सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

नंढे खंड में सिंधी उन थोडनि कोमनि मां आहिनि जेके जुदा जुदा सकाफति ऐं दिन धर्म खे मञिंदड आहिनि। इहो ई नह पर विराहांङे बैद शायदि हि को कोम हूंदो जेको हिक बो॒ली गा॒ल्हिईंदे भी जुदा जुदा सुबनि में उन सोबनि जे खादे पिते जे तोर तरिकनि तोडे सकाफतुनि में पाण खे समायो हुजे। ऐडहो कोम वरली ई नंढे खंड में हूंदो जहि नई हलतुनि खे मुहूं दिं॒दे पहिंजे पाण खे नईं हालतयूं में पाण खे थांईको कयो आहे ऐं ईहो भी तमाम घट वकतनि मे। ईहा गा॒ल्हि जेतरि हिंदूंनि में सची आहे ओतरि मुसलमानिं में छा खाणि तह पिछाडीअ जे सतर सालनि में खासि करे नंढे तोडे वदे॒ शहरन में इहो ई थे पयो तह – या तह सिंधी अण सिंधयूनि में वसया आहिनि या अण सिंधी वदी॒ तादादि में सिंधी में अची रहया आहिनि।

इन गा॒ल्हि में वरली ई को शक कंदो तह वरहांङे सबब वदे॒ में वदी॒ कसु सिंधी हिंदुनि खे नसिब में आई आहे। अजु॒ ऐडहा चङा कोम आहिनि जेके लूपत या फना थिअण जी राहि ते आहिनि। इन फना थिंदड कोमनि में हिकु आहे –सिंधी सिख या खणि चईजे नानिक पंथी। हिक भेडे दि॒सिंजे तह सिंधीयूंनि में अजु॒ ताईं इन गा॒लिहि ते पक रित हिक राय कोनि वेठी आहे तह सिंधी छो ऐं छा काणि सिंख या नानिकपंथी थिया। किनि जो मञण आहे तह महाराजा रणजीत सिंह सिंध ताई पई पहिजूं सरहदयूं वधाअण पई चाहियूं ऐं के सिंधी, सिख इन सबब थिया जिऐं खेनि घटि में घटि नुकसानु थऐ ऐडही हालतयूं में। अजु॒ भले ई ईहा गा॒ल्हि केतरि नह अजबु लगे पर इन को भी शकु नाहे तह रणजित सिंह यकिनि खुवाईश रखी हुई पहिंजू सरहदयूं वधाअण जूं ऐं जेकर अंग्रेजअ हिदुस्तानि में नह हुजीनी हा तह हो पक सिंध ते जरुर काहि अचे हा। वरि अंग्रेजनि में खासि करे रिचर्ड बर्टनि जेडहनि जो रायो हो तह सिंधी हिंदूं मूल तरह पंजाब जा थेनि सो लाजमी तोर हिंदु सिखनि जेडहयूं रिसमयूं पंजाब सां सदुसि लागपे सबब ई आहिनि जहि में सिंख धर्म, गुरुमूखि भी शामिलि आहिनि । इन खां सवाई हिकु टिहों तबको भी आहे जहिं जो मञण आहे तह अर्बनि जी काहि बैद के सिंधी पंजाब लदे॒ वया ऐं बैद सिंध मोटी आया। सुदुनि मोजिब सिंधीयूनि जा नुख कुकरेजा, माखिजा, आहूजा वगिराहि इन सबब ई आहिनि। वरि जेकर पंजाबी सिखनि जी गा॒ल्हि कजे तह संदुनि मञण आहे तह जद॒हि मुसलमानि जो सिखनि खे कहरि पई थिअण लगा खासि करे गुरू तेग बहादूर जी वकत में तह के सिख पंजाब मां सिंध लदे॒ आया जहि सबब सिंध में गुरुमूखि ऐं सिंख पंथ जो प्रचारि थयो। वरि पिछाडीअ में ईन गा॒ल्हि खे नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिख गुरु – गुरु अर्जून देव जी जे दि॒हिनि में सिख धर्म जे वाधारे जे नसबत सिख सिंध, खशमिरि ऐं अफगानिसथानि में भी सिंध धर्म जा प्रचारक मोकिला वया हिवा।

भले सिंध मां सिख पंथु किअं या कहिं भी रित आयो हुजे पर इन को भी शकु नाहे तह सिंधी हिंदुनि सिंख गुरुनि लाई ऐं खासि करे गुरु नानक जी लाई तमाम घणो मानु ऐं ईजति रही आहे। जेतोणेक सिंख धर्म जो प्रचार पंजाब खां बा॒हिरि सिख गुरु अर्जन देव जी जमाने ताईं चङो थयो, जहिं सबब सिंख पंथ सिंध, कशमिरि ऐं पखतुंवाहि जे चङो जोर वरतो पर पंजाब खां बा॒हिरि इहो सिंध ई हेकलो सुबो हो जिते सिंख धर्म चङो जोर वरतो। पर बद-किसमतिअ गुरु अर्जूनि देव जी जे गुजारे वञण बैद ऐं खासि करे गुरु तेग बहादुरि जी कुरबानी या शहादति बैद सिंखन लाई दुखाईंदड दि॒हिं जी सरुआति थी। इन कोम जो जोर घटाईण लाई दा॒ढयूं कोशिसियूं थिअण लग॒यूं जहि सबब सिंख ऐं सिख कोम कहि कदरु पाण में सिम़टजण लगो॒ जहिजो पूरो फाईदो अकालिनि वरतो । सिख रूगो॒ पाण में हलण लगा॒, ऐं ईहा घेराबंदी हिदुस्तानि जे शहरनि में आम जाम दि॒ठी वेंदी आहे जिते सिख कोम खे को भी खतरो नाहे। जेसिताई गा॒लिहि कजे आपरेशनि बलुस्टारि जी तह यकिनिं इन में अकालिनि जी सियासत भी ओतरि जिमेवार आहे जेतरि कांग्रेसि जा सियासतदानि।

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह गुरु अर्जूंन देव जी दिं॒हिं खां पोई ऐं खासि करे गुरु तेग॒ बहादुर जी जे कुरबानीअ खां पोई सिंखनि जी मुसलमानिं सां जाखडे सबब हिकु रित जे कठरपणो अचण लगो ऐ गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिनि में हिक लशकरि रूप अखतयारि कोयो । जेतोणोक इहो सैनिक भावू तहि महलि जी जरुरत हुई छाकाणि जेकरि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी जे द॒सयलि राहि तें नह लहिनि हा तह संदुनि मां हिक वदो॒ हिस्सो मुसलनामि हूजे हा। इहो लशकरी रुखु ई हो जहिं सिखनि खे हिकु थी पहिंजो वजूद लाई जाखडे करण जी सघ दि॒ञी। जेकरि तहि महल जे पंजाब जे अदमशुमारी ते धयानि दि॒सासिं तह चिटि रित साफ थिंदो हो यकिनि थोडाई में हुवा ऐं इन लावतूनि में संदुनि वजूद में रहण कहि अजूबे खां घटि नाहे।

हिक लङे सिख धर्म जे फहिलाउ खे बारिकीअ सां दि॒सजे तह इहो चिटि रित साफु नजर ईंदो तह पंजाब खां बा॒हिरि जेकरि सिंख धर्म जो कहि सुबे में ऐं खासि करि हिंदू बरादरी में फहिलाउ थियो तह उहो आहे सिंध। अजु॒ भी जद॒हि हिंदुस्तानि में रहिंदड सिंधीयूनि में सिंख धर्मू कहि कदरु कमजोरि थू पयो आहे तद॒हि भी वरलि ई को सिंधी घर लभिंदो जेको शादियूं-मूरादीनि तोडे गमयूनि में गुरु ग्रंथ साहिब जो पोठि कोन कराऐं या कहि गुरुदूआरे तोडे टिकाणे में मथो नह ठेके। अजु॒ भी सिंधी हिंदू सिंख गुरुनि जी ओतरो ई मानु ऐं ईजति कनि जेतिरो सिंधी इस्ट देव झूलेलाल या कहिं हिंदु देवी देवताउं जो। इहा गा॒ल्हि हिदुस्तानि तोडे दुनया जे जुदा जुदा मुलकनि में दि॒ठी वई आहे तह जिते भी सिंधी हिंदु वसया आहिनि – उते सिंधी टिकाणा जरुर अदा॒या आहिनि। इहो ई नह पर उन सिंधी टिकाणनि में हिंदू देवी-देवताउं खे पूजण सा ग॒दु॒ गुरु ग्रंथ साहिब जो अखण्ड पाठ जरूर थे। सिंध में सिख धर्म जो फहिलाऊ जो हिकु वदो॒ सबब ईहो भी आहे जे जहि रित सिख मुर्ती पूजा जे बिदरों गुरुअनि खे यादि कनि। सागी॒ रित सिंधी भी पिरनि तोडे संतनि जो तमाम घणो मानु कनि। आमिलनि जो तह चवण आहे तह सिंधी हिंदू बि॒नि शयूं ते फकरु कनि- हिकु सिंधु थे ऐं ब॒यो सिंधी संतनि तोडे पिरनि ते। नह रूगो॒ हिंदुनि में पर पिरनि जी तमाम घणी ईजति मुसलमानि भी कनि । इहो ई सबब आहे तह सुफी मतु खे जेतरि कामयाबी सिंध में मिली ओतरि नंढे खंढ जे कहि भी सुबे मे कोन मिलि। इहा हिक तारिखि हकिकत आहे।

सिंध जा खालसा सिंधी सिख

सिंध ऐं पंजाब में सिख धर्म जे नसबत नजरियो बिलकूल धारि आहे। सिंध में हिंदु सिख गुरुनि खे हिंदु देवी देवताउनि जेडहो मानु दि॒ञो पर सिखनि गुरु ग्रंथ साहिब खे भी गुरु करे लेखयो पर पंजाबीयूं वारो कठरपणो कद॒हि भी नह अचण दि॒ञो। इहा गा॒ल्हि सिंधी मुसलमानि सां भी सागी॒ आहे। अजु॒ भी जेकरि कहि सिंधी मुसलमानि खां पुछबो सिंधी पंजाबी मुसलमानि सां संदुसि पहिंवारि बाबति तह द॒हनि मां नव पंजाबिनि जी गि॒ला ई कंदा ऐं बचयलि द॒हों भी पहिजी कावड बचाअण जी कोशिस नह कंदो। जेतोणेक के सिंधी पाण खे दरया पंथी वाङुरु नानिकपंथी पिणि कोठायो ऐं सिख गुरुनि जे पूजा जे स्थानि खे टिकाणे जो नाउ दि॒ञो पर कदहि भी हिंदु पाण खे रुगो॒ हिंदू धर् जा हेकला पोईलग कोनि कोठायो। अजु॒ भी विरहांङे खे लग भग मुञे सदीअ बैद भी जद॒हि तह सिंधी हिंदूनि में कहि कदरु कटरपणो वधयो आहे तह भी कहि भी सिंधी कस्बे में जिते सिंधी घणी तादादि में वसयलि हुजिनि – हिकु टिकाणो जरुर पई नजर इंदो जहिं में गुरु ग्रंथ साहिब सां ग॒दु हिंदू देवी जूं मूरतयूं जरुर पई नजर ईंदयूं। सागी॒ रित परदे॒ह में भी वसयलि सिंधी कनि।

सिखनि में जेतोणेक गुरु गोबिंद सिंह जी जे दि॒हिं खां सिख कोम में चङो फेरो आयो। चङा सिख अमृत धारि यानि खालसा थिया पर चङा ऐडहा भी हुवा जेके पहिंजे असलोके रुप में ई कायूमि धायमि रहया या कहि सबब खालसा नह रहयो या वरि मूमकिनि आहे तह अगे॒ हिंदु हुवा ऐ पोई सिख धर्म पई अखतयारि कयो। इहे असलोके रुप वारा सेहजधारि कोठण में अचनि। इअ तह सिख धर्म में सेहजधारि खे अमृत धारियनि या खालसा थिअण जी हिक राह पिणि मञि वई आहे पर इहा भी हिक हकिकत आहे तह आजादीअ खां पोई हिक कोशिस ईहा भी थी आहे तह खालसा निज॒ सिख जी जाई दि॒ञी वञे। इन जो सबब कहि कदुरु अकाल तख्त जी अहमियति वधण सबब भी थयो। होरया होरया हिदु समाज वाङुरु सिंखनि में भी फर्क अचण लगा॒ आहिनि जहि सबब सिख कोम में हिअर पहिजे पाण में ई वंढजी वयो आहे। इहो इन जे बावजूद जे सेहजधारियनि जो भी उतिरो ई योगदानि आहे जेतिरो खालसनि जो। ऐडहा चङा सेहजधारि भी थी गुजरा आहिनि जेके खालिसतानि जे जाखडे जा वदा॒ हिमायति भी रहया आहिनि। इहे फर्क तोडे विचोटयूं अकालियूनि जी सियासत या सिखनि में धर्म तोडे सियासति खे हिक बे॒ खां धारि नह करण सबब पिणि वधया आहिनि।

1959 में हिंदुस्तानि सरकारि जेको गुरुद्वारनि बाबत कानुन पास कयो हो तनि में सुरुमणि गुरुद्वावारा प्रभंधक कमिटी जे चूंडनि में अमृत धरियनि वाङुर सेहजधारि खे भी हिक जेडहा हक दिञा वया आहिनि। पर इन जे बावजूद जिअं हिंदु धर्म में पोईते पयलि जातियूनि सां थयो तह खेनि हिंदु रिती रिवाजनि खा धारि रखयो वयो तिऐं सेहजधारि सां भी थियो। ऐडहा मसला आजादिअ बैद जोर वरतो आहे जहि सबब सिखनि में भी चङो बहसि पई हलिंदो थो अचे। वेझडाईअ में 2003 में ऐडहो मामलो चंडिगड में आयो जिते कनि सेहजधारि शागिर्दनि खे इन लाई ऐस जी पी सी जे कालेज में दाखिलो कोन दि॒ञो वयो सिख कोटनि में जे सेहजधारि निजा॒ सिख नाहिन। इन नसबत ईहा दलिल दि॒ञी वई तह – छो तह सेजधारि मुल लिख नाहिनि सो खेनि सिख कोटे जे मार्फति दाखिलो नथो मिलि सघे। गा॒ल्हि कोर्टनि ताई वञी पुगी॒। इन जे विच में अकालि दल जेका तह महलि जी बी जे पी जी हुकीमत में सामिलि हुई, पहिजी ताकत जो इसतमालि कंदे हूकूमत पांरा हिकु आर्डिनेंस पई जारि करायो तह सेहजधारि मूल सिख नाहिनि जेका गा॒ल्हि कोर्ट पोई वरि नाकारे छदी॒, इहो ई नह पर अकाली सेहजधारि लफज जो सिख कोम सां कहि सां ई पई नंकारि पई कयो जदहि तह 1971 ताई अकाली दल में सेहजधारि जो भी हिकु जथो हूंदो हो।
हिक भेडे दि॒सजे तह सिख धर्म जो फहिलाउ भी कहि कदरु सिंध खां बाहिर घटयो आहे। विरहांङे खां अगु॒ पारे पंजाब में सिखनि जी आदमशुमारी 13 सेकडो हुई जोका विरहांङे खां पोई 30 सेक़डो थी ऐं पंजाब जो हाणेको सूबो छहण बैद 65 सेकडो थी। मतलब तह जिअं जिअं पंजाब जी सरहदयूं पई मई मटि सिखनि जे आदमशुमारिअ में भी फेरो आयो। पर वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे 2001 जे आदमशुमारीअ में इहो दि॒ठो वयो आहे तह सिंकनि जी तादादि कहि कदुरु घठी आहे। मसलनि सिंखनि जी तादादि 62.95 खां 59.9 थी आहे –यानी 3 सेकिडो घटि जद॒हि तह केरेला में क्रिसचननि जी तादादि फकत 0.32 सेकिडो घठि आहे। इन जा सबब अमृतधारि तोडे सेहजधारि मसले खा सवाई भी के अहमि सबब आहिनि जिअं पंजाबी बो॒लीअ जो सिख धर्म में तमाम वधीक जोर। हिदुस्तानि में हर कोम जो प्रचारि दे॒हि बो॒लयूनि में पयो थिंदो रहयो आहे जद॒हि तह सिख धर्म जो प्रचारि अजु॒ भी घणो तणो पंजाबी बो॒लीअ में पयो थिऐ। जेतोणेकि गुरु ग्रंथ साहिब जो सिंधी में भी तरजूमो शाई थियो आहे पर इहो रूगो सिंधीयूनि जे चाहि सबब ई थियो आहे नह कि अकाल तखत जी जोर ते। वरि सिंध में जोकि दि॒सजे सिंखनि जा तादादि वधि आहे छाकाणि तह पिछाडिअ जे कनि द॒हाकनि में जहि रित सिंध में अण सिंधी मुसलमानि जो जोर वधयो आहे इन सबब बदलयलि हालतूनि में, सिंधी हिंदूनि खे खालसा सिख थी पाण खे कहि कदरु वधिक महफिजु पया सहसुस कनि। इहो ई नह पर जेके भी पंजाबी सिखनि जा जेके जथा पाकिस्तानि जे दौरे में वया आहिनि से सिंधी सिखनि जी सिख धर्म दा॒हिं लगनि दि॒सी वाईडा थी वेंदा आहिनि। (अजु॒ जद॒हि हे कालमि पयो लिखां तह खबरि पई तह चारि सिंधीयूनि डाकटरनि खे कतल कयो वयो आहे। यकिनिं इन हालतुनि में जेकरि सिंधी शिख खालसा थिंदां तह यकिनिं सिंधीयनि खे हिक ताकत मिलिंदी पहिंजे पाण खे सोघो करण जे नसबत)

इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे तह हिंदुस्तानि में सिंधी सिखनि जी तादादि तकडी पई घटजे। विरहांङे खां अगु॒ सिंध में सिख धर्म सिंधीयूनि पहिजो नमूने पई लहायो। सिंध में तह कद॒हि भी अमृतधारि- सेहजधारि में को ऐदो॒ वदो॒ मसलो थियो ई कोनह, ऐं नह ई वरि कद॒हि हिक बे॒ खे अण-सिख साबित करण जी कवायति थी। सिंध में हिकु रिवाज इहो भी हूंदो हो तह सिंधी हिंदु पहिजी पहिंरो ज॒णयलि पुट खे खालिसे सिंखनि खे दिं॒दा हवा। जसिताईं सिधीं सिधं में रहया सिधीयनि सिक धर्म पहिजे रित पई हलायो पर विरहाङे बैद लदे॒ आयलि सिधीयूंनि सां इअं नह थियो। सिंधी नानिकपंथीयिनि सां भी चङा वयलि थिया आहिनि। ऐडहा चङा वाक्या पई थिया आहनि जिते सिंधी टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब खे हटायो वयो आहे इहो चई तह सिख धर्म इन जी मोकलि नथो दे ऐं हिक ईं हंद में गिता ऐं गुरु ग्रंथ साहिब जो पाठि नथो करे सघजे। ऐडहो हिक वाक्यो दिल्ली में के सालनि अगु॒ थयो -जते दादा चेलाराम जे टिकाणे मां राम नवमी जे मौके ते सुरुमणी गुरुद्वारा प्रभंधक कमिटि पारां टिकाणे मां गुरु ग्रंथ साहिब ह़टायो वयो इहो चई तह इहो सिख मर्यादा जे खिलाफ आहे। इन बैद जेतोणेक बाबा चेलाराम आश्रम ऐं कजहि सिंख सिख तंजमयूं में भी के ग॒द॒जाणयूं थयूं कर इन जो को भी फैसलो कोन निकतो। इहो सब इन जे बावजूद जे दादा चेलाराम सिंख कोम जो वदो॒ जा॒णू हो, आलिमु हो ऐं नानिक साहिब तोडे अमृतसर जे गुरुद्वारनि में शबत किरतनि करे चूको हो। हो पाण भी सिंख धर्म जा तमाम वदा॒ जाणु हुवा। यकिनि ऐडहनि वारदातनि सां सिंधी सिख धर्म खां पाण खे पासरो ई रखण चाहिंदा।

हिदुस्तानि खा. बा॒हिर भी ऐडहा साग॒यूं कोशशियूं कयूं वयूं आहिनि पर अकालिनि जे हिमायतिनि खे का भी कामयाबी कोन पई मिलि आहे। पाकिस्तानि में कोर्टनि इहो बिलकूल खाफु कयो आहे तह सिंखनि में ऐडहा के भे फर्क नह पई कबूल कया वेंदां। नंढे खंढ खां बा॒हिरि भी साग॒या मंजर दि॒सण में नजर पई आया आहिनि। इनहिनि मुलकनि में हिंदु सिंधीयूनि पारां अदा॒यलि टिकाणनि मां गुरु ग्रंथ साहिब सां छेड छाड करण जी का भी मोकलि कोन दि॒ञी वई आहे। वरि बे॒ पासे इन गा॒ल्हि खे भी नजर अंदाजि नथो करे सघजे तह दुनिया जे जुदा जुदा मलकनि में जिते भी सिख रहया उते जरुरत पवण ते सिखनि या खासि करे खालसा सिखनि वार ऐं दा॒डयूं पिणि लारहायूं अथोऊं। इहो ई नह पर ईंगलेंड जे रोचेसटर शहरि में तह गुरुद्वारे में कृपाण खणी घुसण जी मञाई आहे तहि जो विरोध सिखनि कोन कयो आहे ऐं कजहि सालनि अगु॒ तह प्रांस में पगडयू ते भी प्रतिभंध लगाई वई आहे जेके सिख उते मञिनि था पया।
मशहूर सिख लेखक खुशवंत सिंह जो चवण आहे तह हिंदुस्तानि में लदे॒ आयलि सिंधीयूनि में हिअर सिखपणो घटयो आहे ऐं जेकरि इहो हालि रहयो उहो भी दि॒हिं परे नाहे जद॒हि सिंधीयूनि में सिख धर्म रहिंदो ई कोन। हे बयानि यकिनि हकिकतुनि ते बंधयलि नाहे। जेतोणेक सिंधी टिकाणनि में कमि आई आहे पर इन में को भी शकु नाहे तह सिख गुरुनि लाई मानु ऐं ईजति में का भी कमि कोन आई आहे। इहो थी थो सघे तह श्री खुशवंत सिंह खां सिंधी टिकाणनि में गुरु ग्रंथ साहिब सां छेडछाडि विसरि वई हुजे -इहो दिल्ली जेडहे शहरि में थियो जिते हो भी रहे थो। सिंधीयूनि में सिखपणे जी कमी जो हिक वदो॒ सबब विरहांङे सबब सिंधी हिंदुनि जो लद॒पण आहे। जेसितईं सिंधी सिंध में हूवा हू सिख पंथ खे पहिंजे रित पई मञो पर विरहांङे बैद सिख कोम ते अकालिन जो जोर कहि कदुरु वधी वयो। अकालिनि हमेसाहि ई सियासत ऐं कोम में को भी फर्कु कोन पई समझो आहे, ऐं हूकूमतयूं भी कहि कदरु इन गा॒ल्हि जी मुखातलिफ कोन कई आहे। वरि 1984 जे फसादनि में जदि॒हि सिंधी सिखनि भी नुकसानि सठो पर सिंधीयनि जो नालो ताई खोन खयो वयो जद॒हि तह सिंधी सिखनि खे भी झझो नकसानि सहणो पयो । अजु॒ भी सिख मतलब पंजाबी बो॒ली गा॒ल्हाईंदड ई मञयो वेंदो आहे। नह तह जेकरि विरहांङे जे यकदम बैद जे दि॒हिनि में दिसजे तह सिंधी सिख गुजरात, राजिसतानि या महाराष्ट्र में सिंधी नानिकपंथी तोडे चिकाणनि जी वदी॒ ताअदादि हुंदी हई ऐं कोटा खे नंढे पंजाब कोठयो वेंदो हो।

अजु॒ इन जी तमाम जरुरत आहे तह सिंधी कोम मिडिया में अग॒ते वधी अचे ऐं सिंधी टिकाणनि ऐं सिंधी नानकपंथीयूंनि में हिमायति में जोखडो कजे। सिंधी टिकाणा सिंधी सकाफति जा हिस्सा आहिनि ऐं इन खे जिंदो रखण हर सिंधी जी जिमेवारी आहे। अजु॒ इन जी तमाम घणी जरुरति आहे तह सिंधी पंहिचातयूं सुजा॒ग थेनि नह तह असीं सिंधी नानिक पंथियूनि खे शायदि हमेशाहि लाई विञाऐ वेहिंदासिं।

One thought on “सिंधी नानिकपंथी- हिकु फना थिंदड बिरादरी

  1. असुल में असां सिंधी केई पंथन जे पुठियां पिया हलूं, इहा सुठी गाल कोन्हे, तव्हां जी गाल सही आहे पर सिख पंथ काने, खुद सिख ही पहिंजों अलग र्ध्म चवन था, हिंदुन सां अलग, ऐं सची गाल्ह बुधयां त पुठियें कुझ टाइम सां ईहा मुहिम पिण हले पेयी तक जिन टिकाणन में गुरुग्रंथ साहिब रखियल आहे, उनन जी आमदनी में टीह सैकडा सिख सरदार पहियों को हक पिया बुधाईन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *