सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

22 सालनि जो हबीब हैदराबाद सिंध जो जावल नोकजवान लेखक आहे।  संदुसि लेख रोजाने अबरत ऐं अवामी आवाज में शाईं थिंदा रहया आहिनि। हित संदसि लिखयलि ताजो लेख हिंदुस्तानि जे सिंधीयूंनि लाई शाई कजे थो। जसु लहणे हबीब जहि सिंध जे हिंदुनि सां थिंदड नाइसाफियूंनि बाबत आवाज उधारण जी कोशीश कई आहे। उमेदि तह हू अग॒ते बी साग॒ऐ मसले ते लिखिंदो रहिंदो।

 habib

 

सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

 

रोईंदड डा. लता ऐं डा॒हिंयूं कंदड रिंकल कुमारीअ जी दर्दनि भरी कहाणी खे आखिर केरु शाई कंदो? सिंध जी इजत खे दाउ ते लगा॒अण वारनि खां आखिर केरु पुछिंदो ? हे सवाल सिर्फ सामाजिक कारुकनिं ऐं कालम निगर मार्वी सरमद जो नाहे ऐं नह् ई वरी ऐं नह् जेकोकाबाद जे रहवासी डा. लता जे पिणसि डा. रमेश कुमार ऐं नह ई मिरपुर माथिले जी रिंकल कुमारीअ जे मामे राज कुमार जो आहे, पर हे सवाल हर हिक अमड जो आहे जिन जे दीअरनि खे हथियारनि जे जोर ते अगवा करे जबरदसती मजहब तभधील कराअण बैदि साणनि शादयूं करायूं वयूं ऐं अमडयूं याद में हेल बी डि॒अरी जूं खुशयूं नह मञाऐ सघयूं , संदुनि लेखे सिता अजु॒ भी रावण जे कोट में कैदि आहे। पर इहा हिक भयानक हकिकत आहे तह मजहब जी आड में हिंदुनि खे ऐतिरो तह हिसायो  वयो जो हो धर्ती धणी ऱोज रोज खुआर थिअण खां बचण लाई धर्ती माउ जे हथ मां हथ छडा॒ऐ सभ रिशता, नाता खतम करे हमेशाहि लाई भारत वञी रहया आहिनि। हू धर्ती काण खणी जूलम तश्द बरबरयत भी कनि पर पहिंजी नयाणियूंनि जे इजतयूं खे लूटिंदे नथा डि॒सी सघिनि।

डा लता ऐं रिंकल वारे मसले ते बी मिडिया समेत सियासी पार्टियूं ऐं उन जे अकलयती (हिंदु) अगवान भी मजरमाणी खामोशी इख्तयार कई, इहो ई सबब आहे जो हिंदु भाउर मायूंस थी धर्ती माउ सां वेवफाई करण वारो रसतो अख्तयार कयो, ऐं हेल ताईं हजारनि माण्हूं धर्ती खे अलविदा करे चका आहिनि।

तोजो ठूल (सिकाकपूर) मां पंज हिंदु खांदान जेके सोरहनि भातियूंनि खे मशमतिल हवा मातृभूमि खे आखिर सजदो करे छडे॒ वया।

माईटनि खां मोकलाअण वक्त संदुनि अख्यूंनि मां रत जा गो॒डहा वहण लगा॒, संदुनि कैफत खे लफजनि में बयान नथो करे सघजे, इहा हिक हकिकत आहे तह सिंध हिक वडो॒ अर्से खां डो॒हारियूंनि खे मफाहमत जे नाले ते छडवाग॒ छड॒यो वयो. सिंध जा हिंदु भी इंसान आहिनि खेनि इख्लाकी तोर मदद करण बिदरां उलटो खेनि इंसान ई नह समझण साणनि वडी॒ जयादती आहे ऐं ऐडहे जयादतीयूंनि करे मजबूर थी सिंध खे अलविदा करे रहया आहिनि, को भी शख्स खुशिअ मां पहिंजा अबाणा कख ऐं पहिंजी माउ जेडही धर्ती नथो छडे॒, जहिं धर्तीअ सां संदसि नंड्हपण जूं यादूं वाबिस्तह हूंदयूं आहिनि.

rr

जहिं जे सिने ते तरयूं खोडे बांबडा डे॒अण सिखो हो ऐं माउ जूं आंङुर पकडे हलण सिखो हो , अजु॒ जड॒हिं उहे मातृभूमि खां कच्चे धारे वाङुंरु टूटी धार थी रहया आहिनि तह इअं महसूस थिऐ थो ज॒णु सिंध जे वजूद जा ब॒ह हिस्सा थी रहया आहिनि।

कड॒हिं वई आखिरि उहा सेकूलर सिंध ?? .जहिं में हिंदु ऐं मूसलमानि माने खाईंदा हवा, कंलंदर ते धमाल भी ग॒ड॒जी कंदा हवा, तह् डि॒आरीअ जा डि॒आ भी ग॒ड॒जी बा॒रिंदा हवा, हाणे जड॒हि हिंदु भाउर सिंध छडे॒ वञी रहया आहिनि तह् लाजमि आहे तह् संदुनि जाई अची ब॒यनि मूल्कनि जा पनाहगिर  वालारिंदा, जहिं सां सिंधी बो॒लीअ जे मस्तकबिल (भविषय) ते नाकारी असर पवंदा ऐं सिंधीयूंनि (मूसलमानि सुधा) जी अकलियत (थोडाई) में तबधील थिअण जा ख़दशा पिणि मोजूद आहिनि। हिंअर बी जरुरत उन गा॒ल्हि जी आहे तह कहिं राम जे इंतजार करण बिदरां मजहबी तोडे सियासी पार्टियूंनि, अदीबनि ऐं दानेशव्रनि खे हिन नाहायति ई अहम मसले जे हल लाई संजीदगी सां सोचण घूर्जे, किथे इअं नह थिऐ जो मजहबी इंतहापंसंदी हर जहनि ते हावी थी वञे ऐं असां हथ महटींदा रहजी वञोउ !!!

 

लेखक- श्री हबीब अलरहमान जमाली

उलथो – राकेश लखाणी

One thought on “सेकूलर सिंध जे मूहूं तांउ लहिंदड नकाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *