Blog | ब्लाग | بلاگ

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

इत्हास ऐं उन ते दारूम्दार रखिंदड कोमिप्रसती सिंधूनि (हिंदु बरादरीअ) ते कद॒हि को घरडो असर कोन छद॒यो, ना ही सिंधीयूंनि को इत्हास खे याद करण या उन मां सिख वठण जी का जरुरत ई महसूस कई आहे। पहिंजी विञायलि विरासत खां परे थियलि सिंधी बिरादरी पिछाडीअ जे 1300 सालनि में रूगो॒ पहिंजे पाण खे जिंदो रखण ही हिक वदी॒ किरामत पई समझी आहे। इहो ई सबब आहे जे माहाराजा दा॒हिसेन बैदि असीं ऐडही का भी सियासी शख्शियत तोडे सोच कोन पैदा करे सघयासीं जेका सिंधी हिंदु बिरादरीअ खे कही हद ताई पहिंजी विञायलि विरासत खे बि॒हर हासिल करण लाई जाखडे लाई तयार करा सघे।

अंग्रेजन जे सिंध फतहि खां अग॒ हिंदु सिंधीयूंनि जी हालत बाबत सिंधी  लेखक लाल सिंह हजारीसिंह अज॒वाणीअ लिखे थो तह जेतोणेक अंग्रेजन जी हकूमत पिणि हिक परदे॒हि अण सिंधी हकूमत हई पर उहा हकुमत हिंदु सिंधीयूंनि लाई बे-ढप जिंदगी गा॒रण जी राह खोली । जेतोणेक अंग्रेजअ पिणि परदे॒ही हवा पर हिंदुनि खे हजारल सालनि बैदि मूसलमानि हूकूमरानन जे  जुलमनि खां निजाद मिलि। (हवालो द हिस्टरी आफ सिंधी लिटरचर, साहित्य अकादमी नई दिल्ली)। इहे हकिकतूं इन गा॒ल्हि जी शाहिद आहिनि तह महाराजा दा॒हिर सेन बैदि ऐं अग्रेजनि जे सिंध अचण ताई सिंध जी हिंदु बरकादरी हमेशाहि पहिंजो वजूद खे सोघो करण में ई पूरी रही।

बदकिसमतीअ सां पहिजे विरासत खां भिटकयलि सिंधी कोम अंग्रेजनि जे दि॒हिनि में समाजिक तोडे सियासी रित उभरी तह अचण में कामयाब थी- पर ऐडही हालतुनि जे मार्फत पहिजे वजूद खे सोघो करण बजाई खवाह ऐडही का भी सियासी सुजाग॒ता कोन पुख्ति रित अवाम अगयां अणे किन सघी जहिं सबब पहिंजो वजूद ऐं इंदड टेहीअ लाई सिंधी थी हूअण जी राहि कहि कदुर सहूली थी सघे।

विरहांङे महल सिंध में हिंदु  सिंधी बिरादरी, सिंध जे मूल आबादीअ जी 35 सेकिडो हई, इहा भी पहिंजे पाण में हरु भरु का नंढी आबादी नाहे। साणु साणु इअं भी मूमकिनि नाहे तह अंग्रेजनि हिंदुनि खां संदुनि मस्तकबिल (भविष्य) बाबति रायो किद॒हिं जा॒णण की कोशिश ही नह कई हूजे। इहो किअं मूमकिन आहे तह जेका विरादरी सिंध में ऐतरी कदर उभरू आई आहे, नोकरशाही, तालिम तोडे धंधे में जहिंजो ऐतिरो रुतबो हो तन खे नजरअंदाज करे अंग्रेज रूगो॒ सिंध ऐसेलंबली में घणाई में रहिंदड सिंधी मूसमानि खे ई रूगो॒ ऐहमियत दि॒ञी हूजे।

इत्हास गवाह आहे तह इहा बिलकुल पक हूई तह हिंदुस्तानि जे मूसलमानि पारां लद॒पण थिंदी। लद॒पण जा गा॒ल्हि नह रूगो॒ मौलाना अबू कलाम आजाद सरेआम कंदो हो पर केरु थे विसारे सघे पीर महमद राशदी ऐं जी ऐम सईद खे जनि खे हिदुनि जो उबरी अचण अची ऐतिरो सतायो हो जे बिहारी ज॒टनि आगा॒या पहिंजा मूल्क हूंदे, पहिंजो हथनि में हूकूमत हूंदे पहिजा गो॒दा॒ टेकया ज॒णु हिंदुनि संदुसि उथण वेहण हराम कयो हूंजे। हाणे सवालु इहो आहे तह छा इहो सभ काफि किन हो इहो समझण लाई तह हिंदुनि जी सिंध में हालत सागी॒ कोन रहिंदी !!!

सवालु इहो भी थो अचे तह केडही सोच तहत ईहो ममझयो वयो हो जे सिंध दा॒हिं हिंदुस्तान मां मूसलमान जी लद॒प नह थिंदी। जेकरि लद॒पण नह भी थिऐ तह छा सिंध जा मूसललिम लिगी अगवान जनि पहिंजो सियासत रूगो॒ हिंदुनि जी मलकतयूं फबा॒अण जे हिर्स नसबत कई से हूकूमत में अचण बैदि माठि करे वेहिंदा। छा साणसि विसरी वयो हो तह किअं सिंध जो बंबई प्रेसिडेंसी मां धार थिअण या वरि मसजिद संजीलगाह वारा मसला रातो रात सिंध जा मसलना खा वदा॒ हिंदु मूसलिम जा मसला करे पेश करण में कामयाब थीया हवा। तह किअं हर मसले ते सिंध जा मूसलिम लिगी॒ अल्हा बख्श सा वेरु पातो हो ऐं नेठि तंदुसि खे शहिद करे ई माठ थिया। अल्हां बख्श सूमरो तोडे भगत कुंवर जूंदतु उन वक्त जूं वद॒यूं ऐतहासित वारदातूं हयूं जहि खे असी सही रित समझण में कोन सघयासिं। इन जे तह ताई कोन पुजी॒ सघयोसिं।

अल्हां बख्श जी हूकूमत जेका हिंदु मेंबरन की मदद सा ढही। जी ऐम सईद, पिर मूहूमद राशदी, आब्दुल माजीद सिंधी, अयूब खूरो तह अग॒वाटि ई अल्हां बख्श के कद हवा पर छा इहो नाहे तह सिंध जे तहि महल हिंदु मेमबरनि अल्हा बख्श जी हूकूमत ढाहे इनहिन सिंध दुशमनि जा हथ सोघा कया ? छा असी सिंध पिछाडीअ जे 80 सालनि में कद॒हि इनहि सियीसी गलतियूंनि खां सिख वठण जी कोशिस कई आहे ? इहो सबब हो तह जद॒हि हिक पासे सिंधी मूसमानि हिदुस्तानि मां लदे॒ इंदड मूसलमानि खे वसाअण में पूरा हवा बे॒ पासे हिंदु सिंधी पहिजे ई मूल्क में परदे॒हि थी पया !!! सिंधअ मां लदे॒ आयलि हिंदुनि लाई जाखडो कंदड श्री हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे –साईं जेकरि जेरामदास दौलरराम जा वारिसअ लद॒नि हा तह भी समझी सघबो हो पर हो पर हो तह पाण ई लद॒पण कई। जद॒हि पाण ई लद॒णो सोसि तो हून केडही सोच तहत ईहो रायो दि॒ञो हो तह सिंधी हिंदी विरहांङे बैदि सिंध में ई रहा सघींदा !!!!!

गा॒ल्हि रूगो सिंधी सियासतदानि जी ई नाहे। पिछाडीअ जे 65 सालनि में जेकरि कहि जो सिंध सां सांधई वाटि रही आहे सो आहिनि सिंधी साहित्य जी लेखक बिरादरी। ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंद जे सिंधीयूंनि लेखकनि खे सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति खबर नह हूदी पर इन जे बावजूद संदुनि के लिखणी तोडे वातोऊ कद॒हि भी हिदुनि ते थिदड जूलमनि बाबति शायदि ही को लफजु उकिरो।

मां जद॒हिं ईंडयनि इंस्टियूट आफ़ सिंधोलाजीअ जे डाईरेक्टर श्री लखमी खलाणीअ सां सिंध में हिंदुनि ते थिदड जूलमनि जो जिक्रु कयो तह संदुनि पिणि चवण हो तह असी सिंध मां निकरी आयासी इहा भी का नंढि गा॒ल्हि नाहे। जेकरि असी पिणि तहि महल सिंधी मूसलमानी के कुडी दिलजाई ते वेसाउ कयूं हा तह सायदि रतु जा गो॒डहा असां खे भी वहायणा पवनि हा। इहो नह नह हूनि अग॒ते चया आऊं सिंध जे शिकारपूर शहर में ऐडहनि सिंधी वाणियनि सा भी ग॒द॒यो होसि जेके लद॒ण लाई मांदा पई नजर आया। संदुनि चवण हो तह जेकरि पहिजी मलकतयूं को अधके अध में भी को जेकरि जो वणजण ताई त्यार होजे तह भी विकणे लदे॒ हिंदुस्तानि सुख जो साहू वठऊं। बदकिसमतीअ तह इहा इ रही आहे जे ऐडहयूंनि हकिकतुनि जो कद॒हि भी जिक्रु करण वाजिबु किन समझयो आहे ।

जिन विरहांङे बैदि सिंध में रही सठो सो भी खुली तोर लिखण खां पासिरा ई थिंदा रहया आहिनि। सिंधी कवि हरी दरयाणी दिलगीर जो कि 1965 में सिंध मा लदे॒ गांधीधाम वसो। पहिंजी आत्म कहाणी में संदुनि रूगो॒ इशारा दि॒ञा हवा तह किअ सिंधी में विर्हांङे बैदि माहोल जो फाईदो सिंधी मूसलमान पई वठण शुरु कयो। हून पाण भी लिखो आहे तह विरहांङे बैदि उमालक हिंदुनि पाण खे हिक म़टयलि सामाजिक माहोल में पातो जहिंजो फाईदो हर तब्के जे सिंधी मूसलमानि कहि नह कहि सतहि ते पई परतो।

हिंदुस्तानि जे सिंधी लेखकनि इंअ तह लद॒पण या 1947 ताई हिंदु मूसलिम माहोल बाबत तह जाम पई लखो पर जेसिताई 1954 बैदि थियलि लद॒पण ऐं सिंध में सिंधी समाज जी गा॒ल्हि कजे तह हूनिनि माठ रहि रूगो॒ सेकूलरिजम जी कूडी माला ई जपण में पहिंजी भलाई समझी आहे। इहो ई नह पर अजु॒ भी जद॒हि सिंध जे हिंदुनि पारां या वरि किन सिंधी कोमिप्रसतनि पारां पूरे सिंध में लद॒पण जे विरोध में ऐतजाज पया थेनि, दे॒ह – परदे॒हि जी अखबारुनि में सांधई अहवाल पया शाई थेनि शायदि ई कहिं सिंधी लेखकनि तोडे लेखिकाऊ सिंध में बचयलि हिंदुनि के सुरनि बाबत कजह लिखण जी जरुरत महसूस कई आहे!!!

सिंध में खासि करे मूसलमानि में लद॒पण जे नसबत सभिनि खे पहिंजा पहिंजा राया आहिनि। को चवे तह साईं हिंदु द॒कणा थिंदा आहिनि सो था बदमाशनि जे जूलमनि खां था पया लद॒नि, के वरि चवनि तह साई हिंदुनि खे अण सिंधीयूंनि में सङु करणो हूंदो आहे सो पया सिंध मां लद॒नि ऐं किनि खे तह हिंदुनि जा सुरअ ब॒धी उमालक पहिजा सुर यादि था यादि अचनि मसलनि हिंदु जेकरि लदिं॒दा तह सिंधी पहिंजे ई सुबे में थोडाई वारा साबित थिंदा, मार्कट में सिंधीयूंनि जो जोर घटिबो (वाणियनि जे लद॒ण सा), के वरि चवनि तह सिंधी हिंदु किअं धर्ती माउ सिंध खां परे थी था सघनि वगीराह वगिराह। वरि वदे॒रनि तोडे भोतारनि जा धार सुर ऐडहा निधीकणा मजूर किथु मिलिनि जनि ते जिअं वणेनि तिऐं जूल्म कनि।

सिंध मां लदे॒ आयलि सिंधी भिल सुख राम (नालो मठयलि) जहि सा आऊ जोधपूर में गद॒यूसि मूखे चयो तह किअं हूं छो ऐं किंह सबब हून सिंध मां लद॒ण जो फैसले कयो। हून चवण शुरु करण तह अदा, अदा सिंध में हिंदु थी रहण हिकु वदो॒ जूल्म आहे। धार्मिक आजादी नाले जी का भी शई नीहे। गीता जो पाठ छा पढउं तऊं अची मथे थे अची विहिनि- चवनि छदो॒ हे रनअ जो पाठ। नियाणियूंनि जे अग॒वा थिअण जो खौफ सबब, असी तह नियाणयूंनि खे पढअण खां आगे॒ ई तोभां कई आहे। वरि पुटनि खे जेकरि कहि नमूने स्कुलनि में जेकरि दाखिलो मिली भी थो वञे तह खेनि पढाअण पर परे असांजे ओलादुनि खां स्कूल जा काकुस पया साफ कराईंदा आहिनि। गो॒ठ जे वदे॒रे जे खेतनि में कुम भी कयूं तह बि॒णो कम तह वठे पर मजूरी दे॒अण महलि उभतो हिसाऐ, मारा दे॒नि या कतल भी कनि।

हून अगते चयो साईं जेसिताईं हिंदु जिंदाहि रहिनि तेसिताईं सिंध में  मूसलमानि वेरु तह पाईनि पर मोऐ बैदि भी जिंदु किन था छदी॒नि।  मोऐ खां पोई  शमशान ते अग्नी भी नसिब नथी थिऐ। लाश खे सारण तह परे असां खे तह पहिजे मोअलनि खे तह दफनाअण भी किन दे॒नि। मूअल लाश खे गंगा जल सा स्नान भी कोन कराऐ सघऊं। मां पहिजे पिणसि जी लाश खे दर दर खणि भिठकयो आहियां। को दफनाअण जी भी मोकल नह दे॒। नेठि पहिजे पिणस जो बा॒रहो भी कोन कयूंमि, लद॒ण जी तह अग॒वाटि पक हूई सो विना बा॒रहें कऐ हलयो आयूसि।

मूसलमान गो॒ठ में वरि दफनाअल लाश ते टेकचर हलाईनि। ब॒यो तह ठयो पर हिक 9 सालनि के नेंगरीअ की लाश मिठीअ मां कदी॒ बा॒हर फिटो कई। इहे वाक्या सिंध जे गो॒ठ गोठ में पया थेनि। असीं जेकर नह लद॒उ तह नेठि छा कयूं ???. गा॒ल्हि रगो॒ असी भीलनि जी नाहे ऐडहा जुल्म घठ मथे हर हिंदुअ सा पया थेनि।

 

सुख राम (नाले मटयलि) जेकरि सेकिडो सचु किन थो गा॒ल्हिऐ तह अगो॒पोई कूड भी कोन पई गा॒ल्हियो। रिंकल कुमारीअ जो अग॒वा थिअण तह सिंधु साणु पूरी दुनिया पई दि॒ठो तह किअं पहिजी नयाणी जे रिहाई जी लडाई लणिंदड रिकल कुमारीअ जा माईट हिकु हिंदु करे सिंध वादाईंनि पया। सिंध मां शाई थिंदड अवामी आवाज सां गा॒ल्हाईंदे रिंकल कुमारीअ जे घर वारनि चयो तह खेनि घर में कम कंदड मेंघवार जाईफुनि खां चवायो वयो तह माठि करे घर में मानी खाओ या सरे आम सोटी खाओ . रिकल जा घर हेकला नाहिनि। अञा महिने अग॒ हिंदुनि जे हिमायति में अवाज उथारिंदड वजील मल मारवाडीअ खे अग॒वा करे कतल कयो वयो। अग॒वा, लूटमार, नयाणियूंनि जो जबरनि ईसलाम कबूल कराअण, भतो वसूलण ऐ जेकरि जो विरोध करे तह कतल करे रखण आम गा॒ल्हि थी पई आहे। बलूचिस्तान जे मसतूंग शहर मां लदे॒ आयलि हिकडे हिंदु हिंदुस्तदान जे हिक अख्बार साणु गा॒ल्हईदे चयो तह सिंध तोडे बलूचिस्तान में हिंदु रहिनि जरूर था पर रहण जेडहयूं हालतु नाहिनि ।

सिंध में कहि भी हिंदु लाई हिंदु थी रहण को सहूलो कम नाहे। जेकरि अव्हां कहि भी हिंदुअ खां संदुनि दीन धर्म बाबत पुछिंदा तह अव्हां खे जवाबु मिलिंदो –आउं अण-मूलसमानि आहियां, हू पहिंजी हिंदु  हूअण जी सुञाणप तद॒हि दिं॒दो जद॒हि अव्हा खेसि पंच – छह भेडा किन  पूछीदा या हू कहि सबब मजबूर किन थिंदो। हिंदुनि खे हिसाअण सिंध में आम गा॒ल्हि आहे। सिंध में हिंदु चवनि तह असी हिंअर सोन जा आना दिं॒दड मूर्गी करे लेखया वेंदा आहियूं। सिंध जा हिंदु नूमाईंदा जेडहा आहिनि तेडहा नाहिनि। अजु॒ भी जद॒हिं सिंध में 1947 जेडहयूं हालतु आहिनि तद॒हि हूनिनि मां शायदि ई कहिं पाकिस्तान पिपिलस पार्टी छद॒ण लाई त्यार आहे इहो जा॒णिंदे भी की हिंदुनि ते थिंदड जूलसमनि में वदे॒ में वदो॒ हथ पाकिस्तान पिपिल्स पार्टी जो रहयो आहे – उहो भले ई रिंकल, आशा या लता जो हूजे या वरि चक, पूञेआकिल में हिंदु जो कतल हूजे। अजु॒ जद॒हिं सिंध में चूंडयूं मथे ते आहिनि तह खेनि पहिंजा हिंदु भाऊर पया याद अचिनि। हे इहे ई अग॒वान आहिनि जेके पहिंजे औलाद खे तह हिंदुस्तानि लदा॒ऐ छदनि बाकि आम हिंदुनि खे वेठा सिंध धर्ती नह वांदाअण जो पाठ पढाईनि।

सिंध में हिक जबरदस्त कोशिश रही आहे कहि नह कहि नमूने इहा लद॒पण खे रोकिजे, हिंदुनि खे लद॒ण नह दि॒जे ऐं हिंअर तह पाकिस्तान हकूमत पारां भी विजा हूंदे भी हिंदु खे हिदुस्तानि लद॒ण खां रोकयो पयो वञे, संदुनि हिंदुस्तान वञण जूं टिकेटां रद पयूं कयूं वञिनि। सिंध मां भले कहि भी तब्के जो हिंदु छोन नह हूजे हू लद॒पण हमेशाहि ई लिकी गुझायप में थो करे। सिंधु जी गादी कराची मां लदे॒ आयलि ऐं अहमदाबाद में वसेयलि हिक डाक़टरअ साणसि जद॒हि आऊ गद॒यूंसि तह हून साई पिणि सागी॒ गा॒ल्हि दहूराई तह साई असी तह पहिंजे मिटनि माईटनि ताई खे कोन द॒सयूं पहिजे लद॒ण जा गा॒ल्हि। संदुसि जोणसि पिणि पई चयो तह अदा, मां तह पहिजे पेके घर खे भी कोन बु॒धायो असी लदे॒ था वञउ जिऐं ओसे पासे कहिखे भी इन गा॒ल्हि जो छिड्रु ताईं नह पवे!!!!

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह लदीं॒दड हिंदुनि खे हिंदुस्तानि खे इंदे ई सुख था मिलिनि। हित नागरिकता जा वदा॒ मसला आहिनि। हिंदुस्तान में खेनि 12 साल ताई थो रहणो पवे ऐं इन बैद् भी नागरिकता कोन थी मिले। मसलो उनहिनि लाई वदो॒ आहे जनि खे नोकरी थी पई करणी पये, आम तोर सां पाकिस्तानी हूअण सबब को नोकरयूं नथो दे॒, नाई ई वरी सहूलियति सां मसवाड जी जाई थी मिले, हिक शहर खां बे॒ शहर में वञण खां अगवाटि हूकूमत खां मोकल थी पई गुरणी पऐ, जेकर कहिजो मिट माईटू बीमार भी हूजे थो तह जेसिताई धारे शहर में वञण जी मेकलि मिले तेसिताई तह बीमार माण्हू हिन फानी दुनिया मां मोकलाऐ थो वञे। मिटी माईटी में भी तकलिफयूं पयूं थेने सो धार, पहिंजे चाहि मोजीबु शहरनि में वसी कोन था सघनि, बारनि जी स्कुलनि में दाखिले में पई दिकत थिऐ या वरि गरिब तब्के मसलनि भील, मेघवार लाई हाथियूं वदी चटी इहा तह खेनि दलित हूअण जे वावजूद नागरीकता नह हूअण सबब का भी सरकारी मदद नथी मिले।

अजु॒ सिंध में 1947 वारयूं हालतु आहिनि या खणी चईजे तह 47 खां भी बदतर आहिनि तह वधाउ कोन थिंदो। विरहांङे वकत तह रूगो॒ शहरनि में पई गोड थियो पर हिंअर तह लग॒ भग॒ हर कुड कुर्च मां  सिंध में हिंदु लद॒ण लाईं मादां आहिनि। इहे केडहा सबब आहिनि जे सिंध मां लदे॒ आयलि हिंदुनि मोटी मञण जे नाले ते खौफ में था सिकूडजी वञिनि, पहिंजा पास्पोर्ट ताई पया साडिनि। सिंध मोटण जे बीदरा हू जेलनि में रहण ताई लाई कबूलिनि।।। गुजरात जे शहर अहमेदाबाद में लदे॒ आयलि मां डाकटर, सुठी बैक में सुठी पघार वारा नोजवान पिणि मिलया जेके तमाम घणनि तकलिफून खासि करे नागिरकता जे मसले नसबत तह सहण लाई त्यार आहिनि, मूशकिल माली हालत में रहण तह कबूलिन था पर सिंध मोटण लाई असुलि तयार नाहिनि। हिंकडे लदे॒ आयलि हिंदु सिंधी जो चवण हो तह जेकरि सिंध – राजिस्थान जी सर्हद रूगो॒ कलाकनि लाई भी खोली वई तह भी घट में घट हजारनि जी तादादि में लदिं॒दा !!!!

वाईडो कंदड गा॒ल्हि तह इहा आहे जे लद॒पण में या इन बैदि हिंदुस्तान में जाम तकलिफयूंन जे बावजूद लद॒ण जो चाहि वक्त सां घटण खां बिदरां हमेशाहि वधी आहे। 1971 जी हिंद-पाक लडाई महल 90,000 हिंदु सिंधी लदे॒ आया । तहि महल नह तह जिया हो ऐं नह ई मिया मिठू तह पोई छो इअं थियो ? इहो ई नह पर लद॒ण बैदि हिंदुस्तान हकूमत जे लख कोशिशन जे बावजदू छो हो मोटी सिंध कोन वया ? चवदां आहिनि तह खेनि हिंदुस्तानि मां मोटाअण लाई जेलन में बंद करण ऐं ऐतजाज करण ते गो॒लयूं ताई हलाअण जी धमकयूं दि॒नयूं वयूं पर इन जे बादजूद हो कोन मोटया। हिंदु सिंह सोढा जो चवण आहे जेकरि हिंदुस्तान पाकिस्तान जी सर्हदयूं टिन दि॒हनि लाई भी खोलयूं वयूं तह शायदि हिकु भी हिदु सिंध में कोन बचिंदो। इहो सब इन जे बावजूद जे कराचीअ तोडे बलूचिस्तान मां खोखरापार पूज॒ण में हिकु दिं॒हूं जो पंधु आहे। इअं छो पयो थिऐ, छा लाई पयो थिऐ इअं छो पयो थिअण दि॒ञो वञे … इनही सभ सवालनि नह तह हिंद जा सिंधी अग॒वान ऐं नह ई सिंध जा हिंदु अग॒वान कद॒हि भी संजिदगीअ सां विचार करण जी जरूरत महसूंस कई आहे।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह हिंदुस्तानि के सिंधी अगवानन जी हिंदुस्तानि जे हूकूमत हलाईंदडनि ताई पुज॒ण जी सघ नाहे पर असीं हिंदु सिंधीयूंनि पहिंजी सिंयासत ई ईन रित तयार कई आहे जे पहिजे बिरादरी लाई कहिंखे मिंथा करण दो॒हू समझिंदा आहियों। हर कहि व़ट पहिंजो पहिजो मिहूं आहे। गा॒ल्हि रूगो॒ हिंदुस्तान जे सिंधीयूंनि जी ई नाहे पर ऐडहो वरजाउ सिंध में हिंदु नुमाईदन जो कहयो आहे वरी जेकरि को मिसकिन माण्हू हूजे तह उन जी वाई बु॒धे केरु।

ऐडही गा॒ल्हि नाहे तह सिंधी ई हेकली बरादरी आहे जहिंजा अवाम परदे॒हि में था वसनि। हिंदुस्तानि में तमिलनि जो हिकु हिस्सो श्रीलंका में रहे थो , हिंदी गा॒ल्हिईंदड जो हिकु तब्को फिजी या मोरिशियस  में थो वसे वरि अजु॒ भी हिंदु बंगालिन को हिकु हिंस्सो अजु॒ भी बंगलादेश में रहे थो पर इन जे बावजूद उनहिनि कोमनि लाई संदुनि परदे॒हि में रहिंदड बीरादरी उपरा (धार्या) नाहिनि। हिंदुस्तान जी संसद में सिंध तोडे पाकिस्तान जो मसलो राज्य सभा तोडे लोक सभा में आयलि आहिनि पर बदकिसमती ऐडही आहे जे नह तह बहस में आदवाणी नाह ही जेटमलाणी कजहि गा॒ल्हिअण जी जरूरत महसूस कई जद॒हि तह हर सिंधी जलसे में खेनि घुराऐ सिंधी पहिजी शान समझींदा आहिनि। इहो ई नह खेनि सिंध में थिंदड जूलमनि बाबत जा॒ण हूअण जे बावजूद कहि खा भी हिकु खतु परदे॒हि तोडे प्रधान मंत्री दा॒हि लिखण कोन पुगो॒।

पाकिस्तान जो 95 लेकिडो हिंदु सिंध तोडे बलूचिस्तान में थो रहे या खणि चईजे तह सिंध अवाम आहे पर इने ऐकड बे॒कड जलसनि खां सवाई हिंदु सिंधी माठ ई रहया आहिनि ज॒णु कदहि कुझ थियो ई नह हूजे। असीं उहे ई सिंधी आहियूं जिन राम मंदिर जे जाखडे महल वदा॒ हिंदु थी विठा हवासि इहो विसारिंदे की बाबरी मसजीद जे ढाचे जे ढहण बैदि लिङ कादा॒ईंदड जूलम हिंदुनि सां सिंध तोडे बलूचिस्तान में थिया। असी तहि महलि भी पाकिस्तानी सिंधीयूंनि ते थिंदड जूलमनि जो समाउ कोन वरतो नह ई उन जो समाउ वठण जी जरुरत ई महसूस कई नह ई अजु॒ पाकिस्तानि में फातलि सिंधी हिंदुनि लाई का वदी॒ आवाज उथारण लाई त्यार आहियूं।

चवंदा आहिनि तह जेकरि कहि कोम खे नासु करणो हूजे तह उन कोम जे इतहास खे ई खतम कजे। सिंध फतहि बैदि अर्बनि सभिनि खां अग॒वाटि सिंध इहो ई कम कयो जहिंखे असीं हिंदु सिंधी पया दहूरायो। हिंदुस्तानि इंदे शर्त ई सिंधी हिंदु अगवान इनही वाट ते ही हलया। खेनि खबर हूई जेकरि हिंदु सिंधी, हिंदुस्तान में पहिजे वजूद खे विरारे जुदा जुदा कोमनि में सिमजी वेंदा तह को भी खेनि सिंध में दहूरायलि पुछिंदो ई कोन। आचार्य क्रिपलाणी तह सरे आम चवंदो हो तह सिंधीयूंनि खे सिंध विसारे जदा जुदा कोमनि में अटे में लूण थी वञणो खपे।  जोधपूर में हिक लोहाणे तह मूखे चई दि॒ञो तह साई असी भील, मेघवार, कोली या वरी सोढनि खे सिंधी करे कोन लेखिंदा आहियो भले हू संदुनि मादरी बो॒ली सिंधी छोन नह हूजे। इहो इन जे बावजूद जे असीं विरहांङे खां अगु॒ हजारनि सालनि खां  साणसि रहयासिं ऐं हिअर छह द॒हाकनि जे अंदर ई असीं खे अण सिंधी करार था द॒ऊं।

असीं रिवाजी सिंधी भले पाण खे केतिरा नह वदा॒ निज॒ हिंदु या हिंदुस्तानी कोठायूं पर पर कहि नह कहि दि॒हूं , कहि नह कहि हंद असा खे हिंतोउ जा मूल वासी जरुर समाल कंदा तह साई जद॒हि अव्हा पहिजनि जा नथा थी सघो तह असांजा किअ लेखिबा…..

इन सवाल लाई हिंदुस्तान में वसयलि हर हिंदु सिंधी खे तयार रहणो खपे।

One thought on “लद॒पण, सियासत ऐं सिंधी हिंदु कोम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *