किरण कहाणी

जय प्रकाश मोराणी, सिंधी अखबार अबरत में सिंनियर ऐडीटर आहिनि, ऐं काफी दि॒हनि खां पत्रकारिता जे पेशे जा गंड॒यलि रहया आहिनि। सिंधी हिंदुनि नयाणियूंनि जो जबरनि अगवा ऐं धर्म मठाऐ इसलाम कबूल कराअण जूं वारदातु दिल दहलाईंद़ड आहिनि। इहे वाक्या नया नाहिनि। सिंध में 65 सालनि खां पयाहलनि ऐं हिकु अहम सबब आहिनि जहि सबब बचयलि हिंदु सिंध मां लद॒नि पया।

पत्रकार जय प्रकाश मोराणी
पत्रकार जय प्रकाश मोराणी

किरण जी काहाणी रिंकल , आशा,  लता, हेमी या मनिशा खां का धार नाहे। मूहिंजी हमेशाहि इहा कोशिश रही आहे तह सिंध हिंदुनि ते थिंदड जूलमनि ऐं खासि करे सिंधी हिंदु नयाणियूंनि ते थिंदड जूलमनि बाबति सूजागता पैदा करे सघजे जिअं सजी॒ दुनिया जा॒णे तह हिंदु सिंधी कहिं हालत में सिंध रहया पया आहिनि।

हे लेख साईं जय प्रताश जी मोकल सां साई थो कजे

किरन कहाणी

लेखक- जय प्रकाश मोराणी, सिंध

उलथो कंदड – राकेश लखाणी, कच्छ

मिया वदे॒ (उर्फ मिया मिठू) जे देरे दा॒हिं वेंदड रस्तनि ते संदुसि ई हिकु बागीचो आहे जहिं जे चौधारीअ दि॒नल कंडेदार तारन में केतिरयूं ई हिरणयूं हिसायलि निगाहुनि सां हर इंदड वेंडद खे शायदि इन निगाहूनि सां दि॒सिनि थयूं तह शाल इनहि मां को संदुनि आजादीअ जो परवाणो खणी अचे पर हर को मिया वदे॒ जी दहशद खां दहलजी इनही हिरणीअ खे दूर खां ई दि॒सी पासो करे हलयो वञे थो ऐं इन्ही आजादीअ वारे खुवाबनि खे हवा में उदा॒मिंदे हर को दिसे थो पर इनही जे साभयां लाई सोच को भी नथो करे। छो तह इनही सोच ते भी सवनि पहरा आहिनि।

जिअं मियां वदे॒ जे बागिचे में किअं हिसायलि हिरणियूं वाडयलि आहिनि ईंअ ई संदुसि कोट में भी आहिनि। इनही मां का कद॒हि कद॒हि जेकद॒हिं पहिंजे वेडहेचिनि वटि वरण लाई सड॒ करे थी तह कलाक जे मफासले ते मोजूद रहिम याहा खां जे शेख रिंद ईस्तपताल ई संदुनि सनधनि (घावनि) ते सेक करण जो वसिलो बणिजे थी। हूअ भी इन हिरणि जियां हूई, दा॒ढी मासूम, दा॒ढी सबा॒झी। संदुसि गो॒ठ रहिम यार खां जे भरसां मंठार नाले बु॒धायो पई पयो। किरण कुमारी नाले जी हिक मेघवार बिरादरीअ जी इन नेनगरीअ बाबति इहो ब॒धायो वयो तह गाहि कंदे खेसि कजहि नोजवाननि छेडहयो हो ऐं मज़ाहमत (विरोध) ते खेसि संदुसि माउ जे सामहूं अग॒वा कयो वयो। जमिंदार सजी॒ रात वापस कराअण जा आसिरा दिं॒दो रहयो ऐं खेसि इन दौरान बर्चंडे शरिफ पुजा॒यो वयो। जद॒हिं सहाफिन (पत्रकार) मथसि सवालनि जी बरसात वसाई तह हूअ जवाब दे॒अण खां अगु॒ ऐं पोई मिया वदे॒ दा॒हिं दि॒सी रही हूई। ज॒णु को सेखडात अदाकार रटयलि डाईलाग गा॒ल्हिअण बैदि हिदायतकार डा॒हिं डिंसिंदो आहे। हून खां जद॒हि संदुसि उमरि बाबति बुछयो वयो तह् हून चयो मूहिंजी उमरि 18 साल आहे। पुछयो वयो तह् जन्म जी तारिख केडही आहे तह जवाबु मिलयो खबर नाहे, साल कोडहो तह भी साग॒यो जवाबु तह उन जी भी खबर नाहे पर ऐतरी तह खबर आहे तह उमरि 18 साल आहे। पुछयो वयो तह हित किअं पहूती तह जबाबु मिलयो तह दीन (ईस्लाम) साणु मूहबत हूई। पछयो वयो तह् किअं थी तह जवाबु मिलयो तह बस थी वई। पुछयो वयो तह हित किअ पहूती तह जवाबु मिल्यो तह चंड रात, केरु वठी आयो तह जवाबु मिल्यो तह् भर वारे गो॒ठि जे हिक नोजवानु, इहो केरु हो … आऊं हून साणु प्यार कंदी आहियां, मूलाकात किअं थी… हू मूहिंजे गो॒ठि में इंदो हो, मोबा॒ईल ते राबतो थियो….नह मूं वटि तह मोबाई हूई ई कोन्हि, चिट्ठी लिखिंदो हो ऐं जाम लिखिंदो हो। इहो नोजवानु कंदो छा आहे. संदुसि जमिन आहे . हाणे छा कंदींअं, – उते ईं रहिंदसि। हूं भी इते ग॒दु आहे इन विचअ में मिया नंढो (मियां मिठू जो पुठ) उऩ नोजवान खे वठि आयो जहिं जे बारे में चया पयो वञे तह हे शब्बिर आहे जेको किरण खे खणी हिते आयो आहे।

किरण कुमारी (अगवा थियलि सिंधी मेघवार नियाणी)
किरण कुमारी (अगवा थियलि सिंधी मेघवार नियाणी)

वाईडे वांङुरु सहाफिन (पत्रकारनि) दा॒हिं दि॒सिदड इहो नोजवानु जहिं केतिरनि ई दि॒हनि खां संवरात भी नह थियलि हूते कहि भी रुख खां खूश नह् थी पई लगो॒। खाईंसि पछयो वयो तह तूं किरण सां प्यार करे थो तह हूं ठही पही वराणयो , मूहिजो तह हिन साणु प्यार ई नाहे । जद॒हि खाईंसि संदुसि गो॒ठि बाबत पुछयो वयो तह हून जवाब दे॒अण जे बिदरां किरण दा॒हि दि॒सण लगो॒ जहि चयो तह हे असां जे भर वारे चक में रहिंदो आहे । सहाफिन शब्बिर  खां पुछयो तह छा कंदो आहे तह हून जवाबु दि॒ञो तह हो राहकी (हारपो) कंदो आहियां जद॒हि तह किरण बुधायो कह हू जमिंदार आहे। मतलब तह हो हिकु भी जवाबु सही रित कोन द॒ई सघयो तह मिया नंढे टहक दिं॒दे चयो तह किरण ई हुन खा भाजाऐ आई आहे। पोई हितोउ हूतुउ गण गो॒त करण बैदि खबर पई तह खेसि कन खां झले इनही फर्ज जी अदाईदी लाई मूकर्र कयो वयो हो।

उन ई दौरान असां खे बुधायो वयो तह 15 सालनि आगु दीन जे दाईरे में आयलि हिक नारी अव्हां सां मिलण लाई आई आहे। सबहान खातुन नाले असां खे पहिजो लागापो उबा॒वडीअ सां बुधायो। बाकी कहाणी थोडी फेरघार सा सागी ई हूई। हून बु॒धायो तह खेसि माईठन जी याद ईंदी आहे पर साणसि को रातबो नाहे ऐं नाह ही को साणसि मिलण आया आहिनि। इन ते वदे॒ मिया चयो तह फोन ते राबतो थिंदो आहे तह सबहान खातुन पिणि पहिजो वकफ तुरत मठायो ऐं चयईं तह हा फोन ते रातबो थिंदो आहे। इअं ई सवाल जवाबनि जो सिलसिलो हलिंदे माञे (भोजन) लग॒ण जी खबरि बु॒धाई वई। आऊ ऐं काशिफ बलूच सभ खां पहिरो इन कमरे में दाखिल थियासिं तह किरण अकेले ई मोजोद हूई। मूं हून खां मारवाडी जबान में पुछयो तह छा तुं पहिंजे फैसले सां खूश आहें, तोखे माउ-पिउ जी यादि नथी अचे तुं इन नोजवान सा जिंदगी गुजारे सघींदीअ जेको हिंअर ई तोसां को वास्तो नह हूजण जी गा॒ल्हि करे थो तह संदुसि अख्यूंनि जे पंबडीयूंनि में अटकयलि लूडक मूंखे समूरा जवाब द॒ई छद॒या ऐं इन पिच में नंढे मिया खेसि बा॒हर वञण लाई चयो तह हूअ चोर निघाहूनि सां असां खे डि॒सिंदे इअं हली वई जिअं इंन्ही कंडेदार तारनि वारे बागिचे में बंद इन हिरणी दि॒ठो हूंदो। तहिं डो॒हाडे (दि॒हिं) असां पत्रकारनि जो ढंभ (जथो) जन में लाहोर, मूलतान, बहालपूर, इसलामाबाद, कराची ऐं हैदरआबाद मां लोक सुजाग जे सद॒ ते कोठाअल वण वण जी काठी समायलि हूई। जद॒हि रहडका जा चाहिं ऐं भडंचंडे जी थदी बो॒तल पी दो॒हरकी जे बाहिरां वाक्यई इन देरे डा॒हि पी वयो तह आसमान जे ककरन (बादल) कारोंभार हूई, मोसम ऐतिरो गर्म भी किन हो, कहिं कहि वक्त हिर भी पई घुले। जदड॒हि असीं इन देरे ताई पहितासिं तह आतरी का रौनक भी किन हूई। असां खे कमरे में वेहारो वयो जेको बा॒हर जी भेटि में थदो हो। इन देरे में पहूचण खां अगु॒ ई सभनी पत्रकारनि सुस पुस में हिक बे॒ खे पई समझायो तह किअ पुछबो, केडहे नमूने पूछबो, घणो तेज नह थिबो वगिराह वगिराह । खासि करे असां में शामिल जाईफां पत्रकार खे वदो॒ ढप हो। जड॒हिं मिया वडो॒ कमरे में दाखिल थियो तह संदुसि अंदाज फातिहाणो हो। हो पत्रकारनि खे तूं करे पई मूखातिफ थी रहयो हो । गा॒ल्हियूंनि दौरान हून खूले सिंधी अख्बारनि ते छोह छंडया। संदुसि चवण हो तह सिंधी अख्बारनि ते हिंदुनि जो कंटरोल आहे ऐं इन्हिन खे हिंदुस्तान डालर पयो दे॒, साग॒यो हशर जिऐं सिंध ऐं ब॒यनि कोमिप्रस्तनि जो भी कयो। संदुसि चवण तह सभ इसलाम खिलाफ साजिश में रूधल आहिनि। सजी॒ मिडीया में रगो॒ उमत (उर्दू अखबार) आहे जेका सचु पई लिखे। हो इहो चई रहयो हो तह असीं हर नारी खे तहफूज (पनाहि) डिं॒सी जेके दीन जे दाइरे में इंदयूं बाकी जद॒हिं खाईंसि इहो पुछयो वयो जेके मूसमानि प्रेमी जोडा शादी कंदा आहिनि इंहिनि जे पूठयां भी वदी॒ खूनरेजी थिंदी आहे इन्हिनि जो तहफूज अव्हां कंदा तह हून ठही पही  वराणयो तह इन्हिनि जी हिफाजत असी छो कयूं , उहे जा॒णिनि उनहिनि जो कमु। उन्हिनि पोयां वडा॒ कबीला आहिनि । इहे पाण ई संदुनि मदद कंदा। हून चयो तह खेसि का भी ताकत इन्ही फर्ज खां रोके नथी सघे। सियासत, सियासी ऐहदा, दो॒कड (पैसा) तमाम नंढी शई आहे । हूं पहिंजी पार्टी वारनि ते पिणि कावडयलि हो तह जेके संदुसि चवाणी बिदरां ब॒यनि जे चवे में था हलिनि। इहा कावड हो पत्रकारनि ते भी वदे॒ वाके कढे थो। जद॒हि कराची जे हिक पत्रकार साणसि फोटो कदा॒अण खां इंकार कयो यह हूंन चयो तह – मूं सां फोटो कदा॒अण में ब॒रो थो चडई छा..उतोउ वापसी ते सभ पहिरों सर बचण ते सरहा हवा पर इन दोस्त ते हर कहिं खे रहम पई आयो जोको असां खे इंसानी हकनि जो नूमाईदो चई मिलयो हो पर इन दर जो वडो॒ नुमाईंदो पई लगो॒ । इअं ई अकलितनि (थोडाई वारे कोम) सां थिंदड जादतियूं बाबति इनही वर्कशोप जी इहा फइलड वर्क इनही पुजाणी ते पहती तह इन हवाले सां जेके सवाल ज़हनि में गर्दिश करण शुरु थिया उहे अजु॒ भी ओतिरा ई जवाब तलब आहिनि जेतिरा अगु॒ हवा।

किरण जी कहाणी जेका आगु॒ कहि नह बुधी हूई उहा तह माणहूनि अग॒या पहूचि वईं हूंदी पर किरण जे पंबडयूंनि में अटकयवि लूडक, संदुसि सपना ऐं संदुसि माईटनि जा खुवाब जेके हवा में उदा॒मी वया इनहिनि जी केरु पर्गोर लहिंदो संदुसि माईटनि जी तह नयाणी भी वई, पाण भी वयलि में आहिनि जो ऐतजाज करण ते जमिंदार संदुसि खिलाफ केस दाखिल कराऐ बि॒ठे ड॒चे में विझी छद॒यो आहे।

मूल लेख
मूल लेख

2 thoughts on “किरण कहाणी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *