सुन्दरी जो देहांत ऐं हिक आवाज जो अलविदा

कुमारी वेंगस यासमिन सिंधी भाषा जी जदायद अख्बारनुवेसी तोडे कालमनिगरनि में हिंक अहम जाई वालारे थी। संदुसि लेख सिंधी अखबार अबरत में सांदह शाईं थिंदा रहिंदा आहिनि जिन में सिंध तोडे सिंधीयूंनि बाबत संदुनि विचार पेश थिंदा आहिनि। इन खां सवाई अदी अंग्रजी तोडे उर्दू में पिणि में लिखिदी रहि आहिनि।

veengas

 

पेश आहे सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी जे लाडा॒णे ते अदी वेंगस पारां लेखिका खे भेठा। इहो लेख अबरत  में अर्बी सिंधी में शाई थिया जेको हिंअर हिंदुस्तान में रहिंदड सिंधीयूंनि लाई देवनागरी सिंधीअ में शाई कजे थो।

“सुन्दरी जो देहांत ऐं हिक आवाज जो अलविदा”

सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी
सिंधी लेखिका सुन्दरी उतमचंदाणी

 

जिंदगी अजबु आहे इन जे केतरिन लहरुनि खे समझण ऐं इन ते हलण आसान नाहे । इंसान जेकड॒हिं पहिंजी जिंदगी बाबत लिखण शुरु कनि त दुनिया जे कबट में केतिराई बेहतरिन किताब अची वेंदा जेके इंसान पहिंजे जिंदगी ते ब॒धल थी सघिनि था। पर वरि भी सवाल उभरी पया त छा इंसान इंमानदारी सां कागजनि ते पहिंजयूं कहाणयूं लिखी सघींदा ? या खणी इहो चईजे छा असां ई पडही सघिंदासि ?हिं अर ताईं असां मां केर भी विरहांङे जे तलख कहाणयूं खे पडही कोन सघयो आहे छो जो इंहिनि जे हर हिक कहाणियूं में दर्द, टूटयलि दिलयूं ऐं झरयलि रूह मिलिंदा शायदि इन खे पडहण ऐं लिखण ब॒ई डुखया कमु हूजे। पर जमिर मथां जड॒हिं विगहांङे जी लकिर पाई वई इन वक्त सिर्फ हिक ई जमिनि जे टूकर जो विरहांङो न थि  रहयो पर इन जे बे॒ पासे हजारनि घरनि खे यतिम बणाऐ पहिंजी धर्ती खां बेदखल कयो वयो। बरसगिर में आजादी केडहे रूम में आई…असां सभनि जे झोलियूंनि में टूटल दिंलयूं ऐं झखमि रूह डि॒ञा वया जन जे दर्दनि खामोशी में दुनिया खे अलविदा करे हली वई। सूरमी सुंदरी जहिं जो जन्म हैदराबाद (सिंध) में थियो ऐं हून पहिंजी जिंदगी इंण्डिया जे शहर मूम्बई में जूलाई 2013 ते गुजारे वईं। सिंध ऐं हिंद जी नामयारी लेखिका, शाईरा ऐं सिंध जे जलावंती सूमरी सुन्दरी उतमचंदाणी मूम्बई में देहांत करे वई, सुन्दरी उतमचंदाणी कजहि वक्त विमार रहण बैदि दम डि॒ञो, नामयारी लेखिका सुन्दरी उत्तमचंदाणी 28 सेपटंम्बर 1924 ते हैदरावाद , सिंध में जन्म वरतो, संदुसि पहिंरि रचना –मूहिंजी धीअ- जे नाले सां 1946 में –साथी- मखजिन लाई लिखी ऐं आखरी दम ताईं कलम सां साथु निभाईंयं। सुन्दरी उतमचंदाणी विरहांङे खां पोइ हैदराबाद सिंध खे छडे॒ जलावंती थी मूम्बई में रहाइश अख्तयार कई, जिते संदुनि शादी दानेशवर ऐं लेखक ऐ जे उतम सां थी, सुन्दरी उसमचंदाणी उस्ताद, लाईब्रेरियन, ऐं कलार्क तोर नोकरी  कई ऐं कंलाणी कालेज मूंम्बईं में लेकचरर्र तोर रिटाअर थी। हून जा किताब “अच्छा गा॒डहा गुल” , “विछोडो”, “नखरेलियूं” , “खेडयल धर्ती” , “तो जनयूं जे तात” ऐं ब॒या केतिरा ई किताब सिंधी साहित्य में अहमियत रखिनि था। सुन्दरी उतमचंदाणी प्राईमरी तालिम हैदराबाद जे शौकिराम चांडूमल मिनयूंसिपल स्कुल मां ऐं मेटरिक तोलाराम गर्ल्स हाई स्कुल मां पूरी कई। विरहांङे खां पोइ 1949 में हून बनारस हिंदु यूनिवर्सिटी मां बी ऐ ऐं ऐस ऐन डी टी यूनिवरसिटी मां सिंधी ऐं अंग्रेजीअ मां ऐम ऐ जी डीगरी हासिल कईं। सुन्दरी उतमचंदाणी हिक बेहतरिन शाहिरा हूअण सबब संदुसि शाअरी जा ब॒ किताब “हगा॒उ”  ऐं “डा॒त बणी आ लात” शाई थियलि आहिनि। इन खां सवाई हून 95 रूसी शाईरनि जूं बेहतरिन कविताउं सिंधीअ में तर्जुमो करे –अमन सडे॒ पयो- नाले किताब शाई करायो। हिन रूसी सदर लिओनार्ड बरजेनेव जे यादगारी ते बं॒धल टे किताब शाई कराया, सिंध ऐं सिंध जे रालेरनि  लेखकनि जे कहाणयूंनि जा ड॒ह मजमूआ, ब॒ नावेल ऐं नाटकनि जो मजमूओ शाई थिअल आहे। सूरमी सुन्दरी जे जिंदगी जो पोरहयो ऐं विरहांङे जो दर्द , हून जूं लेखणयूं असां वट मोजोद आहिनि। आसमान हेठांउ कजहि किरदार ई दर्द जे कलम जो सहारे ड॒ई सघिन था, जेतोणेक हे कम डु॒खयो आहे पर इहो कमु लेखिका सुन्दरी कयो। हिन जे आखरी अलविदा ते सिंध हिंद जूं अखयूं डु॒खायल आहिनि। असां खे पहिंजा किरदार न विसारणा घुर्जिनि पोई इहे केडहे पार में वञी रहिनि पर इनहिनि जूं पाडुं पहिंजी धर्ती सा जुयलि आहिनि इअं ई जिअं सुंदरी जो रूह सिंध सां जुडयलि आहे। असां जेके हिन खे भेटा में सिर्फ ऐतिरो ई चई सघउ था त तोखे हिंअर भी सिंध सारे थी , तुहिंजी आखरी अलविदा ते सिंध भी डु॒खायलि आहे। काश सिंध हूकूमत जो सांसकृतिक खातो लेखिका सुन्दरी खे भेटा डिं॒दे इन जी याद में हिक प्ररोगराम करायो वञे। छा सासकृतिक खाते खां इहो कम  कंदो ? चवंदा आहिन लेखक जी का भी सरहद नाहे त पोई सवाल इहो आहे त सुन्दरी सिंध जी भी लेखिका हूअण जे बावजूद छा सकाफति खातो याद भी कंदो ?

Comments 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *