि जी गा॒ल्हि लिखी हूई मसलनि मालवाडी, हिंदवी ऐं अर्धनागरी पर सिंध में लिपीयूंनि जी गा॒ल्हि रूगो॒ वाणिकी या सिंधी लंडा ते ई अचि बिहिंदी आहे छा काण त लंडा खां अगो॒णो रूप जा पुख्ता सबूत असा जे अग॒या आहिनि। 1958 में भंभोर मां जेतोणेकि के मिसाल मिल्या पर संदनि तादात तमाम थोडी आहे। लडा॒ खां अगु॒ असी केडही लिपी में लिखिंदा हवासि इन जी पुख्ती जा॒ण न हूजण जो हिकु सबब इहो भी थी थो सघे त अर्बनि की काहि वक्त सिंधी साधुनि जो जेको वडो॒ कतलेआम थियो जहिं सबब तालिम जो सिंध मां लग॒ भग॒ सफायो थी पयो। जड॒हि लिपी सांडे रखण ऐं संसकृति जो सफायो थी वञे त इन हालत में लिपी जो बचण लग भग नामूमकिन थी पवंदी आहे।

सिंध जे लिपी नसबत इतिहास बिन भाङनि में विराऐ सघजे थो हिकडो इसलामी अर्बनि की सिंध कब्जे खां अगु॒ ऐं ब॒यो इन काहि खां पोइ। आम तोर सां इहो डि॒ठो वयो आहे त हिंदुस्तान जूं ब॒यूं अण सिंधी भाषाउ ब्रामणी खां संदुनि लिपीअ जो फेरे जा नमोना ऐतिहासिक सबूतनि जे साण पेश करण में कामयाब थी वया आहिनि पर सिंध ऐतिरो खुशकिसमत नाहे रही। इअं न थी सघण के अहम सबब पिणि मोजूद आहिनि मसलनि ….

क)    अर्बीनि के काहि वक्त या उन खां थोडो पोइ सिंध में साधु संतनि ऋषियूं को वडो॒ कतलेआम थियो हो जहिं सबब भाषा सां वासतो रखिंदडन जो सफायो थी पयो हो। ज्ञान डिं॒दड जेकरि न रहिंदा तह लिपी कहिंखे यादि रहिंदी

ख)    अर्बनि के काहि बैदि पुरी सिंधी हिंदु संसकृति जो वजूद मिठाण जी पूरी कोशिश कई वई

ग)     कशमिर, जम्मू ऐं कहिं हद ताईं पंजाब में जिते भी हिंदु पहिंजी हकूमत बि॒हर हथ कई उतोउं  जा राजा महाराजा बि॒हर हिंदु लिपी खे भी हिमतायो जड॒हि त सिंध में इअं किन थियो वरी जेके हिंदु भी मूसलमान थिया ऐं पहिंजे राज्य भी कायम कयो तनि भी इन हिंदु लिपी खे बचाअण त परे पर हूनिनि सिंधी भाषा सोघो करण जी भी का कोशिश किन कई।

घ)     सिंधी हिंदुनि जी पहिंजे ऐतिहासिक तारिखि विरासत बचाअण में दिलचस्पी न जे बराबर रही आहे।

ङ)      सिंधी मूसलमान भी इअं भले मोअन जे दडे बाबत भले फकरु कनि पर अर्बनि के काहि खां अगु॒ वारी विरात खे सांडे सरण में हो भी दिलचस्पी घठि ई वठिंदा आहिनि।

भाषा जे माहिरनि में हिअर हिक राय आहे तह न रूगो॒ हिंदुस्तान जी पर समूरे ड॒खिण ऐशिजा जे लिपियूंनि जी माउ ब्रामणी रही आहे। जुदा जुदा लिपीयूं पोई इन लिपी के फेर फार खां नितकतयूं। सिंध में इस्तमाल थिंदड लिपीयूंनि बाबत संदुन राय मोजिबु लिपीयूंनि जो फेर फार कजहि हिन रित थियो

ब्रामणी खां वीणिकी ताईं जी राह
ब्रामणी खां वीणिकी ताईं जी राह

1958 में ड॒खिण सिंध जे भंभोर शहर में जोकि कराची खां 40 कोहि ई मस जेडहो परे आहे, उते ब्रामणी लिपी जा के अगो॒णा मिसाल लधा वया हवा पर इन खां सवाई सिंध में ब्रामणी खां लंडा जो सफर बाबत सबूत न जे बराबर रहया आहिनि। सिंध में ब्रामणी मां फेरो नागरी वारी वाटि वरती या कशमिरी शारदा – इहो चवण निहायत ई डु॒खयो आहे छाकाण त अर्बनि की काहि खां अगु॒ वारो ऐतिहासिक वरसो रहयो ई कोन्हि। अर्बनि जे काहि बैदि जेका लिपी असां खे हथ अचे थी सा आहे लंडा । इन जो मसलब इहो निकतो तह 712 खां डहीं सदीअ ताईं सिंधी लिपीअ बाबत राहि अजु॒ भी असां लाई गु॒झरात ई बणयलि रही आहे । 1843 में ज॒ड॒हिं अंग्रेजन सिंध फतहि कई तह संदुनि धयान सिंधी भाषा खां सवाई लिपी ते पिणि वयो। अंग्रेजनि के डि॒हनि में तहिं महल वाहिपे में सिंधी लिपी में वडी॒ मेहनत सभिनि खां अग॒वाटि केपटेनि जार्ज स्टेक पहिंजे सिंधी वयाकरण (1849), गेरिसन (लिंगविस्टिक सर्वे आफ इंण्डिया) ऐं विलियम लेअटनर (1882) पहिंजे किताब – A collection of specimen of commercial and other Alphabets में कई ।

गेरिसन पारां पेश कयलि  जुदा जुदा नमूना कजहि हिंन रित आहिनि

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत
गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

 

गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत
गेरिसन पारां तयार कयल फहरसत

मशहूर भाषा विज्ञानी जार्ज गेरिसन सिंध में 13 लिपयूंनि जा नमूना ड॒सया, पर वडी॒ गा॒ल्हि इहा आहे त इहे सभ लहजा हिक बे॒ सा मिलिंदड जुलिंदड हवा। सिंध में वाणिकी (इन लिपी खे वाणिकी इन लाई कोठयो वेंदो हो छा काण त इहे हिंदु लिपी घणो तणो धंधो कंदडनि पारां ई इस्तमाल थिंदयूं हयूं ) जा ऐतरा वधीक नमुननि जो हूअण जा हिंक खां वधीक सबब थी था सघनि मसलनि

क)   हूकूमत पांरा सिंधी जे वाहिपे में का भी दिलचस्पी न वठण  (अर्बी लिपी जो भी तहिं महल साग॒यो हाल हो जे अखरनि ते मूसलमानि जी पी पक किन हूई)

ख)   वाणियनि में सभको पहिंजे लेखे अखरनि जो फेर फार कनि (थी थो सघे पहिंजा हिसाब खाता घुझा रखण सबब इअं करण जो रिवाज हूजे)

ग)    वरि बा॒रनि खे तामिल डिं॒दड बा॒भण भी इन चूक खे सुधारण जो को भी दबाउ न हूजण।

घ)    इन लिपीअ में हिंदुनि पारां साहित्य लिखण पढहण जी चाहि न हूजण

अंग्रेजनि खां अगु॒ सिंध में सरकारी बो॒ली अर्बी-फार्सी हूई। जेके हिंदु नौकरयूं कनि तनि खे अर्बी-फार्सी लाजमी तोर पढहणी पवे। रहया हिंदु वाणिया त तनि लाई त हिसाब जेतिरा गु॒झा रखी सघिनि उतिरो ई सुठो । पर जड॒हिं मूसलमान जो राज्य खत्म थियो ऐं सिंधी भाषा सिंध में तसलिम थी त हिक लिपी जी जरूरत महसूस थी जहिं में तालिम भी डि॒ञि वञे। तनि जे डि॒हनि में सिंध संसकार सभा पारां काफी कोशिसयूं कयूं वयूं हयूं जिअं वाणिकी खे हिक सिंधी लिपी करे तसलिम कयो वञे। सन् 1867 में जड॒हिं सिंध अञा बम्बई प्रेसिडेंती जो हिस्सो हूई त अंग्रेज हूकूमत पारां हिक लिपी त्यार कई वई हूई जहिं खे हिंदु – सिंधी जो नाले डि॒ञो वयो हो। इन लिपीअ जो जोडाईंदड श्री नारायण जगनाथ वैदय जेको कि नाईब तालिमी इंसपेकटर हो बांम्बे प्रेसिडेंती जो। हून सिंधी वाणिकी जे खुदाबादी लहजे खे सुधारे ऐं इन में शिर्कारपूरी लहजे जी मदद सा इहा लिपी त्यार कई। हून साई मात्राउनि में सुधारे ऐं सिंधी भाषा के लफतनि जो धयान रखिंदे इहा लिपी त्यार कई।

004

सिंध में इन लिपी में बा॒राणी तालिम तोडे अदालतनि रेकार्ड ताईं में इसतमाल थेअण लगी॒ हूई। इन बैदि होरियां होरिया इन लिपी में सिंधी साहित्य ताई शाई थइअण लगो॒। सिंधी साहित्य में वाणिकी लिपी में पहिंरो किताबु दोदो चनेसर जी लोक कथा जो किताब शाई थियो। 1899 में सिंधी साहित्य की पत्रीका सुखरी पिणि वाणिकी में शाई थी। इहो ई न पर सिंध बाईबेल सोसाईटी इसाईनि जा धर्मी किताब वाणिकी में शाई कया।

दोदो चनेसर बाबत किताबु
दोदो चनेसर बाबत किताबु
सेंट मेथयू  जो फर्मान
सेंट मेथयू जो फर्मान

बद किसमती सां वाणिकी का सुनेहरा डि॒हिं को घणा वक्त कोन हलया। कशमिर जी असलोकी लिपी शारदा जो जहिं रित कशमिरी मूसलमानि विरोध कयो सागी॒ रित सिंध में भी वांङुरु वाणिकी जो सिंधी मुसलमान विरोध कयो जहिं सबब इहा लिपी हली कोन सघी। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे बि॒हिनि सुबनि हिकडो ई सबब डि॒ञो वयो …त इहे लिपयूं जरिऐ मूसलमानिका लफज नथा लिखी सघजिनि। इहो याद रखण घुर्जे त सिंध में मूसलमानि रूगो॒ इन लाई वाणिकी या वरि देवनागरी जो विरोध कयो त इन जरिऐ  मूसलमानिका नाला नथा लिखी सघजिनि। मतलब त कशमिरी मूसलमानि वाङुरु सिंधी मूसलमानि भी पहिंजे दीन धर्म खे वधीक अहमियत डि॒ञी।

ऐडही गा॒ल्हि किन हूई त सिंध में रूगो॒ हिंदु ई इन लिपीअ जो हिकु रूप खोजकी जे नाले इस्तमाल कंदा हवा। सिंध जा शिया इसमाईली बिरादरी जा मूसलमान पारां इन लिपीअ जो इसतमाल जाम कयो पयो पहिंजे धर्मिक किताबनि में। छा काण त इसमाईली शिया कच्छ, काठियावाड (गुजरात) में बी जाम हवा इहा लिपी कामयाबी पिणि माडी। चयो थो वञे इहा लिपी सिंध खां बा॒हरि बी जाम फैलाई पई इसमाईली शियां पारां।

खोजकी सिंधी – वाणकी या लोहाणी जे जमाम घणो वेझो लेखी वेंदी आहे जिअ हेठि तसविर मां पधिरो पयो थिये। खोजकी जा घणो तणो अखर बिलकुल वाणिकि जेडहा आहे जोतोणेकि किन खे सुधोरो पिणि वयो आहे। कुल मिलाऐ खोडकी हिक निहायत सुहिणी लिपी लेखजण खपे।

खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी
खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी
खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी
खोजकी, वाणिकी, घर्मूखी ऐं देवनागरी

मथे जा॒णायलि मात्राउं खां सवाई खोकजी लिपी में खास करे मूसलमानकी अखरनि खे अर्बी फार्सी उच्चार मोजिबु लिखण लाई के धार मात्रराउं जो पिणि इस्तमाल कयो वेंदो हो । हिक गा॒ल्हि धयान रखण जेडही आहे त खोजकी हरू भरू हर अर्बी अखरनि खे लिखण ते जोर किन डि॒ञो पर रूगो॒ उहे इ खअर खया पया जंनि को सुर चिठि रित पधिरा हुजिनि ऐं नंढे खंड जा इसमाईली मूसलमान उच्चारिनि। कुल मिलाऐ खोजकी सिंधी वाणकी या खुदाबादी खां भी बेहतरिन लिपी थी उभरी पर सिंधी कोम छो त हिंदु मूसलमिम फर्कनि खां उभरी किन सघयो सो सिंधी भाषा हिक बे॒हतरिन लिपीअ खां परे इ रहजी वई।

सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)
सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)
सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)
सिंधी जी खोजकी लिपी (सुधरियलि)


जेसिताईं वाणिकी जे जड जी गा॒ल्हि आहे त मञयो इहो वेंदो आहे त वाणिकी लंडा लिपी मां निकती आहे जहिंजा ब॒ लहजा जा॒णाया वया आहिनि हिकडी पंजाबी लंडा ऐं बी॒ सिंधी लंडा। पंजाबी लंडा खे सिखनि 16 सदी में फेरे गुर्मूखी जो नाले जाम फेर घार करे पेश कयो ज॒ड॒हिं स सिंध में इहा वाणिकी कोठजण में आई। लडां ड॒खण कशमिर, हिमाचल प्रदेश ऐं जम्मू  में गा॒ल्हिईंदड पाहाडी बो॒लयूं मसलनि डोगरी जी लिपी लाई इसतमाल थिंदड टकरी लिपी सां जाम मिलिंदड झुलिंदड आहे जिअं हेठि मिसालनि मां पधिरो पयो थिऐ। इहो याद रखण घुर्जे त टकरी ड॒खिण कशमिर जी लिपी आहे ऐं महाराजा डा॒हिर जे डि॒हनि में सिंध जी सर्हद कशमिर ताईं फैलयलि हूई। मूमकिन आहे तह वाणिकी (लंडा) ऐं टकरी लग॒ भग॒ हिक ई वक्त शारदा मां धार थी या वरि टकरी मां ई फेर फार थी मटजी लंडा पैदा थी जेका वरी फिरी वाणिकी थी।

वाणिकी, शारदा , टकरी ऐं गुर्मूखी जे भेट
वाणिकी, शारदा , टकरी ऐं गुर्मूखी जे भेट

सिंध जो ड॒खण पंजाब जे मूलतान वारे इलाईके सां तमाम घणो रिस्तो रहयो आहे। चयो वेंदो आहे त आगो॒ठे जमाने जो सिंधु सुवेर जे ऐलाके में  कच्छ, काठियावाड , सिंध ऐं मूलतान जी गड॒यलि हकूमत हकूमत हूंगी हूई। जेका लंडा मूलतान में मूतानी कोठबी हूई तहि में ऐं सिंधी वाणिकी में भी जाम हिंकजेडहाई पसबी आहे। हेठि सिंधी ऐं मूसतानी जी लिपी भेटि पई आहे। इन मां सिंध ऐं मूलतान मे इसतमाल थिंदड लंडा मंझ वाईडो कंदड हिकझेडाई पई डि॒सजे।

मूलतान ऐं सिंध जी लंडा लिपी
मूलतान ऐं सिंध जी लंडा लिपी

सिंध में रहिंदे वाणिकी ( या खोजकी) लिपी सिंधी भाषा जी लिपी तसलिम कोन थी, इअं थेअण भी मूशकिल हो, थी भी कोन सघे हा । सिंधी मूसलमान कड॒हि इन खे तसलिम कोन कनि हा। जेकरि अंग्रेज हकूमत वाणकीअ खे तसलम कनि हा त मूमकिन आहे त सिंधी मूसलमान अर्बी ही पडहिंदा अचनि हा या इहो भी मूमकिन हो त हो भी कशमिरी तोडे पंजाबी मूसलमानन वाङुरु उर्दू खे वडे॒ मयार जी बो॒ली तसलिम कंदे सरकारी बो॒ली तसलिम करण जी घुर कनि हा। खैर जेसिताईं हिंदुनि जी गा॒ल्हि आहे यकिनि सिंधी मूसलमानि खे मञाअण संदुनि वस खां बा॒हर हो। पर गलति असी सिंधी हिंदु हिते कई जड॒हिं असी पहिंजी लिपी वाणीकी खे पाण खां पासिरो संदे धारी धारी लिपी अर्बी खे मयार जी लिपी मञण शूरू कयोसिं।

लिपीअ जे नसबत पंजाब ऐं सिंध में फर्कु इअं त न जे बराबर आहे। ब॒ई कोमअ लडां खे अपनायो, जेतोणेक फर्क अगे॒ हलि कजहि वधया, पर जड॒हि तह पंजाबी सिख लंडा खे हिक मयार जी लिपी करे पेश करण में कामयाब थी वया सिंधी लिपीअ जे बदलाउ जे पहिंरे पडाउ ते इ रहजी वया। अजबु जेडही गाल्हि त इहा आहे जे सिंधी खास करे उतर सिंध जे अलाके में गुर्मुखी में सिंधी ताईं लिखिंदा हवा पर पहिजी लिपी खे उहा अहमियति या गुर्मूखी जी वाठ वठी पहिंजी सिंधी लंडा खे सुधारण में तमाम घट दिलचस्पी वरती।

सिंधी हिंदुनि जो हिंदुस्तान में लडे॒ अचण हिक हिक बेहतरिन मौको डि॒ञो हो तह सिंधी भाषा सा थिअल नाहक खे पोईते छडि॒दे वाणिकी खे हिक मयार जी लिपी करे पेश कयूं। पुणे जे रहवासी पंडित कृष्णचंद जेतली काफी मेहनत कई त सिंधीजी भी हिंक खसूसी लिपी हूजे त सिंधी जी बी हिक धार सुञाणप हूजे पर अफसोस त सिंधी लेखकनि इअं थेअण किन डि॒ञो। पंडित जेतली हर हिक सिंधी वाणकी लिपीअ जे अखर खे दुरुस्त करे इन खे सही रूप डि॒ञो। ऐतरो इ न पर मोअन जे दडे में इसतमाल थिअल लिपीअ सा भी भेटयो। किनि भाषा विज्ञानियूंनि मसलनि सुनिती कुमार चैटरजी जेडहनि जो मञण आहे त जेतोणेकि मोअन जे द़डे जूं लिपी में 400 नमूना इसतमाल कया वया आहिन पर इन के वावजूद के अखर मोअन जे दडे ऐं ब्रामणी जा हिक बे सां खाफि हिजेडाई डि॒सजे पई जहिं सां इहो थो सयो भाईंजे त मूमकिन आहे त अगो॒णे अर्यनि खे किथे न खिते इहा लिखावट जा के नमूना नजर आया हूजिनि ऐं संदनि इन नमूनन खे इसतमाल कंदे ब्रामणी जो इजाद कयो हूंदो। अजबु जेडही गा॒ल्हि त इहा आहे जे जड॒हिं त असीं मोअन जे दडे खे सिंधी कोम सां गंडणनि में मिंटु देर कोन कयूं पर लिपी जे नाले ते इन लिपी खे पहिंजो करे लेखण लाई असुल ई त्यार नाहियो।

पंडित कृष्ण चंद जेतली की वाणीकि लिपी
पंडित कृष्ण चंद जेतली की वाणीकि लिपी

014

जेकरि असीं वाणिकी खे अपनायों हा त शायदि लिपी जा गो॒ड सिंधी बो॒ली तोडे भाषा जे नसबत हमेशाह लाई निबरी वञिनि हा। असी इहो चई सघयूं हा वाणिकी ई सिंधी जी निजी॒ लिपी आहे ऐं सभिनि खे वाणिकी लिपीअ में इ सिंधी जी लिख पढ करणी आहे पर इहो मूमकिन किन थी सघयो। असां पाण ई पहिंजी लिपीअ जा वेरी थी विठासि। इन लिपीअ खे हेठि करे डे॒खारण में को बी मोको पहिंजे हथनि को विञाअण डो॒हू समझोसिं।

वेझडाईअ में ऐडहयूं कोशशयूं थोणेक थयनि पयूं जहिं जी मदद सा वाणिकी (खोजकी ) या खुदाबादी खे बि॒हर हिक मयार जी लिपी करे उभारयो वञे। अमेरिका वासी अंगशुमन पांणडेय हिंदुस्तान तोडे दखण ऐशिया जूं ब्रामणी कृत लिपीयूंनि ते जाम कम कयो आहे जिअ इहे विसरी वयलि लिपयूं कमपयूटर जरिऐ भी लिखजिन। लिपी यूनिकोड जहिऐ लिखजे इन लाई पंज डा॒कणयूं पर पयूं करणयूं पवि ऐं खोजकी ऐं वाणिकी 4 डा॒कणयूं पार करे चकयूं आहिनि पर इन जे बावजूद सिंधी समाज हमेशाह वाङुरु इन कम बाबत बेपरवाहि ई रहयो।

सिंध में देवनागरी इस्तमाल थिंदी हूई छा खाण त उहा संसकृत जी लिपी हूअण सबब हिंदु शाशत्र सभ संसकृत लिपी यानी देवनागरी में लिख्यलि आहिनि। सिंध में धार्मिक ग्रंथनि जो रिवाज सिंधी में लिखण जो रिवाज पोई पयो। पर जेसिताई गा॒ल्हि देवनागरी जरिऐ सिंधी लिखण जी आहे त सिंध में सिंधी बो॒ली लाई देवनागरी जो इस्तमाल सभिनि खां अगा॒वटि अंग्रेजनि कयो। इन में को भी शकु नाहे तह देनवागरी  संसकृत जी लिपी हूअण सबब सिंधी सुधी लग॒ भग॒ हर भारतिय बो॒लियूंनि लाई काराईती लिपी आहे। पर इन जो मतलब इहो नाहे त पहिंजी लिपी विसारिजे। लिपयूं रूगो॒ कहिं भी बो॒लीअ खे लिखण जो जरिओ ई न पर इन जी सुञाणप ऐं संसकृति जो हिंक बेहद अहम हिस्सो थिंदी आहे। हिंदी ऐं उर्दू जी लडाई जो हिक वडो॒ सबब लिपी ई हूई। वरि अंगेरजनि जे वञण खां पोई ऐडहा भी मोका आया जड॒हि हिंदी लाई भी सुझान डि॒ञा वया तह हिंदी खे भी रोमन लिपीअ में लिखजे पर हिंदी लेखकनि इअं थेअण किन डि॒ञो।

बदकिसमतीअ सां सिंधीयूंनि कड॒हिं भी इन सवाल ते संजिदगी कोन डे॒खारी। सिंधीयूंनि में जड॒हि भी लिपीअ जी गा॒ल्हि आई आहे असां किड॒हिं भी पहिंजी संसकृती खे न पर लिपीअ जे वाहिपे या दिन धर्म खे अहमियत डि॒ञी आहे। हिंदुस्तान में अञा मस अर्बी मां निजात भी कोन पाती आहे जे रोमन जो गो॒ड मथे ते अची वेठो आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे त लिपीयूं मठबूं नाहिनि। हिंदुस्तान में गुजराजी, मराठी पिणि लिपी मठाऐ चका आहिनि पर लिपीयूंनि जो मठजण ऐडहो भी  नाहे जे बिलकुल धारी बो॒ली जूं लिपयूं अपञायों। अर्बी या वरी रोमन पहिंजी साख जे बो॒लयूंनि लाई हिक मयार जी लिपी थी थूं सघिनि पर सिंधी या कहिं भी ड॒खिण ऐशिया जी भाषा लाई इन लिपी जी का भी अहमियत नाहे।

सिंधीयूंनि लाई हित वडो॒ सवाल इहो आहे जे छा हिंदुस्तान तोडे परडे॒हि जो सिंधी समाज पहिंजे संसकृति सां गंढण लाई त्यार आहे … छा असां पहिंज अतित खे सोघो करण लाई तयार आहिंयूं….सिंधीयूंनि जे वहिवार सां इअं लगे त कोन थो जे असीं पहिंदी संसकृति खे याद करण जी जरे जी भी चाहि रखउं था