सूरअ पहिंजनि जा

 

सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी
सिंध मां लडे॒ आयलि दलित सिंधी

साईं हिंदुस्तान वारा असां खे पाकिस्तानी हूअण जा मेहणा था डे॒नि, पाकिस्तान वारा असां खे हिंदुस्तानि जा ऐंजेंट करे था लेखिनि वरि सिंधी (हिंदुस्तान जा)  तह् असां खे सिंधी करे लेखिण लाई तयार नाहिन, असीं वञऊ तह वञउ किथे।

हे लफज हवा माली जातिअ जे हिक सिंध लड॒यलि नोजवान जा जेको हिअर जोधपूर में रहे थो ऐं सिंध मां लदे॒ इंदड हिंदुनि ऐं खासि करे भील मेघवार, कोली जातियूंनि खे हिंदुस्तानि जे सुबे राजस्थान में वसाअण से नसबत तंजीम सिमांत लोग संघठनि जे हिक अहम करूकनं मां आहे।

नोजवानअ जे लफतनि जी हकिकत जा॒णण लाई मूखे को घणो परे नह् पर जोधपूर में ई मिली जड॒हि जोधपूर जे सिंधी (लोहाणिनि) पंचायत जे हिक अहम ऐह्देदार मूंखे साफ चिटी रित मूंहू सामहूं बेहिजीबु चई डि॒ञो हो तह साई असीं खेनि (भील, मेघवार माली वगिराह) सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियूं। दिलचस्प गा॒ल्हि तह इहा आहे जे संदुनि राये जी उते मोजोद कहिं भी लोहाणे सिंधी पंचायति मुखातलिफ कोन कई। इहो सभ इन जे वावजूद जे भील मेघवार भले सिंध मां लडे॒ आया हजिनि या सिंधी ताईं गा॒ल्हिईंदा हूजनि। वरि जेसताई मसलो लडे आयलि हिंदुनि जे माडवारी  बो॒लीअ आहे ऐडहा जाम सिंधी भी आहिनि जेकि राजसथान में पहिंजे घरनि में माडवाडी पई गा॒ल्हाईंदा आहिनि, पर पहिंजनि खे पहिंजा करे लेखण लाई असूल ई तयार नाहिनि।

इहा ग॒ल्हि मूंखे पाकिस्तान पिसथापिथ संघ जे सदर हिंदु सिंह सोढा भी पई वाजी कई तह थर परकार में बि॒न किसमनि जा भील- मेघवार था रहिनि – हिकडा उहे जेके सालनि  अगु॒ राजस्थान मां लडे॒ वया ऐं हिअर पया मोटिनि पया ऐं बया जेके उतोउ जा मूल रहाकू आहिनि जेके ढाठी बो॒ली (सिंधीअ जो हिकु लहजो).गा॒ल्हिईनि आहिनि पर दिलचसप सवाल इहो आहे तह जेकर इहा गा॒ल्हि हिक लंङे मञे बी वठजे तह इहे लडीं॒दड भील मेघवार हितुऊ जा ई मूल निवासी आहिनि तह सवाल इहो भी आहे तह पोई छो विर्हांङे महल जड॒हिं जाम लड॒पण थी पोई हू छोन नह लडे॒ आया…. छोन नह अजु॒ ताईं संदुसि हिदुस्तान जा सागी॒ जाती जा हिंदु खेनि हिंदुस्तान में वसाअण जे नसबत हाई घोडा कोन कई।

ब॒यो तह् ठहयो पर अजु॒ भी जडहिं सिंध जे धर्ती धणी हिंदुनि खे सिंध मां लडायो पयो वञे ऐं लग॒ भग॒ हर वडीं नंढी हिंदुस्तान जी हिंदी तोडे अंग्रेजी मिडीया पाकिस्तान में हिंदुनि जूल्मनि खे झझो मोल ड॒ञो पयो वञे पई ऐं सिंध जे हूंदुनि बाबति अहवाल पई शाई करे पर इन जे बावजूद राजीस्तान में जहिं रित मारवाडी या हिंदी गा॒ल्हिईंडनि में हलचल डि॒सण में कोन आई आहे।

राजस्तान सुबे में जेकरि डि॒सजे तह तमाम घणयूं वडि॒यूं हसतियूंनि आहिनि जनि जो सिंध सा लागापा आहिनि। मसलनि अगो॒णो परडे॒हिं वजिर जसवंत सिंह जा नानाणा सिंध जे थार परकार जा आहिनि। हाणेको राजीस्थान सुबे जो वडो॒ वजिर (मुख्य मंत्री) श्री अशोक गहलोत पाण भी कबूल कयो आहे तो हो 1965 में सिंध मा लडे॒ आयो हो। जेकरि जातियूंनि जे नसबत डि॒सजे तह सिंध जे हिंदुनि जूं जातयूं ऐं सिंध जे पाडेसी सुबनि मसलनि गुजरात ऐं राजिस्थान में ईअं भी को घणो फर्कु नाहे। भील, कोली, मेघवार वगिराह जातियूं राजस्थानि ऐं गुजरात में जाम थयूं मिलिनि। कोली जातिअ जो गुजरात में खासो रूतबो आहे। पर जड॒हिं गा॒ल्हि सिंधी कोम जी थी पई अचे  नह जा॒ण कहि सबब हिंदुस्तान में सिंधी अण-लोहाणनि खे सिंधी ताईं कोन लेखिंदा आहिनि।।।।

मूल सवाल हित इहो आहे तह इअं छो आहे सिंध मां लडिं॒दड हिंदु दलितअ (जेतोणेकि मां भायां थो तह हू सोउ सेकिडो सिंधी ई आहिनि) अण सिंधीयूंनि में पहिंजी सुञाणप गो॒ल्हण लाई मांदा नजर इंदा आहिनि…छो हिंदुस्तान जो सिंधी समाज सिंध मां लडे॒ आयलि 4 लख भील मेघवार, सोढा राजपूतनि या कोली, माली जातियूंनि खे पहिंजो हिस्सो मञण खां हबकिंदो पई नजर इंदो आहे। हिकु ऐडहो कोम जहिं में जाती कड॒हि भी का खासि अहमियति कोन रखी उहा किअं ऐडहे समले ते खामोश रही आहे। मूमकनि आहे तह 1947 वारो विरहांङे सबब लोहाणनि ऐं अण लोहाणि में (छाकाण तह 1947 जी लड॒पण थर परकार में नह जे बराबर थी) विछोटयूं वधाऐ छड॒यूं ऐं रही वयलि कसरि सिंधीयूंनि पहिजें इतहास खां परे थी पूरी कई।

खैर, जोधपूर वारे ताजे दौरे जे पहिंरें डि॒हूं मूखे बु॒धायो वयो तह सर्कीट हाउसि पुज॒णो आहे। मूहिंजे साण दिल्ली मां आयलि हिक सिसर्चर पिणि हूई जेका पाकिस्तान मां ऐं खास करे सिंध मां  लडे॒ आयलि हिंदुनि बाबति का रिर्सच पई करे। सर्किट हाउस पुजिं॒दे ई मोजूद संगत सां हिक बे॒ खे पहिंजी सुञाणप जो सिलसिसो हलो, उते मोजूद माण्हूं इन गा॒ल्हि जी खास दिलचस्पी हूंई तह असीं मिडीया वारा आहियो तह नाहिंयूं । मोजूद माणहूनि मा हिकडे तह वडे॒ चाह सां हिक हिंदी अखबार में हिकु अहवाल पढायो जिनि में संदुनि तंजिम जे सदर जे जोधपूर अचण जो अहवाल शाई थिअल हूई। खैर इन बैदि गा॒ल्हि बो॒ल्हि जो सिलसिलो हूनिनि पाण ई शुरु कयो (संदुसि उहो गा॒ल्हि बो॒ल्हि घटि ऐं भाषण वधिक हो)। संदसि चवण हो तह असीं आदिवासीनि ते कम कंदा आयूं। आउं राजस्तान ईकाई जो सदर आहियो ऐं साईं (पहिंजे रहबर डा॒हिं इशारो कंदे) पूरे हिंदुस्तान जो। सांईजन श्री सोमजीभाई पूरो महिनो कशमीर खां कन्याकुमारी ताई दौरे में ई मुंझयलि रहिंदा आहे। नह रूगो॒ हिंदुस्तानि जा पर असी पूरे दुनिया में जिते भी अदीवासीयूंनि ते जूलम थिंदा आहिनि असी आवाज उथारिंदा आहियों।

हून पहिंजे रहिबर बाबति वाकफियति डिं॒दे चयो तह साईं सोमजीभाई गुजरात जे दाहोद मां छह घुमरा सांसद रही चूका आहिनि। जेतोणेकि पिछाडीअ जे चूंडनि में साई जन खटी किन सघया पर संदुनि वाकफियति हिंदुस्तानी जे लग भग हर सियासी अगवान तोडे पार्टी सां आहे। इअं ई हेड॒उ होड॒उ जा गा॒ल्हियूंनि जे मंझ में सिमातं लोग सघठन जा सदर अदा हिंदु सिंह सोढा अची पहूता ऐं असी सिंध मां लडे॒ आयलनि के जी बसती डा॒हि निकतासिं।

उहा बसती जोधपूर शहर खां 10-15 कोहि ते हूई । ईलाको पूरो विरान पई लगो॒। नह तह बसती में बिजली हई ऐं नह ही रसता पका हवा। घर सब  कच्ची झोपडीयूंनि वारा हवा जड॒हि तह बसती जो हेकलो स्कूल जी इमारत पकी हूई। हिंदु सिंह सोढा मेजिबु इन हेकले स्कुल जे पूठया वडी॒ मेहनत लगलि आहे। संदुनि वधिक  चयो तह भर में गैशाला ताईं खे छपर आहे जेको हूकूमत पारां ठारायो आहे पर इंसानि लाई जकहि करण अजायो कम पई समझे, ज॒णु टूकर जमिन ड॒ई हूकूमत थोडो लाथो अथउं।

इन जलसे जी रथा मोजिबु असां खे सिंध मां लडे॒ आयलनि भील- मेघवारनि जी हिक बसती में पूज॒णो हो जिते हिक आम मेड (हिक रित जी पबलिक हेअरिंग) जो इंतजाम कयो वयो हो। इअं तह मेडाडको 10 लगे शुरु थिअणो हो पर आदीवासी आगवानि जे देर सां पूजण सबब इहो लग भग॒ बा॒रहें लगे॒ शूरू थियो। अदीवासी अग॒वान जे आजां बैदि जलसे जी शुरिआत थी उते मोजूद सभनी पहिंजा पहिंजा विचार रखा जिन में के लडे॒ आयलि हिंदु भील ऐं मेघवार पिणि हूवा।

हिक वाईडो कंदड मंज़र इहो हो  तह जेतोणेकि अदावासी अगवाणि पूरी दुनिया जे आदीवासी खे मदद करण जी गा॒ल्हि पई कई पर खेनि सिंध जे दलितन बाबत जा॒ण नह के बराबर हूई। जड॒हिं तह राजिस्तान ईकाई वारे अगवान पहिंजे रहिबर जे खुशामंदी में पूरी तकरिर कई ऐं रहिजी वयलि वक्त जेतोणेकि भिलनि बाबत हो जहिं में हून भलनि खे कहि धार्मिक गुरुअ रित हिदायतूं पई डि॒नु। (हून खे संदसि विच तकरिर में इशारो कयो वया तह अबा हिंअर बस कयो)। संदुसि रहबर जेतोणेकि सिंध मां लडे॒ आयलि हिंदु सिंधी (लोहाणनि) बाबत जाम मिसाल डि॒ञा तह किअ हूं 1947 जे विर्हांङे के वक्त मर्द माणहू थी विठा ऐं पहिंजी हयातयूं कि वरि खां सवारियूं । हून भीलनि खे उन सरकारी जमिन ते कब्जो करण जी गा॒ल्हि कई जहिजो जो को दावेदार नह हूजे। पहिंजे तकरिर जे पिछाडीअ में हून दिलजाई डि॒ञी तह हूं दिल्ली में पुजी॒ जुदा जुदा दलित संसथाउं साणु गा॒ल्हिईंदो जिअं सिंध मां लडे॒ आयलि दलितनि बाबत कजहि करे सघजे।

सिमांत लोक संघटिनि जे कारूकनि मोजिबु जेतोणेक सोमजी भाई हे पहिंरा भेरो संदुनि जे कहिं मेडारके में मोजूदि रहयो आहे पर राजस्थान जो अगनाव सालनि अगु॒ नजर आयो हो पर इन बैदि गायब ई रहयो। इन जे  विच में सिंध मां जाम भील लडे॒ आया, डुख डि॒ठा, जाखडो कयो हून जो कड॒हि भी को अतो पतो नह रहयो। इहा गा॒ल्हि श्री हिंदु सिंह सोढा पिणि वाजि कई तह संदुसि इहा खुवाईश रहि आहे माडवाडी भीलनि खे भी सिंध में लडे॒ आयलि जे अग॒यां आणिजे जिअ इन खेनि उतसाउ मिले तह संदनि बिरादरीअ मां भी को ऐडही कामयाबी माणे सघयो आहे पर इन कम में खेनि का खासि कामयाबी कोन मिली आहे ऐं हिअर हू इन में को भी चाहि कोन वठिंदा आहिनि।

सिंध मां लडे आयल सिंधी भील या मेघवार रिवाजी सिंधीयूंनि खा तमाम घणो जूल्मनि जो शिकार हूंदो आहे। जबरनि इसलाम कबूलाअण, दीन-धर्म जे मञण जी आजादी नह हूजण, आम सरकारी सहूलितयूंनि खां महरूम कहिं मिरू खां भी बदतर हयाती गारिंदड थिऐ थो। इअं तह पाकिस्तान में हिदु थी रहण ई जूल्म करे लेखयो वेंदो आहे ऐं वरि जेकरि को दलित हूजे थो तह संदुनि छा गा॒ल्हि कजे।

जलसे में किन थोडनि भिलनि पिणि गा॒ल्हियो जहि जो चवण हो तह सिंध मां लड॒ण बैदि सिंध वारा जूलम तह् निबरी था वञिनि पर ब॒यूं तकलिफयूं खे मूहूं थो डे॒अणो पवे, असां जी इहा निमाणी मिंथ आहे तह हिंदुस्तान सरकार असां ते रहम करे असां खे मदद करे। साईं हिंदु सिंह सोढा पहिंजे तकरिर में के ऐडहो भी खुलासो पिणि कया जहि बाबत सायदि ई कहि खे का घणी जा॒ण हूंदी। संदुसि चवण हो तह जड॒हि सालनि बैदि भीलनि जे किनि आकहिंनि खे विजा मिलो सालनि जे इंतजार बैदि तह पाकिस्तान जे रेंजर तह खेनि वनण डि॒ञो पर हिंदुस्तानि जी बी ऐस ऐफ संदुनि ते गोलियां वसायूं जहि सबब के भील मारजी वया जनि मां हिक माउ भी हूंई जेका पंहिजे बा॒र खे पहिंजो खिर पई पियारे जद॒हिं संदुसि गोली लगा। हे सब इन्ही मूलक में पयो थिऐ जिते परडे॒हि मां जेकरि को पखि भी इंदा आहिनि तह कलेकटर उन पखियूंनि साण पहिजा फोटू खिचाऐ गिद गिद थिंदो आहे असां जा तह इंसान था अचनि जहिंसा मिरू खां भी बदतर वहिंवार पयो कयो वञे। असां खां इहे डु॒ख विसिरिया नाहिनि ऐं असी तेसिताईं माठ किन कंदासिं जेसताई असी भीलनि के कातिलनि खे सजा॒ किन था डेआरऊं।

इन मेडारके जे यकदम पोई हिंदु प्रेस कांफरेंस थिअणो हो पर पोई इहो बु॒धायो वयो तह सोमजी भाई तह अगो॒पोई जोधपूर मां निकरी चुका आहिनि। सिमांत लोक संघठनि जे कोरूकनि मोजिबु राजिस्तान वारे इकाई जे सदर इहो नह पई चाहियो तह हिंदु सिंह सरकार जे विरोध में कजहि गा॒ल्हिऐ सो कहि भी रित सोमजी भाई खे इन प्रेस कांफरेंस खे थिअण ई किन डि॒ञो। मायूस कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे इहो अग॒वान भील बिरादरीअ मां आहे ऐं पाण खे हिक अगवान जे हैसियत में पेश कंदो रहयो आहे।।।।

सोमजी भाई तह पहिजे तकरिर में तह भीलनि खे वांदी सरकारी जमिनि वालारण जी गा॒ल्हि कई पर इहो इंतहाई डू॒खयो आहे पक रित चवण तह जेकरि सिंध लड॒यलि भीलनि इअं कयो भी तह हूं केडही मदद कंदो पर इन तह पक आहे तह सोमजी भाई भीलनि लाई कहि  हद ताई जिक्रु जरुर कंदो इहा भी पाण में का नंढि हरकत नह समझण खपे।

लडे॒ आयलि को भी पाकिस्तानी भले हो दलित सिंधी हूजे या वरि रिवाजी लोहाणो हिंदु, मसला साग॒या ई आहिनि तह सत साल (जेकरि संदुनि माईट 1947 खां अगु॒ जावलि हूजिनि) जेसिताईं खेसि नागिरकता नथी मिले हो हिक लग॒ भग॒ कैदि वारी जिंदगी थो गुजारे। जहिं शहर लाई खेसि ऐल डी वी (ढघे अर्से लाई विजा) मिले थी तहि शहर जे 20 लिमोमिटर जे दाईरे में थो रहणो पवे। हर साल ऐल टी वी, पहिंजे चाहि जो कम नह करे सघण, बारनि जे स्कुनि में खाखिले में दिकत वरि पाकिसान मां अचण जो डो॒हू सो धार। सिंधी दलितनि लाई वरि गरिब हूअण (सिंध में भी दलित तमाम गरब आहिनि) हाथियूं हिक धार ड॒चो।

परसाल 1100 हिंदुनि जो जथो सिंध मां लडे॒ आया धार्मिक विजा जे तहत जिन मां 200 खां 300 बागडी कोम जा सिंधी हिंदु दिल्ली डा॒हि आया। बाकि 900 मां हिकु वदो॒ भांङो ईंदोर में ई रहयलि हो। इनहिनि बागडी कोम वारनि जाम डू॒ख डि॒ठा छाकाण तह संदुनि लाई हूकम ताईं जारि कयो वयो जिअ खेनि पाकिस्तान जबरनि मोकलो वञे। ऐं 1 डिसमबर जी रात खेनि दिल्ली जेडहे शहरि में जिते डिसबर जे महिने में जाम थद थी पवे खेनि यमूना के किनारे सठयो वयो। नेठि कनि हिंदु संसथाउ जी मदद सा इहो केसि दिल्ली हाई कोर्ट में टिन पेशिनि बैदि हकूमति धर्मिक जथे विजा दे॒अण जो फैसलो कयो। मजे जी गा॒ल्हि तह् इहा आहे तह इन फैसले जो फाईदो आम रिवाजी सिंधी लोहाणिनि पिणि वरतो पर इन जे बावजूद दलित सिंधीयूंनि सां ग॒ड॒जी जाखडो करण असुल ई कबूल नाहे।

सिंध जो थर वारो इलाको ऐतिहासिक तोर नह रूगो॒ भील मेघवार, सोढे राजपूजनि जो गड रहयो आहे पर सिंध जे हिंदुनि जो भी हिकु खसूसि ईलाको रहयो आहे। जड॒हि तह समूरो सिंध कशमोर खां संमूडी तटनि ताईं मूसलमानि जे हेठ हो इहो इहो थर ई हो जहिं सिंध जी हिंदु सकाफत जो मर्कज रहयो हो। थर परकार जी सखाफत ते जाम विदवानन पी ऐच डी ताईं कई पर इन जे बावजूद खेनि असीं सिंधी करे लेखण लाई तयार नाहियों।

सिंध मां हिंदु सिंधीयूंनि जी लड॒पण हिंद जे सिंधीयूंनि लाई हिक वडी॒ चूनौती आहे पर बदकिसमतीअ सां हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जेको रदेअमल डे॒खारो आहे हिंदुनि जे लडपण जे नसबत सो यकिनिं डु॒खाईंदड रहयो आहे। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधीयूंनि खे इन पैमाने ते थिंदड लड॒पण सां वाकिफ नाहे ऐं ऐडही भी गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी कोम को ऐडहो भी बेवस आहे जे कजहि भी करे नथो सघजे। बिं॒हिनि वड॒यूं सियासी तंजमयूंनि में सिंधी मोजूद आहिनि। पर साल टे गुमरा सिंधीयूंनि जा जथा सोनिया गांधीअ साणु गड॒या जुदा जुदा मसलनि ते पर हिन साल जड॒हि की हिंदुनि लाई जाम मसला रहया आहिनि असां जा सियासी शिहिं खामोश आहिन ज॒णु कजहि थियो ई नाहे।

बी जे पी में जिते सिंधूयींनि जी ऐतरी वधीक नूमाईंदगी  सिंधीयूंनि जी रही आहे उते भी साग॒या मंज़र आहिनि। सिंधूंयूंनि लाई को भी को भी कुछण लाई तयार नाहे। जेतोणेकि बी जे पी सिंध तोडे पाकिस्तान में हिंदुनि सां थिंदड जूलनि जे नसबत आवाज उथारिंदी रही आहे पर इहा उमेदि करण भी आजाई आहे तह सिंधूंयनि जी लडाई भी बी जे पी करे सा सोचण डो॒हूं थिंदो।

सिंध में पाकिस्तान जा 95 सेकिडो हिंदु था वसिनि मतलब हू हिंदु सिंधी आहिनि। जेकरि को सिंध लडे॒ आयलि जा सुर समझिंदो तह उहो सिंध कोम ई आहे पर मसलो इहो तह किअं ऐडहे कोमअ खां का भी उमेदि रखजे जेको पहिंजनि खे भी पहिंजो समझण में हिजाब सरेआम कंदो रहयो आहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *