पाकिस्तानी हिंदु – नंढे खंड जो निंधिकणो कौम

पहुतासीं कहिड़े मागि वञी छापुछी कंदें
हां, डिसु त हिन सफर में
लंघियासीं किथां किथां…
सिंध खे कोन छडाए को सघे
सिंधियुनि खां,
सिंधु सिधियुनि में वसे
सिंधु हिते, सिंधु हुते

हे सटयूं महान सिंधी कवि श्री नारायण श्याम पारां हिक ऐडहे वक्त लिखी वयूं हयूं जड॒हिं सिंध जा शहर सिंधी हिंदुनु खां खसया वया ऐं हो पहिंजे ई मूल्क मां जलावंती थी हिंदुस्तान में दर दर जा थाबा॒ खाअण लाई मजबूर हवा। हे सटयूं इन लाई भी अहमियत थयूं रखिनि छा काण त इहे सटयूं कवि जे पहिंजे अजमूदे सां लिखी वयूं हयूं । विरहांङे सिंधी हिंदुनि ऐं खास करे लोहाणनि जे हर तब्के खे पहिंजे जड खां जिंझोरे छडो॒ हो। दिलचस्प गा॒ल्हि त इहा आहे जे ऐडहा विचार, राया न रूगो॒ लेखकनि तोडे कवियूं जा हवा पर आम सिंधी पिणि ऐडहा खुवाब डि॒सिंदे कोन थकबा हवा । विरहांङे जो धकु हिंदु सिंधीयूंनि लाई ऐतिरो जबरदसत हो जे खेनि संभलण जो को भी मोको ऐं न इ को वक्त ई मिलो । इहो हिक वडो॒ सबब हो जहिं जे हलिंदे सिंध जा हिंदु कहिं भी सूरत में सिंध सां पहिंजी वाट छिनर न पई चाहियो।

सिंध मां लड॒पण नसबत हिक दिलचस्प गा॒ल्हि इहा भी आहे जे जेतोणेकि मूसलमान पारां लड॒पण 1954 में निबरी वई पर हिंदुनि लाई इहा अजु॒ भी जारी आहे । जेकरि सिंध मां हिंदुनि जे लड॒पण जी गा॒ल्हि कजे त 1947 खां 1954 ताईं वारी लड॒पण जे भेटि में 1965 खां पोई थिंदड लडपण में ऐडहा जजबात वरली ईं नजर इंदा आहिनि। इहो पिणि धयान में रखजे त जिअं जिअं वक्त गुजरिंदो वयो सिंध मां लडीं॒दडनि जो सिंध सां मोहू घटे न घटे पर हिंदुस्तान सां संदुनि मोहू जरूर वधायो आहे। मूमकिन आहे त पिछाडी जे 65 सालनि खां सिंध में हिदुनि ते थिंदड जूलम सिंधीयूंनि हिंदु तोडे मूसलमाननि सिंधीयूंनि में वड॒यूं विछोटयूं पैदा कयूं आहिनि जेके वक्त बे वक्त घटण बिदरां वधयूं आहिनि।

हिंदुस्तान में सिंधी साहित्य जे पसमंजर में जेकर डि॒सजे त 1947 खां 1954 जी लड॒पण जी भेट में 1965 खां पोई वारी लड॒पण नसबत घटि लिखयो वयो आहे। विरहाङे महल सिंधी लोहाणानि खे  सिंध खे शहरि मे निशाणो बणायो वयो हो जहिं में वडो॒ किरदार हिंदुस्तान मां लडिं॒दड मूसमान निभायो – (मुहाजिरनि तोडे सिंध जा सिंधी मूसलमान सियासतदानि) जेतोणेकि बि॒हिनि जा मकसद भले धार हवा पर निशाणो हिकु ई हो – हिंदु मलकतियूं ऐं हिंदुनि जी खुशाल आबादी।

दिलचस्तप गा॒ल्हि इहा भी आहे त 1954 खां पोई लड॒पण न त महाजिरनि सबब थी ऐं ना हि रूगो॒ सिंधी लोहाणनि जी ई उहा लड॒पण हूई। इहा लड॒पण में वडो॒ किदार सिंध जे सिंधी पीर-मीर-वडे॒रे धाडलयनि जी मदद सां कई जहिंजी मार  सिंध जे हर हिंदु तब्के झेली में पई  छा भील, छा मेघवार, छा सोढा राजपूत या छा लोहाणा। 1965 में लडिंदड में वड॒नि लालनि में कवि हरी दिलगिर तोडे पाकिस्तान  जो नाऐब रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा हवा।  मलतब लोहाणन खां सोढन ताईं, लाडकाणे खां थर परकार ताईं को भी सघेरो हिंदु सोघो कोन हो। जड॒हि ऐडहयूं शख्शतयूं लडे॒ अचण लाई मजबूर थिंदयूं त आम मिसकिन माण्हू जो केडही मजाल जे हो पाकिस्तान में रहण जी हिमथ मेडे सघे।

ऐं थियो भी कजहिं इअं ई – 1971 में डेढ लख हिंदु सिंध जे थर परकार मां लडे॒ राजिस्तान तोडे कच्छ में वसया। हूनिनि खे तहिं महल जी इंदरा गांधी की सरकार पारां जाम दडका डि॒ञा वया। खेनि चयो वेंदो त जेकरि अव्हां मोटी सिंध न वया त अव्हां खे जेलनि में पूणण या वरि हकूमत जे फैसलनि विरूध सबब अव्हां जे ऐतजाज कयो त अव्हां ते गोलयूं लाई हलाऐ सघझिनि थयूं। पर इन जे बादजूद 1971 जी भारत-पाक लडाई महल लडे॒ आयलि हिंदुनि मोटी कोन वया। सिंध मोटी वञण जो खोफ खेनि मोटण कोन डि॒ञो। संदुनि लाई मोटी वञण मूमकिन भी कोन हो। हिंदुस्तान हकूमत नेठि इनहिनि लडे॒ आयलनि खे नागरिकता डि॒ञी जिन मां अधु राजस्थान वसया ऐं बाकि गुजरात जे कच्छ जिले में वसया ।

बहरआल जेसिसाईं गा॒ल्हि कजे 1971 खां पोई जे लड॒पण कंदड हिंदु ऐडहा खूशकिसमत नाहिनि रहया। नागिरकता मिलण ओखी ठाहि वई। लडिंदड हिंदुनि लाई अजाया कानुन में फेरबदल कया वया जहिंजी मार हर लडिं॒दड हिंदु थो पया सठे।

1971 खां पोई लडिं॒दड हिंदुनि जी भारतिय नगरिकता जी लडाई में हिंकु अहम नालो जेको सभिनि खां अगवाटि चपनि ते अचे थो सो आहे सिंमात लोक संघटनि जो। सिमांत लोग संघठनि जो वजूद 1990 धारे सिंध जे थर परकार जिले मां 1971 खां अगु॒ लड॒यलि ऐं पाकिस्तान जे अगो॒णे रेल वजिर श्री लक्षमण सिंह सोढा जे भाईटे हिंदु सिंह सोढा जो अचे थो। 1990 खां अजु॒ ताईं साईं हिंदु सिंह सोढा जी सर्बराही में हजारनि जी तादाद में सिंधी भील, मेघवार, कोली तोडे ब॒यनि जातियूं सां वाटि रखिंदड हिंदु सिंधीयूंनि खे नागरिकता मिली आहे। इन खां सवाई पाकिस्तानी हिंदुनि लाई खास करे हेठउ तबके लाई मसलनि भील मेघवार वगिरहनि लाई पोईते पवलि जातियूं जी सभूत दसतावेज हासिल करण, सिंध मां लडे॒ अचण बैदि ढिघे अर्से जा विजा हासिल करण, जेसिताई नागरिकता का हक जिले जे कलेकटर वट हवा तेसिताईं केपनि जरिऐ नागरिकता डेयारण वगिराह शामिल आहिनि।

इन खां सवाई सिंमात लोक संघठनि वक्त बेवक्त पब्लिक हेअरिंग या आम जलसा पिणि कराईंदी रही आहे जिन में लडे॒ आयलि सिंधीयूंनि खां सवाई  हिंदुस्तानि जूं अहम शख्शतयूं खे भी शामिल कयो वयो आहे जिअं हूनिनि खे भी समझ में अचे त लडे॒ आयलि हिंदुस्तान में भी केतिरे डु॒खनि में आहिनि।

पिछाडी महिने जी 20 जून आलमी पनाहिगिरिन डो॒हाडो (World Refugee Day)  हूअण सबब ऐडही हिक पब्लिक हिअरिंग जो बंदोबस्त कयो वयो हो जिन में शर्कत करण वारनि में समाज सेवक, रातिस्तान बार ऐसेसियशन जा ऐदेदार तोडे राजिस्थान महिला आयोग जी सदर पिणि मोजोद हुई । इन खां सवाई राजस्थान जी हिक समाज सेवी संथा पारां 30-32 खां शागिर्द तोडे शागिर्दयाणू पिणि मोजूद हयूं जिन लडे॒ आयनि हिंदुनि जे सिंध में डुखनि सुरनि जूं कहाणयूं पहिंजे प्राजेकट में शामिल कयूं।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

ऐडहयूं पब्लिक हिअरिंग तोडे आम जलसनि में सिंध मां लडे॒ इंद़ड हिंदुनि बाबत इन ड॒स सां काराईंतु थिंदयूं आहिनि छाकाणि त इन जलसनि जरिऐ सिंध लड॒यलि हिंदुनि जूं तकलिफयूं संसदुनि ई जुबानी बु॒धी पई सघजे। जलसे में जेके गा॒ल्हियूं सामहूं आयूं इहो कजहि हिन रित आहिनि ….

क)   राज्सथान जो विजा न मिलण-

इन जलसे में घणनि लडं॒दड हिंदुनि जो इहो इ चवण हो त असीं जथे जे विजा नसबत राजिस्तान जे विजा लाई दर्खासतयूं ड॒यूं पर विजा मिले हरिद्वार जो। हाणे असां नया हिन मूल्क में वरि लड॒ण वक्त डे॒ई वठी इसां वटि रूगो॒ मूशकिल जा थोडा ई पैसा बचिनि। असां खे जा॒णि वाणि छो भिटकायो पयो वञे। असीं गरिब हारीनि वठ ऐतिरो पैसो नाहे जे असीं पहिंजे जोर ते हिंदुस्तान में किथे भी वसी सघयूं। असां जी बिरादरी तोडे मिठ माईट सभ राजिस्तान में, पर असीं उतर हिंदुस्तान में थाबा॒ खाउनि।

ख)   लडिं॒दड हिंदुनि खास करे भील, मेघवार जातियूं जे बा॒रनि जूं पडहायूं विच में ईं बंद थी वञण

इन पब्लिक हेअरिंग में ऐडहा भी वाक्या सामहूं आया जन लाई हिंदुस्तान लडे॒ अचण बैदि संदुनि बा॒रनि जी पड्हाई अध में ई छडजी वई। हिक शागिर्दयाणी जो चवण हो त हिंदुस्तान सरकार पोईते पवजी वयलि जातियूंनि लाई आरकक्षण पई डे॒, कालेज जी फिसनि तोडे उमर जे लिहाज खां रियातु पई डे॒ पर इहे सभ तड॒हि मिलिन जड॒हिं आसां हिंदुस्तान जा नागिक थियूं जहिं में ड॒ह ड॒ह सालनि जो वक्त लगे॒। जेसिताईं असां खे नागरिकता मिले तेसिताईं त असां जो तालिम हासिल करण जो वक्त ई निबरी वञे। असीं छोकरियूं सिंध में अग॒वा थिअण जे ड॒प खां तालिम खां महरूम ऐं हिंद में कानुन असां जो साथ कोन डे॒। असां जा भाउर जी तालिम अध में ही बंद थी वञण सबब मूजूरी कन। असां जी निमाणी मिंथ आहे त असां जूं मजबूरियूं खे समझयो वञे।

ग)    लडिंदड हिंदुनि जूं घुमण फिरण ते पाबंधी

इन आम जलसे में ऐडा काफि लडिं॒दड हिंदुनि जो चवण हो त असां जे लेखे हिंदुस्तान असां जो मूल्क आहे ऐं असां खे जिते वणिंदो असीं उते ई वसी सघिंदासिं पर हित त हालत ई उभितर आहे। असां खे ज॒णु हिक ऐलाईके में कैद कयो वयो आहे। असा खे पहिंजे इलाईके जे 20 कोहि जे दाईरे खां बा॒हर वञण लाई हूकूमत खां मोकल थी वठणि पवे ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकरि असी इन दाईरे खां बा॒हर इअं बिना  मोकल वञउ त महिनि जा महिना जेलनि जूं सजाउ पईयूं भोगणयूं पवनि। ऐडा मसला हिक अधु न पर काफि हवा जन पहिंजे मिठन माईटनि डा॒हिं ग॒ड॒जण सबब वञि जेलनि में महिनि  जा महिना गुजारा आहिनि। हिक लोहाणो त इन हालत में पैसै जे जोर ते निजात पाऐ थो पर जेकरि गरिब भील मेघवार फाथे थो त उन लाई हिंकडो ई चारो बचे थो त हो हिरासत में वञि सजाउ भोगे॒।

घ)    सिंध में हिंदुनि सां थिंदड कहर

इन जलसे में सिंध, पाकिस्तान मां वेझडाईअ में 171 जी टोलीअ (जिन में भील ऐं मेघवार पिणि हवा) खे लड॒ण में मदद कंदड श्री चेतन दास सिंध में थिंदड जूलमनि जी गा॒ल्हि कई।

श्री चेतन दास बुधायो त अंदरूनी सिंध में किअं हिंदुनि  सां जूलम पयो थिऐ खासि पोइते पवलि हिंदु जातियूंनि सां। हून खास करे उन गाल्हि जो जिक्र कयो त किअं हिंदु सिंधी अग्नि संसकार ताई नथा करे सघिनि, त किअं हो पहिंजी हिंदु रिवायतुनि जे उभतर गुजारे वयलि माईचन जी लाश दफनाईनि, जहिं लाई भी खेनि जमिन लाई भी थाबा॒ था खाअणा पविनि। हून हिक वाक्ये जो भी ड॒सु डि॒ञो त किअं हिक अठ वरहयूं जी नेनंघर जी लाश जमिनि मां कडी॒ बा॒हर फिटो करण की कोशिस कई वई। मतलब हिंदु सां वेर न रूगो॒ हिंदुनि जे जिते जी पयो थिऐ पर इन जे जुजारे वञण खां पोई भी।।।. हून हिंदुनि सां थिंदड वयलनी जा जाम मिसाल डि॒ञा जिअं भील, मेघवार जे बा॒रनि खे किअं मूसलमान मासतर पडहाअण खां बजाऐ स्कूल का काकूस साफ कराअन, किअं हिंदु नेनगरयूं ते अगवाउनि जो खोफ सबब तालिम हासिल कोन करे सघिनि।

असां खां जेकरि विसरी किन वियो आहे त कजहिं महिना अगु॒ टेंडो अलेहार जो रहवासी श्री चेतन दास किअं 171 हिंदु सिंधीयूंनि ( भील ऐं मेघवार) खे पहिंजी अग॒वाणी में हिंदुस्तान लडाअ किअं कामयाब थिया हो। लड॒पण भले इहा लोहाणनि जी हुजे या दलित सिंधीयूंनि जी कड॒हि में सहूली नाहे थी आ। हिंक पासे जड॒हि सिंध में हिंदुनि लाई जमिन रण बणयलि आहे उते बे॒ पासे कहिं भी लातल में हिंदुनि खे लड॒ण खो रोकण लाई भपपूर कोशिस कनि सिंधी मूसलमान।

International Refugee Day in Jodhpur
International Refugee Day in Jodhpur

हिंदुस्तान पाकिस्तान जूं सर्हदयूं 1954 में नेहरू लियाकत समझोते तहत बंद कयूं वयूं। पर 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां  में हिंदुनि ते कतलेआम इन गा॒ल्हि खे पधिरो करे छडो हो त हिंदुनि जो पाकिस्तानी रियासत में इजत तोडे आबरू महफोज कोन रहिंदी, ऐं थियो भी कजहि इअं। 1954 जे समझोते तहत जेके हिंदु 1950 में बंगलादेश वारे हिस्से मां लडे॒ आया से मोटी कोन वया हातियूं 1971 में हिंदुनि सां बि॒हर ऐं 1950 खां भी वडा॒ जुलम थिया जहिंजी भेट सायदि विरहांङे महल थिअल फसादनि सा भी नथी करे सघजे। बे॒ पासे पाकिस्तान डा॒हिं लियाकत अली खां  जेतिरो  पुगो॒ हून हुन हिंदुस्तान मां मूसलमान (अण बंगाली) कराची लडा॒या, हून तेसताईं लडाया जेसिताईं हून खे इन गा॒ल्हि जी दिलजाई थी त हो हिअर मुहाजिरनि जे सघ ते चूंडयूं विडही थो सघे। पाकिस्तान जा हूमूमती इदारा हिक पासे फसादनि तोडे कानुनि जरिये हिंदुनि खे तंग कयो बे॒ पासे ऐडहा कानुन वजुद में आंदा वया जहिं सबब हिंदु जूं मलकतयूं वणजण गैरकानूनी हो। मतलब हिंदु लडि॒नि ऐं उहो भी हथ वांदनि।

बहरआल इन जलसे में जेतोणेकि कहिं भी नेहरू लियाकत समझोते जी गा॒ल्हि कोन कई पर जनि भी महमानि खे इन जलसे में घुरायो वयो हो सिंध लड॒यलि हिंदुनि जी हालतुनि जी मूंहजुबानी बु॒धण लाई तनि जी भी नाराजगी हिंदुस्तान हूकूमत सां हूई जेसा सभ जा॒णिदे बी माठि करे वेठी आहे।

जेकरि सच पच डि॒सजे त ऐडही गा॒ल्हि नाहे जे हिंदुस्तान जी हकूमत खे पाकिस्तान में हिंदुनि ते थिंदड कहरनि बाब॒त जा॒ण नाहे। हिंदुस्तान जी हूकूमत 1954 (जां खां सर्हदयूं बंद कयूं वयूं) तां खां अजु॒ ताईं हर लडिं॒दड हिंदुअ खे जो विजा रूगो॒ इन ते वधायो त पाकिस्तान में हिंदुनि सां कहर पया थेनि पर इन जे वादजूद नागरिकता जा कोनुनन में नर्मी डे॒अण खां उभतर हाथयूं ओखा कया वया आहिनि। 2005 में नागरिकता डे॒अण जो हकु जिले कलेकटर खां खसे गृर वजिरात पहिंजे हथ कया ऐं नागरिकता मिलण जो वक्त त 5 सालनि खां वधाऐ 7  साल कयूं। सिंध में रहिंदड हिंदुनि जा मिट माईट जेलसमेर, बाडमेर, कच्छ में रहिंनि जिते हूकूमत कहिं खे भी वसण न डे॒, जेसिताईं नागरिकता मिले तेसिताई खेनि हिक शहर जे दाईरे जे 20 कोहि जे दाईरे में ई रहणो पवे। ऐं वडी॒ गा॒ल्हि जेकर जो हली भी वञे त खेनि हिरासत में सजा॒उ डि॒ञयूं वञिनि वरी साल साल नागरितका डे॒अण जी फिस वधाइनि सो धार ड॒चो।

हिंदुस्तान हज लाई सब्सडी थो डे, लखनि जा लख मूसलमानि खे हज ते वनण जी मोकल थो डे॒ पर पाकिस्तान मां हिंदुतानि घुमण अचण लाई हिंदुनि खे विजा डे॒अण में सालनि जा साल थो खणे। आम विजा त लग॒ भग ज॒णु बंद ई कया वया आहिनि या वरि जड॒हि डि॒ञा भी था वनिनि था त उन सां ऐतरियूं पाबंधयूं ग॒ढयूं पयूं वञिनि जे इहे शर्तयूं सिंध जे हिंदुनि जे वस खां बा॒हर आहे।

हिंदुस्तान – पाकिस्तान जो विरहाङो हिंदु मूससलमानि जे विच में थियो हो। कांग्रेसि भले इन जो कजहि भी नालो छो न डे॒ पर हकिकत त इहा आहे जे विरहांङो दीन धर्म के नाले ते थियो। वरि जमिन जो विरहांङो भी हिक जेडहो कोन थितो ज॒हनि त आसाम में तोडे विहार जा मूसलमान इलाईका पाण सा रखी पहिंजी वडी॒ कामयाबी समझी उतेई सिंध जा हिंदु ऐलाईका पाकिस्तान जे हथ कया। आसाम में मूसलमान लाई त का भी तकलिफ कोन थी पर हिंदु दर बदर थी वया। जेकरि विरहांङे जे जमिन जो विरहांङो कांग्रेस कयो त पाकिस्तान मां हिंदुनि खे वसाअण जी बी जिमेवारी  भी उनहिनि जी हूई ।

इन जलसे में पिछाडीअ में मोजोद महिमानि मां भी किन तकरिरयूं कयूं जनि में अहम हूई राजिस्थान बार ऐशोसिऐसन जे सदर जी। श्री श्रीवास्तन पहिंजी तकरिर में चयो पाकिस्तान में हिंदु रही कोन सघींदा – इहा हिक हकिकत आहे सो सिंध लड॒यनि जी लडाईं हिंदुस्तान में आहे जिते साणसि सही रित सहूलतूं नह पई मिलिन। पर इन लडे॒ आयलिनि जो मसलो इहे आहिनि संदनि लडाई कानून जे दाईरे में नथी थी सघे, छा काण त कानून सिंध लड॒यनि हिंदुनि जे हक मे नाहिनि। जेसिताई कोनून में फेर बदल न कई वई त शायदि पाकिस्तानी हिंदुनि जे डु॒ख सुर निबिरिंदा । सो हो त्यारी कन पाण खे वडी॒ लडाईअ लाई ऐं असां खां जेतिरो पुजींदो असी मदद कंदासि। सिंध लड॒यलि पाकिस्तानी हिंदु पाण खे हेकलो न समझिनि असीं साणस ग॒डु॒ आहियूं।

इन जलसे जे पिछाडीअ में सवाल- जबाबनि जो बी आयोजनि हो जिन में लडे॒ आयनि हिंदुनि मोजूद महिमान खां भी सवाल जवाब पुछा। छो त मां बी इन जलसे जे महिमानि मां होसी त मूखां बी हिकु सवाल कयो वयो त साईं असीं सिंध मां लड॒यलि अहियू, असीं भी सिंधी गा॒ल्हियूं (ढाठी इअं भी सिंधी को ई हिक लहजो  आहे) पोई इअं छो जे हिंदुस्तान जा नालेरे वारा सिंधी अग॒वान असां जी मदद त परे असां सा मिलण ताई कोन आया त असी केतरि तकलिफुनि में आहियूं। जड॒हिं अण सिंधी अग॒वाण असां जी सार था लही सघिनि त हिंदुस्तान में वसयलि सिंधी छो माटि आहिनि….

दरअसल मां भी सिंधी लोहाण जे इन वहनवार खे अजु॒ ताईं कोन समघी सघयो आहियां। सिंधी हिक ई इलाके मां लडिण, हिक ई नमूने जा जूल्म सहिनि, हिक बे॒ रित ई लड॒ण जे वाबजूद  पाण में ऐतरियूं विछोटियूं छो….ऐडही केडही मजबूरी आहे जेका असां खे पहिंजनि सां हिकु थेअण खां रोके थी…जातिवाद त हर हिंदु कोम में आहिनि। रातिस्तान में भाल भी रहिनि, त राजपूत भी त माडवाणी वाणिया भी पर जे हो सब राजिस्तानी संसकृति में रङजी था सघिनि त असीं सिंधी सिंधी संसकृति सां छो नथा रङजी सघउं….

हे सवाल हिक भील, मेंघवार या कोल्ली जातीअ लाईं ऐतरो ई अहम आहे जेतरो हिक लोहाणे लाई….शायद असां वटि इन जो जवाबु आहे ई कोन्हि। पर हिक गा॒ल्हि पक आहे त जेकरि असीं इहा गुधी, गजरहात सुलझाऐ वयासिं उहे सभ सियासी तंजमयूं जहिंजा पादर सिंधी अगवान चटिंदा आहिनि से असां सिंधी हिंदु जे दरनि जे चोखट ते मथो टेकण पहिंजी वडे॒ में वडी॒ जिमेवारी समझींदा….

3 thoughts on “पाकिस्तानी हिंदु – नंढे खंड जो निंधिकणो कौम

  1. Hi,

    I am a blogger at TransIndiaTravels.com & was wondering if you would allow me to write a guest article on your website.

    I will provide you with a well-written travel related article. I am sure your readers will like it.

    Here are some samples of my writing:

    http://www.peanutsorpretzels.com/top-destinations-for-trekking-in-india/
    http://www.heatheronhertravels.com/five-bizarre-temples-in-india/

    The article will be specially drafted for you and will not be published anywhere else. I will send the article for review after your confirmation.

    Please let me know. 🙂

    Regards.
    Rohit Agarwal
    https://plus.google.com/+RohitAgarwal87

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *