नह ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ईं ईझा रही छा कयूं ? 25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना

  • खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा मेघवार कुंटूंब पांद में सिंध जे वारी बु॒॒धी जीरो पोईंट तां घोडा घाम, जोधपूर असहया
  • ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ई ईझा रही छा कयूं …25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना
  • सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत अथव  धर्ती छडे॒ वेंदड मेघवार खांदान जी हंजियूं हारिंदे सिंधीयूंनि खे अपील 
  • पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके
  • चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं – धर्ती छडे॒ वेंदड

खपरो – (रिपोर्ट राजा रशिद कंभर) खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा 25 मेघवार कूटूंब बदनामी जी बाहि खां तंक अचि सिंध छडे॒ हिंद रवाना थी वया। सिंध छडे॒ वेंदड हिंद चेतन जय पार कांजी मेघवार सिंध जा वारी पहिंजे पांदन में छडे॒ बदनामी जूं डा॒हूं कंदा जीरो पोईंट जरिऐ जोधपूर जे घोडा  घाम रवाना थी वयो। कांभर दडे खां पोइ पिरूंमल शहर भी हिंदुनि खां खालि थिअण शुरु थी पयो आहे। पहिंजी धर्ती छडिं॒दे हिंदु खांदान हंजियूं हारिंदे चई रहा हवा तह  “जिते बच्चा  ऐं ईझा महफूज नह हूजिनि, उते रही छा कबो? . पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके,   चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं । इन करे दिल हारे मात्रभूमि खां मोकिलाऊं पया। अव्हां खे सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत हूजे”  बे॒ पासे हिंदु ऐकशन कमिटी जे अग॒वान डाकटर धर्मू खांवाणी चयो तह् “डि॒हूं डि॒हिं हिंदुनि सां जलम वधी रहयो आहे पर पोई धर्ती छड॒ण बजाई हिमत सा हालतियूं जो मूकाबलो करण घूजे”।

 

सिंधी बो॒लीअ में डिजीटाईलेजेशनि

जां खां कंपयुटर में ग्राफिकल इंनटरफेस (तसविरि नजारो) जो इजादि थयो आहे तां खां इन जे कम करण जे दाईरो खे कहि कदुरु वधाईण जी जदोजिहद हलिंदी पई अचे। खासि करे लखण पढ़ण जे नसबत। इन सोच खे तहि महल जोर मिलयो जदि॒हि माईक्रोसाइट विन्डोज माणहुनि जे अग॒यां पेश कयो। चवण लाई तह कमपयुटर सठ जे द॒हाके में ई वजूद में अची वया हवा पर कमपयुटर ऐं आम रिवाजी माण्हुनि जी वाटि विंडोज जे वजूद में अचण सां पुख्ती थी। पर छो तह कमपयूटर जी इजाद उलहँदे मुलकनि में थी, इन सबब इन जो पूरो फईदो भी रोमन लिपी ई माणियो। पर होरया होरयो अण-रोमन लिपि लिखिंदडनि में भी इन करिशमें दा॒हिं छकंदियूं वयूं। पर इन जे बावजूद यूनिकोड जेडही का शई नह हुजण सबब कमपयूटर में दे॒ही बो॒लयूनि लिखण ऐं पढ़ण हमेशाई ई कहि चूनोतीअ खां घ़टि नह रही आहे।

युनेकोड जो इजादि कमपयुटरनि की दुनया में हिक वदो॒ जूनून खणी आई। युनेकोड जे ईजादि खां वठि जेको मसलो रोमन ऐं अणरोमन रहयो हो सो लग॒ भग॒ हमेशाह लाई खत्म था वयो। युनिकोड सबब इहो ममकिनि थी सघो तह को भी शख्सु दुनिया जे कहि भी हिसे में हुजो ऐं को बी कंपयुटर जे कहि भी आपरेटिगं सिसटम हलाऐं भी पहिजी बो॒ली ऐं लिपी सा गंढजी रही थो सघे। युनिकोड जे इजाद बैद मसलो इहो भी आयो तह किअं यूनकोड खां अगु॒ जो मवादु खे कमपयूटर में आणिजे ऐं इतो खां ईं शुरु थी किताबनि जे डिजीटलाईजेशनि जो खयालु। डिजीटलाईजेशन पाण सां ग॒दु॒ के अहम सहुलतयू खणी आई जेके कजह हिन रित आहिनि…

  •  अणलभ किताबनि बि॒हिर पढिंदड अगयां पेश करण जी सहुलियति
  • लाईब्रेरि ऐं पढिदडनि जे वचियों दुरि खे कहिं हदि ताई खतम करण
  •  पहिजे जरुरत मोजिबु सहूलाई सां गो॒लह (Searchable text) जेको आम दसतावेजनि में ममकनि नाहे।

अणलभ किताब या छापे खां बाचहिरि किताबनि जो मसलो हिकु ऐडहो मसलो आहे जहिं सां हर कहि बो॒लीअ खे मुंहू थो देअणो पवे। मसलो इन लाई थो अचे जे कितावनि जे छापे जी तादाद हमेशा ई किताब जे घुर ते भाडयलि हुंदी आहे। इहो ई नह उन साग॒ये किबाब जो ब॒यो को छापो तद॒हि ई शाई कयो थो वञे जद॒हि उन किताब जी घुर वधे थी। इन सब कमन में वरि चङो वकत भी थो लगी वञे जहिसां पढिंदडनि थे चङयूं तकलफियूं थूं सहणयू पवनि। डिजीटलाईजेशन बैद अणलभ किताबनि जे नसबत फाईदो इहो थो पवे तह आनलाईनि छापे जो खुटण जो को सवाल ई नथो अचे। जहिंखे जद॒हि खपे सो डाउनलोड करे थो सघे।

ब॒यो मसलो आहे किताब ऐं लाईबरेरिअ जे मंझ वेचो घटाअण जो—अम तोर सा किताब पढहण जा ब॒ वसिला आहिनि। हिकु तह किताब वण्जे या नह तह कहिं लाब्रेरीअ मां उधारो वठजे। डिजीटईलेजेशन सां ऐडहनि मसलनि में अहम मदद थी मिले। जेकरि को किताब डिजीटलाईज थो कयो वञे तह ई-लाबरोरि जे जरिऐ पडही थो सघजे। हिदुस्तानि तोडे परदे॒हि में ई- लाबरेरि तमाम घणयूं मकबुल थयूं आहिनि। हाणे लग भग हर वदि॒ युनवरसिटि खे पहिजी ई- लाईवरेरि आहे जहिजी मदद सा पढिंदड दुनया जे कहि भी कुंड कुरच में रही इन ई-लाबरेरि जे जरिऐ किताब पडी था सघिनि।

डिजीटाईलेशन में जेका टियो अहम फाईदो थो दि॒सजे सो आहे किताब में कहिं खासि लफज जी गो॒ल्ह। आम तोर सां कहिं भी किबाब जे पिछाडीअ में पनोतिरो थिऐ थो जहिजे मदद सां किताब में लिख्यलि को भी लफ्ज गो॒ल्हे लधो थो वञे। पर डिजीटलाईजेशन सा साग॒यो कमु तमाम घट वकत में थी थो सघे ।

डिजीटालाईजेशनि में हिक वदो॒ जनून तहि महल आयो जद॒हि इंटरनेटि जी वदे॒ मे वदी॒ खोज साईट गूगूल दुनया जी 350 बो॒लयूनि खे डीजाटीलाईज करण जी पधराई कई। इन कम जे नसबत चङनि बोलयनि ते कम पिणि थयो । सिंधीअ में खास करे गुगुल टे किताब डीजाटीलाईज कया जहिजा कागरी छापा हिअर अणलभ आहिनि। मसलनि- केपटेन जोर्ज इसटेक जो सिंधी – अग्रेजी लुगति, अग्रेजी- सिंधी लुगत ऐं सिंधी वयाकरण। पर इन खां सवाई तमाम थोड़ा ई देवनागरीअ सिंधी में किताब डिजीटलाईज कया आहिनि, वरि जेके कया भी वया इहे मखमल किताब नाहिन। रुगो किताबनि जा कवर ई आहिनि। सागे॒ रित अर्बी सिंधीअ में ऐडहयो हाल आहे। अर्बी सिंधीअ में खीसि करे को घणो कम कोन थयो । हिंदुसथानि में इन जो हिकु सबब तह समझी थो सघजे तह नई टेही अर्बी सिंधी कोन थी पढे पर सिंध सां इअं गुगुल जो वहंवार सम्झ खां परे आहे। इहो ममकिनि आहे तह गुगुल पिणि पाकसथानि जे उर्दू खवाहि अंग्रेजी मिडया जा शिकारि थी थियलि भासिजे जेके सिंधीअ खे हिक मूअल बो॒ली करारि देअण जो को भी मोको कोनि विञाईंदा आहिनि।

जेतोणेक गुगुल जी नजरि खां सिंधी बो॒ली कहि कदरु विसरि वई आहे पर इन जे बावजूदि सिंध में सिंधी किताबनि जे डजीटाईलेजेशन में चङो कमु थियो आहे। सिंधी अदबी बोर्ड, जामशोरो सिंध खोड़ सिंधी किताबनि खे बि॒हरि कंपोज करे पहिंजी वेबसाईट में शाया कया आहिनि। साहित्य जी Wऐड़ही का भी संफ नाहे जहिते कमु कोन थयो आहे। कहाणयूं, नावेल, लोक अदब, लुगति, कविताऊ, अत्म कथा, सफरनामा, नाठक वगिराह ते चङो कमु कयो वयो आहे। संदिनि विरहाङे खां पोई तोड़े अगु॒ जे सिंधी साहित्य खे ग॒दु॒ कयो आहे जहिं लाई अदबी बोर्ड खेण लहणे। शाबसि आहे अदबी बोर्ड खे इन कम खे अंजामु दि॒ञो आहे। जेतोणेक इन गाल्हि मे को भी शकु नाहे तह टेकनोलाजी जे नज़रइऐ सां अदबी बोर्ड हिंदुसतानि में थिंदड़ डिजीटाईलेजेशन जे मयार खां कहि कदुरु घटि आहे पर तद॒हि भी जेको कमु अदबी बोर्ड कयो आहे सो को घटि भी नाहे। अजु॒ को भी सिंधी दुनया जे चाहे कहि भी कुंड कुरच मे थो रहे, सिंधी साहित्य खां वाकिफ रही थो सघे। इहा पाण में ई हिक वदी॒ कामयाबी जी गा॒ल्हि आहे।

इन खां सवाई सिंधी में एडहयूं चङयूं कोशिशयूं थिअल आहिनि जहिं जे मार्फत सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे नसबत कम कयो पयो वञे। जेतोणेक इहो कम शख्शी तोर थिअल आहिनि पर इन जे बावजूदि इन कमनि खे नजरि अंदाज नथो करे सघजे। इन जा मिसालि आहिनि वाऐसि आफ सिंध, शखर सिठी ऐ ब॒यूं वेबसाईटयूं. आहिनि जहिजे में जे मार्फति सिंधी साहित्य सां वाकिफ थो थी सघजे। पिछाड़ीअ में गा॒व्हि कंदसि इसकराईब जेहि में थोडो ई सहि पर सिंधी मवादि थो मिले।

जेसताईं हिंदुस्तानि में डिजीटलाईजेशन जी गा॒ल्हि कजे तह हित डिजीटलाईजेशन जो कमु घणो तणो सरकारि जे माली मदद सां ई थयो आहे। इन में सबनि खा पहिरों नाTऊं डिजीटल लाईब्रेरी आफ इंडिया जो आहे। इहा पराजेक्ट तमाम वदी॒ आहे। मुल्क में इन कम लाई 21 जायूं आहिन जिते किताबनि जूं इसकेनिङ जो कम थे आहे। इहा पराजेक्ट इंडईयनि इंसटियटि आइ साईंस, कार्नेग मेलनि युनवरसिटि, नेशनल साईंस फाउंडेशनि, मिस्र जी ऐम सि आई टी ऐं इंट्रा युनिवरसिटी सेंटर फार ऐंसटेरोनामी ऐं ऐसट्रोफिझीकस, पुणे जो गद॒यलि सहकार सां वजूद में आयलि आहे। इन पराजोकट जे माईफति लग भग अढाई लख किताब जुदा जुदा संफनि में डिजीटलाईज थी चुका आहिनि। जेतोणेक इन में अंग्रेजी किताबनि जी घणाई आहे पर दे॒ही बो॒ली जी जा भी चङा किताब शाई थियलु आहिनि। जेसिताई गा॒ल्हि सिंधी जी आहे तह तमाम दु॒ख ऐं अफसास सां थो लिखणो पवे तह सिंधीअ खे विलकूल ई नजरअंदाज कयो वयो आहे पर दिलचसप गा॒ल्हि तह इहा भी आहे तह इन बाबत कहिं सिंधी संसथा हुलु भी कोन कयो। हा पर सिंधीयूनि ऐं सिंधी बोलीअ बाबत जरुर के किताब डिजीटलाईज थया आहिनि जनि जे घणाई अंग्रेजी जी आहे ऐं ऐकड बे॒कड बंगला ऐं तमिल बो॒लीअ में आहे।  हिंदुस्तानि में ब॒यनि बो॒लयुनि जे भेट में सिंधी बो॒लीअ में  डिजीटाईलेजोशनि जी तह यकिनं असां तमाम पोईते रहिंजी वई आहे, इन जो हिकु सबब इहो भी थो दि॒सजे तह नई टेहि जहिंजे चाहि सबब आई टी ऐतिरो अग॒ते वधी सो सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य कां कोसो परे आहे।

डिजीटाईलेजोशनि जे नसबत सिंधुनि में के अहमि मसला आहिनि। पहिरो मसलो आहे तह जेकरि डिजीटाईलेजोशनि थे भी तह केडही लिपी में थे। जेकरि आर्बी लिपीअ में इन कम खे हथ में खणजे तह इन जा पूरा इमकानि आहिनि तह इन में कयलि महनत सखार्थी कोनि थिंदी छा पोणि तह पढंण वारा तमाम घटि मिंलिंदा। वरि जेकरि देवनागरी लिपी में डिजीटाईलेजोशनि कजे तह खर्च जो भी मसलो आचे थो, छाकाणि तह कतानि बि॒हरि कम्पोज, फरुफ जा कम था अची वञिनि। इन बैद मसलो आहे तह इन जे सर्वर जी जिमेवारी कहिंजी हुंदी। इन कम खे आगते केरु वधाईंदो. पिछाडीअ में इहा बी गाल्हि विसारण नह खपे तह देवनागरीअ खे जेके सिंधीअ जी नाजाईस लिपी था मञिन तन खे किअ भरोसे में आणजे जे हो कमु आगतो वधे।

जेकदिहि लिपीअ जो मसलो आहे तह यकिनं देवलागरी हिक वेहतरिनि लिपी आहे। ध्वनी स्वर लिपी हुजण सबब लिखण में भी तमाम तहुली थी थिऐ। इहो ई नह अर्बी सिंधीअ जे भेटि में ऐडहा तमाम घटि लफज आहिनि जेके लिखया हिक नमूने था वञिनि ऐं पढयो धारि नमूञे । इन खां सुठी ऐं ठाहूकि लिपी सायदि ही सिंधीयूनि खे मिलि थी सघे। ब॒यो तह इहो तह लिपी सबनि खे अचे थी, छा काणि तह देवनागरी अखरनि सां पूरो उतर हिंदुस्तानि वाकिफ आहे जिते सिंधी रहिनि था। जेकसाई गा॒लिह कजे थी इन प्रोजेक्ट लाई खपिंदड पैसे जी तह सिंधी बो॒लीअ लाई झझो पैसो दिञो थो वञे, भले उहो ऐल. सी. पी.सि ऐल हुजे या सिंधी आदादमयूं। इहा गा॒ल्हि कहिं खां गु॒झी नाहे तह सिंधी अकादमयूं पहिजो महदूद बजेट खर्चण में कसिरि आहिनि, छा काणि तह संदनि वटि को घणयूं पराजेकट आहिनि कोन्ह।

डिजीटलाईज सिंधी बो॒लीअ जी हिक अहम जरुरत आहे। जेकदचहि असीं नंढे खंढ जे कोमनि खे दिसिंदासिं तह ऐंडहो सायदि ई को कोम हूदो जेको सिंधी हिंदुनि जेतरो टरयलि पखरियलू हूंजे। अजु॒ सिंधी दुनिया जे सठ मुलकिनि में रहिनि था। मसतब तह अव्हा जिते भी वञो – एशिया, अफरिका, उतर या द॒खिनि अमेरिका या युरोप जिते किथे अव्हां खे सिंधी लभिंदा। जदि॒ही ऐडहे वदे॒ ऐलीईके में सिंधी रहनि तह बो॒लीअ जे वाधारे जे नसबत रुगो॒ रिवाजी किताब जी पहुच ममकिन नाहे। सो इते ई गा॒ल्हि अचे था डिजीटलाईज जी। असां खे इहा गा॒ल्हि बिलकूल नह विसारण खपे तह अजु॒ टेकनोलाजीअ जो जमानो आहे ऐं जेकरि को इहो मौको विञायो वयो तह इहो ममकनि आहे तह इन जी जाई बी॒ का धारि बो॒ली अख्तयार कई वेंदी जहिजो मतलब इहो तय़ो तह सिंधीअ जी नेकालि हाथयो पक थी वेंदी। अजु॒ जी हालति में इन्टरनेट ई ऐडहो साधन आहे जहिजे जरिऐ सिधी तमाम थोडे वख्त में बो॒लीअ जो फहलाव मखमल करे था सघिनि। अजु॒ सिंधी बो॒लीअ खे हिक ऐडही टेकलालजीअ जी जरुरत आहे जहिजे मार्फति सिंधी बो॒ली ऐं साहित्य जो वाधारो घटि में घटि वकत में थी सघे। युनिकोड असां सभनि लाई हिक राह दा॒हीं इशारो कयो आहे ऐं जेकरि असी इनि जो फाईदो कोनि वर्तोतिं तह मुल्क तह विञायोसें ई हिअर सिंधी बो॒ली पिणि विञाऐ वेहिंदासिं।