रिंकल जूं मिंथां

सुधीर मौर्य हिंदी भाषा जो कवि तोडे लेखक रहयो आहे। हेल ताईं तंदुसि जा ड॒हि खनु किबात शाई थी चुका आहिनि। जा खां रिंकल तोडे अगवा थियलि सिंधी हिंदु नयाणयूं जे हिमायत में ऐतजात हिंदुस्तान में शुरु थिया हूं हिंन जाखडे में बराबर जो हिमायति रहयो आहे।

sudheer

जईफाउनि जे आलमी डि॒हिं ते हिंदी कवि तोडे लेखक सुधीर मौर्य को रिंकल जे नाऊं कविता ।

रिंकल जूं मिंथां

gzala shah

अजु॒ जी राति पिणि

कारी ई निकती

भिंभ कारी उंदाहि

छो लिखी डि॒नुइ

मूहिंजा साईं

नसिब में मूहिंजे

आऊं त बु॒धो हो

उभ जी भूंई ते

सरहदयूं न हूंदियूं आहिनि

उते को

हिंदु या मोमिनु नाहे

उते को

सिंधु या हिंदु नाहे

तूं मथे आहिं

इन रिवाजन खां

आखिर तूं

उभ वारो आहिं

पर वरि छा थयो

जे मूहिंजो सडु॒

तुहिंजे कनन ताईं

दसतक न डे॒ई सघयो

अडे मूंहिंजा साईं

अडे मूंहिंजा इशवर

आऊं अञा भी

तोखे

उभ वारो ई लेखिंदी आहियां

पर तूं छो

मूंखे

भूंई जी

निधिकणि कोन समझुई

अडे उभ वारा

नाउं यादि आथी न मूंहिंजो

आऊं रिंकल कुमारी आहियां

या वरि

तूं पिणि

मूंहिजो कोई ब॒यो नाऊं

रखि छड॒यो अथी

कवि – सुधीर मौर्य सुधीर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *