नह ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ईं ईझा रही छा कयूं ? 25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना

  • खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा मेघवार कुंटूंब पांद में सिंध जे वारी बु॒॒धी जीरो पोईंट तां घोडा घाम, जोधपूर असहया
  • ब॒च्चा महफूज आहिनि नह ई ईझा रही छा कयूं …25 हिंदू कूंटूंब हिंद रवाना
  • सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत अथव  धर्ती छडे॒ वेंदड मेघवार खांदान जी हंजियूं हारिंदे सिंधीयूंनि खे अपील 
  • पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके
  • चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं – धर्ती छडे॒ वेंदड

खपरो – (रिपोर्ट राजा रशिद कंभर) खपरे, खेडाउ ऐं पिरूंमल जा 25 मेघवार कूटूंब बदनामी जी बाहि खां तंक अचि सिंध छडे॒ हिंद रवाना थी वया। सिंध छडे॒ वेंदड हिंद चेतन जय पार कांजी मेघवार सिंध जा वारी पहिंजे पांदन में छडे॒ बदनामी जूं डा॒हूं कंदा जीरो पोईंट जरिऐ जोधपूर जे घोडा  घाम रवाना थी वयो। कांभर दडे खां पोइ पिरूंमल शहर भी हिंदुनि खां खालि थिअण शुरु थी पयो आहे। पहिंजी धर्ती छडिं॒दे हिंदु खांदान हंजियूं हारिंदे चई रहा हवा तह  “जिते बच्चा  ऐं ईझा महफूज नह हूजिनि, उते रही छा कबो? . पहिंजे डा॒डा॒णे डे॒हि खे खुशी सां नह पया छड॒ऊं, पर हर तरफ बदनामी जी बा॒हि पई भडके,   चोरयूं , फूरियूं , धाडा ऐं अगवा कारोबार बणजी चूको आहे दिल हारे मात्रभूमी अलवादा पया कयूं । इन करे दिल हारे मात्रभूमि खां मोकिलाऊं पया। अव्हां खे सिंध में रहिंदड हिंदुनि जी पारत हूजे”  बे॒ पासे हिंदु ऐकशन कमिटी जे अग॒वान डाकटर धर्मू खांवाणी चयो तह् “डि॒हूं डि॒हिं हिंदुनि सां जलम वधी रहयो आहे पर पोई धर्ती छड॒ण बजाई हिमत सा हालतियूं जो मूकाबलो करण घूजे”।

 

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – हिंदु अगवानि जूं दाहिं

हे अहवाल सिंधी मां शाई सिंदड अखबार अवामी आवाज मां लरतल आहे। सिंधूयूंनि जे समझ लाई हित देवनागरी लिपीअ में शाई कजे थो

मूल लेख की लिंक

http://www.awamiawaz.net/%D9%81%D9%8A%D8%B5%D9%84%D9%88-%DA%AA%D8%B1%D9%8A%D9%88%D8%8C-%D8%B1%D9%87%DA%BB-%DA%8F%D9%8A%D9%86%D8%AF%E2%80%8D%D8%A4-%D9%8A%D8%A7-%D9%84%DA%8F%D9%8A-%D9%88%DA%83%D9%88%D9%86%D8%9F-%D8%B3%D9%86/print/

फैसलो करयो रहण डिं॒दौउ या लडे॒ वञऊ – सिंध मां 1947 खां भी लड॒पण पई थिऐ – इंसानी हकनि जी स्डिंडिग कमिटी जे आडो॒ हिंदु अगवानि जूं दाहिं

कराची (रिपोर्ट शकिल नाईच)- इंसानी हकनि बाबति कोमी ऐसमबली जी ऐसटेंडिग कमिटी सिंध सरकार खे सिफारिशयूं कयूं आहिनि तह हिंदुनि जो जोरी मज़हब (धर्म) वारे अमल खे रोकण ऐं हिंदुनि जे आग़वा जे डो॒हारिनि खिलाफ कार्वाही करण ऐं हिंदुनि जे लद॒पण खतम करण लाई कानुनसाजी कई वञे। सुबे जे अंदर कारो कारी (हिक प्रथा जिन में शक जे आधार ते मूसलमानी पहिजे उलाद जो खासि करे नियाणियूंनि जो कतल कनि) जे खातमे लाई सख्त कानून ठाया वञिनि ऐं जिल मेनूअल हाणे तबधील करे जदाऐद दोर मूताबिक जा जेल मेनूअल ठाया वञिनि। इहे गा॒ल्हियूं जूमे डि॒हूं ऐस्टेंडिग कमिटीअ जे चेअरमैन रेयाज फतयाना जे सदारति में थिअल इजिलास में कयूं वयूं। इन मोके ते ऐडिशनलि आई जी सिंध पूलिस पारां हिंदुनि के अगवा ऐं लड॒पण बाबति पेश अंग अखरनि खे कोमी ऐसेल्मबली जी ऐसटेंडिग कमिटी ऐं अकलमत (अल्पसंख्यक) तंजमयूं जे ऐहदेदारनि रद करे छड॒यो। इजलास में ऐडीशनलि आई जी फलक खुर्शिद अंग अखर पेश कया तह् केतिरा हिंदु अगवा थियलि आहिनि ऐं केतिरा हितोऊ लडे॒ वया आहिनि … इन ते ऐम ऐन ऐ ( मेमबर नेशनलि ऐसेलबली) अरेश कुमार सिंह चयो तह पंजनि सासनि में ऐतरी लड॒पण थी आहे जेतरि 1947 में भी नह थी हूंदी, सिर्फ मिरपुर खास में सवन माण्हूं अगवा थियलि आहिनि ऐं हितोउ खां लडे॒ वया आहिनि। ऐडिशनलि आई जी चयो तह हिंदु मेंहिंती आहिनि सो खेनि टारगेट करे निशाणो पयो बणायो वञे। हो हर शबऐ में कामयाब आहिनि। सदर जरदारी टिन मेम्बरनि जी कमिशन जोडी आहे। आरेसर कुमार सिंह चयो तह असां खे अन अंग अखरनि ते कतई ऐतबार नाहे। हिंदुस्तान सरकार पाण चयो आहे तह् सिंध मां आयलि 500 हिंदु खांदान इते तर्सया पया आहिनि ऐं वापस वञण खां इंकार कयो आहे। केतिरा हिंदु कतल भी थिया आहिनि, जेकरि हिंदु नह रहया असीं तबाहि थी वेंदासी। हिंदु माईनार्टी ऐलाईंस जे मंगला शर्मा चयो तह सिर्फ सेपटेंबर में 12 हिंदु छोकरियूं मसलमान बणायूं वयूं आहिनि इन्ही मां सिर्फ हिंक हिंदु नेंगरी वारिसन खे मोटी मिली आहे। हिंतोउ सिर्फ हिक साल में साढा सत हजार हिंदु खांदान हिंदुस्तान लडे॒ वया। गूजरलि 20 सालनि में डे॒ढ लखु हिंदु लडे॒ चूका आहिनि। सिंध में पंज सेकिडो नोकरयूं भी हिंदुनि जे हथ में नाहिनि। हिंदु पर्सलनि ला (कानून) भी नाहे। हिंदु काउंसिल जे टिकम मल चयो तह हिंदुनि जी वडी॒ तकलिफ इहा आहे तह खेनि जबरदसती मूसलमान बणायो वयो वञे।  असां खे इन सिलसिले में हकिकत में ऐतराफ करण घुरजे, छोकरि खे 20 डि॒हनि में कोर्ट अंदर आणे मूसलमानि हूअण जो बयान था देअरो ऐं आडही छोकरि खे धीअ, भेण बणाअण बजाई शादी छो पई करई वञे ??. असां पैसो तह कमाऐ वठींदासि पर इजत वापस नह मिलिंदी। असां खे नौकरियूं, तरर्कियूं , कम नह घुगजिनि. असी अकलमियत (थोडाई) में आहियूं, असां जो कमु फर्मानबरादरी करण ऐं समाजिक तालूक बेहतर बणाअण आहे। हाणे वकत अची वयो आहे तह असां खे रहण दि॒ञो वेंदो या लडो॒यो वेंदो. .जोरी मूसलमान करण जो ऐतराफ कंदे कानून ठहयो तह असी दडे॒ वञण ते मजबूर थिंदासि। “या तह रहण ड॒यो यह भज॒ण डि॒यो”  ऐडीशनल आई जी चयो तह असां कोनून जा पाबंध आहियूं। कोनून मूताबिक नेंगर ऐं नेंगरी खे अदालत में पेश कंदा आहियूं, पोई जेको फैसलो अदालत कंदी आहे उन ते अमल कंदा आहियों। ऐम कयू ऐम जे ऐम ऐन ऐ कशूर ज़रही चयो तह हिंदु असां खा वधिक देश भग्त आहिनि, वाक्ई असां खे हाणे सोचणो खपे ऐं आमली कदम खणणा पवंदा, हे संगिन मसलो आहे। आमली लेविल ते मूसलमान बणाअण वारे मामले ते पाकिस्तान जी बदनामी थी रही आहे ऐडहो कोनून ठायो जो अगते को भी इंअ नह करे सघे। माईनारटी अतहाद जो रमेश सिंह चयो तह मसला आहिनि इन लाई तह हिंदु लडे॒ था वञिनि। हिंदुस्तान जो वजीर चवे थो तह 3 सालनि में 1290 खांदान पाकिस्तान मां हिंदुस्तान आया ऐं 790 खे शहरियत (नागरिकता) भी मिली वई आहे। शखर रेंजनि मां घणा हिंदु लडि॒नि था, जेकड॒हिं असा खे अगवा थिअण बैदि भूंग (फिरोती) दे॒अणी पवे तह पूलिस जो केडहो कम । अल्पसंखयक (धार्मिक)  जो तहफूज कयो वञे। बलूचिस्तान जो ऐम पी ऐ (ऐम ऐल ऐ) सतराम सिंघ डोमक ऐं सिंध जो ऐम सरहिंदो चयो असां खे काईदे आजम वारा हक डे॒यो। काईदे आजम पाकिस्तान जी पहिरीं सदारत जोगिंरनाथ मंडल खां कराई। पाकिस्तान ते सभनी खां अगु॒ तिर खाअण जी गा॒ल्हि ऐम पी सिंघा कई हूई। पाकिस्तान ते डू॒खयो वकत आयो तह पोई अल्पसंख्यक अगु खां अग॒ते रहिंदा। ऐम ऐन ऐ अरेश कुमार सिंह चयो तह सिर्फ पूलिस इहो बु॒धाऐ तह छा इहा सरकार जी पालीसी आहे तह अलपसंख्यक लडे॒ वञिनि!!! जे इअं आहे तह बुधाऐ छडो॒ तह असीं चूप करे वेही रहिंदासी। ऐम ऐन ऐ इनायत अल्लाह चयो तह हिंदुनि सां थिंदड कार्वाही दहशदगर्दी आहे। इहा शर्म जी गा॒ल्हि आहे जे हिंदु इतोउ खा लडे॒ वञिनि। असां 20 सालनि खां सिंध अंदर निजी जेलनि जो बू॒धोउ पया। हिंदु पर्सनल ला ठाहयो वञे। हिंदुनि खिलाफ डा॒ढाईनि जा केस देहशदगर्दी जे खातमे वारे केसनि वाङुरु ऐ टी सी अदालतुनि में हलाया वञिनि। थोडाईवारी बिरादरी असांजो किमता सरमायो आहिनि, असां संदुनि लड॒ण खे बरदास्त नथा करे सघऊं। ईसपेशल होम सेक्रेटरी मूदसर ईकबाल चयो तह हाणे असां हिंदुनि जे तहफोज लाई हर जिले में डेपटी कमिशनर जे सर्बरादीअ में कमिटूयूं ठाहयूं आहिनि जिन में ऐस ऐस पी ऐं पंज अल्पसंख्यक बिरादरी जा नुमाईंदा हूंदा, इन मोके ते खिताब कंदे कमिटी जे चेअरमैन रियाज फतयाना चयो तह इन में को भी शक नाहे तह थोडाई वारे कोम खे भी ओतिरा ई हक मिल्यलि आहिनि जेतिरा मूसलमानि खे आहिनि। काईदे आजम जी 11 अगस्त वारी तकरिर में मजहब बाबत चयो हिते को भी बालातर या मातहत नाहे, असा वठ मजहबी जनूनेत जो कलचर जियां उल हक पैदा कयो ऐं हून नफरत जो बि॒जु॒ पोखियो जेको असी अजु॒ भोगियूं पया। चेतराल में केसाश नसल खे मूसलमान करण लाई कजहि इंतहा पंसंदी उते पहूता मके जे फतहि वकत हजरत पाक सली अल्लाह वसलम वाजिहि ऐं सख्त पेगाम दि॒ञो हो तह अजु॒ खां पोई सभनि खे हिक जेतरा हक हासिल हूदा। अजु॒ पाकिस्तान में हिदु अगवा वया थेनि, संदुनि नेंगरिनि खे जोरी मूसलमानि पयो कयो वञे, हिंदुनि जे तहफूज जी जिमेवारी रियासत जी आहे। गुंजरवाला में ईसाईंनि साणु इंतहापंसंदी डा॒ढाई कई वई तह असीं वाजी लफजनि में मजमत कई। हिन हकूमत सिंध खे शिफारशू कयूं तह थोडाई वारे कोमनि के ईबादतगारि ते गु॒झयूं केमेरा लगायूं व़िनि जहिं जू कनेकशन थाणे सां हूजिनि। थोडाई वारे कोमनि जे इबादतगारनि जी जिमेवारी रियासत जी आहे। हिंदु छोकरी जे मूसलमान थिअण लाई धार कोनून सिंध सरकार ठाये ऐं इन द॒स में क्रिमिनल कानून में तरमियम करे छोकरीअ खे “सेफ हाउस” में रखयो वञे ऐं खेसि हिक महिने ताईं कहिं सा भी मिलण नह डि॒ञो वञे। औकाफ खाते में थोडाई वारे बिरादरी ऐबादतगाहिनि जी सार संभाल लहण अकलियत बिरादरी जे आफसर खे डि॒ञी वञे सूमर दि॒हिं अकलियत बिरादरी जा नुमाईंदा इसपेशल होम सेक्रेटरी होम मूदसर इकबाल साणु ब॒ टे कलाक गद॒जाणी कनि। हून चयो तह हिअर सभनी दा॒हि इहो सख्त पैगाम वञणो घुरजे तह् अकलतियूंनि सां डा॒ढायूं बरदास्त नह कई वेंदी। खेनि जोरी मजहब बदलाअण ते मजबूर नह कयो वोंदो। खेनि अगवा नह कयो वेंदो आई जी सिंध पूलिस जे आफिस में हिकु सेल कायम कयो ऐं इन जी ओज सा मिली अंगनि अखरनि जी भेटि कयो, नोकरयूंनि में पंज सेकिडो कोटा अकलियतिनि खे दि॒यो असा बि॒हर बी॒ टीन महिनिन में इंदासी तबधीली अचण घुर्जे। इजलास में कारो कारी बाबति रियाज फतियाना चयो तह सिंध पूलिस हे सुठो अमल कयो आहे जो 1213 सेल खोलयो आहे। सिंध सरकार खे घुर्जे तह कारो कारी जे खातमे लाई मजहबी अग॒वान आलिमनि साणु राबतो कयो वञे। तालिमि अदारनि में कारो कारी खे निसाब में शामिल कयो वञे ऐं इन मूहिम में सिविल सोसाईटी खे भी शामिल कयो वञे, मिडिया खां मदद वरती वञे तह जिअ मिडीया जे खबरूनि जो नोटिस संसद ऐं अदालत वठनि। असीं यूं ऐन डी पी जा भी शुकरगुजर आहियूं जे हो कारो कारी जे खातमे लाई कम करे पई । हिन ऐसट्डिंग कमीटी खे कारो कारी ते गण॒ती आहे ऐं सिंध हकूमत खे शिफारिश थी करे तह इन मसले खे हल करे। सिंध जे जेलनि बाबति रियाज फातियाना खाते जे सेक्रेटरी अली हसन बरोही जरिऐ सिंध हकूमत खे शिफारिश कई तह जेल मेमूअल में हिअर ई तबधीली कई वञे। कैदिनि खे फोन जी सहूलियत डि॒ञी वञे। नंढे डो॒हनि वारनि खे जमानत कराई वञे। जेलनि में सब-पोस्ट आफिस कायमि कराई वञे। जेलनि में अखबारनि जा इसटेंड लगाया वञिनि। अखबारनि के मालिकनि खे लिखित में दर्खासतयूं डि॒नियूं वञिनि तह हो जेलनि में मूफ्त में अखबारु डे॒नि, जेलनि में रांदियूंनि जो बंदोबस्त कयो वञे, जेलनि में नंढयूं बेरेकनि में घणनि कैदियूंनि खे बंद करण वारो सिर्सलो बमद कयो वञे। हेपटाईटिस समेत सभिन बिमारियूंनि जी टेस्ट वरती वञे। जेलनि में वड॒यूं इसक्रिननि वारयूं टी वी लगा॒ऐ फिलमसूं डेखारयूं वञिनि। कैदिनि जा ऐकाउंट खोलया वञिनि जिअ संदनि मेहनत मजूरि जो मोआफजो ऐकाऊंट में जमा कराऐ सघजे। कैदिनि खे वकिलनि साण मिलण डि॒ञो वञे। कैदियूंनि जो नफसयाती माहिरनि खां पिणि ईलाज करायी वञे कैदिनि खे कट कार्ड डि॒ञो वञे जहिं में हिनिन जा तफसिल लिखयलि हूजिनि।

 

 

अरडहणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

अड्हणो सिंधी संमेलनि- टाक शो या फलाप शो.

 

हिन सालि इहो वारो हो अहमदाबादि जो- अड्हिंऐ सिंधी सन्मेलनि जे मेजबानि करण जी। इन खां अंगु॒ ऐडहा साग॒या सिंधी मेराडकनि जी मेजबानी दुनिया भर जे जुदा जुदा शहरनि पई कई आहे- जिते जिते सिंधी वसयलि आहे। चयो थो वञे तह सिंधी संमेलनि जो आयोजनि जी सोच सभनि खां अग॒वाटि 1988-89 में श्री प्रेम लालवाणीअ (जेके तहिं महलि केलिफोनिया जी सिंधी ऐसोसिऐसनि जा मुखी हवा) पारां जोर शोर सां रखी वई हूई पर संमेलनि पर पहिरों सिंधी सलमेलनि 1992 में ई आयोजित करे सघयो श्री चंदरु भोजवाणीअ जे वकत। शुरु में इहे सनमेलनि रूगो॒ अमेरिका में जे मुख्तलिफ शहरनि में पई आयोजित कया  वेंदा हवा पर बैद में दुनिया जे मुख्तलिफ मूलकनि में पई अयोजित थिअण लगा॒। इन सन्मेलनि जे नसबत हिक संसथा जहिजो नाऊं पई पधरो थिंदो आहे सो आहे ऐलाईस आफ सिंधी ऐसोसिऐशनि ईन अमेरिका जहि मंझ हिअर 17 सिंधी ऐसेसिऐसनि ग॒द॒यलि बु॒धायूं थयूं वञिनि। पर दिलचसप गा॒ल्हि तह ईहा आहे जे अमेरिका खां बा॒हरि जद॒हि में ऐडहा साग॒या सिंधी संमेलनि था पय़ा कोठाया वञिन तह मेजबानि कंदड मूलक जी भी संसथा जी भाईवारि हूजे थी। 2010 में जकार्ता, इंडोनिशिया में अहो संमेलनि गांधी लोक सेवा जे जी मदद सां अयोजित कयो वयो। (गांधी लोक सेवा जा जकार्ता ऐं बाली में अठ – द॒ह स्कुल हलिईंदी आहे जिते हिंदुस्तानि में मूल जा माण्हू तालिम पई हासिलु कनि। स्कुल तह अंतर्साष्ट्रिय थेनि पर तालिम जो माधयमि अंग्रेजी थिऐ थो।)

[slideshow]

 

इन संमेलनि जे नसबत दे॒हि या मकानि संसथा जी जो किरदारि निभायो सिंधी काउनसल आफ ईडिया। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया जो नालो सिंधी समाज जे नसबत को नयो नाहे। इन संसथा तहि महलि सुरखियूनि में आई जद॒हि बी जे पी जे दि॒हिंनि में हिंदुस्तानि जे कोमी तराणे मां सिंध लफज खे रद करण जे नसबत कोर्ट में आर्जी दाखलि थी। इन खां सवाई छतिसगड में सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधीयूंनि खे बंगलादेशिनि जे साणु परदे॒हि करार दे॒अण महल पहिंजो रोल अदा कयो हो। सिंधी काउंसिल आफ इंडिया हिंद तोडे दुनिया जे जुदा जुदा  मूल्कनि में ऐहा जाम जलसा पई आयोजित कया आहिनि।

 

संमेलनि जो महूरति गुजरात जे वदे॒ वजिर श्री नरेंदर मेदीअ जे हथनि सां दि॒ओ बा॒रे कयो वयो। संमेलनि में जा॒तलि सुञातलि सख्सियूतनि खे निंढ द॒ई घुराअण जी गा॒ल्हि का नई जा॒ल्हि नाहे। हिंदुस्तनि में सिंधी बो॒लीअ जे तसलिम जे नसबत साग॒या मंजरि दि॒सण में इंदा हवा। तहि महलि जा॒तलि सुञातलि सख्सतियूनि जे घुराअण जे पुठयां सोच ईहां हूंदी हूई जिअं सिंधीयूनि बाबत इन सख्सतियूनि खे जा॒णि हूजे। तनि दि॒हिनि में इहो जरूरि भी हो छाकाणि तह आम हिंदुस्तानि खे सिंधी कोम बाबत जा॒ण कहि कदरु महदूद हूई। पर हिअर सिंधूयूनि जी सिंधी बो॒लीअ दा॒हि लापरवाहि सवव सिंधीयूनि जी नई टेहीअ खे सिंध तोडे सिंधीयूनि बाबत जा॒ण घटि हूंदी आहे ऐं इन निंढ द॒ई घुरातयलि सख्सयूतिनि खे घणी। इन हकिकत खे मोदीअ जी सुहिणे नमूने पेश कयो। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूनि खे पहिंजी बो॒ली तोडे सखाफति खे अपञाअण खपे। पहिजी जडनि खे विसारण नह गुर्जे, सिंधीयूनि खे पहिंजी सकाफति लिबासि में पेश अचणो खपिंदो हो वगिराह वगिराह। हिंदुस्तनि जो सिंधी समाज जे इन गा॒ल्हियूनि खां अण वाकिफु आहे ऐडह भी गा॒ल्हि नाहे। दरअसलि असीं सिंधी बो॒लीअ खे ऐडहे कदुरु कमजोर कयो आहे जे हिअर अण सिंधीयूनि लाई हिक वदी॒ मजाक थी पया आहियूं। जेतोणेक सुबे जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे विच में सिंडजी आयो पर इन जे बावजूद कहिं भी ईडही घुर वदे॒ वजिर जे अग॒या कोन रखि, ज॒णू मोदी सिंधीयूनि जे जलसे में शरिक थी थोडो लाथो आहे, ऐ हून भी इन जो पोरो फाईदो परतो।

 

हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधूयनि लाई गुजराति हिक अहम सुबो आहे। जेकरि गुजराति में रहिंदड सिंधीयूनि जी  अदमशुमारिअ खे बारिकीअ सां जाचिजे तह हित में लदे॒आयलि सिंधीयूनि जो टयो हिस्सो थो वसे। इहो ई नह पर सिंधीयूनि जी घणे में घणी आबादी गुजराति में थी रहे पर साणु साणु इहा भी गा॒ल्हि गु॒झी नाहे तह सिंघीयूनि खे सभनि खां वधीक दु॒ख गुजराति में दि॒सणा पया आहिनि। चयो इहो वेंदो आहे तह गुजरातियूंनि  नह पई चाहियो तह सिंधी हित वसिनि। (कच्छ खां सवाई छा काणि तह तनि दि॒हिनि में कच्छ केंद्र सासित प्रदेश हो) इहो भी चयो वेंदो आहे तह हिंदु सिंधीयूं जो जाति दा॒हि वहिंवारु, तिवण तोडे गोसत खाअण, दारु पिअण जो कहि कदरु खुलयलि रिवाज या वरि जाईफनि जो अल्ला या मर्दनि जो गा॒ल्हि – गा॒ल्हि थे खुदा लफज उकोरण या अर्बी फार्सी लिपीअ में पहिजी बो॒लीअ में लिखण नह पई वणयो मथो वरि सिंधी हिंदु भी धंधो कनि जहि सबब गुजरातियूनि तोडे सिंधीयूंनि में रिस (धंधे सांङे) इन विछोटियूंनि खे कहि कदुरु वधाऐ छद॒यो। अजु॒ भी ऐडहा जाम वाकया पई बु॒धबा आहिनि जिते सिंधीयूनि खे जायूं नह दि॒ञयूं वेंदू आहिनि, मतलब असां लाई के ऐलाका नो गो ऐरिया तह नाहिनि पर असां जो वसण हितोउ जे रहाकूनि खे घट वणे । अजु॒ भी ऐडहा जाम सिंधी आहिनि जेके गुजरात में (कच्छ खां सवाई) जिते सिंधी पहिंजी बो॒ली हिंदी तोडे तसलिम कंदा आहिनि इन ढप खां जिअं खेनि धारि करे नह दि॒ठो वञे। विछाडीअ जे किन द॒हाकनि जे  भेट में जेतोणेक इहे वाकया कहि कदुरु घटया आहिनि पर ईन जे बावजूद ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह इहे वाकया अगो॒ पई निबरी वया आहिनि। इहो सब इन जे वावजूद जे 1947 खां अगु॒ कराचीअ में जाम गुजराती रहिंदा हवा । किन जो तह मञण आहे तह कराचीअ में हिंदु सिंधीयूंनि खां भी वधीक गुजराति रहिंदा हवा पर संदुनि साणु कहिं भी  गलत वहंवारु जी का कारि कोन बूधी वई आहे। पर विराहांङे सब कजहि फेरे छदो।

 

वेझडाईअ में दिल्ली में हिक सेमिनार थी गुजिरि जहि में हिंदुस्तानि सरकारि में हिकु अहम वजूरु श्री कपिल सिब्बल भी हाजिरु हो। उते हिक घुर कई वई तह छोन नह सुबे जूं सरकारि नोकरयूंनि भी मर्कज जे सिविल सर्विस वाङुरु पिणि सिंधी में दि॒ञयूं वञिन. (हिअर रूगो॒ राजस्थान में ई सुबे जी सिविल सर्विस जा इमतहान सिंधीअ में द॒ई था सघजिनि)। वजिर जो विचार हो तह इहे घूरयूं सुबनि जे सरकारि जे अग॒यां रखयूं वञिनि ऐं जिते कांग्रेस जी हूकुमत आहे उहे वजिर पाण ई ईहा  घूर कंदो सुखतलिफ सुबनि जे वदे॒ वजरनि सां- पर जद॒हि गुजराति जो वदो॒ वजिरु सिंधीयूनि जे अग॒यां सिडजी आहो हो तह ऐडही का भी घुर किन रखी वई। इहो वाकयो इन गा॒ल्हि जो साहिदु आहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी संसथाउनि में कहि भी नमूने जो राबतो नाहे। इहो ई नह हिन साल 2011 में जुदा जुदा संसथाउनि जा ऐजिवि प्रधान मंत्री साण टे भेडा ग॒दया आहिन धार धारि घुरनि जे नसबत। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि जी अदमशुमारि मूल आबादीअ जे रूगो॒ हिक सेकडे जो चोथो हिस्सो मस थिंदी पर इन जे वावजूद असी हिक मूदे थे हिक थी भीहण खा कासिर आहियूं- इहा गा॒ल्हि सोचण जेडहि आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी काउंसिल आफ इंडिया  खे इन सभ गा॒ल्हियूंनि जी जा॒ण नाहे पर बदकिसमतीअ सां सिंधी संसथाउ पाण जे  रिसअ में पूरयूं आहिनि। हिक ई घुर जेका हिदुजा आकहिं जे श्रीचंद हिंदुजा रखि तह सिंधयूनि खे भी जेकरि सुबो हूजे हा ………..पर इन जे जवाब लगो॒ तह मोदी ज॒णु तयार थी आयो हो। संदुसि जवाब पिणि साग॒यो हो जेको नहरु जो हिंदुस्तानि बाबत हूंदो हो तह साईं सजो॒ गुजरात अव्हा जो आहे भले जिते चाहियो उतो वसो।

 

इन संमेलनि जे पहिरे दि॒हिं हिंद जी हिक अहम सिंधी सियासी सखसियति मोजूद हूई – सा हूई अहमदाबाद में सिंधी ऐलाईके कुबेरनगर विसतारि जी ऐम ऐल ऐ श्रीमती माया कोद॒नाणी। संदुसि चवण हो तह सिंधीयूंनि खे हिअर माजीअ दा॒हि नह पर मस्तकबिल (भविषय) दा॒हि सिंधीयूनि खे सोचिणो खपे। इहा गा॒ल्हि अगो॒पोऊ भी गलत नाहे। सिंधीयूंनि जो बसेरो हिअर हिंदुस्तानि में आहे (घटि में घटि में हिंदु सिंधीयूंनि लाई तह ईअं ई आहे) पर इन जो मतलब इहो भी नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली तोडे सकाफत खे विसारे वेहऊं। असां जेकरि अटे में लुण जेतिरा थी करे पहिजी बो॒लीअ खे हिंदुस्तानि जी कनि अहम बो॒लयूं में तसलम  कराऐ था  सघऊ तह यकिनि बो॒लीअ खे मसकबिल में जोर पिणि वठाऐ थआ सघऊं। असांजी बदकिसमतीअ इहा रहि आहे तह असीं जेतोणेक पहिजे पाण में हिदुपणो आंदो आहे पर इन चाहि में उन खां तमाम घणो वधिकु सिंधीपणो विञायो आहे ऐं इन टेहि जी साहिद आहे मायाबेन कोद॒नाणी। अंग्रेजी में हिक चवणी आहे तह –रोम में उहो ई कयो जिअं रोमन कनि। माया कोद॒नाणी उनहिनि सिंधीयूनि मां आहे जहिखे पहिंखे पहिजे माजीअ मां को खासि सिख वठण जी जरुरत नह पवदी आहे। जणु गुजरातियूं सां सिम़टी वञण असां लाई हेकलि राहि वञी बची आहे। जेके खेसि सुञाणिनि तन जो चवण आहे तह सिंधीयति जे नसबत माया कोद॒नाणीअ में इहा गा॒ल्हि नाहे जेका अगो॒णो ऐम ऐल ऐ श्री गोपालदास भोजवाणी में हूंदी हूई। गोपादास भोजवाणीअ हमेशाहि ई सिंधीयति तोडे सिंधीयूनि में पहिजी हिक चाह वठिंदो हो। कहि भी कोम लाई संसदुसि वरसो तमाम घणी अहमियति थो रखे इहा गा॒ल्हि श्री भोजवाणीअ जे बखुबि खबरि हूई। अदी माया पाण भी हिक इंटरवयूं में चयो आहे तह हूअ जद॒हि कूबेरनगर आई हूई तह हित सिंधीयूंनि खे सिंधी बो॒लीअ  जे घणे वाहिपे ते वाईडी थी वई। बदकिसमतीअ सां माया जेडहे सिंधीयूनि जी तादाति तमाम तेजीअ सां पई वधे जेके पाण खे क़टर हिंदु तह कोठाईनि था पर सिंधी नह। संदुसि लिबास भी गुजरातियूंनि जेडहो हूंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शक नाहे तह हिंदुनि जो सिंध मोठी वञण सायदि हिअर मूमकिनि नाहे, पर इन जो ईहो मतलब नाहे तह असां हिदुंस्तान में थाईंको थिअण जी चाहि में पहिंजे पाण खे अण- सिंधी करारि दे॒अऊं।

 

हिन संमेलनि में भरमारि हूई उनहिनि सिंधीयूनि जी जेहिजो वासतो धंधे सा रहियो आहे। इन में वदे॒ में वदो॒ नाऊं हो हिंदुजा भाउरनि जो। नह रूगो॒ श्रीचंद हिंदुजा पाण हाजिर हो पर साणु साणु संदुसि ब॒ह भाउर पिणि जारिरु हवा। इन खां सवाई ऐडहा खोड सिंधी हूवा जहि दुनिया जा जुदा जुदा मूलकनि में रहि वाणिजय या धंधे धाडीअ जे खेत्र में जाम नालो कमायो आहे। हिक सोच जेका सिंधीयूंनि में रहि आहे सा आहे सिंधी हिक धंधो कंदड कोम आहे। इहा सोच नह रूगो॒ आम सिंधीयूंनि में वेठलि हूंदी आहे पर लेखकन में भी। अजबु जेडहि गा॒ल्हि तह इहा आहे तह अंग्रेजनि जे दि॒हिं में तह सिंध मे खास करे सिंध में मुसलिम लिग जे हिंमायूंतिनि जो नारो हूंदो हो तह- मूसलमानि जेलनि में ऐं हिंदु दफतरनि में। हिन संमेलनि में स्टेज में भी सियासतदानि खां सवाई इन धंधेडिनि खे ई जाई दि॒ञी वई हूई। इन संमेलनि में मिडिया जी नजर मां गायब रहया तह सिंधी लेखक या सिंधीयति सां वासतो रखिंदड कारुकनि जी । हिक लंङे दि॒सजे तह इहा का नईं गा॒ल्हि भी नाहे। हिदुस्तीनि में सिंधीयूनि जे जलसनि तोडे मेले सलाखडनि में संदुनि गेर-हाजिरि बाबति जिक्रु ताई नह थिंदो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह लेखकनि जी ऐं खासि करे नई टेहिअ जे लेखकनि जी कमि रही आहे पर इन जे बावजूद जेके भी नोजवानु लेखक लिखिनि थां तनि खे जेकरि सिंधी पाण ई मोल नह दिं॒दा तह इन खां दुखाईंदड भी का भी गा॒ल्हि नह ती थी सघे। लेखकुनि जी ईजत कोम जी ईजत मञी वनण खपे पर सिंधीयूनि में तह हालि ई ब॒यनि मुखतलिफ कोमनि खां उबतर आहिनि। दिल्ली में ऐन ऐस पि सि ऐल जी सेमिनार में भी साग॒या मंजरि दि॒ठा वया। लेखकनि कां वधीक तह अहमियाति सियासातदानि खे मिलि (ईअं भी हिअर सिंधी संसथाउनि में सिंधी लेखकनि खां वधीक सियासतदानि या पाण खे सामाजिक करूकनि कोठाईंदडनि  जी बरमार हूंदी आहे)। दिल्ली में जेतोणेक सेमिनार मस जेडहि अध दि॒हि जी हूई पर हित अहमेदाबादि में जेकरि टिन दि॒हनि में भी सिंधी साहित्य तोडे बो॒लीअ बाबति का खुली बहसि नह थी सघी तह इहा दु॒ख जी गा॒ल्हि आहे ।

 

संमेलनि जो विछाडीअ जे दि॒हिं ते हाजिरु हो हिंदुस्तनि जो अगु॒णो नाईब प्रधान मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी। चयो थो वञे तह साईअ पहिजो पुरो भाषण सिंधीअ में दि॒ञो जहि सा कनि सिंधी जवानुन खे तमाम घणी तकलिफ थी छाकाण तह हिदुंस्तानि में ऐडहा जाम सिंधी कोठाईंदड नोजवानन आहिनि जिन खे सिंधी नथी अचे या घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईअण जो वाहिपो नह हूअण सबब सिंधी कोन था समझी सघीनि। संमेलनि  में मोजूद मिडिया मोजिबु पहिरो तह इन नोजवानुन पहिजे माईटनि खां पुछण लगा॒ तह आद॒वाणी छा पयो गा॒ल्हाऐ पर नेठि माठि करे वया- इहा इन गा॒ल्हि जी साहिद आहे तह सिंधी बो॒लीअ जी हालत केतरि खराब थी चुकी आहे हिंदुस्तानि में। जेकरि ऐडहो ई हालु रहयो तह सायदि कजहि सालनि में इहे पिणि दिं॒हि दि॒सणा पवंदा जे अण-सिंधीयूंनि खे इहो जाम चवंदे बू॒धबो तह –साईं सरकारि खे दू॒करि नाणो खर्चण जी जरुरत ई कोडही आहे जद॒हि सिंधी पहिजी बो॒ली जी इजति ई कोन कनि। आदवाणी पहिजे भाषण में के गलति गा॒ल्हियूं पिणि गा॒ल्हायूं मसलनि सिंधी बो॒ली वाजपई जे दि॒हिनि में तसलिम थी – खबर नाहे तह इहा हकिकत अद॒वाणीअ खे कहिं द॒सि। सुदुसि वधीक चवण हो तह लिपी सबब सिंधीअ खे जाम नुकसानि थियो। हे पहिरो भेरो आहे जद॒हि आद॒वाणी सिधो सहूं लिपीअ जे नसबति पहिंजा राय दि॒ञी आहे। संदुसि लेखे जेकरि देवनागरीअ ते सिंधी मोल दे॒नि हा तह बो॒लीअ जी इहा हालति नह थे हा। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह आद॒वाणी खां हिंदुस्तानि जे सिंधी समाजअ खे जाम उमेदयूं हयूं पर साई सिंधीयूनि खे रिसाश कयो , मायूस कयो आहे। जद॒हि बी जे पी जी हूकूमत हूई तह भी सिंधीअ लाऊ हून को खासि कोन कयो। हो चाहे हा तह सिंधीयूनि लाई घणो कजहि करे सघे हा पर इअं मूमकिन थी कोन सघो। सियासी तोर भी सिंधीयूनि खे उहे हक कोन मिलयो जोके हो हलणिनि। खैर आद॒वाणी जा॒णे किथे छा गा॒ल्हिईणो आहे ऐं कहि रित गा॒ल्हिईणो आहे। साणु साणु इहा भी हकिकत आहे तह हिअर आद॒वाणीअ खां सिंधी उमेदि भी घटि ईं कंदा आहिनि।

 

हिन संमेलनि में सरिक थिअण लाई चंदो मकर्रर कयो वयो हो। वरि चयो थो वञे तह रहण जो इंतजाम हर कहिं खे पहिंजो पाण ई करणो हो। हिंदुस्तानि में रहिदड सिंधी जेतोणेक ऐडहनि चंदनि सां कहि कदुरु अण वाकिफु आहिनि। इहो रिवाज नंढे खंड खां बा॒हिरि जाम आहे छाकाणि तह उते नह तह सिंधी बो॒ली तसलिम आहे ऐं नह ई हूकूमज सिंधीयति ते को  नोणो  ई खर्चे।  वरि उते हिंदुस्तानि जे भेट में सिंधी पिणि ग॒ण जेतिरा था रहिन। ऐलाईंस फार सिंधीज ऐसोसिऐसन ईन अमेरका हिंदुस्तानि जी संसथा नाहे सो खेनि दो॒हू नथो दई सघजे पर सिंधी काउनसिल खे तह खबरि आहे हिंदुस्तानि जे जी हालति, पर नह जा॒णु छो 4000 जेतिरो चंदो मूकर्र कयो वयो…हिदुस्तानि में ऐडहयूं जाम संसथाउ आहिनि जेके बो॒ली तोडे सकाफति जे नतबत कम पयूं करिनि ऐं जहिखे हूकूमत माली मदद पिणि दिं॒दी आहे। हाणे सवालु इहो आहे तह जेकरि ऐडही गा॒ल्हि आहे तह पोई ऐडहो चंदो छो…इन चंदे सबब थियो इहो जे आम सिंधीयूनि जो हिकु वदो॒ तबको इन संमेलनि जो हिस्सा कोन थी सघो। इहो जाम दि॒ठो वेंदो आहे तह उहे सिंधी जहिंजी माली हालति कहि कदुरु सुधरयलि आहे से नह तह सिंधी में लिख पढ कनि ऐं नह ई सिंधी में पाण में को घणो गा॒ल्हिईन। इन हालति में जद॒हि संमेलनि मां सिंधीयूनि जी हिक वदी॒ सिंधी गा॒ल्हिईंदड तादाति बा॒हिरि हूंदी ऐंडहे संमेलनि मां फाईदो ई केडहो। ब॒ई गा॒ल्हि जेका इन संमेलनि में पई नजरि आई सा आहे इन संमेलनि जे स्टेज ते वेहारियलि शख्सतयूं। सिंधी बो॒ली, साहित्य तोडे सकाफति जे दाईरे में हद॒ हणिदडनि मां कहिखे कोन घुरायो वयो। सभनि जे सब या तह धंधे वारा हवा या ,सियासतदानि। मतलब जेके सिंधीअ जो वाहिपो कनि से संमेलनि खां बा॒हिरि……

 

हिंदुस्तानि में भी हिकु सिंध वसे थो। कच्छ ऐं जेसलिमेरि में। उहो तब्को इन संमेलनि मां गैर-हाजिरु रहयो। जेकरि असां खेनि सिंधी करे कोन लेखिंदासिं तह इन में सुकसानु रिवाजी सिंधीयूंनि जो भी जाम थिंदो। संदुनि व़टि रूगो॒ बो॒ली ई नह पर सकाफति पहिजे असलोके रूप में मोजूद आहे। इन संमेलनि में को भी सिंधी सकाफति लिबास में को न नजर आया। जेकरि कच्छ  तोडे जेसलमेर जे सिंधी रहाकुनि खे गुरायो वञे हा तह असीं मिडिया जे अग॒यो ऐं खासि करे परदे॒हि मां आयलि सिंधीयूंनि खे हिंद जे सिंध जो नजारो भी दे॒खारे सघऊं हा। पर अफसोस ईअं थी कोन सघो। इहा गा॒ल्हि मोदीअ भी चई तह सिंधीयूनि में हिइर रूगो उहलि जीं संसकृति ई पई झलके। सभ को सुट कोट में पई नजरि आयो। इतफाक सां सिंधीयूनि वाङुरु गुजराति भी धंधो कनि हो भी मुल्क खां बा॒हिरि जाम वसया आहिनि पर कद॒हि भी नह पहिजी सकाफति कोन विसीरी आहे। शहरनि में रहण जो इहो मतसब नाहे जे पहिजी मोल सुञाणपि खां अण- वाकिफु रहिजे। हिंदुस्तानि जा मुखतलिफ वदा॒ शहरि हिअ रूगो॒ हेकले कोम जा नह रहया आहिनि। उते मुखतलिफ कोमयूं रहिनि थयूं ऐं जेकरि हो पहिजी सकाफति खे सांडे रखी थयूं सघिनि तह सिंधीयूंनि नह करे सघीनि इहो थी नथो सघे। हिंदी दुनिया जे 17 मूलकनि में गा॒ल्हिई वेंदी आहे। जेकरि हो भी सिंधीयूंनि वाङुरि माठि करे हथ में हथु रखि वेहि रहिनि तह पोई हिंदी कद॒हि भी दुनिया जे बे॒ नमबर जू बो॒ली नह थिऐ हा।

 

अमेरिका में जद॒हि ऐडहा संमेलनि सुरुअ थिया तह तह महलि  जो समसदि ई हो जिअ अमेरिका में सिंधी पाण में गद॒जिनि ऐं हिक बे॒ में राबतो वधे। इन खां अगु॒ जेके संमेलनि थिआ आहिनि दुनिया जे सुदा जुदा मूलकनि में उते भी मकसद भी साग॒यो रहयो आहे पाण में गद॒जोउ। नढे खंढ जी वरि गा॒ल्हि ऐडही नोहे। हित सिंधीयूंनि जी वदी॒ आबादी रहे थी। हिंदुस्तानि में खासि करे मसला रूगो॒ ग॒दु॒ थिअण जो नाहे। हित वदो॒ मसअलो बो॒लीअ जो आहे, सखाफति जो आहे, सिंधी सुबे जो आहे, सिंधीयूंनि  जे सियासी हकनि जो आहे ऐं सभनि खां वदो॒ पहिंजे वजूदअ जो आहे। सिंधी काऊंसिल आफ इंडिया खे यादि रखणो खपिंदो हो तह सजो॒ हिंदुस्तानि पयो असां खे दि॒से असीं सिंधीयूनि जेका समाज जी तसविर पोश कई सा ईहा हूई तह असी उलहि जी संसकृत सा धुलजी वया आहियूं। असां जी वेश बूशा पहिजी रही कोनहे। दरअसलि हिंदिस्तानि में हमेशाहि ई हर कोम खे पहिंजी हिक सञाणप आहे जेका कहि हद ताई सिबालिक पिणि थिऐ थी। पर ऐडहो दिखावो जरुरि भी आहे। सिंधीयूनि जे लाई हिसुस्तानि में वसण ऐं नंढे खढ कां बा॒हिरि वसण में फर्कु आहे। हिदुस्तानि को उलहि जी संसकृति को मेलटिग पाट या ग॒रिदड देगडो नाहे पर हित जुदा जुदा संसकृतियूं जो मेलाप आहे जहि में इहे जुदा संसकृतयूं पाण में गद॒जी रहिनि थयूं। ऐडहि मिसाल अव्हां खे खिथे भी किन मिलंदी जिते हिक ई मूलक में 400 कोमयीं ऐं 100 खन बो॒लयूं लभिंदूं। सिंधीयूंन खे जे तकलिफयूं कोन थियूं आहे सा गा॒ल्हि नाहे। तकलफयूं जाम कोमन खे थेनि थयूं पर इन जो मतलब इहो इहो नाहे तह असीं पहिजी बो॒ली, सुञाणप ते समझोतो कयूं। जेकरि असीं सिंधीअ लाई विरहांङे बैद जाखडो कयो तह सिखनि भी पंजाबीअ लाई कयो। हित हिकु नंढो ई सही पर हिक सिंधु वसे थो।  कच्छ में निजा॒ सिंधी रहिनि था पर नह जा॒ण छो खेनि संमेलनि में नह गुरायो वयो। इहो इन सबब तह नाहे जे असां सिंधी थिअण जा पहिजा माप दंड पक कया आहिनि……असां जे लेखे रिगो॒ उहो सिंधी जेको असां जेडहो सिंधी हूजे, पैसे वारो हूजे, घरनि में सिंधी गा॒ल्हिईण में फकरु महसूस नह करे ऐं धारि सकाफति खे पह्जो कोठे।

 

पिछाडीअ जे ब॒नि संमेलनि मे ऐं खासि करे 2009 जे लास ऐजलिस संमेलनि खां रोमनि ते बहसि पई हले। रोमनि जे हिमायुतिनि जो चवण आहे तह छो तह हिंदु सिंधीयूनि जी वदी॒ तादाति परदे॒हि मे थी रहे जहि खे देवनागरी नथी अचे सो संदुनि लाई लिपी मठाअण जरुरि आहे। अग्रेजी हिअर सजे॒ दुनिया भी बो॒ली आहे तो सब कहि खे इंदी वगिराह वगिराहि….अजु॒ इहो तमाम जरूरि आहे  तह इन समले खे मूहिं दि॒जे। परदे॒हि (मतलब नंढे खंड खां बा॒हिरि ) सिंधी,  सिंधी बो॒ली कोन पढनि । हो इन लाई कोन पढिनि छाकाण तह खेनि लिपी नथी वणे पर इन लाई नथा पढण छाकाणि तह संदुनि लाई इन जी जरुरति कोन थी महसूस थिऐ। घर में सिंधी बा॒रनि खे पहिरो हिंदी तोडे अंग्रेजीअ ते हेरिनि ऐं पोई इन जी उमेदि कनि तह संदुनि बा॒र सिंघी सां पयारि कंदा। सिंधीयूनि खां तमाम वधीक सिंधी कच्छी गा॒ल्हिईनि। हिक लङे दि॒सजे रोमनि जे 26 अखरि मां सिंधी जा 45 अखरनि जा सुर इजादि करण हमेशाहि हिक वदी॒ चुनोती आहे। हिंदुसतानि में रोमनाजेशनि जो कम अंगेरेजनि जे दि॒हिनि में सुरू थियो हो जद॒हि यूरोपियनि संसकृत दा॒हि छिकया पर इन जे बावजूद संसकृत जी मूल लिपी कद॒हि कोन मठाई वई। इन जो भी हिकु वदो॒ सबब इहो आहे लिपी ऐं बो॒लीअ में हिकु अहमि वाठि थिऐ थी जहिखे नजरअंदाजि कोन थो करे सघजे। लिपी मटाअण जो भी हिक तरिको थिंदो आहे। मसलनि जिअं मराठिनि या गुजरातियूंनि कयो। संदुनि जेतोणेकि लिपी मठायीं पर कद॒हि भी मूल लफतनि जे सुरनि सां समझौतो कोन कयो। पंजाबी सिंधकनि जी ऐं गुजरातियूनि जी वदी॒ आबादी मुलक खां बा॒हिर रहे थी पर हो कदहि भी पहिंजी लिपी रोमनि नथा करार दे॒नि।

 

जेसिताई देनवागरीअ जी गा॒ल्हि आहे तह इहा का हिंदी जी पहिंजी लिपी नाहे। देवनागरी संसकृत जी लिपी आहे सो सिंधीयूनि जो हकु सभिनि खां अग॒वाटु इन लिपीअ ते आहे। इहो ई नह सिंधी में भी इहा सुहिणे रित लिखी वेंदी आहे। सिंध में देवनागरी लिपी अपनाअण असां जे वस में कोन हूई पर हिंद में अची असी बो॒लीअ जे नसबति वदे॒ में वदी॒ गलति लिपीअ ते ई कई। इहा गा॒ल्हि ऐल के आद॒वाणीअ पिणि मञी तह देवनारगीअ खे अपञाअण खपिंदो हो। जेके माण्हूं रोमनि ते फिदा पया थेनि से रूगो॒ बो॒ली जे वेवारिकता दा॒हि पया धयानि देनि। जेकरि हो बो॒लीअ जे वजूद दा॒हि या बो॒लीअ जे जड दा॒हि धयानु  दे॒नि हा तह सायदि रोमनि या अर्बीअ जो जिक्रु ई ईंदो। जहिं दि॒हि हो इन दा॒हि धयानि दिं॒दा लिपीअ जो विवाद कहिजे पाण ई निबरी वेंदो।

 

असां सिंधी चङनि सालनि खां सिंधी सुबे जी गा॒ल्हि कयूं पया। लग॒ भग॒ हर सिंधी जलसे में इन जो जिक्रु यकिनिन थिंदो आहे । सागे॒ रित हे संमेलनि भी साग॒यो मंजरि पई नजर आयो। भले सिधी रित नह ई सहि पर इन जो जिक्रु हिदुंजा भाउरनि जे श्रीचंद हिंदुजा कयो। हिक लंङे दि॒सजे सिंधी सूबो जे नामूकिनि आहे ऐडहि भी गा॒ल्हि नाहे पर असां सिंधी इन मसले जे कद॒हि भी जाखडो तह परे जाखडे जो नालो ताई ते ढप खां मुंझी वेंदो आहियो। हिंदुस्तानि में ब॒हि ऐडहा ऐलाका आहिनि जिते सिंधी बो॒लीअ जा लहजा गा॒ल्हिईजनि था। मसलनि गुजराति में कच्छ ऐं राजस्थानि में जेसलमेर । हिक लंङे दि॒सजे तह इन ब॒नि ऐलाईकनि ई हिंद में सिंधी सुबे जो हक था लहणिनि पर मुसिबत ईहा आहे तह सिंधी रूगो॒ मडई मगरमछ जा गो॒डहा वहाअण में यकिन रखिनि सो इहे मसला किद॒हि भी आम कोन थी सघया आहिनि। इहो तह इन जे वावजूद जे इल ऐलाईकेनि में अगे॒ ई कच्छ तोडे जेसलमेरि खे धारि सुबा बणाअण जी गुर कई वई आहे जहिजो पुटिबराई कद॒हि भी सिंधीयूनि कोन कई आहे। मिसालि जा गा॒ल्हि जद॒हि 2001 जे गुजरति जे भूकंप खां पोई आहा गुर जोर वरतो हो तह कच्छ खे धारि सुबो या गुजराति मां धारि कयो वञे पर इन गुर खे तहि महल जे गृहि मंत्री श्री ऐल के आद॒वाणी सिधो सहूं खारिज कयो, मूमकिनि आहे सिंधीयूंनि जे वजूद खां वधिक खेसि गांधीनगर जा गुजराति वोट पई यदि आया। इहो ई नह कच्छीयूंनि जे साथ भी कद॒हि सिंधीयूंनि कोन दि॒ञो। दरअसल असीं सिंधी कच्छ तोडे जेसलमेरि में रहिदडनि खे सिंधी करे भी तसलिम कोन कंदा आहियों। इहो सब इन जे वावजूद जे इन ऐलाकनि में जेतरि सिंधी पई गा॒ल्हिजे उतरि तह सिंधी भी पाण में कोन गा॒ल्हिईनि।

70 जे द॒हाके में जेतोणेकि कनि सिंधीयूंनि कच्छ जो दौरो कयो हो। इन दौरे कंदड में ब॒ह अहमि शख्सयूंतू हयूं मसलनि श्री किरत बाबाणी ऐं दादी पोपटी हिरांदाणी । संदुनि मञण हो तह कच्छ में सिंधी वसी था सघीनि ऐं कच्छ में सिंधी जाम पई गा॒ल्हिईजे , वरि कमाई जा वसिला भी जाम आहिनि पर बदकिसमतिअ सां आम सिंधी पर हो इन दौरे बैद हो पाण भी हित वसण में का भी चाहि कोन दे॒खारि। सभई बंम्बईअ में पहिजे पहिंजो फलेटऩि में थाईंको थिया। जेकरि हो पाण अची रहिनि हा तह बे॒ खे भी को जार आणे सघिनि हा पर बदकिसमतिअ सां इअं थियो कोन्ह।

 

हर संमेलनि खे जेकरि दिसजे तह सिंधी पहिजो वकत जाया करे अचनि, के सिंधी भाषण दे॒नि या कहि खां देआरिनि, थोडो घणो सिंधी तोडे अणसिंधी  रागनि सां पाण खे विदुराईनि ऐं बद में वरि ब॒यो संमेलनि वरि इहा कारि दहूराई वञे। मस्कविलि लाई इन संमेलनि जे इदड थदे॒ जी पक करे पहिंजे पहिंजे घर मोटी वञिनि। असां व़टि पहिजो कोम जे अग॒या पेश इंदड कह भी मसले बाबति का भी रथा ते अमल नह कयूं। हिंदुस्तानि में सिंधीयूनि खे के अहमि मसेला आहिनि मसलनि बो॒लीअ जे पहिजी अजविका जो हिक अहम हिस्सो करण, सिंधीयूनि जा सियासी हक हासिलि करण, दुनिया भरि जे सिंधीयून में ऐको, सिंध में हिंदु तोडे सिंधी दलितनु ते थिंदड गुलमनि जी विरुध मुखातलिफ, विरहांङे सबब असां सिंधीयूनि में इंदर फर्कनि खे घठाअण जे नसबद जाखडो वगिरीहि वगिराह। हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ जे नसबत जाखडो रूगो॒ बो॒लीअ जे तसलिम सां कोन पई निबरो आहे। राजिस्तानि खां सवाई किथे भी सुबनि जी नोकरयूंनि जा इंमतहानि सिंधीअ में कोन था द॒ई सघिनि पर इन संमेलनि में इन बाबति भी को प्रसताउ कोन कबूल कयो वयो। सिंधीअ जो को भी हिअर सरकारि चेनेल नाहे पर इन ते कद॒हि भी लोक सभा तोडे राजय सभा में अद॒वाणी-जेठमलाणी हूल कोन कयो आहे, संमेलनि पांरा भी अद॒वाणी-जेठमलाणी ते कहि भी इन बाबति को दबाव कोन पई आंदो। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह असीं सभ सिंधी ऐडहा आहियो। हिंजुजा बाउरनि जा ट्रे ई भाउर मोजोद हवा इहो साबित थो करे इन संमेलनि मां घणणि खे उमेदि आहे पर जरुरति आहे हिक थी कहि रथा मोजूबु कम करण जी नह कि मिडई संमेलनि में अजायो भाषण देअण जी। सिंधी पाण में ग॒दु॒ ता थेनि इहा भी का नंढी गा॒ल्हि नाहे। …..अजु॒ जरूरति आहे तह असीं इन संमेलनि में सिंधीयूंनि जे मूदनि बाबति बहसि करण जी नह इन संमेलनि खे टाक शो खां फलाप शो ताईं महदोद रखोऊं।

 

हिंदु सिंधी आखिर आहिनि किथों जा

सिंध तोडे पाकस्थानि में हिंदूनि ते वयलि का नई गा॒ल्हि नाहे। इहो सालन खां पया लहिंदो अचिनि।1947 में जदहि विरहाङो थयो तह 23 सेकिडो हिंदु हवा जेके हिअर मस 2 सेकडो वञी रहया आहिनि। जेकद॒हीं उभिरंदे पाकस्तानि (हाणे बंगलादेश) जी गाल्हि कजे तह उते भी सिंध वाङुरु ई हाल हो। हिंदुनि जी चङी आबादी हुई। बंगलादेश जी आजादी महल बंगाली हिंदुनि तमाम वधिक कहर सठा। हिंदु बंगालियूंनि जी अबादीअ मां जेको हिस्सो लदे॒ हिदुस्तानि वारे बंगाल में आयो सो वरि मोठी बंगलादेश कोन वयो, हाथयूं जेके रहजि हवा सें होरयां होरयां लदे॒ आया ऐं अजु॒ जी तारिखअ में मस जेडहा 1-2 सेकडो ई ब़चा हूंदा। इहो मुमकनि आहे तह इहो भी दो॒हाडो परे नाहे जद॒हि बंगलादेश में को भी हिंदु नह बचयलु रहिंदो।

जेसिताईं सिंध जी गा॒ल्हि कजे तह 1947 खां 2011 ताईं जेकरि का रित सांदई हलि पई अचे तह उहा आहे सिंधी हिंदुनि अबादि जे लदु॒पणि जो सिलसिलो। सिंध में खासि करे जेकरि लद॒ पणि जो सिलसले दा॒हि नजरि दि॒जे तह इंहा चिटी रित नजरि इंदो तह जद॒ही जद॒ही सिंध में अंदरुनि अफरा तफरि थी आहे तद॒हि तद॒हि लद॒ पण भी कहि कदुरु पहिंजो पाण ई वधी वयो आहे। इहो इन गाल्हि जो शाहिद आहे तह निधिकणा माण्हूं हमेशाह ई साफ्ट टारगेट थिंदा आहिनि। इहो बंगलादेश जी अजादीअ जी लड़ाईअ महल थयो, सागी॒ रित सिंधी बो॒लीअ जे बिल महल थयो ऐं वरि सिंध में जूलफिकार भूटटो खां पोई ऐम आर डी (मुवमेंट फार रेसटोरशनि आफ देमोक्रेसि) जे जदोजिहद महलि भी दि॒ठो वयो। हर वकत हिंदु जी लद॒पण तेज थी वई। वरि सिंध विरहाङे बैद जेको सिंधी मुसलमालनि जो सिंध जी सियासत में तबाही थी आहे उन जो भी असरु सिंध जे हिदुनि जे लद॒ पणि खे जोरि दि॒ञो आहे।

आम तोर सां इहो मञयो वेंदो आहे तह हिंदुनि जी लद॒पण मुहाजरिनि (हिंदुसनाति मां लदे॒ आयलि मुसलमानि) जे सबब ईं थी। 1947 में तह कराची ऐं हैदरआबाद मां लद॒ पणि जे जेतोणेक सबब इहो ई थो दि॒सजे। मुंखे जेतिरी खबरि आहे बंगाल या पंजाब जेडहूं हालतयूं कद॒हि सिंध में पैदा कोनि थयूं हयूं, पर नाईं सेंपटिमबर जे वाकये मुखे पहिजी सोच खे कहि कदुरु बि॒हरि विचारण जे लाई मजबूर कयो। हे वाक्यो ताजो नाईं सेपटेमबर जी शाम जो सिंधी जे शखरि जिले में पनो आकिल ऐलाईके जो आहे जिते लग॒ भग॒ 200 हथयार बंधनि काहि आया। अहवालि मोजिबू इहे हथयारि बंध कुलह़डे जाति जा हवा। कराचीअ मां शाई थिंदड अवामी अवाज में शाईं थिअलु अहवालु मोजिबू – 200 खां वधिक हथयारबंद कल्हि शामअ (यानि 9 सेपटेम्बर) जो उचतो पनो आकिलि शहर जे हिंदु मूहल्लनि ईदगाह चौक शाहि बाजार में हिंदु बिरादरी जे घरनि ऐं हटनि ते उचतो काहि करे फाईरिग करे दि॒नि, जहि में जग॒त राम, परमानंद ऐं धरमूमल साणू हिंदु बरादरीअ जा पंज ज॒णा जखमि थी पया। जद॒हि तह अंधा धून फाईरिंग ब॒ह वाटहडो जफर दायो ऐं अब्दूलसत्तार दायो गोल्यूनि लगण सबब जखमि थी पया। हथयारिबंध हिंदू बिरादरीअ जे चईनि खा वधिक हटनि मां लखें रुपयनि जी फूरलूट करण बैद दुकाननि खे बा॒हि द॒ई साडे वयो, जद॒हि तह हिंदु घरनि में दाखिलि थी जाईफाऊनिं सां बतमिजी कई वई ऐं इन खां ग॒ह लावाहे फूर्या वया। हथियारि बंध पारां तेज फाईरिगं सबब सजे॒ पुने आकिलि शहरि में भाजि॒ पेअजी वई ऐं माणहूं पहिंजे जान बचाअण लाईं दुकानं में लिकी पया ऐं केतिरा लतार्जी जखमि भी थी पया। ईतलहि मिलण ते पनु आकिलि, बाईजी ऐं सुलतानिपूर पूलिस मोके ते पुजी॒ हथयार बंधनि सां महादो॒ अटकायो पुलिस ऐं हतयारबंध जे विच में फाईरिंग सबब हथयारिबंध जी अग॒वाणी कंदड बदनाम दो॒हाडी गुलाम हसनि कूलहडो यकदमि जखमि थी पयो जहि खें नाजुक हालति में इसपतालि में भर्ती कयो वयो ऐं नजिर मिराणी (संदुसि पोईलगू) मारजी वयो, जद॒हि तह हिक पुलिस अहलिकारि शहजादो काजी पिणि जखमि थी पयो। फाईंरिग बैद पुलिस किन दो॒हाडिन खे गिरफ्तारि करे पाण सां ग॒दु॒ गि॒हले पिणि वई।

जेसिताई मसले जी गा॒ल्हि आहे तह इहा खबरि आई आहे तह इहो वाक्यो विश्पत दि॒हिं (यानी 8 सेपट्मिबर) जो आहे जदहि पुनो आकिलि जे हिक पराईमेरि स्कूल जे हिंदु पटवालो साधु राम सतें वरहयनि जे सिंधी मुसलि बारडी जी लज॒णिनजी कोशिशि कई हुई। कुलहडे जाति जी इन बा॒रडीअ जूं रडयूं बु॒धी आसे पासे जा माणहु अची बा॒रडीअ खे आजाद करायो जहिखे इन पटवाले वारदाति खां पोई हिक कमरे में बंद करे रखयो हो। बा॒रडीअ खे बैद में पुने आकिलि जे असपताल मे वेहोशीअ जी हालत मां भर्ती करायो वयो। खबरि इहा भी आहे तह पटवालीअ सां हाथापाई कई वई हुई पर हो भज॒ण में कामयाब थयो। ताजे अव्हालि मोजिबु इन पटवालीअ खे रोहडीअ मां पुलीस गिरफतार करे शखर जेल में कैदि कयो आहे। सागर्दयाणी सां इन हादसे बैद, संदिसु वालिधु ऐं ब॒या माईटनि पलिसि थाणे अग॒या ऐतजादि कया, संदिनि सिकायति ते पुलिस साधुराम ऐं स्कूल जे पिरिंसिपल ते ऐफ आई आर दर्ज कई आहे ऐं केस भी दर्ज कयो आहे।

इन पुरे मसले ते पुलिस को किरदार यकिनन खेण लहणे। जेकरि पुलिस नह अचे हा महल सां, तह सायदि चङा हिंदू भी मारजी वञिन हा। हालतुनि खे नजरि में रखिंदे शखर शहर मां भी धारि पुलिस जो जथो घुरायो वयो। पुलिस जो चवण आहे तह काहि कंदड सब दो॒हाडी हुवा। पर इते मसलो इहो थो अचे तह हिनिन इहा काहि कहिजे शाई ते कई। इहो तह नाहे तह हिंदु बरादरी अगे॒ ई कनि खासि माण्हुनि जे सिधी नजर में हुई.नह तह इहो किअं मुमकिनि आहे तह हादसे जे यकदम बे॒ दि॒हीं सब हथयार बंध पूरि तयारि सा संब॒री बिहिंदा। इहो मुमकिनि आहे तह इन काहि जी तयारी अग॒वाठि हुई रुगो॒ कहिं मिहूं जी जरुरत हूई जेको हिन मसले ठह्यो ठूको दि॒ञो। इहो मूमकिनि आहे तह को हिंदुनि सा कावडयलि हुजे, या कहिजी हिंदू बिरादरीअ जी मलकितयूनु ते नजर हुजे।

हे पूरो मसलो कहि कदुरु हिदुस्तानि में गुजराति जे फसादनि जी यादि थो देआरे जिते हिक जुलम खे मुहूं देअण लाई हिकु ब॒यो जूलम कोयो वयो। गोधरा जे  रेल जे दवे॒ में साडयलि माण्हूं जी गा॒ल्हि रिवाजी माण्हू ऐं मिडया विसारे छदी॒। पुरो धयानि ई माण्हुनि जो उन फसादनि दा॒हिं थी वयो। सागे॒ रित पनो आकिलि में जको भी थयो तनि सां उन बा॒रडी जी गा॒ल्हि घठि ऐं फसादनि जी गा॒ल्हि ई माण्हुनि जे दिल ओ दिमाग में रहजी वई।

हिंदुनि ते इहे जुलम कहिं कदुरु नंढि गा॒ल्हि नाहे पर इन जे बावजूद सिंध हकूमत जो को बी वजिरु कोन अची पहूतो। वदो॒ वजिरु काअम अली शाहि जेको मुहाजरन जी कुर्बानीयूंनि (हा बिलकूल सही कुर्बीनी) जा राग॒ गा॒ऐं कोन थकबो आहे सो पुने आकिलि अचण तह परे ,हिकु हमदर्दीअ जो जुमलो पिणि कोन उकोरो। इहा गा॒ल्हि सही आहे तह सिंध में बो॒द॒ आयलि आहे। लखनि माण्हूं दरबदर आहिनि पर वदे॒ वजीरि जे उनहिनि लाई भी जे को घणो कजहि कयो आहे ईऐ भी नाहे। जां खा ऐम कयू ऐम संदिसि हकुमत खा धारि थी आहे तां खां वदे॒ वजीर जो धयानि रुगो॒ पहिजी हकूम खे सोघो करण में ई लग॒यलि आहे। जेकरि इहा बो॒द कराची या हैदरआबाद में अचे हा तह पोई सिंध हुकूमत जी गणती दि॒सण जेडही हुजे हा। सागयो हालि सिंधी मिडया जो भी हो। सवाई अवामी अवाज जे कहि भी इन मसले खे जोगी॒ जाई देअण जी जरुरत कोन महसूस कई। जेकरि कहि सयासि संजिमि इन थे सरगर्म रही तह उहा हूई जिऐ सिंध कोमी महाज। संदसि सदर बशीर खान खुरेशी मोके वारदात में पहुतो हिक अमन कामिटि भी जोडाअण में भी मदद कई। जिअं इन मसलनि खें वधण खां रोके सघजे।

कोलहडे कोम जे इन दहशद दीं॒दड वारदात सां जेका गा॒ल्हि हिंदु बिरादरीअ जे धयानि में ईंदी सो आहे लद॒पण। पाकितस्थानि जे वजूद में अचण खां ई  हिंदुनि जी लद॒पण जो सिलस्लो सांधई हले पयो । लदपण तह पंजाब ऐं खैबर पुखुतुंवाह मां भी थे पई पर सिंध मां हिंदुनि जी लद॒पण जो कहि कदुरु मुख्तलिफ आहे। जदहि तह सिख ऐं बया हिंदु सागी॒ बो॒ली गा॒ल्हिईंदड ऐलाईके में था वञि वसिनि पर सिंधी ऐडहा खुशनसिब नथा थेनि । हो अणसिंधी ऐलाईकनि में था वञी वसिनि। जिते खेनि वसण में भी तमाम वधिक तकलिफनि खे मुहुं थो देअणो पवे। संभनि खां वदो॒ मसलो आहे तह हिदुस्तानि में नागरिकता जो, जहि सबब हो तमाम तंग भी था थेनि। वरि हकूमत ताई संदिनि दा॒ही या फर्याहि नथी पुजे छो जो सिंधीयिन हिथ टरयलु पखिरयूलि आहिन ऐं ब॒यो तह सिंधीयूनि जी हित सियासत में हलिंदी पुजिं॒दी नाहे। इन खां सवाई अजु॒ जे कराचीअ वाङुरु हित गुजराति ऐं राजिसथानि  में नो गो ऐरिया तह नाहिन पर ऐडहयूनि चङा ऐलाईका आहिन जिते सिंधीयूनि खे जायूं मसवाई हित हिंदुस्तनि में सिंधीयनि सां सुबाई माण्हूनि में वहिंवार भी सीग॒यो नाहे। जिते हिक पासे गुजराति (कच्छ खे छदे॒) ऐं राजसथानि में सिंधयूनि सां वहिंवार कहि कदुरु गलत थिंदो रहयो आहे उते हिंदी गा॒ल्हिआंदड सूबनि में वरि इअं नाहे। पर इन जे बावजूद लद॒ पण जोर थे आहे छा काणि तह ब॒यो कजहि नह तह हित हिंदुस्यानि में लदे॒ आयलि हिंदुनि जे लेखे अमन ऐं सांन्ति आहे। को भी सिंधीयूनि जे घरनि ऐं दुकानं खे बा॒हियूनि नथो दे॒, सिंध वाङुरि सिंधी हिंदु नयाणिनि खे स्कूल मोकिलण में माईट दि॒जिनि कोन था।

केतरि नह अजबु गा॒ल्हि आहे जे के रिवाजी माण्हूं इहो भी नह समझींजा कोन आहिनि जूलूम कद॒हि भी कोमी नह पर शख्सी थींदो आहे। इहा गा॒ल्हि हमेशाई ई पधरि थी आहे तह जद॒हि जद॒हि जूलम खे कोम सां ग॒द॒यो वयो आहे तह नुकसानि इहो जुलमु सहण वारे जो ई थयो आहे, जेको जुलुम उन नंढरी शागिरदयाणीअ सां थयो आहे सो कहि कदरु नढो जुलुम नाहे। इहा समाज जी जिमेवारी आहे तह दो॒हारीअ खे सजा मिले, छाकाणि तह हिक दो॒हु जो मसलो कहि धारि बेहिगुनाह ते जुलमू करे पूरो नह थिंदो आहे। जेको जलमू साधूराम कयो आहे सो कहि माफि लाईक नाहे। पर जे इनही लाई कहि जा दुकान साडया वञिन या कहि खे फरयो वञे तह इहा कोम जी बदनसिबी खां सवाई ब॒यो कजहि नाहे। केतिरो नह अजबु जेडही गा॒ल्हि आहे जे इन काहि थी हिदुनि ते पर वारदाति ते मुआ ब॒ह सिंधी मुसलमानि। सिंधयनि खे सिंधीयनि सां विडाहण जो ऐजेंडा मुहाजरिनि ऐं पंजाबियनि जो आहे जहि में इहे भोतार ऐं वदे॒रा अहम किरदार था निभायनि। जेसिताई इन भोतारिन खे हूकूमत मां नह हेकाले कद॒या वेंदो सिंध में कदहि अमन नह ईंदो। मुल्कु जी गा॒ल्हि परे, सिंधी मुसलनानन को इजत जी हयाती भी जिअण मुशकिलि थिंदी जिऐं कराचीअ जे लियारीअ में थी रहयो आहे।

हिंदुनि जे लद॒पण सां मभनि खा वधिक मुशकिल हिंदु दलितनि जी थिंदी। हो अगे॒ई तकलिफनि में आहिनि ऐं हिंदुनि जे लद॒ण खां पोई हालतयूं संदिनि लाई बेजार थी वपदूं। हो सदियनि खां जिल्लत जी जिंदगीयूं पया गुजारिनि। ऐडहा चङा वाकया अखबारिनि में साई कया वया आहिनि जेहि में संदिनि सा माटेलो वहिंवार चिटि रित नजर अचे थो। वेझडाईअ में ई सिंधी अखबारकनि में खबर शाई थी तह बो॒द॒ सबब लगायालि केपनि में खेनि खादो या इझो कोन थो दिञो वञे। सागि॒ रित ऐडहयूनि गा॒ल्हिईयूनि पर साल आयलि सिंध में बो॒द॒ महलि भी बु॒धण में आया। नुकसानि सिंधी मुसलमानन जो भी आहे जेके इन सिंधी हिंदुनि जे लद॒ण सां थोराई में ईंदा, छा काण तह घटे थी तह रुगो सिंधीयनि जी आबादी थी। सिंधी बो॒लीअ जो जोको वहिंवार घठबो सो धारि नुकसानि।

असीं सिंधी जेके हिंद में आहयूं लद॒ पण॒ खे हमेशाहि ई हिकु रिवाजी हिंदु मुसलिम मसलो करे लेखिंदा आहयूं। इन जे हिकु सबब इहो भी थी थो सघे तह सिंध में रहिदड सिंधियनि सां असां जो  राबतो नाहे। वरि जहि राबतो रखो तनि में ऐं आम रिवाजी सिंधी में लिपीअ जे मसले हिक वदी॒ विछोटी आंदी जहि सबब हिंद में रिवाजी सिंधी सिंध जे हालतूनि खां मां अणवाकिफ ई रहया आहिनि। दरअसलि 1947 खां जोको तब्को सिंधीयनि (मसलमानि में ) जी नुमाईंदगी पयो कंदो अचे तन जे सोच में को भी फेरो कोन आयो आहे। हो अजु भी ओतिरा जाहिलअ आहिनि जेतिरा मुञे सदी अगु॒ हवा। इन जे विच में बंगाली अजादीअ जी अवाज भी बुलंद कई आजाद थी भी वया पर सिंधी उतोऊं जा उते। सिंध जी सियासत 1947 खां ई वदे॒रेनि ऐं बो॒तारनि जे हथनि में आहे, जिन लाई आम रिवाजी सिंधीयनि खे अणपढयलि ऐं पोईते रखण ईं हिक अहम मजबभरी ऐं जरुरत ब॒ई आहे। इहो इन लाई जे जेकरि जेकर रिवाजी सिंधयनि में सुजाग॒ता इंदी तह संदिनि हकुमत नह हलंदी। अग्वा सिंधी मुसलमान भी था थेनि। फूरलुट ऐं खुनखराबो सिंधीयनि मुसलमानं में खासि करे गो॒ठनि में आम थी पयो आहे। वरि जेहिं खे तालिम भी मिलि से वरि मुहाजरिन जा पोईलग॒ थी रहजी वया, ऐडहे में जेकरि को अमन यां सांन्ति जी उमेद करण मतलब रण में हर मानसुनि मे मिंहिं जी उमेद करण खां कहि कदुरु घट नाहे।

 

सिंधी अगवाणन जी सिंयासि अमेदनि में फातलि सिंधी बो॒ली

सिंधी बो॒लीअ जो हिंदुस्तानि जे संविधानि मे तसलिम, हिक दि॒घी जहोजिहद बैद थी । पर इन जदोजिहद में हिक ट्रजिक हिरो पिणि हो या खणी चैअजे आहे, सो आहे लिपी। जेतोणेक लिपी जो मसलो अगे॒ पोइ अचणो हो पर जहि रित असीं लिपीअ खे तोल दि॒नो सा कहिंखे भी वाइड़ो करण लाइ काफी हो। सभिनि खां वदो॒ नुकसानि तह नई टेहि खे थयो जेके मुंझी पया – तह आखिरि केड़हि लिपि आखतयारि कजे। हिन मुंझायपि जो नतिजो इहो थयो तह अर्बी लिपी खां रुसयलि सिंधी देवनागरी जे मार्फति हिंदी दां॒ही हलया वया। वरि सिंधी देवनागरी में किताबनि जी आणोठि इन मुसिबति खे हाथयूं हिमतायो।  अग॒ते हलि संदनि बेरुखि रुगो॒ बो॒ली सां ई नह पर उन संसथाउनि सां भी हुइ जेके सिंधी बो॒लीअ सां गं॒ढयलि हवा। इन जो फलु इहो निकतो तहि रिवाजी सिंधयुनि जो वासतो सिंधी संसथाउनि सां नह जे बरावर रहयो। नुकसानि तह  सिंधी कोम खे पिणि थयो छो तह सिंधी संसथायुनि में बो॒ली जे नसबत में छा कमु थी रहयो आहे, तहिं सां रिवाजी सिंधीयुनि जी चाहि नह हुजण सबब संसथाउनि में ऐड़हा माण्हुनि जी घणाइ थी वई जहिंजो सिंधी बो॒लीअ सां को भी वासतो नाहे। वासतो तह छा घणनि खे तह बो॒ली बी नह इंदी आहे।

ऐन. सि. पि ऐस ऐल पिणि सिंधी बो॒ली जे बाधारे लाइ हिक ऐहम तंजीम आहे। मरक्जी सरकार जी संसथा हुजण सबब इन जी अहमियत खे नजरअंदाज नथो करे सघजे। वेझड़ाइअ मे इहां तंजिमि मिंडिया में सुरखयुनि में आइ आहे। हा इहा गा॒ल्हि धारि आहे तह जहि सबब मिड़या जी नजर में आई आहे, तहि जो सिंधी बो॒ली सां वासतो लग॒ भग॒ नह जे बराबर आहे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह पिछाड़ीअ जें ब॒नि टिन महिनन खां साईं श्रीकांत भाटिया (जेके  ऐन. सि. पि ऐस ऐल में उप सदर जे ऐहदे में कजहि दि॒हनि अगु॒ ताई ब्रिजमान हना) चङा बयानि दि॒ञा आहिनि, जिअं मिसाल जी गा॒ल्हि – सिंधी संमेलन जी गा॒ल्हि हुजे या वरि ऐन. सि. पि ऐस ऐल जे अंदरि हलंदड़ पावर सट्रगिल जी गा॒ल्हि हुजे। संदिसि बयानि घणो तणो फेसबूक मे ई शाया  थंदा आहिनि (ऐं उमेदि तह अग॒ते पिणि इअं हलंदो रहंदो।) हो साईं पहिंजे ईनि बयानिन मार्फति मांण्हनि खां कनि मसलनि वावति राया भी थो घुरे। हिक गा॒ल्हि ध्यानि छिकाअंदड़ आहे तह तह संदसि जो को भी बयानि सिंधी (देवनागरी तोड़े अर्बी लिंपी) में नह हुदो आहे, सायदि खेनि इन गा॒ल्हि की पक करणी हुदी आहे जिअं संदिसि बयानि अणसिंधयूनि ताईं भी पुजि॒नि।

सिंदसि बयानि मां के चुड़यलि हेटि दि॒जनि था

  1. छा तोव्हा खे लगे थे तह सिंधयुनि खे को भी अग॒वाणु आहे
  2. अजमेर जे सिंधुनि खे मिंथ थी कजे तह हो बुधायनि तह छा सचिनि पाईलट सिंधीयुनि जे मसलनि ते केतिरो पयो ध्यानि दे॒
  3. सिंधी खे का भी तसलिम लिपी नाहे, इहा लिपी या तहि देवनागरी या अर्बी ती थी सघे। अन्हा पहिजा राया दो॒ तह इहो मसलो सरकारि जे अग॒यों उथारिंजे (हे बयानि अधु अंग्रेजी ऐं अधु हिंदी में हो)
  4. हाणे तह असां खे देवनागरी लिपी ई अपनाइणि खपे, छाकाणि तह आर्बी लिपी जा॒णीदड़ लेखकनि जी तादाति 30-40 मस अची बची आहे।
  5. मां  सिंधुनि खे मिंथ थो कयां तह अशोक अनवाणी खे पहिजो साथ द॒यो जेको कानपुर मां समाजवोदी पार्टी की टिकेट ते चुड़ पयो विड़हे
  6. सिंधुनि खे अग॒वाटि पहिंजे पाण दा॒हिं धयानु दे॒अणु खपे।धारयनि दा॒हि बिलकूल धयानि नह देअणो खपे।असीं छो धारयनि जा पोईलग थयों। असीं पहिंजा अगवाणि पैदा कंदासिं जेके असां लाई कम कनि।
  7. आउं बंगालि जे वदे॒ वजिर म्मता बेनरजी सां वंगाल में सिंधी अकादमी जी गा॒ल्हि संदिसि अग॒यों रखी आहे, हाणे अगते बंगालि जे सिंधयुनि खे इन गा॒ल्हि खे अगते वधायणो आहे।
  8. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे छो नह जाईफनि खे कमिटि में थो खयों थो वञे। छो नह न दादा लखमी खिलाणी खे ऐन. सि. पि ऐस ऐल में जाई थी दि॒ञी वञे
  9. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे हिंअर 20 मेंबर आहिनि। उर्दू काउंसिल वाङुर ऐन. सि. पि ऐस ऐल में बी अहदेदारनि जी ग॒णप 38 कई वञे।

इनि बयोनिन मां हिक गा॒ल्हि तह साफ आहे तह श्री श्रीकांत साईंअ ते हिअर बो॒ली नह पर सियासति हावी आहे, जहि सबब संदसि बयान थो दे॒। जद॒हि खां साईं ऐन. सि. पि ऐस ऐल जा उप प्रधान चिंडया वया हवा तहि साईं देशभर जे दौरे मां इहो ई हथ कयो अथईं तह सिंधीयुनि खे हिक नेक सियासतदानि  जी सख्त जरुरति आहे ऐं इन जरुअत खे खेनि ई पूरी करणी आहे। इन गा॒ल्हि में दा॒ढ़ो घटि शकु आहे तह सिंधुयनि खे हिकु ऐडहे अगवाण जी जरुरति आहे जेको संदिनि आवाज खासि करे मिड़यो जे अग॒यो रखे। पर उनि खा भी वधिक जरुरति इहा आहे तह सिंधी बो॒ली जी जेको पहिजे वजुद जी झंघ पई लड़े , तहि जे वाधारे ताइ कदम खयां वञिन। हाणे गा॒ल्हि इहा आहे तहि छो ऐन. सि. पि ऐस ऐल जो इस्तमाल सियासति जे लाई पयो थे । ऐन. सि. पि ऐस का आम रिवाजी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे जी संसथा नाहे। इन तंजिम खे के खासि हक दिञा वया आहिनि, जिअं सुबनि में सिंधी आकादमियनि ते भी किक किस्म जी नजरि रखि वञे। हे इहे कम आहिनि जेके कहि भी सियासतदानि जे वस खां बाहिरि आहिनि।

जेको हालु ऐन. सि. पि ऐस जो आहे सो लग भग हर सिंधी संसथा जो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे आर्बी सिंधी जे भेट में देवनागरी सिंधी खे सिंधी कहिं हदि ताई बदकिसमत रहि आहे। जेतोणेक देवनागरी सिंधी खे कनि सिंधी साहित्यकारनि जो साथ मल्यो हो पर संदिनि भी देवनगरीअ में को घणो कोनि लिखयो। जहि सबब देननागरी सिंधी खे कहि हद ताई साहित्य जी नजरि सां कमजोरि पेईजी वई। अजु॒ जेको भी सिंधी अकादमियनि में थी रहयो आहे सो इन सबब ई आहे। जेसिताईं श्रीकांत साईं जी गा॒ल्हि आहे तह हो ऐड़हा बयानि सांदहि पयो दिं॒दो अचे, बदकिसमीतीअ सां कहि भी सिंधी इनि बयानिन जी मखतलिफ कोन कई। हाथयूं कहि कहि तह सांईअ खे हिमतायो भी। लिपी बाबत संदसि राये मां इहो थो तगे ज॒णु साईंअ खे इहा खबरि कोन्हे तह हुकुमति बो॒लीअ जे सतलिम करण महल बि॒नहिनि लिपयूनि जे वजुदि खे मञिदे लिपी जी फेसलो सिंधुयूनि थे छदो॒ , छाकाणि तह इहो सिंधुयूनि ते आहे तह हो केड़हि लिपी था अपञाअण चाहिनि। जेका गलति अंग्रेजनि कई सा हिंदुस्तानि जी सरकारि दोहराअण नह चाहि। लिपि ते संदसि ब॒यो भी हिक बयानि सांइअ दि॒नो आहे तह छाकाणि तह अर्बी लिपी में लिखिंदड हिंअर ग॒णप मे 30-40 ई मस जेडहा रहया आहिनि सो देवनागरी लिपीअ खे ई तसलिम कयो वञे। (सायदि श्री श्रीकांत भाटिया खे जा॒णि नाहे तह इहे 30-40 लेखक ई हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ खे जिंदो रखि वेठा आहिनि।)

लिपी मटणि जो कमु रुगो॒ नई लिपि जे अपनाअण सां ई नथो निंबरे। इहो जरुरि आहे तह इनि लिपि में उहे सब सहुलयतूं हुजिनि जेका कहि भी बो॒ली में हुजनि थयो। मिसालि जी गा॒ल्हि किताब मेसर करण, नई लिपि सिखण जा किताब जूं सहुलयतूं , लुगतयूं (शब्द कोश) ऐं पहिजी बो॒लीअ ऐं कोम सां वफादारि। का भी लिपी अपनाअण महलि के मसला पेश अचनि था। साग॒या मसला अर्बी सिंधी सां भी हुवा। अंग्रेजनि जे महलि लिपी ते तजर्बा पिणि थया। बदकिसमतीअ सां देवनागरीअ ते संदसि पहिरें दिं॒हि खां ई वार पया थेनि। वरि देवनागरी में वदकिसमतिअ सां उनहिनि माण्हुनि जी बरमारि हुई जेके सिंधी बो॒ली सां वफादारि हुजण बिदरौं रुगो॒ हिंदी हिदु ऐं हिंदुस्तानि जे नारे जा मायलि हवा। जहि सबब सिंधी सां दिलो जानि सां वफादारि नह रहया,ऐं इन जो नुकसानि अजु॒ ताईं सिंधी कोम खे मारे थो पयो। असां जेड़हा मसला मराठिनि ऐं गुजरातियूं खे भी आहे। हे भी हिंदु आहिनि ऐं कहि हदि ताईं हिंदु कठरपणो सिंधियनि खा बी बधिक आहे, पर इनि जे बावजूदि संदिनि कद॒हिं भी पहिजी बो॒लीअ खे हिंदी –हिंदु-हिंदुस्तानि सां गं॒दे॒ कोन रखी। हिंदुवादि थिअण को भी दो॒हु नाहे पर हिदुवादि ते पहिंजी बो॒ली जी आजाई कूर्बानी देअण यकिनं दो॒हु आहे ऐं पहिजे कोम मां बेवफआई आ।

देवनागरी सिंधीअ जो सभनि खां वदी॒ अहमियति वारि गा॒ल्हि इहा आहे तह इहा हिक ध्वनितामकि (Phonetic) लिपी आहे जेका उऐं ई लिखी वेंदी आहे जिअं बो॒ली गा॒ल्हाई वेदि आहे। साग॒यो ई हालि हिंदुस्तानि जे लग भग सभिनि लिपयूं जो आहे (उर्दू खां सवाई).  जहिं सबब इहा तनि लाई तमाम सहुलियति वारि थिंधी आहे जिनि खे गा॒ल्हाअण तह अचे थी पर लिखण नथी अचे। सिंधी छो तह टरयलि पिखरयलि आहिनि, हिक ध्वनितामकि लिपी यकिनन मददगारि साबित ति थी सघे। इन जे भेटि में आर्बी सिंधी में ऐड़हा चङो लफज आहिनि जेके गा॒ल्ह्या हिकड़े नमोने आहिनि पर लिखण महलि साग॒यो तरिको कोनि अपञायंबो आहे। वरि अखरि , लफजनि जी शुरुआति , विच ऐं पिछाड़ीअ में मुख्तलिफ में लिखयो वेंदो आहे। सिंध में ऐडहयुं गा॒ल्हियूं कोन आयुं छा काणि तह असीं हिक ई सुबे में हवासिं ऐं इन गा॒ल्हि खे भी नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिंधी ननढ़े खां ई सिखण सबब, इहे मसला कद॒हि कोन पेश आया। असीं जेसिताईं लिपीअ में कहि हदि ताईं थोड़ी घणी फेर घारि नहं कंदासिं तह सिंधीअ खे हिंन मुल्क में हमेशाहि पहिजे वजूद जी लड़ाई लडणी पवंदी।

जेतिरो नाणो हिंदोस्तानि जी सरकारि सिंधी ते खर्चेपई ऐतरो तह सिंध में भी नह पयो ख्रर्चो वञो। इन जो बावजूदि सिंधी सिंधी बो॒ली ऐं संसथाउं जा हालति कयासि जोगी॒ आहे। अजु॒ सिंधी संसथाउनि जी हालत इन सबब जी खराब आहे छाकाणि तह को भी लूलो लङड़ो सिंधी अकादमियुनि जो सरबरा थी थो सघे, भले खेसि सिंधी लिखण पड़हणि अचा या नहि। अजु॒ वकत अची वयो आहे तह असीं सिंधी बो॒ली के किमत ते थिंदड़ सिंयासी अगवाणन जी सियासि उमेदिनि ते रोक लगायों ऐं ऐड़हनि सिंधीयुनि खे हथ सिंधी अकादमयुं जी वागयु द॒उनि जोके सिंधी बो॒लीअ लाई को योगदानि द॒ई सघिनि। जेकद॒हि असी इऐं ई बो॒ली ऐं कोम खां मुहु मोडे वेठा रहयासिं तह सिंध वाङुरि सिंधी बो॒ली पिणि सिंधियुनि जें हथों निकिरि वेंदी।