Blog | ब्लाग | بلاگ

सिंधी अगवाणन जी सिंयासि अमेदनि में फातलि सिंधी बो॒ली

सिंधी बो॒लीअ जो हिंदुस्तानि जे संविधानि मे तसलिम, हिक दि॒घी जहोजिहद बैद थी । पर इन जदोजिहद में हिक ट्रजिक हिरो पिणि हो या खणी चैअजे आहे, सो आहे लिपी। जेतोणेक लिपी जो मसलो अगे॒ पोइ अचणो हो पर जहि रित असीं लिपीअ खे तोल दि॒नो सा कहिंखे भी वाइड़ो करण लाइ काफी हो। सभिनि खां वदो॒ नुकसानि तह नई टेहि खे थयो जेके मुंझी पया – तह आखिरि केड़हि लिपि आखतयारि कजे। हिन मुंझायपि जो नतिजो इहो थयो तह अर्बी लिपी खां रुसयलि सिंधी देवनागरी जे मार्फति हिंदी दां॒ही हलया वया। वरि सिंधी देवनागरी में किताबनि जी आणोठि इन मुसिबति खे हाथयूं हिमतायो।  अग॒ते हलि संदनि बेरुखि रुगो॒ बो॒ली सां ई नह पर उन संसथाउनि सां भी हुइ जेके सिंधी बो॒लीअ सां गं॒ढयलि हवा। इन जो फलु इहो निकतो तहि रिवाजी सिंधयुनि जो वासतो सिंधी संसथाउनि सां नह जे बरावर रहयो। नुकसानि तह  सिंधी कोम खे पिणि थयो छो तह सिंधी संसथायुनि में बो॒ली जे नसबत में छा कमु थी रहयो आहे, तहिं सां रिवाजी सिंधीयुनि जी चाहि नह हुजण सबब संसथाउनि में ऐड़हा माण्हुनि जी घणाइ थी वई जहिंजो सिंधी बो॒लीअ सां को भी वासतो नाहे। वासतो तह छा घणनि खे तह बो॒ली बी नह इंदी आहे।

ऐन. सि. पि ऐस ऐल पिणि सिंधी बो॒ली जे बाधारे लाइ हिक ऐहम तंजीम आहे। मरक्जी सरकार जी संसथा हुजण सबब इन जी अहमियत खे नजरअंदाज नथो करे सघजे। वेझड़ाइअ मे इहां तंजिमि मिंडिया में सुरखयुनि में आइ आहे। हा इहा गा॒ल्हि धारि आहे तह जहि सबब मिड़या जी नजर में आई आहे, तहि जो सिंधी बो॒ली सां वासतो लग॒ भग॒ नह जे बराबर आहे। इहो दि॒ठो वयो आहे तह पिछाड़ीअ जें ब॒नि टिन महिनन खां साईं श्रीकांत भाटिया (जेके  ऐन. सि. पि ऐस ऐल में उप सदर जे ऐहदे में कजहि दि॒हनि अगु॒ ताई ब्रिजमान हना) चङा बयानि दि॒ञा आहिनि, जिअं मिसाल जी गा॒ल्हि – सिंधी संमेलन जी गा॒ल्हि हुजे या वरि ऐन. सि. पि ऐस ऐल जे अंदरि हलंदड़ पावर सट्रगिल जी गा॒ल्हि हुजे। संदिसि बयानि घणो तणो फेसबूक मे ई शाया  थंदा आहिनि (ऐं उमेदि तह अग॒ते पिणि इअं हलंदो रहंदो।) हो साईं पहिंजे ईनि बयानिन मार्फति मांण्हनि खां कनि मसलनि वावति राया भी थो घुरे। हिक गा॒ल्हि ध्यानि छिकाअंदड़ आहे तह तह संदसि जो को भी बयानि सिंधी (देवनागरी तोड़े अर्बी लिंपी) में नह हुदो आहे, सायदि खेनि इन गा॒ल्हि की पक करणी हुदी आहे जिअं संदिसि बयानि अणसिंधयूनि ताईं भी पुजि॒नि।

सिंदसि बयानि मां के चुड़यलि हेटि दि॒जनि था

  1. छा तोव्हा खे लगे थे तह सिंधयुनि खे को भी अग॒वाणु आहे
  2. अजमेर जे सिंधुनि खे मिंथ थी कजे तह हो बुधायनि तह छा सचिनि पाईलट सिंधीयुनि जे मसलनि ते केतिरो पयो ध्यानि दे॒
  3. सिंधी खे का भी तसलिम लिपी नाहे, इहा लिपी या तहि देवनागरी या अर्बी ती थी सघे। अन्हा पहिजा राया दो॒ तह इहो मसलो सरकारि जे अग॒यों उथारिंजे (हे बयानि अधु अंग्रेजी ऐं अधु हिंदी में हो)
  4. हाणे तह असां खे देवनागरी लिपी ई अपनाइणि खपे, छाकाणि तह आर्बी लिपी जा॒णीदड़ लेखकनि जी तादाति 30-40 मस अची बची आहे।
  5. मां  सिंधुनि खे मिंथ थो कयां तह अशोक अनवाणी खे पहिजो साथ द॒यो जेको कानपुर मां समाजवोदी पार्टी की टिकेट ते चुड़ पयो विड़हे
  6. सिंधुनि खे अग॒वाटि पहिंजे पाण दा॒हिं धयानु दे॒अणु खपे।धारयनि दा॒हि बिलकूल धयानि नह देअणो खपे।असीं छो धारयनि जा पोईलग थयों। असीं पहिंजा अगवाणि पैदा कंदासिं जेके असां लाई कम कनि।
  7. आउं बंगालि जे वदे॒ वजिर म्मता बेनरजी सां वंगाल में सिंधी अकादमी जी गा॒ल्हि संदिसि अग॒यों रखी आहे, हाणे अगते बंगालि जे सिंधयुनि खे इन गा॒ल्हि खे अगते वधायणो आहे।
  8. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे छो नह जाईफनि खे कमिटि में थो खयों थो वञे। छो नह न दादा लखमी खिलाणी खे ऐन. सि. पि ऐस ऐल में जाई थी दि॒ञी वञे
  9. ऐन. सि. पि ऐस ऐल मे हिंअर 20 मेंबर आहिनि। उर्दू काउंसिल वाङुर ऐन. सि. पि ऐस ऐल में बी अहदेदारनि जी ग॒णप 38 कई वञे।

इनि बयोनिन मां हिक गा॒ल्हि तह साफ आहे तह श्री श्रीकांत साईंअ ते हिअर बो॒ली नह पर सियासति हावी आहे, जहि सबब संदसि बयान थो दे॒। जद॒हि खां साईं ऐन. सि. पि ऐस ऐल जा उप प्रधान चिंडया वया हवा तहि साईं देशभर जे दौरे मां इहो ई हथ कयो अथईं तह सिंधीयुनि खे हिक नेक सियासतदानि  जी सख्त जरुरति आहे ऐं इन जरुअत खे खेनि ई पूरी करणी आहे। इन गा॒ल्हि में दा॒ढ़ो घटि शकु आहे तह सिंधुयनि खे हिकु ऐडहे अगवाण जी जरुरति आहे जेको संदिनि आवाज खासि करे मिड़यो जे अग॒यो रखे। पर उनि खा भी वधिक जरुरति इहा आहे तह सिंधी बो॒ली जी जेको पहिजे वजुद जी झंघ पई लड़े , तहि जे वाधारे ताइ कदम खयां वञिन। हाणे गा॒ल्हि इहा आहे तहि छो ऐन. सि. पि ऐस ऐल जो इस्तमाल सियासति जे लाई पयो थे । ऐन. सि. पि ऐस का आम रिवाजी बो॒ली ऐं साहित्य जे वाधारे जी संसथा नाहे। इन तंजिम खे के खासि हक दिञा वया आहिनि, जिअं सुबनि में सिंधी आकादमियनि ते भी किक किस्म जी नजरि रखि वञे। हे इहे कम आहिनि जेके कहि भी सियासतदानि जे वस खां बाहिरि आहिनि।

जेको हालु ऐन. सि. पि ऐस जो आहे सो लग भग हर सिंधी संसथा जो आहे। इन गा॒ल्हि में को भी शकु नाहे आर्बी सिंधी जे भेट में देवनागरी सिंधी खे सिंधी कहिं हदि ताई बदकिसमत रहि आहे। जेतोणेक देवनागरी सिंधी खे कनि सिंधी साहित्यकारनि जो साथ मल्यो हो पर संदिनि भी देवनगरीअ में को घणो कोनि लिखयो। जहि सबब देननागरी सिंधी खे कहि हद ताई साहित्य जी नजरि सां कमजोरि पेईजी वई। अजु॒ जेको भी सिंधी अकादमियनि में थी रहयो आहे सो इन सबब ई आहे। जेसिताईं श्रीकांत साईं जी गा॒ल्हि आहे तह हो ऐड़हा बयानि सांदहि पयो दिं॒दो अचे, बदकिसमीतीअ सां कहि भी सिंधी इनि बयानिन जी मखतलिफ कोन कई। हाथयूं कहि कहि तह सांईअ खे हिमतायो भी। लिपी बाबत संदसि राये मां इहो थो तगे ज॒णु साईंअ खे इहा खबरि कोन्हे तह हुकुमति बो॒लीअ जे सतलिम करण महल बि॒नहिनि लिपयूनि जे वजुदि खे मञिदे लिपी जी फेसलो सिंधुयूनि थे छदो॒ , छाकाणि तह इहो सिंधुयूनि ते आहे तह हो केड़हि लिपी था अपञाअण चाहिनि। जेका गलति अंग्रेजनि कई सा हिंदुस्तानि जी सरकारि दोहराअण नह चाहि। लिपि ते संदसि ब॒यो भी हिक बयानि सांइअ दि॒नो आहे तह छाकाणि तह अर्बी लिपी में लिखिंदड हिंअर ग॒णप मे 30-40 ई मस जेडहा रहया आहिनि सो देवनागरी लिपीअ खे ई तसलिम कयो वञे। (सायदि श्री श्रीकांत भाटिया खे जा॒णि नाहे तह इहे 30-40 लेखक ई हिंदुस्तानि में सिंधी बो॒लीअ खे जिंदो रखि वेठा आहिनि।)

लिपी मटणि जो कमु रुगो॒ नई लिपि जे अपनाअण सां ई नथो निंबरे। इहो जरुरि आहे तह इनि लिपि में उहे सब सहुलयतूं हुजिनि जेका कहि भी बो॒ली में हुजनि थयो। मिसालि जी गा॒ल्हि किताब मेसर करण, नई लिपि सिखण जा किताब जूं सहुलयतूं , लुगतयूं (शब्द कोश) ऐं पहिजी बो॒लीअ ऐं कोम सां वफादारि। का भी लिपी अपनाअण महलि के मसला पेश अचनि था। साग॒या मसला अर्बी सिंधी सां भी हुवा। अंग्रेजनि जे महलि लिपी ते तजर्बा पिणि थया। बदकिसमतीअ सां देवनागरीअ ते संदसि पहिरें दिं॒हि खां ई वार पया थेनि। वरि देवनागरी में वदकिसमतिअ सां उनहिनि माण्हुनि जी बरमारि हुई जेके सिंधी बो॒ली सां वफादारि हुजण बिदरौं रुगो॒ हिंदी हिदु ऐं हिंदुस्तानि जे नारे जा मायलि हवा। जहि सबब सिंधी सां दिलो जानि सां वफादारि नह रहया,ऐं इन जो नुकसानि अजु॒ ताईं सिंधी कोम खे मारे थो पयो। असां जेड़हा मसला मराठिनि ऐं गुजरातियूं खे भी आहे। हे भी हिंदु आहिनि ऐं कहि हदि ताईं हिंदु कठरपणो सिंधियनि खा बी बधिक आहे, पर इनि जे बावजूदि संदिनि कद॒हिं भी पहिजी बो॒लीअ खे हिंदी –हिंदु-हिंदुस्तानि सां गं॒दे॒ कोन रखी। हिंदुवादि थिअण को भी दो॒हु नाहे पर हिदुवादि ते पहिंजी बो॒ली जी आजाई कूर्बानी देअण यकिनं दो॒हु आहे ऐं पहिजे कोम मां बेवफआई आ।

देवनागरी सिंधीअ जो सभनि खां वदी॒ अहमियति वारि गा॒ल्हि इहा आहे तह इहा हिक ध्वनितामकि (Phonetic) लिपी आहे जेका उऐं ई लिखी वेंदी आहे जिअं बो॒ली गा॒ल्हाई वेदि आहे। साग॒यो ई हालि हिंदुस्तानि जे लग भग सभिनि लिपयूं जो आहे (उर्दू खां सवाई).  जहिं सबब इहा तनि लाई तमाम सहुलियति वारि थिंधी आहे जिनि खे गा॒ल्हाअण तह अचे थी पर लिखण नथी अचे। सिंधी छो तह टरयलि पिखरयलि आहिनि, हिक ध्वनितामकि लिपी यकिनन मददगारि साबित ति थी सघे। इन जे भेटि में आर्बी सिंधी में ऐड़हा चङो लफज आहिनि जेके गा॒ल्ह्या हिकड़े नमोने आहिनि पर लिखण महलि साग॒यो तरिको कोनि अपञायंबो आहे। वरि अखरि , लफजनि जी शुरुआति , विच ऐं पिछाड़ीअ में मुख्तलिफ में लिखयो वेंदो आहे। सिंध में ऐडहयुं गा॒ल्हियूं कोन आयुं छा काणि तह असीं हिक ई सुबे में हवासिं ऐं इन गा॒ल्हि खे भी नजरअंदाजि नथो करे सघजे तह सिंधी ननढ़े खां ई सिखण सबब, इहे मसला कद॒हि कोन पेश आया। असीं जेसिताईं लिपीअ में कहि हदि ताईं थोड़ी घणी फेर घारि नहं कंदासिं तह सिंधीअ खे हिंन मुल्क में हमेशाहि पहिजे वजूद जी लड़ाई लडणी पवंदी।

जेतिरो नाणो हिंदोस्तानि जी सरकारि सिंधी ते खर्चेपई ऐतरो तह सिंध में भी नह पयो ख्रर्चो वञो। इन जो बावजूदि सिंधी सिंधी बो॒ली ऐं संसथाउं जा हालति कयासि जोगी॒ आहे। अजु॒ सिंधी संसथाउनि जी हालत इन सबब जी खराब आहे छाकाणि तह को भी लूलो लङड़ो सिंधी अकादमियुनि जो सरबरा थी थो सघे, भले खेसि सिंधी लिखण पड़हणि अचा या नहि। अजु॒ वकत अची वयो आहे तह असीं सिंधी बो॒ली के किमत ते थिंदड़ सिंयासी अगवाणन जी सियासि उमेदिनि ते रोक लगायों ऐं ऐड़हनि सिंधीयुनि खे हथ सिंधी अकादमयुं जी वागयु द॒उनि जोके सिंधी बो॒लीअ लाई को योगदानि द॒ई सघिनि। जेकद॒हि असी इऐं ई बो॒ली ऐं कोम खां मुहु मोडे वेठा रहयासिं तह सिंध वाङुरि सिंधी बो॒ली पिणि सिंधियुनि जें हथों निकिरि वेंदी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *